इंडियन लड़की के बीएफ

छवि स्रोत,एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स हिंदी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

छूट की सेक्सी: इंडियन लड़की के बीएफ, मैं तेल की शीशी अलमारी से निकाल कर दोनों हाथों से उसके चूतड़ों पर तेल मलने लगा.

ससुर ने बहु को चोदा सेक्सी वीडियो

मैंने वसुन्धरा की आँखों में झांकते हुए उसको अपने अंक में दोबारा कस लिया और उस होठों का एक नाज़ुक सी छुवन वाला चुम्बन लिया. क्सक्सक्स moviesउसके बाद मैं अपना हाथ उनके ब्लाउज में डालने की कोशिश करने लगा, पर ब्लाउज के बटन बंद होने के कारण मेरा हाथ अन्दर नहीं जा पा रहा था.

वो अब नितिन से विनती करने लगी- अब अपना लंड निकाल लो, अन्दर जलन मच रही है. जीजा साली की ब्लू पिक्चरमैंने माँ को मैंने जगा कर उनसे पूछने की कोशिश की, मगर माँ गहरी नींद में सोई हुई थीं, तो माँ जागी ही नहीं.

स्कूल पहुंच कर मेरे और नम्रता के बीच एक-बार फिर हाय हैलो हुई और फिर उस दो घंटे का मैं इंतजार करने लगा, जिसमे नम्रता मुझे आगे की कहानी सुनाने वाली थी.इंडियन लड़की के बीएफ: मैं रूम में अकेला था, तो पजामे के ऊपर से ही थोड़ा लंड सहलाते हुए मुठ मार रहा था कि तभी भाभी की आवाज आई- मोहित इधर आना तो.

अगर किसी को ना पता हो तो मैं बता दूं कि वह हिस्सा क्लिट होता है … और वह औरतों का सबसे सम्वेदनशील यानि सेंसिटिव हिस्सा होता है.एक क्षण को तो पूरा आलम एक अत्यंत चमकदार रोशनी में नहा गया लेकिन इस के साथ ही लाइट चली गयी घड़ … घड़.

ગુજરાતી સેક્સ ગુજરાતી સેક્સ - इंडियन लड़की के बीएफ

मैंने भी नीचे झुक कर पहले उसकी चुत को 2-3 बड़ी बड़ी चुम्मी की और अपनी जीभ उसकी रसीली चुत में डाल कर उसकी चुत के पानी को चाट लिया.घर पहुंच कर मैंने रंजना के साथ हुए पहले संभोग के बारे में सोच कर फिर से मुट्ठ मारी.

बस एक बार फिर जीभ ने जल्दबाजी कर दी और बिना इजाजत लिए उस छेद के अन्दर प्रवेश कर गया और अपना काम करना शुरू कर दिया. इंडियन लड़की के बीएफ मैंने पूछा- क्यों किसी कपल की चुदाई सीन देख लिया था?पति- नहीं यार, लेकिन एक-दो लोगों को देखा, जो मौका पाते ही एक दूसरे के सामानों के साथ खेल रहे थे, मुझे तुम्हारी याद बहुत आ रही थी.

जब मैं आगे की तरफ नहीं हो पाया तो वो पलट कर सीधी हो गई और मैं उसके ऊपर आ गया.

इंडियन लड़की के बीएफ?

मैं भी इधर-उधर देख कर यह सुनिश्चित करने के बाद कि कोई मुझे देख तो नहीं रहा है, मैं भी खेत में उसी के रास्ते पीछे-पीछे अंदर चला गया. मैं उसे छेड़ते हुए बोला- तुमने तो प्रॉमिस किया था कि तुम मूत भी पिओगी. जब मेरे पति को इस बारे में पता चलेगा तो पता नहीं वो मेरे साथ में क्या करेंगे.

वो बोली- मैं भी बहुत दिन से बाहर नहीं गयी हूँ और कुछ समय मैं तुम्हारे साथ अकेले बिताना चाहती हूँ. तभी शीना भी संजना का साथ देने के लिए मेरा लंड अपने मुँह में लेने के लिए आगे आ गई. इस पर खुशी ने कहा- नहीं यार वो भी अच्छे होते हैं, उन पर भी भरोसा किया जा सकता है.

