मेरठ के बीएफ

छवि स्रोत,नई सांग २०२०

तस्वीर का शीर्षक ,

12 साल का सेक्स वीडियो: मेरठ के बीएफ, आंटी ने हंस कर कहा- आह मेरी जान, बाहर मत निकालना … उन्ह … अपने प्यार की चटनी मुझे चटा दो … अपना सारा रस मेरी चुत के अन्दर ही निकालना.

हॉट सेक्सी व्हिडीओ हॉट

मैंने सुबह की मीटिंग के लिए कुछ देर से करने का मैसेज भेज दिया और मैं फ्री हो गया. जानवर की सेक्सी वीडियो जानवर कीबैग के नीचे से मैंने अपने हाथ को उसकी जांघों पर रख दिया और धीरे धीरे जांघों को सहलाने लगा.

उसके बाद मधु की बोलती हम दोनों ने कैसे बंद की, उसके बारे में विस्तार से मैं अपनी आगे आने वाली कहानी में बताऊंगा. सेक्सी वीडियो मराठी सुहागरातक्योंकि ऐश्वर्या नहीं चाहती थीं कि वो अपने पति के बाप से प्रेग्नेंट हो जाए और अपनी चूत से उनकी एक औलाद को पैदा कर दें.

लड़का लड़की सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी नजर मेरी पड़ोस की लड़की पर गयी.मेरठ के बीएफ: लेकिन इसकी कीमत कुछ ज्यादा है।दुकानदार ने मुझसे बोला- मुझे भैया मत बोलिए। मेरा नाम नीरव है। मैं आपको इस नाइटी पर 50% डिस्काउंट कर दूंगा।यह सुनकर में खुशी से झूम उठी और ट्रायल रूम में नाइटी उतारने के लिए जाने लगी.

Xxx गर्ल हार्ड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे जेठ जेठानी और पति ने मिल कर मुझे खूब दारू पिलायी और फिर मेरी नाजुक गांड मार कर उसका भुरता बनाया.उसने भी मेरी वीर्य से लथपथ चुत में अपना लंड डाल दिया और तेज गति से धक्के लगाने लगा.

की सेक्सी वीडियो दिखाएं - मेरठ के बीएफ

अब उन्हें कैसे समझाऊं कि मर्द का जो स्पर्श है, वो इस बेजान चीज में कहाँ से मिलता मेरे जैसी सेक्सी औरत को?मुझे असली, ज़िंदा लंड चाहिए था, ये बेजान प्लास्टिक का टुकड़ा नहीं।मैंने बहुत बार कोशिश की.मेरा लण्ड मौसी की चूत में जाने के लिए उतावला हो रहा था लेकिन मैंने खुद पर नियंत्रण रखा हुआ था.

ये बात तब की है, जब मैं कॉलेज में स्नातक की पढ़ाई कर रहा था और दीदी फाइनल ईयर में थीं. मेरठ के बीएफ मैंने लंड को एक ठुमका दिया, तो वो अपनी चुत लंड पर फंसाते हुए बैठ गयी.

अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था और मामी जी को भी चूत चुदवाने की जल्दी लगी हुई थी। अब मैंने मामी जी की दोनों टांगों को मेरे कंधों पर रख लिया। अब मामी जी की नंगी चूत मेरे सामने थी। मामी जी की चूत पूरी गीली हो चुकी थी जिसके अंदर उनकी चूत का पूरा रस चमक रहा था.

मेरठ के बीएफ?

मुझे मेल अवश्य करें कि आपको मेरी कहानी ‘गांव की लड़की को चोदा’ कैसी लगी?[emailprotected]. ये जानते हुए कि मैं उसके चेहरे की तरफ देख रही हूं, फिर भी वो मेरी चूचियों से नजरें नहीं हटाता था. अब भाई मेरी चुत पर लंड रगड़ रहे थे, मेरे होंठों को मस्ती से चूस रहे थे और अपने हाथों से मेरे मम्मों को मसल रहे थे.

उनका मोटा लम्बा 8 इंची लम्बाई वाला सांवला लिंग मेरे सामने तन कर खड़ा था. फिर वहीं किचन में ही नीचे फर्श पर लेटा कर अमित और मैंने शिखा आंटी को ख़ूब चोदा. चूंकि एक अनजान लड़की मुझे अपने घर में रात रोकने के नजरिये से रोके हुए थी, तो मेरे मन में उसके पार्टी वासना भरती जा रही थी.

