हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स

छवि स्रोत,सेक्सी व्हिडिओ न्यू

तस्वीर का शीर्षक ,

सपना भाभी की सेक्सी फोटो: हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स, मैं उसे उठा कर बाथरूम ले गया और उसे अच्छे से साफ किया, खुद को भी साफ किया.

सेक्सी फिल्म भेजो फिल्म

जैसे ही मैंने दूसरी उंगली रोशनी की चूत में डाली, उसने आह कहकर अपने दांतों से होंठों को काटना शुरू कर दिया. हिंदी सेक्सी फिल्म वीडियो दिखाइएपर तुम्हारे ब्रेस्ट नहीं निकले हैं, क्या वजह है पिंकी?”रोशनी को मुस्कुराते हुए देख पिंकी ने गुस्से से कहा- रोशनी दीदी की भी चूत में क्लिट वाला दाना नहीं है और मुझे तो दीदी के ब्रेस्ट भी नकली लगते हैं, अन्दर से ब्रा में रुई भरकर रखी होगी.

स्मिता ने अपने दोनों हाथ बाउंड्री पर रखे और मेरी तरफ पीठ करके खड़ी हो गई और कहा- राहुल उठाओ मुझे. एक लड़की के साथकभी कभी मयूर अपनी शादी से पहले की गर्लफ्रेंड्स को कानूनगो साहब से चुदने के लिए भेज देता था.

मैं शाम को तैयार हो गई और जो ड्रेस उसने बताई थीं, उसी में से एक ड्रेस निकाली तो वो भी बाकी सभी की तरह छोटी सी थी.हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स: मैंने जब वो ड्रेस पहनी तो वो ढीली ढीली थी, जिसमें मेरे दोनों कंधे आधे बूब्स ऊपर तक खुले थे और वो ड्रेस पेट तक थी.

वो मुस्कुरा दी और बोली कि मैं पहले भी बता चुकी हूँ कि प्यार व्यार कुछ नहीं होता.मैंने उसको चोदे जा रहा था तो सुहानी ने बाथरूम में से पूजा को आवाज़ दी और उसको अन्दर आने को बोला.

पुराना सेक्सी एचडी वीडियो - हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स

मैंने ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों पे अपना मुँह रख दिया और हल्के हल्के किस करने लगा.मैंने अपनी बीवी से पूछा- क्या हुआ यार, मज़ा नहीं आ रहा क्या?वो बोली- हां यार, मजा नहीं आ रहा है चुत चुदाई का…मैंने पूछा- क्यों क्या हुआ?मेरी बीवी बोली- मैं नहीं जानती.

मैंने अपनी बीवी से पूछा- क्या हुआ यार, मज़ा नहीं आ रहा क्या?वो बोली- हां यार, मजा नहीं आ रहा है चुत चुदाई का…मैंने पूछा- क्यों क्या हुआ?मेरी बीवी बोली- मैं नहीं जानती. हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स उसका रंग जरा सांवला था, पर क्या कटीली स्माइल थी उसकी, मैं तो देखता रह गया.

थोड़ी देर बाद हम दोनों ने पानी छोड़ दिया और दोनों ही एक दूसरे का पूरा पानी पी गए.

हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स?

आख़िर मेरी ये पहली असली चुदाई थीमैं नीचे आ गया और उसकी चूत पर अपनी जीभ लगा कर चुत चाटने लगा. उसने अपनी बाहें कस के मेरे बदन से लिपटा ली थीं और उसने अपनी मुलायम मुलायम टांगें चौड़ा कर मेरी फैली हुई टांगों में लपेट रखी थीं. मैं उसको सॉरी बोल कर वहां से निकल गया, लेकिन तभी वो फिर मुझे मेट्रो में मिल गई.

उसने मुझसे पूछा- तुम कौन हो?‍‌‌मैंने उसका उत्तर न देते हुए उससे पूछा- रमेश है?उसने पूछा- तुम उसके दोस्त हो?मैं बोला- हां. इस वक्त उनकी साड़ी थोड़ी बाजू में हो गईं थी, तो उनकी ग़ोरी सी पीठ दिख रही थी और सफेद ब्रा भी दिख रही थी. सब कुछ देखने के बाद उसने कुछ दवाई लिखी और एक तेल भी लिखा और कहा कि इसको इस तेल से दिन में एक बार मालिश हल्के हाथों से कर देना इसकी हड्डी में चोट लगी है.

