सेक्सी बीएफ मालिश वाली

छवि स्रोत,देसी सेक्सी देना

तस्वीर का शीर्षक ,

साड़ी में चुदाई वीडियो: सेक्सी बीएफ मालिश वाली, मामी पहले तो मुझे देखकर मुस्कुराईं फिर बोलीं- लो चाय पी लो … बहुत ज्यादा नींद आ गयी थी क्या?मैं कुछ नहीं बोला, बस हल्के से मुस्कुरा दिया.

इंडियन सेक्सी वीडियो देवर भाभी का

बुआ की चुदाई की कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी बुआ की सहेली ने मुझे अपना जिस्म दिखा कर लुभाया और अपने घर बुला कर मेरे लंड से खेल कर मजा लिया. ब्लू सेक्सी वीडियो 2000मस्ती में सराबोर होकर मैं तेज तेज सिसकारियां लेते हुए बोलने लगी- चोद साले … आह्ह … और चोद … जोर से चोद साले कुत्ते, बुझा दे मेरी चूत की प्यास … चोद मुझे … और तेज चोद अपनी इस रंडी को … उफ्फ आह्ह … तेरे लंड को खा जाऊंगी मैं मादरचोद.

काम की वजह से उनकी तबीयत ठीक नहीं रहती जिसकी वजह से अम्मी को शारीरिक सुख नहीं मिल पाता. मारने का सेक्सी वीडियोबहू के हाथ के कोमल स्पर्श से उत्तेजित होकर पापा अपने लंड को काबू में नहीं रख पाये और लवली की चूचियों को छेड़ने लगे.

जब मेरा माल निकलने को हो गया तो उसने अपने किसी भी छेद में निकालने से मना कर दिया.सेक्सी बीएफ मालिश वाली: मैंने कहा- ठीक है, मैं जा रहा हूं लेकिन जब तुम पापा से बात करो तो मुझे कॉल कर लेना ताकि मैं भी बात सुन सकूं.

मैंने उन्हें अपनी तरफ खींच लिया और टेबल पर बैठा कर उनकी चुत को चूसना चालू कर दिया.मैं समझ गया कि आज ये दोनों सब कुछ भूल कर मुझसे चुदने का प्रोग्राम बना कर आई हैं.

देसी देसी सेक्सी हिंदी - सेक्सी बीएफ मालिश वाली

उसके बाद मनोहर तेजी से धक्के मारने लगा और दो मिनट के बाद उसने तीन चार जोरदार झटकों के साथ अपना माल मेरी गांड में कॉन्डम के अंदर छोड़ दिया.अमिता एक एक करके सबके सामने ट्रे ले जाने लगी और सब एक एक करके गिलास उठाने लगे.

बिस्तर पर उनको गिरा कर मैं उनके ऊपर चढ़ गया और जल्दी ही मेरा लंड मामी की चुत में कबड्डी खेलने लगा. सेक्सी बीएफ मालिश वाली मैंने पूछा- तो तू कितने धक्के मारता है?वो बोला- ये तो मुझे याद नहीं रहता और मैं गिनता भी नहीं हूं लेकिन मैं थोड़ी ही देर में थक जाता हूं.

रोशन लाल ने अलीज़ा को उठाया और आगे की ओर करके वो अलीज़ा के दूध दबाने लगा.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली?

मैंने कहा- आगे फिर क्या किया?वो जैसा बता रही थी वैसा कर भी रही थी।उसने कहा- और ऐसे लिया और चूसने लगी।उसके मुँह का स्पर्श पाकर मेरा लंड धन्य हो गया. मैंने उनकी गांड को खूब चाटा और उनकी बुर में पूरी जीभ घुसेड़ कर मजा लिया. मुझे देखते ही सब समझ में आ गया।वहाँ एक बड़ा सा बेड था और बहुत खूबसूरत सजावट थी।मुझे ऐसा लगा कि जैसे आज मेरी सुहागरात की चुदाई कहानी लिखी जायेगी!वो मुझे बेड पर ले गया और मुझे चूमने लगा.

ऐसी करारी पकड़ का अहसास पाकर रोहित के लंड का उबाल भी उसके काबू के बाहर हो गया और वो मेरी चूत में ही झड़ने लगा. इस कहानी के माध्यम से मैंने आपको यही बताना चाहा है कि जिन्दगी का असली मजा सेक्स में ही है. मैं रूम पर कभी लोवर के नीचे कुछ नहीं पहनता था, जिससे मेरे लंड का उभार साफ नजर आ रहा था.

