देहाती बीएफ जंगल की

छवि स्रोत,राजपूती जोधपुरी सूट

तस्वीर का शीर्षक ,

भारतीय रेसलर: देहाती बीएफ जंगल की, उसने एक तकिया लेकर उसकी कमर के नीचे रखा, दूसरी बांह गर्दन के चारों तरफ लपेट ली.

पानीपत सेक्स

आगे की सेक्स कहानी मैं दूसरे पार्ट में आप लोगों से शेयर करूँगा, जब ऐना से मेरी मुलाक़ात हुई. सेकसीबिडीओइतनी बात करने के बाद मैंने वापस अपना ध्यान पेपर को पढ़ने में लगा दिया.

मैंने कहा- अंकल आप सीरीयस हैं या मज़ाक कर रहे हैं?उन्होंने बोला- तू क्या चाहता है?तो मैंने बोला- अंकल लड़की पटाने में बड़ी झंझट हैं और खर्चा भी होता है और डर भी रहता है. मराठीसेकसचूंकि मेरे इम्तिहान भी खत्म हो चुके थे इसलिए मैं अब उसकी चूत चोदने के लिए मचल रहा था.

दस-पंद्रह मिनट की चुदाई के बाद मेरी चूत ने अपना पानी छोड़ दिया और सोनू का मोटा लंड पच-पच की आवाज करते हुए मेरी चूत को चोदने लगा.देहाती बीएफ जंगल की: नतीजा सबका एक सा रहा कि एक बार रात को चुदाई हुई और एक बार सुबह उठते ही …अब बेशर्मी तो आ ही चुकी थी तो सीमा ने अपने मम्मे उघाड़ दिए, बोली- जालिम ने तो चूसते चूसते, देखो, नील भी डाल दिया.

फिर मैंने अपने हाथ नीचे लाते हुए उसकी पैंटी को उसकी जांघों से खींच दिया.हम दोनों ही देखना चाहती हैं कि तुम्हारा कैसा है।एक बार तो मैं सकपका गया लेकिन फिर सारा माजरा समझ आ गया.

मनाली सेक्सी - देहाती बीएफ जंगल की

मैंने राजनाथ को पापा बोल दिया और मॉम को बोला- मुझे ऐसे पापा चाहिए और एक छोटा भाई भी.मैं अक्सर आतिफ से मिलने के लिए नहीं बल्कि आपको देखने के लिए इस घर में आता हूं.

चाची- हाँ वही … तेरे लिए रानी लेकिन अगर किसी को पता चल गया, तो सबको रंडी ही दिखूंगी. देहाती बीएफ जंगल की मेरे चूतड़ देख कर वह मस्त हो गया- यार, तेरे तो चूतड़ क्या हैं … लौंडियों को मात करते हैं.

फिर आगे बढ़ते हुए मैंने हाथ नीचे चुत की ओर बढ़ा दिया, तो मेरी सास ने तुरंत ही मेरा हाथ पकड़ लिया.

देहाती बीएफ जंगल की?

उसने मुझसे पूछा अच्छे है ना?मैंने भी हंसकर जवाब दिया- आप पर सब अच्छे लगते हैं. ” अचानक एक मीठी सी आवाज़ मेरे कानों में पड़ी।लगता है यह भी गौरी की तरह ‘र’ को ‘ल’ बोलती है।ओह … हाँ …” हालांकि मुझे उसका अंकल संबोधन अच्छा तो नहीं लगा पर मैंने चुपचाप अपने पैर ऊपर सोफे पर रख लिए. मैंने ना में सर हिलाया, तो मॉम ने कहा कर लो बेटा, जो करना है, लेकिन आज भर ही बस … ये सब रोज रोज नहीं होगा.

झड़ने के बाद मुझे होश आया, तो मैंने देखा मॉम खिड़की से मुझे देख रही थीं. जो लड़की कुछ देर पहले तक खुले बीच पे बिंदास बनी हुई थी; अब थोड़ा थोड़ा घबरा रही थी. मुझे तो ये बात पहले से ही पता थी कि विवान भैया मुझे वासना भरी नजरों से देखते थे इसलिए मैं भी उनको अपनी चूची दिखाती रहती थी.

