बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म

छवि स्रोत,अनुष्का सेन चुत

तस्वीर का शीर्षक ,

लाल चूड़ी: बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म, लेकिन बुड्ढा बिट्टू सिंह ढेर सयाना था, वो जानता था कि दिल्ली में इंजीनियरिंग करने वाले लौंडे कितने खतरनाक होते हैं.

ब्लू नंगी सेक्सी पिक्चर

भाभी की इस नाराजगी भरे कमेंट्स से मुझे ग्रीन सिग्नल सा मिला, मैंने धीरे से कहा- तो हम क्या मर गए हैं भाभी?यह सुन कर भाभी एकदम से सर घुमा कर मेरी आँखों में देखने लगीं. गरम मम्मी के मुंह में मुस्लिम का लैंडराहुल और राजीव ने मेरे पास आकर मुझे गले लगाया और फिर से कहा- निकी, माना कि ये सब अनजाने में हुआ.

मैं उठा, नहाया, खाना खाकर बाहर घूमने चला गया! लेकिन बाहर भी यही भय सताता रहा कि कहीं उसने किसी को कुछ बता दिया होगा तो?मैं घर लौट आया और छत पर जाकर स्मृति की हरकतों पर निगाह रखने लगा. xender जेंडर डाउनलोड करोमैंने उसका नंगा बदन देखा, और बालों से भरी उसकी चूत देखी तो मेरा मन मचल उठा, मैं सोच रहा था, आज इस चूत में मैं अपना लंड डालूँगा.

वो उत्तेज़ित हो गई और चुत के पानी चोदने से लंड को भी फिसलने में मदद मिल गई.बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म: मेरी पतिव्रता नारी पूरी मस्ती में अमेरिकन कॉक के साथ व्यस्त थी जब मेरा ध्यान उसकी छोटी सी गांड की तरफ गया.

मैं और चाची एक ही कमरे में रहती थी और काफ़ी फ्रेंड्ली बातें करती थी.बहन के लौड़े राजेश, जरा आराम से बीयर डाल ना मस्ताना पर आधी पी रही हूँ और आधी मेरे ऊपर बह रही है.

इंग्लिश वीडियो ब्लू फिल्म - बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म

’‘यह आप का कह रही हो अम्माजी, आपका मतबल है कि हमको उस भरभूती जी के साथ सॉक्स करना पड़ेगा?’ अंगूरी थोड़ा घबराते हुए बोली.सोफे पर पटक कर उसने मेरी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रखा और फिर से अपना लंड मेरी गांड में पेल दिया.

मैं तो यही चाहता था कि चाची सो जाएं और हुआ भी वही, जैसा मैं सोच रहा था. बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म रानी कसमसाई और उसने पेटीकोट का नाड़ा खोल कर ढीला किया और अपनी कमर उठा कर पेटीकोट अपने नीचे से निकाल दिया.

आपके लंड के बिना मुझे सुकून कहाँ मिलता है, अब तो मैं उसकी आदी हो गई हूँ।संजय- अच्छा ये बात है.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म?

सुमन- थैंक्स दीदी, मगर इससे पापा कहीं मेरे लिए गंदा सोचने लगे तो?टीना- वो तो उसी दिन उन्होंने सोच लिया, जब पहली बार तेरे चिपकने से उनका लंड खड़ा हुआ था. अब गुलशन जी इस दुनिया को अलविदा कह चुके थे और कागज पर उन्होंने सबसे माफी माँगी थी. मामा ने कवर फाड़ कर रबर जैसा कुछ निकाला और उसे अपने लंड पर चढ़ा लिया.

पर कविता के पिता रशियन एम्बेस्सी में काम करते थे और एक साल के असाइनमेंट पर रशिया गये हुए थे. वहाँ एक डबल बेड था 5-10 मिनट हमने बातचीत की और फिर मैंने उसे कहा कि लाइट बंद कर दे. फिर देर हो जाने की वजह से मैं घर जाने के लिए खड़ा हुआ और हम दोनों ने अपने मोबाइल नंबर एक्सचेंज किये.

चाची अब पूरी तरह से मदहोश हो चुकी थीं और अपने हाथों से मेरी पीठ सहला रही थीं. मैं किचन में जाकर खाना परोसने लगी, तब तक मामा जी भी फ्रेश हो कर बाहर आ गये, हम दोनों साथ में खाना खाने बैठ गये, मैं ठीक से बैठ नहीं पा रही थी, कुर्सी पर गांड रखते ही दर्द सी होने लगती थी, फिर भी मैं बर्दाश्त कर रही थी क्योंकि यह हमारी आखिरी रात थी और मामा को मैं निराश नहीं करना चाहती थी. ऐसे ही काफी देर तक चला और फिर दोनों झड़ने को हुए तो बोले- कहां निकालें? मेरा मन उनके माल को गांड में लेने का किया तो मैंने इशारे से गांड में झड़ने को कहा.

