हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ

छवि स्रोत,2022 की अमावस कब है

तस्वीर का शीर्षक ,

चूत चुदाई सेक्सी पिक्चर: हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ, रेखा रानी थोड़ी हिली डुली तो, लेकिन ‘क्यों तंग कर रहे हो?’ मुनमुना कर फिर सो गई.

टंकोच सेक्स स्टोरी

मैंने उनकी दोनों टांगों को फैला कर एक पैर को अपने कंधे पर डाला और अपना साढ़े छह इंच का लंड उनकी चूत पे लगा कर एक ज़ोर का धक्का दे दिया. ब्यूटी प्लस meसुजाता भाभी ने मुझे 2000 रूपये दिए और बोली- 1000 रूपये हिमानी की महीने की एडवांस फीस और 1000 रूपये मेरी आज की ट्यूशन फीस.

उस दिन छत पर जब वो कुतिया बना कर मुझे पेल रहा था, तो उसने अपना सारा माल मेरे अन्दर ही डाल दिया था. इंडियन फुल सेक्स वीडियोकरीब 15 मिनट बाद अंजलि का पानी झड़ गया और वो वही बेहोशी जैसे होकर वहीं नंगी ही सो गयी.

तो मैंने उसे नाम, जगह और संबंधित एक्टिविटीज बदल कर सुना दी, जिससे गौसिया की आइडेंटिटी कहीं से भी जाहिर न हो।वह मुतमइन हो गयी.हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ: पन्द्रह मिनट तक लंड चुसवाने के बाद मैंने दोनों को उठाया और दोनों को आपस में किस में लगा कर उनकी कमर में हाथ डाल कर, उनके 36 साइज़ के चारों मम्मों को मसलते हुए चूसने लगा.

अब तक आपने भाई बहन की चुदाई की कहानी ले पहले भागट्रेन में भाई ने बहन की चुत को चोदा-1में जाना था कि मेरे भाईजान से चुदने के लिए मैं खुल चुकी थी और मैंने उनको कह दिया था कि मुझे चोद दीजिए.वो न्यू ईयर के बहाने अपने भइया के घर यानि मेरे जीजा के घर आ गई और इधर मैं अपने घर पर कालेज टूर का बहाना करके दीदी के घर पर अचानक पहुँच गया.

డబ్ల్యూ డబ్ల్యూ సెక్స్ డాట్ కాం - हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ

मैं तो देखते ही घबरा गया कि इतना मोटा ओर बड़ा लंड दीदी कैसे अपनी चूत में लेती होंगी.मेरी इस हरकत से वो पागल सी हो गई, उसने मेरा चेहरा अपनी दोनों जांघों के बीच में दबा दिया.

मैंने उसकी दोनों बाजू पकड़ी और उसे अपनी ओर खींचा, धीरे से उसे किस करते बोला- आई एम फॉलिंग इन लव विद यू!उसने बोला- डोंट… इट विल ओन्ली हर्ट अस बोथ. हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ चूचियों को दबवाते हुए चुत को चटवाने का मज़ा मुझे जन्नत की सैर करा रहा था.

सुकन्या जी ने अपना पता वगैरह सेंड करके बता दिया और साथ ही साथ गाड़ी या बाइक लाने के लिए भी मना कर दिया था.

हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ?

भाभी ने मेरी आँखों में झांकते हुए कहा- मुझे सिर्फ तुम्हारा प्यार चाहिए, बेहिसाब प्यार और हमारे बारे में किसी को पता नहीं चलेगा. मुनिया में तो बस पानी जैसा पेशाब ही निकलता है।वह हंसने लगी- अब बड़ी हो जा लाडो… वह जवान होने से पहले तक निकलता है। जवान होने के बाद पेशाब और रस दोनों निकलता है. प्रेरणा मुझे घूरे जा रही पी और साथ में कातिलाना स्माइल भी दे रही थी.

कुछ दिन हम दोनों की चुत को कोई खुराक नहीं मिली, तो लंड के लिए तड़फ गईं. उन्होंने मुझे कौतूहल भरी दृष्टि से देखते हुए कहा- कैसी लग रही हूँ?मैंने उसे ऊपर से नीचे तक देखते हुए कहा- जैसे उस दिन नूरे मल्लिका लग रही थीं, वैसी ही आज भी लग रही हो. अब मैंने रोज़ भाभी के घर जाना शुरू कर दिया और भाभी भी मुझसे खूब हंस हंसकर बातें करने लगी थीं.

मैंने मौका ना गँवाते हुए अपनी बाइक थोड़ी पहले ही रोक दी और फोन निकाल कर बात करने लगा. थोड़ी देर बाद मैंने सोचा कि क्यों ना क्लास में चलकर थोड़ा मैथ पढ़ लूँ. मैंने उससे अपनी प्रॉब्लम बता कर कहा- मुझे तुमसे दो तरह की सहायता चाहिए.

मैंने उसको कस कर बांहों में भर लिया और दुबारा मिलने का वादा कर लम्बा सा चुम्बन उसके होंठों पर कर दिया. उनके जाने के बाद मैंने अपने लंड को हाथ से समझाया और उसका पानी निकाला.

