गांव वाली लड़की की बीएफ

छवि स्रोत,ब्लू पिक्चर चुदाई वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

लंबी चूत वाली बीएफ: गांव वाली लड़की की बीएफ, अब आगे…विवेक के गिफ्ट किए गए फ्लैट में शिफ्ट होने के बाद विवेक का आना कम हो गया.

ब्लू पिक्चर चोदा चोदी वाला

रंग भी इतना अधिक लगा देती थीं कि समझो एक हफ्ते तक रंग छुड़ाना पड़ता था. चोदने वाली सेक्सी व्हिडिओअगले दिन लगभग 4 बजे शाम को मैंने सिमरन को फ़ोन किया और बताया कि मैं फ्री हो गया हूँ.

इसके बाद जो नज़ारा मेरी आँखों के सामने था, उसे देख कर मेरी गांड फट गई थी. बुआ की चुदाई हिंदी मेंमेरी गांड में बस के एसी की हवा लगते ही काम वासना और तेजी से भड़क उठी, उस पर एक मर्द का हाथ मेरी गांड को प्यार से सहलाए जा रहा था.

सच में दोस्तो, जो भी पति अपनी पत्नी को किसी और पुरुष के साथ देखना चाहते हैं, वो ही इस आनंद को महसूस कर सकते हैं जो मैं महसूस कर रहा था.गांव वाली लड़की की बीएफ: कामिनी की आवाज आ रही थीं ‘आआह्ह… आअह्ह क्या पेल रहे हो… क्या लौड़ा है मेरी जान…’विवेक में चुदाई का जबरदस्त स्टैमिना था.

मैं उदास सा एक बैंच पर बैठा था कम रोशनी थी… कि तभी एक व्यक्ति मेरे करीब से गुजरा, उसने मुझे पहचान लिया.नंदा रानी के बारे में जानने के लिए कहानी पढ़ेंचंदा रानी की कुंवारी बहन की नथलेकिन रेखा रानी का जूस कोई सामान्य जूस नहीं था, यह तो शहद जैसा गाढ़ा था.

लंड वीडियो - गांव वाली लड़की की बीएफ

अपना होम टाउन छोड़ कर इस तरह मैं अपनी डिअर स्वीट वाइफ नीना समेत बच्चों के साथ दिल्ली से सटे शहर फरीदाबाद में शिफ्ट हो गया.मैंने भाभी की गांड पर थूक लगाया और फिर लंड को टिका कर दबाव बनाता गया.

जल्दी ही दरवाजे पर लगी घंटी बज उठी और हमारे मेहमान हाथों में सुर्ख गुलाबों के बुके लिए हुए प्रकट हुए. गांव वाली लड़की की बीएफ उसको मैंने लगभग मोड़ कर इकठ्ठा कर दिया था और सीधी लंड की ठोक उसकी बच्चेदानी तक मारने लगा.

चूंकि वो दो बार मेरी चुत चोद चुका था, इसलिए उसका पानी जल्दी नहीं निकलने वाला था.

गांव वाली लड़की की बीएफ?

जब वो बटन खोलने की कोशिश कर रही थी, तो बटन खुलने का नाम ही नहीं ले रहा था. इसके बाद मैं नीचे लेट गया और वह मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे लंड को अपनी चूत में डाल कर ऊपर नीचे उछलने लगी. उनकी चूत मारने का यह मौका मुझे अभी कुछ महीने पहले ही मिला था और मैं इसे आप सबके साथ बाँटना चाहूँगा.

’ बोल कर चुप हो गईंनवीन- मालकिन, आप इतना बिंदास अन्दर करवाती हैं, कभी आप को बच्चा हो गया तो?मॉम सुन कर हंसने लगीं और बोलीं- सुन अभी चार महीने पहले मैं तेरे लंड से प्रेग्नेंट हो गई थी. अब मैं धीरे धीरे अपने होंठों को उसके होंठों के पास ले गया और उसे किस कर दिया. मेरा दिल तो ऐसे लगता था, जैसे वो मेरे मुँह के रास्ते बाहर आ जायेगा.

समय के साथ साथ हमारे बीच आकर्षण बढ़ता गया और एक दिन हम दोनों ने मिल कर आपस में एक दूसरे को आई लव यू बोल दिया. मैंने गांड के सुराख़ पर जीभ फिरानी शुरू की ही थी कि रानी की नींद टूट गई. जगह कम होने की वजह से विशाल बार बार अपना पैर मेरे पैरों पे रख देता था.

