बीएफ भेजो फिल्म

छवि स्रोत,हिंदी एचडी सेक्सी वीडियो बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश बीपी ट्रिपल एक्स: बीएफ भेजो फिल्म, बहुत दिन से मेरी चूत प्यासी थी। उन्हें देखते ही मेरा मन कर रहा था कि खा जाऊं उनके लंड को।थोड़ी देर बाद वे मेरे पास आए और मेरे कपड़े उतारने लगे.

भोजपुरी बीएफ सेक्सी वीडियो फिल्म

मैं अपने कपड़े धोकर छत पर डालने के लिये गई हुई थी कि तभी सुमन अपने कमरे से ब्रा और पैन्टी में ही निकली और बाथरूम में चली गई. सेक्सी नेकेड बीएफमुझे ऊपर से नंगा करके सुलेखा भाभी अब मुझ पर लेट गईं और अपनी बड़ी बड़ी चूचियों को मेरे नंगे सीने पर रगड़ते हुए जोरों से धक्के लगाने शुरू कर दिए.

अब तो मेरी बीवी उसके लंड और उसके शरीर से आकर्षित होकर खूब मजा ले रही थी. तमिल बीएफ तमिलवे दोनों इंग्लिश में बड़बड़ा रही थीं- ऊऊऊ सो बिग कॉक … सक माय बूब्स हार्ड … ऊऊऊ या बेबी सक!मैं भी निप्पल को मुँह में लेके चूसे जा रहा था और कभी कभी हल्के से काट भी लेता.

मेरी बहन को यह बात सामान्य लगी, उसने कहा कि उसके लिए लंड आकर्षण की चीज है.बीएफ भेजो फिल्म: हीरोइन भी उसके सामने कुछ नहीं है और इधर तेरी हीरोइन को यह ड्राइवर लोग चोद रहे हैं.

अभी टाइम पर पानी नहीं मिला खेत को, तो फसल खराब हो जाएगी, तो क्यों न मैं पानी लगा दूँ.मकान मालिक, मकान मालकिन और उनकी भतीजी नेहा 9 बजे तक अपने बेडरूम में जाके सो जाते.

बीएफ वीडियो एचडी सेक्स - बीएफ भेजो फिल्म

पर उसमें इतनी हिम्मत नहीं हो रही थी कि वो खुद कुछ करे बल्कि उसने मुझे डरे हुए शब्दों में ब्लाउज खोलने को कहा.पुनीत ने मेरे चेहरे पर पानी का छींटा डाला, तब मेरा होश लौटा और फिर मुझे दर्द का एहसास होने लगा.

कुछ देर बाद जब मुझे लंड को सम्भालना मुश्किल हो गया तो मैंने अपनी बहन को बोला- मुझे नहाने जाना है, गर्म पानी का क्या है?इस पर बहन ने कहा- हां तो नहा ले न … बाथरूम में ही गर्म पानी है. बीएफ भेजो फिल्म अपनी उंगलियों से नेहा की मुनिया को मसलते हुए मैंने फिर से उसकी चूची को मुँह में भर लिया.

फिर 15 मिनट के बाद सोहन के घरवालों का फोन आया कि उसकी बहन का एक्सिडेंट हो गया है और वो तुरंत हॉस्पिटल पहुंचे.

बीएफ भेजो फिल्म?

उन्होंने स्कर्ट की इलास्टिक पकड़कर पूरी नीचे उतार दी और बोले- यह समीज और अपना ऊपर की टी-शर्ट भी उतार दे. उसमें भी वो घर के कामों, बच्चों की जरूरतें पूरा करने में रोज पूरा दिन पर कर देते हैं. जिससे प्रिया और भी जोरों से झुंझला उठी और गुस्से में उसने नाड़े को अपने दोनों हाथों से पकड़कर इतनी जोरों से खींच‌ दिया कि टक् …” की आवाज के साथ नाड़ा ही टूट गया.

सलोनी अभी भी वैसे ही आंखें बंद करके लेटी थी, मैं उसके बगल में लेट गया और वो भी मेरी बाँहों में सिमट आई. मैं अपने कपड़े नहीं पहन पाई थी इसलिए मैंने अपने आप को रजाई से ढक लिया. अब तो बात यहां तक बढ़ गई थी कि मैं अपने घर वालों को चूतिया बना कर मौका देखकर उसके साथ बाहर घूमने भी जाने लगी थी.

