देहात की नंगी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी फोटो दिया

तस्वीर का शीर्षक ,

sexy एक्सएक्सएक्स: देहात की नंगी बीएफ, मां ने कुछ नहीं बोला और पूछा- अमित, तू कब आया दोस्त के घर से!मैंने कहा- बस अभी अभी आया हूं.

हॉट गर्ल फोटो

थोड़ी देर के बाद वह अपने होंठों को सीधे मेरे लौड़े पर ले आई और अपना पूरा मुँह खोल कर उसने लौड़े को जड़ तक अपने मुँह में घुसा लिया. ब्लू सेक्स बीपी सेक्समैंने केवल साड़ी पहनी उसके साथ ब्लाउज न पहन कर, सिर्फ लाल रंग की ब्रा पहन ली.

उन्होंने मेरे सामने ही अपने कूल्हों तक लोशन लगाकर मुझे अपना सामान दिखाया. पुलिस वालों की चुदाईमैंने बोला- स्वाति में नींद में था और मुझे नहीं पता कि ये सब कैसे हो गया.

मेरे दोस्त ने उसे कैसे चोद दिया?लेखक की पिछली कहानी:जीजा ने बहन की चूत चुदवा दीमेरा नाम अविनाश है.देहात की नंगी बीएफ: उस टाइम मैंने उसको कैसे चोदा और कैसे उसकी गांड में लंड पेल कर बहुत भयंकर वाली चुदाई की.

मैं उनके इस स्वागत से बहुत खुश हो गयी थी और ड्रिंक्स बनाकर बातें करते हुए हम अन्दर सोफे पर बैठ गए.एक घंटे बाद उसका फोन आया और उसने कहा कि मैं होटल के रिशेप्शन पर हूँ.

गेम लोडिंग करना है - देहात की नंगी बीएफ

वो सादगी से ही रहती थी और घर से बाहर कहीं नहीं जाती थी।अब मेरा छत पर जाने का एक ही मकसद होता था कि किसी तरह अश्मि से बात की जाये और उसको पटाने की कोशिश की जाये।मैं छुप छुपकर उसे देखने लगा.दो मिनट बाद मैंने लौड़े को चूत से बाहर निकाला और चूत में भरे हुए अपने ही लौड़े के पानी को पूरा चूस चूस कर अपने मुँह में भर लिया.

मेरे लंड की खासियत ये है कि जब ये किसी की चुत में जाता है तो उसकी पूरी तरह से संतुष्टि के बाद ही बाहर आता है. देहात की नंगी बीएफ उसने देर नहीं की और अपने दोनों हाथों से मेरे अंडरवियर को खींचती हुई उतार कर अलग कर दिया.

मैं दिखने में एकदम ऐसी मदमस्त माल हूँ कि लोगों की आहें निकल जाती हैं.

देहात की नंगी बीएफ?

एक घंटे बाद मैंने उसे फिर से गर्म किया और इस बार अपने लंड पर उसे कुदाया. फिर मैंने अपने लंड को जोर से धक्का मारा और लता दर्द की वजह से चिल्ला उठी- आह मर गई … रुको रुको. उसने- पति के अलावा बाहर किसी से सेक्स किया है?मैं यह सुन कर एकदम से चौंक गई और धीमे से जवाब दे दिया- जी नहीं, सिर्फ पति से ही.

फिर बीस मिनट तक रमामैडम की चुतका बाजा बजाने के बाद जैसे ही मुझे लगा कि मेरा होने वाला है, मैं अपनी पूरी ताक़त से उन्हें चोदने लगा. वो खुद से झटके मारने लगीं और बोलीं- आह मजा आ रहा है … आह जोर जोर से चोदो प्लीज. मैंने एक सिगरेट सुलगाई और मुंतजिर की भरी हुई मादक चुचियों का अहसास करने लगा.

