बीएफ वीडियो मुसलमान की

छवि स्रोत,ritu सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

चुदाई का मजा: बीएफ वीडियो मुसलमान की, ’अपनी बड़ी चूचियों को उसने अपनी हाथों में थाम रखा था। मैंने दूसरे निप्पल को भी चूसना शुरू कर दिया।एक बार फिर उसकी आंखें बंद हो गईं।मेरी चुसाई के साथ ही उसके मुँह से जोर-जोर की मादक सिसकारियां निकल रही थीं और उन मादक ध्वनियों के प्रभाव में आकर मैं उसके निप्पल को पूरे दम से चूस रहा था.

भोजपुरी फोटो सेक्सी फिल्म

कुछ दिन ऐसे ही उसकी ना-नुकर चलती रही और लेकिन मेरी फ्रेंड्स ने उसे समझाया. सेक्स पिक्चर बीपी सेक्सी पिक्चरतो कभी मूवी देखने जाने लगे।वो टाइम पास करने के लिए जॉब किया करती थी।वो जॉब के टाइम और मुझसे मिलते वक्त अपनी बेटी को अपनी माँ के घर पर छोड़ आती थी।एक दिन उसने मुझे अपने घर बुलाया.

तो मैं सब्जियां किचन में रख बाथरूम में चला गया।मैंने देखा तो वहाँ पर गीली पैंटी पड़ी है।मैं तो समझ गया कि यह बुआ का काम है। ऐसा लग रहा था कि आज चूत चोदने का मौका मिलेगा।मैं उसी समय बुआ के पास गया और बोला- बुआ आज सोएंगे कैसे?उनका जवाब सुन मेरे मन में लड्डू फूटने लगे, उन्होंने कहा- मैं और तुम तुम्हारे कमरे में सो जाएंगे।मैंने ‘हाँ’ कहा. मियां खलीफा सेक्सी वीडियो चोदने वालीमुझे मेरे मेल पर मुझे जरूर बताईए।तब तक के लिए सभी लौड़े वालों को और चूत की रानियों को गुड बाय।मुझे मेल करना ना भूलें.

चुपचाप आकर यहाँ लेट जाओ।उनके इस तरह बोलने की वजह से मैं डर गया और वहीं बिस्तर पर दूसरी साइड में होकर लेट गया।फिर कुछ देर बाद चाची बोलीं- इतनी दूर क्यों लेटे हो.बीएफ वीडियो मुसलमान की: तो कभी नीचे का… वो बराबर मेरा साथ दे रही थी।फिर हम एक-दूसरे के मुँह में जीभ डाल कर चूसने लगे।मैं उसकी टी-शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर पीठ को सहलाने लगा। वो गर्म होने लगी.

मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ। मैं कहानी पहली बार लिख रहा हूँ.मिलते हैं।’उन्होंने फोन रख कर अपने पति अशोक से चहकते हुए कहा- अशोक.

चूत की सेक्सी वीडियो हिंदी - बीएफ वीडियो मुसलमान की

इसकी उंगलियां तो मेरी पैन्टी के अन्दर जाने लगीं।डॉक्टर को लगा कि कहीं बात बिगड़ न जाए इसलिए वो बोला- ठीक है.पर वो मेरी बांहों से निकल नहीं पाई।मेरे होंठ उसके नीचे के होंठों को चूस रहे थे।मैंने कोशिश की उसके होंठों के अन्दर तक किस करने की.

पर उसने रिक्वेस्ट करके लंड छुड़वा लिया।अब हम दोनों सीधे हुए, उसे सीधा लिटाया। मैं करवट से उसकी जांघ पर अपनी एक जांघ रखकर लेट गई।मैंने उससे पूछा- अगर तुम्हारी सगाई न हुई होती तो तुम मुझे इस चुदाई के बाद भगा ले जाने की सोचते?वह बोला- जरूर. बीएफ वीडियो मुसलमान की मेरा नाम जैसन है, मैं बैंगलोर का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र अभी 24 साल है। मैं 5’9” इंच का हूँ और मेरा एक औसत जिस्म है। बचपन से ही मेरी चाल-ढाल भी लड़कियों जैसी है.

और मैंने अपना मुँह उसके स्तनों से चिपका लिया।मैंने उसके शरीर में हल्की सी सिरहन महसूस की.

बीएफ वीडियो मुसलमान की?

आज तू भी याद करेगी कि दार्जीलिंग में राहुल का लंबा मोटा और सख्त लिंग मिला था।मैं बोल रही थी- ओह्ह. जो मेरे ही कमरे में थी।आपको मैं नेहा के बारे में बता दूँ… वो एक 28 या 29 साल की लड़की थी आप उसे महिला भी बोल सकते हैं।उसका कद छोटा था. भाभी फिर से मूव लगाने लगीं और बोलीं- तुम्हारी कमर तो बहुत अच्छी है।मैंने कहा- हाँ भाभी.

उनके इमेल्स भी आ रहे थे कि मैं अब नई कहानी कब ला रहा हूँ।सो अब आपके पास में कुछ नई कहानियां ला रहा हूँ। जो एक-एक करके आपके रिस्पांस के बाद आपको मिलेंगी। अगर कहानी अच्छी हुई तो भी. मेरी चूत भड़क गई है।मैंने मामी को लेटाकर दोनों टाँगें ऊपर कीं और लण्ड को चूत में पूरा डाल दिया और धकापेल चोदने लगा। मैं जोर-जोर से धक्के मारने लगा।कुछ ही धक्कों के बाद मामी झड़ने वाली हो गई थीं, वो चुदास में चिल्लाते हुए कह रही थीं- जोर से कर साले. तभी छोटी भाभी बोलीं- सीमा दीदी तुम दूसरे पलंग पर सो जाओ और नवीन अलग अपनी मच्छरदानी लगाकर सो जाएगा।यह बात सुनकर सीमा धीरे-धीरे पता नहीं क्या बड़बड़ाने लगी, उसने मेरा पलंग अलग कर दिया और अपना अलग करके छोटी भाभी को लेकर सोने चली गई।हम थोड़ी देर बाद सब सो गए।करीब रात में एक बजे मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि सीमा मेरी मच्छरदानी ठीक कर रही है और कह रही थी- ठीक से सो जा.

पर एक दिन मैंने उसे नहाती हुई देख लिया।वो उस दिन काफी गजब का माल दिख रही थी।मैंने उसी दिन से उसे चोदने का मन बना लिया था।उसके बाद जब भी वो पेशाब करती या नहाती. पर उसकी हिचकिचाहट उसे आगे बढ़ने से रोक देती थी।पायल- ऐसा क्या देखा मेरे अन्दर. और मैंने तुरंत उसे थूक दिया।वो मस्ती में मेरे सुपारे के छेद पर अपनी जीभ की नोक से अन्दर-बाहर करने लगी.

