मुंबई की रंडी की बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू फिल्म दीजिए वीडियो में

तस्वीर का शीर्षक ,

மும்பை செக்ஸ்: मुंबई की रंडी की बीएफ, इनके बीच में प्यार अब भी था, शायद पहले से भी ज्यादा, पर ये अलग किस्म का जिस्मानी प्यार हो गया था.

भोजपुरी सेक्सी नंगी चुदाई

कभी उनके करीब आने के लिए मैं उनसे जानबूझ कर कोई ना कोई सवाल पूछता रहता. रण्डी सेक्सीबहू रानी बड़ी सजधज कर टिपटॉप होकर आयी थी; मुझे भी कुछ यूं लग रहा था जैसे मैं फिर से अट्ठाईस साल का जवान हो गया हूँ और साथ में मेरी गर्लफ्रेंड चल रही है जिसे रात में जी भर के चोदना है.

फिर मैं धीरे धीरे अपने लंड को अन्दर बाहर करने लगा और अब भाभी पूरा चुदाई का मजा ले रही थी. हनी सेक्सीलड़के ने धीरे से अपने दूसरे हाथ से लौंडिया की पैंटी को नीचे कर दिया.

लेकिन रेखा झिझकती हुई बोली- पिंकी, क्या करती हो? पापा देख रहे हैं!पिंकी बोली- अब मैं क्या करूँगी, जिसे करना है वो ही करेगा.मुंबई की रंडी की बीएफ: मैं अपना लंड पैन्ट से बाहर निकाल कर हाथ से रगड़ने लगा और मुठ मारने लगा.

इसके बाद लंड को गांड के छेद पर रख कर पुश कर दिया और मजे से उसकी गांड मारने लगा.’ करते हुए अपने हाथ मेरे सर पर रखे और मेरे सर को अपनी चुत पर दबाने लगी.

म्प३ सेक्सी - मुंबई की रंडी की बीएफ

रंजु ने बताया कि अभी सभी रसोई के काम निपटा कर बुआ को दूध के साथ एक गोली और दी है.हम अलग हो गए… मैं खड़ा हुआ तो उसने लपककर मेरा लंड मुँह में डाल लिया और तेज-तेज अन्दर-बाहर करने लगी.

” वो सिसक उठी।दिनेश- तुझे पसंद आया लन्ड?आरुषि ने अपना पूरा वजन लन्ड पर डाल दिया और लन्ड सरकता हुआ जड़ तक समा गया. मुंबई की रंडी की बीएफ कोई हमारे होंठ खा रहा था, कोई मम्मे काट खा रहा था तो कोई चुत में, गांड में उंगलियां कर रहा था.

वो भी अपनी बहन की… उसकी सुहागरात को!अपना पेटीकोट उठाए हुए अपने जीजा से बुर चटवाती हुई… मस्ती में अपने होंठ काटती हुई.

मुंबई की रंडी की बीएफ?

फिर चाची मेरी तरफ घूम गईं और उन्होंने अपनी मैक्सी ऊपर उठाई और अपनी चूत पर हाथ रख कर बोलीं- देख ये है मेरी नुन्नू. फिर कुछ देर बाद आंटी ने मेरा लौड़ा चूस कर खड़ा कर दिया और अब मैंने आंटी की टांगों को अपने कंधों पर रख कर उनकी चुत में लंड पेलने लगा. मैंने अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और नेहा दी जोर जोर से झड़ने लगीं, जिस वजह से हर धक्के में चाप चप चाप की आवाज आने लगी.

उसने रमेश के लंड पर एक नज़र मारी और उसको बड़े प्यार से अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया. जिस वजह से वो मुझ से सब बातें शेयर करती थी। मैं उस के बॉयफ्रेंड को भी जानता था तथा उस से कई बार मिला भी था। कनिका ने मुझे उस के बारे में कई बातें बताई थीं कि वो कैसे उस के नजदीक आने की कोशिश करता रहता था. अब मेरे सामने थे-मेरी चूत की भूख और भाई का लंडमुझे भाई का लंड लेना था.

! तो दोस्तो मैं किस लिए हूँ सबका मज़ा मिलेगा बारी-बारी से मगर रात तो होने दो यार. आप भी आ जाओ और मुझे बताओ ये अनिता कौन है?अनिता का नाम सुनकर गुलशन जी की हवा टाइट हो गई, वो इधर उधर देखने लगे. इस वक्त मेरी बेटी एक रंडी कुतिया की तरह मेरे लंड के रस को आइसक्रीम के साथ चाट रही थी, जिसे देख कर मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा था.

