एच डी बीएफ

छवि स्रोत,फिल्म बीएफ वीडियो एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीपी पिक्चर सेक्सी मराठी: एच डी बीएफ, कहानी के पिछले भागचलती बस में अंग्रेज टूरिस्ट के साथ मजामें आपने पढ़ा कि मैं अपने मायके से लौटते हुए एक टूरिस्ट बस में थी.

बाप और बेटी का सेक्सी बीएफ वीडियो

उसने पहले तो मना किया, पर मेरे बहुत ज़ोर डालने पर वो मान गई, शायद उसके अन्दर भी मिलन की आग जल रही थी. डॉक्टरों की सेक्सी वीडियो बीएफअगर कोई फोन आए तो कहना कि वो पेपर्स का बंडल लेकर निकल चुके हैं और फोन यहीं भूल गये!” सर ने मैडम की तरफ अपना मोबाइल बढ़ाते हुए कहा।मैं तो बैठ जाऊंगी सर मगर देख लो, ज़िंदगी भर अब आप मुझे और इस सेंटर को भूल मत जाना.

फिर मैंने लंड आधा बाहर निकाला तो सरिता की चूत से चूतरस बाहर बहकर उसकी जांघों पर बहने लगा था. एक्स एक्स वीडियो बीएफ चलने वालाफिर मैं अपने होंठों से सरिता के दोनों मम्मों के आस-पास किस करने लगा और फिर दोनों दूध बारी बारी से चूसकर मैं उसके पेट पर अपनी जीभ फिराने लगा.

पिंकी के मुँह से इस बात को सुनकर अमर बहुत खुश हो गया और उसने जल्दी ही पिंकी के ब्लाउज और ब्रा को भी खोल कर उसके शरीर से निकाल कर दूर फैंक दिया.एच डी बीएफ: बातों बातों में उसने बताया कि अगले दिन मेरा जन्मदिन है, पर मैं किसके साथ मनाऊंगी … हस्बैंड तो ड्यूटी पे है.

कहानी के पिछले भागपैसे के लिए विवाहेतर सम्बन्धमें अब तक आपने पढ़ा कि सनी और रोज़ी ने डेविड और लिजा को अपनी हरकतों से प्रभावित कर दिया था.इस तरह से उन को फुसला कर मैंने खुद ही उन के दिल में धीरज के लिए जगह बनवा ली और उन्होंने ही शादी के लिए रिश्ते की बात की जो मंज़िल तक पहुँच गई.

सरफराज के बीएफ - एच डी बीएफ

मैंने उनसे पूछा कि क्यों झड़ गईं … औरत तो इतनी जल्दी नहीं झड़ती है?उन्होंने कहा- अगर तेरे जैसा कोई चूत चाटने वाला मिले तो मैं क्या कर सकती हूँ.एक काल्पनिक भार्या ने अपने काल्पनिक पति को अपने असली कामौर्य की भेंट चढ़ा दी थी.

मैं आप सभी से पहले ही बता दूं कि ये एक फैंटसी से भरी देसी मॉम की चुदाई कहानी है व उसी फंतासी के चलते मेरी और मेरी मम्मा के कामवासना से भरे प्यार की कहानी है. एच डी बीएफ मेरी भी जांघें सरिता की जांघों से सटी हुई थीं तो मेरी जांघें भी गीली हो गयी थीं.

आंटी ने एक स्टूल किचन की स्लैब के पास रखा और कहा- गौरव इसके ऊपर चढ़ कर ऊपर सेल्फ से अचार की बर्नियां उतार दो.

एच डी बीएफ?

मेरी चाल लड़खड़ा रही थी, तो दीपक अंकल ने मेरे को पकड़ के बाथरूम तक पहुंचा दिया. जिससे मीरा से बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने अपनी सारी शर्म छोड़ कर अपने एक हाथ से रितेश का लंड उसके पैन्ट के ऊपर से पकड़ लिया और उसे बाहर से ही सहलाने लगी. मैं अपने शौहर के साथ सही से बात नहीं करती क्योंकि उसने मुझे कभी ऐसा एहसास ही नहीं दिया.

उसके बाद मैं उसके पेट पर किस करता हुआ नीचे की तरफ आने लगा और मैंने उसकी लोअर को उतार दिया. यही सब बोलते हुए कल्पना भाभी एक बार और झड़ गईं … और उनकी चूत भी धड़कने लगी. [emailprotected]होटल चुदाई कहानी का अगला भाग:एक रात नए बेड पार्टनर के साथ- 5.

