मैडम की बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी बीएफ सेक्सी 2020 का

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी आदिवासी व्हिडिओ: मैडम की बीएफ, मां की जबरदस्त पेलाई होने के कारण वो भी थकी हुई थीं, सो वो भी सो गईं.

सेक्सी वीडियो बीएफ एचडी एचडी

आपको इस सेक्स कहानी में जो भी कमी या अच्छा लगा हो, प्लीज मुझे मेल करके जरूर बताएं, ताकि मैं अपनी अगली मेरी जूसी सेक्स स्टोरीज में आपको और भी मजेदार ढंग से लिख सकूं. हिन्दी बीएफ विडियोमेरी माँ को पापा के दो दोस्तों ने कैसे चोदा घुमाने के बहाने मुंबई लेजाकर! मां की गांड भी मारी उन्होंने!नमस्कार साथियो, मेरी मां सेक्स कहानी के पिछले भागमेरी मम्मी की रंडी बनने की सेक्स कहानी- 2में आपने अब तक पढ़ा कि किस तरह से मां को चोदने के लिए जितेन्द्र ने मेरे पापा और उनके एक दोस्त अशोक को दारू पिला कर सुला दिया था.

उसकी कोमल चिकनी चूत बेपर्दा होती चली गई और मैंने उसकी पैंटी उतार कर फेंक दी. बांग्लादेश का बीएफ दिखाइएदीदी का बच्चा रात को बार बार जाग जाता था जिससे मैं परेशान हो रहा था, इसलिए मैं रात में ही उठ कर अपने कमरे में चला गया।सुबह मैं थोड़ी देर से उठा। मैं बाहर गया तो देखा कि दीदी पूरी नंगी है और नीचे बैठ कर टांगें फैला कर पोंछा लगा रही है। जिससे दीदी की चूत का दरवाजा खुला हुआ दिख रहा था.

हम दोनों का मज़ाक का रिश्ता था … सो वो कभी कभी मज़ाक में थोड़ा डबल मीनिंग बात भी बोल देता था.मैडम की बीएफ: वो तो साला मेरी चुत को तो शांत नहीं कर पाता है … तो गांड क्या मारेगा.

मैं आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार करूंगी क्योंकि मेरे मन में अभी भी कई सवाल हैं और अनुभव हैं जो मैं आपके साथ बांटना चाहती हूं.उत्सुकता में मैंने पूछा- बता ना क्या हुआ?रूपा- अरे वही हुआ जो हर बार होता है.

सेक्सी बीएफ जंगल का सीन - मैडम की बीएफ

मन तो कर रहा था कि आकाश और शेखर दोनों का लंड एक एक हाथ में पकड़ लूं लेकिन किसी तरह खुद को रोके रही.वो बोली- ये क्या है?मैंने बोला- जानेमन … आज कुछ मत पूछो … आज सिर्फ तुम मजा लो.

फिर रानी बारातघर की पार्किंग की तरफ जाने लगी और वो दोनों बाराती लड़के भी उसके पीछे पीछे जाने लगे. मैडम की बीएफ मैंने जब से दीदी को छुआ था, तब से ही मैं उनका दीवाना हो गया था, पर मैं हमेशा अपने आपको रोक लेता.

मैंने कहा- और कितने दिन रखोगे उसे यहां?उसने कहा- कल सुबह ये सब चले जाएंगे.

मैडम की बीएफ?

कुछ ही देर में मैं भी झड़ गया लेकिन सोनी ने मेरे ऊपर अपनी पकड़ ढीली नहीं की. बाथरूम टब में हम दोनों ने चॉकलेट खाई और फिर एक बार ज़बरदस्त चुदायी की. ’कुछ देर बाद उसका मैसेज आया कि आप कौन?मैंने लिखा- आपका चाहने वाला … मुझे आपकी चूची चूसनी है.

हमारी बातों में, हम दोनों प्यासे हैं, ये बात दोनों को समझ आ गई थी, बस जरूरत थी कि सही समय मिले. मैं सोच रही थी कि क्या करूं, तभी पीछे वाला दरवाजा खुला और जिसने मुझे नहलाया था, वो अन्दर आ गया. रूम में आने के बाद वो बोली- क्या हुआ?मैंने कहा- कुछ नहीं, बस घर में अकेले का मन नहीं लग रहा था इसलिए तुम्हें बुला लिया.

