वीडियो बीएफ ओपन वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी सेक्सी सेक्सी देखने वाला

तस्वीर का शीर्षक ,

डायमंड की कीमत: वीडियो बीएफ ओपन वीडियो, इस चीज़ को मोना भाभी ने भी महसूस किया और उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों पर जमा दिए.

2010 की सेक्सी पिक्चर

मैं वो किताब ढूंढ रहा था तो मुझे सिरहाने पर एक और किताब मिल गई जिसमें कुछ लिखा था और बहुत कंडोम भी मिले. गांव घर के देहाती सेक्सी वीडियोमैंने अपनी रफ़्तार बढ़ा दी और अपना लंड बुआ की चूत में अंदर-बाहर करने लगा.

‘अरे रानी चुत तेरी चुत तो बहुत टाइट है, तूने अभी ज़्यादा नहीं चुदवाया है क्या?’मैंने कहा- बस दीपक ने ही अभी कुछ दिन पहले मेरी सील तोड़ी थी. देहाती सेक्सी पिकमैं एक फ्लैट खरीद कर रहती हूँ और उसमें अकेली रहती हूँ तो वो एक दिन मेरे पास आया.

मैंने सोचा कि कोई बात नहीं, दारू तो रोज का काम है … आज इसकी मदद ही कर देता हूँ.वीडियो बीएफ ओपन वीडियो: तो जैसे तैसे जब हम गोवा अपने होटल में पहुंचे तो जो बॉय सामान उठा कर मेरे पीछे चल रहा था उसका सारा ध्यान मेरी मटकती हुई गांड पर ही था।वो मेरी मटकती हुई गांड में इतना खो गया था कि उसे ये अहसास ही नहीं हुआ कि मेरे पति उसके साथ चल रहे थे और उसको मेरी गांड की और घूरते हुए देख रहे थे.

मैं अलग कमरे में सो गया था।सुबह चाय पीते समय स्वाति ने हमसे कहा- मेरी एक समस्या है.भाभी ने उस रात में मेरे रूम में आकर मुझसे कहा- अमित मुझे अकेले डर लगता है.

देहाती सेक्सी वीडियो साड़ियां - वीडियो बीएफ ओपन वीडियो

मुझे ऐसा लगा जैसे किसी ने कोई लोहे की रॉड मेरे दोनों चूतड़ों के बीच में घुसेड़ दी हो.चाची मेरे ऊपर झुक गईं तो मैंने उनके होंठ चूमे और उनके बूब्स पकड़ कर चूत में ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाने लगा.

अब मैंने उससे पूछ लिया- क्या आपको मुझसे डर नहीं लगेगा?रचना ने कहा- इस अनजान शहर में आप ही तो मेरे मददगार हैं, आपसे कैसा डर!फिर मैंने उससे कहा- ओके मैं यहीं रुक जाता हूँ. वीडियो बीएफ ओपन वीडियो सात दिन तक रोज रात को लंड के मसलने के प्रोग्राम के बाद एक दिन मैंने लंड को सहलवाते हुए अपने हाथों से उसकी चुचियां भी धीरे से मसल दीं.

पाठिका के घर में क्या हुआ?दोस्तो, मैं अंकित एक बार फिर से आपके लिए चुत की अदला बदली वाली चुदाई की कहानी लेकर हाजिर हूँ.

वीडियो बीएफ ओपन वीडियो?

आज भी मैं काफी महिलाओं, लड़कियों और भाभियों के साथ सम्भोग में लिप्त हूँ. तो साथियो कृपा करके ‘मेरी कहानी लिख दो …’ ऐसे मेल मत करें, लेखकगण अपनी ही सच्ची घटनाओं को लिखते हैं. मैंने धीरे से अपना हाथ उनकी चूत की तरफ बढ़ा दिया और चूत पर हाथ फेरने लगा.

मेरी किस्मत इतनी अच्छी थी कि फिर मुझे उनकी कारगुजारियों को देखने का मौका मिल गया. मेरी बहन की चुचियां मुझे ज्यादा अच्छी लगती थीं लेकिन बहन की चुत के दीदार सिर्फ दो बार ही हुए थे. मैं उस समय बुआ के मम्मे देख कर मस्त हो रहा था और उनके मुँह से ये सुनकर कि मैंने उनकी मार दी है … मैं एकदम से गनगना गया.

