बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म पाली वाला

तस्वीर का शीर्षक ,

ইংলিশ বিএফ: बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल, जब उसने देखा कि मैंने कोई प्रतिक्रिया नहीं की है, तो उसकी हिम्मत बढ़ गई और उसने धीरे से हाथ मेरी जीन्स में अन्दर डाल दिया और वो मेरी चूत को सहलाने लगा.

मकान मालकिन सेक्सी वीडियो

तो पास की चीज़ भी नहीं दिखाई दे रही थी।भाभी साड़ी में मेरे पास आई थी और ठंड इतनी थी कि मैं तो काँप रहा था।आते ही मैंने भाभी को पीछे से कसकर पकड़ लिया और बोला- भाभी मैं तुम्हें चोदने के लिए 3 साल से पागल हूँ।भाभी ने कहा- मैं भी कब से तेरे इंतजार में गर्म थी. नागिन सिक्समैं अक्सर शाम को बुआ जी के घर चक्कर मारने जाता था और उसी वक्त उनकी छोटी बेटी पूजा स्कूटी लेकर टयूशन के लिए चली जाती थी.

मेरी तो जैसे मुराद पूरी हो गई थी। मेरा लण्ड तो पहले से ही सख़्त था. साडीवाल्या सेक्सीपर आपकी चुदाई में खलल डाल दिया है।तभी उस शख्स ने आवाज दी- नेहा तुम कहाँ हो.

और उसने मोबाइल पर वो वीडियो बंद कर दी।मगर फिर भी जब रीना हमारे बीच नहीं आई तो मुझे ही उसे लाने को कहा गया। मैं गया और रीना का हाथ पकड़ कर उसे अपने साथ ले आया.बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल: जिससे मेरा पूरा का पूरा लण्ड उसकी गाण्ड में चला गया।उसकी गाण्ड बहुत सेक्सी थी इसलिए गाण्ड में लण्ड डालते ही कुछ मिनट में ही मैं झड़ गया, मैंने पूरा माल उसकी गाण्ड में डाल दिया।फिर हम जाने की तैयारी करने लगे.

तो मेरे हाथ पकड़ कर मेरे मुँह में लंड पेल दिया।जब मैंने उनका लंड देखा.मैंने सोचा इतना अच्छा मौका मिला है और मैं बजाए इसे चोदने के, सो रहा हूँ.

बंगाली बिहारी सेक्सी - बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल

कुछ बहुत अच्छी लगीं। उन्हीं से प्रेरित होकर मैं आज अपनी आपबीती आपको बताने जा रहा हूँ.इसलिए उसके पति को हर वक़्त अपने काम की चिंता रहती है। इसी वजह से इस उम्र में ही उसकी सेक्स लाइफ में काफी ठहराव सा आ गया है।मैं सुनता रहा।उसने आगे बताया- अब मेरे पति में वो पहले जैसा जोश या ताकत भी नहीं रही है.

रेवती ने पैसे लेकर अपने हैंड बैग में रख लिए और मुझे धन्यवाद देकर अपने घर चाय पर आने का न्योता देकर चली गई. बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल मैं उसे मेरी बुक्स दिखाने के लिए ऊपर रूम में लेकर गया, जो कि मेरा प्लान था.

जिसे मैं 32-26-32 बनाने में लगा हूँ।दोस्तो, मैंने अपनी पिछली कहानी में आपको बताया कि कैसे मैंने अपनी सोनी मौसी को अन्जाने में चोदा फिर हमारी चुदाई का सिलसिला चलता रहा।जो लोग नहीं पढ़ पाए हों.

बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल?

प्रिया ने अपने होंठों को दांतों से भींच लिया और एकदम से मेरे लंड पर बैठ गयी, जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चुत में उतर गया और प्रिया के मुँह से ‘आअह्ह्ह् … मर गई मम्मीईई …’ की एक जोरदार कराह फूट पड़ी. ’ कहते हुए उन्होंने सुपारे के चमड़े को अपने हाथ से हौले-हौले पीछे किया।मेरा लाल लाल सुपाड़ा उनकी आँखों के सामने था। लण्ड तो पहले से तना था. मैंने भी टाइम ख़राब न करते हुए एक जोरदार झटका मारा और मेरा आधा लुल्ला आंटी की फुद्दी में घुस गया।आंटी चिल्लाने लगीं.

अभी नींद लग ही रही थी कि अंकल कमरे में आए और लाइट ऑन कर दी। मैं चुपके से देख रही थी। फिर अंकल ने फोन निकाल कर किसी से पूछा कि दवा का असर कितनी देर में शुरू होता है?फिर और कुछ बात की और कमरे से निकल गए।मैं पीछे-पीछे गई और देखा कि वो भाई को जगा रहे हैं. ? सोनू लेकर आता है?’नेहा उनकी शकल देख रही थी- तुम इतना चौंक क्यूँ रही हो दीदी?अनीता दीदी ने एक लम्बी साँस ली और कहा- यार. तो मानो कि देखने वालों का लंड पर तूफान छा जाए।मैंने फिर से कस कर उसके मम्मों को मुठ्ठी में भींच लिया और उसके ऊपर चढ़ कर दूसरे मम्मे को मुँह से चूसने लगा।अनु बोली- भैया आपको क्या हो गया है.

आज मैंने रेवती को बहुत करीब से अनुभव किया था व उसकी जवानी को निगाहों से होकर निकाला था. ना ही वह गुस्सा हुई। मैंने सोचा शायद आज ही काम बन जाएगा। फर्स्ट फ्लोर पर हम दोनों और उसके छोटे-छोटे बच्चे ही थे. लेकिन वो मिलगी कहां?तब मैंने उसको बताया- मैं ही वो निशा हूँ जो लेस्बीयन सेक्स करती हूँ.