जब एक सांवली सी लड़की भी मुझसे नहीं पट रही तो फिर और क्या होगा मेरा?मगर किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था. डांस करते समय हम दोनों स्माइल करके एक दूसरे की आंखों में देख रहे थे. वो छटपटा रही थी मगर मैंने बिना कुछ सुने अपना पूरा लंड उसकी चुत में फंसाए रखा.

फिर दूसरे हाथ से उन्होंने मेरी कुर्ती उठा दी और मेरी नाभि को चूसने लगे. चुदाई का दूसरा राउंड आधे घंटे तक चला और मौसी की चूत को चोद चोद कर मैंने सुजा दिया.

मैं जाने लगा तो उसने मुझे टोका- गिफ्ट की नहीं पूछोगे?मुझे याद आया कि कल ये देर तक चलने पर कोई गिफ्ट देने की बात कह रही थी.

मैंने आंटी से कहा- आंटी आपकी गांड मुझे बहुत अच्छी लगी … क्या आपकी कोई फ्रेंड है, मुझे उनकी भी गांड मारनी है.

दोस्तो, इसके बाद मां ने मुझे बताया कि लगभग एक घंटे के बाद पापा रूम में आए. फिर धीरे धीरे मैं उसके पास जाने लगा और उसके होंठों पर लगे हुए दूध को अपनी जीभ से चाट लिया. आंटी बोलीं- मेरी झूठी चाय थी … तुमने क्यों पी ली?मैं समझ गया था कि आंटी मुस्कुरा रही हैं.

पिछले भागमां और बहन की चुदाई का मजा- 1में आपने जाना था कि मैंने मेरी अतृप्त मम्मी को दो बार चोद दिया था और इस बात से मेरी मम्मी खुश तो थीं लेकिन वे मुझे चुदाई में पूरा सहयोग नहीं कर रही थीं. इस बीच सनी के घर से फ़ोन आया औऱ उसे जल्दी किसी काम से जाना था, तो सनी निकल गया. हुआ भी यही … मैंने पूरी रात में चार बार आंटी की चूत चुदाई की और दो बार गांड मारी.

… जीजा जी आप उठिए … माया भाभी को मैं चोदूंगा … तुम रानी भाभी को चोद लो.

भाबी उदास स्वर में बोलीं- क्या बताऊं विशाल … मैं ये शादी अपनी मर्ज़ी से नहीं की, घरवालों के प्रेशर में मुझे शादी करनी पड़ी. ऐसा लग रहा था जैसे मुझसे ज्यादा जल्दी तो उनको थी अपनी चूत में लंड लेने की. तभी भाभी के साथ आई ननद ने कहा- भाभी, थोड़ा सा ये हथियार चूसने का मौका मुझे भी दो.

जिया मुझे पूरी तरह से मदहोश करने में तुली हुई थी और अभी केवल पांच मिनट ही गुजरे थे. बातों ही बातों में मैंने उससे पूछ लिया- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है क्या?वो मेरी ओर ऐसे देखने लगी जैसे पता नहीं मैंने उससे क्या पूछ लिया हो!मैं सोचने लगा कि शायद मैंने उससे ये सवाल करके गलती कर दी है. दीपक जी भी नशे में टल्ली थे और वो नशे वाले ही अंदाज में बोले- तुम साली हो या घरवाली … मुझे तो आज तुमको ही प्यार करना है.

लेकिन पापा कहां मानने वाले थे … वे बिना दरवाजे बंद किए ही मां के ऊपर चढ़ गए और मां के होंठों को चूसने लगे.

मेरी गांड एकदम फ़ैल चुकी थी, तब भी मुझे एकदम से पूरा डिल्डो घुसने से दर्द हुआ. रवि- हां देख रहा हूँ … लेकिन बड़ी भाभी के साथ?तो दीपक बोले- क्यों बे गांडू … तेरी बहन जब मुझसे चुद सकती है, तो तेरी भाभी को मैं क्यों नहीं चोद सकता!रवि- नहीं.

मैडम की बीएफ आंटी उस समय गहरी नींद में सोई हुई थीं और उनके बच्चे उनके साथ के बेड पर सोए हुए थे. मैंने उसकी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया और उसके होंठों का रस पीने लगा.

मैडम की बीएफ जिसके जवाब में मैंने भी उसकी सलवार का नाड़ा खोलकर उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया. फोन सेक्स के माध्यम से हम दोनों अपनी चुत चुदाई और लंड की बातें करते रहते थे.

