बीएफ ओपन सेक्स वीडियो

छवि स्रोत,ओपन सेक्सी वीडियो फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

दादा पोती का सेक्सी: बीएफ ओपन सेक्स वीडियो, लंड पेलने कर थोड़ी देर रुकने के बाद हमने अपने लंड को उनकी चूत और गांड के अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

ब्लू सेक्सी दिखने वाली

एक पल बाद दरवाजा खुला तो मैंने देखा कि एक बहुत ही सुंदर औरत खड़ी थी. सेक्सी चाहिए भोजपुरी वीडियोउस घटना के बाद बहुत कुछ बदल गया, कितने दिनों बाद मेरे बदन को किसी मर्द ने छुआ था.

वह गांड हिलाना तो चाहता था पर हिला नहीं पा रहा था, बार बार टाईट कर रहा था. ऑंटी सेक्सी चुदाईउसके गोरे चूचे उसकी ब्रा में ऐसे बंधे हुए थे जैसे उनको किसी ने कैद कर रखा है.

उनकी बातों से उनकी आंखों में लगता था, जैसे वो माँ को अच्छी निगाह से नहीं देखते थे.बीएफ ओपन सेक्स वीडियो: अब पिताजी के फौज में होने के कारण घर पर साल में एक दो बार ही आते थे.

इसके बाद मैंने उन्हें चूमना स्टार्ट कर दिया, उनके माथे में, होंठों में, गालों में चूमते हुए मैं उनको प्यार करने लगा.मैंने दस्तूर की टांगों को फैला कर उसमें थोड़ा थूक डाल कर गीला कर दिया.

राधे सेक्सी - बीएफ ओपन सेक्स वीडियो

मैं बार बार अपने चूतड़ों को उछालने लगी, पर सुरेश ने जैसे दबा रखा था, मैं ज्यादा नहीं उठ पाई.वह गांड हिलाना तो चाहता था पर हिला नहीं पा रहा था, बार बार टाईट कर रहा था.

जबकि मैं पुराना खिलाड़ी था, मेरी गांड लंड पिलवाने को लपलपा रही थी, उसे वाकई बहुत दिन बाद कोई मारने वाला मिला था. बीएफ ओपन सेक्स वीडियो हम दोनों काफी अच्छे दोस्त थे और मैंने इस घटना से पहले उसको कभी भी सेक्स की नजर से नहीं देखा था.

बुआ मेरे लंड को टटोलते हुए बोलीं- हां, तू भी तो पूरा मर्द हो गया है.

बीएफ ओपन सेक्स वीडियो?

मैंने पहले नीचे का पेटीकोट भी निकाला और भाभी को ब्रा पेंटी में ला दिया. उसने मुझे किस किया और अपने होंठों में मेरी चुची को दबाकर चूसने लगा. उसके 10 मिनट बाद हैडमास्टर साहब भी स्कूल से चले गए लेकिन मम्मी का दूर दूर तक पता नहीं लग रहा था.

डॉक्टर के पास ले जाने पर डॉक्टर ने बोला- कोई घबराने की बात नहीं है, ये एक दो दिन में ठीक हो जाएंगी. जैसे जैसे मेरे हाथ उसकी जांघों को सहला रहे थे उसकी सांसों की गति भी बढ़ती जा रही थी. मैं उसके विरोध में चिल्लाती कि उसने अपने होंठों से मेरे मुँह को बंद कर दिया.

उस रात मैंने उसको इतना रगड़ कर चोदा था कि जब हम सुबह उठे, तो मेरा लंड भी दर्द कर रहा था. हमारे बीच में दोस्ती सी बढ़ने लगी थी, जिसका हमें पता ही नहीं चल पाया था. मैंने एक एक पैग और बनाया और हम दोनों दारू पीने के साथ साथ खाना खाने लगे.

मुझे ज़रीना को चोदते हुए आधा घन्टा हो चुका था और मैं उसे अब भी चोद रहा था. फिर मेरा बर्थडे का दिन आया और सुशी ने बर्थडे विश किया और गिफ्ट भी दिया जो मैंने सहर्ष स्वीकार कर लिया.

मैंने उसे वापस धक्का देकर लेटा दिया वो छोटी थी, तो मैंने उसे दबोचे रखा और उसकी चूत में लंड घुसा दिया.

जब माँ गहरी नींद में होतीं, तो मैं चुपके से अपना एक हाथ उसकी नाईटी में डाल कर उनके मम्मों से खेलता और दूसरे हाथ से मुठ मारता.