सो ऑफिस भी नहीं गया और फोन पर 3 दिन की छुट्टी ले ली। मैं फरीदाबाद पहुँच कर एक होटल में बैठ गया और बीयर पीने लगा। लगभग 2 बजे मधु का फोन आया कि यश को मैं एयरपोर्ट पर छोड़कर आ गई हूँ।मैं बोला- ठीक है. हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम समीर अली है और मैं अहमदाबाद का रहने वाला हूँ. यह घटना करीब 3 साल पहले की है, जब मैं एक महीने के लिए अपने मुँह बोले भैया और भाभी पंकज और उसकी वाइफ स्मिता के घर छुट्टी बिताने इंदौर गया था.

मैंने गैरेज का शटर डाउन किया, मेन-गेट को अंदर से ताला लगाया और अंदर दाखिल हुआ, कपड़े बदले और किचन में जा कर कॉफ़ी बनायी।प्रिया… कॉफी पियोगी?” मैंने आवाज लगाई. मैंने बड़े ज़ोर से धमाधम्म फिच्च… फिच्च… फिच्च… की ध्वनि के साथ करारे शॉट टिकाते हुए एक चूची में दांत गाड़ दिये और दूसरी चूची को पूरी ताक़त से हाथों से एसे निचोड़ा जैसे धुलने के बाद तौलिये को निचोड़ते हैं.

”और वो मेरा लिंग दबाना, सहलाना और पीठ पर चिकोटी काटना?”” दबाने का तो ऐसा है कि वो या तो सिर्फ आप को पता या मुझे और यही बात पीठ पर चिकोटी काटने पर लागू होती है लेकिन सहलाने वाली बात का तो मैं कहूँगी कि वो सिर्फ एक एक्सीडेंट था.

फिर मैंने अन्दर जाके टकीला की दो 50 एम एल वाले कांच के छोटे वाले गिलास निकाले और विक्की, गोलू को दिए.

कुसुम चुत उठा कर बोली- तो मेरी चुत भी अपने अन्दर जाने के लिए तुम्हारी जीभ माँग रही है. उसने नेहा से हाथ मिलाते हुए उसको किस किया और उसके मम्मों को भी दबा कर चुत पर हाथ मार दिया. फिर मेरी तरफ देख कर बोला- बिंदु जी, आपने ठीक कहा था, वो साला बहुत कमीना है.

उधर मेरी साली भी यह सुन कर हंसने लगी और बोली- तुम्हें तो बस यही चाहिए. मैंने फोन रखा और चूत सहलाते हुए बोल दिया- चल जीतू अब तुम्हारी बारी है. मैंने उसकी बुर के अन्दर एक जोरदार गरम पिचकारी छोड़ी कि वो बिल्कुल अकड़ कर लेट गई.

वो मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोला- मतलब?मैंने कहा- मतलब कि किसिंग विसिंग.

मेरे झड़ने के बाद भी परीक्षित मेरी चूत को चाटते रहे और फिर से मेरी चूत का पानी भी पी गए. हालांकि मेरा मन तो नहीं था, फिर भी मैंने स्मिता से कहा- चलें यहां से?उसने कहा- नहीं थोड़ी देर और रुकते हैं. तभी दस मिनट बाद वो फिर से झड़ गई और अब चुदाई से फच फच की आवाजें आने लगीं.

सेक्स के बारे में जानकारी स्कूल में ही हो गई थी, दोस्तो की बकचोदी से, नेट और ब्लू फिल्म की मदद से काफी जानकारी मिल चुकी थी कि चुत किस छेद का नाम होता है और इसका लंड के लिए क्या उपयोग होता है. जब हम उसके रूम में पहुँचे तो मैंने उससे नेहा की मुलाकात करवाई और यह कहा कि यह मेरी सबसे अच्छी फ्रेंड है और इससे मैं कुछ भी नहीं छुपाती, यहाँ तक कि मैंने आपके साथ कल रात में क्या क्या किया, वो भी इसे बता दिया है. मेरी दो महीनों की प्यास भी बुझा दो, बहुत तड़पी थी तुम दोनों के लंड के लिए.

मैंने कुछ ही पलों में उसकी नाभि पर अपनी वासना के रस में डूबी जीभ फेर रहा था और उसके पेट पर किस कर रहा था.

आहह… इतना मजा कभी नहीं आया मुझे! मैंने कभी सोचा ही न था कि इस तरह खुले आसमान में इतने प्यार से भी कोई चोद सकता है… उहह… स्स्स्स…”वे मेरे निप्पलों को प्यार से मसल रहे थे, किस कर रहे थे, मेरी मादक सीत्कारें निकली जा रही थीं अह… आह अह… आआह… उम्म्म…”थोड़ी देर चोदने के बाद वो खड़े हो गए. मैं एक हाथ से उसकी चुत मसल रहा था और दूसरे हाथ से उसकी शर्ट के बटन खोल दिए.

हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स मेरे ख्याल से जब वो उसकी क्लिट को छूता था, तब मेरी साली थोड़ा टाईट हो जाती थी और उसका हाथ पकड़ लेती थी. वहां से पता चला कि दीदी प्रेग्नेंट हो सकती हैं तो उससे बचने के तरीके निकाले.

हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स यहाँ फ़ोटो में एक छोटी सी लुल्ली जैसा दिख रखा है और जरा सा नीचे एक छेद है, जिसे हम वेजिना कहते हैं. कुछ ही मिनटों में चाची ने भी वही गरमा-गरम पानी छोड़ दिया जिसे मैंने तौलिये से साफ किया.

मैंने उसकी चूची चूसते उसकी लेगी में हाथ घुसा दिया और पेंटी के ऊपर से उसकी चूत सहलाने लगा.

हिंदी सेक्सी ब्लू पिक्चर फिल्म

थोड़ी देर बाद में बातों ही बातों मैंने उसकी चूचियों के निप्पल को मसल दिया, इस पर वो कराह उठी- उफ्फ ओअह्ह… ये क्या कर रहे हो?मैंने बोल दिया- बस यूँ ही…मैंने उससे बोला- एक किस तो दे दो यार!उसने बोला- हट बदमाश…फिर मेरे मनाने उसने एक गाल पे किस दिया, तो मैंने बोल दिया- ये तो दूसरे गाल से चीटिंग हुई. मुझे बहुत जोश चढ़ा हुआ था, अपने आप मेरे मुंह से निकल गया- अंकल तू बोला था कि बहुत बड़ा लड़कियों का चोदू है, तेरे लंड के बाद मुझे किसी की जरूरत नहीं पड़ेगी. सुन कर चाचा जी फ़ोन पर ही रावण जैसी ऊँची हंसी हंसे और बोले- कोई बात ही नहीं… 5-7 जन और हों तो उन्हें भी ले आओ.

मेरी कहानीपापा की चुदक्कड़ सेक्रेटरी की चालाकीका आगे का भाग मैं आप सभी प्रिय पाठकों की सेवा में भेज रही हूँ. मैंने उसको चोदे जा रहा था तो सुहानी ने बाथरूम में से पूजा को आवाज़ दी और उसको अन्दर आने को बोला. आज का दिन मैं दिल खोल कर जी लेना चाहती थी क्यूंकि मैं जानती थी, मुझे दूसरा मौका कभी नहीं मिलेगा.

एक तेज़ सिसकारी लेते हुए अलका बड़े ज़ोर से छटपटाई, हाथ बढ़ा कर उसने लंड को पकड़ लिया और चूतड़ उछाल के सुपारी चूत में घुसा ली.

तीनों बार मैंने उसकी चुत को ही चोदा, मेरा मन तो था उसकी गांड मारने का, लेकिन मैंने पहली ही रात ऐसा करना सही नहीं समझा क्योंकि अब हम दोनों को साथ में रहना था और उसकी गांड तो मैं बाद में कभी भी मार लूँगा. कुछ देर चोदने के बाद विनय नीचे लेट गया और मैं उसके ऊपर बैठ कर चुदवाने लगी. इसी तरह एक दिन वो मेरे बाजू में बैठ कर मुझसे बातें कर रही थी और मम्मी किचन में खाना बना रही थीं.

मैं मॉम के पास लेटा हुआ था और मॉम के सोने का इन्तजार कर रहा था ताकि वो सो जाएं तभी मैं कुछ करूँ. फिर लंड को उसकी गांड के छेद पर रख कर थोड़ा ज़ोर लगाया तो चिकनाई के कारण लंड फिसल कर सुपारा उसकी गांड में घुस गया. मैं किसी तरह उठा और टॉवल लपेटकर दरवाजा खोला और चाची के साथ कमरे में गया.

उसका लोअर भी एकदम चिपका हुआ था जिससे उसकी मरमरी जांघें भी उसकी साफ़ साफ़ नुमाया हो रही थीं. कमरे का दरवाजा अधखुला था तो मैंने हल्के से अन्दर झाँका तो मैं अन्दर का नजारा देख कर कर दंग रह गया.

मैं उसकी जांघों पर चुम्बन करने लगा और फिर पेंटी के ऊपर से उसकी चूत को सूंघा. फ़िर मैंने एक बार और मुठ मारी और बहुत मुश्किल से खुद को शान्त कर पाया. फिर पूरे सुपारे को मुँह में भरके चूसने लगी, तो मैं भी अपने लंड को उसके मुँह में अन्दर डालने लगा.

अब मैंने उसको वापस मेरी तरफ घुमा लिया और उसके मुलायम होंठों पे एक किस कर लिया.