फिर क्यों यार मैं यहां आया?मैंने 5 मिनट तक गर्लफ्रेंड को समझाया और उसे वापस विश्वास दिलाया कि मैं उसे कभी नहीं छोडूंगा, हमेशा साथ रहूंगा. मेरा लंड चूत में पूरी तरह अन्दर जाता और हीना की बच्चेदानी पर ठोकर मार कर बाहर आ जाता था. मैंने अभी मेरी पढ़ाई खत्म की है और नौकरी की तलाश में इंटरव्यू आदि दे रहा हूँ.

पर आजकल उसका भाई ठीक नहीं है, तो वो उसकी देखभाल में बिजी रहती है, इसलिए वो मिल नहीं पा रही है. आपको खुश …बीच में टोकते हुए रमेश बोला- एक मिनट … एक मिनट … तुम ये सब जो बोल रही हो, सच में बोल रही हो ना? तुम सच में हमारी बेटी हो ना? मुझे नहीं पता था कि तुझे ऐसे चुदवाने का शौक है। अब तो बस तुम देखोगी कि मैं तुझे जलील करते हुए सस्ती रंडी बना कर चोदता हूं.

उन्होंने वहीं मुझे फिर से घोड़ी बना दिया और मेरी गांड की छेद में देखने लगे.

मेरे घर वाले कहीं जाते हैं तो वो लोग एक नौकरानी को मेरे साथ घर पर छोड़ देते है.

अब अमीषी की जवानी की कहानी उसी की जुबानी:मेरा भाई 10वीं फेल, दोस्तों के साथ रात रात भर बाहर रहता, दारू पीता, लड़कीबाजी करता. फिर उठ कर उसने खुद को साफ़ किया और खून देख कर उसने मुझे प्यार से देखा. वो मुँह पर अपना हाथ रख कर मेरे लंड को देखते हुए मेरे पास आकर बोली- ये क्या … प्लीज़ अभी जाने दो.

इधर नम्रता ने भी अपने सब्र का बांध तोड़ दिया और उसकी मलाई मेरे जीभ पर गिरने लगी. मैं अपनी कुर्सी पर बैठा ही था कि शुभ्रा मुझ पर चिल्लाते हुए बोली- अपने लिये पानी ला सकता था तो मेरे लिये क्यों नहीं?मामी बीच में ही बोल उठी- क्यों चिल्ला रही हो? मैं जाकर तेरे लिये पानी ला देती हूं. मैंने उसे उसकी टांगों के नीचे से हाथ डाल कर उठाया और लंड चूत में डाले डाले खड़ा हो गया.

उसकी चूत की फांकों के बीच एक गैप था, जिससे उसका भगनासा साफ-साफ दिखाई दे रहा था.

मैं विक्की एक बार फिर से हाजिर हूं आप लोगों के लिए अपनी एक नयी कहानी के साथ. मैंने अपना हाथ मौसी के ब्लाउज में डाल कर उनके चूची को मुट्ठी में भर लिया और उससे खेलने लगा, कभी चूची को दबा देता तो कभी मसल देता और बीच बीच में निप्पल को भी मसल देता. ये सुनकर मैं भी बहुत खुश हो गयी और मैंने भी उसको कहा- मैं भी तुमको प्रेम करती हूँ.

आपने अब तक की इस मस्त कर देने वाली कहानी में जाना था कि हीना मेरे लंड को चूसने के लिए तैयार ही हो रही थी कि मैंने उससे 69 में होकर उसकी चुत चाटने की इच्छा जाहिर कर दी. इस कहानी से पहले मेरी एक कहानीबिहारी नौकर ने मेरी कुंवारी चूत को चोदाप्रकाशित हो चुकी है. अंकल के गर्म वीर्य की वजह से और उनके आखिरी धक्कों की वजह से मेरा भी बांध छूट गया और उनके साथ मैं भी झड़ने लगी.

तभी वसुन्धरा ने अपना मुंह ऊपर किया और सीधे मेरी आँखों में आँखे डाल कर बोली- वो आप थे … राज!घड़.

मैं दारू का पैग लेकर उसके बेडरूम में गया, तब भी वो बाथरूम में ही थी. अब आगे देहाती सेक्स की कहानी:फिर मैंने ध्यान दिया कि उस गली में आगे जाने का रास्ता तो है ही नहीं.