पर मैंने अपना हाथ उसके मुँह पर रख दिया और उसकी चीख घुट कर रह गई।उसके बाद मैंने बिना हिले-डुले उसके मम्मों को चूमना शुरू किया। कुछ देर बाद जब वह थोड़ी सामान्य हुई तो मैंने उसके होंठों को चूमते हुए दोबारा एक धक्का लगाया. मैंने उसे कसके पकड़ लिया और उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया। कुछ देर तो उसे अज़ीब लगा.

तो मैं पीछे को हट गया।वो सीधी हो कर लेट गई।उस टाइम मेरी बहन की चूचियों के चूचुक टी-शर्ट के ऊपर से खड़े हुए थे।मैं अपनी दो उंगलियों से उसके निप्पलों को दबा कर मसलने लगा।जब मैंने नेहा के मुँह की तरफ देखा.

उनके और हमारे फैमिली के अच्छे रिश्ते हैं। उनका हमारे घर में आना-जाना हमेशा लगा रहता है। अंकल की ज्वेलरी की शॉप है।मेरा हमेशा से जया आंटी पर क्रश था.

जिससे मैंने पहले बहुत चैट की और फिर बाद में इतनी हॉट और मस्त चुदाई की कि आज भी जब याद करता हूँ तो बस यही दिल करता है कि काश फिर से वैसी ही चुदाई हो सके।मेरी यह कहानी तब की है. कोई बात नहीं।मैंने जैसे ही अपना अंडरवियर उतारा, मेरे लौड़े को देखकर उसकी आँखों में चमक सी आ गई।वो दारू की टुन्नी में कहने लगी- अरे वाह राहुल. जरा देख तो मेरे होंठ पर काटने का निशान तो नहीं है।मैं उसके नजदीक गया.

ताकि मैं उनको पढ़कर अपनी अगली चूत चुदाई की और ज्यादा गर्म स्टोरी लिख सकूं। आप अपने कमेंट्स लेखक की मेल आईडी पर भेज सकते हैं।इतनी देर तक अपनी चूत में उंगली रखने के लिए लड़कियों का और अपना लंड पकड़े रखने के लिए लड़कों का बहुत धन्यवाद।[emailprotected]. वो बोला- फोन नहीं उठा रहा है मादरचोद अब… काम के समय पर फोन नी उठाता, बाद में फिर माँ चुदवाता है… भाई वो फोन नी उठा रहा. जैसे मैं रात को उसकी साथ कर रहा था, वो मेरे निप्पल को जोर से दबा कर खींच लेती थी। इससे मेरे अन्दर दर्द सा दौड़ जाता था।उसकी बेचैनी देख कर मैंने उसको बांहों में उठाया और फिर बिस्तर पर उछाल दिया।मैं अपने सारे कपड़े उतार कर नग्न अवस्था में उसके ऊपर चढ़ गया और उसे भी फिर से नग्न कर दिया।काम की ज्वाला में उसका बदन गर्म था.

मैं मुस्काराया और बोला- आप क्यों मज़ाक कर रही हैं?वो बोली- मैं मज़ाक नहीं कर रही हूँ.

कौन सी मच्छी है?मैंने अपना हाथ मछली पर फ़िराया। लेकिन मैं पहचान नहीं पाई। उसका मुँह वगैरह दोनों हाथों से टटोल लिए पर मुझे कोई सुराग नहीं मिला।मछली का पिछला हिस्सा राजू ने पकड़ रखा था इसलिए में उसकी पूंछ वगैरह नहीं टटोल पाई। एक और बात दीदी. ’यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं एक समान स्पीड से लण्ड को अन्दर-बाहर कर रहा था। उसकी चूत से पानी ऐसे निकल कर मेरी जांघ और उसकी टांगों में बह रहा था. मुझे मेरे माँ-बाप की इज्जत का ख्याल है।सब मुझसे आकर पूछने लगे- क्या हुआ?मुझे गुस्सा आया.

जिसमें उनके चूचे नज़र आ रहे थे।उन्हें देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। मैं अपने लंड को अपने हाथों से धीरे-धीरे नीचे कर रहा था। मैंने फिर से उनकी तरफ देखा. लेकिन मैं उससे आँख भी नहीं मिला पा रहा था। लेकिन वो अहसास नहीं भुला पाँउगा।यह मेरा सच्चा अनुभव था. तुम बहुत भीग गए हो।मैंने कहा- तुम भी तो पूरी भीग गई हो।उसके टॉप से उसकी गोलाईयां पूरी तरह नुमायां हो रही थीं.

तो देखा कि सविता आंटी अपने पति रमेश का लंड उसकी पैन्ट के ऊपर से ही सहला रही हैं और रमेश चुपचाप अपना खाना खा रहा है।लेकिन उसके माथे पर शिकन की लकीरें साफ-साफ दिखाई दे रही थीं।ये देख कर मेरी माँ जो कि बहुत ही कामुक स्त्री हैं.

वो शर्मा गई।फिर उससे मुलाकात होने लगी।वो हर बात मुझसे शेयर करती, उसने अपने पति के बारे में बात करनी शुरू की।अब सब कुछ खुल कर होने लगा।एक दिन वो यूं ही खुलते हुए बोली- मेरा पति मुझको सिर्फ़ चोदने के लिए इस्तेमाल करता है। जब भी ऑफिस से आता. पर उसने मुझे अपने साथ ही सुला लिया था क्योंकि उस कमरे में मॉम भी थीं।तो एक तरफ को मॉम, बीच में मैं और दूसरी तरफ मेरी ड्रीम गर्ल अनामिका। अनामिका ने कुछ देर मुझसे बात की और फिर मुझसे गले से लग कर वो सो गई।उसका एक बाज़ू मेरे ऊपर था और एक सेक्सी जांघ मेरी टांग पर थी।मैं उसकी चूत की गर्मी को महसूस कर सकता था।मेरे लिए लुल्ली के कंट्रोल कर पाना मुश्किल हो रहा था, उसने मुझे कसकर अपने से चिपका रखा था.

बीएफ वीडियो मुसलमान की ’मैं रफ्तार बढ़ाता रहा और उसकी गद्देदार चूत पर ज़ोर-ज़ोर से धक्का मारने लगा।‘आह. दरवाजा खुला था। मैंने जब आवाज़ लगाई तो बाथरूम में से आवाज़ आई- मैं नहा रही हूँ।मैंने जाकर टीवी चला लिया.

बीएफ वीडियो मुसलमान की मेरी और मुस्कराया।मैंने आँख मार कर हरी झंडी दिखा दी।मैं तो चुदने के लिए मरी जा रही थी, सोच रही थी माँ के आने से पहले चोद दे. तो बाथरूम से आवाज़ आई, वो उनकी ही आवाज़ थी, उन्होंने कहा- मैं नहा रही हूँ.