वो झड़े जा रही थी… अब तक कई दफा चरम आनंद पा चुकी थी; झड़ती, गरम होती और ज़ोर का धक्का खा के फिर झड़ जाती. अपने लंड को चुसवाते हुए ही आर्थर ने मेरी हमसफर को ऊपर उठा लिया और खुद सोफे पर जा लेटा. वहां के होटल ढाबे की तरह थे और सब लड़के लड़कियां छोटे छोटे कपड़ों में लेटे थे, घूम रहे थे.

वो लंड को मुँह में लेकर टोपे पर जीभ से हरकत करती, तो मैं तो समझो मर ही जाता था. मैंने उससे कहा- चल पागल, ऐसा कहीं होता है क्या?उसने मुझे अपने रूम में ले जाकर लैपटॉप खोलकर ब्लू फिल्म दिखाई, जहां एक लड़की ने पूरा वीर्य पिया था.

चूँकि निशा का पहली बार था, तो थोड़ी तकलीफ़ हो रही थी और मैं ये भी सोच रहा था कि कहीं दर्द के डर के कारण निशा मना ना कर दे. मैं जब तक उसको सॉरी बोलता, मेरे फ़ोन की बैटरी खत्म हो गई तो मैंने अगले दिन उसको कॉल किया और उसको सॉरी बोला. तेज धक्कों के साथ मेरा दर्द भी बढ़ रहा था, तो मैंने चिंटू के सीने को बिल्कुल मम्मों की तरह कसकर पकड़ लिया.

गुजराती भाभी की सेक्सी वीडियो

तभी उनका हाथ टाप से अंदर ले जा कर ब्रा के ऊपर से दूध दबाने लगे और एक हाथ लेगी के अंदर से पैंटी के नीचे घुसा कर मेरी चूत में उंगली करने लगे, मैं गरम होने लगी.

नहीं तो ज्यादातर अमीर लोग तो अपने काम से काम रखते हैं।मैंने कहा- ये सब छोड़ो, ये तो मेरा फ़र्ज़ था. अंत में दो कुर्सियाँ खाली थीं, एक मेरे पति के बगल में और दूसरी भाई साहब के बगल में. 15 मिनट बाद जब मैंने उनका रिचार्ज करा दिया तो तुरंत बाद की भाभी की मेरे पास कॉल आ गयी और मुझे थैंक्स बोला।फिर धीरे धीरे हम दोनों में नार्मल बाते होने लगी।एक दिन अचानक उन्होंने मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने मना कर दिया कि मेरी अभी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो उनको मेरे पर विश्वास नहीं हुआ तो मैंने ऐसे ही झूठ बोल दिया- है… मेरी एक गर्लफ्रेंड है.

अगले 15 मिनट तक मैं उनके मम्मों को चूसता रहा और वो दीवार के सहारे खड़ी कामुक आहें भरती रहीं. तभी अचानक ही मेरी कमर अपने आप ऊपर हो गई और मेरी चूत ने पानी निकाल दिया. फुल हद हिंदी सेक्सी वीडियोखैर मैंने अपनी किस्मत पर रोते हुए कपड़े डाले, पैसे का लिफ़ाफ़ा लिया और ड्राइंग रूम में आ गई, जहाँ ड्राइवर मेरा वेट कर रहा था.

निकाल ले अपने लंड को!पर मैंने भाभी की एक बात ना सुनी और भाभी को किस करने लगा. प्रिया का कंप्यूटर कोर्स भी अपने अंतिम चरण में था, पांच-छह दिन की और बात थी, 02 नवंबर को प्रिया ने घर लौट जाना था.

उस दिन मेरी ताई जी ने मुझसे कहा- एक पंखा अपनी नई भाभी के कमरे में लगा दे… और मैं मन्दिर जा रही हूँ. अभी थोड़े दिन पहले की इंडियन सेक्स कहानी लिखने जा रहा हूँ कि किस तरह मैंने एक अमीरज़ादी की चुत की प्यास मिटाई. मैं फिर जब बाथरूम की तरफ जाने लगी तो मेरी टांगें जवाब दे रही थीं क्योंकि पूरी रात भर चुदाई हुई थी.

प्रिया ने हाथ बढ़ा कर मेरा मुंह अपनी ओर किया और मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोली- लाखों, करोड़ों दुआएं क़ुबूल होने पर मिली मुराद जैसा उस रात का मिलन… एक बार! सिर्फ़ एक बार और… फिर से मुझे दे दीजिये. उसके मुँह से कामुक आवाजें आ रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…पंकज रेखा से बोला- आह और जोर से चूस मेरा लंड. फिर मैंने आंटी के गले पर किस करना चालू किया और जोर जोर से उनके मम्मे दबाने लगा.

क्यूंकि हम उस रेस्टोरेंट में वापस जा नहीं सकते थे क्यूंकि जिस मैनेजर को वो जानता था, उसकी शिफ्ट आठ बजे तक ही थी.

