सूअर वाला बीएफ

छवि स्रोत,विदेश के सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

आदिवासी पर शायरी: सूअर वाला बीएफ, चलो एक बार फिर से पहले जैसी अपनी टी-शर्ट सही करना!उसने टी-शर्ट ठीक करने की जगह इस बार एक मादक अंगड़ाई लेते हुए कहा- टी-शर्ट को क्या करना है?मैंने एक झटके से उसकी चुचियों को खा जाने वाली नजरों से देखते हुए कहा- कुछ नहीं शमा डार्लिंग … तुम्हारी चूचियां बहुत हॉट हैं.

सेक्सी बीएफ जयपुर

उन्होंने एक पल भी नहीं गंवाया और मेरा लंड सहलाकर उसको हल्के से चूमा. बीएफ पिक्चर सेक्सी चुदाई वीडियोफिर चाहे उसके पति के बिजनेस का बन्द होना हो या सफलता पर सफलता मिलने का अवसर हो.

उसकी आंखों से आंसू ऐसे बह रहे थे जैसे वास्तव में उसे कोई बहुत बड़ा सदमा लगा हो. त्याची सेक्सी बीएफमेरे बिना कहे तुम्हें मेरी ख्वाहिशों का पता चल जाता है … यू आर सो नाईस.

कुछ पल बाद डॉक्टर ने मुझसे पूछा- आप अपनी सेक्स लाइफ से खुश हैं?तो मैंने हां में सर हिला दिया.सूअर वाला बीएफ: मैं- बुआ आपने अपने सामने कैसे उन दोनों को सेक्स करने दिया? एक बार मना तो किया होता.

लेकिन फिर किसी दिन मेरी दूसरे नंबर वाली बेटी, जो कि पूरी जवान हो गयी थी … उसने मुझे शहज़ाद से चुदवाते हुए देख लिया था.वो फिर से पलट गई तो मैंने उसके मम्मों पर, उसके गालों पर उसकी बगलों में सभी जगह लिक्विड चॉकलेट लगा कर उसे नहला दिया.

ब्लू पिक्चर ब्लू ब्लू बीएफ - सूअर वाला बीएफ

अक्सर रात में वो मेरे रूम में आ जाती और अपनी चूत और गांड में लंड ले लेती.मेरा लंड एक बार फिर से खड़ा हो गया।मृणालिनी- बस अब और मत तड़पाओ, अंदर डाल दो इसे!मैं- क्या अंदर डाल दूं?मृणालिनी- आ…ह अपना लंड डाल दो।फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखकर एक जोर का झटका मारा.

उधर मेरा काम भी बढ़ने लगा।नवम्बर का महीना आ गया था और उसमें नीता के मामा की लड़की की शादी थी. सूअर वाला बीएफ वो मुझे पीछे से चोदने लगा और मेरा मजा और बढ़ गया।बीस मिनट तक चुदने के बाद मैं छूटने वाली थी.

सर ने चाची की चुत में लंड डालते हुए कहा- शबनम मादरचोद कुतिया तेरी चुत बड़ी मस्त है … इसमें लंड डालने में खूब मजा आता है.

सूअर वाला बीएफ?

हनीप्रीत के जाते ही जसविंदर ने मुझे फोन किया- आपकी लाइट आ रही हैं क्या?मेरे हाँ कहने पर बोली- पता नहीं मेरे यहाँ क्यों नहीं आ रही है? मुझे एमसीबी वगैरा की कोई समझ नहीं है और गर्मी के मारे मेरा बुरा हाल है, आप आ सकते हैं क्या?मैंने कहा- क्यों नहीं, मैं अभी आ रहा हूँ. क्या बला की खूबसूरत लग रही थी।मैंने उसे मिलने के लिए एक प्लान बनाया और लोलिशा को फोन किया मिलने के लिए।अगले दिन वो मुझे अपने घर से कुछ दूर एक खंडहर के वहां मिली।मैं- तुमने यह जगह क्यों बतायी मिलने के लिए?लोलिशा- वहां कई लड़के हैं जो पापा से पढ़ते हैं इसलिए वहां ठीक नहीं था मिलना। आप कभी हमारे घर क्यों नहीं आते?मैं- तुम्हारे घर मेरे पसंद की मिठाई नहीं मिलेगी. कुछ देर बाद मैंने उसे बेड पर सीधा लिटाया और अपना लंड उसकी चुत के मुँह पर रख दिया.

