होली वाला बीएफ

छवि स्रोत,बीपी वीडियो देसी

तस्वीर का शीर्षक ,

बेवफा बीएफ: होली वाला बीएफ, मुझे बड़ा अजीब लगता था, लेकिन वाकयी बहुत मजा आ रहा है लंड चूसने में.

एक्स एक्स एक्स फिल्म एचडी

तो राज अंकल बोले- अरे वो जो दो हमारे मित्र हैं, जिनकी यह गाड़ी लेकर आए हैं वे भी चल रहे हैं ना, तो वो भी बैठेंगे. नंगे फोटो वीडियोउसने आगे कहा- अगर मजे करने हैं … तो इन सब बातों को दिमाग में नहीं लाना चाहिए और असली मजा तो दर्द में ही है.

जिससे वो उसकी जांघों तक उतर गए और मुझे उसकी काले बालों से भरी हुई चुत व दूध सी सफेद गोरी चिकनी जांघों की झलक दिखने लगी. क्सक्सक्स वीडियो .कॉमदीमा भी उसके चेहरे के सामने घुटनों पर ही खड़ा हुआ विश्वसुन्दरी की मुख चुदाई करने लग गया.

चाची एक हाथ से अपनी चूत को मसलते हुए बोलीं- आह … जल्दी घुसाओ पूरा …इतना कह कर चाची ने एक बार फिर से अपनी गांड को उछाल दिया और उधर चाचा ने भी जोर से लंड ठेल दिया.होली वाला बीएफ: मैंने अपने लंड का दबाव उसके मुंह पर बनाया, दबाव ज्यादा होने के वजह से उसे मजबूर होकर मेरा पूरा वीर्य पीना पड़ा.

जब तारा ने एक हाथ से उसकी योनि को फैलाया, तो मुझे अंदाजा हुआ कि उनकी योनि की दरार बड़ी थी.पहली बार में तो मेरा लंड फिसल गया, मगर दूसरी बार में लंड का सुपारा ही अन्दर जा सका.

किन्नर की चुदाई दिखाओ - होली वाला बीएफ

मैंने फिर से उसके होठों को चूसना शुरू कर दिया क्योंकि उसकी सिसकारियों की आवाज़ से आस-पास सोए हुए मेहमानों के उठ जाने का डर था, इसलिए मैंने उसके होठों का रस पीते हुए उसको चुप करवा दिया.योनि के ऊपर हल्के काले बाल, योनि की पंखुड़ियां हल्के काले और किनारे भूरे रंग की थीं, जैसा कि हम आम हिंदुस्तानी औरतों की होती हैं.

वो इस समय टू पीस में बिल्कुल ऐसे ही दिख रही थीं जैसे खजुराहो को कोई मूरत हों. होली वाला बीएफ मैं आप सबको सेक्स क्लब में चुदाई की अपनी रियल स्टोरी बताने जा रही हूं, यह कुछ महीनों पहले की ही बात है.

मुझे अभी भी मेरे पेट से लेकर बच्चेदानी पर दर्द हो रहा था, पर माइक के लिंग के शिथिल होने से थोड़ा राहत जैसा लगने लगा था.

होली वाला बीएफ?

मुझे एक हसीन औरत की मस्त गुलाबी चूत में मेरा लौड़ा डालकर उसके मुँह से चीखें निकालनी थीं. जब तक पायल अपने मुंह से नहीं बोलेगी कि मेरी चूत में लंड ठोक दो, तब तक मैं आपका लंड इसकी चूत में जाने नहीं दूंगी, इसने आपको तड़पाया है अब इसको भी तो तड़प होनी चाहिए आपके लंड लेने से पहले!नीरू ने मुझे इशारा किया कि इसको प्यार तो करो!तो मैंने उसके चेहरे को हाथ में लेकर होठों पर चुम्बन किया और उसके गालों पर किस करना शुरू कर दिया. यह हमारा अंतिम और शायद हमारे साथ के प्यार का भी आखिरी दौर था और एक दूसरे से हमारा वादा था कि हम दोनों शादी के बाद एक दूसरे की जिन्दगी में सदा दूरी बना कर रखेंगे.

रेवती के आगोश में उसके सुकून भरे साथ में ना जाने कब मुझे नींद आ गई, पता ही नहीं चला. अबकी बार जैसे ही रेवती ने अपनी गांड को उठाकर नीचे पटका, मैंने अपना आधा से ज्यादा लंड रेवती की चूत में उतार दिया. आंखें अब भी नीचे थीं और एक अजीब सा भाव उनके चेहरे पर उभर आया था, जैसे कि उनकी चोरी पकड़ी गई हो.