फिर हम दोनों लेट के बात करने लगे दीदी बोलीं- राज, मेरी चूची का साइज़ बढ़ रहा है. इस वजह से नाश्ते के बाद एक दर्द की गोली और खा ली।भाई साढ़े नौ जाता था जबकि वे लोग नौ बजे तक आ जाते थे।रोज की तरह वे अपने टाईम पर आकर काम से लग गये और अपने टाईम पर भाई निकल गया।अब मुझे उन्हें रिझाने की जरूरत नहीं थी कि मैं उसके पीछे मेहनत करती।सीधे अपना खेल शुरू कर सकती थी जिसकी उम्मीद में वे भाई के जाते ही लग गये थे. फिर मीना ने इंची टेप से मेरा बड़े अंडकोषों से चिपका लंड अपने मुलायम हाथों में लेकर सहलाया तो लंड अकड़ उठा.

‘अरे रानी चुत तेरी चुत तो बहुत टाइट है, तूने अभी ज़्यादा नहीं चुदवाया है क्या?’मैंने कहा- बस दीपक ने ही अभी कुछ दिन पहले मेरी सील तोड़ी थी. निप्पल को मुँह में लेकर होठों से दबा रहा था, जिस वजह से मामी के मुँह से कामुक सिसकारियां निकल रही थीं और उनकी चूत पानी छोड़ रही थी.

फिर मैंने उनकी गीली पैंटी बिना आंखें बंद करे ही निकाली और उनकी चूत के दर्शन किए.

अब आगे पहली बार सेक्स का मजा:मैं- हां किया है ना!मीना- तू तो बड़ा छुपा रुस्तम है रे!मैं- आप करोगी मेरे साथ.

मैंने उनसे पूछा- आप ऐसा क्यों चाह रही हैं?भाभी बोलीं- मुझे ये सब अपने पति को खुश करने के लिए सीखना है. उस हिसाब से उनको मेरा लंड बहुत बड़ा लग रहा था जोकि उनकी बच्चेदानी तक तक पहुंच रहा था. मैंने लंड को चुत की फांकों पर घिसा और उसकी आंखों में देखा तो उसने नशीली आंखों से अन्दर पेलने का इशारा कर दिया.

जब मैं मीना के घर पंहुचा, तो मीना अपने कमरे में थी और वो एक चुस्त सलवार सूट पहनी हुई थी. कभी सड़कों के किनारे, कभी पेड़ के नीचे, कभी घड़ी बना कर चुत में लंड चल रहा है. चुदाई का मजा बढ़ जाने के कारण ऋतु अपना हाथ नीचे लंड पर ले गई, जैसे ही उसने लंड को छुआ, तो पता चला कि अभी तो आधा लंड बाहर है.

पापा खुश हो गए और मुझसे बोले कि चढ़ जाओ और लंड इसकी गांड में पेल दो.

मैंने अगले ही पल उसे अपने ऊपर ले लिया और अपनी बांहों में जकड़ कर उसे किस करने लगा. नशा मुझे भी हो रहा था तो मैंने इस मौके का फायदा उठाने का मन बना लिया और धीरे धीरे अपने हाथ उनके हिप्स पर ले जाकर सहलाने लगा. सब लोग अगले दिन आगरा जाने के लिए तैयारी कर रहे थे, मासी भी तैयार थी, लेकिन उन्हें चक्कर आने की बीमारी है।उन्हें सुबह से ही ठीक नहीं लग रहा था.

मेरा ऐसा बोलने की ही देर थी कि उन्होंने बोला- बाबू ऐसा मत करना … मैं सोचूंगी बाबू. मां मनोज से बोली- मेरे साथ तुम नहीं चलोगे क्या?मनोज बोला- यार, मुझे यहां का सब संभालना है. मैंने कहा- आपको कैसे मालूम?वो बोलीं- तुमने डाला तो था शुरू में!मैंने कहा- वो तो थोड़ा सा ही गया था … सही बात बोलो?वो हंस दीं और बोलीं- तुम्हारे भाई मेरी कभी कभी गांड मारते हैं.

मैंने कहा- हां, इधर नीचे मेरा लंड सांप की तरफ फुंफकार रहा है, उसका कुछ करो.

मनोज ने बीस मिनट तक मेरी गांड मारी … फिर उसने अपना वीर्य मेरी गांड में ही छोड़ दिया और मेरी गांड को चिकनी कर दिया. कहानी के पिछले भागआखिर चूत चुदाई की तमन्ना पूरी हो गयीमें आपने पढ़ा कि नगमा की पहली चुदाई का वृत्तांत सुनने के बाद मुझसे रहा ना गया.

