झारखंडी बीएफ देहाती

छवि स्रोत,आलो सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

लेडीस का सेक्सी बीएफ: झारखंडी बीएफ देहाती, लंड चुत में घुसते ही मेरी मां दर्द से रोने लगीं और उसे चोदने से मना करने लगीं.

jiostore पे

जिया मेम की सील तो आकाश सर तोड़ चुके थे लेकिन जिया की चूत को देख कर ऐसा लग नहीं रहा था कि उसकी चुदाई भी होती होगी. कैलेंडर का सेक्सआपकी फूली हुयी चूत मेरे लंड को टाईट कर रही है।मैं उसके मुंह में उंगली रखते हुए बोली- देवर जी, अब यह चूत आपकी ही है, जब मन करे तो चोद देना.

मैं समझ गया कि वो उस समय जाग रही थीं और मेरे हाथों के स्पर्श को उन्होंने महसूस कर लिया था. सानिया सेक्सीमैंने बोला- अपने कमरे में जा कर पैड लगा लेना और ये पेन किलर खा लेना.

उस समय अमित अपनी मॉम के मम्मों को चूस रहा था और अपने एक हाथ से उनकी गांड को सहला रहा था.झारखंडी बीएफ देहाती: मां बोली- आज चूसते ही रहोगे या कुछ करोगे भी?फिर चाचू ने मां की चूत पर अपना लंड रख दिया.

मुझे ये सब इसीलिए पता है क्योंकि मैंने कई बार रिया दीदी के रूम को हर तरह से चैक करके देखा है.दारू का ग्लास मेरे मुँह से लगाया और मेरी लेफ्ट चूची के निप्पल को ज़ोर से मरोड़ दिया.

डॉगी स्टाइल - झारखंडी बीएफ देहाती

मेरे एक फेसबुक फ्रेंड के कहने पर मैं इन वाकयात को एक एक करके आपके साथ साझा कर रही हूं.फिर एक दो मिनट शीशे के सामने अपनी चुत को मटका कर देखा और दूसरी जींस पहन ली.

कुछ देर पूरा लंड घुसाते हुए चोदने के बाद मैंने उसको घोड़ी बनने के लिए कहा. झारखंडी बीएफ देहाती मगर उन दोनों ने ये सोचकर कि अब भाभी और उसकी ननंद यहाँ से जाने वाली तो हैं नहीं, तो उन्होंने भी हालात से समझौता करके हां बोल दिया.

भाभी की चुत चुदाई की मेरी न्यू कामुकता कहानी फ्री ने कैसा रंग जमाया, ये मैं अगले भाग में लिखूंगा.

झारखंडी बीएफ देहाती?

मेरी उत्तेजना इतनी ज्यादा थी कि मैं 10 मिनट से ज्यादा कंट्रोल कर ही नहीं पाया. एक तो दिव्या के बारे में मैं पूरा आश्वस्त नहीं था कि कब उसको कुछ बुरा लग जाये और वो कहीं मेरी मां को इस बारे में न बोल दे. उसने 2-3 डिज़ाइन सेलेक्ट कर लिए और कहा कि मेरा आना पॉसिबल नहीं होगा, आप मुझे मेरे घर पर ये दे सकते हो?तो मैंने उससे हां कह दिया.

मेरी ननद बोली- इन पर तो बहुत असर होगा और बिजली मुझ पर गिरेगी वो भी रात भर मैं परेशान ही रहूँगी. मुझे लगा कि अब मेरे अन्दर का सारा पानी निकलने वाला है।इधर रोहित भी तेजी दिखानी शुरू कर चुका था।फिर वो रूकते हुए बोला- भाभी, पलंग पर सीधी लेट जाओ।मैं बिल्कुल सीधी लेट गयी।मेरे मुंह में अपने लंड को देते हुए बोला- भाभी, जैसे अभी तुम मेरे लंड को चूस रही थी, उसी तरह चूसो. उन्होंने चपरासी से चिल्ला कर कहा- आराम से खड़ा है हरामखोर, गिलास में जूस तेरा बाप डालेगा?चपरासी हड़बड़ा कर आया और जग उठा कर मेरी तरफ बढ़ा.

