बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ सेक्स वीडियो हिंदी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

𝓍𝓍𝓍 𝒽𝒾𝓃𝒹𝒾: बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ, मेरे छोटे ताऊ प्रेम की उम्र 45 साल है, छोटी ताई माला 43 साल की हैं, उनके भी दो बच्चे हैं.

मां बेटा बीएफ सेक्सी

झाडू पोंछा करते वक्त जब वो झुकती थीं तो मैं उनकी चूचियों को गौर से देखता. सेक्सी बीएफ हिंदी वीडियो फुल एचडी”तुम खुद क्यों नहीं खाते अपना चॉकलेट?”ये तुम्हारे लिए बना है, मेरे लिए तो तुम्हारी चूत पर परोसा जाएगा.

हाय राजा… मार ही डालो आज तो!” बहू रानी के मुंह से आनन्द भरी किलकारी सी निकली. सनी लियोन की बीएफ जबरदस्तवैसे मैं भी इस स्थति में मैं क्या कर सकती थी, वो जैसा जैसा कह रहा था, वैसा वैसा कर रही थी.

संजय मेरे पूरे बदन को चूम रहा था, मुझ पर वासना इतनी हावी हो चुकी थी कि मैंने संजय के शर्ट के सारे बटन तोड़ दिए और उसकी शर्ट उतार फेंकी.बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ: फ्रेश होने के लिए एक होटल के रूम में चले जाने का सोचा और पास के ही एक होटल में एक रूम बुक किया.

तभी दीदी ने अपने दूसरे हाथ से मुझे रोकने की कोशिश की लेकिन मैं नहीं रुका और दीदी के दूसरे हाथ को भी अपने हाथ में पकड़ लिया और दीदी को सोफे पर लेटा दिया.तभी दीदी ने मेरा हाथ पकड़ लिया लेकिन तब तक बहुत देर हो गई थी, मेरा हाथ दीदी की चूत पर पहुँच गया था और मैंने हल्के से चूत को सहलाना शुरू कर दिया.

इंग्लिश बीएफ वीडियो एचडी में - बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ

मैं तुरंत ही उसके घर चला गया और जाते ही मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया.मैं तो बस हवा में उड़ रही थी और अंजाने में मेरे मुँह से वो निकाला जो शायद महेश चाहता था.

और जोर से चोदने की मांग करते हुए मेरी पीठ में अपने नाखून चुभाने लगी. बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ तो मैं अगले दिन फिर से उसी समय पर अपने खेत में गया पर वो नहीं आई, उसके बाद मैं खेत में कई दिनों तक गया वो मुझे नजर नहीं आई.

मैंने उनकी चूत और चूत का दाना चूस चूस कर उनका एक बार पानी निकलवा दिया.

बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ?

तभी जोया ने मेरे लंड को पकड़ कर मोना के छेद पर रखा और मैंने धक्का लगा दिया. मेरी आँखों से आंसू बहने लगे, लेकिन वह मेरे सर के बाल पकड़कर अपना लंड मेरे कंठ तक उतार रहा था. ये कहते हुए उसने मुँह छिपा लिया।मैंने उसके हाथ हटाते हुए बोला- कभी मना तो नहीं करोगी?नहीं.

ओमार धीरे धीरे उसके होठों के बीच जगह बना कर अपने माँसल टोपे को पहले से ही भरे हुए मुंह में घुसेड़ने का यत्न करने लगा. मैं जाकर बोतल ले आया, जिसमें पिंकी और रोशनी की जूस का मिक्सचर भरा था. मैंने अवी से कहा- ज्यादा कॉल या एसएमएस ना करना, मैं बात नहीं कर पाऊँगी.

कुछ ही पलों में उसकी टी-शर्ट को उतार फेंका, कैपरी भी उतार फेंकी, पेन्टी भी खींच दी. कुछ देर बाद जमाई जी उठे, मुझे बातें करने लगे।फिर मेरी बेटी भी आ गई। मैंने खाना बना कर खिलाया. मैंने उसे शांत होने के लिए कहा, तो बोली कि वो मुझसे अकेले में बात करना चाहती है.

अगले दिन मैं शीना और मम्मी रुबीना के घर गए, चूँकि भैया को कुछ काम था इसलिए वो ना जा सके. उनको देख कर मैंने उस कागज को तुरंत फाड़ दिया, फिर जब बाबू जी और अंकल ने पूछा- तुम अकेले कैसे आ रही हो?तो मैं सिर्फ इतना ही बता पाई कि उनका अनुष्ठान हो गया और उन्होंने मुझे जाने को कहा और मैं बाबू जी से लिपट गई, वो मुझे घर ले आये।घर में मैं माँ से लिपट गई और कहा- अब दुबारा आश्रम मत भेजना.