वीडियो बीएफ ओपन वीडियो मैंने कहा- मैं रोज आपको देखता हूं, आप किसी आफिस में काम करती हैं न!वो बोलीं- हां, मैं पास ही एक आफिस में काम करती हूं. आप लोगों को मैं क्या बताऊं … जब मेरा लंड उनकी चुत में घुसा तब मुझे कैसा फील हुआ.

वीडियो बीएफ ओपन वीडियो थोड़ी देर तक ऐसा ही चलता रहा, फिर जब उस लड़के का लंड भी खड़ा हो गया तो वो भी पापा का लंड सहलाने लगा. मैंने भी देर ना करते हुए अपना लंड उनकी चुत पर सैट किया और उनकी तरफ देखा.

मैंने पूछा- आपको कब जाना है?बुआ बोलीं- कल जाना है … दो हफ्ते के लिए, ऑफिस का बहुत ज़रूरी काम है.

वीडियो सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो

दो बार चुत चोदने के बाद अब्बू ने खाला से बोला कि सरसों का तेल ले आओ और मेरे लंड की मालिश कर दो. मामी थोड़ी उदास सी लग रही थीं तो मैंने माहौल को हल्का करने के लिए हंसकर कहा कि मामी क्यों उदास हो रही हो, मामा 2 दिन के लिए ही गए हैं और मैं भी तो हूँ आपके पास!तो मामी मुझे देखकर बोलीं तुम्हारी शादी हो जाएगी तो पता लगेगा 2 रात अकेले रहने में क्या होता है. जैसे ही लंड अन्दर घुसा, ऋतु दर्द से तड़प उठी और आगे गिरने को हुई लेकिन सनी ने उसे अच्छे से पकड़ रखा था जिस कारण वो वह गिर नहीं पाई.

मैंने अपने हाथ दीदी के बूब्स के ऊपर रख दिए और एक झटके में लंड को बुर के अंदर डाल दिया!इससे मेरा लंड दीदी की बुर की सील तोड़ते हुए आधा अंदर चला गया और दीदी की आंखों से आंसू आ गए!फिर से दीदी के होंठों को चूसना शुरू कर दिया और उनके बूब्स के निप्पल्स जोर जोर से मसलने लगा. उसके बाद एक हफ्ते तक हम लोग गांव में रहे और रोज हम दोनों ने उस लड़के की गांड मारी और जमकर मजा किया. वो मेरी बात सुनकर हंस पड़ीं और मुझे लगा कि चाची सैट हो गईं तो मैंने उसी पल आगे बढ़कर उन्हें एक लिप किस कर दिया.

2-4 और धक्कों के बाद फिर उसका पानी गिरने लगा,साफिया को पकड़ते हुए फिरोज ने उसको अपने गले लगा लिया.

अब हमारे बीच अन्तर्वासना सेक्स कहानी को लेकर लंड चुत चुदाई की बातें होने लगी थीं. साफिया फिरोज के लंड को मुंह में लेकर जोर जोर से चूसने लगी एक रंडी की तरह … फिर उसको तो बहुत मजा आ रहा था।मामू फिरोज के मोटे लंड को चूसकर मानो अब साफिया को उसकी सबसे फेवरेट चीज मिल गई हो!फिरोज भी उसके माथे को सहला रहा था और नीचे झुककर उसकी चूची को जोर से दबा रहा था. चाय खत्म करके मुनीम ने कहा- दामाद जी, आप आराम से नाश्ता खत्म कीजिए, मैं चलता हूँ.

उसकी सहेली के पापा बाजू में खड़े थे, वो बोले- अभी नहीं तुम लोग कल चले जाना. मम्मी के मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं- आ आ आह राजेश इतना मत तड़पाओ मुझे. लेकिन हम दोनों ने करीब आधी रात को एक बार … और बहुत सवेरे एक बार फिर से सम्भोग किया.

प्रदीप ने मुझे देख कर प्रिया को भी घोड़ी बनाया और प्रिया की गांड के छेद पर लंड रख दिया. आंटी को वहीं लोकल में दिखाने का नतीजा ये हुआ कि उनकी तबियत सीरियस हो गयी.

चाचा अपना हाथ मम्मी के सलवार के अन्दर डालना चाहते थे तो उन्होंने मम्मी को इशारा किया. मैं अलग कमरे में सो गया था।सुबह चाय पीते समय स्वाति ने हमसे कहा- मेरी एक समस्या है. मैंने सोचा था कि अभी घर पर कोई नहीं होगा, तो मैं किताब देख लेता हूँ.

