एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ

छवि स्रोत,लंड चूत की बीएफ सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

जबरदस्ती बीएफ हिंदी: एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ, इशारों ही इशारों इशारे में मामी की मूक सहमति लेकर मैं शाम होते ही अर्चना के साथ ऊपर छत पर आ गया.

बीएफ सेक्सी वीडियो नई नई

फिर मैंने तुरंत उसकी साड़ी निकाल दी और उससे चिपक कर उस पर चुम्बनों की बौछार कर दी. बीएफ सेक्सी इंग्लिश वीडियो पिक्चरसाढ़े नौ बजे तक फिल्म खत्म होगी और मैं खाना खाकर दस बजे तक वापस आ जाऊंगी.

कुछ दिनों बाद किसी मीटिंग में मनोज को दो दिनों के लिए चेन्नई जाना पड़ा. 2022 का हिंदी बीएफये बात मुझे पता चलते ही मैंने तुरन्त ममता को अपने कमरे पर ही बुलाने की योजना बना ली.

मैंने उसकी चूत के दाने को स्पर्श किया तो रचना खुशी और मादकता से झूम उठी.एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ: उसके बाद मैंने 3 बार Xxx भाबी चुदाई की और उन्होंने मुझे बताया कि मेरा लंड उसके पति से बड़ा और मोटा है.

मैंने उसकी ब्रा नीचे सरकाई और निप्पलों को मुँह में भर लिया, उनका रस पीने लगा.हम दोनों वहां से निकल कर नजर बचाते हुए उसके घर पहुंचे जहां सब कोई पहले ही शादी में जा चुके थे और अब वहां सिर्फ हम दोनों और हमारी काम वासना थी।घर पहुंचते ही हम दोनों के जिस्म आपस में लिपट गए.

बीएफ सेक्सी चलने वाली फिल्म - एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ

मैंने उसे कैसे भोगा?नमस्कार दोस्तो, मेरी भाभी की चूत की कहानी के पहले भागचचेरे भाई की नवयौवना पत्नी का आकर्षणमें आपने पढ़ा कि वर्षों के इंतजार के बाद आखिरकार रेनू मुझसे मिलने के लिए तैयार हुई.मैं जानता था कि अन्तर्वासना की गर्म कहानियां पढ़कर उसकी चूत में खुजली जरूर उठेगी.

उसकी बीवी ने सिर्फ एक पैग लिया था लेकिन हम दोनों ने जल्दी ही 2-2 पैग खींच लिए थे. एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ मैंने- सही है … फिर भी निर्मला जी, आज यहां कैसे आना हुआ!अब मैंने आंटी जी की जगह निर्मला जी कहना शुरू कर दिया था.

फिर मैंने तुरंत उसकी साड़ी निकाल दी और उससे चिपक कर उस पर चुम्बनों की बौछार कर दी.

एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ?

दोस्तो, मैं संदीप गुड़गांव से, मेरी उम्र 25 साल है और मैं एक बॉटम हूं. वरना लास्ट ऑप्शन वही है कि मैं समीना को बिना बताए उसकी बेटी को पटा कर चुदाई कर लूं. उसने मुझे महीने का दस हजार बताया।मेरी सैलरी के हिसाब से ये किराया मुझे ज्यादा लग रहा था।वो कहने लगा कि मेरे पास आकर बात कर लेना.

आकाश 21 साल का थोड़ा गुस्सैल स्वभाव का लड़का है और इसी शहर में रहता है. भाभी- हम्म … लेकिन इतना दम तुम में रियल में है … या मेरे सामने सिर्फ फेंक ही रहे हो. आंटी की चूत अभी भी बहुत चिकनी थी, पानी के कारण लंड एकदम से घुसता चला गया.

अब मैंने उसकी पैंट को और पैंटी को सरका कर नीचे कर दिया और कंबल के अन्दर से होते हुए उसके पैरों के बीच में आ गया. वो अपना हाथ मेरे पीछे से मेरी पीठ, कमर और फिर मेरी गांड को मसलने लगा, जिससे मेरी उत्तेजना फिर से बढ़ने लगी. उसके बाद मैंने चाय खत्म की और उठकर जाने लगा तो वो भी उठकर मुझे दरवाजे तक छोड़ने आने लगी.