अब मैंने रजाई हटा दी और उसको घोड़ी बनने को कहा, जिस पर वो तुरंत घोड़ी बन गई और गांड निकाल कर मेरे सामने गांड मरवाने को तैयार हो गई. नीचे बैठा राम किसी पिल्ले की तरह मामी के दोनों चुचों को चूसकर लाल किए जा रहा था.

इसके बाद गर्मी के मौसम के कारण मैं रोज छत पे ही सोता था और मेरा बिस्तर आंटी के बिस्तर के साथ ही बिछता था, जिससे मुझे रोज बेबी को आंटी के चूचे पकड़ के दूध पिलाने का मौका मिलने लगा.

हास्पिटल ओपनिंग के कुछ ही दिन के बाद मेरे पास एक लेडी रागिनी आई, जिसकी लड़की के पेट में बहुत तेज दर्द हो रहा था.

रुक रुक कर चमक रही बिजली में पगडंडी से सटे पुराने स्कूल के खंडहर के बरामदे में मुझे कोमल भाभी और बुआ की झलक दिखाई पड़ी. उधर अमित अब दो उंगलियां माया की चुत में डाल चुका था और साथ ही साथ चुत के दाने को चूस रहा था. मेरे लंड से रस की पिचकारियां छूट रहीं थीं तो उधर बहूरानी की चूत भी सुकड़-फैल कर मेरे लंड को निचोड़ रही थी.

संजय अभी भी स्पीड से गांड मारने में लगा हुआ था और पूजा बोले जा रही थी- आह… मामू सस्स आपका लंड बहुत अच्छा है… आह… चोदो… फाड़ दो मेरी गांड को… नहीं आह… ज़ोर से करो. मैं बचपन से ही योग करता आ रहा हूँ तो ध्यान लगाना मेरे लिए कोई बड़ी बात नहीं थी. रंजु ने बताया कि अभी सभी रसोई के काम निपटा कर बुआ को दूध के साथ एक गोली और दी है.

मुझे भी दर्द कम हुआ सा लगा तो मैंने अपनी गांड में उंगली डाल कर देखा.

अब सुमन शांत हो गई थी मगर ये अहसास कि उसके पापा उसका रस चाट रहे हैं, उसको और अधिक रोमांचित कर रहा था. टीना- आ गए मेरे चुत खोर दोस्त, सब ठीक सामान लाए हो ना?अजय- टीना मेरी जान सामान को मार गोली. मैं जानता था कि वो मुँह निकाल लेगी, तो मैंने पहले ही उसका मुँह अपने लंड पर दबाकर रखा था.

जैसे एक बिजली दौड़ी हो मेरे अन्दर… और एक झटके में मेरी सारी नींद फुर्र हो गईअब मेरे हाथ मेरे काबू में थे और मुझे पता था कि अब आगे क्या होने वाला है. आप भी उन लड़कों जैसे छेड़ रहे हो, वो लड़के मुँह से छेड़ते हैं और आप हाथ से. एक ही झटके में मैंने पूरा आठ इंच का लंड उस की चिकनी चूत में उतार दिया.

उसने पहले तो पेंटी के ऊपर से ही लंड को सहलाया और चूमना शुरू किया और थोड़ी देर बाद पेंटी को हटा कर पूरा लंड मुंह में ले लिया.

वह मेरे आठ इंची लंबे और तीन इंची मोटे लंड को पैंट के ऊपर से सहलाने लगी. अब मैं सिर्फ़ अंडरवियर में था और दीदी सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउज में थीं.

मुंबई की रंडी की बीएफ उनका लंड भी लोवर में सख्त हो गया था, जिसे छिपाने की वे नाकाम कोशिश कर रहे थे. वो जानता था कि अगर उसके दोनों भाई बहन को, जो इस समय वासना में लिप्त थे.

मुंबई की रंडी की बीएफ मैं उसे गाली देता हुआ चोद रहा था और वो भी मुझे गाली देते हुए चुदवा रही थी. मैंने उसके टॉप को उठाने का प्रयास किया लेकिन इस बार उसने मेरा हाथ पकड़ कर हटा दिया.

जवानी की शुरुआत में ही मामी की चुदाई के जीवन के इस अनमोल सुख को पा कर मैं धन्य हो गया.

