बीएफ चूत लंड की चुदाई

छवि स्रोत,रानी चटर्जी के बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीपी सेक्सी वीडियो पेज: बीएफ चूत लंड की चुदाई, लड़का फिर चिल्लाया- सर जी! आ आ आ… आपने तो लगता है फाड़ ही डाली। सर जी थोड़ा रुकें।रोमेश- अरे यार, तुम नखरे कर रहे हो, छोटे बच्चे थोड़े ही हो, ठीक है, मेरे से पहली बार करा रहे हो, पर पहले भी तो कराई होगी? अब तो बस झड़ने ही वाला हूँ, सबर करो जरा, बस सहयोग करो तुम्हें भी तो मजा आ रहा होगा।और उसका एक जोरदार चुम्बन ले लिया और उसकी कमर में हाथ डाल कर चिपक गया, पूरा पेल दिया.

बाथरूम की वीडियो

मैं एथलीट हूँ, अच्छा दीखता हूँ, 6 फिट 1 इंच लंबाई है रंग गोरा, लंड का साइज़ 6 इंच है. பிஎஃப் படம் பிஎஃப்मैं दीवार की तरफ लेटा था, मेरे साथ अर्चना और उसके साथ उससे छोटी…नींद आ गई सबको… सो गए तीनों!रात के करीब डेढ़ बजे मेरी नींद खुली.

’मैं उन दोनों की चुदाई देख रहा था, मेरा दिल हो रहा था कि मैं अन्दर घुस जाऊं. मराठी झवनेया फिर अंजलि इसकी सगी बहन नहीं होगी।दोस्तो, इस बार मैं कुछ और सोच रहा था और शायद मामला कुछ और था, वो क्या मामला था ये सब आपको मेरी इस आंटी सेक्स की कहानी में आगे जानने को मिलेगा।मुझे लिखते रहिएगा। कहानी जारी है।[emailprotected].

मैंने उसको बोला- मजा आया?आंटी बोली- इतने मस्त सेक्स के लिए मैं कब के तड़प रही थी!उसके बाद मैंने उसकी फिर से चुदाई की इस बार मैंने उसकी गांड भी मारी.बीएफ चूत लंड की चुदाई: !फिर तो सभी और निशा भी हंसने लगी।निशा मुझसे चिपक कर हंस रही थी तो मैंने पहली बार उसको दूसरी निगाह से देखा।इसके अगले दिन मैंने निशा से पूछा- क्या तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?तो उसने कहा- पागल हो क्या.

थैंक यू!मैं- कोमल जिंदगी में पहली बार मुझे ऐसा मजा आया! जो आवाजें मैं आज तक सुनता था, वो आवाजें आज तुमने मेरे मुँह से निकलवा दी… तुमने मुझे जीवन भर का आनन्द दे दिया, तुम्हारा मन नहीं करता सेक्स करने का?कोमल- बहुत करता है… बिस्तर पर करवटें बदलती थी, मोबाइल में मूवी देखती थी.मैं देखता ही रह गया… क्या चुची थी मैडम की…मैंने तुरंत उसके एक चुची को अपने मुँह में लिया और चूसने लगा.

ब्लू पिक्चर भेजिए ब्लू पिक्चर भेजिए - बीएफ चूत लंड की चुदाई

क्या लोगे गरम या ठंडा?मैंने कहा- भाभी इतनी गर्मी में गर्म पिलाओगी?तो बोलीं- अरे तो तुम बताओ ना यार, क्या चाहिए?मैंने कहा- नहीं भाभी, कुछ नहीं चाहिए।बोलीं- ऐसे नहीं चलेगा.यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मुझे गुस्सा आ गया और मैंने लंड की स्पीड तेज कर दी। उसकी आंख नम हो गईं.

उसमें से उसके दूध बाहर आने को बेताब थे। मैंने उसकी एक चुची को चूसना शुरू कर दिया। करीब दस मिनट चुची चूसता रहा। इस बीच मैं उसकी गांड पर हाथ भी फिरा रहा था। उसके मुँह से जो सिसकारियां निकल रही थीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ वे मुझे उत्तेजित कर रही थीं।वो भी हर चीज में मेरा साथ दे रही थी। लेकिन मुझे जिस चीज का इंतजार था वो पल आखिर आ ही गया। उसने जो तीन बोतल पानी पिया था. बीएफ चूत लंड की चुदाई मेरी चुची उसके सामने खुली थी, वो काफ़ी देर उनको देखता रहा और कहने लगा- यू डिड्न’ट डू बूब्स जॉब आई थिंक… देट’स वाइ इट्स स्माल… नाऊ यू कम तो राईट मैन… आई विल इनक्रीज देम…और जोरों से उनको मसलने लगा, निप्पल को अपने उंगलियों से खींचने लगा और चुची दबाने लगा.

आज मुझे भी अपनी सेक्सी स्टोरी आप सभी के सामने रखने का मौका मिला है.

बीएफ चूत लंड की चुदाई?

मैं बिस्तर में कूद गया और भूमिका और मैं पांच मिनट तक छीना झपटी का नाटक करने लगे, फिर मैं उसकी स्कर्ट के अंदर से भूमि की चूत पर हाथ फेरने लगा और हम दोनों स्मूच करने लगे. 6 महीने बाद मेरी वाइफ का ट्रांसफर गोआ हो गया और पूजा ने भी शादी कर ली. जब लड़का और लड़की एक साथ होते हैं तो क्या करते हैं?मैं बोला- मैंने कभी किया नहीं.

यह कामपिसाची चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर कुछ देर आराम करके प्रतिभा ने अपने कपड़े पहन लिए, मैंने भी पहन लिए। अपने घर जाते समय उसने मेरे गाल को चूमा और चली गई।उसके बाद की चुदाइयों में वो अति कामातुर हो कर कामापिसाची की तरह चुदाई करती थी. मैंने कहा- भाभी, आपके ये जो गुलाबी होंठ हैं ना, वो इतने रसीले लग रहे हैं कि मैं अपने आपको रोक नहीं पा रहा हूँ।यह कहते हुए मैंने अपने होंठ धीरे से उनके होंठों पर रख दिए और प्यार से चूमने लगा।वो थोड़ी मुस्कुरा दीं और मेरे साथ अपने होंठों को मिलाने लगीं। फिर क्या था. वो अपने रूम में है।मैंने उसको पकड़ लिया और उठा कर दीवार के सहारे लगा कर उसे चूमना शुरू कर दिया।उसने मेरे मुँह से मुँह लगाया तो बोली- आई हेट दिस यार.