भैया हम लोगों के अच्छे फ्रेंड बन गए थे। भाभी के साथ भी हम सब मजाक कर लेते थे. तो उसकी चादर अलग हो गई और उसके गोल चूचे पुनीत के सामने आ गए।पुनीत- अरे मेरी प्यारी बहना ऐसे नंगी ही सो गई.

लंड चूत के अन्दर ही डाले हुए दादा जी ने कुछ देर के बाद मुझे पीछे को करते हुए बेड पर लिटा दिया और खुद मेरे ऊपर आ गए.

मैं एकदम चुप था।मैडम- बच्चे प्लीज़ कॉल मी अंकु ना…मैं कुछ नहीं बोला।मैडम- सन्नी.

पर मैं उस वक़्त का पूरा आनन्द लेना चाहता था इसलिए मैंने उसे नीचे करके पलट दिया, अब उसकी पीठ मेरे सामने थी और मैं उसकी पीठ पर किस करने लगा।उसे अजीब सा कंपन होने लगा. किस करते हुए हम दोनों का जोश वापस आ गया। अब मैंने उसकी पैन्टी उतार दी। उसने भी मेरे सारे कपड़े खोल दिए।हम दोनों चुदाई चालू करने ही वाले थे कि अंकल-आंटी वापस आ गए।वो बाहर दरवाजे की घन्टी बजा रहे थे। हम दोनों ने अपने-अपने कपड़े जल्दी से पहने. तो थोड़ा समझ जाता हूँ कि किसी लड़की के मन में क्या चल रहा है। इसलिए एक दिन मैंने सोचा कि अंकिता को प्रपोज करके देखूं.

क्योंकि मुझे मालूम था कि मेरा लण्ड जैसे ही इसकी चूत में अन्दर जाएगा. वो उसी बिल्डिंग में ही रहती थी और दोनों हमारी बिल्डिंग के घरों की छतें आपस में जुड़ी हुई थीं।चौथे माले के बाद छत थी. मैं बयान नहीं कर सकता कि कुदरत के बनाये इस खेल में कितना आनन्द भरा है.

फिर वो मेरा लण्ड मुँह में लेने लगीं और ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगीं।मैं भी छूटने को था.

मुझे जरूर बताना ताकि मैं अपनी कुछ और कहानियां आपके सामने ला सकूँ।आप फेसबुक पर भी मिल सकते हैं।[emailprotected][emailprotected]. मैंने अब तक सभी कहानियाँ पढ़ी हैं। तो सोचा क्यों न अपनी भी सच्ची कहानी आप लोगों को सुनाता हूँ।और अन्तर्वासना पर यह मेरी पहली कहानी है। मैं उम्मीद करता हूँ कि आप लोगों को पसंद आएगी।मेरी लंबाई 5. पर आज अपने लण्ड का पानी चाची की चूत में ज़रूर निकालूँगा।मैं फिर से चूची धीरे-धीरे मसलने लगा।तभी मेरी चाची ने मेरा हाथ पकड़ा और चूची से हटा दिया.

फिर मैंने उनके मम्मों को दबाकर मसलना शुरू कर दिया और पूछा- ठीक से मैल उतार रहा है ना?उनका चेहरा चुदास की मस्ती से लाल होने लगा।मैंने भी सोचा कि आज अच्छा मौका है. सो मैं फ्लैट पर ही रुक गया था।उस दिन भाभी ने ब्लू साड़ी पहनी हुई थी. उन्हें देखते ही मेरा लंड खड़ा होने लगा और मुझसे रुका नहीं गया, मैंने जाते ही उन्हें गले से लगा लिया।इससे पहले मैंने कभी ऐसा नहीं किया था.

अब हम दोनों लोग शाम को सो कर उठे, चुदाई करने के बाद मैं बहुत फ्रेश महसूस कर रही थी.

वो चिल्ला रही थी, लेकिन मैं बिना परवाह किए, उसकी गांड को चोदे जा रहा था. शायद मेरे हाथों के कोमल स्पर्श का वे भी मजा ले रही थीं। जब मैंने उनके मम्मों पर हाथ लगाया और उन्होंने कुछ नहीं कहा तो मैं उनके मम्मों को मसलने लगा और कहा- यहाँ का भी मैल साफ़ कर देता हूँ।उनके चूचों की मुलायमियत ने मेरे लौड़े की सख्ती को और बढ़ा दिया था और अब मुझसे नहीं रहा जा रहा था।मेरा लंड तन गया था.

बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल उसने अपने कपड़े ठीक से पहने और मुझसे बोली कि तुम्हें शर्म नहीं आती अपनी बहन के साथ ऐसा करते हुए?मैंने कहा- सॉरी मुझे माफ़ कर दो … अब से ऐसा कुछ नहीं होगा सॉरी. फिर हम दोनों ने मिल कर खाना बनाया, खाना बनाते बनाते हम दोनों पसीने से भीग गए थे तो दोनों ने अपने ऊपर के कपड़े उतार दिए थे, खाना बनते बनते तक भाभी गुलाबी ब्रा और गुलाबी कट पैंटी में थी और मैं भी सिर्फ अंडरवियर में था, फिर भी हम दोनों शरीर से पसीना बह रहा था.

बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल कुछ देर तक सील टूटने की पीड़ा झेली और फिर जैसा कि अपनी चुदक्कड़ सहेलियों से पहली चुदाई के दर्द के बाद मजा आने का सुना था, ठीक वैसा ही … बल्कि शायद महसूस करने में, उससे उन सुनी सुनाई बातों से भी ज्यादा मजा आने लगा था. और धीरे-धीरे चूत की फांक पर सुपारे को रगड़ने लगा। इससे उसकी चुदास और बढ़ गई और वो ज़ोर-ज़ोर से बोलने लगी- प्लीज़ जल्दी करो.

