ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला

छवि स्रोत,मराठी सेक्स झवाझवी

तस्वीर का शीर्षक ,

मुंबई बीएफ हिंदी: ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला, ऐसे ही मैंने पहले दो, फिर अपनी तीन उंगलियों को गांड के अन्दर डाल कर चलाया और मां की गांड का छेद थोड़ा खोल दिया.

गाउन दिखाओ

डैड- हां चुद ले यार … अगर तूने सच में अपने यार से चुदवाया तो मैं तुम दोनों का गुलाम बन जाऊंगा. ब्लू पिक्चर अंग्रेजी मेंकरीब 15 मिनट के बाद गांड मारने के बाद उन्होंने लंड निकाला और खड़े हो गए.

अब उनके घर हर रोज़ लड़ाई होती है। लगता है जल्द ही वो मेरी बात मान जाएगी और आपसे दोस्ती कर लेगी। मैं उसकी लड़की को भी लाइन पर ला रही हूँ, एक दिन आप उसको भी चोदना।तोमर साब बोले- अरे अभी तो वो छोटी है, अभी उसको कैसे चोद सकता हूँ।चाची बोली- अरे पूरी छिनाल है वो … 19 साल की हो गयी है. सेक्सी वीडियो सनी देओलइसके लिए मैंने उनसे कहा कि वो रायपुर जाने के लिए अपने घर वालों से कुछ बहाना बना लें.

प्रभा- आह … आह … मर गई मम्मी … मैं तो आज मर ही जाऊंगी आह प्लीज प्रवीण आराम से करो … आह मेरी फट गई!मैं- आराम से ही कर रहा हूँ यार, जितना दर्द तुम्हें हो रहा है, उतना तुमको दर्द में देखकर मुझे भी हो रहा है.ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला: करीब 25 मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था, तो मैंने उनसे पूछा कि कहां छोड़ूं?भाभी ने चुत के अन्दर ही वीर्य छोड़ने को कहा.

मुझे उसे चोदते समय अन्दर बुर के अलावा बाकी सब जगह हड्डियां ही महसूस हो रही थीं.मॉम फोन पर बोलीं- अपने यार से चुदवाने आई हूँ, आप तो अब मुझे चोद ही नहीं सकते ना.

अलुरा जेनसन - ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला

ये कह कर उसने ममता की कठोर चूची पकड़ी और जोर से मींज दी- मुझे नहीं पता था कि तुम दोनों इतनी बड़ी हो गई हो.मां की चूत बहुत गर्म थी और क्योंकि ये मेरी पहली चुदाई थी, इसलिए मैं ज्यादा देर टिक नहीं पाया.

दोस्तो,कहानी के पिछले भागमौसी को भानजे का लंड पसंद आ गयामें अब तक आपने पढ़ा था कि मीरा ने निखिल और रीमा के साथ थ्रीसम सेक्स की प्लानिंग कर ली थी. ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला मैंने उनके सर को अपने हाथ से खींच कर अपने दूध से लगा दिया और कहा- पी लो मेरा बच्चा … मेरा बच्चा भूखा है न आंह पी लो.

ऐसा दो तीन बार हुआ मगर मैं रुका नहीं और मौसी मादक सिसकारियां लेती रहीं.

ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला?

पर अब तो मुझे नए दोस्त बनाने का बहुत शौक हो गया है और उनके साथ मस्ती करने का भी. और मुझे पता था कि उसके मन में मुझसे मिलने की तड़प जरूर होगी और वो मुझे शादी में ग्वालियर बुलाने का कोई न कोई रास्ता निकाल ही लेगी. मैंने भाभी से कहा- तो आप मना कर देतीं!उन्होंने मुझसे कहा- बेबी, यह मौका रोज रोज नहीं आता है.

मुझे बिल्कुल नंगी कर दिया और खुद भी पूरे नंगे हो गए।फिर मैंने उनसे कहा- अपने बेटे की बीवी को यहीं ज़मीन पर पटक कर चोदोगे क्या?तो उन्होंने मुझे गोद में उठाया और अपने कमरे में ले जाकर बेड पर पटक दिया।मेरी नज़र उनके लंड पर पड़ी तो एक बार तो मेरी गांड फट गई। उनका लंड किसी गधे के लंड जैसा लंबा और मोटा था।रंडियों की भी चीखें निकलवा दे ऐसा लंड था उनका।मैंने उनसे कहा- आपका तो बहुत मोटा है. पूनम बुआ मुझे पहले ही बता चुकी थीं कि बृज उनको अपना लंड चुसाता है और उनके मुँह में अपना पानी भी डालता है. 7 फुट लम्बा हूं, रंग गेहुंआ है मगर लौंडियों को एक नजर में पसंद आ जाने वाला मस्त लौंडा हूँ.