अब आगे जवान मोसी की चुदाई कहानी:मैं अब अपना हाथ बिंदास उनके बूब्स पर ले गया और ब्लाउज़ के ऊपर से उनके मम्मों को दबाने लगा. पहले मैं आप सभी को मेरी फैमिली और अपनी चुदककड़ बहन से परिचित करवा देता हूं. उसके पानी का फव्वारा इतना तेज था कि उसकी चुत से टपकने वाला रस उसकी जांघों से होते हुए नीचे बहने लगा.

उस रात हमने डेढ़ बजे तक चैट की और उससे एक किस लेने का वादा करके एक सप्ताह बाद साथ जाने का प्लान बना लिया. क्योंकि अभी भी हमारे बीच सेक्स को लेकर कुछ खुली खुली बातें नहीं हुई थीं जो कि मिलने पर सेक्स होता तो शायद उसके लिए कुछ असहज होता.

अब मैं आपको बताता हूं कि मेरी बहन स्वाति के साथ मेरा चुदाई का खेल कैसे चालू हुआ.

मैंने फिर टुनयाया- हां फिर भाभी …भाभी ने सामने रखा हुआ मेरा पैग उठाया और एक सांस में हलक के नीचे उतार कर बोलीं- मैं अब पूरा किस्सा बता रही हूँ … अंश अब तुम सिर्फ सुनो.

मेरी यह चाची चुदाई स्टोरी आज से 6 साल पहले की है जब मैं पहली बार फौज में भर्ती होने के बाद अपने गांव में पहली छुट्टी काटने गया था. आज मैं भी कहीं न कहीं अपनी बीवी की चुदाई की आदत देख कर रोमांचित था. ‘एसी वाले को फ़ोन कर दो … वो एसी ठीक करने सबसे पहले हमारे घर पर ही आ जाएंगे.

उसने अपनी चूत साफ करते हुए ब्लड देखा और बोली- जीजू, साली आधी घरवाली होती है … आपने तो मुझे अपनी पूरी ही घरवाली बना लिया. वो फुल मूड में आ गई और बोली कि भैया तुम मेरे ऊपर लेट जाओ … मैं तुम्हारे साथ लेटूंगी. मैंने कहा- आप मेरे लिए इतना भी नहीं कर सकती हो, बस यही प्यार है आपका?इस बात पर मौसी ठंडी पड़ गई थीं.

मैंने उसके दूध मसल कर कहा- हां जल्दी ही तेरी चुत को भी बुलंद दरवाजा बना दूँगा.

फिर एकदम न जाने क्या हुआ कि तेज हवा चलने लगी और दरवाजे खुले होने के कारण कुछ धूल से अन्दर आ गई. तभी निशा ने अपना हाथ नीचे करके मेरे लौड़े को पजामे के ऊपर से पकड़ लिया. वो यह सुनकर बहुत खुश हुई और कहने लगी- मेरा भी बहुत मन था वहां पढ़ाई करने का … मगर कर न सकी.

अगर उससे कभी बात करने की कोशिश भी करूं … तो बहाना बना कर फोन काट देता है … और रात में भी उसका फोन बिज़ी भी जाता है. मैंने भी सोचा कि आज चुम्मी दी है, तो ये कल चुत भी दे ही देगी … जल्दीबाजी ठीक नहीं है. दोस्तो, आप चाहें कितना भी रोक कर देखो … पर जिस्म की भूख हर बांध को तोड़कर ही रहती है.

लेकिन दूसरी ओर मेरे अन्दर की औरत ये कह रही थी कि इतने समय के बाद किसी मर्द के स्पर्श से जो उत्तेजना हुई थी, उसका भी अहसास कुछ और ही था.

मैंने उसकी चुत को खूब चूसा और उस दौरान नन्दिनी की दोनों टांगें खुल कर हवा में ऊपर को उठ गईं. मैंने मेज़ पर रखा तेल उठा लिया और हाथ पर लगा कर उसकी चुत में मलने लगा.

देहात की नंगी बीएफ पर डायरेक्टर ने धक्के देना शुरू कर दिए और चुदाई करते हुए बोला- तेरे पति के पास लंड नहीं है क्या … अभी तक वो तेरी चुत को खोल ही नहीं पाया. वो लौड़े को मुँह से निकाल कर थूक से सने अपने होंठों को मेरे होंठों पर ले आई.