उस वीडियो में एक 8 इंच के लंड वाला आदमी मेरी उम्र की ही जवान लड़की की चूत को बुरी तरीके से चोद रहा था. धीरे धीरे हम दोनों करीब आते गए, पर वो दूसरी लड़की कुछ नहीं करने देती थी. अब मैं हैंडसम तो था ही, तो मुझे मेरी क्लास की लड़कियां मुझे खुद ही लाइन देती थीं, पर मैं किसी को भाव नहीं देता था.

उसने मेरी शर्ट के बटन को खोल दिया और मेरे सीने पर अपने हाथ चलाते हुए नीचे की तरफ चलने लगी. इसी जल्दबाजी के चक्कर में ना मोहिनी को होश था, ना हमें कि वो कौन से वॉशरूम में गई हैं.

मैं भी एकदम जोश से भरकर धक्के लगाते हुए भाभी की चुचियों का अमृत कलश पीने लगा.

हमारे बेडरूम में से ही अन्दर वाले कमरे का दरवाजा बना हुआ था जिसमें अनीता सोती थी.

फिर उसने मुझे धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और पेटीकोट ब्लाउज खोल दिया. उन्होंने अपने हाथ से ही खुद ही मेरे चूतड़ों को फैला दिया और दबाव बढ़ाने लगे. मेरे चेहरे पर थकान देख कर दीदी ने मुझसे कहा कि आकाश तुम अब आराम कर लो, हम कल बात करेंगे.

” ज्योति ने दर्द के मारे सिसकते हुए कहा।कहानी अगले भाग में जारी रहेगी, कहानी पर अपने विचार नीचे दिये गये मेल पर दें. फिर उसका गर्म मूड बन जाता, उसके बाद वो बेड पर वो घमासान मचाती है कि पूरी रात नशे में हम दोनों एक दूसरे के जिस्मों में कैसे बीत जाती है, पता नहीं चलता है. काफी देर तक ऐसे ही पड़े रह कर एक दूसरे को चूमने के बाद हमने कपड़े पहन लिए.

हालांकि मैं घर से सेक्स पॉवर बढ़ाने वाली गोली खा कर आई थी, तब भी मेरी गांड फट रही थी कि न जाने, इसका लंड मेरी चूत का क्या हाल करने वाला है.

जैसे ही आशीष ने यह सब बात बताई तो मैं घबरा गई क्योंकि जीजा को अब शायद हमारे बारे में सब कुछ पता लग गया था. मैंने अपने होंठों का ढक्कन उनके होंठों में लगा दिया और धीरे धीरे लंड को आगे पीछे करता रहा. अब मैं हैंडसम तो था ही, तो मुझे मेरी क्लास की लड़कियां मुझे खुद ही लाइन देती थीं, पर मैं किसी को भाव नहीं देता था.

मैंने आंख खोल कर देखा, तो स्मायरा मेरे बिस्तर पर बगल में लेटी हुई मुझे किस कर रही थी. तुम्हें उसकी नहीं अपनी पड़ी है क्योंकि तुम मेरे जाने के बाद ही पिता जी के साथ रंगरेलियां मनाओगी. कभी काजल सुमिना के चूचों को चूस लेती तो कभी सुमिना आशा के चूचों को मुंह में भर रही थी.

मैं उससे ताकतवर था और उसके लंड का सुपारा मेरी गांड में घुसा आनंद दे रहा था.

रजनी के पति विजय एक एम एन सी में मार्केटिंग में थे, तो रात को लेट ही लौटते थे और अक्सर बाहर के दौरे पर रहते थे. उसने फिर मुझे मेरी जॉब का प्रोफाइल पूछा, तो मैंने बताया कि मैं कंपनी में मैनेजर के तौर पर हूँ और ये बहुत टेंशन वाला जॉब होता है.

देहाती बीएफ जंगल की अचानक वो जोर से मुश्ताक से लिपट गयी … मुश्ताक ने उसका और अपना टॉवल अलग कर दिया … गर्म नंगे जिस्म एक जान होकर फिर लिपट गए. ऐसे वक़्त में अगर मैं उसको चुदाई के लिए कहता तो शायद उसकी नज़रों में मेरी अहमियत कम हो जाती.

देहाती बीएफ जंगल की आह्ह … मैं समझ सकता हूं कि उसकी उठी हुई गांड को देख कर तुम्हारा लंड भी तुम्हारे काबू में नहीं रहा होगा. आप सबका बहुत बहुत धन्यवाद, जिन्होंने मेरी टीचर के साथ मेरी पहली चुदाई की कहानीटीचर से सेक्स: सर ने मुझे कली से फूल बनायाको बहुत प्यार दिया.