मामी ने मेरी एक टांग ऊपर की और मेरी चूत में जीभ डालकर अंदर तक चूसने लगी. एक दिन मैंने देखा, वह लड़की सड़क पर बाहर सब्जी की रेहड़ीवाले के पास कुछ सब्जी ले रही थी. मेरी चीखें इतनी तेज थीं कि अगर कोई भी खिड़की या दरवाजा जरा सा भी खुला हुआ होता तो बाहर से लोग अन्दर आ गए होते कि पता नहीं इस घर में क्या हुआ है.

मेरी उम्र 22 साल है और मेरी लम्बाई लगभग 6 फुट है, मैं 19 साल की उम्र में ही एयरफोर्स में जॉब लग गया था इसलिए मेरी बॉडी हमेशा से शानदार रही है. अनिल अब मीनाक्षी का पूरा मुँह चोदने के बाद उससे बोला- अब कुतिया बन जा.

वह अभी भी मेरी बातें सुनकर हैरान थी मगर कुछ देर सोचने के बाद बोली- मुझे बदनामी से डर लगता है.

मेरे मासिक के दिनों को छोड़ कर, ऐसा एक दिन भी नहीं निकलता, जिस दिन हम दोनों ने चुदाई नहीं की हो.

कहानी के पिछले भागदेहाती मामा के साथ मेरे अरमान-1में आपने पढ़ा कि रवि मामा के लंड की तलब ने मुझे पागल सा कर दिया था और कई साल के इंतज़ार के बाद मैं उनसे अपने दिल की बात कह पाया था. उसने एकदम से लौड़ा बाहर निकाला, तो मैंने बचा हुआ माल उसके चेहरे पर गिरा दिया. मैंने भाभी की एक न सुनी और उसकी चूत में दो उंगलियां डाल कर उसकी चुत को अपनी उंगलियों से चोदने लगा.

इसे मेरे जैसे लोग यानि काल गर्ल, काल बॉय, जिगोलो, गांडू, शौक़ीन आंटी, अंकल, भाभियाँ ही जान सकती हैं. अभी तो हम लोग गांव भी पार नहीं कर पाए थे और मेरे लिए अपने आप को संभालना मुश्किल हो रहा था. नेहा की चुत को चाटते हुए मैं बीच बीच में अपनी निगाहें खिड़की पर भी ले जा रहा था, प्रिया अब भी खिड़की पर ही थी और चोरी चोरी हमें देख रही थी.

मैंने एक बार फिर जोर-जोर के झटके मार कर सोनू की चूत में अपने लंड की पिचकारियां मारी और लंड बाहर निकाल लिया.

फिर चाची ने कहा- अभी तुझे बहुत कुछ सिखाना है!और एक दूसरे के नंगे जिस्म से लिपटे हुए हम चाची भतीजा एक साथ सो गए!जब मैं सुबह वापस आने लगा तो उन्होंने मुझे बहुत प्यार किया. पहले हम घरवालों के साथ संयुक्त परिवार में रहते थे, पर पिछले एक साल से हम कहीं अलग किराए के घर में रह रहे हैं. इस बीच मैंने थोड़ी बेशर्मी से उससे पूछा- मैडम, लगता है आपके पतिदेव आपकी ठीक से सेवा नहीं करते हैं, लगता है काफी समय से आपकी ठुकाई नहीं हुई है.

तो मैं बोला- सच्ची भाभी जी?तो वो हंस कर मुझसे चिपक गईं और मैं इतना खुश था कि भाभी को पकड़ उनके होंठों को कस कर चूमने लगा ‘उउम्म्म्म… मुम्म … अम्म्ह …’भाभी भी ज़ोर ज़ोर से चूमने लगीं. इतनी देर तक नीना के सानिध्य में रहे प्रशांत के फनफनाए हुए लौड़े को नीना की चूत में आराम की दरकार थी. वह मेरे होंठों को चूसे जा रहा था जिससे मैं खो सी गयी थी और अमित की तरफ खुद ही झुकती चली गयी। अब अमित ने मुझे अपनी तरफ खींच कर गोद में ले लिया मुझे.

उसने जैसे ही यह बात मुझसे कही, मैं हैरान हो गया कि कोई सच में मुझसे अपनी चुत की चुदाई करवाना चाहती है.

मेरा नाम राज है, उम्र 26 साल है और जैसा कि चुदाई की कहानी के लिए सबसे जरूरी लंड के बारे में बताना होता है, मेरे लंड का साइज 6 इंच के आस-पास है और मेरी हाइट 6 फीट है, जो कि एकदम रीयल है. कुछ ही देर में मैं नीचे से जोर से चूतड़ उठा उठा कर सुनीता की चूत में झटके मारने लगा.