कुछ देर में साधना ने कपड़े पहनकर मुझे कमरे में छोड़कर कमरा बाहर से लॉक कर दिया.

चोदा चोदी विडियो

साथ ही मैं अपना एक हाथ की उंगलियों को उसकी चूत में डालकर अन्दर-बाहर करने लगा. उसने मेरी बहन रानी को सीट पर फिर से कुतिया बना दिया और उसकी एक टांग को अपने सीट पर रखकर धक्का देने लगा. उसने झुक कर मेरे सामने ट्रे की, तो मैंने उसके दूध देखते हुए कप उठा कर उसे थैंक्स कहा.

लण्ड की भी बड़ी अजीब फितरत है, जैसे ही सुपारा चूत के अन्दर जाता है, लण्ड पूरा अन्दर जाने को बेकरार होने लगता है. अभी मैं अपने लंड की फ़रियाद सुन ही रहा था कि तभी नाज़नीन भी बोल उठी- साहब और मत तड़पाईए … मैं बहुत प्यासी हूँ … अब मुझसे सहन नहीं होता. मैंने खड़े होकर ऐश्वर्या मेम को अपना हाथ दे दिया और ऐश्वर्या मेरे हाथ को पकड़कर खड़ी हो गईं.

अब मैं जमीन पर लेट गया और आंटी मेरे मुँह पर अपनी चूत लगा कर बैठ गईं.

मैं उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ मेरी लम्बाई 6 फीट है तथा शरीर गठीला है. लेस्बियन सेक्स में हम तीनों कभी कभी किस और चूत में उंगली तक पहुंच जाते थे. लंड पर चुत सैट करते ही मुझे दर्द हुआ … क्योंकि भाई का लंड मेरे पति और जेठ से ज्यादा लम्बा और मोटा था.

ये देख कर उसने स्माइल पास कर दी और इठलाते हुए अन्दर मम्मी के पास चली गई. मैंने धीरे धीरे लंड पूरा उसकी बुर में घुसा दिया और मेरा लंड उसकी बुर में फंसता फंसाता हुआ अंदर तक चला गया. वैसे तो इच्छा मेरी भी थी कि इतने दिनों बाद विकास से मिलने के उपरांत जो रोमांच मेरे जिस्म में पैदा हो रहा था, मैं चाहती थी कि उसको अगले स्तर तक लेकर जाया जाये तो कितना मजा आयेगा लेकिन फिर भी मैं किसी तरह खुद को रोके रही.

उसके होंठों को अपने होंठों में जकड़े हुए उस लौंडिया की जीभ को चूसे जा रहा था. एक दिन जब मेरी नींद खुली तो सुबह सुबह मेरी सास की तेज आवाज सुनाई दे रही थी.

फिर वो मेरे ऊपर चढ़कर मेरे होंठों को चूमने लगा, फिर गर्दन को चूमने लगा. तभी चपरासी जूस लेकर अन्दर आ गया और पांच गिलासों में जूस डाल कर चला गया. कहानी पर अपने कमेंट्स के जरिये अपनी राय दें और बतायें कि आपको इंडियन सेक्स रोमांस स्टोरी कैसी लगी.

मैं उस समय कानपुर पढ़ाई करने गया था, तो कोचिंग में मेरी दोस्ती एक सोनम नाम की लड़की से हो गयी थी.

उसके बाद से ये बेचारा लंड फिर अबकी बार 40 के पार के इंतजार में बैठा है. वो कुछ नहीं बोलती थीं क्योंकि मैं पहले उन्हें चोद चुका था और उन्हें भी ये सब अच्छा लगता था. दीपक जी तो अपनी लुंगी संभाल कर वहीं रखे स्टूल पर बैठ गए और जेठानी जी भी फटाफट खड़ी हो गईं.

उन्होंने बोला- ओके इसी गली में सीधे आ जाओ … तीन नंबर वाला मकान है … आ जाओ. आप इस बात को जानकर समझ ही चुके होंगे कि इस सेक्स कहानी में परिवार के और रिश्तदारों के साथ, कुछ दोस्तों के साथ भी मेरी चूत की चुदाई हुई है.

