सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,इंग्लिश सेक्सी इंग्लिश सेक्सी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

अच्छी सेक्सी फिल्म दिखाओ: सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ, लोहे का सरिया बना हुआ था, जिसे उसने मेरी चूत में घुसेड़ना शुरू कर दिया.

वर्क वाली साड़ी

फिर मैंने प्रीति के गाल पर किस लिए फिर होठों पर लगभग 1 मिनट किस किया. सेक्सी भेजो सेक्सी फिल्म सेक्सी फिल्मवो मुस्कुरा कर हाय बोलीं- बैठो!मैं सोफे पे बैठ गया, वो पानी लेने चली गईं.

करीब 15 मिनट चूत चुसाई के बाद मैंने अपना 7 इंच का लंड बाहर निकाला और उसके हाथ में दे दिया. मोटा मोटा औरत का सेक्सी वीडियोवो बोली- क्यूँ लड़को, बह तो नहीं गयी गंगा?और हँसने लगी- हे भगवान, तुम लोगों का तंबू फटने वाला है, रूको मैं आज़ाद कर देती हूँ.

डॉक्टर की 3 बार चोदने की सलाह पर वो तो गीता को दिन में 5-5 चोदने लगा.सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ: मैंने उससे पूछा कि आज का क्या प्रोग्राम है?क्योंकि उस दिन रविवार था.

मैं तुझे इतनी देर से अपनी चुदाई का खुला आमंत्रण दे रही हूँ और तू मुझे तड़पा रहा है.मैंने मौका देख कर घर का मुख्य दरवाजा खुला रखा और घंटी का स्विच ओफ कर दिया ताकि वह दरवाजा खोल कर सीधे मुझे ढूंढने को आ जाये.

हिंदी सेक्सी फिल्म चूत चुदाई - सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ

उसका स्कर्ट और ऊपर उठता गया… और ऊपर और थोड़ा सा ऊपर… पद्मिनी अपने बापू को खुश करने के लिए स्कर्ट उठाती गयी और बापू ज़ोरों से अपना हाथ अपने लंड पर लुंगी के नीचे मारते गया… जैसे ही पद्मिनी की सफ़ेद पेंटी थोड़ा सा नज़र आयी, बापू ने अपना मुँह जल्दी से उस मुलायम पेंटी पर रख दिया और चाटने लगा.तो वो भी कामुक आवाजें करते हुए मेरी चुचियों को मसलने लगे, जिससे मैं और ज्यादा उत्तेजित होने लगी.

कहां निकालूँ?”मैं कुछ भी बोलने के मूड में नहीं थी, मैं सिर्फ आंखें बंद कर के आनन्द ले रही थी. सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ उस दिन गर्मी ज़्यादा होने के कारण वो अपनी मैक्सी घुटने तक करके बैठी थीं.

मैं उसके साथ उठकर अन्दर गयी और कहा- बोलो?उसने कहा- कल आप यहाँ कुछ अलग सी ड्यूटी कर रही थीं.

सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ?

एक बेटा तो शरीफ लगता है लेकिन जिसकी बॉडी भरी हुई है, वो मुझे थोड़ा बेशर्म लगता है. तू वन्द्या बिल्कुल चिंता मत कर, हम तुझे मौका मिलते ही चोद दिया करेंगे. अब हम दोनों फ़ोन पर भी बहुत देर तक बातें किया करते थे और हंसी मज़ाक किया करते थे.

जब भी मेरे घर पर कोई नहीं रहता, हम मौका देख कर चुदाई का मजा ले लेते. दोस्तो, मेरा नाम मकबूल खान है और मैं आपको आज अपना सेक्स अनुभव बताने जा रहा हूँ. मुझे ताज्जुब हो रहा था कि निशा किसी आदमी की गोद में कैसे बैठ सकती थी.

इसलिए आगे से मैं तुम्हारी चूत की पूरी सेवा करूँगा और तुम मेरे लंड की किया करना. अरुण- क्या आप जॉब करती हो?आशिना- जी हां मैं सिटी प्लेस के पीछे एक ब्यूटी पार्लर है, उसमें काम करती हूँ, और आप?अरुण- मैं भी एक प्राइवेट बैंक में काम करता हूँ. वो तो यूं धत्त कह के निकल लीं, जाने से पहले एक बार मुस्कुरा के कातिल निगाहों से मुझपर एक भरपूर वार किया और कूल्हे मटकाते हुए चलीं गयीं और मैं उनके थिरकते नितम्ब ताकता रह गया.