मैंने बनावटी गुस्सा दिखाते हुए रघु को डांट कर दूसरे कमरे में भागने के लिए कहा. लेकिन मेरा मन नहीं भरा था क्योंकि उसकी फिगर में उसकी गांड का शेप गजब था. मैं उनके सामने ही अपने लंड को पकड़ कर हिलाते हुए दुबारा खड़ा करने की कोशिश में लगा था.

इस पर पंकज ने कहा- मेरी जान… तुझे नंगी करके चोदने में बहुत मज़ा आता है।इसके बाद पंकज ने सरिता दीदी को पूरी तरह नंगी कर दिया और अपने भी सारे कपड़े उतार दिये. दस मिनट के बाद मैं झड़ने को हुआ तो मैंने पूछा- कहां निकालना है?साधना बोली- विशू जी, मुझे कोई खतरा नहीं है, मेरी चूत में ही निकाल दो.

मैंने कहा- मामी, अभी मेरा कमीनापन आपने देखा कहां है … वो तो अब देखोगी.

आपका प्रेम सिंह[emailprotected]हिंदी की कामुक कहानिया का अगला भाग:शादी में मिली प्यासी भाभी से प्यार और चुदाई- 2.

अब आगे की कहानी:अगले दिन दोपहर को मौसा उठे और दूध लेने के लिए नीचे गये. ममता आंटी मस्ती से मेरे आंड चाटते हुए मेरे लंड को फुल मजा देने में लगी थीं. शिबू मेरे मम्मों को दबा रहा था और मेरे मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगी थीं.

जब उनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली, तो मैंने उनके एक दूध को थोड़ा जोर से दबा दिया. उसने अपने पिता से भी अपनी चूत चुदवा ली और फिर लवली, उसकी मां और उसके पापा एक साथ तीनों मिल कर चुदाई का मजा लेने लगे. वो जब भी मुझे देखती तो मुस्करा देती और मैं भी उसका जवाब मुस्करा कर देता.

गुड़िया बुआ भी मेरे होंठों का ऐसे रसपान करने लगीं, जैसे वो चुदने के लिए पहले से ही तैयार बैठी थीं.

मैं उसके साफ दिल प्यार से बहुत प्रभावित हुई और मैंने उसको अपने सीने से लगा लिया. वो कहने लगी- आंह आज अपने अब्बू से गांड चुदाई करवाने में कितना मजा रहा है … वोहह अब्बू आह खूब गांड मारो अपनी बिटिया की … आह फाड़ दो अपनी बेटी की गांड … ओहह मेरे राजा … और जोर से धक्का मारो अब्बू. मेरे लण्ड से फव्वारा छूटा तो मैंने चुदाई रोकी नहीं बल्कि डिस्चार्ज की आखिरी बूंद तक पिस्टन चलता रहा.

मैंने उसको पास में पड़े सोफ़े पर लिटा दिया और उसकी टांगों को अपने कंधों पर रख कर चूत को चाटना शुरू कर दिया. तो वो जब अकेले अमिता के साथ पांच दिन रहा होगा, तो पता नहीं क्या क्या हुआ होगा. कभी मेरे निप्पल्स को काटने लगता तो कभी मेरी चूत को सहलाते हुए चूचियों को चूसने लगता.

मैंने उनसे कहा- दीदी अकेली सिगरेट! व्हिस्की नहीं चलेगी क्या?कंडोम के पैकेट को मैंने बेड के पास डेस्क पर रख दिया.

उसी हाथ से मैंने उसके मम्मों के पास ड्रेस में लगी चैन को हल्की खोल दी … ताकि चूचों की नाली दिखने लगे. फिर मेरी नज़र उसके पैन्ट पर पड़ी, जिसमें लंड की जगह पर एक तंबू बना हुआ था.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली रजामंदी होने के बाद मैंने दीदी को दरवाजे के पास ही दीवार से सटा दिया. मेरी नजर माँ की गोरी चिकनी मक्खन जैसी जांघों पर पड़ी तो दिमाग के तोते उड़ गए.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली उन्होंने अपना आधा बदन मेरे ऊपर रखकर मेरी छाती पर सर रख दिया और मुझसे चिपक कर लेट गईं. वो बोली- अच्छा, तो कल रात में आपके रूम से इसी की आवाज आ रही थी?मैं बोली- नहीं, ऐसा तो कुछ नहीं था.