हम दोनों चूत चुदाई का खेल जरूर खेलते।मेरे पड़ोस में चूंकि वे लोग किराए से रहते थे। जब उसके पापा के तबादला हो गया तो शीला को परिवार सहित दिल्ली छोड़ कर ग़ाज़ियाबाद जाना पड़ा।आपको मेरी सेक्सी स्टोरी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected]. फ्रिज से एक-2 ठंडी बोतल बियर निकाल कर हम दोनों भी अपने-2 बाथरूम में शावर लेने चल दिए. वो लड़की कोई बीस बाईस साल की होगी, वो मुझे अपने साथ ऊपर के रूम में ले गई, वहाँ कोई नहीं था.

फिर वो अगले दिन लाइब्रेरी में आया और बोला- आज आप मेरे साथ बाइक से घर चलोगी?मुझे लगा कि अब ये मुझे अपने घर ले जाकर मेरी चुदाई करेगा, मैंने भी बोल दिया- ओके. बेहद मस्त लगते थे। उनको यदि कोई चूस ले तो समझो गुलाबजामुन का रस पी लिया हो।वो पता नहीं कौन सा परफ्यूम लगाती थी.

मैंने अपनी जीभ की नोक को उसकी पेंटी के ऊपर से महसूस हो रहे दरार में थोड़ा सा दबा दिया.

मनजीत- अगर आप बुरा ना मानो तो हमारी मॉडलिंग एजेन्सी में आकर अपना फोटोशूट करवा सकती हो!मैं- आना ज़रूरी है क्या?मनजीत- नहीं भी आओगी तो नो प्राब्लम लेकिन अगर आ जाओगी तो हमें अच्छा लगेगा.

इसलिए खून निकला है।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!दो मिनट बाद उनका खून निकला बंद हुआ तो मैंने धीरे से झटका मारना चालू कर दिया।कुछ देर धकापेल हुई और भाभी अकड़ते हुए बिस्तर पर अपने नाख़ून गाड़ने लगीं ‘ओह सुनील. मैं जिम और योगा का इन्स्ट्रक्टर हूँ। मेरे लंड का साइज़ 9 इंच लंबा और 2. और रही मजे की तो तुम्हारे साथ तो मजे मैं करुंगा रात में!यह सुन कर रेशमा ने शर्म से अपनी आँखें नीचे कर ली.

फिर एक महीने बाद उसने मुझे बताया कि वो प्रेग्नेंट है! और उसके बाद वो मुझसे चुदी नहीं!तो यह थी मेरी चूत चुदाई की कहानी… आप अपनी राय मुझे मेल कर सकते हैं. उसकी कहानी उसकी ज़ुबानी…दोस्तो, मेरा नाम चरनजीत सिंह है, मैं पंजाब के एक छोटे से गाँव में रहता हूँ, पिताजी खेती करते हैं, मतलब एक साधारण सा परिवार है. मेरे अंदर की हवस भी जग रही थी जो मुझे उसकी लोअर की तरफ देखने को मजबूर कर रही थी.

ये गलत है?लेकिन उन्होंने मेरी एक न सुनी और मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे होंठों को चूसने और चूमने लगीं। मौसी कहने लगीं- मेरी प्यास बुझा दे.

मैं कॉलेज फार्म भर रहा था और वो भी मेरे पास में बैठ कर कॉलेज फार्म भर रही थी. और दो ही मिनट में नाइटी खोल दी। उन्होंने अन्दर ना ब्रा पहनी थी ना ही चड्डी। मेरा लंड फुल टाइट हो गया था। मैंने उनके बोबे चूसने शुरू कर दिए. मैंने उससे कंडोम निकालने को कहा, मेरी बहन ने कंडोम निकाला तो मैंने उससे लेकर अपने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया.

कभी स्लो कर लेता।फिर कुछ ही झटकों में भाभी झड़ने को मचलने लगी और मैं फुल स्पीड के साथ चुदाई में लग गया. उम्म्ह… अहह… हय… याह… उम्म्म्म सीईईईई… की आवाजें निकाल कर माहौल गर्म कर रही थी. एक बार आधी रात को मेरी गर्लफ्रेंड का फोन आया और उसने मुझे दुबारा फोन सेक्स चैट करवाने को बोला.

आगे से मशरूम सा सुपारा और फिर पूरी खीरे सी मोटाई वाला लंड कोई भैंस बाँधने वाला मोटा खूँटा सा लग रहा था।वेटर ने मैडम के दोनों मम्मों को एक एक हाथ में कस कर पकड़ कर अपनी पोज़िशन ली और लंड का टोपा मैडम की दो इंच की चूत के दरवाजे पर रख दिया।फिर वो गुस्से में बोला- यू इंडियन विच.

शाम का वक्त था अंधेरे और उजाले के बीच का फर्क मिट गया था, लालिमा मद्धम रोशनी ऐसे लग रही थी मानो किसी ने रोमांस के लिए डेकोरेशन किया हो. मेरी उंगलियों के अन्दर घुसने का मेरी गुड़िया को पता भी नहीं चला, क्योंकि उसकी प्यासी चूत में इस समय तेल लगा खूंटा लंड पूरे आवेग से चुदाई कर रहा था.

बीएफ चूत लंड की चुदाई उसने अपने हाथ की उंगलियों पर लगे मेरे रस को सूंघा और चाटने लगा!‘बड़ा स्वादिष्ट है तुम्हारा रस तो!’फिर उसने मेरी पेंटी उतारने का इशारा किया तो मैंने अपनी कमर थोड़ी ऊपर कर दी और उसने मेरी पेंटी उतार दी. सोचा शायद चाय से ही थोड़ी गर्मी आ जाए। थोड़ी देर राहत तो मिली पर जैसे ही ट्रेन चली.

बीएफ चूत लंड की चुदाई उसका एक मन तो हुआ कि कपड़े खोले और चढ़ जाए इस विशाल लौड़े पर और बुझा ले अपनी आग!पर घर में सभी थे तो उसने खुद को रोक लिया. ’‘और किसी को पता चला तो?’‘वो कह रहा है ना किसी को पता नहीं चलेगा!’‘कितना बड़ा लिंग है… बस हाथ में लूँगी, बाकी कुछ नहीं!’‘चलो मेमसाब जल्दी करो, अब तो ये लौड़ा भी रुकने को तैयार नहीं, देखो कैसे फूल गया है.

खैर हम अब अपनी कहानी पर आते हैं, सभी की तरह मेरी भी शादी हो गई और सुहागरात पर अपनी पत्नी को देने के लिए मैंने एक मंगलसूत्र खरीदा और घर आ गया.

