घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म

छवि स्रोत,सेक्सी राजस्थानी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

मुठ मारना: घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म, मैंने देखा कि कंडोम पूरा वीर्य से भरा हुआ था और मेरा लंड अब भी थोड़ा ऊपर नीचे हिल रहा था.

लड़की कैसे पटाते हैं

उसने कटोरी को अपनी चूची के नीचे रखा और अपने बूब्स को दबा दबा कर दूध निकालने लगी. राजस्थानी सेक्सी वीडियो हॉटअगले दिन रविवार था तो मुझे भी किसी बात की चिंता नहीं थी और उसे भी काम पर जाने की चिंता नहीं थी.

तभी शायद उसको दारू की महक आ गयी और उसने सख्ती से दरवाज़ा खोलने का कहा. रक्षा बंधन 2021लेकिन मैं कहां रुकने वाला था, मैं उसके ऊपर लेट गया और दो-तीन मिनट इंतजार किया जिससे उसकी चूत थोड़ी सी और ढीली हो जाए.

यह बात तब की है, जब एक साल पहले मेरी सहेली शालिनी की लखनऊ में शादी थी.घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म: मैंने उसको अपनी गोद में उठा कर ले जा कर बिस्तर पर लिटा दिया।मैं निधि के पैरों के पास आकर उसकी बायें पैर की उंगलियों को चूमने लगा.

दो घंटे बाद वापस आते समय मैंने अनवांटेड 72 की एक टॅबलेट खरीद ली और एक पैकेट कंडोम भी ले लिया.आप तो जिसे चाहते होंगे उसके अपना बना ही लेते होंगे!उसकी बातें सुन कर मुझे हंसी आ गयी.

गाय बछड़ा - घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म

उसके मुँह से ये सुनते ही मैंने अपनी बहन को घोड़ी बनाया और अपना लंड उसकी गांड के छेद पर रख कर थोड़ा सा जोर लगाया.बहू मेरे आगे खड़ी थी और मैं उसके पीछे!तभी कुछ और लोग भी आ गए लिफ्ट में.

मेरा लंड ज्यादा देर उसकी गांड की गरमी सहन नहीं कर पाया और 15 मिनट की गांड चुदाई के बाद मेरे लंड ने पांच-छह पिचकारियों से गर्म वीर्य उसकी गांड के छेद में भर दिया. घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म शायद इसी वजह से मेरे मामा – मामी, नाना – नानी मुझे नहीं पहचान पा रहे थे।मैं वहीं कुर्सी में बैठा हुआ था तभी किसी ने पीछे से आकर मेरी आँखें बंद कर दी और पूछने लगी- मैं कौन हूं?तब मैं उसे नहीं पहचान पाया लेकिन उसने मुझे पहचान लिया और अपने गले से लगा लिया.

उसने कहा- ये सब मैं तेरी मां की वजह से कर रहा हूं … वरना वापस भेज देता.

घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म?

इसी बीच मेरे हाथ की उंगलियां उसकी चूत के दाने को रगड़ रही थीं, जिससे वो और भी पागल होती जा रही थी. श्वेता बोली- भैया और कितने तरह से चुदाई होती है?मैंने उसे बताया- देखो होना तो बस एक ही काम है … बुर और गांड में लंड का घुसना … पर इसको जिस तरह से भी मजेदार बना दिया जाए, वो ही पोजीशन सही होती है और वो ही मस्त तरीका होता है. कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए आप नीचे दी गयी मेल आईडी पर अपना संदेश छोड़ सकते हैं.

चूंकि उसका मुंह बिस्तर में दब सा गया गया था इसलिए उसकी सिसकारियां दबे हुए से रूप में बाहर आ रही थीं. हमें तेज नींद आ रही थी, लेकिन मेरा एग्जाम 10 बजे से था … मानवी का एग्जाम दो बजे से था. मेरा नशा बढ़ गया और भाभी के सर को पकड़ कर मैंने उनके मुँह को चोदना शुरू कर दिया.

