ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी भाभी hd

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स का व्हिडिओ: ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ, … सीईई हिह … इतना मोटा और लंबा है, बिल्कुल घोड़े जैसा है … ऊफ्फफऊ भूल गई थी … रात को तेल के कारण तकलीफ़ नहीं हुई.

गांव की लड़की नहाते हुए सेक्सी वीडियो

मैंने मीना से अजय के बारे में पूछा, तो पता चला वो किसी काम से बाहर गया है … और 2-3 घंटे में आने वाला है. हिंदी हॉट हॉट सेक्सीमैं बिल्कुल अकड़ रही थी, तो वे मुझसे बोले- बोल क्या करना है बंध्या? तुझे चुदवाना है तो बोल … वैसे तू जान ले, नहीं चुदवायेगी तो तू तड़पती रहेगी.

मुझे मज़ा आ रहा था इसलिए जैसे मैं सो ही रहा हूँ, वैसे अनजान बन कर पड़ा रहा और उसे वो हरकतें करने दे रहा था. औरत और घोड़ा सेक्सी वीडियोमगर बहुत इंतजार करने के बाद भी जब उन्होंने पलट कर नहीं देखा तो मुझे यकीन हो गया कि पहली रात के मेरे अरमान अब अधूरे ही रह जाएंगे.

जैसे मैंने उसके अंडरआर्म्स को चाटा था, वैसे ही वो मेरे कंधों को काटने, चाटने लगी.ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ: हमने अपने कपड़े ठीक किये और बाहर आ गए लेकिन चुदाई का अरमान दिल में ही रह गया.

जब मैंने उसकी गर्लफ्रेंड को देखा तो वह पानी में भीगकर बिल्कुल गीली हो चुकी थी.फर्स्ट ईयर में हूँ। रंग बिल्कुल दूध सा सफेद, रेड लिप्स, नाक पर पहना छोटा सा कोका सुंदरता को और भी बड़ा रहा है। संतरे के आकार के मम्मे 5.

सेक्सी वीडियो कुंवारी दुल्हन - ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ

हम दोनों के ऊपर के कपड़े उतर चुके थे, गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई थी मैंने, बैडमैन ने उसे भी अपने दांतों से पकड़ कर उतार दिया और मेरे चूचों को चूसने लगा.इतना सब होने के बाद मैंने क्या किया?साजिदा ने लज्जा से सर नीचे कर लिया.

वो एकदम से उत्तेजित होने लगीं और मेरे सर को अपनी चुत पर दबाने लगीं. ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ आनंद लीजिए।सलाम वालेकुम दोस्तो, मैंबिलकिस बानो, आपको तो याद ही होऊँगी, पहले भी मेरी कई कहानियाँजैसेमेरे घर में सेक्स का नंगा नाचअब्बू के बाद भाई जान ने बहन को चोदाआयी और आप लोगों के बहुत सारे मेल भी आए.

बनाने वाले की कृपा से और पोर्न मूवीज देख कर लगातार लंड हिलाते रहने की बदौलत मेरे लंड का साइज़ भी काफी ठीक हो गया है.

ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ?

दस मिनट की मम्मों और होंठों की चुसाई के बाद उन्होंने मुझे बेड पर धक्का दे दिया. मैंने उसे पतली डोरी वाली पैंटी दिलवाई क्योंकि उसके चूतड़ और जांघें बहुत अच्छे आकर में सुडौल थे. यह बात जनवरी की थी और मार्च में होली के बाद मेरे दो दोस्तों ने मेरी इस समस्या से मुझे निकालने की कमान संभाली.

साथ ही महिला साथी को, जिसके उभार आपने चाटे हैं, उसको कितना मजा आता है, उससे भी पूछिए. मैंने पॉलीबैग को उसके हाथ में पकड़ा दिया जिसे लेकर वह किचन की तरफ चली गई. कुछ सेकेंड तक जब मैंने कोई हरकत नहीं की, तब भाभी अपना चेहरा मेरे सामने लाकर मुझे देखने लगीं.

उसको अंदर करके उन्होंने अपनी ज़िप बंद की और अपना मोबाइल निकाल कर फोन मिलाया और बोला- आ जाओ मैडम!तू इस गाँव की नहीं है ना?” उसने प्यार से पूछा।जी नहीं!” मैंने मुस्कुराकर जवाब दिया. उसने अपना गरम वीर्य मेरे अन्दर ही छोड़ दिया, उस गर्माहट से थोड़ी राहत मिली. इस पोज की चुदाई में प्रशांत कई बार नीचे से अपना लंड उछाल कर ठोकर दे रहा था, जिस पर नीना आंख दिखा कर उसे ऐसा करने से मना कर देती.