मैंने देखा कि दरवाजे में जरा सी झिरी थी, उसमें से देखा तो मॉम एकदम नंगी होकर फव्वारे के नीचे बैठी हुई अपनी चूत में उंगली कर रही थीं.

हमारी गर्म साँसें मुझे और भी गर्म कर रही थीं, अब मुझसे कंट्रोल करना मुश्किल था.

काफी देर बापू के लंड को चूसने के बाद पद्मिनी बोली- बापू मेरा मुँह दुःख गया. फिर उसने अपने मुंह से थोड़ा सा थूक निकल कर अपनी उँगलियों पर लगाया और उससे मेरे प्यार की गांड के छेद को तर कर दिया, फिर अपने सांप की छतरी जैसे चौड़े टोपे को मेरी धर्मपत्नी कि गांड से भिड़ा कर जोरदार धक्का मार दिया. वे मुझे आँख मार कर पूछने लगीं- क्या हुआ सत्यम?मैं कुछ नहीं बोल सका बस झेंप कर रह गया.

पद्मिनी आइने में से ही बापू को देख कर थैंक्स कहने के लिए मुस्कुरा रही थी. पद्मिनी उठकर अपनी चूत देखने लगी, क्योंकि उसे वहाँ जलन सी हो रही थी. उस समय मेरा एकमात्र पुत्र अंकुश केवल बाईस साल का था, वह अपनी बी टेक की पढ़ाई पूरी कर चुका था और एक स्थानीय आई टी कम्पनी में ही जॉब कर रहा था.

इस बार उन्होंने अपना मंगलसूत्र अपने दांतों के बीच दबा लिया और बेड की चादर अपनी मुट्ठियों में कस के पकड़ ली और दांत भींच लिए.

मालिश करते करते मैं अपना हाथ उसकी पैंटी में घुसा देता और उसकी गांड को अपनी हथेलियों से छू लेता. नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम प्रशांत जैन है, मैं जमशेदपुर झारखंड का रहने वाला हूं. तो उसने बोला कि पहले विश का रिप्लाई तो दो।मैंने उसे गुस्से में देखा और उसको बाथरूम साइड आने को बोला क्योंकि दोनों बाथरूम अगल बगल थे और दोनों का वाशबेसिन एक ही था।मुझे पता नहीं उसने मेरे गुस्से का क्या मतलब समझ पर वो मेरे पीछे बाथरूम साइड आने लगी।उसके आते ही मैंने उसे पकड़ के जोर जोर से किस करना शुरू कर दिया.

एक दिन में बिंदु के पास जा रही थी तो उसके कमरे से कुछ अजीब से आवाजें सुनाई पड़ीं, जैसे कि आह. पहली रात को तो इतना कुछ नहीं हुआ, बस मैंने उनको बाथरूम में नहाते हुए देख लिया था. लेकिन दारू के नशे के कारण हमारी नींद नहीं खुली!खैर हमारे लिए तो बढ़िया ही था तो हम सुबह नाश्ता वगैरह करने के बाद प्लान बनाने में लगे हुए थे कि अब कोलकाता का प्रोग्राम कैसे क्या होगा और शिवानी को कैसे राज़ी किया जाए!दो बजे गए और शिवानी स्कूल से आ गयी.

उनसे बातचीत के दौरान मैं उनके मुक्त व्यवहार का फायदा उठाते हुए उनके मम्मों पर अपनी नजर गड़ाकर बैठा रहता हूँ.

अब तो वो पूरे सातवें आसमान पर था और उसने झट से तबस्सुम को फोन किया कि वो आज उसका पूरा कर्ज़दार हो गया. तभी मैंने एकदम से निगाह डाली तो लाल जी के पैंट की ज़िप के पास उसका लंड फूल कर खड़ा हो गया था.

हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ पहले ही काफी पी चुके आर्थर पर अब अल्कोहल ने अपना रंग चढ़ाना शुरू कर दिया था और उसने बहुत सख्ती से पेश आते हुए मेरी पत्नी को सोफे पर चित लिटा कर उसकी पीठ के पीछे से अपने लंड को उसकी गुलाबी, सुगन्धित चूत से सटा कर अन्दर घुसेड़ना शुरू कर दिया. जो तुफैल चाचा की बीवी थीं, यानि सना और समर की अम्मी, उनका कैरेक्टर भी अजीब था, वो अक्सर मायके चली जाती थीं और घर में अक्सर होते झगड़े से मुझे पता चलता था कि वे अपने किसी यार से मिलने जाती थीं।कई बार उन्हें इधर-उधर पकड़ा भी गया था और काफी उधम चौकड़ी भी मचती थी लेकिन उन पर कोई असर पड़ता मैंने नहीं देखा था.

हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ जैसे ही मैं उसके सामने आया, उसने एक ज़ोर का कंटाप मेरे मुँह पर मारा और पूछा- क्या कर रहे थे वहां पर?मैं एकदम से डर गया और उसको सॉरी बोलने लगा. अब मैं धीरे धीरे खड़े होते हुए उनके पेट से लेकर फूली छाती तक अपने मुलायम हाथ और अपने चेहरे को रगड़ते हुए ले गया.

कुल मिला कर करीब 9 घंटे में हमने 3 बार चुदाई की और एक बार गांड भी मारी.

हीरोइन की सेक्स

जैसा कि मैंने बताया कि उस टाइम में मैंने काफी लड़कियों को प्रपोज़ किया था और सबने मेरे प्रपोजल को रिजेक्ट कर दिया था. उस बीच मैंने उनसे बहुत बार माफी माँगी तो उन्होंने बोला- मैं तुम्हारे उस सवाल से गुस्सा नहीं हूँ लेकिन तुम शराब पी के आए. मैंने बेड के नीचे खड़े हो कर उसकी चिकनी गाण्ड और चूतड़ों पर प्यार से हाथ फिराया, उसकी चूचियों को पकड़ कर मसला और अपनी उँगलियों से चूत को खोला, उसमें लण्ड का सुपारा रखा, धीरे से जोर लगा कर अन्दर किया तो आधा लण्ड अन्दर चला गया.

वो मेरी चूत की खुशबू को सूंघने के बाद मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा. कैसे समझाऊं, किसे समझाऊं कि जब मर्द पास नहीं होता तो कैसा महसूस होता है उसकी जवान बीवी को।”बहुत सी औरतें इसका इलाज ढूंढ लेती हैं. उधर मनोरमा ने उस लड़के से पूछा- जैसा कहा था, फिल्म बनाई थी क्या?उस लड़के ने कहा- आपका कहना हो सकता है कि ना माना जाए.

फिर मेरा फ्रेंड 3-4 दिन तक नहीं आया तो मेरी वाइफ ने उसे फोन किया और पूछा- क्या हुआ?मेरा फ्रेंड बोला- भाभी, मेरा एक फ्रेंड है, मैंने उससे बात की है.

वो बोला- हम लंड वालों का प्यार ही ऐसे होता है कि मम्मों को तब तक दबाओ जब तक वो लाल या नीले ना हो जाएं. भाबी 5 मिनट में ही मेरे मुँह में झड़ गईं, लेकिन मेरा लंड चूसती रहीं. मैं धीरे धीरे उनके लाल लाल रसीले होंठ के पास अपने होंठ ले गया और अगले ही पल हम एक दूसरे को चूम रहे थे.

जब पूरा लंड मेरी गांड में घुस गया तो उनके लंड को मेरी ढीली गांड से समझ में गया कि कोई बात नहीं!वे अंदर बाहर… अंदर बाहर… करने लगे, पहले धीरे धीरे किया, फिर मेरी मक्कारी समझ कर दे दनादन… दे दनादन… शुरु हो गए, उनके गांड फाड़ू झटके चालू हो गए. फिर उन्होंने पूछा- क्या क्या करते हो?मैं बोला- बताया तो है कि कल्याण में काम करता हूं. उसने बड़ी ही चुस्त रेड ड्रेस पहनी हुई थी, इस ड्रेस में उसकी तनी हुई चूचियों को देख कर लग रहा था कि इसकी चूचियां अभी इस ड्रेस को फाड़ कर बाहर आ जाएंगी.

फिर मैंने कोशिश करके उसके ऊपर की तरफ से हाथ डाल कर खिड़की की तरफ वाले बूब पर अपना हाथ रख दिया. जब वो नहा रही थीं और पानी उनके शरीर पर गिरा तो पेटीकोट उनके शरीर से चिपक गया और सारा कुछ दिखने लगा था.

उस अंडरवीयर को देख कर मैं विचलित होने लगी कि इतना बड़ा लड़का नंगा नहा रहा है…मैं उत्सुकतावश उसकी ओर मुंह करके राज का दरवाजे से निकलने का इंतजार करने लगी. मेरी चुदाई की कहानी पर आपके मेल का स्वागत है… बस आपसे निवेदन है कि ऐसा लिखना जिसको पढ़ने में अच्छा लगे. ऐसा बोलकर उसने मेरे हाथ को बहुत ज़ोर से पकड़ लिया और मेरे ऊपर सवार हो गई.

उसके बाद वो बाथरूम में घुस गई और कुछ देर बाद ही अचानक से उसकी आवाज आई.

शाम को ऑफिस से घर आने के बाद फ्रेश होकर भाभी के घर खाना खाने चला गया. मैंने उससे कहा- कब आ रही हो मेरे पास?उसने कहा- कल सोमवार है, कल आऊँगी. अचानक उसे याद आया कि उसे मेरा पानी देखना था, तो उसने मुझे अपने ऊपर से उतरने के लिए कहा.

मेरे सामने उनकी एकदम सफ़ेद चूचियां थीं, जिन्हें देख कर मेरी हालत इतनी खराब हो गई कि क्या बताऊं. उस पर एक तौलिया बिछा कर पहले मैं पीठ के बल लेटा और डॉली को अपने मुँह के पास खींचा.