देहात की नंगी बीएफ वो ऐसे लंड चूस रहे थे … जैसे कोई बर्फ वाली आइसक्रीम को बच्चे चूसते हैं. उन्होंने मेरी साड़ी को निकल दिया और उसके बाद उन्होंने मेरी ब्लाउज को निकाल दिया.

मैंने भी उठ कर उसके अधरों को अपने होंठों से जोड़ दिया और सहज ही मेरे हाथ उसके खरबूजों को सहलाने लगे.

देसी हिंदी क्सक्सक्स

हमने 4 दिन के लिए वहां कमरा किराए पर लिया था और पूरे 4 दिन तक उसे भरपूर रूप से इस्तेमाल करने का सोच रखा था. नील के नर्म होंठों से निकलने वाली गर्म सांसों ने मुझे भी गर्म कर दिया. मुझे लगा कि कोई रसभरा पका हुआ फल पेड़ से टूट कर मेरी झोली में आ गिरा.

मैं अपनी ही गर्लफ्रेंड अशी को किसी और के साथ चुदता सोच कर मज़े लेने लगा था. उसके मुँह से एक लम्बी आह निकली मगर उसने दांत भींच कर पूरा लंड चूत की जड़ तक ले लिया. अन्दर आते ही उन्होंने मुझे अपने हाथों से पकड़ कर अपने पास खींच लिया.

शीना की चूत भट्टी की तरह गर्म हो चुकी थी और उसने अपने मुलायम हाथों से मेरे लम्बे लंड को मसलकर लोहे की रॉड बना दिया था.

थोड़ी सी चुम्मा चाटी करने के बाद मैं पारले जी बिस्कुट लेकर अपने घर वापस आ गया. तब मुंबई में मुझे केवल एक साल ही हुआ था और मैं किसी से भी ज्यादा घुला-मिला नहीं था. फिर मैंने किसी तरह से ज़ीनिया के इस अकाउंट का पासवर्ड पा लिया और उस पर नजर रखने लगा.

ये कहकर भाभी अपनी गांड चूत मेरे मुँह पर रगड़ती हुई मेरे लंड को गले तक लेकर चूसने लगीं. अब ये बात साफ़ हो चुकी थी कि वो मेरे साथ लंड चुत गांड चुदाई का खेल खेलने को राजी थी. अब मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और उसके सामने पूरा नग्न हो गया.

एक दिन जेठ जी थोड़ा ज्यादा काम करके आ गए थे और उनके सर में दर्द हो रहा था. अब उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और अपने हाथों से मेरी टांगें चौड़ी कर फैला दीं.

अब अर्शिया मेरे घर पर ही थी और हम सब बातें करते हुए मस्ती कर रहे थे. इस बार उन्होंने मेरे लंड को हाथ लगाया और पकड़ते हुए बोलीं- ये तो बहुत ही मोटा और कड़क है. इतना कहकर सलमा बेड पर लेट गई, उसने अपनी टांगें घुटनों से मोड़कर फैला दीं जिससे काले घुंघराले जंगल के बीच उसकी बुर के गुलाबी होंठ चमकने लगे.

मैंने आप पर भरोसा किया था, लेकिन आपने बिना बताए अपने दोस्त को भी इसमें शामिल कर लिया.

मैं सारा दिन मां को घूरता रहता उनके भरे जिस्म देखकर रोज़ मुठ मारता. भाभी के मुँह से आउच निकला और वो बोलीं- आह धीरे करो यार … सोम जाग जाएगा. उसके मुँह से बहुत ही कामुक सिसकारियां निकलने लगी थीं- हहाईई … मउम्मीईईई.

जब तैयार होकर बिस्तर पर आया तो मैम का मैसेज आया हुआ था जिसे देख कर मैं मस्त हो गया. वो बोलीं- आह्ह आह्ह आह्ह … ऋषि जल्दी कर ले … कोई आ जाएगा और अब मेरे पैर भी दर्द कर रहे हैं.

