सेक्सी नौकरानी बीएफ

छवि स्रोत,સેકસી ચૌદવાનુ

तस्वीर का शीर्षक ,

डॉगी लड़की सेक्सी: सेक्सी नौकरानी बीएफ, कुछ क्षणों में मेरे होश हवास काबू आ गए तो मैंने उचक कर सामने पड़ी हुई, चरमसुख में डूबी दोनों रानियों को निहारा.

देहाती सेक्सी बीपी वीडियो

चाचा चाची दोनों टीचर थे और अलग अलग सरकारी स्कूल में पढ़ाते थे, साल भर पहले ही उनकी शादी हुई थी. देवर भौजाई की सेक्सी फिल्मचूचियों को चूसते हुए मैंने उसकी पैन्टी को रगड़ना शुरू किया तो पाया कि उसकी चूत के कामरस ने उसकी पैन्टी को भिगो दिया था.

उन्हें नंगी देख कर मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और अपने लंड को सहलाकर कोमल के पास आ गया. प्रिया का सेक्ससाला मेरे तरफ देखता तक नहीं, जबकि मैं आधी साड़ी पेटीकोट उठा कर कमर में खौंस कर काम करती हूँ, तब भी उसका मन नहीं होता.

मैं- तो अब क्या करना है?कोमल ने बेड पर बैठकर कहा- मुझे ऐसी गलती करनी नहीं चाहिये थी … काश तुम मुझे दोबारा कभी मिले ना होते, तो कभी ऐसी नौबत नहीं आती.सेक्सी नौकरानी बीएफ: और तुम दोनों किस विषय पर बातें कर रही हो?फिर मैंने मनु से कहा- और तू कमीनी ये सब कैसे जानती है?मनु ने मुस्कुरा कर मेरा कान पकड़ते हुए जवाब दिया- परमीत जो बता रही है, उसे मासिक धर्म का आना कहते हैं.

”ऐसी बात है तो किसी दिन ये भी ट्राई कर लेते हैं, व्हिस्की है कोई जहर थोड़े है.मैं अपनी सभी भाभियों और लड़कियों से कहना चाहता हूं कि जो इस समय मेरी कहानी पढ़ रही हैं, वो जानती होंगी कि एक आदमी को सबसे ज्यादा मजा अपना लंड चुसवाने में ही आता है.

एक्स ट्रिपल वीडियो - सेक्सी नौकरानी बीएफ

अब मयंक ने एक धक्का लगाया और उसके लंड का सुपारा मेरी बीवी की चूत में घुस गया.धर मेरा लोहे जैसा अकड़ा हुआ लंड देख कर, सूंघ कर उसकी कामोत्तेजना बढ़े जा रही थी.

वो मेरी तरफ देखते हुए बोलीं- ऐसा क्या कर दिया रे तूने?मैं उन्हें ऐसा बोलता देख थोड़ा कन्फ्यूज था. सेक्सी नौकरानी बीएफ दोस्तो, कभी कभी सेक्स बिना प्यार के भी होता है मगर मेरा अनुभव है कि जो सेक्स प्यार में होता है, उसका कोई मुकाबला ही नहीं होता है.

पहले तो ये सब देख कर मैं चौंक गया कि मेरी बहन का ससुर उनको अपने साथ सुलाता है.

सेक्सी नौकरानी बीएफ?

क्या बोलती हो?मैंने उसे डपट कर कहा- चुपचाप सो जा, ज्यादा दिमाग मत चला. यहाँ तक कि वो अपने जिस हाथ से रोहित के लण्ड को सहला रहा था वो भी उसके खुद के वीर्य से गीला हो गया।रोहन के गर्म वीर्य को अपने शरीर पर पाकर रोहित भी नहीं टिक पाया और उसके लण्ड ने भी अपना वीर्य उगल दिया. उसने मेरा हाथ पकड़कर मुझे फिर बिठा लिया और कहा- कुछ तो करना ही होगा समधी जी, आपको ऐसे ही नहीं जाने देंगे.

उनके जाते ही मेरी पत्नी ने गेट बंद कर दिया और अन्दर से लॉक कर दिया. उसने मुझे रोक कर कहा- कहां जा रही हो मैडम, इस बैरियर को पार करने के लिए टैक्स लगता है. क्योंकि सुबह मजे आते है और आने के बाद भी फ्रेश फ्रेश सा फील होता है.

