गांव की खेत की बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स दूध

तस्वीर का शीर्षक ,

ओपन सेक्स डॉट कॉम: गांव की खेत की बीएफ, जब तक भाभी घर में रही मैं अपने घर के अंदर नहीं आया और बाहर ही मंडराता रहा.

सेक्सी बीएफ 7 वर्ष

लेकिन 15-20 मिनट बाद इनके बॉस फिर से तैयार हो गए।मैंने उनसे कुछ देर रुकने के लिए कहा लेकिन वे नहीं माने, मुझे उल्टा लेटा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और मुझे चोदने लगे. बफ बुर चुदाईउसकी चुत से पानी निकलने लगा, जिसे मैं चाट चाट कर साफ ही कर रहा था कि वो बोली- राज अब रहा नहीं जाता … कुछ करो जल्दी प्लीज … तुम अपना मस्त लंड मेरी चुत में डाल दो जल्दी से … अब मुझसे और इन्तजार नहीं होता प्लीज.

मैं उनके पास आकर बैठ गया और उनकी जांघ पर हाथ रखते हुए कहा- चाची जी, ये क्या कर रही हो आप?चाची जी एकदम से डर कर उठीं और हाथ बाहर निकाल कर भागने लगीं. हिंदी बीएफ video.comमैंने फिर उसे घोड़ी बनाते हुए एक हाथ से उसके बालों को पकड़ लिया और दूसरे हाथ से उसकी कमर को रोकते हुए धीरे से लन्ड डालने लगा.

मगर सुखविन्दर ने कहा- नहीं, आज तो हमारा साथ देना पड़ेगा आपको!मेरे मना करने के बाद भी उसने 3 ग्लास में शराब बनाई।पहले तो मैंने कुछ झिझक दिखाई मगर सुखविन्दर ने अपने हाथ से मुझे पहला ग्लास पिला दिया.गांव की खेत की बीएफ: मैं उसकी तरफ देखकर अपना मुँह फेर लेता था और अपनी किताबों में आंखें गड़ा लेता था.

जो पाठक नये हैं उनकी जानकारी के लिए एक बार मैं अपनी पूर्वप्रकाशित रचनाओं से आप लोगों को अवगत कराने के लिए उनका नाम बता देता हूं.पर मैंने आज तक कभी ऐसी कहानियां पढ़ी नहीं थीं, इसलिए मुझे किसी साइट का भी पता नहीं था.

जीबी रोड के सेक्सी वीडियो - गांव की खेत की बीएफ

उसने सबसे पहले तो लाईट काफी धीमी करी और म्यूजिक चला दिया … गाना भी उसने छांट के लगाया … जरा जरा बहकता है, आज मेरा मन, मैं प्यासी हूँ.ये सब रोहित सहन नहीं कर पाया और उसका बदन भी ऐंठने लगा, वो बोला- आह भाअअ.

जीवन में पहली बार मैंने किसी फेसबुक फ्रेड रिक्वेस्ट को बिना जाने पहचाने ही ओके कर दिया. गांव की खेत की बीएफ दीपा की ‘उहं … आह … मजा आ गया … और जोर से करो सुनील …’ ऐसी वासनामय सिसकारियों से पूरा कमरा भर गया.

मैंने देखा तो सुखविन्दर चुपके से उसे देख रहे थे,वो झुक कर अपनी टांगों में क्रीम लगा रही थी.

गांव की खेत की बीएफ?

उसकी बाद सुहास ने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और लंड चूसने को बोला. वो दीदी के सर को ताकत से पकड़ कर जोर जोर से दीदी के मुँह में झटका लगाए जा रहे थे. मैं बोली- पापा, मुझे अपनी चूत और गांड में एक साथ दो लंड से चुदाई करवानी है.

वन्दना ने मेरा पेग उठाया और उसमें अपने दोनों चुचे डुबो दिए और उन्हें मेरे मुंह में देने लगी. सभी लड़के लड़कियां कॉलेज फंक्शन पर तैयारी से तो आए थे, पर कॉलेज में होने की वजह से किसी ने ज्यादा लिमिट क्रास नहीं की थी. मैं ये सब देख कर पागल हो गई थी कि मेरी माँ ने तो सीन ही बदल दिया था.

