सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,छोटी चूत की चुदाई सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट बीएफ वीडियो हिंदी: सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो, आज के बाद जब हम दोनों अकेले होंगे और अगर मैंने तेरे को ब्रा पहने देख लिया.

सेक्सी वीडियो हॉट में

तो मैं प्रेग्नेंट होऊँगी ही नहीं और कुछ होने का डर ही नहीं है। हां तुझे जरूर होगा. जानवर सेक्सी सेक्सीक्या राज है इनका?मामी हंसी और बोलीं- कुछ नहीं, बस ये ढकी रहती हैं इसलिए ऐसी हैं।मेरे मुँह से निकल गया- फिर बाकी शरीर तो और भी गोरा और चिकना होगा.

तो हम दोनों कार लेकर चल पड़े। वो बहुत खुश लग रही थी।फिर जब हम घर आकर फ़ोन पर बात करने लगे. चाइना का सेक्सी मूवीऔर गांड मारने के लिए आइटम तलाश करने लगा।एक दिन मैं रात को सूसू कर रहा था.

और वही नाम तो मेरे बायफ्रेंड का भी है इसलिए मैंने सुधीर को दीदी से नहीं मिलवाया कि कहीं इससे मिलकर उसे अपने पति की याद ना आ जाये और सदमा ना पहुंचे।किमी पूरी बात भी नहीं जानती और मुझे गलत समझती है, अब तुम ही बताओ संदीप मैं क्या करूँ?मैंने गहरी सांस ली.सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो: लड़कियां और आदमी भी कुछ बैठे, कुछ खड़े थे।उन्हीं में एक 25-26 साल की लेडी अपनी बर्थ पर बैठी थी.

उसने अब भी कुछ नहीं कहा तो मैं उसके होंठ चूसने लगा, कुछ पलों बाद वो भी मेरा साथ देने लगी।उसके होंठों को चूमने में बहुत मजा आ रहा था, मैं देर तक उसके होंठ चूसता रहा और मेरा हाथ कब उसके मम्मों पर चला गया, मुझे पता ही नहीं चला। मगर जब वो कुछ नहीं बोली, तो मैंने उसकी कमीज के अन्दर हाथ डाल दिया.किसी ने गाड़ी रुकवाई और थोड़ी देर में गाड़ी चल दी।मैं अपना हेडफोन लगा ही रहा था.

देव नेगी सेक्सी - सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो

अब मैं पागल हुई जा रही थी।फिर उन्होंने मेरी शर्ट के दो बटनों को खोल दिया और अपना हाथ अन्दर डाल कर ब्रा के ऊपर से मेरे मम्मों को प्रेस करने लगे।मस्ती में मेरी आँखें ही बन्द हो गई थीं। फिर उन्होंने अपना हाथ ब्रा के अन्दर डाल दिया और मेरे निप्पलों से खेलने लगे, अब तो मेरे दोनों निप्पल हार्ड हो गए थे।फिर जीजू ने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी पैंट पर रख दिया.तो मैंने भी ना कहा।थोड़ी देर बाद जब हम खुलकर बातें करने लगे।मैंने पूछा- तुम्हें कभी इच्छा नहीं होती?तो पहले तो वह जानकर भी अनजानी बनी और मुझसे उगलवाने लगी- किस चीज की इच्छा?मैंने भी मौके को मुफीद जानकर उससे कह दिया- सेक्स की इच्छा?तो वह थोड़ी शर्माते हुए बोली- होती तो है.

मेरे दोनों हाथ उसके कंधे पर थे और चेहरे को मैंने शरमा कर एक ओर कर लिया था. सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो मैंने उनके एक निप्पल को अपने मुँह में डाल लिया और पागलों की तरह उसे चूसने लगा। इससे मौसी भी बहुत मस्त हो गई.

’ करती हुई दर्द से कसमसा रही थी।मैंने उसे करीब दस मिनट वैसे ही खुद चोदा, मगर दस मिनट में मेरी सांस फूलने लगी थी, मैंने उससे कहा- जीनत क्या तुम ऊपर आओगी?वो बोली- ओके.

सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो?

अपने अपने कमरों में जाकर सो गए।तो दोस्तो, यह था मेरा पहला प्यार और सेक्स!कहानी में कोई कमी हो तो जरूर बताएं। आपके अमूल्य सुझावों का स्वागत है।[emailprotected]. ’कुछ मिनट बाद मैं फिर से झड़ गया।बाद में उसको उसके कपड़े पहनाए क्योंकि उसमें कपड़े पहनने की हिम्मत नहीं बची थी। फिर मैंने उसको एक पेनकिलर दे और उसे बस स्टैंड तक ड्रॉप करने गया।उसके बाद हमने 4-5 बार सेक्स किया। इंटर के बाद वो अब किसी दूसरे कॉलेज में पढ़ती है. ताकि मैं फेसबुक चला सकूं।मैंने जब सुमन भाभी का अकाउंट फेसबुक पर बनाया था, उसी दिन उसको अपनी फ्रेंड लिस्ट में एड कर लिया था।बच्चों को बाहर भेज कर सुमन भाभी मेरे सर पर खड़ी हो गई थी।मैंने कहा- भाभी आप इतनी खूबसूरत हो.

और चुम्मी भी लेते जा रहे थे।अब चाची के चेहरे पर साफ ख़ुशी दिख रही थी. तू अपने उस मोटू लाला से क्यों ऐसे नहीं चुदवातीं।’ बदमाश नयना सरला को चिढ़ा रही थी।‘हाय राम, कहाँ यार. ऐसा लौड़ा फिर नहीं मिलेगा।मेरी माँ बस चुदाई के मज़े ले रही थीं ‘हुँम्म.

औरत मर्द को चोदते हुए दिखाया जा रहा था।अचानक मुझे लगा कि मॉम पीछे दरवाजे के पास खड़ी होकर फिल्म देख रही हैं, ये मैंने दबी नजरों से देख लिया था। पहले तो मेरी गांड फटी पर मैंने सोचा कि चलो देखते हैं कि आज क्या होता है।उधर मॉम को भी नहीं पता चला था कि मैंने उन्हें देख लिया है। मैंने सोचा जब मॉम ने देख ही लिया है. आप तो बस हंसती हुई बदमाशी वाली अदा में ही मस्त लगती हैं।’ मैंने हंस कर कहा- अच्छा यह बताओ, आपको क्या चाहिये. तभी गर्दन चूमते हुए मैंने धीरे से उसके पेट पर उंगली से उसका नाम लिखा.

मुझे मेल करके जरूर बताएं, आपके मेल का इंतज़ार रहेगा।[emailprotected]. लेकिन वो मजबूर थी और उसे मजबूरन मेरा लंड चूसना पड़ा।पहले तो उसे बड़ा अजीब लग रहा था.

यूं ही उछालती रहना अपने चूतड़!’वो भाभी की की चूची और खड़े निप्पल चूस रहा था।‘अह्ह्ह.

बोल, आज कितना बेशर्म कर दूँ अपनी रानी को!सारिका अपनी सलवार को खोलती हुई बोली- जितना कर सको राजा.