रूम ठीक किया और निशा ने जा कर गेट खोल दिया।मैं हॉल में टीवी देख रहा था।फिर अंकल बोले- रात में मौसम खराब होने के कारण हम लोगों की फ्लाइट कैंसिल हो गई थी इसलिए हम वापस आ गए।फिर अंकल और मैं एक कमरे में और निशा व आंटी एक कमरे में सो गए।मुझे अंकल-आंटी पर बहुत गुस्सा आ रहा था.

बीपी नंगी बीपी

अगर आपकी ऐसी छोटी-छोटी बात का बुरा मानने लग गयी तो कैसे चलेगा?और फिर वो धीरे से हंस दी… पंखा अभी भी बंद है और गर्मी अभी भी लग रही है. मेरी भगिनी ने सेक्स वीडियो को देखा तो वो घबरा गई और उसके पास कुछ बोलने कहने को कोई शब्द ही नहीं थे. ’‘क्या मारूं साली बोल ना?’‘तुझे पहले क्या चाहिए गांड या चुत?’‘पहले तेरी नरम गांड में लंड डालूंगा, फिर तेरे होंठों पर मेरा लंड घुमाऊंगा, फिर तेरी चुत मथूंगा जानू.

उसने कहा- भैया मैं अपने कपड़े उतार लूं?मैं खुश हो गया और कहा कि हां बिल्कुल. आप लोगों को तो पता ही होगा कि भाभियों के हँसी-मज़ाक वगैरह सब चलता रहता है. मुझे बहुत दर्द हो रहा है।मैं सुमा को किस करने लगा और थोड़ी देर रुक गया।सुमा को दर्द कम हो गया.

अब वो सिर्फ बनियान में था और उसकी मांसल शरीर पसीने में तर-बतर हो रहा था.

फिर मैंने जोर से झटका मारा और अपने पूरे लंड को उनकी चुत में अन्दर डाल दिया. हम साथ बैठ कर चाय पीने लगे और सभी बिस्तर के ऊपर बैठ कर बातें कर रहे थे।तभी संजय ने गीत को एक चुम्मा कर दिया. अगर वो नहीं आए तो तुम भी स्कूल मत आना।पिताजी का नाम सुनते ही मेरे पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई, मैं गिड़गिड़ाते हुए टीचर के पास गया, कहा- प्लीज टीचर.

ये समय हमने कंप्यूटर क्लास मिस करके चुदाई के लिए बड़ी मुश्किल से निकाला है इसलिए शिखा जी आपसे हाथ जोड़कर विनती है. कोई लेना- देना बाकी नहीं रहेगा।मैं चौंक गया और समझ गया कि उसे बहुत जरूरत है।मैं बोला- पापा घर में हैं।वो मुस्कुरा कर बोली- मैं देख कर आई. मैंने उसको अपना नंबर दे दिया था। काफ़ी देर होने के कारण और स्नेहा की चुदाई करने से मैं भी बहुत थक गया था.

पर मुझे पूजा को देखकर कुछ होने लगता है।तो बोली- मुझे पता है।मैंने बोला- कैसे?तो उसने मुझे बताया कि पूजा बता रही थी।मैंने पूछा- क्या?तो वो बोली- आज जब तुम पूजा को मैथ्स पढ़ा रहे थे. मेरे ऊपर आ कर मुझको लिप-किस करने लगी। उसका एक हाथ मेरी छाती से होता हुआ मेरी फ्रेंची के अन्दर चला गया और उसने मेरे लण्ड को पकड़ किया.

लेकिन दीवाली के एक महीने बाद नवम्बर में जब मैं छत पर टहल रहा था तो एक लड़की छत पर टहल रही थी।मैंने उसे देखा और देखता ही रह गया, वो बहुत स्मार्ट थी, उसका पूरा भरा शरीर किसी को भी लुभाने वाला था, उसकी लम्बाई 5’5″ के करीब थी।उसे देख कर ऐसा लग रहा था जैसे वो परी हो।उस लड़की का असली नाम ताहिरा था। उस वक्त मेरी उम्र उस समय 21 साल की थी. कभी ऊपर देखता भाभी की आंखों में, तो कभी उनके पैरों की तरफ़ निगाह कर लेता. वो आराम आराम से मेरे लंड पर उछल रही थीं और मैं उनकी चिकनी कमीज और सलवार पर हाथ फेर रहा था.

ऐसा तुम्हारी टीचर कह रही थीं। आज से वो तुम्हारी एक्स्ट्रा टयूशन लेने वाली हैं। रात को खाना-वाना खा कर तुझे भेजने को कहा है।’अब मेरे दिमाग में एक साथ कई सवाल घूमने शुरू हो गए। क्यों टीचर ने पिताजी को असलियत नहीं बताई? क्यों उन्होंने मुझे उनके घर एक्स्ट्रा टयूशन के लिए बुलाया क्यों.

उसने एक धक्का मारा और उसका सुपारा मेरी गाण्ड में उतर गया। मुझे एक बार दर्द सा हुआ और मैंने गाण्ड हिला कर एड्जस्ट किया।अब उसे बहुत मज़ा आया और उसने कस के एक और धक्का मार दिया। अब उसका आधा लण्ड मेरी कोरी गाण्ड में उतर गया और मुझे बहुत दर्द हुआ। मैं एकदम से बोला- अयाया. कि कहीं वो पापा को ना बता दे और मेरी पिटाई हो जाए।टबस यही सोच कर चुप रह जाता था. मैंने उसके मुँह की तरफ लंड किया तो पहले उसने मेरे लंड को चूमा और फिर लंड चूसने लगी.