सेक्सी बुर चाटने वाला

मैंने देखा मामीजी की बहन हिल रही थी, मैं तुरंत लेट गया पर नींद कहाँ से आयेगी, दो भट्टियाँ जो बाजू में थी. ताकि किसी को पता न चले।ये बात उस दिन की है जब मैं और मेरा गगन गाँव के चौराहे पर रात को सब दोस्तों के साथ बैठे थे। जैसे-जैसे रात होती गई. रात को खाना ख़ाकर मैं राम को घर छोड़ कर वापिस आया दिव्या के रूम पर… वो शायद नहा कर निकली थी तो बाल गीले थे और टीशर्ट और शॉर्ट्स में थी.

मैंने अपनी पूरी जीभ बाहर निकाल कर उनकी पूस्सी को लिक किया और उनकी पूस्सी के दाने को अपने मुंह में लेकर सक करने लगा. आँखें खोलो और चुदाई का खुल कर मजा लो।वो खड़े हो गए और बत्ती जला दी। वो सिर्फ़ लुंगी में ही थे और मैं नाइटी में थी। फिर उन्होंने लुंगी निकाल दी और अपना तन्नाया हुआ लंड हाथ में लेकर हिलाने लगे। मैं उनके लंड को बड़ी प्यासी नजरों से देख रही थी। उन्होंने मेरे पास आकर लंड मेरे मुँह के सामने किया।चाचाजी- शिवानी इसको तुम्हारे मुँह का टेस्ट कराओ, तुम इतनी खूबसूरत हो. मेरी इस हरकत से वो पागल होने लगी और 2 मिनट के अन्दर उसकी चुत का पानी छूट गया और वो निढाल हो गई।अब मेरी मौसेरी बहन संग चुत चुदाई की कहानी को मैं अगले भाग में पूरा लिखूंगा। आपके मेल का इन्तजार रहेगा।कहानी जारी है।[emailprotected]बहन की चुदाई की इस सेक्सी स्टोरी का अगला भाग.

बाद में बताता हूँ।हम दोनों घर आ गए।अब उसने मुझसे कहा- प्लीज़ किसी को भी मत बताना कि मैं उस फ्लैट से बाहर आते रात के टाइम दिखा.

वो जब भी मेरी गांड पे टकराता, ठप ठप की आवाज़ आती थी, इतनी जोर से आवाज़ आ रही थी कि सारा कमरा उसकी आवाज़ से गूंजने लगा. कुछ देर चुप रहने के बाद हम दोनों ने बातचीत शुरू की। यूं ही बात करते-करते हम दोनों के बीच गर्लफ्रेंड ब्वॉयफ्रेंड की बातें होने लगीं। उसने बताया कि उसकी अभी तक कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी. अपने कपड़े तो उतारो!आंटी बोलीं- आंटी मत बोला कर, जानू कह के बुला।मैंने कहा- जानू.

20 मिनट में हम तीनों का पानी निकल चुका था और अब मेरा लंड चुदाई से थक चुका था लेकिन मेरी गर्लफ्रेंड ने उसे चूस कर कुछ ही देर में दोबारा तैयार कर दिया. पर बिना पजामा हटाए कैसे जा सकता था।दोस्तो, मैं बता दूँ कि इससे पहले मैंने पहले कभी भी सेक्स नहीं किया था, सिर्फ मुठ मार के ही काम चला लेता था इसलिए मैं कुछ ज्यादा ही जल्दी-जल्दी कर रहा था।उसने बोला- मेरी चुची दुःख रही हैं. दोस्तो, अब तक मेरे और मेरी मामी के बीच होंठ चूसना, चूत चूसना, लंड चुसाना तो कई बार हो चुका है पर अभी तक पूरी तरह से चुदाई का मौका हमें नहीं मिला है.

आई हेट टू कन्सीव नाउ!मैंने कहा- यार पूछा, लेकिन किया नहीं ना, तेरी इच्छा के बगैर कुछ किया?यह मैंने थोड़ा चिढ़ कर बोला, तो उसका गुस्सा कुछ ठंडा हुआ।फिर कहती- रात क्या किया?मैंने कहा- बस तेरे बगैर किसी तरह रात निकाल ली।दिव्या- हाँ, जैसे मुझसे मिलने से पहले रोज़ रात को किसी को पेलते थे।मैं- जबसे तू मिली. तो वो सिसक गई। फिर मैंने फीता बाँध दिया।फीता बंधने के बाद घूम कर बोली- मुझे पता था.

’ निकल गई।जैसे ही दूसरा झटका दिया, तो मॉम ‘आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओह. ‘चल जा अंदर कपड़ों का पानी निचोड़ कर तौलिए से पौंछ ले!उसने अपना बस्ता नीचे रख दिया तो मेरी नजर उसके बदन पर जा टिकी, पूरे पूरे गोल गोल मम्मे तने ही साफ दिखाई दे रहे थे, ब्रा नहीं पहनी थी, उसके चूचुक तने हुए मानो कह रहे हों ‘मुंह में लेकर चूस लो!’मैं ऐसा सोच रहा था कि मेरा लंड खड़ा होने लगा और वो मेरे को ही देख रही थी. कपड़े तो उतारो।आंटी बोलीं- खुद ही उतार दे।मैंने भी देर ना करते हुए धीरे-धीरे आंटी के सारे कपड़े निकाल दिए। कुछ ही पलों वो केवल एक पेंटी में खड़ी थीं। मैंने जैसे ही आंटी की पेंटी को उतारा.

लम्बाई में भी, और मोटाई में भी!नताशा ने फटी-2 आँखों से मेरी तरफ देखा तो मैंने कंधे उचका दिए.

मैंने देखा उस लड़की(मेरी नई मम्मी) का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने एक अधेड़ उम्र के आदमी से शादी की और दौलत और शौहरत के सिवाय उसके पास कुछ नहीं था।एक दिन उससे मिलने एक युवक आया, वो उसे देख कर बहुत खुश हो गई, नई मम्मी ने उस युवक को हमसे मिलाया- ये तुम्हारे मामा हैं, मेरे दूर के रिश्ते से भाई हैं. तो यह थी मेरी सच्ची सेक्सी कहानी! मेरी इस पहली कहानी में आपको मजा आया? हो सकता है आपको मेरी यह कहानी अधूरी लगी हो लेकिन जो हुआ मैंने लिख दिया. 15 मिनट तक हम दोनों एक दूसरे को स्मूच करते रहे, उनकी पूरी जीभ को अपने मुख में लेकर बहुत प्यार से चूस रहा था और वो लंबी लंबी साँसें भर रही थीमैंने मेरी कज़िन सिस्टर साड़ी का पल्लू हटाया और ब्लाउज खोल दिया.