मुझे उनका जिस्म एकदम से अकड़ता हुआ सा महसूस हुआ, तभी वो अपनी गांड को उठाते हुए झड़ गई. मैंने अपनी बीवी से कहा- तुम्हारी गांड से मेरा वीर्य बाहर आ रहा है, पौंछ लो. मैंने भी धीरे धीरे धक्के मारने शुरू कर दिए और साथ ही उसके चूचों को भी दबा रहा था.

नम्बर देकर मैं उठ कर जाने लगा तो भाभी ने पूछ लिया- तुम जॉब कर रहे हो न?मैंने कहा- हाँ, लेकिन अब बदलने के लिए सोच रहा था इसलिए विशाल भाई से बात करना चाहता था. मैंने उठ कर उसको फिर से पकड़ लिया और होंठों को चूस कर बोला- डार्लिंग हफ़्ता नहीं … कल तुझे फिर से चुदना है.

मैंने अगले दिन से अपनी बॉडी लैंग्वेज चेंज की और जैसे ही मुझे अंकल जी आते दिखे मैं अपने दरवाजे पर उकडूं बैठ गयी और अपने घुटनों में अपना सिर छिपा लिया जैसे मैं बहुत दुखी होऊं.

मेरा लंड देखकर मेरी पत्नी खुश हो गयी, बोली- अभी रुक जाओ, मेरी बहन आयी है!उसे क्या पता कि मेरा लंड तेरे लिए नहीं साली के लिये तैयार था.

थोड़ी देर बाद उसने भी मुझे सॉरी बोला और बोली- मैं घर जाना चाहती हूँ. ये थी मेरी मोटी गांड की चुदाई कहानी, आपको कैसी लगी, मेल से ज़रूर बताएं. मैंने अच्छी तरह से रूम की सफाई की और खुशबू वगैरह डाल कर चारपाई पर धुली चादर बिछा कर उसका इंतजार करने लगा.

तभी रिया की मम्मी आ गईं और बोलीं- अरे क्या हुआ बेटी … तुम चिल्लाई क्यों?मैं- आन्टी, रिया को कमर में चोट लग गयी है. आरती मेरे साथ किसी एकन्त कोने में आ गई तो मैंने उसे वो मॅगज़ीन दिखाई और कहा- यह मैंने कल अपने भाई के कमरे से चुराई है. मेरे कांख वाली त्वचा, एकदम कोमल है, वहां पर हाथ लगते ही मुझे गुदगुदी होने लगती थी.

शिखा अपनी चूत को बेडशीट से पोंछने में लगी हुई थी और बीच-बीच में मेरी तरफ देख कर मुस्करा देती थी.

मैंने उसे बेड पे धक्का देते हुए और उसके ऊपर आते हुए कहा- रांड आज तेरा भोसड़ा ना सूज गया मेरे लन्ड की चुदाई से तो मेरा नाम बदल देना।यह कहते हुए मैंने फिर से उसके बूब्स को मसलना और मारना शुरू कर दिया. मैंने मान लिया और इस बार बगैर कंडोम लगाए ही उसकी अच्छे से चुदाई की. मैंने इधर-उधर देखते हुए चुपचाप उसके होंठ पर उंगली रखी और फिर उंगली उसके मुँह में डालकर इधर-उधर घुमाया और फिर अपने मुँह में वही उंगली डाल कर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगा.

वो मेरे जोर देने के कारण अपने मुँह में पूरा का पूरा लंड लेना सीख गई हैं. काफी देर प्रयास करने के बाद भी लिंग योनि का मुख स्पर्श करके इधर उधर चला जाता. गांव में रिवाज है किसी की मृत्यु हो जाती है, तो 12 दिन तक नीचे ही सोते हैं.

फिर हम दोनों ने प्लान बनाया और प्रिया ने अपने किसी कम्पटीशन की कह कर मामा मामी से मेरे साथ जाने की अनुमति ले ली.

बातों बातों में उसने बताया कि अगले दिन मेरा जन्मदिन है, पर मैं किसके साथ मनाऊंगी … हस्बैंड तो ड्यूटी पे है. नीता और मेरा अफेयर बहुत सालों तक चला, फिर उसका अपने हस्बैंड के साथ फिर से पैचअप हो गया और हमारी मुलाकातें कम हो गईं.