एक ही रात में मैंने पहली बार चुदाई के थोड़ी देर बाद दूसरे लंड का मजा भी ले लिया. जब हम दोनों की सांसें थमी, तो मुझे होश आया कि दारू के नशे में अमित ने बिना कंडोम लगाए ही मुझे चोद दिया था. लंड को लेकर मैं दावा कर सकता हूं कि कोई भी लड़की लेगी तो खुश हो जायेगी।तो अब सीधा हॉट फ्रेंड सेक्स कहानी पर आते हैं। ये तब की बात है जब देश में लॉकडाउन लगने वाला था.

आप लोगों को मैं बता दूं कि इस समय हम दोनों की उम्र केवल 19 साल की थी और हम दोनों अपनी-अपनी जिंदगी में पहली बार सेक्स कर रहे थे. मुझे वीर्य बाहर छोड़ने में ज्यादा मजा नहीं आया लेकिन मेरी होने वाली बीवी को चरम सुख जरूर मिल गया था.

मैंने बोला- नहीं नवीन रहने दो, क्यों यूं दोनों की चुदाई खराब करें, हमारे नसीब में होगी, तो हमें भी हमारी चूतें रात तक मिल ही जाएंगी.

भाभी इस पोज में उन दोनों मर्दों को सैंडविच चुदाई का भरपूर मजा दे रही थीं और खुद भी बहुत मजा ले रही थीं.

पार्टी में दारू के कारण मेरा नशा मुझ पर हावी था और ऊपर से भाभी को चुत में उंगली करते देख कर मैं बहुत गर्म हो गया था. मेरा पानी निकल गया और नीलेश के हाथों पर मेरा पानी आ गया।मेरा पूरा मूड चुदने का हो रहा था।मगर समझ नहीं आ रहा था कि उसको चोदने के लिए कैसे कहूं।फिर मैंने कहा- नीलेश, चल तू अपनी सु-सु दिखा!वो बोला- नहीं दीदी, मुझे शर्म आती है।मैं बोली- मैं तेरी बड़ी बहन हूं, तुझे मुझसे क्यों शर्म आ रही है … ला दिखा। मैं भी तो पूरी नंगी हूं तेरे सामने. फिर ब्रा और पैंटी भी उतार दी क्योंकि पटाने के मदमस्त मौकों पर ये सब कपड़े दिक्कत करते हैं.

मैं फ़लक का नाम सुनते ही रोमाँचित हो उठा और पूछा- क्या तुमने उससे बात की थी?यामिना- जी, उसको मैंने जाते ही बता दिया था, फ़लक बहुत खुश थी. जब उसने अपने लंड मेरी चूत से बाहर निकाला, तो मुझे बहुत राहत महसूस हुई. फर्स्ट टाइम सेक्स में तो दर्द होता ही है तो ममता किसी हलाल होती बकरी की तरह चिल्लाने लगी- आआह मर गई मैं भैया …अभय ने उसी समय उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए, जिससे बाकी की आवाज ममता के मुँह में ही दब कर रह गई.

अगले दिन वो मुझे स्कूल जाती हुई दिखाई दी पर उससे कुछ बात ना हो पाई.

कुछ देर बाद मेरी मम्मी का भी फ़ोन आया कि तू आज वहीं दीदी के पास रूक जाना. मैंने अपने लंड पर दबाव महसूस किया और तभी कृति एक जोर की चीख के साथ फिर से झड़ गई. चार दिन बाद बरखा घर आ गई और उसके करीब एक हफ्ते बाद चित्रा जयपुर वापस चली गई.

मामा जी बोले- शबनम अब मैं तेरी गांड मारूंगा,चल कुतिया बन जा!मैं कुतिया बन गई और बोली- मामा जी प्यार से डालना … मैं आपकी बहू हूँ. ब्रेस्ट मिल्क सेक्स कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने अतीत के बारे में कुछ बता देता हूँ. लेडी पुलिस सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक पुलिस वाली मुझसे चुदकर मजा ले चुकी थी.

कुछ देर लंड चूसने के बाद उसने शहज़ाद से अपने साथ अन्दर कमरे में चलने को बोला, तो शहज़ाद भी नंगा ही वहां से निकल गया.