यह देख सुमन को भी मस्ती आ गई और बोली- मैं तेरी शर्म कर रही हूँ और तू मेरे माल पर ही डोरे डाल रही है?और नेहा को हटा के खुद मेरा लंड चूसने लगी. तुम टेंशन मत लो और अपना अंडरवियर उतार दिया। अब मैं बिल्कुल नंगा हो चुका था। फिर मैंने उसका पजामा उतारा। उसने काफ़ी रोकने की कोशिश की, पर मैं नहीं माना और उसका पजामा उतार ही दिया। फिर उसकी पेंटी भी उतार दी।अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगी पड़ी हुई थी। वो बिल्कुल अप्सरा की तरह लग रही थी, बिल्कुल गोरी।उसने अपना एक हाथ अपनी चूत पर रख लिया और एक हाथ अपनी चुची पर रख लिया.

मैंने उस को बताया कि राजू के हॉस्टल में उसका जाना ठीक नहीं, और मैं जल्दी वापस आ जाऊंगा. क्या आपको मेरा प्यार स्वीकार है?फिर भाभी होंठ दबा कर बोलीं- मैं सोच कर बताऊँगी।उसके बाद वो अपनी गांड मटकाते हुए अन्दर चली गईं।दोस्तो, उस समय मेरी क्या हालत हुई. बिना ब्रा के तो बहुत जबरदस्त दिख रही हैं।मैं हँस पड़ी और उससे ज़्यादा कुछ नहीं कहा।उसने हिम्मत करके पूछा- तुम्हारा साइज क्या है?मैंने उसे अपनी चुची का नाप बता दिया.

सेक्सी मारवाड़ी वीडियो मारवाड़ी

लगती है।यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी। अब उसका ऊपर का हिस्सा मेरे सामने बिल्कुल नंगा था। अब मैं अपने कंट्रोल से बाहर हो गया और अपने कपड़े उतारने लगा। जैसे ही मैंने अपनी अंडरवियर उतारने के लिए हाथ लगाया, उसने मेरा हाथ पकड़ा और रोने लगी।वो बोलने लगी- प्लीज़ ये सब मत करो।मैंने कहा- कुछ नहीं होगा.

तब से मैं एकदम पागल हो गया था। उधर मामी भी मेरा लंड देखकर पागल हुई पड़ी थीं. और वो अब गर्म हो गई है… तुमने देखा ना कैसे अपनी चूत को मसल रही थी! अगर किसी और के साथ कुछ उल्टा सीधा किया तो प्रॉब्लम होगी. बिल्कुल भी नहीं दिख रही थी।मैंने जैसे ही उनकी चुत पर हाथ रखा तो वो सिहर गईं, आंटी ने मुझे जकड़ लिया और गाली देने लगीं- चोद इस रंडी को मादरचोद.

सुनीता के मज़े लग गए अब सुनीता की चुदाई रोज़ होती, अब तो सुनीता गांड भी चुदवाने में माहिर हो गई थी, उसका हसबैंड उसे चोदने में माहिर था. तुम अपने पति से सच में खुश हो?तो भाभी ने थोड़ा दुखी होके कहा- मैं अपने पति को बहुत पसंद करती हूँ। वो भी मुझे बहुत लाइक करते हैं. नंगा नंगी वालाअंजलि तेरी सगी बहन है और तू उसके ही बारे में बुरी बातें करते ही जा रहा है। अरे इतनी दिनों से मैंने तेरी बहन है इसलिए कभी उसकी तरफ उस नजर से देखा भी नहीं.

मैं इसकी भूख शांत कर दूँगी।मैंने भी उन्हें किस करते हुए अपने सीने से लगा लिया। फिर वो कपड़े पहन कर कमरे से चली गईं।होली की 3 दिन की छुट्टी में मैंने उनकी गांड भी मारी। उन्हें किचन में, बाथरूम और बालकनी में. राजू ने आगे को झुकी हुई नताशा की उभरी हुई गांड में अपना लंड पेल दिया, और दोनों हथेलियाँ भाभी की कमर पर टिका कर उसे गपागप चोदने लगा.

फिर एक दिन हमने मिलने का प्लान बनाया और उसकी बताई हुई जगह पर मैं पहुंचा तो वो अपनी कार में पहले से ही मेरा इंतज़ार कर रही थी. लेकिन नजर अभी भी उसके लंड पर ही जा रही थी…उसने फिर कहा- गर्मी बहुत ज्यादा हो रही है. आज तक मैंने गाँव में बहुत सारी चूतें चोदी है, पर तेरे जैसा किसी ने नहीं चूसा.

मेरा नाम देवेश है और मैं उत्तर प्रदेश के लखनऊ शहर से हूँ। यह मेरी पहली चुदाई की कहानी है देवर भाभी सेक्स की!मेरे घर में मैं, मेरे बड़े भाई और मम्मी-पापा बस 4 लोग ही हैं। हमारा परिवार एक बेहद सामान्य परिवार है। देखने में मैं ठीक-ठाक हूँ. मैं गिर गई हूँ।वो किसी तरह उठ कर दरवाजे के पास आई।मैंने बोला- भाभी मैं अन्दर आऊँ क्या?भाभी ने कहा- एक मिनट रूको।अब भाभी ने अपने ऊपर तौलिया रखा और जैसे-तैसे कुण्डी खोल दी।मैं जल्दी से अन्दर गया तो अन्दर का नज़ारा में देखता ही रह गया। भाभी मेरे सामने बिना कपड़ों के सिर्फ़ तौलिया में पड़ी हुई थी। मैं चूतियों सी पलकें झपका कर उसे निहार रहा था।तभी भाभी ने कहा- क्या देख रहे हो. पल भर का भी समय गँवाए वंदु उठ कर खड़ी हो गई और मुझे लगभग धक्का देते हुए बिस्तर पे पूरी तरह से गिरा दिया.

फिर मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चुत के बाहर गिरा दिया।अब हम दोनों बाथरूम गए.

जवान बेटी की चिंता करना उनका अधिकार भी है और जिम्मेदारी भी है।एक रात ऐसा हुआ. तो वह अपनी चुची जानबूझ कर दिखाती थीं।मेरे चाचा सरकारी नौकरी करते हैं। वह साल में दो-तीन बार ही घर आ पाते हैं। इसलिए चाची अधिक चुदाई नहीं कर पाती थीं।अब धीरे-धीरे चाची मुझसे घुलने-मिलने लगी थीं। हम दोनों के बीच मजाक के साथ छूने-पकड़ने का मजाक भी चलने लगा था।चाची किचन में खाना बनातीं तो मैं चाची को पीछे पकड़ लेता, उनके पेट में हाथ डाल कर मसलता.