एच डी बीएफ जब वो चल कर जा रही थीं, तो उनकी गांड एकदम ऐसे मटक रही थी, जैसे दो बॉल आपस में हिल रही हों. पहली बार मेरी गांड में लंड गया था, मुझे बिल्कुल अच्छा नहीं लग रहा था.

एच डी बीएफ ये सेक्स कहानी एक ननद के पति यानि ननदोई और साले की बीवी यानि सलहज के बीच हुई चुदाई की घटना पर आधारित है. इसके बाद वो बोली- काश तुम्हारे जैसा पार्टनर मुझे मिल जाए, तो मजा आ जाए.

फिर मैंने भाभी को घुमाया और उनकी पूरी पीठ को धीरे धीरे करके चूमने लगा, चाटने लगा.

मेहंदीपुर बालाजी की कथा

ये एक सी ग्रेड की फिल्म थी, तो इस तरह की फिल्मों में सेक्स के सीन कुछ ज्यादा ही भड़काऊ होते हैं. उन्होंने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने मना कर दिया, तो वो बोलीं- तभी. अब आगे गरम भाभी बस सेक्स कहानी:मैंने अपना चेहरा उसके कंधे से हटाकर बिल्कुल उसके गाल के पास अपना गाल कर टच कर दिया.

वो हंस कर बोले- हां यार, इस बार मुझे भी काफी समय से कोई गांड मारने नहीं मिली. मैंने अपने लंड को धीरे धीरे से दिलिया की चूत से बाहर करने की कोशिश चालू कर दी और वो भी ‘अह अह्ह येस्स अह्ह्ह येस और आह्ह अह्ह …’ करने लगी. वह कभी आधी कभी पूरी उठा कर अपनी गांड पर हाथ फेरती और जीभ निकाल कर होंठों पर फेरने लगती.

”अंकल बड़े ही बदमाश निकले, शायद उनको मेरे तने हुए स्तन बहुत अच्छे लग रहे थे.

प्रिया सच में गजब की रांड लग रही थी खुले बाल, एकदम वाइट बॉडी और उसके दूध शानदार तरीके से उछल रहे थे. रूपा ने इस पहली चुदाई में अब तक तीन बार पानी छोड़ दिया और मेरा भी पानी निकलने वाला हो गया था. मैंने अगले दिन फिर से बहुत सजधज के लिपस्टिक लगाई, अच्छे से कपड़े पहने और सोनम के घर पहुंच गई.

जब मम्मा की बारी आयी, तो मैंने मम्मा को जबरदस्ती जींस टॉप, सेक्सी लिंगरी और सेमी ट्रांसपेरेंट इनर वियर दिलाए. राधिका कामुक सीत्कार करने लगी- उह्ह … ह आह मेरी जान धीरे मसको न … उह आह!मुझे इस बात से बड़ा ही रोमांच हो रहा था कि आज मैं अपनी बीवी के मम्मे अपनी बहन और साली के सामने दबा रहा था. फिर ताई ने अपने पेटीकोट से अपनी चूत को साफ किया औऱ ताऊ के लंड को साफ कर दिया.

उन्होंने मुझे उस पलंग पर नंगी लिटा दिया, जिस पर पापा मम्मी सोते थे. उस रात सुबह तीन बजे तक हमारी चुदाई चली।उसके बाद पूजा की चूत की पूजा करने के लिए मेरे वासनामयी लौड़े ने कौन-कौन से जतन किये वह सब मैं आपको आगे की कहानियों में बताऊंगा.

यह मेरी पहली सुहागरात है और वह भी आशीष अपने होने वाले पति के साथ की है … और रही बात सील टूटने की, तो मैं एक बार अपने भाई के दवारा लाई गई ब्लू फिल्म की चोरी से डीवीडी में लगा कर वीडियो देख रही थी, तब मेरा बहुत मन करने लगा था, तो कमरे में एक कोका कोला की कांच की छोटी बोतल रखी थी. जबसे मैंने उसकी गांड का उद्घाटन किया है, तब से तो उसे अपनी गांड मेरे लंड से चुदवाना भी बहुत पसंद हो गया है. मगर उसकी बात सुन कर मैं पहले तो हैरान सा हुआ और फिर साथ ही खुश भी हो गया.

मुझको पहली बार लंड चुसवाने का मजा आ रहा था, जो मुझको चुत मारने से भी ज्यादा मजा दे रहा था.