यहाँ तो पूरी जन्नत छुपी हुई है।अब वो मेरे करीब आते हुए मेरी पेंटी के अन्दर हाथ डाल कर अपनी उंगली से मेरी फुद्दी सहलाने लगा। मैं छुड़ाने का नाटक करने लगी. अभी तो सही ढंग से चुदाई बाकी है, चुत को चाटना बाकी है।आप मुझे ईमेल कर सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।. मुझे यह चाहिए और तू मुझे इसको मज़े लेते हुए देखना।‘ठीक है तो 1000 निकाल.

चूतड़ तो और भी मस्त हैं, क्या रेशम से चिकने चूतड़ हैं। सच भाभी आज तो जैसे सपना पूरा हो गया।कमल उठ गया और पजामा पहन लिया सरला भाभी मुस्कराती आँखों से उसको देख रही थीं।‘अब ऐसे क्या देख रही हो भाभी. मतलब वो जल्दी आने की बोल कर मेरे चेहरे को कस कर अपने मम्मों पर रगड़ने लगी।दोस्तो, अगले भाग में इस तमिल कामवाली की मदमस्त चुदाई की कहानी को पूरा लिखूंगा, अभी आप मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected]. उसे पकड़ लो और सहलाओ।मैंने फिर से हाथ पेंट में डालकर उनका लौड़ा अपने हाथ में पकड़ लिया और हल्के हाथ से ऊपर-नीचे करने लगी। जीजू का लंड काफ़ी टाइट और गरम था।अब जीजू का एक हाथ मेरे मम्मों को मसल रहा था और दूसरा हाथ मेरी स्कर्ट के अन्दर पहुँच चुका था। वो मेरी पेंटी के ऊपर से मेरी फूल जैसी चुत से खेल रहे थे।फिर उन्होंने मेरी पेंटी साइड में करके मेरी चुत में उंगली डाल दी.

क्या मज़ा आ रहा था…फिर हम दोनों एक साथ झड़ गये और मैं अपनी बहन के नंगे बदन पर लेटा रहा.

’ निकल रही थी।भाभी ने गले तक लंड लिया हुआ था। भाभी ने पूरा चूस कर उसे कड़क बना दिया और पूरा लाल कर दिया।अब उन्होंने कहा- आओ मेरी जान अब और बर्दाश्त नहीं होता।भाभी बेड पर टाँगें खोल कर लेट गईं, भाभी पूरी नंगी थीं और चुदास से तड़प रही थीं।मैंने कुछ देर तक भाभी के छेद पर अपना लंड रगड़ा, तो वो और तड़प उठीं, भाभी सीत्कारते हुए बोलीं- बस अब डाल भी दो बाबू. इतना माल तो कभी एमसी साहब का भी नहीं निकला।तभी दरवाजे पर दस्तक हुई. और चुम्मी भी लेते जा रहे थे।अब चाची के चेहरे पर साफ ख़ुशी दिख रही थी.

इसलिए वो आराम करती और कामवाली पूरे घर का काम करती। मैं उसकी बड़ी-बड़ी चुचीको देखने के लिए बार-बार उसकी मदद के लिए आ जाता।वो हर बार साड़ी को घुटनों तक उठा कर काम करती. ’मैंने 3-4 शॉट ज़ोर से मारे और खड़ा होने लगा। प्रीति ने मुझे पकड़ लिया- और करो ना, अन्दर रहने दो. पर उसने मना कर दिया तो मैं उसके एक मम्मे को सूट के ऊपरी हिस्से से निकाल कर चूसने लगा।उसका चूचा पूरा बाहर नहीं निकलने के कारण पता नहीं चल पा रहा था कितना बड़ा है, मैंने जितना हो सकता था.

कल आते हैं।यह कह कर उन्होंने फोन रख दिया। फोन पर जो बात हुई वो मैडम ने फोन रखने के बाद मुझे बताया।मैंने कहा- तो फिर मैं चलता हूँ।अब वो पहला पल था, जब मैंने मैडम को गंदी नज़र से देखा। उन्होंने ब्लू साड़ी पहन रखी थी.

जो कि अब नंगी थी। मगर उन्होंने अपनी दोनों जाँघों को भींच रखा था और दूसरा उनके बैठे होने के कारण मेरा मुँह उनकी योनि से दूर था इसलिए मैं उनकी जाँघों के जोड़ पर व योनि के ऊपरी भाग को ही अपनी जीभ व होंठों से सहलाने लगा। इसके साथ ही मैं दोनों हाथों से उनकी जाँघों को अन्दर की तरफ से सहला भी रहा था।इस दोहरे हमले का जो असर होना था. उनकी पेशाब मुझे बहुत गरम लगी।अपनी उंगली को उनकी पेशाब की धार से गीला करने के बाद मैंने अपनी नाक में ले जाकर सूँघा। उनकी पेशाब की खुशबू बहुत ही लाजवाब थी। मैंने जल्दी से अपने मुँह में डाल कर अपनी उंगली को चूस लिया। पायल आंटी की पेशाब का स्वाद बहुत ही मस्त था।पायल आंटी मेरी इस हरकत को देख के हँस दीं- हाए रे.

सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो इसलिए मैं उनके नंगे कूल्हों को ही चूमने लगा। फिर धीरे से मैंने भाभी की एक जाँघ को उठाकर उसके नीचे से उनकी दोनों जाँघों के बीच अपना सर डाल दिया. मोहल्ले वाले क्या सोचेंगे?उसका इशारा अपने कपड़ों की तरफ था। मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं अभी आता हूँ।मैंने बाहर एक दुकान से एक पिंक कलर की साड़ी खरीद कर उसे दे दी ‘लो जल्दी से साड़ी पहन लो।’वो भावुक हो गई.

सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो इसलिए हमें कोई दिक्कत नहीं हो रही थी।चूंकि हम लोगों के अलावा वहाँ और कोई नहीं था, इसलिए दरवाजा भी खुला ही था।किमी ने मेरी तैयारी देखी और खुश हो गई- संदीप तुम बहुत अच्छे हो यार, सच में तुम बहुत अच्छे हो. आपको चुदाई का ज्यादा अनुभव है।मॉम ने कुछ नहीं कहा, बस वे मेरे लंड से खेलती रहीं।अब मैं मॉम के मम्मों को दबाने लगा, मॉम को भी अच्छा लग रहा था। जब मैं मॉम के मम्मों को दबाता था और उनकी चुत में उंगलियां डालता था तो उनके मुँह से कामुक आवाजें आ रही थीं।‘अईई.

वो सिसकारियां लेने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैं उनके होंठों को चूमने लगा, वो भी मेरा साथ दे रही थीं.