बिहार का बीपी सेक्सी वीडियो

करके अपनी कमर को उचका रही थी।हम दोनों का ही वक़्त करीब आ चुका था और हम दोनों ही अपनी पूरी ताक़त से एक दूसरे को चोद रहे थे। मैं ऊपर से और ममता जी नीचे से धक्के लगा कर मज़े ले रही थी। हम दोनों की ही सांसें उखड़ गयी थी और पसीने से बदन भीग गये थे. कुछ देर बाद पड़ोस के गांव का एक आदमी आया और पापा से कहने लगा कि तुम्हारी बुआ सास बहुत बीमार हैं और वो कुसुम से मिलना चाहती हैं. लेकिन रेखा झिझकती हुई बोली- पिंकी, क्या करती हो? पापा देख रहे हैं!पिंकी बोली- अब मैं क्या करूँगी, जिसे करना है वो ही करेगा.

मेरी बहन भी भूखी शेरनी की तरह लंड को निहारने लगी और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. सुमन भाभी ने ब्रा से मैचिंग कलर की लाइट ग्रीन कलर की छोटी ट्रांसपैरेंट नेट वाली ही पैंटी पहनी थी. जवानी की शुरुआत में ही मामी की चुदाई के जीवन के इस अनमोल सुख को पा कर मैं धन्य हो गया.

मैंने बोला- भाभी मुझे अपना हज़्बेंड ही समझो और जब तुम बोलोगी, तब मैं तुमको चोदने के लिए दिल्ली आ जाऊंगा.

उस रात हम दोनों ने 4 बार चुदाई की और फिर तो हमे जब भी मौका मिलता हम चुदाई कर लेते थे. एक हाथ दूसरी चूची के चूचुक को सहला रहा था तो दूसरा हाथ नाभि के चारों तरफ फिरा रहा था. धीरे से अपना हाथ मोनिका की चुत पर फेरा, जो मुझको आज भी फ्रेश लगती है.

मेरा चूमना क्या हुआ कि रीना तो अपनी छाती उठा उठा कर सिसकारियाँ भरने लगी- स्स्स्स्श उह्ह्ह्हा. वो भी तो तेरी ही बेटी थी?गुलशन- अनिता की बात अलग है, वो मेरी सग़ी बेटी नहीं है. वो चीख पड़ी और उठ कर बोली- दीदी तुम भी ना मुझे सोने क्यों नहीं दे रही.

जब बुआजी बिस्तर पर आईं तो मुझे आवाज लगाई लेकिन मैं सोने का नाटक करने लगा. वो चीखना चाहती थी लेकिन मेरे होंठ उसके होंठ के ऊपर रखे होने वजह से उसकी आवाज बाहर नहीं आ सकी.

बहू रानी के वाशरूम में घुसते ही तेज सीटी की आवाज सुनसान घर में गूंजने लगी. मुझे ठंडा पड़ता देख मेरे मामा के हाथ ने फिर से मेरे हाथों को पकड़ा और वापस लाकर मामी के पेट पर रख दिया. उसके बाद गुलशन जी ने कहा कि वो बहुत थके हुए हैं और उनको नींद आ रही है.

मेरे कजिन ने मुझ से कहा कि भैया आप में कितनी ताकत है, जरा मुझे भी दिखाओ.

जब भाभी पूरी नंगी हुईं तो मैं उनका पूरा मदमस्त बदन देखने और सूंघने लगा. अंजलि ने चुत को अच्छे से साफ किया हुआ था और शायद कोई अच्छा डीओ लगाने के कारण चुत से अच्छी खुशबू आ रही थी. मुझे पता था कि जीजू मुझे चोदना चाहते हैं क्योंकि मैं जब भी बाथरूम में नहाती थी और बाथरूम से बाहर आती थी, तो जीजू बाथरूम में जाकर मेरी ब्रा और पेंटी में मुठ मारते थे और मैं ये बात जानती थी.

क्या अंकल उनकी चूत चाटेंगे? ये प्रश्न मुझे परेशान कर रहा था।शाम तक मैं यही सोचता रहा. रूपा की वो हल्की अकड़ देख के पप्पू ने गुस्से से उसकी चूचियाँ बड़ी बेरहमी से मसलीं और निप्पल काटते हुए तीन उंगलियाँ ज़ोर से चूत में घुसा दीं, जिससे रूपा को बड़ा दर्द हुआ.

