गुजराती मे बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी मूवी 18 साल की लड़की

तस्वीर का शीर्षक ,

मुसलमानी का सेक्सी बीएफ: गुजराती मे बीएफ, अपने खड़े लंड को चूत पर लगा कर एक झटका फिर से दे मारा मेरा और आधे से ज्यादा लंड प्रिया की चूत में घुसता चला गया.

செக்ஸ் வீடியோ மியா கலிபா

मेरी बहन मेरे घर आई हुई है और हम दोनों ने एक दूसरी की झांटें साफ़ की. नाग नागिन की सेक्सीचल आज साबित हो गया कि तू सिर्फ मेरी है और मुझको धोखा नहीं दे रही है.

इसके बाद मैंने अपनी उंगलियों में लगा मौसी के चूतरस को चाटना शुरू कर दिया. సెక్స్ సెక్స్ మూవీमैं एक हाथ से अपने लंड को पकड़ कर थोड़ा सा आगे की तरफ झुक गया और अपने सुपारे को उसकी चुत की दरार पर लगा दिया, जिससे प्रिया ने एक आह … भरी और अपनी टांगों को थोड़ा और फैला लिया.

निशा अपनी जीभ को लंड से आंडों तक रोल करने लगी और अंडकोषों को चूसने लगी.गुजराती मे बीएफ: जब कुछ समय बाद मुझे फिर से भूख लगने लगी तो मैं कुछ खाने के लिए बाहर जाने लगा, मैं अपने केबिन से बाहर निकला तो उसने मुझसे बोला कि उसे भूख लग रही है.

प्लीज जीजू मेरी हालत बुरी मत करना, मुझे चलने फिरने के काबिल तो छोड़ो … और प्लीज पहले आप करो, जो भी करना है.अब नताशा का चेहरा मेरे सामने था, और दीमा के चेहरे के सामने उसकी कमर.

रानी चटर्जी का सेक्सी गाना - गुजराती मे बीएफ

तो वो पड़ोसी लड़का मेरी मदद कर रहा था और बोल रहा था- मुझे आपके साथ रहने में बहुत अच्छा लगता है.लेकिन तभी मैं धक्का मार कर उसकी चुत की गहराई में अपने लंड को उतार देता था.

मेरा नाम निशा साहू है, मैं अभी 9 मई 2017 को 18 साल की हुई हूँ, हमारी फैमिली में मैं मेरे मम्मी पापा और एक भाई है जो मुझसे 1 साल बड़ा है पर हम दोनों दोस्त की तरह रहते हैं. गुजराती मे बीएफ ठीक 1:00 बजे दरवाजे की घंटी बजी, मैंने दरवाजा खोला तो देखा सामने सरिता खड़ी है.

ये सब उसने अकेली प्लान किया था और उसने सारी बात अपने परिवार में किसी को भी बताई नहीं थी.

गुजराती मे बीएफ?

अब मैंने अपने एक हाथ से जोर लगाकर उनकी सलवार का नाड़ा खोल दिया, उन्होंने अन्दर पैंटी नहीं पहनी थी. मैंने उससे कहा- तुम ज़रा भी ना घबराना, मैं तुम्हारे चाचा को वो सबक सिखाऊंगी कि पूरी जिंदगी भर याद रखेगा. लेकिन मेरी मजबूत पकड़ के नीचे दबी होने के कारण अपने प्रयास में कामयाब न हो सकी.

शाम को मैंने उसे एक फोन दे दिया, जो मेरे किसी काम का नहीं था और वो बस बात करने लायक था. वो जब काम करतीं तो मैं उनके सामने खड़ा हो जाता और वो झुकतीं, तब मैं उनके हिलते हुए मम्मों को देखता रहता था और उनके सामने ही अपने लौड़े को सहलाने लगता था. कम्मो सजधज ली थी अपने हिसाब से; वो जितना खुद को सजा सकती थी, उसने सजा लिया था.

तभी मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और हम दोनों अगले राउड के लिए तैयार हो गए. मगर मुझ से पहले एक वायदा करो कि चाहे कोई कुछ भी कहे, तुम मुझसे पूछे बिना कोई अंतिम फैसला नहीं करोगे जिसमें तुम्हारी और मेरी जिंदगी की बात हो. ले ऐश कर!” मैंने उसे कहा तो उसने गिलास माथे से लगाया और हाथ जोड़ दिये.