वो किसी न किसी बहाने से मुझे अपने क्लीवेज के दर्शन कराने लगी और यहां मेरे बॉक्सर में लंड को सम्भालना मुश्किल हो गया.

मैंने आधे अधूरे मन से अपने पैंट की आधी चैन खोली तो वो थोड़ी नजदीक आ गई. मैंने उनके साथ जाने से मना कर दिया था क्योंकि मुझे गांव की जीवन शैली ज्यादा पसंद नहीं है. मामी- आह आह … थोड़ी देर तो रुक जाओ यार!मैं- मैं तो रुक जाऊंगा … मगर ये लंड आपकी चूत का दीवाना हो गया है, इसको बाहर चैन ही नहीं पड़ रहा.

वो बोली- अह हाह हाआहह उउम्म्म उउइई चूसो और ज़ोर से चूसो … आंह खा जाओ आज इनको!मैंने ब्रा सहित उसके ऊपर के कपड़े उतार दिए. फिर मैंने एक बार फिर से उसके मम्मों से नीचे आकर उसकी झांटों वाली चुत को चूमने लगा.

फिर मैं अपने दूसरे हाथ को उसकी जींस में घुसा कर पैंटी के ऊपर से उसकी चुत सहलाने लगा. गाँव की लड़की की चूत कैसे चुदी:कुछ देर बाद बारिश बन्द हो गयी तो मैं उठ कर बाहर आ गया. थैंक्स! बस एक बात कहना चाहती हूँ यदि बुरा न मानो तो …पहले वाले लड़के ने पूछा- बोलो?मैंने कहा- हो सके तो चोरी करना छोड़ दो … और कोई काम करो.

चुदाई वाली सेक्सी वीडियो दिखाएं

मैंने उनकी चुत का नमकीन अमृत पूरा चाट लिया … सच में भाभी की चुत का बड़ा स्वादिष्ट पानी था.

मैंने मीना से कहा- मेरी बात गौर से सुन … पहले तू प्रकाश को लाइन पर ले, मैं प्रकाश को राज़ी करती हूं. वे अपने एक नौकर को साथ लेकर शाम के 5 बजे ही चले गए और मुझसे कह गए- आज तुम यहीं रुक जाना और मोना भाभी का ख्याल रखना. उस समय मैं चिराग के ऊपर सवार थी और वो पीछे से मेरी पजामी को सरका कर मेरी गांड को सहला रहा था.

क्षिति ने मुझसे पूछा- कब मिलोगे?मैंने उसकी इस बात का जवाब दिया- जल्दी समय आने पर!और मैं दरवाजा खोल कर वहां से निकल गया. मैं उस पर चढ़ गया और वहां से देखने लगा कि कहीं तो मम्मीं दिखें, पर मम्मी नहीं दिखीं. ट्रिपल सेक्सी सेक्सी पिक्चरसोनाली ने अपनी दोनों आंखें बंद कर रखी थी और अपने कान में इयरफोन लगा रखे थे.

इससे मुझे कोई ऑब्जेक्शन नहीं है क्योंकि मेरे हस्बैंड भी ड्रिंक लेते हैं और कभी कभी मैं भी उनको कंपनी देती हूं. उन्हें शायद मेरी हरकतों का अहसास ही नहीं हो रहा थापांच मिनट बाद मैं धीरे धीरे आंटी के ऊपर चढ़ने लगा.

वैसे मैं भी भगवान में अटूट आस्था रखता हूं और रोज़ सुबह दो घंटे तक मेरी पूजा चलती है. मैंने थोड़ा इंतज़ार किया, फिर उसके चूतड़ पकड़ कर उसे अपने सीने से चिपका लिया, उसकी गर्दन पर अपने होंठ रख दिए. मैंने उस रात अपनी बहेन को तीन बार हचक कर चोदा और उसके खूब दूध चूसे.

मैं झेम्प गया और बोला- सॉरी मामी … मैं वहां फ़ोन पर बात कर रहा था, तो मुझे आपकी आवाज सुनाई दी. फिर भी तेरा बहुत बड़ा है और मैंने देखा था कि मेरा छेद तो छोटा सा है. प्लीज दीदी, मुझे वहां पर भी किस कर लेने दो ना! मेरा सपना है कि मैं एक बार उसे देखूं और किस कर सकूं!यह सुनकर दीदी हंसने लगी.