उस रात हम दोनों सेक्स की बाते करते हुए कुछ ज्यादा ही रोमांचित हो गये थे और पहली बार हमने फोन सेक्स किया. ”मैं टीशर्ट के ऊपर से ही उसकी गर्दन और क्लीवेज पे किस कर रहा था और नाभि को सहला रहा था.

मैंने कहा- नहीं भाभी, मैं आपके सिवाय किसी और की चूत में अपना लंड नहीं दूंगा.

शहज़ाद का होंसला बढ़ा और उसने घुमा कर मेरी गर्दन में हाथ डाला और मेरा चेहरा अपनी तरफ कर के मेरे होठों पर अपने होंठ लगा दिए.

कुछ देर बाद उसने अपनी पकड़ ढीली की और मैंने उसका लंड चूसना शुरू किया. मैं मर गईईई… क्या आप आराम से नहीं कर सकते? बड़ी बेदर्दी से मार डाला मुझे. मैंने कहा- मैं भी कहाँ सब में आता हूँ और मेरे हाथ में जो गाल आता है फिर वह कहीं नहीं जाता है.

भाभी ने कहा- आह्ह्ह ह्ह्ह्हहमैंने कहा- डार्लिंग मुझे पता है कि तुझे बहुत टाइम से चोदा नहीं गया है. चल जल्दी निकाल कपड़े!टीना की भारी आवाज़ से मॉंटी डर गया उसने 2 मिनट भी नहीं लगाए और नंगा होकर बेड पर अपने पैर सिकोड़ कर बैठ गया. ’‘तुम भी कम लकी नहीं हो, मैं तुम्हारी सगी माँ हूँ, तुमने इनसे दूध पिया है पर आज इनका रस पीते हुए मजा कर रहे हो और अपना लंड खड़ा कर रहे हो.

अब मैं कहाँ मानने वाला था, मैंने साली की चुदाई करनी थी लेकिन टाइम की कमी के कारण मैंने उसे छोड़ दिया और हम वापस हॉल को चले गए.

तभी मेरी नजर खिड़की के बाहर गई जहाँ एक लड़की खड़ी थी और वो मेरे खड़े लंड को देख रही थी. भाभी ने अपना पल्लू ठीक किया और कुछ शर्माते हुए धीरे से बोली- सॉरी!मैंने भाभी से कहा- एक बार मैं भैया को देख आऊं, आप जागती रहना. उसने अच्छे से अपनी चूत की झांटें साफ़ कर रखी थी।मैं और गर्म हो गया और उसकी सफाचट चिकनी चूत देख कर… मैंने उसकी चुत को दो मिनट तक चूसा। वो मेरा सिर पकड़ कर बोल रही थी- आह विजय.

मैं मामा जी की दोनों गोले को बारी बारी से चाटने लगी तो मुझे नमकीन सा स्वाद लगा, मामा बोलने लगे- रिशू, तुम तो अब बहुत कुछ सीख गयी हो. मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इसबाप बेटी सेक्स कहानीपर कमेंट्स कर सकते हैं. वो बोला- आप सभी जो इस रूम में है, अपनी मर्जी से है और आप को जो भी करने के लिये कहा जायेगा, वो करेंगे और दूसरी बात यह है कि आप भाषाओं की मर्यादा के बन्धन में नहीं हैं, यह मूवी पूर्ण रूप से एडल्ट मूवी है, जिसमें आज की भाग दौड़ की जिन्दगी के विषय को उठाया गया है और लोगों के लिये सेक्स एक आनन्द का विषय नहीं रहा है.

उन्होंने कहा- वाहह … क्या तेवर हैं, लगता है, बरसों बाद किसी मर्द से चुदूंगी … बाकी अब तक तो सब चूत की तौहीन करने वाले ही मिले थे.

उनके बीच वो मर्यादा का परदा अभी भी था और टीना को तो सुमन ने अभी तक कुछ बताया भी नहीं था. मैं- अनुराधा, एक प्रॉमिस करेगी?अनुराधा- क्या?मैं- तू ज़िंदगी भर मेरी रांड बन के रहेगी?अनुराधा- मतलब?मैं- मतलब, मैं जब चाहूँ तुझे चोद सकूं, चुत चूस सकूं.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म उसने भी बहुत ही प्यार से से मेरे चुम्बन को स्वीकार किया।फिर मैंने उसके कपड़े उतारे. ” मैंने उसके बूब्स चूसने शुरू किये और पजामे के अंदर हाथ डाल के चूत को सहलानी शुरू की.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म नर्स ने फिर पूछा- कोई परेशानी हो तो दूसरे वार्ड बॉय को भेज देती हूँ जो अभी ड्यूटी पर है. हो सकता है जवानी के जोश में वो बहक गई हो और यहाँ आने के बाद जरूर उसने अपने किये पर शुरू से आखिर तक सोचा होगा और पछताई भी होगी.

करीब 5 मिनट के बाद जब मैं झड़ने जैसा हुआ, तो मैंने उसके मुँह से लंड निकाला और उसको नीचे करके उसके ऊपर आ गया.