बहुत से लोग बोलते हैं कि ऐसा सिर्फ कहानियों में होता है लेकिन दोस्तो मेरे साथ ये सब रियल में हुआ और हमने खूब मस्ती की.

बीएफ सेक्सी चोदा चुदाई

मैंने श्वेता से कहा कि वो मेरे नंगे हो चुके लंड को पकड़ कर एक बार सहला दे. मैंने अपने पैर घुटनों से मोड़कर फैला दिये तो मेरी नाजुक गुलाबी चूत ने अपना मुंह खोल दिया. रेखा को उसकी बात जाँच गयी, वो बोली- अब खेल का नियम बदलेगा … अब बोतल का मुंह जिसकी ओर होगा वो टॉप उतारेगी और बोतल के पीछे वाला अपना बॉटम उतारेगी.

अब तो मेरी जान चारू भी अपने चूतड़ों को हिला कर मुझे गांड मारने के लिए आमंत्रित करने लगी. मैं कसरत करता हूं … हल्की कसरत, सुबह दौड़ना, कुछ योगासन! इसलिए छरहरे बदन का हूं. तभी जैसे आंटी ने मेरा दर्द समझा और मेरी जींस का बटन खोल कर मेरी जींस और चड्डी को उतार दिया.

अब दर्द थोड़ा सा कम हो गया था और मुझे गांड मरवाने में मज़ा आने लगा था.

आंटी ने कमरे में जाते से एसी चालू कर दिया और मेरे कपड़े भी इतनी जल्दी उतार दिए कि जैसे भूखी शेरनी को बहुत दिनों से खाना मिला हो. इस तरह से मेरी बीवी सुधा की बेरुखी से उठी प्यास मेरी भतीजी ने बुझा दी. मैं उसकी चूचियों को चूसकर और मसलकर लाल कर रहा था और वो अपनी चूत से मेरा लण्ड रगड़ रही थी.

उन्होंने बड़े प्यार से मेरे होंठों को अपने होंठों में भर के चूसा और बोले- तुझे छोड़ने का मन नहीं कर रहा. थोड़ी ही देर में सिसकारियां बढ़ गई- चोदो और जोर से चोदो … मेरे अंदर से कुछ निकलने वाला है … जानू पेलो … राजा मज़ा आ रहा है … मैं तो गई ई ईई ईई. अन्दर तो उसने कुछ पहना ही नहीं था, तो उसकी 36 इंच की चुचियां देख कर लंड मचल गया.

जब हज़्बेंड जॉब पे गया, तो मैंने अंकल को कॉल करके बोला- अंकल आप बाप बनने वाले हो. अनिता भाभी के मुँह से बस यही निकला- आह मार दिया … रुकना मत … आह डाल दो पूरा अन्दर … उई माँ … चोद दो मुझे अपनी रंडी बना कर!अब ये बात सुनी तो भला मैं क्यों पीछे रहता.

पर शायद उसका छेद बहुत छोटा था इसलिए मेरा लंड फिसल कर किनारे हो गया. उन पलों को याद करते हुए मैं आज भी पसीना-पसीना हो जाती हूं। मुझे आशीष से मिलने का मन करता रहता था, लेकिन कोई जुगाड़ नहीं बना पा रही थी. मैं अपने दोस्त के घर लगभग पन्द्रह दिनों तक रहा था और इन सारे दिनों में मैंने अंकल के साथ अलग अलग तरीके से गांड चुदाई की.

थोड़ी देर बाद मैं थक गया और मॉम को भी पता लग गया, तो मॉम ने मुझे रुकने का इशारा किया.

मेरे चेहरे पर थकान देख कर दीदी ने मुझसे कहा कि आकाश तुम अब आराम कर लो, हम कल बात करेंगे. फिर उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया और मैंने अच्छी तरह उसके लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया. फिर उसकी पैन्टी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा, जिससे वो और भी गर्म होने लगी थी.

मैंने पैंट की तरफ देखा तो मेरे लंड ने मेरी सफेद पैंट पर कामरस का एक बड़ा सा धब्बा बना दिया था. उन्होंने लेटने के पहले ही अपनी सामने से खुलने वाली नाइटी को खोल दिया था.

मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था, मेरी गांड अब पूरी तरह से उनके लंड को अपने अन्दर समा चुकी थी. चूमते चूमते ही उसने हाथ बढ़ा कर आइसक्रीम का कटोरा उठाया और मेरी जांघों के पास चली गयी और मेरे लंड को जो अर्धनिद्रा में था, अपनी मुट्ठी में लेकर हिलाने लगी. स्वरा अब और सहन नहीं कर पा रही थी तो उसने लंड अपने हाथ में लिया और चुत के ऊपर लगा दिया.

मुंबई की चुदाई बीएफ

तभी पिंकी बोली- अब म्यूजिक चेंज हो रहा है और लाईट लगभग बंद हो रही है.

गाड़ी रोक कर हम उससे उतर कर भाग गये और पुलिस वाले हमारी गाड़ी को थाने में ले गये. हम दोनों का पानी निकल गया और उसके बाद हम नंगे बिस्तर पर बेहोशी हालत में लेट गए थे. अब उनकी स्पीड थोड़ी बढ़ी और मेरा प्रीकम उनके हाथ से रिस कर फर्श पे गिरने लगा। मेरा लंड गीला होकर और उनके हाथ में पड़कर खुद मुझे ही बड़ा लग रहा था।मैं उनका दूसरा हाथ अपने टट्टों पे ले गया तो उन्होंने हल्के से विरोध के बाद मेरे बड़े बड़े टट्टे पकड़ लिए.

मैं तो मायूस सा अनुभव कर रहा था, परन्तु वेरोनिका बहुत खुश नजर आ रही थी. वो बोली- मन बहलाने का क्या मतलब है?मैंने कहा- बस मोबाइल में कुछ-कुछ देख कर अपने मन को बहला लेता हूं और खुद को संतुष्ट कर लेता हूं. जंगली जानवरों का संभोगगीला अंडरवियर फर्श पर ही छोड़कर भीगे हुए नंगे पैरों को ठंडे फर्श पर आहिस्ता से रखते हुए लटकते-झूलते लिंग के साथ बाहर आ गया.

ये सुनकर स्मायरा के पापा बोले- होटल क्यों? ये घर आपका नहीं है क्या?मैंने बोला- अंकल, मैंने पहले से ही होटल की बुकिंग करवाई हुई थी. मैंने उसे बहुत समझाया कि मुझे बस तुम्हें एक बार पूरी नंगी देखना है, मैं और कुछ नहीं करूँगा.

”कोई बात नहीं आज तुम भी पहली बार पीकर तो देखो … कई चीजें जिंदगी में पहली बार करने में बड़ा मज़ा आता है. बातों के बीच में उसने कहा- अंकित आज घर में बहुत सारा काम था, मेरे पैर इतना ज्यादा दर्द कर रहे हैं. मगर चौथे दिन की बात है कि पड़ोस में ही एक भाभी को बच्चा होने वाला था.

तुम पता नहीं आराम से तो करोगे भी या नहीं … फिर तेरा बहुत बड़ा भी है. अब हर रोज तो कॉलेज नहीं छोड़ सकता था, फिर भी समय निकाल कर हम दोनों चुदाई कर लिया करते. मगर अगले ही पल दोनों भाई बहनों के नंगे जिस्मों ने आपस मिल कर सारी चिंताओं को भुला दिया.

इस पर वो गम्भीर स्वर में बोलीं- हम दोस्त बाद में हैं, पहले तुम मेरे दामाद हो.

अब वो मेरे सामने केबल ब्रा और पेंटी में थी, उन्होंने रेड कलर की ब्रा और पेंटी पहन रखी थी. ऋतु को लगा कि दोनों हाथ मेरे ही हैं और उसने कुछ नहीं कहा। ऋतु अब धीरे-धीरे मस्ती से भरती जा रही थी.

आंटी को तनाव का अहसास हुआ उसने और तेजी के साथ मेरे लंड पर मुंह चलाना शुरू किया और अब मेरे मुंह हल्की-हल्की सिसकारी निकलने लगी थी. कुछ देर के बाद वो अपने हाथ पौंछती हुई कमरे में आई और सामने से गुजरी. शायद रुचि के मन में भी कुछ चल रहा था लेकिन मुझे अभी उसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं पता था कि वो क्या चाह रही है.

किसी काम से मैं दो दिन के लिए भारत आया, तो मैं कुछ गिफ़्ट रीतिका के लिए लाया. मैंने धीरे से लंड को अपने मुँह में ले लिया … और लंड को अपने मुँह से ही हिलाने लगी. आंटी ने धीरे धीरे मेरे सब कपड़े उतार दिए और मेरे लंड को पूरा मुँह में लेकर चूसने लगीं.