साथ ही शॉर्ट्स के अन्दर पहनी हुई पैंटी की किनारियों ने मुझे और भी ज्यादा गर्मा दिया था. कहानी उस वक्त की है जब मैं अपने से बड़ी उम्र की लड़की को चाहने लगा था. मेरी माँ की चूत की कहानी में पढ़ें कि कैसे एक दिन मैंने अपने पापा के दोस्त को मेरी माँ की चूत चुदाई करते हुए देखा अपने ही घर में.

ब्लू पिक्चर राजस्थानी

बाहर पहुंच कर मैंने मैम को कॉल की तो एक मिनट बाद मैम आ गयीं और बाइक पर बैठ गयीं.

इसी तरह की सेक्स चैट के बाद हम दोनों अपनी मुठ मारकर खुद को शांत करने लगे थे. मैम ने पूछा- क्यों … उससे क्या होगा?मैंने कहा- आपकी आवाज़ सुनने का मन कर रहा है. शरद के जाने के बाद मेरी ज़िंदगी में बहुत सा बदलाव आ चुका था, जिनमें शुरू के कुछ सप्ताह काफी कठिन रहे थे.

मेरी नजर उसके मम्मों को निहार रही थी और सुनील की निगाहें सोनल की मदमस्त जवानी पर टिकी थीं. मैं पूरी जीभ को अन्दर करके करीब 10 मिनट तक चुत को चूसता रहा और मैंने चुत को खूब चाटा. सेक्सी वाले फोटोमेरी बहन मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर बोली- भाई, तेरा तो आयुष भैया से भी मोटा है!मैंने कहा- हां मेरी चुदक्कड़ बहना … भाई भी तो तेरा हूँ.

बचपन से ही पढ़ाकू रही हूँ और साथ ही साथ अपनी निजी जिंदगी में भी अब तक मैंने भरपूर मज़े लिए हैं. उस पार्टी में कम से कम ढाई सौ लोग आए हुए थे जिनमें आसपास के बिजनेसमैन और उनकी फैमिली के लोग ज्यादा थे.

उस तेज़ बारिश में मैं अपने सबसे मनपसन्द इंसान के साथ सिर्फ ब्रा में उसकी बांहों में झूल रही थी. शबाना चोकर भर रही थी तो मैंने कहा- शबाना तुम्हारे हाथ बहुत खूबसूरत हैं, जुम्मन बड़ा किस्मत वाला है जो तुम्हारे जैसी खूबसूरत औरत उसे मिली. एकदम से हम दोनों की चीख निकल पड़ी और हमने एक साथ पानी छोड़ दिया।हम दोनों एक-दूसरे से लिपटकर किस करने लगे।हमें लगभग 2 घंटे से ज्यादा समय हो चुका था।डॉक्टर पेशेंट सेक्स के बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और फिर बाहर आ गए.

उस दिन मैंने बहुत देर तक उनकी गांड चुत में दो दो बार लंड डाल कर कुत्ते की तरह उन्हें चोदा. मैंने उसे उकसाया था कि ज़ीनिया फेसबुक पर लड़कों से चैट करती है और उस पर नजर रखना जरूरी है. मैं- हैलो, मैंने आपका एड देखा है आपको सेक्रेटरी की जरूरत है!सामने से जवाब आया- जी हां है.

इस बार मैं उनकी चूचियों को घूर रहा था … उन्होंने भी मेरी नजरों को ताड़ लिया था मगर उनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई तो मैंने भी उनकी चूचियों से नजरें नहीं हटाईं.

उसके बाद मैंने रूबी आंटी के पेटीकोट और चड्डी को हटा दिया और उनकी चूत चाटने लगा. अब मेरी चूत रसीली हो गयी तो नवीन ने मुझे सीधा लेटा दिया और मेरी दोनों टांगें खोल कर अपना लंड मेरी चूत पर सैट करके पेल दिया.