और जो गुण एक संस्कारी बहू में होनी चाहिए वो सारे गुण मेरे अन्दर हैं. भाभी अब भी कुछ न बोलीं, तब मैं वही हाथ धीरे धीरे उनके मम्मों पर ले जाने लगा और जैसे ही मैंने उनके मम्मों को पकड़ा, वो एकदम से सिहर गईं और मेरा हाथ छुड़ाकर बाथरूम से बाहर निकल गईं.

मेरी बहन मेरे घर आई हुई है और हम दोनों ने एक दूसरी की झांटें साफ़ की.

तुम काम खत्म होने के बाद पार्लर को बंद करके चाबी घर में देने आ जाना.

प्लीज प्रिया … ऐसा मत करो … बोलो ना … मैं जानता हूँ, तुम्हें सब पता है. तभी प्रिया बोली- हाँ सही बात है और तेरी तो बॉडी भी काफ़ी सेक्सी है. क्यों किसी का कॉल आया था क्या?मामी बोलीं- नहीं, कॉल तो नहीं आया था.

कमरे में एक डबल बेड बिछा था जिस पर गिफ्ट में देने के कपड़े, पैंट शर्ट के पीस, साडियां, मिठाई के डिब्बे रखे थे. दीदी, वैसे आपकी शादी से पहले एक बार तो सेक्स करना बनता है, उसके बाद तो मेरी किस्मत. भाभी का पति अपनी फैमिली को अपने पास शहर में ले गया और मैं आज तक प्यार की तलाश में अकेला ही हूँ.

कुछ ही देर में चुदास चरम पर आ गई और मैं थोड़ा झुक कर आंटी के बाल पकड़ कर उनकी चूत चोदने लगा.

अभी तारा पूरी शांत होती कि माइक ने भी उसकी योनि में अपना लावा उगलना शुरू कर दिया. मैंने पूछा- कहाँ पर पढ़ाना है?हिमानी की मम्मी कहने लगी- सारा घर खाली पड़ा है, जहाँ दिल करे वहां बैठ जाना. खैर 2-3 मिनट तक रेस्ट करने के बाद वो अन्दर बाहर अपने लंड को करने लगा.

माइक का लिंग वैसे ही चिपचिपा दिख रहा था और चमक भी रहा था, ऊपर से तारा की योनि थूक से गीली थी. फिर मैंने धीरे धीरे अपनी जीभ भाभी की गरम चूत में घुसा दी और गहराई तक डाल कर गोल गोल घुमाने लगा. पापा ने कहा- अब मैं क्या दे सकता हूँ सिवा इसके कि कम्पनी में कोई सिफारिश करनी हो तो!मैंने कहा- नहीं पापा, यह आपकी लड़की का हाथ माँगने के लिए आया है.

मैंने उससे कहा कि अगर दिन में दिल किया करे तो तुम टीवी देख लिया करो.

कुछ मिनट यूं ही मौसी के चिपके रहने के बाद मौसी ने उठने का कहा तो मैं उनके ऊपर से हट गया. मैंने सत्यम को पानी लाकर दिया… सत्यम ने मुझे अपनी गोद में बैठा लिया और अपने भूतकाल के बारे में बताते हुए मेरे निप्पल मसलते रहे.

गुजराती मे बीएफ मैंने उनसे कहा- भाभी, यहां से मेरा हाथ ठीक तरह से वहां पर नहीं पहुँच रहा है. धत्त, कैसे कैसे गंदे बोल बोलते हो आप भी ना, लाज शरम तो है नहीं आपको.

गुजराती मे बीएफ मेरे घर में से सब लोग बाहर गए हुए थे तो मैं भी जोर जोर से चिल्लाकर उससे चुदवा रही थी. मेरी बांहों में आके मेरे जिस्म में समा जा, ये जो अंकल लोग बोल रहे हैं कि अपनी बहन को चोद दे, लालजी मेरी सगी मौसी का बेटा है और तू उसके सगे बड़े पापा का बेटा है.

मेरी हमेशा से ख्वाहिश थी कि किसी कमसिन लौंडे के साथ मैं सेक्स करूँ.

पोर्न सेक्सी हिंदी वीडियो

मेरे दोस्तों ने उसकी तारीफ करना शुरू किया, वो भी हमारे पैग बनाने लगी. बहुत दिनों से जोड़ रही थी मैं फोन के लिए!” वो बोली और रूमाल मुझे दे दिया. इस समय उसकी चूत पैंटी के भीतर कैसी लग रही होगी; चूत की दरार खुली होगी या दोनों लब आपस में चिपके होंगे? इस बात का फैसला मैं नहीं कर सका.