चाची मेरे लिए चाय बना लाईं और कहने लगीं- बेटा जूता उतार कर आराम से बैठ जा मैं जरा कपड़े धो कर अभी आई.

वो मजे से गांड आगे पीछे करने लगी और कहने लगी- जान पूरा का पूरा लंड पेल दो.

वे हमें शहर से बहुत दूर ले गए, चार पांच किलामीटर दूर अपने खेत पर ले गए, वहां एक कमरा था. मैं तो जैसे जन्न्त में आ गया था, क्या ये कोई सपना था? मैंने भी अपने हाथ फैला कर, उनके मम्मों को पकड़ लिया और सहलाने लगा. इस वक्त वो घर जा चुकी है और अब वो आ नहीं पाएगी, इसलिए अगर तुमने मिनी बता दिया तो रूपये नहीं देंगे.

अमित- मिनी, एक काम था हो जाएगा?मैं- हाँ हो जाएगा क्या है बताओ?अमित- पहले वादा करो कि मना नहीं करोगी. हालांकि मैं शादी से पहले गांड मराने का सुख ले चुकी हूँ इसलिए मेरी गांड खुली हुई थी. इसलिए आप सभी थोड़ा सब्र रख कर इस स्टोरी को पढ़ते जाइए बहुत मज़ा आएगा.

मैं उसे रवि कह कर बुलाती थी।फिर हम लोग रात तक अम्बाला पहुँच गए। यहाँ से हमारी ट्रेन अगली सुबह की थी.

फूफा ने मम्मी की नाइटी की डोर खोल कर उतार दिया और उनको जमीन पर लिटा दिया. काजल अपने दोनों भाइयों के इस चौतरफे हमले के लिए बिल्कुल तैयार नहीं थी. करीब दस मिनट बाद वो मेरे मुँह में झड़ गईं ‘आह… अइय… आह… आह…’मैंने भाभी की चूत का सारा पानी पी लिया और पूरी चॉकलेट और पानी अपनी जीभ से चटकार साफ कर दिया.

पहले की बात और थी… लेकिन अब प्रिया दो साल बड़े शहर में रह कर, बड़े शहर की आज़ादी के रंग ढंग देख कर वापिस गयी थी तो… उस का ऐसी बंदिशों से ऊबना स्वाभाविक ही था. हम दोनों एक दूसरे की जीभ को चूस रहे थे, होंठों को चाट रहे थे और एक दूसरे का थूक भी चाट रहे थे. रात को मैं अपने कमरे में था, मुझे बाथरूम जाने की जरूरत लगी, मैं नीचे जाने लगा.

नागपुर पीछे छूट चला था पर हम दोनों ससुर बहू अपने केबिन से बाहर की दीन दुनिया से बेख़बर अपनी ही दूसरी दुनिया में खोये हुए मजा कर रहे थे.

चूँकि चॉकलेट पिघली हुई थी तो मुझे उसे लगाने में कोई दिक्कत नहीं हुई. पापा को चुप पाकर मैं घबरा गई, मन में डर सा लगने लगा कि तभी पापा बिल्कुल मेरे ऊपर लेट गये, उनका सीना मेरे सीने से चिपक गया, उनकी कमर मेरे कमर के ऊपर और पापा का मुंह मेरे चेहरे पर और सीधे पापा मेरे होंठों को चूमने लगे.

बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ जबरदस्त चुदवाती है और गजब का चूसती है लंड, लो आरती पियो मेरे लंड का माल, अब मैं छोड़ रहा हूं।मैं बोली- हां, पूरा मेरे मुंह में खाली कर दो!और मैंने अपना मुंह खोल दिया, पूरा लंडरस सुरेश का अंदर गटगट पीने लगी. मैंने हाथ से दीदी की सलवार के नाड़े को पकड़ा और खींच दिया, सलवार खुल गई, मैंने दीदी की तरफ देखा तो उनके होश उड़ गये थे, मैंने एक हाथ से सलवार को उतारना शुरू कर दिया और खुद सोफे पर दीदी के साथ थोड़ी से जगह में लेट गया.

बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ उनको चूमने के बाद मैंने अपनी पैंट उतारी और अपना 7 इंच का लंड निकाला तो दीदी के होश उड़ गए. अन्तर्वासना पर बहुत सी कहानियां पढ़ने के बाद मेरा भी दिल अपनी कहानी लिखने का किया.

माधुरी के पास साधारण सा फोन था तो मंजरी उस फोन से पुलकित को मिस काल करके उससे खूब बातें करती थी.