मैंने धीरे से एक निप्पल चूसा तो दीदी ने आहह भरी- सतीश, प्लीज़ रहने ना कुछ हो रहा है, आहह… आह. मैं तो चुदास से पागल हुआ जा रहा था और अपनी कमर को आगे पीछे करने में लगा था.

नौ बजे मैंने मम्मी से कहा- मुझे आज मेरी फ्रेंड की सिस्टर की सगाई में जाना है.

कमरे में आने के बाद मैं सोफे पर बैठ गया और उसको मैंने कहा- नीचे कालीन पर बैठकर मेरे लंड को चूसो.

तो वो बोला- दिखाओ चुत को फैला कर?जैसे ही उसने चुत आगे की उसने झट से अपना मुँह उस पर मारना शुरू कर दिया. गोरे गुदाज़ बूब्स सुनहरे भूरे निप्पल… उफ़!वो अभी भी होश में नहीं आई थी. वो मेरी कुर्ती को निकालने को बढ़ा और पीछे से मेरी कुर्ती के हुक को खोलने लगा.

तभी पीछे का दरवाजा खुला और मेरी मल्लिका, मेरी कामदेवी, मेरी मधु बाहर आयी. मुझे विचार आया कि साला बूढा सच में निशा की चुत में लंड घुसा कर चोद रहा था. बापू का अंडरवियर आधा ही निकला, क्योंकि ऊपर वाला हिस्सा तने हुए लंड पर अटका हुआ था.

मैं अब सुरेश के बारे में सोचता था कि सुरेश अपनी फैमिली से दूर हैं तो उन्हें भी रात को उनके पत्नी की याद आती होगी.

उसके बाद मैं वहीं बाहर उसका वेट करने लगा और वो जैसे ही आयी, तो उसका बच्चा मुझे देख कर हैलो बोला और मम्मी को रुकने के लिए बोलने लगा. मैंने ऑफिस से छुट्टी ली और अपने दोस्त को बोल दिया कि मैं उसके रूम पर आ रहा हूँ. जब बात गाँवों के मर्दों तक पहुंची, तब सबने खुल्लम खुल्ला यह कह दिया कि पद्मिनी को उस टीचर ने चोदा है.

मैंने अपने लिए और अपने बुआ के बेटे के लिए चाय बनाई और अपने बुआ के बेटे से पूछने लगी कि मम्मी और बुआ कब तक आएंगी, कुछ मालूम है?बुआ का बेटा बोला कि वो लोग तो देर रात तक ही आएंगी. जिन्हें मैं अपना शरीर सौंप कर उनके लंड की और मेरी गांड की शान्ति पा सकूँ. अब फिर उसने मुझसे कहा कि मेरे इस व्हाट्सैप नम्बर पर कभी भी कॉल मत करना.

मैंने मधु से कहा- अब तो तुम्हें किसी के देखने की या कोई आने का तो डर नहीं ना?ऐसा बोल कर मैंने पीछे देखा तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं.

उसी वक्त मुझे उसका फूलता हुआ लंड अपनी चूत से टच करता हुआ महसूस हो रहा था, लेकिन मुझे डर भी था कि कहीं मेरा भाई ना आ जाए. विक्रम ने देखा कि अब मयूरी का दर्द थोड़ा कम हो रहा है और उसकी आवाज़ में दर्द की जगह आनन्द की सिसकारियां ले रही हैं.

सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ हाय दोस्तो, मेरा नाम एजाज़ है, मैं इंदौर का रहने वाला हूँ और अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ. जब खाना आया तो खा पी कर फिर से उसने मुझे जकड़ लिया और बोला कि आज ना छोड़ूँगा मैं तुमको, चाहे तुम कुछ भी कहो.

सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ पर यह बता दो कि तुम्हें मजा आया कि नहीं?तो मैं बोली- तुम दोनों को थैंक्स तुम दोनों की वजह से मुझे बहुत मजा मिला. लगभग सारे लोग ट्रेन में सो गए थे, कुछ एक दो लोग जागे हुए थे लेकिन जो लोग जागे हुए थे वे ऊपर वाली सीट पर थे और एक मैं ही जागा हुआ नीचे वाली सीट पर था.

दोस्तो, क्या बताऊँ कितना मस्त था वो उसकी आँखें, उसके होंठ, पूरा का पूरा ही बिल्कुल वरुण धवन जैसा दिखता था.