मैंने बाबूजी का साथ देना शुरू किया और अब ससुर बहू दोनों ही एक दूसरे से नंगे लिपटे हुए एक दूसरे को चूमते हुए सेक्स का मजा देने और लेने लगे. लंड से चुदने का मजा लेते हुए मामी जी भी गांड उठा उठाकर मेरा साथ देने लगी। अब माहौल बन चुका था। सरसों के खेत के बीच अब केवल फच-फच … पच-पच … की आवाजें आ रही थी। अब मामीजी भी बहुत खुश लग रही थी।बहुत देर से मेरा लन्ड मामी जी की चूत को चोद रहा था। अब मामी जी झड़ने वाली थी। थोड़ी ही देर में मामी जी की चूत ने नमकीन पानी का फव्वारा छोड़ दिया. एक दो को प्रपोज़ किया मगर कोई अच्छा रिस्पोन्स नहीं मिला।ऐसे ही दिन गुज़रते गए।हमारे पड़ोस में एक परिवार रहता था.

वह सेक्सी

अब मैं अपनी सास की चुदाई कहानी सुनाने से पहले आपको बता दूं कि मेरे घर में मेरी सास, ननद और हम पति-पत्नी ही हैं.

अब तो मैं कई बार तो पापा के रहते मम्मी को उनके रूम में ही चोद चुका हूँ. करीब दस मिनट बाद मैंने बोला- आपकी चूत में पानी बहुत है … लाओ चाट कर साफ़ कर दूं. वो मेरे स्तनों को दबाते हुए मेरी योनि का मैथुन करने लगा और 15 मिनट तक रगड़ने के बाद वो मेरी योनि में ही स्खलित हो गया.

मां बोलीं- यार, मैं कहां मना कर रही हूँ … मगर आराम से गांड मारो न!उसके बाद अशोक मां की चिकनी गांड को सहलाने लगा और अपना मोटा लंड पूरा का पूरा मां की चिकनी गांड में डाल दिया. आधे घंटे तक मेरी गांड चोदने के बाद सर ने अपना लंड मेरे मुंह पर लगाया और सारा माल मेरे मुंह पर गिरा दिया. बीएफ नया हिंदीजब पापा बाथरूम से फ्रेश हो कर बाहर आए … तो मां से बोले- बड़ी सेक्सी लग रही हो … आ पहले तुझे मैं चोद लूं.

फिर मामू ने मेरी गांड के ऊपर अपना लंड पेंट के ऊपर से रगड़ना चालू कर दिया. आप अपनी प्रतिक्रियाएं अवश्य दें ताकि मैं अगली बार अपनी कहानी को और ज्यादा अच्छे तरीके से लिख सकूं.

हालांकि उसके लंड से कुछ और ही निकल रहा था लेकिन मैं उसकी बात मान कर उसको पीता रहा. मैंने कहा- मैं अपना लंड तुम्हारी चूत के लिए ऑफर कर रहा हूँ … एक बार मेरे लंड की सवारी करके देखो. छुट्टी के समय जब सब लोग जा चुके थे, तब मैं उसके पास गई और कहा- मेरी लैगी दे दो.

मैंने अपनी बहन की बुर में उंगली करना चालू कर दिया और मेरी बहन की साँसें तेज होने लगीं. उन दो दिनों तक वो सुबह उठ कर वॉशरूम नहीं गया और सुबह सुबह वो बेड पर ही मुझे अपना मूत पिला देता था. वर्जिन Xxx कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने पड़ोस की एक जवान लड़की की बुर में उंगली करती की वीडियो बना ली.

उसके बाद तुम खुद ही जान जाओगी कि भैया क्या मिस कर रहे हैं।मतलब तुम मुझे चोदना चाह रहे हो?” चोदना शब्द मैंने जानबूझ कर बोला ताकि उसको मेरा सिग्नल मिल सके।भाभी, चोदना तो 10 मिनट की बात है। बुर में लंड डाला और धक्के लगाते रहे। इसके आगे पीछे का मजा जो है उसका मजा मैं आपको देना चाहता हूं.

हमने सेक्स का मजा कैसे लिया?कैसे हो मेरे प्यारे दोस्तो? मेरा नाम गौतम कुमार है. फिलहाल मेरी चूचियां उतनी छोटी तो रह नहीं गई थीं कि किसी को चूचियों से मस्ती न चढ़े.

मुझे एहसास हुआ, जैसे मौसी पूरी नंगी हो गई थीं … पर उन्होंने खाली पैंटी पहनी हुई थी. मगर तभी अंकल झड़ गए और आंटी को देख कर लग रहा था कि वो अभी भी प्यासी थीं. उसकी पैंटी पूरी उतारकर मैंने तुरंत उसका एक पैर अपने कंधों पर रख लिया.