मैंने लड़खड़ाती जुबान से कहा- यार … वो … वो तो … बस ऐसे ही हो गया था।वो बोली- तो फिर अब क्यों फट रही है तेरी?उसके मुंह से ऐसी बातें सुनकर मुझे बहुत हैरानी हो रही थी. मेरा लंड को दोनों लोग चूसे जा रहे थे और मैं अब खुलकर आह आह कर रहा था. लिंग को ढीला छोड़कर मैंने अपनी तर्जनी उंगली उसके लिंग के छिद्रित भाग पर ले आई.

साथ ही चुदाई करते समय ही मुझे समझ आ गया था कि इनसे कुछ नहीं होने वाला है, मुझे जेठ जी से ही टांका फिट करवाना पड़ेगा. डॉक्टर ने कहा- हाँ, इसको पाँच महीने का गर्भ है और तन्दुरुस्त बच्चा है. कोमल ‘आ … आह … आह … करती हुई उचकी और मेरा टोपा उसकी चुत में प्रवेश कर गया.

देहात की नंगी बीएफ बकरी की कमर पकड़कर उसे अपनी ओर खींचा तो पूरा लण्ड बकरी बनी शब्बो की बुर में समा गया. फिर साली साहिबा ने मुझसे मेरा नंबर ले लिया और कहा- मेरे मतलब का कोई जॉब हो, तो मुझे बताइएगा.

bp सेक्स वीडियो

मेरे पास अब नाज और शब्बो दो बकरियां हैं, दोनों बारी बारी से चुदती रहती हैं. दीदी ने जीजा जी के आने में देरी की बात अर्थ पूर्ण भाव से कही थी, जिसे मैंने समझ लिया था कि दीदी की चुत चुदने के लिए तैयार है. उसने अपनी आंखें बंद की, तो मैंने उसके गालों पर एक पप्पी दे दी, जिससे मेरे होंठों पर लगी लाल लिपिस्टिक उसके गाल पर छप गयी.

मैं अक्सर रूबी आंटी को फर्श पर पौंछा मारते हुए उनके हिलते हुए मम्मों को देखता था. चूत चूसने के बाद मैंने सीधे होकर उसे किस किया और कुछ देर दूध चूसने के बाद लता गर्मा गई. बड़ा लन्डफिर वो पलट गई और उसने इस बार मेरे लंड को अपनी गांड के छेद पर लगा दिया.

मेरा मुँह उसकी चूत पर लगा था लेकिन हाथों से मैंने उसके मम्मों की मां चोद रहा था.

दो दिन से गोगी के कारण रोशन ने उसे चुत चोदने नहीं दी थी इसलिए सोढ़ी का दिमाग भन्नाया हुआ था. इसके तुरंत बाद उसने अपना लंड का टोपा मेरी गांड के छेद पर रख दिया और वो लंड गांड में धंसाने लगा.

जब अब्बू अपनी बालों से भरी छाती मेरी चूचियों पर रगड़ते तो मेरे जिस्म में करंट दौड़ जाता. अर्शिया को कोई फर्क नहीं पड़ रहा था, वो तो मानो घोड़े बेच कर सो रही थी. ”छी … यह कोई मुँह में लेने की चीज है?”तो जहाँ लिया जाता है, वहीं ले ले.

तब भी लता को बहुत बहुत धन्यवाद, जो उसने मुझे इस तरह के आनन्द की अनुभूति करायी.

बड़ी मौसी का घाघरा कमर तक उठा हुआ था, अब्बू का पायजामा जमीन पर पड़ा हुआ था और अब्बू बड़ी मौसी को चोद रहे थे. अब आगे भाभी के साथ माउथ सेक्स:दूसरे दिन करीब रात के दस बजे में उनके घर पहुंच गया. ‘बहुत बड़ा और मोटा है आपका लंड … आपकी बीवी तो इसे अन्दर लेकर मर ही जाएगी.

गोडी गाना डीजेवो किसी से किस करने लगी और जब संजना ने उसके सामने से अपना चेहरा हटाया तो एक पल को तो मेरे पैरों के नीचे से ज़मीन खिसक गई. तभी पापा ने मुझसे पूछा- विवेक, तुमने अपनी पढ़ाई तो पूरी कर ली है, अब आगे क्या सोचा है?मैंने कहा- पापा बस अब मैं सोच रहा हूं कि आपकी तरह कोई जॉब मिल जाए, तो मज़ा आ जाए.