बीपी बीएफ देसी

मुझे उसके खड़े लंड का एहसास हुआ तो महसूस किया कि उसका लंड अपनी हरकत में आने लगा था. ज्यादातर लड़कियां अपनी चुदने की इच्छा यूं ही अपने गाँव शहर से बाहर शादी ब्याह में, छुट्टियों में नानी के यहां, किसी अन्य रिश्तेदारी में या किसी ऐसे ही सुरक्षित माहौल में पूरी कर लेती हैं. वो शीतल की चूचियों का कोमलता का अहसास तो कर पा रहा था पर कुछ प्रतिक्रिया नहीं कर पा रहा था.

मैं ही जोर जबरदस्ती करके उसके मुँह पर अपनी चूत रगड़ कर अपना पानी निकाल देती थी. थोड़े से बच्चे बाहर हॉल में बैठे थे और बृजेश उन्हें कुछ पढ़ा रहा था. मैं सीट में बैठ गया और निशा, उस गाड़ी में एक चालीस साल की औरत थी, उसकी गोद में बैठ गई.

क्योंकि तुझे दो मर्दों की जरूरत है, तू तो पागलपन कर देने वाली हद पार कर गई है.

यह कहकर उसने मुझे वापस लिटा दिया और साड़ी उठाकर मेरी पैंटी निकाल दी. फिर मैं उसको बिना बताए उसकी चुत में लंड डालकर तेज तेज झटके देते हुए चोदने लगा. जैसे ही मैंने लंड हाथ में पकड़ा, सर ने मेरी मुट्ठी में पकड़वा कर उसे रगड़वाने लगे.

शिवदयाल जी का लंड… असल में यह स्टोरी मेरी माँ और शिवदयाल जी की है और काफी हद तक … काफी हद तक क्यों बोलूँ … बिल्कुल सौ प्रतिशत रीयल है. मैंने दरवाज़ा खोला तो शॉक रह गयी क्योंकि सामने एक बैग लिए एक लड़का खड़ा था, उसने मुझे विश किया और अपना नाम विक्की बताया. वो बाथरूम में अन्दर आ गए और उन्होंने मुझे कसकर अपनी बांहों में लिया.

करीब दस-पंद्रह मिनट बाद लगा कि अब कंट्रोल करना मुश्किल है तो अपना हाथ सामने दीवार पे मारने लगा और जैसे ही मेरे लंड का फव्वारा छूटने का हुआ तो मेरा हाथ सामने के शावर के हैंडल पे चला गया और उसको कसके पकड़ लिया. मेरी सास उस वक़्त पूरी तरह नग्न अवस्था में मेरे सामने की तरफ होकर खड़ी थीं और उनके गीले बाल बिखरे हुए थे.

एक हाथ से मेरे निप्पल को रब कर रहा था, तो दूसरा हाथ मेरी पेंटी पर घूम रहा था. लेकिन उसके भाई ने उसका एडमिशन गर्ल्स कॉलेज में करवा दिया था, तो मैं वहां जा नहीं सकता था. विक्रम ने अपना लंड मयूरी के मुँह में डालकर उसके मुँह की चुदाई करने लगा.

मैंने कहा- कहां जा रही हो?तो उसने बताया कि वो एक स्कूल में पढ़ाती है और टेम्पू का इंतज़ार कर रही है.

ये बात समलैंगिक और गैर समलैंगिक सभी नौजवानों पर लागू होती है।मैं अन्तर्वासना की टीम का आभारी हूं जो ये संवदेनशील और सच्ची कहानी उन्होंने पाठकों तक पहुंचाने में मेरी पूरी सहायता की। ईश्वर उनको लम्बी आयु दे…मैं अंश बजाज. मैंने कहा- तू घर से भाग जा!लेकिन उसके भाई की मौत के बाद उसके घर का सारा बोझ और खर्च उसके ऊपर आ गया था इसलिए वो घर वालों को अकेला नहीं छोड़ सकता था. काफी देर तक इन्तजार के बाद हम दोनों ने ये तय किया कि सड़क के रास्ते चला जाए.

मैं कभी उसके लौड़े को चूसती, तो कभी उसकी गोटियों पर जीभ घुमाती, तो कभी उसकी गांड के छेद में जीभ घुमाती. अब मेरे बदन में वही सब होने लगा, जो पीयूष और लालजी के साथ करने में हो रहा था.