मैंने नेट पर बहुत पढ़ा था कि जी स्पॉट को कैसे ढूंढते हैं और कैसे लड़की का ओर्गास्म करवाते हैं. यह अपने परिवार को लेकर ही नहीं, और भी कई लोगों के लिए बाबा ने सच्ची बातें बताई हैं। सोचने समझने की बात तो है अगर उन्होंने कोई संकट बताया है तो हम उसका इलाज करें क्योंकि उन्होंने कहा था कि अगर तुम सूझबूझ से काम लोगे तो उस संकट से बचा जा सकता है. विक्रम- यह नहीं हो सकता?मयूरी- क्यूँ नहीं हो सकता?विक्रम- इसने मेरी गर्लफ्रेंड के साथ…मयूरी- अरे भैया… तुम पागल हो क्या? रजत भी तो यही बोल सकता है? पर तुम दोनों समझ क्यूँ नहीं रहे कि सपना ने तुम दोनों का चूतिया काटा है वो भी एक साथ… रजत ने जो भी किया उसकी मर्जी से ही किया न? उसके साथ को जबरदस्ती तो नहीं की न?विक्रम- वो जो भी है? पर मैं इस धोखेबाज के साथ कुछ शेयर नहीं कर सकता.

उसके बाद तो मैं और वो न जाने कितनी देर तक किस करते रहे, ये मुझे भी होश नहीं रहा.

मैंने भाभी को पूरी तरह अपने नीचे दबोच लिया और होंठों को चूसते हुए धक्कों की गति बढ़ा दी. इस दबाव को मेरा लौड़ा सहन नहीं कर पाया और झटके मारता हुआ उसकी चुत में खाली हो गया. मैंने उसकी आँखों में अपनी आंखें डालते हुआ कहा- बहुत शैतान हो गए हो.

अब मेरे नीचे मुस्कान अपनी गांड हिला हिला कर मेरा साथ दे रही थी और मैंने भी मुस्कान की ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी. फिर मैंने पजामा निकाला तो अंडरवियर के ऊपर से देखा कि उनका लंड बहुत मोटा था. बोलो क्या खाओगे?मैंने उनसे सादा खाना रोटी और मटर पनीर की सब्जी बनाने के लिए कहा.

ये सब करते हुए मेरा लंड खड़ा हो चुका था और प्रिया की पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर रगड़ मार रहा था. शादी के बाद जब रात हो गई, तो वो मेरे पास आकर बोला- सुधा रानी, मैं तुम पर बहुत मरता हूँ.

अशोक- पर मुझे ऐसे नंगे बाहर जाने में अजीब लग रहा है?मयूरी- पापा, आपने अभी अपने बेटी जी जबरदस्त चुदाई की है और कल से घर में सब लोग नंगे ही रहने वाले हैं… अब वक्त बदलने वाला है… आप शर्माना छोड़िये… चलिए बाहर…अशोक- ठीक है…और दोनों बाप-बेटी घर में बेशर्मों की तरह नंगे ही दरवाजा खोलकर बाहर निकले और मयूरी की कमरे की तरफ बढ़े. वे अपने एक हाथ से अपनी एक चूची को मसल रही थीं और दूसरे हाथ से चूत में लम्बा वाला बैंगन डाल रही थीं. चूंकि वो मेरी अच्छी दोस्त थी, तो एक बार वो मुझसे मेरी सेक्स लाइफ के बारे में पूछने लगी.

एक दिन मैं मार्केटिंग के सिलसिले में वहां से गुजर रहा था तो मैंने देखा कि वो बिलकुल फ्री बैठी थी.

बोलो?और इसी बीच शीतल से उत्तेजना की वजह से मयूरी की चूचियों पर थोड़ा ज्यादा दबाव पड़ गया और मयूरी को दर्द और आनन्द दोनों का ज्यादा एहसास हुआ, पर उसके मुँह से आहों की रूप में ये एहसास बाहर निकल गया. चुत को देखते ही साला पूरी तरह से अकड़ जाता है और चुत में जाकर अच्छी तरह से उछल कूद करता है और चूत को पूरे मज़े देता है. मैंने अपना पजामा और टी-शर्ट उतार दी और उसका टॉप और जींस भी उतार दी.

मुझे कुछ होश नहीं रहा दर्द के कारण अब मुझे कुछ समझ नहीं आया और मेरे मुंह से चीख निकल गई. जब उसका लंड सख्त नहीं हुआ तो वो मुझसे बोला- आज इसको मुँह में डाल कर चूसो.