मैं धीरे धीरे करके उनकी लाई हुई आधी से ज़्यादा ब्राउनी खा गया, जो कि सच में बहुत स्वादिष्ट बनी थी. ललिता भाभी अपनी चूत में मेरे लंड को कसने लगी और उछल उछल कर अपनी गांड पटक रही थी.

उसकी हालत ख़राब होने लगी और मुँह से बस यही निकला- भैया इस्स्स्स आई लव यू …मैंने फिर से उसके होंठों को चूसना शुरू किया और उसकी ब्रा को उतार कर फेंक दिया.

मैंने भी तुम्हारी पीठ से खून निकाला, दर्द हो रहा है क्या?”नहीं जानू, इतनी सी खरोंच से दर्द कहां होगा.

मेरी चूत की दोनों फांकों को अपनी उंगलियों से खोलते हुए अपनी पूरी जीभ को मेरी चूत के दाने पर लगा दिया. इस बात पर पहले तो आंटी हंस दीं, फिर बोलीं- मुझे गर्लफ्रेंड बना कर तुझे क्या मिलेगा?मैंने कहा- आंटी, जो बात आप में है, वो आजकल की लड़कियों में कहां मिलता है. क्या उस दौरान मेरी गांड की प्यास बुझ पाई?कैसे हो प्यारे दोस्तो, मैं अपनी कहानी का दूसरा भाग प्रस्तुत कर रहा हूं.

फिर उन्होंने गर्दन पर किस करना शुरू कर दिया जिससे मुझे कंट्रोल करना बहुत मुश्किल हो गया था. मुझे एक अजीब सी ठंडक मिलने लगी और मैंने महसूस किया कि उनकी चूचियां मेरी छाती में कुछ ज्यादा ही गड़ रही हैं. मेरे केबिन में सीसीटीवी कैमरा लगा था जिससे मुझे बाहर बैठा स्टाफ लैपटॉप की स्क्रीन पर दिखाई देता रहता था.

उसके होंठ बहुत ही रसीले थे और उसकी लार पीने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.

मैं उसकी चूचियों को पी रहा था और जब उसकी तरफ नजर उठाकर देखता तो वो मेरी ही आंखों में देख रही होती थी. चाहे जो‌ कुछ भी मगर आज ये तो पता चल ही गया था कि शायरा भी प्यासी थी. मैंने कहा- सब हो जाएगा, प्यार से करूंगा मैं!ये कह कर मैंने मम्मी की चूत के मुँह पर हाथ से दबा दिया और चूत के अन्दर एक उंगली डाल दी.

वो सिसकारते हुए बोली- बस अब देखते जाओ जान … आपको मजा तो मैं ही दिये देती हूं आज!कहकर वो मेरे लंड पर आगे पीछे चूत को करने लगी. मेरा एक हाथ उसकी पीठ पर था और दूसरा उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके गोल सख्त हो चुके चूचों को मसल रहा था. ऑफिस गर्ल Xxx स्टोरी पर अपनी राय देने के लिए आप मुझे नीचे दी गए ईमेल पते पर मैसेज करें.

मुझको लड़कियों वाली वेस्टर्न ड्रेस पहनना बहुत ज्यादा पसंद है इसलिए मैं खुद को सीमा नाम से बुलाना पसंद करती हूं.

इस बार वो सिहरने लगीं और अपना स्वादिष्ट रस मेरे मुँह में छोड़ दिया. मैंने- सही है … फिर भी निर्मला जी, आज यहां कैसे आना हुआ!अब मैंने आंटी जी की जगह निर्मला जी कहना शुरू कर दिया था.

एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ इससे वो एकदम से गर्मा उठीं और अलग होकर मना करते हुए बोलीं- इससे बड़ी सनसनी हो रही है. अब आगे की लंड चूसना की कहानी:पजामा उतारते ही उनका लंड सिर्फ लंड नहीं था, एक मूसल लंड था, वो बाहर आ गया.

एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ एक बात और कहना चाहता हूं कि आपके जो भी मेल मुझे प्राप्त होते हैं उनको पढ़कर बहुत अच्छा लगता है. उसने अपना बरमूडा नीचे किया और मैंने थूक लगा कर लंड पेल दिया।मैं धीरे धीरे कर रहा था तो वह बोला- सर आप डर रहे हैं क्या?ये सुनकर मैं धक्कम पेल करने लगा.

अपनी दो उंगलियों से उसकी गुलाबी पंखुड़ियों को फैलाया, तो उसका छोटा सा अनछुआ छेद मेरे सामने आ गया.

जानवरो का सेक्सी व्हिडीओ

दोनों अपने अपने रूम जाकर फटाफट फ्रेश हुए और नीचे खाने की टेबल आ गए. मैं चूत का रस चूसने लगा; साथ ही मैं आंटी की चूत को अन्दर तक चाट रहा था. उसके होंठों को मैं दो मिनट तक चूसता रहा और फिर उसकी चूचियों को दबाने लगा.

मेरी मकान मालकिन ललिता भाभी का तलाक हुए 7 साल हो चुके थे, उसके बाद से उसकी चूत लंड के लिए तरस रही थी. मैंने अपने बैग में से अपना तौलिया निकाला और नहाने के लिए बाथरूम जाने लगी. मेरी उम्र अभी 27 साल है और जिस वक्त की ये घटना है उस वक्त मेरी नई नई नौकरी लगी थी.

वो फिर से हंस दीं और बोलीं- चैट से कैसे खा सकते हो?मैंने कहा- वीडियो चैट से कुछ तो हो ही सकता है.

कुछ दिन पहले साहिल का अकस्मात एक्सीडेंट हुआ था जिसकी वजह से वो सही से चल नहीं पा रहा था. मैंने सोचा कि ज्यादा जोर देना भी ठीक नहीं है अगर इसने चूत देने से मना कर दिया तो फिर कैसे मनाऊंगा. आपको ये गाँव की भाभी की चुदाई स्टोरी कैसी लगी? अपना फीडबैक मुझे मेल करके जरूर बताइयेगा। कहानी लिखने में कुछ गलती हुई हो तो उसके लिए मुझे माफ कर देना।आप सभी का धन्यवाद।[emailprotected].

फिर वो बोले- तुमने कहा कि भूरा अच्छा है, इसका क्या मतलब हुआ?मैं- अरे आप तो दूसरी ओर ले गये, मेरा मतलब था कि प्रेमा के साथ तो भूरा ही जमता है. मैं मदहोश होने लगा और न जाने कब रवि ने अपना टोपा मेरी गांड में फंसा दिया. मैं भी चूमने में उसका साथ देने लगी लेकिन इसी बीच उसने एक जोर का झटका मारा जिससे उसका लंड मेरी चूत फाड़ कर अन्दर घुस गया.

अब आगे की लंड चूसना की कहानी:पजामा उतारते ही उनका लंड सिर्फ लंड नहीं था, एक मूसल लंड था, वो बाहर आ गया. कुछ देर के बाद मैंने झटकों की रफ्तार बढ़ा दी और लंड को पूरा अंदर-बाहर करने लगा।आंटी को फिर से दर्द होने लगा मगर फिर कुछ देर के बाद वो गांड चुदाई का मजा लेने लगी.

फिर अचानक आँख खुल गयी तो देखा कि रेनू मुँह में लिंग लिए चूस रही थी. क्योंकि जब सामने उन बुजुर्ग दंपत्ति को मैंने खुद को घूरते हुए देखा, तो पहली बार तो मैं डर सा गया था कि कहीं यह कुछ गलत तो नहीं समझेंगे. तो माँ के कहने पर मैंने क्या किया?दोस्तो, मैं कविता अपनी सेक्स कहानी के उस मोड़ पर आ गयी हूँ, जहां से अब सब कुछ सिमट रहा है.

धीरे धीरे धक्के बढ़ाने पर गुंदाज़ जांघों और उसकी चौड़ी गांड से टकरा कर मस्त पट-फट के साथ चुदाई की फचा-फच, हच-फच की मधुर आवाज़ कमरे में गूंजने लगी.