थोड़ी देर बाद मैंने एक जोरदार धक्का और मारा तो मेरा लंड लगभग पूरा अंदर चला गया और वो तेज तेज चिल्लाने लगी. फिर मैंने उसकी ब्रा को पकड़कर अपने हाथों में ले लिया और उसके चूचों को दबाने और सहलाने लगा.

मुझे ये सुनकर अच्छा लगा कि उन दोनों ने रात में काफी देर तक संभोग किया, खुल के बातें की और दोनों पूरी तरह से एक दूसरे को संतुष्ट कर दिया.

प्रीति ने ये भी बताया कि उसने लिंग चूसने में कोई अच्छा काम नहीं किया क्योंकि उसे सही तरीके से लिंग चूसना आता ही नहीं था … पर प्रयास किया.

मैंने नीचे होकर उनकी चूत पर मुँह रखा और उनको किस करते हुए चूत को चाटने लगा. मेरी इस हरकत पर वह कामुक होकर अह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह ह्ह्ह्ह हाह्हाह अहहः ऊउम्म जैसी आवाज़ें करने लगी. फिर मैंने सोचा कि अब लोहा गर्म है, लंड घुसा दिया जाए। फिर मुंह को हटाया और अपने लंड को उसके मुँह में डाल दिया.

हम दोनों अलग हो गए तो उसमें से एक बोला- अरे करो करो, हमको तो देखने में ही बहुत मज़ा आ रहा है. वैसे भी वो कहावत है न- जहाँ दिल मिले वहाँ चूत तैयार, नहीं तो फिर सैंडिल से वार! मैं तो तेरे वाले से मिलने के लिए आई हूँ. अपनी मेरी पिछली कहानीभाई की कुंवारी साली की चुदाईपढ़ कर बहुत मेल किए उसके लिए धन्यवाद.

मुझे लगा मेरा लंड उसकी झिल्ली से जा टकराया था क्योंकि इस बार मैंने कोई अवरोध महसूस किया था.

मैडम ने पूछा कि क्या हुआ?मैंने उंगली से खून निकाल कर उसे दिखाया, तो मैडम खून देख कर बोली- देखा कितना मोटा लंबा है, मेरी चुत से भी खून निकाल दिया. महीने भर के बाद तो हम दोनों इतने ज्यादा खुल गए कि वो मुझे अपने फ़ोन के वाट्सअप पर दोहरे मतलब वाले चुटकुले, मजाकिया अश्लील तस्वीरें व अन्य कई वयस्क सामग्री दिखाने और साझा करने लगी. वह बोली- गांड में डालने का इरादा है क्या?मैंने कहा- जैसा आपका हुक्म मैडम, मैं तो आपका सेवक हूँ.

इतने में जैसे ही उसने दांत जीभ मेरी चुत में गड़ाए, मैंने आशीष का लंड मजबूर होकर मुँह में अपने घुसाने लगी. मेरे मन की हालत को देख कर जीजा जी को पता चल गया कि मैं सेक्स के लिए तैयार नहीं हो पा रही हूँ. मैंने धीरे से भाभी की चूत में अपने लंड को अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया.

उन्होंने मुझसे लंड की साइज़ पूछी, तो मैंने उन्हें बताया कि ये 8 इंच+ का है और अब चार इंच गोलाई में मोटा हो गया है.

अभी मेरे लंड का टोपा ही उसकी चुत में ही जा पाया था कि वो दर्द से चीखने लगी. मैंने फिर उनको किस करना चालू कर दिया और अपने दोनों हाथ से उनके दोनों मम्मों को दबाने लगा.

ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ कुछ ही देर में भाभी की चुत के बाल बिल्कुल साफ हो गये, चुत एकदम गुलाबी चमक रही थी जिसमें से पानी रिस रहा था. शीनम- तुम यहीं रूको, मैं गाड़ी पार्क करके आती हूँ … फिर हम साथ में ऊपर चलते हैं.

ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ उसके बाद मैं चूत उठाते हुए बोली- आशीष तुम बहुत हरामी हो … साले मेरे को यह क्या कर दिया. मगर असल जिंदगी में किसी भी रंडी से कम नहीं, लंड को चूसना और उससे चुदना हमारे लिए आम बात है.

चुदाई का मजा लेने के बाद मैं वहां से अपनी सूजी हुई चूत को लेकर अपने किराए के रूम पर आ गई.

सेक्सी बीएफ हिंदी मूवी पिक्चर

मैंने उसकी आंखों में आंखें डाल कर देखा तो उसने मेरे लंड को पकड़ लिया. मैंने सोची कि बहुत घूर रहा है मुझे, अब मैं भी देखती हूं इसकी तरफ … और नजरें नहीं हटाऊंगी, कैसे नहीं मानेगा. मैंने उससे पूछा- ऐसा क्यों करती है?वो बोली- लड़के बहुत परेशान करते हैं.

ऊषा बोली- थोड़ी तारीफ खाना बनाने वाली की भी कर दो! उस चिकन की तारीफ तो आपने कर दी मगर इस चिकनी की तारीफ भी कर दो थोड़ी सी!मामा भी कम थोड़े ही थे, बोले- कुछ दिखे तो तभी तो तारीफ करें? अगर खाने को वह भी मिले तभी तो पता चलेगा कि चिकन अच्छा है या चिकनी?ऊषा अपने नैन घुमाते हुए बोली- घबराइये नहीं, अभी तो सब लोग खाना खा रहे हैं. लेकिन ये बातें लड़कियां बहुत जल्दी समझ लेती हैं कि कौन उसे कैसे देखता है. अंकल जैसे टैलेंटेड इंसान को भला मैं किस तरह की मदद कर सकती थी?वे बोले- मुझे मेरे ब्लॉग पर एक आर्टिकल लिखना है, उसके लिए ही मुझे तुम्हारी मदद चाहिए.

अनेक लोगों को मेरी आगे की कहानी की प्रतीक्षा थी और कुछ पायल से मिलना भी चाहते थे.

कल्पना- हां, पर मुझे समझ नहीं आ रहा कि कैसे कहूँ, कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है. बाहर से तो उसकी चूत सांवली थी मगर अंदर से वह जैसे गाजर की तरह लाल थी. फिर मैंने माँ की गांड के छेद में अपने लंड को ज़ोर से दबाकर घुसाया, तो मेरे लंड का सुपाड़ा वैसलीन की चिकनाई से अन्दर तक घुस गया.

उसने बहुत सारा थूक मेरी गांड में थूक दिया और अपने लंड में भी लगाया. शायद भाभी कभी मंसूर भाई को बोल नहीं पाती होगी, ताकि उन्हें बुरा न लगे. कुछ ही देर में वो फिर से गर्म हो गई और मेरा लंड भी मेरी फ्रेंची में पूरी तरह से तन गया था.

मैं- सच कह तो मम्मी जी, मुझे अभी भी भरोसा नहीं हो रहा है कि हितेश गे है … इसलिए मैं. सीढ़ियों पर वह आगे चल रही थीं जिससे उनकी सुन्दर मचलती हुई गाण्ड और मोटी गुदाज गोरी पिंडलियाँ दिखाई दे रही थीं.

तो वो जैसे पागल हो गई … मेरा लंड तो पैन्ट से बाहर ही था, उन्होंने मेरा लण्ड पकड़ लिया. उनकी ये सब कहने में फटी ही नहीं, क्योंकि बताना होता तो पहले ही बता देतीं. कभी कभी मामी के गले में ज्यादा अन्दर पेल देता, तो वो मेरे लंड को बाहर निकाल लेतीं और जोर जोर से सांस लेने लगतीं.

उसने इसका जवाब फिर अपनी तारीफ सुनने के लिए किया- मुझसे अच्छी और जवान लड़कियाँ तो तुम्हें बहुत मिली होंगी तो फिर मुझमें ऐसा क्या है?जिसका रिप्लाई में मैंने कहा- मुझे तुम्हारी सुरीली आवाज सुननी है अपने कान में!और मैंने मन में सोचा- जब मैं तुम्हारी चूत जोर जोर से ठोक रहा हूँ.

प्रॉब्लम का सोल्यूशन लेकर मेरे दिमाग में कीड़ा घूम रहा था और ऐसे ही दिन कट रहे थे. मैं मामी के मुँह में जोर जोर से जीभ को घुसाने लगा और मामी भी मेरा साथ देने लगीं. मैंने उसे बताया कि जब पति की इच्छा हो, तो तुम अपनी इच्छा उसे बढ़कर दिखाना.