जैसे ही लण्ड पूरा अन्दर गया, उन्होंने मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ा दिए और बोली- मुझे मार ही दोगे क्या?मैंने कहा- नहीं. तब भी वो कुछ नहीं बोली।अब ये पक्का हो गया था कि वो चुत चुदाने के लिए राजी है। फिर मैंने धीरे से उसका लोवर भी उतार दिया।वो सिर्फ़ ब्रा-पेंटी में रह गई थी… क्या मस्त माल लग रही थी।मैंने उसके सारे जिस्म में किस करना चालू कर दिया। उसके लिए ये सब पहली बार था। मैं चुम्मी करता जा रहा था. ‘मुझे भी तेरी जैसी लड़कियों की चूत मारने में बहुत मज़ा आता है भाभी!’ कहते हुए मुदस्सर ने अपने लंड को थूक लगाकर मेरी पत्नी की चूत पर रखा.

वो मेरे बालों में हाथ फिरने लगी, बोली- अब तुझे रोज दूँगी… पर एक शर्त है…मैंने बोला- क्या?तो बोली- वो बाद में बताऊँगी…तो दोस्तो, यह है मेरे दोस्त की आप बीती. हिंदी सेक्सी स्टोरी पढने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, नमस्कार!मेरा नाम मैं गुप्त रखना चाहूँगा. मैं विशाल वेदक 24 साल का लड़का मुंबई में रहता हूँ, मेरे परिवार में चार लोग हैं पापा, मम्मी, बहन और मैं!मेरे पड़ोस में 36 साल की एक आंटी रहती हैं जिनका नाम वर्षा है, उनका अपने पति के साथ डाइवोर्स हुआ है, वे अपने 8 साल के लड़के के साथ अकेली रहती हैं.

बीएफ चूत लंड की चुदाई कोई भी फ्लैट हो जाएगी।उसके बाद भी हमने कई बार सेक्स किया। आपको मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लगी. फिर जब उसको मजा आने लगा तो मैंने पूरा का पूरा लौड़ा उसकी बुर में उतार दिया, वो एक तड़पती मछली की तरह हो गई थी.

पोर्न सेक्सी एक्स एक्स एक्स

जिससे मेरे चूतड़ उठे हुए साफ़ नज़र आ रहे थे और पेंटी लाइन भी साफ़ दिख रही थी।मेरी पेंटी पिंक कलर की थी।हम जैसे ही कमरे में घुसे. इधर मैं भूमि का गैंग बैंग देखता रहा… कोई चूत मार रहा है मेरी बहन की. तभी बोला- सोनी, तुम्हारी चुची इतनी बड़ी कैसे?मैं- तुम ही तो कई दिनों से चूस रहे हो, इस कारण बड़ी हो गई।विकास- तेरी मम्मी जितनी हो जाएंगी कुछ दिन में… लगता है चूची को चूसना छोड़ना पड़ेगा।मैं- जानू थक गए? और चोदो ना मुझे!विकास बोला- कंडोम निकलता हूँ, लंड चूस के खड़ा करो।मैं बोली- कंडोम निकालो मत, मैं ऊपर से ही चूस लूँगी।मैं अपने पति का लंड कई बार कंडोम के ऊपर से भी चूस लेती हूँ.

मैंने उन्हें बोला- आप पीछे घूम जाओ!जैसे वो दोनों पीछे घूमी, मैं अपना अण्डरवीयर उतार कर बिस्तर में घुस गया, उन्हें बोला- अब आप घूम सकती हो. ऐसे मत कर, नहीं तो मैं चिल्ला पड़ूँगी और सब जाग जाएँगे।‘ठीक है, नहीं करुँगा।’ मैं बिस्तर से उतर कर नीचे खड़ा हो गया और झट से अपना पजामा और कुरता निकाल दिया और नंगा ही बिस्तर के किनारे ज़मीन पर खड़ा पायल की टांगें पकड़ कर किनारे खींच लिया।उसके चूतड़ बिस्तर के किनारे पर थे और टांगें ऊपर हवा में उठा कर खोल दी और अपने दाहिने और बायें तरफ करके उसके ऊपर झुक गया।‘हाय राम, ऐसे क्या ऊपर से खड़े खड़े ठोकेगा. बाथरूम में नहाने वाली बीएफउनकी गर्दन पे किस करते करते मैंने उनकी ब्रा को निकाल दिया और उनके 34 डी साइज़ के बूब्स को बड़े मज़े से चूसने लगा.

वो बहुत खुश रहती हैं।भाभी ने कहा- हाँ वो सब लकी होंगी।तो मैंने भी कहा- क्यों?तो उन्होंने कहा- आज का डिनर तुमने जिस तरीके से मुझे ट्रीट किया.

मेरा भी बिल पे कर दे।तो मैंने कहा- हाँ कर दूंगा, इसमें क्या बड़ी बात है?आंटी गुस्से से मुझे देख रही थीं।मैंने भी थोड़ा मस्ती में कहा- अभी तो आपने कहा ना कि बड़े अमीर घर का हूँ।उन्होंने फिर से मेरा कान पकड़ा और कहा- हाँ पता है मुझे!फिर क्या आंटी ने जल्दी से पूरा पेमेंट कर दिया। फिर एक टैक्सी को बुलाया और सब्जी मार्केट से सब्जी ली. दोनों ही बिल्कुल दूध सी गोरी हैं।तब हम सभी कॉलेज में पढ़ रहे थे, वो दोनों ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर में थीं और मैं फर्स्ट ईयर में था।लानी मेरी बहन की बेस्ट फ़्रेंड है.

एंड्री- सो वॉंट टू टेस्ट इट? टेक इट इन युअर स्वीट माउथ… यू वुड लाइक इट!और उसने मेरे मुँह के सामने अपने हाथ से पकड़ के अपना लंड कर दिया, मैंने पहले उस पर किस किया फिर अपना मुँह खोला तो उसने तुरंत अंदर ही डाल दिया. मैंने सोच लिया था कि अगर आज इसकी चूत चूदाई नहीं कर पाया तो कभी मौका नहीं मिलेगा. अब तक वंदु के हाथ मेरे नितम्बों को सहलाते हुए शॉर्ट्स से बाहर झांकती मेरी जाँघों पे चलने लगे.

सुनील के होंठ कब सुनीता के होंठों से चिपक गए पता ही न चला, और अब सुनीता भी उसका साथ दे रही थी.

