बढ़िया बीएफ दिखाओ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी सेक्स बीएफ सेक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो फोटो का: बढ़िया बीएफ दिखाओ, जिससे देख कर मेरी बहन थोड़ा डरने लगी और बोली- तुम ये क्या कर रहे हो?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं बिना कुछ बोले उसकी तरफ बढ़ता रहा और जाकर उसके चूचों को दबाने लगा। जिससे उसने मुझे धक्का दे दिया।फिर मैंने गुस्से में बोल दिया- जब सारे मोहल्ले से चुदती फिरती है.

साउथ हीरोइन की बीएफ वीडियो

जब मैं बारहवीं कक्षा में पढ़ता था, घर से दूर हॉस्टल में बहुत उदास था. सेक्सी हार्ड बीएफमैंने तुरंत गीत को नीचे बिस्तर पर डाल दिया और उसके लिए गालियाँ निकालते हुए अपने लंड के फुव्वारे को उसकी छातियों पर छोड़ दिया।गीत और संजय दोनों ने मिल कर गीत के दोनों मम्मों को पकड़ लिया ताकि मेरे लंड की सीधी धार गीत की छातियों पर पड़े।मेरे लंड की फुआर गीत के मम्मों को तब तक नहलाती रही.

हम भी एक जगह पर बैठ गए और मैंने उसे किस किया।फिर अंधेरा होने के कारण कोई देख नहीं रहा था. बीएफ सेक्सी वीडियो चुदाई दिखाओशीतल की आहें तेज़ हो गयी और उत्तेजना की वजह से उसकी आँखें बंद हो गयी.

मैं मुँह धोकर आता हूँ।सोनी बोली- ठीक है।मैं मुँह धोकर रसोई में गया.बढ़िया बीएफ दिखाओ: जीजू को मेरी चूत बहुत पसंद है और वो मेरी चूत को बहुत देर तक चाटते थे.

फिर उसकी ब्रा को खोलने लगा। तभी मुझे एहसास हुआ कि उसके ऊपर टी-शर्ट भी पहन रखी है। फिर मैंने उसकी टी-शर्ट उतारी.अब तो मेरे पति जब जॉब करने जाते थे तो मैं घर का सारा काम करके अपने रूम में आराम से सोती थी.

सेक्सी बीएफ पटना का - बढ़िया बीएफ दिखाओ

कुछ देर लंड चूसने के बाद मैंने उसकी दोनों टांगों के बीच जाकर उसकी चुत पर लंड को टिकाया, तो वो एकदम कांपने लगी.इसलिए वो दूसरे बाथरूम में नहाने चली गई।मुझे अन्दर जाकर याद आया कि मैं अपना तौलिया बाहर ही भूल गया हूँ। मैं तुरन्त बाहर आया और अपने बैग से तौलिया निकाल कर वापस जा ही रहा था कि मुझे दूसरे बाथरूम में पानी गिरने की आवाज़ आई।मैं बाथरूम के दरवाज़े की झिरी पर आँख लगाकर देखने लगा। मेरे हल्के से हाथ लगते ही दरवाज़ा थोड़ा सा खिसक गया। मैंने थोड़ा और दरवाज़ा खिसका कर देखा.

फिर संडे को उनके घर गया, जहां भाभी जी ने मेरा स्वागत किया और मेरी अच्छे से खातिरदारी की. बढ़िया बीएफ दिखाओ जब मैं और मेरे पति एक मॉल में कुछ खरीदने के लिए गए थे। वहाँ मुझ पर एक मर्द रीझ गया, बेचारा आधे घंटा मुझे देख देखकर अपनी पैंट पर हाथ फेर रहा था, मेरा तो ध्यान ही नहीं था.

मैंने कहा- प्रिया कैसा लगा ट्रेलर?प्रिया ने मुस्कुराते हुए पूछा- ये ट्रेलर था?मैंने कहा- हां अभी तो पूरी रात बाकी है मेरी जान.

बढ़िया बीएफ दिखाओ?

ऐसा बोल कर वो मेरे पीछे आ गए और मुझे कमर से पकड़ के अपने शरीर से चिपका लिया. अन्दर हाथ डालकर लौड़ा हिलाना शुरू कर दिया। जैसे ही उसने राहत की सांस ली. मैं उसकी चूत में ही झड़ गया। एक-एक बूँद उसकी चूत में गिरा दी। फिर हम बाथरूम गए.

मुझको अब मज़ा आने लगा था, मैं हाथों पर ज़ोर देकर फिर से घोड़ी बन गई थी और भाई अब मेरे कूल्हे पकड़ कर ‘दे दनादन. और बोली- क्यों न हम लोग मिलें और मिल कर बाकी का कम निपटा लें?मैंने थोड़ा सा सोचा कि मिलने में कोई बुराई नहीं है।उसने मुझे अगले दिन अपने घर आने का न्योता दे दिया मुझे तो लगा कि मेरी मुराद पूरी हो गई।मैं बताए हुए पते पर बिल्कुल टाइम पर पहुँच गया और साथ में लाल गुलाबों का एक गुलदस्ता ले गया।घंटी बजाते ही उसने दरवाजा खोला. दादा जी ने अपनी धोती उतार कर फेंक दी और मैंने भी उनका साथ देते हुए उनका कुर्ता ऊपर को निकाल दिया.