मनीष सीटी बजाते हुए- क्या बात है साली जी … मुझे नहीं पता था हमारी आधी घरवाली इतनी ब्यूटीफुल है. ये देख कर मैंने उसे पलटाया और उसकी पीठ दीवार से सटा कर उसकी पैंटी के बाहर से ही उसकी बुर को कसके मसल दिया. पर दिक्कत ये थी कि हम रहते कहां?क्योंकि रोहण 3-4 लड़कों के साथ मिलकर एक घर भाड़े पर लेकर रह रहा था.

उनकी खड़ी सॉलिड चुचियों की, उनके गोल गोरे चूतड़ों की, उनकी गुदाज बगलों की, उनकी नशीली आंखों की, उनकी गर्दन, उनकी गांड और चूत की तारीफ की. मेरा हाथ नीचे जाते ही अनामिका हल्के से उठ गई और मैंने ब्रा का हुक खोल कर ब्रा को उसकी टी-शर्ट के साथ कर दिया.

मेरे दूध भी काफी मस्त हैं, जो ब्रा पहन लेने के बाद मुझे और भी ज्यादा हसीन बना देते हैं. सोनी उसके लंड से बचने के लिए लगभग पूरे बेड पर घड़ी की सुईं की तरह घूम रही थी. कहानी के पिछले भागपहले चुम्बन के बाद पहले सम्भोग की ओरमें अब तक आपने पढ़ा था कि शैली और मैं एक दूसरे में खो चुके थे हम बिस्तर में थे.

രേഷ്മ സെക്സ്

कुछ ही पलों में हॉट देसी भाबी भी मस्त होकर चुदाई का मज़ा लेने लगीं.

अंकिता ने बिना देरी किये मेरा लंड अपने हाथ में ले लिया और ऊपर नीचे करने लगी. सोनी के पापा को 3-4 लड़के पसंद भी आ गए थे पर लड़के वालों को सोनी पसंद नहीं आयी. फिर पेट को सहलाते हुए मैंने उसकी नाभि को किस किया और नीचे सरक कर चड्डी के ऊपर से ही चूत को किस किया.

मैं मुस्कुरा दी और मैंने कहा- तू भी दे दिया कर … गाली के साथ चुदाई में ज्यादा मजा आता है. आज मैं आपको बताने वाली हूँ कि कैसे मैंने एक गैर मर्द के साथ रात बिताई और मेरा वो अनुभव कैसा था. बीएफ सेक्सी सेक्सी पिक्चर सेक्सीफिर जब थोड़ा थक गए तो उसने लंड निकाल लिया और साइड में लेट कर हम दोनों थोड़ा सुस्ताने लगे.

मेरी बेटी चीखने लगी और फिर सोनी उसकी पकड़ से छूट कर एकदम भागी और टेबल के नीचे छिप गयी. वो आगे बोली= मेरे पति ने मुझसे बोला कि तू भी किसी के साथ सेक्स कर ले.

अब दोनों के ही अंगों से काफी मात्रा में कामरस निकल रहा था और थोड़ी ही देर में उसकी चूत से पच पच … की आवाज आने लगी थी. अगर आपका सोल्यूशन मुझे पसंद आया तो मैं समीना को बोलूंगा कि वह अपनी बेटी से बात करे. आपने कहां कहां हाथ रख दिया? क्या यह अच्छी बात है?”मेरे गुस्से को सही मानकर उन्होंने मुझे सॉरी भी कहा.

एक बार आप लोग लण्ड चूस कर देखें।इस कहानी को पढ़ रहे मेरे लण्ड वाले दोस्तो, अपने इस खड़े लण्ड को एक बार जरूर से किसी हसीना के मुँह में डाल कर चुसाई का अपरम्पार सुख जरूर लें। चुदाई के साथ ही चुसाई में भी अपना एक अलग ही आनंद है. वो भी तैयार थी मगर …हैलो फ्रेंड्स, मैं महेश आपको सेक्स कहानी में शायरा के साथ अपने प्रेम ग्रन्थ को लिख रहा था. मैं जोर से चिल्लाई- उईईई माँ, मम्मी … मार डाला जानू!यह कहनी सेक्सी लड़की की आवाज ने सुन कर लुत्फ़ उठायें.

उसकी बीवी ने सिर्फ एक पैग लिया था लेकिन हम दोनों ने जल्दी ही 2-2 पैग खींच लिए थे.