मैंने शन्नो की गांड से लंड निकाल कर उसे लिटा दिया और पीछे से चूत में लंड घुसा कर गपागप गपागप चोदने लगा. मम्मी ने उस समय जींस और कुर्ता पहना हुआ था और मेकअप भी किया हुआ था.

ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला अईईई … कट गई आह केदार … मेरा आने वाला है … अहह पी ले भोसड़ी के पूरा रस चाट ले … आंह आंह. मिहिका बोला- कौन सा स्टाइल कह है?मैं बोला- कुते कुत्ती आला!मिहिका हंसी और उठ कर सर बेड पर लगा कर गांड उठा ली.

ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला फिर वो बोले- तुम्हारा कोई लवर नहीं है?मैंने बोला- मैं इन सब बातों पर ध्यान नहीं देती. इससे मेरी हिम्मत पूरी तरह से खुल गई और मैं अपनी मौसी को हचक कर पेलने लगा.

कभी मैं उसकी चूचियों को छेड़ रहा था तो कभी वो मेरी पैंट में मेरे लंड को टटोल कर पकड़ लेती थी.

शिल्पा शेट्टी की सेक्सी मूवी

मैं तुम्हें साफ साफ बताऊँ कि सुधीर के साथ मेरा जिस्मानी रिश्ता पिछले चार पाँच साल से न के बराबर है. वह मुस्कुरा कर बोली- ऐसे क्या देख रहे हो?मैं बोला- तुम्हें प्यार करने का मन कर रहा है. वो बोली- मैं तो तब ही समझ गयी थी, जब तुमने उस दिन कहा था कि भाभी देख रही हैं … और तुम इनको चोदोगे.

उसने कहा- मैं आपकी गर्लफ्रेंड बनना चाहती हूँ … क्या आप बनाएंगे?मैंने कहा- नहीं. तभी मेरा ध्यान शमा पर गया … वो निचेष्ट पड़ी थी, उसकी कोई आवाज या हरकत नहीं हो रही थी. मगर हां, उन दोनों की चुदाई से होने वाली कामुक आवाजों को मैं साफ साफ सुन पा रहा था.

अदिति बेटा … ‘तू अभी भी मेरे संग है’ … इसका मतलब?” मैंने उलझन भरे स्वर में पूछा.

मैंने धक्के मारना रोक कर बहू को फिर से बांहों में जकड़ लिया और पलटी मार कर बहूरानी को अपने ऊपर कर लिया, मैंने लंड को चूत में से बाहर नहीं निकलने दिया था. मैं दोनों पैरों की उंगलियों को चाटने के बाद भाभी के पैरों को चाटने लगा, फिर घुटनों के पीछे वाले जोड़ को चाटने लगा. हालांकि मेरी नजर में उनके लिए इज्जत थी … इसलिए मैंने भाभी को गलत नजर से नहीं देखा.

ये कॉलेज में क्लीनिकल शिफ्ट के दौरान मुझे मिली एक गर्म भाभी Xxx कहानी है. जिसके लिए लंड हमेशा खड़े रहते हैं और लड़कियों की चूत में हमेशा पानी बहता रहता है. मैंने भी उसे दीवार के सहारे टिका दिया और उसके होंठों को मेरे होंठों से चिपका कर उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा.

दोस्तो नमस्कार, मैं मधु आप लोगों की अपनी मुँहबोली बीवी, एक बार फिर अपनी सच्ची सेक्स कहानी और रसीली आत्मकथा में स्वागत करती हूं और बहुत ही ज्यादा धन्यवाद भी करती हूँ कि आप लोगों ने मेरी सेक्स कहानीमैं पब में दो मर्दों से चुदीको इतना ज्यादा सराहा. तभी दूसरा भी करीब आया और बोला- और मुझे सुन्दर मत कहना।वो कमीने मुझे दबोचने को तैयार खड़े थे। सुरजन ने झटके से मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया.

सिर का पल्लू माथे तक लिया हुआ था, गले में भारी हार और मंगलसूत्र, ब्लाउज में कैद कसे हुए उन्नत स्तनों का वो प्यारा उभार, मेहंदी रचे हाथों में सोने और हरे कांच की मिश्रित चूड़ियां, महावर लगे पावों में चांदी की भारी पायलें, मतलब जैसे शादी ब्याह में ये नव वधुयें बन संवर कर टिपटॉप होकर कहर ढाने जाती हैं, बिल्कुल वैसे ही सर्वांग सुंदरी मेरी बहू लग रही थी. भाई बहन की सेक्सी स्टोरी मेरे छोटे भाई की है जिसे मैंने अपनी वासना के लिए सेक्स करना सिखाया. घुटनों और जाँघों की मसाज करते हुए मेरी ऊँगलियाँ बरखा की बुर को छू देतीं.