बस फिर क्या था? मैंने उनकी गांड कस कर जकड़ ली और मैं चाची की चुदाई से अपना कुंवारापन उतारने लग गया. वो मेरे से बोली- क्या ये सब होता है?मैंने बोला- हां … और इसको करने में बड़ा मजा आता है. इस तरह से लगभग 25 मिनट मैंने उसकी बुर को पेला और फिर मैं झड़ने के करीब पहुंच गया.

चूत की कसावट देख कर लग रहा था कि शायद मामा जी मामी जी की चूत को बहुत कम काम में लेते हैं। जैसे ही मेरा लन्ड मामी जी चूत में घुसा तो मामी जी दर्द से तड़पने लगी।वो चिल्लाने लगी और आह्ह … उफ्फ … ओह्हह करने लगी. मैंने बची हुई आइसक्रीम भाभी की गांड पर गिरा दी, जो सीधे उनकी गांड की दरार से होते हुए सीधे चूत की फांकों तक चली गई.

जैसा कि मैंने अपनी पिछली कहानी में बताया कि मैं अपने पति से छिपाकर अपनी लाइफ में एक दोस्त चाहती हूं जो हमेशा मेरा साथ दे सेक्स में!और मेरी चूत को अपने मुंह में लेकर चूसता रहे।वह मेरी चूत में अपना लंड डालकर मुझे खूब चोदे और जिसके साथ में पूरी जिंदगी चुदाई के मजे ले सकूं।तो आप सब मजा लें मेरी नयी भाभी की जवानी की कहानी का!8 साल पहले मेरी नई नई शादी हुई थी.

उसकी एक लम्बी सी सिसकारी निकली और मैंने बुर की फांकों को एक बार ऊपर से नीचे तक चाट दिया.

जब मैंने भाभी की चूत में उंगली डाली थी, तो वो एकदम टाइट और रसीली थी. भाबी उदास स्वर में बोलीं- क्या बताऊं विशाल … मैं ये शादी अपनी मर्ज़ी से नहीं की, घरवालों के प्रेशर में मुझे शादी करनी पड़ी. मैं उसके आंसुओं को होंठों से लगाकर पी गया और अंजलि को चूमने लग गया.

खैर शेखर मेरी सास की चूत में ताबड़तोड़ धक्के मार कर मेरी सास की चुदाई कर रहा था और आकाश मुँह में लंड को पेले जा रहा था।15 मिनट तक लगातार धक्के मारने के बाद शेखर ने मेरी सास की चूत में अपना माल छोड़ दिया. [emailprotected]अनतरवासना गरम चूत की कहानी का अगला भाग:दो आंटियों को चुदाई और औलाद का सुख दिया-3. आगे से भी और पीछे से भी।रूपा की बातें सुनने के बाद मैं रात को काफी देर तक जागती रही.

हालांकि गांड मारे जाने से मुझे दर्द हुआ था मगर मेरी फंतासी में तो एक साथ सैंडविच सेक्स का भी समावेश था.

उसी पल माया दीदी ने मेरी मैक्सी खींच कर उतार दी और मेरी चुत पर अपने होंठ लगा दिए. आधा माल उन्होंने अंदर गिराया और बाकी का आधा मेरे मुंह पर ऊपर छोड़ दिया. कमरे में आकर हम दोनों ने कपड़ों को निकाल दिया और उसने मुझे एक गिलास दूध पकड़ा दिया.

मैंने एक बैग में तीन चार जोड़ी कपड़े रखे और दीदी के घर जाने को रेडी हो गई. मेरे रूम की बाल्कनी बिल्कुल रेणुका भाबी के रूम की बाल्कनी के सामने पड़ती थी. नाज़नीन मेरे लंड की चोटों से एकदम से तड़फ उठी और ‘साहब … आह बस करो … साहब.

इस पर मैंने चुटकी लेते हुए बोला- क्यों? क्या तुझे कड़क लंड से चुदाई देखकर कड़क चाय चाहिए?इस पर अल्पना बोली- यार तू कह तो सही रही है … एकदम कड़क लंड था सनी का.

ये ब्लाउज के आपकी रौनक बिगाड़ देगा … फिर आप पेटीकोट भी बहुत ऊँचा बांधती है. कभी तो उसकी वीडियो कॉल तब आती थी जब मैं दीदी की चूत में लंड डाल कर उसको चोद रहा होता था.