मैं रुक गया और लंड चुत से निकाल कर दोबारा से भाभी की चुत को चाटना शुरू कर दिया. उनके आते ही मैंने उन्हें गोद में उठा लिया और वैसे ही उनके होंठों को चूमने लगा. कुलदीप बाहर गया था और सोनिया भाभी को डॉक्टर को दिखाने जाना था क्योंकि उनका डॉक्टर से अपॉइंटमेंट था.

और तभी मेरी उत्तेजना इतनी बढ़ गयी कि मेरे पूरे शरीर में आनंद की लहर सी मारने लगी. मुझे बस स्टैंड लेकर गए और बोले- गोरी, मैं छोड़ ही आता तुझे लेकिन काम था. वो चीख पड़ी- आह मर गई … याल्ला आहहह आहहह धीमे चोद करमजले … आह मर गई साले.

उसमें लिखा हुआ था- सो गए क्या … क्या कर रहे हो?पहले कभी हमारी और कोई बात नहीं हुई थी … इसलिए मुझको इस तरह का मैसेज देख कर थोड़ा अजीब लगा. थोड़ी देर में मैं भी उनके घर की दीवार के पास चला गया और अन्दर झांकने की जुगाड़ करने लगा.

कुच्ची हंसते हुए बोला- अबे गड़दुल्ले दिन में कहां चुत मिलने वाली है, बात कुछ और है, तू चुपचाप चल बस.

उनके लंड से हल्का हल्का लेसला पानी भी बह रहा था जिसको मैं चाट रही थी।अपने पति के लंड में अधिक तनाव ना आता देख मैं मायूस हो रही थी.

जब चाची मेरी जांघों तक मालिश करतीं तो उनके बड़े बड़े दूध देखने से मेरा लंड चड्डी में खड़ा होने लगता था. लगभग 35-36 साल की उम्र, 5 फीट 4 इंच कद, गोरा रंग, तीखे नैन नक्श, 38 साइज की चूचियां और 42 इंची चूतड़. फिर उसके ऊपर लेट कर मैंने उसकी दोनों टांगें मोड़ दीं और किसी कुर्सी की तरह उसे उठा लिया.

विवेक अब लगभग उन दोनों के पास पहुंच गया था, पर वो दोनों उसे देख नहीं पा रहे थे. उन्होंने लोअर बिना अंडरवियर के पहना हुआ था जो लंड के उभार से साफ़ पता चल रहा था. मैंने अपने हाथ से उनका लंड निकाला और अपनी चूत पर रखकर बोली- प्लीज मामा जल्दी डालो … अहमद ने मुझे प्यासी छोड़ दिया.

फातिमा ने मेरी उंगली को अच्छी तरह से चूत पर फिरवाने के लिए अपनी जांघें खोल दीं.

करीब 15 मिनट के बाद गांड मारने के बाद उन्होंने लंड निकाला और खड़े हो गए. मां अपनी ब्रा पहनने लगीं तो मैं बोला- अब इसकी क्या जरूरत है मां … यहां हम दोनों के सिवाए और कौन है. बस अगर चूचियों को सही रगड़ा जाये तो चुदासी बहुत जल्दी हो जाती है वो।मैं सिसकारते हुए बोली- आह्ह … भाई प्लीज मेरी चूत चूस … आह्ह।वो बोला- जी दीदी।अब वो मेरी चूत को चाटने लगा.

अब उसकी स्पीड में थोड़ी सी कमी आ गयी थी और उसने धीरे धीरे करके अपनी सारी गर्मी मेरी चूत रूपी समुन्दर में छोड़ दिया. पर मैंने उनकी बात अनसुनी कर दी और नीचे की ओर खिसक कर उनके पैरों के बीच में आ गया और उनके पांव दायें बाएं फैला दिए और बहू की चूत के गीले होंठ चाटने लगा. झड़ कर शहज़ाद ने अपना सारा वीर्य रुबिका को पिला दिया और दोनों थक कर लेट गए.

मैंने कहा- साले दावत है या ऐसे ही शब्बो को चोदने के चक्कर में जा रहा है!कुच्ची हंस कर बोला- अबे लौड़ू चल बे … सच में उधर शादी की दावत भी है और जिसके घर शादी है, उसने मुझे बुलाया है.