’ करके सीधा हो गईं। अभी मेरे लंड का टोपा उनकी गांड में गया ही था।मैंने उन्हें बोला- अभी तो स्टार्ट हुआ है।फिर मैंने थोड़ा और घुसा दिया तो वो बोलने लगीं- क्या है ये?मैंने जबरदस्ती आधा लंड गांड में घुसा दिया और फिर भी उनकी गांड के छेद से ब्लड निकलने लगा। वो रोने लगीं. वो मेरी चुची को दबा रहा था उसका काला हाथ मेरे गोरे बदन पे जैसे दूध में मक्खी हो, ऐसा लग रहा था. पूरा नहीं जा पा रहा था। फिर भी मैं उसका लौड़ा पूरा ज़ितना अन्दर ले सकती थी, लिया और चूसने लगी।अब हम दोनों ही पगला गए थे। चुदासी आवाजों का शोर तेज हो गया था।मैंने कहा- बस जानू.

बीएफ हिंदी में सेक्सी वीडियो!फिर तो सभी और निशा भी हंसने लगी।निशा मुझसे चिपक कर हंस रही थी तो मैंने पहली बार उसको दूसरी निगाह से देखा।इसके अगले दिन मैंने निशा से पूछा- क्या तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?तो उसने कहा- पागल हो क्या. अंगड़ाई लेने में उसके उन्नत स्तन उसकी नाइटी को फाड़ कर निकलते प्रतीत होने लगे.

सेक्सी व्हिडीओ बडे बडे

उसकी शादी से एक महीने पहले उसने मुझे फोन किया और कहा कि वो अपनी शादी से पहले एक बार मुझसे बेइंतहा प्यार करना चाहती है और मुझे उसकी यह ख्वाहिश जरूर पूरी करनी है. उसके घर में जाने के बाद मैं नजर बचा कर उसके रूम में पहुँचा तो उसने मेरे लिए बिरयानी बना रखी थी और मुझे खिलाने लगी. नाश्ते के बाद टेस्ट लूंगी हिंदी और इंग्लिश में पांच लेसन का… और मयंक को भी बता देना!कहानी जारी रहेगी.

बहन की चुदाई की यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने अपनी बहन को पूरी नंगी किया और उसे घूम कर उसकी गांड मेरी ओर करने को कहा. कुछ मिनट की आंटी की चुदाई के बाद मेरा निकलने वाला था, मैंने आंटी को बताया तो वो बोली- मेरी चूत में ही झड़ना!मैंने वैसा ही किया. अभी शादी कर लो।‘तो तुम क्या शादी नहीं करोगी?’ मीता ने पूछा।‘पता नहीं, मैं अभी कुछ कह नहीं सकती।’ मैं बोली।फिर हम दोनों सो गए। दूसरे दिन सुबह जब मैं उठी तो सुबह के साढ़े पाँच ही बजे थे.

मैंने एक बारगी लंड निकाला और इस बार चूत पे एक दमदार झटका दिया और लंड एकबारगी पूरा चूत के अंदर. मैं दुखी था, उसी समय उसने मेरे सर को अपने सीने से लगा लिया और कहा- जीजू, आप दुखी मत हो, जो होना था, वो हो चुका, अब हमें अपने परिवार की जिम्मेदारी निभानी है, मैं अपनी दीदी की जगह तो नहीं ले सकती मगर उनकी याद को जरूर कुछ कम करने का प्रयास करूंगी यदि आप चाहें तो!मैंने उसे अपने गले लगा लिया और उसके इस बलिदान को जिन्दगी भर याद रखने की कसम खाई. खाना खाने के बाद जब सोने गए तो मौसी ने कहा- गगन तू मेरे पास आ जा, मुझे तुमसे बातें करनी हैं.

5 इंच लंबा था और मोटा भी बहुत था। इस वक्त अजीत का लंड अपने पूरे शवाब पर था।मैंने अंकिता की तरफ चुपके से देखा. अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था लेकिन मैं आगे कुछ करता उससे पहले ही उसने मेरा सिर पकड़ा और लोअर में घुसा दिया और दबा दिया.

जो झटकों में देखा जा सकता था। लेकिन भाभी ने इस मज़े में अपने दर्द की परवाह नहीं की.

विदेशी समाज ने इस बे सिर पैर की सोच को बहुत पहले ही खत्म कर दिया था. 60 साल की बुढ़िया की बीएफअभी तो तेरी इस चुदासी चूत में बहुत रस बाक़ी है भाभी!’‘तो क्या फिर से चुदाई करेगा… उफ़… लगता है आज तो सच में चूत का भोसड़ा बना कर ही दम लेगा मेरा चोदू राजा… ठीक है मेरे चोदू राजा, बना दे भोसड़ा. मौसी वाली बीएफ सेक्सीसच पूछो तो तोली सिर्फ अपने चौड़े टोपे को ही मेरी भार्या की गांड में अन्दर-बाहर कर रहा था लेकिन लड़की इतने में ही मुंह खोल कर तनावपूर्ण चेहरे के साथ सांसें लेने लगी थी. मैं भी सेक्स, बुर की चुदाई के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानता था इसलिए कुछ नहीं कर रहा था.

उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी।वो बोली- मेरे मम्मे कब से तुम से चुसवाने के लिए मचल रहे थे।मैंने उसके दूध को एक-एक करके दबाना शुरू किया। गर्म मम्मों पर मेरे हाथों के अहसास से वो तो अपनी आँखें बंद किए बस कहे जा रही थी- अह.

क्योंकि मैं कई साल बाद चुद रही हूँ।5 मिनट बाद वो अपनी गांड उठाकर मेरा साथ देने लगी. मेरी बहन की चूत एकदम गरम थी, मैं उसकी चूत को धीरे धीरे सहलाने लगा, उसे मजा आ रहा था, वह सिसकारियाँ भरने लगी थी. उस दिन मैं उसके घर पर ही रहा और पूरी रात तरह तरह से चुदाई की… वो भी पोर्न देख देख कर नई नई पोजीशन बता रही थी.