मेरठ के बीएफ अब आगे की टेलर सेक्स कहानी:मैंने उसका मतलब पूछा, तो उसने कहा- जैसा कि आप देख रही हैं कि ये ब्लाउज बिना बांह का है … और मैं देख रहा हूं कि आप अपनी बगलों के बाल सिर्फ काटती हैं, शेव नहीं करती हैं. मैंने उसे अल्पना की चुत पर रगड़ रही थी और बॉल अल्पना की चुत के दाने को अपने धागों के उभारों से रगड़ते हुए बड़ा सुकून दे रही थी.

मेरठ के बीएफ मैंने देखा कि चाचा मेरी मां के गालों को प्यार से सहलाते हुए रंग लगा रहे थे जैसे कि मां उनकी बीवी हो. मेरा लंड गले में फंसा होने के कारण दीदी की सांस रुक रही थी और उसकी आँखों से आंसू आ रहे थे.

इन सब काम क्रियाओं से वो बहुत कामुक हो गयी और उसकी जांघें अपने आप ही फैलने लगीं.

निशा कुमारी

उन सब ने दारू पी हुई थी और उन्हें आधा ही होश था इसलिए मेरे पास उनको बर्दाश्त करने के लिए अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं था. तब तक मम्मी भी आ गईं और हम तीनों शादी में जाने के लिए तैयार हो गए थे. डैड को इस समय एक ऐसी जरूरत है, जो मॉम पूरी नहीं कर सकती हैं, लेकिन तुम डैड की मदद कर सकती हो.

फिर एक मिनट बाद मैं उसके नीचे होकर बगल में लेट गया और उससे बात करने लगा. मैं उसके नीचे की तरफ धीरे धीरे बढ़ने लगा और उसकी नाभि को किस करने लगा. सर बोले- मानव तुम फ्रेश हो जाओ, उसके बाद हम लोग साथ में खाना खायेंगे.

पहले मैंने पेटीकोट पहना जो कि जब मेरी सिल्की टांगों को टच कर रहा था तो मेरे अंदर की औरत मचल रही थी.

फिर जहां प्यार होता है, वहां उम्मीद भी होतीं हैं … फिर उम्मीदें बढ़ने लगीं. मैं उनके होंठों को पीने लगी और नीचे से विजय मेरी चूत को सहलाता रहा. जब वो मुझे आते हुए दिखाई दिये तो मैं बाथरूम से बाहर निकल कर दूसरी ओर घूम गयी.

मैं ब्रेकफास्ट के लिए किचन की तरफ जा रही, तो रास्ते में रिया (ननद) जी का रूम पड़ता था. यही सोचकर कभी कभी उदास हो जाती थी कि अगर अल्पना और सोना को पता चल गया तो … मैं अपनी दो अच्छी सहेलियों को खो दूंगी. रोजाना की रेगुलर चुदाई से मेरे चूतड़ भी लड़कियों जैसे भारी होना शुरू हो गए थे.

अंकल ने मुझसे कहा- मेरा ऑफिस का टाईम दस से चार होता है … दस बीस मिनट का फर्क पड़ेगा, उसे तुम मैनेज कर लेना. मुझे नंगी किया और घोड़ी बना कर मेरी चूत और गांड चोदी उसने। उसके बाद मैं वापस आ गयी.

दर्द होता है यार!मैं मस्त होती जा रही थी- आह्ह … आह्ह … आह्ह! अजय चूस लो आज मेरे आम का रस का पूरा रस! पी जाओ लो आह … आआहह! इन्हें निचोड़ कर रख दो. उसकी चूत के रसीले होंठ, इन सब के बीच मामी जी का गोरा चिकना पेट और मामी जी के खुले हुए बाल, आज तो वो कयामत बन कर बरस रही थी. मेरे झड़ने के दो तीन मिनट बाद ही रोहित के लंड से निकलता हुआ उसका लावा मैंने अपनी चूत के अन्दर महसूस किया.

अब और ज्यादा समय न लेते हुए मैं मेरी कॉलेज गर्ल्स सेक्स स्टोरी पर आता हूं.