मैं तो चली जाऊँगी इस बेटीचोद का ख्याल रखना, बड़ा मस्त चुदाई करता है. लेकिन इस बार शर्ट ऊपर हो चुका था और मेरा हाथ मेरी मामी के चिकने पेट पर था. मैंने अपने धक्के चालू किए तो आंटी भी साथ देने लगीं और आंटी मेरे लंड के ऊपर बैठ गई और उछलने लगीं ‘ऊहीईईई आहा…’कमरे में चुदाई की आवाज गूँज रही थी.

राणी मुखर्जी सेक्स फोटो

लुंगी के ऊपर से पप्पू का लंड पकड़ कर रूपा ने कहा- पप्पू, आज तुझे मैं अपनी नीता दे रही हूँ.

रूपा की नंगी गीली चूत देख कर उस पे हाथ रख कर मसलते हुए रूपा की साड़ी कमर तक उठा दी. मैं तो डर गई और पीछे पलट कर देखी तो एक अच्छा हट्टा कट्टा आदमी था, जो मेरी चूत को चूस रहा था. मैंने आंटी को अपनी बांहों में भरा और और अपने हाथ उनकी पीठ पर ले जाकर हुक लगा दिया.

शरमाओ मत…यह कह कर उसने मुझे आँख मारी और दिनेश का लंड निकाल कर चूसने लगी. फिर 15-20 मिनट के बाद जय बोला- भाभी तुम मेरा लंड सहआओ, अब मैं तुम्हारी चुदाई करूँगा. राजस्थानी हिंदी सेक्सी बीपीआज पता लगा था जब मेरी शादी हुई होगी, उस वक्त मोनिका पर क्या गुजरी होगी.

यह रंगीन दृश्य देख कर मेरी नीयत खराब होने लगी, मेरी कामुकता जागने लगी, मैंने तुरंत अपने मोबाइल का कैमरा ऑन किया और अपनी बहन की नंगी चूचियों की वीडियो बनाना शुरू कर दिया।फिर मैं काफी देर तक उसे देखता रहा. दोस्तो, मैं दिनेश, मेरी पिछली कहानीमेरी मामी के साथ सहेलियों का लेस्बियन सेक्समेरी साली ममता की सहेली सुधा की थी, भूल गए तो बता दूँ कि मेरी साली ममता बड़ी नखरे वाली थी, उसे मैंने बड़ी मुश्किल से पटा कर चोदा था.

रवि के दिल में मेरे लिए क्या था, यह तो मैं नहीं जानता था लेकिन मुझे लगने लगा था कि उस पर मेरा ही हक़ है. मैंने हल्के से उंगली भी करनी शुरू की, रीना मदहोश हो गई थी, वो मेरे बालों में हाथ फिराने लगी. जब संजय ने पूछा तो टीना ने शॉर्ट में कहानी सुना दी और नई चुत की बधाई भी दे दी.

मैंने भी मम्मी के बड़े बड़े बूब्स दबाने शुरू कर दिए और ब्रा खोल कर मम्मी के बूब्स आज़ाद कर दिए. उसने साफ़ साफ़ लिखा कि मैं एक विवाहित पुरुष हूँ और मेरी भी एक इच्छा है. बहूरानी की चूत बहुत गीली होकर रस बहा रही थी यहाँ तक कि उसकी झांटें भी भीग गईं थीं.

मैंने मन ही मन तय कर लिया कि नहीं नहीं अब मैं ये बिल्कुल भी नहीं होने दूँगी, मैं मेरे शौहर को धोखा नहीं दूँगी.

फ्लॉरा- ये सब जाने दो अब आगे क्या करना है? हमारे घर वालों तक ये बात नहीं जानी चाहिए कि संजय हमारा दोस्त था. उस वक़्त मम्मी की लाल साड़ी और बिंदिया, गहरी लिपस्टिक को देख कर ससुर जी का लंड ने पैंट में तम्बू बना दिया.

फिर अचानक आंटी ने मेरा लंड अपनी चूत के अन्दर निगल लिया, मुझे लगा जैसे मेरा लंड किसी बड़ी सी गुफा में घुस गया हो. घर का दरवाज़ा खुला था, दोनों अन्दर आये और हॉल में लगे सोफे पर गिर गए. पप्पू के हाथ को बिना रोके नीता बोली- ना अंकल मैं… वो लोग जो बोलते हैं वैसा कभी बोल ही नहीं सकती.