उन्हीं दिनों मैंने एक बार मीना से कहा- मुझे मंजू के साथ चुदाई करनी है, तुम कुछ मदद करो ना!मीना- अच्छा बता मैं तेरे लिए क्या करूं?मैं- कुछ एकांत जगह दिलवाओ ना!मीना- अच्छा देखती हूँ.

फिर चचा ने थोड़ा सा थूक अपने सुपारे पर लगाया और उसे गांड के छेद पर सैट कर दिया. तो बातों-बातों में उसने यह तो बताया कि वह एक लड़की है और उसका नाम नग़मा है, लेकिन बाकी डिटेल देने के बजाय इधर-उधर की बातें करती रही.

अब हम दोनों अब पूरी तरह से थक चुके थे इसलिए नहाने के बाद हम रूम में आ गए और पूरी रात नंगे ही सो गए. दस बारह धक्कों के बाद मंजू फिर से गर्मा गई और मस्ती से चुदवाने लगी. ऐसा मैंने पहले कभी नहीं किया था तो मुझे बहुत ही आह्लादित करने वाले आनन्द की अनुभूति हो रही थी.

अगले ही पल बहेन की साइड से अपना लंड उसकी चुत में पेल डाला और चुदाई शुरू कर दी. मेरे भरे और फूले हुए गोरे गाल और पिंकिश रेड होंठ मेरी खूबसूरती में चार चांद लगाते थे. जब उनका लंड चुत के अन्दर जाता, तब मेरे पेट में एक अलग ही खलबली मच जाती.

वीडियो बीएफ ओपन वीडियो उसने अपना फोन वाश बेसिन के ऊपर रखा हुआ था जो कि मेरे नीचे था इसलिए मैं उस लड़की को साफ-साफ देख पा रहा था. मैं उनकी चुत में उंगली डालकर घुमा रहा था, जिस वजह से उन्हें और ज्यादा मजा आने लगा था.

हिंदी मा सेक्सी

पर मैंने उससे कहा- अगर तू नहीं करेगी तो मैं मम्मी पापा सब बता दूंगा. ‘अह्ह्ह आशु बड़ा अच्छा लगा रहा है … करते रहो उफ्फ अह्ह्ह … प्यार से चूसो ना …’मेरे हाथ उसकी चूत तक पहुंच रहे थे, पर मैं उसकी चूत को छू नहीं रहा था. कुछ देर बाद हम दोनों मिशनरी पोजीशन में आकर चुदाई करने लगे और झड़ गए.

मैं अपनी नानी के यहां लखनऊ हर साल गर्मी की छुट्टियों में जाता था तो बीटेक फाइनल ईयर एग्जाम देकर इस बार भी उनके घर घूमने आ गया. सनी ने उसकी एक चूची को मुँह में भर लिया और फिर से एक तेज धक्का लगा दिया. चुदाई वाली सेक्सी बफवो मेरी तरफ देखती हुई बोलीं- तुम अभी अपने रूम में जाकर सो जाओ, सुबह बात करेंगे.

नीरस सी जिन्दगी जीते जीते मेरा स्वभाव न जाने कब चिड़चिड़ा सा हो गया, पता ही ना चला.

सन्नी बोला- यार मेरे भाई पहला स्वाद मुझे लेना है … चाहे एक मिनट ही सही, लेकिन इसकी चुत में लंड पहले में ही डालूँगा. मोहिनी ने अपने पैर फैलाकर चोदने का आमंत्रण दिया।मैं मोहिनी की चूत में लंड डालने की कोशिश करने लगा.

मैंने मीना को जोर से पकड़ा कि वो खुद को संभाल भी न पाई और मेरे साथ जमीन पर बिछे गद्दे पर गिर गई. मैं समझ गई कि अब मेरी खैर नहीं है क्योंकि मेरे पति ने मुझे एक बार सेक्स के दौरान बताया था कि लोग गांड बहुत फाड़ते हैं. विकास समता से कहने लगा- अगर आपको कोई काम ना हो, तो हम दोनों मेरे फ्लैट पर चलकर कल होने वाली सभा के बारे में कुछ प्लानिंग करते हैं.

वो बोली- हां मैं ब्लू-फिल्म में देखा तो है मगर मुझे दर्द भी तो होगा.

