एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,मुस्लिम चूत

तस्वीर का शीर्षक ,

पावरफुल शायरी इन हिंदी: एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ, थोड़ी देर बाद मैंने उसको अपना लंड चूसने को बोला तो उसने मेरे पास आकर मेरे को बिस्तर पर धक्का देकर गिरा दिया और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

सेक्सी हिंदी वीडियो चुदाई

पप्पू तू पहला मर्द नहीं जो मेरा कसा जिस्म देख के मेरे पीछे पड़ा, पर पिछले कई सालों में तू वो पहला मर्द है जिसे मैंने पूरी लिफ्ट दी है. सेक्सी वीडियो दिखाने कामैंने उस का पूरा माल अपने हाथ में इकठ्ठा कर लिया, जिसे समीर पी गया.

इस के बाद तो जब मन हुआ, मौक़ा तलाशा और चुदाई का मजा लेना शुरू हो गया. ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ ಬಿಎಫ್जब तक मामा मामी की गांड मार रहे थे मैं उनकी चुचियों के मजे ले रहा था.

अब मेरी गांड फटने लगी कि कहीं ये अपने पति को मेरी शिकायत ना कर दें क्योंकि भाभी पहले से जानती थीं कि मैं उन को लाइन मारता हूँ.एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ: बात में दम था क्योंकि मैं नानी के घर काफी दिनों से नहीं गया था और अगर मैं कुछ दिनों बाद जाने का प्लान बनाता भी तो किसी को कोई आपत्ति भी नहीं होती.

कभी वह मेरे लंड पर आइसक्रीम लगाती और मेरा लंड चूसने और चाटने लगती, कभी मैं उसकी चूत पर दही डाल देता और चाटने लगता.कुछ ही मिनट में दीदी ढेर हो गईं, पर लगता था आज वो रुकने वाली नहीं थीं.

प्यारी लड़कियां - एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ

घर पर आने के बाद दीदी और माँ दोनों मेरे लंड की मालिश करतीं और चुम्मा लेतीं.पर अब चाचा कहां मानने वाले थे, उन्होंने नाड़ा खोल दिया और अपना हाथ मेरी पैंटी के ऊपर ले जाकर बिल्कुल चूत में रख दिया और जोर से दबाने लगे मुंह से मेरे सिसकी निकल गई.

मैं उसकी ओर देखने लगा, तभी उसने मेरे कान के पास आकर कहा- पिक्चर खत्म होने वाली है. एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ एक दिन मैं जाड़े का धूप सेंकने छत पर टहल रहा था, नीचे सभी औरतें आंगन में नहा रही थीं.

उसने काजल की गांड को बड़े प्यार से छुआ और उसकी पैंटी को भी नीचे सरका दिया.

एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ?

दोनों चुची को जम कर चूसने के बाद मैंने कविता को फिर होंठों से चूसना शुरू किया और फिर धीरे धीरे नीचे सरकते हुए नाभि तक जीभ से चाटा, वो तो इतनी गर्म हो गयी कि वो बार बार अपने होंठों को अपनी जीभ से चाट रही थी, कभी वो तकिये को अपनी मुट्ठी में कस के पकड़ती, तो कभी उफ्फ फफ्फ़ उफ फफ्फ़ आह… आआआ आआहह की आवाज़ करती. उसकी 34 इंच की उठी हुई गठीली चूचियां और उनके ऊपर काले-काले चूचक हल्का स्लोप लिए हुए पेट में गहरी नाभि, आज साली लाल पैंटी में गजब सुंदर लग रही थी. दोस्तो! मैं कलकत्ता में भैया के घर तीन महीने रहा और सैकड़ों बार भाभी को तरह तरह से चोदा। कभी बाथरूम में इकट्ठे नहाते हुए तो कभी किचन में ही पीछे से खड़ी खड़ी के डाल देता था। भैया आते रहते थे और एक आध हफ्ता रुक कर जाते रहते थे। मेरे कोलकत्ता से जाने के बाद पता चला कि भाभी ने एक बच्चे को जन्म दिया है और वे माँ बन गई हैं.

मैंने उन्हें अन्दर किया और उनकी आवभगत के लिए बीयर की बोतलें पेश की. मैं सोने की कोशिश कर रहा था लेकिन नींद तो मेरी आंखों से कोसों दूर थी. मगर आप दोनों यहाँ कैसे आ गए?अतुल- मेरे पापा बहुत बड़े बिजनेसमैन हैं.

जब मैंने अपना लंड उसकी चुत पर रखा तो वो तड़प उठी और बोली- भैया जल्दी करो. ये मैं अपनी तारीफ नहीं कर रहा हूँ, अक्सर सभी मेरे लिए ऐसा कहते हैं, इसलिए कहा है. मुझे एक डर ये भी था कि कहीं मैं झड़ न जाऊं लेकिन मेरे लंड ने मेरी और अपनी दोनों की ही लाज रख ली थी.