उधर विवाह में शामिल ज्यादातर को मेरे और नीति मैडम के अवैध रिश्तों के बारे में पता था. वो बुरी तरह झटपटाने लगी। मैं मधु के कान में बोला- मैं तेरी इसी चूत में अपना लण्ड डालूँगा और तुझे अपना बनाऊँगा.

उसके बाद परीक्षित मेरी चूत को चाटने लगे, जो मेरी चूत से रस निकल रहा था, इन्होंने उसे भी चाट लिया. किसी तरह मैं घर आकर अपने कमरे में चले गई, सबने डांटने का प्रयास किया, पर माँ ने सबको चुप करा दिया, कमरे का दरवाजा लगा कर मेरे पास आकर बैठ गई और मुझे गले से लगा लिया, और कहा कुछ गलत हुआ है क्या बेटी तुम्हारे साथ।मैंने कुछ नहीं कहा. मैं- बाहर क्यों निकाला?विनय- मुझे लगा कि तुम लंड रस नहीं पीती होगी.

मुझे अपनी साली को अपने नीचे लाने के लिए जितनी क्सक्सक्स वीडियो रिकॉर्डिंग चाहिए थी, उतनी हो गई थी तो अब इस फिल्म का दि एंड करने का टाइम आ गया था. रात को जब वो डिनर करके वापिस जाने लगा तो मैंने उसको बाहर तक छोड़ा और उसके इतना पास चिपकी सी रही कि अपने मम्मों की रगड़ भी उसको लगाती रही. अम्मी धीरे धीरे मेरी ब्रा खोल के उतार दी और मेरे दोनों दूध के निप्पल को पकड़ के दबाने लगी.

हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स मैंने अजय से कहा- यहीं शुरू करें?उसने कहा- नहीं, झाड़ियों के अन्दर चलो. दूसरी तरफ बीवी के साथ तो जैसा अपना नसीब समझ के मैं काम चला लिया करता हूँ.

ब्लू फिल्म वीडियो

अब मैं भी सेजल भाभी की चूत चाट रहा था और उनकी गांड को उंगली से चोद रहा था. इसके अलावा वह शादीशुदा लग रहा था, मतलब उसे रोज़ चुदाई करते हुए अच्छा अनुभव हो चुका था और अपने चोदू लंड से बड़ी आसानी से वह मेरी लंड की प्यास बुझा सकता था. फ़िर मेरी पैंट की तरफ़ देखा और अपने दोनों हाथों से पकड़ के झटके मारते हुए खींचने लगीं.

जो तुम साउंड बंद करके देख रही थी?उसकी हालत पतली हो गई कि मुझे कैसे पता चला. पंकज के बारे में आपको बता दूँ कि वो बहुत ही सीधा सादा इंसान है, जबकि स्मिता एक बहुत ही खूबसूरत औरत है. भोजपुरी गाना डीजे पर केफ़िर सेजल भाभी ने मुझे कंधों से पकड़ के बैठा कर दिया और अपनी टांगों को मेरी कमर पे लपेट कर धीरे धीरे धक्के लगाने लगीं.

लंड शब्द सुन कर वो थोड़ा शर्माती है और फिर भी पूछती है- अन्दर उसमें क्यों दवा डालते हैं.

मैंने एक दो बार और इस बात पर गौर किया तो पाया कि नीला ऐसा जानबूझकर कर रही थी. मैंने बेल बजाई अन्दर से एक लगभग 50 साल का बुड्ढा सा आदमी दरवाजा खोलने आया.

मैंने मार्केट से बियर की बॉटल, सिगरेट, आइसक्रीम और कुछ फ्रूट लिए और घर आ गया. उनकी खूबसूरती को चार चांद लगाने में उनके लम्बे बाल पूरी शिद्दत से उनका साथ देते हैंमाँ की गांड भरी और उठी हुई है और उनके मम्मे भी 36डी साइज़ के हैं. मैंने दरवाजा खटखटाया और उधर ललिता फिर से सोने का नाटक करने लगी ताकि माँ को शक न हो.

मैंने पूछा- आज तुम्हारा कॉलेज नहीं है क्या?तो उसने कहा कि उसने कॉलेज से 4 दिन की छुट्टी ले ली है और वो इन 4 दिनों में मेरी देखभाल करेगी.

बहूरानी के लंड चूसने चाटने का तरीका भी कमाल का था… खूब चटखारे ले ले कर, अपनेपन और पूरे समर्पण भाव से बिना किसी हिचकिचाहट के लंड पर अपना प्यार उड़ेलती और उसके यूं लंड को पुचकारने चूमने से निकलती, पुच पुच की आवाज मुझे मस्त करने लगी. अब मैंने आंटी की साड़ी और ब्लाउज निकाल कर उनके दोनों कबूतरों को खुला कर दिया. अब मैंने एक गहरी सांस भरी और हुमक के एक ज़ोरदार शॉट लगाया तो लंड पूरा जड़ तक चूत में जा घुसा.