देहाती बीएफ जंगल की मैं कपड़े पहनते वक्त भी सोच रहा था कि कल तो परवीन आंटी की मोटी गांड मिलने वाली है ही. वैसे वो ज़्यादा मेकअप नहीं करतीं, लेकिन उनका चेहरा बहुत सुंदर लग रहा था.

सेक्सी फिल्म सेक्सी पिक्चर बीएफ

जब मैंने पहली बार वीडियो कॉल के दौरान उसे देखा, तो वो बहुत सुन्दर लग रही थी. हम तीनों लोगों के कामुक और गरमागरम कामुक सिसकारियों से कमरा एक पॉर्न मूवी के सैट जैसा लग रहा था. मैं अक्टूबर में अपने एक टूर ग्रुप के साथ चिचेन इट्जा (वर्ल्ड के 7 आश्चर्य में से एक) देखने के लिए मेक्सिको गया था.

मैं पैंटी को सूंघते हुए चूत में उंगली कर रही थी और साथ में अपनी पैंटी को चाट भी रही थी. आपको मेरी टीचर सेक्स कहानी पसंद आई या नहीं … मुझे इस ईमेल पर ज़रूर बताइए. साड़ी वाली भाभी की सेक्सी चुदाईबस वैसे ही मैंने उनके चेहरे पर हाथ फिराते हुए कहा- छोड़िये इन सब चिंताओं को … चलिए आइसक्रीम खाते हैं और अपना मूड ठीक करते हैं.

मन करता है कि मैं वहीं खुले आंगन में अपनी भाभी को लिटा कर उनकी साड़ी पूरी ऊपर उठा कर उनकी चूत नंगी करके देखूँ और चाट लूं.

मैंने पहले अपना लंड उसकी चूत में डाला और थोड़ा सा थूक लेकर उसकी गांड के छेद में लगाया और अच्छे से मालिश कर दी. मैंने कहा- मेरा मन भी कर रहा है कि मैं तुम्हारा लौड़ा लेकर मुंह में भर लूं.

उनके गालों को चूमने लगा और फिर मैंने उनके दोनों स्तनों को बारी बारी से चूसा. उसने अपने सारे कपड़े उतार डाले और उसके अंडरवियर में तना हुआ उसका लंड देख कर मेरी आंखें खुली सी रह गईं. एक बार मन तो किया कि जाकर चाची के चूचों को मैं अभी अपने हाथ से दबा ही दूं लेकिन फिर कुछ सोच कर मैं रह गया.

और उसके बाद वो मैं और विवान भैया हम दोनों को जब भी मौका मिलता था तो एक दूसरे को किस करते थे.

समय निकाल कर वो भी मेरे रूम पर चली आती और हम एक दूसरे में लिप्त हो जाते, हमारे बीच चूत लीला शुरू हो जाती. उसके बाद मैंने उन्हें अपनी गोद में बिठा लिया और उनके स्तनों को धीरे धीरे सहलाना शुरू किया. अगर तुम में हिम्मत है और तुम उसको बहला फुसला कर ले सकती हो, ले लो मैं एकदम चुप रहूंगी.

इंग्लिश ब्लू सेक्सी वीडियोमुझसे काफी लोगों ने भाभी का नंबर, पता, फ़ोटो इंस्टा अकाउंट का नाम सब पूछा। लेकिन दोस्तो माफ करना, ये सब पर्सनल रखना पड़ता है। ये सब मैं आपसे शेयर नहीं कर सकता। उसके लिए माफी चाहूंगा। लेकिन हाँ, अगर आपको कोई टिप्स चाइयें तो आप बेझिझक होकर मुझे मेल कर सकते हैं. कुछ देर इधर-उधर की बातें करने के बाद मैं उसको फिर से उसी विषय पर ले आया जिस विषय पर उसके जाने के पहले हम लोग बातें कर रहे थे.

मुल्लाजी की बीएफ

रात को 2 बजे के करीब मेरी आंख खुली तो मैंने देखा कि मेरा हाथ प्रिया की जांघों को बीच में दबा हुआ है. तुमको कोई काम था क्या?मैंने कहा- नहीं भाभी मैं तो बस यूं ही आया था. जैसे ही मेरी जीभ उसकी चूत पर लगी, तो उसके मुँह से ‘इ … स्सस …’ की आवाज निकल गई.