क्योंकि मैं भी दिल्ली में नहीं था और तुम बताओ कैसी हो?वह मुझसे अलग होकर बोली- बहुत जल्दी में हो क्या? बाहर से ही भागना है क्या? अन्दर आओ, इतने दिनों बाद मिले हो.

सैंया जी दिलवा मांगे रे गमछा बिछाई के

अब मनीषा बुआ के मुँह से कामुक आवाजें आने लगी थीं- आह आह हितेश और चाट … हितेश आज से मैं तेरी हूँ … मैं बहुत खुश हूँ हितेश … आई लव यू हितेश. लवली, मैं और पापा, हम तीनों भी रात भर आपस में चुदाई का मजा लेते रहे. जैसे तैसे मैंने एक महीना गुजारा और फिर तीन दिन की छुट्टी लेकर ससुराल की तरफ चल दिया.

मेरा शरीर कांपने लगा था मगर उसके गर्म होंठों को छूकर कुछ राहत मिल रही थी. इसलिए मैंने मां को चुदते हुए ही कल्पना की और अपने अंडरवियर में हाथ डाल कर लंड सहलाने लगा. थोड़ी देर बाद सब उठे और सबने दारू के पैग लगाए और मुझे एक बार फिर से चोदना शुरू कर दिया.

अब आगे पढ़ें मेरी गर्लफ्रेंड के घर मेरी नंगी गांड मारने की कहानी:मैंने एक गर्ल पटाई.

मैंने पूछा- क्या हुआ?उसने छोटी उंगली दिखाई, तो मैं समझ गया कि उसको टॉयलेट जाना है. इस पर पंकज ने कहा- मेरी जान… तुझे नंगी करके चोदने में बहुत मज़ा आता है।इसके बाद पंकज ने सरिता दीदी को पूरी तरह नंगी कर दिया और अपने भी सारे कपड़े उतार दिये. वो दोनों एक दूसरे को देखकर स्माइल समाइल करते हुए एक दूसरे को प्यार से सहलाते हुए नाच रहे थे.

लगभग 20 से 25 मिनट बाद रोशन लाल ने लंड चुत से बाहर निकाला और सोफ़े पर बैठ गया. मैंने उसकी नजरों को भांप लिया और कुछ देर के बाद हमारी नजर आपस में मिलने लगीं. मुझे नहीं पता था कि मेरे जैसी सेक्सी लड़की की चुदाई की तैयारी कर रहा है मेरा ट्रेनर.

अलीज़ा के मन में इस पोस्ट से संतुष्टि नहीं हुई, वो पुलिस विभाग में किसी बड़े पद के सपने देखती थी. मेरी पीठ को सहलाते हुए मां ने मेरे कान में कहा- शाबाश, दीपू मेरे शेर, मजा आ गया आज तो.

मैं मंजू के सामने अपना तना हुआ लंड खोले खड़ा था और वो मेरे लंड को देख कर आंखें फाड़े और मुँह खोले ठगी सी खड़ी थी. मैंने उससे पूछा- ग्रुप में कौन कौन रहेगा?तो उसने कहा- मेरे 3 दोस्त और उनकी गर्लफ्रेंड रहेंगी … हम सब बहुत मस्त चुदाई करेंगे. वो भी चॉकलेट सिरप डाल कर मेरा लंड चाटने लगी और बीच में मेरे आंड भी चाट लेती।ऐसा लग रहा था जैसे में जन्नत की सैर कर रहा हूं।वो लंड चूसने में एक्सपर्ट लग रही थी।अब हम 69 में आ चुके तो और एक दूसरे को चाट रहे थे।थोड़ी देर बाद वो घूम कर मेरे ऊपर आ गई और मेरे सीने को चाटने लगी।फिर मैंने उसे घुमा कर उसे नीचे गिरा दिया और उसके ऊपर आ गया.

उसने भी स्पीड बढ़ा दी। उसके चूतड़ जो मेरी जांघों पर पटक रहे थे उसकी वजह से रूम में फट … फट … फट … की आवाज गूंज रही थी।उसकी स्पीड की वजह से मेरा निकलने को आ रहा था। मगर मैं ये मजा अभी ख़त्म नहीं करना चाहता था। इसलिए मैंने उसे बीच में रोक दिया और उठ गया.