मैं रात में सोने गया तो उस रूम में डबलबेड के बाद कोई दूसरा बेड डालना मुश्किल था. मैं पूरी तन्मयता के साथ बहूरानी की जांगहें और चूत का त्रिभुज चूम चूम के चाटे जा रहा था और बहूरानी अपनी एड़ियाँ बेड पर रगड़ते हुए कामुक सिसकारियां निकाल रही थी.

थोड़ी देर दोनों नॉर्मल रहे फिर सुमन को पूछ कर गुलशन जी धीरे-धीरे लंड को हिलाने लगे.

मामी की चूत रेणु चाट रही थी, रेणु की बुर रितु, तो रितु की चुत पर अर्पणा ने हमला कर दिया था.

भाभी ने भी अब अपना एक हाथ से मेरी पेंट के ऊपर से ही मेरे लंड को पकड़ लिया. मन तो किया कि अभी उनकी गांड में लंड डाल दूं पर अब कुछ भी करना खतरे से खाली नहीं था. मेरी कहानी के पहले भागमेरी जयपुर वाली मौसी की ज़बरदस्त चुदाई-1में आपने पढ़ा कि मैं जयपुर घूमने के लिए अपनी मौसी के घर आया.

फिर सागर ने पूछा- अगला प्लान क्या है?मैं बोली- अगले हफ्ते में मीना के पति ऑफिस के काम से 3 दिन के लिए बाहर जा रहे हैं, तब मैं उसको बच्चों के साथ यहाँ बुलाने वाली हूँ. तब वो एकदम से गुस्सा हो गईं, मुझे बोलने लगीं- ये क्या कर रहे हो?मैं डर गया. मौसी मेरी उत्सुकता को समझते हुए ये पक्का करने उठीं कि सब सो गए हैं या नहीं.

आज का दिन मेरे लिए सच में बहुत अच्छा था, मेरे पास तीन तीन माल जैसी लड़कियां थीं.

फिर उसके कुछ मान-मनव्वल के बाद मैं लेस्बो के लिए मान गई और हम दोनों मेरे बेडरूम में आ गए. उसकी गांड का सुराख पूरी तरह से खुला हुआ था और उसके नीचे मेरा मोटा सख़्त लंड मेरी बेटी की चूत में जड़ तक फँसा हुआ था. अब मामी तेज रफ्तार के कारण उन दोनों की पकड़ से छूटने के लिए छटपटा रही थीं, पर दोनों किसी मंजे हुए खिलाड़ी की तरह हर बार पहले से ज्यादा मजबूत वार कर रहे थे.

मैं लंड की टोपी को अपनी बेटी के होंठों से लगाते हुए बोला- रेखा मेरी गुड़िया मेरी प्यारी सी बेटी. फिर मैंने उस को घोड़ी वाली पोज़िशन में कर दिया, वो भी ऐसे कि उसकी गांड खिड़की की तरफ थी. लगभग 15 मिनट की चुदाई के बाद जय ने अपना लंड निशा भाभी की गांड से निकाल कर भाभी की चूत में घुसा दिया और कुछ देर में झड़ गया.

तभी चाचा मुझसे बोले कि प्लीज आरती किसी से मत बताना!और रूम से भाग गये.

फिर मुझे शक लगने लगा कि शायद मेरा दोस्त जुनैद अच्छे से चोद नहीं पाता है. ये तो मैं जान गया था कि स्टार मूवी की ए श्रेणी की फिल्म देखने वाली साली अब हल्ला नहीं करेगी, पर अपनी गांड फटी हुई थी.

एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ मगर अनिता ने दिल से गुलशन को अपना लिया था, बस संजय ही बदले की भावना में अँधा हो गया था. आहिस्ता-आहिस्ता वो मेरे ऊपर आ गई और मैं उसके गले को किस करता हुआ उसके मम्मों पर आ गया.

एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ नहाने के बाद तेरे जीजू वैसे भी दोबारा तेरी चुदाई करेंगे, अभी उनका मन नहीं भरा है. पिछले महीने भी यही हुआ, उसके स्कूल में छुट्टियां हुई और सभी लड़कियाँ अपने अपने घर चली गई लेकिन वो अपने घर ना जा कर जयपुर के लिए निकल गई अपने बॉयफ्रेंड के साथ मौज मस्ती करने!जब वो बस से जयपुर जा रही थी तब भी उसकी चूत चुदाई के लिए मचल रही थी, पानी बहा रही थी, वो चाह रही थी कि उसकी चुदाई अभी शुरू हो जाए.

तभी जो चौथी लड़की जो मेरे लिये गेट खोलने गई थी, उसने भी अपनी मैक्सी उतार दी और वो भी नंगी हो गई.