तभी मैंने धीमी आवाज़ में उससे कहा- बताऊँ आगे क्या करूँगा?सिम्मी ने बड़े प्यार से जवाब दिया- आई कैन फ़ील योर हार्टबीट्स फ्राम माई बैक …(मैं अपनी पीठ से तुम्हारे दिल की धड़कन महसूस कर सकती हूँ). जब वापस आया तो शाम हो गई थी।आनवी बोली- भैया मैं गेट बन्द कर देती हूँ.

उन्होंने भी मुझे नीचे लिटाकर मेरे पूरे बदन को चूमा।बदन चूमने के बाद वो मेरी कमर पर आ बैठीं। फिर मेरे लण्ड को अपने हाथों में लिया और अपनी चूत पर कुछ देर रगड़ा।इस रगड़ से दोनों को ही काफी मजा आ रहा था। फिर उन्होंने एकदम आहिस्ते-आहिस्ते मेरा लण्ड अपनी चूत में जड़ तक अन्दर ले लिया।कुछ देर इसी अवस्था में बैठकर वो लण्ड को चूत में लिए मेरे बदन पर लेट गईं। लेटे हुए वो मेरी गर्दन को. आखिरकार वासना की अग्नि में जल रही ममता ने वो हिंदी शब्द बोल ही दिया. अच्छा अब मैं जाता हूँ।अर्जुन खुश होकर वहाँ से चला गया। अब खाना भी फ्री में मिलने वाला है और कल कुछ पैसे भी मिल जाएँगे.

हिंदी ब्लू फिल्म बताइए

फिर एक दिन मैंने उससे पूछा- कहीं घूमने चलें क्या?तो उसका जवाब आया- ठीक है.

उनके आने तक मैं तुम्हारी गाण्ड को अपने लंड के काबिल बना लूँगा।तो अनु बोली- इसका मतलब आप कल तक और 7-8 बार मेरी गाण्ड मारेंगे?तो मैंने उसे चूमते हुए कहा- तुम तो बहुत समझदार हो अनु!मैंने उसकी कमर को दोनों हाथों से पकड़ कर थोड़ा ऊपर उठाकर ज़ोर का झटका मारा। अनु के मुँह से आवाज़ इतनी ज़ोर से निकलने लगी कि मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. लण्ड को प्यार करने लगी और तभी नीचे बैठ कर मेरा लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगी ‘आहह. मैं बोली- भाई किसी को पता चल गया तो?अब मुझे भी कुछ अच्छा लग रहा था.

यदि ऐसा होता है तो मुझे लिखना जरूर क्योंकि आपके ईमेल ही मेरा मार्गदर्शन हैं जो मुझे रोज एक नई कहानी लिखने कि प्रेरणा देते हैं. विक्रम ने अपनी माँ को पूरी नंगी देखा तो बस देखता ही रह गया लेकिन उसने अपनी उंगली माँ की गांड से निकाली नहीं, बल्कि उसी क्षण अपना एक हाथ पीछे से शीतल की चूची पर रख दिया और उस पर साबुन लगाने के बहाने उसको भी मसलने लगा. ఇండియా వీడియో సెక్స్ध्यान रखना।फिर मैं वहाँ से चली आई और मैं कुछ देर आराम कर ही रही थी कि जेठ जी मुझे पुकारते हुए अन्दर मेरे कमरे में आ गए और मुझे किस करके बोले- जानू कोई लड़का आया है क्या?‘हाँ.

लेकिन मैं थोड़ा अपनी जवानी में अपने परिवार से आगे निकल गई हूँ और अपनी प्यासी चूत को शांत करने के लिए मैंने अपने जीजू से ही दैहिक सम्बन्ध बना लिए. !मैं एकदम चुप हो गया। भाभी ने मेरा लोवर नीचे की ओर खिसका दिया। लण्ड अंडरवियर में था.

’मैंने थोड़ा बाहर निकाल कर देखा तो पूरा लण्ड खून से सन गया था। रूमाल से साफ करके फिर मैंने झटके लगाने शुरू कर दिए। सितारा पाँच मिनट तक बेहोश हो गई. बल्कि राजेश के निक्कर की इलास्टिक में हाथ डाला और धीरे से उसकी झाँटों को सहलाया।उस वक्त मेरी उंगलियाँ उसके लौड़े से टच कर गईं और बस उसका लौड़ा सख्त होने लगा।राजेश भी अब मेरे गोल-गोल कूल्हे सहला रहा था। लेकिन हम दोनों में से कोई भी और आगे बढ़ने का साहस जुटा नहीं पाया और बात वहीं पर रुक गई।लेकिन अब राजेश जब झाँसी आया. वर्ना पता नहीं क्या-क्या बड़बड़ाती रहती। मैंने उसके मुंह में अपना लिंग घुसा दिया और वह उसे ‘चपड़ चपड़…’ चाटने लगी। शायद अपना ध्यान बंटाना चाहती थी।चलो बे.

उसके बाद हम लोगों ने वहाँ घूमना शुरू किया और रात को भी वहाँ घूमे, बहुत मजा आया।मैं बता दूँ आपको कि मैं किसी भी सेक्सी औरत को देख लूँ तो मुझे लगता है कि इसके साथ लेस्बीयन सेक्स कर लूँ. वो ये सब बोलकर चीखने लगीं और मैं उनकी चूचियों को दबाता रहा।केवल 5 मिनट के बाद उनकी चूचियां लाल हो गईं, फिर मैं उनकी चूचियों पर झापड़ मारने लगा, वो दर्द से चीख रही थीं- छोड़ दे हर्ष. हालांकि मुझे भी ऐसा लगता था कि यदि लड़के मुझ पर कमेन्ट पास नहीं करेंगे, तो मेरा सजना संवारना बेकार है.