कुछ ही देर में हम दोनों ने आसन बदला और अब वो मेरे लंड पर बैठ कर ऊपर नीचे होने लगी. इसके बाद चंदर बोला- बिन्दु जी, ज़रा टांगें चौड़ी करके मेरा पास आओ ताकि मैं आपकी चुत को अच्छी तरह से देखूं, जिसने एक बहुत ही मादरचोद किस्म के चोदू लंड को निकाला है.

वहां मुझे उस कंपनी के मैनेजमेंट की रिप्रेज़ेंटेटिव के साथ डील करनी थी.

शादी अगले ही महीने हो गई और शादी के बाद विक्रम मुझे कई जगह घुमाने के लिए ले गया.

हालांकि मेरे मन में उनके लिए कोई भी गलत भावना नहीं थी क्योंकि मैंने उनको कभी उस नज़र से देखा नहीं था. अब विशाल धीरे धीरे मेरी फुद्दी चोदने लगा और वे तीनों हमें देखने लगे. थोड़ी देर में ही मेरा पानी निकल गया और मैं शांत हो कर रूम में जाकर सो गया.

इस तरह उन सास बहू की चुदाई चलती रही और उसके बाद मैंने और भी बहुत सारी आंटी और भाभी लोगों की चुदाई की है. फिर वे अपनी नाक को मेरी चुत के पास लाए और अन्दर की ओर तेज़ साँस ली. मैंने जैसे ही लंड उसकी चूत से बाहर निकाला तो उसकी चूत से खून निकलने लगा.

तो बोली- इसे चुप कौन कराएगा?मैं बोला- आपका पति।तो वो बोली- अभी तो तू ही मेरा पति है, देख कब तक मैं तुमसे आज चुदती हूँ। एक बात जानते हो, मैंने अपनी शादी में किसी भी मित्र को नहीं बुलाया।मैं बोला- मुझे पता है।प्रियंका ने तो अंतिम विदाई के समय तक मेरे लिंग को चूसा और चूत चुदवाई। शादी की रस्मों के बाद आराम करने के बहाने से वो रूम में आ गई थी और चुदाई का एक दौर पूरा कर गयी थी.

मैंने फट से अपने लंड को फुद्दी से निकाल लिया कि कहीं उसकी मलाई से मेरा लंड न झड़ जाए और वो पेट से ना हो जाए. मेरी मारेगा?उसने इतना ही कहा और मेरे जबाव का इन्तजार किए बिना वो एकदम पलट गया. जैसे ही मैंने अपना अंडरवियर निकाला और उसने मेरा 8 इंची लौड़ा देखा, उसने भागकर बेड पर छलांग लगा दी.

मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसे अपने ऊपर गिरा लिया और उसके चेहरे से बालों को हटाते हुए उसकी आँखों में देखते हुए कहा- आरुषि वाक़यी में तुम बहुत खूबसूरत हो!और फिर कब हमारे होंठ आपस में जुड़ गये कोई पता नहीं चला. दस पन्द्रह मिनट तक मेरे रसीले होंठों का रस पान करने के बाद उसने मुझे नीचे अपने लंड के पास जाने का इशारा किया. इससे पहले मेरी नियत खराब नहीं थी, लेकिन इस हरकत के बाद मेरा ख्याल बदल गया था.

हाँ, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना, वेरा-माइना…” आर्थर दुगने जोश के साथ सफ़ेद परी को अपनी कलाइयों पर उछालता हुआ अपने लंड पर पटकने लगा.

बड़ी मुश्किल से मैंने स्कूल पास किया और बार बार फेल होती रही।हां यह सच है कि मेरी मम्मी बहुत लालची हैं, रुपयों को बहुत मानती है, वही स्वभाव मेरे में भी है, मेरी कमजोरी भी पैसा है।मम्मी कसम… मैं एक एक शब्द सही लिख रही हूं. मैं भी उनके पास में ही खड़ा रहा और हम दोनों के बीच सामान्य बातें होती रही.

गांव वाली लड़की की बीएफ फिर करीब 15 मिनट तक उसे चोदने के बाद मैंने अनामिका से कहा- मेरी जान, अब मैं झड़ने वाला हूँ, क्या करूं?तब वो बोली- प्लीज मेरी गर्म गांड को अपने अनमोल रस से भर दो, मैं तुम्हारी और तुम्हारे लंड की बहुत एहसान मंद रहूंगी।अब इस दौरान में भी अपनी चरम सीमा पर आ गया था और खूब ज़ोर-ज़ोर से अपना लंड उसकी गांड में डाल कर उसको चोद रहा था। अब वो ‘आहह माँ, आअहह… मारो और मारो…’ चिल्ला रही थी. भाबी बोली- जब तेरी शादी होगी तो जब नहीं पहनेगी क्या?मैं बोली- तब की बात और है.