मैं जानता था कि वो हरी के साथ पेंचे लड़ाने की तैयारी में है लेकिन फिर भी मेरा मन बार बार उसके अरमानों को कुरेदने का कर रहा था. हम दोनों रोज 1 बजे जाते और मैं मोहित के साथ खड़ी रहती और रूपा चुद कर आ जाती. रवि ने करीब 20 मिनट तक दीदी की गांड चुदाई की और वो जेठानी जी की गांड में ही झड़ गया.

मेरी गर्ल xxx सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे ऑटो में एक जवान लड़की मुझे मिली. फिर उसके पीछे आकर मैंने अपना लण्ड मौसी की चूत में पेल दिया और हाथ बढ़ा कर मौसी की चूचियां दबाने लगा.

क्योंकि मैं अपनी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा था, जिस वजह से मुझे डिस्टर्ब करने के लिहाज से मेरे कमरे में कोई नहीं आता था.

मेरी बीवी दर्द के मारे चीख रही थी और वह अफ्रीकन तेजी से उसे चोद रहा था.

अब हम दोनों पूरे नंगे थे।अब मैंने उसके पैरों से किस करना शुरू किया और किस करते हुए उसकी चूत तक पहुंच कर उसकी चूत पर भी एक चुम्बन दे दिया. मैं उसे मनाने की कोशिश करती हूं … कहीं मान जाएगी … तो तुम्हारे नीचे जरूर आ जाएगी. सनी और विवेक तो सोना और अल्पना की चुत चुदाई का भरपूर मजा लेते ही थे.

नमस्कार दोस्तो, मैं एक बार फिर से अपनी तीन पड़ोसनों की चुत चुदाई की कहानी लेकर आपकी सेवा में हाजिर हूँ. एक बार मैं कॉलेज जाने के लिए बस का इंतज़ार कर रही थी, तभी एक भीड़ से भरी हुई बस आ गई. मैं फिर से दिव्या की चूत पर हाथ फेरने लगा और कुछ देर के बाद ही दिव्या ने भी मेरे लंड को पकड़ लिया और उसको सहलाने लगी.

वो बोली- इतने दिन से तुझे मेरी याद नहीं आई क्या? एक ही तो बेटा है मेरा और वो भी इतनी दूर रहता है मुझसे। चल अंदर आ जा.

वो ऊपर से बीयर पी रहा था और नीचे से मैं उसके लंड से निकलते मूत को पी रहा था. भाबी ने ढेर सारा तेल अपनी गांड के छेद में लगाया और मेरे लंड पर भी काफी सारा तेल लगा दिया. वो बोली- तो फ़ोन क्यों नहीं किया?मैं बोला- तुम कहां हो?वो बोली- अपने कमरे में.

मां के मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं- हां … चोदो … आह्ह … जोर से … हां और तेज … आह्ह … चोदते रहो … आह आह आह … यस… ओह आह्ह याह … चोदो … और चोदो. छुट्टी के समय जब सब लोग जा चुके थे, तब मैं उसके पास गई और कहा- मेरी लैगी दे दो. मैंने बोला- क्यों?उसने बोला- वहां लोगों ने उन्हें रोक दिया है … क्योंकि अम्मी सबसे बड़ी हैं … और सब लोगों ने उन्हें कुछ दिन रुकने के लिए बोला है.

मगर सागर एक छोटी जगह है, तो काफी जानने वालों के मिल जाने का खतरा रहता था.

जब उसने मेरी तरफ देखा तो मैंने कहा- अभी रख दें, मैं बाद में ले लूंगी. मैं पहले तो सकपका गया, फिर मैंने उनकी मस्त चूचियां देखते हुए कहा- भाभीजी, अपना तो यही एक काम ऐसा है, जिसे मैं डूब कर करता हूँ.

झारखंडी बीएफ देहाती उसका सख्त हाथ मेरी चूत पर लगा तो मैंने दादाजी को चूमना शुरू कर दिया. अगर मेरे पति के हाथ में कोई मूवी लग गई तो?उन्होने कहा- हम इस बात का ख्याल रखेंगे कि ये फिल्में इस शहर में न बेची जायें.

झारखंडी बीएफ देहाती मैंने भाभी को कार की सीट पर एक साइड लेटा दिया और उनके पैरों को पूरा खोल दिया. तभी मम्मी ने उनको देख लिया तो भाभी उनसे बात करने लगीं- ये रोहित है ना!मम्मी ने हां में इशारा किया.