मुझे गांड मारने में इतनी रुचि न थी फिर भी न चाहते हुए भी मैंने उनकी गांड मारी. बहुत देर तक ऐसे ही लंड चूसने के बाद उसने मुझे फिर से सीधा लेटा लिया और अपने हाथों से अपने मुठ मारते हुए सारा वीर्य मेरी चूचियों पर निकाल दिया।मैंने उससे पूछा- यह आपने क्या किया? मुझे सारा गंदा कर दिया. लंड ने चुत की फांकों में अपना टोपा फिराया और इसके ठीक बाद मैंने अचानक से पूरा लौड़ा अम्मी की चुत में पेल दिया.

मुझे तो सबसे ज्यादा मजा अपनी दीदी को गर्लफ्रेंड बनाकर चुदाई करने में आया था. संजू लगभग चार-पांच मिनट तक लंड को बेतहाशा चूसती रही … और फिर उसने अपने मुँह से लंड को निकाल कर रोहित के लंड को देखने लगी.

गीले लंड को बीवी के गर्म मुंह में देकर एकदम से मेरी आह्ह … सी निकल गयी.

कुछ देर बाद उनकी बांहों में लेटे ही मुझे नींद आ गयी।आपको यह कहानी कैसी लगी? आप अपने विचार और सुझाव मुझे भेज सकते हैं.

एक समय आया कि मेरे लण्ड से फव्वारा छूटा और नीरा की चूत मेरे वीर्य से भर गई. खुशी मेरे हाथ को धीरे धीरे अपनी चुत पर ले गई और मेरे कान में धीरे से बोली- यहां बहुत गर्मी है, इसे मिटा दो. तो मामी जी ने मुझे बच्चों को खेत में ले जाने के लिए बोल दिया कि बच्चों को घुमा लाओ.

शायद वो कुछ समय पहले आ चुकी थी और उसने बातें भी सुनी।उसने डरे हुए स्वर में कहा- मैम आपने बुलाया था, मेहंदी लगवाने के लिए?तब तक खुशी ने खुद को संयत किया और बिस्तर पर बैठी आँचल से कहा- दीदी, मैं मेंहदी आज लगवाऊं या कल लगवानी है?आँचल ने कुछ सोचते हुए कहा- मम्मी और बुआ को आने दो, फिर पूछ कर लगवाना. मैंने कोमल के मुँह पर हाथ रखकर किस करने लगा और कोमल भी मेरा साथ देने लगी. थोड़ी देर बाद अम्मी ने अलमारी से वाइब्रेटर निकाला और अपनी चुत पर रख कर उससे मजा लेने लगीं.

मैंने खुद को आंटी से छुडाया और मैंने कपड़े पहन कर अपने क्लास रूम में आ गया।इसी तरह मेरी आंटी और तान्या की चुदाई चलती रही.

अब मैं पूरा अपना भार देकर संजना के ऊपर गिर गया और शीना मेरे ऊपर गिर गई. फिर दीदी ने बेड पर चढ़कर मेरी शॉर्ट निकाल दिया और साथ ही मेरी निक्कर भी निकाल दी. तीसरे दिन रात को फिर वो ही घटनाक्रम … बाबूजी ने दरवाजा भेड़ा, मैं उठी और दोनों ने पहले बिना कुछ बोले काम क्रीड़ा की और भाभी उनके बिना कहे बिस्तर पर मुंधी(उलटी) हुई और फिर उनके पीछे बाबूजी खड़े हो गए फर्श पर और फिर कैसे 12 मिनट बीते, ये पता ही नहीं चला.

अगले ही मिनट में मैंने अपना माल अपनी बीवी के मुंह में गिरा दिया जिसे वह अंदर ही अंदर गटक गयी. पहले तो मैं डर गया और अपना हाथ हटाने की कोशिश करने लगा, पर उसने मेरा हाथ नहीं छोड़ा. लेकिन जब मैं बॉस के साथ रोमांटिक हुई तो उन्होंने सब कुछ किया पर मेरी चूत में लंड नहीं डाला.

उधर आलिया, जीजा जी का लंड चूस रही थी और आकाश दीदी के मम्मों को दबा रहे थे.

”ऐसी बात है तो किसी दिन ये भी ट्राई कर लेते हैं, व्हिस्की है कोई जहर थोड़े है. मुझे इस तरह से मौसी की चूत चुदाई करने में कुछ असुविधा सी महसूस हुई, तो मैंने उनकी कमर के नीचे दो तकिया लगा दिए और हचक कर मौसी की चूत चोदने लगा.

सेक्सी नौकरानी बीएफ रुकैय्या की तेज चलती सांसों की वजह से उसकी चूचियां मेरे सीने पर धकधक दस्तक दे रही थीं. मयंक ने सोनम की नाइटी के ऊपर से ही उसकी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया.