वो जगह क्या थी … जानते हो … जहां से उनके गोल गोल और गोरे गोरे चूतड़ों की गहराई चालू हो रही थी. मैंने पूछा- क्यों आपके पति आपकी गांड नहीं मारते?उन्होंने कहा- मेरे पति मेरी चूत में ही सिर्फ 2 मिनट में झड़ जाते हैं … गांड लायक उनका कड़क ही हो पाता. मेरी बहन देखने में काफी खूबसूरत है और अभी अभी उसने जवानी की दहलीज पार की है.

मैं तुमको मना नहीं करूंगी … मगर आराम से करना … मुझे बहुत दर्द होगा. दोनों की नज़रें आपस में टकरायी तो दोनों की गर्दन शर्म से झुक कर रह गई. आंटी एकदम ऐसे बोल रही थीं, जिससे संजय को लगा कि यार आंटी तो बड़ी चुदासी है.

दिन में जो घटना हुई थी उससे लग रहा था कि अन्नु भी वही चाहती है जो मैं चाहता हूं.

एक दिन मैंने मेरी योजना को इस्तेमाल किया और बातों ही बातों में उनसे उनके उसी फ्रेंड के बारे में पूछ लिया. मैंने दूसरे दिन मोनिषा आंटी से कहा- मैंने आपसे कहा था न कि मोहल्ले के बहुत से मर्द आपके जिस्म को निचोड़ कर चोदना चाहते हैं. भाभी मेरा सर अपने मम्मों में दबाते हुए ये कहती जा रही थी- तुम मुझे गिरा ना दो … इसलिए मैंने तुम्हारे सिर को पकड़ कर रखा है.

पांच-सात मिनट तक उसने मेरी गांड को चोदा और फिर अपने लंड को बाहर निकाल लिया. जब कुछ दिन बाद मैंने किसी से सुना कि अपनी बहन को चोदा भी जा सकता है. मैं आशा करती हूं कि हर बार की तरह ये उत्तेजक और गर्म कहानी भी आपको पसंद आएगी.

मेरे बेटे को मुझसे बहुत डर लगता है क्योंकि जब मैं गुस्सा हो जाती हूं तो गंदी गालियां देती हूं.

इस वक्त भाभी की चूत इतनी गर्म लग रही थी जैसे ज्वालामुखी से लावा फूट रहा हो. इसको दिन में कम से कम पच्चीस लंड लेने की आदत हो गई है, ये तो आस पास के सभी को अपना शिकार बनाएगी.

बीएफ ओपन सेक्स वीडियो उसके चूचों को खींचते और जोर से दबाते हुए उसकी चूत में पूरी गहराई तक लंड को उतारने लगा. भाभी ने कहा- जब तुमने जानबूझकर फिसलने का नाटक करके मेरी चूची को दबाया था, मैं तभी समझ गई थी कि मेरे प्यारे देवर को मेरी चूत चोदने का मन है.

बीएफ ओपन सेक्स वीडियो मैंने उसके बूब्स पर से मेरे लंड के पानी को उसकी ही ब्रा से साफ किया. तभी मेरे दोस्त आयुष ने मुझे रोकते हुए कहा- तारीफ़ ही करता रहेगा या फिर कम्प्यूटर भी सही करेगा?मैंने कहा- यार, कम्प्यूटर ही तो सही करने आया हूं.

और शायद स्वरा दीदी सेक्स के नशे में अपनी गांड को ऐसे मटका कर चलती थी कि उसको देख कर मेरा लंड भी खड़ा हो जाता था.

मराठी आदिवासी सेक्स

प्रमिला आंटी की चुत थोड़ी काली थी तथा उनकी चुत के लिप्स खुले हुए थे. इतना कह कर वो चला गया … और जाते जाते उसने मेरी बीवी को किस किया … उसकी चुत में उंगली डाल कर आगे पीछे की और मेरी बीवी के मुँह में उंगली डाल कर चला गया. बहन के लंड खा जा मेरी चूत को मेरे राजा!और भी ना जाने क्या क्या बोल रही थी.

फिर मेरे चूतड़ सहलाने लगे और मेरे अंडरवियर की इलास्टिक से खेलने लगे. मामी भी पूरी गर्म थी और मामा भी गर्मजोशी से उसकी चूत को चूसने में लगे हुए थे. मैंने लंड बुर से निकाल कर ज़रीना के मुँह में दे दिया और ज़रीना भी ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी.