चूत लंड वीडियो

उसकी चुत के गर्म पानी ने मुझे भी पिघलने पर मजबूर कर दिया और एक दो मिनट के बाद मैं भी झड़ने वाला हो गया था. वो मोन करने लगीं और अपने दोनों हाथों से अपनी चादर पकड़ कर कुछ इठने सी लगीं. उसने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी गांड के छेद में अपनी जीभ से मजा देने लगा.

कोमल सीत्कारने लगी- इई ई मां आह आह्ह … आईआ … आईहह … मम्मी … स्सस … उफ्फ … आह्ह … बिट्टू … ओह. और मैंने सुमन को पलट कर घोड़ी बना दिया, उसकी गांड के छेद में उंगली डालने लगा. इतने में सलमा ने मुझसे कहा- अलीज़ा से बात नहीं करोगे?मैंने कहा- हां क्यों नहीं … मुझे लगा कि वो तुमसे बात करने आई है.

फिर डायरेक्टर रश्मि के ऊपर चढ़ कर उसके बोबों में लंड रगड़ने लगा और उसके सिर की तरफ़ से कैमरा लिए राजू ने मेरी बीवी के मुँह में लंड दे दिया. उसकी शादी कहीं और हो गई और मेरी कहीं और … भले ही हमारे बीच अब चुदाई नहीं हो पाती है लेकिन हमारे बीच आज भी प्यार है. दीदी लगातार सिसिया रही थीं- आह्ह याहह उह हम् म् म्म मम आह वीरू चोदो … आह और चोदो आह्ह आहह मेरी चूत का भोसड़ा बना दो … आह्हह मेरे भाई मेरे राजा.

चुत में लंड अन्दर जाते ही मैंने शरद की क़मर को कसके पकड़ लिया और उसके जोरदार झटकों का मज़ा लेने लगी. मैं दीदी के कान में चुपके से बोला- दीदी कैसा लगा आपको?दीदी- वीर, आज तक मेरी चूत को कोई ने इस तरह से नहीं चूसा.

जैसा कि आप सभी को मालूम है कि तारक मेहता वाले सीरियल में सोढ़ी नामक एक सरदार बड़ा ही नॉटी दिखाया जाता है और उसकी सेक्सी बीवी रोशन भी बड़ी चुलबुली किरदार है.

दीदी भी मस्ती से अपनी चूत चुदवा रही थीं और हल्की हल्की आवाज भी निकाल रही थीं. क्सनक्सक्स वववइसके बाद मैंने अर्शिया के टॉप के सारे बटन खोल दिए और ब्रा भी नीचे खींच ली. साड़ी वाली भाभी की चूत की चुदाईमैंने उसी समय बाथरूम में जाकर उस ब्रा-पैंटी को पहना, तो मेरे चूचे और चुत साफ़ दिख रहे थे. मेरा सोया हुआ लंड दूसरी लड़की के हाथों का स्पर्श पाकर होश और जोश में आ गया.

इससे उसे मजा आने लगा और आवाजें करती ही उछल उछल कर लंड अन्दर तक लेने लगी थी.

उसकी रसीली बुर का पानी बड़ा मस्त था, आज भी याद करके मुंह में पानी आ जाता है. होटल में टीवी देख कर थोड़ा टाइम पास किया मगर मेरे दिमाग से उस लड़की का ख्याल जा ही नहीं रहा था. फिर ट्रेन एक बड़े स्टेशन पर रुक गई, तो मैंने सोचा कि डिब्बा बदल लिया जाए … उधर सोने के लिए शायद एकान्त जगह मिल जाए.

मैंने भी उसके होंठों को अपने होंठों से चूसते हुए लौड़े को पूरी ताकत से चुत के अन्दर डालना निकालना शुरू कर दिया. फिर में नीचे बैठ गया औऱ रंगोली के दोनों पैरों को थोड़ा फैलाकर उसकी चूत की गुलाबी दरारों में अपनी गर्म जीभ रख दी. वो सुंदर तो थी ही और जब बन-ठन कर निकलती थी तो लोग उसे देख कर आहें भरते थे, जिससे उसको बड़ा सुकून मिलता था.