वह सीत्कार भरते हुए बोली- प्लीज काटना मत … निशान पड़ जाएंगे, बेकार की मुश्किल होगी.

बीएफ ट्रिपल

चूंकि मैं एक मेडिकल स्टूडेंट था, तो मुझे बॉडी के सारे टर्न ऑन पॉइंट्स मालूम थे. मैं समझ गई कि ठंडा गरम नमकीन का मतलब चुत, लंड चुसवाने और गांड मरवाने से कहा जाता है. इसी बीच दीदी प्रेगनेन्ट हो गईं और जीजू का दूसरे शहर में ट्रान्स्फर हो गया था.

आपकी फूली हुयी चूत मेरे लंड को टाईट कर रही है।मैं उसके मुंह में उंगली रखते हुए बोली- देवर जी, अब यह चूत आपकी ही है, जब मन करे तो चोद देना. मेरा ये नाम सैम (बदला हुआ) है, मेरी उम्र 23 साल है और मैं इंजीनियरिंग का छात्र हूँ. मैंने अपनी कम्पनी के लिए बहुत बड़ा प्रोजेक्ट फाइनल किया तो बॉस ने मुँह माँगा इनाम देने को कहा.

मैंने कहा- अब तक कोई मिला?वो बोली- मिला होता तो तेरा नम्बर शायद ही आ पाता.

मामी जी सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में थी और मैं सिर्फ अंडरवियर में था. मैं सोच भी नहीं सकती थी कि मेरा फर्स्ट टाइम सेक्स ऐसी जगह और इस तरह से होगा। अब मोहित ने अपना लोवर और चड्डी एक साथ उतार दिया. मेरी बीवी बोली- मुझे अफ्रीकन मर्द का बड़ा मोटा लंड बहुत अच्छा लगता है.

तब मेरी नानी ने कहा कि कुछ सावधानी बरत के चुदवाना, इसमें कोई गलत बात नहीं है. दूसरे भागमेरी बीवी ने जेठ से चूत चुदवा ली- 2में आपने पढ़ा था कि मेरी बीवी सज संवर कर मेरे बड़े भाई के पास उसके रूम में पहुंच गयी और पूरी नंगी होकर उसके लंड से चुदने के लिए उसके सामने बेड पर लेट गयी. जब लॉकडाउन में ढील मिली तो वो बंगलौर जाने को हुई तो मैं भी उसके साथ घर से निकला और उसे मंगलसूत्र, चूड़ी, बिंदी, सिन्दूर आदि दिलाकर दुल्हन बना कर भेजा.

बेड पर पहले मेरी बहन, फिर माँ, उसके बगल में दिव्या और उसके बगल में मैं सो गया. अब मेरी चूचियां भी काफी भर गई थीं और मुझे लंड चूसने में भी काफी मजा आने लगा था.

मैं बेहोश हो गई और जब होश आया तो देखा कि दादा जी अपना लंड धीरे धीरे अन्दर बाहर कर रहे थे. अब आगे की बॉयफ्रेंड एंड गर्लफ्रेंड सेक्स स्टोरी:अल्पना- पीहू, तूने देखा … सोना कैसे सनी का लंड मुँह में ले रही थी … रंडी की तरह लंड चूसती है कुतिया. करीब दस मिनट बाद आंटी ने कहा- तेरा लंड बहुत मोटा है … आज बहुत मजा आएगा.

मैंने उन्हें देख कर उनकी गांड पर चिमटी काटी और बोला- चलो आपको कुल्फी खिलाता हूँ.

सुबह बीवी से फ़ोन पर बात करने के बाद मैंने बोल दिया कि मैं थक गया हूँ, इसलिए अब सोने वाला हूँ. मगर मैं खुश भी था क्योंकि तीन महीने के बाद मैं फिर से अपनी चचेरी बहन श्वेता और अपनी गायत्री चाची से मिलने वाला था. ऐश्वर्या- तुम क्या बोल रहे हो?अविनाश- मुझे पता है यह थोड़ा अजीब है.