अआह्ह्ह … वह जोर से चिल्लाने को हुई, मैंने उसके मुँह पर हाथ रख दिया. उसे देख आर मेरा दिल धड़कने लगता था और अन्दर से एक अजीब सी बेचैनी सी होने लगती थी. आशीष फोन में मुझे बांहों में लेकर मुझे लिटा कर मेरे कपड़े उतार कर प्यार करने लगा.

जब उस स्टॉप से बस चलने को हुई, तो मैंने देखा कि एक लेडी मेरी सीट पर बैठ गयी है. एक दिन की बात है … शूटिंग के बीच में आन्या को डायरेक्टर ने अपने रूम में बुलाया, पर तभी सैट की लाइट चली गई.

अब रितेश ने अपने हाथ से क्रीम के ट्यूब से क्रीम ली और मीरा की कमर में पर लगाना शुरू कर दी. जैसे ही उन्होंने पानी खत्म किया, मैं उन्हें जाने का बोल कर बाहर के कमरे की तरफ जाने लगा. हमने कई बार मोहल्ले की आंटियों के बारे में सोच सोच कर साथ में मुठ भी मारी है.

सेक्स फोटु

मैं कुछ समझा नहीं … तो मैंने पूछा कि तभी का मतलब?तो चाची बोलीं- तुम कभी बाल नहीं काटते क्या?मैंने कहा- एक सप्ताह पहले ही तो कटवाए थे.

इसके बाद मैं रात में अपने और निक के बारे में सोचती रहती कि उसका लौड़ा कितना बड़ा होगा. छोटे चाचा और चाची गांव में अपने खेतों में काम करवाते थे तो छोटी चाची अपने बेटे को लेकर चाचा के साथ खेतों में चली जाती थीं. अबकी बार वो मुझे सीधे बेडरूम में ले गए और पहले मुझे कोल्ड ड्रिंक पीने को दी फिर मुझे बांहों में भर लिया और चूमा चाटी करने लगे.

इस पर मायरा शर्मा गई और बोली- कोई बात नहीं भैया, चाचा चाची प्यार कर रहे हैं. नहाने के बाद तौलिया लपेट कर बाथरूम से बाहर आकर मैंने उस रूम की अल्मारी खोली तो मुझे अपने लायक सिर्फ एक टी-शर्ट और लोअर मिला. घोड़ा गुड़िया वाली बीएफमैं झट से नीची दीवार के रास्ते प्लाट में कूद गया और भाभी के पास चला गया.

मैंने अपनी चैन खोलकर अंडरवियर से अपना लंड बाहर निकाला और उसको दिखाने लगा. आशीष बोला- बहुत ज्यादा मत एक्साइटेड हो बंध्या … अभी तेरी सील टूटेगी.

मैंने कहा- अरे वाह … तो फिर शांत कैसे करती हो खुद को?वह बोली- मैं तो उंगली करके शांत हो जाती हूँ. मैं उन्हें किस और स्मूच करता रहा और उनकी नंगी पीठ कमर पर अपने हाथ चलाता रहा. हर समय, हर घड़ी …तभी मैंने देखा कि चाची घर के पीछे बने स्टोर की तरफ जा रही थी (उनके घर के पीछे तीन स्टोर बनाये थे जिन्हें उन्होंने साफ सफाई करके चाची के परिवार वालों को रहने के लिये दिया था शादी में) लेकिन अभी थोड़ी ही देर पहले मैंने चाची के भाई कपिल को उधर जाते देखा था.

पहले ही झटके में मैं बहुत जोर से चिल्लाई उम्म्ह… अहह… हय… याह… और लगा कि मर जाऊंगी, मैं इतना दर्द हुआ कि बेहोश होने की हालत में हो गई. सच कहूं तो मुझे ये सब करने में डर लग रहा था लेकिन मजा भी बहुतआ रहा था. जब सुषी अकेली थी तो मैंने मौका देख लिया और उसके दिल की बात पूछने की सोची.

उसे अच्छा लगने लगा। मेरे लबों का स्पर्श पाते ही वो फिर गर्म होने लगी। उसने एक हाथ पीछे लाकर मेरे चेहरे को महसूस करने की कोशिश की.

सच बताऊं दोस्तो, इस हालत में अगर कोई भी हवस या फिर और नजरों से देखेगा, तो मैं उसको जानवर ही मानूँगा. हम दोनों के बीच में तकिया रखकर भावना वहीं बेड पर मेरे साथ में लेट गई।उसके पास लेटते ही मेरा लंड खड़ा हो गया.