मैंने मीना से अजय के बारे में पूछा, तो पता चला वो किसी काम से बाहर गया है … और 2-3 घंटे में आने वाला है. तब जाकर मामा की चुदाई से मेरी जान छूटी।पर तब तक तो मेरी बुर का भोसड़ा बन चुका था।तो दोस्तो, यह थी सुहानी की कहानी। आपको मेरी लिखी कहानियां कैसी लगती हैं, अपने इस बुर के रसिया दोस्त को जरूर बताएं। आप मुझे जीमेल और फेसबुक पर इसी आईडी पर जवाब दे सकते हैं। आपके जवाब और अमूल्य सुझाव के इंतजार में आपका अपना राज शर्मा।[emailprotected].

उस साली ने अपनी टांगें फैलाते हुए मुझसे फिर से कहा- मुझे मत चोदो प्लीज़. अब मैं उसके ऊपर आ गया और अपने लंड को उसकी चूत के मुँह पे रख कर एक जोर का धक्का देते हुए आधा लंड उसकी चूत में उतार दिया. शायद भाभी कभी मंसूर भाई को बोल नहीं पाती होगी, ताकि उन्हें बुरा न लगे.

हिंदी बोलने वाली बीएफ फिल्म

जब मामा मेरी चूत पर जीभ चलाने लगे, तब मुझे पता नहीं पूरे शरीर में क्या क्या अजीब सा लगने लगा और मैं बिल्कुल कांपने लगी.

फिर विजय बोला- उनके पास जाकर चुदने की क्या पड़ी थी तेरे को … मैं जब से तेरे को चोदना चाहता था और इधर ये बात भी सोच कि घर की बात घर में रहेगी, मैं तुझे हर वक़्त चोद सकता हूँ. फिर माला ने विजय के लंड को पकड़ कर अपनी चुत पर लगाया और धच से लंड के ऊपर बैठ गई. मैं मामी के मुँह में जोर जोर से जीभ को घुसाने लगा और मामी भी मेरा साथ देने लगीं.

अब जब भी, हम दोनों में से किसी का भी जी करता है, तो हम दोनों मिलकर चुदाई कर लेते हैं. हेमा भाभी ने मस्त सोनू की चूत कैसे दिलवाई यह मैं अगली कहानी में लिखूंगा. सेक्सी देसी इंग्लिशदोस्तो, ये तय बात है कि अगर किसी औरत को पूरा सैटिस्फैक्शन देना हो, तो उसे पहले खूब गर्म करो.

मामी भी अपनी सहेलियों के साथ मजे ले रही थीं और मैं अकेला बोर हो रहा था. मेरे लंड पर गीला सा पदार्थ महसूस हुआ और मैं समझ गया कि वह दोबारा से झड़ चुकी है.

भाभी ने ऊपर-नीचे होना तेज़ कर दिया और कुछ ही देर में उनकी चूत ने दोबारा पानी छोड़ दिया और वह मुझसे लिपट गई. क्या ग़जब की चूत थी … ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने पाँव रोटी में चाकू से दो इंच का चीरा लगा रखा था. वो वेटर अब वहां काम नहीं करता है, लेकिन मैं जब भी उस होटल में जाती हूँ, तो उस वेटर को जरूर याद करती हूँ, जिसने मुझे मैनेजर सर से चुदवाते हुए देख लिया था.

मैंने उसके घर जाकर उसके माँ-पापा से बात की मगर उऩ्होंने मना कर दिया. क्योंकि उस समय इन्टरनेट वाले फोन का दौर कम था और बच्चों को फोन से दूर ही रखा जाता था. हां और एक बात ये कल तक मेरी बहू और बेटी थी, लेकिन आज से सुन प्रमिला, तू मेरी बहू और ये तेरा भाई मेरा बेटा है.

मैंने फिर पूछा- क्या तुम तैयार हो?उसने हाँ में सर हिलाया और धीरे से बोली- इसका इंतज़ार तो हर लड़की करती है.

मैंने उससे बातचीत करके अपने करीब थोड़ा ला दिया था और वो भी मेरे साथ कुछ ज्यादा ही घुलमिल गई थी. फिर मैंने दूध को पीकर खत्म किया और खाली गिलास को उनकी तरफ बढ़ा दिया.