उसकी आँखों में मैंने तैरती हुई जो नंगी वासना देखी उससे यह भी पक्का हो गया कि उसको पटाने में ज़्यादा मेहनत भी नहीं करनी पड़ेगी. तो उसने बोला कि पहले विश का रिप्लाई तो दो।मैंने उसे गुस्से में देखा और उसको बाथरूम साइड आने को बोला क्योंकि दोनों बाथरूम अगल बगल थे और दोनों का वाशबेसिन एक ही था।मुझे पता नहीं उसने मेरे गुस्से का क्या मतलब समझ पर वो मेरे पीछे बाथरूम साइड आने लगी।उसके आते ही मैंने उसे पकड़ के जोर जोर से किस करना शुरू कर दिया. और उसके मम्मों को देख कर तो मैं पूरी तरह पागल ही हो गया था कि काश मिल जाए तो मजा आ जाए.

देहाती देहाती सेक्सी वीडियो

जब मैंने चूचों को मुँह में लेना चालू किया तो दोनों की मादक सिसकारियां फूट पड़ीं.

अब तो आलम ये था किदीदी अपनी गांडउठा कर मेरे मुँह पर चुत लगा रही थीं. फिर जब पद्मिनी को अपने बापू के मुँह से शराब की बू आयी, तब पद्मिनी ने झूठमूठ के नींद में करवट बदलने का नाटक किया. अब मैं माधुरी के 32 इंच के दूधों को मसलने लगा, वो भी मेरे लंड को दबाने लगी.

उसका 34-30-32 का फिगर मेरे लंड में हलचल पैदा कर रहा था, मुझे बार बार यही ख़याल आ रहा था कि वह अपनी चूचियाँ और गांड हिलाते हुए कैसे चुद रही होगी. फिर मैंने उसको पूरे बदन को किस किया पैर पर, उसके घुटनों पे, उसके पैरों की उंगली से लेकर पूरे बदन पर चूमा. करीना का नंबरउसको देख कर ऐसा लगा जैसे हम दोनों एक दूसरे को चोदने के लिए ही बने हैं.

मॉम भी मदमस्त होकर नवीन का सर पकड़े हुए अपने चुचे नवीन के मुँह में ठूँसे जा रही थीं. वो शहर की लड़की थी, सो जैसे लड़के बाइक पर बैठते हैं, वो वैसे ही बैठ गई थी.

तो आप सब मुझे कोई तरकीब बताएं जिससे वो मेरे नीचे आके मेरे लन्ड का स्वाद चख ले।आप सब अपने जवाब मेरी ईमेल आईडी पर दे सकते हैं।इसी इंतजार के साथ आपसे विदा लेता हूं।धन्यवाद. उसके होंठ ऐसे लग रहे थे कि किसी कमल के फूल की पंखुरियां हों और उसके गाल मखमल की तरह सुर्ख लाल से थे. रात को जब कभी मेरी आँख खुल जाती तो मैंने कई बार देखा था कि मम्मी बच्ची को देखने आ जाती हैं.

मैं समझ गया था कि इसका होने वाला है और मैंने अपनी स्पीड बरकरार रखते हुए धक्के लगाता रहा, इसी बीच वो सिसकारी लेती हुई झड़ गयी. अब तो मुझे भी खुद पर नियंत्रण रख पाना मुश्किल हो गया था और मैं जैसे उस पर टूट पड़ा और पागलों की तरह उसे चूमने चाटने लगा. यहाँ एक बात मैं आप लेडीज को बता दूँ कि ज्यादातर मर्दों का लण्ड पहले डिस्चार्ज के बाद और भयानक हो जाता है मतलब चुदाई में लगने वाले समय में इजाफा हो जाता है.

आफिस में भी मन नहीं लग रहा था, बस दिन भर मोबाइल में भाभी की वो साड़ी वाली पिक देखता रहा और रात के बारे में सोचता रहा.

पर मेरा अभी बाकी था; मैं थोड़ा सा ऊपर हुआ, उसके दोनों बूब्स कसके अपने हाथों से पकड़ लिए और पूरी रफ़्तार से धक्के लगाने लगा और कुछ ही देर में मैं उसकी चूत में ही झड़ गया और उसके ऊपर निढाल होकर चिपक कर हग कर लिया।हम दोनों इतनी ठण्ड में भी पसीना पसीना हो गए थे और इसी तरह एक दूसरे से चिपक कर थक कर सो गए।थोड़ी देर बाद नींद खुली और हम दोनों फिर शुरू हो गए. अगले दिन मैंने ऑफिस बॉय को कहा कि आज सिर्फ बारह बजे तक ही पेशेंट देखूँगा.

पर जा कहाँ रहे हो?” मैंने उसे पूछा।भैय्या के घर पर, वहीं सब इकट्ठा हो कर रंग खेलते हैं. ये कह कर उसने मुझे कुतिया की तरह बना दिया, मतलब दोनों हाथ और घुटनों के बल खड़ा कर दिया. उसने ये कहा तो मैं भी जल्दी-जल्दी चोदने लगा और तभी बाथरूम का दरवाजा बजा.