यूं ही किस करते हुए मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और अलग कर दिया. बार बार मन में उनके लंड का नजारा आ रहा था और सोच रहा था कि मैंने पापा का लंड भी देख लिया फिर भी उन्होंने कुछ नहीं कहा. मैं जोर जोर से उनकी गांड में लंड को ठोकता रहा और मामी की चुदाई का पूरा मजा लिया.

उसने मुझे बताया कि उसका पति उसे छोड़ चुका था और उसके कोई संतान नहीं है. फिर आहिस्ता अहिस्ता से उसकी साड़ी को उसकी टांगों पर ऊपर की ओर खींच कर सरकाना शुरू कर दिया.

कुछ ही देर में हम दोनों उस होटल के कमरे में पहुंच गए, जहां उसके 3 दोस्त हमारा इंतजार कर रहे थे. वो कहने लगी- आंह आज अपने अब्बू से गांड चुदाई करवाने में कितना मजा रहा है … वोहह अब्बू आह खूब गांड मारो अपनी बिटिया की … आह फाड़ दो अपनी बेटी की गांड … ओहह मेरे राजा … और जोर से धक्का मारो अब्बू. जाते ही निशा ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और बेड पर मेरे साथ लेटते हुए नीचे आ गयी.

विवाह मूवी फुल एचडी

उसकी चूत को बिल्कुल सामने करके उसकी टांगें उठा दीं और खुद जमीन पर खड़ा हो गया। बहुत तेज धक्कों के साथ उसकी चूत को चोदने लगा.

आँख खुली तो मैं चौंक गई क्योंकि मैं जो सपना देख रही थी, वो महज सपना नहीं था बल्कि हकीकत था, मामा मेरे बगल में लेटे हुए थे, उनका एक हाथ मेरी चूची पर था और दूसरा मेरी पैन्टी के अन्दर था. साथ ही चूचे भी छाती से मिल जाते हैं और लंड व चूत के बीच में सिर्फ बदन पर पहने कपड़ों की ही दीवार रह जाती है. क्योंकि मैं भी दिल्ली में नहीं था और तुम बताओ कैसी हो?वह मुझसे अलग होकर बोली- बहुत जल्दी में हो क्या? बाहर से ही भागना है क्या? अन्दर आओ, इतने दिनों बाद मिले हो.

लवली को भी एक नया लंड चूत में मिला था इसलिए उसके चेहरे पर भी अलग ही खुशी थी. मैंने 8-10 बार उंगली अन्दर बाहर की ही थी कि वो लेटे लेटे ही जोर से अकड़ गईं और हल्का सा ऊपर कमर उठा कर फिर लेट गईं. देवर भाभी वीडियो सेक्सी हिंदी”शिलाजीत गोल्ड के दो कैप्सूल खाकर मैंने एक गिलास दूध पिया और कस्तूरी की मादक खुशबू वाला परफ्यूम लगाकर मैं रेखा के घर पहुंचा.

मेरी वासना बढ़ती ही जा रही थी, सो मैंने अपने रूम का गेट खोलकर बैठना शुरू कर दिया. बस से उतरने के बाद हम दोनों ने आपस में नंबर एक्सचेंज किए और एक दूसरे को बाय बोल कर चले गए.

उसके बाद से उसकी जिन्दगी में कोई लड़की नहीं आई और उसने किसी दूसरी लड़की को अपने करीब आने भी नहीं दिया. भाई ने मुझसे कहा- अंकित थोड़ा ध्यान रखना … हमारा जाना भी जरूरी है … क्योंकि रिश्तेदारी का मामला है. दीदी को ज्यादा फर्क नहीं पड़ा क्योंकि मैंने इनमें दो दिन में दीदी की चुत की अच्छी तरह से फैला दिया था.

मैंने अपनी ब्लैक ब्रा भी ले ली और तौलिया-साबुन लेकर नहाने के लिए चली गयी. मैंने उसकी नजरों को भांप लिया और कुछ देर के बाद हमारी नजर आपस में मिलने लगीं. अपनी कातिल मुस्कुराहट से किसी भी लड़की या भाभी के दिल में समा जाता हूँ।मेरे लंड की लम्बाई साढ़े 6 इंच है जो किसी को भी अपना दीवाना बना देता है.

मैंने बमुश्किल एक मिनट से भी कम समय में मामी को और खुद को नंगा कर लिया.