मैंने भी अपने लंड का टोपा उनकी गांड के छेद पर रखा और धीरे धीरे अन्दर ज़ोर लगाने लगा. केवल कमी शारीरिक संबंधों की थी, जो पति नहीं देते थे और न उन्हें कुछ ज्यादा रूचि थी. मैंने बड़े प्यार से उठाया और उनके किस करते हुए उनको बेड पर चित लेटा दिया.

इतनी सुन्दर गुलाबो को देख मेरे मुँह से निकला- वाह!! तुम तो गुलाब ही हो. कभी कभी तो उनकी शर्ट काफी ज़्यादा फट जाती और उनका कड़क जिस्म फ़टे कपड़ों में से बाहर झांकने लगता. बस अगले कुछ पलों के भीतर ओपनिंग सेरेमनी में ही मेरी बीवी की चूत ने लंड को चीरते हुए करीब तीन चौथाई हिस्सा गटक लिया.

ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ गांव में हमारा एक बहुत बड़ा खेत है, जिसमें हम फल और सब्जियां उगाया करते थे. अब आगे:मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और थोड़ी देर तक मैंने लंड को मुंह में ही रहने दिया और उसने मुझे जोर से धक्का देकर हटा दिया और थोड़ा वीर्य पी गयी मेरी प्यारी बहन.

पिक्चर बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ

मेरे लिए साँस लेना भी मुश्किल हो रहा था, पर मैं चाटता रहा क्योंकि मैं जान गया ये झड़ने वाली है. टांगों को अपने कंधों पर रखा और मोड़ने से उनकी चूत और भारी चूतड़ मेरे बिल्कुल नीचे आ गए. अब मैंने उसे घोड़ी बन जाने को कहा, वो चुदासन लंड की भूखी, एकदम से मेरी बात मान गयी.

इससे अब मेरी भी हालत ख़राब होने लगी और मेरी चूत में अपनी जीभ घुसा कर जीभ से मेरी चूत चोदने लगा. हम दोनों बेताबी से किस करने लगे और एक दूसरे की लार को चाटे जा रहे थे. आदमी और आदमी का सेक्सी वीडियोहमने चाट चाट कर एक दूसरे का मुंह साफ किया।पहले तो मैंने गुलाबो के गले पर बेतहाशा किस किया और काट कर निशान सा बना दिया। फिर उसके कंधों पर किस किया और चूस चूस कर दांत लगा दिए.

अब की बार भाभी अपने हाथ को नीचे की तरफ लाकर मेरे अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लंड को सहलाने लगी.

मामी ने अब पूरे जोश में आते हुए तेज़ी से अपनी गांड को आगे पीछे करना शुरू कर दिया. वहां पलंग के साथ ही एक पालना रखा था, जिसमें उसका बच्चा सोया हुआ था.

उसने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और जिसने रिया के मुँह में लंड डाल रखा था, वो उसकी टांगें चौड़ी करके बीच में बैठ गया. फिर तू मिल गया और तेरे भैया तो कल ही चोदेंगे ना, तब तक मैं बिना लंड के नहीं रह सकती. मैडम ने तुरंत ही लंड को पकड़ के उसकी उछल कूद काबू में कर ली और दूसरा हाथ लंड के सामने फैला कर दनादन झड़ते हुए मसाले को हथेली पर आने दिया.

घोष बाबू- अच्छा सर, एक बात पूछूँ, आप और देविका मैडम एक दूसरे से काफी घुल मिल के बातें करते हो मानो वो आपकी पत्नी हो.

मैं- हां पता है, कल ही पापा घर में आप के किसी आर्टिकल की तारीफ कर रहे थे. आशीष ने बिस्तर में रखी दो तकिया मेरी कमर के नीचे लगा दिए और फिर बोला कि ओह बंध्या क्या मस्त तेरी छोटी सी चुत है. अब मामी जी की मस्त मोटी गांड मेरे सामने थी, जिसका मैंने कल रात को उद्धाटन किया था.

सेक्सी वीडियो सेल्फी राज कातुम मुझे मदद करोगी ना?”अंकल के बोलते ही मैंने शर्माकर सिर्फ हां में सिर हिलाया. इधर मैं उसके लंड को अपने अन्दर लेकर घूमती, उछलती और बस अपनी मस्ती को अपने मुँह से निकालने लगती- याल्लाह … आहह … बस ऐसे ही … म्म्म्म.