हरामज़ादी की सांसें तेज़ तेज़ चल रही थीं जिससे उसके चूचुक कभी ऊपर कभी नीच होते. मैंने अपना एक पाँव बेड पर रखा और उसकी चूत में लण्ड सटा सट चलाने लगा. उधर बड़ी चाची ने छोटी चाची का मुँह जोर से अपनी चुत में दबा दिया तो छोटी चाची की चीख उनके गले में ही घुट कर रह गई.

हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ मैं उसके पास गया और पहले उसके गाल से बालों को हटाया और उसकी चूचियों को ऊपर से दबाने लगा. चाची जाते वक्त सिमरन से बोलीं- कल तुम्हारा एग्जाम है, सो टाइम से ख़ाना खा कर सो जाना.

सावन में दूध क्यों नहीं पीना चाहिए

वो मुझसे 20 अड्वान्स में कोई एक महीना पहले ले गई थी और बाकी के आज तुम्हारे सामने लेकर गई है. मोटे, गोरे, गोल मम्मे- चौड़ी मांसल कमर, सुन्दर मांसल पेट, अच्छी सुन्दर और मोटी सेक्सी गोरी टांगों और जांघों के बीच बिन बालों वाली पाव रोटी सी गोरी चूत, जिसमें एक छोटा सा चीरे का निशान था, जिसके अंदर चूत का वह हिस्सा था जिसमें मेरा बड़ा और मोटा लण्ड जाने वाला था. तो वो मेरे लंड को ऊपर से रब करने लगी और कहती- अभी भी शांत नहीं हुए हो बेटा?तो मैंने कहा- आपके जैसा फिगर लंड को शांत कहाँ होने देता है मम्मी जी?वो मुस्कुराने लगी, कहने लगी- अब तो कुछ नहीं हो सकता क्योंकि अभी काम वाली आ जाएगी और दस बजे आपको ऑफिस भी जाना है और शाम तक तो आपका साला भी आ जाएगा! रात यहाँ रुक भी जाओगे तो भी कुछ नहीं हो पाएगा.

मैं सोचता हूँ कि सिर्फ इस तरीके से ही संसार को बचाया जा सकता है!स्थान बदल जाने के बाद मैं अपनी पत्नी के मुंह को ड्रिल करने लगा था. थोड़ी देर की चुदाई के बाद वो झड़ गई पर मेरा नहीं हुआ था क्योकि मैं उससे मिलने को आते समय मुठ मार कर आया था. रियल सेक्सी व्हिडिओबहूरानी की बुर की वो विशिष्ट गंध मेरे भीतर समा गयी और उनके मुंह से एक गहरी निःश्वास निकल गयी.

वो भी खूब मचल रही थी और मादक सिसकारियां ले रही थी, उसके मुँह से जबरदस्त ‘आआह उम्म्ह… अहह… हय… याह… अयाया आह.

जैसे कि खाने की पूछना, उनके बारे में पूछना, बच्ची के बारे में पूछना. मैंने थोड़ी देर टीवी देखी और मैंने देखा भाभी सो गई हैं तो मैं टीवी बन्द करके वहीं सो गया और अपने पैरों से हरकत करने लगा.

कुछ दिनों तक हमारी नॉर्मल बात चलती रहीं और एक दिन अचानक से उन्होंने बोला कि मेरे पति 2 दिन के लिए बाहर जा रहे हैं, क्या हम कहीं बाहर चल सकते हैं. मैंने कहा- क्या हुआ?वो हंस कर बोली कि दीदी आप का मँगवाया हुआ खिलौना आ गया है, उसी को दरवाजा बंद करके देख रही थी. उन्होंने मुझे बांहों में जब उठाया तो मुझे अलग सा महसूस हुआ, मेरे दूध को चूम कर अंकल बोले- बड़ी मस्त है लग रही है तू मेरी गोद में, मेरी बाहों में तू वन्द्या!और ले जाकर बगल से जो बिस्तर था, उसमें मुझे पटक दिया.

उसने अपना निचला होंठ दांतों में दबा रखा था और हचक हचक कर मुझे चोद रही थी.

डॉली ने मेरे लंड को बहुत सारा थूक लगा कर गीला किया और एकता को इशारा किया. मुझे अपने ऑफिस के काम के चलते भाभी से बात करने का अधिक टाइम नहीं मिल पा रहा था. हय आ आ करने लगा- सर जी, रहने दें!पर वे सुन नहीं रहे थे, उन्होंने अपना लंड मेरी गांड में ठूंस दिया और चालू हो गए, बड़ी देर तक पेले रहे, गांड फाड़ कर रख दी, इस बार बड़ी जोर जोर से मार रहे थे, फिर झड़ गए, तब अलग हुए.

भूत का बच्चामैंने मौका देख कर उन्हें बोल दिया कि क्या इस काम मैं आपकी कोई मदद कर सकता हूँ?तो उन्होंने कहा- आप क्या कर सकते हैं?मैंने कहा- आप कह कर तो देखिए. दस मिनट लंड चुसाने के बाद मैंने उसको बेड पर लिटा दिया और उसकी टाँगें खोल कर उसकी चुत को फैला दिया.