उस वक़्त हमारे कॉलेज में एक नया लड़का आया, उसका नाम हरीश था हरीश और मेरी पहले से बिल्कुल भी नहीं बनती थी क्योंकि वह कुछ ज्यादा ही एटीट्यूड में रहता था. जब हमारी व्हॉटसैप की बातें सेक्स तक पहुंची और मैंने जान लिया कि एक ना एक दिन विकी से चुदना तो तय है. वो तभी मेरा एक दोस्त आ गया और हम वहीं सड़क पे ही खड़े खड़े बात करने लगे.

हिंदी इंडिया बीएफ

दरअसल मैंने जब कॉलेज में एडमिशन लिया था, तो वहां कुछ दिनों के बाद मैं एक दोस्त के रूम पर गया था.

फिर मैंने उन्हें पूछा कि आपके हस्बैंड क्या करते हैं?तो उन्होंने कहा कि वे बिजनेस करते हैं. अब चाची पर सेक्स का पूरा नशा सवार था, वो वासना से बस आह आह की आवाज निकाल रही थी और मुझे बार बार चोदने का बोल रही थी। लेकिन मैं उसको थोड़ा जानबूझ कर तड़पाना चाहता था. जैसे ही मैंने अपना टॉप उतारा तो पीयूष मेरे सामने खड़ा हो गया और बोला- वन्द्या तुम पूरी हीरोइन लगती हो, मैंने टीवी में भी इतनी मस्त लड़की नहीं देखी है.

मैंने अनीता दीदी को जल्दी से कपड़े पहनने को बोल दिया दीदी फटाफट कपड़े पहनने लगीं. अब मैं क्या करूँ…” मैं सोच में पड़ गयी, ‘बिना नहाये स्कूल में कैसे जाऊँगी?’ मैंने अपने आप बड़बड़ाते हुए बोली।क्यूं न मैं पापा के बाथरूम को यूज कर लूं!” मुझे यही ठीक लगा।मैं अपने कपड़े उठा कर पापा के बाथरूम पहुँच गयी और अपने कपड़े उतार कर बाथ लेने लगी. गांव के देसी सेक्सीमैंने उसके गदरायी जवानी पर किस करना शुरू कर दिया और उसके मम्मों को एक हाथ से दबा रहा था.

अपने हज़ूर के दरबार में जाने से पहले बहुत सी तैयारी करनी पड़ती है, जिसके लिए समय होना चाहिए. कोमल भाभी की नज़र मेरी पैंट पर बने टेंट पर गई और वे दोनों हंस पड़ीं.

पद्मिनी अपने हाथों को अपनी पेंटी पर दबाया था और वो बापू को वहां नहीं छूने दे रही थी. मेरे पीछे लगे एक लड़के को बोल कर में गेट के पास की कैंटीन में पानी पीने चला गया. फिर वो धीरे से मेरे गाल पर हाथ घुमाने लगा और मैं उसकी प्यारी सी गुड़िया बन कर उसकी बाँहों में खेलने लगी.

उन सभी पाठक पाठिकाओं का आभार जिन्होंने मेरी कहानी को सराहा और अपने सुझाव भी दिये. आज भी मैं उसे मिस करता हूँदोस्तो, मेरी ये ट्रेन सेक्स की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं. वो बोला- तबस्सुम को तो मेरे लंड से जल्दी छुटकारा मिल गया, मगर तुम्हें नहीं मिलेगा.

उन्हें जैसे करंट सा लगा, उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझसे लिपट गयी, उनका गोरा बदन सुर्ख लाल हो गया था.

और हम टहलते टहलते थोड़ा दूर एक सुनसान सी जगह पर आ गए। अब न तो डी जे का शोर हमें तंग कर रहा था और ना पंडाल की रोशनी का कोई डर!मैंने सोनू को जोर से आलिंगन में भर लिया और कई देर तक हम यूं ही खड़े रहे। एक दूसरे को अपनी गर्मी से सुकून देते रहे। हमें न ठंड लग रही थी और न काली रात का डर. कुछ देर तक मैं स्तब्ध सा उसकी रेशम जैसी चिकनी मुलायम टांगों की सुंदरता आँखों में बसाता रहा, फिर रेखा को हौले से उठाकर उसकी शमीज़ भी उतार डाली.