मैं कामदेव को याद करता हुआ आगे बढ़ा और मैंने पहली बार किसी औरत की चूत को हाथ लगाया था. सुनील ने स्पीकर ऑन करके पूछा- कैसी लगी अब्दुल भाई?उधर से आवाज आई- यार यह तो कोहिनूर है, सब छोड़ कर मैं और रमीज आ रहे हैं. उसने रुक कर कुछ देर रुक मेरे मम्मे चूसे और फिर मुझे घोड़ी बना कर फुद्दी में लंड डाल कर एक हाथ मेरी कमर पर टिका दिया.

लेकिन उसके होंठ मैंने अपने होंठों से बंद करके रखा था, इसलिये उसके चिल्लाने की आवाज मुँह में ही दब गई. मैंने हड़बड़ा कर पीछे मुड़कर देखा … तो मेरी हालत खराब हो गई … डर के मारे मेरी गांड फट गयी.

जब मैं बाहर आई तो मम्मी ने बोला- आ गई … चल सोनू तू भी कपड़े पसंद कर ले.

नहीं तो मजा कैसे लोगी? एक बार शुरू में थोड़ा सा दर्द सहन कर लो, फिर अपन तीनों को रोजाना मिलकर खूब मजे करा करेंगे! तूने देखा नहीं कि मेरी चूत में कैसे लंड को एक बार में ही पूरा ले लिया था और मैं कितना मजा लेकर उछल रही थी.

फिर मैंने कहा- अब मैं तुम्हें नहीं छोडूंगी, बस अपने पास ही रखूंगी, तुम बस मेरे साथ रहना मुझे और कुछ नहीं चाहिए तुमसे. मैंने धीरे से उनकी ब्रा उतारी और भाभी को पीछे की ओर धकेल कर बेड से लगा दिया. मैं समझ गया कि दीदी ने इससे सब कुछ बता दिया है, पर मैं अभी भी अनजान बना हुआ था.

इस पर बहन ने पूछा- क्या आपको पता है कि भाभी इतनी मोटी कैसे हो गईं?मैंने कहा- हां, मुझे पता है. ऐसा लोग कहते हैं कि मेरी आँखों में एक अजीब सी कशिश है जो लड़कियों को अपनी तरफ बरबस ही आकर्षित कर लेती है. सुनील अपना पूरा लंड अन्दर घुसा कर चुपचाप जैसे बेहोश हो गया हो, इस तरह मुझसे लिपट गया.

मैंने उसको प्यार से सहलाया तो वे सरगोशी से मेरे कान में बोलीं- वंस मोर.

तुम्हें अच्छा नहीं लगेगा मगर फिर भी तुम्हें आज के लिए दिल से शुक्रिया. मीता की आहों कराहों से पूरा कमरा गर्म हो गया था, पूरे बिस्तर पर चादर पर सलवटें पड़ गयी थी. जैसे ही जगत अंकल ने मेरी चूत में पूरा लंड रस डाल दिया, मैं भी जोश में आकर आएं बाएँ बकने लगी.

लेकिन मेरा असली मकसद तो ये था कि मैं मोनिका और मीना की मौजूदगी में ही श्रीमती जी की चुदाई करूँ. जब मेंहदी की रस्म हो रही थी तो रेखा ने मेरे हाथों पर मेंहदी से अपना नाम भी लिख दिया. कॉलेज में मेरे क्लास फेलो लड़के भी हमेशा मेरे इर्द गिर्द घूमते रहते हैं.

हूहूहूह मम्मम मम्मी ईई!मैं रुकने वाला नहीं था और 15 मिनट के बाद मैं झड़ गया।और फिर भी मैं रुका नहीं … मैं चाची को प्यार करता रहा, चूमता रहा.

कपड़े उतारते हुए जब वो मेरे चड्डी को उतारने लगी तो मेरा लंड फुंफकारते हुए उसके होंठ से जा लगा. तुमने ही मुझमें असली लंड की चाहत भी जगा दी है, तो अब तुम ही मेरी चूत के लिए इंतजाम करो, जो भी करना है.

होली वाला बीएफ अगर तू अपनी मम्मी से उसकी बात जमा देगी, तो तुझे मैं मालामाल करवा दूंगा. पतली कमर, बड़े बड़े चुचे, भारी भरकम चूतड़, मोटी मोटी जांघें … मतलब उनकी बड़ी मस्त जागीर है.

होली वाला बीएफ बस स्टैंड के पीछे जाकर मैंने उसे कहा- तुम्हारे पास कोई कपड़ा है तो मुझे दो. जीवन में ऐसा उसके साथ पहली बार हो रहा था कि कोई उसकी मालिश कर रहा है और वह आनन्द में गोते लगा रही थी.

मेरी फिलहाल उत्तेजना शांत हो गई थी, पर ये माइक के लिंग से निकलता चिकनाई वाला पानी था.