अमेरिका मैपफिर मैंने उनकी सलवार में हाथ डाल दिया तो आंटी कहने लगीं- अभी नहीं विकी. साथ ही प्रिया की आँखें उलट गयी तथा वो निष्चेष्ट सी हो कर मेरी बाहों में झूल गयी.

हिंदी चुदाई फुल एचडी

मैं बोली- छोड़ कुत्ते कमीने, मत कर साले, घटिया जीजा, मादरचोद छोड़!जो गालियां आती थी, सब दे डाली और रो भी बहुत रही थी पर जीजा को कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा था, वो फिर से अपना लन्ड घुसाने में लग गए. उसने भी ‘हाँ’ बोल दिया था।अब तो मैं उस दिन का इंतज़ार कर रहा था। जैसा कि मैंने बताया सब घर वालों के जाते ही वो ठीक 11 बजे आई। वो उस दिन बहुत खूबसूरत लग रही थी। सच कहूँ दोस्तों. तभी वो लम्बी गाड़ी आई और वो उसी हट्टे कट्टे बन्दे के साथ गाड़ी में निकल गई.

”तो अपने काम के पैसे ले लेना।”पैसों के लिए मैं ये सब नहीं करता।”तो आप बताओ कि आप क्या चाहते हो?”अगर मैं मना करूँ तो?”मुझे आप पर भरोसा और पूरी उम्मीद है. मैंने उसके पूरे गले को इतना चाटना शुरू किया कि अब वो भी सातवें आसमान पर उड़ने लगी थी. ”प्रिया ने मुदित आँखों से मुझे देखा, मुस्कुरायी और फिर प्यार से मेरे होंठों को चूम लिया.

वो मेरे लंड को और ज़ोर से चूसने लगी और अंत में मैं उसके मुँह में ही झड़ गया और वो मेरा सारा माल पी गई. अगले दिन जब पूरी तरह से चुद कर घर वापिस आई तो थकान की अवस्था में ही मैं ऑफिस चली गई मगर मेरी आँखें लाल और खुमारी से भरी हुई थीं. आंटी को लगा कि आज वो बहुत दिन बाद मिली है इसलिए उसको ऐसे तड़पा कर चोद रहा हूँ.

वो झड़ने के बाद थोड़ी देर मेरे ऊपर लेटी रहीं, फ़िर साइड में लुढ़क गईं और जोर जोर से साँस भरने लगीं. ये बात मुझे पता नहीं थी कि मेरे भैया साल में दो बार घर आते थे और आंटी को उस रूम में चोद कर उनकी खुजली मिटाते थे.

आप मुझे अपनी राय कमेन्ट करके बताएं कि मेरीभाई बहन की चुदाईकी कहानी कैसी लगी.

साथ ही सभी लंडधारी अपना लंड बाहर निकाल लें ताकि हिलाने में दिक्कत ना हो. चमार वॉलपेपरमैंने उनकी टांगों को उठा कर कंधे पर रख लीं और लंड को भाभी की चूत के छेद पर लगा कर जोर का धक्का दे दिया. सेकसी गलसदोस्तो, वो मेरी आशा के विपरीत झट से मान भी गई और हम लोनवाला घूमने चले गए. प्रिया के मुंह से निकली सिसकारी ने बता दिया कि प्रिया की समस्त चेतना अभी उस के बाएं उरोज़ पर केंद्रित थी, मैंने अपने लिंग को हल्का सा पीछे खींच कर ज़रा ज़ोर से आगे को किया.

मेरा सर उस दूध की वजह बहुत जोर से दर्द कर रहा था और मैं थोड़ा थोड़ा होश खोने लगा था.

एक तो पहला सेक्स था और ऊपर से उसने इस तरीके से चूसा कि मैं कुछ ही मिनट में झड़ गया. मनन- चुदाई?रीमा- बोला ना, मैं ऐसी ही हूँ, तुम लड़के कर सकते हो तो हम लड़कियाँ क्यों नहीं?मैं- तब तो तुम्हारा ब्वॉयफ्रेंड भी होगा. मैंने उनसे पूछा- सच में क्या अभी तक किसी ने खाता नहीं खोला?तो टीचर बोलीं- नहीं… कॉलेज टाइम में था एक आशिक जिसको मैं पसंद करती थी, वही था एक इकलौता ग्राहक… उसने मुझे धोका दिया और जिंदगी ने उसे! खैर अब छोड़ो पुराने लोगों को और कुछ नई कहानी बनाओ।तो मैंने उनका हाथ पकड़ा और उन्हें उनके बेडरूम में ले गया और उन्हें बेड पर बिठा कर उनके होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा.