हालांकि एक दूसरे की हालत किसी से छिपी नहीं थी, फिर भी खुल के सामने आना हर किसी के वश की बात नहीं होती. चाची अब उठीं और मुझे किस करके बोलीं- संजय, मैं तेरे लंड के लिए बहुत दिनों से प्यासी हूँ. मदमस्त चिकना मलाई जैसा नौजवान बदन! बहनचोद हरामज़ादी को पूरा मुंह में लेकर चूसने का मन होता था.

वो बोली- ठीक है, जैसी आपकी मर्ज़ी!फिर मैंने प्रिन्स को बेड पर बैठाया और उसका हाथ नीता के बूब्स पर रख दिया. मैंने प्यार से उसके टोपे को पीछे किया और उसके गुलाबी से सुपारे पर जीभ लगा कर देखा तो टेस्ट बिल्कुल पसंद नहीं आया.

थोड़े ही दूर में बैठा संदीप बार-बार मुझे ही ताड़ रहा था और नजरें बचा कर मैं भी उसे निहार रही थी.

मेरी चीख निकल गई … लेकिन अभी चीखने चिल्लाने से किसी बात का कोई डर नहीं था.

उसने पीछे से मेरी गांड में थूक लगा कर अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के छेद पर लगा दिया. उसके बाद तुम्हारे जीजा, उस लॉज के मैनेजर और उस नौकर ने तुम्हारी चूत को को मिल कर चोदा था. उनकी चुदाई की कल्पना मैंने किस तरह से बुनी थी, ये भी काफी रसीली घटना है.

मेरा लंड ठंडा होने जा रहा था, उसे सबा ने चूस-चूस कर फिर खड़ा कर दिया था. इस पोर्न हिंदी स्टोरी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि ससुर की योजना के मुताबिक बहू अपने ससुर के साथ अपने पति समीर के आने से पहले ही अपने बेडरूम में नंगी हो गई थी और जब उन दोनों के नंगे जिस्म एक दूसरे से टकराए तो ससुर और बहू दोनों ही गर्म हो गये और नीलम की चूत ने महेश के लंड से टकराते ही अपना पानी फेंक दिया. इस बात को जानकर, पता नहीं क्यों मुझे बुरा नहीं लगा … क्योंकि मैं हमेशा सोचती थी कि जब विक्की को पता चलेगा, तो वो मेरे बारे में क्या सोचेगा.

ऐसे ही करते-करते मेरे चाचा के लड़के यानि कि मेरे भाई को मेरे बारे में पता लग गया कि मैं किरायेदार लड़के को पसंद करती हूँ और उससे रात भर बातें करती रहती हूं.

अगर तुम्हें ये सब ठीक नहीं लग रहा है, तो कोई बात नहीं मैं तुम्हारे साथ कुछ नहीं करूंगा. उसमें मर्द को भले ही मजा आये लेकिन औरत घबरा जाती है और वो सहज नहीं हो पाती. अब मैं उस घटना के बारे में बताता हूं कि मेरी एक लड़की से चुदाई कैसे हुई.

चाची बोलीं- ठीक है उसे भी जल्दी ही पटा ले … नहीं तो कुतिया जाने किधर किधर भौंक आएगी. कुछ ही देर के बाद मेरी चूत से पानी की धार फूट पड़ी और मेरी चूत के पानी से पापा का लंड भीगने लगा. चाची की चूत बहुत टाइट थी, ऐसा लग रहा था, जैसे चाची ज्यादा बार चुदी ही न हों.

तभी बॉस ने मेरा हाथ अपने लंड पर रख दिया, जिसे मैंने सहलाना शुरू कर दिया.

फिर धीरे-धीरे वह भाभी से अलग हुआ तो राहुल का वीर्य भाभी की चूत से निकलकर उनकी जांघों पर बह निकला. तभी दीदी ने श्वेता दीदी का हाथ पकड़ लिया और बोली- तुम कहां जा रही हो … बैठी रहो ना.

गांव की खेत की बीएफ मैंने शालिनी की चूत पर अपना थूक लगाया और अपने लंड पर उनको थूक लगाने कहा. मेरी आंखों के सामने दीदी की दोनों बड़ी बड़ी गोरी गोरी चूचियां सामने उछल रही थीं.

गांव की खेत की बीएफ मुझे लगा कि अब मैं बस इसके मुँह के अन्दर ही झड़ जाऊं लेकिन मैंने उसके मुँह से अपना लंड बाहर निकाल कर थोड़ा आराम किया ताकि दूसरी बार डिस्चार्ज होऊं, तो उसकी चूत में ही होऊं. फिर हम दोनों की धक्कम पेल चुदाई शुरू हो गई।20 मिनट तक चुदाई की जिसमें नित्या 2 बार झड़ गई।मेरा भी निकलने का हुआ तो मैं लंड बाहर निकालने लगा तो नित्या बोली- क्या हुआ?मैं- वीर्य निकालने वाला है.