दादाजी- उसमें क्या लिखा था बेटा … बताओ?मैं- दादाजी, उसमें लिखा था कि कल से मेरी मॉम को उनके घर पर जॉब करनी है … उन्हें इसके एवज में 20000 रूपए मिलेंगे … और हम सब उनके साथ उनके घर में ही रहेंगे. मैं उनके गले से लटक कर झूल गई और हम दोनों एक दूसरे को प्यार करने लगे.

सूअर वाला बीएफ साथ में उनकी चूचियों की घुंडी चुटकी में दबा कर हल्के दबाव से निचोड़ने लगा था. मैंने पूछा- क्यों … हंसी क्यों आ गई!वो बोली- ऐसी हॉटनैस का मतलब, जब तक कोई इसे पसंद ही न करे.

सूअर वाला बीएफ आज मैं इस प्यासी गरम औरत की सेक्स कहानी में आपको उन भाभी के बारे में आपको बता रहा हूँ कि कैसे मैंने पुलिस वाले की वाइफ के साथ सेक्स किया. तुम्हें मेरे गेस्ट हाउस के रूम में आना होगा और वहाँ कंपनी की यूनिफॉर्म वैगरह पहनकर मुझे दिखानी होगी, कुछ चाल ढाल, नाज नखरे दिखाने होंगे जिससे मुझे अंदाजा लग सके कि तुम मार्केटिंग आदि के लायक हो या नहीं?यह कहते हुए मैं फ़लक के बड़े बड़े मम्मों को ललचाई नजरों से देख रहा था.

इसके बाद उस बंदे ने पूरी रात मेरी चूत और गांड की अच्छे से बैंड बजायी.

बीएफ चुदाई वीडियो मूवी

मामी ने अपनी दो उंगलियों से अपने निप्पल के बाहर मम्मे को पकड़ा और और मेरे मुँह से खिंचवाते हुए निप्पल चुसवाने लगीं. अब शीला आंटी अक्सर ही मेरे घर आने लगीं और मम्मी भी उनके यहां जाने लगीं. मेरी बच्चेदानी में मुँह पर जेठ जी के लंड ने करीब 9-10 बार रह रह कर धार मारीं और वो मेरी छाती के ऊपर पसरते चले गए.

इससे भाभी जी और ज्यादा तड़पने लगीं- आरुष, तुम तो आज मुझे पागल ही कर दोगे … सच में मैं तुम्हारी फैन हो गयी हूँ. एक दिन रात को करीब आठ बजे कुच्ची मेरे पास आया और बोला- आज शब्बो से मिलने जाना है, तैयार रहना. मैं इस मौके को किसी भी वजह से गंवाना नहीं चाहता था, तो मैंने देर ना करते हुए अपने कपड़े उतारे और पूनम बुआ के ऊपर चढ़ गया.

रीमा को मीरा की बात समझ नहीं आई कि ये किस तरह से खुल कर लंड चुत बोल रही हैं.

अंकल अपनी उम्र का लिहाज ना करते हुए चोरी चोरी से मेरे दोनों दूध घूर कर देख रहे थे. तो तोमर साब का भूरे रंग का मोटा टोपा बाहर निकला आया।चाची तोमर साब का टोपा देख कर मुस्कुराई. अब आगे :चाची मेरी तरफ देखती हुई बोलीं- उठ बेटा केदार, कब तक सोता रहेगा?मैं- ओह चाची … मैं कल देर से सोया था और …चाची- और क्या!मैं- मुझे सपना आ रहा था चाची.

हम 69 की पोजीशन में आ गए; दोनों एक दूसरे के अंगों को चूसने चाटने लगे।वो तो लंड को लोलीपॉप के जैसे चूसने लगी और गपागप अंदर तक ले रही थी।उसकी चूत ने नमकीन पानी छोड़ दिया; अब उसकी चूत गीली हो गई थी।मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर सीधा लिटा दिया उसके ऊपर आ गया. वहां से मैंने खिड़की से चुपके से झांका तो देखा दरवाजे के की-होल से भाभी अन्दर हमारी चुदाई देख रही थीं. नवीन ने अपना लंड उसके मुँह से निकाला और दूसरी के सामने जाकर बोलने लगा- प्लीज़, तुम भी एक बार मेरा लंड चूस दोगी.

वो जब तक कुछ समझ पाती, मैंने पीछे से आकर उसकी चुत में लंड पेला और जोर जोर से चुत चोदने लगा. वो कुछ नहीं पापा … ऐसे ही कह दिया, चलो यहां से तो निकलें, ट्रेन का टाइम हो रहा है.