तभी रेणुका भाबी बोलीं- तुम मुझे रोज़ बाल्कनी में क्यों घूरते रहते हो? नाम क्या है तुम्हारा?मैंने कुछ जवाब नहीं दिया. मुझे चोद दीजिये दादा जी।ये सुन कर विजय बोला- देखा दादाजी, कितनी तड़प रही है साली लंड लेने के लिये! इसे तो पीछे बाड़े में ले चलते हैं.

कई बार मैं उसको टाइम नहीं दे पाता था और कई बार वो मेरे लिए उपलब्ध नहीं हो पाती थी. जब तक मैं उन दोनों के पहुंचा, तब तक शुभम नम्रता को नंगी कर चुका था और वह उसे किस कर रहा था. आगे इस हार्डकोर सेक्स स्टोरी इन हिंदी में सेक्स का खेल किस तरह से चलने वाला है, वो सब मैं आपको विस्तार से लिखती रहूँगी.

बीएफ पिक्चर देहाती हिंदी

मैं अपनी स्टूडेंट लाइफ को याद करने लगी कि तब किस तरह से लड़के मेरा साथ पाना चाहते थे.

अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है।मेरी लड़का लड़की सेक्स कहानी थोड़ी लम्बी हो सकती है क्योंकि कहानी मैंने खुद लिखी है इसीलिए कुछ गलती हो तो माफ़ करना. जब लॉकडाउन में ढील मिली तो वो बंगलौर जाने को हुई तो मैं भी उसके साथ घर से निकला और उसे मंगलसूत्र, चूड़ी, बिंदी, सिन्दूर आदि दिलाकर दुल्हन बना कर भेजा. आकाश सर तो मुझसे पहले जैसा बर्ताव कर रहे थे लेकिन जिया मेम अब ज्यादा बात नहीं करती थी.

अभी मेरे पापा और रिया दी की सास के साथ भी सेक्स का मजा आने वाला है. कुछ पल की चूमाचाटी के बाद मैं उसकी गर्दन पर किस करते हुए अपना हाथ उसकी चूचियों पर ले आया. ई-मेल को चोदाशादी तो हमारी नहीं हो सकती, हाँ पर मुझे वो सुख ज़रूर मिल जायेगा जो हम दोनों को चाहिए।मैं- मतलब तो क्या महेश के साथ खुश नहीं हो?वो बोली- वो तो अपने काम और किताबों में ज्यादा बिजी रहता है.

मैंने बोला- ये तुम क्या कर रही हो?वो चौंक गयी और जल्दी से अपने तन पर चादर खींचने लगी. उसे दर्द हुआ … मगर वो नशे में होने के कारण थोड़ी ही चीखी फिर मस्त चुदाई स्टार्ट हो गयी.

नेहा- आहह मजा आ रहा है आपके लंड से … आपकी रंडी बीवी की चूत फ़ट गयी है … उन्ह … बना दीजिए भोसड़ा इसको … आह आह्ह्ह फ़ाड़ दीजिए मेरी चूत को … आह और जोर से पेलिए. यह थी मेरी फैंटेसी वाली सेक्स कहानी … मुझे आशा है कि आपको यह फंतासी पोर्न स्टोरी जरूर पसंद आई होगी. उसकी चूचियां बहुत ही शानदार थीं और बहुत ही मस्त भरी हुई लग रही थीं.

मोतीझील के किनारे घूमते हुए मैंने सोनम से किस करने को कहा, तो उसने मना कर दिया. मैं जैसे ही आंटी के पैर छूने नीचे झुका, तो उनके पैरों से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी. जब तक मैं कुछ समझ पाती, किसी ने दीवार की दूसरी तरफ से मेरे कपड़े खींच लिए थे.

कमरे में आकर हम दोनों ने कपड़ों को निकाल दिया और उसने मुझे एक गिलास दूध पकड़ा दिया.

देसी नंगी भाभी की कहानी के पिछले भागदेवर से लिया चुदाई का असली मजा- 3में आपने पढ़ा कि कैसे मैं अपने देवर के साथ अपनी चूत की नंगी चुदायी करवाने आई थी. मैं बोला- ओके रानी तुम तैयार रहो … आज तीनों छेदों का रास्ता साफ कर दूँगा.

दोनों औरतें सुंदर के आगे आ गईं और उसके घुटनों के बल नीचे बैठ कर लंड चूसने लगीं. मैंने फिर से लौड़ा पेल दिया।ये तो अच्छा हुआ था कि हम दोनों जंगल में कुछ अंदर थे. उसने अपनी चूत पूरी फ़ैला दी और मेरे सर को अपनी चूत पर दबाते हुए चूत चुसवाने लगी.

