बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी

छवि स्रोत,हिंदी सेक्स ऑडिओ

तस्वीर का शीर्षक ,

जम्मू कश्मीर सेक्सी: बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी, मेरी गांड बड़ी होने की वजह से जब मैं मटक कर चलती हूँ, तो पीछे से मैं और भी ज़्यादा सेक्सी दिखती हूँ.

सेक्सी वीडियो देहात वाला

उससे मेरी दोस्ती कैसे हुई? बस में हमने क्या क्या किया? उसके बाद हम कैसे और कहाँ मिले?नमस्ते, मेरा नाम कमल है. लड़की से बात करने वाला नंबरवो मेरे मम्मों को कुछ इस तरह से चूसने की प्रक्रिया अपना रहा था, जिससे मुझे अद्भुत सनसनी होने लगी थी.

कुछ देर के बाद जब अचानक से मेरी नींद हल्की सी टूटी तो मेरी नजर भाई की ओर गयी. सोना चांदी सेक्सी वीडियोवो बहुत ही खूबसूरत औरत थीं, उन्हें देखकर कोई भी नहीं कह सकता था कि वो एक बच्चे की मां हैं.

मेरे शौहर कुछ बोलने को हुए तो टी टी ने एक थप्पड़ मारा और कहा- मुंह खोला तो मार मार के मुंह लाल कर देंगे, एकदम मुंह बंद करके बैठ.बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी: शायद उन्हें लगा होगा कि मैं गहरी नींद में हूँ इसलिए बड़ी मम्मी जी बिंदास होकर अपनी चुत और चूचियां दिखा रही थीं.

फिर मुझसे कहा- मैडम, आपका नाम लिस्ट में नहीं है और मुझे आपके शौहर कहीं नहीं मिले.वो मेरे पापा के पास आया और पापा ने उसको एक दो कमरे का फ्लैट किराए पर दिया था.

2021 सातवां महीना - बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी

बाजी बोली- जान बच गई; वर्ना मुझे तो लगा कि ये साली किसी के सामने अपना भोसड़ा खोल देगी तो अब्बू हम दोनों को जान से मार देंगे।मैंने कहा- बाजी, राबिया के बारे में सोचो कुछ वर्ना ये कहीं गलती से भी मुंह खोल गई तो मामला गड़बड़ हो जाएगा।बाजी बोली- कुछ नहीं होगा.एक बार मैं फारेस्ट ऑफिस गया तो वहां एक नयी ट्रेनी अफसर लड़की आयी हुई थी.

मेरा मन भी उसका लंड पकड़ने के लिए कर रहा था लेकिन मेरा हाथ उसके लंड तक नहीं पहुंच पा रहा था. बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी एक दिन वो सुनहरा मौका मुझे भी मिल गया जब मैं उसको शहर में किसी काम से लेकर गया हुआ था.

ये कहते हुए बड़ी मम्मी जी मेरे सीने पर अपना था रखते हुए मुझे वापस लेटने के लिए एक दबाव दे दिया.

बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी?

मेरी तो हालत खराब हो रही थी, मुझे ऐसा लग रहा था कि दीदी के मुँह से लंड निकाल कर सीधा मॉम की चुत में पेल दूँ. मैंने उसे हाथ पकड़ कर टॉयलेट की जगह नहाने के बाथरूम में छोड़ा और अपना पैर बाथरूम के दरवाज़े में फंसा दिया ताकि वो दरवाजा न लगा सके।वो अंदर चली गई. वो वेटर को कुछ बोलने वाले थे लेकिन मैंने उनका हाथ खींच लिया और बोला- पापा चिल करो, आज की रात मुझे कुछ देर के लिए मम्मी ही समझ लो.

चुदाई की ये प्यास इनको कहां तक लेकर जाती है?हैलो फ्रेंड्स, कैसे हो आप सभी!उम्मीद करता हूं कि आप सभी स्वस्थ होंगे और चुदाई का मज़ा ले रहे होंगे।मैं हरजिंदर सिंह रोपड़ पंजाब से एक बार फिर आप सभी का स्वागत करता हूं।आप मेरी पिछली कहानियां ऊपर लिखे मेरे नाम पर क्लिक करके सभी कहानियां एक ही जगह पर पढ़ सकते हैं. कोई 4-5 मैच खेल कर हमने खाना खाने का प्लान किया और टिफिन निकाल कर खाना खाने लगे. सबकी जिन्दगी के सफर में ऐसे किस्से कभी कभी घटित होते हैं और फिर याद बन जाते हैं.