जीजू ने मेरी चूत में लंड रख कर एक ही झटके में पूरा पेल दियामैं आह करके रह गई. धीरे धीरे चूत का कसाव कुछ कम हुआ और लंड बाहर आने लगा, तो चूत के होंठ भी उसके साथ ही खिंचते चले आए, इतनी टाईट चूत थी ऋतु की. सलीम अम्मी अम्मी अम्मी चिल्लाने लगा और झटकों की रफ्तार तेज होने लगी।सलीम नफीसा की चूचियों को दबाने लगा और जोर जोर से झटका लगाने लगा.

हिंदी सेक्सी फिल्म एक्स एक्स वीडियोयह सब सुन कर मैं खुशी से फूला नहीं समा रहा था क्योंकि मुझे शिल्पा दीदी की इन कारगुजारियों का काला चिठ्ठा मेरे सामने खुल चुका था. पर उनकी पैंटी अभी भी बिस्तर पर पड़ी थी।उन्होंने पैंटी की तरफ इशारा करते हुए कहा- ये पहनने में मदद कर!मैंने उनकी पैंटी हाथ में लेकर उनके पैरों के बीच में से उनके घुटनों तक डाली.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो हिंदी कॉम

मेरी सेक्स लाइफ की शुरुआत की कहानी है यह! मैं जवान हो चला था और सेक्स की इच्छा दबे पाँव मेरे मन में घर करने लगी थी. जो तुम्हारे मन में है वे बता दो!जब हमारी ये बातें हो रही थी, उस वक्त भी मैं दीदी के बूब्स के साथ-साथ उनके निपल्स भी छू रहा था … पर दीदी मुझे कुछ नहीं कह रही थी. मैं अपनी नानी के यहां लखनऊ हर साल गर्मी की छुट्टियों में जाता था तो बीटेक फाइनल ईयर एग्जाम देकर इस बार भी उनके घर घूमने आ गया.

मेरा मन तो किया उसे खींच के गले से लगा लूं।लेकिन मैंने धैर्य से काम लेने का सोचा और सुमन से घर दिखाने को बोला।सुमन ने मुझे पूरा घर दिखाया. तो उसने कहा- ऐसे नहीं राजसी … प्लीज आराम आराम से!उसने मुझे लंड को सहलाने को बोला. कुछ देर बाद मुझे ध्यान आया कि मैं खेतों में चाय के कप तो छोड़ ही आया हूँ.

उस दौरान एक बार फिर हमने एक दूसरे को चुदाई वाला ढेर सारा प्यार दिया. उसे अंदाजा ही नहीं था कि मेरा लंड इतनी तीव्रता से और इतनी बेध्यानी में उसकी चुत के अन्दर घुसता चला जाएगा. समता को प्रचार के लिए विकास के साथ घूमना था और भी महिला साथी उसके साथ थीं.

मैं एकदम से गर्म होने लगी और मेरे मुँह से हल्की हल्की आह निकलने लगी. इस बीच आंटी मुझसे काफी खुल गई थीं और मैं भी उनसे जब तब उनके हुस्न को दिखाने के लिए कहता रहता था.

तो वह बोला- यार तुम नंगी नंगी ज्यादा हसीन लग रही हो रेहाना!तब तक उधर मैंने भी उसे नंगा किया और उसका लौड़ा पकड़ कर कहा- हायल्ला तेरा लाख लाख शुक्रिया! तूने मेरी ख्वाहिश पूरी कर दी.

फिर मैंने सबसे बात की और नाश्ता करने के बाद बोला- मैं नहा कर आता हूँ. भाभी सेक्सी चुदाई हिंदीमैंने बेड पर एक बड़ा गद्दा लगाया और छोटे गद्दे अपनी बांहें रखने के लिए अगल बगल में लगा दिए. सेक्सी व्हिडीओ दिल्ली सेक्सी व्हिडीओअब भाभी अपने आपे से बाहर हो गई थीं, उन्होंने मेरा लंड मुँह में ले लिया. फिर मैंने उसके नाम की मुठ मारना शुरू कर दी और उसकी ब्रा पैंटी को देख कर मुठ मारने लगा.

मैंने देखा कि चाची खेलते समय कुछ ज्यादा ही झुक रही थीं जिससे उनके मम्मे मुझे साफ़ नजर आ रहे थे.

मेरी चुत एकदम गीली होकर तालाब बन गयी थी और मेरे शरीर का टेम्परेचर भी बढ़ गया था. तब भी और आज भी लड़कियां खुद ही ऐसी परिस्थितियां पैदा करती हैं कि जिसको वो पसंद करती हैं, उसको मौका उपलब्ध हो सके. मामी ने पेस्ट्री की क्रीम लंड पर लगा ली और लंड को लॉलीपॉप की तरह चूस रही थीं.