बीएफ भेजो फिल्म फिर धीरे धीरे मेरा हाथ उनके मम्मों पर चला गया और ब्लाउज के ऊपर से ही मैं मैम के मम्मे मसलने लगा. इस बार उसने जब दुप्पटा ऊपर किया, तब उसकी चुचियों का पॉईंट ज्यादा ही दिख गया था … इस बार निप्पल उभर कर आ गए थे और कड़क से दिख रहे थे.

बीएफ भेजो फिल्म कुछ ने चाटा है, कुछ ने काटा है, कुछ ने कूल्हों पर थपड़ाया है, कुछ ने निप्पल दबाकर अग्नि को भड़काया है. फिर हम लोगों ने सुबह खिड़की के ऊपर का वेन्टीलेटर खोल दिया जिससे कि रात को मम्मी पापा को हम सेक्स करते हुये देख सकें.

आप ऐसा कीजिये कि आज रात तक यहीं पर ठहर जाइए, सुबह होते ही आप बस में बैठ कर चली जाना.

नहाती हुई लड़की दिखाओ

मैंने और दोस्त ने मिल कर ट्रेन की टिकेट्स तो कर ली पर बस का इंतजाम यहाँ से करना सम्भव नहीं हो रहा था तो मैंने मेरे पूना के दोस्त से मदद ली और एक अच्छी 32 सीटर बस बुक कर दी. मेरे फायनल साल की परीक्षा आने वाली थी, तो मैं रोज रात को बहुत देर तक अपने कमरे में पढ़ाई करता रहता था. मेरी सहेली मुझसे बड़ी चुदैल है, वो अपने बॉयफ्रेंड्स से चुदवाने के लिए होटल तक में चली जाती थी.

चाची की कामुक आवाज़ें किचन में गूंजने लगी स्स्स … उउम्म्ह… अहह… हय… याह…चाची के चूचे कड़क हो गए थे. मैंने एक बात देखी कि वो घर पर तो साड़ी पहनती थी, तो उस वक्त वो एकदम नॉर्मल दिखती थी. बारहवीं के पेपर भी दे दिए और पेपरों के बाद एक दिन मेरे और शुभम के रिश्ते का घर पर पता चल गया और मेरी खूब पिटाई हुई और मुझे घर पर बिठा दिया गया.

अब तक हमने इतनी बार फ़ोन पर बातें कर ली थीं कि अब हमारे बीच कोई शर्म नहीं रही थी तो मैंने सीधा ही अजय को कसकर गले लगा लिया.

एक बार तो अब मैं भी घबरा गया कि इसको‌ कैसे पता चल गया कि मेरे और सुलेखा भाभी के बीच कुछ हुआ है. मैं आज तुझे ऐसी दुनिया की सैर कराता हूं, जिसे तुम अब तक नहीं देखी होगी. वो मेरे पास आ कर बैठ गई और बोली- जानू प्यार से करोगे ना बेबी?मैंने उसका हाथ पकड़ कर कहा- मुझ पर विश्वास रखो … बहुत ही प्यार से करूंगा.

अब मैंने भाभी के लिए भी पैग बनाया लेकिन इससे पहले कि मैं अपना एक घूंट भर कर गिलास नीचे रखता, भाभी ने पूरा गिलास खाली कर दिया और आंखें मींच कर आह करके आवाज़ निकाली. सुमन ने मुझे देखा तो वो मेरे से चिपक गई और मैं भी उससे चिपक गई और हम दोनों एक-दूसरी को किस करने लगी. इसके बाद उनकी काली ब्रा को फाड़ दिया और मस्त गोलगोल मम्मों को चूसने लगा.

फिर कुछ पल इसका आनन्द को उठाने के बाद मैंने अपने लंड को उसकी चूत से थोड़ा बाहर निकाला और चुदाई शुरू कर दी. सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार! मैं अन्तर्वासना की कहानियाँ काफी लम्बे समय से पढ़ रहा हूं। आशा है कि आप भी इन कहानियों को पढ़कर मज़ा ले रहे होंगे.

उन्होंने कहा- लेकिन तुम तो इतने बड़े हो गए हो और अच्छे भी लगते हो … फिर क्यों नहीं है?मैंने सहज भाव से कहा कि आज तक मैंने कभी भी ऐसा सोचा भी नहीं था. कुछ देर उसी स्थिति में रुकने के बाद जब मैं कुछ सामान्य हुई तो उसने फिर एक ज़ोरदार झटका मारा और उसका पूरा लंड मेरी चूत में जा चुका था. तो आंटी मान गईं और बोलीं- आप किसी को भेज दो, मुझसे भरा सिलिंडर नहीं उठाया जाएगा.