चुत का पानी

सुनो आज पूजा का क्लास में पहला दिन है और हमें पहले इसे वह सब पढ़ाना है, जो हम सब सीख चुके हैं. कुछ देर बाद हम दोनों एक लेडीज अंडरगारमेंट की दुकान के सामने पहुँच गए. मेरे परिवार में मेरे अलावा मेरा भाई एक अरविंद, दो बहनें रिया (रेहाना) और शीना(शाहाना) हैं.

खूब चुदो, सबसे चुदो! मैं तुम्हारा दूसरा पति बनना चाहता हूँ! और मैं चाहता हूँ कि मेरी आँखों के सामने तुम्हें सब चोदें! मैं चाहता हूँ कि तुम दो लंडों को एक साथ अपने मुंह में लेकर चूसो!!”तब तक जमैका भी नजदीक पहुँच कर पीछे से अपने लंड को नताशा की गांड में घुसेड़ धक्के मारने लग गया था. थोड़ी देर बाद जब सोनू सो गया तो उसे मेरे पास सुला कर बोलीं कि वो नहाने जा रही हैं और तब तक मैं सोनू का का ध्यान रखूँ. कुछ पल बाद मयूरी दरवाजे को ठीक से अन्दर से बंद करने के बाद वापिस मोहन लाल के पास आई, उसने दुपट्टे का एक भाग अपने सर पर रखा और उसके पैर छूती हुई बोली.

कभी चूची को दबाता और कभी जांघ पकड़ कर दबा देता, पीछे से चूतड़ को मसल देता.

मुझसे अब रहा ना गया… दोस्तो, झूठ नहीं बोलूंगा, कोई प्यार की बात नहीं हुई थी, मैंने सीधा ही उसके होंठों पर चुम्बन कर दिया था. इसी तरह की बातों में मालूम हुआ कि मधुरा उनसे सेटिस्फाइड नहीं होती हैं. फिर खाना खा कर बॉस अपने घर चले गये, मैं भी नंगी ही सो गयी।जब सुबह मेरी नीन्द खुली 5 बजे तो मेरे मौसा जी का फ़ोन आया।अब आगे क्या हुआ, वो सब मैं अपनी अगली सच्ची चुदाई कहानी में बताऊंगी।तब तक के लिये गुड बाय… लव यू आल![emailprotected].

मैं किसी को कुछ नहीं कहूँगी, इसमें बुरा क्या है, तलब लगी तो जो सामने था, उससे शांत करवा ली. मैं जब भी कुछ लाता दीदी की आँखें खुशी में झूमने लगती और दीदी प्यार से मेरे गालों पर एक पप्पी कर देती. मैं कुछ समझ पाती, तब तक उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर रखा और जोर का झटका लगा दिया.

मैंने ऐसे ही किया और निर्मला की टांगें ऊपर उठा कर अपना लंड उनकी गीली चूत में घुसा कर धक्के मारने लगा. फिर मैं उठ कर उसके गले लग गई, इसी जल्दबाजी में उसने अपनी तौलिया मेरे ड्रेस में फंसा दिया और मेरी ड्रेस की पूरी चैन खोल दी.

ये कहते कहते खड़े हो गए और एक गरमा गरम चुम्मा मेरे अधरों पर रख दिया. मैंने कहा कि दीदी हमारे बीच में सेक्स छोड़ कर बाकी सब हो चुका था, तो आज अगर ये हो गया तो क्या गलत हुआ?दीदी बोलीं कि ओरल सेक्स तक तो ठीक है, पर सेक्स अलग बात है. उसकी उम्र तो कम नहीं थी पर उसकी शारीरिक बनावट हल्की होने की वजह से मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया.

मेरी हिंदी एडल्ट स्टोरी मेरे और मेरे दोस्त की बहन के बीच में घटी बुर की चुदाई एक सच्ची घटना है.

मैंने पेंटी को पहना तो अच्छा लगा तो मैंने सोचा कि अन्दर यही पहने रहूंगी और ऊपर जो अमित पहली बार में दी थी, वो पहन लूँगी. मैं शाम को काम से आया, अभी चाय पी ही रहा था कि पायल ने मुझे सब बात बताई औऱ मुझे छाया के घर की चाभी दी. कल्याणी नीचे हाथ करके मेरे लंड को टटोलने लगी, बोली- मैंने सुना है कि तुम लड़कों का हथियार लड़की के छेद में जाते वक्त बहुत दर्द देता है.