मैंने ऐसे ही आकांक्षा को ऊपर से पकड़े पकड़े पकड़े हल्का सा ज़ोर लगाना शुरू किया और लंड को और अन्दर तक घुसाने लगा, लेकिन लंड अन्दर जा नहीं रहा था. जैसे ही मैंने लंड को बाहर निकाला तो दीदी चुदने के लिए और ज्यादा मचलने लगी. तभी मेरी नजर कंडोम पर पड़ी और मेरे मन में कुछ होने लगा, पर मैंने सोचा इतना कुछ नहीं होने वाला, इसकी कोई जरूरत नहीं पड़ेगी.

मेरी पिछली कहानीबीवी की मदमस्त सहेली की गर्म चूतमें आप सभी ने पढ़ा कि कैसे मैंने अपनी बीवी की मदमस्त सहेली हरप्रीत को चोदा था. जैसे ही मेरा लावा उसकी बुर में गिरा, वो भी कंपकंपाते हुए अपना यौवन रस निकालने लगी.

उसके बाद सुमित ने अपने दोस्तों को बाइक से गरियाते हुए कहा- उतरो बेहनचोदो!और उसके दोस्त बेचारे उतर गए और कहने लगे- अच्छा बच्चू … लड़की मिली तो दोस्तों को भूल गए.

मैंने 16 तारीख तक बहुत कोशिश की कि बना बनाया मिल जाए, पर नहीं मिला.

मैं सीधा अंदर घर में चला गया तो देखा कि दोनों बच्चे सो रहे हैं और लाइट भी ऑफ है. पर चिन्ना की नजर करोना के सीने पर टिकी थी और आँखों में हवस के डोरे तैर रहे थे। परन्तु शायद किसी झिझक की वजह से चिन्ना मेरे साथ कोई शुरुआत नहीं कर पा रहा था।इसी बीच अटेंडेंट बस में आ गया और बोला- साहब, आज हम दूर दराज़ के इलाके में हैं. फिर मुझे कैसे मौक़ा मिला अपने दोस्त की बीवी की चूत को चोदने का?मेरा नाम सुमित है.

भाभी से मैंने कहा- हां, आज दीदी की बारी है पापा के लंड से चुदने की. एक कारण तो ये था कि वो चोदने लायक माल थी और दूसरा कारण ये था कि वो मेरे लंड से चुद चुकी थी. फोन को रखते हुए वो बोली- आज इतनी जल्दी घर वापसी क्यों?मैंने कहा- बस ऐसे ही.

माँ!तभी मैंने उसके ऊपर लेटकर उसके होंठों को अपने होंठों में ले लिया और जोर से दो तीन धक्के मारे.

रानी के जाने के बाद मैंने बहू को देखा तो उसकी आँखों में मुझे गुस्सा दिखाई दिया. दीदी ने उंगली के इशारे से बुलाया, तो मैं बिस्तर के बाजू में उसके पास खड़ा हो गया. तनु ने अपने मुंह से लंड निकाल कर आह … करके एक गहरी सांस भरी और बोली- बस करन, अब मेरी चूत में अपना लंड अंदर डाल दो.

कुछ देर बाद उसने अपना मुंह मेरी मां की चूत पर लगा दिया और मां की चूत को चूसने लगा. जिससे उसने पहले मेरे चेहरे को ऊपर करके देखा और फिर मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए. भाभी ने बाथरूम में ले जाकर मुझे अपने हाथों से नहलाया और मेरी अच्छी तरह से खातिर की.

मुझे अब बाहर के गैर मर्दों के लौड़ों से ही चुदने में मज़ा मिल जाता है.

मैं मामी की चुत की फांकों में लंड का सुपारा फंसा कर चुत में लंड अन्दर घुसेड़ने लगा. थोड़ी देर बहू की चुदाई करने के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा और वो झड़ गयी.

घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म मैंने देखा कि मेरे लंड के रस और उसकी बुर के रस के साथ थोड़ा सा खून भी मिला हुआ उसकी बुर से बह रहा था. जब मैं घाघरा नीचे सरकाने लगी, तो वो नीचे नहीं सरक रहा था … शायद नाड़ा टाइट था.

घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म काफी गर्म और उत्तेजक कहानी पढ़ने के बाद मैंने सोचा कि अपनी भी सेक्स कहानी आप सभी से शेयर की जाए. मैंने उसे कसकर पकड़ लिया और उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रगड़ने लगा.