सेकसी हिनदी विडियो

मैंने अब अपने हाथ उसके पैंटी पर डाले और उसे निकालने की कोशिश करी लेकिन उसने अपनी पैंटी ज़ोर से पकड़ ली. दस पंद्रह मिनट बाद मैंने उसकी जींस उतारनी चाही, लेकिन उसने मना कर दिया. उसका नहाना हो रहा था और मैं रूम से बाहर निकल कर मुँह धोने के लिए पीछे के आंगन के नल पर चला गया.

लेकिन फिर भी मेरी शर्म, मेरी अना, मेरा गुरूर मुझे बेपर्दा होने से रोक रहा था।पर मेरी मुश्किल अहाना ने आसान कर दी. उसको नहीं पता था कि पद्मिनी जागी हुई है और उसे सब पता है कि वह उसके साथ क्या कर रहा है. मैंने कहा- अच्छा आंटी, क्या आपने आज से पहले कभी सेक्स वीडियो देखी है?आंटी थोड़ा सा गुस्सा हुई और उन्होंने कहा- तुम्हें इससे क्या मतलब? मैं जा रही हूं…मैंने कहा- अरे नहीं नहीं आंटी, ऐसे जाइए मत… ठीक है कोई बात नहीं मैं नहीं पूछूंगा सॉरी.

मेरे दूध पी न!” अहाना ने कुछ झुंझलाते हुए मुझे अपने ऊपर खींच लिया।उस तरफ से ध्यान हटा कर मैं उसकी घुंडियों को चुसकने चुभलाने लगी।वह बआवाजे बुलंद सिसकारती रही।करीब दस मिनट बाद वह हट गया और अहाना की सिसकारियां थम गयीं। इससे पहले हम कुछ समझ पाते या मैं संभल पाती. बस हरियाली थी, पेड़ थे और नदी किनारे बनी कंक्रीट की पट्टिका थी, जिस पर हम विचरने लगे।चुप रहने के लिये तो यह तन्हाई तलाशी न होगी।” मैंने उसे छेड़ने की गरज से कहा।उसने सवालिया निगाहों से मुझे देखा. बहुत कम लड़कियाँ इतनी खुश किस्मत होती हैं, जिनको उनके भाई चोदते हैं.

कुछ देर लेटने के बाद मैंने अपनी बहन की गांड पे हाथ रख दिया, ये देखने के लिए कि वो जाग रही हैं या सो गईं. थोड़ी दिक्कत हुई पर कैसे भी मैंने मोटी की योनि में पतली की दो उँगलियाँ डलवा दीं, फिर मैंने अपना लिंग पकड़ा और पतली की छोटी सी चोकोलेटी गुलाबी योनि के मुंह पर रखा और एक तेज धक्के में आधा अंदर घुसा दिया.

अभिलाषा की जांघें, बाल रहित चिकनी चूत और चूतड़ बहुत ही मस्त और सेक्सी थे.

देवेश ने चुनौती समझ अपने स्पीड बढ़ाई तो उसने अपने चूतड़ों की गति बढ़ा दी. सेक्सी पिक्चर ब्लूटूथऐसे ही मजे लो।”मैं एक ब्लू फिल्म देखने के बाद दिमागी रूप से इस हालत में बिलकुल भी नहीं थी कि उसकी मर्जी के खिलाफ जाऊं. बाबा सेक्स व्हिडीओजल्दी ही बहूरानी अधीर हो उठी और अपने पांव एक दूसरे पर लपेटने की कोशिश करने लगी, लेकिन मैं जब उन्हें ऐसा करने दूं तब न!मत सताइए पापा जी, तरस खाइए मुझ पर!” बहूरानी ने जैसे आर्तनाद किया. वह बोला- एक बार और!मैं बोली- अभी नहीं, आज ही सारी कसर निकालनी है क्या? अब तो रोज ही चुदाई करनी है, अब मैं बहुत थक गई हूं और मेरी चूत में जलन भी हो रही है, इतना लंबा और मोटा पहली बार लिया है मेरे पति का तो बहुत छोटा और पतला है.

मैंने उसे लंड पर लगा खून दिखाया, तब वो शर्मा कर मेरे सीने से लिपट गई.

वो कभी उस आदमी के बालों को कस के पकड़ लेतीं, तो कभी उसकी कमीज के अन्दर हाथ डाल कर उसकी पीठ को किसी बिल्ली की तरह नोंच रही थीं. दीदी ने बैग उठा लिया तो जीजा ने दीदी को अपनी गोद में उठाया और कमरे को चल दिए. उसने मेरे मुंह में जुबान घुसाई तो मैंने उसके मुंह में जुबान घुसा दी जिसे वह चूसने लगा।जब मैं वापस अच्छे से गर्म हो गयी तब वह उठ कर उस पोजीशन में आ गया जिसमें सामने बैठ कर योनिभेदन करते हैं.