मैंने सुपारा चुत की पुत्तियों में सैट करके एक हल्का सा झटका दिया तो वो ‘आई ऊ ऊ ऊ. मां बोलीं- यार, मैं कहां मना कर रही हूँ … मगर आराम से गांड मारो न!उसके बाद अशोक मां की चिकनी गांड को सहलाने लगा और अपना मोटा लंड पूरा का पूरा मां की चिकनी गांड में डाल दिया. मेरी बेटी झट से डॉगी बन गई और उसने अपने चूतड़ों को हिला कर शमशेर से कहा- लो साहब पेलो.

मैडम की बीएफ मैंने अब आंटी की मैक्सी उतार कर उन्हें बेड पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया. नवाब सोच में पड़ गया और बोला- ठीक है, मैं करूंगा तुझसे शादी और बीवी को तलाक भी दूंगा.

ब्लू मूवी ओपन

मैंने पूछा- बताइये?उन्होंने कहा- आज कल छत्तीसगढ़ी फिल्मों की उतनी वैल्यू नहीं रह गई है मार्केट में और न ही ज्यादा प्रॉफिट है. करीब दस मिनट तक गांड चुसाई के बाद मेरे भाई ने माया दीदी को सीधा लिटा दिया और मेरी जिठानी माया दीदी की टांगों को फैलाते हुए उनकी चूत पर अपना लंड रख दिया. भाबी बड़े प्यार से मेरे लंड को अपने गले तक पूरा भर रही थी और बड़े मज़े से चूस रही थीं.

इस पर सनी ने लिखा- मैं तो तुम दोनों को एक साथ …मैं उसकी इस आधी अधूरी बात से गर्मा गई और लिखा- एक साथ क्या … सनी पूरी बात लिखो न!सनी- तुम दोनों को एक साथ एक ही बेड पर चोदना चाहता हूँ. मेरी चूत की फांकें खुली हुई थीं और अन्दर से गुलाबी रंगत लिए चूत उसके सामने थी. सेक्सी व्हिडिओ बीएफ देहातीएक दिन जब मैं उनके घर गई … तो वहां एक बहुत ही हैंडसम सा लड़का बैठा हुआ था.

कोई पांच मिनट तक मेरा लंड चूसने के बाद मैंने अपनी दीदी के मुँह में ही अपना पूरा रस निकाल दिया.

कस्बे से गांव का रास्ता खराब होने के कारण ऑटो में काफी धचके लग रहे थे और मेरे लिए उसे छूने के मौके भी काफी मिल रहे थे. मौसी भी मस्ती में बड़बड़ाते हुए कह रही थीं- आहन … उन्ग्ग … ओह … और ज़ोर से काट मेरे निपल्स को … आह मुझे मज़ा आ रहा है.

मेरे बीवी की चूत बहुत गीली हो गयी थी, तो मैं उसे चाट चाट कर साफ करने लगा. मैंने उसकी टांगों को अपने मुँह की तरफ खींचा और तकिया लगा कर अधलेटा सा हो गया. चुत की आग शांत करवा कर मैं धीरे से आशीष के नीचे से निकली और पलंग से उतर आयी.

मैं उसके नीचे की तरफ धीरे धीरे बढ़ने लगा और उसकी नाभि को किस करने लगा.

मोहित अंकल तो मज़े में अपना रस मेरी गांड में डाल रहे थे और उन्हें पता भी नहीं था कि उनकी वाइफ पूजा आंटी नीचे छटपटा रही थीं. उसके बाद सुभाष ने अमिता को कपड़े दिए और हम वहां से निकल कर घर आ गए और अगले दिन शहर वापस आ गए. इतने दिनों से मैं इसी मजे को कल्पना में जी रही थी जो आज सच हो गया था.

सेक्सी बीएफ मुस्लिम कामैं अपने आपको भाग्यशाली महसूस कर रही थी। उन पलों में मेरी कामुकता और बेशर्मी की सीमा न थी। मैंने जेठजी की तरफ मुस्कुराते हुए देखा और महसूस हुआ कि वो भी बहुत खुश लग रहे थे। मुझे एहसास हुआ कि मैंने जेठजी को प्यार देने में कोई कसर नहीं छोड़ी. आप दूसरे तरह से पेमेन्ट कर सकती हैं … इसलिए फिलहाल आप इस चेन को फ्री में ले जाइए.