फिर मैंने पूछा- बताओ कैसे मनाएं आज तुम्हारा जन्मदिन?उसने कहा- यह तो तुम ही देखो … मुझे क्या पता!मैंने कहा- फिर जो भी मैं कहूंगा, वैसे ही तुझे करना पड़ेगा. वो गुस्सा होकर बोला- साली … फिर कहां गिराना है?मैंने कहा- मेरे मुंह में गिराना है. वो भी साथ देने लगी थी।उसने कहा- राज, आराम से करो … आज की रात हमारी है।कुछ देर बाद वो बोली- राज, अंधेरा बहुत है; जीरो बल्ब जला दो.

अबकी बार आकांक्षा के हाथ मेरे सिर पर थे और मेरे सर को अपनी तरफ खींच रहे थे. दीपू की गांड में लगने वाले धक्कों से उसकी चूचियां मेरी छाती पर रगड़ रही थीं.

?उसने मेरी बात काट कर कहा- तुमने मुझे प्रपोज किया है और मैंने हामी भर दी है.

मेरी दाढ़ी के छोटे छोटे कड़क बालों की चुभन से वो भयंकर चुदास से भर उठी.

मैं भी साथ में चला गया।बाजी ने कहा- अब बताओ, क्यूं परेशान हो?मैंने कहा- बाजी, नजमा दीदी ने क्या करने के लिए कहा था?वो बोली- अरे नीचे की सफाई करने के लिए कहा था. फसल बेच कर बैंक में जमा रहती है जिससे हर महीने का खर्च बड़े आराम से चल जाता है. बेटे के भविष्य को देखते हुए मैं यह दोनों काम नहीं कर सकती थी इसलिये मैंने इस काम के लिए बाबूजी को तैयार करना शुरु किया.

कुछ देर में ही वो मेरे दोनों निप्पलों को चूसने लगा और मेरे दोनों चुचों को चाट कर वो मेरी चुचियों पर ही अपना सिर रख कर सो गया. मैंने पूछा- तेल किधर है?उसने उंगली से इशारा करते हुए कहा- वो सामने रखा है. ब्लाउज खुलते ही जैसे उसे अपनी स्थिति का भान हुआ और उसने एक बार फिर मुझे परे हटाने का निरर्थक सा प्रयास किया.

भाभी बस जैसे इंतजार में थी कि कब मेरे लंड का धक्का लगेगा और लंड उनकी चूत में जायेगा.

ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़े होकर अपने बाल संवारे, लाइट मेकअप किया और लॉबी में आ गई, बाबूजी के सामने से इठलाते हुए रसोई में गई, अपना खाना निकाला और डाइनिंग टेबल पर बैठकर खाने लगी. टी टी ने मेरे पीठ के इर्द गिर्द से मुझे बांहों में भर लिया और हल्के हल्के झटके लगाने लगा. वैसे मेरा मन उसके साथ कुछ करने के लिए नहीं कर रहा था लेकिन फिर भी मैं उसको उठा कर खेत के अंदर ले गया.

उसके कबूतरों से छेड़छाड़ करते करते मैंने अपने होंठ गुरप्रीत के होंठों पर रख दिये. चूतड़ों की मसाज करने के बाद मैंने उसकी पैन्टी ऊपर चढ़ा दी और उसे पलट दिया. मेरी पहली सेक्स कहानी थीगर्लफ्रेंड ने चूत चुदाई के लिए घर बुलायामेरी यह दूसरी सेक्सी स्टोरी कुछ दिन पहले की है.

मैंने उसे ताना मारा- आपने शौहर से दूर रह कर कहाँ से औलाद लाएगी?तब शनाज़ ने शर्मा कर मुझे कहा- आज से आपको शिकायत का मौक़ा नहीं मिलेगा.

वो मेरे पेट को पकड़कर मुझे पीछे से मेरी गांड पर अपना लंड सटा कर मेरे साथ मस्ती भरा डांस किए जा रहा था. ”किस बात की बेकरारी है, सर?”बेकरारी यह है कि, अब जिस दिन मिलोगी, वो तुम्हारी जिन्दगी का सबसे हसीन दिन होगा.

बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी वो ठाकुर को अपने से अलग होने के लिए धकेल रही थी, पर बलदेव के बाहुबल के चंगुल से निकलना किसी भी नारी के लिए असंभव कार्य था. ट्रेन के हिलने का फायदा लेकर मैंने एक हाथ उनकी गांड पर रख दिया, वो कुछ नहीं बोलीं.

बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी उसके पास सरक कर मैंने दीदी का हाथ पकड़ लिया और उससे अपने प्यार का इजहार किया. भाभी की गर्दन को चूमते हुए मैंने उनके कंधे पर से साड़ी का पल्लू हटा दिया और ब्लाउज के ऊपर से ही दुबारा उनकी चूचियां दबाने लगा.

मैं ये जानकर बहुत खुश हुआ कि चलो मेरे बगल में कोई तो है … क्योंकि बाकी सब लोग ऊपर रहते थे.

एक्सएक्सएक

मैंने उसको बहाना करते हुए बोला कि मुझे उल्टी हो रही थी इसलिए मैं बाथरूम में चली गई थी. जब तक तुम (विवेक) और मॉम शादी से वापस नहीं आये हमने घर में रह कर चुदाई के बहुत मजे लिये. हम दोनों के लंड और चूत पहले से हल्के गीले तो थे ही … तो उसने अपना लंड आसानी से फिर से मेरी चूत में डाल दिया और मुझे चोदने लगा.

एक दिन उसने देखा कि रजक लाल सेक्यूरिटी गार्ड के साथ बातें कर रहा है. हमारे बाजू में सोफे पर बैठ कर देव अंकल ने अपना लंड बाहर निकाल लिया था और वे लंड सहला रहे थे. मैं अपने घर में अपने माता पिता की एकलौती औलाद हूं इसलिए मेरे लिए किसी बात की मनाही नहीं है.

पहली बार हवाई जहाज में प्रवेश करने पर कैसा रोमांच अनुभव होता है ये तो सब जानते ही हैं, मंजुला भी उसी रोमांच को जरूर फील कर रही होगी.

मैंने बाहर आकर अपनी कार को ले जाकर एक सुनसान जगह पर लगा दिया और मोबाइल में कैमरे देखने लगा. कुछ देर समझाने के बाद वो भी मान गया और मैं भी अब घर के कामों में बिज़ी रहने लगी. जैसे ही उसने मेरे लौड़े को देखा उसके मुंह में पानी आ गया और मेरे लौड़े को मुंह में लेकर चूसने लगी.

तभी अचानक से आंटी ने मेरा लंड छोड़ दिया और दोनों पैर फैलाते हुए वो मेरे मुँह पर बैठ गईं. जब माया अन्दर आयी तो मैंने कहा- इतनी सेक्सी मत लगा करो कि सोसायटी के लोगों को मुश्किल हो जाए. इन सबके साथ मसाज बहुत जरूरी है प्रीति जी!” आप इनको सोमवार, बुधवार, शुक्रवार हफ्ते में तीन दिन लाइये, मसाज करेंगे.

मैंने कहा- कोचिंग के बाद घर जाओ और दो ढाई बजे तक यहां आ जाया करो, मैं गाइड कर दूंगा. मनजीत बोली- मैं दूसरे कमरे में तुम दोनों के बारे में सोचते हुए उंगली कर रही थी.

लेकिन बलविंदर उसके मम्मी पापा को इस तरह विश्वास में ले चुका था कि अलीमा की मम्मी ने उसे झिड़क कर कह दिया कि अंकल के बारे में ऐसा नहीं कहते, वो बड़े भले इंसान हैं. मैंने ऑफिस में कॉल करके बोल दिया कि तबीयत खराब है और मैं आज नहीं आ पाऊँगा. फिर मैंने जिया को सीधा लेटा दिया और जिया की काली और सफाचट चूत के गुलाबी छेद को चाटने लगा.

चिकनाई इतनी अधिक थी कि मेरा लंड अधिक लम्बा होने की बावजूद सट से अन्दर तक उतर गया.

जब दिन में उसकी बीवी काम पर जाती, तो वो अपनी सास को चोदता और रात में अपनी बीवी को चोदता. अमन ने मदहोश निगाहों से उस हार्टशेप को देखा और एक गहरा चुम्बन कर दिया. मैंने उसकी चूत को हाथ से रगड़ा और एक दो बार जीभ से चाटा और उंगली से भी चोदा.