मैंने उठ कर अपनी नाइटी हटा कर संतोष जी के पैग में थोड़ा सा पेशाब कर दिया. आंटी मुझे रोकने लगीं- रुक जा बेटा … अब मुझसे नहीं होगा … मैं तो पानी छोड़ चुकी हूँ. धीरे धीरे अब तो मैं ख्यालों में भी उन्हीं अफ्रीकी लड़कों के लौड़ों के बारे में सोचती रहती थी.

”तो क्या हुआ? बस एक महीने की ही तो बात है। करके देखने में क्या अहित (हर्ज) है?”मधुर तुम भी पढ़ी लिखी होकर किन फजूल बातों में लगी रहती हो. अब मैं पहले से ज्यादा जोश में आ गया और जोर-जोर से चोदने लगा। वो आह … आह करके चुदवाती रही।मैं उसकी गांड भी मारना चाहता था लेकिन उसने बोला- मैं गांड नहीं मरवाती. आंटी की फूली हुई चूत को देख कर मन कर रहा था कि बस आंटी की चूत को नंगी करके अपने दांतों से काट ही लूं.

इतने में मेरी वाइफ दो गिलास ले आई और बोली- जानू, आज तो मेरा भी एक पैग बना दो … आज मैं अपनी माँ के साथ और पति के साथ मिल कर एंजाय करूँगी. आंटी गुस्सा होकर मुझे और चाची को गाली देने लगीं- साले मादरचोद, साली रंडी.

भोला भाई, तुम इसकी चूत को शांत करते रहो, तब तक मैं उसकी टाइट गांड में डालने की कोशिश करता हूं.

हम दोस्तों में एक आदत थी कि हम हुक्का पीने के बाद एक-दो घंटे के लिए सो जाते थे. न्यूड मॉडलमैंने करवट बदल ली- यार रहने दे!अब मेरी पीठ उसकी तरफ थी, उसका लंड जो खड़ा था, मेरे अंडरवीयर के ऊपर से ही मेरे दोनों चूतड़ों के बीच में रगड़ने लगा. सील तोड़ने का सेक्सी वीडियो” नीलम ने अपने ससुर से कहा और अपनी साड़ी को अपने जिस्म से अलग करती हुई उतारने लगी। नीलम कपड़े उतारते हुए अपने ससुर की तरफ नहीं देख रही थी क्योंकि उसे शर्म आ रही थी।नीलम ने साड़ी उतारने के बाद अपने ब्लाउज और पेटीकोट को भी खोल दिया। इधर अपनी बहू को सिर्फ एक छोटी सी पेंटी और ब्रा में देख कर महेश का बुरा हाल हो चला था. मैंने भी चयन से यही कहा- काश तू पहले मिल जाता, तो मेरे दो महीने में तीन बार का मुठ यूं ही बाहर नहीं निकलता.

करीब एक घंटे बाद सबके सो जाने के बाद मैं अपनी बीवी के पास सोने चला गया.

कहानी के पहले भाग में मैंने बताया था कि मैं अपने मामा के घर में अपनी दीदी और भाई के साथ मजे लेकर आई. नीलम ने कुछ देर बाद ही अपनी आँखें खोलते हुए अपने ससुर के होंठों से अपने होंठों को हटा दिया और ज़ोर से हाँफने लगी।आहहह पिताजी … आपने तो जान ही निकाल दी, लेकिन प्लीज आप इसे पूरा मेरी चूत में मत घुसाना वरना मैं मर जाऊँगी. मैंने नार्मल सी साड़ी पहनी और सती सावित्री सी महिला बन कर चुदाई के लिए जाने को रेडी हो गई.

फिर सोनम आंटी उठी और उसने मेरे लंड को हाथ से पकड़ते हुए अपनी चूत के मुंह पर लगाया और मेरे लंड पर बैठती चली गई. दोस्तो, हालत ये थी कि हम दोनों इतने गर्म थे कि अगर मैं उसके दूध ना चुसूँ, तो वो ख़ुद टपकने जैसे थे. वो पागलों के जैसे चिल्ला रही थी- आह राजेश … काट लो, चूस लो, मसल दो इनको अपने हाथों से … ये मुझे बहुत परेशान करते हैं … आह … राजेशशश … आह आह … उम्म उम्म …मैं धीरे धीरे चूमते हुए नीचे की तरफ बढ़ता गया और उसकी नाभि में अपनी जीभ डाल कर चूमने लगा.