इंडियन लड़की के बीएफ अचानक ही उससे मेरी नजरें मिलीं, तो हम दोनों के चेहरे पर मुस्कान बिखर गई. धीरे-धीरे सुमन भी सेक्स कहानी पढ़ने लगी, पर खुशी पढ़ती थी या नहीं … ये पता ही नहीं चला.

इंडियन लड़की के बीएफ मैंने उससे पूछा- बोलो क्या बात करनी है?तो वो बोली- कुछ नहीं, बस ऐसे ही तुमसे मिलने का दिल कर रहा था. उसके बाद उसने नीचे से अपनी चूत को उछाला और मेरा लंड उसकी गीली चूत में उतर गया.

देर हो जाने हाइवे से दो तीन किलोमीटर दूर घर सुनसान रास्ता होने के कारण बहू ने मंजू को हमारे साथ ही चलने को बोला.

सेक्सी देखनी है वीडियो

उसकी सीत्कारों की वजह से पंद्रह-बीस मिनट में ही मेरे लंड ने उसकी गांड में थूक दिया. खेलती भी क्यों नहीं, गोल-गोल खरबूजों से उसकी चूचियां कम न थीं और उन पर वो भूरे रंग का दाना आह. उसकी चूत के रस चूसने के मजे लेने के साथ-साथ उसकी चूत से निकलती हुई महक का भी मैं मजे ले रहा था.

उसने अपनी कमर को ऊपर उठाकर मेरे लंड को चूत पर एडजस्ट करते हुए लंड को चूत में जाने का रास्ता दे दिया. नेहा ने बहुत सुंदर परफ्यूम लगाया था और नहाने के बाद बाल खुले छोड़ रखे थे. अब हम दोनों धीरे धीरे जवान भी हो गए थे जिसकी आग हम दोनों को ही लगने लगी थी.

डॉक्टर के जाने के बाद सारा मेरे ऊपर आ गयी और मैंने उसे चोदा उसके बाद उसके अंदर पानी छोड़ा और तीनों सो गए.

उत्तेजना में मैंने मोनी की कमर को एक हाथ से पकड़ लिया और थोड़ा तेजी के साथ धक्के लगाने लगा. करीब बीस मिनट बाद बॉस ने लेपटाप बंद किया और बोले- आज तो कोई है नहीं, जाओ तुम ही चाय बना लाओ. मैंने उस लड़की को कैसे चोदा, ये आप इस सेक्स कहानी को पढ़ कर जान जाएंगे.

मैंने मौका देखकर पूनम को अपने दिल की बात कह दी और उसने कहा- मैं शाम को बताऊँगी. उसने एक बार कहा भी- वाह … मेरी दुल्हन ने आज तो बड़ी ही स्वादिस्ट चूत परोसी है. आंटी कुछ दूर जाने तक अंकल ने मुश्किल से खुद को कंट्रोल किया, लेकिन फिर उन्होंने मुझे ऐसा चोदा कि पूछो मत.

दी ने खाना खा लिया और जहाँ मैं बैठा था, वहाँ एकदम बाजू में आकर लेट गई, कहने लगी- मैं 5-10 मिनट आराम कर लेती हूं, उसके बाद झाड़ू और पौंछा लगाती हूँ. मैंने उसे ऐसा करने से रोका और उसको कहा- यहां नहीं … बेडरूम में चलते हैं.

मैंने रजाई हटाई तो उसका लंड पूरा अकड़ा हुआ था, मेरी भी नियत दुबारा से खराब हो गई और मैंने जैसे ही उसके लंड को टच किया तो पवन ने एकदम मुझे दबोच लिया और अपने नीचे ले लिया और सुबह सुबह एक बार और अपने लंड की सवारी मुझे करवा दी. तभी उसने मुझे जोर से एक बार फिर पकड़ लिया और शायद वह बिना लंड घुसवाए ही पहली बार झड़ गई. आज मैंने अपनी चूत में फ़ूड ग्रेड का डिओ लगाया था, जो चूसने पर बड़ा ही मीठा स्वाद देता था.

सुबह 8 बजे मेरी आँख खुली तो मैं बिल्कुल नंगा अपने बेड पर पड़ा था और दीपिका अपने बेडरूम में जा चुकी थी.

वो मेरे कपड़े देख कर इतना तो जान चुके थे कि मैं पूरी नंगी हूँ क्योकि मेरी ब्रा और चड्डी वहीं सूख रही थी. ना वो कभी मुझसे पूछती हैं … और ना ही कभी संजना या शीना के सामने यह बातें कहती हैं. मैंने अपने बैग के अन्दर छुपा रखा टैबलेट का पत्ता निकाला और उसमें से एक गोली निकाल कर खाकर सो गया.