करीब दस बजे जब उनका फोन आया तो मैंने कॉल उठाया उनका!हेलो”जी सर … बोलिये!”फ़ोन क्यों नहीं उठा रही थी?”सर, वो साइलेंट पे था.

सेक्सी पिक्चर फिल्म वीडियो

उसके कंधे पकड़कर मैं आह करती हुई बस उसके लंड से झड़ना चाहते थी।वे मुझसे ऐसे चिपके हुए थे जैसे मानो मुझे कभी छोड़ेंगे ही नहीं।फिर अचानक मैंने महसूस किया कि और भी हाथ मेरे बदन पर चल रहे हैं. सबने मस्ती के साथ खाना खाया और फिर कुछ लोग घर की ओर रवाना हो गए और ज्यादातर लड़के लड़कियां अपनी चुदाई कार्यक्रम के लिए चले गए. अब मैं और मनु उन्हीं के पास लेकिन थोड़े साईड में बैठे और हमारे अलावा बाकी सभी एक घेरा बनाकर बैठ गए.

पहले मेरी बात का वो उतना जवाब नहीं देती थी, लेकिन जब से मैं उसके सामने भाभी से नॉनवेज टाइप का मजाक कर देता था, तो वो भी मुस्कुराने लगती थी. लेकिन उन्होंने मेरे मुंह पर अपनी बड़ी सी हथेली रखते हुए उसको ढक दिया. मैंने ओके कहा और उससे चिपक गया मेरे लंड ने अंगड़ाई लेना शुरू कर दिया था.

मैं मन ही मन खुश हो रही थी कि अगले हफ्ते मेरे पापा और भाई का लंड एक साथ मेरी चूत और गांड में जायेगा.

फिर मैंने धीरे धीरे करके पूरा लंड उनकी चुत में घुसा दिया, क्योंकि दोस्तों मेरा मानना है कि अगर महिला को दर्द हो रहा है, तो रुक जाओ, मेरा मकसद मजा देना है … न कि दर्द. पर पीछे से नज़र रखे मेरे देवर ने हमारी बात सुन ली। उसने घर में बता दिया और सुना भी दिया जो हमने बात की. वैसे मैं थोड़ी उत्साहित तो थी, लेकिन मैं उससे मिलने को ज्यादा बेताब थी.

सोनिया- बहुत गंदे हो तुम पूरा हाथ गीला हो गया, मेरी बरसाती नाले की तरह बह रही है … यह इतनी गीली आज से पहले कभी नहीं हुई. सभी ने ये भी तय किया कि कपड़े छोटे से छोटे रखने हैं और अपने अपने शौक के हिसाब से सामान रख लेना है. जब चाची ने मेरे लंड पर अपना हाथ लगाया, तो मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था.

प्रिन्स नीता की मसाज कर रहा था और मैं वहीं सोफे पर बैठ कर उन दोनों का हौसला बढ़ा रहा था. अब मेरा मन भी करने लगा था कि उनके लंड को पकड़ लूं लेकिन दुल्हन वाली शर्म अभी भी रोक रही थी.

अपनी सेक्स कहानी को शुरू करने से पहले मैं एक बात और कहना चाहती हूँ कि मेरी इस कहानी और इससे आगे के सभी भागों की मुख्य नायिका रेखा का मैं अपने खुद के नाम से उल्लेख करूंगी और कहानी अपनी जुबानी बयान करूंगी. दीदी ने अपनी कमर को ऊपर किया और साकेत भैया ने तकिया को दीदी के पेट के नीचे रख दिया. ”हाँ दीदी, सुना तो मैंने भी है … मन तो मेरा भी करता है लेकिन …”तभी मैं भी अंदर आ गया और उन दोनों के साथ बैठ गया.

तेल सरकता हुआ गांड की दीवारों से लग गया … जिससे मोसी को रहत मिल गई.

कितना लम्बा और मोटा था उनका ओफ्फ … मेरी तो जान ही निकल गयी उनके साथ करते हुये!”नीलम अपने पति को जलाने के लिए जाने क्या क्या बोल गयी. पहले तो मुझे लगा था कि ये सब टाइम पास करने का जरिया है … और फालतू का काम है. मैंने कुछ देर बाद जानबूझ कर कोहनी को मेम से टच किया … तो मेम ने अपनी चूचियां कुछ ऐसी कर दीं कि मेरे हाथ उनके मम्मों से टच करने लगे.

