हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी

छवि स्रोत,छोटी लड़कियों की बफ

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी लड़की की डांस: हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी, अब ये सरकारी होने की वजह से इन पर कोई ध्यान नहीं देता है, इसलिए जैसे का तैसा पड़ा हुआ है.

पीरियड्स क्या होते है

एक घण्टे बाद उसने चोदना बंद करके अपने लंड को नेहा के मुँह में डाल दिया. बिलासपुर सेक्समैंने उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और अपना मूसल लंड उसकी प्यासी चुत में घुसाने लगा.

हम दोनों ही समझ गए थे कि अब सिर्फ नॉर्मल बात करने से काम नहीं चलेगा. जंगली आदिवासीमैंने उससे मिलने की बात की, तो वो कहने लगी कि जब कभी भैया घर पर नहीं होंगे, तो देखते हैं.

जेठ जी ने अपना कामरस से सना हुआ लंड मेरी फटी हुई पैंटी से साफ किया.हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी: उसकी नई-नई चूचियों को भींचते हुए उसकी चूत में लंड डालने का चस्का मुझे ऐसा लग चुका था कि मैं जल्दी ही अपने चरम पर पहुंच जाता था.

जेठ जी ने फिर से अपने लंड को मेरी चुत के अन्दर डाल दिया और जोश से धक्के देने लगे.हां … ऐसे … शाबाश … अब टाँग चौड़ी करके अपने चूतड़ पीछे निकाल ले!” सर ने उत्तेजित स्वर में कहा.

लिंग का साइज - हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी

इधर पुनीत मुझे गंदी गंदी गालियां देकर मेरी गांड को जमके चोद रहा था.शाम को 6 बजे माँ ने बोला- रोहन, आज तुम सुनीता चाची के यहाँ पर ही सो जाना.

भाभी- तो क्या मैं बाहर अकेले नहीं रह सकती क्या?मैं- क्यों नहीं … ज़रूर, लेकिन ऐसे आप बाहर रहोगी तो आपको किसी की नज़र लग जाएगी. हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी उन्होंने मुझे थोड़ा डांटते हुए कहा- यह तुम्हारी बहुत ग़लत बात है, तुम मेरे बेटे की तरह हो इसलिए हम दोनों के बीच में ऐसा कुछ भी नहीं हो सकता!यह बोलते हुए चाची ने अपना हाथ मेरे हाथ से झटक दिया.

मस्त फिगर है और वह बोलचाल में बहुत अच्छी है।मेरी उम्र 36 वर्ष है और मेरा फिगर 36सी 34 38 है।जैसा कि पहले आप मेरी स्टोरी पढ़ चुके हैं कि मुझे लेस्बीयन सेक्स बहुत ही पसन्द है.

हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी?

सबीना आंटी के चुचे 38 इंच के थे, जो मैंने बाद में उन्हीं से पूछा था. साथ ही मैं बोल रही थी- आह … जरा जोर जोर से करो मालती रानी … मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है … आह … और जोर से और जोर से. अब अनवर ने मुझे अपनी टांगों में फंसा लिया और बोला कि वन्द्या तुम मेरा लंड पूरा झेल लेना.

मैं चौंक गया और मैंने पूछा- मेरा इन्तज़ार क्यों?तो वो अचकचा कर बोली- व्वो … मेरी चाय पीने की बहुत इच्छा हो रही थी और मैं अभी सोच ही रही थी कि आप आ गए, सच में बहुत सही समय पर आए हो. यह कहते हुए वो मेरे थोड़ा नज़दीक आयी और लिप्स पे हल्का सा किस कर के हंसती हुई भाग गयी. मुझे लगा कि शायद वह बाथरूम में गयी होगी, तो मैं फिर से सोने का प्रयास करने लगी.

मैंने भी अपनी जीभ से भाभी की चूत पर हल्के से लिक करना शुरू किया और वह तड़पने लगी. इसलिए मैं भी अब मजे से नेहा की चुत को चाट चाट कर उसके रस को पीने‌ लगा. वो बोली- फिर तो मेमसाब आ जाएंगी फिर मेरी तरफ़ थोड़ा देखोगे?मतलब उसे भी नीचे आग लगी हुई थी.