गांव वाली लड़की की बीएफ यही सब सोचते हुए मैंने अपनी आँखें खोल कर उनके हाथ को पकड़ कर बोली- हाय भाईजान, यह आप क्या कर रहे हैं?मुझे जागता देख भाईजान घबरा गए और मेरे पास से अलग हुए. धीरे धीरे मैंने उसकी साड़ी को ऊपर उठाया और उसकी टांगों को थोड़ी देर सहलाने के बाद मैंने उस भाभी की चूत में उंगली करना चालू कर दिया.

इतने में ही पार्किंग वाले ने हमारी विंडो पे नॉक किया, तो हम संभल कर बैठ गए.

सेक्सी वीडियो भाई जी

उन्होंने हिचकते हुए मेरे लंड को पकड़ा और अपनी चुत के मुँह पर मेरे लंड को रख दिया. आंटी की चुदाई के साथ-साथ मैं किस करते हुए उनके मम्मों को भी दबा रहा था. मुझे खाना खिलाते हुए वो अपनी मक्खन गांड को मेरे लंड पे रगड़ रही थीं… जिससे मुझे दोहरा मज़ा मिल रहा था.

कामिनी की चूत तो पहले ही विवेक से चुदने के लिए पानी छोड़ने लगी थी, विवेक बोला- मेरी जान तुमको तो बहुत गुस्सा आता है. अब उससे आगे:-हमने खाना खाया और होटल से निकल कर रश्मि के घर 5 बजे रोहिणी पहुँच गए. फिर मैंने उसकी चूत में एक-एक करके पूरी चार उंगलियां अन्दर कर दीं और मजे से अन्दर बाहर करने लगा.

मैं जिस मकान में रहता था, उस मकान में और भी किरायेदार लोग रहते थे लेकिन मेरी उम्र का कोई नहीं था तो ज़्यादा मैं किसी से बातचीत नहीं करता था.

मेरा भ्रम होगा, ये सोच के मैंने वो बात भुला दी और चेंज करके मैं हॉल में आ गई. उसने कहा- ठीक है!तो सबसे पहले मामी गई बाथरूम में, फिर मैंने अपने घर का चक्कर लगाया और देखा कि सब सो रहे हैं या कोई जाग भी रहा है. भाभी को किस करते हुए कई मिनट तक मजा लिया और साथ ही उसके मम्मों को दबाया.

उसने उस टाइम ब्लैक ट्राउज़र, डीप नेक का ब्लैक टॉप और ब्लैक जैकेट पहन रखी थी. इसको भी उन्होंने सीसी कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया और मुझको दिखा कर बोलीं- अगर कभी मुँह खोला तो यह सब तुम्हारे पापा को दिखा दूँगी. कामिनी ‘ऊहह हह आअहह…’ कर रही थी और बोल रही थी- क्या उछाल उछाल कर चूत लेते हो सैयां जी… तुम्हारा लंड मेरी बच्चेदानी तक जा रहा है.

फिर उन्होंने अपने धक्कों की रफ़्तार तेज कर दी और अपना पानी मेरी चूत में छोड़ दिया. पर मेरा गाल का स्पर्श होते ही मोहन सोया हुआ लंड धीरे धीरे खड़ा होने लगा.

मैं नीचे दबा था तो मैंने उसकी पैंटी को अपने हाथों से नीचे कर दिया और बहन की चुत और चुत के आसपास के जगह को सहलाने लगा. कुछ लोगों ने मुझको मेल करके बताया कि मेरी कहानी उनको काफ़ी मस्त लगी. उसको पैसे चुदाई से पहले ही दिलवा देना ताकि चुदाई से पहले वो बहुत खुश हो जाए.

तभी मेरी मॉम ने कहा- जा पीछे मेहता जी फैमिली रहने आई है, उनके घर जाकर उनको ये बिल दे आ.

यह सब देख कर मुझे उस के ऊपर बहुत गुस्सा आया और मैंने उसको बहुत कुछ सुनाया. क्यों मेरी जान मजा आया, पानी में आग भुझवा कर?”अर्पिता- जानू, एक बार तो मेरी सांस अटक गयी थी. जैसे ही मैंने शावर चालू किया, गर्म पानी मेरे जिस्म पे गिरने लगा, जो मुझे बहुत आराम पहुंचा रहा था.

क्या करें… हमारा रिश्ता था ही ऐसा! दोस्तों जैसे!लेकिन मुझे लंड की बहुत जरूरत थी, मेरे पति जॉब पर चले गए थे और मुझे चुदवाने का बड़ा मन कर रहा था. मेरी नींद खुल गई पर मैं चुपचाप लेटा रहा, शायद राम सुख का कोई साथी था.