तो वो घोड़ी बन गई और मैंने लगातार धक्के मारते हुए और 10 मिनट तक उसको चोदा.

अभी दो काले सांड नीग्रो यह ऐसे मस्त लिपटे और उनका लंड तेरी गांड और चूत में सैट हैं, ऐसा लग रहा है कि तू अप्सरा है, कयामत है. प्रमिला दीदी- तू बोल ना, मैं भी एक पुराने फ्रेंड को मिलने जा रहा हूँ. प्रिया को ड्राईंगरूम में ना पाकर मैंने अब वापस अपने कमरे में जाने की सोची.

तभी मामी ने मेरे लिए एक पीली साड़ी निकाली और मुझसे बोली- आज ये पहन लो. इधर मेरी काम वासना भी इतनी बढ़ती जा रही थी कि मैं सुखबीर के आगे झुकती जा रही थी.

मैंने भी सोचा चलो दूसरा काम भी हो गया और सब कुछ प्लान के मुताबिक़ चल रहा है और अच्छा ही हुआ कि आंटी ने मेरे सिगरेट और शराब की बात बोल दी. तो हमने स्लीपर बस में सीट बुक करवा ली और हमें एक डबल स्लीपर सीट मिल गयी. धीरे धीरे करके जेठ जी ने अपना पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया और अब वे चूत में हल्के हल्के धक्के लगाने लगे.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ सेक्सी

थोड़ी इधर-उधर की बातों के साथ मैं गुड़िया का चुम्बन करने लगा और उसकी चुचियों को दबाने लगा, अब वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी औऱ मेरे होंठ चूमने चूसने लगी.

मैं बोली- राजा जी जो करना है, ऐसे ही कर लो, पूरा मत उतारिए … नहीं तो बाकी के लोग क्या सोचेंगे. अनु मुझसे बोली- संजय कुकर बंद कर देना … मैं अभी करण से चुद कर आ रही हूँ. सबीना आंटी का कराहना, उनकी हवस से भरी सिसकारियां, उनके बेडरूम को किसी रंडीखाने जैसा बना रहा था.

मैंने लंड को मुँह से बाहर निकालने की कोशिश की, लेकिन उनके मज़बूत हाथ के दबाव के आगे मेरी एक ना चली और मैं घबराकर तड़पने लगा. वो भी मेरे गले में बांहें डाल कर मुझसे चिपक गयी और फिर एक लम्बा किस चला. पंजाबी इंग्लिश बीएफनेहा के निप्पल को चूसते हुए मेरा हाथ अब भी उसकी बन्द जांघों पर व उसकी मुनिया के उभार पर ही रेंग रहा था.

करीब 10 मिनट एक-दूसरे को चाटने के बाद मेरी बहन मेरा लौड़ा चूत में लेने को तैयार थी, मैंने मालिनी को लिटाया और उसकी गांड के नीचे एक तकिया रख दिया. अगर एक बार जिसने इसकी सेवा ले ली, वो कभी दूसरा लंड लेने की नहीं सोचेगी इतना मुझे खुद पर पूरा भरोसा है.

पता नहीं उस समय मेरे अन्दर इतनी ताकत कहां से आ गई थी, शायद ये भाबीजी को चोदने का जुनून था. मैंने तुम्हारे गले में एक अमेरिकन डायमंड का हार, जो थोड़ा महंगा था, मैंने तुम्हारे दोनों बूब्स को दबाते हुए डाला था. फिर जब उसका लंड खड़ा हो गया तो उसने मुझे फिर से घोड़ी बना लिया और अबकी बार अपना लंड मेरी गांड के छेद पर लगाकर जोर का धक्का दे दिया.

मैंने उससे पूछा- आपका नाम सोनू है?उसने हाँ में उत्तर दिया और पूछने लगी- आपको मेरा नाम कैसे पता?मैंने कहा- मालती भाभी आपकी बहुत तारीफ करती रहती हैं. कुछ देर बाद वो नीचे आ गई, मैं उसे धकापेल चोदने लगा और लगभग आधे घंटे बाद मैं फिर से उसकी चुत में झड़ गया और सो गया. फिर राहुल ने मेरी गांड के छेद पर अपने लंड को रख दिया और एक ज़ोर का धक्का दे दिया.

फिर तुम उसको भी जम के चुदाई का पूरा सुख देना … बेचारी चुदाई के लिए बहुत तड़पी है.