मैंने अपनी गाड़ी पास के ही एक पेट्रोल पंप पर रखी और उसकी गाड़ी का पंचर सुधारवाया। तभी हमने मोबाइल नंबर्स एक्सचेंज किए.

नंगी पिक्चर करने वाली

अपनी जांघों को मेरे कमर में लपेट लिया और मुझे किस करने लगीं।उनके किस से मैं जोश में आ गया, मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी।करीना पूरी नंगी मेरे जिस्म से बेल की तरह लिपटी हुई थीं।यही सोच-सोच कर मेरे लंड में कसावट बनी हुई थी।करीना ने अपनी जांघों को मेरे बदन में इतने जोर से लिपटा लिया कि मुझे दर्द होने लगा।चुदाई करते काफी देर हो गई थी करीना शायद दो बार झड़ चुकी थीं। करीना आखिर में मुझे कहने लगीं- आह्ह. दोस्तो, मेरी हिंदी सेक्स कहानियाँ आपको पसंद आती हैं, यह आपके भेजे मेल्स को पढ़कर पता चलता है और अच्छा लगता है।आज की सेक्स स्टोरी हमारे एक पाठक ने यू. वो तड़प उठी, वो अब तक वर्जिन थी।मैंने धीरे से एक धक्का मारा और मेरा लंड का थोड़ा सा हिस्सा उसकी चूत में घुस गया।वो चीख पड़ी- प्लीज़ समर बहुत दर्द हो रहा है.

बयान नहीं किया जा सकता इतना भारी और इतना लंबा कि मेरी मुठ्ठी से बाहर लटकने लगा।मैं बिना किसी की परवाह किए उसे घूरती रही और कुछ सेकंड रुकने के बाद पता नहीं कब मैंने मुँह खोला और आगे का टोपा मुँह में लेकर चूसने लगी।बहुत ही आनन्द आ रहा था, इतना आनन्द जैसे लगा कि मैं आसमान में उड़ रही हूँ।मुझे कुछ मिनट बाद जब ध्यान आया तो पता चला कि मैं बाबा जी का लण्ड ‘पुच्च. मैं गया तो उसने फट से मेरे गाल पर किस करके ड्रेस लेते हुए कहा- बाहर जा. पर वह खिलाड़ी था।वो इस खेल में मेरा गुरू था, इस तरह हम दोनों एक-दूसरे की मारने लगे।एक दिन मैं इसी तरह अपने कमरे में शाम के करीब सात-आठ बजे राम प्रसाद से अपनी गांड मरा रहा था.

बातचीत आगे होने पर उसने बताया कि उसके पति अक्सर काम के सिलसिले में ज़्यादातर बाहर ही रहते हैं।फिर मैंने जाने की तैयारी करते हुए कहा- मैडम किसी भी काम की ज़रूर पड़े.

जितना कभी मैंने सपने में भी नहीं सोचा था।काले रंग का नाग जैसा लिंग लगभग उनके दाहिने घुटने तक सोया पड़ा था और बड़ी-बड़ी गोलियां नर्म थैली में सोफे में उनकी टांगों के बीचों-बीच पड़ी हुई थीं।झांटें तो इतनी घनी कि लिंग की जड़ तो पता भी नहीं चल रही थी। मुझे नहीं पता मैं कब तक बिना शर्म के खुले मुहँ से उनके लिंग को देखती रही।बाबा की आवाज़ से एकदम मेरा ध्यान भंग हुआ, उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा- जगजीत. वो मैं अगले भाग में बताऊँगा, पर अपने सुझाव जरूर भेजिएगा।[emailprotected]. या लोग सिर्फ़ अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आते है, इसलिए इसके विषय में ऐसा कह रहे हैं।खैर.

तो लिख रहा हूँ।यह मेरी पहली स्टोरी है, पढ़ने के बाद मेल ज़रूर कीजिए प्लीज़. पता ही नहीं चला।इस घटना के बाद मुझे अनामिका को चोदने का मौका कई साल बाद मिला।तो दोस्तो, ये मेरे हरामीपन का ‘ब्रीफ इंट्रोडक्शन’ था। अगले भागों में आप मेरी सभी चुदाइयों के बारे में विस्तार में पढ़ेंगे। बस आपके उत्साहवर्धक ईमेल की जरूरत है।कुछ ही दिनों में अगली कहानी लेकर पेश होऊँगा। तब तक अपने लौड़ों और चूतों का ख्याल रखिएगा।बाय. तुम मिसेज गुप्ता के लिए ऐसा क्या करते थे?’‘भाभीजी मैं उनके लिए घर के सभी कामों को करता था, लेकिन वो मुझसे तेल मालिश करवाना बहुत पसन्द करती थीं। तेल मालिश करना मैंने गाँव में सीखा था।’‘हम्म.

वो स्कर्ट पहने हुई थी।मैंने मय पैन्टी के धीरे से नीचे कर दिया। मेरे सामने पहली बार किसी लड़की चूत थी।वो भी ऐसे बिल्कुल क्लीनशेव चूत थीमेरी तो हालत खराब हो गई।दोस्तो, मैंने तुरंत उस पर किस किया. और मुझे सपोर्ट कर रही थी।मैंने ज़्यादा टाइम ना खराब करते हुए लम्बे धक्के देना स्टार्ट किया और उसके ऊपर पूरा लद गया।मैंने लोवर पहना था.

तो मैंने अपना हाथ उसकी चूत पर रख दिया।जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा. क्यूंकि कुछ हुआ ही नहीं था, परन्तु आज मैं आप सबको अपनी एक कहानी सुनाने जा रहा हूँ. अब क्या होगा?मैंने कहा- मेरी जान ये पहली बार का है जब चुदाई करते हैं तो ऐसे ही चूत फटती है.

तो मैं किसकी मारता?वो हँस कर बोली- प्राची की।मैंने कहा- फिर तुम्हें बुरा लगता।वो बोली- कोई बात नहीं.

हम तीनों दारू के घूँट मार-मार के एक-दूसरे से गंदे इशारों के साथ बात किए जा रहे थे।थोड़ी देर में सुमेर के मोबाइल पर किसी की काल आई, सुमेर ने बोला- हाँ मेरी दोस्त आई हुई है. बिल्कुल डबलरोटी सी फूली हुई।यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मुझसे रहा नहीं गया, मैंने तुरंत अपना मुँह भाभी की चूत की दरार से सटा दिया।भाभी चिहुंक पड़ीं।उनकी गर्म सांसें तेज हो रही थीं।मैं भाभी की चूत को चूस रहा था- पुचह. कंचन भाभी की प्यासी चूत को मैंने उनके ही कमरे में खूब हचक कर चोद कर मज़ा दिया।अब आगे.