अब हम दोनों बिस्तर पर लेट गए, मैं उसके ऊपर आया और अपने लंड पर कंडोम लगा कर उसकी मस्त गुलाबी चुत पर अपना लंड रख कर धीरे से अन्दर धक्का मारा और थोड़ा लंड राधिका की चूत में घुस गया और वो तड़प उठी. ये सब लिखा है। ये स्टोरी करीब 5 महीने पहले की है।मैं कुछ अपने बारे में बता देता हूँ मेरा रंग सांवला है और मेरे लंड का साइज़ 6″ का है।मेरी पड़ोसन आंटी का नाम सरिता है। लेकिन जब से आंटी को चोद लिया है तब से मैं उनको जानू बोलता हूँ। वो एक दुबली पतली सी मराठन हैं। उनके चूचे ज्यादा बड़े तो नहीं हैं लेकिन बहुत टाइट हैं। सरिता आंटी की गांड के तो क्या कहने. ! मेरी कुछ सहेलियां आने वाली हैं तो कोई अच्छी सी रेसिपी सिखाओ ना मुझे!मैंने जल्दी से ‘हाँ’ कहा और वहाँ से निकलने के लिए आगे बढ़ गया। अंजलि भी वहाँ से मेरे साथ निकली। हम दोनों बातें करते-करते चलने लगे।जाते टाइम अंजलि ने कहा- मेरा गिफ्ट कहाँ है?तो मैंने भी उससे कहा- क्या चाहिए तुझे बोलो?उसने कहा- ओके.

हरियाणा की सेक्सी वीडियो पिक्चर

जो कि पूरे हाथ में तो नहीं आती, लेकिन चुची का कुछ भाग आ गया।यह बहन की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!दीदी बोलीं- मूड बन गया है. सुपारे पर जीभ नीचे-ऊपर घुमाई और हथियार को मुँह में भर लिया।जैसे समझो मेरा लंड मलाईदार दूध में डुबकी लगा रहा था।रसीली भाभी अब मेरे पूरे बदन पर हाथ घुमा रही थीं। मेरा हाथ भाभी की जुल्फों से खेल रहा था।रसीली भाभी जब लंड मुँह में गले तक अन्दर लेतीं तो होंठ खोल कर जीभ से काम करतीं, जब लंड बाहर को निकालतीं. ‘रमा तो कितनी लंबाई है हमारे लंड की?’‘गुरु जी 12 इंच’‘ठीक अब मोटाई का नाप लो’‘हाय इतनी तो मेरी बाजु भी मोटी नहीं है.

!पहले तो मैं डर गया लेकिन मैंने अपने ऊपर संयम किया क्योंकि वो मेरी बॉस थी।तभी उसने अपनी चूत खुजाते हुए मुझसे कपड़े उतारने के लिए कहा। मेरा लंड खड़ा सा होने लगा था तो तिरछी निगाह से मेरे हिनहिनाते हुए घोड़े को देखा और कहा- हम्म.

मेरे मन में आया कि ना जाऊँ पर मेरे लंड ने एक बार फिर से मुझे जाने के लिए मजबूर कर दिया.

और कुछ ही देर में मुझे किसी ने पकड़ लिया, महसूस कि वो वही था कसा हुआ बदन… वो चादर में घुस गया और मेरे सीने से चिपक गया. हाय… मैं जसबीर बहुत ही सेक्सी मर्द हूँ।हिंदी सेक्स स्टोरीज की सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली साईट अन्तर्वासना पर आज मैं अपनी सच्ची घटना को एक सेक्स स्टोरी के रूप में बताना चाहता हूँ।बात तब की है. ब्लू फिल्म हिंदी बफक्या बताऊँ दोस्तो, जाने क्या क्या किया!उसकी फूली हुई चूत को देख मेरे मुंह में पानी आ गया, उस पर चिपट गया, उसकी चूत से खेलने लगा और उसकी चूत को चूसने लगा.

दोपहर का टाइम था तो मेरे दवाई लगाने का टाइम हो गया था। माँ ने दवाई बना के रखी थी, लेकिन उसको कहीं बाहर जाना था तो उसने प्रिया को दवाई लगाने कहा।मैंने माँ से कहा- माँ, मैं दीदी से दवाई नहीं लगवाऊँगा, मुझे शर्म आती है।इस बात पर माँ और प्रिया दीदी जोर जोर से हंसने लगी. मैंने उसके कपड़े उतारना शुरू किया, क्या बताऊँ मैं आपको… बला की खूबसूरत लग रही थी वो… मैं उसके सफेद मम्मों को देखता ही रह गया, वो भी शायद बहुत गर्म हो चुकी थी. दो दिन बाद मेरे फ़ेसबुक पर संदेश आया- हेलो, ये फ़ोटो आपने मेरे घर के पास ली है?तो मैंने कहा- आप फलाने जगह रहती हो क्या?तो उधर से जवाब आया- हाँ!तो मैंने उनका नाम पूछा क्योंकि इंस्टाग्राम पे लोग अजीब नाम रखते हैं.

पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…मेरी शादी की शॉपिंग में मदद के लिए मैं अपनी होने वाली ससुराल गया. मैं बरसों से इसकी गांड मारना चाहता था।दूसरी तरफ से साहिल ने भूमिका की चूत में अपना लंड डाल दिया और कहा- भाई इतनी मुलायम चूत तो सनी लियोनी की भी नहीं होगी।उधर रोहित ने भूमि से लंड चुसवाते हुए उसके बूब्स दबाते हुए कहा- क्या रुई जैसे बूब्स है भूमि के.

वो हंसने लगी और मुझे मारने लगी, कहती- तूने किया किसी के साथ?मैंने उसका हाथ लेके अपने लंड पे रखा तो कहती- साले कितनी के साथ किया?और मेरा लंड सहलाती रही, कहती- यार बड़ा सख़्त है!मैंने कहा- दिखाऊँ?वो इधर उधर देख कर बोली- चल कमरे में!मैंने उसे दिखाया, बोली- वा!मैंने कहा- करेगी मेरे साथ?वो मुझे मार कर चली गई.

गुरुजी ने रमा को वो पूरी कहानी सुनाई जिसमें अहिल्या के साथ धोखे से सम्भोग का वर्णन था. टेक ख़त्म होने के बाद जॉब मिला नहीं था और घर से पैसे ले नहीं सकती थी. मैं अपनी पूरी जीभ को पूस्सी में डाल कर चूसने लगा और अंदर ही अंदर अपनी जीभ गोल गोल घुमाने लगा.

क्यूट बीएफ मुझे भी अपनी इस मस्त चुदासी गर्म-गर्म झड़ी हुई चूत का मजा लेने दे। पर मेरी असली चुदाई तो अभी बाकी है मेरी प्यारी भाभी जान… अभी तो देख और क्या-क्या मजा देता हूँ. वो एक कमाल की दिखने वाली लड़की थी। वो 22 साल की एक खूबसूरत बला थी। कोई उसका बदन 34-36-34 का भरा हुआ शरीर देखे तो मेरा दावा है उसका लंड तुरंत पानी छोड़ दे।शारदा के बड़े-बड़े चुचे.