चिन्ना की बात सुन कर करोना की तन्द्रा भंग हुई और मालिश करने के लिए पहले वाली पोजीशन लेते लेते उसे ये बात अब समझ आ रही थी ये 15 मिनट की बात कर रहा है पर अब उसका 22 साल तक संभाल कर रखा कुंवारापन कुछ ही पल का मेहमान है.

सेक्सी बातें भेजें

मेरी बीवी राजस्थान के एक गाँव में हमारे पुश्तैनी घर में मेरे माँ बाप के साथ रहती थी. वो भी ‘आह आह उइ मम्मी आ … अअ अ … मर गयी रे … और जोर से चाट आह … और जोर से. हम दोनों के बीच में शादी के 6 महीने के बाद ही मन-मुटाव होना शुरू हो गया था लेकिन घर की इज्जत की वजह से मैंने शादी को खींचे रखा.

चिन्ना के मुँह खून लग चुका था, उसने बिल्कुल देर ना करते हुए जैसे ही अगली बार करोना आगे झुकी, अपनी लम्बी सी जीभ निकाल कर हल्के से बिटिया की टॉप में ढकी दायीं घुण्डी पर फिरा दी. उन दोनों ने मॉम की तरह पुष्पा आंटी के कपड़े फाड़े औरआंटी की गांड मारी. उस दिन मुझे पता चला कि भाभी का नाम सुमन है, वो भी मेरठ ज़िले की ही थी.

पुष्पा आंटी कह रही थी- रेनू, तू आज बहुत सेक्सी लग रही है मेरी जान!तो मॉम भी कहने लगी- पुष्पा, तू भी बहुत रंडी लग रही है.

क्योंकि मैं समझता था कि तुझ जैसी जवान और खूबसूरत लड़की मेरे जैसे काले कलूटे के जाल में सीधे-सीधे नहीं आएगी. वैसे डैडी जी, अगर आप बुरा न मानें तो हम दोनों आगे भी ऐसी ही ओपन बातें कर सकते हैं. लेकिन इस बार मैंने अपने बैग में से एक एनर्जी बढ़ाने वाला पाउडर निकाला.

जो मैंने अपनी पहली कहानी लिखी तो मुझे बहुत सारे ईमेल आए। वहां मुझे एक व्यक्ति जिनकी उम्र 40 साल के आसपास रही होगी उनका ईमेल आया वह बहुत ही मैच्योर व्यक्ति थे। उनकी बातों से ही उनका अच्छापन, भलमानसत साफ झलक रहा था. उसने गाड़ी पार्क की और जैसे ही हम उसके घर के अन्दर पहुंचे, मेरी तो आंखें जैसे बाहर ही आ गई थीं. यही सब सोच कर मैंने एक उपाय सोचा कि क्यों ना अपनी मामी को अपने लंड के दर्शन करवा दिए जाएं.

फिर कुछ देर तक इधर उधर की बात करने के बाद वो बोली कि भैया आपका सुसु अब दर्द तो नहीं कर रहा न!मैंने बोला- नहीं. मैंने भी सीधा उनको अपनी गोद में उठा लिया मेरा लंड धीरे धीरे अपनी पोजीशन में आने लगा और मैं उनको ऐसे ही गोद में उठाए उनके बालों को गर्दन पर से हटाकर किस करता जा रहा था.

मैंने कहा- तुम यहां रोज आती हो क्या?वो बोली- हां, तो फिर रोज ही इस तरह बकरा और बकरी के मजे लेती हो देख कर?ये सुन कर उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया और मेरा लंड मेरी पैंट में एकदम से सख्त हो गया. हालांकि उसके मन को चोट लगी … लेकिन अम्मी ने उससे बहुत समझाया कि क्या पता कोई दूसरी लड़की अगर शकील की पत्नी बनी, तो वो हमारे और शकील के बीच दरार ना पैदा कर दे. इधर मैं भी बड़ी आहिस्ता से अपनी बहन की गांड में लंड डालने की कोशिश कर रहा था.

उस दिन के बाद से अम्मी और परवीन अक्सर मेरे लंड को चूत में लेने लगी.