2020 एचडी बीएफ

मैं तो किसी भूखे की तरह लंड पर झपट पड़ा और तुरन्त लंड चूसने की पोजिशन बनाते हुए घुटनों के बल नीचे बैठ गया. पर आशा मना करने लगी- नहीं यार, किसी को पता लग गया या उस लड़के ने बात फ़ैला दी तो कितनी बदनामी होगी. कुछ देर तक हम दोनों बातें करते रहे और मैं सीमा को घर छोड़ कर अपने भाई के पास चला गया.

पर मैंने अपने आपको संभाला, पर मन ही मन मैं ये सोच रहा था कि क्या ये वही लड़की है, जिससे मैं कल बात कर रहा था. सच में ये मेरे जीवन का पहला अनुभव था, जब कोई महिला मेरा लंड चूस रही थी. मेरा लंड भी उसकी चूत रस से गीला होकर अपनी ही भतीजी की चूत में जाने को तैयार था.

उसने एक जोरदार झटका मारा और अपना पूरा मूसल मेरी चूत की जड़ तक गाड़ दिया. मेरे अन्दर जाते ही उसने दरवाज़े को लॉक कर दिया और वह मेरे लिए जूस लेकर आ गई. उन्होंने ब्लैक कलर की शिफोन की साड़ी पहनी थी और काले रंग का गहरे गले वाला ब्लाउज, उसमें से उनके चूचों की बीच की लाइन साफ दिखाई दे रही थी.

उधर सामने से जो कैमरा लेकर रिकॉर्ड कर रहा था, वो बोला- क्या झटका शूट किया है ना … मस्त मजा गया. एक बार मैंने उसे डॉगी स्टाइल में चोदा और दूसरी बार वह मेरे लंड पर बैठकर खुद ही चुदी.

चाय पीते हुए भैया बोले- अमित, मैं और तू मेरे एक दोस्त के यहां होली खेलने चलते हैं, वहीं से दारू पी कर और मूड बना के आएंगे.

चोदने के बाद मैं बहुत थक गया क्योंकि हम दो घंटे से चुदाई कर रहे थे. xxx मराठी सेक्सी व्हिडीओइस पोजीशन में मेरी लंड उसके चुत से टकराने लगा और वो मेरे लंड को पकड़ कर अपने चुत पे दबाने लगी. अक्षरधाम सेक्सी वीडियोअगले ही साल मेरा एडमिशन एक बोर्डिंग स्कूल में कर दिया गया और तब तक के लिए हमारा प्यार यहीं तक सीमित रह गया. मैंने उन पर हाथ लगा कर हल्के से दबाया औऱ अपनी टी-शर्ट भी उतार डाली.

मैंने उसकी चूत में धक्के पे धक्के देना शुरू कर दिया और बिल्कुल जबरदस्त वाली ठुकाई करने लगा.

मैं अपने ही सोच में डूबा हुआ था कि रमेश ने मेरी तरफ देख कर पूछा- अरे छोटे मालिक, कहां खो गए?मैं कुछ कहता कि रूपा वहां आ गई. मणि ने पूछा- तूने कितनी बार सेक्स किया है?उसका जवाब आया- बहुत बार किया है. अब आगे:चूमाचाटी के साथ ही मैं अपने हाथों से मिसेज पाटिल के कपड़े उतारने लगा.

फिर मैंने माँ की गांड के छेद में अपने लंड को ज़ोर से दबाकर घुसाया, तो मेरे लंड का सुपाड़ा वैसलीन की चिकनाई से अन्दर तक घुस गया. लंड को मुंह में देने के बाद अब बात उसके काबू से बाहर हो गई और उसने मेरे मुंह में अपने लंड को अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया. मैंने कहा- आपकी शादी भी हो चुकी है?वो बोला- हां, मेरी तो तीन साल की एक बेटी भी है.

2021 का बीएफ फिल्म

उसने वीडियो कॉल की, जिसमें वो केवल एक सफेद ब्रा पहने हुए थी, जिसमें से उसके टाइट मम्मे दिखाई दे रहे थे. विनय ने मेरी दीदी की के चूचों को हाथ में ले लिया और उनको दबाने लगे. मैं अपने ही सोच में डूबा हुआ था कि रमेश ने मेरी तरफ देख कर पूछा- अरे छोटे मालिक, कहां खो गए?मैं कुछ कहता कि रूपा वहां आ गई.