बीएफ लेडीस और कुत्ते की

एक दिन जब में बोर हो रहा था, तब छत पर बैठने चला गया। उस वक्त हल्की-हल्की बारिश चालू हो गई। मैं छत पर बैठ कर बारिश का आनन्द ले रहा था।उसी वक्त मेरे पीछे के अपार्टमेन्ट की छत पर एक औरत ने कुछ सुखाने डाला होगा. कर रहा था।हम दोनों ही कॉलेज बहुत कम जाते थे, पर साथ का होने के कारण मेरी और उसकी दोस्ती जल्द ही हो गई और मैं उसे पहली नजर से ही चाहने भी लगा था, पर उसके दिल में मेरे लिए क्या था, मैं नहीं जानता था।हम घंटों छत पर कड़ी धूप में भी बातें करते रहते थे. इसलिए भाभी के ऊपर ही ढेर हो गया।किराएदार भाभी संग चुत चुदाई की सेक्सी कहानी आपको कैसी लगी प्लीज़ मुझे ईमेल कीजिएगा।[emailprotected].

अब यह चीख हमेशा तुम्हें मेरी और मेरे लंड की याद दिलाती रहेगी।यह कह कर मैंने एक और बार लंड बाहर खींचा और एक ही धक्के में पूरा लंड उसकी चुत में घुसेड़ दिया।इस बार वो फिर से जोर से चीख पड़ी ‘ओई. तो उसके लिए वहाँ से शिमला चलना कोई मुश्किल नहीं था।हमने चंडीगढ़ बस स्टैंड पर मिलने का समय फिक्स किया था। मुझे नहीं पता था कि उसके साथ उसकी एक सहेली भी आएगी।हम तीनों ने बस पकड़ी और शिमला के लिए चल पड़े। वहाँ जाकर हमने एक होटल में दो कमरे ले लिए ताकि मैं और कोमल एक कमरे में. पर मैं उसे अपने लंड पे दबाए रहा और एक हाथ से उसकी चूचियों को खूब कस कसके दबाने लगा।जब उसकी चूचियों में भी दर्द होने लगा.

एकदम सन्नाटा छाया हुआ था। मैं आगे को आया तो देखा 25-27 साल की शादीशुदा लड़की खड़ी थी। मैं कुछ नहीं बोला और आगे बढ़ गया।थोड़ी दूर चलने के बाद मुझे उसने पीछे से आवाज़ दी, मैंने पीछे मुड़कर देखा तो वो लड़की मुझे बुला रही थी।मैं रुक गया.

अब नहीं सहा जाता।मैंने शिल्पा की दोनों टांगें फैलाईं व उसके उरोजों को मसलते हुए अपने लंड को उसकी चिकनी बुर पर रगड़ने लगा, मेरे लंड में से भी रसीला पानी झलकने लगा था।फिर उसके होंठों को चूसते हुए हल्का सा धक्का दिया तो लंड आधा शिल्पा की बुर में पहुँच गया, उसने अपनी टांगे और फैला लीं।मैंने भी आव देखा न ताव. और वो लिंग को लगातार अन्दर बाहर करने लगे।अब मैंने भी उसका साथ देना शुरू कर दिया था. पर इसके बाद मैं भी लगाऊँगा!इस पर चाची ने बिंदास कहा- ठीक आज तू भी लगा लेना।उन्होंने मुझे मेरे चेहरे पर खूब रंग लगाया और मैं भी उनके मुलायम हाथों का स्पर्श महसूस करता रहा। इसके बाद जब मेरी बारी आई तो चाची ने मना कर दिया और अपने कमरे में भाग कर गेट बन्द कर लिया।मैंने बहुत कहा कि चाची यह बात गलत है.

उफ्फ्फ्फ़…ये लड़की अदाओं में अपनी माँ से कुछ कम नहीं थी!!उसकी बात सुनकर मैं हंस पड़ा और उसे अपने सीने से और भी जोर से जकड़ लिया. चाची ने कोई पेंटी नहीं पहनी थी। मेरा हाथ सीधा उनकी चूत की झांटों से जा लगा था, मैंने धीरे धीरे उनकी चूत पर हाथ लगाया. ऐसा कि हमारे बीच से हवा भी ना गुजर सके।अब मेरा खड़ा लंड रोमा की कमर से दब गया था। मैंने रोमा के पैर को भी उठा कर बाइक के इंजन गार्ड पर रख दिया और अपने पैरों को गियर और ब्रेक स्टैंड पर रख दिया.

फिर बोला- आपके साथ कैसे?हालांकि मैं अन्दर से खुश था कि मामी की चुदाई करने को मिल रही है. मुझे ऐसे ही चिकना बदन पसंद है।मेरी बात पर मामी पहले तो चुप रहीं और थोड़ी देर बाद बोलीं- तू बदमाश हो गया है।मैं बोला- बदमाशी भी कभी-कभी अच्छी होती है।मैं मुस्कुराते हुए मालिश करने लगा.

पायल आंटी का पति वहीं अपनी सीट में लेटा हुआ था।पति- कहाँ चले गए थे तुम दोनों?पायल आंटी- कुछ नहीं अनमोल को साथ लेकर गई थी. ’मैं और तेजी से आंटी की चूत चाटने लगा, आंटी मेरा पूरा सर अपनी चूत में दबाती जा रही थीं और जोर-जोर से ‘आआहह. मगर उनकी योनि के बाल मेरे मुँह में आ रहे थे। इसलिए मैं अपने दोनों हाथों को भी रेखा भाभी की जाँघों के बीच में ले आया, मैंने अपनी उंगलियों से उनकी योनि की दोनों फांकों को फैलाकर जीभ लगा दी।मैं भाभी की योनि की लाईन में धीरे-धीरे जीभ घुमाने लगा.

मेरा नाम आर्या है, गाज़ियाबाद में रहता हूँ। मैं अन्तर्वासना का एक नियमित पाठक हूँ।यह मेरी पहली सेक्स स्टोरी है.

नहीं तो मैं मर जाऊँगी।मैंने अपने कपड़े उतार दिए और मेरा लंड काले नाग की तरह चुत को डंसने के लिए फुंफकार मारने लगा. तो हम सामान्य हो कर बर्ताव करने लगे।थोड़े दिन बाद हम सभी अपने घर देवास वापस आ गए।फिर कुछ समय बाद देवास में ही मेरी सबसे बड़ी बुआ की लड़की रहती हैं. इसी के साथ अपना सेल नंबर भी सबा को सेंड कर दिया।शाम को उसका एसएमएस आया- दोस्त वापिस आ गए?‘जी हाँ.

तो उसने मेरे सर पर अपने हाथों से मालिश शुरू कर दी, जैसे वो कह रही हो कि हाँ यही वो जगह है. मैं तेरे पास बैठती हूँ।उन्होंने सूट पहना हुआ था और उनके मम्मों पर मेरी बार-बार नजर जा रही थी, उन्होंने ये नोटिस कर लिया.