गुर्जर साहब बोले- नवाब, तुम बेटी के साथ करो और मैं मां के साथ मजे लेता हूं. फिर मैं खड़ा हो गया और मैंने अपनी लोअर नीचे करके अंडरवियर भी नीचे कर दिया. 10-15 मिनट की चुदाई के बाद उसने मुझे जोर से जकड़ लिया और मेरे गले को काटते हुए अपना माल मेरी योनि में गिरा दिया.

झारखंडी बीएफ देहाती उसने अपने दोनों पैरों को बीच में लेकर मेरे दोनों पैरों के तलवे अपने चूचों पर लगा लिए और जैसे आदमी औरत को चोदता है, वो मुझे उसी तरह से चोदने लगी. इसी के चलते बेचारी मां दिन में 3-4 बार चुद जाती थी। तीन महीने तक चोद चोद कर मैंने अपनी मां की चूत का भोसड़ा बना दिया था.

हिंदी बीएफ चुदाई वाली हिंदी

तब भी वो जिगर को मजा देने के लिए एक परफेक्ट रांड के जैसे चीखने लगी ‘आआह … आआह. चूंकि मैं घर में ब्रा नहीं पहनती थी, सो मेरी दोनों चूचियां बाहर आ गईं. मगर सबसे ज़्यादा मुझे देवर-भाभी की सेक्स कहानी और पड़ोसी के साथ सेक्स वाली कहानी पसंद आती हैं.

उसने मुझे अपने सीने से लगा लिया और मेरे बालों को प्यार से सहलाने लगी. मुझे नहीं पता उसने उन लड़कों के साथ क्या कांड किया है या नहीं किया है लेकिन मैंने उसको तुरंत हॉस्टल भेज दिया. बीड़ी बीड़ीमतलब इस ड्रेस में मेरी बीवी की चूत और मम्मों के दीदार फिलहाल कुछ देर के लिए बंद थे.

साथ में कीमत भी बताता जा रहा था और ये भी बताए जा रहा था कि फलां गहने में कितना डिस्काउंट हो सकता है.

मैंने ये मौका सही समझा और आगे बढ़ कर उसके गाल पर हाथ फेरते हुए आंसू पौंछ दिए. शाम को फिर अनु मेरे घर आई और बोली- तुम्हें मेरी मां घर बुला रही है खाने के लिए … चलो।मैंने कहा- ठीक है, मैं आता हूं.

इस बॉल के ऊपर मैंने एक कुछ रेशमी धागे लपेट कर उसे दरदरा सा कर दिया था. लेकिन जो मजा किसी अपने के साथ आता है वो मजा कही और नहीं आ सकता।इस साइट पर मैं 1 साल से कहानियाँ पढ़ रहा हूँ। कुछ सच्ची मालूम होती हैं और कुछ काल्पनिक। लेकिन जो भी हो पढ़ कर मजा तो आ ही जाता है।दोस्तो, आप यकीन करें या न करें लेकिन ये मेरी टीनएज गर्ल सेक्स कहानी 100% सत्य है. फिर मैंने अपने मुँह में दारू भरी और उसके होंठों को अपने होंठों से सटा कर उसके मुँह में कुल्ला कर दिया.

चूंकि मुझे भी जींस उतार कर लैगी पहननी थी, तो मैंने कहा- ठीक है, पहले लैगी दो.

उनके हाथ बहुत कड़े थे और मेरी चूचियां फूल की पत्तियों की तरह कोमल।मगर एक बात मैं यहां पर ये भी जोड़ना चाहूंगी कि चूचियां दबवाने का वो पहला अहसास इतना मदहोश कर देने वाला था कि मैं बयां नहीं कर सकती. ऐसे में मैं आप लोगों से पूछना चाहती हूं कि मैं भला अपने आपको कब तक रोक कर रखती और कब तक अपने आप को शांत रख पाती?मैंने अपनी चूत की प्यास बुझाने के लिए बहुत दिमाग दौड़ाया. उसने मेरी जांघों को फैलाया और मेरी चूत में एक उंगली अन्दर तक घुसा दी.