पक्की रहोगी तो तकलीफ़ कम होगी।पायल- ये क्या बकवास बात कर रहे हो आप? मैं क्यों चुदूँगी. इसलिए वो बिस्तर पर सोते हैं।मौसी ने तो मेरे मन की बात बोल दी थी।मैंने कहा- कोई बात नहीं. मीठानंद अब समझ गए कि प्रीति की चूत में खुजली बढ़ गई है, जिसे उनका लौड़ा ही बुझा सकता है.

मेरे मुंह में देते क्यों नहीं।” वह बिलबिलाती हुई चिल्लाई थी।मुंह में देना ही ठीक था. फिर मैं लेट गया और उन दोनों के लेस्बियन सेक्स करने का इंतज़ार करने लगा।रात को करीब 11 बजे मैं उठ कर देखने के लिए गया.

उसने मुझे चिढ़ाते हुए कहा- अबे झल्लाती क्यों है? हम दोनों मिलकर कचूमर निकालेंगे न उसका.

भाभी की सास की आवाज़ आई- क्या हुआ बहू?मैं तो डर ही गया।भाभी ने कहा- कुछ नहीं मम्मी जी.

पर उसके हाथों की स्पीड और तेज हो गई और वो अपनी गति बढ़ाता ही जा रहा था। तभी अचानक मेरी चूत ने मूत्र का तेज धार वाला पानी उगल दिया और मुझे राहत की सांस मिली।उसके पूरे चेहरे पर पानी भर गया और मैं उठ कर उसको चूमने लगी।ये समय मेरी ज़िन्दगी में काफी टाइम बाद आया था और मुझे बहुत पसंद आया।अब बारी मेरी थी. हम चाहें तो तुम्हें पास करे या फेल।मैं थोड़ा सा डर गया।वो फिर बोली- मेरी एक बात मानोगे तो पास कर दूँगी. मेरी चूत जीजू का पूरा लंड अन्दर ले ले कर खुश हो रही थी और मुझे बहुत शांति महसूस हो रहा था.

वे मुझसे पोर्न को लेकर बात करने लगी थीं उनकी बातों में सन्नी लियोनि की चुदाई की फिल्म की ज्यादा बात हो रही थी. जब मैं 19 साल का था और मैं 12वीं में पढ़ता था। आज मेरी उम्र 23 साल है।हमारे घर के सामने एक हमारे दूर के चाचा रहते थे. हम दोनों लोग थोड़ा खुले हुए विचार के थे लेकिन दीदी के सामने मैं जीजू से कोई मजाक नहीं करती थी क्योंकि दीदी थोड़ा पुराने ख्यालों वाली थी.

तभी दादा जी ने मेरी तरफ देखा और फिर गुस्से से मेरी तरफ बड़े- अब तू बता … तू कौन है? और तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई हमारे बच्चे के साथ यह सब करने की?ऐसे ही चिल्लाते हुए दादा जी ने मुझे बाजू से पकड़ा और खड़ी कर दिया.

मैं घर पर कह देता हूँ कि मैं आज नहीं आ सकता।रात को खाना खाने के बाद मैं छत पर खड़ा अपने लण्ड को सहला रहा था. फिर मैं शाम को दादा जी और विकास से फिर मिलने का वादा करके घर लौट आई. उसके लिए आप सबका धन्यवाद।आज की कहानी में जिसके बारे में मैं बता रहा हूँ.

लेकिन आज मूड बनाकर लिख ही रहा हूँ।दोस्तो, मैं नोएडा में रहता हूँ और सॉफ्टवेयर इंजीनियर हूँ. ’अब पिंकी की चीखें लगातार निकलने लगीं। मैं जरा रुका और 2 मिनट ऐसे ही उसके ऊपर लेट कर उसके पीठ पर हाथ से सहलाने लगा।दो मिनट बाद पिंकी भी गाण्ड को उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी। मैंने लण्ड को धीरे-धीरे से अन्दर-बाहर करना चालू कर दिया। पिंकी अब भी थोड़ा कराह रही थी ‘ऊऊ कक्क. मुझे जीजू को देख कर ही लगता था कि ये थोड़ा आशिक मिजाज हैं और वो मुझे बहुत छेड़ते थे.

और ऐसी चैन‌ पहनने वाली लड़की‌ की तलाश तो मैं सुमन की शादी से कर रहा था.

प्रिया ने अपने दोनों हाथों से मेरी बांहों को पकड़ा हुआ था और जैसे कोई घोड़े पर बैठकर उसकी सवारी करते हुए आगे पीछे हिलता है, बिल्कुल वैसे ही प्रिया भी मेरे लंड पर बैठकर आगे पीछे हिल रही थी. माइक हाफ पैंट में था, मुनीर एक बेबीडॉल नाइटी में थी, जो कि केवल घुटनों से कुछ ऊपर तक की होती है.

बढ़िया बीएफ दिखाओ मुझे आया देख कर वो चाय ले कर आई और मेरे सामने बैठकर खुद भी चाय पीने लगी. सुपाड़ा घुसने के बाद प्रिया ने मेरे लंड पर से अपना हाथ हटा लिया और दोनों हाथ मेरे सीने पर रख कर धीरे धीरे मेरे लंड को अपनी चूत के अन्दर उतारते हुए उस पर बैठने लगी.

बढ़िया बीएफ दिखाओ मेरा माल निकल रहा था।हर बूँद पर सुनयना भी झटके लेने लगी और मैं भी उसके ऊपर निढाल हो गया।फिर हम दोनों लेट गए. यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !ममता का बदन अकड़ने लगा.