मैंने प्राची को गले लगा कर जन्मदिन की शुभकामनाएं दीं, उसने मुझे किस करके धन्यवाद कहा. बात तो हमारी रोजाना ही होती रहती थी लेकिन खुल कर कोई भी बात नहीं हो पा रही थी. शादी की तारीख तय होने के बाद उसका फोन आया कि मेरी शादी में आपको जरूर आना है.

उसके बाद पहले उसके पांव और फिर उसके हाथ खोलकर उसे बैठाया। अब हम चारों पूर्ण रूप से नग्न एक ही बिस्तर पर बैठे हुए थे. पर सन्जू की चूत सूख चुकी थी। मैंने उसकी चूत में थोड़ा वेसलीन लगा दिया।अब रोहित ने दोबारा अपना लंड मेरी बीवी की चूत में घुसाया तो उसका लंड चूत में घप्प के आवाज के साथ प्रवेश कर गया।सन्जू को कुछ ज्यादा भराव महसूस हुआ उसकी टाईटनेस के वजह से। लंड घुसने के साथ ही रोहित शांत हो गया और संजना के नंगे शरीर पर लेट गया।संजना को अजीब लगा, उसने पूछा- क्या हुआ?मुझे लगा जैसे वो झड़ गया. वह बड़बड़ाते हुए मेरा नाम लेने लगी- आह्ह … पंकज … ओह्ह … स्स्सश … उम्म … आआ … ह्ह … बहुत मजा आ रहा है.

एच डी बीएफ इससे पिंकी भाभी ने ‘आयह अहा आहाहाहा …’ करती हुई बेड की चादर को अपनी मुट्ठी में भर लिया और अपनी आंखें बंद करके चुदाई का मजा लेने लगी. ये मुझे इसलिए मालूम हो गया था क्योंकि मुझे कई बार बाथरूम में मूली और गाजर मिलती थी.

आई लव यू का फुल फॉर्म

वो कुछ कोचिंग सेंटर में पार्ट टाइम पढ़ाया भी करती है जिससे अपना खर्चा खुद निकाल सके. मैंने अपने पति को अल्मारी से कपड़े निकाल कर प्रेस करने के लिये दे दिये. फिर मैं उसके आगे आ गया और अपने होंठ उसके गुलाबी होंठों पर रखकर किस करने लगा.

चाची का लड़का एकदम रंडीबाज है और मैं जानता था कि अगर उसे मौका मिलेगा तो वो खड़े-खड़े तीनों ही मां- बेटियों को चोद डालेगा. मैं फ्रिज से दो बियर कैन निकाल लाया और हम दोनों बियर पीते हुए बात करने लगे. हिंदी बीएफ फोल्डरफिर उसके मुंह में दो चार झटके मारने के बाद उसकी सील तोड़ने के लिए लंड को उसकी चूत से लगा दिया और एक धीरे झटके से लंड को आधा उसकी चूत में घुसा दिया.

उन्होंने भी अपनी पीठ ऊपर उठाकर मेरा सहयोग किया, जिससे मेरा काम थोड़ा आसान हो गया और मैंने उनकी ब्रा का हुक खोल दिया.

मेरा शरीर भी बहुत गठीला है मैंने इसे काफी कसरत आदि करके बहुत अच्छे ढंग से संवारा हुआ है. अब मैंने उसके मुँह के पास लण्ड लगा दिया और बोला- अब इसे चूसो और ज्यादा मज़ा आएगा.

नुकसान होने के बाद बिजनेस बंद हो गया, जिसके कारण मिनी का पति दिमागी रूप से थोड़े परेशान हो गया था. उसने अपनी कमर नीचे की और मैंने अपनी चूतड़ थोड़े उठाए और जैसे ही सुखबीर को मेरी योनि की छेद का स्पर्श हुआ, उसने जोर से लिंग धकेल दिया. बाथरूम में जाकर मैंने मिरर में देखा कि मेरे सीने पे उसके नाखूनों के और उसके पूरे जिस्म पे मेरे दांतों के निशान बने थे.

मैंने सोचने लगा कि अगर सफल हो गया, तो मौसी की चुत मिल जाएगी और अगर फेल हो गया था, तो देखा जाएगा.