रीना की सेक्सी बीएफ

छोटी सी चड्डी उसने पहनी थी, जिसे देख कर लग रहा था कि इसकी चूत भी बिल्कुल चिकनी होगी. गुलशन जी ने फ्लॉरा के पैरों को कंधे पर डाला और लंड के सुपारे को चुत पे टिका कर जोरदार झटका दे मारा. मैंने कहा- तुम खुद ही मेरी पैन्ट उतार दो…तो उसने मेरी बेल्ट खोली और फिर पैन्ट खोल दी और मेरे घुटनों तक आ गई और अब तक मेरा लंड दर्द से फटा जा रहा था और अंडरवियर में टेंट बन चुका था.

मैंने अपनी उंगली उसकी गांड में डालनी चाही तो उसने रोक दिया- सॉरी सर, मैं पीछे कुछ नहीं करती, जो भी करती हूँ, सामने से करती हूँ. उसे अपने दरवाज़े की तरफ सैट किया और एक लैपटॉप को अपने बेड की तरफ रख दिया. तुम समझ गए ना!सुधीर जल्दी से खड़ा हुआ और मोना को बांहों में भर लिया, वो मोना को किस करने ही वाला था कि मोना ने उसको धक्का देकर अलग कर दिया।मोना- ये तुम क्या कर रहे हो.

मैं फटाफट सोनू की मम्मी के साथ सोनू के पापा को लेकर एंबुलेंस में बैठ गया.

दो दिन बाद मेरी रूम पार्टनर के घर से फ़ोन आ गया कि उसकी माँ की तबियत ख़राब है और वो चली गई. आपके लंड के बिना मुझे सुकून कहाँ मिलता है, अब तो मैं उसकी आदी हो गई हूँ।संजय- अच्छा ये बात है. मैं भी बेड पे मौसी के साथ लेट गया तो मौसी बोली- लेट मत, इधर आ मेरे ऊपर!और उसने मुझे अपने सीने पे बैठा लिया.

मैं- सॉरी चाची, अब तो चोद सकता हूँ, आप कह रही थी मुझसे नहीं होगा!और मैंने लंड को फिर बाहर निकाल कर अंदर घुसाया और हिलाने लगा. कामवाली की मंझली बहू-1लेखक: अभिनव गुप्तासंपादक एवम् प्रेषक: सिद्धार्थ वर्मारात में कामवाली की युवा बहू के साथ सेक्स के बाद हम दोनों सो गए थे. कोई दो तीन मिनट तक वो यूं ही मुझसे चिपटी रही उसकी चूत की मांसपेशियाँ स्वतः ही मेरे लंड को जकड़ती रहीं.

मेकअप वगैरा होने के बाद हमने एक दूसरी को निहारा तो अनजाने में ही एक दूसरी से हम जल उठी. वह थोड़ा ऊपर उठी तो मैंने उसे पीछे से नंगी करके उसकी कैप्री नीचे खिसका दी.

मैं उसकी काल्पनिक बातें सुनकर सोच में पड़ गया कि जो लड़की इतने दिन तक एकदम चुप सी रह कर कम बातें करती थी, आज एकदम बोल्ड कैसे हो गई. सबीना जमीला की चूत में उंगली करने लगी और थोड़ी देर बाद सबीना घुटनों के बल बैठ गई. अनुराधा- क्यों?मैं- मैं चाहता हूँ कि तेरी चुत इतनी गीली हो जाए कि तेरी पैंटी पूरी तरह भीग जाए.

मैंने उसके अंडरआर्म्स के बीच हाथ डाला और उसे उठा कर किचन की ओर चलने लगा.

इससे पहले मैं बेसमेंट में गया, मैंने सोचा कि बेसमेंट में काफी सारे लोग होते हैं जो अस्पताल का मेंटेनेंस जैसे बिजली, पानी और साफ सफाई आदि काम देखते हैं, तो हो सकता है यहाँ कोई मिल जाये… यही सोचकर मैं पूरे बेसमेंट में घूम लिया कुछ लोग दिखे भी लेकिन वो मेरी मर्जी के नहीं थे. हम दोनों एक-दूसरे की बांहों में चिपक गए और वीर्य व रज के मिलन को होने देने लगे. मुझे भी घर पहुंचना है और तुझे अपने पी जी!इतना कहकर मैं उठकर दरवाज़े की तरफ बढ़ा.

मैं गेट खोलने के बाद उन्हें डांटने लगी कि धूप में खेलने मत जाया करो, बीमार हो जाओगे. रास्ते में मेरा भाई मेरी स्कर्ट के नीचे से मेरी चुत में उंगली कर रहा था.