साल की लड़की की सेक्सी चुदाई

मैंने उसे बेड पर लिटा कर उसकी ब्रा को उतारने की बजाए फाड़ दिया … जिससे वो थोड़ी ग़ुस्सा सी हो गयी. मैं भी उसको कुतिया बनाए हुए उसकी समोसे जैसी चूचियों को बैंगन जैसी बनाने में तुला हुआ था. फिर उन्होंने मेरी पेंट की बेल्ट खोल कर हुक भी खोल दिया और ज़िप भी खींच दी, तो मैंने पेंट भी उतार कर वहीं पर रख दी.

उसने अपना नाम साधना बताया। मैंने नोटिस किया कि उसका कद 5’6″ तो होगा. मेरी बात सुन कर वो हंस पड़ी और मेरे कूल्हे पर एक चपत मार कर बोली- बूटी खोजोगे या मेरी …उसने बात अधूरी ही छोड़ दी. आंटी की झांटों को हटाते हुए, उनकी मस्त गर्म चूत के अन्दर जैसे ही उंगली की; आंटी की सिसकारी निकलने लगी ‘ऊऊउ.

यह सुनकर मैंने पूजा की कमर पकड़ कर अपनी कमर चला कर उसे चोदना चालू किया और उससे पूछा- क्यों रानी, क्या मेरी चुदाई में मज़ा आ रहा है?पूजा मेरी छाती के निप्पल को अपने नाख़ून से कुरेदते हुए बोली- भला हो मेरे भोसड़ पति के टूर का और उस टेंकर का जो बीच रास्ते में खराब हो गया है, नहीं तो ये चुदाई का मज़ा मुझे कभी ना मिलता.

आप दूसरा टीचर देख लीजिए, मेरी वजह से किसी औरत को तकलीफ होती है, तो मुझे अच्छा नहीं लगता सोनल जी. मगर प्रिया और नेहा में उलझे रहने के कारण कभी कोशिश करने का समय ही नहीं मिल पाया था. पानी लेते हुए मैंने उससे पूछा- घर के बाकी लोग कहां हैं?वो बोली- मैं अकेली रहती हूँ.

तभी सतीश ने मेरे कूल्हों को हाथ से पकड़ा और थोड़ा पोजिशन बदल के फिर से लंड को गांड के छेद पर सैट कर दिया. तो मैं बोला- मिल लेते हैं शाम को।वो बोली- नहीं, कहीं घूमने चलते हैं कहीं बाहर।उसने वृन्दावन जाने का प्रोग्राम बनाया, मैंने भी हाँ कर दी। मैंने कंपनी से शनिवार की छुट्टी ले ली और हमने शुक्रवार की शाम को जाने प्रोग्राम बना लिया। मैंने कंपनी से 4 बजे छुट्टी कर ली और उसे रास्ते में से पिक किया और वृन्दावन की ओर चल दिए. वो आज इतनी खूबसूरत लग रही थी कि मन कर रहा था कि उसे पकड़ कर उसके बूब्स और गुलाबी होंठों तब तक चूसता रहूँ, जब तक कि उनका पूरा रस खत्म नहीं हो जाए.

थोड़ी देर इधर उधर की बातें करने के बाद मैंने उनसे उनके पति और शादी के बारे में पूछा. फिर उसके होंठों को अपने होंठों से सटा कर उसे किस करने लगा और धीरे से उसकी ब्रा को निकाल कर उसके मम्मों को बारी बारी चूसने लगा, जिससे वो भी आह अह करने लगी और मेरा सर अपने बूब्स पर दबाने लगी.

हम जैसे ही बाहर निकले, एक वैगनार कार सामने खड़ी थी, उसमें एक अंकल उन्हें पहले कभी नहीं देखा था, वो गाड़ी चला रहे थे. हम दोनों ने सेक्स पोजीशन को बदल लिया था और अब मैं टांगें उठा कर उसका लंड अपनी चूत में लेने लगी थी. उसने मुझे पकड़ कर जगेश के पास ले गई और मुझे उसकी गोद में बिठा दिया.

मैंने तेल की शीशी से खूब सारा तेल लेकर लंड पर डाल दिया और पूरे लंड को तेल से चिकना कर दिया.

वो मेरा सर अपने चुचों पे दबा रही थी और बोल रही थी- प्रकाश खा जाओ मेरी चूचियों को … आह … और दबाओ, काटो जोर से आहह आहह काटो ना … ना … और जोर से … और जोर से!मैं उसके दोनों चुचे बारी बारी चूसता और काटता रहा. मैंने पूछा, तो बोली कि जब मैंने तुम्हारा निक्कर उतारा था, तो देखा कि उसमें सिगरेट है. मुझे ऐसा घबराया देख कर वो हँसने लगी और मुझे गले से लगाकर बोली- इतने दिनों से मजे ले रहे थे, तब नहीं डरे.