शुरू में थोड़ी तकलीफ़ हुई, लेकिन धीरे धीरे उन्होंने दोनों लंड सह लिए और अब वो भी मज़ा ले रही थीं. अब वो फिर से गर्म हो गई तो मैंने उससे पूछ लिया- सेक्स करने का मन है क्या?तो वो बोली- हाँ यार … मगर मिलेगा कहाँ?मैंने मजाक में ही बोल दिया- अगर मन है तो बता … मैं किसी का इन्तजाम कर देती हूँ, जो तेरी प्यास बुझा दे.

कोई 20 मिनट बाद मेरा रस निकलने वाला था कि मैंने उसकी चुत से लंड खींचा और उसके मुँह में लगा दिया उसने भी किसी रंडी की तरफ मुँह में मेरा लंड भर किया और चूस कर सारा रस उसके मुँह में ही छोड़ दिया. उसको चूमने के बाद मैंने जबान निकल कर पूरी चूत को एक बार में चाट लिया. मोसी की चुदासी सी आवाज निकली, तो मैंने उनके एक दूध के निप्पल को दबा दिया.

हिंदी मराठी सेक्सी

वो भी पीछे से आ गए और मेरी बहन की चुत में दूसरा लंड डालने की कोशिश करने लगे.

पर मैंने उनको बड़ी जोर से पकड़ा हुआ थाचाची फिर से बोलीं- बेटा, मैं तेरी चाची हूं, ये सब गलत है. आप लोगों ने जैसा कि मेरी पिछली कहानीतीन मर्द और मां की चुदाईमें पढ़ा था कि मेरे बेटे विराट ने तीन मर्दों को बुला कर मुझे उनसे चुदवाया था, उन तीनों ने कामोत्तेजक दवा खिला कर मेरे साथ रासलीला की थी. एक दो बात करने के बाद मेम ने उनसे पूछा- आप कब तक आने वाले हो?पति ने बोला- मुझे 2 दिन और लग जाएंगे.

आंटी मस्ती से कराहते बोलीं- आह चूस ले … और ज़ोर से चूस … चाट ले इस रसभरी को … आह इस भोसड़ी ने बहुत तंग किया है … पूरी खा जा इसे. मेरी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स की पिछली कहानीगर्लफ्रेंड के साथ लिव इन रिलेशनशिपमें आपने पढ़ा कि मेरी गर्लफ्रेंड मेरे साथ मेरे रूम में रहने लगी थी और मैं रोज गर्लफ्रेंड की चूत चुदाई करता था. ट्रिपल एक्स सेक्स बीएफ व्हिडिओवह अपनी बेटी के आने का इंतज़ार करने लगा, थोड़ी ही देर में ज्योति कपड़े पहन कर बाहर निकली मगर वह बेड की तरफ आने की बजाय सोफ़े पर जाकर बैठ गयी।कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

चूंकि बेटे का पहला जन्मदिन था तो श्वेता ने जाते ही मुझे गले से लगा लिया. ये एक तरह से गहरी समाधि की अवस्था थी, जिसमें इंसान सब कुछ भूल जाता है.

एक दिन हम दोनों बात कर रहे थे, तो मैंने उससे पूछा- शान एक बात बताओ तुम्हें सबसे ज्यादा किस में दिलचस्पी है? लड़की में या औरत में?उसका झट से जवाब आया- औरत में. मेरी बीवी ने बिना कुछ समझे कांमांध रांड की तरह रोहित के वीर्य से सने हुए लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. फिर वो पूछने लगी- आप कितनी फीस लेते हो?मैंने सोचा- अगर अभी इनको सच बता दिया तो शायद भाभी मुझे देखते ही मना कर दे.

मोसी की सफाचट चुत देख कर मैं किसी पागल कुत्ते की तरह उस पर टूट पड़ा और चुत चूसने लगा. दीदी ‘उह … आह … ऊऊऊऊऊ … आ आ आ…’ करते हुए बेड को दोनों हाथों से जोर से पकड़े हुए थी. वो जब भी इसके बारे में सोचती, उसकी टांगों के बीच में एक बाढ़ सी आ जाती, और हर बार पिछली बार से ज्यादा.