तो मैंने उसकी ओर देखा तो जिस उंगली को उसने मेरी चूत के अन्दर डाला था, मुझे दिखाते हुए उसे अपनी जीभ से चाटते हुए बोला- भाभी, मजा इसी सब बातों में है। तुम मेरा चूसो, मैं तुम्हारी चूसूँ।धत्त … कहते हुए मैं उसके कमरे से बाहर आ गयी।देवर भाभी रोमांस सेक्स स्टोरी आपको कैसी लग रही है?[emailprotected][emailprotected]देवर भाभी रोमांस सेक्स स्टोरी जारी रहेगी. मेरे मुँह से अब आवाज नहीं निकल रही थी लेकिन दर्द से बिलबिला गयी थी. अब भाई मेरी चुत पर लंड रगड़ रहे थे, मेरे होंठों को मस्ती से चूस रहे थे और अपने हाथों से मेरे मम्मों को मसल रहे थे.

मैं तो आज ही फिर से उसकी चुदाई करने वाला था और रोज ही उसको चोदने वाला था. मेरी बेटी धीमे धीमे आवाज कर रही थी और शमशेर के मोटे लंड से चुत का भोसड़ा बनवा रही थी.

मौसी ने फिर मेरी जांघों पर चूमना शुरू किया और जांघों से चूमते हुए वे मेरी चूत पर आ गईं. अपने पति से उम्मीद करती थी कि वो मेरी चूत को अपने लंड का स्पर्श देकर मेरी प्यास को शांत करेंगे लेकिन मेरी उम्मीद केवल एक उम्मीद ही बन कर रह गयी थी. ये सुनकर भाभी ने मुझे धकेल दिया और मेरे ऊपर आकर मुझसे बोलीं कि सॉरी क्यों … मैं खुद बदला ले लेती हूं.

एक्सएक्ससीसीसी

मेरी चाहत आंटी को चोदने की बन गई थी और मैं सोचता रहता था कि किस तरह से आंटी की चुत हासिल कर सकूँ.

फिर एक ने अपना लंड निकाल कर नानी की गांड में पेल दिया और नानी की गान मारने लगा. वो दोनों चूंकि हमेशा ही घर पर आते रहते थे तो किसी को कोई शक नहीं हुआ. मेरी एक्स गर्लफ्रेंड प्रिया की चुदाई की स्टोरी के पिछले भागएक्स-गर्लफ्रेंड के साथ दोबारा सेक्स सम्बन्ध- 1में आपने पढ़ा कि प्रिया को छोड़ने मैं उसके फ्लैट पर गया.

वो मेरे बालों को, जो चेहरे पर छा गए थे, उन्हें मेरे चेहरे से हटाने लगा। उसने मुझे ज्यादा देर तक लंड नहीं चूसने दिया। जल्द ही मुझे उठाया और मेरा बायां घुटना मोड़ कर सोफे पर रख दिया. मैं अपने आपको भाग्यशाली महसूस कर रही थी। उन पलों में मेरी कामुकता और बेशर्मी की सीमा न थी। मैंने जेठजी की तरफ मुस्कुराते हुए देखा और महसूस हुआ कि वो भी बहुत खुश लग रहे थे। मुझे एहसास हुआ कि मैंने जेठजी को प्यार देने में कोई कसर नहीं छोड़ी. अब सेक्सी वीडियोफिर अचानक से सुंदर ने अपनी सास को पलटा और उसकी पीठ पर रंग लगाने लगा.

फिर एक दिन सुबह सुबह दीदी मेरे कमरे में आईं और बोलीं- मुझे बाहर जाना है. एक दिन फिर से मेरी किस्मत ने मेरा साथ दिया और वो दिन आ ही गया जब मुझे मामीजी की चूत फिर से मिलने वाली थी।अगले दिन मामा जी ने मुझसे कहा कि वो दूसरे गांव में कार्यक्रम में जा रहे हैं.

मन तो कर रहा था कि आकाश और शेखर दोनों का लंड एक एक हाथ में पकड़ लूं लेकिन किसी तरह खुद को रोके रही. काम करने के कारण उनके अवैध संबंध खेत के मालिक रविन्द्रनाथ से हो गए थे. मैंने उसको थैंक्स बोला और कहा- जब बुर इतनी मस्त हो, तो चाटने का मन कर ही जाता है.

आप अपनी प्रतिक्रियाएं अवश्य दें ताकि मैं अगली बार अपनी कहानी को और ज्यादा अच्छे तरीके से लिख सकूं. उसका भरा हुआ बदन देखते ही मेरे मुँह से हल्की सी सीटी निकल गई कि यार ये माल चोदने के लिए मिल जाए, तो इधर आना सफल हो जाएगा. कुछ देर बाद पता नहीं मुझे क्या हुआ कि मैंने अपनी किताबों को साइड में रख दिया और अपना लंड सहलाने लगा.