थोड़ी देर की कशमकश के बाद वो आराम से बैठ गईं और मैं किसी प्यासे भंवरे की तरह उनके होंठों का रस पीने लगा. सच बता रहा हूँ दोस्तो, अभी भी मुझे ये कहानी लिखते वक्त भी उनके चूचों का स्पर्श याद आ रहा है.

जिसकी वजह से मेरे लण्ड ने अच्छी अच्छी औरतों का पानी निकाला हुआ है।जो भी भाभी या आंटी अब तक मुझसे चुदी है वो आज भी मुझे याद करती है।जैसा आपने मेरी पिछली कहानी में पढ़ा कि कैसे मैंने मेरी प्यारी चाची को चोद कर अपना दीवाना बना लिया था. कुछ ख्याल हमारा भी रख लेते।मुझे लगा कि अब भाभी को सारी बातों का पता ही लग गया है तो क्यों ना बिल्कुल खुलकर ही बात कर ली जाये. मैंने भाभी को नंगी चूचियों को दबाना शुरू किया तो भाभी की चूची से दूध बह निकला जिसे मैंने अपनी हथेलियों में ले कर चाट लिया.

वाईन पीने के बाद ऐसा लग रहा था, जैसे हम लोग सर्वशक्तिमान हो गए हैं. मगर दोस्त की बीवी की चुदाई के चक्कर में मुझे फिर किसी और को ही चोदना पड़ गया. उसे गांड में थोड़ा थोड़ा दर्द हो रहा था इसलिए सिसकारियों के साथ दर्द भरी आवाज भी निकल रही थी.

एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ काले रंग की ब्रा और पैंटी के अलावा उनका पूरा जिस्म मेरे सामने नंगा था. कुछ ही पलों में उसके सब्र का बांध टूटने लगा, तो उसने मेरे मुँह को अपनी चूत से हटाया और मुझे खींच कर अपने ऊपर ले लिया.

डैडी डॉटर सेक्सी वीडियो

फिर उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और मेरे पूरे बदन को चूमा-चाटा, मेरी चूत को भी चाटा. फिर चाहे कोई भी हो- जीजा की बहन, दीदी की देवरानी या जो भी लन्डखोर औरत मिले सबकी चुदाई करने की इच्छा रखता हूं. दिल्ली शिफ्ट होने का उसका कारण यह था कि उसके भाई की दो 2 बेटियां थीं। हम उम्र ही थी.

अनामिका ने उसे देखा और बोली- तू वहां क्या अकेले मजा ले रही है … इधर ही आ जा मेरी जान और मेरे हाथ खोल दे. सोनी ने अपने चूतड़ ऊपर उठाये और सुरेश के मुंह पर मूतना शुरू कर दिया. बीएफ ओपन वालीअदिति उठकर तकिए पर बैठ गयी, तो बचा हुआ हम दोनों का कामरस बाहर आ रहा था.

मैंने आंखों का इशारा किया तो वो शर्म से लाल हो गयी और आगे देखने लगी.

फिर वो मेरे हाथ से मग लेकर मेरे लंड और जांघों पर गर्म पानी छोड़ने लगी. उसके बाद मैं भाभी के बेड के पास आ गया और मैंने अपने हाथों से भाभी को खाना खिलाया.

आस पास तो कोई नहीं था मगर थोड़ी दूर कुछ लोग अपनी बालकनी में बैठे हुए थे. बाकी दिनों तो शायरा जब सुबह सीढ़ियों पर झाड़ू लगाने आती थी … तो मुझे जगा देती थी मगर आज सुबह वो मुझे जगाने नहीं आई. वो- मुझसे डर, मैंने क्या किया? अच्छा अच्छा … उस दिन के लिए? उसके‌ लिए सॉरी.

अगर इस कहानी ने आपकीबुर में उंगलीघुसवा दी, आपकी चूत से पानी निकल गया तो आपके उरोजों पर मेरे हाथों का अहसास करते हुए मुझे ईमेल में लिख डालें.

फिर धीरे धीरे अपने होंठों को बिना अलग किए उसके मम्मों तक ले जाने लगा. करीब 4 बजे नींद में किसी औरत की कराहने और रोने जैसी आवाज मेरे कानों में पड़ी. मैं सनी के लंड पर बैठकर धीरे धीरे फिर से उसको अपनी गांड में लेने लगा.