नीतू शाम के खाने की तैयारी शुरू तो नहीं की ना?”नहीं तो, क्यों?”आज शर्मा सर ने घर पर खाने को बुलाया है. अब तो मैं अक्सर उसके रूम पे जाती रहती थी और कभी उसका रूम साफ करने में मदद करती. मैंने भी थोड़ा अच्छे तरीके से धक्का लगाया और अबकी बार मेरा लंड उसकी चूत में आधा घुस गया.

नंगे सेक्सी वीडियो बीएफमेरे सामने वाले फ्लैट में एक परिवार शिफ्ट हो रहा था और उसी की आवाजें आ रही थीं. मैं उसको देखता रहा। वो जैसे-जैसे साँस ले रही थी उसके चूचे ऊपर नीचे हो रहे थे जो मुझे अपनी ओर खींच रहे थे.

ब्लू फिल्म पाकिस्तानी

नीता और मेरा अफेयर बहुत सालों तक चला, फिर उसका अपने हस्बैंड के साथ फिर से पैचअप हो गया और हमारी मुलाकातें कम हो गईं. उन्होंने मेरे को खड़ा किया और अन्दर वाले रूम में उठा कर ले जाने लगे. अ… अ…अ की लंबी सीत्कार के साथ झड़ गई और पेट के बल ही बेड पर पस्त हो गई।मैं बोला- मेरा अब तक नहीं हुआ है.

फिर मैंने 2 झटके और मारे और मेरा पूरा लंड उसकी फ़ुद्दी में समा चुका था, उसकी आँखों से पानी बह रहा था. फिर भी मैंने पूरी कोशिश की भैया और भाभी की फिल्म देखते हुए मजा लेने की मगर तुम्हारे लंड के अलावा इसको भला और कौन शांत कर सकता है मेरे राजा!बहुत देर तक भैया ने भाभी की चूत अपनी जीभ से चोदी और जब तीसरी बार भाभी झड़ी तब भैया ने दोबारा अपना लंड भाभी के मुंह में दे दिया. सोनल बोली- भाई मैं चाहती हूँ कि आप भाभी को अपनी जांघ पर बैठाकर उसके मम्मे दबाओ.

मैं बोला- इसकी क्या जरूरत थी?वो बोली- पी लो, आज बहुत मेहनत करनी है तुमको. मैंने शिखा से दोबारा ट्राई करने के लिए कहा तो वह बोली कि अबकी बार आराम से करना, बहुत दर्द होता है. अब वह खुद ही मुझे बोलने लगी कि तेज करो और तेजी से करो … आह्ह … मजा आ रहा है पंकज, करो … तेज-तेज, फाड़ दो मेरी चूत को.

रात को करीब एक बजे के लगभग मेरी नींद खुली तो मैं पेशाब करने के लिए बाथरूम में गयी. इस बीच निशा अपनी गांड को जोर जोर आगे पीछे करने लगी और वो मेरे लंड को भी जोर जोर से आगे पीछे कर रही थी.

मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपनी ओर खींचा, अपना एक हाथ उसकी कमर में डाल दिया.

com/teen-girls/hot-ladki-sex-kahani/सऊदी में रहने वाली एक लड़की को पढ़ने मिल गयी थी. बीएफ सेक्सी चूत बीएफमैं हल्के हल्के लंड को अन्दर बाहर करने लगा और उसकी चुदाई जोर जोर से करने लगा. देहाती सेक्सी बीएफ लड़कियों कीउसने पूछा- क्या?मैंने कहा- आपको वो सब देखने के लिये मेरे घर आना पड़ेगा. पटेल बोला- तूने अपनी झांटें साफ़ की हुई हैं … बंध्या तू बड़ी चुदक्कड़ है … आगे जाके रंडी बनेगी क्या … अपनी मम्मी की तरह … मैं सब जानता हूं तेरे घर के बारे में.

वह बोली- पहले आप मुझसे एक वादा करो कि आप इस बारे में किसी से कुछ भी नहीं बताएंगे.

मैं और विलियम बहुत ज्यादा डर गए कि अचानक बस क्यों रुक गई और लाइट ऑन क्यों हुई. जब मैंने दोबारा झांका तो चाची मेरे भाई के लंड को मुंह में लेकर चूस रही थी. मगर जब मैं वापस मुड़ कर जाने लगा तो मेरे कानों में किसी की सिसकारियों की मधुर सी आवाज़ पड़ी.