मैंने दीदी के एक हाथ को लंड से उठा दिया और अपनी बॉल्स पर रख दिया और दीदी को थोड़ा और लंड लेने का इशारा किया. मैंने दीदी की टाँगों को पूरा फैला कर अपना लंड उनकी चूत के मुँह पर रख कर हल्का सा धक्का लगा दिया, चूत पूरी गीली होने की वजह से मेरा लंड एक ही बार में पूरा अन्दर चला गया.

वैसे भी तुम्हारी ये पैंटी केवल तुम्हारी चूत ही बंद कर रही है और मेरे सामने कैसा शरमाना. इस पर मीना जी ने अपने दोनों हाथों को जरा सा खोल दिया ताकि मैं अच्छे से मालिश कर सकूँ. भला बताओ पार्टी क्या एन्जॉय करेंगे?मैं- ऐसा नहीं है तुम भी सुंदर हो.

ललिता भाभी

संजय नीचे बैठ गया, उसने पहले मेरी चूत के आस पास हल्के से चुम्बन किए.

अब ब्रा निकाली और वो मैं पहन ना सकी क्योंकि वो रबड़ की तरह थी जैसे बालों में लगाने वाली रबड़ होती है. उसने भी देर ना करते हुए मेरे लंड का टोपा खोला और उसे अपने मुँह में ले लिया. आंटी ने पूरी बेशर्मी से एक हाथ नीचे से मेरी पैन्ट को पकड़ा और मुझे अपनी तरफ खींच लिया.

मैं ऊपर से गुस्सा होते हुए कहने लगी कि ये क्या कर रहे हैं, पर शरीर दिमाग का साथ नहीं दे रहा था. उसके लंड की लम्बाई तो शहजाद के लंड जैसी ही थी, पर वो शहजाद के लंड से काफी मोटा था. बीएफ वीडियो देहाती गांव कीएक दिन 4-5 सीनियर ताश के पत्ते खेल रहे थे और मैं वहीं पर खड़ा था, तभी उसने मुझे अपने पास बैठने को बोला और कहा- देख.

वो मुझे उठने से बैठने तक बड़े गौर से देख रहा था, इसके बाद कहा- इसमें पैसे हैं शालू गिन के रख लो. चाची कान में लीड लगा कर अपनी चुत में उंगली करके अपनी कामवासना शांत कर रही थीं.

शायद पिंकी के निप्पल रोशनी के काले अंगूरों से भी ज्यादा बड़े उग आए थे. मैंने उनको 6 बजे मेट्रो से अपने घर के पास वाले मेट्रो स्टेशन पर बुला लिया और जल्दी जल्दी अपना पूरा कमरा ठीक करके कपड़े पहन कर उन लोगों को लेने के लिए चली गई. वे सुदंर थीं, हँसमुख थीं उनकी 30-32 साल की थी, पर उम्र से कम दिखती थी.

कल्याणी तिलमिला गई और मेरे बाल पकड़ कर चुत पर मेरे मुँह को दबा कर बोली- चल चाट साले इसको. भाबी की चुत किसी ने कभी चाटी नहीं थी, जो भाबी के हाव भाव से पता चल रहा था. रोज तो मना रहा हूं सुहागरात! वैसे भी मम्मी पापा महीने के लिए गांव गए हुए हैं, यहां पर मैं और नीलम अकेले ही हैं।यार तब तो रोज तुम दोनों की ऐश होती होगी!” मैं उसकी किस्मत से जलते हुए बोला.

मैं- ठीक है मैं पूरी तैयार हो कर जाऊँगी लेकिन अपना नाम शालू क्यों बताउंगी?अमित- अरे जो रूपये आए हैं वो केवल शालू को ही मिलेंगे, वो मेरी असिस्टेंट है ना.

उन्हें चोट लग गई तो वे ज़ोर से दर्द की वजह से चिल्लाने लगीं कि आलम बेटा मुझे बहुत दर्द हो रहा है, मैं उठ कर खड़ी नहीं हो पा रही हूं, अन्दर आकर मेरी हेल्प करो. मैं- क्या जॉब है? अभी मेरे एग्जाम हैं?अमित- बस 15-20 दिन ही काम है बाकी तुम फिर पढ़ाई कर लेना और एक दिन का 5 हजार मिलेगा, जो कम नहीं होता है.

अबकी बार कमल अपने लंड को मेरी गांड में डालने में कामयाब रहा और मैं चिल्ला उठी. लेकिन अगले दो दिन मैं उसका इंतज़ार करता रहा और अपने लंड को समझाता रहा कि चिंता मत कर, चूत का इंतज़ाम हो गया है और मुठ मारकर सो जाता. और दूसरी मेल में उसने अपने बारे में बताया था कि मेरा नाम आरती (बदला हुआ नाम) है, मैं ग़ाज़ियाबाद से हूँ और मैं शादीशुदा महिला हूँ.