फिर वो नीचे की तरफ बढ़ा और मेरी नाभि में अपनी जीभ घुमा कर चाटने लगा. ये मॉम बेटा सेक्स सीन देख कर मेरा और मम्मी का दिमाग भी खराब हो चुका था. दस मिनट के बाद मामी झड़ गईं और मेरी छाती पर सर रखकर सांसें भरने लगीं.

अभय- ओके … पर क्या तुम जानती हो एक भाई बहन कभी दोस्त नहीं होते?ममता- अगर हम बन जाएं तो?अभय- ठीक है.

मैंने फिर से एक जोरदार और पूरे जोश के साथ प्रभा की बुर में धक्का दे मारा. उस वक्त मैं और मेरा एक कजिन इसी उम्र के थे, जबसे हमने मज़ा लेना शुरू किया था, तो आज इसमें कौन सी बड़ी बात है कि आज अफ़रोज़ मुठ मार रहा है. वो काम, पता नहीं आपको कैसा लगेगा?दादाजी- क्या किया तूने, बता?मैं- मैंने हमारी ग़रीबी दूर करने के लिए एक डील कर ली है.

मैं- सालू बेबी, तुम्हारे घर पर ताला क्यों है?सलोनी- बाबू मेरे घर पर आज कोई नहीं है. कुछ देर बाद वो लड़का राहुल उस लड़की हुर्रेम का मुँह पकड़ कर उसका मुँह चोदने लगा.

मैंने भी नीचे से दो चार धक्के दिए और ‘हाय मेरे भाई राजा …’ कहती हुई झड़ गयी. कुछ ही देर में मजा अपने चरम पर आने लगा और मम्मी बोलीं- राजा बेटा, अब मैं झड़ने वाली हूँ … पहले मुझे चोद कर मेरी प्यास बुझा दे साले मादरचोद. मैंने भी उसकी चाह समझ ली और अपने मुँह में उसके मुँह में भरा घूंट पी लिया.

वरना बीएफ

कई बार तो दिन में ही मौका मिलते ही हम दोनों चुदाई शुरू कर देते हैं.

मैं रोज सुबह 4 बजे उठकर निकल जाता था, उतनी सुबह ज्यादा लोग नहीं आते थे. मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]सेक्स विद सिस्टर इन लॉ की कहानी जारी रहेगी. जब मैं बाहर आई और ससुर जी की नज़र बूब्स पर पड़ी तो वो देखते ही रह गए।मैंने कहा- चलिए पापा जी!तब उनको होश आया और बोले- हाँ चलो।ससुर जी कार निकाल रहे थे तो मैंने कहा- पापाजी मार्केट में भीड़ ज़्यादा होगी तो कार में प्रॉब्लम होगी.

ममता एक आंख दबा कर उंगली और अंगूठे से गोल बना कर कह दिया- क्या बात है मां, आज तो बापू गए काम से. राजेश ने कहा- यार बात तो सही है, पर कोई शरीफ घर की औरत इसके लिए कहां से लाएंगे. मुस्लिम बीएफ दिखाओमैं मिहिका से बोला- तुमने तो गेट पर ताला लगा दिया … क्या सुबह तक यहीं रखोगी!मिहिका बोली- ना … घर की पिछली तरफ से दीवार कूदकर चले जाना, तनै पता है ना … गाम मे जो दूधिया दूध बेचते हैं वो सब 3-4 बजे दूध निकालने उठ ज्या हैं.

अफ़रोज़ एक हाथ में मोबाइल पकड़कर उसे पढ़ रहा था और दूसरे हाथ से अपने तने हुए लंड को पकड़कर मुठ मार रहा था. मुस्कुराते हुए हुर्रेम के गुलाबी होंठ देख कर मैं अपने आप पर काबू नहीं कर पा रहा था.

जब हम दोनों की सांसें थमी, तो मुझे होश आया कि दारू के नशे में अमित ने बिना कंडोम लगाए ही मुझे चोद दिया था. करीब दस मिनट बाद मैं झड़ने को आया और अपना सारा माल मैंने मौसी की चूत में ही छोड़ दिया. थोड़ी देर बाद मैंने उसका ब्लाउज खोल कर निकाल दिया और उसने मेरी शेरवानी हटा दी.