मैंने उनके जाने के लिए सब कुछ तैयार कर दिया और उनके सामान की पैकिंग में भी उनकी सहायता कर दी. तब सुनील बोला- आह अब यह आ गई अपनी लाइन पर … बहुत मस्त चुदक्कड़ है यार! इसकी चूत बहुत टाइट है.

उनका शरीर भरा हुआ है और पेट पर पड़ने वाली सिलवटें उनको और भी ज्यादा मादक बना देती हैं।मेरी चाची की शादी को 18 साल हो चुके हैं और मेरे चाचा बाहर जॉब करते हैं। चाची अकेली ही अपने 15 साल के बेटे के साथ रहती है.

फिर मुझे एक कुर्सी पर बैठा कर वो मेरे लिए चाय बनाने किचन में चली गई.

मैंने अब कसके अनवर को बांहों में पकड़ लिया और अपनी कमर आगे पीछे करने लगी. फिर भाभी ने मेरे से पूछा- मैंने सुना है कि आपकी बहुत सारी जीएफ हैं. रिक्शे वाले को बोल कर कि किसी अच्छे होटल में ले चले … हम फिर से अपनी चुम्मा चाटी में मस्त हो गए.

मैं बोली- नहीं मम्मी … मैं वहीं चल कर खा लेती … पर अभी यहां मेरा मन नहीं है, तुम होकर आ जाओ. भाभी का कराहना, उसकी हवस से भरी सिसकारियां, मेरे बेडरूम को किसी रंडीखाने जैसा बना रहा था. मुझे भी नहीं पता, वैसे भी जगत अंकल का लौड़ा इतना बड़ा नहीं था, फिर भी मेरी चूत बहुत टाइट थी.

मैं उसका कुरता ऊपर उठाने लगा, उसने अपनी बांहें ऊपर उठा के मुझे कुरता निकालने में मदद की.

मैंने अन्दर आने के लिए रास्ता छोड़ दिया, तो वो चाय का कप हाथ में पकड़ाते हुए बोली- प्लीज तुम राहुल को स्कूल छोड़ आओ, आज उसका ट्रिप दो दिन के लिए शिमला जा रहा है, स्कूल बस नहीं आएगी. तो मैंने पहले तो ना कर दी फिर पापा ने भी मुझे चलने को कहा तो मैंने हाँ कर दी. अब मैंने एक उंगली वंदना की गांड में डाल दी, इससे वंदना उछलकर ऊपर को हुई और कहने लगी- जानू वहां नहीं … बहुत दर्द होता है.

मैं- अच्छा और क्या क्या तैयारी की है तुमने?नूपुर- सब कुछ तैयारी कर ली मैंने. मैंने टी-शर्ट खोल कर अपने हाथ अन्दर डाल कर पीछे लेजाकर उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया. मैंने कार को हिलते देखा तो मुझे भी लगा कि सच में कोई चूत चुद रही है.

मैं तुझे बोला था ना कि दस मिनट बाद तू खुद इतना चुदवाएगी कि यह लोग भी कहीं ढेर ना हो जाएं तेरे सामने.

फिर से मैंने जोरदार चुम्मा लिया और लंबा फव्वारा सरिता की चूत के अन्दर छोड़ दिया. मैं ट्रेन में चढ़ा आर सीधा अपनी बर्थ पर जाकर व्यवस्थित होते ही दस मिनट में ही थम्पसअप को पी लिया और तुरंत सो गया.

हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी मैंने उससे पूछा- तुम्हें यह रिंग कैसी लगी?उसने कहा- यह तो बहुत अच्छी है. तभी मैंने देखा कि उसकी पहली चूची, जिसको मैं अब तक चूस रहा था, उसका निप्पल बिल्कुल लाल हो गया था.

हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी उस बुड्ढे ने जैसे ही मुझे देखा तो बोला- रमीज तू कैसे इतनी तारीफ कर रहा था कि वो लड़की नहीं कयामत है. नेहा पूरी तरह से उत्तेजित थी और उसकी मुनिया का प्रवेशद्वार भी कामरस से भीगकर चिकना हो रखा था, इसलिए एक ही झटके में लगभग मेरा आधा लंड उसकी मुनिया की नाजुक फांकों को भेदता हुआ अन्दर उतर गया.

इस दौरान मैंने नोटिस किया कि मेरे छूने से कौशल्या को कोई परेशानी नहीं हुई.