ಬ್ಲೂ ಫಿಲ್ಮ್फिर निगार आंटी से बात हुई, तो उन्होंने मुझे अपनी फैमिली के बारे में बताया. फिर मैं बोला- आप बताइए, क्या आपको मुझसे कोई काम था?वो बोली- हाँ, दरअसल सेक्स करने का बहुत मन हो रहा था, तो क्या आप अभी आ सकते हो?मैंने पूछा- आप ही हो या कोई और भी है?वो बोली- चार हैं.

चेन्नई की बीएफ

वो आज भी मुझे उस दिन की चुदाई के लिए याद करती है मगर मुझे उसके पास जाने का समय नहीं मिल रहा है. इसकी उम्र 18 साल से थोड़ी ज्यादा है और इसका लंड 8 इंच लम्बा और काफी मोटा है. मैंने अपना फनफनाता हुआ लौड़ा हाथ में लिया और धीरे से उसकी लम्बी दरार पर घिसना शुरू कर दिया.

अब दीपक जी को ताव आ गया और बोले- मेरी साली जान चुपचाप चुत में लंड डलवा लो … नहीं तो भैन की लौड़ी आज मैं तेरी गांड भी मार दूंगा. वो भी उसे चूमने लगी थी और उसके हाथ से अपनी चूचियों को बड़ी मस्ती से मसलवा रही थी. उसके बाद चाचा ने दोनों हाथों से मां की गांड को खोल कर उसका छेद देखा और अपना लंड उसकी गांड के छेद पर लगा कर उसको अपनी बांहों में भींच लिया.

उसके बाद से ये बेचारा लंड फिर अबकी बार 40 के पार के इंतजार में बैठा है. मेरी चाहत आंटी को चोदने की बन गई थी और मैं सोचता रहता था कि किस तरह से आंटी की चुत हासिल कर सकूँ. वैसे लंड तगड़ा है इसका।उसके मुंह से लंड की बात सुन कर मेरे होश उड़ गये.

मेरा शुरू से यह मानना है कि आप हमेशा दूसरों की इज्जत करोगे, आपको प्यार ही मिलेगा. उसके बाद वो घर की जिम्मेदारियों में उलझ गयीं और फिर मेकअप का काम बंद कर दिया.

मैं भी मौसी की चूचियों को चूसते हुए उन्हें गाली देने लगी- ले साली लंड की भूखी रांड साली … लंड क्यों नहीं ढूंढ लेती कोई … आह बड़ी मस्ती चूचियां हैं.

इसके बाद हम दोनों जमीन पर खड़े हो गए और मेरा हाथ मेरी बीवी की कमर में चला गया. ब्लाउज के पीछे का डिजाइनएक बार मैं कॉलेज जाने के लिए बस का इंतज़ार कर रही थी, तभी एक भीड़ से भरी हुई बस आ गई. शिल्पी राज xnxxपर ऐन टाईम पर मेरे दोनों दोस्त पहुंच गए और मुझे मजबूरी में अमिता को रात भर उनके साथ बांटना पड़ा. मैं- आपने पहली बार सेक्स कब किया था?नताशा- अविनाश से शादी करने के बाद.

अब दीदी बोलीं- कभी मन नहीं किया क्या?मैंने कहा- आप तो सब जानती हो ना दीदी कि लड़के बिना सेक्स के नहीं रह सकते.

कुछ ही पलों में उसके लंड का सुपारा मेरी चूत की फांकों में फंस गया था. मेरी जीभ से जीभ मिलाकर उसे चाट रहा था।किस करते-करते ही वो अपने एक हाथ से मेरी चूची दबाने लगा और दूसरा हाथ नीचे ले जाकर मेरी चूत पर रख कर चूत को सहलाने लगा। इससे मैं और गर्म होने लगी. मैंने कहा- डाल दूं क्या जान?वो बोली- अब तुमने नहीं डाला तो मैं तुम्हारे इस औजार को चाकू से काट लूंगी.