बीएफ कुत्ता और लड़की के साथ

अब विनीता की झांटमुक्त चूत मेरे सामने थी जिसमें से अभी भी चूतामृत आ रहा था. मैं जल्दी से बाथरूम में गई, साड़ी उठाई, पैन्टी उतारी और चूत पर हाथ रखते ही मेरी उंगली चूत के अन्दर जा घुसी और चूत को शीशे में देखकर खूब रगड़ा. थोड़ा देर वेट करने के बाद जब भाभी नॉर्मल हो गईं, तब मैंने फिर से अपना काम चालू किया और भाभी की चूत में लंड के झटके मारने लगा.

अब तो मुझे अपने आपको रोकना बहुत ही मुश्किल हो गया था क्योंकि किसी भी आदमी का लंड जब कोई औरत अपने नरम और मुलायम होंठों से चूसती है तो कितना मजा आता है. मैं उसे नीचे लिटा कर उसके ऊपर आ गया और उसकी चुत को लंड से रगड़ने लगा. एक समय था जब लोग यौन सम्बन्ध, नग्नता, प्रेमालाप के दौरान किये जाने वाले आलिंगन चुम्बन सब कुछ एकांत में या छुप के किया करते थे लेकिन अब नयी पीढ़ी में ये सब कुछ बदल रहा है सभी लोग तो नहीं लेकिन कुछ लोग यह सब खुलेआम करने लगे है, शेयर करने लगे हैं जो कि मैंने ऊपर लिखा है.

अभी तक आपने पढ़ा कि रूपा को एक युवक बस में मिला, दोनों की आपस में सेटिंग हुई और रूपा उस युवक से चुद गई.

मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया। उसकी चूत से खून बाहर आने लगा। उसकी आँखों में आसू आ गए।मैं चाहता तो नहीं था. बाद में उसने बताया कि वो ग़लती से पहले ही उंगली से अपनी सील तोड़ चुकी थी. सासू माँ- और आसिफ कहो, शाहीन का मूड ठीक हुआ या नहीं?चाचाजी- हाँ भाभी, बस अब ठीक है.

वो सब जाने दो, देखो अब टीवी ऑन करो नहीं तो मैं आप से नहीं बोलूँगी और रूम में चली जाऊँगी अंकल. ”फिर अंकल ने मेरी चूत की दोनों फांकों पर होंठ रख दिए और मेरी कसी हुई चूत के होंठों को अपने होंठों से दबा कर बुरी तरह चूसने लगे. मैं बोलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह्ह… और डालो… आह… मेरी चूत फाड़ दो…वो पूरी जीभ मेरी चूत में डालती.

सुबह जब आँख खुली तो काम वाली लड़की चंदा, जिसके पास नीचे सीढ़ियों की एक चाबी होती थी, वह हर रोज़ की तरह कमरे में आ गई और उसने हम दोनों को बिल्कुल नंगे एक दूसरे की बाहों में देख लिया। वह हमें देख कर फ़ौरन बाहर निकल गई और किचन में काम करने लगी। परंतु जाते हुए कमरे से सारे बर्तन ले गई. उसके दोनों नंगे पैर एकदम सुडौल, केले के तने की तरह चिकने और नर्म लग रहे थे.

मुझे क्या ऐतराज हो सकता था, मैंने भी कह दिया- हाँ, जब तुम कहो, जहाँ कहोगे, मैं आ जाऊँगी, बस मुझे प्यार ऐसे ही करते रहना।उसके बाद हम आधी फिल्म बीच में ही छोड़ कर घर वापिस आ गए।मगर इससे पहले कि हमारा कोई प्रोग्राम बनता, उसके पापा का ट्रांसफर हो गया, वो मुझे छोड़ कर चला गया।मैं बहुत रोई, इसलिए नहीं कि मेरा बॉयफ्रेंड चला गया बल्कि इसलिए कि मेरे हाथ से चुदाई का मौका चला गया।कहानी जारी रहेगी. लेकिन तुम्हारे जैसे लड़के को मना भी नहीं कर सकती।मैं उठा और उसके पास जाकर बैठ गया. वो उठ खड़ी हुईं और चारों ओर नज़र मार कर उन्होंने ये देख लिया कि कोई आस-पास है तो नहीं… और फिर से बैठ गईं.

थोड़ी देर बाद संजय ने पूजा को बांहों में उठा लिया और बिस्तर पर ले गया- मेरी जान, बहुत दिनों से सोच रहा था कि तेरी गांड का छेद बहुत गुलाबी है, इसमें जब लंड जाएगा तो मुझे कितना आनन्द आएगा.