और मैं थोड़ा भावुक हो गया।उसने मेरा हाथ पकड़कर चूम लिया। बस फिर क्या था. तो मेरा क्या होगा।एक बार में उनकी जीभ मेरी ठुड्डी से आंखों तक जा रही थी और उनकी लार से मेरा मुँह थोड़ा गीला होने लगा था। उनका यह जानवरों जैसे व्यव्हार मुझे सुख दे रहा था। वह कभी मेरे गालों को मुँह में भरकर चूसने लगते.

घर में चांदनी के कमरे की लाईट भी बन्द थी। मैंने सोचा कि उसे फ़ोन कर लूँ पर फिर मेरे मन ने कहा कि छोड़ो रहने दो. तब टीवी में एक सेक्सी गाना आ रहा था। उस सीन में भी एक लड़की टीवी में बाथरूम में नहाते हुए गाना गा रही थी।मेरा दिमाग़ खराब हो गया और मैं बाथरूम की तरफ चल पड़ा।मैंने दरवाजे में दरार में से देखा तो वो पूरी नंगी हो कर नहा रही थी।वो कभी अपने बूब्स दबा रही थी. जिसे संभालने में हमें 3-4 मिनट लग गए।फिर चुदाई के 5 मिनट बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और फिर कमरे का गेट खोल दिया.

हॉट आंटी सेक्सी वीडियो

कुछ उजले और आँखों में एक मौन निमंत्रण।मेरा सवाल पूछना था कि उसकी वेदना छलकने लगी, बोली- मेरे पति बेहद रंगीनमिजाज हैं.

आपको ‘थैंक्स’ मज़े के लिए।मैंने उससे फिर पूछा- ऐसा मज़ा दुबारा लेना है. वो मैं बाद में बताऊंगी।’फिर चाय-पानी पीने के बाद मैंने और संजय ने मिल कर नीलू को भी शालू की तरह चोदा और शालू को एक बार अकेला भी संजय ने चोदा।अब शालू भी हमारे बीच खुल चुकी थी। हम सभी ने शाम तक कई बार चुदाई की और सभी बेबाक बातें करते रहे।हमने कैसे-कैसे चुदाई की होगी. मैं दरवाजा खुला रखूँगी। आज तेरे अंकल को शाम को कहीं जाना है।मैंने कहा- जाने का मन तो नहीं है पर अभी मैं जाता हूँ।मेरी उतरी हुई शकल देख कर आंटी को हँसी आ गई और वो मुझे चूमते हुए बोली- राजा.

वो अपने रूम में कंप्यूटर पर फिल्म देख रहा था। मैं भी फिल्म देखने लगा।तभी उसने अपनी बहन को पानी लाने के लिए आवाज़ लगाई। जब उसकी बहन कमरे में आई. सब सो गए हैं।उस वक्त रात का एक बज रहा था।मैं उसके पेइंग गेस्ट हाउस पहुँचा. सेक्सी वीडियो चलने वाला डाउनलोडउठाए ही रही।अब उसने दोनों जांघों को पकड़कर मुझे अपने हाथों में ले लिया और मेरी गरम चूत पर होंठ रख दिए।ओह.

फाड़ दो इस चूत को।मैं भी बिल्कुल रंडी समझ कर उसे चोद रहा था। काफी देर तक अलग-अलग पोज़ में उसे चोदने के बाद अब मैं झड़ने वाला था।मैंने उससे पूछा- मैं झड़ने वाला हूँ. तभी वो बोला- चल मेरी गर्लफ्रेंड से मिलाता हूँ। उसका नाम एंजेल था।मैंने मजाक में कहा- चल.

मैं मदहोश हो रहा था।उसने मेरे लंड को अपने हाथ से हल्का-हल्का सा दबाया. पर मैंने उसकी एक ना सुनी और मैंने उसकी पैन्टी उतार दी।अब उसकी चूत मेरे सामने थी, मैंने ऐसा सीन पहले कभी नहीं देखा था, यह पहली बार चूत के दीदार का मामला था।मैं पागल होकर उसे चाटने लगा और वो भी मादक आवाजें निकालने लगी ‘अअअह. कहो कैसे याद किया।मैं बोला- भाभी आपको भूला ही कब था जो याद किया। आप हो ही इतनी सुन्दर कि आपको भुलाया ही नहीं जा रहा।सुनीता- ओह जनाब मुझ पर लाइन मार रहे हैं.

मेरी मम्मी और मेरे चाचा के शारीरिक सम्बन्ध थे और मुझे उन दोनों की चुदाई देखने का अवसर मिलने वाला था।अब आगे. उल्टा-सीधा फटाफट चोदकर मेरा पानी निकाल दो।उसने स्पीड़ा बढ़ा दी।वो बड़ी शानदार चुदाई कर रहा था. इतना मोटा कैसे अन्दर जाएगा।यही सोच कर मेरी आँखों ने झपकना बंद कर दिया था कि कहीं ये अविस्मरणीय पल निकल नहीं जाए।आपको भी मजा आ रहा होगा दोस्तो इस सेक्स स्टोरी का… मेरी मम्मी की चूत चुदाई का मजा लेने के लिए मेरे साथ अन्तर्वासना से जुड़े रहिए।[emailprotected]कहानी जारी है।.

जल्दी करो।मुझे चुदाई का निमंत्रण मिल चुका था। मैंने फिर ख़ुशी से कहा- आप बहुत सुन्दर हो।ख़ुशी बोली- अच्छा मेरे शरीर का कौन सा भाग सबसे अच्छा है?मैंने बोला- किसी एक भाग की तारीफ नहीं की जा सकती.

फिर उन्होंने अपने हाथ में थूका और गांड के छेद पर रगड़ने लगे। उनकी उंगलियों का स्पर्श मुझे गांड के छेद पर अच्छा लग रहा था।उन्होंने मेरी एक टांग उठा दी और लंड को छेद पर लगाकर धक्का मारा. मेरा सेंटर शहर के ही एक स्कूल में आया। जब मैं एग्जाम देने गया तो मुझे वहाँ पर प्रीति मिली।पता नहीं क्यों उससे नजर मिलाने की मेरी हिम्मत नहीं हुई। ऐसे ही चलता रहा और मैंने अपने 4 एग्जाम दे दिए.