मैंने उसके लंड को पकड़ के बाहर निकाला तो काला मोटा 8 इंच का लंड देखकर शॉक रह गयी. थोड़ी देर बाद तबस्सुम चुद कर मेरे कमरे में आई और बोली- अब हम अपना पार्ट्नर बदल लेंगे. शांत होने के बाद रमिता बोली- आप चिन्ता ना करो, आजकल में ही मैं आपको मेरी और अशोक की चुदाई का लाइव टेलीकास्ट दिखाती हूँ और फिर जल्दी ही आपकी चुत के लिए भी एक मोटे लम्बे लंड का इंतजाम करती हूँ.

मुझे लगा कि शायद अब मुझे मौका मिलेगा लेकिन मेरे इरादों पर पानी फिर गया. मैंने धीरे से अपने लंड को हाथ से पकड़ कर पीछे से उसकी गांड की दरार में रखा और एक हल्का सा धक्का मारा. इतना बोला ही था कि मनोहर के लंड से गरम गरम पिचकारी लंड रस की निकलना शुरू हो गई.

सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ मैंने अपना लंड एकदम टाइट किया और थोड़ा तेल लगा दिया और उसकी गांड पे भी लगा दिया और धीरे से अन्दर डाला तो उसकी चिल्लाने की आवाज़ आने लगी. मेरी सास उस वक़्त पूरी तरह नग्न अवस्था में मेरे सामने की तरफ होकर खड़ी थीं और उनके गीले बाल बिखरे हुए थे.

इंग्लिश सेक्सी वीडियो एचडी बीएफ

तो बापू हँसते हुए अपनी गांड को ऊपर उठा दिया और पद्मिनी ने उसके पेंट को निकाल कर ज़मीन पर फेंक दिया. फिर मुझे ऊपर खींच कर मेरे होंठों पर किस करके खुद अपनी बुर के रस का स्वाद लेने लगीं. पूरे रूम में हम दोनों की साँसों की आवाज गूँज रही थी, चुदाई पूरे जोरों पर थी.

वो बोला- तुम वन्द्या बहुत मस्त माल हो, आज से वन्द्या, तू मेरी बीवी हो गई हो है. इसके साथ वो मुझे इतनी गंदी गंदी गालियां और बातें बोल रहा था कि मेरे होश और जोश दोनों में बिल्कुल आग लग रही थी. बीपी साडीशायद मौसम की वजह औऱ खड़ा लंड देखकर भाभी का भी मूड हो गया और उन्होंने मन बनाते हुए हां में सर हिला दिया.

इस तरह से चुदाई होने के बाद में वो बोला- अब तो पहले डिनर करेंगे, फिर बाद में दूसरा राउंड शुरू होगा.

पर अब उसने अपने लंड की स्पीड एकदम से बढ़ा दिया और मेरे मम्मों को पूरी ताकत से दबाता और चूसता हुआ लंड पेले जा रहा था. मैं मुँह से उसका लौड़ा चूसते चूसते उसकी गांड के छेद पर उंगली घुमा रही थी.

उसने पूछा कि रूम क्यों बुक कराया है?मैंने कहा- मैं थक गया हूँ, थोड़ा आराम करके चलेंगे. उसने अपने कपड़े पहने और मुझे गुडबाइ किस किया, बोली- ऐसा नहीं होना चाहिए था. एक मस्त औरत के मुँह से चुदाई की बात सुनकर तो मैं सातवें आसमान पर उड़ने लगा और अगले ही पल मैंने अनीता दीदी को अपनी बांहों में भर लिया.

जो एकदम से ऐसा सोच रही हो?मैंने उससे कहा- देखो हमें सच्चाई के धरातल पर रहना चाहिए.

अब उन्होंने ड्रावर अपना कार्ड निकाला और उसके पीछे अपना पर्सनल नम्बर लिख कर मुझे दे दिया. फिर मैंने उसको अपना नम्बर दिया उसने मेरा नाम पूछा, तो मैंने कहा मेरा नाम यश है. झड़ जाने के बाद उन्होंने अपना जिस्म पूरी तरह से मेरे हवाले कर दिया था.

भाई बहन का भोजपुरी सेक्सी वीडियोमैं- ओह शबनम भाभी, लव यू भाभी, लव यू सो मच भाभी, आई वान्ट टू लव यू, आई वान्ट टू किस यू भाभी, आई वान्ट टू फक यू भाभी, वान्ट टू फक योर पिंक पुसी, वन्ना फक योर ऐसहोल. कुछ दिन बाद मेरी माँ अपने गाँव जा रही हैं, फिर हम दोनों मेरे घर पर ही मिल लेंगे.