मॉर्निंग में जब बस अहमदाबाद पहुँची तो हम दोनों ने अपने अपने फोन नंबर एक्सचेंज किए और फिर वो अपने रास्ते और मैं ऑटो पकड़ कर अपनी मंज़िल की तरफ चला गया. बस मुझे मैथ में थोड़ी प्राब्लम होती थी, जिसमें मैं रिमझिम की मदद लिया करता था और बदले में उसे कैमेस्ट्री पढ़ाया करता था, जिससे हम दोनों की आपसी कैमेस्ट्री काफी अच्छी हो गई थी. दोस्तो! पिछली कहानीलिफ्ट लेकर दिल्ली के रास्ते में चुदीमें आपने पढ़ा कि कैसे मैंने सिमरन नाम की एक लड़की, जो शादीशुदा थी, को दिल्ली जाते हुए अपनी कार में लिफ्ट दी और उसे पटा कर रास्ते में एक होटल में मजे से चोदा.

डॉग सेक्सी वीडियो गर्ल्स

अब उसने मुझे झटके से पलट दिया जिससे मेरी गान्ड उसके लंड की तरफ हो गयी और बोला- अब होगी इस गान्ड की चुदाई!मैं फ़ौरन उसकी तरफ़ मुड़ा और मैंने फ़ौरन बाथरूम का गेट खोल दिया और बोला- भाई! मैं गान्ड में नहीं लूँगा लंड… मैंने चूसने की ही बात की थी… तुम्हारे इस लौकी जैसे लंड से मुझे अपनी गान्ड नहीं फड़वानी है… और मैं वैसे भी गान्ड नहीं मरवाता.

अब दोनों तरफ के धक्कों से चुदाई वाली आवाज दोगुनी हो गई थी और उसने मुझे बिल्कुल टाइटली पकड़ लिया. मेरी गांड में बस के एसी की हवा लगते ही काम वासना और तेजी से भड़क उठी, उस पर एक मर्द का हाथ मेरी गांड को प्यार से सहलाए जा रहा था. मुझसे मामी ने पूछा- नीरज, तू कब तक सोएगा?मैंने कहा- अभी तो मैं टीवी देखूँगा.

वो मुझे सेक्स के लिए तैयार करना चाहती थी लेकिन मैं तो पहले से ही उसको चोदने के सपने देख रहा था. मैं बोली- मेरे को इतना क्यों खिला रही हो भाबी… मैं इतना नहीं खाती हूँ. बोलो एप डाउनलोडमैंने अगले दिन रीटा को चोदने की खुशी में तीन बार मुठ मार कर अपना पानी निकाला था.

उन्होंने मुझे बेड पे लेटा दिया और मेरी टांगों के बीच आ गए और लंड को मेरी चूत पे सैट करके एक ही झटके में मेरी चूत में ठोक दिया. बता हीरो इसको… हम कौन हैं और क्यों आए है यहां…?”मैंने रोते हुए उनको पूरी बात बताई… तो उन्होंने उस आदमी को देख कर कहा- चलो मेरे पीछे.

मैंने पहले सब दरवाजे और खिड़की अच्छे से बंद कर ली और साली से कहा- इन कामों का बड़ा अनुभव लगता है. उनकी पतली कमर को अपने मजबूत हाथों में पकड़ा और एक ज़ोरदार झटका मारा. भाभी ने देखा तो वो झट से मेरे होंठों पर अपने होंठों से किस करके अपनी चुत रस को चाटने लगीं.

एक औरत में कितनी कामुकता होती है और वो अपनी अनबुझी प्यास कामवासना बुझाने के लिए क्या क्या कर सकती है. हमें एक दूसरे से प्यार हो गया था लेकिन कोई इजहार नहीं… कोई कुछ बोला नहीं बस मूक अनकहा सा सच्चा प्यार!बहुत मजा आ रहा था इस प्यार का…एक दिन वो बोली- आर्यन, तुम मुझे कुछ गिफ्ट नहीं दोगे?मैं बोला- क्यों जिया? आज बर्थडे है क्या आपका?जिया बोली- तुम आज शाम को मेरे घर पर आना, मैं सब बताऊंगी।उसने मुझे अपने फ़्लैट का पता बताया और कहा कि शाम आठ बजे मैं तुम्हारी प्रतीक्षा करूंगी. मौसी भी एक बार झड़ चुकी थी तो उन्हें भी इस धीमी गति के चोदन में हल्का हल्का सुरूर हो रहा था.