सेक्सी वीडियो नाबालिक

रस्तोगी बोला- क्या कर रहे हो सुभाष भाई?सुभाष धक्के रोक कर बोला- आप लोग जैसे नाश्ता कर रहे हैं. मैंने पूछा- मां सच बताना, आपको चाचू के अलावा किसी और लड़के ने भी चोदा है क्या?मां बोली- तुझसे अब क्या छिपाना. जब हम घर में अकेले थे तो रात में मैंने उसके कपड़े उतार कर उसे नंगी किया और उसके साथ मस्ती की.

तो मौसी ने कहा- साली लड़कियों की चूत की गहराई इतनी होती है कि वो चूत के अन्दर कुछ भी घुसा सकती हैं. लेकिन रोहित बिना सुने हौले-हौले से मेरी पेन्टी को चाट रहा था- आह भाभी, बहुत मजा है इस रस में!मेरे जीवन के इस आनन्द के क्षण को अब मैं जीवन भर नहीं भूल पाऊँगी।फिर वो मेरे पैरों के बीच से हट गया. मैंने बोला- भाभी आप मुझे अपना फोन नम्बर दे दो … बाद में बात करते हैं.

मेरी सेक्स लाइफ स्टोरी सात साल पहले की है जब मैं थर्ड ईयर में था। मुझे लड़कियों के साथ कुछ भी एक्सपीरियंस नहीं था. अब तुझे भी चुदाई का मजा आएगा।फिर मैंने अपनी चूत साफ की और फिर हम दोनों सो गए।सुबह उठने पर देखा तो मेरी चूत किसी गोलगप्पे की तरह सूज गई थी और बहुत तेज दर्द हो रहा था। चलने में भी बहुत दर्द हो रहा था।रूपा चोरी छिपे मेरे लिए गर्म पानी लाई और मैंने अपनी चूत की सिकाई की। शाम तक मेरा दर्द और सूजन खत्म हो गया था। उस रात हम दोनों पवन और मोहित से मिलने नहीं गए. मैंने पूछा- तो आप अपनी आग कैसे बुझाती थीं?आंटी ने बताया कि वो काफी समय से अपनी अनतरवासना के लिए चूत में गाजर मूली का यूज कर रही थीं.

यह कुवारी लड़की का सेक्स कहानी मेरे और मेरी मौसी की लड़की के बीच की है. अब मेरी बीवी बहुत गर्म हो गई थी और अपनी कमर उठा कर उसके मुँह को अन्दर तक दबाने की कोशिश कर रही थी.

जब बस से उतर कर मैं घर की तरफ आई, तो मैं ठीक से चल भी नहीं पा रही थी.

तब तक नजमी बोली- क्या हुआ आप कुछ दे रहे थे?मैंने झटके से मोबाइल बंद किया और बोला कि हां. बीएफ वीडियो ओपन हिंदी में15 मिनट तक मां की चूत में तेज तेज धक्के लगाने के बाद वो उसकी चूत में ही माल गिराकर मां के ऊपर लेट गये. सेक्स सेक्स सेक्स बीएफ सेक्सजब तक बेचारा रवि कुछ समझ पाता, तब तक समीर ने अपना पूरा वजन रवि के शरीर पर डाल दिया. शादी से पहले हम लोगों ने फ़ोन सेक्स बहुत बार किया था … इस दौरान हर बार मेरी बीवी को गाली सुनकर सेक्स करना अच्छा लगता था.

दिल तो कर रहा था कि चूतड़ों को खा जाऊं। चूतड़ों का बहुत अच्छे से मज़ा लेने के बाद मैंने मामी जी की गोरी चिकनी पीठ को एक बार फिर से चाटा और फिर मामी जी को पलट दिया।मामी जी को पलटते ही मामी जी अब वापस मेरे सामने आ चुकी थी। अब मामी जी के बाल खुल चुके थे। अब मुझसे सब्र नहीं हो पा रहा था.

और मैं भी यही चाहती थी कि कोई मर्द हो जिस पर मैं दिल से भरोसा कर सकूं. इसका कारण यह था कि मैंने कई बार मां बेटे की चुदाई की कहानियां अन्तर्वासना पर पढ़ी थीं. मैं जान गया था कि वो चुदना चाह रही है वरना पहली बार में ऐसे वो लंड नहीं पकड़ती.