मैंने भाभी के मुँह में 15-20 धक्के लगाये और उनके होंठों को चूमने लगा. ये कहानी बस दो साल पहले की है, जब मैं कॉलेज के लिए रोजाना मुज़फ़्फ़रपुर से सीतामढ़ी ट्रेन से आना जाना करता था.

अब आगे:इत्तेफाक तो होता नहीं है, लेकिन करिश्मा कब हो जाए, कोई बता नहीं सकता. मैंने भाभी के घर पर जाकर बेल बजाई तो भाभी ने दरवाजा खोला और मैंने पूछा- भाभी आपने बुलाया था किसी काम के लिए?भाभी- तुम नहीं जानते क्या मुझे तुमसे क्या काम हो सकता है?भाभी ने दरवाजा बंद करते हुए कहा. उससे बातचीत शुरू होने पर पता चला कि वह मेरे शहर सीतामढ़ी की रहने वाली है और उसका नाम मीना है.

सेक्सी व्हिडिओ ऑंटी साडीवाली

दोस्तो, कैसी लगी मेरी सच्ची कहानी?एक बात और पूछना चाहता हूँ दोस्तो … मेरे पास एक सच्ची कहानी और भी जिसमें मैंने होटल में जाकर एक लड़के से अपनी गांड मरवाई है.

नितिन ने नखरे दिखाते हुए कहा कि यदि आपकी मम्मी को पता चलेगा, तो मेरी तो शामत आ जाएगी. अगली सुबह मैं साढ़े चार पर ही उठ गई और फ्रेश होकर नहा भी ली और सलवार कुरता दुपट्टा डाल के मैं तैयार हो गई, ब्रा और पैंटी पहनने का मन ही नहीं हुआ. कोई बात है क्या?वह रूककर बोली- आपका बिस्तर गन्दा नहीं होगा?मैंने कहा- एक दिन में गन्दा थोड़े होता है.

मैंने सोचा कि मानसी आज कुछ ज्यादा ही चुदासी हो गई है इसलिए इसकी आवाज भी अलग रही है. वो मेरे बाल को पकड़ कर मुझे अपनी तरफ खींच कर मेरी चूची को मेरी कमीज के ऊपर से दबा रहा था. भाभी की सेक्स व्हिडिओमैंने पूछा- मेरा गर्म गर्म लावा बाहर आने वाला है … कहां लोगी?अर्चना बोली- मेरा पहला सेक्स है … मुझे पूरा महसूस करना है … सब अन्दर ही छोड़ दो.

मौसी ने खुद ही अपनी साड़ी को अपनी कमर तक उठा लिया और मेरी ओर देखने लगीं. इसलिए पहले प्लान बनाया गया कि चलो कहीं बाहर घूमने के लिये जाते हैं और वहां मज़े करते हैं.

मेरा जवाब सुनकर अंकल को शॉक सा लगा- नीतू मान गए तुमको … कितनी बिंदास बातें करती हो … कहां से सीखा यह सब?अंकल आपसे ही तो पिछले दो दिन से ट्यूशन ले रही हूँ. अब आगे गर्लफ्रेंड की सहेली की चुदाई की शुरुआत:फिर हम सभी एक साथ खाना खाने बैठ गए. मैं बोली- धीरे चोदो मेरे राजा … मैं सिर्फ तेरी रंडी हूँ … पर अभी चुत कच्ची है.

आज बहुत दिनों बाद मेरी चुत को आज थॉमस का मोटा लंड मिला था … जिसे पाकर में बहुत खुश थी. मेरा और उसका कमरा साथ-साथ हैं और मैंने उसके कमरे में देखने के लिए बीच में एक मोरी भी कर ली. फिर मैं धीरे धीरे अपनी उंगलियों को मुँह से निकाल के उसकी चुचियों को सहलाने लगा.

मैंने उससे सीधे सीधे पूछ लिया- अगर कोई तेरी चुत चाटे, तो कैसा लगेगा तुझे?दीपाली- हां मुझे एक बार एक्सपीरियंस तो करना है.