दो मिनट में ही उसके निप्पल एकदम कड़क हो गए और वो मेरी तरफ को घूमी तो मैं उसके एक चुचे को मुँह में भर कर चूसने लगा और एक हाथ से दूसरा चूचा दबाने लगा. जब बीच बीच में अभिषेक अपने पूरा लौड़ा उसके मुँह में घुसेड़ देता था, तो सन्नी की घुटी आवाजें आने लगती थीं.

कुछ देर बाद उसकी चूत के अंदर से गीला-गीला पदार्थ निकलना शुरू हो गया. ’उसने मेरे चूतड़ दबा कर पूछा- और इनके बीच में भी कुंवारी है?मैंने कहा- हाँ सील बन्द. इतना कह कर चाची एक हाथ को पीछे करके मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर लगा दिया.

यह भी नहीं सोचा कि इस बीच भाई साहब आ गए, तो मेरी नीना डार्लिंग उनसे क्या बहाना बनाएगी. मैं- बोला न सॉरी … गलती हो गई, चाहो तो कोई सजा दे दो, लेकिन उन्हें मत बताओ … बहुत मार पड़ेगी. मैंने भी अब फिर से धक्के लगा‌कर अपने‌ लंड को‌ सुलेखा‌ भाभी‌ की चुत के अन्दर बाहर करना‌ शुरू कर दिया, जिससे अब फिर से भाभी के मुँह से‌ सिसकारियां फूटनी शुरू हो गईं.

बीएफ भेजो फिल्म वहां मैं एक महिला से मिला और रात उसके साथ बिताने के बाद जब सुबह मैं निकलने लगा तो वो बोली कि अब तुम यही मेरे साथ मेरे घर पर ही रहोगे. वो बोली- जल्दी चलो … दारू पीने के बाद मैं बहुत गर्म हो जाती हूँ और मुझे बहुत जोर की चुदाई चाहिये.

एक्स एक्स एक्स भोजपुरी सेक्सी वीडियो

वो अचानक मुझे रोककर और मुझे बेड पर धकेलकर खुद मेरे ऊपर आ गई और पूरी तेज़ी और जोश से धक्के मारने लगी. दोस्तो! जिस प्रकार आदमी यह सोचता है कि मुझे किसी कुंवारी लड़की की चूत मारने को मिले, उसी प्रकार औरत भी यह चाहती है कि उसे भी बिल्कुल कुंवारा लड़का मिले, जिसने पहले कभी चूत न मारी हो. मैं भी अब प्रिया की तरफ देखने लगा, जो कि अब अपने पैरों को मेरे दोनों तरफ करके घुटनों के बल खड़ी हो गयी थी और दोनों हाथों से अपनी सलवार के नाड़े को खोलने की‌ कोशिश कर रही थी.

फिर धीरे धीरे मैंने पता लगाना चालू किया, तो पता चला आंटी का शौहर सऊदी में जॉब करता है, यहां सबीना आंटी अकेली अपने बच्चों के साथ रहती हैं. अब वो अपनी चुत मेरे मुँह पर ऐसे मारने लगी, जैसे वो मेरे मुँह को चोद रही हो. तिरपल बीएफ सेक्सीमैं भी उसके इस प्यार में बह के उसे चूमने लगा और एक बार फिर से तीसरी बार हम दोनों जोरदार सेक्स किया.

…तो वो बात बीच में काट के बोली- क्या रात को?इतना कह के वो मेरे पास आ गयी और उसने मुझे जोर से हग कर लिया.

अब वो परेशान हो गयी क्योंकि करीब 10-15 मिनट के बाद उसकी ट्रेन मिस हो जाती। उसकी परेशानी को देखते हुए मैंने आगे बढ़ते हुए उसे स्टेशन तक ड्रॉप कर दिया। बस इस घटना के बाद वो मुझसे हँस कर हाय-हैलो करने लगी और इसी बात का मजाक बनाकर मेरे कलीग उसका नाम लेकर मुझे टॉन्ट मारने लगे। जबकि हकीकत यह थी कि मैंने उस एक मात्र घटना के बाद पल्ल्वी से दूरी भी बना ली थी. अपनी बहनों को देने के बाद आधी बोतल और 2 प्लास्टिक के गिलास लेकर वो मेरे पास आये और एक गिलास में कोल्ड ड्रिंक भरकर उन्होंने मुझे दिया.

उधर नेहा आंटी निशा को अपने बेटे के साथ देखकर और उत्तेजित हो रही थीं. उसने भी अपने पैर मेरी कमर पर लपेट लिए और मेरे गाल पर एक पप्पी कर दी. मेरे दोनों हाथ उसकी चुचियों को मसल रहे थे और मैं उसकी चूत चाटने का आनन्द ले रहा था.