मेरी चुत फाड़ोगे क्या?मैंने हँसते हुए एक और जोरदार धक्का मारा और पूरा लंड उसकी चुत में घुसेड़ दिया। एक-दो पल बाद उसकी चुत ने मेरे लंड को अपनी चुत में एडजस्ट कर लिया तो मैंने धीरे-धीरे लंड अन्दर-बाहर करना शुरू किया।कुछ ही झटकों में उसकी मदमस्त आवाजें कमरे में गूँजने लगीं- आह. तो मैं कुछ रुक गया।दस मिनट बाद मैंने उसे बेड पर चोदने की पोजीशन में चित लिटाया और उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगा दिया। वो अब लंड लेने के चूत पसारे लेटी हुई थी।मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद पर सैट करके एक हल्का सा धक्का लगाया. क्योंकि मैं भी खुद सेक्टर 29 में ही रह चुका था और मुझे वहाँ काफ़ी लोग जानते थे।फिर भाभी ने कार को घुमाया और सेक्टर 26 की तरफ हम निकल गए।मैं भाभी को टच करने की कोशिश करने लगा.

सारा सेक्सी बीएफ

इसे तुम्हारी चुत में डालना है।‘अरे मेरी चुत तो कितनी छोटी है, तुम्हारा तो बड़ा और मोटा है.

सालों अपना रस आज मेरे मुँह में डालना।उसके ये शब्द सुन कर हम और उत्तेजित हो गए और बाथरूम में ही उसे जोर-जोर से चोदने लगे। परन्तु बाथरूम में उसे चोदने में हमें थोड़ी दिक्कत आ रही थी. ’ की आवाजें बड़ी बेसब्री से उसके मुँह से आ रही थीं।मैं और भी जोश में आकर उसकी बुर को चूमने लगा था। कुछ ही देर में उसकी बुर से पानी निकलने लगा। मैं उसकी बुर का वो नमकीन पानी पीने लगा ‘ह्म्म्म्म. ’उसकी इस तरह की कराहों के अतिरिक्त वो और बहुत कुछ बड़बड़ा रही थी, उसे अपना कुछ भी ध्यान नहीं था।फिर अचानक मैं तेजी में आ गया और उसके दर्द को भूल कर पूरी ताकत से उसे पेलने लगा। उसकी आँखें बेहोशी की हालत की वजह से बन्द थीं।‘उह्ह.

’ करने लगीं।मैंने जोर का धक्का मारा तो मामी ने आँखें खोलीं और मस्ती से चिल्लाईं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहाहह. दोस्तो, मेरा नाम बिट्टू है और मैं 24 साल का गोरा स्मार्ट और सेक्सी लड़का हूँ। मेरा लंड औसत लंड से लम्बा है और मैंने अब तक जिस भी लड़की को चोदा है. 15 साल लड़कियों का सेक्सी वीडियोमामा का लड़का रास्ते में मिल गया और उसने जाना कैन्सल कर दिया।हम दोनों घर पहुँचे.

फिर हम खाने के लिए एक रेस्टोरेंट में गए। वो रेस्टोरेंट सिर्फ़ कपल्स के लिए था। हम दोनों भी एक केबिन में जाकर बैठ गए और चाऊमिन के लिए ऑर्डर किया।मैंने अपना हाथ उसकी जाँघों पर रखा तो उसने कहा- तुम मेरे एक अच्छे दोस्त हो और दोस्त ही रहो. उनका दिल नहीं तोड़ सकती मैं… पहले ही बहुत दुःख दे चुकी हूँ उन्हें… आप भी सोये हुए थे इसलिए मैंने अपने ये जज़्बात ख़त के ज़रिये आपको बतलाने का फैसला किया.

तो उसे उसकी गांड में इसका एहसास हो रहा था।वो बोली- मुझे जल्दी से घर ले जाकर ये दिखा दो. अगर तुम खुद मुझे ऐसे सवाल ना पूछते। मैंने सिर्फ़ ये सोच कर जवाब दिए थे कि शायद हम कभी मिलेंगे ही नहीं।मैंने कहा- फिर अचानक ये मुझसे मिलने का प्रोग्राम कैसे बना और मुझे यहाँ मिलने क्यों बुलाया?उसने कहा- तुमसे मेल पे बातें करते करते पता नहीं मुझे क्या हुआ और तुमसे मिलने की इच्छा हो गई।मैंने पूछा- क्यों?उसने कहा- ये मुझको नहीं पता. फिर उसने मेरे पास एक बच्चे को भेजा। मैंने पूजा की तरफ देखा तो उसने अपने कान पर हाथ लगा कर फोन करने जैसा इशारा किया। मैं समझ गया और मैंने उस बच्चे के हाथ से अपना नम्बर उसके पास भेज दिया, उसने झट से नम्बर ले लिया और अपने घर चली गई।रात को उसने मुझे कॉल की और बोली- मैं तुमसे लव करती हूँ।मैंने भी उसे ‘लव यू टू.

वही हाथ मैंने उनके टॉप के अन्दर डाल दिया और उनकी ब्रा थोड़ी ऊपर करके उनके निप्पलों को सहलाने लगा। वो धीरे-धीरे गर्म होने लगी थीं और कच्ची सड़क मेरा साथ देने लगी थीं।मैंने धीरे से हाथ नीचे को किया, मेरा मन भाभी की लैगीज में हाथ डालने का था, तो हाथ को नीचे सरकाया।तभी भाभी ने मेरा हाथ पकड़ा और इशारे से मना कर दिया. अन्दर आओ मेरे रूम में चलो।वो मेरा हाथ पकड़कर अपने रूम में ले गई और वहाँ जाकर मुझे किस करने के लिए कहने लगी। पर मेरा कोई गलत इरादा नहीं था. मैं उसके स्कूल के प्रोजेक्ट में उसकी हेल्प कर रहा था। उसके प्रोजेक्ट का टॉपिक सेक्शुअल लाइफ पर था.

और मुझे यह भी लग रहा था की इस रात और मेरे इस समर्पण के बाद सब कुछ ठीक हो जायेगा।तभी दरवाजा खुला और वो तीनों अंदर आये.

तब तक के लिए नमस्कार!मेरी कहानी पर आप अपने विचार मुझे निम्न इमेल पर दे सकते हैं।[emailprotected]. आप मुझे मेल कीजिए।[emailprotected]भाभी की जवानी की कहानी जारी है।फ्री सेक्स कहानी का अगला भाग :भाभी की मदमस्त जवानी और मेरी ठरक-3.

मैं थोड़ी सी सकपका सी गई।सैम ने मुझे कंधे से पकड़ कर खड़ी किया और मेरी आँखों में देखते हुए रेशमा से कहा- नहीं रेशमा, स्वाति को किसी चीज के लिए मत कहो, मैं इसे प्यार करता हूँ, इसके शरीर को पाना मेरी चाहत नहीं. वो हम दोनों का पहला किस था, पर वो मैं आज तक भूल नहीं पाया।हम दोनों में काम-वासना जागने लगी। मेरे हाथ उसके बदन को सहलाने लगे, वो और भी ज्यादा चिपक गई, अब मेरे हाथ उसके टॉप में घुस गए और ब्रा के हुक तक पहुँच गए।उसके बदन का गर्म एहसास मुझे भड़काए जा रहा था, उसकी ब्रा के हुक को मैंने खोल दिया।अगले ही पल वो मेरे ऊपर आ गई, मैं उसका टॉप निकालने लगा. रगड़ दे राजा।’गीता को फोटो देखते हुए कमल का गर्म लंड अपने चूतड़ पर बहुत मज़ेदार लग रहा था। अब तो कमल ने अपनी उंगली उसकी चूत में घुसा दी थी। चूत एकदम गीली होकर रस छोड़ रही थी। कमल को भी उसकी चूचियों को दबा कर लंड रगड़ने में बहुत मज़ा आ रहा था।फिर शुरू हुई चुदाई की फोटो.