जब मैं रात को अपने घर आया तो रिया भाभी भी थोड़ी देर में मेरे घर आ गईं.

जिससे मेरा तना हुआ लंड उसकी गांड की दरार में पूरी तरह समा गया और मैं बिल्कुल उसके साथ चिपक गया. उसको समझ नहीं आता कि किसी औरत के जिस्म को देखकर उसको ऐसा क्यूँ महसूस हो रहा है.

कब नींद लगी पता नहीं, जब नींद खुली तो 11:30 बज चुके थे, मैं भाभी के बिस्तर में अकेला नंगा पड़ा था, लंड आराम कर रहा था. मेरे देवर ने मेरी चूत को बहुत देर तक चाटा जिससे मेरे अन्दर की सेक्स की आग बाहर निकल गयी और मुझे अपने देवर से चुदवाने का मन करने लगा. ”लेकिन आज न तो आपका लन्ड कामयाब हो पायेगा … न ही मेरी चूत उसे अपने भीतर समाने देगी! देख लेना … आप चाहे मुझे कितना ही जला लें! मेरी वासना की आग को आप कितना भी भड़का दो पर आज न चुदूँगी मैं आपसे! देख लेना!” मीता ने अपनी बड़ी बड़ी कजरारी आँखें मटकाते हुए मुझे चैलेंज किया.

मैंने कटोरी लेकर अपनी जीभ से पूरे नमकीन रस को चाट गई और जाकिर अंकल का लंड भी चाट कर साफ किया. तब उसने अपनी आँखें खोलीं और लण्ड देखते ही घबरा गई।उसने कहा- ये तो बहुत मोटा है. अपनी गाण्ड उठा कर ऊपर लौड़े पर धक्का देने लगी।लड़का समझ गया कि अब यह माल मेरा लण्ड खाने के लिए तैयार है।वो धीरे-धीरे अपने कपड़े उतारने लगा। लड़की लण्ड को हाथ में लेकर हिलाने लगी और अपने और खींचने लगी।लड़के ने उसे भी पूरा नंगा कर दिया चूंकि अब अँधेरा हो चला था.

बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल जिस वजह से चूत गीली हो गई थी।अभी मेरा लौड़ा तोप की तरह खड़ा था और काबू के बाहर होता जा रहा था। इतनी चिकनी और प्यारी चूत देखकर लौड़ा सलामी दे रहा था।मैंने भी देर ने करते हुए चूत के मुँह पर अपना लौड़ा रख दिया. अभी आती ही होगी।तभी पीछे से एक आवाज़ सुनाई दी-मम्मी क्या तुम चाय पियोगी.

ब्लू फिल्म देसी में

अब अपने आपको शांत करने के लिए मेरे पास एक ही सहारा था और वो थी मेरी खुबसूरत भाभी की खुश्बूदार पैन्टी. जब मैंने कॉलेज में एड्मिशन लिया था। वैसे तो ये कॉलेज तो सिर्फ़ लड़कियों का ही था. तो उन्होंने मेरे हाथों को पकड़ते हुए मेरी पैन्टी को खींचते हुए मेरी पैन्टी निकाल कर मुझे पूर्ण रूप से नंगा कर दिया।अब तो मेरे शरीर पर एक धागा भी नहीं था। मेरा पूरा नंगा जिस्म उनके सामने दिन के उजाले में था.

’ मैं हड़बड़ा कर थोड़ा आगे हुई और सटाक की आवाज के साथ चाचा का लण्ड चूत से बाहर हो गया।‘जी. मैं सफ़र से काफ़ी थका हुआ था तो मैं सोने जाने लगा, उसने मेरे होंठों पर किस किया और हम नीचे चले आए।फिर मैं सो गया।जब उठा तो देखा उसके घर वाले आ गए हैं. सेक्सी वीडियो वीडियो दीजिएपूरा घर पानी-पानी हो गया।कीर्ति भाभी और मैं घर साफ करने लगे। हम दोनों भीगे हुए थे। कीर्ति का नाइट ड्रेस उसके शरीर से चिपका हुआ था.

मीठानंद भी अपनी बहू को अपनी गोद में लेकर ऐसा अनुभव कर रहे थे मानो उनकी गोद में उनकी सेक्सी प्रेमिका हो.

सब बहुत ख़ुश थे, भाई की शादी करनी थी, तो रिश्तेदारों ने घरवालों को एक लड़की दिखायी. अंकल- फिल्म देखने आये हो? टिकिट मिल गयी?मैं- टिकेट नहीं मिली अंकल जी, मेरा तो पूरा मूड खराब हो गया, लेकिन अब अगले शो में कोशिश करूंगा.

!लेकिन उसकी बातों से लग रहा था वो ‘यस’ बोल रही है।मैंने उससे बोला- आई वांट ए किस नाउ. निधि मज़े से लौड़े को चूसे जा रही थी और सन्नी उसके मुँह में झटके दे रहा था।कुछ देर बाद सन्नी ने लौड़ा उसके मुँह से निकाल लिया और उसको नीचे लेटा कर उसके पैर मोड़ दिए।सन्नी- वाहह. आपकी प्रसंशा या टिप्पणी दोनों ही मेरे लिए बहुमूल्य हैं।चलिए अब अपने बारे में कुछ बता दूँ।मेरा नाम राज है.

बिल्कुल साफ़ थी।मैंने उसे हाथ से छू कर देखा, मैंने जैसे ही उसे हाथ लगाया वो एकदम सिकुड़ कर मेरे सीने से लग गई।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !अब तो कन्ट्रोल से बाहर था, मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत पर रखा और हल्का सा ही अन्दर गया होगा.