ये मेरी पहली सेक्स कहानी है तो कोई गलती हो सकती है … प्लीज़ गलती के लिए मुझे माफ़ कर दीजिएगा. उसकी मुस्कान देख कर मेरा डर तो खत्म हो गया था मगर अभी नीतू को अपने लौड़े के नीचे लाना था, वो कैसे हो पाएगा … मैं ये सोचने लगा. मैंने भी मामी जी के होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसना चालू कर दिया.

मैं लंड हिलाता हुआ बोला- तो जल्दी बुलाओ भाभी उस दुधारू को … मुझे आपको जल्दी चोदना है.

उस वक्त मेरे ऊपर वासना का भूत सवार हो रहा था, इस कारण मैं फिर से भाभी की चूत को मसलने लगा. काफ़ी देर तक धक्के मारने के बाद वो बोले- कहां निकालना है?मैंने कहा- मेरे मुंह में निकाल दो अंकल.

हम सभी कॉलेज में एक साथ पढ़ने वाले दोस्त थे और दो महीनों में ही अच्छे दोस्त बन गए थे. मेरी कामुक हरकतों का वो कोई विरोध नहीं कर रही थी जिसका मतलब साफ था कि वो भी कुछ करना चाह रही थी. मेरा एक हाथ दीदी की चूचियों पर चल रहा था और दूसरा हाथ उनकी चुत को टटोल रहा था.

पर तुझे तो …ये सुन कर मैं समझ गया और फट से बोल पड़ा- अरे हां मां, अगर आपको गर्मी लग रही है तो उतार दो न … और वैसे भी यहां मेरे और आपके सिवाय है ही कौन!मां ने अपना पेटीकोट उतार कर वहीं बाजू में रख दिया और मेरी तरफ पीठ करके सो गईं. मेरी दीदी कुछ सोचने लगी तो रमेश ने खुद आगे बढ़ कर दीदी के पजामे का नाड़ा खोल दिया. मेरा लंड मामी जी की चूत की ठुकाई करने के लिए सबसे अच्छी पोज़ीशन में था.

सूअर वाला बीएफ तब उसने मेरे बाल खींचे और बोला- कुतिया तेरी गांड में गद्दे लगे हैं … आह मज़ा आ रहा है. मैंने अब तक कई औरतों को चोदा है पर तेरी जैसी चुदासी लौंडिया पहली बार चोद रहा हूँ.

ब्लैक कॉम बीएफ

भाभी जी ने उनके लिए भी पैग बना दिए और वो तीनों भी ड्रिंक एन्जॉय करने लगे. मैंने अपनी मौसेरी बहन आभा से कहा- तुझसे सुंदर तो मेरी मौसी लग रही हैं. थोड़ी देर बाद मेरे लंड ने पानी छोड़ दिया और मुझे बहुत ज़्यादा मज़ा आया.

उसने अपने होंठ खोले और लन्ड को मुंह में लिया और दूसरे ही पल उसने लन्ड निकाल दिया और बेड पर थूक दिया. वो अपनी एड़ियों के बल उचकीं और खड़े होकर उन्होंने मुझे अपने होंठ सौंप दिए. dinesh बीएफमैंने उसको समझाया, तो वो यही बोल रही थी कि कोई मुझे प्यार नहीं करता, सब लोग मुझे इग्नोर करते हैं.

पर हल्का हल्का डर भी रही थी, पर डर से ज्यादा हवस थी।आज मेरे पास मौका था, जगह थी, जबर्दस्त इच्छा थी, और किस्मत से सेक्स करने के लिए लड़का भी था.

फिर अभय उठ कर अपने कमरे में चला गया, तो ममता ने अपनी मां के लिए लायी हुई ब्रा पैंटी का पैकेट देती हुई बोली. मां ने अपने दोनों हाथों को मेरी गांड पर रखे और मुझे जोर से धक्के मारने को बोलने लगीं.

उसके सीने पर एकदम नब्बे डिग्री में तने हुए दो बड़े संतरों से शानदार मम्मे, मेरे लंड को उठक बैठक लगवा रहे थे. उधर मंजू ने पैंटी भी ट्राई की, एक बार बार फिर से आईने के सामने ब्रा पैंटी में जाकर खड़ी हो गई. फिर मैंने भाभी जी को पेट के बल उल्टा लेटा दिया और बालों के नीचे उनकी नंगी पीठ पर किस करने लगा, चूमने चाटने लगा.