दीपक भैया इन हरकतों से अनजान तैरने में मशगूल रहे और रंजु उन पर पानी की थपेड़े मारती, हम दोनों को देख कर गंदे इशारे करते हुए हंसती रही. फिर एक एक करके सभी लड़कों ने अपना पानी हमारे अंदर भर दिया।अब जाकर हमें थोड़ा आराम मिला। हम दोनों वहां पे पड़ी कुर्सियों पे बैठकर आराम करने लगी. काफी दिनों से मेरे मन में भी था कि मैं भी अपने जीवन की सच्ची कहानी आप लोगों के सामने रखूं ताकि आप लोग भी इस कहानी का आनन्द ले सकें.

मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा, तो मैंने उसे चूसने को बोला और वो रजाई में घुस गई और लंड को मुँह में लेके चूसने लगी और एक हाथ से मेरी गोलियों के साथ खेलने लगी. वैसे भी मेरी चुत काफी गीली हो चुकी थी तो चाचाजी के लिए रास्ता काफी आसान था.

शीतल मेरे पास सरक कर आई और बोली- अभि क्या किसी लड़की को चाहते हो?मैंने कहा- नहीं. भैया राजी हो गए और मैंने उनकी पेन्ट उतारी, लंड पे तेल लगा कर मालिश करने लगी. थोड़ी देर बाद मैंने अपना हाथ उसकी चूत पर रख दिया और पजामी के ऊपर से ही उसकी चूत सहलाने लगा.

बीएफ सनी लियोन की चुदाई

कह कर वो चली गई।मैंने रोहित से फोन पे बात की, उसका हाल भी कुछ ऐसा ही था। मतलब दोनों बहनें इस बारे में क्लीयर नहीं थी.

मैंने अपनी लुंगी पैरों के दोनों तरफ़ को सरका दी और मेरा खड़ा लंड अब बिल्कुल साफ़ दिख रहा था. नेहा की चूत से उसकी जवानी का रस बह रहा था और उसकी चूत से निकल रहे रस से मनोज के टट्टे तक भीग गए थे. दोस्तो, मेरी कहानी के सत्रहवें भाग में आपने पढ़ा कि मैं, मेरी सगी बहन और चचेरी बहन, हम तीनों ने एक ऊंची पहाड़ी पर जाकर चुदाई की, मेरी चचेरी बहन ने पहली बार गांड मरवाई.

चाची- अरे बुद्धू, लड़की के पास सोने का मतलब है जब लड़का-लड़की एक-दूसरे को प्यार करते हैं और लड़का अपना नुन्नू लड़की की नुन्नू में डालता है या फिर इसे मुठ्ठी में पकड़ कर मुठ्ठ मारते हैं, तब वीर्य निकलता है, अब समझा?मैं बोला- चाची मुठ्ठ कैसे मारते हैं?चाची ने मेरा लंड अपनी मुठ्ठी में पकड़ लिया और आगे-पीछे करने लगीं. रात में करीब एक बजे नीलेश जीजू का फ़ोन आया उन्होंने मुझसे पूछा- क्या सब सो गए हैं?तो मैंने कहा- हाँ जीजू मम्मी पापा सो गए हैं. ट्रिपल सेक्स ब्लू पिक्चरलंड का अहसास होते ही रीना ने मेरा लंड छोड़ कर दोनों हाथ से अपना मुँह ढक लिया.

झड़ते झड़ते भी वो उस्मान का लंड चूसे जा रही थी और अमित उसे चोदे जा रहा था. पप्पू की बांहों से छूटने का नाटक करती हुई वो बोली- आप मुझे छूएं मत ऐसे अंकल.

कहानी का पिछला भाग :दशहरा मेले में दमदार देसी लंड के दीदार-1दोस्तो, मैं लव शर्मा अपनी सच्ची और मज़ेदार गे सेक्स कहानी का दूसरा भाग लेकर हाज़िर हूँ. फटे ब्लाउज़ में बिना ब्रा के सीने को गंदी साड़ी में लपेट कर, साड़ी बिना पेटीकोट के, पैंटी पर बाँध कर वो घर आई. अब मेरी भानजी मेरी मदद कर रही थी मेरी सगी बेटी की चूत मुझे दिलवाने में!आप पढ़ें:मैं और मेरी भानजी मेरी बेटी के स्कूल में गए और उसके प्रिन्सिपल से मिल कर कोई बहान बना कर उस की छुटटी ले ली.

मैं अपने रूम में आ गया और नहाने जाने के लिए अपने कपड़े कलेक्ट करने लगा. अब हम तीनों सुकून से अपने कपड़े पहन कर चाय की चुस्की ले रहे थे कि इतने में मामा जी थकी सी सूरत लेकर आ गए. उस दिन दोनों का जवान पानी में भीगा जिस्म देखकर मेरा लंड पानी में खड़ा होने लगा और मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं.

खैर रास्ते में हनुमान मंदिर से उसने प्रसाद लेकर बहन को दे दिया और कह दिया कि पूजा भी की और शिवलिंग का दर्शन भी किया.