सेक्सी नौकरानी बीएफ वैसे ही मेरा लंड छोटा है और लड़की एकदम से अंदर आये तो वैसे फट जाती है।उसने मुझे देखा मेरा लंड देखा और चली गयी।अगले 3 दिन तक रवीना आयी. जब लंड महादेव पूरी तरह से अन्दर चले गए तो उसने आंखें खोल कर मेरी तरफ देखा.

मैं शेव कर रहा था कि राशि की आवाज़ आई- मैं दूसरे बाथरूम में नहाने जा रही हूँ, अगर तुम पहले आ जाओ तो इंतज़ार कर लेना.

ब्लू पिक्चर दिखाइए ब्लू पिक्चर दिखाइए

एक बार फिर से रोहिताश हम दोनों के पास आया और फिर मेरे अंडकोषों को सहलाते हुए मेरा उत्साह बढ़ाने लगा. एक दिन माई से सीधे मौसिया को लेकर पूछ लिया कि माई तुम दोनों के बीच क्या चल रहा था?वो कुछ नहीं बोली. मैं जानबूझ कर उनसे झगड़ा करने लगी और इतनी जोर से बोलने लगी ताकि ससुर जी के कमरे तक आवाज चली जाए और उनको मालूम हो जाए कि मुझे पति के लंड से शान्ति नहीं मिल रही है.

पहले धीरे धीरे फिर थोड़ा तेज तेज फिर पूरी स्पीड से और पूरी बेरहमी के साथ उसकी चूत को अपने लंड से कुचलने लगा. मेरे पीछे नताशा खड़ी थी, जिसका मुझे डर था कि क्योंकि कल रात मैंने उसकी गांड को अच्छे से पेला था. स्नेहा भाभी बोलीं- अब चलोगे भी या यही आँखों से ही अपना इन्तजार पूरा कर लोगे? अब जल्दी से चलो … यहां किसी ने देख लिया, तो प्रॉब्लम हो जाएगी.

मैंने पीछे दरवाजे की तरफ देखा तो दरवाजे पर एक खूबसूरत हॉट लड़की खड़ी थी.

मैंने कहा- अगर आप पेट से हो गयी तो?वो बोली- मैं तुम्हारे बच्चे को अपने पेट में और इस दुनिया में लाना चाहती हूं. मैं तो जैसे पागल ही हो गया था और जोर जोर से उसके मम्मों को चूस रहा था. उसकी चूचुक मेरी छाती में गड़े जा रहे थे लेकिन उनको मैंने जो अच्छे से निचोड़ा था इसलिये उनकी अकड़न अब घट चुकी थी.

उसने मुझे घुमाया और मेरे पैर अपने कंधों पर रख कर एक ही बार में एक तगड़े झटके में अपना पूरा लंड मेरी गांड में अन्दर डाल दिया. आंटी- चल ठीक है … नहीं बताऊंगी, पर यह बता … तू मेरा नाम क्यों ले रहा था?मैं चुप रहा. मैं अन्तर्वासना पर प्रकाशित सेक्स कहानियों को काफी दिनों से पढ़ रहा हूं.

वो तब सेक्स के लिए गर्म भी हुई रहेगी तो सब हो जाएगा आराम से! और तुम भी उसे तैयार करना थोड़ा सा।तो मैंने जीजाजी के प्लान पर काम करना शुरू कर दिया. उन्होंने सिर्फ सेक्स की पूर्ति को तरजीह नहीं दी बल्कि वो सामने वाले का ख्याल रखना भी खूब जानते थे.

भैया ने अपनी नशीली आंखों को जुम्बिश दी और कहा- बस तुझे सोते हुए देखना अच्छा लग रहा था, तो मैं यहां बैठ कर तुझे ही देख रहा था. जब मैंने पहली बार राज का लंड देखा, तब मुझे थोड़ा झटका सा लगा कि राज का लंड अविनाश के लंड से भी बड़ा है. मैं सुधा को कुछ ज्यादा तड़पाने के बाद उसके ऊपर आ गया और उसकी चूत पर लंड की घिसाई शुरू कर दी.

इससे नीतू के मुँह से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ जैसी कामुक आवाजें आने लगीं.