मैंने देखा कि हॉल के अन्दर छोटे छोटे से केबिन हैं और केबिन के अन्दर एक छोटा सा बेड था, जिस पर एक ही जन लेट सकता है. अब तक की मेरी चुत चोदन कहानी में आपने जाना था कि राज अंकल जमकर पूरी ताकत से मेरी गांड को चोदने लगे थे.

मयूरी ने दोनों के लंड को बड़े प्यार से देखा और अपने दोनों हाथों से उनको पकड़ लिया. फिर वो मेरे दोनों मम्मों को पकड़ कर कस कस के मसलते हुए मेरे होंठों को चूस रहा था. उसने अब भी एक हाथ से अपनी मुनिया को और दूसरे हाथ से अपनी दोनों चूचियों को छुपाया हुआ था.

अनुष्का सेन के सेक्सी फोटो

मुनीर ने सिसकारते हुए पूरे जोश से माइक का लिंग अपनी ओर खींचा और मुठी में भर कर उसके सुपाड़े को जीभ से चाटने लगी.

मेरा रंग सांवला व सेक्सी है, लंड पोरा नपा हुआ 7 इंच लम्बा व 4 इंच गोलाई लिए हुए है. मुझे मुन्ना अंकल ने मेरी स्कर्ट और टॉप उठा कर दी और बोले- वन्द्या ऐसे ही जल्दी से पहन लो. नीचे चौड़े होते हुए कूल्हे दोनों जाँघों के जोड़ पर स्वर्ग का दरवाज़ा.

वो ऐसे ही रेंगते हुए मेरी चूत के पास आ गया और उसके आस पास चूमने लगा. चाची- हां ले ले … जितना मजा लेना है तुझे … आह तू मेरी गांड के मजा ले ले. सेक्स सेक्सी वीडियो फिल्मनीरू ने मुझको बताया- मैं कल बाजार से इसके लिए नई ब्रा और पेंटी लाई थी, बतलाओ कैसी लग रही है?मैंने कहा- अरे बहुत मस्त लग रही है!दोस्तो, सही बतलाऊं तो पायल बला की खूबसूरत लग रही थी … वह इस समय केवल ब्रा और पेंटी में ही थी.

फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड के भूरे छेद पर रख के जोर का झटका दिया, मेरा लंड एक ही झटके में मानसी की गांड में आधा घुस गया।मानसी जोर जोर से रोने चिल्लाने लगी. जब हम दोनों शांत हो गए तो मैंने उसकी चूत में से अपना लंड बाहर निकाल लिया.

फिर एक मिनट बाद वो उठा और मेरी टांग फैलाकर अपने हाथ में लगभग एक मुट्ठी रस लेकर बोला कि पूरे गद्दे पर तेरी गांड और चूत से निकला रस गिरा पड़ा है. तो बोला- वन्द्या, तुम बहुत सेक्सी लगती हो और मैं यह पूछना चाहता हूं कि अभी तुम किस से करवा के तुरंत यहां सीधे स्टोर में आ गई. मेरे हाथ उसके लंड पर टच होने लगे और उसका सोया हुआ लंड मेरी उंगलियों में मुझे फील हो रहा था.

कुछ देर के लिए चाची अपनी सांसें रोक कर अपने बदन को ऐंठते हुए कचकचा कर मुझसे लिपट गईं. फिर मैंने धीरे से अपनी एक उंगली उसकी पैंटी के अन्दर से चूत में घुसा दी. मैं बहन को खिड़की तक ले गया, पहले मैंने अन्दर का नजारा देखा और बहन को बोल दिया- कुछ भी पूछना हो तो याद रख लेना और बाद में पूछियो.

वो आइसक्रीम खा रही थी तो मैंने सोचा कि अगर ये मिल गयी तो इसे लंड भी ऐसे ही चुसवाऊँगा।तभी मेरे दोस्त आ गये और बोले- यार हमें तो बस दारू पीनी है, हमारी पार्टी कहाँ है?मैं उनको बाहर ले गया और बोतलें दी.

फिर मैं सो गया, जब मैं अगली सुबह जागा, तो देखा कि उसका रिप्लाई आया था. जब मैं जाता था, तब कभी वो शार्ट स्कर्ट पहनती थी, तो कभी सीखने के लिए एयर ब्रा पहन कर ही बैठ जाती.

फिर मैंने शीतल को कपड़े पहनने के लिए कहा और खुद भी पहने और शीतल को नीचे भेज दिया. और चुम्बन लेते हुए ही मैंने मीता की पेंटी के इलास्टिक में उंगलियां फंसाई और उसे नीचे सरकाता चला गया. मैंने उस दिन अपने घर में बहुत डांट खाई थी और मुझे तो मम्मी ने पीटा भी था.