फिर मैंने उंगली उसकी चुत में घुसेड़ दी और उसने मेरे लंड को मुँह से निकाल कर एक बड़ी गहरी सांस लेते हुए मुझे अपनी कामाग्नि का अहसास कराया. घर से निकलते हुए वसुन्धरा ने दबी जुबान में पुराने कपड़ों वाला अटैची कार से निकल कर घर में ही छोड़ने की बात कही लेकिन मैं उसकी बात सुनी-अनसुनी कर गया.

तुझे वो दर्द सहन करना पड़ेगा, वो भी सिर्फ आज ही बस … कल से तो तुझे बिल्कुल भी दर्द नहीं होगा, सिर्फ मजा ही मजा आएगा. मैंने भी नीचे झुक कर पहले उसकी चुत को 2-3 बड़ी बड़ी चुम्मी की और अपनी जीभ उसकी रसीली चुत में डाल कर उसकी चुत के पानी को चाट लिया. मैंने उसको चुप कराया और समझाया- जानू, तुम अपने घर वालों के कहने पर उधर शादी कर लो, जहां वो चाहते हैं.

उसकी ये बातें सुनकर मुझे भी कुछ कुछ होने लगा था … और मेरी चूत भी गीली होने लगी थी. जब अन्त में मेरी गांड का नम्बर आया, तो वो मेरे कूल्हे को खूब जोर-जोर से दबाती और उंगली में तेल लेकर गांड के अन्दर अपनी उंगली डालने लगती. दोस्तो नमस्कार, मैं आप लोगों की प्यारी हॉट मधु … एक बार फिर अपनी आत्मकथा में तहेदिल से आप सभी का स्वागत करती हूं.

इंडियन लड़की के बीएफ अंकल मेरे पैरों के करीब बैठ गए और मेरी स्कर्ट ऊपर उठाने लगे और उसे एक जगह मेरी पेट पर इकठ्ठा किया. मगर अभी तो महायाराना के इस आगाज़ में चुदाई की कुछ बेहद गर्म कहानियां शुरू भी नहीं हुई थीं.

सेक्सी फिल्म नाटक

मंजू ने मौका भाम्प कर हाथ से टटोल कर मेरे लंड का आकर महसूस किया और मेरी ओर देख कर मेरे मूसल को मसल दिया. तो उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत पर सैट किया और बोलीं- धक्का दो. ट्रेन ने एक बार कहीं सिग्नल न मिलने के कारण एकदम से ऐसा ब्रेक मारा कि गचाक से दबाव बनाते हुए पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में चला गया.

वो मेरा कमीज उतारने लगा, तो मैंने उसे रोक कर बेडरूम की ओर इशारा किया. हल्की सी कामुक मुस्कान के साथ उसने सर फिर से झुका लिया।लिफ्ट ऊपर जाते ही मैंने उसे पॉज कर दिया। वो घबराई। मैंने उसे अपनी तरफ खींचा. हिंदी नंगी सेक्स वीडियोमगर मेरे लौड़े की चुदाई से जूली जल्दी ही स्खलित होने के कगार पर पहुंच गई.

पर उनको कुछ फर्क नहीं पड़ा, वे मेरे दोनों हाथों को मेरे सर के ऊपर ले आये और अपने एक हाथ से पकड़ लिया, दूसरे हाथ से मेरा स्तन मसलते हुए हल्के हल्के धक्के देना शुरू कर दिया.

इतना सुनते ही उसके मुखड़े पर स्माइल आ गयी और वो कहने लगी- हां, मुझको लंड राइडिंग करना बहुत पसंद है. अनिल की छोटी वाली साली जिसका काल्पनिक नाम मैं मंजू रख लेता हूँ, उस उम्र 19 साल की थी.

दैटस गुड बेटा; एक बात और है कि अब से हमारे बीच कोई सेक्स सम्बन्ध नहीं होगा. थोड़ी देर बाद रेखा मेरे ऊपर से उतर गयी और फिर दोनों लोग हाफ करवट लेकर एक दूसरे से चिपककर सो गए. मैंने उसने अपनी तरफ खींचा और उसको बांहों में कसते हुए उसके नंगे बदन से लिपट गया.

क्या बला की हसीनाएं थीं दोनों रानियां! एक से बढ़कर एक हसीन!! एक से बढ़ कर एक कामुक!!! दोनों रानियां देख कर लगता था कि उन्हें विधाता ने बहुत अच्छी मनोस्थिति में गढ़ा था.