तो हम लोग चल दिए वहाँ जाने का रास्ता बहुत अच्छा था तो मैंने गाड़ी की स्पीड तेज कर दी.

मोटी आंटी की सेक्सी

उसे लिंग चूसते हुए काफी देर हो चली थी, तब मुनीर सामने आई और उसने तारा का पजामा और पैंटी निकाल कर उसे पूरी तरह से नग्न कर दिया. मेरे मामा के घर मामा-मामी और उनकी दो बेटियाँ हैं उनकी सिर्फ दो बेटियां आनवी और अनु हैं. ’ की आवाजें निकाल रही थी। मेरा लण्ड तो मानो लोहे की तरह सख्त हो चुका था।मैं उसके पूरे बदन पर चुम्बन कर रहा था और उसके मम्मों को जोर-जोर से मसल रहा था। रेणु के मुँह से कराहने की आवाजें आ रही थीं.

त्यानंतर त्याने मला सोफ्यावरच नागडे केले, आणि माझी पुद्दी चोळता चोळता तो मला शिव्या देवू लागला. ?मेरी बात सुन कर उसने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिए। मुझे मज़ा आने लगा और मैं भी अपने चूतड़ों को हिला-हिला कर उसका साथ देने लगी। मेरे मुँह से बड़ी ही मादक आवाजें निकल रही थीं।मैं सिसकारी लेकर कहने लगी- आहह्ह्ह सीईईई. तभी राजीव अंकल मेरी पीठ पर बेहोश की हालत में चिपक कर मुझे चूमने लगे और बोले- वन्द्या थैंक्स … आज मुझे तेरी गांड चोदने में जो संतुष्टि मिली, पूरी जिंदगी में कभी ऐसी सेक्सी चुदाई नहीं मिली, ना ऐसा मजा मुझे मेरी बीवी को चोदने में मिला, न कभी और बाहर वालियों को चोदने में मिला.

कुछ तो शर्म करो!’‘अब तुमसे कैसी शर्म… अब तो तुम मेरी रानी हो…’ रोहन हँस पड़ा।‘आज रात का क्या प्रोग्राम है.

तो फिर उसने कहा- प्लीज़ जानू अगर मुझसे प्यार करती हो तो मेरे लंड को चूसो. ये कहते हुए संजय ने उसकी गाण्ड पर एक चांटा लगा दिया।गीत के मुँह से ‘आह. मैं समझ गया कि उसकी इच्छा है।मैंने उसे पैसे दिए और एक और क्वॉर्टर लाने कहा।वो खुशी-खुशी गया और 5 मिनट में क्वॉर्टर ले के आ गया।अब मैंने उसे भी ड्रिंक बना के दिया.

फिर उसका ब्लाउज निकाल दिया। वो दोनों हाथ से अपना शरीर छुपाने लगी।मैं ब्रा के ऊपर से उसके चूचे सहलाने लगा, फिर मैंने उसके होंठों को चुम्बन करने लगा और साथ में उसकी चूचियों को भी दबाने लगा।अब वो मेरा साथ देने लगी।मैंने चुम्बन करते हुए धीरे उसके पेटीकोट का नाड़ा खींच दिया। वो सिर्फ ब्रा में मेरे सामने थी. ’ करते हुए चाचा से लिपट कर पूरी चूत चाचा के हवाले करके मैं बुर को चाचा की तरफ करके दूसरे शॉट का इंतजार करने लगी।चाचा मेरी चूचियों को मुँह में भरकर लण्ड को चूत पर दबाने लगे।तभी मेरे कानों में पति के बुलाने की आवाज सुनाई पड़ी- नेहा कहाँ हो. यह बात 2 साल पहले की है, मैं अपने घर के आगे चौकी पे बैठा फ़ोन में एडल्ट साइट देख रहा था.

जिससे वो और भी खुश हो गई और मुझसे लिपट गई।फिर मैंने अंजलि के बारे में पूछा. लेकिन वह अभी कुछ देर पहले मेरे कमरे में आकर पूछने लगा कि क्या सोचा है.

मैंने ज़्यादा देर ना करते हुए एक धीरे से झटके से अपने लण्ड को उसकी चूत में सरका दिया। वो इतनी टाइट भी नहीं थी इसलिए आधा लण्ड आराम से चूत में चला गया। अब मैं लौड़े को आगे-पीछे करने लगा. कमरे में चाचा जी हैं और तुम उस कमरे में क्यों जा रही थीं?मैंने बहुत मिन्नतें कीं. ऐसे में किस मर्द की मर्दानगी न जोर मारेगी, माइक का भी यही हुआ, ये सब देख कर उसका लिंग सन्न से खड़ा हो गया और टनटनाने लगा.

उसमें डीवीडी भी लगा हुआ था उसे ऑन किया और उसमें एक इंग्लिश ब्लू-फिल्म लगा दी। उसमें चुदाई चल रही थी।वो मेरे पास आकर बैठ गया और फिल्म देखने लगा.