मंजू मचल उठी- ओह हहहह… संजू प्लीज़ करो न!मैंने भी उसको तड़पाना जारी रखा.

वो मुझे देख कर मेरे ऊपर फिदा हो गयी थी, उसको बस मैं ही में दिख रहा था. ऐसे मस्त माल भाभी की नंगी चूत देख कर कोई मर्द लंड कैसे शांत रह सकता था.

फिर मैं रूम में गया तो मेरी साँसें बहुत तेज हो गईं, क्योंकि पायल भाभी मेरे सामने पलंग पर सिर्फ ब्रा और पैंटी में लेटी थीं. जैसे ही मैंने शावर चालू किया, गर्म पानी मेरे जिस्म पे गिरने लगा, जो मुझे बहुत आराम पहुंचा रहा था. एक कहानी लिखी थीपति के दोस्त ने मेरी फ़ुद्दी चोद दीजिसमें मेरे पति के दोस्त ने मेरी फुद्दी चोदी थी.

मैं आगे कुर्सी में बैठ गई और भाभी को चुदते हुए अपनी आंखों के सामने देख रही थी. तभी मैं प्रीति की चूत के सामने आ गया और अपना लंड प्रीति की चूत पर घिसने लगा तो प्रीति सिसकारी भरने लगी. मैंने गाड़ी साइड में लगा दी और वह भैया उतरा और किराया देकर चला गया.

गांव वाली लड़की की बीएफ परेड ख़त्म हो जाने पर हम लोगों ने नजदीक पुश्किन स्क्वायर पर स्थित मैक डोनाल्ड में जाने का फैसला किया. ”मैंने सलवार को ऊपर खींचा और बिना नाड़े को बांधे, नीचे की बर्थ पर ही लेट गई और कुछ देर बाद मैंने आँखें बंद कर लीं.

महाराष्ट्र गावरान सेक्सी व्हिडिओ

दोस्तो… क्या मजा दे देकर चूस रही थी लंड… मुझे तो बहुत मजा आ रहा था. जब वो बटन खोलने की कोशिश कर रही थी, तो बटन खुलने का नाम ही नहीं ले रहा था. फिर अचानक से उसने लंड को जड़ से पकड़ लिया और उस पर चुम्मियों की बरसात कर डाली.

अब तक भाभी की वासना की कहानी के पहले भागकामुक भाभी की चुदाई का सुख-1में आपने पढ़ा था कि मेरे पड़ोस की सेजल भाभी ने मुझे सूदखोरों के चंगुल से बचाया था और अब वे मुझे एक अजीब तरह की सजा दे रही थीं, जो मेरे भेजे से बाहर थी. जब मेरा दोस्त मुंबई से आ गया, मेरे दोस्त ने मुझे बताया- मेरी एक गर्लफ्रेंड यहीं पास के गाँव की है. बाप बेटी का एक्स एक्स एक्समैं- भाभी मजा आता होगा ना?भाभी- क्यों तुझे भी कराना है?मैं- नहीं बाबा बस ऐसे ही…भाभी- मन में तो लड्डू फूट रहे हैं… बोल भी दे माधवी.

भाभी- तुम दिखाओ तो, मैं देखूँ तो क्या बीमारी है?मैंने शरमाते हुए पैन्ट खोल कर अंडरवीयर नीचे किया.

आंटी नहाते वक्त अपनी चुत में उंगली कर रही थीं और ऊंहां… ऊऊऊऊ… स्स्स्स्स्…” जैसी कुछ कामुक आवाजें निकाल रही थीं. ये सब देख कर बूढ़ा उसे उकसाए जा रहा था- हां बेटा, ज़रा जोर से चोदो, यह तुम्हारी बहन नहीं है.

बिंदु माँ अपने रूम में जाकर नंगी होकर मेरे रूम में आ गईं और आशीष और मेरे कमरे के बीच का दरवाजा खोल दिया. मैं जानबूझ कर मोहन के पांव के पास बैठ गई थी और ट्रक के चलने का इंतजार कर रही थी. वो तेज़ तेज़ धक्के लगाकर बोलने लगा- साली रंडी चाची, आज तुझे बताता हूं, गे बोला था ना मुझे.

उसकी भूख बढ़ गयी थी, वो किसी भी कीमत में चुदने को राजी थी, लिहाजा मेरे आगे उसने हार मान ली और बोल पड़ी- विलियम, फ़क मी… चोदो मुझे… फाड़ दो इस चुत को!मैं एक बार फिर से संजू से विलियम बन कर उसे चोदने लगा.