जीजू मुझे अपने रूम में ले कर गए और मुझे बेड पर बैठा दिया और बोले- तुम यहीं बैठो, मैं अभी आता हूं. तो मैंने देखा कि कनिका की शर्ट उसके मम्मों के ऊपर आ गई है। उसने ब्रा नहीं पहनी थी तो उसकी नंगी चूचियां दिखाई दे रही थी. मगर मैं कैसे उसको बोलती कि मेरी चूत में डालो और मेरी ये इच्छा दीपक ने पूरी कर दी.

मुंबई की रंडी की बीएफ फ्री होने के 2 दिन बाद मैंने देखा कि ऋतु किसी और लड़के से बात कर रही है. दोस्तो, मेरी मामी को 6 महीने की बेटी थी तो उनकी चूचियां इस वक़्त अपने चरम पे थीं.

ब्लू फिल्म फुल सेक्सी मूवी

बाहर आकर मैं उनको अपने साथ अपने फ़्लैट में ले आया इधर आते ही मैंने सारिका मेम को अपनी बांहों में भर लिया. कुछ देर ऊपर ऊपर चूमने के बाद मैंने विनीता के होठों को अपने होठों में ले लिया और पके आम की तरह चूसने लगा. तो भाभी बोलीं- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?मैंने कहा- नहीं भाभी.

मन तो उससे चटवा कर साफ कराने का था लेकिन अभी उसका वक्त नहीं आया था. फिर हम तीनों अलग हुए… मैंने अपने भाई को गले लगाया और उसे खूब चूमा और कहा- थैंक्स भाई, तूने मुझे आज चुदाई का परम सुख दिया है. गुजराती लड़की की सेक्सी चुदाईमैं सुबह से काम करके थक चुका था तो थोड़ी रेस्ट करने के लिए बिस्तर पर लेट गया.

कुछ पल बाद ममता को पता लग गया कि अब मैं स्खलित हो रहा हूँ तो उसने झट से मेरा लौड़ा चड्डी से बाहर करके जोर जोर से मुठ मारना शुरू कर दी.

भाभी जोर जोर से रोने लगी क्योंकि उसको उस वक्त काफ़ी दर्द हो रही थी. दूल्हा दुल्हन यानि छोटी दीदी सुनीता और उनके पति को सुहागकक्ष में भेज दिया गया और सारे लोग अपने सोने के लिए जगह ढूँढने लगे.

[emailprotected]कहानी का दूसरा भाग :लखनऊ से दिल्ली की ट्रेन में चुदाई का मजा-2. बीस मिनट की लम्बी चुदाई के बाद मैंने अपने लंड का वीर्य उस की चूत में छोड़ दिया. फिर कुछ मिनट बाद मेरा मोटा लंड फिर से भाभी को चोदने को तैयार हो गया.

इधर मैं रंजु के ऊपर लेट गया, उसके होंठों से होंठ मिला दिए और चूमना शुरू किया.

अब हम दोनों वापस साथ में ही नहाने लग गए और एक दूसरे की सफाई करने लगे. मेरा तमतमाया हुआ लंड छत की तरफ मुंह उठाये किसी खम्भे जैसा खड़ा था, बहूरानी की लार नीचे बह बह के मेरे अण्डों को भिगो रही थी. मैंने अपनी सास को बेड पर गिरा दिया, फिर अपनी साड़ी, पेटीकोट, ब्लाऊज, ब्रा, पैन्टी उतार दी.

डॉगी वाला सेक्सीमोना- अच्छा ये बात है चल ये बता तुझे अपने जीजू का लंड पकड़ने में मज़ा आया कि नहीं?नीतू- दीदी सही कहूँ. अब उसने मेरा ब्लाउज पेटीकोट सब उतार दिया और खुद भी सिर्फ़ अंडरवियर में आ गया.

सेक्सी फिल्म वीडियो में पंजाबी

फिर?”फिर दो दिनों तक मैंने अपनी चुत की गर्म पानी से खूब सिकाई की तब कहीं जाकर मैं कुछ चलने फिरने के काबिल हुई. पर जब मैंने भाभी को नंगी देखा तो मैं गर्म हो गया पर आँख बंद करने का और शर्माने का नाटक करने लगा. इरादा क्या है बता तो सही?पप्पू ने मुस्कुराते हुए कहा- ऐसा ही कुछ समझो रूपा रानी, अब तुम लग रही हो इतनी मस्त कि रहा नहीं गया… पहले दिल में कुछ नहीं था पर छूने के बाद अब सब करने का इरादा है, अब तक पिछवाड़ा और पेट सहलाते हुए हाथ अब सीने तक पहुँचा है, पर अभी नीचे छेद तक जाना बाकी है, बोल तेरा इरादा क्या है? तू भी तो मजा ले रही है, तू बोल क्या चाहती है?पप्पू का हाथ अब रूपा के ब्लाउज के हुक पे आ गया.