पर उसने मना कर दिया। कुछ देर बाद भाभी ने कार साइड में लगा दी और हम दोनों ने थोड़ी देर बात की. लेकिन अब सब कुछ साफ़ हो गया था… मुझे कोई हक नहीं था कि मैं स्वार्थ के लिए रेणुका की ज़िन्दगी में आई इस ख़ुशी को ग़म में तब्दील कर दूँ. अभी तो ऐसे ही कर ले।’ उसने अपना ब्लाउज खोल मखमली चुची को आजाद कर दिया और मेरे सीने से रगड़ने लगी।हम दोनों के होंठ जुड़े थे और हम फुसफुसा कर बात कर रहे थे- क्या भाभी, तेरी बात तो सही है, पर मेरा क्या.

सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो पर करन मेरे पीछे दौड़ते हुए मुझे मार रहा था। मैं किसी तरह वहाँ से निकल आया और अपने रूम पर आ गया। उससे बचकर आते हुए मैंने उसके मुँह से इतना सुना था कि साले तुझे क्या लगता है. ’ वो बस यही कहे जा रही थी। कुछ देर बाद मेरा वीर्यपात हुआ और मैं उसकी योनि में ही झड़ गया।जैसे ही मैंने लिंग बाहर निकाला, वो बोली- उंगली डाल दो।मैंने उंगली डाली और अन्दर-बाहर करने लगा.

बीएफ भेजने वाली

इसे नींद आ रही है।इतना सुनकर मैं अन्नू को विभा के रूम में ले गया। मैंने रूम की लाइट जलाई तो देखा कि मेरी कजिन विभा और राजेश डबलबेड पर सो रहे थे।वो भी विभा के बगल में जाकर लेट गई और बोली- लाइट बंद कर दीजिए।मैं लाइट बन्द करके वापस फेरों वाली जगह पर चला आया। अब मुझे बहुत बुरा लग रहा था. उन्होंने अपने होंठ मेरे कोमल होंठों पर रख दिए। ये मेरी लाइफ का पहला किस था. इतना तो तेरे भैया का भी नहीं है!यह बोल कर वो मेरे लंड को रगड़ने लगीं, मैं उनके ऊपर लेट कर उनके होंठों को चूस रहा था।फिर मैंने भाभी को मेरा लंड चूसने के लिए कहा.

दोस्तो, मैं इस सुख के लिए कब से तरस रहा था। मुझे लग रहा था कि लंड को जल्दी से अन्दर तक पेल दे. ’ भावना ने कहा।प्रॉब्लम की सुन कर हम सब ठंडे पड़ गए।‘क्या हुआ जान?’भावना ने बताया- मेरे घर पर एक चौकीदार तैनात रहता है. सेक्सी दिखाओ नंगी चुदाईतब समझो मुझे तो जन्नत का मजा मिल गया।भाभी ने लंड चूसते हुए मेरा पानी निकलवा दिया और सारा पानी गटक गईं। मेरे लंड के झड़ने के बाद भी भाभी ने लंड छोड़ा नहीं.

और 2 मिनट के बाद आ गईं, उस वक्त मेरी माँ कहीं गई थीं, मैं चाय बनाने के लिए अन्दर गया। अन्दर जाते वक्त मैं बहुत खुश था.

तू क्या सोचती है? मैं तुझे यहीं पर चोद देने के लिए कह रहा हूँ! अगर मुझे मजा नहीं आया होता तो क्या मैं ऐसा करता?’ यह उम्र या बड़ी चूत का सवाल नहीं है. कुछ पल बाद मैं उसकी चूत को और तेज़ी से चोदने लगा, उसकी आवाज़ काँपने लगी.

बंद कमरे में झरोखों से आ रही रोशनी काफी थी वंदना की आँखों के लाल डोरे देखने के लिए…हम दोनों आमने सामने बैठे तो थे लेकिन अब भी उसके बदन का लगभग पूरा भार मेरे बदन पर ही था और मेरे हाथ अब भी उसकी कमर से लिपटे हुए थे. ’निहाल नहीं हटा और थोड़ी देर ऐसा ही चढ़ा रहा।दीदी भी लेटी रहीं और अपनी आँखें निहाल की आँखों में डाल कर बोलीं- प्लीज़ निकाल लो ना. वो दर्द से चीख पड़ीं।मैंने अपने आपको व्यवस्थित करके एक बार अपने लिंग को थोड़ा सा बाहर खींच लिया और फिर से एक झटका लगा दिया। इस बार फिर से रेखा भाभी के मुँह से ‘अ.

’उनका ब्लाउज उतारने के बाद लाल रंग की जालीदार ब्रा में मैडम के चूचे मुझे किसी जन्नत के नजारे से कम नहीं लग रहे थे। मैंने ब्रा को भी जल्दी से खोला और उनकी सबसे प्यारी चीज़.

मैं तेरा मस्त मोटा तगड़ा लंड अपने अंदर महसूस करना चाहती हूँ। पर उससे पहले तू मुझे बहुत ज्यादा गर्म और चुदासी कर दे… बात करना चाहती हूँ।‘ओह भाभी कण्ट्रोल क्यों. अच्छा है… तो चलो तुम्हे ऊपर से नीचे तक चिकनी कर देती हूँ एकदम…आओ मेरे साथ अंदर आ जाओ…पहले मैं तुम्हारी अंडर आर्म्स कर देती हूँ. आ रहा हूँ ना… तेरे पास ही आता हूँ।मैंने कहा- जान आओ ना!उसने मेरी पेंटी एक तरफ रख दी, मेरे ऊपर आ गया, मेरे होंठों पे, मेरी गर्दन पे, मेरे बूब्ज में, मेरे शरीर के हर एक अंग पे उसने किस किया।उसने मेरा एक निप्पल अपने मुंह में ले लिया.

सेक्सी हिंदी कार्टूनलंड चुत में किसी तरह अन्दर घुसा और चुदाई शुरू हो गई। उसके साथ सेक्स करते-करते मैं उसके उरोजों को भी चूस रहा था और चुत चुदाई का पूरा मजा ले रहा था।मुझसे चुदते हुए वो शर्म से भरा अपना मुँह छुपा रही थी. लेकिन बाद में मजा आएगा।इतना कहा और फिर से होंठ लगा कर एक झटका और लगा दिया। इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चुत में समा चुका था।प्रिया दर्द से छटपटा रही थी ‘अया आ आह छोड़ दो.