सभी सहेली कहती थीं कि बंध्या तेरे तो गुड्डी गुड्डा और डॉल से भी छोटे दूध हैं, तू ब्लाउज कैसे पहनेगी.

उधर उसका यार मेरी चूत का बुरा हाल कर रहा था, अपनी ज़ुबान को मेरी चूत खोल कर जितनी अंदर कर सकता था, करके अपनी ज़ुबान को घुमा रहा था.

मामा तीन दिन साथ में रहे, तो उनको भी भरोसा हो गया कि भांजा सही कर रहा है. कल्पना- अब मेरे बारे में इतना कुछ जानने के बाद आप मेरे लिए अनजान कहां रहे. सेक्सी शादी के बादअति उत्तेजना के चलते उसका सपाट पेट कभी बाहर तो कभी अन्दर हो रहा था.

रवि मामा ने फिर से मुझसे लड़कियों की बातें करना शुरू कर दीं और वो आज तो अपनी जुगाड़ों के बारे में भी बताने लगे थे. मैं- मैडम 10:00 बजे तो मैं नहीं आ सकता, रात के समय पीजी वाले आने नहीं देंगे. भाभी ने ऊपर-नीचे होना तेज़ कर दिया और कुछ ही देर में उनकी चूत ने दोबारा पानी छोड़ दिया और वह मुझसे लिपट गई.

फिर एक हफ्ते के बाद प्रीति ने मुझे बताया कि उसके पति ने आज संभोग किया और प्रीति ने भी उसे अपनी संगत दी, जिससे अन्य दिनों के बराबर थोड़ा फर्क पड़ा. तो इसी वजह से मैंने अपने पति से बात की कि कब तक सब साथ रहेंगे? हमारे बच्चे बड़े हो रहे हैं और हम सबके तरह साथ रहें, ये जरूरी नहीं है.

फिर बात को संभालते हुए कहा- जीजू, इस बारे में कुसुम दीदी को न बताएं.

मेरा चेहरा ये सोच कर ही लाल हो गया था कि अब वह तलाशी के बहाने जाने कहाँ-कहाँ हाथ लगायेंगे. इंदु पूरे जोश में भर गयी, आहहह हहह करने लगी, सिसकारियां लेने लगी- सीईईई आयी ईईइ जीजा जी, अब अंदर डाल दो अपना लंड आहहह … अब नहीं होता बर्दाश्त!मैं बोला- मेरे लंड को और चूसो!वो जल्दी से मेरे लंड को जोर जोर से चूसने लगी, कभी कभी आंड को भी चूस लेती. फिर अगले ही पल एकदम बिजली की सी फुर्ती से मेरी साली पायल ने मेरी पैन्ट के ऊपर से मेरे तने हुए हथियार को भी जोर से काट दिया.

सेक्सी फिल्म भूतों का और ये गलत तब तक नहीं है, जब तक किसी की निजी जीवन में किसी प्रकार से कष्ट न पहुंचे. मैं- पर आप तो शादीशुदा हैं … फिर आप कुंवारी कैसे?इस वक़्त मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं खुश होऊं कि आज फिर से एक और कुंवारी बुर चोदने को मिल रही है या दुखी होऊं कि अभी थोड़ी देर पहले जो कुछ करने को सोचा था, अब वो नहीं कर पाऊंगा, अब मुझे जो कुछ भी करना है, संभल कर करना पड़ेगा.

उसमें दिखाए गए लेस्बियन चुदाई के दृश्य से हम दोनों काफी गर्म हो गई थी. तभी मैंने देखा कि मामी जी अचानक अपनी नजर इधर उधर करके देखने लगी। मुझे समझ में आ गया कि फोन में पोर्न क्लिप खुल गयी है, मामीजी पोर्न फिल्म देख रही है। वो थोड़ी थोड़ी देर के बाद मेरी तरफ देख रही थी। धीरे धीरे मामी का हाथ उनके पेटीकोट की तरफ बढ़ रहा था। मैं समझ गया कि मामी अब गर्म हो चुकी हैं. उसके बाद मैंने भाभी को पीठ के बल लेटा दिया और उसकी चूत पर किस करते हुए अपने लंड को उसकी चूत पर रख दिया.