सेक्सी फिल्म दिखाओ इंग्लिश

हम दोनों के पास एक दूसरे के नंबर नहीं थे, इसलिए मैंने उसको बड़ी ख़ुशी से अपना नंबर दे दिया ताकि उससे बातचीत हो सके. ये कहानी आज से लगभग एक साल पहले की है जब मैं दिल्ली से किसी काम से बाहर जा रहा था. मैं नींद में थी, तभी मुझे महसूस हुआ कि मेरे पति ने मेरे दोनों हाथों को पकड़ा हुआ है और अपने पैरों से मेरे पैरों को भी जकड़ रखा है.

नेहा के चिकोटी काटने से जब मुझे दर्द हुआ तो जैसे मैं होश में आ गया और मैंने नेहा की तरफ देखते हुए उससे पूछा- क्या?? क्या है?क्या है? जान से मारेगा क्या?? आराम से भी तो कर सकता है ना …” नेहा ने कराहते हुए कहा. पुनीत ने देखा और मुझे बोला कि वन्द्या तुझे यह दोनों सील पैक माल समझ रहे हैं. पर मैं दम साधे यूं ही रुका रहा और स्वीटी को जकड़कर उसके ऊपर लेटा रहा.

भाभी- मैं वो सब वापस आ कर आपको प्रॅक्टिकल करवा के बताऊंगी कि किस के आगे क्या होता है.

उसके जोर से जकड़ लेने से मेरे ब्लाउज में से मेरी आधी चूचियां बाहर आ गयी थीं. हालांकि डर भी लगता था लेकिन लंड महाराज जो न कराये सो थोड़ा है।फिर धीरे धीरे हम दोनों में बातें शुरू हो गयी। रोजी बोली- आप अपना मोबाइल नंबर दे दो, मैं घर पर जब गेम खेलूंगी, अगर कोई समस्या होगी तो तुमसे पूछ लूंगी. उसने कहा- बोलो क्या शर्त हैं?मैंने कहा- पहली शर्त यह है कि एक बार अनिल से मेरे सामने चुदाई करवाएगी.

मैंने चाची के पेटीकोट को उसकी जांघों तक चढ़ा कर उनकी जांघों को सहलाना शुरु कर दिया. पांच मिनट तक चोदने के बाद आनन्द ने मुझे इशारा किया और मैं पूजा के पीछे आ गया. अब काम खत्म हुआ, तेज़ गर्मी के चलते मामा ने पंखे का बटन दबा दिया और पास ही रखी खटिया के अस्त व्यस्त से बिस्तर पर जाकर धड़ाम से लेट गए और अपने बम्बू से तने लंड को पकड़कर हिलाते हुए बोले- सुकून नहीं था ना लंड लिए बिना तुझे, ले.

वो मस्त कामुक आवाजें निकालने लगी- आह … आह … आह … ऐसे ही डालो … मजा आ रहा है. मैं कुछ बोली नहीं, पर यह सुनकर और सोचकर ही मेरी सांसें बहुत भारी होने लगी थीं.

वैसे भी मैं इससे चुदवा चुकी हूँ … क्या सॉलिड चोदता है … हम दोनों को एक साथ चोदा इसने. यहां की ज़्यादातर स्टोरी पढ़कर उस वक्त बहुत गर्म लगता है, जब यहां लिखने वाले लोग लिखते हैं जैसे उसने मेरा लंड चूसा, मुँह में माल या वीर्य झाड़ दिया. उसके कपड़े कभी कभार नीचे गिर जाया करते थे, तो मैं उन्हें उठा के ऊपर दे जाया करता था.

फिर मेरे पास बैठकर मेरा पेटीकोट और मेरी पैंटी दोनों को काट कर मेरी शरीर से अलग कर दिए.

न जाने … इस खेल में ऐसा क्या जादू होता है कि सारा का सारा दर्द कहां गायब हो जाता है. स्खलित के बाद सुलेखा भाभी‌ की चुत के अन्दर की दीवारें प्रेमरस से भीगकर अब और भी चिकनी और मुलायम हो गयी थीं जिससे मेरा लंड अब और भी कुशलता से उनकी चुत की मालिश कर रहा था. मैंने मजबूरी का हवाला दिया और कहा कि जल्दी ही मैं नया कमरा देख लूँगा.