साथ ही वो मादक आवाजें भी निकालने लगी ‘आह उहह हह आोहह हह…’उसकी कामुक आवाजें सुन कर मुझे भी जोश आ गया और मैं ओर तेज तेज धक्के लगाने लगा. थोड़ी देर में भैया ने कहा- ऋतु अब मैं तेरी चूत में अपना लंड डालूँगा… आज तुझे अपनी बना लूँगा. मोहन मेरी बात पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे रहा था और जोर जोर से लंड को झटका लगा कर मेरी चुत फाड़ने में लगा हुआ था.

एक्सएक्सएक्स वीडियो देसीमुझे तो यही बात याद आती कितेरी जांघों के सिवा,दुनिया में क्या रखा है. मुझे नहीं पता था कि रूम में एक कैमरा फिक्स है, जो पूरी ब्लू फिल्म बना रहा था.

मुस्लिम भाई बहन सेक्सी वीडियो

अब आर्थर ने अपने लंड को गांड में सीधा घुसाना आरंभ कर दिया और हथौड़े से किसी कील को ठोकने के अंदाज में मेरी बीवी की गांड मारनी शुरू कर दी. दस मिनट चाटने के बाद कहने लगी- ओह यार… ये मैं क्या कर रही हूँ…मैंने हंस कर कहा- तुम केला खा रही हो. अब हमरा बॉस बार बार हमका चोरी चोरी ताड़े लगनी!तो दोस्तों ज्यादा देरी न करी और हमार इ सेक्स कहानी के सुनी कि कैसे हमार बॉस हमरा के प्रमोशन और पैसा देवे के बदले में हमरा साथ अंतरंग सेक्स कईले?हमार नाम है बबिता भाभी।अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिये सर्वोत्तमब्राउज़र क्रोम Chrome है.

भाभी ने देर ना करते हुए तुरंत मेरा लंड अपने मुँह में लेके कुल्फी की तरह चूसने लगीं. मैं उसकी चुत को तुम्हारे सामने ही चैक करवा कर देखूंगा कि वो अनचुदी है या पहले भी चुद चुकी है. भाभी ने पचास का नोट निकाला और कहा- रूको… हम दोनों को वापस भी छोड़ देना.

यह कहते हुए अपना मोबाइल निकला और उसका चुदाई वाला वीडियो चला दिया, पूरा बीस मिनट का वीडियो था. जैसे ही उसके लंड का पनी निकला तो उसने अपने हाथों से मेरा मुँह तो जबरदस्ती खोल दिया और पूरा माल मारे मुँह में चला गया. अभी मेरा लंड सुपारे से एक दो इंच ही ही अन्दर गया था कि वो फिर से मचली, मैं उसे ज़ोर से किस करने लगा.

हम तीनों ने पहले शावर लिया, फिर मुझे इशारा किया तो मैं बारी बारी से दोनों के शरीर पर बॉडीवाश लगा कर उनकी बॉडी को साफ करने लगा. मैडम का दाना थोड़ा बड़ा सा था, मैं उस दाने को अपने दांतों में लेकर मींजने लगा था.

कुछ एक धक्के लगाने के बाद ही सोनी की चूत ढीली हो गयी।अब मैंने लंड को बाहर निकाला और फिर सीधा लेट गया, मुझे रेशमा की चूत चाटने में बड़ा मजा आ रहा था, इसलिये मैंने रेशमा से एक बार फिर मेरे मुंह पर आने को कहा और सोनी को लंड पर बैठने के लिये कहा.

उसके रस भरे होंठ, उसकी बड़ी-बड़ी आँखें, उसका बिंदास स्वभाव मेरे को रम गया था. ब्लू पिक्चर पिक्चरमैं थोड़ी पतली हूँ, एकदम बारीक कमर और मोटी गांड वाली परी हूँ, दिखने में बड़ी सेक्सी और कटीली माल लगती हूँ. हिंदी बीपी ब्लू पिक्चरइस तरह से कहानियां पढ़ने वाले काफी लोग थे परन्तु छपी हुई कहानी जैसे कोई बहुत अधिक सर्कुलेशन नहीं था. अब उसकी चूत पर ध्यान देने के इरादे से मैंने उसकी पैंटी से नाक लगा कर गहरी सांस लेते हुए सूंघा.

मैंने उसे बेड पर चित लिटाया और उसके दोनों पैर मेरे कंधे पर रख कर उसे चोदने लगा.

उसी समय मैंने मौका पाकर अपने हाथ से भाभी के चुचे दबा दिए और धीरे से भाभी के कान में बोल दिया कि मकान के बाहर चलो, मैं आ रहा हूँ. तो आकर क्या करूँ?भाभी जी ने कहा- कभी बिना काम के भी आ जाया करो, आपके साथ में हमारा भी टाइम पास हो जाएगा. मैंने काफी देर बात की और कल मिलने की सोच कर मेरे लंड महाराज तनने लगे.