जो हुआ उसमें तुम्हारी कोई ग़लती नहीं, वो भगवान की मर्ज़ी थी कि आगे का जीवन मैं तुम्हारे साथ बिताऊं. क्या आप मुझसे शादी करोगी?तो मम्मी बोलीं- ये कैसे हो सकता है?ससुर बोले- क्यों नहीं हो सकता? मैं भी अकेला हूँ.

तुम ऐसे क्यों बोल रही हो?सुमन ने शुरू से आख़िर तक की सारी बात टीना को बता दी, जिसे सुनकर उसके होश उड़ गए. मैंने काफी देर उस के चूतड़ों को सहलाया, उन पर किस किया और फिर चूस, काट कर आठ दस जगह नीले निशान बना दिए. मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से तुम सारी जिन्दगीजवानी का मजाना ले पाओ.

या मैं कौन हूँ और मेरा नाम क्या है? आप सिर्फ़ इतना ही जानिए कि आपको मैंने अपने मज़े के लिए बुलाया है और इसके लिए आप मेरे से फीस लेंगे. फिर मैंने कविता की ब्रा के हुक को खोलना चाहा लेकिन उसकी ब्रा का हुक पीछे था, मैंने उसे उठाया और उसके होंठों पर होंठ रखते हुए उसकी पीठ पर दोनों हाथ लेजा कर उसकी ब्रा का हुक खोला. कुछ ही देर में जीजू का भी पानी निकल गया और हम दोनों थक कर बिस्तर पर ही लेट गए.

एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ सुमन- ठीक है पापा आज से आप मेरे पति भी हैं तो आपकी बात मानना ही पड़ेगा. फिर उसने मुझे एकदम दीवार से लगाया और मुझे बुरी तरह से किस करने लगा.

हरियाणा का सेक्सी वीडियो बीएफ

मैंने थोड़ा इंतजार किया, जब पानी गिरने की आवाज आई तो मैं बैठे-बैठे पंजों पर सरकते हुए दीवार की ओट से देखने लगा. मैंने उसकी ब्रा दोनों बाजुओ से निकाल दी और उसकी दोनों चुची को अपने दोनों हाथों से दबाने लगा. कभी वह मेरे लंड पर आइसक्रीम लगाती और मेरा लंड चूसने और चाटने लगती, कभी मैं उसकी चूत पर दही डाल देता और चाटने लगता.

मगर मेरे मन में ये भावना बहुत भीतर तक घर गई थी कि मैं अपना पहला सेक्स किसी शादीशुदा औरत के साथ ही करूंगा, तभी मजा आएगा. लेकिन किस्मत मेहरबान तो गधा पहलवान, उसी वक़्त मामी का भी काम तमाम हो गया. सेक्सी बीपी पाठवाउसका प्यार पाने के लिए मुझे हर जन्म में गाण्डू भी बनना पड़ता तो मैं बनने के लिए तैयार था.

जब मैं उनको पीछे से चोद रहा था तब उनकी भारी गांड देख कर मैंने उसी वक्त सोच लिया था कि उनकी गांड ज़रूर मारूंगा.

लेकिन अर्चना को दर्द नहीं हुआ तो मैंने पूछा- दर्द क्यों नहीं हुआ?तो उसने मुस्कुराते हुए कहा- मेरी चूत की झिल्ली फाड़ चुके हो भाई, अब दर्द नहीं होगा. काजल, क्या तुमने कभी इसके पहले सेक्स किया है या किसी से चूत को चटवाया है?काजल- नहीं भैया.

मैं कुछ बहाना बना कर अपने रूम में चली आई और आँखें बंद करके अपने आपको शान्त करने लगी. यह थी मेरी रियल सेक्स स्टोरी जो कि बिल्कुल सत्य है, इसमें एक भी शब्द बनावटी नहीं है. रूपा ने जब 1-2 बार मुड़ के ज़रा नाराज़गी से उसे देखा तो उसने सोचा कि मैं जानबूझ के कुछ नहीं कर रहा तो भी ये औरत मुझ पे क्यों बिगड़ रही है? वो उस औरत को पीछे से देखने लगा.

मैं सेक्स स्टोरी पढ़ते हुए कामोत्तेजित हो गई और अपने एक हाथ को चुत पर ले जाकर चुत सहलाने लगी, अपने हाथ को शलवार के अन्दर डाल कर चुत सहलाते हुए दाने को मसलने लगी.

फिर मैंने अपने दोनों हाथों से मॉम को पकड़ लिया और मेरे हाथ अपनी मॉम के मम्मों पर जम गए थे. थोड़ा दबाव देने पर लिंग का ऊपरी हिस्सा उसकी योनि में प्रवेश कर गया और उसके नाखून मेरी पीठ में गड़ गए. लेकिन तुम्हारे जैसे लड़के को मना भी नहीं कर सकती।मैं उठा और उसके पास जाकर बैठ गया.