किसी अनहोनी की आशंका के चलते अब्बू दौड़ते हुए ऊपर आये और अपना तहमद बांधते हुए पूछा- क्या हो गया, चिल्लाई क्यों थी?तभी रुकैय्या कमरे में पहुंची और अपने लहंगे का नाड़ा बांधकर अपनी चोली के हुक बंद करते हुए बोली- अब्बू, आप भी अजीब सवाल करते हैं. पल्लवी के दोनों चूचे राशि के चूचों जितने ही थे मगर पल्लवी की गांड राशि की गांड से चौड़ी और बड़ी थी. मैंने उनकी ब्रा का हुक खोल दिया और मनीषा भाभी को सीधा करके उनकी ब्रा हटा दी.

उनके शरीर का कोई भी हिस्सा लटकता ही नहीं था, सब कुछ कितना सटीक तरह से बांधा गया था … जैसे किसी पत्थर की मूर्ति को छैनी हथौड़े से गढ़ कर बनाया गया हो. मौसम के इरादे अच्छे तो क़तई नहीं थे, जिसका सबूत मुझे जल्दी ही मिल गया.

मुझे मेरी चुत के अन्दर कुछ अहसास हुआ और वो अपना लंड मेरी चुत के अन्दर धीरे धीरे हिलाता रहा. सुनील और विशाल दोनों की घरवालियों ने बगावत कर दी कि हमें भी साथ रहना है तो दोनों को ही उनको लाना पड़ा. मैं हीना के बेहतरीन तराशे हुए खूबसूरत बदन को छूने सहलाने के लिए तड़प रहा था.

हिंदी में ब्लू पिक्चर सेक्सी वीडियो

मौसी ने कहा- हां जा … और आती रहा कर … हां!उसने कहा- हां मौसी ठीक है … मैं फिर आऊंगी.

इसके दो साल बाद मेरे साले की शादी हुई और एक एक करके उसकी दो बेटियां पैदा हुईं. अब विशाल और सुनील दोनों ने ही प्रिया और रिंकी को नीचे लिटाया और उनकी टांगें ऊपर करके चुदाई शुरू की. मैंने गीली चुत में से उंगली निकाली और चाटते हुए कहा- लो … आपकी चुत तो फिर से तैयार हो गयी.

सुनीता माँ- आह चूस लो … चाट लो आज अपनी माँ के दूध निचोड़ लो मेरी जान … अपनी माँ के प्यासे जिस्म की आग बुझा दो बेटा. राशि ने गाड़ी चलाते चलाते अचानक यू टर्न लिया और गाड़ी वाटर पार्क की तरफ मोड़ते हुए अपने ऑफिस में छुट्टी के लिए बोलने लगी. गांव की लड़की की चुअंदर ही अंदर उसके मन में वासना जा गयी मगर मेरे सामने नाटक करते हुए कहने लगी- नहीं, ये सही नहीं है.

इसके कुछ देर बाद वो दोनों चुदाई के लिए गर्म हो गए थे और बेडरूम में आने लगे थे. थोड़ा नीचे आने के बाद जेठजी को पैंटी को निकालने के लिए मेरे सहयोग की जरूरत थी.

चूत से आंसू की एक बूंद की तरह का एक बूंद रस निकल कर चूत और गांड के बीच में चमक रहा था. कोमल- अरे यार … मेरा मतलब कॉलेज खत्म हो गया?मैं- यह आखिरी साल है … वैसे तुम्हारा घर बड़ा शानदार है. मैंने जैसे ही अपनी जीभ को उनकी चुत पर लगाया, चाची ने एकदम मुझे दूर कर दिया, वो कहने लगीं- हट … ये गंदी जगह है इसे मत चाट.

कोमल- बस … अभी से टेबलेट की जरूरत पड़ गई!मैं- मैं कोई रोबोट नहीं हूँ … जो बिना रुके चोदता रहूँ. कुंवारी लड़की की चूत चोदने की कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी पड़ोसन लड़की की उभरती जवानी को देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा था. फिर सिसियाते हुए बोले- आह्ह … बहुत दिनों के बाद ऐसा मस्त माल देखा है.

बीवी की चुदाई के बाद मुझे भी थकान सी हो रही थी और खुद को फ्रेश करने के लिए मैं बाथरूम में नहाने के लिए चला गया.

काफी देर चूत चुदाई देखने के बाद मेरी भी वासना जाग उठी, लेकिन फिर भी मैंने अपने आपको संभाला. फिर तीसरा और फिर एकदम से मेरी पत्नी की चूत पर अपने होंठों को कस दिया और उसको जोर जोर से चाटने लगा.