अच्छी बात ये थी कि अब मेरी चुत में लंड ठीक से घुसने का समय आ गया था.

अब दीपा की बला से … जब उसके आदमी को ही फर्क नहीं है तो उसे किसी की परवाह नहीं. मैंने पापा की शर्ट को खोला ही था कि उन्होंने मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे होंठों के पास अपने होंठों को ले आये.

इस मौके को इस तरह संकोच में जाया मत करो और इनकी वाइफ को भी बोल दो कि वो भी जल्दी से चेंज कर लें. उनके बाहर निकलती हुए मोटी मोटी गांड, मोटे मोटे चुचे मुझे पागल कर देते हैं. पिंकी से सीमा बोली- चल चाय पिला!इतने में ही नायरा और शबनम भी आ गयीं.

मैंने उनकी जांघों को किस किया, तो उन्हें मानो करंट सा लगा … वो सिसकारते हुए हिल गईं. वन्दना ने शर्म से अपनी आंखें झुका ली और बोली- ये पता नहीं कैसे यहां रह गयी. क्या ऐसा हो पाया?कैसे हो दोस्तो, मैं जैस्मिन एक बार फिर से आप लोगों के लिए अपनी आगे की कहानी लेकर लौटी हूं.

गांव की खेत की बीएफ उसका हाथ मेरे बालों में घूम रहा था और वो मज़े के साथ कामुक आवाजें करने लगी. मुझे इस बात की खुशी भी होती है कि आप मेरे लेखों को पढ़कर अपनी प्रतिक्रियाएं मुझ तक पहुंचाते हैं.

जोधपुर मारवाड़ी सेक्स वीडियो

विवेक ने मेरे कंधे पर हाथ रख दिया और कहा- बंध्या, सच में तुम्हारे जीजा ने तुम्हारे बारे में जो भी बताया था सब सच है. मैं पूरे मज़े लेकर सबा की चुत में जीभ डाल कर उसका पूरा रस निचोड़ लेना चाहता था. उसने जब टॉप पहन कर अपनी गोरी नंगी बांहें ऊपर कीं तो टॉप के अंदर नीचे से उसकी ब्रा झाँक गयी.

प्लीज दीपू मुझे अपनी रंडी बना ले यार … आज से तू जो कहेगा, मैं वो करूंगी. इस मौके को इस तरह संकोच में जाया मत करो और इनकी वाइफ को भी बोल दो कि वो भी जल्दी से चेंज कर लें. தமிழ் பிஎஃப் செக்ஸிउन्होंने मेरी रस से तर हो चुकी चड्डी को भी बड़े स्वाद लेते हुए चाटा.

मेरे हाथ उसके पैरों से चल कर उसकी जांघों से होते हुए उसकी पैंटी तक पहुंच रहे थे.

मुझे भी अब इस सामूहिक चुदाई में भाग लेना था, तो मैंने हनी को भी किसी भी चीज के लिए नहीं रोका. चूंकि उसका पति तीन दिन के लिए बाहर जाने वाला था तो वो भी अपना कोई शिकार तलाश रही थी.

वो एकदम से लंड चूसने के लिए राजी हो गईं और मेरे लंड का स्वाद लेने लगीं. अचानक से ज़ायरा की कॉल आयी कि मैंने तुमको देख लिया है, तुम ऊपर फ़ूड कोर्ट पर आ जाओ. मैंने पीछे से भाभी की चूत को सहलाया और उसकी गीली चूत को एक दो बार रगड़ा.

मैंने पीछे से भाभी की चूत को सहलाया और उसकी गीली चूत को एक दो बार रगड़ा.

इधर भाबी भी अपने बुर पर मेरा सिर दबाए जा रही थीं और मस्त कामुक आवाजें निकाले रही थीं- आह … बहनचोद चल … अपनी दीदी की बुर को अच्छे से चाट … वरना तेरी माँ की बुर अपने पति के लौड़े से फड़वा दूंगी. महेश ने अपनी बहू को चोदा और फिर अपनी बेटी की चूत और गांड भी चोद डाली. ”(रुको … अभी के लिए इतना काफी है, रात को मिलते हैं)मैं कुछ कह पाती, तब तक उसने कॉल कट कर दिया.

सेक्सी बीएफ बीएफ एचडी वीडियोसुबह पांच बजे करीब मेरी आंख खुली तो मुझे थोड़ा होश आया और मैंने देखा कि पापा मेरी बगल में ही नंगे पड़े हुए थे. तब तक के लिए अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ते रहें और मजा लेते रहें जिन्दगी का और सेक्स का।[emailprotected].