गांव की लड़की के साथ बीएफ

धीरे धीरे उन्होंने अपनी उछलने की स्पीड बढ़ा दी और कुछ ही देर में अकड़ने लगीं. उसका ऐसा करना मुझे आज भी याद है और जब जब ये सीन याद आता है, मुझे काफी रोमांचित कर देता है. फिर मैंने उसके कपड़े खोल कर उसको ड्रेस पहना दी और उसको किस करते हुए बेडरूम तक आ गये.

अब उसका मुंह मेरी तरफ था और मेरी गांड उसके मुंह की तरफ मुझे नींद नहीं आ रही थी और ना ही प्रीति सो रही थी. और जो नहीं समझा है उन्हें मैं बता दूँ कि जवान लौंडों की सौ में नब्बे टाइम दारू की पार्टी ही होती है. वह भी जानबूझकर पीछे की तरफ सरक रही थी और मैं समझ गया कि यह मौका है बेटा विकी…मैंने एक्टिवा को साइड में लगाया और आंटी को बोला- दो मिनट इंतजार कीजिए!और वहां से दूर फुटपाथ पर साइड में पेशाब करने को गया.

फिर क्या, वो फिर से उसी क्लब में पहुँच गयी, लेकिन इस बार उसने अपनी एक्टिवा के बैक मिरर से मुझे उसके पीछे आते हुए नोटिस कर लिया था. उसने मेरे लंड और आंडों को क्रीम से भर कर बाकी का केक बाजू में रख दिया. उस दिन मेरा भाई और माता जी रिश्तेदारी में गए हुए थे और वो शाम से पहले आने वाले नहीं थे.

ऐसी हसीन औरत उस दिन मेरे साथ उस हालत में थी, ये तो बस मेरा नसीब ही था. इसी बीच मेरा एक हाथ काजल, जो कि बाजू में सोई हुई थी, उसके चूतड़ों पे चला गया.

एक ही औलाद होने के कारण छोटी उम्र से वह अपने पिता के साथ ही सोती थी.

बापू ने एक मिनट अपनी पद्मिनी को उसके गले से छाती पर देखते हुए, पेट के ऊपर अपने नज़र को रोक कर. सेक्सी हिंदी में नेपालीउसके हाथ जो मुझे दूर धकेलने की कोशिश में मेरे पेट पे थे, ढीले पड़ गये. बीपी सेक्सी हिंदी शॉर्टतभी पीयूष ने पूछा- वन्द्या मौसी, आप यह बताओ कि यह होगा कैसे? ये दोनों कैसे यह करेंगे?तब मैं बोली- पीयूष, चलो मैं तुम्हें सब सिखा देती हूं. लंड को चूत में डालने पर कोई परेशानी नहीं हुई क्योंकि कोमल की चूत पहले ही पानी पानी हो रही थी.

मामा मम्मी की चूत चाट रहे थे उस दूसरे आदमी ने अपना लौड़ा मम्मी के मुँह में दे रखा था और मम्मी एकदम जोश में भरी हुई उसके लौड़े को आंखें बंद करके चूस रही थी.

मैंने ज्यादा बात करनी सही नहीं समझा कि कहीं वो सोचने ना लगे कि चेप हो रहा है. मैं कलसी पहुंच गया क्योंकि मेरी ससुराल वहीं थी, तो नहाया और नाश्ता आदि किया और 9 बजे ही वहां से बाइक लेकर चकराता निकल गया. ये सुनकर मैं बहुत खुश हुआ और बोला- ये भी कोई पूछने की बात है, मैं आंटी का पूरा ख्याल रखूँगा.

फिर हम दोनों यूं ही मस्ती करने लगे और ऐसे ही 10 मिनट के बाद हम दोनों गर्म होने लगे और फिर 69 में आ गए. खैर यही सोचते सोचते मैं सो गया और सुबह 10 बजे सो के उठा तो मैंने मोबाइल चैक किया तो मुस्कान की 2 मिस कॉल लगी थी. अब हम रोजाना बातें करते थे, जब बातें नहीं होती थी तो कुछ भी अच्छा नहीं लगता था.