मैंने उससे पूछा तो उसने बताया कि उसके मां पापा दोनों नौकरी करते हैं और उसकी बहन शिफ़ा कोचिंग क्लास गयी हुई है. मैं किसी तरह उसके साथ पकड़ा कर बाहर गाड़ी तक आई और उसके साथ घर चली आई.

जब मैं हॉस्टल छोड़ कर आया, तो रिजल्ट आने तक मैंने घर पर ही मजे लिए और उस लौंडिया को पटाने की कोशिश में लगा रहा. हिंदी में देसी सेक्स कहानी की इस वेबसाइट की दुनिया में आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद, जो आपने मेरी पिछली कहानीचुदाई के साथ मानसिक सुख की कामनापर अपनी बहुमूल्य राय दीं. ” मैंने कहाकितना प्यारा बेटा है आपका, क्या नाम है इसका?” मैंने बच्चे के सिर पर हाथ फेरते हुए पूछाशिवांश नाम है इसका!” वो कुछ मुस्कुरा कर बोली.

இந்தி பிஎஃப் வீடியோ

शायद नींद में हिलने डुलने के कारण थोड़ी सी उसकी टीशर्ट ऊपर की ओर सरक गई थी।मुझे लगा उसे अन्दर बाथरूम जाना होगा इसलिए मैं वहां से हट गया.

फिर वो चिल्लायी- क्या कर रहे हो? दिख नहीं रहा मैंने कपड़े नहीं पहने. वो बोली कि नजमा बाजी ने सिखाया साफ करना हम सबको!फिर हम नहाकर कमरे में गए और कपड़े पहनकर मैं बाजी के पास गया. इस बार उसके झटके ज्यादा लम्बे समय के लिए नहीं चले और वो मेरी योनि को अपने वीर्य से भर दिया.

इस पर अलीमा बड़े प्यार से बोली- अब से ये आपकी चूत है … आपको ही इसे लेना है. कुछ देर बाद मैंने भाभी की गांड से लंड खींचा और उनको सीधा लिटा कर अपने सामने कर लिया. इंग्लिश सेक्स वीडियो डाउनलोडतभी मुझे पता चला कि ये तो मेरी भाभी गर्लफ्रेंड है जिसे मैं चोद चुका हूँ.

वो मुझे किस किये जा रही थी और मेरे हाथ उनके पूरे शरीर पर घूम रहे थे. बस पेलता रह! तू अबकी बार छोड़ना मत, कितना भी दर्द हो, बस पेलते रहना!मैंने राबिया को कहा कि वो बाजी के कन्धे दबा ले.

कुछ समय बाद मैंने हेमा चाची को अपनी बांहों में जकड़ लिया और उनकी गांड को सहलाने लगा. मैंने उसको चोदना शुरू कर दिया और उसने मेरी पीठ पर अपने हाथों से मुझे जकड़ लिया. मैंने शुरू से अपने शरीर का बहुत ध्यान रखा है, जिस कारण मैं कुछ अधिक ही कामुक लगती हूँ.

अगले दिन मनजीत से फोन पर बात करते हुए मैंने मनजीत को बोला- मैं एक बार सुमन के साथ भी सेक्स करना चाहता हूं. उस दिन के बाद से दीदी और मेरे बीच में भाई बहन का नहीं बल्कि पति पत्नी का रिश्ता हो गया. फिर अंकल ने किसी होटल के सामने बाइक रोकी और मुझे लेकर होटल के रूम में चले गए.

थोड़ी देर तक टी टी देखता रहा तो वो आगे बोले- तो ट्रेन में कोई जगह हो तो ले चलते हैं और 12 घण्टे मजा करते हैं.

उसने उसको पैसे दिखाए और वो भिखारी उठकर गाड़ी के पास आने लगा तो रमेश ने मुझे इशारा कर दिया. वो मुँह बनाते हुए बोली कि आज पहली बार लंड का पानी पिया है, तो अजीब सा स्वाद लग रहा है.