पंजाबी सेक्सी देहाती

चूत में लंड हाथ में बूब्स और मुँह में जीभ … ऐसा लग रहा था कि कई साल बाद चूत मिली है इन्हें. मैं उसको ज्यादा टाइम नहीं दे पा रही थी क्योंकि मेरी जॉब भी थीतो मैंने सोचा कि क्यों न कुछ दिनों की छुट्टी ले लूं. चूंकि हम दोनों ने अब तक कभी सेक्स नहीं किया था, तो आप सोच सकते हो कि सेक्स करने की कितनी बेसब्री होती है.

आआई! … अहह् इस्स …” जैसे ही लंड का मोटा सुपारा ज्योति की कुँवारी गांड में घुसा उसके मुँह से चीख निकल गयी. उसकी छटपटाहट को देखते हुए मैंने वहीं पर लंड को रोक दिया और उसको किस करने लगा. बेबी रानी के चूचे जब मैं ज़्यादा ज़ोर से निचोड़ देता अथवा ज़्यादा ज़ोर से निप्पल मसल देता तो एक आह आह की आवाज़ रानी के मुंह से निकल पड़ती.

मैं उस खड़ी आग के सामने नीचे घुटनों के बल बैठ गया और उसके पेटीकोट का नाड़ा खींच कर नीचे गिर जाने दिया. कुछ ही देर में मेरी चूत से पानी निकलने लगा था … जिससे अन्दर चिकनाहट बढ़ गई थी. मैं बोली- ठीक है, अगर तुम दोनों मिल कर भी मुझे आशीष के साथ दोबारा सब कुछ सही करवा दोगे तो मैं तुम दोनों को ही कुछ भी देने से मना नहीं करुंगी.

मैंने कहा- चाची प्लीज अब ये रट छोड़ दो और मुझे भी पता है कि आपकी चुत भी मेरा लंड मांग रही है. उसने अपनी शर्ट उतारी और फिर अपनी पैंट को उतार कर अंडरवियर भी उतार दिया.

जो लोग मेरी पिछली कहानी पढ़ चुके हैं, वो मेरे बारे में जानते हैं और जो पहली बार पढ़ रहे हैं, उन्हें मैं बता दूँ कि मेरा नाम प्रतोष सिंह है और मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार के साथ कोलकाता में रहता हूं.

जैसे जैसे सुनील स्पीड बढ़ता वैसे वैसे ही दीपा मनोज का लंड लप लप करती. સવિતા ભાભી કોમबॉस ने आंखें खोल कर देखा, विनय नीचे बैठ कर मेरी गांड को मन लगा कर चाट रहा था. राजस्थानी खेत में चुदाईइतने में रूम की लाईट जली, गेट पर देखा … तो सारिका हमें देख रही थी और उसका हाथ उसकी चुत पर था. उसके चूचों को देख कर भी उसकी उम्र का बिल्कुल भी पता नहीं लग पा रहा था.

फिर आखिरकार वो घड़ी भी आ ही गई जब हम दोनों की बीवियों की अदला-बदली होकर हमें एक दूसरे की बीवी के बदन को छेड़ने और प्यार करने का मौका मिला.

जब साकेत भैया कुछ ज्यादा उत्तेजित हो गए, तो वो एक हाथ से दीदी के सर को पकड़ कर अपने लंड को तेजी से दीदी के मुँह में अन्दर बाहर करने लगे. वो भी चाची और बेटा की सेक्स स्टोरी निकाल कर और मेरे रूम में चला गया. फिर आशीष बोला कि बंध्या तुम ये तो जानती ही होगी कि साली आधी घरवाली भी होती है.

रोहन- अच्छा जान, तुम्हें मेरा लंड कैसा लगा?सोनिया- हाय मैं तो दीवानी हो गई हूं इसकी … और तेज तेज धक्के मारो ना इससे. इसलिए बहुत बहुत शुक्रिया।वो कहते हैं ना के कभी कभी खुद की भी नज़र लग जाती है, ऐसा ही हुआ।मेरी सेक्स कहानी पढ़ कर एक लड़के ने मुझे ईमेल किया था फोटो के साथ। मुझे वो अच्छा लगा था दिखने में।जब भी वक़्त मिलता, उससे मेल या हैंगआउट पर बात होने लगी. चुदक्कड़ बुआ की सेक्स कहानी को शेयर करने से पहले मैंने कई बार सोचा.