दोस्तो, मेरा घर बहुत छोटा है और मेरे परिवार में मम्मी, पापा और एक छोटी बहन है.

सुभाष बोला- अब तू ये पूछेगा कि मैं पिछले महीने तिकड़म भिड़ा कर क्यों लाया था, उसे तो मैं खुद ही बता देता. मैं बोली- किस बात का थैंक्स?तो वो बोला- दीदी को सच नहीं बताने के लिए … क्योंकि तुम सच बता देतीं तो शायद मेरे बारे में भाभी ग़लत सोचने लगतीं.

पेटीकोट खुलने के बाद वो अपने आप नीचे गिर गया और मेरी बीवी अब सिर्फ ब्रा पेंटी में खड़ी थी. सुंदर ने आगे बढ़ कर अपनी सास के चूचे ब्रा के ऊपर से एक बार जोर से दबाए और अगले ही पल अपनी सास को अपनी बांहों में भर कर पीछे हाथ ले जाकर ब्रा का हुक खोल दिया. थोड़े देर बाद मैं उठा और बैठकर उसकी आँखों में देखा तो वो शर्मा गयी.

वो बोली- विक्की क्या कर रहे हो?मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो अनु खड़ी हुई थी. मेरे बेल बजाने से पहले ही उसने दरवाजा खोला और मुझे अन्दर बुला लिया. चुत बिल्कुल गीली हो चुकी थी, पानी निकलने से उसकी पैंटी बिल्कुल भीग चुकी थी.

मेरठ के बीएफ आगे कैसे मेरी बीवी ने मुझे मस्त किया … कैसे मैंने उसकी गांड को फ़ाड़ दिया. 2 साल बाद मिले थे इसलिए बातों का दौर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा था.

पीरियड के बाद भी खून आना

मैंने उसे बांहों में खींच कर उसके होंठों को जोर से चूस डाला और उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसकी चूची मसल दी. अब वो तीनों मुझे बेड पर ले गईं और 5 मिनट में मेरी हालत भी मेरी जेठानी जी जैसी हो गयी. इधर बाहर का सीन देखकर मेरे लंड का बहुत बुरा हाल था जिससे मेरा दिमाग बिल्कुल शून्य हो गया.

मैंने नीचे जाकर उससे पूछा- यहां कैसे?तो उसने बताया कि मैं पार्टी में जा रही थी. आप मुझे कहानी के बारे में अपने सुझाव भेज कर बताना कि आपको ये स्टोरी कैसी लगी. सेक्सी पिक्चर करने वाली पिक्चरमैंने उससे पूछा कि आप यहां कितने दिन के लिए आए हैं?विशाल ने बताया कि अब तो मेरी पढ़ाई पूरी हो गई है और इधर पटना में भैया के पास रह कर जॉब की तलाश करूंगा.

अंकल ने अपने दोनों हाथ मेरी गांड के नीचे लगा लिए और हल्के हल्के दबाते हुए मेरी चूत का रस पीते रहे।दोस्तो क्या बताऊं, कितना गजब का अहसास था वो!कुछ देर और चाटने के बाद वो हटे और अपनी लुंगी खोलने लगे.

… वो तो उसका ही लेती होगी!मैं- अच्छा तो तुम्हें अल्पना की भी चाहिए … तुम्हारा मन नहीं भरता मेरी और सोना की चुदाई करके, जो तुम्हें अब अल्पना की भी चाहिए. सुबह सुबह चूत को लंड की खुराख मिल गई, तो चूत चुदवा कर शिखा आंटी भी खुश हो गईं.

मैं उसके मम्मों को चाट रहा था और मेरे हाथ मेरी बीवी के पेटीकोट को खोल रहे थे. अपनेटीचर से सेक्सके उतावलेपन में मैंने जल्दी से बाथ लिया और सारा सामान एक एक करके पहन लिया. फिर वे लड़की को अपने तीन साहबों में से किसी एक को या तीनों को उस लड़की को परोस देते हैं.

मैं खूब मिलने की जिद करता, क्योंकि उसके अलावा मैंने किसी को भी छूना बन्द कर दिया था.