झटके से उसने हाथ खींच लिया और बोली- क्या कर रहे हो … शर्म नाम की चीज है या नहीं?मैंने कहा- सुरभि, अगर मैं कलेजा फाड़कर अपना प्यार दिखा सकता तो अभी दिखा देता. आपकी काबिलियत इसमें है कि जो भी पत्ते आपके हाथ में हों, आप उन्हीं पत्तों से अच्छा खेलें. और वह भी कम रंडी नहीं लग रही थी … ऐसे लग रही थी जैसे अभी चोदने के लिए दे देगी क्योंकि मुझे देख कर वह लगातार मुस्कुराये जा रही थी.

पर मेरा अभी हुआ नहीं था, तो मैं थोड़ी देर रुक गया और फिर शुरू हो गया. जो भाभी लंड चूसने में ना बोलती हैं … तो उन्हें थोड़ा सा ही समझाने पर, वो लंड चुसाई के लिए मान जाती हैं. मुझे मुस्कराता हुआ देख कर मौसी पूछने लगी- क्या हुआ, क्यों मुस्करा रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं मौसी.

बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी मेरा लंड उसके मुँह में पूरा नहीं जा रहा था पर वो कोशिश कर रही थी कि पूरा लंड ले ले. आप भी तो मुझसे इतना प्यार करते हो … तो आपके लिए मैं इतना तो कर ही सकती हूं।मैं मन ही मन सोच रहा था कि मेरी बहन कितनी भोली है.

मोटी भाभी की चूत

मैंने एक बार को तो सोचा कि बाथरूम की किसी झिरी में से बड़ी मम्मी को नंगी देखने की जुगाड़ करूं, मगर बाजू में ताऊ जी लेटे थे इसलिए चुपचाप लेटा रहा. एक बार फिर परास्त होने के बाद चुत की अंतर नसों ने फिर से मंजू को तैयार कर दिया था. मैंने भी मजे के कारण अपनी टांगें पूरी ऊपर उठा दी थी और उसकी कमर पर रख दी थी.

मेहमान बहुत सारे थे, तो सबको सोने के लिए हमारे घर में जगह कम पड़ने लगी. उसी दौरान मुझे पता चला कि मेरे जीजा यानि कि नौरीन के पति 10 दिनों के लिए विदेश में जा रहे हैं. सेक्सी फिल्म वीडियो हिंदी फिल्ममेरी चुत अमन का लंड खा रही थी और ऊपर में अमन के हाथों से खाना भी खा रही थी.

आपके इसी मजे को बढ़ाने के लिए आज मैं आपके लिए अपनी एक सेक्स स्टोरी लेकर आया हूं.

उसने एक भद्दी सी गाली दी और कहा कि वो अगले स्टेशन पर नीचे फेंक देगा मुझे. मेरी चाची की भतीजी की शादी फिक्स हुई और घर में काम होने के कारण मुझे चाची के मायके बाइक से जाना पड़ा।मैं आपको बता दूं कि मैं पहले भी वहां जा चुका था.

तब मैंने उससे कहा- कुछ देर और सह लो, उसके बाद मज़ा आएगा।कुछ देर बाद मैंने धीरे धीरे धक्के लगाकर उसे चोदना शुरू किया।थोड़ी देर बाद उसने अपने दोनों पैरों को मेरी कमर में लपेट दिया और कसकर मुझे अपनी बांहों में भर लिया. फिर मैंने अपने लंड को धीरे धीरे हेमा चाची की चूत में डाला निकाला तो चाची को उस समय ऐसी चरम सुख की अनुभूति हुई कि उनकी आंखें ऊपर की ओर चढ़ने लगी थीं. फिर उसने मेरे कान में कहा- भाभी, आप मुझ पर पूरा भरोसा कर सकती हैं।क्योंकि मुझे उस पर भरोसा तो था ही; मैं उससे अपने आप को प्यार करवाने के लिए तैयार थी।फिर उसने धीरे धीरे मेरी साड़ी को मेरे कंधे पर से हटा दिया.

तुम्हारी दीदी भी आते समय मुझसे कह रही थी कि गुवाहाटी के पास स्थित विश्वप्रसिद्ध मंदिर में दर्शन करके जरूर आना.

मैंने भाभी को बेड पर सीधा लिटा दिया और उनके दोनों पैरों को फैला दिया. अपनी चढ़ती जवानी में उसने स्ट्रेट लौंडों को पटा कर उनके लंड को चूसने की कला भी सीख ली थी. मैं भी अब अपनी बहन की तरह आधी नंगी हो गई।वो मेरे मोटे चूचे बड़े ध्यान से देखने लगी।मैं समझ गई कि ये अब कामुक हो गई है।तो मैंने उसको हाथ से पकड़ कर हिला दिया और बोली- घूर कर क्या देख रही है?वो बोली- दीदी, आपकीतो बहुत मोटी हैं।तो मैं बोली- क्या मोटी है?तो वो बोली- चूची।अब मैं हंसने लगी.