उड़ीसा की बीएफ फिल्मस्खलन से पूर्व मैंने पूछा- अन्दर छोड़ दूँ या मुँह में लोगी?उसने तुरंत पलट कर पूरा लिंग मुँह में ले लिया. मेरी हॉट देसी भाबी सेक्स कहानी में किसी तरह की काल्पनिक भावनाओं का समावेश नहीं है.

सेक्सी भाभी इमेज

उनका लंड मेरे दोनों चूतड़ों के बीच बार बार टक्कर पर टक्कर दे रहा था. मेरे बिना चोदा चोदी खेल रहे हो आप लोग!वो मेरे पापा को एक फ्रेंच किस देती हुई बीच में आ गईं. मैंने चुपके से कंडोम निकाल कर अपना लंड पौंछा और उसकी चूत भी साफ़ की.

बीच बीच में भाभी के निप्पल में थोड़ा काट भी लेता था, जिससे भाभी की मादक सी आवाज ‘आह … आउच …’ निकल जाती थी. उनके घर गया तो पता चला कि उनका पति एक हफ़्ते के लिए किसी काम से बाहर गया है. तभी मुझे लगा कि बाहर वाली क्लास में कोई है, लेकिन मैंने ज़्यादा ध्यान नहीं दिया.

मैंने चाची जी को नीचे सीधा लिटाया और उनके पैर फैला कर उनकी गीली चुत पर मुँह लगा दिया. ‘मुझे तुझमें अपनी मां दिखती है!’हमारी सोच, विचार और आचार व्यवहार में बड़ा परिवर्तन आ गया था. उस दिन अम्मी चली गयी थीं, उन्हें वापस नहीं आना था इसलिए रात का खाना आपा ने बनाया.

मेरी पिछली कहानीकोटा में कोचिंग और चुदाई साथ साथआपको पसंद आई, इसके लिए शुक्रगुजार हूँ. मैं समझ गयी कि यदि प्रीति नहीं आई, तो ये मुझे ही अपना शिकार बना लेगी.

मेरे दोनों दूध उनके सीने में दब गए।अपने दोनों पैरों से मेरे पैरों को अनिल जी ने फैला दिया और मेरे दोनों हाथों को जकड़ कर बोले- पहली बार है तेरा, थोड़ा दुखेगा पर तू चिंता मत करना, मैं तुझे जन्नत का मजा दूँगा।ऐसा कहते हुए उन्होंने मेरे होंठों को अपने होंठों से बंद कर दिया।उनका लंड बिल्कुल मेरी बुर के छेद पर ही लगा हुआ था। शुरू में उन्होंने हल्का सा दबाव दिया मगर लंड मेरी बुर के छेद में नहीं गया.

वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी थी पर मैंने उसे ज़ोर से पकड़े रखा था. सेक्सी कॉलेज गर्ल बीएफसमीना भी चुदाई का ये रंगीन नज़ारा देख कर अपनी चूत में उंगली कर रही थी. कम उम्र की लड़की के साथ बीएफमैं बस अपना मोबाइल निकाल कर अपने जिस्म को देख कर केक साफ़ कर रही थी. रचना ने एक अंगूर खाने के लिए उठाया लेकिन वो सीधे मम्मों के बीच के खाई में गिर गया.

वैसे तो दिल्ली में इस तरह के होटल भी मिल‌ जाते हैं … मगर इसके लिए ममता जी तैयार नहीं थीं.

भाई के काम पर जाने के बाद हम दोनों बाइक पर बैठ कर खेत के लिए निकल गए. मैं मुस्कुरा दिया और बोला- मुझे शर्म आती है … मैं ऐसे ही सो जाता हूँ. मैंने कहा- सब हो जाएगा, प्यार से करूंगा मैं!ये कह कर मैंने मम्मी की चूत के मुँह पर हाथ से दबा दिया और चूत के अन्दर एक उंगली डाल दी.