गर्भवती महिला का बीएफ

मुझे लगा कि शायद अब मुझे मौका मिलेगा लेकिन मेरे इरादों पर पानी फिर गया. पम्मी- क्या कर रहे हो?निक्की- क्या हुआ?पम्मी- इसमें तो सब्र नहीं है यार. मैंने भी अपने अमृत की एक एक बंद उनकी चुत में डाल दी और मेरा लंड अपने आप छोटा होकर धीरे धीरे बाहर आ गया.

मुझे अपनी कसम है और मम्मी की कसम है अगर इसमें से लिखा एक शब्द भी झूठ हो.

स्मिता- अच्छा अब ध्यान से सुन, अपनी माँ को शॉपिंग पे लेकर जाना और कुछ मॉडर्न ड्रेस दिलवाना! और जब वो उन ड्रेस को ट्राई करने जाये तो उसको छोटे साइज की ब्रा पेंटी लेकर देना और उनको भी ट्राई करने को बोलना, शायद वो मना कर दे तो जिद करना… अगर उसने ट्राई की तो वो जरूर बोलेगी क़ि ये छोटी हैं.

मनोरमा ने गीता को समझा कर कहा कि अपने घर पर फोन कर दो कि मैं एक सप्ताह के लिए कम्पनी के काम से बाहर जा रही हूँ. मेरी मां बड़ी ही सीधी हैं, वह सिर्फ अपने काम से मतलब रखती हैं और कॉलोनी में ज्यादा इधर उधर नहीं जाती हैं. देसी सेक्सी वीडियो हिंदी देहातीएक दिन बॉस ने जिसने मुझे कहा था कि मैं तुम्हारी सहायता करूँगा, उसी बदले के लिए तो उसने मुझे रात को बुलाया.

उसने किसी से फ़ोन करके पूछा- देखो जो नौकरी कुछ दिन पहले निकाली थी, उसमें कोई इस नाम की लड़की की एप्लिकेशन आई थी क्या?कुछ देर बाद उसका फोन आया और बोला- जी हां सर, आई हुई है. फिर धीरे धीरे उसकी चुत में आहिस्ता आहिस्ता लंड को डालने लगा, जिससे उसको मालूम नहीं चला क्योंकि उसकी बुर पानी बहुत छोड़ रही थी. अब मैं उसकी दोनों टांगों के बीच आया और अपने लंड को उसकी चूत के मुँह पर रख कर सहलाया.

मैं कॉलेज जाती हूं तो मेरा भाई छोड़ने आता है, लेने भी मुझे कॉलेज में आ जाता है. जब मैं उसके निप्पलों को दांतों के बीच दबाकर खींचता, तो वो जोर से मेरा लंड अपने हाथों से दबा देती.

हमारा मुँह आमने सामने होने से हमारी सांसें एक दूसरे को महसूस होने लगी.

तुम्हें सब पता है और मुझसे पूछे बिना तुम अपने दोस्त से मेरी चुत दिलवाने और मेरे साथ सोने का वादा कर आए. उस समय सुजाता के घर में टी वी नहीं था तो वो देखने के लिए मेरे ही घर आती थी।एक दिन रविवार को वो मेरे घर टी वी पर उसका फेवरेट सीरियल देखने के लिए आई थी. उसने उसी पल अपना मुँह ऊपर उठाकर मुँह खोला और आवाज निकाली- आ… आ…हा… ओह… अम… गई…फिर वो मेरे सीने पर गिर गई, गिरते ही वो तीन बार थरथराई.

ब्लू पिक्चर सेक्सी बताएं इसलिए उसने मुझसे कहा कि उसे उसके दोस्त ने एक फ्लैट दिलवा दिया है और वो वहीं शिफ्ट हो जाएगा. मैंने अपनी बहन की ब्रा में से एक चुचे को बाहर निकाला और उसे मुँह में लेकर चूसने लगा और दूसरे को हाथ से दबा रहा था.

थोड़ी देर ऐसे ही रहने के बाद उसने अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाला. उसकी उम्र 27 साल है और उसकी शादी उसके ज्यादा उम्र वाली लड़की से हो चुकी है. फिर?”सुनीता- अब अंकित जी ने मुझे उनका लंड चूसने का इशारा किया तो मैंने उनके लंड को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया.

बीएफ चोरी

दीदी ने जल्दी से मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और लपक के चूसने लगीं. बेड पर सबसे पहले मैं, फिर मौसी, फिर दोनों बच्चे लेटे, बच्चे जल्दी ही सो गये, मैं और मौसी ऐसे बातें करने लगे जैसे एक रात पहले हमारे बीच कुछ हुआ ही नहीं था. मैंने कहा- आज कर भी लो!फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गई और एक दूसरी की चूत को चूसने लगी.