उसकी दाईं टाँग बिल्कुल सीधी मेरी बाईं टाँग से चिपकी हुई थी तथा उसकी बाईं टाँग मुड़ी हुई थी और उसका घुटना मेरी दोनों टांगों के बीच में था. अभी तो ये कमीना मेरी चूत को जीभ से ही ऐसे चोद रहा है जिसका कि मैं बता नहीं सकती आहहह… ऐसे ही चूस बहन के लौड़े!जमीला ने सबीना के मुँह को पीछे किया और एक दूसरे को किस करते हुए मेरे मस्ताना पर उछलने लगी. उसके ऐसा करते ही मैं अपनी जीभ को उसकी योनि के डाल देता और उसके अन्दर घुमा कर उसकी उत्तेजना की आग में घी डालने का काम करता.

बीएफ हिंदी वीडियो चलने वाला

सुमन की बात दोनों ने मान ली और तय ये हुआ कि सबसे पहले टीना अपनी चुत की चुदाई की कहानी बताएगी, उसके बाद फ्लॉरा.

मैं अपनी चुत की गहराई में पापा के लंड का गर्म गर्म पानी महसूस कर रही थी. यही सोचता हुआ मैं बाहर आया और फिर से वही हेल्प डेस्क की तरफ गया लेकिन वह वहाँ नहीं था. अन्तर्वासना के सभी प्रेम पुजारियों को आशिक राहुल की तरफ से एक बार फिर से नमस्कार!प्यारे दोस्तो, मेरी पिछली सेक्सी कहानीतड़पते यौवन को भाई का प्यार मिलामें मैंने बताया था कि कैसे एक रईस परिवार की शादीशुदा कामुक नारी ने अपने एक चचेरे भाई के साथ अपनी काम वासना को संतुष्ट किया था.

मुझे पता है कि मैं एक अच्छा लेखक नहीं हूँ, लेकिन मैंने इस सेक्स स्टोरी को लिखने का प्रयास किया. घर जाकर केक फ़्रीज़ में रखा और उसके उदास चेहरे को देख कर मैंने उससे कहा- क्या हो गया. सेक्सी चुदाई की फोटोटीना- अरे अब जाने दे, तू जब उठ गया था तो कुछ बोला क्यों नहीं, बस इसी लिए मुझे गुस्सा आया और सुमन जो कर रही थी, मैंने ही तो इसे कहा था ताकि तुझे आराम मिले.

बहन के लौड़े राजेश, जरा आराम से बीयर डाल ना मस्ताना पर आधी पी रही हूँ और आधी मेरे ऊपर बह रही है. जब मैंने उनकी चूत पर हाथ रखा तो उस वक़्त उनकी चूत भट्टी के माफिक तपी हुई थी.

सुमन- नहीं पापा आपका पानी बहुत देर से निकलता है और दूसरी बार तो पता नहीं कितनी देर लगेगी. सविता, कहीं ये लोग भी तो हमारी आवाज और हमें देख तो नहीं पाएंगे न?”अरे समीर नहीं, बस हम ही देख और सुन सकते हैं. मैं करीब पूरा मानसी के ऊपर चढ़ चुका था और मानसी की तरफ से अब नाम मात्र का भी विरोध नहीं था.

मैंने उसकी चुत को पेंटी के ऊपर ही किस करके उसकी जाँघों को चाट कर टाँगों को चूमा. उसको बहुत मज़ा आ रहा था लेकिन मेरा लंड भी अब फिर से खड़ा होने लगा था, मैं भी चाहता था कि वो मेरा लंड चूसे. तभी मैंने कहा- आपने ऊपर का नया फ्लोर देखा है जो बन रहा है?उसने जवाब दिया- नहीं देखा! कहाँ पर?मैं बोला- ऊपर बन रहा है.

रिया ठहाके मार के हंस पड़ी मगर तभी यकायक उसकी हंसी कही बिखर गयी, चेहरे पर कड़वापन छा गया.

आप इतना टेंशन में क्यों आ जाते हो? आपकी बेटी से अगर मुझे मिलना होता, या उसे कुछ बताना होता तो अब तक बता चुकी होती. अभी एक महीने पहले जब मैं घर गया था तो भाईसाहब ने मेरी मारी थी। पहले तो कुछ कह नहीं पाता था अब मैं भी सिकोड़ लेता हूँ.

सुमन की तो हालत खराब थी, वो मुँह को कसके भींचे हुए पड़ी थी कि उसकी कहीं सिसकी ना निकाल जाए. चुत की रानियों और लंड के राजाओं को मेरा लंड उठा कर नमस्कार।दोस्तो, मैं अन्तर्वासना. स्मृति पूरी गरम, उत्तेजित हो रही थी, सिसकारियां भर रही थी, मादक आवाजें निकाल रही थी- ऊह… ऊम्म… आहह… अईई… मर्र गईई… ओह ओ माँ मरर गईईई.