फिर थोड़ी देर और इसी अवस्था में एक दूसरे को प्रेम करने के बाद दोनों औरतों ने 69 की अवस्था अपनायी और एक दूसरे के मुँह से चूत का अभिवादन करने का कार्य शुरू हुआ. तब मेरी लड़कियों से बात होने लगी तो मेरी लड़कियों से झिझक खुल सी गई।उसी बीच मैंने फिर से जाहनवी से बात करना शुरू किया. ’‘तो तुमने क्या जबाब दिया?’‘मैंने कहा कि उसका कोई टाइम फिक्स नहीं होता है।’इतना कहकर मैं मॉल के मेनगेट की तरफ मुड़ी।मेरे पति ने मेरे साथ चलते हुए पूछा- क्या हुआ क्यों नाराज हो?मैंने पति की तरफ थोड़ा गुस्से से देखकर कहा- तुम्हारा घोड़ा कहीं भी खड़ा हो जाता है.

मैंने उसके दूध मसलते हुए बोला- आज तूने दिल खुश कर दिया जान, देख सामने कैसे तेरी टांगों के बीच में मेरा मूसल घुसा है. इस बार उसकी आंखों में उत्तेजना के साथ साथ हल्की सी हया के भी भाव थे.

मैं तो बस कभी कभी लंड को थोड़ा सा साइड में हिला लेता था और मज़ा ले लेता था. पुनीत ने लौड़े को गाण्ड पर टिकाया और प्यार से छेद पर लौड़ा रगड़ने लगा।पुनीत- अरे जान. उसके जाने के बाद उन दोनों ने मुझसे पूछा- बोलो मैडम जी, कहा करती थी कि मैं लंड नहीं लूँगी.

आदिवासी लड़की की जंगल में चुदाई

प्रीति ने अपने एक हाथ से मीठानंद के कच्छे का नाड़ा खोला और पूरा नंगा कर दिया.

मैंने ब्लाउज के ऊपर से ही दबाना चालू कर दिया… इधर मेरा लंड टाइट हो गया था. साफ़ शब्दों में कहूँ तो वे एक माल थीं और मेरे डैड को अपने बिजनेस से फुर्सत नहीं होने के कारण उनकी जवानी का रस बह रहा था।खैर. मेरे हाथों ने साड़ी को तब तक निकल फेंका था और हम जंगलियों जैसे एक दूसरे में समाने को आतुर हो गाए थे.

यह घटना दो वर्ष पहले की है, जब मैं 22 साल का था और मेरे चाचा की लड़की 19 साल की थी. पहले मैंने उसके निप्पल चूसे तो वो गनगना उठी- संजू भैया, गुदगुदी सी हो रही है. ब्लू फिल्म बीएफ वीडियो ब्लूतो संजय ने उसकी कमीज़ की बैक से हुक खोल दिया और उसकी पीठ पीछे से नंगी हो गई।अब गीत पूरी मस्ती में थी। मैं उसकी नंगी पीठ को अपने मुँह से सहलाता हुआ उस पर गर्म साँसें छोड़ रहा था और उसकी पीठ पर किस करता जा रहा था।मैं उसकी पीठ पर हाथ से सहलाने भी लगा था।तभी मैंने उस गीत को और गर्म करना चाहा.

और कोई भी उस कालोनी क्या पूरे शहर में मुझे कोई किराए पर कमरा नहीं देगा।जहाँ तक उस औरत ‘कोमल’ की बात है, वह सांवले रंग की 28 वर्षीय सेक्सी महिला है. जिसने मुझको सम्पूर्ण नग्न देखा है।दोस्तो, लड़की को चोदने का मज़ा तो उसको पूरा नग्न करके ही आता है। जब तक दो नग्न जिस्म आपस में रगड़ न खाएं.

लेकिन दोस्तो, मुझे उस टाइम रगड़ने पर बहुत मज़ा आ रहा था। फिर मैंने देखा कि उसकी चूत से हल्का-हल्का पानी आ रहा है। मैंने तेज़ी से एक झटका मारा तो मेरा पूरा लंड गीलेपन की वजह पूरा ‘फ़च्छ’ से अन्दर चला गया।वो कराह उठी- उफ़फ्फ़…मैंने धीरे-धीरे अन्दर बाहर करना शुरू करके उसे चोदने लगा। मुझे उस समय लग रहा था कि मानो धरती के स्वर्ग पर हूँ। उसके मुँह से आवाज़ आने लगी- सससस्स. नीतू रानी तुरंत ही पलट गई और अपनी गांड उठाते हुए बोली- पेलो राजा जी, तुम्हीं मेरी चूत का कल्याण करो. यह बोल कर दीप्ति ने मुझे जोरदार किस किया और मेरे खड़े हो चुके लौड़े को बाहर निकाल कर किस किया। उसके बाद हमने एक बार चुदाई की.

फिर उस दिन और कुछ भी नहीं हुआ हम लोग घूमने जाने को तैयार हुये और घूमने चल दिये. तो मैंने कहा- तुम बार-बार मना क्यों कर रही हो?वो बोलीं- क्योंकि मेरा पीरियड चल रहा है. उसे लिंग चूसते हुए काफी देर हो चली थी, तब मुनीर सामने आई और उसने तारा का पजामा और पैंटी निकाल कर उसे पूरी तरह से नग्न कर दिया.

लग रहा था कि मार दूँ वहीं पर लेकिन नहीं मार सकता था।हमारी चुदाई अधूरी रह गई थी।फिर से वही चलता रहा.

क्या बड़े-बड़े मम्मे थे।उसने भी कुछ नहीं कहा और अपने मम्मे रगड़वाती रही। उसको भी मजा आ रहा था। फिर मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा. फिर मैं नीचे गई, नहा कर उन दोनों के लिए नाश्ता चाय बनाया और लेकर ऊपर गई.