मेरी एक आह निकल गई और मैंने लंड को ठोकर मार कर मिहिका के मुँह में पूरा ठांसने की कोशिश की.

उनके हस्बैंड अमेरिका में जॉब करते हैं और साल में कोई एक या दो बार ही आ पाते हैं. भाभी ने उस दिन मेरी न्यूड पिक ले ली थी जिसे मोबाइल में देखकर वो अपनी चुत में उंगली कर रही थीं. सुबह जल्दी उठकर मैं अपने रूम में आ गया ताकि मेरे दोस्त को मेरी गांड चुदाई के बारे में शक न हो.

चूंकि एक बार मैं उसकी चूत में खाली हो चुका था तो अबकी बार मुझे माल छूट जाने का भी ज्यादा डर नहीं था. वो भी इतनी गर्म हो गई थी कि उसकी गर्म गर्म सांसें मुझे महसूस होने लगी थीं.

मेरे स्खलन से पिघला नहीं और ठोकता गया।मस्ती में सिसकारते हुए मैं झड़ गई. उनकी चुत के ऊपर कुछ बाल एक त्रिभुज के आकार में उगे थे और वो भी छोटे छोटे ट्रिम किए हुए थे. मैं होंठ अपने चबा रही थी और सिसकार रही थी- उफ … चोद गुलाब … चोद … आह … फाड़ दे मेरी चूत … उफ … आह … ज़ोर से रगड़.

ब्लूटूथ मे सेक्सी वीडियो

मां की मखमली जांघें देख मेरा ईमान डगमगा गया और मां के बारे में गंदे ख्याल पैदा होने लगे.

इस दौरान वो अपने दोनों हाथ और पांव से मेरा सिर अपनी चूत पर दबाए जा रही थी. हां, एक बात और जो नए पाठक पाठिकाएं मेरी बहूरानी अदिति और मेरे यौन संबंधों को लेकर अनभिज्ञ हैं; उन्हें यह बात जरूर से ही कचोटेगी कि कैसे कोई पुरुष अपनी बेटी सामान पुत्रवधू के साथ सेक्स कर सकता है?आपकी जिज्ञासा उचित और सही है. उसी दौरान उसने मेरे लोअर में हाथ डालकर मेरे लंड को सहलाना शुरू कर दिया.

नमस्कार मित्रो, मैं आरुष दुबे फिर से अपनी सेक्स कहानी का तीसरा भाग लेकर हाजिर हूँ. एक दो फोटो लेने के बाद रमेश ने दीदी को बोला कि तुम अपनी कुर्ती निकाल दो. एक्सएक्सएक्स पिकमेरा हर हफ्ते का संडे फिक्स है … क्योंकि संडे को कोई घर पर नहीं रहता, मम्मी की किटी पार्टी होती है … और प्रज्ञा अपनी फ्रेंड के यहां जाती है.

यह लैंड बुर की चुदाई कहानी मेरी और मेरी प्रेमिका प्रभा की सच्ची सेक्स कहानी है. मेरी चूत में लंड किस किस का गया, मुझे याद नहीं … और मेरे बच्चे का बाप कौन है, ये तो मुझे भी नहीं पता.

इस तरह से मैं तो हमेशा शहज़ाद से चुदती रही लेकिन उसने मेरी तीनों बेटियों की झोली में भी उसने अपने लंड से ही खुशी भर रखी थी. भाभी मुस्कुराकर बोलीं- चोदू कहीं का … मेरा देवर कितना उतावला हो गया है. मैंने मम्मी के दोनों हाथों को हटाकर मम्मी की गोरी चुत पर चुंबन करना शुरू कर दिया.

बाद में वो लड़का मेरी मम्मी और शीला आंटी को को चार चार हजार रूपए देकर चला गया. पता नहीं कब पड़ोस की बंगालिन भाभी आ गईं और मेरी भाभी से बातें करने लगीं. वो बोले- क्या हुआ?मैं कंट्रोल करके बोली- कुछ नहीं, आप कब आओगे?वो बोले- जान, मैं तो रात को आऊंगा, किसी को ज़मीन दिखाने दूर आए हुए हैं।मैं- ठीक है, जल्दी आना.

अभी फिर से तो काफी समय लग जाएगा!भाभी- अरे बुद्धू वो तो चुत का रगड़ामृत था.