राज लेकिन तभी उन्हीं दिनों में पड़ोस की एक लड़की मेरी अच्छी दोस्त बन गई। मैं उससे कहती कि यार समय नहीं कटता. यह सुनते ही सेल्स गर्ल ने भाबी से हंसते हुए कहा- भाबी जी क्या भैया को आपकी साइज़ की बारे में पता नहीं. फिर मैंने दीदी के एक हाथ को छोड़ दिया और अपने फ्री हाथ को दीदी के एक फ्री बूब पर रख दिया और उस बूब को सहलाने और दबाने लगा.

बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ दस मिनट चुत चोदने के बाद मैंने अपना लंड भाभी की चूत से खींचा और और भाभी के मुँह में पानी छोड़ दिया. जैसे ही उसने मेरा खड़ा लंड देखा, वो शरमाते हुए बोली- आपका इतना लंबा कैसे है?मेरे लंड की लम्बाई लगभग 7 इंच है, मैं बोला- तुम्हारे प्यार से हो गया है.

गोलमाल फुल मूवी

माया ने अपने दोनों हाथ अंकित के सीने पे रख रखे थे और अंकित के लंड पे उछल रही थी. क्या मतलब? मेरी छाती में कौन से मम्में लगे हैं… हहहहा” मैंने हँसते हुए कहा. उनके नजर में सवाल था, जैसे पूछ रही हों कि मैं क्यों?मैंने कहा- भाभी, एक बार देख लें तब सवाल पूछियेगा.

मैं कुछ देर रुक गया।थोड़ी देर में उसने अपने कूल्हे हिलाने शुरू कर दिए तो मैं समझ गया कि अब दर्द कम हो रहा है। बस फिर मैं अपने लण्ड को हिलाने लगा। उसकी चूत में मेरा लण्ड टकराने लगा। वो हिल-हिल कर लण्ड का स्वाद लेने लगी। मैं धक्के मारने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी। करीब 5 मिनट के बाद दोनों एक साथ झड़ गए. वो चेयर को छोड़ कर सीधा जमीन पर आ गिरी और एक कुतिया के जैसे पड़ी रही. हिंदी व्हिडीओ बीएफदूसरा दोस्त अभी भी उसके मम्मों के साथ खेल रहा था, फिर पदमा का नजदीकी फ्रेंड आगे आया और उसने अपना लौड़ा पदमा के मुंह में जबरन घुसेड़ दिया.

वो एग्जाम का आखिरी दिन था, मैं और दिव्या कॉलेज से एग्जाम दे कर वापस आ रहे थे.

ऐसा कोई नहीं जो अश्लील बातें सुन कर घर जाकर मजे से मुठ ना मारता हो. मैं तो अभी भी चाची की भीगी मैक्सी के अन्दर से झाँकते उनके अंगों को बेशर्मों की तरह घूर रहा था.

मैं उसकी चूचियों को और निप्पलों को चूसने लगा; वो अपनी आँखें बंद करके मादक सिसकारियां ले रही थी और मेरे बाल सहला रही थी. अब मुझे बहुत दर्द हो रहा था, मैं रोने लगी, उसने मेरी चूत से खून निकाल दिया और मैं चीख रही थी, उसे रोक रही थी पर वो नहीं रुका, उसने तीस मिनट तक लगतार चोदा और फिर वो भी झड़ गया. खैर, अब मैं उनकी कमर की मालिश करने गया तो मेरी उंगलियाँ उनके मम्मों को छू गईं, उस पर वो सिर्फ थोड़ी से सिकुड़ीं, पर कहा कुछ नहीं.

वो 10:20 बजे आया, मैंने धीरे से दरवाजा बंद कर दिया और उसे मेरे रूम में ले गई.

अब उसकी आवाज बाहर ना जाए इसलिए मैंने अपने होंठ छाया के होंठों पर रख दिए और फिर जोर से धक्का मारा. मैंने भी अपने लंड को उनकी चुत पे रख कर धीरे से धक्का दे दिया, तो वो बोल पड़ीं- आह, क्या मजा है यार. ”मैंने उसकी दोनों चुचियों पर शहद लगाया और धीरे धीरे जुबान से चाटते हुए उन्हें एक एक कर अपने मुँह में भर लिया.