सुअर की लड़ाईयह पुरातन काम युद्ध न जाने कितनी देर चला होगा कि मुझे लगा कि अब मैं झड़ने वाला हूं. आंटी ने पूछा- कौन अक्षय?तो उन्होंने आंटी को मेरे पापा का नाम लेकर बताया कि उनका लड़का हूँ.

क्सक्सक्स बफ वीडियो

उसको भी अपनी सहेलियों की बातें याद आ जातीं कि एक लड़के से ज्यादा मस्त चुदाई एक सम्पूर्ण मर्द करता है. पर मैं कहा मानने वाला था … मैंने उसके होंठों पे होंठ रखकर उसके मुंह को बन्द कर रखा था ताकि वो चिल्ला न सके।थोड़ा सा इंतजार करके मैंने संगीता को जोर से अपने हाथों से जकड़ कर एक और जोरदार झटका उसकी चूत में मारा. फिर अपने टीचर और फैमिली की इच्छाओं से जिये, फिर अपने पति की इच्छा से … और बाद में अपने बच्चों की मर्जी से हम लोग जीते आए हैं.

पहले मैं एक हॉस्टल में रहता था, परन्तु जब कॉलेज में आया … तो खुद का कमरा किराए पर लेकर रहने लगा. फिर मैं पलंग के नीचे खड़ा हो गया और लंड दीदी के मुँह में लंड डाल दिया. फिर मैं वहीं नीचे सिगरेट पीने लगा और मैंने दीदी को मैसेज किया- मॉम को मेरे पीछे से एक पैग पिला दो.

मंजुला जी कुछ नाश्ता ले आता हूं, आप क्या लेंगी बताइए?” मैंने पूछानहीं सर, रहने दीजिये, भूख नहीं है. अब ये किस्से कहानियों की बातें कितनी सच होती हैं ये तो सिर्फ कहानी लिखने वाले ही जानते होंगे पर मेरी तरफ से या उसकी तरफ से ऐसा कोई रिएक्शन नहीं हुआ. अब उस लौड़ी का रिप्लाई आया- अच्छा तो क्या मैं तुम्हारी प्रेमिका बन जाऊं?उसकी यह बात सुन कर मेरी तो गांड ही फ़ट गई और मैं खुश भी बहुत हो रहा था कि यार इतना सेक्सी टाइप का माल है.

वो लगभग दस मिनट तक मेरी बुर को चाटता रहा जिससे मैं फिर से गर्म हो गई. थोड़ी ही देर में मेरी वाइफ का पानी निकल गया और उसने मुझे सेक्स करने से मना कर दिया.

मेरी पिछली कहानी थी:दो आंटियों को चुदाई और औलाद का सुख दियाअन्तर्वासना सेक्स कहानी का मैं नियमित पाठक हूं और बहुत ही ठरकी किस्म का इन्सान हूं.

उसकी दी ने मेरी तरफ अपनी बांहें फैला दीं, तो मैंने उसकी दी को अपनी बांहों में ले लिया और धीरे धीरे किस करके उसको गर्म करने लगा. बेंगोली सेक्स वीडियोवहां एक और अच्छी बात ये हुई कि मैंने वहां के लोकल सज्जनों से कोई किराये का मकान बताने की बात कहीं तो एक सज्जन भट्टाचार्य जी ने मुझे कहा कि उनकी जानकारी में एक अच्छी सोसायटी में उनके परिचित के रूम्स खाली हैं और वे मुझे वहां का पता बताने लगे. रोमांटिक रोमांसउन्होंने हां में सर हलाया और मैं तेज झटके देता हुआ भाभी की चुत में ही झड़ गया. मैं केवल ऐसी लड़कियों, औरतों या भाभियों से बात करना पसंद करता हूं जो जल्दी से जल्दी अपना प्यार मुझे दें.

बुआ ने कुछ नहीं कहा, वो भी जोश में मेरी गर्दन के पीछे हाथ डालकर मुझे किस करने लगीं.