मां की मखमली जांघें देख मेरा ईमान डगमगा गया और मां के बारे में गंदे ख्याल पैदा होने लगे. कुछ देर के बाद मैं नीचे को हो गया और ऊपर हाथ करके दीदी के मम्मों को कस कस कर ऐसे दबाने लगा मानो मैं कोई जानवर हूँ.

मम्मी ने मुझे डांटा- बेटा ऐसा नहीं कहते … सबके साथ नीचे ही सो जाना. सागर पूरा मर्द था, दूर दूर तक उसके झड़ने का नाम नहीं था।थोडी देर बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और एक हाथ मेरी पैंटी के ऊपर रख कर उसे सहलाने लगा और एक चूचे पर रख दिया. उसके इतना कहते ही मैंने लंड को चुत पर सैट किया और एक धक्का दे मारा.

जिसके प्रतिउत्तर में नीतू भी रूपाली की चूत को अपने दांतों से कुतर देती।दोनों ने एक दूसरे के बदन पर अपनी अपनी अमिट छाप छोड़ दी थी।इस खेल को शुरू हुए बहुत समय हो गया था और मैं भी अब कभी भी झड़ने वाला था. मैं नहीं चाहता कि मैं अपनी प्यारी भाभी के अलावा किसी और को चोदूं … प्लीज भाभी. मैं धीरे-धीरे अपनी जीभ उसकी गांड के छेद से होते हुए चूत तक ले गया और अपनी जीभ को उसकी चूत के चारों तरफ घुमाने लगा.

ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला वो आंख बंद करके बोलने लगी- आह मादरचोद क्या कर दिया … भोसड़ी वाले आग लग गयी है माँ के लौड़े. जब उसको मजा आ रहा था तो मैं भी ये सोचने लगा था कि साहिल को उसकी अम्मी की चुत चोदने मिल जाए तो उन दोनों का काम बन जाएगा.

लिंग लंबा करने की दवाई

मैं भी झड़ने के करीब था इसलिए मैं और तेज़ी से मामी जी की चूत में अपना लंड पेलने लगा. तीन जवान लड़कियों को मैंने कैसे चोदा? मजा लें पढ़ कर!कहानी के पहले भागअमीर लेडी की प्यासी चूत चोदीमें आपने पढ़ा कि कैसे पेट्रोल पम्प पर मेरी बहस हो गयी तो पम्प की मालकिन ने आकर मामला सुलटाया. उसकी नंगी सफाचट चूत, मदमस्त गांड, दूध से भरे और तने हुए उसके मम्मे, उसकी फैली हुई चिकनी बांहें और हाथों के अंडरआर्म एकदम चिकने मुझे हद से ज्यादा गर्म कर रहे थे.

मालिश के वक्त मैं सिर्फ़ अंडरवियर में रहता था और चाची के हाथों से अपनी टांगों की मालिश करवा लेता था. जब जब वो अपने मजबूत चूतड़ों के दबाव से मेरी चूत में धक्के मार रहे थे, तो मेरी बच्चेदानी सहम कर रह जाती थी. रवीना टंडन का सेक्ससेक्सी दीदी नंगी कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरा दोस्त मेरी दीदी का फोटो शूट करने के बहाने मेरे घर आया.

मैंने भाभी की बात से संतुष्ट होते हुए हां में सर हिलाते हुए कहा- ठीक है भाभी.

जब गांड में अब बिल्कुल भी बर्दाश्त न हुआ तो मैंने लंड को चूत में डालने के लिए कहा. फोटो शूट के थोड़ी देर के बाद रमेश बोला- अब तुम अपनी ये पैंटी भी निकाल दो.

ये सुन कर हम मां बेटे बहुत परेशान हो गए थे क्योंकि अब हमे कुछ दिनों तक चुदाई करने को नहीं मिलेगी. बात करते करते मैं उसके कान के ऊपर हाथ फेरने लगा और कभी उसकी गर्दन सहलाने लगा. पर जैसे ही वो साड़ी उठाकर टॉयलेट करने के लिए बैठीं कि एक गाड़ी वहां से गुज़री और उसकी लाइट मामी की गांड पर पड़ी.

वो लंड हिला कर बड़े प्यार से बोली- अच्छा अब बता … कैसे चोदेगा?मैंने कहा- गुलाम हूँ जैसे तुम कहो!उसने कहा- जा सामने फ्रिज में से आइस क्रीम ले आ.