बीएफ पिक्चर फिल्म चुदाई

अब मुझे हर औरत खूबसूरत लगने लगी काली, गोरी, जवान और शादीशदा, खास कर शादीशुदा औरतों का फिगर देख कर लगता था कि थोड़ी देर में मेरा शरीर फट जाएगा।क्या सही है. साथ ही चूचियों के ऊपर दाँत से काटने लगा। वो कामातुर हो चुकी थीं और मादक सिसकारियां भरने लगी थीं।मैंने काफ़ी देर तक उनकी चूचियों को मसला और जीभ से सहलाता रहा। करीब दस मिनट के बाद मैंने उन्हें बेड पर लिटा दिया और फिर उनकी सलवार का नाड़ा खोलकर एक ही झटके में उतार दी।माँ कसम. पर उसे देख कर कोई भी उसकी उम्र 20 साल से कम नहीं समझता है। वो दिखने में किसी मॉडल से कम भी नहीं लगती है, इसी के कारण मैं भी उसकी सुन्दरता का कायल था।एक दिन की बात है.

मैं तुझे तेरे ये मस्त रेशमी दूधिया बड़े बड़े चूतड़ दिखाता हूँ… क्या मस्त सुन्दर और सेक्सी लग रहे हैं।रवि ने फिर से उसको उठा कर कमरे के अंदर ले गया और साइड से शीशे के सामने खड़े हुए बोला- अब देख इनको भाभी. कुछ ही देर में उसकी दर्द में डूबी मादक सिसकारियां निकलने लगीं ‘आआहह. ’ की आवाज निकल गई। मैंने दूसरा झटका लगाया तो मेरा आधा लंड उसकी चुत में चला गया.

आज वो इधर नहीं है, पर वो भी उन पलों को याद तो करती होगी।यह सेक्स स्टोरी मैंने अपनी तारीफ बटोरने के लिए नहीं उसके लिए लिखी है, शायद वो कभी मेरी कहानी देखे और मुझे फिर से मिले।आप सबने कहानी पढ़ी. देरी मत करो!मैं लंड हिलाता हुआ मॉम के मुँह के पास ले गया, मॉम को गुलाबजल की खुशबू आई. तब से कई बार चुदवा चुकी हूँ।’अब जीनत मेरे वासना के खेल में शामिल होने के लिए मचल उठी थी।आप अपने विचार मुझे मेल कीजिएगा मैं अगले भाग में जीनत की उफनती जवानी को अपने लंड के नीचे किस तरह लेता हूँ और साथ ही क्या कुछ ऐसा होता है जो मैंने सपने में भी नहीं सोचा था।[emailprotected]कहानी जारी है।.

जिससे उसके बड़े-बड़े चूचे मेरे सीने से टकराने लगे।मैं बहुत गर्म हो गया था. पीछे-पीछे वो भी आ गई।वो मुझसे बोली- अरे गिलास नहीं लगाए?मैंने तीन ग्लास में बीयर और दारू डाली और हम पीने लगे।दो पैग लेने के बाद नेहा की एक बीयर खत्म हो गई थी। जब तक हम पी रहे थे, वो डॉक्टर साहब से ही बात करती रही। वो दोनों एकदम पास-पास बैठे थे।मैंने फिर दारू डाली और नेहा के गिलास में बीयर डालने लगा।तो बोली- दो गिलास में ही डालना।मैंने कहा- तुमको नहीं लेना?वो बोली- मैं और ये एक ही गिलास से पियेंगे.

दोस्तों उन्होंने इस कदर मेरा लंड चूसा कि मैं बता नहीं सकता।उस रात हम दोनों ने 5 बार चुदाई की और मैंने आंटी की गांड भी मारी।सुबह जब हम उठे तब मैंने आंटी का जी भरके दूध पिया और कॉलेज चला गया। उस दिन के बाद से मैंने आंटी के साथ 14 दिन तक भरपूर सेक्स किया। अब जब मुझे टाइम और मौका मिलता है मैं आंटी को दम से चोदता हूँ और उनका दूध भी पीता हूँ।तो साथियो, आंटी सेक्स स्टोरी कैसी लगी.

मैंने एक बार भी सेक्स नहीं किया था और तू है कि मेरे सामने हाई हील्स पहन कर अपनी गांड उछाल-उछाल कर चलती है तो मेरे लंड को चुदास भर जाती है। इसलिए आज कोई नहीं है तो मैंने तुझे चोद दिया. चुदाई वाली सेक्सी दिखाइए वीडियो मेंआंटी जोर से मेरे सर को अपनी चुत के अन्दर दबाने लगीं, आंटी सेक्स भरे, चुदास भरे स्वर में कहने लगीं- पियो मेरे राजा. छोटा बच्चा की सेक्सीअब भी पूरी नंगी पैर पसार के लेटी हुई थीं।मैं भी लंड हिलाता हुआ अपने कमरे में आया. अबकी बार वो मुझसे चिपक कर बैठ गई। उसके करीब आने से मेरा लंड खड़ा हो रहा था।उसने बोला- जय, मेरे पति हमेशा काम के सिलसिले में बाहर रहते हैं.

हम दोनों ने वो पिया, थोड़ी देर के लिए लेट गये और वो मेरे बाईं ओर थी, मैंने उसकी तरफ करवट ले ली और एक दूसरे के परिवार के बारे में बातें करने लगे.

जब से तुम्हें देखा है, तब से तुम्हें पसंद करता हूँ। तुम मेरे लिए बहुत ख़ास हो। मुझे तुम्हारी जरूरत है। तुम्हारे बिना ज़िन्दगी जीने के बारे में सोच भी नहीं सकता. ’मैंने कुछ नहीं कहा और धीरे-धीरे लंड को आगे-पीछे करने लगा। कुछ देर में वो सामान्य हो गई और मेरा साथ देने लगी।मैं दनादन उसकी चुत में झटके मारे जा रहा था. थैंक्यू।मेरी सबसे प्यारी बहन मेरे सामने अपने बॉयफ़्रेंड के साथ नंगी लेटी थी और मैं अपनी दीदी को चुदते हुए देख रहा था।यह मेरे लिए डूब मर जाने वाली बात थी.

मैं- हाँ चाची क्या हुआ?चाची- सामने टेबल पर मेरी कपड़े रखे हैं, क्या तुम लाकर दे दोगे?मैंने टेबल से उनके कपड़ों के साथ ब्रा और पेंटी उठाई और बाथरूम के पास जाकर बोला- ये लो. तो मैं चला जाता हूँ।इतना बोल कर मैं वापस जाने को हुआ, तो वो बोली- रुकिए. उन दोनों की शादी हो चुकी है। उनकी बातों से जानकारी मिली कि उनकी बेटी अपनी ससुराल में है और बेटा मेरे साथ रहता है। उसका बेटा उसे रोज छोड़ने आता है.

सलोनी बीएफ

ममेरी बहन की और भाभी की चूत की चुदाई-1तभी दरवाजे पर खटखट हुई…पायल ने सब कुछ छोड़ कर पीछे हट अपनी निक्कर ठीक कर ली।‘कौन है?’ मैंने अपना पप्पू पजामे डाल कर पूछा।‘कोई नहीं… मैं हूँ नेहा…’मैंने झट पलट कर दरवाज़ा खोल दिया… नेहा भाभी अंदर आ गई और बोली- अभी मम्मी पड़ोस में गई हैं प्रसाद देने. मैं प्रिया दिल्ली से हूँ।’मैंने कहा- मैं जानता हूँ।क्या लग रही थी वो. क्या खूबसूरत बला लग रही थी, उसने जीन्स और टॉप पहना हुआ था, उसको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया।मैंने उससे हाथ मिलाया और हम दोनों केएफसी में कुछ देर बैठे.