लवली समझ गयी थी कि पापा का मन करने लगा है अपनी बहू की जवानी का रस पीने के लिए. मैंने फिर कहा- आंटी ऐसा क्या है इन पार्सलों में, जो आप इतना सोच रही हो?आंटी ने बड़े वाले पार्सल की तरफ इशारा करते हुए कहा- इसमें मैंने इसमें टोस्टर मंगवाए हैं.

उसे देखते ही मैं समझ चुका था कि यह अब मेरे सभी चीजों में निगरानी रखेगी और कोई भी चूक होने पर यह घर वालों को बता देगी. मैंने भी बाहर किचन के बेसिन से पानी लेकर मुँह हाथ धोया और फ्रेश होकर शॉर्ट बॉक्सर और टी-शर्ट पहनकर हॉल में आ गया. अपनी बिंदास अदा से गुड़िया बुआ ने मुझे जता दिया था कि वो मुझसे चुदने के लिए तैयार हैं.

मेरा बेटा अभी छोटा है इसलिए उसे मैं अपनी सास के पास छोड़ आई हूँ … और पति विदेश में सर्विस करते हैं … इसीलिए मैं अकेली ही जा रही हूँ. वो बोली- बता मुझे, कहां गया हुआ था दिन भर से तू?मैंने कहा- कुछ नहीं, आपको पाप से बचाने के लिए गया हुआ था. मगर हाल ही में मेरे साथ जो घटना हुई उसने मुझे ये मानने पर मज़बूर कर दिया कि दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली मगर मुझे अभी भी हल्का हल्का दर्द हो रहा था … लेकिन मुझे पता चल चुका था कि आज पूरी रात मेरी गांड चुदाई होगी, तो अब ये ही सोच रहा था कि न जाने क्या होगा. मैं चुपचाप बाथरूम में चली गयी और फिर उसके तुरंत बाद वो लड़का भी आ गया.

सेक्सी फिल्म नेपाली

जब थोड़ा होश आया तो मैंने देखा कि कमरे में पूरा अंधेरा था और मां का हाथ मेरे कच्छे पर आकर रुका हुआ था. मैं समझ गई कि मेरी चूत अब परमानेंटली फैल गई है।वॉशरूम से बाहर आकर यह बात मैंने अपने दोनों प्रेमियों को बताई।नीरव ने मेरी पेंटी खिसका कर देखा और मेरे छेद का फोटो लिया और मुझे दिखाया।मैंने फोटो में देखा कि मेरी चूत का दरवाजा खुल गया है।अब मैंने मुस्कुरा कर अपने दोनों प्रेमियों को बोला- अब तो मेरी पूरी फट गई है. पांच मिनट तक लंड चुसवाने के बाद मैंने उनको बेड पर पटक लिया और उनकी चूत में लंड देकर उनकी टांगों को पकड़ कर चोदने लगा.

वो मेरे सीने में सर रखकर बैठ कर बातें कर रही थीं और मैं उन्हें सहला रहा था. मैंने उनसे कहा- भाभी आपकी चूत को कुछ करने से पहले क्या मैं एक बार अच्छे से चाट लूं? मेरा चूत चाटने का बहुत मन है. देहाती पति पत्नी की सेक्सी वीडियोआंटी ने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?अचानक से आंटी के मुँह से यह सुनकर मैं थोड़ा हैरान हो गया.

10 मिनट तक मैंने भाभी की गांड चुदाई की और फिर मैं भी उनकी गांड में ही झड़ गया.

फिर आहिस्ता अहिस्ता से उसकी साड़ी को उसकी टांगों पर ऊपर की ओर खींच कर सरकाना शुरू कर दिया. आंटी ने मेरी आंखों में झांक कर अपने होंठ मेरी तरफ किए, तो हमारे बीच लिप किस शुरू हो गया.

हम दोनों बिल्कुल अन्जान बन कर उतरे क्योंकि उसका भाई उसे लेने के लिए आया हुआ था. दीदी- तुम्हारे जीजा जी ने क्या कहा?मैंने दीदी के मम्मे देखते हुए कहा- उन्होंने बोला है कि मैं आपका अच्छे से ख्याल रखूं. मेरी हिन्दी रियल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैंने पड़ोसन आंटी की सहेली को ऐसे चोदा कि वो बोल पड़ी ‘यह है असली चुदाई चूत की.

तो वो मेरे सीने पर सिर रख कर बोली- आज तक इतना सेटिस्फेक्शन नहीं मिला जितना तुमने दिया।फिर हम एक साथ शॉवर किया.