जंगल की बीएफ मूवी

कुछ मिनट के धक्कों के बाद मैंने भाभी के साथ उनकी चूत में ही अपने वीर्य की बाँध को बहने के लिए छोड़ दिया. मैंने कहा- यशिमा कहां है?सारिका ने कहा- वो अपने किसी काम से ऑफिस गई है. मैंने संजना के घर जाने के बारे में सोचा ताकि उसके बेटे से भी मिल लूंगा और उसको थोड़ा सहारा भी मिल जाएगा.

उसने मुझे एयरपोर्ट पर ऐसे गले लगाया कि जैसे वो मेरी बिछड़ी हुई प्रेमिका हो.

लेकिन फिर अब जब हम दोनों के बीच में ये सब शुरू हो ही चुका था तो वो दिन भी कहां दूर था.

उसने कहा- जब मैंने पहली बार तुमको देखा था, उसी वक्त सोच लिया था कि इस सरदारनी की चूत तो मैं ही फाड़ूंगा. रास्ते की बरसात में सागर भी गीला हो चुका था और शिवानी के पास कोई भी लड़कों का कपड़ा नहीं था. मेहंदीपुर बालाजीअब उनकी स्पीड थोड़ी बढ़ी और मेरा प्रीकम उनके हाथ से रिस कर फर्श पे गिरने लगा। मेरा लंड गीला होकर और उनके हाथ में पड़कर खुद मुझे ही बड़ा लग रहा था।मैं उनका दूसरा हाथ अपने टट्टों पे ले गया तो उन्होंने हल्के से विरोध के बाद मेरे बड़े बड़े टट्टे पकड़ लिए.

पर भाभी की सुंदरता ने मेरे अंदर आग सी लगा दी थी।दोस्तो, जितनी आनंददायक चुदाई होती है उतना ही रोमांचक उसको हासिल करने का सफर भी होता है। प्रेयसी की छोटी से छोटी बात के मायने निकलना उसके इरादों को समझने की कोशिश करना, अपनी बात समझाने की कोशिश करना, इन सब में गांड फटी में रहती जब एक-एक कदम आगे बढ़ाते हैं कि कहीं बात बिगड़ न जाये और इज्जत का कचरा न हो जाये. सारिका के बैठते ही पंकज ने उसे किस किया तो सारिका बोली- क्या कर रहे हो?पंकज बोला- राहुल तो हमें कई बार ऐसे देख चुका है. वो उछल पड़ी और बोली- आउच … आराम से यार!वो बोली- इतनी भी क्या जल्दी है.

मैंने मजाक में स्मायरा से कहा- आपको मेरे साथ डर तो नहीं लग रहा?वो बोली- मुझे आप मत बोला करो. मेरी क्लास में 10-15 लड़कियां थीं, लेकिन मैं किसी से बात नहीं करता था, क्योंकि लड़कियों से बात करने में मेरी गांड फटती थी.

फिर उसने मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत के मुँह पर रखा और मुझे इशारा किया, तो मैंने जोर लगा कर धक्का दे दिया.

फिर मैंने एक हाथ से उसके गालों को पकड़ लिया और उसके होंठों से अपने होंठ चिपका दिये. चाचा को तो आने में देर थी … ये अभी कौन आ गया है?चाची- कौन है?बाहर से आवाज आने लगी- मैं परवीन और हिना आई हैं. उसके बाद मैं बाथरूम में गया और लंड को साफ करके फिर से बेड पर आकर लेट गया.

चूत को चोदते दिखाओ जब उसको चूसते हुए बहुत देर हो गई तो मैंने अपना लंड उसके मुंह से निकाला और उसकी चूत के पास ले गया और उसकी चूत को अपने लंड से सहलाने लगा।वो सिसकारते हुए तड़पने लगी. वो बोले- कमरे तो सारे फुल हैं लेकिन हम आपके लिए व्यवस्था कर देंगे लेकिन उसके लिए आपको अतिरिक्त चार्ज देना पड़ेगा.

हम दोनों ने एक दो डॉक्टर्स को भी दिखाया, लेकिन कोई फ़ायदा नहीं हुआ. जब उनका लंड मेरी चूत पर पटका खा रहा था तो चट-चट की आवाज हो रही थी और मेरी चूत की खुजली बढ़ती ही जा रही थी. परवीन- अब तूने किसको बुलाया है?मैंने हिना आंटी को डिल्डो लाने को इशारा किया.