” करती रहीं।अब तक मेरा तौलिया भी खुल चुका था। मेरा लंड साक्षी की चूत पर रगड़ खा रहा था। उनके मम्मे चूसने के बाद मैं धीरे-धीरे पेट की चुम्मियां लेने लगा। जब मैं उनका चुम्मा लेता तो उनका पेट अन्दर हो जाता और वो साँस अपने अन्दर भर लेतीं।मैं अपनी जीभ से उनकी नाभि को कुरेदने लगा. उसने अपने हाथ में लण्ड पकड़ा और बोली- ये असली है?मैंने कहा- आगे पीछे करके देखो. और उसने बताया कि मेरा पति हमेशा शराब पीकर आता है और सो जाता है मुझे हाथ भी नहीं लगाता है और कभी करता भी है तो दो चार झटके लगाकर अपना काम करके सो जाता है।उसने यह भी बताया कि वो मुझे शुरू से ही पसंद करती है पर बता नहीं पाई.

बीपी ब्लू सेक्सी ओपन

फिर यूं ही निराश जीवन में मैंने रंग भरने के प्रयास करना शुरू कर दिए.

सीमा- आप ऐसा सोच भी कैसे सकते हैं? रीना दीदी आपकी बहन है!रीना- यह कभी नहीं हो सकता! आप अपनी बात भी पूरी मत कीजिए. मैं सिखा देती हूँ।”तत्पश्चात उसने अपने हाथ में थमे मोबाईल पे यूट्यूब पे वैक्सिंग का एक वीडियो लगा कर दे दिया और खुद उस कमरे से अटैच बाथरूम में चली गयी।ऐसा नहीं कि इस तरह के वीडियो मैंने पहले कभी देखे न हों लेकिन इस नजर से तो कभी नहीं देखा था कि एक दिन मुझे खुद करना पड़ेगा. अब उनकी बारी थी मेरे से खेलने की … मैं तो उनके लंड चूसने के तरीके से पहले ही परिचित था, बहुत मस्त लंड चूसती हैं.

अब भाभी ने लेटने से पहले मेरी बनियान को उतार दिया, फिर मेरे पजामे को निकाला. मगर मुझ से पहले एक वायदा करो कि चाहे कोई कुछ भी कहे, तुम मुझसे पूछे बिना कोई अंतिम फैसला नहीं करोगे जिसमें तुम्हारी और मेरी जिंदगी की बात हो. पत्नी को मनाने की शायरीतभी मेरे हाथ में खाली ग्लास देख के पायल बोली- लाओ जीजू, मैं आपका पैग बना देती हूं.

ऐसा लग रहा जैसे खुदा ने खुद तुम्हें बनाया है और फिर वो साँचा तोड़ दिया होगा क्योंकि तुम बहुत ही खूबसूरत हो. यह सब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो पाया, इसी लिए मैं उनसे मिलने भी नहीं आया.

दस मिनट बाद मैंने उसकी चुत में ही अपना वीर्य छोड़ दिया और उसके ऊपर से हट कर साइड में बैठ गया. माइक ने तो मुनीर के शांत होने पर बीच बीच में एक एक धक्का मारता ही रहा जब तक मुनीर ने अपनी सांसों पर काबू न पा लिया. मैं उसकी टांगें खोल कर उसकी पजामी के फटे हुए हिस्से में अपना लंड डालने की कोशिश करने लगा … लेकिन वह जा नहीं पा रहा था, तो मैंने उसकी सलवार को थोड़ा और उधेड़ दिया और उसके बाद मैंने अपना लंड सलवार के अन्दर डाला.

अब क्या था … मेरी की आँखें मुंदने लगीं और जांघों के बीच अब सनसनाहट फैलने लगी. मैं बहुत ध्यान से लंड को देख रही थी कि अंकल का लंड एकदम साँप की तरह चमक रहा था और सुपारे के ऊपर वाली चमड़ी मेरे हाथ की उंगलियों से पीछे की ओर खिंचाव पाकर कुछ पीछे की ओर सरक गई. इस कहानी में आप जानेंगे कि कैसे किसी ग़लतफ़हमी की वजह से कुछ गड़बड़ हुए और मुझे एक अनजान औरत से रोमांस करने का सुनहरा मौका मिला.

शायद इस सबसे मौसी को भी मजा आने लगा था और उनके मुँह से धीरे धीरे ‘ओआह.

तभी अंकित ने मेरे दोनों दूध अपने हाथों से अपने पकड़ लिए और जमकर दबाने लगा. फिर हम मॉल गए, उधर हमने 3-4 सैट फैंसी अंडरगारमेंट लिए, मेकअप का सामान वगैरह सब ले लिया.