वो मान गई, चूंकि वो खुद एक नर्स थी तो उसे मालूम था कि कसी चूत में लंड लेने से दर्द तो होता ही है.

आंटी को जो सुख अपनी शादी के इतने सालों में ना मिला था, वो मैंने उन्हें 3 महीने चोद कर दिया था. फिर पता नहीं क्या हुआ कि मुझे सारिका के रंडी परिवार की चूतों को चोदने का काम मिलना बंद हो गया. थोड़ी देर ऐसे ही करने के बाद मैंने उसकी जीन्स भी उतार दी और उसकी ब्रा भी उतार दी.

मैंने बोला- मुझे तो यही चाहिए … नहीं तो मैं सबको आपके फोटोज और मैसेज सब आपके पति को दिखा दूंगा. मेरी दीदी ने उसके लंड को कच्छे के ऊपर से ही पकड़ लिया और उसको तेजी के साथ सहलाने लगी. मैंने स्माइल कर दी … उसने भी वापस स्माइल की, लेकिन बहुत हल्की शर्माते हुए.

ताले लगाने के बाद वह एक कमरे में चला गया और उसने अन्दर से दरवाज़ा बंद कर लिया. निर्मला ने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा, तब राजशेखर ने एक उपाय बताया कि क्यों न हम दोनों के साथ कोई तीसरा व्यक्ति भी आ जाए, जो इस उबाऊ यौनजीवन को रोमांटिक बना दे.

मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं, होंठों को आपस में दबोच लिया और नाक से कराहने की आवाज फूट पड़ी. मैं अपने रंडी मॉम को दर्द से उनके मुख से चीखना और चिल्लाना सुनना चाहता था. उसके अब्बू का शहर से बाहर तबादला हो गया था, इसलिए घर में सिर्फ तीन ही लोग रहते थे.

प्रतिउत्तर में मैंने भी पहले तो उसके माथे पर चुम्बन लिया, फिर उसके दोनों गालों को चूमने लगा.

मैंने खेत पर वापस आकर मजदूरों को खाना दिया और कहा कि तुम लोग जाकर खाना खाओ. भाभी ने कहा- अपनी इस कुतिया की गांड मारने से पहले कुत्ते की तरह गांड तो चाट ले. मैंने कहा- नहीं … ये तो नेचुरल है कि किसी भी पुरुष का किसी महिला को नंगी देखकर अपने आप खड़ा हो जाता है.

मैंने मौसी से पूछा- पंद्रह दिन बाद क्यों … अभी क्यों नहीं?तो वो बोली- तेरी बीवी को अच्छे से लंड लेना तो सीख लेने दे, उसके बाद बाहर भेजूंगी. मैं थरथराने लगी और अपनी योनि को लिंग पर धकेलते हुए उसके सीने पर गिर पड़ी.

उनके गदराए हुए शरीर को अपने हाथों से रगड़ने में मुझे बड़ा मजा आता था. आपको आज की पूरी रात बस मेरे नाम करना है, मेरी प्यासी जवानी का इलाज करना है. अंत में दोनों शांत हो एक दूसरे को बांहों में समेट कर हांफते हुए लेट गए.

बाइबिल हिंदी

प्लान के मुताबिक मैंने अनिरूद्ध को भी पहले से ही फोन कर दिया था कि मैं कॉलेज देर से आऊंगा.

पता नहीं मैंने कैसे किया, पर जहां तक मेरा अनुभव है कि कोई भी अनुभवी मर्द दूसरी या तीसरी बार में इतनी जल्दी नहीं झड़ता है. मैंने कहा- भाभी आप तो बिल्कुल हीरोइन लग रही हो इन कपड़ों में।भाभी बोली- हां, मम्मी पापा घर पर नहीं है तो इसलिए पहन लिया मैंने. पूरा किया और काल-सेंटर में जॉब शुरू किया।एक दिन मौसी और मौसा को किसी जरूरी काम से दो दिन के लिए बाहर जाना था, तो मौसी ने मुझे फोन किया और दो दिन घर पर सोने के लिए आने को कहा.

इस तरह से कोण बनाया कि जिस तरफ मैं खड़ा था उसके दूसरी तरफ शीशी रखी हुई थी. तभी उसकी बहन संध्या ने भी उससे पूछ लिया कि पूजा मुझे कैसे जानती है. मराठी सेक्सी पिसातुरे विडिओयहां पर मेरा मतलब मामी के फोन नम्बर से नहीं बल्कि मामी की चूत से था.