पर तभी दुबारा दबाव देते हुए उसने मुझे झकझोर दिया और अब मैं सेक्स से कांपते हुए ना चाहते हुए भी मैंने आँखें खोलीं. मैं इसे घर के बाहर संभालती हूँ। मेरे पति जैसे नामी चुदक्कड़ की मांग सिर्फ हम दोनों से पूरी होगी. इसलिए कमरे में हल्की रोशनी का इंतज़ाम होना चाहिए। हो सके तो ऐसे समय पर कमरे में जीरो वॉट का रेड कलर का बल्ब रोशन करें.

घर की बहू सेक्सी वीडियोमैंने कहा- हां हिंदी फिल्मों से पहले ये इसी तरह की फिल्म एक्ट्रेस थी. भाभी जोर जोर से सिसकारियां भर रही थीं, जो कि इस चुदाई के कार्यक्रम को और भी मधुर बना रही थीं.

विवाह फिल्म भोजपुरी वीडियो

पर मैंने आपसे यह बात छिपा ली लेकिन नायर यह जान चुका था कि मैं आपसे चुदती हूँ और वह मुझे बोला कि नेहा मैं आपके राज को राज रख सकता हूँ. मालती ने कहा- श्यामा, मैं एक हफ्ते में ऐसे ही या इससे भी बढ़िया तुम्हें गिफ्ट करूँगी क्योंकि मेरी इस प्यारी सी दोस्त ने यह आज पहली बार मुझसे कुछ माँगा है. आज तेरी मुलायम गाण्ड का उद्घाटन करने वाला है ये!मैं- हाँ, लेकिन उसके पहले मेरे प्यारे होंठ इसको मज़ा देंगे.

मामी भी पूरी गरम हो चुकी थीं और उनकी चूत भी गीली हो गई थी।मैंने सोचा कि अब मामी चुदवाने के लिए तैयार दिख रही हैं।तो मैंने मामी को बिस्तर पर चित्त लेटा दिया और उनकी टाँगें फैला दीं।खुद मैंने अपने लंड को उनकी चूत के छेद पर रख दिया।तभी मामी ने कहा- धीरे से करना. मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसकी पेंटी खोली तो उसकी चिकनी चुत देख कर मैं फिर से पागल हो गया और उसकी चुत चाटने लगा. क्योंकि रात बहुत हो गई थी इसलिए मैं उसे छोड़ने उसके साथ गया था।फिर अपने घर आ गया और लण्ड हिलाते हुए कल का इंतज़ार करते हुए सो गया।दूसरे दिन मैं अंजलि को लेकर एक होटल में गया.

आह … ह … ह … उह … दी …ई …ई …प … ओह गॉड … हम्मममम …” सिम्मी के मुँह से वासना से भरा मेरा नाम कुछ इस तरह निकला. मुझमें सेक्स की बहुत आग है, इसी लिए मैं हर आंटी भाभी लड़की को उसी नजर से देखता हूँ. पहले मैंने उसकी पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत पर चुम्बन किया और फिर अपने मुँह में भर के चूसने लगा।वो पूरी तरह गरम हो चुकी थी.

बहुत ही दर्द हो रहा था। वो नरक के दो घंटे में कभी भी नहीं भूल सकती. मेरा देवर कभी कभी रात में मुझे बाहर बुलाकर मेरी चूची चूसता था और मेरी चूत में उंगली करता था.

उसके शब्द उसके हलक में ही रुक गए और उसके मुँह से एक लम्बी आह निकल गयी.

ऐसे व्यक्ति जिन्हें बहुत कोशिश करने के बाद भी अपनी मर्ज़ी के मुताबिक अपने पार्ट्नर से सेक्सुअल संतुष्टि ना मिले. गुजराती सेक्सी भाभी काइस वक्त उनका भीगा गोरा बदन और भी सेक्सी लग रहा था। फिर उन्होंने अपनी बुर के ऊपर साबुन लगाया और मसल-मसल कर साफ़ करने लगीं। बुर के ऊपर काले-काले घने बाल बहुत सेक्सी लग रहे थे. सेक्सी वीडियो फिल्म सॉन्गविमान में ज्यादा भीड़ नहीं थी और उसके और मेरे बीच में कोई भी अन्य यात्री नहीं आया था।विमान के सभी द्वार बंद हो चुके थे. मैं आज आप सबको अपनी एक रियल सेक्स कहानी सुनाने वाला हूँ, जो मेरे साथ हुआ.

तो हमारे घर वालों ने यह फ़ैसला किया कि मैं चाची के घर सोया करूँगा।अब चाची और मैं उनके बेडरूम में एक साथ ही सोया करते थे।चाची मैक्सी पहन कर सोया करती थीं।दो दिन के बाद एक रात को चाची को नींद नहीं आ रही थी.

और चाचा तुरन्त दीवार फांद कर छत पर बने कमरे के पीछे चले गए। पर अब एक और मुसीबत थी. मैंने अपना हाथ उसकी चूत़ पर रख दिया … तो मुझे झटका लगा क्यूंकि साली ने अपनी चूत चिकनी करी हुई थी. इससे मैं सोचता था कि बस एक दूसरे को पटाया और चुदाई करके आगे बढ़ लेना, कुछ समय वाला रिश्ता ही हो पाता है.

दूसरे सीन में वो लंड चुसवाता हुआ पल्लवी की गांड पर तेज तेज थप्पड़ भी बरसा रहा था, जिससे पल्लवी के चूतड़ एकदम लाल हो गए थे. सच में काले रंग की ब्रा के कप भाभी के गोरे मम्मों पर कसे हुए गजब कहर बरपा रहे थे. जो पिंकी हमारे लिए बना लाई थी।फिर राहुल ने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया और मुझे मेरे गालों और गर्दन पर किस करने लगा। उसने मेरे होंठों को अपने होंठों में भर लिया और चूसने लगा.