ડબલ્યુ ડબલ્યુ સેક્સ વીડિયો

कमरे में पड़े बेड पर नाज को लिटाकर मैंने अपनी लुंगी खोल दी व कुर्ता निकालकर नंगधडंग हो गया. मैंने धीरे से बुदबुदाते हुए कहा- ऐसी महक लगाने से तो मन करता है कि गुलनिहाल … मैं तुझे खा ही जाऊं. मैंने पूछा- आपको मेरी नजर कहां जाती हुई लग रही है?भाभी तो भाभी ने साड़ी का पल्लू गिरा दिया और अपने दूध तानते हुए बोलीं- यहीं देख रहे थे ना!मैंने दूध निहारते हुए कहा- हां बहुत बढ़िया इलाका है.

घुटनों के बल खड़े होकर अपने लण्ड का सुपारा नाज की बुर के मुँह पर टिकाकर मैंने नाज की कमर पकड़ ली और लण्ड नाज की गुफा में पेल दिया और अन्दर बाहर करने लगा.

मैंने कहा- ठीक है लेकिन वो कब आएगी?सरोज बोली- रात को भाई और अम्मा के सोने के बाद मैं खुद मालती को रूम में छोड़ने आऊंगी.

मैंने बाक़ी बीस प्रतिशत को भी समेट लिया और अपने होंठ उनके होंठों पर रख दिए. इस वक्त मुझे खुद एक लंड की जरूरत थी … जो मेरे सामने मुझे चोदने के लिए रेडी था. सेक्स वासनाअब मेरी हालत बिना पानी की मछली के जैसे हो गई। मैं वासना के मारे तड़प रही थी.

कांख पर चलती उसके कंधे की उस गति का आनन्दमय भाव मैं सिर्फ भीड़ के भय से अपने अन्दर समेटे हुए थी. कुछ पल बाद मैंने उसे उठा कर बेड पर लुढ़का दिया और उसे पागलों की तरह चूमने लगा; उसके मम्मों को दबाने लगा. तब भी मेरे मन में कुछ सवालात थे कि उन्होंने लंड लेते समय जो दर्द दिखाया था वो क्या था.

इन दोनों ही बार हमने एक दूसरे को भरपूर प्यार किया था और एक दूसरे से दूर रहने की एक एक कसर को पूरा किया था. मैंने पहले ट्रेन से 4 घंटे सफर किया, फिर वहां से छोटी वाली बस पकड़ी जिसमें 2 लोगों की सीट पर भी 2 लोग ठीक से नहीं बैठ पा रहे थे.

अलीज़ा की चूत ने इतना पानी छोड़ा कि उसकी पूरी टांगें चूत के पानी से भीग गईं.

अब उनके मुंह से कामुक सिसकारियां निकलने लगीं- आह आह आह ओह याह फॅक मी हार्डर … आह ओह युवी … यु फक सो गुड. उसके हंसने के बाद मेरा भी टेंशन खत्म हुआ, मैं भी हंस दिया और इंटरव्यू के लिए चला गया. पर …दोस्तो, मैं आपको दो दोस्तों और एक बीवी की चुदाई की कहानी बता रहा था। हॉट गर्ल्स लव सेक्स कहानी के पिछले भागपति के लंड से मन नहीं भराhttps://www.

सेक्सी फोटो सेक्सी फोटो बस तू गोगी पुत्तर को जल्दी सुला दिया कर … आह … आह … ले!ये कहते हुए सोढ़ी ने अपना सारा माल रोशन की गांड में निकाल दिया और उसी वक़्त रोशन ने भी अपनी चूत से ढेर सारा पानी सोढ़ी के लंड पर उड़ेल दिया. अब मेरे मन में कुछ अलग ही चल रहा था इसलिए उसके पीछे पीछे मैं भी अन्दर चला गया.