मैं- नहीं, मैं इससे नहीं…भाभी- क्या माधवी और कोई तो आ नहीं सकता आज… कोई बात नहीं हम तीनों के सिवाए इधर कोई नहीं आने वाला खूब मजा आएगा. तो मैंने चूतड़ों को उठा दिया और अपनी सलवार के साथ चड्डी को भी खुद ही उतार दिया और अपनी मक्खन चुत को भाईजान के लिए नंगी कर दिया. ये आप पक्के में जान लीजिएगा कि भारत में कोई सच्चा जिगोलो क्लब एक भी नहीं है.

अंडे देने वाले जानवर

जब शाम को भैया ऑफिस से घर पर आए तो भाबी ने मुझे पानी लेकर उनके सामने जाने को कहा. कुछ देर यूं ही मस्ती करने के बाद मकान मालिक ने अपने लंड में कंडोम लगाया और मुझे चित्त लिटा कर अपना लंड मेरी चूत पर लगा दिया. अधखुले आद्र और गुलाबी होंठों में बालों पर चढ़ाने वाला काला रबर-बैंड और बालों में बिजली की गति से चलती दस लम्बी सुडौल उंगलियाँ।यकीनन मेरी कुंडली में शुक्र बहुत उच्च का रहा होगा तभी तो रति देवी मुझ पर दिल खोल कर मेहरबां थी.

उसकी 36-26-34 की फिगर के साथ वो जबरदस्त काँटा माल है और मेरे क्लास की मिस यूनिवर्स जैसी है.

मैं बिंदु, जब चंदर मेरे साथ खेलने लगा तो समझी मेरी तो जान ही निकल गई.

मैंने टांगें चौड़ी कर लीं, तो उसने दारू की बॉटल में से एक पैग निकाल कर मेरी चुत को चौड़ा करके उसमें डाल दिया. पीतमपुरा मेट्रो स्टेशन आने वाला था तो मैंने अपना विजिटिंग कार्ड दे दिया भाभी को और उन्होंने मुझे मेरे गाल पर किस किया और बाई बोल कर चली गई. एक्स एक्स एक्स देसी गर्लमुझे लगा कि भाभी शायद गांड मराने की आदत है इसलिए इनको ज्यादा दिक्कत नहीं हुई.

लेकिन उसके हाथ खेतों में काम करने वाले काफी मजबूत और कड़क थे जिनसे मेरी गान्ड का हाल ठीक वैसा हो रहा था जैसा कि चूसने वाले आम का चूसने से पहले हो जाता है. जिस भी लौंडिया पर दिल आ गया उसके पीछे हाथ धोकर पड़ जाता हूँ जब तक वो पट के चुद न जाएं. वो लड़का मुझ पर इस तरह से झपटा, जैसे चूहे पर कोई बिल्ली झपटा मारती है.

हर लाइन के घरों के फ्रंट उसकी अगली लाइन के घरों के फ्रंट के आमने सामने हैं. वो मेरी बात का मतलब समझ गई और बोली- रहने दो सर, इतनी गर्मी में कुछ नहीं हो सकता.

”अजय मेरे पास आकर मुझे किस करके मेरे मम्मों को दबाने लगा और चूसने लगा.

पार्टी के दौरान मैंने अलका पर अच्छे से नज़र डाली तो मेरा लौड़ा उसकी चूत की चाह में फड़क उठा. हम एक दूसरे को उकसा रहे थे और करीब 20 मिनट की लगातार गांड ठुकाई के बाद मैं उनकी गांड में झड़ गया. दोनों आके मेरे आस पास कुर्सी पर बैठ गईं और बोलीं- और क्या किया दोनों ने अकेले अकेले?एकता ने कहा- अरमान ने मुझे अच्छे से सारे शरीर पर बॉडी वाश से नहलाया और फिर मुझे यहाँ उठा कर खाना खिलाने लाया ही था कि तुम दोनों आ गईं.

बहन की सेक्सी क्या मस्त फिगर और हाइट थी उसकी… आह… दोस्तो मेरे तो कानों में सीटियाँ बजने लगीं. मेरी चालू बीवी की इंडियन सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी बीवी गैर मर्द की बांहों मेंमें आपने जाना था कि मेरी बीवी अपने बॉस के साथ पूरी रात कमरे में चुदवाती रही.