दस मिनट की चुसाई के बाद मैं झड़ने वाला था, मैंने कहा- रस निकालूँ?तो उसने कहा- हां मेरे होंठों पर निकाल दो. उस दिन आंटी लोग के बारे में एक बात समझ आई मुझे कि उनके हस्बेंड आते हैं 2-3 मिनट में पानी गिरा कर सो जाते हैं.

अगर तुम्हें कोई प्राब्लम हो, तो उसके लिए एक कमरा किसी अच्छे होटल में बुक कर देना.

मैं उसकी मनःस्थिति को चुपचाप ताड़ रहा था; जरूर वो बेचारी हिंद्लिश … आधी अंग्रेजी आधी हिंदी … में गिटपिट करती उन मॉडर्न तितलियों से तालमेल नहीं बैठा पा रही थी और शायद इसी कारण हीन भावना या इन्फीरियरटी काम्प्लेक्स से भी ग्रस्त दिखती थी. अगर आपको कामुकता से भरी देसी लड़की की चुदाई की मेरी कहानी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल जरूर करना. ऐसा ही चलता रहा, एक दिन रवि की रात को तबियत खराब हो गई तो भाभी ने तुरंत मुझे फ़ोन लगाया.

फिर हमेशा की तरह आंटी आगे आई और मैं एकदम पीछे से चिपक कर बैठा उनकी गांड से… और वो तो हमेशा की भान्ति टाइट वाली लेगी पहनी थी. मेरे सिर को पकड़ के मेरे मुँह में धक्के देने लगे और उसी धक्कों के साथ मेरे मुँह में झड़ गए. मैंने फिर उनके होंठों को छोड़ कर जोर जोर से उनके गालों को चूमना शुरू कर दिया और अपने बदन को उनके बदन पर रगड़ना शुरू कर दिया.

मैं जहां में रहता हूँ, वहां से नजदीक ही है, लेकिन एक साल बाद मेरा तबादला वाशी कर दिया गया और उसके कुछ दिन बाद मुझे थाने ऑफिस में आ गया.

सेक्सी बीएफ चाहिए हिंदी में सेक्सी बीएफ: अब वो पागल होने लगी, बोलने लगी- अब बर्दाश्त नहीं होता, प्लीज जल्दी से अंदर डाल दो न!मैं उठा और जूही को खींच के अपने लन्ड तक ले आया और उसके ऊपर लेट कर उसे किस करने लगा और लन्ड को उसकी चूत पर रगड़ने लगा। मेरे लन्ड अंदर न डालने के कारण वो अपनी गांड से ऊपर की तरफ झटका मारने लगी और लन्ड अंदर लेने की कोशिश करने लगी. लेकिन अब हम दोनों को जब भी चुदाई का मन करता है तो हम खूब चुदाई का मजा लेते हैं.

फिर मैंने प्रीति के गाल पर किस लिए फिर होठों पर लगभग 1 मिनट किस किया. बापू उस वक़्त जब वो पेंट से अपना लंड निकाल रहा था, तब ऊपर पद्मिनी को चूमते और चाटते जा रहा था. मयूरी मन में ही सोचने लगी ‘देखो, जो भाई सुबह तक एक दूसरे से बात तक नहीं कर रहे थे वो अभी एक दूसरे का लंड चूसने को भी तैयार हैं…’रजत अपने लंड को अपने भाई के मुँह में महसूस कर के बहुत ही ज्यादा आनन्द ले रहा था.

दोस्तो, मैं अपनी अगली कहानी जल्दी ही लिखूंगा कि कैसे मैंने सोनम को उसके घर कैसे चोदा और सोनम की फ्रेंड को सोनम के साथ कैसे चोदा.

इधर काम करते हुए मुझे लगभग दो साल हो गए थे और मैं घर के मेंबर जैसा ही हो गया था. इस तरह से कोई एक घंटे तक मनोज ने लगातार बार बार शहद लगा कर मेरी चूत को चूसा, जिसका नतीजा यह हुआ कि मेरी चूत के दोनों होंठ फूल गए. करीब दस पंद्रह धक्कों में मैं भी झड़ गया और उसी के नंगे बदन के ऊपर लेट गया.