मैंने कहा- अभी नहीं… कभी मन होगा तो बता दूँगी।खाना खाकर हमने नीता को विदा किया क्योंकि अभी मेरी चूत की प्यास बुझनी बाकी थी।जाते जाते नीता ने हमसे यह वादा लिया कि विकास को इसका कभी पता नहीं चलना चाहिए और जब भी हम तीनों का मूड होगा हम फिर इकट्ठे होंगे।आपको मेरी कहानियाँ कैसी लगती हैं… आप और क्या चाहते हैं?मुझे मेल कीजिये :[emailprotected]. मैंने कहा- वेट बेबी।मैंने तभी लण्ड पर काफ़ी थूक लगाया और सैट करके एक जबरदस्त दबाव लगाया, मेरा लण्ड उसकी गाण्ड की दीवार को चीरता हुआ अन्दर हो गया।उसकी आँखों से आँसू निकल आए और वो मुझे गालियाँ देने लगी।तभी मैंने दूसरा शॉट मार दिया और मेरा पूरा अन्दर हो गया।वो नीचे लेट गई. ’मैं मार्केट चला गया और रात आठ बजे के करीब घर पहुँचा।मुझे बहुत जोर से एक नंबर लगा था.

लंड बड़ा जरूर है, पर तुम्हें दर्द नहीं होगा। ये क्रीम गांड में लगा देते हैं तो दर्द नहीं होता है। फिर तुम मेरा विश्वास करो. यह कहने के लिए मेरे पास शब्द नहीं थे। मैं उसके बदन आग में जल कर सिकने लगा।फिर मेरे दिमाग में सीमा का विचार आया. इससे मेरी भी पढ़ाई में हेल्प हो जाया करेगी।तो अब्बू बोले- हाँ ये भी ठीक है.

बीएफ वीडियो मुसलमान की जब से सब उसे इतना ज्यादा महत्व देने लगे तब से ही सेक्स समस्याएं बढ़ने लगी है।ऐसे ही काम करते करते एक महीना चला गया।फिर एक दिन मेरे देश भारत से कॉल आया।वर्मा- हैलो जयदीप. तो भाभी ने अपने पैर एक साथ कर लिए क्योंकि उनको कुछ दर्द सा हो रहा था।मैंने उनके पैर फैला दिए.

एक्स एक्स एक्स मराठी

तब तुम्हें बुरा लग रहा था?नैंसी- मुझे क्यों बुरा लगेगा?मैं- छुपाना तो कोई तुमसे सीखे नैंसी। साफ़ दिख रहा था तुम्हारे चहरे पर।नैंसी- तो पूछा क्यों?मैं- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड हे?नैंसी- नहीं. मॉम का पूरा बदन सिहर उठा।कुछ देर चूत चटवाने के बाद मॉम बोलीं- अब और मत तड़पा अपनी मॉम को. जिससे मुझे उनके नग्न जिस्म के दीदार हो सकें।पर उस दिन की डांट से मेरी गाण्ड फटती थी सो मैं चुप ही रहता था।एक दिन जीजाजी को उनके छोटे भाई के जरूरी काम से दो दिन के लिए गांव जाना था, तो दीदी ने मुझसे रात को साथ सोने के लिए कहा.

ऐसी कोई दिक्कत नहीं है।तो कहने लगी- ठीक है तो हम लोग बस से अभी उतर जाते हैं।मैंने कहा- मैं कुछ समझा नहीं. उसके घरवालों ने उसे माफ़ कर दिया है।उसके घरवालों ने उसकी शादी अच्छी जगह करवा दी है। उसका पति अच्छा आदमी है और वो उसे खुश रखता है। आज उसकी एक लड़की भी है।हम अब सिर्फ़ कभी-कभी फ़ोन पर ही बात कर पाते हैं।आज इतने सालों बाद मैंने यह स्टोरी लिखी है. हार्ड सेक्सी एचडीतो मेरे लौड़े को कितना मजा देगी।कुछ देर यूं ही सविता भाभी के मुँह को चैक करने के बाद डॉक्टर सोचने लगा कि अब आया इसकी मदमस्त चूचियों को दबाने का मौका.

जिसके बीच में उसकी पैंटी का कपड़ा था, उसको मैंने उसकी मस्त लंबी टांगों में से निकाल कर अलग कर दिया।उसकी गांड का छेद.

और मैं बेहद गर्म होती जा रही थी।मेरी स्कर्ट के बीचे उनके लौड़े पर मेरी चूत पैन्टी में दबी थी। मेरी चूत के मुँह उनके सख्त होते लंड ने मुझे और भी गर्म कर दिया था।आह. जिसे तुम आज पहनोगी और जिसे देख कर तुषार खुश हो जाएगा।फिर तन्वी ने मुझे बहुत ही सेक्सी और थोड़ी ट्रांसपेरेंट ब्लैक कलर की ब्रा-पैंटी दिलाई और उसने भी अपने लिए एक रेड कलर की ब्रा-पैंटी ले ली।कुछ ही देर बाद तुषार का भी कॉल गया। उसने कहा- वो बच्चों को छोड़ आया है.

तो वो अकड़ जाती थीं। शायद वो उसकी सबसे ज्यादा सेंसटिव जगह थी। मैं समझ गया था तो मैं बार-बार उनके कान की लौ को चूस लेता था. तो उनकी ब्लैक कलर की छोटी सी रेशमी ब्रा दिखी। मैंने ब्रा को थोड़ा ढीला कर एक बूब को बाहर निकाल लिया और उसे चूसने लगा।वो मेरा सर दबा कर बोल रही थीं- आह्ह. पेटीकोट भाभी ने खुद ही जल्दी से उतार दिया जैसे मुझसे ज्यादा उन्हें जल्दी हो।दो मिनट में काले रंग की पहनी हुई ब्रा-पैंटी भी निकाल फेंकी।अब मेरे सामने भाभी पूरी तरह नंगी थीं।उनके आम जरा भी लटके हुए नहीं थे।भाभी बोलीं- अपने कपड़े भी उतारो।मैंने कहा- खुद ही उतार लो।मेरे कहने की ही देर थी।भाभी टी-शर्ट उतार कर मेरे नीचे झुक गईं और पैन्ट खोलने के बाद जैसे ही चड्डी नीचे खिसकाई.

आंटी नाइट गाउन में थीं। आंटी का फिगर एकदम साफ़ नज़र आ रहा था।उनके मोटे-मोटे मम्मे और उभरी हुई गाण्ड.

फिर उसके बाद आप चली जाना।आपी ने कहा- ठीक है चलो।मैंने शीशे के आगे जा कर आपी को घोड़ी बना कर आपी की चूत में लण्ड डाला और आपी को धक्के लगाने लगा और शीशे में देखने लगा। बिल्कुल फिल्म की तरह लगता था. जैसे कोई दही खा रही हो।वीर्य को पूरा का पूरा निगलने और खाने में उसे लगभग दो मिनट लगे। वो पूरा चटखारा मार-मार कर माल चाट रही थी और ‘उम्म्म. तो बहुत मज़ा आता है, तो मैंने सोचा कि आज अपनी जान को भी ये मज़े दिलवाती हूँ।इस पर मैं हँसने लगी और उसे उल्टा करके उसके चूतड़ों पर चांटे मारने लगी।वो बोली- तू मुझे साहिल से कब चुदवाएगी?मैंने कहा- मेरी जान थोड़ा सब्र रख। अबकी बार जब वो यहाँ आएगा.