मैंने कहा- मेम, अगर आप बुरा न मानो तो क्या मैं आज बिना प्रोटेक्शन के … ? कर सकता हूं क्या?वो थोड़ा सोचने के बाद बोली- चलो ठीक है, लेकिन एक बात ध्यान रखना कि तुम्हारा माल अंदर नहीं गिरना चाहिए. इस समय उसने साड़ी पहनी हुयी थी और साड़ी भी उसके जिस्म से एकदम कसके बांधी गई थी. मेरा देवर तो जेठानी जी को देख कर ही बावला हो गया और बोला- मैं भी मज़ा लूंगा.

चुत वॉलपेपर

खैर … आप सभी का पुन: धन्यवाद कि आप सभी ने मुझे इतना अधिक प्यार दिया. फिर चाय का कप पकड़ते हुए उन्होंने मेरे हाथ को अपने हाथ से मसल दिया. वे मुझसे बोले- सुमीना, जल्दी से बाथरूम में छुप जाओ, बड़े साहब आ रहे हैं.

लंड देख कर मेरी हालत भी खराब होने लगी और मेरा मन भी चुदवाने के लिए करने लगा.

उसकी चूचियों के निप्पलों पर बेबीडॉल में कुछ फूल की कसीदाकारी थी, जिससे उसके पूरे मम्मे साफ़ दिख रहे था, मगर निप्पल ढके हुए थे.

मेरे ब्लाउज का गला बड़ा होने से मेरे दूधिया मम्मों का क्लीवेज साफ दिख रहा था. मैं कई सालों से अन्तर्वासना पर सेक्स कहानियां पढ़ रही हूं और उसी के हिसाब से मैं अपनी पहली कहानी लिख रही हूं। दोस्तो, मैं आगे भी कई कहानियां लिखूंगी जिनमें बताऊंगी कि मेरी जिन्दगी में कब और कितने मर्द आये और किन किन से मैंने चुदवायी है. नेपाली फुल सेक्सी बीएफमां अपनी गांड मरवाने का मजा ले रही थीं … और पापा भी मां को जबरदस्त पेले जा रहे थे.

सर ने चकित होकर कहा- आह्ह … मेरी नीता रानी, क्या लग रही हो आज तुम!ये कहकर मेरे माथे पर किस किया. रानी ने मेरे मुँह से अपनी तारीफ़ सुनी तो शर्माते हुए उसने थैंक्स कह दिया. मैं काउंटर पर आई तो मैनेजर ने मुझे 3000 रूपये दिये और मैं होटल से बाहर आ गई.

अब मेरा निकलने वाला था तो मैंने पल्लवी से पूछा- माल अंदर निकालूं या बाहर?वो बोली- अंदर निकालो. तब तक आप लोग भी अन्तर्वासना पर गर्म गर्म सेक्स कहानियों का मजा लेते रहें.

जब सेक्सी भाबी ने मुझे ध्यान से देखा कि मैं उन्हें ही घूर कर देख रहा हूँ.

6 फीट है। मेरा शरीर भी अच्छा दिखता है क्योंकि मैं रोज हल्की कसरत करता हूँ. फिर मैंने थोड़ी ज़िद की, तो मान गईं और उन्होंने मुझे अपना फोन नम्बर दे दिया. मैंने कहा- आंटी क्या मैं आपकी गांड मार लूं?आंटी ने हां कर दी,मैंने- ओके आप थोड़ा झुक जाओ.

सेक्सी बीएफ रंडी वो मेरी सलवार को मेरी टांगों से पूरी निकालकर अलग कर देता और मेरी चूत में अपना लंड चुभाने लगता. मां मेरी पैंट उतारने लगी और मैंने गांड उठा कर उनको जगह दे दी पैंट खींचने के लिए।पैंट नीचे करके मां ने मेरी अंडरवियर में हाथ दे दिया और मेरे लंड को पकड़ लिया.

पति ने मेरा ब्लॉउज खोला, निप्पल चूसे, साड़ी को कमर तक उठाया, पैन्टी उतारी और अपने गर्म लंड को मेरी चूत में डालकर चूत को मथनी की तरह मथने लगे।इसी तरह होते-होते चार दिन कब बीत गये, पता ही नहीं चला।मैं इतना कह सकती हूं कि मजा तो बहुत था इस चुदाई में! भले ही मैंने लंड के दर्शन नहीं किये हों. अगर सच कहूं तो मैंने एक बार जिया मेम को याद करके मुठ भी मारी थी जो कुछ दिन पहले की ही बात है. वैसे सच बताओ तुम कि मुझे याद करके कितनी बार हस्तमैथुन किया है तुमने?मैं- दो बार किया है मेम.