मगर बाप ने अपनी जवान बेटी से अपनी वो गंदी मनोकामनायें पूरी की जो वो अपनी बीवी से नहीं कर सका. चूंकि चाची की चूत काफी दिनों से न चुदने के कारण कस गई थी, इसलिए उनके मुँह से ‘आह… उहह … उहह. एक दिन शाम को दोनों लैपटॉप पर पोर्न वीडियो देख रही थीं, तब नितिन पिंकी के कमरे में आने से पहले नॉक करने ही वाला था कि अचानक उसके दिमाग में कोई खुराफात सूझी और वो नॉक किए बिना ही घुस गया.

एक्स एक्स ओपन वीडियोकाफी देर तक चूत चाटने और अंगुली करने की वजह से अनिता कांपते हुए अपने कामरस की वर्षा कर गई जिसे मैं अमृत की तरह पीता चला गया. मैं तेजी से उसकी चूत मारने लगा और 7-8 मिनट की चुदाई के बाद उसको बिना बताए ही मैंने उसकी चूत में अपना माल गिरा दिया.

सेक्सी चलता हूं

मैं लंड झाड़ते ही लेट गया और वह तुरंत कपड़ा ढूंढ कर बाथरूम में घुस गई. अचानक उसने मुझे धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और मेरे ऊपर चढ़कर मेरे लण्ड को फिर से अंदर ले लिया. अब उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और मेरी उंगलियाँ अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

दोस्तो, यारों के महायाराना के आगाज़ की पहली चुदाई की शुरूआत हो चुकी है. दस मिनट बाद मेरे माणिक अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूची को चूसते हुए और मेरे होंठ को चूसते हुए मेरी चूत को बड़ी बेरहमी से चोदने लगा था. गुप्ताइन हाथ से टटोल कर साइज का अन्दाजा ले रही थी और मैंने उसकी चूची मसलना शुरू कर दिया.

जब मेरी क्लास खत्म हुई और ऑफिस आया, तब देखा एक बहुत ही खूबसूरत बाइस साल की 32-28-32 के फिगर वाली लड़की, बहुत ही गोरी, जिसकी आंखें बड़ी बड़ी और होंठ एकदम गुलाबी थे. मेरे लंड पर एक तिल भी है जो मेरे लंड को और ज्यादा आकर्षक बना देता है. थोड़ी देर बाद उसने भी काम ख़त्म कर लिया और उसकी भाभी भी रसोई में जाकर खाना बनाने लगी.

इस दौरान मैं चूत का दाना सहलाती रही थी जिस वजह से मैं 3 बार झड़ चुकी थी. तो दोस्तो, इस तरह से नील ने अपने कमरे या यूं कहें कि अपनी बीवी रकुल की चूत की चाबी मुझे दे दी.

हम दोनों की नजरें मिलीं, नम्रता ने अपने दोनों हथेली से अपनी चूत को दबाकर होंठों को गोलकर के मुझे अभिवादन किया.

मैंने भी अपने होंठ खोल कर उनका स्वागत ठीक वैसे ही किया, जैसे मैंने अपनी चुत खोल कर किया था. भोजपुरी में चुड़ैइस तरह की बातें करते हुए पता नहीं कब हल्की रोशनी के साथ पौ फटने लगी, ध्यान ही नहीं रहा. एक्स एक्स एक्स ओपन फोटोकोई भी काजल को एक बार देख लेता, तो उसे बिना छुए छोड़ने का मन नहीं होता. मैं अभी नहीं झड़ा था सो एक दो पल रुकने के बाद मैं नीचे लेट गया और उसको अपने लंड के ऊपर सैट कर लिया.

इधर मेरा लंड भी टाईट होने लगा और आगे-पीछे होने के कारण सुपाड़े की चमड़ी चादर से रगड़ खा रही थी.

मैंने कहा- वो तो तू भी हो रही थी साली मेरे लौड़े पर बैठ कर!सीमा ने कहा- मैं तो आपकी फैन हूँ ही न. दोस्तो, कुछ देर बाद एक बार फिर से उसने मेरा लंड चूसना शुरू किया और जब मेरा लंड दोबारा चुदाई के लिए तैयार हो गया तो वो मुझसे बोली- पापा, इस बार धक्के थोड़ा ज़ोर से मारना. फिर भैया ने पूछा- कैसा लग रहा है?‘ठंडा!’मेरी बचकानी बात से भैया हंसने लगे और बोले- ठीक है ये ठंडक अब अन्दर तक जाएगी.