खाली दिमाग शैतान का घर! इस वक्त मेरा शैतान लंड फिर से मुझे मुट्ठ मारने के लिए उकसाने लगा. लेकिन मैं उनके शरीर को हर तरह से अपनी सांसों और निगाहों में बसा लेना चाहता था. उसने कानों में झुमका, मांग में टीका और नथ पहन रखी थी और गले में एक बड़ा सा हार पहन रखा था.

सीसीएक्सएक्सएक्स

मैं उसकी पेंटी में हाथ डाल कर सहलाने लगा और वो ना ना करते हुए धीरे धीरे मेरे लंड को बहुत सहलाने लगी. अपने हाथ से लंड को पैंट के ऊपर से ही सहलाया और पैंट को खोलकर पीछे की तरफ टांग दिया. जितनी मिटाने की कोशिश कर रही हूँ, उतनी ही बढ़ती जा रही है।मैंने पूछा- तो तुम्हें मजा आ रहा है?वो बोली- बहुत मजा आ रहा है! मैं चाहती हूँ कि तुम अपना लंड मेरी बुर के अन्दर डाले ही रहो।उसके इतना कहने के साथ ही मैं रूक गया.

मैं बोला- क्यों?रूपा बोली- भैया मुझे डर लगता है … क्योंकि लड़कों पर मुझे जरा सा भरोसा नहीं है.

जैसे ही वसुन्धरा समझ में आया कि उसके हाथ में मेरा कौन सा अंग है, उसका सारा जिस्म ऐसे काँपा जैसे उसे चार सौ चालीस वाल्ट का झटका लगा हो.

जब से मैंने उसको देखा था तभी से मैं उसको चोदने के सपने देखने लगा था. जब मेरा लंड उसकी चुत में घुस गया, तो मेरी बीवी के मुँह से आह निकली. सेक्सी बीएफ वीडियो मस्तये थी मेरी मोटी गांड की चुदाई कहानी, आपको कैसी लगी, मेल से ज़रूर बताएं.

में भुवनेश्वर तक 2 पैसेंजर वाला कूपा खाली है, आप बोलो तो आप दोनों को देता हूँ? वो हम दोनों को एक समझ रहा था. मैंने अब तक सामने से तो नहीं बोला था पर आज फोन पर आशीष को ‘आई लव यू …’ बोल दिया और वह लगातार मुझे सब बातें बोलने लगा. मैंने अपनी मम्मा की चूत की फांक पर अपना लंड रखा और एक झटके से लंड को अन्दर दबा दिया.

एक घंटा बाद मुझे भूख लगी, तो मैंने रूपा को आवाज लगाई- रूपा खाना दो. तो उसने हम दोनों से पूछा कि कुछ दिक्कत है क्या?मिनी ने ही उसे समझाया कि कोई दिक्कत नहीं है, बस हम लोग एक दूसरे को समझ रहे हैं.

तुम्हारे औजार की भी तारीफ कर रही थी, उसकी लंबाई और मोटाई की भी … उसने बताया कि तुम्हारा लंड किसी भी औरत को संतुष्ट कर सकता है।मैं मन ही मन बहुत खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहा था लेकिन अपने चेहरे पे उन भावों को नहीं आने दे रहा था।बातें करते हुए ही उसने अपने अपने होंठों को मेरे होंठों पे रख दिया.

देखते ही देखते मेरा लंड बॉक्सर में ही खड़ा हो गया और साफ साफ दिखने लगा. [emailprotected]हॉट भाभी Xxx चुदाई कहानी का अगला भाग:भाभी की प्यासी चूत और बच्चे की ख्वाहिश- 4. साउथ इंडियन सेक्स के बाद अब उसने अपने कपड़े पहने और मैंने भी अपने बॉक्सर और टी-शर्ट को पहन लिया.

लड़की बीएफ चाहिए फिर उसकी नाभि को चूसने लगा और उंगली को उसकी चूत में अंदर-बाहर करने लगा और मेरी इन हरकतों के कारण वह झड़ गयी और मेरे हाथ को अपनी टाँगों से भींच लिया। थोड़ी देर बाद मेरा हाथ उसने हटा दिया और करवट बदल कर सो गयी. मैं समझ गया कि मेरी बहन की जवान बेटी भी वही चाहती है, जो मैं चाहता हूँ.