मां बेटे की सेक्सी वीडियो हिंदी

मैंने बची हुई आइसक्रीम भाभी की गांड पर गिरा दी, जो सीधे उनकी गांड की दरार से होते हुए सीधे चूत की फांकों तक चली गई. सुपारा अन्दर होते ही शैली चिहुंकी जरूर लेकिन उसके होंठ मेरे होंठों में फँसे हुए थे और कमर को मैंने जकड़ रखा था इसलिए वो कसमसा कर रह गई. मुझे ऐसा करने में बहुत मजा आता था और फिर रात में मैं उनके बारे में सोच कर मुठ मारा करता था.

वो बोला- तो फिर अब पीने में क्या दिक्कत है तुझे?मैंने कहा- अच्छा ठीक है. जैसे ही ब्रा उसके सीने से अलग हुई तो उसके बूब्स एकदम से बाहर आकर चमकने लगे.

दिव्या पांडे की उम्र 19 साल है, ये दीपक की छोटी बहन है और इसका फिगर साइज़ 34-28-36 का है.

इस के बाद कुछ ऐसा हुआ कि सुमित से मेरी अनबन हो गई और फिर उससे मेरा ब्रेकअप हो गया. मैं उसके होंठों को अपने मुंह में लेकर चूस रहा था। उसके होंठ इतने मुलायम थे कि बस पूछो मत।उसके होंठों को मैं लगातार चूसे जा रहा था। अपने हाथों से मैं उसके बालों को भी सहलाये जा रहा था। मैं उसकी जीभ अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। लगभग 20 मिनट तक ऐसे ही चूसने के बाद अपने एक हाथ से मैं उसके स्तनों को उसके सूट के ऊपर से ही दबाने लगा. उसके बाद मेरा कार्यक्रम बदस्तूर चलता रहा और मेरे एकाउंट में लगभग 5 लाख जमा भी हो गये.

अंजलि भी एकदम से हॉट हो गई और मेरे मुँह में अपने मम्मों को मानो पूरे घुसड़ने की चेष्टा करने लगी. फिर मैंने स्पीड बढ़ा दी क्योंकि मेरा माल निकलने के करीब पहुंच चुका था और किसी भी समय मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी उसकी चूत में छूट सकती थी इसलिए मैं उसे पूरी स्पीड से चोदने लगा. सामने मेज पर मेरी पसंद की दारू, काजू, चिप्स, पानी की बोतल और गिलास आदि सामान रखा था.

फ़रज़ाना की आंखें मुझे ही देख रही थीं और ऐसा लग रहा था कि पूछ रही हो … कैसा लगा रानी?मैंने भी अपना सिर हिला कर उसे जवाब दे दिया कि बहुत मस्त चुदाई करती हो डियर.

मैडम की बीएफ: अगले दिन जब दोपहर में घर पर कोई नहीं था, तो उनमें से एक घर पर आ गया. 10-15 मिनट की चुदाई के बाद उसने मुझे जोर से जकड़ लिया और मेरे गले को काटते हुए अपना माल मेरी योनि में गिरा दिया.

फिर मैंने उससे पूछा- मैं कैसा लगा?वो बोली- हम्म … ऊपर से तुम भी मस्त माल हो … मगर ताकत तो बाद में मालूम पड़ेगी. काफी देर तक हम किस करते रहे और वो मेरे मम्मों और मेरी चूत को सहलाता रहा. थोड़ी देर बाद किसी ने कहा- क्या यार खुद बैठ गए हो और उसे खड़ा रख दिया है.

उसे अपने रूम में लेकर गया। उसको समझाते हुए कहा- आपके लिये मैं हूं ना … मैं आपको कभी छोड़कर नहीं जाऊंगा.

ये कह कर चाची ने अपना मुंह दूसरी तरफ किया और अपनी साड़ी और पेटीकोट कमर तक उठा दिए. फोन सेक्स के माध्यम से हम दोनों अपनी चुत चुदाई और लंड की बातें करते रहते थे. मैंने प्रीति के स्तनों को जोर से दबाना शुरू कर दिया और उसके मुँह से सिसकारियां निकलने लगीं- आह्ह … उह.