”मुझे इतनी गंदी बातें सुनने की आदत नहीं थी, पर मन ही मन मुझे अच्छा लग रहा था. मुझे समझ आ गया कि ये औरत अब बहुत गर्म हो चुकी है और चूत में लंड घुसाने का वक्त आ चुका है. बात आगे बढ़ने से पहले ही मैं बोला- मां पिताजी कहां हैं?वो बोलीं- अभी आ जाएंगे, वो कुछ काम के लिए बाहर गए हैं.

पाकिस्तान गर्ल सेक्सी

जूली शरमा कर अपने बदन को चादर से ढकने लगी तो सारा बोली- मुझसे क्यों शर्मा रही हो जूली आपा? मैंने और गुलाबो ने आपका पूरा सुहागदिन दरवाजे पर खड़े होकर चोरी-छिपे देखा है. उसने अपनी पकोड़ा सी चूत को मेरे पैंट में तने लंड के ऊपर रख दिया और रगड़ने लगी. नाश्ता करके जीजू ऑफिस के लिए तैयार होने के लिए अपने रूम में चले गए और दीदी किचन में कुछ काम करने लगी.

मेरे दिमाग में बस एक ही बात आई कि खुशी को भी तो ये बात पता नहीं चल गई.

इसके बाद सहेली के पापा ने दारू के पैग बनाए और हम दोनों ने तीन तीन पैग खींचे.

उसने मुझे शादी की मुबारकबाद दी और पूछा- अब सारा को क्या कर दिया? थोड़ा आराम से सेक्स किया करो. एक सुनसान गली में हम दोनों मिले तो क्या हुआ?हैलो फ्रेंड्स, मैं आपको एक रॉंग नम्बर वाली लौंडिया की चुदाई की कहानी में बता रहा था कि उसने मुझे अंधेरा होने पर अपने घर की गली में बुलाया. भाभी सकसीमैं जानता था कि रात को छेड़ने के बाद जब उसने कुछ नहीं कहा तो वह लव-लेटर भी आसानी से ले लेगी.

मैं बोली- तो कैसे?वह मेरे हाथ में से गिलास को लेता हुआ बोला- पहले शराब को अपने होंठों से टच कीजिए और एक घूंट लीजिए. ये सुनकर मैं भी बहुत खुश हो गयी और मैंने भी उसको कहा- मैं भी तुमको प्रेम करती हूँ. एक बार फिर लोगों की नजरों से बचते हुए मैं नम्रता के घर के अन्दर घुस गया.

उनका मेरे अंगों को छेड़ने से चुत पर से मेरा कंट्रोल छूट रहा था, मुझे तो डर रहा कि कहीं सुसु पैंटी में ही ना निकल जाये. आप सभी ने मेरी पहली कहानी ‘मैं और मेरी प्यासी चाची’ को ख़ूब पसंद किया.

मैंने जल्दी से अपने अंडरवियर को नीचे किया और उसकी चूत पर लंड लगाकर उस पर पूरी तरह से लेटते हुए उसके होंठों को चूसने लगा.

मैंने अपने एक हाथ से दीपिका के पेट का निचला हिस्सा सहलाना शुरू किया तो दीपिका बोली- आह्ह … स्सस … आई … फिर … चुदवाने का दिल कर रहा है. मेरी आवाजों ने वातावरण में एक चुदास भर दी थी- आह … मर गई उउफ्फ्फ बेटा … आज क्या चूत के चिथड़े उड़ा कर ही दम लेगा … आह … साले मादरचोद!वंश मेरी आहों का मजा लेते हुए मुझे जोर जोर से चोद रहा था. शायद हम दोनों में अभी भी भाई बहन वाली फीलिंग बची थी जो हमें सेक्स करने के लिए रोक रही थी.

भाभी चूत चुदाई तत्काल वसुन्धरा की आँखें नशीली होने लगी और एक सिहरन की लहर वसुन्धरा के पूरे शरीर में से गुज़र गयी. हम दोनों ने एक दूसरे को किस करना चालू किया और मैं चाची की चुचियों को मसलने लगा.