बीपी वीडियो एक्स एक्स एक्समैं उठ कर बैठ गया तो मेरी नजर चादर पर पड़ी, जिसमें मेरे वीर्य के धब्बे थे. मैंने एक हाथ से उसकी मज़बूत भुजाओं को कस कर पकड़ रखा था और मेरे दूसरे हाथ की उंगलियां उस के कसरती पीठ पर बने उभार और गड्डों पर लगातार चल रही थीं.

सेक्सी बीएफ हिंदी में राजस्थानी

एक बार यदि ये खड़ा हो जाए तो इसे सम्भालना मुश्किल हो जाता है, इसलिए मैं वहाँ से चला आया. नीता ने भी रिमोट नहीं छोड़ा तो पप्पू रिमोट लेने के बहाने नीता का जिस्म अपनी बांहों में ले कर दबाने लगा. करीब 1 घंटा रुकने के बाद हम निकल ही रहे थे कि चाचाजी ने इरफान से कार चलाने को कहा और चाची से पूछा कि तुम पीछे आ रही हो कि यहीं बैठोगी.

तो नेहा सोनिया को बोली- साली, तू बड़ी आज हम जीजा साली से जल रही है, आजा तू भी दखल दे ले इधर. तभी मामी ने बोला- तू दुकान में ब्रा के बारे में क्यों कुछ नहीं बोला?मैं कुछ नहीं बोला. रागिनी की चुत की दुबार चुदाई के साथ ही मुझे अब उसकी गांड का छेद भी मस्त लग रहा था.

मैंने इसके लिए बहुत अच्छा प्लान बनाया है, किसी को पता भी नहीं लगेगा और तू इसको अच्छी तरह चोद भी देगा. इस कहानी का पिछला भाग :उसका पति उसकी चुत चोदन में नाकाबिल था-1आपने अब तक चुत चुदाई की कहानी में जाना था कि मुझसे एकदम अनजान एक मस्त माल शीला मेरे घर आकर मुझसे जबरदस्त और खुल कर चुदी. मैंने कहा- क्या?वो बोली- जानू, आई डोंट वांट टू बी गेट फक्ड!मैंने पूछा- क्यों?वो बोली- आज मैं इस जंगल में खुले में चुदना चाहती हूँ.

सुमन भाभी के पति रमेश भैया एक बैंक में ब्रांच मैनेजर थे, उनके ससुर एक आयुर्वेद के डॉक्टर थे और उनकी सासू माँ एक प्राइवेट स्कूल में टीचर थीं. वो बोले- मैं जानता हूँ कि मैं तुम्हें पूरा मजा नहीं दे सकता क्योंकि मेरा लंड तो किसी छोटे लड़के की तरह है.

इसका मतलब था कि उसकी माँ जिसे वो एक अच्छी औरत मानती थी वो तो कई मर्दों से अपना जिस्म मसलवा चुकी थी और उसने कितने ही लंड भी चूसे थे.

अंजलि का मोबाइल नम्बर भी मेरी बीवी के पास था तो मुझे उसका नम्बर पाने में कोई परेशानी नहीं हुई. पोर्न मूवी पोर्न मूवीमैंने आंटी का सामने से खुलने वाले गाउन के बटन खोल कर एक बूब बाहर निकाला और बेबी के मुँह में लगा दिया, लेकिन बेबी बहुत छोटी थी और आंटी के बूब बहुत भारी थे. सेक्सी टीचरमैं सोने का नाटक कर रही थी, मुझे चुत में उंगली करवाना बहुत अच्छा लग रहा था. हम बहुत सारी बातें करेंगे और तुम मुझे कम्प्यूटर के बारे में थोड़ी जानकारी दे देना.

मैंने उसके बालों को कस कर पकड़ लिया था और ज़बरदस्ती अपने लंड को उसके गले तक पहुँचा दिया, जिसके कारण उसको साँस लेने में दिक्कत हो रही थी.

तो उसने मेरा लंड मुंह में ले कर चूसना शुरू कर दिया।हाय… मैं तो मानो सातवें आसमान पर था। मेरी सिसकारियां निकलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चूस यार कनिका… मजा आ रहा है. ”भभी मेरा लंड पूरा अंदर तक जा रहा है ना?”हां राहुल… पूरा अंदर है! बस तुम मुझे चोदते जाओ!”कोई दस मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था और इस बीच भाभी भी एक झड़ चुकी थीं. और उन्होंने धमकी दी कि मादरचोद यदि हमारा बेड खराब हुआ हो तुम्हारी खैर नहीं.