मेरे पास ऊपर वाले का दिया हुआ सब है, एक तेरे जैसी खूबसूरत आइटम को चोदने की कमी थी, वह भी ऊपर वाले ने दे दिया.

मैं आने रूम में आ गया, लेकिन बड़ी देर तक सोचता रहा कि भाबी मुझे सिग्नल दे रही है या गुस्सा है. मैंने अपना एक पैर बेड पर रख के अपने हाथ को पीछे करके प्रमिला का सर पकड़ के उसका मुँह अपनी गांड में डालने लगा. उसने अन्दर आने से पहले मुझसे पूछा- सर, क्या मैं अन्दर आ सकती हूँ?मैंने कहा- यस कम इन.

देसी बीएफ सेक्सी दिखाइएइससे पहले भी मैंने बहुत सारे लंड देखे और चूसे थे लेकिन उसके लंड की बात ही मुझे निराली लगी. वो शुरू से ही मुझे अपना बनाना चाहता था क्योंकि मेरे पति जब भी काम पर जाते थे, तो वो तुरंत मेरे रूम में आ जाता था और मैं चाह कर भी उसको अपने रूम से जाने के लिए नहीं कह सकती थी.

सेक्सी फुल बीएफ वीडियो

तब भी मैं उससे बात करने के नए नए बहाने ढूंढने लगा था और किसी न किसी काम के बहाने ऊपर जा के उनसे मिलने भी लगा था. मेरे लंड को चुचियों के बीच में ले कर ऊपर नीचे होने लगी लेकिन मेरे लंड पर हाथ अब भी नहीं लगाया जिस कारण से लंड उसकी चुचियों के बीच में ठीक से दब भी नहीं रहा था और मेरी हालत बहुत खराब हो रही थी. करीब 15 मिनट के बाद चाचा के खर्राटे की आवाज सुनाई देने लगी … तो मैं समझ गया कि वो लोग सो गए हैं.

’‘मतलब?’मैंने झिरी में से बाहर झांका और देखा कि वे दोनों सोफे पे बैठे हुए थे. मालती ने अब मुझसे फोन पर अश्लील बातें करनी शुरू कर दीं और बहुत से चुदाई वाली क्लिप भेजने लगी. उसके बाद हमारे बीच चुम्बन का सिलसिला आम हो गया था। जब भी हम फ्री होते, हमें एकांत मिलता हमारे होंठ आपस में जुड़ जाते।कहानी का अगला भाग:मेरी रानी की कहानी-2.

बहुत सेक्सी और हॉट है तू, वन्द्या कुछ भी कर, पर मुझे अपनी गांड से अलग मत करना. एक शाम, मैं अपने दोस्त के साथ एक सुनसान रोड पर बाइक पर बैठ कर सिगरेट पी रहा था. हम दोनों रूम में पहुंचे और मैंने उसे अपने हाथ से अपनी तरफ खींच कर बेड पर बैठा लिया.

मुझे खुशी हुई कि अब बेचारी खुशी से रहेगी और मैंने भी उससे बात करना बंद कर दिया. जेठ- नीतू अभी नहीं, आज मैं तुम्हें अच्छे से और बड़े ही प्यार से चोदना चाहता हूं.

मस्ती में आंखे बंद कर मैं अपना होंठ चबाने लगी।उन्होंने अपनी शर्ट उतारी और फिर जीन्स उतार दी.

उसके जाने के बाद मैं टॉयलेट में जाकर मुठ मारता था, तब जाकर मुझे तसल्ली होती थी. मूवी सेक्सी बीएफ वीडियोउसने तकिया को अपने मुँह में भर लिया और मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी. काला लंड की बीएफशर्त के मुताबिक, आज पहले राउंड में प्रशांत की जीभ को मेरी नीना की चूत का ग्रैंड मसाज करना था. मैंने 2 मिनट तक उस बदबू को बर्दाश्त किया, लेकिन जब सहन नहीं हुआ तो मैं सन्नी से बोला- तू नहा कर आ.

कभी मैं उनकी चुचियों को मसलते हुए चूसता, तो कभी उनके चूतड़ों को कुत्ते की तरह चाटने लगता.

फिर हम बात करने लगे, उत्तेजना के वशीभूत हो मैंने पूछा- कविता भाभी, आप अकेले कैसे रह लेती हो? मुझसे तो नहीं रहा जाता. पर एक बात तो आज भी वो मुझे कहती है कि उस वक्त मैंने इतनी बेदर्दी से उसके मम्मे चूसे थे कि आज तक किसी मर्द ने भी उसके साथ ऐसा नहीं किया. सब काम करते करते मुझे लगभग 11 बजे गये थे और मैं भी अपने कमरे में चली गई, लाईट बन्द कर ली जिससे सबको लगे कि मैं सो गई हूँ.