मैंने लंड को चूत पर रख धक्का लगाया, जिससे आधा लंड चूत के अन्दर चला गया. पर क्या करोगे पेंटी का?विनय- रोज तुम्हारी पेंटी को सूँघ कर अपने लंड को शांत कर लिया करूंगा. तभी जीजा बोले- साली कुतिया रंडी, चिल्ला मत मोहल्ले को इकट्ठा करेगी क्या? पूरा मोहल्ला आ जाएगा फिर मुझे कोई कुछ नहीं बोलेगा समझी, सब तेरी चूत को ही चोदेंगे ये समझ ले तू! वन्द्या चुप रह 2 मिनट, बस घुसने ही वाला है, थोड़ा दर्द होता है, उसके बाद तो जन्नत का मज़ा है.

बुर सेक्सी

अब दीदी चेयर पर बैठी हुई फोन को स्पीकर पे डाल कर प्रीति की चुदाई की स्टोरी को सुन रही थी और अपनी चुत को सहलाए जा रही थीं. उसकी गांड का छेद बहुत छोटा सा था, उसमें थोड़ा चूत का अमृत चला गया था, साथ ही में छोटे छोटे बाल चिपके हुए थे. उसने बोला कि अपनेशरीर की जरूरतको पूरा करना ही प्यार है!अब मेरी भी सब समझ आ चुका था कि नीति मैडम चुदाई के लिए बिल्कुल तैयार है.

अब रोज़ पापा के ऑफिस चले जाने के बाद हमारा दोनों का नंगा नाच शुरू हो जाता था.

हैलो फ्रेंड्स, मैं जेसिका क्लार्क एक बार फिर से उपस्थित हूँ अपनी नई सेक्स कहानी के साथ.

दो मिनट बाद उसका दर्द कम हुआ और वो चुप हो कर गांड चुदाई का मजा लेने लगी. रात 9 बजे… बिज़ी नेशनल हाईवे पर खड़ी कार में प्रेम-आलाप… अव्वल दर्ज़े की मूर्खता के सिवा कुछ और हो ही नहीं सकता. सफेद साड़ीमैंने पूछा कि सर आंटी (सर की वाइफ) दिखाई नहीं दे रही हैं?सर ने कहा- वो 2-3 दिनों के लिए अपने मायके गई हैं.

इतने में पूरी ताकत से आशीष मेरे दोनों बूब्स दबाने लगा और नीचे मेरी चूत में आशीष का लन्ड रगड़ खा रहा था। अब मुझसे रह पाना मुश्किल हो गया, मैंने अपनी कमर उठा दी. मुझे बहुत जोश चढ़ा हुआ था, अपने आप मेरे मुंह से निकल गया- अंकल तू बोला था कि बहुत बड़ा लड़कियों का चोदू है, तेरे लंड के बाद मुझे किसी की जरूरत नहीं पड़ेगी. घर पर क्या कहोगी?उसने कहा- वो मेरी प्रॉब्लम है इससे तुम्हारा कोई लेना देना नहीं है.

मैंने एक दिन उसको मिलने बुलाया तो वो बोली- कहां मिलेंगे?मैंने कहा- डिस्को में मिलते हैं. साड़ी उतारने के बाद उसने अपने पेटिकोट का नाड़ा भी खोल दिया और अब मुझे उसकी नंगी जांघें और फिरोजी रंग की पैंटी में कैद उसकी चूत दिख रही थी.

अब मैंने विनय की चड्डी को नीचे कर दिया और उसका 7 इंच का भूरे रंग का लंड मेरे सामने आ गया.

तभी वह रोने लगीं और अचानक मेरे हाथ छुड़ा कर लंड से नीचे उतर कर अपनी पैंटी पहनने लगीं. मैं- आज क्या हो गया है आपको… इतनी रात तक कैसे बातें कर रही हो?माँ- आज मेरे पति बाहर गए हैं, घर पर नहीं हैं, तो मुझे किसी का कोई डर नहीं है. माँ ने बताया कि मौसा जी की तबियत खराब होने के कारण वे चार-पांच दिन के बाद आ पाएंगी.

सेक्स village वो बोली- कैसा सरप्राइज़?मैंने कहा- शादी के बाद क्या हुआ ये भी तो जान लो. पर अब फिर से दीदी ने आँखें खोलीं और फिर बोलीं- राहुल ये सही नहीं है.

दिन भर में भाई तो मेरा मस्त दोस्त बन गया और उसकी दीदी भी फ्रेंडली हो गई. मैंने भी कम टाइम को देखते हुए जल्दी से सेक्स करना ठीक समझा क्योंकि मम्मी भी आने वाली थीं. तब वो बोली- अरी उसका नाम नहीं बोल सकती, जिसको लेने की तुम बोल रही हो कि लिया जाता है.