मैंने उसे कंधों से पकड़कर उठाया और उसके कंधों को सहलाते हुए अपने हाथ उसकी पीठ की ओर ले गया और धीरे धीरे सहलाने लगा. उसने जब कहा कि रात को वहीं रहना पड़ेगा और वो अकेली लड़की है, तो मेरी खुशी का ठिकाना ना रहा. लेकिन पीने बैठने के वक्त, चाय पे ठेले पे उसी की बातें करते थे और घर में आकर मुठ मारते थे.

जब भी मेरा लंड अन्दर जाता, तो वो अपनी चुत से मेरे लंड को दबा देतीं. चाची की चूत की मोटी फांकों के बीच से मेरा लंड अन्दर बाहर हो रहा था. हम दोनों ने एक दूसरे को किस करते करते कब एक दूसरे के कपड़े निकाल दिए, हम दोनों को पता ही नहीं चला.

गुजराती मे बीएफ मैं जोर से धक्का मारता गया और अचानक मेरे लंड ने अन्दर उल्टी कर दी और हम दोनों एक दूसरे पर ढेर हो गए. वे अभी थोड़े जवान हैं और गांव में रहने से उनकी कद काठी भी बहुत अच्छी बनी हुई थी.

गांव वाला देहाती बीएफ

इस बार मैंने थोड़ी हिम्मत करने की सोची और …अच्छा कम्मो चलो अब जरूरी काम की बात करते हैं; ये बताओ तुम्हें फोन कौन सा चाहिये?” मैंने पूछा और उसकी पीठ पर हाथ रख कर अपना मुंह उसके मुंह के पास ले जा कर मध्यम स्वर में पूछा. फ़क माय एस डार्लिंग हस्बैंड!क्रमशः[emailprotected]कहानी का अगला भाग: अतिथि-3. उनमें से मेरा एक दोस्त था मोहित। मोहित के अलावा रमन और सोहित भी मेरे अच्छे दोस्त थे जिनके साथ मेरी ज्यादा बनती थी इसलिए मेरा उसके घर भी ज्यादा आना जाना बना रहता था।मोहित एक बिजनेसमैन था और उसकी जिन्दगी बहुत अच्छे तरीके से चल रही थी। मोहित की पत्नी जिसका नाम नीलम था.

मामी के नाख़ून से मेरे पीठ पे बहुत सारे निशान बन गए, लेकिन मैंने उस पर इतना ध्यान नहीं दिया. कम्मो के गले से दुपट्टा निकाल कर उसके मम्में सहलाते हुए उसे चूमने लगा, उसके शहद से मीठे होंठ चूसने लगा और सलवार के ऊपर से ही उसकी जांघें सहलाते हुए मेरा हाथ उसकी चूत तक पहुँचने लगा. भाड़ में जाओ”लंड पर लंड की घर्षण, चेहरे पर चेहरे की घर्षण होने से मैं उत्तेजित हो गया.

बस जल्दी से आ जा और मेरे अन्दर पेल दे तू अपना, अब मुझसे और इंतजार नहीं होता.

मुझे बस मम्मी और पापा तब डांटते हैं जब मैं कभी कभी कभी गलती से ड्रिंक कर लेती हूँ. यूं भी लोग सेक्स में अलग अलग एक्सपेरिमेंट्स करने को उत्सुक रहते हैं.

मैंने उसके मुँह को होंठों से जकड़ लिया और उसके बाद फिर एक शॉट मार कर आधा लंड उसकी चुत में उतार दिया. वह दो बार झड़ चुकी थी लेकिन पता नहीं आज क्यों मेरा लंड झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. उसके बाद तो मैं और वो न जाने कितनी देर तक किस करते रहे, ये मुझे भी होश नहीं रहा.

अब मैंने भी बिना देर किए भाभी को सीधा लेटाया और अपना लंड उनकी चूत की फांकों में लगा कर अन्दर डालने लगा.

अभी तू हिम्मत से जरा जम के चुदवा ले, अभी थोड़ी देर में दर्द शांत हो जाएगा. वापिस लौटी तो उसके हाथ में रूमाल की पोटली सी थी जिसमें उसके पैसे बंधे हुए थे. मैंने भी थोड़ा सा गिरने का नाटक किया तो वे स्टूल के बजाय मेरी कमर को पकड़ के मुझे संभालने लगे.