अमित ने आगे बढ़ के माया के एक बोबे को मुँह में भर लिया और माया की चुत की गर्मी के आगे टिक ना सका. शायद भाभी ने मेरी नीयत जान ली थी इसलिए एक दिन भाभी ने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है क्या?मैंने झूठ बोल दिया कि नहीं. उसने मुझे एक कमरे में लगे बिस्तर पर सोने को कहा और खुद उसी कमरे में बिस्तर के पास ही एक कुर्सी पर बैठ गई.

अब जब से पप्पू घर में आया था, उसकी नज़रों से नीता समझ गई थी कि यह मर्द उसे चाहता है. बाप रे वो लंड इतना मोटा था कि मुश्किल से मेरे मुख में फिट हो रहा था. लेकिन मिलना हमारे लिए बहुत ज़्यादा मुश्किल था क्योंकि अगर किसी को पता चलता या कोई हमें बात करते हुए देख भी लेता, तो बहुत समस्या हो जाती.

गुलशन- मगर कैसे वो मेरी बेटी है और मैं ये सब उससे कैसे कहूँ?आत्मा- यही वो भी सोच रही होगी कि तुझे कैसे कहें कि पापा मुझे चोदो. मेरे बाजू में बैठते ही उसकी जांघ मेरी जांघ से लग गई, पर उसने अपनी जांघ हटाई नहीं तो मैंने भी नहीं हटाई.

’ करते हुए अपने हाथ मेरे सर पर रखे और मेरे सर को अपनी चुत पर दबाने लगी.

मैंने काम वाली को देख लेने को कहा और मैं अपने कमरे में आ गई और अपनी कामुकता को शांत करने के लिए अन्तर्वासना की कहानियाँ पढ़ कर अपनी चूत खोल कर उंगली करने लगी. उत्तराखंड की सेक्सी फोटोएक दिन मेरी छोटी बहन वर्षा मुझ से बोली- दीदी, तुम्हारी ये हरकतें अच्छी नहीं हैं. हॉलीवुड की सेक्सी सेक्सीमैं- क्या बोलने आई हो?जोशना- साले, पूरे दिन मुझे और मेरे जिस्म को ताड़ते रहते हो शर्ट के ऊपर से ही और अब पूछ रहो हो क्या?मैं- यू आर सेक्सी… सो यू नो…जोशना- यस आई नो… लेकिन मैं वर्जिन हूँ तुम्हारी तरह… लेकिन अब बड़े होने का टाइम आ गया है… सो लेट्स क्रेजी. मामी के मुँह से चीख न निकले इसलिए मैंने अपना लंड उनके मुँह में ठेल दिया.

अब तो आंटी ने अपने गाउन के बाकी बटन भी खोल दिए और आंटी पूरी नंगी मेरे सामने लेटी हुईं, अपने मम्मे मुझसे चुसवा रही थीं.

लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों पूरी तरह से पसीने में हो गए थे. उससे मिलने के बाद मेरा लंड पूरी पार्टी में टनटनाया ही रहा और मैंने पूरे समय उसका चक्षुचोदन किया. बात में दम था क्योंकि मैं नानी के घर काफी दिनों से नहीं गया था और अगर मैं कुछ दिनों बाद जाने का प्लान बनाता भी तो किसी को कोई आपत्ति भी नहीं होती.

अभी पिछले साल दिसम्बर में मैं एक दिन कुछ खरीदारी करने के लिए अमीनाबाद गया था. लेकिन मोहन तो ठाप मारे जा रहा था और कुछ ही देर में वो भी शमशेर की तरह ही मम्मी पर औंध गया और वो भी अपनी गांड को खुल्लु भिच्चु करने लगा. मुझे ऊपर मम्मों को मसलने और नीचे रेनू आंटी की चूत से रगड़ खाता मेरा लंड बहुत मजा दे रहा था.

सेक्स वीडियो सेक्सी वीडियो हिंदी

मुझे लगा कुछ और गंदा बोलते हैं जैसे तेरी माँ को हम बोलते थे, पर यह छेड़ छाड़ का बोलना तो बड़ा आम बोलना है बेटी. तो सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी चुदाई की कहानी आप लोगों तक भेजूँ, ये मेरी पहली हिन्दी सेक्स कहानी है. भाभी की चुत खुली हुई थी और पनियाई हुई थी, सो लंड को घुसने में कोई दिक्कत नहीं हुई.