पर मैंने उसे मना ही लिया और अपना 8 इंच का लंड उसके मुँह में दे दिया. कुछ देर बाद उसने मेरा हाथ अपने लंड पर रख दिया और मैं उसका लंड सहलाने लगी. मैं भी तेजी से झटके मारने लगा। उधर डर ये भी था कि कहीं कोई आ धमके और चुदाई की आवाजें सुन ले.

कुछ देर तक तो हम लोग ऐसे ही सड़कों पर यहां वहां कार के अंदर घूमते रहे और बातें करते रहे. ये बहन की भाई से चुदाई कहानी मेरे साथ हुई घटनाओं में से एक है।मैं पुणे में अपने चाचा-चाची के परिवार के साथ रहता हूं. जब तक शनाज़ और अम्मी वापस आई … तब तक मैं बाहर बाइक को साफ़ करने का नाटक करने लगा.

தமிழ் செஸ் திரைப்படம்

मेरे मुँह में हेमा चाची की चूची की निप्पल थी, जिसे मैंने बुरी तरह से काट लिया. जब भी चाची को कहीं बाहर जाना होता था, तो वह मुझे ही बाहर अपने साथ ले जाती थीं. उसने सिर्फ अंडीज पहनी हुई थी और वो अपनी बाल्कनी में खड़े होकर मेरी बीवी को अपनी बॉडी दिखा रहा था.

कुछ देर के बाद दीदी बोलीं- ये दारू क्यों लेकर आए हो?मैंने कहा- आज हम दोनों पिएंगे.

कल रात जो हुआ, गलती से हुआ, लेकिन अशफ़ाक तो दोबारा से मुझे चोदना चाह रहा है.

और वहीं पास की शॉप से दो बर्गर, कुछ नमकीन के पैकेट्स, चिप्स, चोकलेट वगैरह और पानी की बोतल ले आया. मैं भी अब गेट के बिल्कुल पास आ कर खड़ा हो गया तो उसके पेशाब गिरने की आवाज़ आने लगी. सत्ता मटका गॉडपर उसने सोचा कि गांव में रहकर उसके बच्चे की अच्छी शिक्षा नहीं हो सकती और न ही उसका भविष्य संवर सकता है इसलिए वो विभिन्न नौकरियों के लिए तैयारी करने लगी और सफल भी हुई.

मैंने उनसे कहा- ये अफजल है, तुम दोनों में आरजू कौन है?आरजू एक दुबली पतली सांवली सी लड़की थी. वो कहते हैं ना कि दाने दाने पर लिखा है खाने वाले का नाम, चूत पर लिखा है उसे बजाने वाले का नाम. मेरे धक्कों से उसकी चूतरस के छींटें उचट कर मेरे पेट पर महसूस हो रहे थे और मैं पसीने से भीग हो चुका था.

तो मैंने कहा- तू भी मेरी बुर चूस तनु!वो बोली- दीदी, पहले आप मेरी और चूसो. आज मैंने देखा कि शादी के बाद अक्षय स्मार्ट और गुड लुकिंग हो गया था.

सेठानी ने उसके सिर को अपनी चूत में दबा लिया और गांड को उठाकर अपनी चूत उसके मुंह में धकेलने लगी.

जब कभी भी मैं बिल्डिंग में आता हूँ … मैंने देखा है कि तुम मुझे देखते रहते हो. उसने मुझे कसकर अपनी बांहों में भींचते हुए मेरे कान में कहा- राज, अब और बर्दाश्त नहीं हो सकता है. उसने आगे कहा- मैं खर्चा पानी लेकर आता हूं जब तक तू ये तय कर लेना कि फाईन देकर टिकट बनवाना है या जेल जाना है.

हिंदी आदिवासी सेक्सी वीडियो तो मैंने कहा- तू भी मेरी बुर चूस तनु!वो बोली- दीदी, पहले आप मेरी और चूसो. एक दिन तो चाचा भी मुझसे कहने लगे- तुमने ऐसा क्या जादू चला दिया है अपनी चाची पर … वह तुम्हारा बहुत अच्छी तरह से ख्याल रखती हैं … और सब काम तुमसे ही करवाती हैं.