थोड़ी देर बाद उसने अपने लंड बाहर निकाला, तो लड़की जोर जोर से सांस लेने लगी. कभी मैं ऊपर, कभी वह ऊपर, कभी घोड़ी, कभी खड़ी करके चोदा और मैंने उसकी चूत का भोसड़ा बना दिया. फिर मैंने उसको तीन वेबसाइट्स का नाम नोट करा दिया और कहा- अब जाओ और नेट पर चैक करके मुझे फोन करना.

घोड़ा सेक्सी लड़कीरोहन ने जाकर दरवाज़ा खोला तो लोकेश वापस आ गया था।मैंने जल्दी से अपने कपड़े पहन लिये। लोकेश अंदर आया और उसने सारा सामान टेबल पर रख दिया और सोफ़े पर बैठ गया। उसने रोहन से बैग मंगवाया और उसे सब कुछ तैयार करने को कहा. अजय जब नहाकर अपने टॉवल में बाहर निकला तो उसका गीला बदन और उसकी छाती पर टपकती पानी की बूंदें मुझे पागल करने लगी.

भाई ने बहन की चूत चोदी

मैंने भाभी को लंड चूसने के लिए कहा तो उसने मेरे कच्छे को नीचे किया और मेरे 8 इंची लंड को अपने मुंह में भर कर चूसने लगी. आप इंडियन चुदाई का मजा लें पढ़ कर कि मैंने उसकामुक लड़की की चूत चुदाई कैसे की?अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार।मेरा नाम राजू (रोमांटिक हीरो) है। आज तक मैंने काफी सेक्सी गर्ल और भाभियों की चुदाई की है. एक दिन शाम को वो दोनों लड़के मां की जवानी से खेलने के लिए घर आए, लेकिन मम्मी ने मना कर दिया.

मेरा ऐसे 3-4 लोगों से भी पाला पड़ा है, जिन्होंने मुझ गांव की लड़की को चोदा है, मेरी जवानी को जी भर के निचोड़ा है. इस पर वो बोली कि ऐसा कौन है … जो हम दोनों के साथ मजे ले सके!फिर मैंने एक उंगली उसकी चूत में डालते हुए कहा- तू बोले तो मिल तो सकता है. मैंने तेज तेज झटके मारते हुए अपना पूरा वीर्य मीना की चुत में डाल दिया.

पहले ही दिन मुझे कोचिंग में एक कॉलेज गर्ल मिली, जिसका नाम नम्रता था. जैसे ही मैं नंगी होकर उसके सामने लेटती थी वो मेरी चूत में लंड डाल कर मुझे चोदने लग जाता था. वो बोली- ये क्या था?मैंने बोला- जब पहली बार चुदाई होती है … तो ऐसा होता है.

सुनीता भाभी की चुत में मेरा लंड एक कॉर्क के ढक्कन की तरह कस गया था. वो बोली- तो सुना दीजिए न!मैंने पूछा- कौन सी सुनोगी?वो बोली- जो आपको ठीक लगे.

वो जब भी रात को सो जातीं तो मैं उनके रूम में जाकर उनके मम्मों को दबाता और मुठ मार लेता.

मैंने भी उसके लंड को अपनी चूत में घुसेड़ने के लिए नीचे से अपनी गांड उठा दी. जापानी+सेक्सीमैंने कहा- हां क्यों नहीं मेरी रानी … अब तो मेरा लंड तुम्हारा ही है. मेड सेक्सीमेरे लण्ड पर हाथ फेरते हुए मौसी बोली- तूने मेरी सो चुकी भावनाओं को फिर से जगा दिया है आज विजय. वो उठी और उसने मेरे अंडवियर के ऊपर से हाथ से सहला कर उसकी इलास्टिक को खींच दिया.

फिर उसका जन्मदिन आने वाला था। मैंने उसे मिलने के लिए बोला। वो भी बहुत खुश हुई और उसने तुरंत हाँ कर दी।फिर उस दिन हम दोनों का मिलने का तय हुआ। मैंने उसके लिए एक गिफ्ट लिया और दिल्ली उसके घर के लिए निकल गया.

चाची बहुत ही कामुक आवाजें करने लगी थी- आह्ह … आईई … ईईई … आह्ह … सी … सी … ऊईई … आह्ह।बीच बीच में वो अपनी हथेली मेरे पेट पर टिका कर मुझे रोकने की कोशिश करती. नाजनीन दिखने में काली सांवली सी थी, लेकिन बहुत अच्छी फिगर की मालकिन थी. थोड़ी देर बाद मेरा पानी छूट गया और उसने मुँह हटाने की कोशिश की तो मैंने उसको लंड का पानी पिला दिया.