सनी ने मेरे दूध दबाए और कहा- जान अब नंगी होने में कोई देरी है क्या?मैंने हंस कर आंख मारी और कहा- पहले पार्टी करने की कह रहे थे?सनी बोला- तो हमारी पार्टी की थीम ही न्यूड होकर पीने की है. 9 फीट है। मेरा शरीर पूरी तरह से हृष्ट-पुष्ट है।मेरे लंड का तो मुझे फीते वाला नाप पता नहीं मगर आज तक जिनके साथ भी सेक्स किया है, सबको पूरी तरह से संतुष्ट किया है. आज की ये रात मेरी जिन्दगी की सबसे यादगार रात बन गयी थी जिसको मैं कभी नहीं भुला सकता.

इंग्लिश मराठी बीएफ

मैंने अपनी बीवी को ऊपर से कुछ इस तरह से अपनी बांहों में ले लिया था कि उसकी चूत अफ़्ररीकन के लंड के लिए खुली रहे. नवाब सोच में पड़ गया और बोला- ठीक है, मैं करूंगा तुझसे शादी और बीवी को तलाक भी दूंगा. मेरी देसी सेक्स इंडिया कहानी में पढ़ें कि मैं मामा के घर गयी तो उनकी बेटी कैसे चुद कर आयी.

हम दोनों एक ही कमरे में एक ही बेड पर एक दूसरे की बाँहों में फिर से समा गए.

तो सचमुच लसलसा कर गीली हुयी पड़ी थी।मेरा अब न तो पढ़ने में मन लग रहा था और न ही स्कूल में। बस मुझे घर जाना था।जैसे ही स्कूल छूटा, मैं घर आ गयी.

मेरी बात सुनकर उनके चेहरे पर कोई परेशानी का भाव दिखाई नहीं दे रहा था. फिर अगले दिन जब आप सोये हुए थे तो मैंने नहा कर हरी की दी हुई ब्रा और पैंटी पहन ली और फिर सूट पहना. किन्नर की नंगी फोटोमेरे मुँह से अब आवाज नहीं निकल रही थी लेकिन दर्द से बिलबिला गयी थी.

फिर मैंने अपने मुँह में दारू भरी और उसके होंठों को अपने होंठों से सटा कर उसके मुँह में कुल्ला कर दिया. फिर सर मेरी गर्दन पर अपनी ज़ुबान चलाने लगे और साथ ही साथ मेरे चहरे को भी चाटने लगे. उसने एक रूम ब्वॉय को आवाज दी और उससे कहा- मैडम को रूम नं 101 में पहुंचा दो.

तब किसी अंजान आदमी के साथ, जो खुद को कुंदन बता रहा था, उसके साथ जाने का तुक नहीं बैठता. अब हम दोनों बिस्तर पर नंगे ही लेट गए और एक दूसरे के नंगे जिस्म को सहलाने लगे.

सनी- क्या तुमने उसे भी हम दोनों की चुदाई दिखा दी?मैं- अब वो कहां जाती यार … उसे थोड़ी मैं भगा देती!सनी- तुम भी यार! एक तो तुम देखो और उसे भी, वैसे क्या बोल रही थी?मैं- यही बोल रही थी कि एकदम कड़क है … और सनी का विवेक से मोटा भी है.

मैं इतना उत्तेजित हो गया था कि ये भूल ही गया था कि मेरे सामने कोई सामान्य औरत नहीं बल्कि मेरे बॉस की बीवी है. जो आदमी मेरी चूत में अपने लंड से धक्के लगा रहा था, अब उसने मेरी चूत में पानी छोड़ दिया था और साथ ही चौथे ने भी पानी छोड़ दिया था. फिर जेठानी जी ने मेरे पापा को बीच में एक गद्दे पर लिटा दिया और राज को भी.

किचन की डिजाइन फोटो इतना सुनते ही, मैंने लता आंटी को बांहों में लेकर किस करना शुरू कर दिया. वहां एक लड़की से मेरी नज़र मिली और हम दोनों ने एक दूसरे को लगभग पांच मिनट तक एकटक देखा.

भाभी मेरे होंठों को चूसती हुई मेरे लंड पर अपनी चूत घिसने लगी और स्वीटी मेरे पीछे आकर अपने चूचे मेरी पीठ पर दबाते हुए मेरी गर्दन पर चूमने लगी. मैं वादा करता हूं कि आप और जिया मेम के बीच में जो पति पत्नी का रिश्ता है उस पर भी कोई असर नहीं आयेगा. मां को चोदने के बाद एक दिन मैंने अपनी मां से पूछा कि मां आप इतनी चुदक्कड़ और रंडी कैसे बन गईं.

bhai बीएफ

उसके बाद भी मेरे साथ इस दौरान काफी कुछ हुआ लेकिन वो अभी नहीं बता रही हूं. मेरी वासना से भरी हुई निगाहों को गरम करने के लिए मेरे सामने मेरी बहन की चूचियां अपना जलवा बिखेर रही थीं. एक तवायफ को जिस्माना खुशी तो मिलती है … पर दो पल की और उससे भी बढ़कर प्यार पाने की उम्मीद होती है, जो कभी पूरी नहीं होती.