जैसे ही लंड खड़ा हुआ तो उसने मैंने उसे बिस्तर पे लेटने को कहा और उसकी दोनों टांगों को ऊँचा कर दिया और नीचे तकिया रख कर उसकी गांड को बाहर को निकाल दिया. मैंने देर ना करते हुए ज़ोर का झटका मारा और अपने लंड को एक बार में पूरा अन्दर पेल दिया. वो रात में मेरे घर आई और बोली कि आज मैं रात में यहाँ पर ही रुकना चाहती हूँ.

सेक्सी बीएफ वीडियो फिल्म हिंदी में

मैं बोला- स्टाफ में वॉड ब्वॉय तो हैं, कोई जरूरत होगी तो आप उससे बोल देना, वो मुझे बुला लेगा. अगर आप भी लड़की को पसंद करते हो और जब उसने आपका हाथ पहली बार पकड़ा होगा, तो आपको भी बहुत मस्त लगा होगा, आपको समझ आ गया होगा कि मैंने उस समय कैसा महसूस किया होगा. आगे बढ़ कर मामी ने उसकी समीज के नीचे से हाथ ले जाकर उसकी चूचियाँ दाबना शुरू कर दीं.

लेकिन आज मैं खुश भी बहुत था क्योंकि मेरी बहन जैसी सेक्सी लड़की किसी तो आसानी से नहीं मिलती.

कोई मेरी बीवी के अध् नंगे बदन को देख रहा है, यह अहसाह मुझे था और मुझे बहुत उत्तेजित कर रहा था.

उसने पोर्न मूवीज देख रखा था और उसको पता था कि इसके आगे क्या करना होता है. दोस्तो, अब ये सब भी बहुत उत्तेज़ित हो गए थे और इनके लंड अब लोहे की तरह सख़्त हो गए थे. सरिता भाभी की सेक्सी वीडियोलड़के ने धीरे से अपने दूसरे हाथ से लौंडिया की पैंटी को नीचे कर दिया.

मैं खाना बना कर आठ बजे तक फ्री हो गयी और मामा जी की आने का इंतजार करने लगी. बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप के बाद से मैं एक बार भी नहीं चुदी थी तो मेरा बदन चुदाई के लिए तड़प रहा था. फिर मैंने उससे माफ़ी मांगी और हम फिर से कमरे में आ गए।तब तक सब अपने कमरों में जा चुके थे। फिर कमरे में आते ही मैं उसे नॉनवेज जोक्स सुनाने लगा। थोड़ी देर में वो मेरी बातों से गर्म हो गई और तेज तेज साँसें लेने लगी।मैं समझ गया कि मेरी बहन अब गर्म हो गई है.

उसे पता था कि एक बार औरत के अन्दर की अन्तर्वासना जाग जाए, तो वो अपनी आग शांत करने के लिए बाजार में नंगी होकर भी भी चुदवा सकती है. उधर से आप भी मेरे पास चले आ रहे थे बिना कपड़ों के…” बहूरानी ने अपनी बात बताई.

मैंने विनीता की चूत की फाँक को चौड़ा कर उसमें अपने लंड का सुपाड़ा फँसाया और विनीता के जिस्म पर आ गया और उसके होठों को हल्के से चूमा और उसके कानों में फुसफुसाया- पेल दूँ डार्लिंग, लूट लूँ तेरी इज्जत?साली क्या बोलती.

रूपा की 5 फीट 4 इंच की लंबाई पे 36-28-36 का जिस्म बहुत अच्छा दिखता था. बहुत सारा थूक लगा कर दीपक ने रीना की गांड में लंड पेल दिया, जो धीरे धीरे सरकते हुए पूरा गांड में समां गया. मैं बरेली की रहने वाली हूँ, मैं 37 वर्ष की हूँ और मेरे पति फौज में हैं जिसके कारण मैं सेक्स से परेशान रहती हूँ। मेरा फिगर 36 34 38 है मेरे घर पर मेरी बेटी 18 वर्ष की, ननद 26 वर्ष की और सास 59 वर्ष की है।बात 8 साल पहले की है जब मेरी सास की उम्र 51 साल थी और फिगर 36सी 34 38 है और मेरा 34बी 32 38 है। मैं 29 साल की थी। हम दोनों दिखने में बहुत ही सेक्सी हैं.

सेक्स में सेक्स खैर, मेरा प्रश्न यह था कि मैं कैसे किसी विवाहित औरत एक कुंवारे लड़के का यानि मेरा कौमार्य भंग करने के लिए मनाऊं?मैंने ये प्रश्न अन्तर्वासना पर लिखा था. फोन पे हुई रूपा की बात सुन के पप्पू खुश हुआ और रूपा को झुका के उसके मम्मे बारी बारी से चूमते हुए पप्पू बोला- ये अच्छा किया तूने कि सहेली से कहा कि तुझे देर होने वाली है.