पता नहीं मुझे कभी माँ का सुख मिलेगा भी या नहीं?मैंने भाभी के कंधे पे हाथ रखते हुए बोला- भाभी सब ठीक हो जाएगा परेशान नहीं हो. बट आगे से याद रखना अपनी ये वाली प्रॉमिस?”ओके बेटा जी … पक्का याद रखूंगा” मैंने कहा. फिर भाभी ने केला अपनी चुत से निकाल कर मेरे मुँह में डाला और हम दोनों ने एक दूसरे के मुँह डाल के उसको चूसते हुए खाया.

हिंदी भाषा का सेक्स वीडियो

मैं उनको घोड़ी की तरह बना के पीछे से अपना लंड उनकी चुत में डालने लगा. मैंने बेल बजायी, दरवाजा खुला और करीब 35 साल की एक गोरी लेडी ने दरवाजा खोला. अब अपने मन में पद्मिनी बोली- हाय राम… बापू तो शुरू हो गया… मैं क्या करूँ अब… चलो देखती हूँ कि कहाँ तक उसकी पहुँच होती है.

इसके बोबे कुछ ज्यादा बड़े नहीं थे लेकिन मोटी वाली थोड़ी से चर्बी के साथ पूरी एक मस्त सेक्स बॉम्ब थी जिसने नीचे (मोटी वाली ने) मेरी पेंट की जिप खोली और लिंग को बाहर निकालकर मुठियाने लगी.

थोड़ी ही देर बाद मैं बाथरूम के दरवाजे के पास जा कर खड़ा हो गया तो मैंने देखा कि वो अपनी चूत को साबुन लगा कर धो रही थी.

ये याद करके उसका लंड फिर से एकदम से खड़ा हो गया और अपनी लुंगी के नीचे उस ने लंड को सीधा किया. मैंने उसके साथ 3 दिन लोनावला जाने का प्लान बनाया और वो भी मान गयी। दिसम्बर का महीना था, मैं पहले पुणे गया और उससे पहली बार मिला। यूँ तो हम रोजाना ही बात करते थे मगर सामने देखकर वो थोड़ा शर्मा रही थी।मैं ज्योति के बारे में बता दूँ आपको… वो दिखने में तो सामान्य थी मगर उसका फिगर ऐसा था कि देखने वाले देखते ही रह जाते। एकदम पतली कमर और उसकी हाइट 5. रक्षाबंधन के पुराने गानेमैंने देखा कि भाभी बहुत खुश दिख रही थींभाभी- सच में आज तुमने वो मज़ा दिया है, जो मुझे कभी नहीं मिला.

कभी कोई किसी को चूमता और मम्मे दबाता, कभी कोई किसी की चूत में उंगली करता. मैंने तो इसलिए पूछी, क्योंकि मैं सोचती थी कि तुम्हारी कोई न कोई गर्लफ्रैंड होगी तो तुम्हें इसकी क्या जरूरत है?मैंने चुप रहा तो भाभी बोलीं- अच्छा लाओ चीनी दो अब. मैंने चूत पे एक जोर से पप्पी ली और भाभी की ओर देखते हुए कहा- आज तो मैं आपको खा जाऊंगा भाभी.

भाबी मदमस्त सिसकारियां लेने लगीं और मेरी गांड पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगीं. तभी एक दिन घर में मैं अपनी बहना के साथ अकेली रह गयी तो मेरी बहन ने मुझे बिना मर्द के योनि की खुजली मिटाने का तरीका सिखाने का फैसला किया.

आऽऽह… आ…धीरे… आऽऽह… हां… आऽऽह… जोर से…मेरे मुँह से भी आह उम्म्ह की आवाजें निकल रही थी। मेरे धक्के बढ़ते जा रहे थे, चाची भी अपनी गांड हिला हिला कर मेरा साथ दे रही थी।थोड़ी देर बाद चाची ने मुझे कस के पकड़ा और बोली- मेरा हो गया!पर मैं लगा रहा.

रोहित ने अपना लोअर और टीशर्ट उतार कर साइड में रख दिया। अब हम दोनों भाई बहन नंगे थे।भाई ने अपनी चचेरी बहन को बांहों में भर लिया!आह क्या नज़ारा था… दो नंगे जवान जिस्म, भाई बहन के।मेरे बूब्स उसकी छाती से दब रहे थे वो मेरी पीठ पर, गांड पर, फ़ुद्दी पर हाथ फिरा रहा था। मैं पहले से ही तैयारी करके आई थी, मैंने अपनी चूत की झांटें क्रीम लगाकर साफ़ कर रखी थी और मेरी चूत चमक रही थी. उसकी आँखें बंद थी, कुर्ती टाइट होने की वजह से मैं उसे ऊपर नहीं कर पा रहा था तो मैंने मुन्नी को बोला- ये ऊपर होगी क्या?उसने मुस्कुराते हुए कुर्ती के साथ अपनी ब्रा भी ऊपर कर दी. अब उसकी स्कर्ट तो घुटनों के ऊपर तक थी और घुटनों के ठीक ऊपर से जाँघ की शुरूवात से, वह रंग.