दो तीन कश मारे होंगे कि मेरे बाजू वाले कमरे से पियू भी बाहर आ गयी, उसने मुझे स्मोक करते हुए देख लिया और मेरे पास आकर धीरे आवाज़ में मुझे डाँटने लगी कि मैं स्मोक क्यों करता हूँ, ड्रिंक करता हूँ उतना काफ़ी नहीं क्या!मैंने उसे बता दिया कि ड्रिंक के साथ स्मोक की आदत है और बहुत कम स्मोक करता हूँ. मैंने उसे नेट चलाना सिखा दिया था तो नतीजा यह हुआ कि एक दिन मैंने देखा कि वह ‘पत्नी को दोस्त से चुदवाया’ नाम की कहानी पढ़ रही थी.

कॉलेज खत्म होने के टाइम मैंने उससे कहा- अब निकलो … वरना मेरे घर पर भी कोई आ सकता है और हमें देख कर समझ जाएगा कि हमने आज कॉलेज से बंक किया है. मैंने देखा कि वो रेड कलर की साड़ी में क्या कयामत लग रही थी और रेड कलर का ब्लाउज भी क्या बताऊं … उसको कितना मादक बना रहा था. तभी मेरे मुँह में उसकी जो‌ चूची थी, उसे मैंने उसे हल्का‌ सा‌ काट लिया … जिससे प्रिया ‘अआआ … ईईई … ईईईई … ओययय …’ की आवाज के साथ चीख पड़ी और उसने अचानक से मुझे धक्का देकर बिस्तर पर गिरा दिया.

राजस्थानी नंगी सेक्सी चुदाई

वो पूरे दिन लगड़ाते हुए चल रही थी, पर मैंने उससे इसका सबब पूछना जरूरी नहीं समझा.

सलवार के नाड़े को खोलने के लिए कुछ देर तो वो ऐसे मेरे ऊपर लेटे लेटे ही कोशिश करती रही, मगर जब कामयाब नहीं हो सकी तो वो झुंझला उठी और झटके से मुझे छोड़कर अलग हो गयी. उसके नरम थन मेरे पैर से लग रहे थे, उसमें से दूध भी आ रहा था, जो मुझे गीला लग रहा था. मैंने साथ ये भी कहा कि मैं जल्दी ही कंपनी को बोल कर किसी दूसरी सोसाइटी में फ्लैट ले लूँगा ताकि बात यहीं दब जाए.

मेरे प्रिय दोस्तो, आप सभी पाठक पाठिकाओं को मेरा और मेरे खड़े लंड का सलाम. मुझे अब दरवाजे पर किसी के होने का आभास सा हुआ, मगर मैंने जब दरवाजे की तरफ देखा तो मुझे‌ नेहा नजर आयी. कार्टून बफमैंने भाभी को मक्खन लगाते हुए कहा- भाभी सच में आप अप्सरा लग रही हैं.

उसके मुँह से हल्की आह निकल रही थी, तो मैंने अपना रुमाल उठाके उसके मुँह में जबरदस्ती ठूंस दिया. लेकिन वो इतनी जोश में आ गयी थी कि दो मिनट में ही फिर झड़ गयी और मेरे ऊपर लेट कर हांफ़ने लगी.

मैं बोल ही रही थी कि जेठ जी ने एक ही झटके में अपना पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया. मैं रोज़ जिम जाता हूँ। दोस्तो, यह कहानी एक साल पहले की है जब मैं बाहरवीं कक्षा में पढ़ता था. जिसे देख कर मालती ने कुछ भी करने से पहले उस पर अपना मुँह मारना शुरू कर दिया.

साथ ही में उसके यहां से एक गर्म बड़ी सी शॉल भी ले ली और बस में आ गया. दोस्तो! जिस प्रकार आदमी यह सोचता है कि मुझे किसी कुंवारी लड़की की चूत मारने को मिले, उसी प्रकार औरत भी यह चाहती है कि उसे भी बिल्कुल कुंवारा लड़का मिले, जिसने पहले कभी चूत न मारी हो. दादाजी की उंगलियां अब सोनल की टांगों पर घूमने लगीं, फिर धीरे धीरे जांघों पर जा पहुँची.

कुछ ही देर बाद मेरी वासना के ज्वालामुखी फट पड़ा और मैं ज़ोरों से छूट पड़ी.