सबसे मोटी औरत की सेक्सी बीएफ

मैं बोला- मेरी ऐंजल ने वो जो किया था, उसका ब्याज मिला कर वापस कर दिया है. मैं एकदम नंगा खड़ा था, जिससे मेरा खड़ा लंड उनकी तरफ मुँह करके खड़ा होके ऊपर नीचे सर हिलाने लगा. साली आंटी ने पहली बार में ही पूरा का पूरा लंड मुँह के अन्दर ले लिया.

मैंने उसकी गांड पर पैंट में तना लंड घिसाना शुरू कर दिया और उसकी गर्दन पर चूमते हुए उसे बांहों में जकड़ने लगा. मैंने तकिये के नीचे रखा कॉण्डोम निकाला और डॉली के हाथ दिया तो बोली- मैं नहीं चढ़ा पाऊंगी.

भाभी बोलीं- आज रुकना नहीं, जितना सब्र किया है, सारा पूरा कर लो, कोई कमी ना रह जाए, तुम्हें पूरी छूट है.

अभी तक आपने मेरी इस सेक्स कहानी में पढ़ा कि शिवानी के जाने पर उसने मुझे गर्म करना शुरू कर दिया और इस वक्त वो मेरी चूत में उंगली कर रही थी. ऐसा करते करीब 2 महीने बीत गए और फिर उसने मुझे एक आश्चर्यचकित कर देने वाली बात बताई कि वो मेरे बच्चे की माँ बनने वाली है।मैंने पूछा- कैसे?तो उसने बताया- जब अंतिम बार हमारे बीच में सेक्स हुआ था तो मैंने उसके बाद कोई दवा नहीं ली थी क्योंकि मुझे पहले से ही पता था कि मेरी शादी की बात कहीं और चल रही है और हमारी शादी सम्भव नहीं है. दीदी भी अपने पैर मेरी कमर के पीछे लॉक करके हर धक्के का आनंद ले रही थी। इसी पोजीशन में मैंने लगभग काफी देर तक दीदी को चोदा। हम दोनों पसीने से भीग गये थे।मेरे धक्के तेज हो गये और हम दोनों का शरीर अब अकड़ने लगा था.

इसी बीच मेरे बॉस ने मुझे अपनी तरफ खींचा और मुझे कसकर अपनी छाती से लगा लिया. अभी तक की मेरी बहन की इस सेक्स कहानी में आपने जाना कि मेरी दीदी मामा के घर रह रही थी. अभी तक की मेरी बहन की इस सेक्स कहानी में आपने जाना कि मेरी दीदी मामा के घर रह रही थी.

हिना- मुझे मारेगा तो नहीं ना?मैं- आप अपनी दोनों बहनों से पूछ लें कि मैं औरत का कितना ख्याल रखता हूं.

देहाती बीएफ जंगल की: कुछ दिन बाद मेरे बॉस ने मुझसे रात का खाना किसी होटल में करने के लिए पूछा, तो मैंने हाँ कर दी. फिर कई बार रात को सोते समय मैंने उसकी गांड पर अपने लंड को टच करवाया लेकिन वो फिर भी कुछ नहीं बोलती थी.

रंग का गोरा था लेकिन मुझसे थोड़ा कम। हमारी दोस्ती काफी समय पहले से थी लेकिन उस वक्त मैंने उस पर कभी ध्यान नहीं दिया था. मुझे इतना मजा आने लगा कि मैंने डिल्डो को किस करना छोड़ दिया और दीदी को ही किस करने लगी. करीब 20 मिनट तक चली इस घमासान चुदाई में मेरी गर्लफ्रेंड दो बार झड़ गई थी.

उन दिनों उनके बेटे की तबियत भी ठीक नहीं थी इसलिए वो भी नहीं जा रही थी.

बढ़ी हुई धड़कनों के साथ उसने पूछा- ये क्या कर रहे हो बेटा?आप थकी हुई हैं आंटी! आपको आराम मिले इसलिए ये कर रहा हूँ. मैंने उससे कहा- जब तुम सामान लेकर कपार्टमेंट में आयी थी ना, तभी ऐसा लग रहा था कि अभी खड़े खड़े ही तेरी चुत चोद दूँ … लेकिन किसी के साथ जबरदस्ती का सेक्स मुझे पसंद नहीं है. मैं उनके पूरे शरीर को सहला रहा था और उनके गालों को अच्छे से चूम रहा था.