उनका एक हाथ नीचे से मेरी मैक्सी में घुस कर मेरी जांघों को सहलाता हुआ मेरी चूत को टटोलता हुआ मेरी पैंटी तक आ पहुंचा था. दीदी की चुत में जब पहली बार मेरा लंड गया था, तब अजीब सा आनन्द मिल रहा था. भार्गव ने हाइवे पर एक होटल पर कार रोक दी और हम सब वहां नाश्ता करने के लिए उतर गए.

सोच लो किस से पहले अपनी गांड मरवाओगी?नताशा ने हाथ डालते हुए कहा- ठीक है लेकिन वादा करो … धीमे धीमे ही गांड मारोगे. आज से तो मैं भी तुम्हारी रखैल ही हूं और जिंदगी भर तुम्हारे लौड़े की रखैल ही रहूंगी. अभी तो वसुंधरा की सुननी थी, अपने चौदह महीनों के बेक़सी बयान करनी थी, वसुंधरा की शादी तय होने का किस्सा सुनना था और वसुंधरा के भविष्य की योजना की थाह लेनी थी.

सेक्सी नौकरानी बीएफ चाची ‘आआह … उम्म्ह… अहह… हय… याह… यस यस्सस…’ करती हुई मेरे मुँह में ही झड़ गईं. दवाई के असर से स्खलित होने के बाद भी मेरा लंड मूसल की तरह बहू की चूत से टच हो रहा था.

देहाती छोरी की चुदाई

तो मेरा अंदाज सच था कि बाबू जी भाभी को चोद कर निकले हैं अभी।मैं बिस्तर पर लेट कर सोचती रही कि बाबूजी तो बहुत तगड़े धसकी (ठरकी) हैं औरत के।और गजब यह कि इस उम्र में भी बाबूजी के अंदर पूरा करेंट है. उन्होंने सिर्फ सेक्स की पूर्ति को तरजीह नहीं दी बल्कि वो सामने वाले का ख्याल रखना भी खूब जानते थे. खैर मैंने बेडरूम की तरफ खिड़की के पास जाकर अन्दर झांका तो पाया कि अभी भी संजू रोहित की गोदी में ही थी.

मैंने कहा- वो चाची आप मुझे अच्छी लगती हो!आंटी- ऐसा क्या है मुझमें … जो तुझे अपनी उम्र की लड़की में नहीं दिखता?मैं- अनुभव!ये कह कर मैंने स्माइल पास कर दी. नहीं तो इतनी सुंदर और कम उम्र की लड़की हर किसी के नसीब में नहीं होती।यह राज है और राज ही रहेगा. सेक्सी टीचर सेक्सहम दोनों ने ही अपने कपड़े संभाले और एक दूसरे को गले लगा लगा कर एक दूसरे के होंठों पर लम्बी लम्बी किस की.

वो आजाद होने के लिए उतावले से लग रहे थे और मालूम हो रहा था कि अगर उनको आजाद नहीं किया गया तो वो खुद ही बाहर निकल आयेंगे.

तभी उन तीनों ने अपने हाथ आगे कर दिए और उन तीनों के हाथ में डिल्डो थे. अब मैं आंटी की चुत को उनके कपड़ों के ऊपर से ही बेतहाशा चूसने चाटने लगा.

थोड़ा नीचे आने के बाद जेठजी को पैंटी को निकालने के लिए मेरे सहयोग की जरूरत थी. अचानक भाभी के हाथ मेरे सर पर पड़े तो मुझे पता चल गया कि भाभी जाग गई हैं. उनके नग्न मम्मों, जिन पर दाखी रंग के निप्पल कयामत ढा रहे थे … मेरी आंखों के सामने आ गए थे.

फिर भी तुम्हें अपना ग़लत पता बताया तो तुम एक लड़की होकर सही पता क्यों बताओगी.

साथ ही मैंने उसकी योनि से खून निकलता हुआ देखा और अपने लिंग पर लगा हुआ खून देखा, तो मैं एकदम डर गया. रानी ने इतना कह कर सब घुंघरू खोल के रख दिए- अब खुश? अब छम छम नहीं होगी. वो मेरे सामने ही अपने कपड़े खोल कर अमनप्रीत से फोन पर बात करते हुए अपनी चूत में उंगली करने लगी.

सेक्सी बीपी भोजपुरी मेंपर फिर जैसे ही धारें गिरनी बंद हुई, वो एकदम से मेरे जिस्म से उतरे और लौड़ा भी लगभग खींच कर ही निकाला।और फिर बड़ी तेजी से अपना कच्छा उठा कर दरवाजा खोल कर निकल गये. दरअसल मैं देखना चाह रहा था कि जो आग मेरे अंदर लगी हुई है, क्या वो आग उसके अंदर भी लगी हुई है या नहीं?दीप्ति जिस तरीके से मुझे छेड़ती थी उससे मुझे थोड़ा विश्वास तो होने लगा था कि शायद उसके अंदर भी वही भावनाएं जन्म ले चुकी हैं जो मेरे अंदर हैं.