मैंने अपने जिस हाथ अपने स्तनों को ढक रखा था, उसे खींच कर उसने गिलास पकड़ा दिया. वो अक्सर इसी तरह की ड्रेस पहनती थी और उसमें उसका फिगर और भी ज्यादा तराशा हुआ दिखता था. मुझे अंदाजा हुआ कि वो उसका भाई रहा होगा क्योंकि उसके गले में तीन सोने के चेन और हर उंगली में सोने की अंगूठियां थीं.

हिंदी साउथ मूवी

मगर रवीन्द्रनाथ मेरी मां की दर्द भरी चीखों को सुनकर और मस्त हो गए थे. मैंने उसके चेहर पर लंड को टच करवाया और वो मेरे लंड की खुशबू लेने लगी. उसकी बात सुनकर लता आंटी ने मुझसे बोला- हितेश तू हॉल में जाकर बैठ … मैं अभी आती हूँ.

मेरा मन भी हो गया था इस चुदाई में शामिल होने का!दोस्तो, मैं आपकी मस्तानी पीहू फिर आपके सामने हाजिर हूँ अपनी थ्रीसम सेक्स हॉट स्टोरीज लेकर!आप सभी को मैंने पिछले भागसहेली को दूसरी के बॉयफ्रेंड से चुदाई की तैयारीमें बताया था कि जब मैंने सोना की चुदाई सनी से होते हुए अल्पना को दिखाई थी, तो अल्पना को सनी का लंड पसंद आ गया था.

भाभी ने टांगें हवा में उठा दीं तो मैंने उनकी चड्डी उतार कर फेंक दी और उनकी चूत पर हाथ लगा कर देखा.

वो कुछ नहीं बोलती थीं क्योंकि मैं पहले उन्हें चोद चुका था और उन्हें भी ये सब अच्छा लगता था. अभी दो मिनट भी नहीं हुए थे कि वो दो लोग, जिनसे मैं मिल चुकी थी … और दो नये चेहरे धड़धड़ाते हुए कमरे में घुस गए और कुर्सी पर बैठ गए. सेक्सी हिंदी में पंजाबीअब आगे की अंतर्वास्सना हिंदी कहानी मेरी बीवी सोनी के ही शब्दों में:अपने खुले बालों को मैंने पलंग पर अपने सिर के ऊपर फैला दिया और अपने हाथों को बगल में रख कर कुछ भी छुपाये बिना जेठजी के सामने पूरी नंगी अवस्था में लेट गई।मैंने अपनी जांघें थोड़ी सी फैला दीं जिससे मेरी चूत की दरार हरी भैया को दिख सके.

माया दीदी ने राज के दोनों चूतड़ पकड़ लिए और चूतड़ों को अपनी चूत पर दबा लिया. वो बोला- वाह्ह… जैसी मां, वैसी बेटी। कब सुहागरात मनवा रही हो इसके साथ?मैं बोली- थोड़ा टाइम दे. अनीता- देर मत करो जान … मैं बहुत प्यासी हूँ … पहले एक बार मेरी प्यास बुझा दो.

ऐसा करने पर जब आग ज्यादा बढ़ जाती थी, तो अपने अपने बॉयफ्रेंड से मिलने की जुगाड़ करने लगते थे. मैंने उनके लिंग को हाथ में लेकर सहलाते हुए कहा- कुछ गलत नहीं है ससुर जी, आप मजा लो.

मेरे पैरों की उँगलियों को अपने मुँह में भरने लगे और पूरे पंजों को चाटने लगे.

उसने कहा- अभी अगर जल्दी नहीं है तो मेरे कमरे में चलो, तेरे बदन का जायजा ले लेता हूं. पर इसलिए कि अव्वल तो 35-40 अलग अलग आदमियों ने उसका भरपूर इस्तेमाल किया था. ऑफिस में एक बार तो मुठ भी मार दिया यह सोच कर कि यदि मेरे भैया से मेरी बीवी पटी गयी होगी तो भैया जरूर मेरी बीवी की चुदाई कर रहे होंगे.