उसके आगे अपनी चुत कर दी ताकि वो भी उसका पूरा नजारा देख कर उसमें अपना मुँह मारे. मैं बोला- यार जब से तुझे देखा तो चोदने का मन था, पर सोचा कि कल शादी है जिसकी, वो एक दिन बाद तो चुदेगी ही. वो दस मिनट में दो बार डिस्चार्ज हो गईं; भाभी बोलीं- पंकज, अब मेरी गांड को भी थोड़ा मज़ा दे दो.

करिष्मा कपूर की सेक्सी फिल्म

उसने एक जोरदार झटका मारा और पूरा लंड चूत की दीवारों को चीरता हुआ अन्दर तक चला गया. फिर उसने मुझको नंगी किया और खुद भी नंगा होकर मुझे चोदने में लग गया. इसके बाद हम दोनों लोग उधर से दवाईयाँ और कंडोम लेने के बाद मकान मालिक की कार में बैठकर घर चल दिए.

तो छुट्टी लेकर मैडम के साथ हो लिया।नीना को सजते संवरते दो घंटे लग गए और हम लोग हॉस्पिटल करीब एक बजे पहुंचे। डॉक्टरों के हर केबिन में खचाखच भीड़ थी. मैं उसकी चूत मारना चाहता था पर वो यहां हो नहीं सकता था क्योंकि जंगल के अन्दर इस खुली जगह पर कोई भी आ सकता था.

आर्थर के धक्कों की गति समय के साथ बढ़ती जा रही थी और वो समय समय पर अपने दोनों हाथों से मेरी प्यारी पत्नी के चूतड़ों को खोलता हुआ उसकी गांड को उंगलियों से सहलाता मुझे दिखाता बडबड़ा रहा था- ले ले! और अन्दर! मजा आया?हाँ… और, और, और… और अन्दर तक… कस के धक्के मारो! फाड़ दो मेरी चुदक्कड़ चूत को!” नताशा भी उसके धक्कों का दिल खोल कर स्वागत कर रही थी.

मोहन ने जैसे मुझे देखा, खुद झटके से मेरे सर से टोकरी को नीचे रख दिया और मुझे बांहों में लेकर चुम्बन लेने लगा. जिम बिल्कुल पैक और लॉक करके रखा था क्योंकि मूड हुआ तो यहीं चालू हो गए, हल्का हल्का म्यूजिक चल रहा था. और फिर भाभी ने मेरा लंड सहलाना स्टार्ट किया तो मेरा लंड भी टाइट हो गया.

आंटी ने पूछा- हो गया शांत?मैंने कहा- क्या मतलब?उन्होंने कहा- मतलब फ्रेश हो गया. आ!!अचानक मेरे गाल के धक्के से प्रिये के दाएं उरोज़ का कप थोड़ा ऊपर उठ तो गया लेकिन अभी प्रिया की पीठ पर ब्रा का हुक बंद होने की वजह से हटा नहीं. पिंकी की चूत से नॉन स्टॉप जूस निकलने लगा, विक्की का मुँह पूरा जूस से भर गया.

रात को लगभग दस बजे माँ ने जोर से बोला कि पानी पी कर सोना और अपना रूम बंद कर लिया.

गांव वाली लड़की की बीएफ: मुझे शरारत सूझी, मैं खुशबू की कमर को पकड़ कर उसके गर्दन और गालों पर किस करने लगा और वो भी नटखटी भाव से मुझे धक्का देने लगी और मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी. पिंकी ने अपनी एक उंगली रोशनी की वी शेप वाली झांटों पर फेरना शुरू किया, रोशनी आंख बंद करके मुँह से आह.

मैं जब जब उन विधवा दीदी को देखता था, तब तब उन पर मुझे तरस आता था लेकिन मैं ईश्वर की मर्ज़ी के आगे क्या कर सकता था. ऐसा करते करीब 15 मिनट बाद मेरे लंड से माल निकालने लगा, मैंने जल्दी जल्दी उसे गमछे से पौंछा. अब मैं पीछे मुड़ मुड़ कर नगमा को देखता, उसकी मेरी आँखें चार हुईं तो काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे को देखते रहे.

मैं बोला- शीनू?उसने हाँ में जवाब दिया और पूछा- आपकी तबियत कैसी है?मैंने कहा- मैं ठीक हूँ, आप बताओ.

मुझे देखते ही बोलीं- चल मेरे शेर खाना खा ले, आज तूने बहुत मेहनत की है. एक दिन जब मैं बिल्डिंग में उससे टकराया तो उसने मुझे एक कातिल सी स्माइल दी. इस चक्कर में एक जबरदस्त लंड ने मेरी गांड को फाड़ कर रख दिया, हालांकि मजा मुझे भी आया, पर साथ में दर्द भी बहुत हुआ.