उसने मुझे कुछ भी बोलने का मौका ही नहीं दिया और मुझ पर टूट पड़ी, किस करने लगी. उसके बाद मैं फ्रेश होकर वहां से निकलने को हुआ तो टीटीई बाबू बोले- एक नंबर लिख ले और बात कर लियो … शायद तेरा दिन बन जाए. ममता ने भी मुस्कुराते हुए अपने भाई से चिपकते हुए कहा- गुड नाईट भैया.

मारवाड़ी सेक्स चोदा चोदीएक स्तन को दबाता तो दूसरे स्तन को पूरा मुँह में लेकर चूसने की नाकाम कोशिश कर रहा था. इसी मजबूरी के चलते मैं वहीं नीचे फर्श पर लेट गया और भाभी ने मेरे मुँह के ऊपर आकर अपनी चुत रख दी.

लड़कियों के फोटो बताइए

”इतना कहकर चित्रा ने अलमारी खोली और लगभग 50 ग्राम वजन की सोने की चेन मेरे गले में डालते हुए बोली- विजय मेरे प्यार का यह उपहार स्वीकार करो. घने बालों से भरी अपनी छाती बरखा की चूचियों से रगड़ते हुए मैंने अपने लण्ड को अन्दर का रास्ता दिखा दिया. इसलिए मैं घुटनों के बल अजय के सामने बैठ गयी और उसके मुरझाए हुए लंड को किस करने लगी.

बल्कि तुम्हारे पूरे परिवार को अपने घर में रहने की इजाजत भी दे दूंगा. मैं बगल के कमरे से खिड़की के पास खड़े होकर उन दोनों की चुदाई का नज़ारा देखने की कोशिश कर रहा था. मैंने उनके आंसू पौंछने की कोशिश की लेकिन भाभी के आंसू थे कि रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे.

निखिल ने मीरा की इशारे से अन्दर बुलाया और मीरा भी योजना अनुसार अपना नाइट गाउन अपने कमरे से ले आयी और उसे पहन कर जोर से दरवाजा बजाते हुए खोल दिया. अदिति बेटा, आई लव यू टू!” मैंने बहू के दोनों मम्में दबोच कर कहा और उनके दोनों गाल चूम लिए. यह नजारा हमारी जिंदगी का बेहतरीन पल था, जिसे हम दोनों कभी नहीं भुला पाए थे.

मुझे बस स्टैंड लेकर गए और बोले- गोरी, मैं छोड़ ही आता तुझे लेकिन काम था. मैं जीजा जी के बारे में बताऊं … जीजा जी दिखने में बहुत ही हॉट लगते हैं.

सर्दी का मौसम था और मैं रोज सुबह जल्दी उठकर जॉगिंग करने जाने लगा था.

मैं उनकी ग्रीवा चूम रहा रहा, कान के नीचे चाट चाट कर चूमे जा रहा था. चुदाई करने का वीडियोतुम्हारी बुर की झिल्ली अभी तक क्यों नहीं फटी?”यह पूछने पर जया ने बताया कि पिछले तीन साल में आकाश ने मेरी चुदाई तो बहुत की है लेकिन तुम्हारे केले के मुकाबले उसकी मूँगफली थी. वेस्टइंडीज बीपीवो बोले- साली कुतिया, नौटंकी मत कर मादरचोदी … मैं जानता हूँ कि तू छिनाल औरत है. बालू में बाइक की स्पीड कम हो गई थी और हम दोनों ही बालू में ही गिर गए थे, इस कारण हम दोनों को ही ज़्यादा चोट नहीं लगी.

जेठ जी मस्ती में आकर मेरी हवा में उठी हुई टांगों के तलुवे चाटने लगे.

फिर जो चुदाई शुरू हुई तो इस बार साढ़े पांच बजे तक बहुत ज़बरदस्त तरीके से शहज़ाद ने मुझे चोदा. जब गांड में अब बिल्कुल भी बर्दाश्त न हुआ तो मैंने लंड को चूत में डालने के लिए कहा. कुछ देर बाद हम दोनों बिस्तर में लेट गए और एक दूसरे के शरीर से खेलने लगे.

मेरी चूत तो इतनी गीली हो चुकी थी कि लंड अपने आप ही फिसल कर अन्दर जा रहा था. मैं- हां बता, ये क्या चूतियापा है!कुच्ची ने मुझे बताया कि उस दिन जब रात में शब्बो की चूत शांत नहीं हो सकी और मैंने उससे तेरे लिए कहा, तो वो समझ गई कि तू भी अकेला है. अब आगे भाभी की गांड चुदाई:जेठ जी के लंड का मोटा सुपारा मेरी चूत को फाड़ता हुआ अंदर जा घुसा था.