यामिना- आई … सर, ये तो अगले दिन से ही तड़प रही है, आप पता नहीं कहाँ बिजी हो गए?मुझे पानी निकाले काफी दिन हो गए थे.

आज तुम्हारा लण्ड लेने के बाद मुझे महसूस हो गया कि मेरी गोद अभी तक क्यों नहीं भरी. वो बोला- थोड़ी देर रुको तो!अब मेरी गोटी उसके आगे थी, तो वो बोला- अब आपकी पीछे से मारूंगा. चाची- क्या देखते हो?मैंने उनके मम्मों की तरफ देखते हुए उन्हें बताने की कोशिश की.

ब्लू पिक्चर इंग्लिश पिक्चर बीएफपर तुझे तो …ये सुन कर मैं समझ गया और फट से बोल पड़ा- अरे हां मां, अगर आपको गर्मी लग रही है तो उतार दो न … और वैसे भी यहां मेरे और आपके सिवाय है ही कौन!मां ने अपना पेटीकोट उतार कर वहीं बाजू में रख दिया और मेरी तरफ पीठ करके सो गईं. और फिर रोमिल ने नीचे तकिया लगाया और राशि दीदी की चूत में लन्ड घुसा कर गपागप गपागप अंदर बाहर करना चालू कर दिया।दीदी ‘आह उम्मह ओहहह … चोद मुझे … और चोद … मेरा भाई कितना मस्त चोदता है.

चुदाई बीएफ चुदाई चुदाई चुदाई

ऐसे ही मैंने पहले दो, फिर अपनी तीन उंगलियों को गांड के अन्दर डाल कर चलाया और मां की गांड का छेद थोड़ा खोल दिया. मेरी यह सेक्स कहानी शत प्रतिशत सच है … और सारी बातें एकदम सही लिखी गयी हैं. भाभी अब मुझे अपने एक मम्मे को मेरे मुँह में डाल दिया और चूची चुसवाने लगीं.

vipपर!!इस सेक्स स्टोरी को कॉमिक्स में देखने के लिएयहां क्लिक करें।. फिर आंटी बोलीं- क्या आज तू हमारे घर पर ही रुक जाएगा?मैंने कहा- हां आंटी मैं सब देख लूंगा. मैंने अपने बिस्तर के बगल की टेबल पर रखी बोतल को देखा, तो वह ख़ाली थी.

इस सबसे मैं गर्म तो हो जाता था, मगर अपनी माँ के साथ मैं कुछ भी करने से हिचक जाता था. मेरी गर्लफ्रेंड अपनी बहन के यार से भी चुदती थी तो मैंने उसकी बहन चोद दी. मगर सुन्दर ने मेरे मुंह में हाथ डाल दिया था इसलिए मेरी चीख नहीं निकल पायी.

अगले दिन मैं कारखाने से आते समय मां की रिपोर्ट ले आया, जिसमें लिखा था कि मां पेट से हैं. [emailprotected]सेक्स आइटम भाभी की कहानी का अगला भाग:पड़ोसन भाभी को उन्हीं के घर में चोदा- 2.

चाची बोलीं- वाह सोहेल, तू तो अपने अहमद चाचा से आगे निकला, इतनी देर तो तेरे चाचा चोद ही नहीं पाते हैं.

बुआ के चुचों में मर्दन के लिए कुछ नहीं था, पर खाली हाथों का चुदाई के समय और क्या काम था तो मैंने एक हाथ उनके बालों में और दूसरा उनके चुचों पर फेरना शुरू कर दिया. बीएफ सोनियाहरीश- अबे मादरचोद … तू यहां क्या कर रहा है … रुक अभी तेरी मां चोदता हूं. बीएफ सेक्सी वीडियो दीजिए तोतो मैंने अदिति को चलने का इशारा किया और मैंने भी अपना सामान समेट कर बैग में भर लिया. मेरा पूरा लौड़ा अन्दर तक जाने से शन्नो रंडी की तरह खुश हो रही थी और आहहहह आहहहहह करके अपनी गांड पटक रही थी.

मामी जी ने मस्त होकर अपनी टांगों को ऊपर उठा कर अपनी पेट की तरफ मोड़ लिया और अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर टिका दिया.

ये बात जब मुझे मालूम चली तो मैंने शहजाद से अपनी दूसरे नम्बर वाली बेटी की चुत की सील तोड़ने की कह दी. ये इसी कस्बे से हैं … मेरी इनसे फेसबुक पर दोस्ती हुई थी और आज ये हमसे मिलने आई हैं. लेकिन अब हम दोनों काम वासना के समंदर में गोते लगाने को तैयार हो गए थे.