कव्वाली बीएफ वीडियोभाभी ने बोला- आह… क्या कर रहे हो जान… आराम से करो ना… मैं कहीं भाग थोड़े रही हूँ. तभी सिराज आया और अपने हाथ आग पे सकते हुए उसने पूछा- क्यों मैडम, हो गयी दिल की मुराद पूरी या अभी भी बाकी है?मैंने बोतल मुँह से लगाई, लंबा सा घूंट भरा और कहा- अगर सिराज में दम है तो मैं तो अभी भी तैयार हूँ!सिराज ने अचम्भे से मेरी तरफ देखा और अपने हाथ जोड़ते हुए कहा- मेरी माँ, बस कर अब, साली पांच पांच को निचोड़ गयी और अभी भी ठरकी बनती है.

झोपड़पट्टी सेक्स

मैंने उसको मेरे इस धक्के के बारे में बताया नहीं था वरना वो पहले ही डर जाती और उसको ज्यादा दर्द होता. इस बार उसकी चीख पहले से भी तेज थी, लेकिन मुँह में लंड होने की वजह से उतनी तेज नहीं निकली, लेकिन उसकी आँखों से निकलने वाले आंसू सारी कहानी खुद ही कह रहे थे. मैंने अब उसे चित लेटाया और अपना लंड उसकी चुत पर रख कर उससे बोला- यार प्रिया, थोड़ा दर्द होगा तुम्हें… तो सह लेना.

फिर मैंने उसे तौलिया देते हुए कहा- रजनी तुम्हारे हाथ कितने गोरे हैं?वो बोली- हट बेशर्म. शाम को मैं वापस घर आया तब देखा कि भाभी ने ड्रेस बदल कर साड़ी पहन ली. मेनका- आह आह अतुल, इतना मजा मुझे कभी नहीं आया… आइ लव यू अतुल!मैं- आई लव यू टू दीदी!मेनका- नहीं अतुल, अब मैं तेरी दीदी नहीं रही, अबसे हम दोनों प्रेमी प्रेमिका हैं.

मैंने अन्तर्वासना की बहुत सी रियल कहानी पढ़ी हैं मुझे इधर की चुदाई की कहानी पढ़ कर बहुत मजा भी आया. दोस्तो ये मेरी पहली आपबीती है जिसे मैं अन्तर्वासना साइट पर डाल रहा हूँ. मैंने एक पल के लिए प्रिया की ओर देखा। सामने से आते किसी वाहन की हैडलाईट के नीम उजाले में प्रिया की कजरारी आँखों में वही बिल्लौरी चमक और गुलाबी होंठों पर वही जानी-पहचानी मोनालिसा मुस्कान दिखी।हम दोनों एक दूसरे से कुछ बोल तो नहीं रहे थे लेकिन मौन सम्प्रेषण चालू था.

चाचा मेरी चूची को बहुत देर तक बदल बदल कर चूसते रहे उसके बाद उन्होंने मेरी पेंटी को निकाल दिया. मैं चुंबन से उसका मुँह बंद कर दिया और बोला कि आज हम अपनी सुहागरात मानने जा रहे हैं.

यह सुनते ही उन्होंने मुझे फ़िर से पकड़ लिया और मुझे स्माइल देते हुए किस करने लगीं.

करीब दस मिनट के बाद दीदी की गांड में ही मेरा पानी निकल गया और हम दोनों उसी तरह एक दूसरे से लिपट कर सो गए. देसी बीएफ सेक्स बीएफएक 18 साल के गर्म लौंडे के सामने पूरी नंगी हो चुकी थी।वो- चाची जी आपने हाथों. बीएफ वीडियो लेडीसपर अगले दिन अभी मेरा मस्त मलंग लंड देसी बालाओं की और चुदाई करना चाहता, लेकिन बुआ से पकड़े जाने का डर हमेशा लगा रहता था. मैंने कहा- अब मैं आपकी प्यास बुझा दूँ छाया?वो बोलीं- मैं तुम से चुदने के लिए कब से तैयार हूँ.

क्योंकि वह समय समय पर लंड का स्वाद लेती रहती हैं और लंड के लिए उन्हें ज्यादा भटकना नहीं पड़ता है.

मैंने कहा- क्या करूँ, आपके शरीर से प्यार हो गया है, ना पढ़ाई में दिमाग़ लगता है और ना खेलने में. उन्हें इस रूप में देखकर मेरा लंड लोहे की तरह टाईट हो गया, ऐसा लग रहा था, जैसे अभी पैन्ट फाड़ कर बाहर आ जाएगा. फिर वो मोना की जांघों को प्यार से चूम कर वापिस उसकी योनि के पास आ गया.

”फिर एक दिन उसने मुझे अन्तर्वासना की साइट के बारे में बताया और मैं रोज कहानियाँ पढ़ने लगी। इसमें बहुत सी कहानियाँ मेरी जैसी लड़कियों की थीं. ये सब हुए कोई 3-4 महीने बीत गए होंगे, मेरे आखिरी वाले एग्जाम होने लगे थे. मैं उनकी वासना को भड़काने के लिए रोज उनकी ब्रा पैन्टी में मुठ मारकर वैसे ही रख देता था.