जंगल का सेक्सी वीडियो देसीउसने मुनीर के होंठों को चूमा और उससे अंग्रेज़ी में पूछा कि क्या वो झड़ गयी? मजा आया?मुनीर ने उत्तर दिया- हाँ बहुत मजा आया, तुम ही वो इंसान हो, जो समझता है कि मुझे क्या चाहिए. हम दोनों अब चुदाई करना चाहते थे, लेकिन चुदाई करने का मौका नहीं मिल रहा था.

हिंदी में बीएफ देखनी है

टैक्सी में पिछली सीट पर कम्मो मेरे दायीं तरफ निकट ही बैठी थी, सट के तो नहीं पर हां काफी नजदीक थी कि उसके बदन से उठती हल्की हल्की सी आंच या तपिश मुझे महसूस होने लगी थी. वो आज भी जब घर पर आती है तो मुझसे पहले की तरह ही हंस के बात करती है. तभी उन्होंने इधर उधर देखकर अपना पेटीकोट भी उतार दिया और मेरी और पीठ करके खड़ी हो गईं.

”मैंने कहा- दीदी, मैं वादा करता हूँ, आप परेशान ना हों, मैं कुछ नहीं करूँगा और ना ही कुछ होने दूँगा. मैंने उसके पीछे से आकर आराम से एक शॉट मारा क्योंकि मैं उसे दर्द में नहीं देख पा रहा थाहम दोनों ऐसा 15 मिनट तक लगे रहे. यह बात तो आप जानते ही होंगे कि नारी का ये हिस्सा कितना सम्वेदनशील होता है.

तो वो बोली कि उसके पति का किसी दूसरी लड़की के साथ चक्कर चल रहा है‚ वो उसके पास ही ज्यादा रहते हैं. वह मुझे कस कस कर पकड़ने लगी, मजा आ रहा था … उसने अपने पैरों को मेरी कमर से बांध रखा था और मैं जोर जोर से धक्के लगा रहा था, हर धक्के के साथ उसकी आह निकल जाती थी. बस ऐसे ही पड़े रहो और मुझे इस मजे को महसूस करने दो।”मैं खामोशी से उसी अंदाज में पड़ गया और वह मुझे जकड़े जैसे किसी और दुनिया में पंहुच गयी थी.

फिर 5 दिन बाद उसी नंबर से फोन आया और दूसरी ओर से कविता बोल रही थी- सर आपने फोन नहीं किया. सोहेल का बाहर भी चक्कर था और वो बाहर की लड़कियों को घर में ला के पायल के सामने चोदता था.

दोनों एक दूसरे को देखते रह गए और कुछ पल तक बातों को समझने का प्रयास करते रहे.

मुझमें अब और सब्र बाकी नहीं था इसलिए मैं अब उठ कर प्रिया की दोनों टांगों के बीच में आ गया और एक भरपूर निगाह उसकी चूत पर डाली, जो कि मेरे मुँह के लार और उसके खुद के रस से सराबोर होकर चमक रही थी. देवर और भाभी का सेक्सी वीडियो हिंदी मेंवह मुझे कस कस कर पकड़ने लगी, मजा आ रहा था … उसने अपने पैरों को मेरी कमर से बांध रखा था और मैं जोर जोर से धक्के लगा रहा था, हर धक्के के साथ उसकी आह निकल जाती थी. सेक्सी बीपी वीडियो हॉटबस फिर क्या था, मैंने अपना लंड जूही की चुत पर रखा और एक शॉट मारा और लंड चुत के अंदर चला गया।मैं जूही के होठों को अपने होठों के बीच लेकर चूसने लगा और चूचियाँ पकड़ करके जोर जोर से शॉट मारके जूही की चिकनी चुत चोदने लगा. कपड़े धोते समय उनके हिलते भारी मम्मे मुझे साफ दिख रहे थे, क्योंकि उन्होंने अभी भी गाउन पहन रखा था, वो भी बिना ब्रा के.

मैंने पूरा लंड पेला और कहा- दीदी, आप चली जाओगी तो मेरा काम कैसे चलेगा.

उसने अपनी गांड को चुदाई के लिए मस्त सैट कर दी और लंड घुसने का इंतज़ार करने लगी. फिर उसने बोला कि तुम्हारे बेड पे एक वाइट सिल्क का पेटीकोट रखा है, जब आप दोनों चुदाई शुरू करो, तुम अपने नीचे उसे रख लेना क्योंकि आज तुम्हारी रियल सुहागरात होगी, ब्लीडिंग हुई तो वो बेडशीट खराब ना हो और तुम्हें अपने सुहागरात की निशानी भी तो रखनी है ना. मैंने चुत से लंड हटा लिया, तो वो चुदास से भर उठी थी और सीत्कार करने लगी ‘आह्ह प्लीज़ करो कुछ.