गाड चुदाई

जिस तरह से भाभी मेरा लंड चूस और चाट रही थीं, उससे पता लग रहा था कि भाभी लंड चूसने में काफी अच्छी खिलाड़ी हैं. पांच मिनट तक मेरे लंड को चूसते रहने के बाद मैंने उसके मुंह में ही वीर्य छोड़ दिया. बहनचोद, तू लगती तो नहीं थी इतना शर्माने वाली … ले मादरचोद कमीनी राण्ड, तेरे लिये भगवान ने एक लंड भेजा है.

वो कभी मेरे पीठ को दोनों हाथों से जकड़ लेती थी, कभी चादर को भींचने लगती थी. यूं ही देख कर अंदाज़ा लग गया था कि नाल चुदी हुई है, पर उससे क्या फर्क पड़ता है. तो उन्होंने क्या किया?दोस्तो नमस्कार, मैं मधु, आप लोगों की प्यारी चुदक्कड़ लेखिका एक बार फिर अपनी जीजा साली xxx कहानी में स्वागत करती हूँ.

ससुर ने मेरी बहन की चुत से अपना लंड बाहर निकाला और मेरी बहन की चिकनी चुत पर किस करके बोले- ले अब इसकी छतरी को बाहर निकाल कर साफ़ दे. अनिल भैया अब मेरे मुँह को बेतहाशा ऐसे चूम रहे थे, जैसे पता नहीं कितने सालों से उनको कोई होंठ चूसने के लिए ही न मिला हो. मेरी चुत पर हाथ फेरते फेरते वो मेरे चेहरे को सामने से बड़ी वासना से देख रहा था.

अब मैं आपसे अपनी नई सेक्स कहानी के साथ एक नए अंदाज में मिलूंगा, तब तक विदा. आज से मैं तुम्हें खुलकर मजा दूंगी। लेकिन मेरी बेटी के चक्कर में मेरी चूत को न भूल जाना।आंटी आप चिन्ता ना करो.

मैंने ही उसको भाव नहीं दे रखा, आप बोलो तो?विक्रम- अरे हाँ हाँ … एकदम सही, यही सही रहेगा, कोशिश करो.

मैं उसकी चूचियों को दबाने लगी और फिर उसके निप्पलों को मैंने चूसना शुरू कर दिया. आंटी एक्स एक्स वीडियोअचानक भाभी के हाथ मेरे सर पर पड़े तो मुझे पता चल गया कि भाभी जाग गई हैं. इंग्लिश एक्स एक्सउसकी चूत चिकनी थी मैंने उसकी चूत में जीभ देकर उसको चाटना शुरू कर दिया और वो तड़पने लगी. जब वो मिल गयी तो उसने रोहन को दिखाते हुए कहा- ये लो।रोहन ने रोहित के मोबाइल को अपने हाथों में लेकर कहा- आहह यार … दिन बना दिया तूने तो!वो कोई फ़ोटो थी … जब रोहन ने उसे ज़ूम किया तब मुझे हल्का सा दिखा कि वो किसी की नंगी तस्वीर है.

शाम को पांच बजे उठकर जब मैं कोमल के कमरे में गया, तब वो दोनों एकदम नग्न अवस्था में सो रही थीं, ये देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया.

जैसे ही मैं झड़ा, रानी ने लंड की नसें दबा दबा कर सारा बचा हुआ लावा भी निचोड़ निकाला. उन्होंने कहा- आज हमने सेक्स किया है, तो हो सकता है कि बच्चा ठहर जाए. बाहर निकल कर जैसे ही हम गाड़ी में बैठे तो अविनाश और पल्लवी ने गाड़ी खोली और अन्दर आकर पल्लवी ने कहा- हेल्लो सेक्सी कपल! आज बड़ी मस्त चुदाई कर रहे थे, क्या बात है! कैसे फुर्सत मिली?इतने में ही पल्लवी ने तंज मारते हुए कहा- पार्क में आप दोनों के ही चर्चे थे.