बिंदु बोली- राजेश मुझे कोई आपत्ति नहीं है, तुम अरिश्का को चोदकर प्रेगनेन्ट कर दो. इससे शीना फिर से गर्म होनी शुरू हो गयी और अपने हाथों से अपने मम्में मसलने लगी. इशारा मिलते ही मैं धीरे धीरे पूरे लंड को चुत में अन्दर बाहर करने लगा.

बीएफ दीजिए सेक्सी में

गोविंद और तुम जिगरी दोस्त हो, हर चीज शेयर करते हो तो क्या अपनी पत्नियों को शेयर नहीं कर सकते हो. मेरी मम्मी की उम्र भी उस वक्त ख़ास ज्यादा नहीं थी, कम उम्र में शादी हो जाने के कारण वो सिर्फ 36 साल की ही थीं और उनका फिगर भी बहुत मेंटेन था. फिर मीरा ने अपना असली दांव खेलते हुए कहा- पहले तुम दोनों अपना ये खेल पूरा करो, वो भी मेरे सामने … ताकि मैं देखूं कि तुम लोग शादी के लायक हुए भी हो या नहीं.

दोस्तो, अब मैंने ठान ली कि शनिवार को मम्मी की अय्यासी जरूर देखूंगा.

उसने मेरे कमर में अपनी टांगें लपेट दी और मैं तेजी से अंदर-बाहर करना शुरु कर दिया।मैं उसकी भरी भरी चुचियां मसलने लगा.

मैं- बात तो आप बिल्कुल ठीक कह रही हैं, लेकिन भाभी आपको नहीं लगता है कि आप यदि शादी कर लेतीं … तो आपको लाइफ थोड़ी सुधर जाती, आस पास के लड़के आपको बुरी नजर से भी देखते हैं. मैं कुछ कहता कि अचानक से उसने पूछा- तेरी नजर में कोई लड़का है, जो एक औरत को खुश कर सके?तो मैंने तपाक से बोला- मैं तो हूँ भाई … नेकी और पूछ पूछ, मैं कब काम आऊंगा!उसने मुझे कहा- हां तेरा लंड तो मैंने देखा है … सही है चल तू ही आ जा. न्यू सेक्सी बीएफ इंडियनउसी समय उनका लड़का वीरू सिर्फ कच्छे में आ गया और चाची की चूचियां हाथ में लेकर मसलने लगा; फ़िर एक चूची को मुँह में भरकर चूसने लगा.

तभी मैंने उसकी पैन्टी नीचे खिसका कर अपनी तर्जनी उसकी बुर में डाल दी. उसने मुझे घुटनों के बल बैठने के लिए कहा और अपने खड़े लौड़े पर वोडका टपकाई और मैंने अमित का नशीला लंड चूस कर वोडका का मजा लिया. एक दिन शाम को चार बजे गीत ने 1000 बार प्लीज लिख कर मुझे मैसेज किया.

मेरा लंड अगर खड़ा नहीं है, तो बहुत छोटा दिखता है … करीब दो इंच का बस. तभी कुच्ची के पास शब्बो का फोन आया और उसने बताया कि हम दोनों छत पर हैं.

भगवान की भी अजीब माया है, उधर बिंदु भी गोविन्द से प्रेगनेन्ट हो गई थी.

मैंने मीतू के बाल को पकड़ कर लंड को उसके मुँह में गले तक अन्दर डाल दिया और उसके मुँह में ही स्खलित हो गया. तब उसने मेरे बाल खींचे और बोला- कुतिया तेरी गांड में गद्दे लगे हैं … आह मज़ा आ रहा है. अब ममता बोली- फिर क्या इरादा है? चोदना चाहोगे अपनी बहन की चूत को … तोड़ना चाहोगे अपनी बहन की चूत की सील को? अभी तक इसमें उंगली के अलावा कुछ नहीं गया.

जंगल के बीएफ पिक्चर लेकिन एक बार मूड बन जाने के बाद किसी की भी चुत बिना बुरी तरह चुदे ठंडी नहीं पड़ सकती थी. वो सिसकारने लगी- आह्ह … विशाल … ओह्ह … विशाल … आह्ह … स्स्स … जोर से … आह्ह … यस … आई लव यू … आह्ह।उसकी ये सिसकारियां सुनकर मैं उसके निप्पलों को काटने लगा था और वो अधिक ज्यादा कामुक होती जा रही थी.