मैंने मौका देख कर बोल दिया- आपको चोट भी लगी है या सिर्फ लचक आई है?उन्होंने कहा- नहीं चोट नहीं है, बस पांव मुड़ गया है. वो शायद सुख के साधन को ढूँढने लगे थे।इसी बीच मैंने उसके हर खुले अंग पर अपने होंठों से स्पर्श किया. मुझे पता था कि शायरा पीछे खिड़की पर ही खड़ी है और हमारी बातें सुन भी रही है.

वीडियो सेक्सी ब्लू मूवी

मैंने उसकी पैंट और पैंटी को नीचे सरका दिया और उसकी चूत को हल्के से रगड़ने लगा. भाभी थोड़ी घबरा कर बोली- आराम से करना, तेरे लंड के हिसाब से मेरी चूत काफी छोटी है. उसका गुदा मार्ग कुछ सुगम हो गया था। अब मैंने उसके नितंबों को पकड़कर तेज-तेज धक्के लगाने शुरू कर दिये.

कुछ देर बाद विपिन बोला- चलो दीदी, मेरा लौड़ा चूसो अब, फटाफट चुदाई करते हैं.

मैं उसका लंड चूस कर साफ़ कर रही थी तो उसने मेरे सर पर हाथ रख कर लंड चुसाना शुरू कर दिया था.

मैंने कहा- अगर तुम्हें बुरा लग रहा है तो मैं तुम्हें टच नहीं करूंगा. उसके बाद तो जैसे चाची को चस्का ही लग गया था मेरे लंड का!वो लगभग हर रोज मेरे घर आ जाती थी या जब भी मौका मिलता था वो मुझे अपने घर बुला कर चुदवाती थी. बीएफ आलिया भट्टअब सोनम आगे की कहानी को बतायेगी:दोस्तो, मैं सोनम आगे की स्टोरी बता रही हूं.

फिर उसके बाद जितने भी दिन गुजर रहे थे, बिस्तर पर जाते ही मैं यही सोचने लग जाती थी कि इसी बिस्तर पर मेरी चुदाई होने वाली है. जल्दी से मैंने पूछा- आह्ह … भाभी … आने वाला है … क्या करूं?वो बोली- अंदर नहीं … अंदर नहीं निकालना है. कोई 20 मिनट मां चोदने के बाद भाई ने अपने लंड का पानी मां की चूत में ग़िरा दिया.

ऑफिस लेडी सेक्स कहानी में मैंने बताया है कि मैं बदली पर कम्पनी के बैंगलोर ऑफिस में गया तो वहां कई लड़कियां थी. अन्दर कमरे की लाइट्स ऑफ थीं, बस कुछ छोटी छोटी एलईडी लाइट्स जल रही थीं और मोमबत्तियों की रोशनी से कमरा रोशन था.

इतना कहते हुए मैंने उसको पैर से पीछे की ओर धकेल दिया और फर्श पर गिरा लिया.

उन्होंने भी मस्ती से मुझे निहारा और वासना से कहा- अरे गलती से शरीर बोल दिया. आंटी के मुंह से आह्ह … आह्ह … करके चुदाई के आनंद की आवाजें निकलने लगीं. मगर अभी मेरा लंड पूरा अन्दर नहीं जा पा रहा था क्योंकि कुसुम ताई की चूत टाइट हो गयी थी.

बीएफ हिंदी सेक्सी सुहागरात उसके स्पर्श से मेरा लौड़ा खड़ा होने लगा था और दो ही मिनट में एकदम टनटना उठा. फिर वो बोले- तुमने कहा कि भूरा अच्छा है, इसका क्या मतलब हुआ?मैं- अरे आप तो दूसरी ओर ले गये, मेरा मतलब था कि प्रेमा के साथ तो भूरा ही जमता है.

जिससे चाची जोर जोर से कामुक सिसकारियां भरने लगीं और हम दोनों 69 की पोज़िशन में एक दूसरे को चाटने लगे. खून से सराबोर लण्ड सोनल की बुर के अन्दर बाहर होते होते अपनी मंजिल पर पहुंचा तो मेरे लण्ड से फव्वारा छूटा और सोनल की बुर को सराबोर कर दिया. वो मेरे सर पर हाथ रख कर मुझे दबाते हुए मना कर रही थीं- आह मत करो … गुदगुदी होती है.