आह्ह … उम्मआह्ह … जल्दी से कुछ करो अब यार। मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. इसलिए थोड़ी बहुत देर में वे कंफर्टेबल हो गए।फिर जब अगली रात आई तो फिर भी ऐसा ही हुआ मेरी सासू ने फिर से मेरे देवर को मेरे रूम में सोने के लिए बोल दिया कि तब तक तेरे भैया नहीं आते तब तक भाभी के साथ ही सो जाया कर ताकि वे ना डरे।लेकिन इस रात के लिए मैं एकदम तैयार थी. गुड्डी मेरी टांगों के बीच में घुटनों के बल बैठ गयी और सर झुका कर लंड को दोनों हाथों से थाम लिया.

सेक्सी ब्लू फिल्म इंग्लिश में

मैं भी उनका साथ दे रही थी- आंह रखैल तो तेरी बन ही गयी हूँ साले हरामी. ब्लाउज और ब्रा हटते ही भाभी की उन्नत चूचियां मेरी आंखों के सामने उछल रही थीं. तू इतनी हिम्मत कर सकती है?यह सुनकर आशा की आँखें फटी रह गईं और कुछ देर तक सोचने के बाद बोली- अगर मैं हिम्मत कर भी लूँ तो क्या भइया ऐसा कर पायेंगे? हम दोनों एक दूसरे का सामना कैसे कर पायेंगे?नीरा ने उससे कहा- अब अगर तू हिम्मत कर रही है तो मैं कुछ न कुछ करती हूँ ताकि तेरा काम हो जाये.

तब मैंने उसे उसके टॉप से पकड़ कर आगे खींचा और सीधा उसके होंठों को चूम लिया.

उसने मेरी नाइटी को फाड़ दिया, ब्रा भी पेंटी भी फाड़ते हुए अलग कर दीं.

कपड़े ठीक करने के बाद मम्मी ने उसको किस करना शुरू कर दिया और बहुत जोर जोर से किस करने लगी. साले की बेटी गिन्नी की चूत के गुलाबी लबों को खोलकर अपने लण्ड का सुपारा रखा तो गिन्नी कसमसाने लगी. सनी लियोन की नंगी वीडियोफिर मैंने देखा कि उसने ब्लैक कलर की पैंटी पहनी हुई थी जो उसके गोरे बदन पर बहुत प्यारी लग रही थी.

जब एक साल पहले हमने पहली बार सेक्स किया था, तब मैंने कोमल की हालत पतली कर दी थी. मैं अपने घर पर ये कहकर दिल्ली आया था कि मैं अपने दोस्त के पास जा रहा हूँ. पर वादा करती हूँ आपको निराश भी नहीं करूंगी।उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया.

मैंने उसके चूचों पर किस करते हुए कहा- नहीं डार्लिंग, तुम चिंता मत करो. पहले धीरे धीरे फिर थोड़ा तेज तेज फिर पूरी स्पीड से और पूरी बेरहमी के साथ उसकी चूत को अपने लंड से कुचलने लगा.

अगर तुम मेरी जान की हर एक चीज भी टेस्ट करोगी, तो वह सब भी टेस्टी है.

उसके मुँह से ये सब सुन मेरा भी निकल गया हम।दोनों बिस्तर में नंगे ही सो गये. मैंने देखा कि उसकी थोड़ी चाल भी बदल गई थी … क्योंकि उसने पहली बार अपनी गांड मरवाई थी. स्वीटी आंटी- आह रॉकी … ये सब क्या कर रहे हो … उफ़ … उफ … उम्म्ह… अहह… हय… याह… उह रॉकी छोड़ो भी न … आह रॉकी … आह रॉकी…मैं- सिर्फ मज़े लो स्वीटी आंटी, अपने इस खजाने को आप मुझसे नहीं बचा सकती हो.

क्सक्सक्स हिंदी बफ थोड़ी देर में वो मुझे स्तनों से खींचते हुए एक केबिन की तरफ ले जाने लगा. उसने मेरा बदन चूमते चूमते अपने दोनों हाथ मेरे सीने की ओर लाकर पीछे से मेरे दोनों मम्मों को दबाना शुरू कर दिया.

हम दोनों का पूरा जिस्म और जिस्म के पूरे हिस्से तुम्हारी ही जायदाद हैं. मैं हूँ शरद चोपड़ा … मेरी पहली कहानीश्रीनगर की लड़की की कुंवारी चूतसबको बहुत पसंद आयी।कुछ लोगों के मेल भी आये. विशाल ने सुनील और रिंकी को देखा तो वे दोनों बेड पर थे और सुनील रिंकी की चूत चाट रहा था.