जब मेरी मम्मी का पैंतालीस साल की एज में इतना मन होता है, तो जवानी में वह कैसी रही होंगी. लेकिन एक दिन संडे को मेरी नज़र उस सामने वाले घर में सामने वाली भाभी पर पड़ी।उम्र तो उसकी काफी लग रही थी थी दोस्तो … पर क्या गज़ब बॉडी मेन्टेन थी। भाभी की उम्र लगभग 36-38 होगी पर बूब्स कुछ 34c और गांड 36 की तो होगी ही।देखते ही मेरे मन में विचार आया यह माल रगड़ने को मिल जाये तो मजा आ जाए. मैं- अच्छा आपको उस कलेक्शन में क्या पसंद है?मीतू दी खुल कर कहने लगीं- मुझे सब अच्छा लगता है.

होली वाला बीएफ एक लड़की ने उस लीडर लड़की को मेरी तरफ इशारा करते हुए कहा कि इसके चूचे सबसे ज्यादा सख्त हैं. उसके कच्छे में कैद उसके लंड को पहले ऊपर से चूमा और फिर एक झटके में उसको भी सरका दिया.

कुत्ता और औरत की सेक्सी फिल्म

मैं भी किस करते करते उसकी चुचियों को ऊपर से दबा रहा था, उसकी आंखें बंद थीं. लेकिन जैसे कि होता है कोई भी उनकी बात पर ज्यादा ध्यान देता नज़र नहीं आ रहा था. वो बाथरूम से बाहर निकला, विक्रम भी नीचे से बिल्कुल नंगा था क्योंकि थोड़ी देर पहले ही उसकी अपनी माँ ने उसके लंड को चूसने के लिए उसकी शॉर्ट्स को खोल दिया था.

मैं समझ गया कि भाभी झड़ गईं, लेकिन मनीष चोदता रहा और पलट कर भाभी पे चढ़ गया. उनका पल्लू भी उनके मम्मों से हटा हुआ था, मैं जब भी गियर चेंज करता तो मेरा हाथ उनकी जांघों से टकरा जाता. देसी क्सक्सक्स वीडियोसअपने पुरुष साथी पर अपना हक़, अपना एकाधिकार, ‘सिर्फ मेरा’ वाली भावनाएं स्वतः ही आ जाती हैं; दरअसल यह भी उनके प्रेम का अन्य रूप ही होता है.

हालांकि बहुत लड़के मुझ पर लट्टू थे और मेरी शोला बन चुकी जवानी के रस को निचोड़ना चाहते थे.

मेरे बगल से जगत अंकल थे और गाड़ी जैसे ही घर से चली कि जगत अंकल मेरी तरफ देख कर मुस्कुराए और मेरी जांघ पर उन्होंने अपनी हथेली रख दी. मैंने नीचे फर्श पर बैठे कर उनकी सैंडिल उतार दीं और उनके पैरों को सहलाने लगा.

वो बोला- देख कुछ दिन बाद तू भी कोशिश करना, तुझसे भी भाभी पक्का चुदवा लेगी. और ये याद आते ही मैं उनसे अलग हो गई और शर्माते हुए साईकल पकड़ निकल आई. तब उसने जो लड़कियां उसके साथ की थीं, उनसे कहा कि टेस्ट करो किस के सबसे ज़्यादा सख्त हैं.

सच बता …क्या तेरा मन हो रहा है सेक्स का?सविता बोली- हां यार, हो तो रहा है! मन तो करता है! मेरा एक ब्वॉयफ्रेंड भी है पर वह बुद्धू है, मैंने कई बार इशारा भी किया लेकिन उसकी डर के मारे फटती है.

भाभी अब भी मेरी नजरों को ही ताड़ रही थीं, तब भी वे न तो अपने पल्लू को ठीक कर रही थीं और न ही मुझे कुछ कह रही थीं. जब उन्होंने पूछा कि तेरी लाइफ में कोई है क्या?तो मैंने कह दिया- कोई नहीं है. मुझसे नए जुड़ने वाले साथियों के लिए बताना चाहता हूँ कि मेरा नाम रिक्की (बदला हुआ नाम) है.

मोटी गांड वाली सेक्सीमैं एक छोटे से गाँव के रहने वाली थी लेकिन पहले पढ़ाई और फिर नौकरी के लिए शहर में आ गयी. फिर तभी सुलेखा भाभी ने सुमेर भैया की शिकायत करते हुए बोलीं- तुम्हारे पापा को कितनी बार तो बता दिया कि इस प्रेस को सही करवा दो या फिर एक‌ नयी प्रेस खरीद लाओ.