ब्लू पिक्चर हिंदी इंग्लिश

मैंने चाय पीकर उसे बिस्तर में सुला कर उसकी साड़ी हटा कर नंगी कमर की आयोडेक्स लगा कर मालिश की और गर्म पानी से कमर से लेकर उसकी गांड तक सिकाई करने लगा. विवेक ने कामिनी के दोनों गोरी टांगों को अपने कंधों पर उठा लिया और एक झटके में फुल स्पीड से चोट लगाते हुए पूरा लंड घुसेड़ दिया. वहां हमने खाना खाया और बातें की और फिर मैंने कुछ घर में पहनने वाले सिंपल कपड़े ले लिए.

आज पहली बार मेरे शौहर के अलावा किसी और का लंड मेरी चुत की सैर करने जा रहा था.

और मेरे बालों को पकड़ कर राजेंद्र अंकल ने मेरी गांड को जोर से कस के और अपना पूरा लौड़ा अन्दर घुसा दिया पूरी तरह! अंकल मेरी गांड चोदते हुए जोर से पकड़ के घुसाने लगे और मेरे बाल जोर से पकड़ कर गाली देते हुये बोले- और ले अपनी गांड में मेरा पूरा लंड!और इस तरह से उन्होंने अपना लंड गरम गरम रस मेरी गांड में भर दिया और मेरे पीठ से लिपट गए.

मैं तो खुशी के मारे पागल सा हो गया और जोश में आकर उनके मम्मों को छोड़ कर, उनको दोनों हाथों से पकड़ कर घुमा के अपने सीने से लगा दिया. मैं उससे पूछती- वर्षा, तुम मुझसे नाराज तो नहीं हो ना इस बुखार के लिए?वो बोली- नहीं दीदी, मैं तो खुश हूँ. बीएफ वीडियो सेक्सी सनी लियोनअधिकतर मेहमान तो विदा हो चुके थे लेकिन अभी भी घर मेहमानों से भरा हुआ था.

उसकी सफ़ेद पतली जांघें, उसके आम जैसे नुकीले चुंचे, उसके अंगूर जैसे काले निप्पल, उफ्फ्फ मेरा भी उसे अभी चोदने का मन कर रहा था. गेट खोलने से पहले मैंने उसे कस कर पकड़ा और लम्बी वाली लिपकिस की और ऊपर से ही उसकी चूत को रगड़ डाला. इसी के साथ उसका छोटा सा मुंह भी अब अधिक खुलना शुरू हो गया, जिसके फलस्वरूप जमैका अपने काले सर्प को उसके गले तक अन्दर घुसेड़ना चालू हो गया था.

उसके बाद मैं उनके मम्मों से खेलता रहा और वो मेरे लंड से खेलती रहीं. ”विक्की ने अपने सारे कपड़े उतार दिए और अपनी खड़ी डंडी के साथ बिस्तर पे चढ़ कर सीधा लेट गया.

तभी भाभी पीठ के बल लेट गई और गर्दन पर भी विक्स लगाने को बोल कर अपना पल्लू हटा दिया.

भाभी के मुँह से ऐसे बोल सुन कर में और उत्तेज़ित हो गया और अपना लंड अन्दर डालने की कोशिश करने लगा. कुछ पल बाद मैं उठ कर किचन से एक पानी की बॉटल ले आया और उन पर पानी छिड़का. फिर रोहण मेरे पूरे शरीर को किस करने लगा और फिर वो मेरी चूत पर आ गया और फिर उसने मेरी पैंटी निकाल दी.

बीएफ फिल्म मूवी बीएफ आज मैं उसके रहते ही अपने बेडरूम में लंड निकाल कर उसका नाम लेकर धीरे धीरे से हिलाने लगा और उसका इंतजार करने लगा क्योंकि मुझे पता था कि जाने के पहले वो मेरे कमरे में जरूर आएगी. मैं उसकी कलित को होंठों में लेकर चूसने लगा तो उसकी कामुकता का कोई पारावार नहीं रहा और साथ ही वो मेरा लंड भी तेज़ी से चूसने लगी.

एकदम दूध जैसी सफेद गेंदें देखते ही मेरा लंड अपना संयम खोने लगा और धीरे धीरे मेरा लंड खड़ा हो गया. अब बाइक पर सबसे आगे में था, मेरे पीछे सोनी और उसके पीछे मेरा छोटा भाई. चूंकि दीदी की चूत गोरी थी, लेकिन साइड में एकदम हल्की सी काली सी दिख रही थी.