हिंदी मराठी सेक्सी विडिओ

मुझे इस बात से तसल्ली भी हुई कि उसकी पत्नी भी मेरा सहयोग कर रही थी. हालांकि अब तक संदीप अपनी पूरी शराफत में ही था और शरमा भी रहा था, लेकिन फिर भी था तो मर्द ही. सीमा ने जींस स्कर्ट के साथ शर्ट स्टाइल का टॉप लिया जिसके ऊपर के बटन काफी नीचे थे.

उन्होंने चाची को देखा, तो वे एकदम से चौंक गईं भाभी बिना चीनी लिए बाहर वापिस आ गईं.

मैंने लंड को एक हाथ से लेकर उसके छेद पर टिका कर जोरदार झटका दे दिया.

खाना खाने के बाद मैंने दीदी से बोला- दीदी मुझे नींद आ रही है … मैं सोने जा रहा हूँ. हम दोनों ने अपने कपड़े पहन लिये और वहीं पर होटल में साथ में ही डिनर किया. പോണ് വീഡിയോ എങ്ങനെ കാണാംमैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूं। बहुत ही रोचक कहानियां यहाँ पढ़ने को मिलती हैं.

मैं- क्यों हमेशा यही गिफ्ट दोगे क्या?विक्की- तुम बोलो जान … तुम्हें क्या चाहिए. ”हो गया?”हओ”कहाँ है?”वो दीदी के पास है।”पता नहीं यह आधार कार्ड और नाम का क्या चक्कर है।ओके … वो … गौरी अब तुम्हारे मुंहासों के क्या हाल हैं?ठीक हैं …”इन दिनों में तो तुमने ना तो वो दवाई पीयी ना लगाई?”हट! … आपने इन मुहासों के चक्कर में मुझ भोली-भाली लड़की को फंसा लिया. कोमल की बातों पर मुझे बहुत गुस्सा आया, पर संदीप वाली बात पर मैं जोरों से मुस्कुरा बैठी और मैंने संदीप से नजरें हटा लीं.

एक अच्छे परिवार से आने की वजह से उसके अन्दर शिष्टाचार की खूबी भी थी. जैसे ही मेरी उंगलियों ने उसके होंठों को छुआ, ऐसा लगा जैसे उसके बदन में कोई करंट दौड़ गया हो.

ये क्या है? भेदभाव नहीं है तो क्या है?”मैंने हंसकर कहा- नाराज़ क्यों होती है रानी … ध्यान नहीं रहा … तू इतनी नशीली चीज़ है कि मैं सुध बुध खो गया था … कोई नहीं डार्लिंग, आज कोई आखिरी चुदाई थोड़े ही की है … रोज़ मौके मिलेंगे … अगली बार नहीं भूलूंगा … माफ़ी दे दे जान.

पर मैंने उसको बोला था कि मुझे तब तक कॉल नहीं करना जब तक कि मैं मिस कॉल ना दूँ।पर एक दिन उसने कॉल किया और फोन देवर ने उठा लिया। उसने भी बिना बात किए फोन काट दिया. मगर फिर उन्होंने बताया कि किस तरह मेरे जीजा ने मेरे सारे कारनामे उन सेठों के सामने बता दिये थे. बोल रहा था- आह हहह मेरी रंडी … मेरी जान … मेरी रखैल है तू … साली तेरी बुर का भोसड़ा बन दूंगा … मेरी जान बहनचोद।फिर उसने लन्ड बुर से निकाल कर कंडोम पहना और फिर से चुदाई शुरू कर दी.

सेक्सी में सेक्सी में इस तरह से जब तक मैं कानपुर में रहूंगा, मैं उन्हें मौका देख कर बार बार चोदूंगा और उनके मुँह से चुदासी औरत के मुँह से निकलने वाली कामुक आवाजें कुछ इस तरह की होंगी- आह … ह ह … उह. मैं बताना चाहूंगी कि वो दिखने में भले ही साधारण सा था, लेकिन वो था काफी दिलकश.

उसे देख कर कोमल ने एक और शैतानी कर दी, उसने परमीत के पीछे जाकर उसकी टॉप को पकड़ा और ऊपर उठा कर बाहर खींचने लगी. 5 इंच से ज्यादा नहीं है और वो अन्दर डालते ही 8-10 झटकों में ही निकल जाते हैं. एक दो बात करने के बाद मेम ने उनसे पूछा- आप कब तक आने वाले हो?पति ने बोला- मुझे 2 दिन और लग जाएंगे.