इंडियन मूवी सेक्स फिर उनके बॉडी की आइस क्रीम को मैं चाटने लगा, पहले बूब्स पे लगी आइस क्रीम को चाट गया और फिर चूत के अंदर अपनी जीभ पे आइस क्रीम रखकर जीभ चूत के अंदर डाल दी. उनको भी अपनी गलती का एहसास हुआ और झट से हाथ नीचे करके तुरंत दरवाजा बंद कर दिया.

मैं फूफा जी के लंड को सहलाने लगी ताकि उनका लंड फिर से पहले जैसे खड़ा हो जाए. तब मैंने कहा- मां ये सब क्या है?मां के पास मेरे सवाल का कोई जवाब नहीं था।कुछ पल वहां खामोशी छाई रही।अचानक मां ने मुझे अपने पास बुलाया. एग्जाम सेंटर शहर में घर से दस किलोमीटर दूर था और बीच में कहीं कहीं रास्ता सही नहीं था.

ओल्ड सेक्सी फिल्म

फिर बोली- तुम्हारे पास कितना टाइम है?मैं बोला- तुम्हारे लिए तो टाइम ही टाइम है. मोहल्ले में कितने ही लोग उन्हें देख कर अपने लंड की पिचकारियां छोड़ते होंगे. यह मेमसाब भी अभी पूरी नंगी होकर तुम्हें अपनी जवानी का जलवा दिखाएगी.

उनकी कमर सुराही की तरह पतली थी और नीचे को जाते ही वो धीरे धीरे चौड़ी होती जा रही थी. अगले दिन एग्जाम दे कर वो और मैं घर आए तो मालूम हुआ कि चाचा किसी की शादी में गए थे और चाची और बहन बगल के घर में शादी थी, वहां जा रही थींचाची बोलीं- हम दोनों शादी में जा रहे हैं.

डॉली ने लंड को पकड़ रखा था और एकता को लंड के ऊपर आने का बोला और एकता की गांड पर मेरे लंड को सैट करने लगी.

तभी मोटी का रात में मुझे फोन आया, वो बोली कि वो अपने घर में अकेली है और उसे अकेले में डर लगता है तो अगर मैं फ्री होऊं तो क्या आज रात मैं उनके साथ सोऊँ?मैंने हाँ बोला और उसके घर पहुंचा. फिर उनके बालों को कस कर पकड़ कर सोफा से उठा कर सीधे पंलग पर पटक दिया. तंदरुस्त भी थे उनके चूतड़ व कमर मेरे से भारी थे, गांड के नीचे तकिया लगाना पड़ा तब गांड दिखी।ज्यादा मजा तो नहीं आया पर मार दी.

मैं बड़े आराम से उसके होंठों को चूमता रहा, वो नीचे दर्द की अधिकता से मचलती और तड़फती रही. तो नूरी खाला ने कहा- आमिर, मेरे दूल्हे, धीरे करो, बहुत दर्द होता है. मेरी गांड चुदाई की सेक्स स्टोरीनई जगह, नये दोस्त-2में मैंने आपको बताया कि मैं एक कसबे में नौकरी पर गया तो मुझे वहां कैसे कैसे लौंडे, गांडू मिले.

थोड़ी देर में मैंने भाभी को मेरा लंड चूसने को बोला, तो उन्होंने मना कर दिया.

हिंदी में चोदा चोदी वाला बीएफ: उनको भी अपनी गलती का एहसास हुआ और झट से हाथ नीचे करके तुरंत दरवाजा बंद कर दिया. मैंने पीछे से ही उनके दोनों तरफ से अपने हाथ ले जाकर उनके हाथों को नीचे कर दिया, जिससे वो पलट कर मेरे सीने से चिपक गईं.

मैंने लंड पलते हुए ही कहा- साली कुतिया, अब लंड का मजा लेने लगी उस वक्त तो मुझे भोसड़ी के बोल रही थी. वह उसको रोकना चाहता था, उसका दिल कर रहा था कि आज वो उसको स्कूल नहीं जाने दे और पूरा दिन उसके साथ कमरे में बिस्तर पर बिताए. अब तो भाभी बुरी तरह से छटपटाने लगीं और अपने सिर को दाएँ-बाएँ करने लगीं लेकिन भैया ने अपनी जीभ नहीं निकाली.

पहले मैंने उनके होंठों को चूसा, फिर चूची और फिर उनकी नाभि में चूसना चालू कर दिया.

तब मैंने कहा- मां ये सब क्या है?मां के पास मेरे सवाल का कोई जवाब नहीं था।कुछ पल वहां खामोशी छाई रही।अचानक मां ने मुझे अपने पास बुलाया. फिर यह बात उस समय की है, जब मेरा घर बन रहा था, जिसकी वजह से मुझे उन्हीं के घर में रहना पड़ रहा था. मैंने रोटी पीटती किस्मत को गालियां देती हुई किसी तरह तैयार हुई और होटल में पहुँच गई.