अपनी मामी के साथ ऐसा करते हुए? मैं तो तुझे एक सीधा-साधा लड़का समझती थी और तू तो एक नंबर का बदमाश है।मैं डर गया और मामी से बोला- मामी आप प्लीज़ घर में कुछ मत कहना.

मैं समीर दिल्ली में ग्रेटर कैलाश में रहता हूँ। अभी मैं सीए का स्टूडेंट हूँ। मैं एक गुड लुकिंग लड़का हूँ, सामान्य कद-काठी का हूँ और अन्तर्वासना का एक पाठक हूँ।कुछ दिन पूर्व मैंने इधर एक इंट्रेस्टिंग स्टोरी पढ़ी थी, बस उसे पढ़ने के बाद मुझे लगा कि मुझे अपने साथ हुआ इन्सिडेंट आप लोगों के साथ शेयर करना चाहिए।मैंने देखा है कि यहाँ स्टोरी पोस्ट करने वाले सभी लोग कहते हैं कि यह स्टोरी सच्ची है.

मैंने उसे सोफे पर लिटा दिया और उसकी जीन्स उतारने लगा। उसने भी अपनी गांड उठा कर जीन्स उतारने में मेरी मदद की।अब वो गुलाबी रंग की पेंटी में थी। अरे उसे पेंटी क्या कहूँ साली सिर्फ़ एक तिकोना कपड़ा थी. मुझे पता ही नहीं चला।मेरे जीजू मेरे मुँह को ही चुत समझ कर चोदने लगे थे। फिर जीजू ने 69 में आ कर मेरी चुत में अपनी जीभ डाल दी. कार्टून सेक्सी 2021चाची की चूत पर अपना मुँह धर दिया और चूत को चाटना शुरू कर दिया।जैसे ही चाची की चूत को मैंने अपने होंठों से छुआ.

जरा थोड़ी मलहम लगा दे।मैं भी जल्दी से उठकर मलहम लेकर मामी के पास आकर बैठा और मामी के गाउन को थोड़ा ऊपर करके उनके पैरों पर मलहम लगाने लगा।उनके चिकने पैरों का स्पर्श पाकर मुझे तो मजा आने लगा था। मैं सोच रहा था कि मेरा सपना सच होने वाला है। थोड़ी देर बाद मैं अपने हाथों को थोड़ा ऊपर ले जाने लगा तो मामी ने कुछ नहीं कहा, शायद उनको भी मजा आने लगा था।वो धीरे-धीरे मस्त होने लगीं. पर मेरा झड़ना अभी बाक़ी था।मैंने अपना लंड चुत से बाहर निकाल लिया और उसे रूमाल से पोंछ कर चूसने को कहा. पसंद आई या नहीं, प्लीज़ कमेंट जरूर करना।मेरा नाम राज श्रीवाश है, मैं छत्तीसगढ़ के रायगढ़ से हूँ, मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है। चुदाई में सबसे ज़्यादा मुझे मैरिड लेडीज और आंटी पसंद हैं।आज जो मैं सेक्स स्टोरी आप लोगों से शेयर करने जा रहा हूँ.

इसलिए घर फ़ोन कर देना कि तुम आज घर नहीं आ रहे हो।अंकुर ने अपने घर फोन कर दिया और वो भी हमारे साथ ही रुक गया।रूम में पहुँच कर हम सभी ने ऊपर के कपड़े लगभग उतार ही दिए थे, बस सब अन्दर पहनने वाले कपड़ों में ही रहे गए थे।सारिका नहाने के लिए वाशरूम में जाने लगी. हट जाओ, मुझे सूसू आ रही है।यह कहकर उठने लगी, पर मैंने उसे उठने नहीं दिया.

अब उसके लिए मुझे लंबा परिश्रम करना और करवाना था। मैं किमी का खोया हुआ आत्मविश्वास लौटाना चाहता था, उसे हॉट और खूबसूरत बनाना चाहता था, सेक्स के प्रति उसकी रुचि फिर से जागृत करना चाहता था।अंत में उसके साथ कामक्रीड़ा की पराकाष्ठा को पार करना चाहता था.

’ यह कहते हुए वो हिल-हिल कर मुझसे छूटने की कोशिश कर रही थी और मैं आँखें बंद किए उसे कसके जकड़े हुए था।शायद रोमा को अपनी बुर पर मेरे लंड का स्पर्श अच्छा लगने लगा था. मेरा लंड अंडरवियर के अन्दर से चाची की पेंटी पर रगड़ मार रहा था।मैंने चाची की पेंटी उतार दी और अपनी अंडरवियर भी निकाल दी।उधर एक बार बाजी की तरफ देखा, तो वो पहले से ही अपने सारे कपड़े उतार चुकी थीं और अपनी चुत को सहला रही थीं।मैंने उन्हें इशारे से अपने पास बुलाया. रेस्टोरेंट में जाकर खाना खाया हमने… वो खाते टाइम कभी मेरे हाथ छूता, मेरी जांघें सहला देता… मुझे अच्छा लग रहा था और उसकी पैंट बता रही थी कि उसे कैसा लग रहा है.

राजस्थानी सेक्सी फिल्म चोदा समझे!वो इतना कह कर मुड़ी और जाने लगी। तभी मुझमें न जाने कहाँ से इतनी हिम्मत आ गई और मैंने बोल दिया- करते हैं ना!हर्षा भाभी एकदम से पलटीं और घूर कर बोलीं- क्या. दोस्तो, हिंदी सेक्स स्टोरी की इस मनोरम साईट के आप सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। आज मैं अपने जीवन की एक घटना आप लोगों के साथ साझा करना चाहता हूँ। मुझे उम्मीद है कि आप सब इस सेक्स स्टोरी को पसंद करेंगे।बात उस समय की है.

शायद मामी कुछ और ही चाहती थीं, उन्होंने मुझसे बोला- रोहित तुम बड़ी अच्छी मालिश करते हो, जरा मेरी कमर पर भी मालिश कर दो ना!मैं इस मौके को गंवाना नहीं चाहता था, सो मैंने झट से कहा- मामी कर तो दूंगा पर आपका गाउन बीच में आ रहा है।मामी बोलीं- तो तू एक काम कर. मैं आ जाऊँगा।मैं उस तयशुदा दिन पर उसके घर चला गया। लगभग आधे घंटे का सफ़र करने के बाद जब मैं उसके घर पहुँचा. दर्द के बाद लंड ने चुत में जगह बना ली तो वो भी नॉर्मल होने लगी।अब मैंने धीरे-धीरे लंड को अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया और अब वो भी मेरा साथ देने लगी। कुछ ही पलों बाद उसको बहुत मज़ा आने लगा और अब वो ‘आ.