सनी लियोन न्यूड फोटो

अब मैं अपने शरीर पर के कपड़े निकालने से पहले देख लेना चाहती थी कि इस बैग में क्या क्या है. थोड़ी देर बाद मैं खुद खड़ी हुई और उसके लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग :बीवी की चुत चुदाई मेरे दोस्त से-3.

उसने एक पारदर्शी जालीदार काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी। मैंने उसके कानों पर लिकिंग करते हुए उसके गर्दन से नीचे आते हुए उसके ब्रा के हुक को अपने दांतों से खोला, बहुत देर लगी मुझे ब्रा का हुक खोलने में… फिर मैंने अपने होंठों और दांतों से ही उसकी ब्रा पूरी उतार दी. फिर आंटी बिना कपड़े निकाले ही डॉगी स्टाइल में आ गईं और मैं उनके पीछे हो गया.

इतनी देर में केबिन का गेट खुला और एक ऑफ़िस का लड़का विनय ने अन्दर देखा.

पुलकित को यह भय था कि अगर मंजरी का भाई और मम्मी घर आ गए तो कहीं उसे यह मौका भी न गंवाना पड़े, तो पहले एक बार मंजरी कंजरी को ठोक लो, चुदाई कर लो, प्यार बाद में करते रहेंगे. कामुकता हम पर सवार हो चुकी थी, अगले कुछ ही पलों में हम दोनों बिल्कुल नंगे हो गए. मेरे मन में फिर से लड्डू फूटने लगे, पर पिछली बार जो हुआ था, उसका डर भी था.

और वो थोड़ी देर बाद ही फिर से रेडी हो गया, उसका लंड फिर से उसी तरह अपना सर उठाये खड़ा था पर मैं रेडी नहीं थी। मैं दोबारा चुदाई के लिए मना कर रही थी पर संजना मुझ पर दोबारा चुदाने के लिए जोर डालने लगी तो मैं तैयार हो गयी. वो अपनी पेन्ट उतारने लगा, लंड निकाल के बोला- जान चूसोगी नहीं?मैं झुक कर घुटनों पर बैठ गई और लंड लगी चूसने!वो आह्ह्ह आह्ह्ह करने लगा और मेरा मुह लंड पे दबाने लगा, मैं भी गले के नीचे लंड उतार लेती, पूरा निगल लेती, वो आह्ह्ह आह्ह करते अकड़ने लगा, मेरा मुंह लंड पे दाब दिया. माया के उछलते हुए मम्मों को देख के अंकित और उत्तेजित हो रहा था और माया के चुत की गर्मी अंकित की हवस को और भड़का रही थी.

फिर हमने शाम को डिनर किया और मोना के साथ संभोग भी किया और दोनों सो गए.

बीएफ हिंदी मे सेक्सी व्हिडिओ: मैं- आंटी मैं सलवार को निकाल दूँ?आंटी- क्या करेगा मेरी सलवार निकाल कर?मैं- आपकी चूत चोदना चाहता हूँ. अगली सुबह जब हम तीनों भाई बहन कॉलेज जाने के लिए उठे, तो सोनी मुझे ब्रश करती हुई बाल्कनी में दिखी.

अभी तक की इस कामवासना से भरपूर बहु की चुदाई कहानी में आपने पढ़ा कि हम ससुर बहू अपने केबिन के बाहर की दुनिया से बेपरवाह अपनी ही दुनिया में खोये हुए सेक्स का मजा कर रहे थे. उसके मुँह की गर्मी जब लंड पर पड़ी तो एक अजब तरह का सुकून मिला और करीब 5 मिनट के बाद मैंने लंड उसके मुँह से निकाला और उसे चित करके मैं उसकी जांघों के बीच में अपना मुँह ले जाकर उसकी जांघों को चूमने लगा. मैं फिर किसिंग करने वाला था कि उसने कहा- इसके लिए भी कुछ नया तरीका निकालो ना!मैं उठा कुछ सोचते सोचते बाहर गया.

मेरी चूत से रस की धारा बहने लगी जिसे महेश मज़े लेकर ऐसे चाटने लगा, जैसे कोई आइसक्रीम चाट कर खा रहा हो.

वह भी देखने में मोना से कहीं से भी कम नहीं थी, वैसे भी उनकी बिरादरी में लड़कियां होती ही ज्यादा सुन्दर हैं. अब वो अपने हाथों मेरे सिर को अपनी चुत पर जोर जोर से रगड़ने लगीं और अपने चूतड़ उठाने लगीं. बाद में मैं बाथरूम में चला गया और मामी के नाम की मुठ मार कर कमरे में जाकर सो गया.