त्रिपाठी सेक्सी वीडियो

आज की इस सेक्स कहानी के माध्यम से मैं आपका वह भी बताने वाला हूं, जिससे आपके लंड से इतना वीर्य निकलेगा कि आपने सोचा भी नहीं होगा. जब पूरा लंड अन्दर हो गया तो मैं बोली- आहहह मामा जी आपने तो मेरी जान निकाल दी आह!उन्होंने चुदाई शुरू कर दी और मैं सिसयाने लगी- आहह ओह इस्स आह प्लीज़ धीरे आह ओहह इस्स मजाहह आ रहा है. पापा मम्मी के दूध चूसते रहते थे या उनके होंठों पर किस करते रहते थे.

जैसे ही लंड ने चूत में स्थान बना लिया तो उसने ऊपर नीचे होना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद मैंने अपने लौड़े की रफ्तार और बढ़ा दी और तेज़ी से शन्नो की गांड चोदने लगा.

चूंकि मेरे पति ने कर्ज बहुत अधिक कर रखा था तो मेरी और उनकी तनख्वाह में से किसी तरह ही घर चल पाता था. लंड की रगड़ की वजह से उसको बहुत मजा आ रहा था और वह मादक आवाज निकालते हुए कहने लगी- आह … जय अब चोदो मुझे … मुझसे रहा नहीं जाता अब … मैं मर जाऊंगी … जल्दी से चोद दो ना मुझे … ओह. क्सक्सक्स क्योंहमारे पड़ोस में एक चाची रहती थीं जिनकी उम्र करीब 40 साल की रही होगी, जब पापा नहीं रहते … तो वो अक्सर घर आ जाया करती थीं.

जेठ जी की कहानी के पहले भागअपने जेठ जी से चुदाई का मजा लियामें आपने पढ़ा कि मेरी जेठानी की डिलीवरी के समय वो अस्पताल में अपनी अम्मी के साथ थी. वो बोलीं- ठीक है, हम पास के स्टोर रूम में चलते हैं, वहां कोई नहीं आता जाता है. मेरा पूरा लंड उसके मुंह में नहीं जा पा रहा था।मैं एकदम से सातवें आसमान पर था- चूस मेरी जान … आह्ह … बस ऐसे ही।मुझे काफी मज़ा आ रहा था.

पर मैंने उनके मुँह में चड्डी डाल रखी थी … तो उनकी चीख जोर से नहीं निकल पा रही थी. तीनों रानियों की सहमति लेकर दोपहर में ही प्रोग्राम तय कर दिया गया कि आज ही सुहागरात होगी.

मैं- पर भाभी दूध कहां से लाओगी आप! मुझे तो स्तनों को चूस कर ताजा दूध पीना पसंद है.

मगर मेरा लंड अभी भी खड़ा था, तो मैं अपने लंड को हिलाते हुए उन सभी लोगों को देखने लगा. चाची भी मधुमक्खी के काटे का दर्द भूल कर मेरी हरकतों का मजा ले रही थी शायद! वो सिसकारियां भर रही थी. आपकी गोरी[emailprotected]इससे आगे की मेरी देसी गांड चूत चुदाई कहानी:ससुरजी के बाद ननदोई को अपने ऊपर चढ़ाया.

हस्तमैथुन करने से क्या होता है फिर तय समय पर नीता (मेरी बीवी) के साथ शादी हो गयी।हमारी शादी की पार्टी चल रही थी. नवीन के लंड को हुर्रेम ने फटाक से अपने मुँह में गले तक घुसा लिया, जिससे नवीन की कामुक सीत्कार निकल गई.

शाम को 4 बजे दोनों की नींद खुली।फिर दोनों बाथरूम में साथ नहाने चले गए. मैं उसको देखकर डर गया और पूछने लगा कि ये किसके लिए है?वो बोले कि ये तुम्हारे लिये नहीं, मेरे लिये है. मामी जी- ओह्ह्ह … और जोर से चोदीईईए राहुल ओह्ह्ह ओह्ह्ह उंह मेरीए चूत पानी छोड़ने वाली है … ओह्ह्ह्ह राहोहुल ओह अह ओह उईईई म्ह्ह्ह सीईई ईईईई ओह.