एक्स वाय सेक्सी’ की आवाजें और भी तेज आने लगीं।पूरे कमरे में चुदास भरी मादक आवाजें ही आ रही थीं।थोड़े टाइम बाद मैं भी झड़ने को तैयार हो गया. पर थोड़ी देर बाद वो भी साथ देनी लगी।मैं उसके होंठों के साथ उसकी गर्दन को भी चूम रहा था.

इंडियन न्यूड वीडियो

कुछ देर बाद उसकी गांड में मेरा वीर्य निकल गया और मैं उसके ऊपर ही गिर गया।पहली बार लंड को गांड का मज़ा मिला था इसलिए उस रात मैंने उसे तीन बार चोदा, उसके जनाना बदन को खूब चूसा।इसके बाद क्या हुआ. लोग पता नहीं कैसे चूत को चाट लेते हैं।वो मेरा लंड हाथ से आगे-पीछे कर रही थी।मेरा लंड अब अन्दर जाने की तैयारी कर रहा था, लौड़ा बिल्कुल टाईट हो गया था।वो सीधे लेटी हुई थी. तो मैंने अपना सारा वीर्य आंटी के पेट और चूत के ऊपर छोड़ दिया।झड़ने के बाद मैं वापिस उनके ऊपर ही ढेर हो गया.

ताकि किसी को शक ना हो।वो गईं और कुछ ही मिनट में ही वापस आ गईं। उनके आने तक मैंने अपना अंडरवियर उतार कर रख दिया था और केवल लुंगी में कंबल ओढ़ कर लेटा, अपने लंड को सहला रहा था।भाभी आईं और अपनी साड़ी उतार कर मेरे कंबल में घुस गईं।अब हम दोनों एक-दूसरे को बेतहाशा चूमने लगे, हमारे होंठ और लार आपस में मिल गई।दोस्तो, क्या बताऊँ. जो उसने मुझे बाद में मेरे पूछने पर बताया था। उसके पास और भी लड़के-लड़कियां ट्यूशन पढ़ने आते थे। वो मेरी पड़ोस में रहती थी. घर में सभी मुझे प्यार से मुझे अंश कहते हैं। मैं हरियाणा के यमुनानगर जिले का रहने वाला हूँ। मैं बी.

मेरा पति मुझे मजा नहीं देता है।मैंने रजनी की चूत में लौड़ा पेल दिया और उसकी संपूर्ण चुदाई की।उसके बाद मेरी शादी हो गई. फिर उन्होंने 10-11 साल चाचा को वहीं पर रखा। चाचा काफी गंदे लग रहे थे. राज उसको धमाधम चोदने लगा और संजना के झड़ने के कुछ मिनट बाद वो भी झड़ने को होने लगा।संजना जान गई थी कि लंड से स्पर्म गिरने वाला है।एकाएक वो पता नहीं क्या सोचकर, जिसकी मुझे भी उम्मीद नहीं थी, बोली- डार्लिंग आज मुझे सबसे ज़्यादा मज़ा आया है.

पर भला हो उसकी रूममेट का, वो अब अंकिता को अपनी चुदाई की कहानियां बताया करती थी. इसके बाद उसकी शादी हो जाएगी।इस कहानी को जब ननद ने मुझे बताया तो मैंने उसकी इस मस्त कहानी को अन्तर्वासना के माध्यम से आप सभी को लिखने का सोचा।अब आप पढ़ें उसी की जुबानी चूत चुदाई की कहानी।भाभी ने मुझसे कहा- अगले वर्ष आपका ब्याह हो जाएगा.

फिर ये सब बहुत दिन तक चलता रहा।एक दिन क्या हुआ कि मेरी माँ और सब घर वाले बाहर गए हुए थे। मैं स्कूल से घर आया हुआ था। टिफ़िन में देखा तो रोटी नहीं थी। तो मुझे लगा कि उस लड़की के घर से ले आता हूँ। तो मैं उसके घर ऊपर से छत से होकर गया क्योंकि हमारा घर उसके घर से मिला हुआ था।जैसे ही मैं उसके घर में गया.

तो मैंने अपना सारा वीर्य आंटी के पेट और चूत के ऊपर छोड़ दिया।झड़ने के बाद मैं वापिस उनके ऊपर ही ढेर हो गया. सेक्सी वीडियो कर्नाटक कापागल।’उसने इशारा किया कि अन्दर डालो। फिर उसने पास मेज़ पर पड़ी क्रीम दी।मैंने खूब सारी क्रीम उसकी गांड में लगा दी और थोड़ा लंड पर मल कर और एक झटका दिया।मुझे थोड़ा राहत मिली मेरा लंड आधा अन्दर जा चुका था। फिर और झटके. सेक्सी टीचर टीचरजिससे वो पूरी हिली जा रही थी और उसके हिलने से उसकी चूचियां जो हिल रही थीं. मेरी चूत में से कुछ निकलने को हो रहा है।मैंने कहा- मेरे लंड भी कुछ छूटने वाला है।बोली- आप जो छोड़ रहे हो.

मैंने ज़ोर से शॉट मारना शुरू कर दिया। कुछ देर में सिमरन की चूत में मैंने अपना माल निकाल दिया और आधा माल श्वेता के मुँह में डाल दिया।हम सभी बहुत थक गए थे.

मैं दवाई लाता हूँ।पर उसने मना कर दिया।फिर भी मैं भाभी के लिए दवाई लेकर आया, आते ही मैंने दवाई दी।भाभी ने कहा- तुम मेरा सिर दबा दो।तो मैं उनका सिर दबाने के लिए पास में ही बिस्तर पर बैठ गया, उसका सिर मेरे घुटने पर था।हम बातें करने लगे. मैं उसको किस करते हुए उसके ऊपर लेटा रहा।फिर इस दिन के बाद हम दोनों ने कई बार चुदाई की है।मैं आपके कमेंट्स के इन्तजार में हूँ।[emailprotected]. मैं मर गई।उसके बाद मैं चूत में उंगली करने लगा, एक हाथ से उंगली कर रहा था और एक से उसकी मम्मों को दबा रहा था।अब वो बोली- मुझे कुछ हो रहा है, जल्दी करो, मेरी प्यास बुझाओ।मैंने कहा- इतनी भी जल्दी क्या है?‘नहीं.