फ़िल्म शुरू हो गयी, अभी फ़िल्म में उस लड़की के कपड़े भी नहीं उतारे थे, तब तक तो सोनल ने मेरा गाउन जांघों तक ऊपर खींच लिया था और मेरी पैंटी पर कब्जा जमा दिया था. मैं गांड के मांस को मुठ्ठी भर पकड़ पकड़ कर समूची गांड को मसलने लगा- चाची, क्या गांड बनाई है भगवान ने.

दोस्तो, मैं मोहिनी हूँ, एमए की छात्रा हूँ … और हरियाणा के कैथल की रहने वाली हूँ. क्यों कुछ काम था क्या?मैं- नहीं बस ऐसे ही मैंने देखा कि आप अकेले घर के बाहर ख़ड़ी हो, इसलिए मैंने आपसे पूछा. उस दिन की रात बड़ी मुश्किल से निकली हम दोनों की!अगली सुबह जब मैं उठा तो देखा सभी अपने सामान पैक करके गाड़ी में डाल रहे थे.

तो मेरे प्यारे भाइयो, चुदासी आंटियो और भाभियो, आपको मेरी सबीना आंटी की चुदाई की कहानी कैसी लगी. खाला बोलीं- आमिर, आज सारा भी वापिस आ जाएगी और शाम को तुम्हारा उसका निकाह हो जाएगा. पांच मिनट बाद अनु ने पोजीशन बदलने को कहा, तो करण चित लेट गया और अनु उसके खड़े लंड पर चुत फंसा कर बैठ गई.

हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी जो ये सब कह रही थी, उसका ब्वॉय फ्रेंड अभी यहाँ नहीं था, वरना कसम से मुझे मार ही डालता. इस दिमागी उथल पुथल के कारण मैं अपने आपको रोक नहीं पाया और दुनिया को बेशर्मी दिखाते हुए अगले 2 मिनट में ही अपना हाथ गाड़ी चलते हुए मामा के लंड के उभार पर रख दिया.

भोजपुरी में बीपी सेक्सी

मैंने भी आव देखा न ताव, अपने लंड का टोपा चाची की चूत के मुँह पर रखा और ज़ोर का झटका मार दिया. सभी बारी-बारी से मेरी चुत को, मम्मों को और गालों को चूमने चाटने लगे. जब भी मैं सरोज चाची को अपने सामने गांड हिलाते हुए चलता देखता, तो अपना लंड हिला कर मुठ मार लेता.

शायद सुलेखा‌ भाभी फिर से उत्तेजित होने लगी थीं इसलिए उनकी सांसें भी अब गहरी हो गयी थीं. तभी ट्रेन के हिचकोलों ने मेरी चूत को सहारा दिया और लंड ने अन्दर अपनी जगह बना ली. सनी लियोन का सेक्सी फोटोउसने अपनी मॉम नेहा को बुलाया और बोला- मॉम, आंटी को आपकी वो सफेद वाली नाइटी दे दो.

जेठ जी ने अपना एक हाथ नीचे ले जाते हुए मेरी साड़ी खोल दी, फिर पेटीकोट की गांठ खोलते हुए साड़ी और पेटीकोट एक साथ ही नीचे सरका दिया.

मैं- एक बात बोलूँ, आपको गुस्सा तो नहीं आएगा ना?प्रमिला दीदी- हां रे बोल न?मैं- क्या हम दोनों आज मूवी देखने जा सकते हैं?प्रमिला दीदी- लेकिन आज …मैं- क्यों क्या हुआ?प्रमिला दीदी- सासू माँ को मालूम है आज मेरी छुट्टी है और … आज तो कामवाली भी नहीं है. वो अपनी चूत पर मस्त खुशबू लगा कर आई थी, जो चाटते वक्त किसी मीठी चॉकलेटी स्वाद दे रही थी.

पार्लर काफी चल निकला और फिर लड़की रख ली। मायके जाती तो पिंकी से मिलकर चूत चटवाती। मेरी एक पुरानी कस्टमर बन चुकी थी जिसका नाम शिखा था. लेकिन मेरे को नींद नहीं आ रही थी कि इतना मस्त माल मेरे पास लेटा हुआ है और मैं कैसे सो सकता था. उसके बाद मैंने उसकी शर्ट के बटन खोल दिए और उसकी छाती पर किस करने लगी.

उसने कहा कि घर में सास ससुर को बता दो कि उसकी बस रास्ते में खराब हो गयी है और वो कल सुबह ही दूसरी बस पकड़ कर आएगी.