एक्स एक्स एक्स बीएफ बीपी वीडियो

जमा तो ठीक वरना मायके चली जाऊंगी- ठीक है मम्मी जी, मुझे आपकी सलाह ठीक लग रही है … बाद का बाद में देखेंगे. मैंने बड़े प्यार से उठाया और उनके किस करते हुए उनको बेड पर चित लेटा दिया. पहले प्रसंग का लौड़ा लिया और अब मेरे कज़िन शोभन का तेरी चूत को चोदेगा.

उसने पैंट के नीचे शार्ट्स वाला कच्छा डाला हुआ था जिसके कपड़े में से मुझे उसके लंड की फील अच्छी तरह हाथ में महसूस हो रही थी. मैंने अपना लंड उसकी चूत के छिद्र पर रखा और धीरे धीरे अंदर डालने लगा.

देख मेरा लंड कितना ताव में है!यह बोलकर अनन्त ने अपनी जाँघिया उतार दी।बाप रे! ये क्या था, मैं देखती रह गई.

मैंने उसपे छोटी सी चुम्मी दी और नीचे से ऊपर चाटा, वो तो चिल्ला उठी और लगभग चीखते हुए बोली- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चूसो मेरी चुत. मैं भी उसकी गोद में बैठ कर उसके लंड को अपनी चूत के छेद पर सैट कर रही थी. अगर तुझे कुतिया ना बनाता, तो मैं तेरी गांड का यह राज मुझे पता ही नहीं चलता.

उस दोस्त ने मुझे बताया कि यहां पर मकानों के बाहर ‘टू लेट’ (किराये के लिए) के बोर्ड लगे होते हैं और उसके लिए संडे के दिन, जब घर के मालिक घर में होते हैं तो कमरा ढूंढने के लिए चक्कर लगाने होते हैं और जहां भी ‘टू लेट’ का बोर्ड दिखाई देता है, वहां जाकर बात करनी होती है. जरा बच के रहना! जिस पर उसका दिल आ जाता है उसको वह पार के घाट उतार कर ही दम लेती है. वह मेरे चूतड़ों को अपने हाथों में लेकर दबा रहा था और फिर मुझे कमरे के एक कोने में लेकर चलने लगा.

वह मेरे सामने पूरी की पूरी नंगी पड़ी थी और अपनी चूत को मेरी जीभ से चटवाने का मजा ले रही थी.

ब्लू पिक्चर हिंदी ब्लू पिक्चर बीएफ: मेरे रुक जाने की वजह से उन्हें भी रुकना पड़ा और अब उन्होंने मुझे हिम्मत दिलाते हुए अपने दोनों हाथ मेरे कंधों पर रख दिए और कहा- हां बोल यार?मैंने भी आव देखा ना ताव बस कह दिया- मुझे आपका लंड छूना है. मैंने लंड को चूत पर अच्छी तरह से सेट कर दिया और भाभी की चूत में एक धक्का लगाते हुए भाभी के ऊपर लेट गया.

फिर उसने पैन्ट का बटन और ज़िप खोल कर अपनी पैन्टी के साथ ही पैन्ट को घुटनों तक कर दी. मैं फिर दोबारा अपने घुटनों के बल भाभी की छातियों के ऊपर चढ़कर उनके मुंह में लंड देने लगा. चूत को चूमने के बाद मैंने उसके पिछवाड़े पे जोर की चपत लगाई, जिससे वो चिहुंक उठी.

मैंने पूछा कि जो आज समझाया था वो समझ आ गया था?तो उसने बतय- पूरा नहीं आया!और स्माइली भेज दी शर्माने वाली.

जब उन्होंने पूछा कि खाने का कैसे करोगे?तो मैंने कहा- देख लेंगे, किसी होटल वगैरह में खा लूंगा या टिफिन मंगवा लूंगा. दोस्तो, मैं सुहानी चौधरी आप सभी का एक बार फिर से स्वागत करती हूँ अपनी अगली कहानी में।सबसे पहले तो मैं आप सभी को दिल से धन्यवाद कहना चाहती हूँ कि आपने मेरी मेरी पिछली कहानीमेरी मासूमियत का अंत और जवानी का शुरुआतको पसंद किया. उसके नाजुक हाथ के स्पर्श से मैं भी पिघलने लगी और मैं भी अपने हाथ उसके सिर पर रखकर उसे अपने पास खींचने लगी.