लेडिस कुर्ते की डिजाइन

वह मुझसे उम्र में थोड़ी सी बड़ी भी थीं, इसलिए मैं उनको यथोचित सम्मान देती हूं. मेरी मां रज्जी हंस दीं और अपनी दोनों टांगें डालकर मेरी गोदी में बैठ गईं. इधर मैं अपने कमरे में बेचैनी से करवटें बदल रहा था, नींद मेरी आंखों से कोसों दूर थी.

मैं पढ़ाई में शुरू से ही होशियार हूँ और गणित तो मेरा मनपसन्द विषय है. फिर धीरे से बोली- किसकी चूत के सपने में लंड मसला जा रहा भैया?अभय ने इतना सुनते ही हड़बड़ा कर आंख खोल दी- त.

पर मैंने उसे चूमना जारी रखा और फिर उनका निचला होंठ चूसना शुरू किया तो उन्होंने बे बेसब्री से मेरे होंठों को चूसना काटना शुरू कर दिया.

मगर हां, उन दोनों की चुदाई से होने वाली कामुक आवाजों को मैं साफ साफ सुन पा रहा था. मेरी पहली बार सेक्स की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी भाभी को उनके दोस्त के साथ नंगी चुदाई करते देखा. चाची ने ये कह कर मम्मी की चूची मींज दी तो मेरी मम्मी ‘आआअह आआअह …’ करने लगीं.

दीदी ने पूछा- तुम क्यों अपने कपड़े उतार रहे हो?रमेश ने कहा- अरे यार, मुझे गर्मी लग रही है. हॉट गर्ल पेनफुल सेक्स स्टोरी के पिछले भागमोटे लंड से चुदाई में हुआ दर्दमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपने दोस्त की बड़ी बहन उर्वशी की चुत चुदाई कर चुका था और हम दोनों चिपक कर निढाल पड़े थे. मेरा बुल्ला मां की चूत की गहराई में पूरा जाता और पूरा बाहर निकल कर फिर से अन्दर घुस जाता.

उस लड़के ने पूछा कि तुम दारू या सिगरेट लेती हो?शीला आंटी ने बोला- हां, ये सारे मजे करती है.

ब्लू पिक्चर बीएफ देखने वाला: वो बोली- मैं तो तब ही समझ गयी थी, जब तुमने उस दिन कहा था कि भाभी देख रही हैं … और तुम इनको चोदोगे. मैंने उसके मम्मों को चूसना और पैंटी के ऊपर से बुर को रगड़ना बंद कर दिया तो वो मचल गई और बोली- क्यों रुक गए?तो मैंने उसको कहा- पहले तुम मेरे पूरे कपड़े अपने हाथों से खोलो, तब आगे खेल होगा.

अब मैंने उसे व्हॉट्सैप्प मैसेज किया- आप ही ने फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी थी न … मैंने आपकी फ्रेंड्स रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली है. जैसे ही मैं कमरे में पहुंचा, मीतू ने मुझे पकड़ लिया और चूमने लगी, मेरे सभी अंगों को चाटने लगी. नहा ले बारिश में।वो बोला- दीदी, सारे कपड़े गीले हो जायेंगे।मैं बोली- तो क्या हुआ? बाद में धुल भी जाएँगे; तू आ जा!अब वो भी बारिश में आ गया।हम दोनों नहाने लगे।वो लगातार मेरे वक्षों को निहार रहा था। मैंने भी उसको नहीं टोका और अपने उरोज़ सही से दिखाने लगी।कुछ देर बाद वो बोला- दीदी, मैं नहाने जा रहा हूँ.

ममता लंड मुँह से निकाल कर बोली- ऐसे क्या देख रहे हो? क्या किसी ने इस तरह तुम्हारा लंड नहीं चूसा? वैसे मेरी रगों में भी वही खून दौड़ रहा है.

फिर शहज़ाद जैसे ही बाहर आया और मुझे उसी दरवाज़े पर नंगी खड़ी देखा तो वो एकदम से चौंक गया और सकपका गया. मगर मेरी चुत की आज मस्त चुदाई हुई थी, जिससे मुझे काफी अच्छा लग रहा था. लेकिन मैं उसे हर बार रोक देता क्योंकि आज मैं नीतू को वासना के अंतिम पड़ाव तक तड़पाना चाहता था।कुछ देर बाद जब मैं लहंगे से बाहर निकला तो देखा कि नीतू आँखें बंद कर के पड़ी थी और लम्बी आहें भर रही थी।मैंने उसके लहंगे के नाड़े की गांठ खोल दी और उसके लहंगे को पकड़ के कमर के नीचे सरकाने लगा.