उसके मुंह से मस्त सेक्सी आवाजें आ रही थी- आह्ह … आह्ह … अम्म … ओह्ह. उसके बाद फिर उसी तरह चिन्ना की जोरदार आवाज सुनाई दी जो करोना की समझ से परे थी।कुछ देर के बाद चिन्ना के बैडरूम का दरवाजा खुलने की आवाज आई. जैसे ही मैंने अपनी ज़बान चुत पर लगाई, उसके मुँह से हल्की सी सिसकारी निकल गई.

दीदी आने के बाद कविता से पूछने लगीं कि रात को अच्छे से नींद आई ना!कविता ने कहा- हां मम्मी मामा घर पर थे इसलिए कोई परेशानी नहीं हुई. कभी मैं उनके होंठों को चूस रहा था तो कभी उनके बूब्स को दबा कर उनको किस कर देता था.

ऐसा करने से तुम्हारी बात भी रह जाएगी और मेरे कपड़ों में तेल भी नहीं लगेगा. एक मिनट बाद ही मैं 69 में हो गया और वो मेरे लंड को चूस कर मजा देने लगी. इस तरह मैंने 5-6 बार लंड को धीरे धीरे अन्दर घुसेड़ने का प्रयास किया.

हरियाणवी सेक्सी रागनी

जैसे कि भैया का घर छोटा था, उनके एक कमरे में ही सोने की व्यवस्था थी.

मैंने पूछा- मॉम, कहाँ जा रही हो? कब तक आओगी?तो मॉम बोली- पुष्पा आंटी के घर जा रही हूं. फिर मैंने उसे स्कूटी उठाने में मदद की और उसके पीछे कॉलेज जाने के लिए बैठ गया. इतनी देर तक मां मेरे पापा के लंड को चूसती रही लेकिन उनका लंड वैसा का वैसा रहा.

मैंने उसकी बात से राजी होकर बाथरूम में जाकर लंड चूत को साफ़ किया और वापस आकर 69 की तैयारी करने लगे. एक बात जो मैं नोटिस कर रहा था वो ये कि मेरे पापा और मेरी बहन का आपसी व्यवहार अब कुछ बदल गया था. हिंदी में सेक्स मूवी वीडियोहालांकि पापा ने घर में झाड़ू पौंछा आदि के लिए काम वाली लगा रखी थी, पर शाम को रोज एक बार निधि खुद झाड़ू पौंछा करती थी, ताकि घर साफ़ रहे.

मेरे इशारे करने पर उसने अपने हाथ में बाम ली और जोर से मेरी गोटियों पर बाम लगा दी. वह भी नीचे से अपनी गांड उठाकर उस लंड को अपनी चूत में लेना चाहती थी.

मन करता था कि उनकी गांड पे बहुत तेज स्लैप करूं और उसे खा जाऊँ। बड़ी गांड मेरी कमजोरी है. इधर मैंने नसरीन को लिटा कर उसकी चुत को सहलाना और रगड़ना शुरू कर दिया. मेरी अगली सेक्स कहानी का इंतज़ार कीजिएगा कि कैसे मैंने अपनी बहन की गांड मारी.

जब उसकी गर्म गर्म चूत और गांड मेरे बदन से रगड़ खाते, तो मुझे बहुत सुकून मिलता. उसका हाथ पकड़ कर बेड के पास ले आया और चिन्ना खुद पैर नीचे लटका कर बेड पर बैठ गया. वो मूतने आया था लेकिन हमारी चुदाई देख कर वो कड़क आवाज में बोला- ये सब क्या हो रहा है?फिर उसने पीछे वाले वेटर को देखा और बोला- सुरेश साले तुम?वो दोनों एक दूसरे को जानते थे, मैं बेशर्मों की तरह आधी नंगी उस वेटर का लंड अपने अन्दर लिए ये सब देख रही थी.

करोना को चिन्ना ने समझाया और पूरी रात कई बार करोना को अपना लण्ड चुसवाया.

वो लाल कलर की साड़ी पहन कर मेरे सामने आई, उस साड़ी में वो बहुत ही खूबसूरत लग रही थी. उस दिन पूरा समय ऑफिस के काम के बाद मैं घर के लिए निकला, तो पंकज का कॉल आया- आर्यन तू उसे अभी कॉल करके कल का फिक्स कर ले.