इसके बाद अगली किटी पार्टी में बहुत ही ज्यादा उत्तेजक घटित हुआ जो मैं अगले भाग में लिखूंगा. मैंने उससे बोला- सुरेश जोर जोर से चोदो न मुझे … झड़ने वाली हूँ मैं … आह … आह … ओह्ह … ओह्ह …बस फिर क्या था.

मैंने थोड़ी देर किसी तरह उसे दिखाया और फिर उसके न न करते हुए भी फ़ोन बंद कर दिया. मगर अपनी रिश्तेदारी और आस पड़ोस में मैं बहुत मज़ाकिया और ज़िंदादिली से पेश आता हूँ. हम दोनों भाई बहन अधूरी चुदाई करने के बाद थोड़ी देर यूं ही चिपके हुए लेट कर आराम करते रहे और फिर दुबारा गर्म होने तक एक दूसरे की बांहों में आकर मूवी देखने लगे.

आजकल कुछ बोल्ड, आधुनिक ज़माने की औरतों द्वारा निजी बर्थडे पार्टी या किटी पार्टी में बाकायदा जिगोलो ब्वॉय को बुलाया जाता है और सब औरतें उसके साथ अपनी सेक्स फेंटेसी पूरी करती हैं या मस्ती करती हैं. उन्होंने मुझसे पूछा- बेटा, यहां दिल्ली के लिए अभी कोई ट्रेन है?मैंने बताया कि हां आंटी अभी आएगी. बाहर से देखते हुए ऐसा लग रहा था कि मामी की छाती पर बड़ी बड़ी फुटबॉल लटकी हुई हैं जिनको देख कर मेरे लंड का बुरा हाल होने लगा था.

ब्लैक सलवार कुर्ता, हाथों में कंगन, बाल बनाये हुए, हल्का सा मेकअप किया हुआ था.

वो मेरे लंड को चूत में लेते हुए जोर-जोर से आवाजें करने लगी- आह्ह … आह्ह … चोदो मुझे सरदार जी … उम्म माह्ह … याह … हाह … और जोर से चोदो. उसने धड़ाधड़ अपनी साड़ी उतार फेंकी पेटीकोट फिर ब्लाउज और कुछ ही देर में वह सबके बीच में पेंटी और ब्रा में मौजूद थी.

मैं बोला- तो फिर मुझे कहां पर सुलाओगी?वो बोली- जहां तुम्हारा मन करे वहां सो जाना. बीच-बीच में मेरी खूबसूरत बीवी अपने गीले खुले हुए बालों में हाथ फिरा रही थी तो मिहिर का हाल बेहाल हो रहा था. सुरेश ने उसे पहले ही बता दिया था, रात को ही कि उसने मेरे साथ संभोग किया.

जब से उसने नौकरी से निकलवाने की धमकी दी थी तब से ही उसको देख कर मेरी गांड में पसीना आ जाता था. ठीक वैसे ही दुल्हन जैसी सजना, जैसे मैं आपको बहुत बार दुल्हन के लिबास में चोद चुका हूं. निर्मला ने उसकी तरफ सवालिया नजरों से देखा, तब राजशेखर ने एक उपाय बताया कि क्यों न हम दोनों के साथ कोई तीसरा व्यक्ति भी आ जाए, जो इस उबाऊ यौनजीवन को रोमांटिक बना दे.

बीएफ ओपन सेक्स वीडियो जब बस की लाइट बन्द हो गयी, तो मैंने अपना सर मॉम के कंधे पर रख दिया. मैंने बहुत कोशिश की कि ये सब बात मेरे मन से निकल जाएं पर हो ही नहीं पा रहा था.

बहू बेटी में फर्क

मैं तन्वी के पास गया और मैंने उसको गोद में उठा कर पास ही बेड पर पटक दिया और उसके ऊपर चढ़ गया. उसने मुझसे कहा- ये तुम्हारा पहला दिन है … चलो मैं तुमको बताती हूँ कि रूम कैसे बनाते हैं. उन्होंने संजय के लंड को पकड़ा और बोलने लगीं- अब देर न करो मेरे राजा … जल्दी से लंड पेल दो … मेरी चूत की प्यास बुझा दो.