बलविंदर की जीभ की नोक को अलीमा की चूत का गीलापन और नमकीन स्वाद महसूस हुआ. हम दोनों के मुंह से कुछ ऐसी आवाजें निकल रही थीं- आह्ह … स्स्स … आह्ह … होह्ह … हम्म … आह्ह … यस … ऊहह् … हाह्ह … याह …ऐसे करते हुए हम एक दूसरे के जिस्मों के सहला और रगड़ रही थीं. आरजू की फैमिली उसकी देखभाल के लिए उसी बंगले के पीछे के रूम में रहती है.

কাজল বিএফ

मैं उसको कस कर चोद देना चाहता था और उसकी चूत में अपने लौड़े के गहरे धक्के लगा रहा था. इतना सुनते ही मैंने ज़ोहरा आपा की जांघें फैलायी और अपने लंड को ज़ोहरा की चुत के अंदर घुसा कर चुदाई शुरु कर दी. सेठानी की पपीते जैसी चूचियां यहां वहां डोल रही थीं और वो उनको खुद ही सहला रही थी.

मैंने उन्हें कसके गले से लगाया और बोली- आज से सबकुछ आपका … मेरा तन मन सब आपका. इस समय उन दोनों को मजा आ रहा था … तथा दोनों एक दूसरे से लिपट कर चुदाई करते हुए गालियों के साथ बातें करने लगे थे.

मैंने कहा- कोचिंग के बाद घर जाओ और दो ढाई बजे तक यहां आ जाया करो, मैं गाइड कर दूंगा.

अरे तू टेंशन मत ले, जरा सा दर्द होगा जैसे चींटी ने काटा हो बस; फिर देखने तेरा ये शानदार पिछवाड़ा भी क्या मस्त मस्त मज़ा देगा तुझे. किरण की आपबीती सुनते सुनते मेरे लण्ड का जोश भी बढ़ता रहा था और हौले हौले से किरण को चोद रहा था. उसके बाद मैं 69 की पोजीशन लेते हुए नीचे की ओर हो गया … इससे मैं चादर के अन्दर ही उनकी चूत को चाटने लगा.

तब तक मैं छोटा कैमरा ले आया और माँ पापा के कमरे में लगा दिया।शाम को खाने के बाद माँ पापा सफर की थकन के कारण जल्दी ही सो गए. उसकी पैंट उतरते ही नीचे अंडरवियर में उसका लंड देख कर मैं तो खुशी से भर गयी. वो सोचने लगी कि कैसे अपनी बहन को अपने साथ शामिल करके अपनी जवानी की आग बुझाने का इंतजाम करूं।क्योंकि उसकी बहन सोती भी उसी के साथ है और दोनों लड़कियाँ हैं तो किसी घर वाले को शक भी नहीं होगा।सुमन बाथरूम में घुस गई और सलवार और पैंटी खोल कर पेशाब करने लगी.

अभी मैंने झटके मारने शुरू ही किए थे कि उसका शरीर एकदम से ढीला पड़ गया लेकिन मैं नहीं रुका और अपने झटके मारता रहा.

बीएफ सेक्सी साड़ी वाली हिंदी: फिर हम लोग ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे एक पार्क में जा बैठे और नदी को निहारने लगे. मेरे एक्स बॉयफ्रेंड का लंड 6 इंच का था और पापा का लंड 7 इंच के करीब था.

पर जल्दी ही मैं संभल गया और वैसे कुत्सित विचारों को मन से झटक दिया और उस पर से निगाहें हटा लीं और पास में लगे टीवी स्क्रीन पर देखने लगा. मैंने जैसे तैसे बातों का सिलसिला जारी रखा फिर बातों का रुख अब धीरे धीरे सैक्स की तरफ बढ़ने लगा और बातें और भी रोमांटिक होती चली गई. अंकल मेरे पापा के दोस्त थे और वो मेरे घर आते जाते रहते थे, तो उनको मालूम था कि मैं इतनी जल्दी नहीं उठता हूँ.

मुझे सेक्स वीडियो देखना, सेक्स चैट करना और सेक्स वीडियो कॉल करना बहुत पसंद है.

अब मेरी बीवी मेरे दोस्त की गोदी में बैठ गयी और अपनी दोनों चुचियां बाहर निकाल कर उसे चूसने को दे दीं. और उससे किये वायदे के अनुसार विडियो कॉल किया और उसे इतने अच्छे खाने के लिए थैंक्स बोला. अब मैंने अपने लंड को पूरी ताकत के साथ हेमा चाची की गांड में प्रवेश करवा दिया.