लेकिन आज उनके बात करने का तरीका थोड़ा रोमाँटिक टाइप का लग रहा था।हर बात में वो मुझसे लड़कियों का ज़िक्र कर रही थीं और पूछ रही थीं- तुम्हें कैसी लड़की पसन्द है?फिर भाभी मुझे बड़ी अजीब नज़रों से घूरने लगीं।कुछ पल बाद उन्होंने मुझसे पूछा- नाश्ते में क्या लेना पसंद है?मैंने सैंडविच के लिए बोला. अनुभवी लौंडेबाज लगते हो।अब हम दोनों बहुत डर गए थे।राम प्रसाद का हर बार झूठ पकड़ा गया।गांडू चाचा- अब तक कितने लौंडों की गांड मारी. जिसका नतीज़ा ये हुआ कि उसको सरकारी जॉब मिल गई और उसकी पोस्टिंग दिल्ली से बाहर हो गई।लेकिन मेरा सिद्धू के घर आना-जाना जारी था, मैं महीने में एकाध बार चला जाता था।सिद्धू की मम्मी को जब भी कोई सामान आदि लाना होता था तो वो मुझे फोन करती थीं कि रवि ये ला दो वो ला दो.

ಸನ್ನಿ ಲಿಯೋನ್ ಬಿಎಫ್

वो तुरंत ही मेरे लौड़े को अपने मुँह में लेकर कुल्फी के जैसे चूसने में लग गई।मैं उत्तेज़ना के कारण उसके मुँह में झड़ गया और वो मेरा सारा माल पी गई।फिर हम 69 में आ गए और 5 मिनट बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।अब मैंने उसको बिस्तर पर लिटाया और मैं उसकी टांगों के बीच में आ गया, मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और एक ज़ोर का धक्का मारा और मेरा आधा लंड चूत में घुस गया।वो ज़ोर से चिल्ला पड़ी- एयाया ऊऊओ. नीलू का एक हाथ मेरे लंड पर चलने लगा था। मैंने उसे फिर घुमाया और उसके सामने नाभि और उसके नीचे का भाग चूसने लगा। नाभि से अब मैं धीरे-धीरे उसकी चूत की तरफ बढ़ रहा था। मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और अब मैं उसकी चूत के बहुत करीब था। मैं उसके ऊपर आ गया और हम दोनों 69 पोजीशन में हो गए।मैंने जैसे ही उसकी चूत को अपनी जीभ से टच किया. तो मैंने एक पल के लिए आँखें हटा लीं।मुझे फिर से यहा कहानियों वाली बातें याद आ गईं कि थोड़ी हिम्मत करना ज़रूरी है.

जिससे मुझे मामी की एकदम चिकनी चूत दिखाई दी।मैं अब काबू से बाहर हो गया और मैंने अपनी जीभ मामी की चूत में लगा दी।जैसे ही मैंने जीभ को चूत में लगाया.

मेरे तो होश उड़ गए।वो एक साथ कसमसा गई और थोड़ा पीछे को खिसक आई और मेरा लंड उसकी गांड से टकराने लगा।हम बात करने लगे.

आज आपी को फरहान का लण्ड भी खाना था।आपके ईमेल की प्रतीक्षा रहेगी।वाकिया जारी है।[emailprotected]. लेकिन मैंने हिम्मत नहीं छोड़ी और लगातार शॉट मारता गया। एकाध मिनट में एक चपत उसकी गाण्ड पर लगा देता।वो काफ़ी थक चुकी थी और मैं भी कुछ ही पल बाद में उसकी गाण्ड में फ्री हो गया। हम दोनों कब सो गए पता ही नहीं चला।अगले दिन मैं करीब एक बजे उठा और देखा तो सोनिया और पूनम दोनों सामने थीं।तभी पूनम बोली- रात को क्या किया. सेक्सी मराठी पिक्चर हिंदीइसलिए पी रही हूँ।मेरे मन में भी कुछ-कुछ होने लगा, मैं बोला- कौन सी बात करनी है?तो चूचे खुजाते हुए कहने लगी- बता दूँगी.

सब देख रहे हैं।मैं- देखने दो आई लव यू प्रीति।प्रीति- क्या बेहूदगी है ये?प्रीति वहाँ से जाने लगी. तो वो अरूण का ही नम्बर था।मैंने सोचा आज तक वो नम्बर क्यों रखे हुए हैं? क्या अब भी भाभी अरुण से चुदती हैं।मैं खोजबीन करने लगी. वो सीधा लेट गई। फिर मैं नारियल के तेल से भाभी के सीने पर मालिश करने लगा।भाभी ने अपने शर्ट को ऊपर किया हुआ था, मैं मालिश कर रहा था।उसकी आंखें बंद थीं.

पर हमने किसिंग नहीं रोकी और पूरे जोश से हम दोनों कुछ मिनट तक किस करते रहे।कुछ मिनट बाद आपी ने मेरे सर को बालों से पकड़ कर उठाया और कहा- सगीर अपने कपड़े जल्दी उतारो. पर मैंने धक्के लगाने जारी रखे।कुछ ही देर बाद आपी ने कहा- सगीर, थोड़ा ज़ोर से लगाओ ना.

वो मुझे बक्श देने के लिए कह रही थी।वो शायद उसकी माँ ने इसलिए कहा था.

’ पम्मी बदमाशी से सेक्सी मुस्कान देते हुए मेरे और भी नज़दीक आ गई।उसकी टी-शर्ट में तने हुऐ कड़क निप्पल साफ दिख रहे थे।उसने टी-शर्ट के नीचे ब्रा नहीं पहनी थी। निक्कर में उसकी केले के तने जैसी कदली और चिकनी-चिकनी मस्त जाँघें बहुत सेक्सी और सुन्दर लग रही थीं।उसे मालूम था कि मैं उसकी मस्त जवानी को घूर कर मज़ा ले रहा हूँ।‘देख अब भी कैसे घूर रहा है. मेरे पति 4-5 दिन के लिए बाहर गए हुए हैं।मैं वहीं रुक गया और रात भर खूब मस्ती की।इसके आगे क्या हुआ. ’ की आवाजें आ रही थी।मैं प्रभा से बोला- मजा आ रहा है?प्रभा बोली- आह्ह.

भोजपुरी लड़की की सेक्सी पिक्चर अन्तर्वासना की गर्म चूत वालियों को और खड़े लंड वालों को उदय का नमस्कार!मैं उदयपुर में रहता हूँ. अब तो जब तू कहेगी। जहाँ तू कहेगी, इसी तरह प्यार का मज़ा लेगें।’उस दिन के बाद सच में हम दोनों ही एक दूसरे के गुलाम हो गए थे और जब भी मौका मिलता उसके फ्लैट में या मेरे फ्लैट में खूब जम कर चुदाई का मज़ा लूटते थे।कहानी के बारे में अपनी राय लिखें।[emailprotected].