उस दिन उसने मेरे साथ बड़ी मस्ती की, जिससे मुझे उसके साथ सेक्स यानि भाई बहन की चुदाई करने का मन करने लगा था. मैं संजय को अपनी बांहों में लेकर बिस्तर पर गिर गई और हम दोनों सो गए. सेक्स स्टोरी सेक्सी स्टोरीमैंने वहां से एक चाय ली और चाय पीने के लिए वहीं पड़ी एक कुर्सी पर बैठ गया.

पहले तो हमने ऐसे ही कुछ बातें की, फिर मैंने उससे कहा- मुझको किस करना है.

पिछले दिनों आई फिल्म ‘वीरे दी वेडिंग’ में भी चार सहेलियां सेक्स मस्ती के लिए फुकेट थाईलैंड घूमने जाती हैं और वहां ज़म के मस्ती करती हैं. आप मुझे बताएं कि क्या आप भी कजिन सेक्स पसंद करते हैं?मैं अपनी अगली सेक्स कहानी लेकर जल्दी ही आऊंगा.

मैं बार बार अपने चूतड़ों को उछालने लगी, पर सुरेश ने जैसे दबा रखा था, मैं ज्यादा नहीं उठ पाई. जैसे ही मेरी ट्रेन ने बिहार को क्रॉस किया और मैं यूपी में घुसकर यूपी के कानपुर के पास आया. विद्या- हम दोनों का दर्द एक सा है और आज तुम मेरे साथ हो, बस इसी में मुझे सुकून है.

जब हमें पढ़ाई करते हुए काफी देर हो गई तो वो कहने लगी कि अब मुझे नींद आ रही है.

जिसके कारण जब वो अपना लिंग धकेलता, मेरी योनि की पंखुड़ियां अन्दर की ओर खिंचती, जिससे मुझे दर्द होता. उसने नीचे से ब्रा भी नहीं पहनी थी इसलिए उसके चूचे मेरे सामने नंगे हो गये. मैंने पूछा तो उन्होंने समझाया- तुम मेरे ऊपर आकर लंड अन्दर बाहर करो.

देसी वीडियो सेक्सी राजस्थानीमेरे मुँह में उसकी झांटों के बाल आ रहे थे, लेकिन चुत चाटने में मज़ा भी बहुत आ रहा था. मैं अपना काम करती रहती हूँ और समय खत्म होने पर अपनी सहेली के साथ घर आ जाती हूँ.

फिरकी वाली गाना

कुछ देर चूचे मसलने के बाद मैं उसके एक चूचे को मुँह में लेकर चूसने लगा. मैंने भी अनजान बनने का नाटक किया और पूछा- प्रमोद नहीं है?वो बोली- नहीं … वो क्लास करने गया है. मैं उठ कर बैठ गया और अपनी लोअर को ऊपर करते हुए कहने लगा- क्या हुआ? तुम ऐसे क्यों बैठी हुई हो! डर लग रहा है क्या?उसने थोड़ा हिचकते हुए कहा- नहीं, बस ऐसे ही नींद नहीं आ रही थी.

आशा करता हूँ कि सभी लड़कियों भाभियों और आंटियों को मेरी सेक्स की कहानी जरूर पसंद आयी होगी. मेरी मक्खन सी मुलायम गांड ने जिसका भी लंड लिया, उसी ने दुबारा मेरी गांड मारने की इच्छा जताई थी. मैं जैसे ही उसके पास गया, उसने मेरा लंड पकड़ कर अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा.

मेरा दिल तो बहुत चाहता था कि मैं भी अपनी मम्मी के साथ सेक्स करूँ, मगर ये संभव नहीं था. वे मुझे कुछ ही दिनों में इतना कम चोद पाए थे कि मुझे लंड की जरूरत पड़ गयी. ट्रेन आकर रुक गई और हम सामान लेकर जल्दी से चढ़ने लगे क्योंकि ट्रेन को वहां पर केवल दो मिनट के लिए ही रुकना था.

फिर मैं उठकर उसके मुँह के पास लंड ले गया और उससे लंड चूसने को बोला, तो वो मेरा लंड चूसने लगी. मौसी बोली- ऐसे ही नहीं साइज बढ़ा … तीन चार हजार लोगों से चुदी होगी तेरी बीवी.

अब सोनू मेरे लंड पर हाथ रख कर खुद ही मेरे टोपे को आगे पीछे कर रही थी.