देहाती बीएफ चुदाई सेक्सी

मेरी अब चूत देखने की जिज्ञासा शांत नहीं हो रही थी।एक रात 2 बजे उठकर मैंने कमरे की लाइट जलाई। भूमिका गहरी नींद में सो रही थी. लेकिन मुझे एक अच्छी और प्यारी गर्लफ्रेंड की तलाश है।मेरे सभी जानने वाले कहते हैं कि तेरी तो ढेर सारी प्रेमिकाएं होंगी. पर कोई फायदा नहीं हुआ था।जब भी मैं अपनी चाची से पूछता था कि चाची आपको बच्चा क्यों नहीं होता है?तो चाची बोलतीं- क्या मालूम.

तब तक मैं खाना बनाती हूँ।मैं बच्ची को लेकर गाँव में घूमने लगा। काफ़ी देर बाद जब मैं आया तो मामा जी जा चुके थे।भाभी बोलीं- चलिए, खाना खा लीजिए।हम दोनों ने साथ में खाना खाया और भाभी अपना काम निपटाने लगीं।मैंने पूछा- भाभी मैं कहाँ सोऊँगा?तो भाभी बोलीं- घर पर कोई है नहीं. ठीक है जैसे तू चाहे मार सकती है। पर तेरी गांड बहुत छोटी है मेरे इस मोटे तगड़े लंड को झेलने के लिए। हां मैंने सरला भाभी की एक-दो बार गांड भी मारी है।’‘अरे वाह्ह.

वो पहली बार चुद रही थी।मैंने उसे फ्रेंच किस करना शुरू किया और अपने लंड को प्रेशर के साथ अन्दर डालने लगा। सुपारा बुर की फांकों में फंसा तो वो दर्द से तड़फ कर बोली- ओफ दर्द हो रहा है.

क्यों आप क्यों चले आए अपनी न्यूज़ छोड़कर?मैंने कहा- बस तुम्हारे लिए!उसने पूछा- मुझमें ऐसा क्या है?मैंने कहा- अपने आपको मेरी आँखों से देखोगी. वो गुस्से से मेरी तरफ घूमी, पर मुझे देखते ही उसके चहरे पर स्माइल आ गई, वो बोली- ओह. फिर कुछ देर की धकापेल चुदाई के बाद वह मेरे ऊपर आ गई और बड़े चाव से अपने कूल्हे हिलाने लगी। मैं भी उसकी गांड पर चपाट मारे जा रहा था और होंठों को चूसे जा रहा था।फिर उसने कूल्हों के उछालने की स्पीड बढ़ा दी और मेरे बालों को खींचने लगी.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम महेश कुमार है, मैं सरकारी नौकरी करता हूँ। मैं आपको पहले भी बता चुका हूँ कि मेरी सभी कहानियाँ काल्पनिक हैं. लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।मैंने दोनों हाथों से जोर लगा उनकी दोनों जाँघों को फैला दिया और जल्दी से अपना सर उनकी दोनों जाँघों के बीच घुसा दिया।अब मेरा सर रेखा भाभी की जाँघों के बीच घुस चुका था और मेरा मुँह उनकी योनि के ठीक ऊपर था।मैंने जल्दी से अपने प्यासे होंठ रेखा भाभी की बालों से भरी योनि पर रख दिए।अपनी योनि पर मेरे होंठों का स्पर्श पाते ही एक बार तो रेखा भाभी भी सिहर सी उठीं. क्योंकि मेरा लंड रोमा की बुर के दरार में फंस गया था।क्या गर्म बुर थी उसकी.

एक बार और चुदाई करो न!हम दोनों वापिस चुदाई के मूड में आ गए।इस बार मैंने उसके हाथ पीछे कर दिए और कहा कि हाथ पीछे ही रखना और उसकी गर्दन पर किस लगा। साथ ही उसकी बांहों की बगलों को चूसने और सहलाने लगा।वो बहुत मस्ती में आ गई।मैंने उसके पेट पर किस करना शुरू किया और फिर उसकी चुत को धीरे-धीरे सहलाया, मैं उसकी चुत के आस-पास उंगलियां फेर रहा था, उसे बहुत अच्छा लग रहा था।फिर निकिता मेरे ऊपर आ गई.

सेक्सी नंगी बीएफ वीडियो: प्लीज मुझे बताओ, मैं क्या करूँ?भाभी बोलीं- तुमने आज तक कभी किसी लड़की को चोदा है?मैंने बोला- नहीं. उसे कैसे पता चलेगा। हम दोनों पिछले एक साल से अच्छे दोस्त हैं। उसको कुछ पता नहीं है कि मेरा क्या हाल है। वो खुश रहता है। जब तक वो मेरी गांड में घुसा सकता है। उसके लिए मैं भी थोड़ी सी एक्टिंग करके उसको खुश कर देती हूँ। फिर मैं क्यों न अपना भी मजा लूँ।’‘हाय राम भाभी, तू सच में ‘कुछ’ लेगी?’कमल बहुत खुश था.

कितना वक्त?उसने कहा- मैं एक हफ्ते बाद बताऊँगी।मैंने कहा- ठीक है।मैं खुश था कि उसको मुझमें कुछ तो लगा, तभी तो उसने मुझसे वक्त माँगा, नहीं तो वो मुझे मना भी कर सकती थी।यूं ही दिन बीतते गए. बस रजिया को चुदते हुए देखना था।मैं अगले दिन का बड़ी बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था। रात होते-होते मैं 3 बार मुठ मार चुका था। मैंने अपने बाकी दोस्तों को पहरेदारी के लिए राज़ी कर लिया था।रात को हम सब रजिया के आने का इंतज़ार कर रहे थे. मैं उसके साथ 2-2 घंटे लगातार बात करने लगा। मुझे वो काफ़ी पसंद आ गई थी और उसे भी मैं अच्छा लगने लगा था।फर्स्ट अप्रैल को मैंने उसे ये सोच कर प्रपोज किया कि अगर उसने एक्सेप्ट किया तो ठीक, नहीं तो अप्रैल फूल बोल कर बच जाऊंगा। लेकिन उसने बड़ी ख़ुशी से मेरा प्रपोजल एक्सेप्ट कर लिया।जब यह घटना हुई, उस वक्त रात के 9 बज रहे थे.

पर वासना के कारण शरीर का पानी भाप बन कर उड़ने लगा।अब निशा रोने लगी और मैंने भावना से कहा- भावना, अगर तुम कालीचरण से अपनी गांड नहीं फड़वाना चाहती तो चुपचाप वैभव का लंड गांड में डलवा लो.

पर जबसे सामूहिक चुदाई की बातें हुई हैं, मेरा लौड़ा काबू में नहीं है। ऐसे भी मैं अपनी बीवी से दूर रहता हूँ. ताकि कहानी सम्बन्धित जानकारी आपको प्राप्त होती रहे।Instagram/sonaligupta678. और मैंने सारा रस उसकी चुत में गिरा दिया। झड़ने के बाद मैं भी निढाल होकर उसके ऊपर लेटा रहा।वो पूरी तरह सन्तुष्ट हो चुकी थी। कुछ मिनट बाद मैंने उठकर अपने कपड़े पहने.