उसे और मुझे पता था अगर उसके पापा उठ भी गए और बाथरूम की तरफ आ गए, तो आकांक्षा उनको खुद अन्दर होने की बता कर उन्हें दूसरे वाले बाथरूम में भेज देगी. मेरा लंड चूत में पूरा अन्दर तक जाता … तो मीना की मीठी आह निकल जाती और उसके शरीर में एक ऐंठन सी आ जाती. मैं उसके नीचे पिस रही थी … पर वो तो मुझे जानवरों की तरह चोद रहा था.

हॉट वीडियो सेक्सी गाना

जब बुआ ने अपने जिस्म पर पानी डाला तो उनके दोनों चूचे साफ़ दिखने लगे और मेरे अन्दर की आग भड़क उठी. जब हम दोनों घर में पहुंचे तो मैं बैठ गया और भाभी चाय बना कर ले आईं. अब तो मुझे घर से बुलावा आ चुका था और मुझे जाना भी था, तो मैंने सोचा कि उस लड़के की तरफ़ नहीं देखूंगी.

ऋतु ने अपना हाथ नीचे लाकर उस खतरनाक लग रहे लंड को पकड़ कर जोर से ऐसे दबा दिया मानो उसे डांट रही हो कि क्या हाल बना दिया तूने मेरी चूत का.

दीदी ने खाकर बर्तन साफ किए, फिर बोली- मेरे तो आज हाथ पैरों में दर्द हो रहा है.

मैं टीवी के सामने सोफे पर बैठी और जॉन मुझे देख कर बोला- विप्स नाम है आपका राइट! यू आर वैरी प्रिटी एंड हॉट … क्या करती हो?मैं- थैंक्यू जॉन … यू आर हैंडसम गई एज वेल … मैं थर्ड इयर में पढ़ रही हूँ. मेरे बायां हाथ रेणु की छाती पर था, वो भी इस तरह, जैसे मैं उसके बूब्स दबा रहा हूं. सेक्सी इंग्लिश फिल्म चुदाईमैंने ज्योति की चुत पर हाथ रखा तो देखा कि उसने आज अपनी चुत को मेरे लंड के लिए पूरी तरह से साफ़ करके सजाई संवारी थी.

फिर वह मेरे टोपे को चाटने लगी और मेरे लंड को पूरा मुंह में लेकर बाहर निकाल दिया और मेरे टोपे को चूसने लगी. फिर खड़े होकर अपने लंड को अपने ही थूक से गीला करके उसकी गांड के छेद पर टिका दिया. मामी- आ आ आह्ह … आईईइ आह्ह … आराम से … कुंवारी गांड है मेरी!मैं- अरे रानी अभी तो उंगली से घी आपकी गांड में भर रहा हूँ ताकि लौड़ा आराम से अन्दर चला जाए.

उसकी चीख निकलने लगी तो आंटी ने अपनी चूत को उसके मुंह में रखकर आवाज रोक दी और वो छटपटाने लगी. होटल रूम सेक्स स्टोरी के पिछले भागमेरी बीवी की कसी चूत में मोटा लंडमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी बीवी ऋतु एक बार सनी से चुद चुकी थी और दूसरी बार की चुदाई के लिए वो सनी के लंड को फिर से चूस रही थी.

करीब पांच मिनट बाद मैं वापस आई और जैसे ही अपना पैग बार से उठाया तो नेहा की दर्द और मज़े से मिली जुली चीख सुनाई दी.

वह अपनी दो उंगलियां चूत के अंदर बाहर कर रही थी और कभी अपनी गांड के छेद को उंगलियों से सहला रही थी. आंटी पूरे रास्ते मेरे हाथ पर हाथ रखकर सिर्फ़ मुझे प्यार भरी निगाहों से देखती रहीं. अमित ने आकर मुझे उठाने की कोशिश की लेकिन पैर में मोच आने की वजह से मैं उठ ही नहीं पा रही थी.

सेक्सी ब्लू फिल्म देखने वाला वीडियो तभी सनी को भी लगा कि उसका रस निकलने वाला है, तो उसने एक बार पूरा लंड बाहर खींचा और अपने जिस्म की सारी ताकत लगाकर एक आखिरी धक्का उसकी चूत में मार दिया. समता- आप सोने के लिए अपने रूम में जाएंगे या यहीं प्लानिंग करनी है?विकास- मैं यहीं रुकता हूँ, आप सो जाइए.