देसी इंडियन सेक्सी वीडियो हिंदी

और मैंने एक चुम्बन उसकी गाल पे रख दिया।नीता बोली- कितने दिन लगा दिए आपने ये कहने में … मैं तो कब से आपको चाहने लगी हूँ।इतना सुनते ही मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए और हम एक डीप किस करने लगे। जब हमारे होंठ अलग हुए तो उसने मेरी आँखों में देख के मुझे आई लव यू बोला और बोलने लगी- आप में कितना धैर्य है, कब से हम एक बिस्तर पर लेटे हैं पर आपने कोई ऐसी हरकत नहीं की. वो भी कुँवारी लड़कियों की तरह एक चीरा ही दिख रहा था, एकदम फूली हुई कचौरी की तरह से थी. थोड़ी देर बाद मैं उनके घर के सामने पहुँच गया, सच कहूँ तो दोस्तो … मेरे मन में बहुत से सवाल चल रहे थे उस समय … जैसे कि क्या ये उतनी सुंदर होंगी जैसी ये फोटो में दिखती हैं और क्या इन्होंने जो फोटो मुझे भेजा था, क्या वो सब असली थे या नहीं?मन में सवाल लिए हुए मैंने उनके घर के दरवाजे की घंटी बजाई.

बस अपने पति की तरह दूसरों को खुश करने में ही आपका पूरा दिन निकल जाता है. वो कुछ नहीं बोली। मैं उसका दूसरा हाथ अपने लंड पर रख दिया। वह पहले तो घबराई लेकिन धीरे धीरे बस की स्पीड के साथ मेरे लंड को सहलाने लगी। मेरा लंड तो जोश में आकर फड़फड़ाने लगा। मानसी टेढ़ी नजर से देख कर मेरे लंड को सहलाने लगी मगर कुछ नहीं बोली और मुझे रास्ता देने लगी. मैं बिहार का रहने वाला हूं, उम्र 21 वर्ष है, रंग गोरा है तथा मैं 5 फुट 10 इंच लम्बे कद का हूं.

आप मुझे मेल करके बताएँ कि मेरी कहानी कैसी लग रही है?[emailprotected]कहानी जारी है. हिमांशु के उठते ही सतीश बोला- वन्द्या अब तू उठ जा, तुझे दूसरी पोजिशन में चोदता हूं. पर अब मीना उसके स्तनों पर अपना कमाल दिखा रही थी और मोनिका उसकी चूत के घुंघराले बालों पर अपना जादू दिखा रही थी.

हम्मम … मम्म … हाय… आआ आआह!”एक लम्बी मदभरी मादक सीत्कार हम दोनों को होंठों से निकली, लन्ड मेरी मीता की चूत की जड़ तक ठोक चुका था और फिर तो मेरा काम भी चालू हो गया. सच कहूँ तो अब मुझसे भी बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मन कर रहा था कि कितनी जल्दी इनको अपनी बांहों में भर लूं!पर इस प्रोफेशन में आप अपने मन से कुछ भी नहीं कर सकते.

रात को श्यामा का फोन आया और बोली- तुम्हारे लिए लंड का पक्का अरेंज्मेंट हो चुका है.

मैंने आगे हाथ बढ़ा कर दूध दबाने को सोचा तो दी ने पीछे हट कर रुकने का इशारा किया. मराठी लडकी की चुदाईरिया भाभी ने खुश होकर मुझे इतना टाइट किस किया कि मेरा लंड मयूरी भाभी की गांड में और तूफान मार गया. बीपी इंडियन वीडियोमैं बस लम्बी लम्बी सांसें ले रही थी और धीमी धीमी आवाजें निकाल रही थी. मेरी बॉडी भी बहुत अच्छी है, हाइट 6 फीट, वजन 80 किलो और चेहरा भी अच्छा ख़ासा है.

मैंने उठने की कोशिश की लेकिन सुशीला मेरे ऊपर से हटी ही नहीं और वो मेरे लंड पर उछलती जा रही थी.

अब मैंने भी अपनी चोदन गति कुछ बढ़ा दी।उसके मुख से ‘आआआ आआह आहहह आआ आआह आ आह आह ओह आ आ आ आहह आओह आआ हह … फक फक फक फक मी फक मी मेरे राजा चोद दे मुझे आआआ आआहह आहहह आआ आआआहह आई आह आआ आह… आज मैं तेरी फाड़ दे मेरी चूत को …’ निकल रहा था. फिर मैंने जग से कहा- अगर मैं तुमसे कुछ मांगूं और तुम भी मुझसे वही चीज़ चाहो, तो वो क्या होगी?वो फट से बोला- मोहब्बत. यह कहते हुए रिया भाभी ने आगे आकर मेरा खड़ा लंड अपने मुँह में ले लिया.