रजत अपनी माँ की बगल में बैठा था इसलिए उसने अपना सर अपनी माँ के सीने पर रख लिया. करीब 10 मिनट की धक्कमपेल चुदाई के बाद जूही झड़ गयी लेकिन मेरा चरमोत्कर्ष बाकी था।मैं उसे ड्राइंग रूम में लाया, उसे सोफे ले लिटाया और उसके पैर सोफे के पैर के ऊपर रख दिया, उंगली से उसकी भगनासा को रगड़ने लगा. वैसे ही उनकी चुत में लंड घुसाते हुए अपने हाथ से आंटी के मम्मों को कचाकच निचोड़ने लगा.

इंडियन लड़की ब्लू फिल्म

दोनों के माथे से पसीना बहने लगा था और दोनों के चेहरे पे अब शिकन दिखने लगी थी. अब मैं बिस्तर पर चित लेट गया और मौसी अपनी चूत को मेरे लंड पर फंसाते हुए मेरे ऊपर बैठ गईं. मैंने रीना से पूछा तो उसने बताया कि मैंने तुम्हें बोला था ना, मेरा लवर है.

मैंने अपने एक हाथ से भाभी की टांग को जरा और फैलाया और साड़ी ऊपर करके उनकी चूत को खोल दिया.

ऑटो में हम साथ साथ ही बैठते थे और अपने पैरों के ऊपर बैग रख लेते थे.

हम लोग खाना खा चुके थे, लेकिन बारिश बन्द होने का नाम ही नहीं ले रही थी. उसने पूछा- क्यों क्या हुआ?मैंने कहा- मुझे एक लड़के से प्यार हो चुका है. सेक्सी चोदा चोदा चोदाउसका घर मेरे घर से थोड़ी ही दूर पर है इसलिए उसकी मम्मी भी हमारे घर आती रहती हैं.

लेकिन अगर तुम्हारे घर किसी को पता चल गया तो मुझसे कहेंगे कि मैंने इस बारे में उनको क्यों नहीं बताया तो मैं क्या जवाब दूँगा. मैं एक हाथ जांघों के बीच योनि में ही रखे बदन को सिकोड़े कब सो गई, मुझे पता ही नहीं चला. फिर उससे बोलना कि अगर मुझ पर पूरा ख़याल रखने का वादा किया है, तो बैंक में कुछ पैसे मेरे नाम से भी जमा करवा दो.

और समझदार पत्नि ने ऐसा ही किया! वो अपना मुंह चौड़ा खोलकर दोनों लंडों को अपने मुंह में घुसवाने लगी, दीमा और मैं सावधानीपूर्वक धक्के लगते हुए हमारी पार्टनर का मुंह चोदने लगे. अच्छे से बाल संवार कर चोटी गूंथ ली, आँखों में काजल डाल लिया और नया सलवार कुर्ता और दुपट्टा, मेहंदी तो उसके हाथों में पहले ही लगी थी; कहने का लब्बो लुआब यह कि वो खुद को जितना टिपटॉप कर सकती थी, उसने कर लिया था.

इतना सुनते ही मैंने मनीषा को पूरी तरह से अपनी बांहों में जकड़ लिया और अपनी कमर को थोड़ा ऊंचा किया.

मेरे लंड का पानी निकल गया, लेकिन भाभी ने लंड बाहर नहीं निकाला बल्कि वे मेरे लंड के रस को बड़े चाव से चटखारा लेते हुए पूरा पी गईं. वैसे भी अगर वो उस लड़के से मिलने जाती, तो वह भी उसके साथ यही सब ही करता. ’इसके कुछ देर बाद वे दोनों मेरे शरीर के साथ खेलते रहे और फिर गाजियाबाद आ गया.

सेक्सी चुदाई रोमांटिक मैंने पूछा- डिल्डो कितना लेती हो?उसने बताया- अभी जितनी उंगली की है. मैं- चोदूँ?चाची- हां चोद!मैं- ये लो … ये लो … ये लो!बस यही बोलते हुए मैं फिर से चाची को चोदने लगा.