मैंने उसके पैरों को और फैला दिया और उसके पैरों के बीच में बैठ गया, मैंने चूत के द्वार पर अपना लण्ड का सुपारा रख दिया. तेरा तो माल निकल ही नहीं रहा है!मैंने कहा- अभी तो मैंने घुसाया ही नहीं आपकी चूत में. ऐसे व्यक्ति जिन्हें बहुत कोशिश करने के बाद भी अपनी मर्ज़ी के मुताबिक अपने पार्ट्नर से सेक्सुअल संतुष्टि ना मिले.

’ कर रही थी।मैं अपना लंड निकाल कर उसके मुँह में डालने लगा लेकिन वो मुँह नहीं खोलना चाहती थी. डेस्क की तलाशी लेतीं।एक दिन मैंने गुस्से से उनसे पूछ लिया- आप सिर्फ मेरी तलाशी क्यों लेती हो? क्लास में और भी तो स्टूडेंट्स हैं. ओफ्फ … माँआ … उईईई … मररर गईई … अब और नहीं सह पाऊंगी … प्लीज बाहर निकालिएए!” मैं रोनी सूरत बनाते हुए बोली.

बढ़िया बीएफ दिखाओ प्रिया की बहन नेहा कॉलेज में गयी हुई थी और उसका भाई कुशल पास के ही मैदान में क्रिकेट खेल रहा था. तारा ने मुझसे कहा कि मैं हैडफ़ोन लगा लूँ ताकि जो वो कहना चाहे, मैं उसे सुन सकूं क्योंकि उनमें से कोई लिखना नहीं चाहता था.

ब्लू फिल्में दिखाएं हिंदी में

’ की आवाज़ आने लगी। तभी मैंने उनको बिस्तर पर लेटा दिया और उनको किस करने लगा।अब वो भी गरम हो चुकी थीं और वो ‘ना’ भी नहीं कर रही थीं।मैं मामी के कमीज को ऊपर करके मम्मों के निप्पलों को चूसने लगा।मैं अपने हाथ से उनकी चूत को सलवार के ऊपर से ही सहला रहा था।बहुत मज़ा आ रहा था… मामी ‘अहह. फ़िर उसके होंठों पर किस करना चालू किया। उसके होंठ इतने रसीले थे कि ऐसा लग रहा था बस इसे चूसता ही रहूँ।मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और अन्दर बेडरूम में ले गया, बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर लेट गया।अब मैं उसे किस करने लगा, किस करते-करते मैं नीचे आ गया, मैं उसे गर्दन पर किस करने लगा. तो म्हणेल तर तू सटीस्फाई झाली असे आम्ही मानु ,ठीक ? राखीने मानेनेच होकार दिलापुढे वाचण्यासाठी वाट पहा !अभिजित / चुतचोदू[emailprotected].

लंड तो ऐसा लग रहा था, जैसे निकलता ही जा रहा हो और बहुत ही लम्बा होता जा रहा हो. वो मारे मस्ती के हांफने लगी और थोड़ी ही देर में उसने अपना ढेर सारा पानी मेरे लौड़े पर छोड़ दिया. नौकर मलकिन का बीएफमुझे चाटते हुए वो मेरे लंड पर पहुँच गईं और ऊपर से उसे पकड़ कर बोलीं- कितना मोटा है रे.

उसकी टाँगों के बीच में आ गया।अब मैंने एकदम से चूत को चाटना शुरू कर दिया और मैं इस बार जोर-जोर से चूत को पूरा मुँह में भर कर चाट रहा था। उसका पानी और चाकलेट का टेस्ट बहुत मस्त लग रहा था। कभी-कभी तो मैं उसकी चूत के दाने को अपने होंठों में दबा कर खींच लेता.

इसलिए मैंने भी उसके एक होंठ को अपने‌ मुँह में भर लिया और उसे चूसना शुरू कर दिया मगर प्यार से. उसके जिस्म को पागलों की तरह इधर-उधर ज़बान से खूब चाटा। गोल गहरी नाभि अपनी अदाओं से मेरी जीभ को चाटने का आमंत्रण दे रही थी और मेरा लंड भी उसे चाटना चाहता था।अनु बोली- जल्दी से चूत को चाट कर चूत की खुजली मिटाओ भैया.

मुझे देख वो बोली- मैडम अन्दर हैं मैं जा रही हूँ, अन्दर से कुंडी लगा देना. मैं फिर भाभी को बाईट करने लगा और कमीज के ऊपर से उनके मम्मों को मसकता रहा।वाह. तुम्हें नहीं पता जल्दी क्यों आया हूँ?” मैंने हंसते हुए कहा ‌और सीधा ही प्रिया को पीछे से पकड़ कर अपनी बांहों में भर लिया.

मैं आपकी बहन हूँ।भाई ने लौड़े को गाण्ड पर टिकाया और प्यार से छेद पर लौड़ा रगड़ने लगा।भाई- अरे दीदी डर मत.

कुछ ही पलों में वो एक तेज ‘आआ … अहअ … अअअह … ओह्ह …’ करते हुए झड़ गई. मेरी पिछली कहानी थीकमसिन साली की मस्त चूत चुदाईतो एक बार फिर आपका अपना सरस आपके सामने हाजिर है, एक नई और बेहतरीन कहानी लेकर. फिर उसने रोहित का लिंग हाथ में ले कर इधर-उधर करके चेक किया।ऐसे कुछ पता नहीं चल रहा.