मैं अपने सहेली के भाई से नार्मल बात करती थी, लेकिन मुझे ये पता था कि वो मुझे पसंद करता है. मेरी पत्नी ने मुझसे कहा- देखो कितनी तड़प रही है! यह तो चुदने के लिए बिल्कुल तैयार बैठी है. उसने मुझे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी और मैंने स्वीकार भी कर डाली और मेसेंजर पर उसने मुझे वेव किया हाथ हिला कर.

नंगी चाहिए

अगर वो कोई असली लंड भी होता तो भी इतनी मुश्किल नहीं होती क्योंकि लंड जल्दी से अन्दर बाहर होता है, जिससे वो एक जगह टिक कर नहीं बैठता. मेरे देवर ने मेरी चूत में उंगली करने के बाद अपना लंड चूत में डाल दिया और चूत चुदाई होने लगी. लेकिन अकेले में ही … बाहर ये सब अच्छा नहीं लगेगा, ये चीजें अपने पास तक ही रखिएगा, मैं एक घरेलू औरत हूँ.

कुछ दिन और समय मिलता तो शायद रुबीना के रजामंद होते ही हम दोनों शादी भी कर लेते.

आपको मुझमें क्या मिलेगा?मैं सरिता के मुंह से ऐसी बेबाक बातें सुनकर उसका मुंह ताकता रह गया.

पर हां … लालच मेरे भी मन में था, वो भी सिर्फ और सिर्फ अच्छे अच्छे स्टाइलिश कपड़ों को लेने की लालच थी. यह कह कर उसने मेरे बाजू में बैठते हुए अपना एक हाथ मेरी जांघ पर रख दिया. सेक्सी पिक्चर ब्लू पिक्चर बीएफजेठ जी कह रहे थे- आज मैं तुम्हें जबरदस्त चोदूंगा और तुम्हें सब सहन करना पड़ेगा.

पता नहीं कब मेरी जान का चुदाई का मूड बन जाए और वे मुझ पर चढ़ने को आतुर हो जाएं. उसके 34 के कोमल चूचे मेरे सीने से टकरा रहे थे, मैं फिर से मदहोश होने लगा. वो गजब आवाज करने लगीं- छोड़ दो मुझेईई … आह डाल दो मेरी बुर में अपना लंड मोटा लंड.

कुछ 20-22 जोरदार शॉट के बाद मैंने भी फचक फचाक से अपना गर्म गर्म वीर्य उसकी चूत में गिरा दिया. वो सोती हुई भी बहुत मासूम लग रही थी। उसके मासूम चेहरे को देखकर मेरा लण्ड टाइट होना शुरू हो गया था लेकिन अभी मैं उसके साथ कुछ भी नहीं कर सकता था क्योंकि मुझे नहीं पता था कि उसके मन में क्या चल रहा है.

अब तो मुझे संजय के लंड से मजा ही नहीं मिलता तुम्हारा लंड मुझे बड़ी तसल्ली देता है.

अब तो उसके होश उड़ गए और वो फिर से रोने लगी, पर मैंने उसे गले से लगा लिया और कहा- कल तो तुम मजे से चुदवा रही थीं, फिर अब क्या हुआ?वो बोली कि अगर आप मेरी जगह होते तो क्या करते. मैंने अपने चपरासी को आवाज़ लगाई- ये ऑफिस रूम में क्या खुसुर फुसुर चल रही है, ज़रा मुझे भी तो बताओ?मेरे चपरासी शिवा ने मुस्कुराते हुए कहा- सर, वो आज अपने स्कूल में एक नयी टीचर आई हैं, सभी उनके ही बारे में बातें कर रहे हैं. लता भाभी बोली- ऐसे होली खेलते हैं?हेमा की तो टांगों में लगा रहे थे!” इतना कहते ही उन्होंने दोबारा मुट्ठी भरकर गुलाल मेरे चेहरे पर ज़बरदस्ती रगड़ दिया और अपना हाथ मेरी छाती में घुसा कर रगड़ने लगी.

बीएफ फिल्म मौसी की चुदाई पर वो यह सुनते ही किचन में आ गया और उसने अनु को गोद में उठाया और कमरे में लेकर जाने लगा. मैं नाके पे शनिवार रविवार जाता था, वो अपने घर की शॉपिंग के लिए आती थी.