कभी मैं उनके होंठों को चूस रहा था तो कभी उनके बूब्स को दबा कर उनको किस कर देता था. आज की रात मेरे लिए बहुत रंगीन होने वाली थी।उस दिन मेरा शाम को छुट्टी का टाइम आ ही नहीं रहा था … इंतजार की घड़ियां खत्म ही नहीं हो रही थी. मैंने आगे बढ़ कर उनकी सलवार के अन्दर हाथ डाला, तो ऐसा लगा कि मेरा हाथ किसी गर्म जगह पर चला गया हो.

एक दिन मैंने घर में कुछ ऐसा देखा कि अम्मी के बारे में मेरे विचार बदल गये. उनकी गांड इतनी मोटी थी कि जब वो मटक कर चलती थीं, तो अच्छों अच्छों का लंड पैंट में खड़ा हो जाता था. लेकिन हमें भी सभी साथियों की राय लेना जरूरी था। तो मैंने कहा कि हमें सबके वापस आने तक रुकना चाहिये।शाम तक हमारे साथी वापस लौटे.

घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म लो अब संभालो मेरे लंड को।मुझे तेज धक्के लगाते देख उसने भी मुझे कस के पकड़ लिया।जब मुझे लगने लगा कि मैं भी आने वाला हूं तो मैंने उसे कस के पकड़ लिया और आठ दस लगातार तेज झटके मारने के बाद मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में भर दिया।जानू … दो तेज धक्के और मार दो … मेरा भी निकल रहा है. वो उस लड़की को ऐसे चोद रहा है जैसे ये उसकी जिंदगी का आखिरी दिन और आखिरी लड़की हो.

सेक्सी हीरोइन चुदाई

मैं उसके सोते हुए होंठों पर किस करने लगा और अपनी उंगलियां उसके चुचों पर फेरने लगा. उसके गोरे मुलायम हाथों से लंड की मुठ मरवाने का मजा ही कुछ और आ रहा था. अब अगली बार एक नए अंदाज के साथ नई और रसभरी कहानी के साथ मिलूंगा … तब तक के लिए अलविदा.

मैं बात करके उससे क्या पूछूं?पंकज ने हंसते हुए कहा- यार तू अभी से डरेगा, तो चुदाई के टाइम तेरा क्या होगा?वो जोर से हंसने लगा. मेरा लंड तो अब छोटा हो गया था और कंडोम तो पूरा मेरे वीर्य से भरा हुआ था. भाई का सेक्सीउसके बाद भी वह इस तरह की अजीबोगरीब हरकतें मेरे जिस्म के साथ करते रहते हैं.

वे भी अपना लंड अपने हाथ में पकड़ कर मेरे मुंह में डालने लगे। थूक का लार मेरे होंठ और उनके लंड से चिपका पड़ा था।फिर उन्होंने मुझे बिस्तर पर सीधा लेटा दिया और मेरी जांघें फैला दी.

मैं कमरे का दरवाजा खोलने ही वाला था कि कमरे के अन्दर से आ रही आवाज ने मेरे कदम रोक दिये. मैंने पूरा लंड उनकी चुत में घुसा रहने दिया और उसी स्थिति में भाभी के एक दूध का निप्पल अपने होंठों में दबाते हुए चूसना शुरू कर दिया.

तीनों मेरे चूतड़ों से और मेरे स्तनों से खेल रहे थे और टी टी मेरी विडियो बना रहा था. तो बहू बोली- डैडी काटो मत, वरना आपका बेटा सब देख लेगा और उसे पता चल जायेगा की आज किसी सांड ने उसकी बीवी को चोदा है. मैंने जोर से उनको मसला, तो कल्पना के मुँह से फिर से आह … की आवाज निकल गई.

अब पापा ने भाभी की ब्रा के ऊपर से ही उसकी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया.