फिर क्या था, वह बड़े आराम से अपना लंड मेरी गांड के अंदर बाहर करने लगे। लेकिन यह अनुभव मेरे लिए कल्पना से परे था, मुझे बहुत आनन्द मिल रहा था, मेरे मुख से हलकी हलकी दर्द मिश्रित आनन्द भारी सीत्कारें निकल रही थी.

फिर वाशरूम में जाकर सभी ने अपने आप को साफ़ किया और कपड़े पहन कर बातें करने लगे.

लेकिन मैं सोचता था कि अगर भैया को पता चल गया तो सब रायता फ़ैल जाएगा तो इसके लिए मैंने एक प्लान बनाया. तभी मैंने भाभी को गोद में उठा कर बेड पर चित्त कर दिया और नीचे से उसका साया उठा दिया. नंगी सेक्सी हिंदी वालीमाया जैसे ही पीछे की तरफ झुकी, उस्मान ने उसके दोनों हाथ पकड़ के उसे अपने ऊपर और झुका लिया और झटके मारने बंद कर दिए.

पीछे से जीजू मुझे चोद रहे थे और आगे से राज ने मेरे मुँह की चुदाई करना शुरू कर दिया था. पापा- क्या करूं मेरी नई बीवी है ही इतनी मस्त, एकदम रस मलाई की तरह कि चाटने और काटने को दिल कर रहा है. यही सोच रहा था कि उसने ज़बरदस्ती अपना अंडरवियर नीचे खिसका दिया और मेरे बाल पकड़ कर मेरे मुँह में अपना लंड भींच दिया.

बरखा वैसे ही लंड घुसवा कर संजय की छाती पर गांड ऊंची करते हुए लेट गई और पीछे से साहिल ने अपना मोटा लंड उसकी गांड में घुसा कर झटके देने लगा. मैं बोली- और कोई नहीं लाए साथ में?दिनेश बोला- मेरा दोस्त जो आने वाला था, वो अचानक बाहर चला गया.

मामी ने मुझे जस का तस रोक दिया और बहन के होश में आने तक उसके मुँह पर पानी के छींटे देती रहीं.

हुम्म… चिकनी चुपड़ी बातें करवा लो आप से तो!” बहूरानी बोलीं और मेरे चुम्बन का जवाब देने लगी और उसकी दोनों बांहें अब मेरी गर्दन से लिपट गईं थीं. मेरी आखों से फिर आंसू आ गए और मैंने कहा- नहीं यार… तूने फोन दे दिया वही बहुत है. उसका लंड सलवार सहित मेरी चूत में दो इंच तक चला गया, पर पूरा नहीं जा सकता था.

नेपाली सेक्सी दिखाओ वीडियो मैंने नीलिमा को ऊपर चढ़ने में मदद की, फिर उसके बच्चे को उसके गोद में दिया. पापा- अच्छा, बिना मज़ा आए ही तेरा रस टपक रहा है क्या?सुमन जल्दी से पलटी और अपने पापा को धक्का देकर अलग किया.

सुमन- आह… सस्स पापा आपका लंड है या डंडा… आउच लगता है एयेए…पापा- क्यों मेरी बेटी को मजा नहीं आ रहा क्या… बंद कर दूँ मारना… सीधे पेल दूँ?सुमन- नहीं पापा… मजा आ रहा है, करते रहो… ओफ्फ… पापा चुत के ऊपर रगड़ो ना… ज़ोर ज़ोर से… उसमें ज़्यादा मजा आ रहा था. मामी की तरफ से कोई विरोध न पाकर मेरी खुद की हिम्मत बढ़ गई और वैसे भी मामी की बातें सुन कर लंड पहले से ही ये सब करने को मजबूर कर रहा था. वैसे तो अब तक मैं 5 चूतों का स्वाद ले चुका हूँ लेकिन ये कहानी मेरी पहली चुदाई की है जो मैंने अपने साथ किराये पे रहने वाली रेनू आंटी के साथ की.