इससे भाभी को काफी दर्द हुआ पर इस बार वो चिल्लाई नहीं, बस दोनों हाथों से मेरी पीठ जोर से पकड़ के नाखून से खरोंचने लगीं. ये सब कारस्तानी चल ही रही थी कि तब तक कॉलेज के बंद होने का टाइम हो चुका था, इसलिए वो बोली- आज का सबक पूरा हुआ, सब यहां से निकलो और सुनो किसी को कुछ भी कहा, तो मेरे कुछ लड़के दोस्त हैं. हम लोग कुछ हेल्प कर दें?मैं कुछ नहीं बोली पर हिमांशु ने सीधे अपना हाथ मेरी चूत में रखा और उसे रगड़ने लगा.

मराठी सेक्सी व्हिडिओxxxx

फिर मैंने सोचा कि मेम के रूम में ही चला जाता हूँ और पूछ लेता हूँ कि वो तैयार हैं या नहीं. पर क्या तुम्हारे पति और ससुर मुझे तुम्हारे घर ऐसे ही आके तुम सबको चोदने देंगे?तब पूजा बोली- उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम लोग अपनी प्यास बुझाने के लिए क्या करते हैं. टाटा कर लेना चाहिये था। नया चेक करती, कोई तो काम का निकलता।”पहले एक ही बनाया था, बाद में चेक करने-करने में तीन हो गये। बस टाटा किसी को नहीं किया कि नेट पे इन्हीं के सहारे थोड़ा टाईमपास हो जाता है।”तो मतलब अट्ठाईस तक कुंवारी ही हो।”इस बार जवाब देने के बजाय वह हंस पड़ी। निगाहें झुक गयीं और कहते हुए शब्द थोड़े लहरा गये- नहीं.

चाचा- ओह तेरी चूत …चाची- आह … आपका लंड …चाचा- तेरी बुरचाची- आपका लंडचाचा- तेरी चूत …चाची- आपका लंड …दोनों इसी तरह चूत लंड जोर जोर से बोलते हुए चुदाई करने लगे.

मेरे घर वालों ने उनकी समस्या समझी और उनको किराये पर एक कमरा दे दिया.

मेरे दोस्त ने हम दोनों को अन्दर किया, फिर दस मिनट में वो अपनी दुकान पर चला गया. नहीं तो मैं तुम्हारे मुँह में ही झड़ जाउंगा और तुम्हारी चूत प्यासी रह जाएगी. सेक्सी दिखाइए सेक्सी सेक्सीउसने बहुत सारा चूत रस निकाल कर मुझे दिखाया और बोला- वन्द्या, तुम्हारी चूत बहुत बह रही है.

इसी धुन में मैंने उसकी कुर्ती पेट के ऊपर से ऊपर की तरफ सरका दी इससे उसका पेट अनावृत हो गया. फिर से मैंने उसी पोजीशन में 5 मिनट तक फिर से सेक्स किया और फिर से एक बार मेरा लौड़ा झड़ गया. हालांकि बहुत लड़के मुझ पर लट्टू थे और मेरी शोला बन चुकी जवानी के रस को निचोड़ना चाहते थे.

मैं चुप हो गया तो वो हंसने लगी और बोली- अरे तुम तो डर गए? मैं वही दवाई वाली बोल रही हूँ. वो खुश हो कर मुझसे बोली- ओह डियर, तुम्हारा हथियार तो बहुत ही तगड़ा है.

इस तरह की आवाज जगत अंकल जोर जोर से निकालने लगे और फिर मुझे कस के पकड़ कर बोले- वन्द्या मेरी बीवी.

मैं बोला- मेरे को कोई दिक्कत नहीं है, आप मेरे को इवनिंग में कॉल कर लेना. तभी वह जो पीछे मैक था, वह अपना पैंट खोलने लगा और जल्द ही वह अंडरवियर में आ गया. अगले दो मिनट में हम चारों ही नंगे हो चुके थे और हम सभी की चुदास की गर्मी सातवें आसमान पर थी.

सेक्सी इंग्लिश नंगी पिक्चर अब वो पूरी उत्तेजना में टांगें फैलाए पड़ी थी और जोर जोर से कामुक सिसकारियां ले कर बोल रही थी- जानू और करो. जब मैं वहां पहुँची तो देखा कि वो उसी ऑफिसर के साथ बैठी हुई कॉफी पी रही है, जिससे उसने मेरे लिए रिपोर्ट बनवाई थी.

ऐसा बोलकर मेरे हाथ में से कंडोम का पैकेट खींच लिया और अपने हाथों से मुझे कॉन्डोम पहना दिया. मैं चुप रहा और उसे अपने से चिपटाए हुए उसके धक धक करते करते दिल की धड़कन महसूस करता रहा. मैंने भी धीरे धीरे उनकी चूचियों की घाटी को अपनी जीभ निकालकर चाटना शुरू कर दिया जिससे सुलेखा भाभी अपनी आंखें बंद करके जोरों से सिसकारियां सी भरने लगीं.