चार दिन बाद बरखा घर आ गई और उसके करीब एक हफ्ते बाद चित्रा जयपुर वापस चली गई. लेकिन वो कहते हैं ना कि तलब हो जिस चीज़ की, उसे किए बिना शांति नहीं मिलती. भाई बहन सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक रात मैंने अपने छोटे भाई को मुठ मारते देखा तो मुझे लगा कि मैं भी अपने भाई से मजा ले सकती हूँ.

सपना बीएफ बीएफ

फिर जब मैंने आंखें खोलीं, तो पाया मां अपनी गांड को मेरी तरफ सो रही हैं. मैं उसी कॉलेज में पहले अध्यक्ष रहा था तो सब मुझे जानते थे और मैं थोड़ा दबंग किस्म का भी था तो सभी दाब भी खाते थे. मैंने मां से कहा- आज ज्यादा देर तक टिका रहा हूँ न मैं!मां ने बोला- हम्म्म, आज सालों बाद मुझे मजा आया.

उसने इशारा किया तो एक लड़का आकर मेरी नाईटी के सामने के बटन खोलने लगा. दोस्तो,कहानी के पिछले भागमौसी को भानजे का लंड पसंद आ गयामें अब तक आपने पढ़ा था कि मीरा ने निखिल और रीमा के साथ थ्रीसम सेक्स की प्लानिंग कर ली थी.

बरखा की चूचियां और होंठ चूसते हुए मैं अपने लण्ड से बरखा की बुर की आंतरिक मसाज कर रहा था.

वो मेरी लटकती चूचियों को मींजने लगा, जिससे मेरी गांड का दर्द कम हो गया. थोड़ी देर में मैं भी उनके घर की दीवार के पास चला गया और अन्दर झांकने की जुगाड़ करने लगा. हम रास्ते में आ रहे थे तो मैंने उनसे पूछा- भाभी, मैंने आपको सुबह फिर से उन तीनों लड़कों के साथ सेक्स करते हुए देखा था.

उसकी आंखें इतनी खूबसूरत थीं कि वो जिधर भी देख ले … समझो बिजली गिर जाए. बाहर आकर देखा तो रूपाली मौसी और उनकी जेठानी नीतू रसोई में काम कर रही थी. उस दिन उन्होंने बोला- आज आप बाहर काउंटर पर बैठो … क्योंकि वो बाहर वाली लड़की आज छुट्टी पर है.

नीले रंग की साड़ी, उस पर लाल ब्लाउज, खुले बाल, कानों में गोल्डन बाली, होंठों पर लाल लिपस्टिक … सुम्मी मानो कहर बरसा रही थी.

सूअर वाला बीएफ: ये लोग तो तीनों लंड एक ही छेद में डालने के चक्कर में थे, लेकिन तीन के खड़े होने की जगह ही नहीं थी, सो लंड घुसा ही नहीं. कुछ पल बाद हुर्रेम ने नवीन का लंड अपने मुँह में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी.

मैं लंड हिलाता हुआ बोला- तो जल्दी बुलाओ भाभी उस दुधारू को … मुझे आपको जल्दी चोदना है. मैंने झुक कर कृति का दाहिना हाथ जकड़ लिया और अपने होंठों से उसके होंठ लगा दिए. मामी जी ने मस्त होकर अपनी टांगों को ऊपर उठा कर अपनी पेट की तरफ मोड़ लिया और अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर टिका दिया.

मेरा लंड उसे कुतिया बना कर चोदने लगा।अब मैंने मालती को उठाया और सोफे पर ले गया।मैंने लंड खड़ा किया तो मालती उसपर चूत रखकर बैठ गई.

मैं थोड़ी देर रुका और उनके हटने का अंदाजा करके मैं फिर खिड़की के पास आ गया. कुछ देर बाद झड़ कर दीदी ने मुझे किस किया और बोलीं- अब बस … बाकी का शादी के बाद होटल में या फिर मेरी एक सहेली के साथ कर लेना. तो पुलिस की गाड़ी आ गई और एक सिपाही बोला- कहां से आ रहे हो?मैंने उसे बताया- कंपनी ऑफिस से!फिर वो बोला- तुम्हारा नाम क्या है?मैंने राज शर्मा बताया.