कुछ देर बाद मैंने अपना लण्ड शैली की चूत से बाहर निकाला और उसे बेड पर लिटा दिया. दोस्तो, मेरा नाम विशाल है और मैं एक सिविल इंजिनियर हूँ और ये मेरी पहली इंडियन भाबी सेक्स कहानी है.

मैंने उसकी तरफ देखा और पूछा- आपने तो मुझे वैसे ही कुछ ज्यादा दे दिया है.

फिर पेटीकोट को ऊपर करते हुए सुंदर ने रत्ना की जांघों पर अपने कामुक होते हुए हाथों को फिराना शुरू कर दिया था. आग और कोयले की मुलाकात हो, तो शोला भड़कने में कितनी देर लगती है? वही हुआ … खूब चिंगारियां उड़ीं और घमासान आग लगी. वो कुछ नहीं बोलती थीं क्योंकि मैं पहले उन्हें चोद चुका था और उन्हें भी ये सब अच्छा लगता था.

नहीं तो तुम्हारी चूत जख्मी हो जायेगी।लेकिन मैं हल्का फुल्का हिलती ही रही. जैसे ही मैंने मूतना बंद किया और चेन बंद करने लगा तो चाची बोली- संदीप, तेरा मन नहीं करता क्या किसी औरत को चोदने के लिए?चाची के इस सवाल पर मैं हक्का बक्का रह गया. उन्होंने कहा- यार शुक्ला चलो अपने हॉस्टल पर … हम लोग पहले ही काफी लेट हो गए हैं.

मेरे लंड की तड़प थोड़ी ही देर में मिटने वाली थी और मामी की गर्म चूत को भी ठंडक मिलने वाली थी.

झारखंडी बीएफ देहाती: मेरी पत्नी के तो तरबूज हो गए हैं … और दबाने से गीले मैदा से लगते हैं. कुछ देर तक मेरी चूत को चाटने के बाद प्रीति में मुझे ऊपर खींचा और किस करने लगी.

उसने मुझसे कहा कि शादी-वादी के सपने भूल जाओ, दोनों मिलकर जवानी के मजे लूटते हैं. दोस्तो, मेरा नाम सिद्धार्थ है। मैं हिसार, हरियाणा का रहने वाला हूं। मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मेरी पिछली कहानीअजनबी से मुलाकात, दोस्ती, प्यार और चुदाईको आपने बहुत प्यार दिया। इसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।आज मैं नयी सेक्स कहानी लेकर आया हूं। उम्मीद है कि आप मेरी इस दिल्ली सेक्स कहानी को भी उतना ही प्यार देंगे।बात जनवरी 2017 की है. पिपराइच कस्बे में पहुंचने पर पता चला कि अब सिर्फ आखिरी ऑटो है, जो मेरे गांव तक जाने के लिए तैयार खड़ा था.

हम दोनों ही रात होने का इंतजार करने लगीं।रात करीब नौ बजे सबने खाना खा लिया और अपने अपने कमरे में आ गए। हम दोनों बस किसी तरह बात करते हुए समय काट रहे थे। रात के 1 बजे हम दोनों ने आराम से दरवाजा खोला और कमरे से बाहर आ गए।रूपा ने जाकर मामा-मामी का कमरा चेक किया.

मैं- मैंने पोर्न वीडियो में देखा है मर्द औरत को घोड़ी बना देता है और फिर पीछे से उसकी गांड मारता है. तू मेरी रखैल का अच्छा ख्याल रखेगा और जब मेरे लंड को इसके चुत की जरूरत होगी, तो तेरे पास से लिवा लाऊंगा. लगातार 15-20 मिनट तक धक्के लगाने के बाद उसने अपना वीर्य योनि के अंदर ही छोड़ दिया.