बिहारी सेक्सी वीडियो जबर्दस्त

ये लोग इतना क्यों हंस रहे हैं?तो उसने भी हंस कर कहा- आज आपके बायोलॉजी का टर्न है ना!मैंने कहा- तो इसमें हंसने की क्या बात है. शायद वो नहीं चाहता था कि मैं ऐसे ही झड़ जाऊं, इसलिए उसने मुझे छोड़ दिया. चेहरे पर पश्चाताप के भाव लिए वह नताशा के नजदीक आया, और नताशा ने तुरंत उसके ढीले पड़ चुके लंड को अपने मुंह में डाल लिया!अब मैं अपनी बीवी के चूतड़ों के ऊपर खड़ा हुआ उसकी भक्काड़ा गांड में हुचक-हुचक धक्के लगाने लगा और सामने घुटनों पर खड़ा दीमा हौले-हौले नताशा के मुंह को चोदने लगा.

मैंने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा तो उसने मुझसे कहा- मेरे घर चलो, मैं तुमसे उधर ही बात करूँगी … अभी मुझे कार चलाने दो. अब तक की इस सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि नेहा मेरे साथ बिस्तर पर थी और मैं उसे चोदने के लिए उसके कपड़ों को उतारने में लगा था.

जग ने बाथरूम के बाहर आकर मुझे आवाज़ दी- क्या हुआ बोलो?मैंने कहा- मैं तौलिया लेना भूल गई हूँ.

मैं भी उसके लौड़े को अपने गले तक लेकर अपना मुँह अपने ही बेटे से छिनाल के जैसे चुदवा रही थी. यदि आपको मेरी कहानी अच्छी लगती है तो मेरा हौसला बढ़ाने के लिए मुझे जरूर मेल करें और यदि कोई कमी दिखती है तो सुझाव अवश्य दें. आपका लंड मेरी चूत को आग उगलने पर मजबूर कर देती है मेरे राजा … आह … खूब चोदो मुझे … चोदो … आह … मेरे राजा … क्या मस्त लंड है.

मैंने कंडोम थोड़ा और ऊपर किया और अपना लंड उसकी चुत के मुँह पे रख दिया. कुछ सेकंड के बाद मनीष का माल निकलने लगा और वो भाभी के ऊपर ही लेट कर उनको चूमने लगा. हम दोनों ने सेक्स पोजीशन को बदल लिया था और अब मैं टांगें उठा कर उसका लंड अपनी चूत में लेने लगी थी.

थोड़ी देर बाद जब उसे अच्छा लगा तो उसने नीचे से थोड़ा सा कमर को उठाते हुए धक्का सा लगाया.

होली वाला बीएफ: चाची रुकने का नाम ही नहीं ले रही थीं, वो अपनी गांड को पूरे जोर से उछाल रही थीं. इसी लिए मैं आप से प्यार करती हूँ।मैं बोला- नीता, मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और आज तुम्हें बहुत प्यार करना चाहता हूँ।वो बोली- मैं तो आपकी ही हूँ जी! जो चाहे … करो … मैं तो तुम्हें दिल से अपना मान चुकी हूँ.

कुछ समय बाद हम तीनों आपस में लगातार चुदाई करते हुए कुछ नयापन ढूंढने लगे तो एक दिन मेरी पत्नी ने नीरू से कहा- नीरु, अब पहला वाला मजा नहीं रहा अपने तीनों एक दूसरे से कई महीनों से मजे ले रहे हैं कुछ नया करो!नीरू ने पूछा- जीजी नया क्या … खुल कर बताओ ना?मेरी पत्नी ने बोला- तेरी कई सारी सहेलियां गांव में है उनमें कोई ऐसी लड़की हो जो अपनी मर्जी से चुदना चाह रही हो, उसे ले आ … तो बहुत मजा आएगा. यह कह कर जीजी 69 में आकर मेरी चुत चाटने लगे और मैं जीजू का लौड़ा चाटने चूसने लगी. उधर मानसी ने भी दीपक का लंड चूस कर पूरा खड़ा कर दिया था।अब दीपक उठ कर सुशीला के तरफ आया और सुशीला को कुतिया बनाकर चोदने लगा.

तब मुझे बहुत अजीब सा लगा, उसने अपने हाथ से मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड को रगड़वाना शुरू कर दिया, सच में बहुत गर्म और लम्बा मोटा लौड़ा था.

माइक के धक्के कुछ पलों में जोरदार झटकों में बदल गए और तारा की मादक सिसकारियां चीखों का रूप लेने लगीं. उन पर एक पर मैं और मेरी छोटी भान्जी, एक पर रेखा और उसके मामा की लड़की और उनकी बगल में मेरी बहनें सोई हुई थीं. इस वक्त मेरी सहेलियां रोज़ की तरह अपने आशिकों के साथ मैदान के दूसरे कोनों में घुस गई थीं.