चिराग मुझे ऐसे चोद रहा था, जैसे उसने पहले से भी इस तरह सेचोदने की ट्रेनिंगले रखी हो. पर दो दिन बाद एक नया अनुभव हुआ, जो आज मैं कह सकता हूँ कि ये मौका भी मंजू ने दिलाया था. भाभी ने मेरे ही सामने से अपनी अल्मारी में से महंगी वाली एक लाल कलर की जालीदार ब्रा और पैंटी निकाली और पहन कर बेड पर आ गईं.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी सेक्सी पिक्चर

वो एकदम पोर्न ऐक्ट्रेस सी लग रही थी, उसके दूध बेहद द्रुत गति से हिल रहे थे. मुझे बहुत ज्यादा गुस्सा आ रहा था, पर मेरे पास कुछ विकल्प नहीं था … तो मैं चुपचाप उसके साथ केबिन के अन्दर चला गया. मेरा पति तो सिर्फ नाम का था, मगर उसका लंड तो खड़ा भी नहीं हो पाता था.

हल्की सी आवाज आई- फच …मुझे लगा कि मेरा लंड किसी रसेदार चीज में घुस गया है. कुछ देर चूत उसके मुँह पर रगड़ने के बाद मेरा ज्वालामुखी आखिर फट पड़ा; लावा की धार बाहर निकल पड़ी.

कुछ देर बाद बुआ बोलीं- देख तू मुझे खुश कर दे वरना मैं भैया को सब बता दूंगी.

भैया- तो क्या हुआ … ये तो और अच्छा है … मालिश करने में दिक्कत नहीं होगी. और लेटते ही मैं दीदी के होठों को चूसने लग गया क्योंकि मैं चाह रहा था कि थोड़ा काम दीदी भी करें!यह बात दीदी भी समझ गई क्योंकि थोड़ी ही देर बाद दीदी ने अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर मेरे लंड के लंड को अपनी बुर के छेद के ऊपर लगा दिया. मैंने भी गांड मरवाते हुए कहा- आंह चोद लीजिये चचा, मुझे भी अपनी गांड के लिए आपके जैसा ही लंड चाहिए था.

उसी बीच लड़के ने उसे अपनी छाती पर ले लिया और उनकी चूत में लंड पेलने लगा. हां वो हर बार मेरे लंड पर निरोध चढ़ा देती है, जिससे सारा रस उसी के अन्दर रह जाता है. मीना मेरे हर धक्के पर अपना सर कभी दाएं कभी बाएं करती और अपने एक हाथ से मेरी कमर को पकड़े हुए थी.

मैं अपने लंड के टोपे को चुत की दरार में से डालता और झट से निकाल लेता.

वीडियो बीएफ ओपन वीडियो: मैं कुछ देर रुक गया और जब उनका दर्द कम हुआ, तो आराम आराम से मैंने अपना पूरा लंड आंटी की चूत में डाल दिया. मैंने मन में सोचा कि अब बात आगे बढ़ाने का मौका आ गया है! अब दीदी की चूत बस कुछ ही पल दूर है!तो मैंने दीदी से कहा- दीदी बोलकर बताने की तो हिम्मत बिल्कुल नहीं हो रही है.

थप-थप की आवाज़ से कमरा गूँज रहा था, मैं आनंद के मारे आह … आह … कर रहा था. और दीदी तब लेटे-लेटे पलट गई और मेरे मुंह को अपनी तरफ खींच कर मुझे स्मूच करने लग गई. मैं उसके मुँह से ये सुनकर बहुत खुश हो गया और मोनाली को हचक कर चोदने लगा.

ऐसे ही हुआ … गर्म गर्म जीभ और मुँह के मेरा लंड मुझे किसी और दुनिया में ले गया.

आधा लंड गया था कि मीना हाथ पैर पटकती हुई जोर से चीखने लगी- आअहह … ऊह्ह्ह्ह … मैं मर गईई … मांआआ … मर … गईइइ … निकालो आशु इसको, मर जाउंगी मैं … आंह निकालो प्लीज निकाल लो आशु. मैं बोली- क्या मतलब है तुम्हारा?मनोज बोला- आज तेरे से वो सब करूंगा रानी, जो मैं तेरी मां साथ करता था … और वो सब तू छुप छुप कर देखती थी. फिर मम्मी ने कहा- एक बैग तू उठा ले … एक मैं उठा लेती हूँ और तेरे भाई को भी ले लूंगी.