मैं प्रीति की इस साजिश से हैरान था मगर तब भी मैंने प्रिया से पूछा- ये प्रमोशन का क्या माजरा है?ये कह कर मैंने फिर से उसकी चूत में मुँह डाल दिया. थोड़ी देर मैं वो फिर से गरमा गईं और मुझे पकड़ कर अपनी ओर खींचने लगीं. परिणाम स्वरूप मेरा दस इंच का लंड मंजू के मुँह में गले तक घुस गया था और मेरा लंड वीर्य की पिचकारी छोड़ने लगा था.

हॉलीवुड वालों की सेक्सी फिल्मपता नहीं मुझे क्या हुआ मैंने उसके लंड को मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. मैंने उसको रोका तो उसने मेरे हाथ झटक दिये और अगले ही पल मेरी पजामी खींच दी.

सेक्सी व्हिडिओ इंडिया

खैर मेरे लिए अब महत्वपूर्ण बात यह थी कि मुझे मौसी को खुश और सॅटिस्फाइड करना था. पंकज ने आव देखा न ताव उसने अपनी पैंट को ऊपर किया और शर्ट को हाथ में लेकर सरपट भागा और दूसरी ओर से निकल गया. मैं उसको उठा कर बाथरूम में ले गया, उसे ब्रश कराया, चाय बना कर दी और दर्द निवारक दवा दी.

लंड देखकर मैडम के मुंह में पानी आने लगा और उसने बिना अगले आदेश की प्रतीक्षा किये मौसा के लंड को मुंह में भर कर चूसना शुरू कर दिया. मेरी भूखी नजरों को देख कर गुड़िया बुआ ने भी अपना आंचल थोड़ा ढलका दिया था, जिससे मुझे उनके मम्मों की गहराई और भी अधिक उत्तेजित करने लगी थी. मैंने सोने की कोशिश की लेकिन ध्यान बार बार मौसी के बदन पर जा रहा था.

मैंने पापा को आवाज दी- पापा ये चार्जर!मुझे वहां देख कर पापा के चेहरे का रंग सफेद हो गया. उसकी चूत दिखते ही मैं बेकाबू हो गया और मैंने अपने लंड को बाहर निकाल कर मुठ मारना शुरू कर दिया. मैंने गिलास में फिर से व्हिस्की भरी और पानी मिला कर गिलास उठा लिया.

फिर जब मैं ये बता रहा था कि मैम ने मुझे सेक्सी का खिताब दिया तो उसने मुझे पूछा- मैं सेक्सी हूँ?मैंने जानबूझकर मुँह बनाते हुए कहा- देखना पड़ेगा. दीदी का फिगर इतना मस्त था कि कोई भी उनको देखकर अपनी नीयत खराब कर ले.

फिर मैंने इस बात का फायदा उठाने की सोची और मां को रंगे हाथ पकड़ने का प्लान किया.

फिर नकली लंड को सहलाते हुए आंटी धीरे से बोलीं- मादरचोद तेरा लौड़ा बहुत बड़ा है, आज तक मैंने किसी का भी इतना बड़ा लौड़ा नहीं पकड़ा है. राजस्थानी सेक्सी वीडियो हिंदी ऑडियोयह सुनते ही वो बहुत हंसी और बोली- तो अब तो पक्का हो गया कि मेरे बॉयफ्रेंड बन ही जाएंगे. एचडी सेक्सी वीडियो मजेदारफिर मैं बोला- तुमने भी पढ़ ली क्या?मेरी बात पर उसने नजर नीचे कर ली. फिर मेरे जैसे अधेड़ उम्र के मर्द के साथ प्यार करने का क्या मतलब है?तब उसने बताया कि वो यहाँ किराए पर रहती है और पढ़ाई कर रही है.

मैंने एक जोर का झटका मार कर लंड पूरा अंदर घुसा दिया और मेरे लंड से वीर्य छूट पड़ा.

इससे पहले तो मुझे अपनी दीदी को चोदने के लिए बहुत जोर लगाना पड़ता था. धीरे धीरे करके अब मैं रोज़ाना किताब पढ़ने लगा और रोज ही बहन की पैंटी में मुठ मारने लगा. इससे कुछ देर तक चुदाई भी रुकी रही, लेकिन इस बीच मैंने पूरे लंड को चूत के अन्दर ही घुसाए रखा.