अब सीधा चुदाई की कहानी पर आते हुए बताना चाहता हूँ कि संजना मेरी फ्रेंड थी. फिर उसने मुझे हिलाया और पानी के लिए बोला तो मैंने नींद के नाटक करके ही उसके हाथ को पकड़ा और बोला- कौन? सर, मैं हूँ रजनी… आपसे पानी के लिए पूछ रही हूँ. हंसते हुए उसने अपनी नाइट ड्रेस उतार फेंकी और शामिल हो गयी नंगों की टोली में.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म !सुमन की बात सुनकर गुलशन जी खुश हो गए, उनको लगा सुमन भी यही चाहती है कि उसके पापा उसको मज़ा दें. जमीला बोली- सबीना डार्लिंग आहह… उम्म्म… मस्ताना मेरी चूत में कस कर घुसा है लग रहा है उम्म्म… ओहह… चूत फट जायेगी.

एक्सएक्सएक्स sex video

चन्दन ने संगीता की दूसरी चुची को चूसने के बाद उन्हें अपने से अलग किया और एक हाथ बढ़ाकर बिस्तर के पास लगे बिस्तर लैंप को रोशन कर दिया. गुलशन- क्यों फ्लॉरा हो गई तसल्ली? अब तो तैयार हो ना मेरे अजगर को लेने के लिए?फ्लॉरा- तैयार तो इसको देखा था, तभी हो गई थी मगर ऐसे डाइरेक्ट ही घुसाओगे क्या. मैं भी मामा के लंड को मसलने लगी, लंड एकदम लोहे की रॉड जैसा कड़ा हो गया था.

यह हॉट कहानी मेरे मामा के लड़के और उनकी पत्नी के साथ ग्रुप सेक्स की कहानी है. मगर लंड तो जगा हुआ था। ऐसी चुसाई का वो पूरा मज़ा ले रहा था। वैसे सुमन अनाड़ी थी इतनी अच्छी चुसाई नहीं कर पा रही थी मगर लंड भी तो नया था। अब दोनों का ये पहली बार था तो भरपूर मज़ा आ रहा था। जिसका सबूत लंड से आने वाली पानी की बूंदें थीं।लंड के पानी का टेस्ट सुमन को अजीब सा लगा, उसने जल्दी से लंड को मुँह से निकाल दिया।टीना- क्या हुआ. राधिका सेक्सी फिल्मवह सुन्दर, थोड़ी सांवली और उसकी उम्र होगी यही कोई 19 साल… उसका बदन भरा पूरा था, उसकी आँखों में हमेशा कुछ खुराफात सी करने की ललक सी दिखती थी.

और तू अपनी कामवाली को तो जानती ही है कितनी मक्कार है काम करने में, उसके सिर पर खड़े होकर काम करवाओ तभी करती है; अगर मैं तेरे पास आ गई तो समझ लो घर का क्या हाल करेगी वो और सबसे बड़ी बात तू तो जानती हीहै मेरे घुटने का दर्द; स्टेशन की भीड़ भाड़ में पुल चढ़ना उतरना मेरे बस का अब नहीं रह गया.

मैंने देखा कि कैसे एक छोटी लड़की, कैसे अपनी चूत को खुद से पहली बार चुदाई के लिए तैयार करती है. फिर जॉन का ज्वालामुखी भी फट गया और ये रस तो फ्लॉरा का फेवरिट था, वो कहाँ इसे वेस्ट करती.

ये ब्रा पूरी तरह से ट्रांसपेरेंट और नेट वाली थी, जिसमें से बूब्स साफ दिख सकते थे. अँधेरे में भी मुझे अंदाजा लग गया था कि पण्डित जी का लिंग बहुत विकराल साइज़ का है. उसने अपना लंड निकाला, मुझे अपनी तरफ घुमाया और किसी जानवर की तरह मेरे होंठ खाने शुरू किये, साथ में वो मेरे मम्मे बेदर्दी से दबा रहा था.

वो बोला- तू तो पूरी रंडी है यार! फिर क्या हुआ?मैंने कहा- फिर रवि मेरे ऊपर आ गया और उसने अपना 8 इंच का लंड मेरी गांड में अंदर धकेलना शुरू कर दिया और मेरे मुंह पर हाथ रखकर मेरी गांड मारने लगा.

पापा बोले- एक शर्त पर दिखाऊंगा कि तुम उसी स्टाइल में मुझसे चुदवाओगी. मैंने पास के एक झाड़ के पास खड़ा हो कर पैन्ट में से अपना आठ इंच लंबा और तीन इंच मोटा तना हुआ लौड़ा निकाला और पेशाब करने लगा. संजय- हैलो माय स्वीट डार्लिंग, क्या तुम सो रही हो?पूजा- नहीं मामू, मैंने अपना होमवर्क किया है.

नई फिल्में ब्लूमैं कुछ समझी नहीं दीदी?टीना- अच्छा ये बता उसका लंड चूसने में मज़ा आया था ना तुझे?सुमन- हाँ दीदी बहुत मज़ा आया था. उसका लंड गले तक जाता, फिर बाहर लाता और फिर जोर से लंड गले तक पेल देता.