उसकी योनि से चिपचिपा तरल छूटने लगा और राजशेखर के अण्डकोषों और जांघों से होता हुआ बिस्तर पर फैलने लगा. हिंदी बीपी सेक्सी वीडियो हिंदीउसने मुझसे पूछा कि मैं बचपन के दिनों में उसके बारे में क्या सोचती थी. सेक्सी ब्ल्यू फिल्म व्हिडिओविभोर को तो जब भी मौका मिलता था तो वो मुझे किस करता था और मेरी चूची दबाता था जिससे मैं भी उसके पैंट के ऊपर से उसका लंड सहलाने लगती थी. मेरी बात सुन कर उसने जबरन 4-5 धक्के लगाए और हांफता हुआ वो खड़ा हो गया.

मै खेत से निकल कर सरसों के खेत में ऐसा छिप गया कि किसी को पता ना चले.

तेल लगा होने की वजह से उसका समूचा लंड एकता की चूत में गहराई तक घुस गया और उसके मुंह से महा उत्तेजक चीख निकली- उम्म्ह… अहह… हय… याह…लेकिन साफ पता पड़ रहा था कि उसे जन्नत मिल गई थी. वे वाकयी बड़े धीरे धीरे लंड घुसा रहे थे, पर उनका लम्बा मोटा सख्त लंड मेरी लिटिल सी गांड में घुस नहीं रहा था. मोनिषा आंटी ने जब उसका लंड देखा, तो लंड देखते ही उसको अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं.

उसने अपने काम के वेग को विराम देकर मेरी पत्नी के योनि भेदन के लिए उसको पूरा समय देते हुए तैयार किया. लेकिन वो सिर्फ ऊपर से ही करने देती थीं … मतलब दूध दबवाने तक ही सीमित थीं, नीचे चूत में कुछ करने नहीं देती थीं. जलेबी खिलाते समय मैं उसको खुद के पास होने की ख़ुशी में कहते हुए जलेबी खिला रहा था.

भाग्यशाली पैर कैसे होते हैं

पर जब एक बार घुस गया तो गांड सिकोड़ने ढीली करने का कोई मतलब नहीं रह गया. उसके कच्छे को उतारने के बाद मैंने उसके लंड के टोपे को खोल दिया और उसके लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. ऐसा करते करते मेरा हाथ सुशी की चूत तक पहुँच गया और सुशी एकदम सिहर उठी.

मैंने तुरंत उनकी गांड पर दो तीन थप्पड़ मारे और गुस्से में आप से तुम पर आते हुए कहा- आज से तुम मेरी रखैल हो … मैं जब चाहूँ, तुम्हें चोद सकता हूँ … तुम्हें मना नहीं करना है.

मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ, मुझे जिधर जगह मिली, मैं भागने लगी.

इस वक्त रंजन की कसरती जिस्म को देख कर मेरी चूत बड़ा रश्क कर रही थी कि आज एक पहलवान किस्म के मर्द के लंड से चुत चुदवाने का मौका मिला है. फिर पूजा और हमने एक रेस्टोरेंट केबिन में बैठ कर काफी देर बात की, बातें कुछ इस तरह की थीं. ஹன்சிகா செஸ் வீடியோउस टाइम मेरी मौसी के घर में मेरे आने का पता नहीं था तो उन्होंने मेरे लिए बिस्तर नहीं करके रखा था.

मेरा कमरा मामी के रूम के सामने ही था और मेरे कमरे के बाहर मेरा बाथरूम बना हुआ था. उसमें से सुनील से हमारी थोड़ी बहुत पहचान हो गई, उन तीनों की शिफ्ट में जॉब थी, इसलिए तीनों का एक साथ मिलना मुश्किल था. राजशेखर- मेरा तो मन करता है … पर तुम्हारे अलावा कोई विकल्प भी नहीं है.

इस बीच उसने मुझे प्यार से गुरु बोलना शुरू कर दिया था … क्योंकि वो ज्यादातर गणित मेरे से ही सीख लिया करती थी. उसके होंठों पर होंठ रख दिये और दोनों ही एक दूसरे से लिपटते हुए एक दूसरे के होंठों का रस पीने लगे.

मैंने तय कर लिया और दीदी को भी बता दिया कि मैं इस घर की प्रॉपर्टी बेचकर बिना किसी को बताए दीदी को लेकर कहीं दूसरे राज्य में चला जाऊंगा.