उसने मुझे रास्ते से पिक किया और बोला- कहां जाना है?मैंने कहा- जहां आपकी मर्ज़ी!फिर हम उसके दोस्त के घर गए जहां पहले से ही तैयारी पूरी हो चुकी थी. क्या रचना भाभी भी जवानी की आग मेरे लौड़े से बुझाना चाहती है?एक दिन मैंने भैया को देखा चड्डी में छत पर टहल रहे थे. मैंने तुरंत तनु को अपने पास खींचा और उसके मुंह में लंड को डाल दिया.

जानवरों की सेक्सी पिक्चर हिंदी मेंयह कहानी मेरी एक कल्पना है जिसमें मैंने अपनी सेक्स इच्छा को उजागर किया है. फिर उन्होंने पुष्पा आंटी को बुलाया तो पुष्पा आंटी ने उनसे कहा- मेरी गांड ही मारना.

भूत वाली सेक्सी वीडियो में

इतना सब हो चुकने के बाद भी वह बंदा अब तक भी खुद के कपड़े नहीं खोल रहा था. पैंटी के ऊपर से ही बहन की बुर का मुआयना किया, तो लगा कि उसकी बुर पर बहुत सारे बाल हैं, जो काफी घने लग रहे थे. उसने भी मेरी टीशर्ट और पजामे को उतार दिया और अंडरवियर भी एक झटके में उतार के बड़े गौर से मेरे लंड को देख रही थी।मैंने उससे कहा- क्या हुआ? कभी नहीं देखा क्या?यार देखा तो है.

वैसे सच बताओ अगर मेरे बेटे में कोई कमी नहीं है तो तुम ये क्यों इस्तेमाल करती हो?दराज खोल के मैंने वो लंड निकल के बहू के सामने रख दिया. उसकी मां के इलाज मैंने पच्चीस हजार खर्च किये थे और वो सिर्फ तीन सौ रुपए लेकर आई थी. चूचियों पर हाथ फिराते- 2 चिन्ना बीच- 2 में अपनी चुटकियों में करोना के नाजुक निप्पलों को हल्के से दबा देता था जिससे करोना के मुँह से मस्ती भरी सिसकारी निकल जाती थी.

अम्मी उसकी चूचियों के साथ खेलने लगी और मैं उसकी चूत पर लंड लगा कर रगड़ने लगा. बालों के बीच में गुलाबी सी चूत देख कर मेरे लंड का तनाव और ज्यादा हो गया. अब पूरी चुदाई का किस्सा नहीं बताऊँगा क्योंकि अभी दो लड़कियों के बारे में भी बताना है.

अपनी तरफ आने का इशारा करते हुए मैंने कहा- अपना कान इधर लाओ, कान में बताऊंगा. मैंने इस पर ध्यान न देते हुए एक और जोरदार झटका मारा, जिससे मेरा लंड आधे से ज्यादा उसकी चुत को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया.

इसके बाद भी दिन में जब भी मेरा मन करता, तब उस वीडियो को देखकर मुठ मार लेता.

कुछ ही देर की झन्नाटेदार चुदाई के बाद चिन्ना ने महसूस किया कि करोना की चूत अब पूरी तरह लण्ड की आदी हो गई है तो चिन्ना ने करोना के मुँह पर से अपना हाथ हटा लिया. योगा हॉट सेक्स वीडियोसैम ने किस करते हुए मेरे पेंटी में हाथ डाला और मेरी चूत पर हाथ घुमाने लगा. फुल हद वीडियो सेक्सीकरोना झिझकती हुई बैड पर चढ़ गई और चिन्ना के दोनों तरफ एक एक पैर रख कर खड़ी हो गई और खड़े खड़े ही झुक कर मालिश करने लगी।शातिर चिन्ना ने तुरंत अगली चल खेल दी और बोला- बेटी ऐसे नहीं, मेरी गांड पर अपने चूतड़ टिका कर बैठ जाओ और फिर मालिश करो. उसने उठ कर मेरे सीने से लग कर मुझे चूमा और नशीली आंखों से कहा- मैं बहुत प्यासी हूँ.

एक हाथ से मैंने दीदी की टांगों को उठाया हुआ था और नीचे से मैं दीदी की चूत में लंड को पेल रहा था.