तब मैं उसके सर को पकड़ कर अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा।मैंने पहली बार किसी को लौड़ा चुसाया था, हम दोनों को बड़ा मज़ा आ रहा था।मैं काफी देर तक उसे ऐसे ही मुँह को चोदता रहा।कुछ-कुछ अंतराल में मैं उसे किस भी कर लेता था. ’ कर रही थी।इसके बाद मैं उसकी बुर की तऱफ बढ़ा और उसे चूसने लगा।वह गर्म होकर सीत्कार रही थी।वह बोली- आहहह. उस दिन मैंने उसको 4 बार चोदा।बिस्तर की चादर पूरी गीली हो गई थी, पता नहीं इतना पानी कैसे निकला उसका… ऐसा लग रहा था कि जैसे उसने सूसू कर दिया हो।अंत में हम दोनों ने थोड़ी ड्रिंक और की और कुछ खाना भी खाया।इसके बाद मैंने उसको उसकी गाड़ी के पास छोड़ दिया।यह सिलसिला अब भी जारी है.

सेक्सी वीडियो सेक्स वीडियो सेक्स वीडियो

बस आप जल्दी से अपने ईमेल मुझ तक भेजिए और मेरे हाथों डंबो की जवानी को चुदने का पूरा मजा लीजिए।[emailprotected]कहानी जारी है।. कोई बहुत ज्यादा हिरोइन जैसे नहीं है।पर उसके चूचे बहुत बड़े हैं और वो अक्सर अपनी लैगी या फिर लोअर और टी-शर्ट में ही घूमती है. पर फिर क्या?क्रिस- क्या मतलब है आपका?मैं- आप पैसे अपने बच्चे के लिए ही बचा रहे हो.

दो बज गए।वो उठी तो सामने शीशे में उसके उछलते बोबे देखकर मैं फिर उत्तेजित हो गया और उसको पीछे से पकड़ कर बिस्तर पर गिर गया।मैं उसके बोबे चूसने लगा तो उसने कहा- तुम मुझे इतना प्यार मत करो. तो ख़ुशी ने उसके सुपारे पर किस किया और मेरे हाथों को और मुँह को अपनी चूचियों से हटा कर अलग कर दिया।वो आगे हो होकर मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। लौड़ा चूसते-चूसते उसने पूरा का पूरा लंड अपने मुँह के अन्दर कर लिया।वो बोली- तुमने मुझे आज बहुत तड़पाया है.

जो तुमने मुझे कभी नहीं दिखाई और तुम अपने दिल क़ी बात दिल में ही रखते रहे। ये तो अच्छा हुआ कि मुझे पता चल गया.

मुझे भी। मैंने धीरे से उसकी सलवार का बंधन खोलकर उसे पूर्णतः नग्न कर दिया।अब मिसेज भाटिया का पूर्णतः नग्न जिस्म मेरे सामने था। मैंने अपनी भी पैंट तथा चड्डी उतार दी और बिल्कुल नग्न उसके सामने खड़ा हो गया।मेरा लिंग बिल्कुल तैयार था और मिसेज भाटिया की योनि में समाने के लिए बेकरार।मेरा लिंग देखकर मिसेज भाटिया आश्चर्यचकित हो गई. तब तक मैं आपका लंड चूसती हूँ।हम दोनों ने 69 की पोजीशन बना ली अब वो मेरा लण्ड चूस रही थी और मैं उसकी चूत चाट रहा था।वो बोली- आशु मेरी जान. वो कौन है। मैं उसको बताने लगा। धीरे-धीरे मैंने अपना हाथ उसके स्तनों तक पहुँचा दिया। मैंने दबाया नहीं लेकिन सहलाने लगा।उसको पता लग गया था.

फिर उन्होंने 10-11 साल चाचा को वहीं पर रखा। चाचा काफी गंदे लग रहे थे. जो मरवा चुका था, वह मुसकरा कर शान से बोला- जिसने राजा का लंड बिना चिल्लाए ले लिया. मैं तो तुम्हें अपना पति आजीवन मानूंगी।कुछ सालों बाद मैंने वो शहर छोड़ दिया और बड़ौदा में बस गया।फिर मेरी मानसी से कभी बात नहीं हुई।कारण कि बड़ौदा आने के बाद मैंने अपना नंबर बदल लिया था और उसे नया नम्बर नहीं दिया था।लेकिन मैं आज भी मानसी से प्यार करता हूँ.

क्योंकि कम चुदाई की वजह से उनकी चूत एकदम टाइट थी।मैं आधा लौड़ा डाले हुए ही उन्हें किस करने लगा.

बीएफ वीडियो मुसलमान की: नहीं तो मैं पेशाब कर दूंगी, तेरी जीभ पर कुत्ते।मैंने तुरंत कहा- कर तो. और मेरा पूरा लंड डॉली की गांड में उतरता चला गया।डॉली अन्नू का बोबा निकाल कर जोर से बोली- ओ.

साली कुतिया!मैं यह बोलते-बोलते अपना लवड़ा भी हिला रहा था।तभी वर्षा ने कहा- चल बे चूतिये, अब अपने उलटे हाथ की मिडल फिंगर को अपनी गांड में घुसेड़ और फिर गांड और लंड की मुठ मार!उसके बोलने पर मैंने अपनी एक उंगली अपनी गांड में घुसेड़ ली।‘उईइम्ममाआअ आह. पर मेरा हाथ उसके बालों में था और मैं सिसकारियां ले रहा था।वो चूसती रही. तेरा मुँह भी चोद देता हूँ।मैंने कुछ धक्के शालू की गांड में लगाए और तभी शालू ने जोर से एक दहाड़ लगाई ‘ऊह्ह आईई… मज़ा… आआ.

तो मैं भाग कर अन्दर पेड़ों के बीच में जाकर बैठ गई।वो तीनों उतर कर वहीं आ गए।फिर वो बोला- पूरे कपड़े उतार रांड।मैंने एक-एक करके उतार दिए.

वही मेरी जुबान पर भी होता है। मैं बहुत साफ और खुले दिल का इंसान हूँ।पायल- वो मैं जानती हूँ।फिर थोड़ी से चुप्पी के बाद बोली- मुझे आपकी गर्लफ्रेंड बन कर अच्छा लगेगा. तभी वो बोली- अब पीठ पर मालिश करो।मैं बोला- फिर तो नाईटी उतारनी पड़ेगी।कुछ सोचने के बाद उसने मेरे सामने नाईटी उतार दी और फिर उल्टा लेट गई।अब तो मेरे सामने वो नीली पैन्टी में लेटी थी, ऊपर से लेकर नीचे तक एकदम गोरी चमड़ी. अब तो जब तू कहेगी। जहाँ तू कहेगी, इसी तरह प्यार का मज़ा लेगें।’उस दिन के बाद सच में हम दोनों ही एक दूसरे के गुलाम हो गए थे और जब भी मौका मिलता उसके फ्लैट में या मेरे फ्लैट में खूब जम कर चुदाई का मज़ा लूटते थे।कहानी के बारे में अपनी राय लिखें।[emailprotected].