साथ ही शुभ्रा की चूत से निकलती हुई गर्माहट जो मेरी जांघों पर पड़ रही थी, उसका मजा ले रहा था और लगे हाथ शुभ्रा के कूल्हे को सहलाते हुए उसकी गांड को कोद भी रहा था. मैंने उसकी चूत में लंड के सुपारे को फंसाया और एक जोर का धक्का लगा दिया. ” हे भगवान्! इतना ज़ुल्म!!! … वसुन्धरा! मुझे पता नहीं था, कसम ले लो … चाहे! मुझे इस बारे में सच में कोई इल्म नहीं था.

सेक्सी हिंदी फिल्म नई

मैं अकेला क्या क्या करूँ यहाँ?तो मैं बोली- मैं कैसे आऊँ … कपड़े अभी गीले हैं. मैं समझ गया कि वो इसको न करने के लिये मुझे पहले से ही चेतावनी देना चाहती है, पर मेरे दिमाग भी यह बात नहीं आयी. उसने मुझे फिर से सब बताया कि मेरे पापा एक वहशी चोदू किस्म के मर्द हैं.

इनके जिस्म पर पड़ती हुई अकड़न संकेत देने लगे थे कि कभी भी उनका लंड उल्टी कर सकता है. उसके बाद उन्होंने अपनी लुंगी की गांठ खोल दी, उन्होंने अन्दर कुछ भी नहीं पहना था.

रीना के साथ रणविजय- (रणविजय के ही शब्दों में)जैसे ही मैंने अंदर से लॉक खोल कर कमरे के अंदर चाबी लगाकर प्रवेश किया तब पता चला कि रीना बाथरूम में है.

मैं सीट पर लेटी हुई सी हो गई थी … और वो मेरे सामने अपना लंड अपने हाथ से हिलाने लगा था. मैं बोली- हाँ मेरे राजा … आज तू मेरा पूरा मज़ा ले ले … मैं तेरे बिस्तर की रानी हूँ. मैं उठा, अंडरवियर और अपनी जीन्स पहन के अदिति को आवाज़ लगाई, तो वो बालकनी में खड़ी बारिश को निहार रही थी.

लेकिन मैंने उसे फिर भी नहीं छोड़ा।कुछ देर तक और चूत चाटने के बाद अनिता कहने लगी- मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है. आह मुलायम-मुलायम, गोल-गोल मम्मों पर हाथ पड़ते ही हथेलियां उसको मसलने के लिए मचल उठे. अब रणविजय और रीना की चुदाई उन्हीं के शब्दों में:हम दोनों एक दूसरे के चुम्बन में मदहोशी के साथ डूब गए। उसने नाइटी के अंदर कुछ नहीं पहना था। मैं नीचे लेटा हुआ था और चुम्बन करते हुए ही हम दोनों एक दूसरे से लिपट गये.

ऊपर से तुम्हारा वो लम्बा तगड़ा हथियार, जो किसी तलवार से कम से नहीं है.

इंडियन लड़की के बीएफ: साथ ही मैं उन पाठकों से क्षमा भी चाहता हूं जिनके मैसेज का मैं रिप्लाई नहीं कर पाया हूं. कभी होटल में रूम लेजा कर चोदा तो कभी किसी सुनसान जगह पर क्विक फक किया.

जबाब में वसुन्धरा की बाज़ुओ की पकड़ मेरी गर्दन पर और अधिक संकीर्ण हो गयी. मेरे चाचा पैसे कमाने के लिए सऊदी अरब में रहते हैं और साल में एक या दो महीने के लिए ही इंडिया आते हैं. मैंने सोचा कि आज पिताजी नहीं हैं, तो क्यों ना मैं ही माँ की चुत चाट कर साफ कर दूं.

अमित दीदी को फुल लाइन दे रहा था और शायद दीदी भी इस चीज को एन्जॉय कर रही थी.

मैं राहुल श्रीवास्तव मुंबई से, जैसा कि आप जानते हैं कि मेरी कहानी मेरे अपने अनुभव या मेरे साथ घटित घटनाओं पर आधारित होती हैंमैं अपनी नौकरी की वजह से सम्पूर्ण भारत का भ्रमण करता रहता हूं. उसका शरीर भी खिलने लगा, तो उसकी मां को उस पर शक होने लगा था कि शायद उसकी लड़की बिगड़ने लगी है. मैंने शीना की मोटी गांड पकड़ी और धीरे-धीरे अपना लौड़ा शीना की गांड में घुसाने लगा.