चुत पर मेरे होंठों की छुअने पाते ही उसके मुख से एक सिसकारी निकल गयी. अभी हालात ही ऐसे हैं कि इन सब रिवाजों का भार अपने कंधे से कुछ समय के लिए उतार दो. मुझे याद आया कि मैंने टॉयलेट में पानी फ्लश नहीं किया था और मेरा वीर्य पूरे कमोड पर और फर्श पर पड़ा होगा.

हिजड़ों के सेक्सी वीडियो जब उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने हिम्मत करके हाथ उसके कपड़ों के अंदर घुसा दिया. मैं थोड़ा गुस्से से बोला- ऐसा रोज रोज होगा और जब मेरा मन करेगा, तब मैं आपके साथ मजा करूंभाभी मंद मंद मुस्कुरा रही थीं.

उसने न तो मेरे हाथ को हटाने की कोशिश की और न ही खुद को पीछे करने की कोशिश की. ” मुझे अपनी बांहों में दबोचते हुए उसने मेरे गाल पर जोर से किस किया. उस समय मैं उस पर इतना ध्यान नहीं देता था क्योंकि मुझे अच्छे भरे हुए फिगर वाली लड़कियां ही ज्यादा पसंद आती थीं.

फोटो ब्यूटी प्लस कैमरा

मुझसे ज्यादा देर बर्दाश्त नहीं हुआ, तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और बोला- मुँह में ले लो. मैंने चुत की गुलाबी फांकों में लंड का सुपारा फंसा दिया और उसकी आँखों में देखा. उसने नेहा को एक कसरत करने वाली बेंच पर दोनों तरफ टांगें करके लिटा दिया और खुद उसके ऊपर चुदाई की पोजीशन में आ गया.

इस वजह से मेरी दुकान में हमेशा औरतों और लड़कियों की भीड़ सी लगी रहती है. वो भी अपनी चुत को मेरे मुँह पर दबाते हुए रस स्खलित करते हुए चीख रही थी.

पूजा के संग इन पाँच दिनों में भरपूर सेक्स हुआ … और भी बहुत कुछ हुआ.

मैंने शीशी से तेल लेकर उसकी चूत के मुँह पर मल दिया और धीरे से लंड को अन्दर करने लगा. मेरी मादक सिस्कारियां अब उसे और तेज होने का न्यौता दे रही थीं … उसे खुल कर संभोग करने की बात कह रही थीं. उसकी गुलाबी पैंटी में उठी हुई उसकी चूत की फांकें देखकर मैं बेकाबू हुआ जा रहा था.

उन सभी को मौसी ने बताया कि नई रंडी है … ये 15 दिन के बाद आने वाली है. मैं धक्के देने लगा, वे सहयोग कर रहे थे … बार बार चूतड़ उचका रहे थे. मेरा मन बेक़ाबू हो रहा था, तो मैंने उसके पैंट के अन्दर से ही उसके लंड को पकड़ लिया और हिलाने लगी.

उसके बिस्तर पर गिरते ही मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसके होंठों को चूमने लगा.

बीएफ ओपन सेक्स वीडियो: वो मेरी स्माइल देखकर मेरी बाइक में बैठ गईं और मेरी कमर में हाथ रखकर मुझे पकड़ कर बोलीं- चलो. इस बात ने मेरे अंदर दोगुना जोश भर दिया और मैं पागलों की तरह उसके चुचे नोंचने लगा.

उस लड़के ने मुझसे दो मिनट वहीं सोफे पर बैठने को कहा और दोनों मियां बीवी एक रूम में चले गए. मैं अपनी बहन के लिए लड़का देखने गया तभी मुझे उसकी बहन ने मेरा लंड खड़ा कर दिया. वो थकने की वजह से कभी कभी दो पल के लिए रुक जाता, मगर रुकने से पहले पूरा जोर लगा कर मुझे 4-5 धक्के मारता … जिसका असर मेरे पेट तक होता.

ब्वॉय फ्रेंड तो दूर की बात थी, उसका तो कोई साधारण फ्रेंड भी नहीं था.

मेरे ख्याल से तो संभोग का असली मजा तब है, जब संभोग के बाद लगे कि बदन टूट गया. शुरू के दिनों में तो मेरे मन में ऐसा कुछ नहीं था लेकिन फिर होते-होते बहुत कुछ हो गया. उस रात को भी जब मैं घर आया, तो देखा कि उन लड़कों ने दीदी को वियाग्रा दे दी थी.