मैं उसके करीब गया और उसे सर पर किस किया, फिर आंखों पर, फिर गाल पर … और लास्ट में लिप किस करने लगा. मगर तूने एक झटके में अंदर कर दिया था इसलिए थोड़ा सा दर्द हो रहा है. उसे भी इस चीज का अहसास हो गया था कि मैं उसके लिए काफी गंभीर हूँ!अब हम लोग एक दूजे के होने के लिये बेसबरी से तरस रहे थे.

फिर वे पूछने लगे- तुम्हें भी रोज चुदने की आदत होगी?मैंने उन्हें हम्म कहकर कर जवाब दिया।अब उन्होंने फिर से मेरी चूत में लंड डाल दिया और मुझसे कहा- अब मैं तुम्हें मजा दिलाऊंगा. इस पर वो बोलीं- ठीक है, मैं अकेली हूँ, थोड़ी देर में टीटीई से सीट की बात कर लूंगी, अभी भीड़ कुछ ज्यादा है. दूसरी का नाम सुल्ताना था, जो 22 साल की थी और आखिरी का नाम शबनम था, वो भी उन्नीस साल की हो चुकी थी.

सेक्सी पिक्चर वीडियो में चलनी चाहिए

”अंकल आप कश्मीर की जन्नत की बात कर रहे हैं, मैं इस जन्नत की बात कर रही हूँ जो मेरे हाथ में है!”इतना कहकर सारिका ने मेरा लण्ड पकड़ लिया. मैंने उस औरत से कहा- मैडम, ठीक तो हम कर देंगे लेकिन जो खर्चा आयेगा वो तो आयेगा ही, उसमें हम कुछ नहीं कर सकते हैं. मैंने दांतों से उसकी चूत की फांकों को हल्का सा काट लिया और फिर से उसकी चूत का मुख चोदन करने लगा.

ऐसा करते हुए मैंने उसकी ब्रा और टी-शर्ट को उसके शरीर से अलग कर दिया.

मम्मी का बाहर रहने का प्रोग्राम चलता रहता था और अब हम भाई बहन भी खुल चुके थे.

तुम लोग सिर्फ देखते हो या कुछ करते भी हो?”शगुन के घर में उसका चाचा रहता है, वो अपने चाचा के साथ करती है. इससे एकदम से उत्तेजित होते हुए भाभी ने मेरा लंड पकड़ लिया और उसे सहलाने लगीं. हॉट देसी सेक्सीफौजी साहब उसको रोकना तो चाह रहे थे लेकिन मजा ही इतना ज्यादा आ रहा था कि रोकने क्या मन नहीं किया.

जैसे ही उसने हाथ ऊपर को बढ़ाया, तौलिया हट गया और मेरा लंड फिर बाहर आ गया. दीदी अचानक से अन्दर आ गई थीं और उन्होंने मुझे लंड हिलाते हुए देख लिया था. कुछ देर बाद मम्मी भी आ गयी। हमने मिल कर खाना खाया और सब अपने काम में बिजी हो गए।मम्मी का बाहर रहने का प्रोग्राम चलता रहता था और अब हम भाई बहन भी खुल चुके थे.

मैं अपना हाथ नीचे ले गया, तो उसकी बुर की लकीर चालू हो गयी और मैंने नीचे तक उंगली से अच्छे से टटोल कर देखा. मीनू ने लगभग गिड़गिड़ाते हुए कहा- भाई, आज आपको अपना लंड हिलाना ही पड़ेगा.

उसके ऊपर आते हुए मैंने अपना लंड एक ही बार में पूरा अन्दर घुसा दिया था.

वो मुझे बहुत टाइटली हग करके चिपक गई थीं और मुझे छोड़ ही नहीं रही थीं. मैं कमरे का दरवाजा खोलने ही वाला था कि कमरे के अन्दर से आ रही आवाज ने मेरे कदम रोक दिये. मुझे आज उसे अकेले देखकर फिर ठरक चढ़ रही थी, पर हिम्मत नहीं हो रही थी.

लेटरिंग कैसे करते हैं क्योंकि सारा दिन का काम किया था इसलिए जल्दी नींद आ गई।लगभग 12:00 बजे के मेरा फोन बजा और मेरी एकदम से अचानक नींद खुल गयी. दीदी मेरी तरफ पीठ करके सोई हुई थी और मैं भी उसी पोजीशन में नन्दिनी दीदी की तरफ मुँह करके सोया हुआ था.