भाभी को और मजा आने लगा, भाभी ने अपनी टांगें खोलते हुए कहा- अब मुझसे सहा नहीं जा रहा है. उसे देखते ही सबसे पहले मेरी नज़र उसके बूब्स पर गई जो बहुत ही आकर्षक थे. ’ कहा और हाथ मिलाया।हम लोग एक टेंपो ट्रेवलर में एक साथ पहाड़ी रास्ते पर चल दिए, जहाँ हमारा कैम्प लगना था। इस ग्रुप से अब मेरी अच्छी बात हो रही थी। उस लड़की का नाम सोनम था और वो डीयू की बी.

सेक्सी वीडियो मोटी मोटी मोटी मोटी

‘आहा ह्ह्ह्ह… आ… आह्ह्ह… आह्ह्हह… हाँ मेरे ररर्राऽऽजा… और तेज़… और तेज़… और तेज़… उम्म्म्म…’ वंदु अब अपने चरम पे पहुँच चुकी थी और शायद कुछ देर में भी स्खलित होने वाली थी. उसके नजदीक जाकर मैंने रशियन में उसका अभिवादन किया तो उसने मुझे बैठ जाने को कहा. आज मुझसे रहा ना गया। मैंने धीरे से उसकी पीठ पर हाथ रखा और सहलाने लगा। वो सोने का नाटक कर रही थी। मैंने 15 मिनट सिर्फ़ उसकी पीठ सहलाई.

रात को मेरी एक रिश्तेदार भाभी ने मुझे कमरे में धकेल दिया और दूध का गिलास देते हुए कहा- देवर जी, आज पूरा दूध पी लेना छोड़ना मत!मैंने अंदर जाकर दरवाजा बंद किया और देखा तो आरती बिस्तर पर बैठी हुई थी. ऐसे ही उसकी नाभि को चूमते हुए कुछ चॉकलेट मैंने अमृता की चिकनी चूत पर लगाई और उसकी चूत को दिल खोल कर चाटा.

पर वो रुका नहीं और लगातार मॉम की गांड मारता रहा।करीब दस मिनट लगातार गांड मारने के बाद जब वो झड़ने वाला था, तो कपिल ने अपने लंड को मॉम की गांड से निकाला और अब संदीप ने नीचे से ऊपर आकर मॉम की गांड में अपना मूसल पेल दिया।अब संदीप मॉम की कमर पकड़ कर अपने लंड को बहुत जोर-जोर से पेलते हुए ठोक रहा था। मॉम आह्ह.

कहानी में आपने पढ़ा कि हमने पहले जबरदस्त चुदाई की फिर अंत में प्रेम विवाह कर लिया था. मुझे बहुत मजा आ रहा था मैंने अपना हाथ मौसी की गांड पर लगाया और दबाने लगा. बस तुम्हारा ख्याल रखने की कोशिश कर रहा हूँ शाजिया, तुम हो ही इतनी अच्छी कि नज़र ही नहीं हट रही है।वो मुस्कुरा दी तो मैंने इसे उसकी तरफ से हरी झंडी समझी और मैंने बिना इज़ाज़त के उसके माथे पर किस कर दिया।शाजिया- यह क्यूँ अयान?मैं- हमारे नए रिश्तों के लिए।तब उसने कुछ नहीं कहा.

मेरी वाइफ बोली- तुम उससे दोस्ती कर लो अच्छे से… रात को कभी मन करे तो सेक्स कर लेना उसके साथ!मैं बोला- तुम भी सौरभ के साथ सेक्स कर लिया करो अगर मन करे तो!वो बोली- ठीक है, तुम वहाँ पूजा के साथ कर लिया करो और मैं यहा सौरभ के साथ सेक्स करूँगी. लेकिन क्लास 12 के बोर्ड के एक्जाम होने की वजह से वो उनके साथ नहीं जा पा रही थी।वो घर पर अकेली थी. अब मुझसे बर्दाश नहीं हो रहा था, मैं अपने हाथ भाभी के सर पर रख कर अपने लंड पे दबाने लगा.

नताशा भी बड़े प्यार के साथ अपने देवर के वीर्य को अपने मुंह में लेकर सटकती रही.

बीएफ चूत लंड की चुदाई: !मैंने कहा- अब मान भी लो ना!तो बोली- मान कर खुद को और तुमको भी दोबारा दुख नहीं पहुँचा सकती।मुझे उसकी वो बात याद थी कि वो मुझसे टुन्नी में कहती थी कि उसके मुँहबोले भाई के साथ मिलकर वो नशा करती थी और वो उसको ब्लू फिल्म दिखा कर न जाने कितनी पोज़िशन्स में उसको चोदता था।जब मैंने उससे कहा- उसको मना नहीं करती थीं।तो बोलती थी- नहीं. वो सारे मसाले भी बता दो, तो मार्केट से आते टाइम ले आती हूँ।मैं उनको एक लिस्ट लिख रहा था, तभी आंटी ने कहा- ठीक है तुम लिखो तब तक मैं नहा कर आती हूँ।वो नहाने चली गईं। यहाँ मैंने लिस्ट बनाकर रख दी और आंटी का वेट करने लगा।कुछ देर हुई तो मैंने आवाज दी- आंटी.

’‘फिर झूठ बोल रही है तू… तुझे ये भी पता नहीं होगा कि आज तेरे साथ क्या हो गया है. जल्दी से अपना लंड मेरी चुत में पेल दो और चोद दो मुझे।’‘और तड़पो… जैसे मैं पूरे रास्ते में तड़पा।’‘और मत तड़पाओ. सुबह उसकी नींद खुली तो मुझे प्यार से उठाया और बोली- उठ यार, मुझे जाना है!मैंने कहा- रुक जा, आज छुट्टी ले ले!कहती- नहीं यार, ज़्यादा हो जाएगा.

तो और भी कुछ काम होते हैं।मैंने कहा- ठीक है।फिर उन्होंने मुझसे कहा- मेरी साड़ी तुम उतारोगे ना?मैंने धीरे-धीरे उनकी साड़ी उतार कर एक तरफ रख दी।अह.

पर जैसे वो कहती रही मैंने किया।तक़रीबन 15 मिनट बाद उसके बदन में भूकंप सा आया और चुत से पानी निकल गया।वो हंस कर बोली- अब मुझे कोई टेंशन नहीं है. मेरी पिछली सेक्सी कहानीगर्लफ्रेंड की सहेली की चूत चुदाई की सेक्सी कहानीमें मैंने आपको बताया कि मैंने कैसे अपनी गर्लफ्रेंड की रूममेट को चोदा. जिससे मेरे चूतड़ उठे हुए साफ़ नज़र आ रहे थे और पेंटी लाइन भी साफ़ दिख रही थी।मेरी पेंटी पिंक कलर की थी।हम जैसे ही कमरे में घुसे.