सेक्स स्टोरी सेक्सी

उसके सी-कप चूचे बिल्कुल खड़े, सख़्त और चूसने के लिए एकदम तैयार दिख रहे थे. चूंकि अंजलि के पति की उम्र उससे 10 वर्ष ज्यादा थी और वो रोज शराब पीता था इसी कारण इनके बीच ज्यादातर लड़ाई होती रहती थी. थोड़ी देर में काजल ने सुरेश के लंड को मुँह में ले लिया और लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

मुझे पता था कि जीजू मुझे चोदना चाहते हैं क्योंकि मैं जब भी बाथरूम में नहाती थी और बाथरूम से बाहर आती थी, तो जीजू बाथरूम में जाकर मेरी ब्रा और पेंटी में मुठ मारते थे और मैं ये बात जानती थी. बाद में उसने बताया कि वो ग़लती से पहले ही उंगली से अपनी सील तोड़ चुकी थी.

इस वक्त मेरी बेटी एक रंडी कुतिया की तरह मेरे लंड के रस को आइसक्रीम के साथ चाट रही थी, जिसे देख कर मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा था.

हरामी मज़े पूरे ले रहा था बस नाटक ऐसे कर रहा था, जैसे मैं कुछ समझ नहीं रही थी. जैसे ही भाभी ने दरवाज़ा बंद किया, मैंने उन्हें पीछे से पकड़ लिया और उनकी साड़ी के पल्लू के नीचे उनके नंगे पेट पर हाथ रख कर उस को सहलाने लगा, उनके गाल और गले, कानों पर पागलों की तरह किस करने लगा. चाचू का झूलता हुआ लंड मम्मी की आँखों के सामने लटक रहा था।चाचू ने मम्मी का मुंह पकड़ा और अपना लंड उनके मुंह में ठूस दिया और उन्हें नीचे धक्का देकर बेड पर लिटा दिया और खुद उनकी छाती पर चढ़ बैठे।चाचू ने मम्मी की आँखों में देख कर कहा- अब चुपचाप लेटी रहो और मेरा लंड चूसो भाभी!और आरती की तरफ देख कर बोले- डार्लिंग… मेरी थोड़ी मदद करो न…चाची- हाँ… हाँ… क्यों नहीं.

कुछ ही पलों में हम दोनों की कामुकता बढ़ गई और मैंने उसका टॉप उतार दिया. उस ने मुझ से पूछा- क्यों? मुझ में ऐसी क्या खास बात है?मैंने कहा- तुम बहुत सेक्सी और सुंदर लड़की हो. चूंकि मेरी कद काठी ठीक ठाक रही थी, इसलिए लंड कुछ देर बाद अपना आकार लेने लगा था, जिसे देखकर अर्चना बार बार प्रसन्न हो रही थी.

पप्पू तू पहला मर्द नहीं जो मेरा कसा जिस्म देख के मेरे पीछे पड़ा, पर पिछले कई सालों में तू वो पहला मर्द है जिसे मैंने पूरी लिफ्ट दी है.

मुंबई की रंडी की बीएफ: मैंने कहा- यदि मैं आपका परिचित निकला … तो आपका क्या उत्तर होगा?वो बोला- चलो इसका उत्तर भी मेरे पास है … मगर पहले तुम अपना कैम खोलो. बस यही ख़याल बार बार आ रहा था कि कल कोई मुझे भी प्यार करेगा और मुझे भी आनन्द मिलेगा.

शमशेर एक तरफ हट गया तो अब मोहन ने भी लंड चूत में डाला तो जैसे उसका लंड अन्दर गया तो चूत से एक सफेद पदार्थ की पिचकारी निकली क्योंकि शमशेर का वीर्य चूत से पूरी तरह निकला नहीं था. माया को बहुत मजा आ रहा था वो चिल्ला चिल्ला कर मजा लेना चाहती थी लेकिन उसे लग रहा था कोई सुन न ले. मैं एक बार जिस किसी लेडी का मसाज कर देता हूँ, वो मुझे कभी भूल नहीं सकती.

मैंने यह कहते हुए उसकी गांड को ऊपर उठाया, यहाँ तक कि मेरा लंड खिंचता हुआ टोपी तक बाहर आ गया.

वो चिल्ला चिल्ला कर अपने चूतड़ उछाल उछाल कर मेरे लंड पर कूद रही थी. उसने मम्मी को घोड़ी बना कर खुद घोड़े की तरह मम्मी के पीछे आ गया और अपने मोटे सुपारे को चूत के छेद पर रख कर धक्का मारा कि मम्मी का मुँह तो जमीन पर टिक गया. जब से मैंने इसे तुम्हारी और मेरी चुदाई की बात बताई है, तब से ये भी तुम्हें चोदना चाहता था.