मैंने उनसे कहा- आंटी, आज मैं आपसे अपने मन की सच्ची बात कहना चाहता हूँ. फिर मैं भाभी को ड्राइंगरूम में ले गया और सोफे पर खड़ी करके उसकी चुदाई की. करीब 10 मिनट एक-दूसरे को चाटने के बाद मेरी बहन मेरा लौड़ा चूत में लेने को तैयार थी, मैंने मालिनी को लिटाया और उसकी गांड के नीचे एक तकिया रख दिया.

चोदा चोदी चाहिएराहुल दिखने में काफी अच्छा था और इसी वजह से मैं भी उसकी तरफ आकर्षित होती रहती थी और वह भी मुझपर लाइन मारता था. अब बेचारी नीना को अपनी बेइज्जती लगी कि वह प्रशांत के लौड़े का पानी नहीं निकाल सकी.

सेक्सी वीडियो हिंदी भोजपुरी एचडी

मैं- चाचा से भी ज्यादा?चाची- हाँ रे … तुम्हारा चाचा इतना देर तक नहीं चोद पाता है. ”और भी थोड़ी नार्मल सी बात हुई और उसने फोन रख दिया। मैं बहुत खुश था क्यूंकि बात शुरू तो हो गई थी।फिर हमारी लगभग रोज ही बात होने लगी थी. एक समय ऐसा आया कि मैं गुड़िया की छोटी छोटी चुचियों को दबाता रहता और उसे अपनी बांहों में भरके चूमता रहता.

कुछ देर तक लंड चूसने के बाद अब मुझसे बिल्कुल रहा नहीं जा रहा था, मैं बोली- रवि जी सीधे हो जाओ और अब मत तड़पाओ. जेठ- देख नीतू रानी, देख मेरा लंड … है ना तेरे पति से बड़ा? तुझे बहुत पसंद आएगा ये!मैं आंखें बड़ी करके उनके लंड को देख रही थी, सच में उनका लंड मेरे पति से बड़ा और लंबा था. कोई पांच मिनट बाद मैंने उससे ऊपर आने को कहा, अब वो ऊपर थी और मैं नीचे था.

जिससे प्रिया के होंठों के साथ साथ अब उसकी आंखें भी बंद होती चली गईं. मेरी आवाज सुनकर मम्मी ने पीछे मुड़कर देखा और पूछने लगीं- बैठते बन रहा है कि नहीं सोनू?तब जगत अंकल बोले- क्या बताएं थोड़ी परेशानी तो है … बेचारी बिटिया दबी जा रही है. तेरी मम्मी के आने से पहले कोई ना कोई ये बताने आएगा कि मम्मी तेरी आ रही है.

उस वक्त तक मेरी कई सहेलियों के बॉयफ्रेंड थे और वो बहुत मज़े लेती थीं. हम दोनों लोग ऐसे ही बहुत बार बाहर घूमने गए और हम दोनों लोग एक दूसरे के काफी करीब आ गए.

तभी उसने कहा- बस करो, अब देखते ही रहोगे? मैं गर्मियों की छुट्टियों तक यहीं रहूंगी.

आज मैं जो अपनी बात आपसे शेयर करने जा रहा हूँ, वो घटना फरवरी महीने की ही है. मास्टर ऑफ सोशल वर्कमैंने पूछा- क्या हुआ? तुम भी शराब पीते हो क्या?वो- नहीं नहीं … सर वो मैं सोच रहा था कि आप पीकर घर वापस कैसे जाएंगे, सो मैं रुक गया. न्यूड गर्लनीचे की तरफ उनकी गाड़ी खड़ी हुई तो ड्राइवर बोला कि मालिक आपका बंगला आ गया. चाची बोली- बेटा, मैं तेरी चाची हूँ।मैंने अपना एक हाथ चाची की कमर पर फिराते हुए उसके पेटीकोट के अंदर से उसकी चूत पर रख दिया.

अंकल पीछे मेरी कूल्हों को पूरा फैला कर तकिए से और ऊपर उठा लिया और एक ही झटके में मेरी गांड में पूरा लौड़ा डाल कर घुसा दिया.

जब उसके फोन में जांच-तलाश करने में लगा हुआ था तो वो एकदम दुकान में वापस आ धमकी. वो बोला- माशाल्लाह … क्या खूबसूरत कातिल निगाहें है तेरी! बहुत प्यासी आंखें हैं. वो भी एक चाची और भतीजे के बीच सब हो रहा था, जो शायद जल्दी से कहीं नहीं होता होगा.