उसने टॉप और जींस पहना थाज जिसमे वो सेक्सी लग तही थी, उसके चूतड़ पूरे उठे हुए नजर आ रहे थे, मेरा लंड उसके चूतड़ देख कर खडा हो गया. संजय ने पूजा की गांड के छेद पर अच्छे से थूक लगाया, फिर अपनी एक उंगली उसमें घुसेड़ने लग गया, वो वाकयी बहुत टाइट गांड थी… मगर धीरे-धीरे उसने उंगली अन्दर घुसा ही दी. फ्लॉरा ने दोनों हाथों से लंड को पकड़ा और जोर जोर से उसको चूसने लगी.

हिंदी में बीएफ वीडियो हिंदी में

मैं अपने कजिन्स और शीतल दीदी के साथ मिल कर रोज कैरम और ताश के पत्ते खेलता था. पहली बार पूर्णतया: विकसित चुचियों का आभास पाकर मेरा लंड तो अपना होश खो चुका था. मैंने भी धीरे से मामी के कान में कहा कि मामी मेरी बुर में कुछ झुरझुरी सी हो रही है.

वो और मेरी बहन एक कमरे में रहती हैं और मैं उन के साइड वाले कमरे में. रात में करीब एक बजे नीलेश जीजू का फ़ोन आया उन्होंने मुझसे पूछा- क्या सब सो गए हैं?तो मैंने कहा- हाँ जीजू मम्मी पापा सो गए हैं.

मुझे उम्मीद है आप सभी लोगों को कहानी बहुत पसंद आई होगी और आप सभी दोस्त मेरा हौसला बढ़ाते रहेंगे.

मैं तैयार हो गया और अगले ही सप्ताह जा कर एक शुरूआती डील पक्की कर ली और इसी बहाने उसका भरपूर चक्षुचोदन किया लेकिन मेरा टॉरगेट तो असली चोदन कार्य करना था लेकिन विनीता जैसी अकड़ू महिला को चुदाई के लिए तैयार करना एक चुनौती भरा कार्य था और ये काम थोड़ा धैर्य वाला था. एक घण्टा पहले ही तुम्हारी बातें सुनी, तो सारा माजरा समझ गया और भागता हुआ यहाँ आया. रात के 11 बजे मम्मी बोलीं- माया, भाई की दवाई ला दो, हॉल में अलमारी में रखी है.

मैं सच में नहीं जानती थी कि औरत की चुत से भी जूस निकलता है क्योंकि आज तक मेरी चुत का जूस कभी निकला ही नहीं था. फिर हम 69 की पोजीशन में आ गए, मैं उसकी चुत और वो मेरा लंड चूसने लगी. रिजवाना मेरे सामने ही बैठी थी और मैंने अपना पैर उसके पैर से लगा दिया.

मैंने नेहा के चूचों को जोर से पकड़ा हुआ था और नेहा की चूत मनोज के सामने फूली हुई थी.

एक्स एक्स एक्स मूवी वीडियो बीएफ: पर इस बार दूध बहुत ही कम निकला, पर चूचियां चूसने का भी तो अपना ही मजा है. मैं चिल्लाई और बेड से उतर कर भागने की कोशिश की, पर उस आदमी ने मुझे पकड़ लिया.

मैंने मामी की चुत पर उंगली फेरी तो मामी मुझे गाली देने लगीं- मादरचोद, इतना बड़ा लंड तू अपनी मामी को क्यों नहीं दे रहा है. अब मैंने उसकी पिंडलियों पे हाथ रख के उसकी नाइटी को ऊपर सरकाना शुरु किया क्योंकि आज की फेंटेसी सेक्स की नहीं बल्कि किसी अज़नबी को नग्नता दिखाने की थी. मैंने फिर से प्रयास किया तो उसने मेरा हाथ वहीं पकड़ लिया और छोड़ा ही नहीं.

जब भी उनके घर जाता तो उनके बड़े मम्मों को घूरता रहता और उनकी मोटी गांड के नजारे भी देखता था.

उसकी ज़िद देखकर रवि बोला- ठीक है, तुम लोग चलो, मैं आता हूँ थोड़ी देर में…वापस आकर रवि ने कहा- तू मुझे लंगोट में देखना चाहता था ना… ले तेरी ये ख्वाहिश भी आज पूरी कर ही देता हूँ… चल उठ हम अखाड़़े में जा रहे हैं।मुझे पता था वो तीन बार चुदाई के बाद थका हुआ है लेकिन फिर भी केवल मेरी खातिर अखाड़े में जा रहा है. मैंने उसे 69 की पोजीशन में लिया और थोड़ी देर बाद सीधा करके, उस की टांगों को कंधे पर रख कर चोदने लगा. मैं विजय के आंड मुँह में भरकर चूसती तो उसकी ‘आह्ह आह्ह…’ सुनकर मुझे भी अच्छा लगता.