सेक्सी वीडियो बीएफ जबरदस्ती वालीआज तक मुझे जिस भी मर्द ने देखा है, उनमें ऐसा कोई भी नहीं है, जिसकी नियत मेरे लिए खराब न हुई हो. जिससे अनु को दुगना मज़ा मिल सके और वो जन्नत की सैर का भरपूर आनन्द ले सके।थोड़ी देर बाद मैंने लंड को गाण्ड से खींच लिया और अनु की मम्मों पर सारा वीर्य गिरा दिया।फिर अनु के मुँह में लंड डालकर उसे साफ़ करने के लिए चूसने को कहा। अनु जानती थी चूसना तो हर हाल में होगा.

xxx वीडियो सेक्सी

फिर मुन्ना अंकल बोले- आजा अंकित तू बर्दाश्त नहीं कर पायेगा, वन्द्या जैसी खूबसूरत माल सामने चुदवा रही हो तो कोई मर्द खुद को संभाल नहीं सकता!अंकित बोला- अंकल, आप दोनों करो पहले, मुझसे बर्दाश्त नहीं होगा तब देख लूंगा. मेरी प्यासी चूत को बहुत दिन के बाद लंड मिल रहा था और मैं बहुत मजे से जीजू के लंड से चुदवा रही थी. उसका नाम स्वाति था, वह बहुत सुन्दर थी, उसकी फिगर कयामत थी, उसका रंग दूध की तरह सफेद था, उसकी आँखों में एक अलग सी चमक थी।मैं तो उसका दीवाना सा हो गया था, वो एकदम हूर की परी लग रही थी।मैंने दोनों को ‘हैलो’ बोला और अपने कमरे में सामान लगाने लगा। मैं सुबह लगभग 7 बजे उनके घर पहुँचा था। मेरा साला ऑफिस के लिए निकलने वाला था.

वो अगली कहानी में लिखूँगा।प्लीज़ अपनी राय ज़रूर दें।[emailprotected]. तो मैंने देखा कि मेरी सीट से दो सीट छोड़ कर उसकी सीट थी। मैंने कोई ज्यादा ध्यान नहीं दिया. करीब 10 मिनट के बाद मैंने उनके मुँह में अपना पानी छोड़ा और उन्हें पिला दिया। फिर हम नंगे ही नहा कर बाहर आए और मैंने उन्हें बिस्तर पर पटक दिया और कहा- अब तुम्हारी चूत चोदूँगा।वो बोलीं- प्लीज़ चूत में मत डालो.

कुछ?तो भाभी बोली- मेरा मतलब है कि किसी के साथ सेक्स किया है?मैंने कहा- नहीं. मैंने उसकी चुत पर थोड़ा थूक लगाया और उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दी. इसके बाद हम दोनों मम्मी पापा की चुदाई देखते और गर्म होकर उनके जैसे ही चुदाई के आसनों का मजा लेते.

उसने मुझे दोपहर में एक बजे आने का बोल दिया।दोपहर में जब मैं टेस्ट के लिए गया. मैं यही सोचते हुए नाईटी ऊपर करके बुर सहलाने लगी। मैंने जैसे ही बुर पर हाथ रखा.

किस करते हुए हम दोनों का जोश वापस आ गया। अब मैंने उसकी पैन्टी उतार दी। उसने भी मेरे सारे कपड़े खोल दिए।हम दोनों चुदाई चालू करने ही वाले थे कि अंकल-आंटी वापस आ गए।वो बाहर दरवाजे की घन्टी बजा रहे थे। हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े जल्दी से पहने.

लेकिन अब सारी आवाज़ मेरे मुँह में दब गई थी। उधर ट्रेन छुक-पुक कर रही थी. भोजपुरी बीएफ वीडियो सॉन्गदु:ख रहा है।तो वो रुक गया और धीरे-धीरे मेरी गाण्ड मारने लगा। मुझे अभी भी हर धक्के पर दर्द हो रहा था. सेक्सी वीडियो दिखाएं सेक्सी वीडियो बीएफतो मुझे भी घबराहट हो रही थी कि पहली बार 7 इंच का लंबा और मोटा लंड अन्दर ले रही हूँ बहुत दर्द होगा।उसने फिर से मेरे होंठों को अपने होंठों में भर लिया. ऐसा लगता है कि आप पर कोई सांड का साया चढ़ जाता है।मैंने कहा- अनु डार्लिंग.

जिन्होंने अपने लंड के तस्वीरें मुझे भेजी और देसी सफारी काले लंड का एक नज़ारा दिखाया क्योंकि मैंने शायद ही इतने बड़े भारतीय लंड को देखा होगा।आशा है आप यूँ ही अपना प्यार मुझ पर न्यौछावर करते रहेंगे।खैर छोड़िये इन बातों को.

फिर धीरे से उठा। मैंने देखा उसका लंड वीर्य से सना पड़ा था और नीचे लटक गया था। उसका लटका हुआ लंड भी मुझे काफ़ी बड़ा लग रहा था।मैंने दर्पण में अपनी चूत की तरफ़ देखा. मैं आज आप सबको अपनी एक रियल सेक्स कहानी सुनाने वाला हूँ, जो मेरे साथ हुआ. जब मैंने नाइटी लूज़ करके थोड़ा नीचे खिसकाया था तो भाभी के लगभग आधे बूब्स दिख रहे थे.