सोनाक्षी का बीएफ वीडियो

मुझे भी गुस्सा चढ़ गया, मैं बोला- लौड़े के, अगर यहाँ रखी है तो किसलिये? मैं तो देखूँगा, तुझे नहीं देखना है तो तू दूसरी तरफ मुंडी घुमा ले!उसके बाद मैं वो किताब देखने लगा, जिसके ऊपर कवर में कुछ था और अन्दर नंगी और अर्ध-नंगी लड़कियों के फोटो की भरमार थी. मुस्कराया।तब मैंने कहा- अब मैं करूं।वह हंस दिया तो मैं शुरू हो गया। दस-पन्द्रह मिनट बाद वो फिर रूका, खेल धीरे-धीरे किया. यही पट्टी वाला खेल दोबारा कर लेंगे और ये बता तुझे लाइव चुदाई देख कर मज़ा आया या नहीं?सुमन- बहुत मज़ा आया दीदी.

चूस ना, मज़ा नहीं आ रहा क्या तुझे?सुमन- मज़ा तो बहुत आ रहा था मगर इसमें से अजीब सा पानी निकल रहा है जिसका टेस्ट भी अजीब है?टीना- अरे पागल. रजनी ने धीरे से सीईईई… की आवाज से साथ मेरे कान में कहा- सर थोड़ा धीरे!फिर मैंने उसे पलंग पर लिटा दिया और उसके ऊपर आ गया. मुझे अच्छा लगा, क्या तुम मुझे आगे भी चोदोगे?मैं- बिल्कुल आप जब भी बोलें भाभी.

मैंने सबीना को बीयर की बोतल दी और उसको अपनी चुचियों पर बीयर डालने को कहा. अब जमीला अच्छे से सबीना की चूत चाट कर खड़ी हुई और सबीना को अपनी जगह बिठा कर खुद सबीना की जगह बैठ कर मेरे मस्ताना से बीयर चाटने लगी, कभी मस्ताना को चाटती, कभी मेरी गोलियों को चूसती और नीचे अब सबीना भी जमीला की चूत से बियर पीने लगी. वो मेरे लंड की गोटियों को भी चूसती जा रही थी, कभी पूरा मुँह में लेती.

अब तक उनकी हालत खराब हो रही थी, लेकिन अब मेरी हालत खराब होने लगी।ऐसा लग रहा था कि उन्होंने चूसने में कोई कोर्स किया हो. उसने मैरून ब्रा पहनी थी और उस ब्रा में उसके गोरे चूचे बहुत सुन्दर लग रहे थे जैसे चांद के ऊपर लाल नीले बादलों का पहरा हो.

मेरी गर्दन नीचे झुकने से जैसे ही मेरा चेहरा उसके पास आया उसने अपना सिर ऊँचा करते हुए मेरे होंठों को चूम मुझे कस कर जकड़ लिया.

माँ तुम्हारी चूत बहुत मजा दे रही है और इसने मेरे लंड को अपने अंदर कस लिया है. xxx हिंदी कहानीतो वो गेट लगाने के लिए बाहर गई। मैं भी भाग कर गेट पर पहुँचा और गेट लगते ही उसको मुँह में मुँह डालकर फ्रेंच किस करने लगा। हम एक-दूसरे को क़िस कर रहे था. त्रिपाठी सेक्सीमैंने उसके पाँव पकड़े और खींच कर बेड के बीचों बीच लेटा दिया, दोनों टाँगे उसके टखनो से पकड़ कर खोली और अपना लंड बिना छूये ही उसकी चूत पर सेट किया, और एक झटके से उसकी चूत में घुसा दिया. संजय- अरे मेरी प्यारी पूजा, तू तो बहुत बहादुर है ऐसे नहीं रोते, अब कुछ नहीं होगा.

ऐसे करने पर नेहा तो पागल हो उठी और अपना सर बिस्तर पर इधर-उधर झटकने और ‘जोर से चाटो, जोर से चाट… जोर से… आह आह… आह…’ कहने लगी.

सुमन ये बिल्कुल नहीं चाहती थी कि अपने पापा के सामने वो चुत को रगड़े या कुछ ऐसी हरकत करे, जिससे उसके पापा उसे गंदी लड़की समझें. राहुल को मेरी कमजोरी पता लग गयी थी तो उसने थोड़ा नीचे होकर फिर से मेरे निप्पल्स पर अटैक कर दिया. मेरी आँखों में शरारत थी!यही कहानी लड़की की मधुर आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है.

घर की डेकोरेशन करते समय वो मस्ती कर रही थी, उसी मस्ती में दो बार मेरा उसके मम्मों पर हाथ लग गया और वो शर्मा गई. सुमन- पापा पहले आप कपड़े तो बदल लो, ऐसे पैन्ट पहन कर काम करोगे क्या?गुलशन जी को लगा सुमन सही बोल रही है और वैसे भी उनका इरादा उसके मज़े लेने का था तो पैन्ट में मज़ा नहीं आता, इसलिए वो अन्दर गए और सिर्फ़ लुंगी और बनियान पहन कर आ गए, उसके बाद बाथरूम का लॉक लगा दिया. लंड की चोट से वो भी मस्ती से चिल्ला उठी और बोलने लगी- आह… और जल्दी करो… फाड़ दो अपनी बहन की चूत को… बहुत मोटा लंड है तेरा… आह… मजा आ गया.