सेक्सी ब्लू

मैं बोली- आज तो आपकी मुराद पूरी हो गयी ना!अब जीजू मेरे होंठों पर पप्पी करते हुए बोले- अभी कहां मेरी रानी, मुराद तो अब पूरी करूंगा. आपको ये कामुक कहानी कैसे लग रही है, आप अपनी राय इस पते पर दे सकते हैं।[emailprotected]. बीच बीच में शायद उसे याद आता कि मैंने कहा था लंड के छेद में जीभ की नोक घुसाना, तब वह जीभ से लंड के सुराख को चोदने की कोशिश करती.

नीतू ने अपने गिलास से एक लंबा घूंट बियर का भरा और गिलास को टेबल पर रखा और अपनी नशीली आंखों से मेरी तरफ देखा. वो बोला- कैसा लगा लंड रानी, आज तक तेरे किसी ग्राहक का इतना मोटा नहीं रहा होगा.

फिर तीसरा और फिर एकदम से मेरी पत्नी की चूत पर अपने होंठों को कस दिया और उसको जोर जोर से चाटने लगा.

जीजू मुझे चोदने के बाद कुत्ते की तरह हांफ रहे थे और बोल रहे थे- आंह … मजा आ गया यार … क्या मस्त चुत देती हो. जब भी भैया घर पर नहीं होते थे तो भाभी मुझे कभी मार्केट चलने के लिए और कभी सब्जी लाने के लिए कहती थी. तीसरे दिन रात को फिर वो ही घटनाक्रम … बाबूजी ने दरवाजा भेड़ा, मैं उठी और दोनों ने पहले बिना कुछ बोले काम क्रीड़ा की और भाभी उनके बिना कहे बिस्तर पर मुंधी(उलटी) हुई और फिर उनके पीछे बाबूजी खड़े हो गए फर्श पर और फिर कैसे 12 मिनट बीते, ये पता ही नहीं चला.

अभी उसने टी-शर्ट और लोवर पहना हुआ था, जिसमें उसका फिगर और ज्यादा सेक्सी लग रहा था. दीपिका ने अपनी आंखें बंद कर रखी थीं और बार बार अपनी जांघों को भींच कर अपनी चूत की कामवासना को शांत करने की कोशिश कर रही थी. तभी बरसात की तेज फुहार फिर से बेडरूम की खिडकियों से आ टकराई और बादलों की तेज गड़गड़ाहट के साथ बिजली कौंध उठी.

मैं- तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?प्रिया समझ गई और आंख नचाते हुए ऊपर नीचे देखते हुए बोली- ब्वॉयफ्रेंड … हूँ … ऐसा तो कोई नहीं है.

सेक्सी नौकरानी बीएफ: मैंने उसके होंठों को सोनम के निप्पलों पर सटा दिया और वो उसकी चूचियों को पीने लगा. पर आपस में एक दूसरे की माँ के बारे में ऐसी बातें करना और एक दूसरे के गुप्तांगों को सहलाना थोड़ा अजीब लगता है.

पूरी तरह से डिस्चार्ज होने के बाद मैं निढाल होकर रुकैय्या पर लेट गया, मेरे बालों को सहलाते हुए रुकैय्या ने पूछा- एक बार और करेगा?मेरे हां कहने पर रुकैय्या ने मेरे होंठों को चूसते हुए मेरे लण्ड पर हाथ फेरना शुरू कर दिया. वो- आंह … और …मैं- तुम्हारी बुर को खूब चूसूंगा … तुम्हारी बुर को चूसते हुए तुम्हारी चुचियों को हाथों से मसल दूंगा. ये कहते हुए मैंने पकड़ कर उनको अटेंडेंट वाली बेंच पर बैठा दिया और मैं उनके सामने सीधा खड़ा हो गया.

रोहित उठा, उसने रोहन को टांगें फैलाकर बिठा दिया और खुद उसकी टांगों के बीच आकर घुटनों के बल बैठ गया और झुककर रोहित के लण्ड को अपने मुंह में ले लिया।कैमरे से दृश्य कुछ ऐसा था कि रोहन अपनी टांगें फैलाये अपने हाथों को बिस्तर पर टिकाकर सीधा बैठा था.

उसने कहा- काली क्यों?तब मैंने मजाक करते हुए कहा- क्योंकि मैं काला हूं ना. दोस्तो, कैसी लगी मेरी रोल प्ले मम्मी की चुदाई की कहानी … प्लीज़ रिप्लाई ज़रूर देना. फिर वो अपना हाथ चूत की तरफ ले जाने लगीं, तो मैंने उनका हाथ पकड़ कर अपने मुँह के पास लाया और उनकी उंगलियां चूसने लगा.