मैं थोड़ा सा पायल दीदी की ओर खिसका तो वो फिर से घुटने मोड़ कर लेटी हुई थी. सत्यम ने कहा कि वो मेरे साथ ठीक उसी तरह से सुहागरात मनाएंगे जैसे उन्होंने उनकी पहली बीवी चांदनी के साथ मनाई थी. अब मैं बिल्कुल मदहोश हो गई थी, मैं अपनी कमर उठा उठा कर उंगलियां और अंदर बाहर करवाने लगी.

एचडी बीएफ 2020

मान जा बेटा, तू तो मेरी अच्छी सी प्याली प्याली गुड़िया रानी है न!”नहीं नहीं नहीं … मुझे जाने दीजिये बस या फिर अंधेरे में कर लो!” वो अपनी जिद पर अड़ी रही. देख लो अगर तुम्हारे पास रखे हुए हो तो क्योंकि घर में खाने को भी कुछ नहीं है. इसी बीच बहूरानी ने अपनी जीभ मेरे मुंह में घुसा दी और मैं उसे चूसने लगा; फिर मैंने अपनी जीभ बहू के मुंह में घुसा दी और वो भी मेरी जीभ अच्छे से चूसने लगी.

थोड़ी दूर और अन्दर जाने पे पता चलने लगा कि ये राष्ट्रीय उद्यान है और ये मुझे पीछे की तरफ ले जा रही थी. मैंने उनकी कुछ नहीं सुनी और वापस अपने होंठ उनके होंठों से चिपका दिए.

अगले ही पल चाची जोर से एक लम्बी सिसकारी भरते हुए मुझे जोर से अपने बाहुपाश में कस लिया और अपने बदन को ऐंठने लगीं.

अब मैंने प्रिया की चूत में एक उंगली डाली तो प्रिया ‘ओह्ह … आह आआ आआह …’ करने लगी. मुझे दसवीं कक्षा तक ही पढ़ाया गया था और फिर मुझे घर के काम काज में लगा दिया गया. मैंने तब पूजा को अपनी बांहों में समाते हुए उसकी चूची पर चुम्मा देते हुए 5-6 जोरदार धक्के मारे और बोला- अरे पूजा रानी, क्यों नाराज़ हो रही हो? मैं तुमसे मज़ाक कर रहा था.

कभी मेरे गाल पकड़ लेते, कभी मेरी गांड पर हाथ मार देते, कभी मेरी जांघों पर हाथ मार देते. तुम्हें पहली चुदाई का परमानन्द को प्राप्त हो रहा है!जैसे जैसे उसका स्खलन नजदीक आता गया, वैसे वैसे उसकी पकड़ मुझ पर मजबूत होती चली गई. ठीक है अंकल जी मैं तो भाटइसएप चला कर देखूंगी अभी!” वो बोली और उसने व्हाट्सएप्प पर टच करके उसे ओपन कर दिया और मेरे कॉन्टेक्ट्स के कन्टेन्ट्स देखने लगी.

मैंने इस कहानी में वही लिखा है, जो मेरे साथ अभी कुछ दिन पहले ही हुआ है.

गुजराती मे बीएफ: मुच्छड़ ने शर्ट के अंदर से हाथ डालकर मेरी ब्रा के ऊपर से मेरे निप्पल को जोर जोर से मसलना प्रारम्भ कर दिया. साथ ही साथ में मैं चुत के दाने को भी अंगूठे से दबा रहा था और बीच बीच में जीभ निकाल कर दाना चूस रहा था.

इस तरह 6 दिन तक मैं रोज़ रात में चाचा के तूफानी लंड से चुदती रही और अपनी चुत का भोसड़ा बनवा कर अपने घर लौट आई. उसका मुँह खुला तो मैं अपनी जुबान उसके मुँह में अन्दर तक डाल कर फिराने लगा. फिर मैंने अपनी जीभ उनकी चुत में घुसा दी, वो एकदम काँप सी गईं और अब उनके मुँह से सिसकारियां तेज हो रही थीं.

जगतदेव बोला कि सच बोल रहा है या मजाक था समाली?समाली अंकल बोले- मैं सच कह रहा हूं, वन्द्या तू बोल.

उसने आंख बंद करके ही कहा- हैरी डाल भी दो न, क्या कर रहे हो!मैं भी उसकी बात को सुनके एकदम जोश में आ गया और पूरा लंड एक बार में ही डाल दिया. मयूरी की कंवारी चुत एकदम गुलाबी-गुलाबी लग रही थी और उसकी खुशबू रजत को पागल कर रही थी. मामी की चूत में मेरे सफेद व गाढ़े वीर्य की बरसात, इन्हीं झटकों के साथ पांच-छः बार हुआ.