इस इरोटिक ब्लोजॉब से जैसे ही मेरे लंड का पानी छूटा, तो उसने शायद बदला लेते हुए अपनी बीच की दो उंगलियों को मेरी गांड के छेद में डाल दिया. तभी उसने कहा- अभी नहीं!मैं समझ गया कि गांड के बाद चूत की खुजली बढ़ गयी है इसकी. एक दिन मैंने देखा कि बुक में एक भाई बहन सेक्स स्टोरी थी जिसमें बहन की चुदाई हो रही थी.

जीनियस फुल मूवी इन हिंदी

कुछ देर तक वो पागलों की तरह मेरी चूत को चूसता और चाटता रहा और मुझे भी पागल करता रहा. जब मैं वापस रूम में आया, तो मैंने देखा कि आंटी अपने कपड़े चेंज करके आ गई थीं. उन्हें धोना है बाकि सब को वापस तह कर करके अलमारी में रखना है!वो अलमारी के वस्त्रों को तह करने लगा और मैं चिह्नित करने लगा.

मेरी बगल में मां सो रही थी और मौसी मां की बगल में दूसरे कोने में थी.

उन्होंने मुझे हटाते हुए कहा- क्या कर रहा है तू … हट जा … वो गंदी जगह है.

कंडक्टर दौड़ते हुए अमिता की सीट तक पहुंचा और अमिता से कुछ बोलने लगा. मेरा मोबाइल मामी के कमरे में चार्ज में लगा था और मैं मस्ती से उनकी ब्रा को अपने लंड पर रगड़ रहा था. सेक्सी फिल्म दीजिए भोजपुरीअन्तर्वासना पर कई लोगों की आपबीती के रूप मेंगर्मागर्म सेक्स कहानियांपढ़कर मैं भी गर्म हो गया.

या तुम्हें ही चुदाई की जल्दी हो रही है?नीरव की बात सुनकर मैं भी हंसने लगी और उसकी दुकान में रुक गई।अब नीरव ने मुझसे धीरे से कहा- तुम्हारे लिए मैंने एक गिफ्ट भी लिया है। चलो दिखाता हूं।यह बोलकर उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे दुकान के पीछे की तरफ बने हुए हिस्से में ले गया।वहां मैंने देखा कि उसका एक छोटा सा पर्सनल कमरा भी है और एक सोफा कम बेड भी है. वो जानती थी कि अगर मानव के हाथ में गांड आई तो वो मेरी गांड को फाड़ देगा. थोड़ी देर बाद मैं फिर से भाभी की चुचियों को सहलाने लगा और चुंबन करने लगा.

दूसरों की कहानी पढ़ पढ़ कर बहुत मूठ मारी है। मैं भी सोच रहा था बहुत टाइम से कि अपनी भी चूत चुदाई की कहानी सब तक पहुँचाऊं।वैसे मेरा नाम शुभ है और मैं बरेली का रहने वाला हूं. मैं चूतिया सा अपनी पलकें झपकाते हुए खड़े लंड पर हुए इस धोखे को समझ ही नहीं पा रहा था.

तभी मां ने अपने हाथ को मेरे कच्छे से बाहर खींच लिया और फिर मेरे कच्छे को भी खींच कर नीचे कर दिया.

तो मैंने लंड निकाला और अपना थूक लगाकर धीरे से उसकी चूत के अन्दर डाल दिया. फिर बोली- लगता है दम नहीं है मेरे पर चढ़ने का?मैं- अच्छा!तभी मोसी भैंसे को अंदर बांधने चली गई. और अपने दोनों हाथ मेरी पीठ और सिर पर फिरा रही थी।अब मैंने झटकों की गति बढ़ा दी। मेरे झटकों से तख्त भी बुरी तरह से हिल रहा था.

काम करने वाली बाई की सेक्सी पिक्चर मैं बोली- तो चोद लिया करो, मना किसने किया है!हमें बातें और चूमा-चाटी करते हुए सुबह के 5 बज गये. उसने कहा- प्लीज़ एक बार और चूसो न!मैं झट से उठी और उसके मुर्दा लंड को चूसने लगी.

मुकेश जी सिर्फ अंडरवियर में बैठे सिगरेट फूंक रहे थे … सामने व्हिस्की की बोतल और गिलास बना रखा था. मैंने अपने लंड को हाथ से पकड़ कर उसकी चूत में डाला और अपनी कमर उठा कर धक्के देने शुरू कर दिए. मैंने उनके मुँह पर हाथ रखा और दोनों टांगें चौड़ी करके लंड को उनकी चूत पर रगड़ना चालू किया.