लड़के की सेक्सी वीडियो

थोड़ी देर बाद मैंने उससे कहा- आपके घर में किसी प्रेत आत्मा का साया है, जो आपसे कुछ चाह रहा है. कहानी के पिछले भागसहकर्मी दोस्त लड़की का नंगा बदनमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे सामने अंकिता सिर्फ एक पैंटी पहनी हुई लेटी थी. मेरे बैठते ही वो घुटनों के बल बैठ गई और मेरे लंड पर ऐसे टूट पड़ी, जैसे उसने आज लंड पहली बार ही देखा हो.

ये कहकर उन्होंने तुरंत मेरी गांड के नीचे एक तकिया लगाया जिससे मेरी बुर ऊपर उठ गई. भैया ने कहा- हां अब तुमको बड़ी वाली लॉलीपॉप चूसनी है न, इसीलिए फिर नींद नहीं आ रही है.

सेक्स चैट के दौरान पता नहीं वो संतुष्ट हाती थीं या नहीं, लेकिन अगर उनको मजा आता था तो उसके बाद मैं उनसे पर्सनली मिलने जाया करता था.

मैंने मौक़े का फायदा उठाया और फिर से उन्हें अपनी बांहों में खींच लिया. वो बोली- हाय बाप रे … इतना बड़ा? तेरा तो बहुत बड़ा है अंकित।मैं बोला- नहीं वैशाली भाभी. शायरा को देखकर तो लगता था कि उसका पति कोई बहुत ही सुन्दर और हैंडसम होगा, मगर उसका पति तो थोड़ा मोटा और सांवला था, जिसका पेट भी बाहर निकला हुआ था.

मैंने मोबाइल के सामने देखा और जोर से बोल उठी ताकि मोबाइल में मेरी यह आवाज साफ रिकॉर्ड हो जाए- विजय, मुझे तुम्हारा लंड चूसना है. अगर ऐसे ही तड़पाना था तो मुझे गर्म क्यों किया तुमने? चोदो अब जल्दी. चुतरस से भीगा हुआ चेहरा मैंने उसकी जांघों से छुड़वाया और सीधा उसको चूमने लगा.

मेरा लौड़ा धीरे धीरे खड़ा होने लगा।मैंने कहा- आंटी चलो, अफसाना के बेडरूम में चलते हैं।हम दोनों अफसाना के बेडरूम में आ गए.

एक्स एक्स ब्लू फिल्म बीएफ: उन्होंने बस हल्की सी सिसकारी ली- आअह्ह्हा स्स्शह स्सह्ह आअह्ह!1 मिनट रुकने के बाद मैंने दूसरा जोर से झटका मारा और पूरा लंड भाभी की चूत के अंदर!अब की बार भाभी उछल कर पड़ी. फिर मैंने सोच लिया कि अब जब विजय से चुदना ही है तो फिर शर्म करने से क्या फायदा?मैंने अपनी चूत को आधा ढका और आधे से कम बूब्स को तौलिये से ढक कर तौलिया बांध लिया.

मुझे लगा कि पहली बार झड़ने की वजह से वो समझ नहीं पा रही थी कि उसकी चुत को लंड की जरूरत है. कशिश दीदी, पापा और इन्द्रेश अंकल के रूम में चली आई थीं- अरे वाह, इधर तो गजब की चुदाई लीला चल रही है. अनामिका आवाजें निकाल निकाल कर चुद रही थी- आह आह जीजू उम्हा … मुआह आह … जीजू बड़ा मजा आ रहा है … और तेज पेलो … और तेज पेलो … आह मेरा पानी निकाल दो.

इससे मुझे अब तकलीफ होने लगी तो मैं उन्हें रोककर बोली- अंकल मुझे तकलीफ हो रही है.

उसकी चूचियां दबाने लगा।अब मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर आ गया।उसके ऊपर आकर मैं उसके होंठों को पीने लगा. ऐसे ही एक दिन मैं मॉम को नंगी नहाते हुए देख रहा था और मॉम उस वक्त अपनी चूत की झांटें साफ़ कर रही थीं. वे सचमुच देवता पुरूष थे, इसी बात ने उनके प्रति के मेरे प्यार को बढ़ा दिया था.