அனுஷ்கா செஸ் வீடியோ

फिर मैंने उसकी चूत पर तेल लगाया और उसकी चूत पर फिर से अपने लंड का सुपारा रख दिया. मेरे ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे बहुत ही ज्यादा गर्म कर दिया था … मेरी चूत से पानी आने लगा था. जब इस बारे में हम सभी को बढ़ा चढ़ा कर बताया गया तो हमारी क्लास की लड़कियां इसमें पार्टिसिपेट करने लगीं.

मैंने अभय को लपेट कर बांहों में भर लिया और जोर से अभय के होंठों को अपने होंठों से चूमने लगी।मेरी डबल पेंटेरेशन यानि आगे पीछे लंड लेने की कहानी अगले भाग में जारी रहेगी. उसने उसको बोला कि चूँकि आतिफ घर पर नहीं है, इसलिए अगर वो चाहे तो रुक कर इंतज़ार कर सकता है.

तभी बॉस के दोस्त ने कहा- क्या यार, पार्टी में बुलाया और कुछ गाना नहीं है.

मुझे पता था कि पापा अपनी बेटी की चूत चुदाई करने के लिए फिर से आयेंगे. उसकी हल्की गुलाबी त्वचा पर लम्बे काले बाल किसी भी औरत को जलने के लिए मजबूर कर सकते थे. चाची की चूत पानी छोड़ रही थी, जिससे उनकी पेंटी पूरी गीली हो चुकी थी.

मैंने सुहास का लंड अपने हाथ में लिया और पहले के जैसे अपनी चुत पर सैट करके धच से उसके लंड पर बैठ गयी. जैसा कि मैंने पहले भी बताया था कि अन्तर्वासना पर सेक्स स्टोरीज तो एक से बढ़कर एक आती ही रहती हैं इसलिए मैं अब सेक्स में कुछ नयी बातें लिखता हूँ और मुझे ख़ुशी है कि वो बहुत पसंद की जाती हैं. अपनी जीभ से उनके गालों के पास हल्के से चाटना शुरू कर दिया और फिर कान के पास चला गया.

फिर जब क्लास खत्म हुई तो सबके जाने के बाद वो मेरे पास आई और मुझे थैंक्स बोलते हुए हग करने लगी.

गांव की खेत की बीएफ: उनकी इस बात से एकदम बिंदास हो गया और मैंने कहा कि कुछ रूमानी सी फोटो भी बढ़िया आएंगी. सीमा ने जींस स्कर्ट के साथ शर्ट स्टाइल का टॉप लिया जिसके ऊपर के बटन काफी नीचे थे.

पर आज तो मैं बस खूब चुदना चाहती थी।हमने इस पोजीशन में 15-20 मिनट तक सेक्स किया. मैंने अपने पति का लंड सीधा अपने मुंह में ले लिया और उनको मजा देने लगी. मैंने अपने लंड को और तेजी से सड़का मारा और फोन को लंड के पास ले जाकर उसे मुठ मारने की आवाज़ सुनाई.

अब भाभी बैड पर पेट के बल लेटी गई थी और भैया ने उनका पेटीकोट भी उतार दिया था। अब दोनों मादरजात नंगे थे। भैया उसके दोनों नितम्बों के बीच अपना हाथ फिराना चालू कर दिया। फिर उन्होंने क्रीम वाली शीशी का ढक्कन खोला और लगभग आधी शीशी क्रीम अपनी हथेली पर उंडेल ली। अब एक हाथ की अँगुलियों से उसके नितम्बों की खाई में क्रीम लगाने लगे।उईई … मुझे गुदगुदी हो रही है.

हैलो फ्रेंड्स, मैं आप सबकी जैस्मिन बहुत दिनों के बाद अन्तर्वासना में आप सभी के साथ जुड़ रही हूँ, इसका मुझे खेद है. मैं काफी खुश थी, कई दिन के बाद मैं किसी बाहर के लड़के के इतने पास थी।अच्छी अच्छी बातें करने के थोड़ी देर बाद वो भी मज़ाक मज़ाक में मेरी तारीफ करने लगा, कहने लगा- आप जैसी गर्लफ्रेंड चाहिए. मैंने दीदी के ससुर को इशारा किया कि पीछे से आ कर वो भी अपना लंड सैट करके इसकी चुत में डाल दें.