पियू से मेरी बात फोन पर होती रहती है, पर अब कब मिलना होगा किसको पता. मैंने उनकी चूत के छेद में थूक भरा और धीरे धीरे दो तीन धक्कों में पूरा लंड अन्दर डाल दिया. मेरा दोस्त भी तैयार हो गया और यह बात उसने जीजाजी को बताई और बाकी सब भी दारू पार्टी के लिए तैयार हो गये.

नंगी पिक्चर दे

इस तरह से जीजाजी मुझे और मेरी बहन को बारी बारी से 20 मिनट तक चोदते रहे. मैंने रमेश को पास वाली टेबल पर बैठकर नजारा देखने के लिए कहा और रमेश ने हां में सर हिलाते रूपा की साड़ी उठाई और चुपचाप बैठ गया. उन्होंने मुझे पकड़ कर सोफे पर गिरा लिया और मेरी टाँगें पकड़ कर दूर-दूर फैला दीं.

हाय दोस्तो, मैं विराट आप सबके लिए अपनी कहानी को आगे बढ़ाते हुए एक बार फिर से हाजिर हूँ. नेहा बहुत खुश थी और वो पल्लू हटा कर अपनी नंगी चूची लंबी पतली कटावदार कमर चपटा पेट नाभि उभार उभार कर दिखा रही थी.

उसका लंड एकदम लोहे की रॉड के जैसा है जो ढीली हो चुकी चूत से भी 5 मिनट में ही पानी निकलवाने औकात रखता है.

फिर उसकी सलवार को खोल दिया और पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को किस करने लगा. मैंने सिर्फ नैना से दोस्ती इसलिए की थी कि वो खुश रहे और उसकी गृहस्थी ठीक से चलती रहे. सलोनीकेचेहरेकोदेखकरलगरहाथाकिवोकुछसोचरहीहै,कुछकश्मकशमेंहै किक्याकरे औरक्यानकरे!फिरएकगहरीसाँसलीऔरउठ करबाथरूम चलीगई.

”लेकिन ये सब गलत है मास्टर जी … समाज क्या कहेगा, किसी को पता चल गया तो?”घबराती क्यों हो कौशल्या रानी … किसी को नहीं पता चलेगा. वैसे तो मेरे कई लड़कियों के साथ रिलेशन्स रहे हैं लेकिन इस कहानी से पहले तक मैंने कभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया था. बस दो मिनट में ही वो जोर से चिल्लाते हुए बोली- क्या बात है देवर जी.

रास्ते में में और एकता कार की बैक सीट पर थे और प्रमिला कार चला रही थी.

बीएफ भेजो फिल्म: अबकी बार मैंने राहुल के लंड को अपने मुंह में लेने में बिल्कुल भी देर नहीं की. उन्होंने पहले मेरे बालों पर हाथ फेरे, फिर मेरे सिर को अपने हाथों में पकड़ते हुए मेरे होंठों पर किस करने लगे.

आपको याद करके मैं रोज़ मुठ मारता था, पर कभी भी झड़ने में वो मज़ा नहीं आया, जो आज आया है. मेरे लंड के नेहा की चुत में अन्दर बाहर होने से फच् …फच्च … की आवाज तो आ ही रही थी, अब मेरे जोरों से धक्का लगाने और नेहा के कूल्हों को उचकाने से मेरी और नेहा की जांघें आपस में टकराने लगी थी. इससे अच्छा तो अभी पहनूँ ही न।वो मुस्कुराया और मेरे पास आ कर बैठ गया।फिर उसने कहा- एक बात कहूँ?मैंने बोला- बोलो न?उसने कहा- मैं तेरी गांड में चोदना चाहता हूँ इस बार।मैंने कहा- बिल्कुल नहीं, गांड में कौन चोदता है?हर्षिल बोला- कोई मूर्ख ही होगा जो नहीं चोदता होगा.

जो दादा साहेब कार में बैठे थे, मैं उनसे आज तक पहले कभी नहीं मिली थी, ना उन्हें देखा था, ना उनसे कभी बात की थी.

अभी सुपारा डालकर ही मैं पायल की बुर के अगले हिस्से पर ही धीरे धीरे पायल को मजे दे रहा था, नीरू और मेरी पत्नी मेरे लंड को उसकी बुर में देख कर मजे ले रही थी. हमारे इस वासना के खेल के बाद हमने एक दूसरे को किस किया और जरूरत होने पे एक दूसरे की प्यास बुझाने का वादा किया. जिस गांड को मैं हमेशा कपड़ों के ऊपर से देख देख कर तरसता था, आज वह गांड मुझे चुदाई के लिए मिल ही गई.