मैंने उनसे ऊंची आवाज में पूछा- क्या हुआ चाची?उनके मोबाइल में कुछ समस्या आ गई थी, जिसे वो मुझे दिखाना चाहती थीं. एक बार तो मुझे देखने में मजा आया लेकिन अगले ही पल यह ध्यान आया कि चाची तो मेरे भाई को बिगाड़ रही है. मैं दावे के साथ कह सकती हूँ कि वो कैसे चोदता होगा, उसका अंदाजा उसके बाप की चुदाई से लगा सकती हूं.

स्वाथी नायडू सेक्स

मैंने आगे बढ़ कर नैना को अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों पे अपने होंठ रख दिए. एक तो वो अपने सास के साथ थ्री-सम करना चाहती है और दूसरा अपने सामाजिक पति के साथ चुदना चाहती है. भाभी बोली- क्यों, मुझसे बात नहीं कर सकते क्या?भाभी की बात सुनकर मेरे अंदर का कामदेव जागने लगा था.

मगर साथ ही मेरे मन में इस बात को लेकर भी कौतूहल चलता रहता है कि मैं एक बार पापा को अपनी माँ की चुदाई करते हुए भी देखूं. इतने में वो बोला- यार थोड़ा इसको गर्म कर … तब तो यह चुदवाएगी … नहीं तो यह किसी को बता देगी, तो सब गड़बड़ हो जाएगा.

दसवीं की परीक्षा पास करने के बाद नजदीक के ही शहर में मैं एक प्राइवेट जॉब करने लगा था.

सामने सारा कभी लेट जाती, कभी घोड़ी बन कर अपने बदन की लचक का नज़ारा दे रही थी. मैं भी सुबह ही दोस्तों के साथ निकल गया और होली खेल कर दोपहर में लौटा. अब मैं और प्रिया एक दूसरे की आंखों में देख रहे थे और मैं प्रिया को धकापेल चोदता जा रहा था.

इसलिये अधिकतर समय स्टॉफ रूम खाली ही रहता था और मेरी किस्मत शायद थोड़ी अच्छी थी कि जब मेरा खाली पीरियड होता, तो उसी समय उसकी भी कोई क्लास नहीं होती थी. इसके बाद हम दोनों कुछ देर उधर रुक कर एक दूसरे से आंखों ही आंखों में अपने प्यार का इजहार करने लगे. मैंने उसे किसी तरह से समझाया और मुँह पर हाथ रख कर धीरे धीरे लंड चुत में अन्दर-बाहर करने लगा.

उन्होंने पूरी तैयारी कर ली थी, पर मैं उनकी वाइफ न होने से थोड़ी ऑकवर्ड महसूस कर रही थी.

एच डी बीएफ: उसको धमकी भी दूँगी कि मैं मम्मी पापा से कह दूँगी कि तुम क्या क्या देखते और पढ़ते हो. अब वो लंड का मजा ले रही थी- आह ऊऊईई ईईह ऊओह आअह्ह ह्हहा … ऐसे ही और चोदो और जोर से ऊह हह्ह!फिर कुछ देर में मैं रुका और लंड निकाल कर निशा को घोड़ी बना दिया.

भाभी के मम्मों मैंने को वासना से घूरा और अपने होंठों पर अपनी जीभ फिरा कर उनकी नजरों में देखा. फिर अपना दांया हाथ बीवी के गोरे चूतड़ों पर रख कर बांये हाथ से अपनी पैन्ट और चड्डी को एक साथ निकाल दिया. मेरे दोनों हाथ मेरे पूरे जिस्म का बोझ उठाये हुए थे और वो भी अब दर्द करने लगे थे.

उसकी बुर मेरे मुँह के बिल्कुल सामने थी। उसने टेबल से जैम की बोतल ली और ढ़ेर सारा जैम अपनी चूत पर लगा लिया।मैंने उसकी आँखों में देखा और मुस्कुराया और अपना मुंह उसकी चूत में लगा दिया।मेरी जीभ का स्पर्श पाते ही वो चिहुँक उठी.

मैंने भी थोड़ा अच्छे तरीके से धक्का लगाया और अबकी बार मेरा लंड उसकी चूत में आधा घुस गया. मेरा लंड छोटा होकर पूजा की गांड से बाहर निकला, मेरा सफेद गाढ़ा वीर्य पूजा की गांड से बाहर बह रहा था. मैंने आंटी से पूछा- मेरी मम्मी कल घर जाने को क्यों बोल रही थीं?आंटी ने जो बताया, वो सुन कर मैं भौचक्का रह गया कि मम्मी का दिमाग कितना चलने लगा.