मैं उसको सीधी लेटाकर टाँगें चौड़ी करके फनफनाते लण्ड को उसकी बुर पर रगड़ने लगा।तब वो बोली- अब मत तड़पाओ यार. तो बुन्देलखन्ड एक्सप्रेस में मेरी पास वाली सीट पर एक मस्त लड़की बैठी थी. शीतल का चेहरा बाथरूम के शीशे की तरफ था और विक्रम शीतल के पीछे खड़ा था तो जब शीतल की चूचियां पूरी नंगी हो गयी तो वो सामने शीशे में शीतल की खुली चूचियों को साफ़ देख सकता था.

ट्रिपल एक्स सेक्सी व्हिडिओ इंडियन

मैं इस कहानी में कुछ जगहों के नाम और मेरी भतीजी का नाम बदल रहा हूँ क्योंकि अब उसकी शादी हो गयी है. अब तो यह हाल हो चुका था कि सारंगी लंड निकालने के लिए आगे को भागने लगी. पर बस मेरे मन में एक ही बात चल रही थी कि आज रात को प्रिया की गांड मारनी है.

उन्होंने मेरी कमर के नीचे तकिया लगा दिया, जिससे मेरी चुत ऊपर की ओर उठ गई.

और आपका लन्ड लगातार मेरी चूत के दरवाजों को तलाशता हुआ ही लग रहा है.

आज हम दोनों लोग घर में अकेले थे और दीदी और मम्मी दोनों लोग कपड़े खरीदने के लिए बाजार गए हुए थे. तो अभी मेरे घर आ जाओ।मैंने फ़ोन रखा और जल्दी से तैयार होकर माँ से कहा- मैं दोस्त के घर जा रहा हूँ।मैं बाइक लेकर चल दिया। उसके घर पहुँच कर बेल बजाई. सेक्सी बीएफ एचडी लोकलअब आगे की कहानी में लड़का लड़की का नाम लेकर और उनकी अधूरी चुदाई की पूरी दास्तान लिखूँगा।[emailprotected].

मैंने कहा- कैसे?तो बोला मैंने भाभी के बेडरूम की खिड़की का दरवाजा थोड़ा एडजस्ट कर दिया, जो बालकनी में खुलता है और अब बंद करने के बाद भी बालकनी से बेडरूम में देख सकता हूँ. भैया के कहने‌ पर मैं उसी दिन शहर के सभी कम्प्यूटर सेन्टरों में घूम फिर आया मगर सभी जगह कोर्स शुरू हो चुके थे और कोर्स के बीच में कोई दाखिला‌ देने को‌ तैयार नहीं था. वहां पर पहले से ही कोई लड़का बैठा था, जो काफ़ी जवान था और चड्डी में था.

वेटर ने हमको रूम दिखाया और कुछ सामान की जरूरत के बारे में बताते हुए कहा- सर कोई भी जरूरत हो तो प्लीज़ फोन कीजियेगा. हालांकि उत्तेजना में मैंने वो अनुभव भी लिया है, पर मैं उससे ये उजागर नहीं करना चाहती थी.

हालांकि हम दोनों ने कभी अपने प्रेम का इजहार नहीं किया था, लेकिन ये बात हम दोनों ही समझते थे कि हमारा लव अफेयर हो चुका है.

शीतल अब रुकने के मूड में नहीं थी, वो अपने बेटे की तरफ पलटी और उसने अपने होंठ उसके होंठों से जोड़ दिए. इससे रवि मेरी जरूरत को समझ गया और वो ज़ोर ज़ोर से मेरी चूत में उंगली डाल कर सहलाने लगा. मेरी आवाज लगाते ही पत्नी तुरंत कमरे में आ गई और वहाँ हम दोनों जीजू साली को पूरी नंगी हालत में देख कर मेरी पत्नी ने कहा- ओ माय गॉड …कहानी जारी रहेगी.

बीएफ चोदा चोदी की फोटो अब पूजा ने हंसते हुए मुझसे पूछा- आप कैसे मुझे बोर नहीं होने देंगे?मैंने पूजा से बोला- मैं आपको अच्छे अच्छे किस्से सुनाऊंगा, जोक सुनाऊंगा, और इसके अलावा आप जो भी कहेंगी मैं वो भी करूँगा. मैंने अब तक सभी कहानियाँ पढ़ी हैं। तो सोचा क्यों न अपनी भी सच्ची कहानी आप लोगों को सुनाता हूँ।और अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है। मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगों को पसंद आएगी।मेरी लंबाई 5.

चाची मेरा सिर पकड़ के चुत के अन्दर खींच रही थीं और मेरे सिर में हाथ फेर रही थीं. मैंने उसकी चूत में अपनी उंगलियां तेजी से पेलनी शुरू कर दीं, उसकी मुनिया से झर झर पानी की धार बह कर उसकी जांघों पर होते हुए फर्श को गीला करने लगी. वे मम्मों के बीच में लंड रगड़ने लगे और बोले- साली कुतिया रंडी वन्द्या.