उसने मुझे अपने घर बुला लिया, मैं जल्दी से तैयार होकर उसके घर के लिए निकल गया और 30 मिनट उसके घर पहुँच कर डोरबेल बजा दी. हम लोग रात में रोज चुदाई करते थे और कभी कभी तो मेरे पति मुझे दिन में भी चोद देते थे. पिछले भागमदमस्त काली लड़की का भोग-1में आपने पढ़ा कि ट्रेन में मिली काली सलोनी लड़की की तरफ आकर्षित होकर मैंने उसके साथ प्रेम संबंधों की बात छेड़ दी.

शादी की सुहागरात वीडियो सेक्सी

कल रात रवि मामा ने अपना लंड मेरे हाथों में देकर मानो मेरे दिलो दिमाग में हवस की चिंगारी डाल दी थी, जो कि इस सुनसान अंधेरी रात में अकेले रवि मामा के कड़क मज़बूत जिस्म और मस्त चुदाई सोचकर अब आग की तरह धधकने लगी थी. रूपा की चूत उसके कामरस से एकदम भीगी हुई थी … इसलिए जैसे ही मैंने हल्का सा झटका दिया … मेरे लंड का सुपाड़ा सरकता हुआ, उसकी चूत के छेद में समा गया. हम दोनों लोग बिस्तर पर नंगे लेटे हुए थे और वो मेरी दोनों जांघों के बीच में मेरी चूत को चाट रहा था.

उसने बताया कि वह देवास जिले की रहने वाली है, लेकिन कोटा राजस्थान (शहर और उसका नाम बदला हुआ है) में रह कर पी.

वह कोई न कोई बहाना बनाकर बाहर निकलती थी और मेरे कमरे की ओर देख कर वापस चली जाती थी.

तभी पुनीत बोला- वन्द्या तू दुनिया की सबसे सेक्सी और सबसे बड़ी चुदक्कड़ लड़की है. फिर अगले 15 मिनट तक मैंने उसके दोनों स्तनों को चूस चूस के खाली कर दिया. फुल मूवी डाउनलोडजब से तू मुझे सामने से दिखी और कार में बैठी, तब से तुझे और तेरी चूत पाने के लिए मेरा लंड पैन्ट को फाड़े डाल रहा है.

अब वंदना बहुत गर्म हो गई थी और वो मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चुत में दबाने लगी. वैसे भी भाभी का अभी उसके ब्वॉयफ्रेंड से ब्रेकअप हो गया है, तब तक तो ये मुस्टंडा ही काम में आएगा. एक फेस बुक अकाउंट भी बना लिया गया, जिस पर हम दोनों के अलावा और कोई फ्रेंड नहीं था.

और मैं पास के थिएटर के तीन एडवांस टिकट लास्ट लाइन के कार्नर की सीट के ले आया. मुझे पहली बार एहसास हुआ कि असली लंड जब घुसता है तो कितना मज़ा आता है.

यही हाल रजनी का भी था।कुछ देर बाद हम अपने कॉलोनी के गेट तक पहुँचे जहाँ मैं अमित को बोली- यहीं रोक दो.

रात को उसने मेरे सीने पर सिर रखा और रोने लगी और मुझे सब बात बता दी. मैं- जेठ जी, मैंने आपको तो कब का माफ कर दिया है, अब मुझे आपके मूसल लंड से मेरी चुत की कुटाई करवानी है, जल्दी से आ जाओ, अब मुझे मत तरसाओ. मैं गर्म आहें भरने लगी, मुझे भी सेक्स चढ़ने लगा और मैं भी चुदासी हो गयी.

सेक्सी मिया खलीफा दस पंद्रह औरतों ने मुझे घेर रखा था … और उनके ब्वॉयफ्रेंड मुझे खा जाने वाली निगाहों से देख कर जल रहे थे. यूं ही उसके मखमली शरीर को चूमते चाटते मैं वंदना की जांघों पर से होकर दोनों टांगों के जोड़ पर आ गया.