এক্স এক্স বিএফ ইংলিশ

तो मैंने अपना मोबाइल बंद किया और आकर अपने कमरे में सो गया।कुछ देर किरण आई और मेरे कमरे को खोलकर मुझे देखा. ?’ सहलाते हुए उन्होंने पूछा।आज वो हमेशा की तरह क्रीम लगाने वाली स्टाइल से लण्ड को नहीं सहला रही थीं. तुम छत का दरवाजा खोल के रखना।मैंने कहा- मैं रात में दरवाजा खुला रखूंगा, 11 बजे आ जाना, ओके.

अब मैं पूरी तरह से नंगा होकर चैट कर रहा हूँ और मेरे लंड से पानी भी निकल रहा है.

उसने भी तब अपना परिचय दिया और बोली- मेरा नाम पूजा है और मैं अपने पति के साथ महाबलेश्वर आई हुई हूँ.

इससे पहले आप मेरी चूत में एक बार लण्ड उतार कर मुझे मस्ती से सराबोर कर दो. मैं उसके होठों पर ही अपने मोटे लंबे तन्नाए हुए लंड को रगड़ने लगा, उसके दोनों मम्मों के बीच अपना लंड फँसाकर चोदने लगा।उसने पूरा शरीर मेरे हवाले कर दिया था।मैं उसके होठों को गालों को. पूर्ण सेक्सी फिल्ममैं अपनी एड़ियों को बिस्तर पर दबाती और जाँघों को उनके सर पर भींचने लगी। मैं इस वक्त लम्बी सांस खींचती.

उसका नाम स्वाति था, वह बहुत सुन्दर थी, उसकी फिगर कयामत थी, उसका रंग दूध की तरह सफेद था, उसकी आँखों में एक अलग सी चमक थी।मैं तो उसका दीवाना सा हो गया था, वो एकदम हूर की परी लग रही थी।मैंने दोनों को ‘हैलो’ बोला और अपने कमरे में सामान लगाने लगा। मैं सुबह लगभग 7 बजे उनके घर पहुँचा था। मेरा साला ऑफिस के लिए निकलने वाला था. मैंने भी अब सोचा कि जब प्रिया मुझे इतना मजा दे रही है तो क्यों ना मैं भी प्रिया को मजे देने के साथ साथ खुद भी उसकी चुत के रस का स्वाद ले लूँ. मैं मूतने के लिए अपनी सीट पर उठ कर बैठा था, तो मेरी निगाह उस लड़की की कमर पर गई.

एक पुरानी पी डी ऍफ़ कहानी का पुनर्प्रकाशनमैं बबलू एक बार फिर अपनी नई कहानी लेकर हाजिर हूँ. मैं दर्द से तड़प रही थी- आआहह … ओह ओह … उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओफ्फ ओफ्फ उई ई मर गईईई … बाहररर निकालो … आहआह!अंकल को मैं धक्के देकर पीछे हटाने की कोशिश करने लगी.

चुदासी होने के कारण मेरी टांगें चौड़ी होने में ज़्यादा वक़्त नहीं लगा.

मैंने श्यामा से कहा- करोगी टेस्ट इस को?उसने कहा- ये भी कोई पूछने की बात है. घर देख कर मेरी आँखें फटी की फटी रह गईं। इन्होंने घर के तीन माले भाड़े पर ले रखे थे जिनमें न सिर्फ बहुत सारे अफ्रीकन लंड होंगे. पहले धीरे-धीरे, फिर थोड़ी गति बढ़ा दी। हम दोनों आवाज के साथ अपने-अपने धक्के गिन रहे थे और रोहित कभी इधर देखता तो कभी उधर।अब चूँकि हम सभी तो थोड़े नशे में थे ही और दूसरे अपनी एकाग्रता धक्के गिनने में लगानी पड़ रही थी, ऐसे में साठ धक्कों में स्खलित हो जाने का सवाल ही नहीं उठता था, चाहे आम हालात में भले हो जाते.

पहली बार चुदाई सेक्सी वीडियो वो मेरी चूत की दरार को बहुत देर तक अपनी जीभ से चाटता रहा और उसके बाद वो मेरी चूत को खोलकर मेरी चूत को अन्दर तक चाट रहा था. उसने पूछा- आप कहां जा रहे हो?मैंने जवाब दिया कि देहरादून तो उसने भी बताया कि उसका नाम सारंगी है और वो देहरादून जा रही है.

लंड कई दिनों तक चोदने लायक ही नहीं रहता।इसलिए नए चुदक्कड़ों से ये गुजारिश है कि ऐसी औरतों से संभल कर रहें। वैसे सोनू सांवले रंग की चुदैल है जो मेरे तमाम कयासों से परे. एकदम गोरी टांगों के बीच फूली हुई चूत साफ़ दिखने लगी थी, एक भी झांट नहीं थीं, चूत की फांकें एकदम चिपकी थीं, उसमें अन्दर कुछ नहीं दिख रहा था, चूत एकदम सील पैक बन्द थी. कारण मी एका अशा घरातून आले होते कि ज्या घरात रीतीभाती खूप पाळल्या जातात.