साली की चुदाई की वीडियो

उसने फिर से वही स्माइल दी और चली गई।उसके बाद मैं अगले दिन फिर गया और बाइक उसके सामने रोक दी। उस समय उसके साथ एक सहेली भी थी। उसने अपनी सहेली के कान में कुछ कहा और मेरी बाइक पर बैठ गई।मैं सोच रहा था कि उससे बात कहाँ से शुरू करूँ।मैंने उसका नाम पूछा. बैठने में दिक्कत है क्या?तो बोली- हाँ तूने ढंग से बैठाया ही कहाँ है आज तक. बहुत ही ज्यादा टाइट चूत थी और गीली भी बहुत हो गई थी।अब सोनी से रहा नहीं जा रहा था.

हम दोनों सेक्स करने के बाद एक दूसरे से चिपक कर लेट गए और ऐसे ही कुछ देर तक लेटे रहे. शायद यह बात स्वाति ने नोटिस नहीं की थी। मैं फ्रैश होकर खाना खाने के लिए आ गया, स्वाति ने बड़े प्यार से खाना परोसा।तब तक मेरा साला भी आफिस से आ गया था। खाना खाते समय मेरे साले ने बताया- मुझे आफिस के काम से चेन्नई जाना पड़ रहा है और एक हफ्ते के बाद लौट पाऊँगा।वैसे तो हर बार वो स्वाति को अपने साथ ले जाता था.

तो वे तीनों बहकने लगीं।पहले हम सब बाथरूम में गए और अपना-अपना हथियार साफ किया और कमरे में आने के बाद वे सब एक साथ मुझ पर भूखे शेर की तरह टूट पड़ीं।सब नशे में थे.

वह मेरा पूरा साथ दे रही थी और मेरे हर चुंबन का बड़ी ही बेदर्दी तरीके से जवाब दे रही थी. मधु 3-4 मिनट में ही थक के जमीन पर लेट गयी और मैं वैसे ही उसके ऊपर लेट कर मधु को चोदने लगा. वो रोज कॉलेज के बाद अपनी पढ़ाई के लिए कोचिंग करती थी और शहर में किराए से रहती थी।उस दिन शनिवार था और अगले दिन रविवार था जोकि छुट्टी का दिन होता है। लड़की अपनी कोचिंग क्लास के बाद गाँव आ रही थी.

उसका नाम था रोज़ी। वो दिल्ली के रहने वाली थी, उसका नाम मैंने बदल दिया है. फिर मैंने उसकी लैगिंग्स उतार दी और पैटी के ऊपर से ही उसकी चुत चाटने लगा. जैसा कि उसको यकीं था वैसा ही हुआ, उसकी चूत गर्माने लगी, मेरी उँगलियाँ अपना काम करने लगी थी, पर वो बात नहीं बन रही थी.

मगर फॉरप्ले से पहले चंद बातों का ख़याल रखना बहुत ज़रूरी है।वो इस प्रकार है-1- ये बेहतर होगा अगर आप मॉर्निंग में ही डिसाइड कर लें कि आज की रात ज़िंदगी की एक हसीन रात होगी। ये एहसास दिन भर पत्नी (पार्ट्नर) के दिल में फूल खिलाते रहेंगे।2- अगर आप शेव करते हैं तो आप उस शाम को ज़रूर शेव करें।3- उस दिन ड्रेस का ख़ास ख्याल रखें.

बढ़िया बीएफ दिखाओ: फिर कुछ ही देर में मैंने अपनी फुल स्पीड में पिंकी की चुदाई करना शुरू कर दी।पिंकी भी मजा लेते हुए जोर-जोर से मुझे उकसाने लगी- आह्ह. उसका चूतरस मुझे और उत्तेजित करने लगा।थोड़ी ही देर में मेरा लौड़ा फिर से खड़ा हो गया।मैं उसकी चूत को लगातार चाट रहा था। अचानक से वो अकड़ने लगी और वो सिसकारने लगी- मैं जाने वाली हूँ.

पूरा घर पानी-पानी हो गया।कीर्ति भाभी और मैं घर साफ करने लगे। हम दोनों भीगे हुए थे। कीर्ति का नाइट ड्रेस उसके शरीर से चिपका हुआ था. आप जैसे कहेंगे मैं वैसा ही करूँगी।इसी बीच राकेश ने मेरे कंधे पर हाथ रख दिया और उसे दबा दिया. लेकिन वो बस हल्का सा मुस्कुरा के मुझे अन्दर आने के लिए कहने लगीं।मामी अपने कमरे में सो रही थीं, भाभी मुझे अपने कमरे में ही ले गईं और मेरे लिए पानी लेने गईं।यार उनके चूतड़ क्या लग रहे थे.

दो-तीन बार फोन करने के बाद भी मैं उससे कह नहीं पाया।फिर मैंने पूरा दम लगाकर उसे फोन किया और उसे मैंने बोल दिया- सुमा आई लाइक यू।उसके बाद उसने कुछ जवाब नहीं दिया।मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?उसने जवाब नहीं दिया फोन रख दिया।अगले दिन जब वो कॉलेज में आई.

बातों-बातों में भाभी ने पूछ दिया- अजीत क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेण्ड नहीं है?मुझे हल्का सा झटका सा लगा. पांच दिन बाद इतवार को मैं घर आने वाला था और सोमवार को हम दोनों को मिलना था. मुझे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था, मैं भी उसे किस करने लगी और तौलिया के ऊपर से ही उसके लंड को मसलने लगी।वो मुझे किस करता रहा और एक हाथ से मेरी चूचियों को भी मसलता रहा।मैं बता नहीं सकती.