जुदाई का कहानी

अगर वो ब्रा और पैंटी से खेले तो इसका मतलब है कि वो भी आपके साथ मजे करना चाहता है. काम की वजह से उनकी तबीयत ठीक नहीं रहती जिसकी वजह से अम्मी को शारीरिक सुख नहीं मिल पाता. कुछ सेकंड बाद मैं झड़ गया और उसी के साथ उसका मुँह मेरे वीर्य से भर गया लेकिन गले में होने की वजह से सब अंदर चला गया।मैं भूल गया कि वो सांस नहीं ले पा रही है.

उसके बाद मैं लवली को अपने कमरे में ले गया और पूछा- तुम्हारी चूत की प्यास शांत हुई कि नहीं?वो बोली- पापा तो बहुत अच्छा चोदते हैं. पारुल तो बेहोश होने वाली थी मगर साधना और मैंने समझदारी से काम लिया.

मैं अभी कुछ बोल पाता, तभी मंजू मेरी तरफ बढ़ी और मेरे सामने अपने घुटनों के बल बैठ गयी.

हालाँकि मैंने भी उसको मुस्करा कर जवाब दिया लेकिन मुझे यकीन नहीं हुआ कि वो मुझे देख कर मुस्काराई होगी. तभी बुआ बोलीं- शादी तो अब हो ही गई है … मुझे जॉब ज्वाइन करने की जल्दी है. शायद नीचे लेक्चरर को भी पता लग गया होगा कि मेरी चूत की सील टूट रही है.

आज एक बार फिर से आपके सामने अपनी बहुत ही मस्त और सच्ची हिंदी सेक्सी कहानिया लेकर आया हूँ. लवली ने फिर अपनी साड़ी को ऊपर कर लिया और अपनी चूत को मेरे मुंह पर रख कर रगड़ने लगी और बोली- राजा जी, अब मेरी चूत के पानी को चाट लो. मैंने उसकी पीठ अपने हाथ से सहलाते हुए उसकी ट्यूब के रिबन को खोल दिया.

मैंने उसको सौ रूपये का नोट थमा दिया और बोला कि कोई बात नहीं, इस बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली: आंटी ने अपनी बेटी की उसी पैंटी से अपना मुंह साफ किया जिसको लंड पर लगा कर मैं मुठ मार रहा था. उसकी चूत एकदम बहुत ज्यादा गर्म हो गयी जो मुझे अपने लंड पर अलग से महसूस हुआ.

मोनिका ने बड़ी जल्दी से मेरी तरफ देखा और कुर्सी से एक सेकंड से भी पहले उठ गई. कुछ देर बाद मौसी की चूत की झांटें साफ़ हो गईं और वो उठ कर नहाने चली गईं. तब तक मैंने उसकी बगल में हाथ डालकर उसका एक स्तन पकड़ा और उसे अपने साथ छत की तरफ ले जाने लगा।मिनी बिना किसी संकोच के मेरे साथ चल दी।छत का रास्ता सँकरा होने के कारण दोनों साथ नहीं चढ़ सकते थे इसलिए आगे मिनी चढ़ी और उसके पीछे-पीछे मैं चढ़ा। चढ़ते समय मैं मिनी की बलखाती गांड को देख रहा था.

ये तो अपना दम निकाल चुका। कोई दमदार हो, वही भिड़ सकता है मेरे से तो।मैं- वो तो कहाँ से आयेगा?तभी मोसी मेरे लन्ड की ओर देखकर मुस्कराने लगी.

अलीज़ा एकदम से लंड घुसने से जोर से चीख पड़ी- आह मर गई … आआहह … मेरी फट गई … आह फाड़ दी चूतिए ने. हमने एक स्टाम्प पेपर पर मेरे बालिग होने के सर्टिफिकेट के साथ मेरी हस्त लिखित राइटिंग से स्टाम्प पेपर पर अपने पास सबूत के रूप में ले रखी थी ताकि मौसा खुद को बेगुनाह साबित करें और मैं इसी कोशिश में थी कि एक बार कोर्ट मैरिज हो जाये तो एक दो साल हम किसी को नहीं बताएंगे. मेरी मामी इतनी कामुक दिखती हैं कि मैं रोज रात को मामी कीचूत और गांड की कल्पनाकरके मुठ मारा करता था.