बेटे ने मां को चोदा सेक्सी वीडियो

मैं उनका लण्ड चूसते हुए जेठ की बात सुन रही थी, मैं सुपारे को खींचकर चूसते हुए लण्ड मुँह से निकाल कर बोली- आप तो नाहक ही मेरी तारीफ कर रहे हैं. उसकी आँखों में वासना साफ दिखाई दे रही थी।निधि की बात सुनकर उसने निधि का हाथ पकड़ा सीधे उसके मम्मों पर हाथ रख दिया।दोस्तो, उम्मीद है कि आपको कहानी पसंद आ रही होगी. साथ ही ब्रा और सारे कपड़े ठीक करके मैं सो गया।मेरी इस कामरस से भरपूर कहानी को लेकर आपके मन में जो भी विचार आ रहे हों.

अब जैसे ही मैंने उसकी चूचियां पकड़ीं, प्रिया के मुँह से एक‌ हल्की सीत्कार सी‌ फूट पड़ी और उसकी चुत में एक तनाव सा पैदा हो गया. परन्तु इतनी देर तक लगातार प्रेमलाप के बाद दोनों पसीने-पसीने हो गयी थी और बहुत ही जोर जोर से हांफ रही थी.

लेकिन राजेश इतनी ज्यादा मात्रा में झड़ गया था कि उसका बहुत सा वीर्य मेरे मुँह से बाहर आकर मेरी ठोड़ी पर फैल गया और मैंने अपनी जीभ बाहर निकाल कर उसे भी चाट लिया।मैं अपनी हवस से खुद आश्चर्यचकित हो गया था।मैंने कहा- मेरा मुँह तो भर गया.

हम लोग अभी जो शरारत करेंगे, उसमें तुम्हें और मुझे दोनों को बहुत मज़ा आएगा. पर मुझ पर इतनी हवस सवार थी कि मैंने उसे बहुत ज़ोर से पकड़ा हुआ था। उसका दर्द कुछ कम हुआ हुआ तो मैंने एक और ज़ोर का झटका लगाया और लण्ड आधे से ज़्यादा चूत में समा गया।दर्द में ऋतु ने अपने नाख़ून मेरी कमर में गड़ा दिए, उसके मुँह से ‘उऊह. मैडम तो ऐसे जैसे जन्मों की प्यासी हों… मेरे आते ही गेट खोला।मैडम- आ गए तुम.

और आज तो भाभी के कारण इससे बात कर सकता हूँ।इसलिए यह मेरे लिए एक सुनहरा अवसर है और इस अवसर को मुझे खोना नहीं चाहिए।थोड़ी देर में भाभी ने मुझसे बोला- तुम मेरे बच्चों को देखना. तो इन सबको करने की कोई जल्दी नहीं होती। बस एक-दूसरे के साथ को पूरे सुकून से जीने और मरने की ख्वाइश होती है।फिर वो बोली- मैं तुम्हारे लिए चाय बनाती हूँ. उस दिन तो वो पैन्टी भी नहीं पहने हुए थीं। वो अपनी बुर में भी साबुन लगाकर साफ़ कर रही थीं। ये देखकर मेरा लण्ड तन गया था और सम्भल ही नहीं पा रहा था। मैं सोच रहा था कि मैं कैसे अपनी मॉम के बदन से लिपटूं.

तभी जोर से मेरे दूध को दबाते हुए राज अंकल बोले- बाप रे … तेरी नशीली आंखों में तो हवश और चुदाई भरी है वन्द्या! इतनी सेक्सी आंखें … ओह माई गॉड … तेरी आंखों का कोई जवाब नहीं, तू तो ऐसे किसी मर्द को देख ले तो वह बेमौत मर जाये! या तुझे वहीं का वहीं चोद देगा.

बीएफ सेक्स वीडियो एचडी फुल: पायल की बात सुन कर रोहन के लंड ने एकदम से खड़े होकर सलामी दी। उसने भी बिलकुल फिल्मी स्टाइल में पायल का घूँघट उठाया। पायल ने भी स्टाइल से उसको पास में रखा दूध पिलाया, आधा रोहन ने पिया और बाकी पायल को पीने के लिए दे दिया।‘पूरा पी लो भाई… आज रात बहुत मेहनत करनी है तुम्हें. फिर मस्ती करेंगे।दस मिनट में सोनी ने बर्तन साफ़ करके मेरे पास आकर बैठ गई और बोली- हॉटशॉट.

और पैन्टी के साथ ही उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगा।फिर मैंने हौले से पूछा- अंकु मज़ा आ रहा है?अंकु सिर्फ़ सिसकारियाँ ले रही थी… चुप थी. पर तुम मेरे सामने ही पूरी नंगी होकर कपड़े बदलोगी।वो मान गई और अपने कपड़े खोलने लगी।मैं उसे देखने लगा और अपना लण्ड निकाल कर मुठ मारने लगा।मेरा लम्बा और मोटा लण्ड देखकर उसकी आंखों में चमक आ गई।वो भी मेरे लण्ड को गौर से देखने लगी।मैंने उसको मेरा लण्ड चूसने को बोला. हम लोग ऐसे बातें कर रहे थे कि जैसे हम लोगों की जान पहचान बहुत पुरानी है.

उधर ही लेके आ जाओ।सुधा- ठीक है दो घन्टे में आते हैं।वो मेरे पास आई और उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरी दोनों चूचियों को दबा दिया। मैं एकदम से सिहर उठी और मुँह से निकलने लगा- आउच.

ऐसे में जगत अंकल ने फिर से पूरा लंड निकालकर इस बार इतनी जोर से ताकत लगाकर मेरी चूत में लंड का धक्का लगाया, इतना दर्द हुआ और लगा कि मैं अब नहीं बचूंगी. वो भी मुझे बहुत सम्मान देती थी और शायद वो मुझे अपनी हवस मिटाने के लिए लाइन देती थी. फिर से गाण्ड मार लेता हूँ।वो बोलने लगी- भैया आपने गाण्ड मार मारकर मेरी गाण्ड फाड़ दी है.