मैं अब उसको नोचने लगी गाली देने लगी कि हट मादरचोद कुत्ते कमीने तू साले भड़वे. तब उसने पूछा कि रात में तुम्हें किसी चीज की जरूरत नहीं होती?मैंने पूछा- नहीं … मेरे पास कोई खास चीज है. मैंने अपनी बहन से कहा- मीनाक्षी, जाके देखो … सब सो रहे हैं ना … देख कर वापस आ जाओ.

सेक्सी वीडियो चोदा था

मैं बोला- तो आप इतनी उदास क्यों रहती हो?भाभी बोलीं- ऐसे ही!और वे हंस कर चली गईं. मैंने फिर से गांड में उंगली कर दी और अपनी बाहें उसकी कमर में लेट कर उसको भींच लिया- हांआ. मैंने तुरंत उसका यूजर नाम पढ़ लिया और आंटी को थैंक्यू बोल कर सिलिंडर लेकर घर आ गया.

एक दिन मेरी सहेली के पति मुझसे मेरी ब्रा और पेंटी का रंग भी पूछने लगे थे. उसके बाद राहुल ने मुझे पलटा दिया और मेरी गांड को दबाने और सहलाने लगा.

अब मैंने फिर से एक हल्का धक्का दिया, तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया.

क्योंकि मैं अभी भी ठीक तरह से नहीं चल पा रही थी जिसका कारण था कि मालती ने पूरे 5 मिनट तक एक मोटा सा डिल्डो मेरी चूत में फँसा कर रखा था. मैंने पानी पिया फिर बात की- जी कहिये … क्या हुआ?अभी तक मेरे और रेखा के बीच में कोई ऐसी बात नहीं हुई थी कि मुझे या उसे कुछ गलत लगे. तुम्हारी लाल पैंटी, जैसे मैंने सरकाई तो तुमने लज्जावश अपनी चुत को अपने दोनों अंजुलियों से ढक लिया था.

वो एक तरफ़ ज़ोर से होंठ चूस रही थी और दूसरी तरफ़ मेरे लंड को पकड़ कर दबा रही थी. मेरा दोस्त सफारी कार के अन्दर झांकने लगा, तो 6 फिट का गंजा आदमी उसको पीटने लगा. दादाजी ने सोनल के दाने को छेड़ती हुई उंगली को अपने मुँह में डाली और गीली की, फिर उस उंगली को सोनल की चूत में घुसानी शुरू कर दी.

हमने फटाफट खाना खाया, बल्कि भाभी ने पहला कौर मेरे मुंह में अपने हाथ से दिया और मैंने भी वैसे ही किया.

हिंदी सेक्सी बीएफ राजस्थानी: आह्ह्ह्ह्ह् …मैंने अपने मम्मों को दबाने शुरू कर दिए और मेरी नेहा … मेरी जान मेरी चुत चाटे जा रही थी. ”अब क्या शर्म कौशल्या मेरी रानी … उजाले में क्या दिक्कत है, जलने दो ना लाइट, जरा मैं भी तो देखूँ मेरी रानी चुदते वक़्त कैसी दिखती है.

लेकिन भाभी ने बोला कि वो यानि मेरे भुआ का लड़का तो बहुत व्यस्त रहते हैं दिन रात बस पैसे के पीछे भागते रहते हैं, तो मैंने सोचा कि मैं अकेले ही आ जाऊँगी. मेरे ऊपर लेटकर धक्के लगाने से भाभी के होंठ, तो कभी गाल अब बार बार मेरे होंठों को छू रहे थे. इस बात का मेरे पास कोई जवाब नहीं था, मैंने कहा- तुम्हें मेरी कसम है.

लंड बहुत गर्म था … सच में ठाकुर अंकल का लंड बिना कुछ किए ही पहले से ही बहुत गर्म था.

मैं अब जोरों से‌ नेहा की‌ चुत को‌ ऊपर से‌ नीचे तक चाटने‌ लगा, जिससे नेहा की‌ सिसकारियां और भी तेज हो गईं. तभी भाभी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोलीं- रुक क्यों गए देवर जी, मैं भी यही चाहती हूँ. 00 बजे मम्मी कमरे में आई और बोली- मैंने दूसरे वाले बाथरूम का बाहर वाला दरवाजा खोल दिया है, तुम लोग उस दरवाजे से बाथरूम में आ जाना … और मैं कमरे की तरफ से उसका दरवाजा खोल दूँगी, जिसमें पर्दा डाल दूँगी जिससे तुम्हारे पापा को शक न हो.