बीएफ सेक्सी डांस

अभी तक जो पाठ मैं किताबों से या ब्लू फिल्मों से सीखता था, वो मेरे साथ प्रेक्टिकल रूप से हो चुका था, फिर भी मैंने सभी लड़कियों के चूतड़ को जमकर सहलाया, लड़कियाँ भी मेरे चूतड़ या लंड को सहला देती थी, उनमें से काफी लड़कियाँ थी जो मुझसे बोली कि वास्तव में मेरा लंड बहुत ही लम्बा और मोटा है, कैसे अन्दर जायेगा. क्योंकि ये लंबी कहानी है और खाना भी लग चुका है तो बात अधूरी रह जाएगी।टीना- चलो कोई बात नहीं. मैं ऐसी चुदाई करूंगा कि साली तुम्हारी चूत को मेरे लंड की आदत ही लग जाएगी.

अब मैं मामा जी के लंड को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी थी, बीच बीच में मैं मामा जी के लंड में दाँत चुभो देती थी तो मामा जी के मुँह से आहह निकल जाती थी.

जॉन ने जल्दी से फ्लॉरा की टी-शर्ट से उसकी बुर को साफ किया और अपने लंड को भी साफ करके उस पर कोल्ड कीम लगाई.

इस तरह 15 मिनट चुदाई की और अब मैंने मस्ताना सबीना की गांड से निकाल कर रफीक को भी जमीला की चूत छोड़ कर, कंडोम पहन कर सबीना की चूत चोदने को कहा. अब मैं जाने लगी तो मैंने देखा कि मेरा बेटा अपना लंड पैन्ट में छुपा रहा था. सीसीसीएक्सएक्सएक्स’ की आवाज निकली और फिर चुप हो गई, पर अब भी वो मेरा साथ नहीं दे रही थी.

उस दिन मेरी बहनें स्कूल चली गईं और मैं सर दर्द का बहाना बना कर स्कूल नहीं गया. गुलशन- वाह भाई आज तो मज़ा आ गया, मगर एक बात बताओ मॉल में तुमने ऐसा क्यों कहा कि आपको किसी की इच्छा से क्या लेना-देना! क्या मैं तुम्हें कभी किसी बात के लिए मना करता हूँ. भाभी ने बहुत दिनों से सेक्स नहीं किया था इसलिए वो बहुत भूखी थीं। भूखा शेर और सेक्स की भूखी औरत को कंट्रोल करना मुश्किल होता है, सही से ना कर पाओ.

जैसे ही मुझे एक भी मेल मिलेगा, मैं अगले दिन की स्टोरी पोस्ट कर दूँगा. अब आगे:अब मेरे पास कोई दूसरा चारा भी नहीं था मुझमें तो लंड लेने की आग सी लगी हुई थी और अब इतनी मुश्किल से ये जवान लंड हाथ आया था इसे मैं कैसे छोड़ सकता था.

हम जैसे ही पानी में उतरे, रिया को राजीव, मॉन्टी और राहुल ने घेर लिया और मनीष और यश ने मुझे अपनी ओर खींच लिया.

जिस साइज़ के लंड के लिए चुत को अभ्यास हो उससे बड़ा लंड जब चुत में जाएगा तो कुछ दर्द तो होता ही है. हमारी जीभ आपस में कबड्डी खेलने लगी थीं और हम एक दूसरे के जिस्म की गर्मी को महसूस कर रहे थे. उन्होंने कहा- क्यों पहले नहीं लगती थी क्या?तो मैंने भी कह दिया- पहले कभी इतने गौर से नहीं देखा.

हाय आई लव यू फिर एक बड़ी दीदी ने बताया की कोई भी औरत अपने पति के साथ दूसरी लड़की को ये सब करते देख कर गुस्सा हो जाती है. अगर आपको किसी के साथ या फिर आपस में भी सेक्स करने की इच्छा हुई तो सिर्फ रिसेप्शन और रेस्टारेंट को छोड़ कर आप पूरे रिसोर्ट में कहीं भी कर सकते हैं, कहीं कोई पाबन्दी नहीं होगी। आप रात को न्यूड क्लब भी जा सकती हो मगर वहां अगर कोई आपसे सेक्स करना चाहे तो आप उसे मना नहीं कर सकती। अगर आप ये नहीं चाहती तो आप अपने लिए खास मर्दों को चुन करसेक्स का मजाले सकती हैं.

मैं भी लगातार उसकी चूत और क्लिटोरियस को जीभ और अपने होठों से चूसे जा रहा था. मैंने उन्हें लंड चूसने को बोला तो वो बाइक पर से नीचे उतरीं और झुक कर मेरा लंड लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं. देखा कि मामा जी लंड में लगी कॉंडम फट चुकी है, मामा जी ने कॉंडम उतार कर लंड मेरी मुँह में डाल दिया, लंड का टोपा मिंट वाली चॉकलॅट जैसा लग रहा था.