ट्रिपल एक्स सेक्स मुव्हीज

इस समय में घर में अकेला था, मेरी बीवी और बच्ची स्कूल निकल चुके थे, मैं घर में अकेला था और अगर मैं घर में अकेला रहता हूं तो लुंगी के अलावा कुछ नहीं पहनता हूँ। उस समय भी मैं केवल लुंगी में था और लैपटॉप पर अन्तर्वासना पर अपनी और दूसरे लेखकों की कहानी पढ़कर अपना टाईम पास कर रहा था. बिना देर करते हुए मैंने अपनी शर्ट और पेंट निकाल दी और अब मैं अंडरवियर और बनियान में था. मैं उठ कर मेरी पिंक ब्लाऊज और पेटीकोट में शीशे के सामने खड़ी हुई, जमाई जी मेरे पीछे आकर खड़े हो गए, पीछे से मेरी बालों को खोल कर मेरे ब्लाऊज के ऊपर से मेरी चूचियों को मसलने लगे.

फिर उसके खून से भरे लंड ने मेरे पेट पर से मेरे गले तक वीर्य की पिचकारी से लथपथ कर दिया. दीदी- यार तेरा प्रमोशन हो गया, तूने बताया भी नहीं… प्रमोशन की तो ग्रैंड पार्टी लगेगी बॉस.

पर कहते हैं न कि कस्तूरी हिरन की नाभि के अन्दर ही रहती है और वो उसे पूरे ज़माने में ढूंढता फिरता है, कुछ ऐसा ही मेरे साथ भी था.

मैंने सोच लिया था कि मां की चूत की चुदाई का किसी न किसी तरह इंतजाम करना ही होगा. तो विवेक बोला- अब तो तुम ही हो मेरी जान!और उसने कामिनी को पलटा कर उसकी ब्रा के हुक खोल दिए, कामिनी के गोरे गोरे 36डी के मम्में आजाद होकर इधर उधर झूलने लगे. भैया ने कहा- यार मनन, एक बात सच्ची बताओ, तुम इतने फिट हो तुम्हारी तो काफी गर्ल फ्रेंड्स होंगी और तुम सही में मज़े लेते होंगे.

वो उठा और मेरी बुर में अपने लंड का आगे का टोपा जो एकदम लाल वाला भाग था. माँ ने बताया कि मौसा जी की तबियत खराब होने के कारण वे चार-पांच दिन के बाद आ पाएंगी. मैं तेरे बीज को अपने अन्दर लेना चाहती हूँ चोद दे मुझे… और ज़ोर से आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहह ऐसे ही आहह आह आहह आ आ आहह आहह मज़ा आ रहा है.

अब घर में हम तीन लोग ही थे, मॉम मैं और बहन, सभी के स्कूल बंद हो गए थे तो मॉम बहन दोनों ही घर रहती थीं.

हिंदी बीएफ सेक्सी एक्स एक्स एक्स: पहले तो उसने whatsapp वगैरह के वीडियो देखे और थोड़ी देर बाद उसने ब्लू फिल्म वाला फोल्डर खोल लिया. जैसे जैसे शॉट लग रहे थे हम दोनों एक दूसरे के होंठों चूमते और चूसते जा रहे थे.

लेकिन कुछ देर बाद मैंने घर जाने की जिद की और ताई जी से घर की चबी मांगी, तो ताई मुझे चाबी देने के लिए मान गई पर शरारत न करने की सलाह देकर चाभी दे दी. उसका पूरा लंड मेरी चुत को थप्पड़ पर थप्पड़ मारे जा रहा था और मैं बस ‘ऊह अयू हा हा…’ के सिवा कुछ नहीं बोल पा रही थी. बिंदु बोली- ठीक है ज़रा सोचने दे, मेरी बूढ़ी चूत से तुम्हारा काम भी करवाती हूँ जिससे चुदाई भी आराम से हो और कहीं किसी को भनक भी ना लगे.

बस मेडिसिन के पैसे लूँगा, जो डेली तुम्हारे अन्दर अपना लंड डालने से पहले डालूँगा.

पानी से उसकी जालीदार झीनी सी ब्रा गीली हो गई थी, जिसकी वजह से उसके निप्पल के दोनों काले धब्बे साफ दिखने लगे थे. अभी कुछ ही दिन पहले मैं इंडिया आई हूँ और सबसे पहले मैं अपने पेरेंट्स के पास आई, जहाँ वो रहते हैं. कमरे में आते ही उन्होंने अन्दर से दरवाजे को लॉक कर दिया और मुझसे बोलीं- टेंशन मत लेना, मेरा हज्बेंड सो गया है.