मैं खुद को रोक ही नहीं पाया और अगले ही पल मैंने झुक कर उसकी चूत पर अपने होंठ लगा दिए. शरद के होंठ मेरी चुत पर लगते ही मेरे मुँह से अपने आप मस्ती भरी सिसकारियां निकलनी शुरू हो गईं. उसको चूसते हुए मैंने उसकी टी-शर्ट को निकाल दिया और उसकी गर्दन और कान की लौ को चूसने लगा जिससे कोमल के निप्पल कड़े होकर मूँगफली जैसे हो गए.

देसी आंटी की सेक्सी वीडियो

आगे की ओर झुकते हुए नाज की चूची मैंने मुँह में ले ली और लण्ड को अन्दर धकेलने लगा. मेरी चुदाई का तीसरा राउंड साढ़े ग्यारह बजे से शुरू हुआ, जिसमें आशीष ने मेरी चूत और गांड का एकदम भुर्ता बना दिया. उसने दरवाजा ओपन करके मुझे कॉल किया कि बिना दस्तक दिए सीधे अन्दर आ जाना.

आज मैं आपको अपनी ज़िन्दगी में हुए एक सच्चे अनुभव के बारे में बताना चाहता हूँ. उसके पति ने उसकी समुन्दर जैसी रसीली जवानी की एक बूंद मात्र ही पी है.

एक रविवार हम सब क्लास में बैठ कर पढ़ रहे थे कि अचानक बहुत तेज़ बारिश होने लगी.

कैसे मैंने उसकी सील तोड़ी?देसी लड़की Xxx कहानी के पिछले भागजुम्मन की हसीं बीवी भी चुद गयीमें आपने पढ़ा कि मैंने नाज की अम्मी की चुदाई भी कर दी. उसने मुझे बताया कि वो पैरामेडिकल की स्टूडेन्ट है और उसके अब्बू सरकारी नौकरी करते हैं. सिक्युरिटी गार्ड ने अन्दर किसी को कॉल किया और दस मिनट बाद अन्दर जाने को बोला.

किसी भी कीमत पर मेरा मूसल अन्दर जाने की पोजीशन में ही नहीं दिख रहा था. ये भाई बहन सेक्स की कहानी मेरी और मेरी अपनी बहन आर्या की है, मैं उसे प्यार से आरू कहता हूँ … और वो मुझे प्यार से मनु भाई कहती है. मैं उनके साथ बाइक पर जा रही थी, तभी उन्होंने मुझे अपनी कमर पकड़ने को बोला.

मैंने नहाने के बाद ख़ाना बनाया और खाकर अपने बिस्तर पर आराम करने लगा.

देहात की नंगी बीएफ: फिर करीब तीन महीने बाद मुझे उसकी रूममेट प्रियंका का फ़ोन आया जिसके साथ वो पहले रहती थी. ”मुझे मेरी बांहों में कसके जकड़ कर राजीव अपना सारा वीर्य मेरी चूत में ही उतारने लगे.

तभी मुझे फोन आया- कैसा लगा?मैं बोली- मैं नहीं जानती थी कि आप इतने रोमांटिक हो … चलिये अब जल्दी आ जाइए. मेरे मन में आ रहा था कि आंटी उंगली से क्या होगा … आप मेरा लंड इस्तेमाल कर लो … पर मैं ऐसा नहीं कर सकता था. दीदी अपनी चुदाई में बहुत चिल्ला रही थीं, जिससे मुझे मालूम चल गया कि अभी तक वो भी अनचुदी माल थीं.

मैं जानता था कि फिलहाल यही मौका है था दीदी को चोदने का, इसलिए मैंने जरा भी देरी नहीं की थी.

हम दोनों में वासना गहराने लगी और हमारी जीभें एक दूसरे के मुँह में कुश्ती लड़ने लगीं. इस फेंटेसी Xxx स्टोरी में मैंने तारक मेहता का उल्टा चश्मा वाले सोढी और उसकी बीवी की गांड चुदाई की कल्पना की है. मैं चौंक कर बोला- दो बार … एक बार तो रसोई वाली चुदाई तो मैंने देखी है.