एचडी में एक्स एक्स वीडियो

जैसे ही मामा का हाथ मेरी चूत पर गया, मेरी चिकनी चूत पाकर मामा की आँखों में एक चमक सी आ गई और मुझसे पूछे- चुत के बाल कहाँ गए?यही सरप्राइज था. ‘और ऊपर से हम भी तो हैं आपकी मदद के लिए हर वक़्त तैयार, अपना हथियार हाथ में लिए हुए… आप जब चाहें हमें अपनी खातिरदारी के लिए बुला सकती हैं, आपको पेल कर हमें कितनी ख़ुशी मिलेंगी हम आपको बता नहीं सकते. मूवी शुरू होने के थोड़ी देर बाद उसने मेरे कंधे पर सर रख लिया और मूवी देखने लगी.

अगले दिन मैंने कुछ नहीं खाया, बस रात में अर्जुन ने फ्रूटी ला के दी थी. उसकी ब्रा में में बाहर निकलने को आतुर मम्मों को देख कर गरम होने लगा और उसके मम्मों को ब्रा के ऊपर ही किस करके उसकी क्लीवेज पर अपनी जीभ से चाटने लगा.

वो जल्दी से पलटी और मेरे लंड पर अपना मुंह लगा दिया… मेरे लिए ये काफी था.

इसके बाद मैंने हील पहनी और वॉशरूम का गेट खोल कर कैटवॉक करती हुई रॉबर्ट के पास आ गयी. उन्होंने मेरे अकाउंट में रूपये भी डाल दिए थे ताकि मैं आराम से आ सकूँ और रहने के लिए होटल का इंतजाम भी कर लूँ अच्छे से. उसने टाइट टीशर्ट और बहुत ही छोटी टाइट, बदन से चिपकी हुई पतली सी निक्कर डाल रखी थी, जिसमें से उसकी चूत के उभार साफ दिखाई दे रहे थे.

बस फिर क्या था… वो समय आ चुका था, जिसका मुझे बहुत दिनों से इंतजार था. ऐसे ही शाम को जब मैं किचन में उन्हें चूमने लगी, तो पापा ने मुझे देख लिया. इसी लिए उनसे नॉर्मल हो जा, फिर वो ध्यान नहीं देंगी और तू अपना काम करती रहना.

मैंने अपना लंड उनकी चुत पर रखा और एक धक्का लगा दिया तो आधा लंड भाभी की चुत में सरसराता हुआ अन्दर चला गया.

बीएफ सेक्सी हिंदी में फिल्म: फ्लॉरा जब बिस्तर पे आई तो गुलशन जी ने उसको बांहों में भर लिया उसके होंठों को चूसने लगे और हाथों से उसके मम्मों को दबाने लगे. वो एक हाथ में सिक्स इंच वाला स्मार्ट फोन लिये नेट सर्फ़ कर रही थी, दूसरे हाथ से एक अंग्रेजी पत्रिका के पन्ने भी पलटे जा रही थी.

मैंने नोटिस किया कि शहज़ाद सर की नज़र लगभग मेरे पर ही रहती थी और वो किसी न किसी बहाने से मेरे से बात करने या मुझे इम्प्रेस करने की कोशिश करते रहते. रस के रिसाव से योनि के अंदर स्नेहन हो जाने से मेरा लिंग बहुत तेज़ी से उसके अंदर बाहर जाने लगा और कमरे में फच फच का स्वर गूंजने लगा. अब तू अपने पापा के लिए पीछे क्यों हट रही है?सुमन- नहीं ये ग़लत होगा, वो मेरे पापा हैं मैं कैसे उनका लंड चूस सकती हूँ.

रीना फ्रिज का डोर खोल कर बोली- चिल्ड बियर लेगी या जूस?कविता बोली- इस समय जूस.

अब उसकी जांघों के बीच में उसके लंड वाला भाग मेरी आंखों के सामने था। एक तो पुलिस वालों की वर्दी ही इतनी मोटी होती है और दूसरी ओर उसकी जांघें मोटी होने की वजह से जिप वाले भाग पर तंबू सा बना हुआ था जिससे ना तो उसके लंड की पॉजिशन का पता लग पा रहा था और ना ही उसके साइज़ का… क्योंकि मर्दों के दीवाने उनकी चैन के पैकेज को देखकर ही अंदाज़ा लगा लेते हैं कि सामने वाले का औजार कितना बड़ा है. वैसे तो सुमन और टीना के मम्मों में बहुत फर्क था मगर संजय को पता था ये सुमन है. अगर तुम चाहो तो मैं बात करूँ मनोज से, या तुम खुद ही सेट कर लो अगर तुम चाहो तो! सच! चाहत तो मुझे भी हो गई है कि मैं भी कोई अलग लिंग लेकर देखूँ.