कल्पना मुझे छोटे बच्चे की तरह अपनी चूचियों में दबा रही थी … और अपनी उंगलियां मेरे बालों में घुमा रही थी. दस मिनट की मेहनत के बाद मैंने अपनी बहन की कुंवारी बुर को एकदम चिकना कर दिया. उन पलों को और अधिक मादक और कामुक बनाने का काम मेंहदी बखूबी कर सकती है.

रंगोली डाउनलोड वीडियो

मैंने हल्का सा पीछे होने का नाटक किया और अपना लंड उसके हाथ पर टिका दिया. मैंने अपनी बिल्डिंग में दो बहनों को चोद डाला था। एक दिन एक भाभी ने मुझे मुझे छोटी बहन की चुदाई करते देख लिया. बच्चेदानी के मुँह पर पड़ने वाली हर ठोकर करोना का मजा दुगना कर देती थी.

उसको लिटा कर मैंने बहन की चूत पर अपनी जुबान का जादू चलाना शुरू कर दिया. कुछ देर बाद मुझे दारू पीने का मन हुआ, तो मैंने अपना पर्स खोला उसमें से एक छोटी बोटल वाइन की निकाल ली.

फिर मैंने तेल की शीशी उठायी और अपने लंड पर बहुत सारा तेल चुपड़ दिया.

मैं जब भी भाभी से मिलता, तो राम राम के बाद हम दोनों अक्सर दोस्त को लेकर आपस में थोड़ी बहुत बात कर लेते थे. जो लड़की पौष्टिक खाना खाती है, उस लड़की की चुत भी स्वादिष्ट रस छोड़ती है. अब वो सिसकारते हुए कह रही थी- आह्ह … और तेज … आह्ह और तेज … करो … जोर से … आह्ह … अम्म … याह….

फिर पूरे रास्ते मैंने बहू की कमर को सहलाया और घर आकर मैं अपने रूम में चला गया. फिर मैंने लंड के टोपे को हल्का सा पीछे की ओर खींचा और बिना चूत से बाहर निकाले एक और धक्का जोर से मार दिया. लेकिन इस वेलेंटाइन-डे ने मजा देने के साथ साथ मेरी हालात खराब कर दी थी.

पीछे से मामी की गांड उछलती देख कर मेरा लंड तो अपने आप खड़ा हो जाता है.

घोड़े और लड़की की बीएफ फिल्म: लण्ड का सुपारा चूत के मुंह पर रखकर धक्का मारा तो टप्प की आवाज के साथ सुपारा अन्दर हो गया और दबाव देते ही आधा लण्ड अपनी जगह पर पहुंच गया. उसने मेरे ब्लाउज को खींच कर फाड़ दिया क्योंकि अंधेरे में ब्लाउज खोलना पॉसीबल नहीं था.

रास्ते में एक रेश्टोरेन्ट में रूके नाश्ता करने को और नाश्ता कैबिन में मंगवा लिया. थोड़ी देर बाद जब भाभी नॉर्मल हुईं … तो मैंने लंड थोड़ा सा बाहर निकाल कर एक और झटका मारा. … बाज नहीं आया तू अपनी हरकतों से!मैं रोने लगा और बोला- निधि प्लीज माफ़ कर दे.

मैंने कहा- दोनों?उसने कहा- तुमने ही कहा था कि तुम्हें चूची से निकलने वाला दूध पीना है, तुम्हारी ये इच्छा है.

जैसे ही मैंने उसके आमों को मसला तो उसकी भी स्पीड तेज हो गई और भाभी जोर से मेरे लंड के ऊपर उछलने लगी।कितनी देर तक वो मेरे ऊपर उछली और फिर धीरे-धीरे शांत हो गई।शायद उसका पानी गिर गया था. फिर में डांस फ्लोर पर जाकर बियर पीते पीते डांस करते हुए उस लड़की को देखे जा रहा था. मैं अपने हाथों को विराम तो दे रहा था लेकिन उसके मुंह से लंड को बाहर नहीं निकाल रहा था.