जबरदस्त सेक्सी वीडियो इंडियन इसमें से उनकी बगलों के पास से काफी खुला हुआ था, जिससे जरा से भी आगे पीछे होने में या झुकने में उनके मम्मे साफ़ दिखाई दे रहे थे. उसकी गांड भी इतनी मस्त उठी हुई थी कि बस ये लगता था कि इसको औंधा करके गांड में लंड पेल दिया जाए.

मैंने भी खुद को साफ़ किया और पानी पी कर नंगा ही बेड पर नाज़नीन के साइड में लेट गया. मैंने कहा- क्यों?वो आँख दबाती हुई बोली- न मालूम कब इसे चाटने वाला मिल जाए?मैं समझ गया कि अंजलि को बुर चटवाने का मन है. दूसरे हाथ में मैंने उसका हाथ ले लिया और उसको अपनी जांघ पर रखवा कर अपने हाथ से सहलाने लगा.

संजय सेक्सी

मैंने सीधे होकर चुदाई की मिशनरी पोजीशन में अपना लंड बहन की बुर के होल पर लगाया और हल्का सा धक्का लगा दिया. मौसी ने मुझसे कहा- तू मुझे मर्द बन कर चोद … मादरचोदी … अपनी चूत मेरी चूत से रगड़ कुतिया … फिर ज्यादा मज़ा आएगा. और एक औरत करे तो समाज उसे रंडी कहकर बुलाता है?ऐसा क्यों???यह समाज का दोगलापन कब तक सहन करेगी हम औरतें?क्या कभी किसी सेक्सी औरत के पति ने उसकी पत्नी के दिल की बात जानने की कोशिश की है कि उसकी क्या ख्वाहिश है?खैर मैं अपनी भाभी की जवानी की कहानी पर आती हूँ.

जब वो मेरे लिए पानी लेने अन्दर जा रही थीं, तब मैंने उनके मटकते चूतड़ों को देख कर लंड सहलाया था. मां ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा और अपनी चूत के मुंह पर लगा दिया.

लगातार गांड चुदाई से मुझे दर्द हो रहा था, मेरा लंड एक बार भी खड़ा नहीं हुआ था.

मैंने उसकी टांगों को फैला कर उसकी चूत को देखा और जीभ लगा कर चुत चाटने लगा. ऐसे में ही जिन्दगी के एक मोड़ पर मुझे वो लड़की मिली … जो मेरे जीवन का अहम किरदार बनी. मैं ख्यालों में ही खोया हुआ था कि मेम ने पूछा- क्या सोच रहे हो मानव?मैंने कहा- कुछ नहीं मेम.

मैं उसके नीचे दबी हुई अपनी चूत की धज्जियां उड़वाती रही, चीखती रही और उसके लंड का मजा लेती रही. ये हमारे लिये सब कुछ करेगा लेकिन इसकी शर्त है कि ये तेरे साथ सुहागरात मनायेगा. मैंने एक ऐप के जरिये दिल्ली के होटल में सेक्स के लिए रूम बुक किया था.

मैंने उसको थैंक्स बोला और कहा- जब बुर इतनी मस्त हो, तो चाटने का मन कर ही जाता है.

मेरठ के बीएफ: पूरन अब मेरी कमर को पकड़कर और आसानी से मुझे चोदने लगा। पीछे होते हुए मैं थोड़ी टेढ़ी हो गई. फिर मौसी के बेटे यानि मेरे भाई की छुट्टियां हो रही थीं … इसलिए वो आने वाला था.

कुछ देर धकापेल चुदाई के बाद उस लड़के ने अपने लंड का पानी मां की बुर में छोड़ दिया. अचानक मुझे महसूस हुआ कि वो मेरी गांड के छेद पर अपना लंड सटा रहा है. आप भी तो मेरी बहन जैसी हो। आपसे मैं उम्र में काफी छोटा हूं। आप शर्माइए मत, आराम से कपड़े बदलिये।वो मुझे बाहर जाने के लिये कहने लगी मगर मुझे तो पूरा सीन देखना था.

पर जब तेरे घर से उसके मायके छोड़ने के बहाने से लेकर आया था, तब मना भी तो कर सकती थी.

मेरी चूत से भी पानी छूट पड़ा और मैं बुरी तरह से वहीं खड़ी खड़ी कांपने लगी. मैं धीरे से चल कर उसके पास गयी तो देखा कि वो मुझे देख कर मंद मंद मुस्करा रहा था. नाज़नीन मेरे लंड की चोटों से एकदम से तड़फ उठी और ‘साहब … आह बस करो … साहब.