बीएफ पिक्चर बिहारी

छवि स्रोत,कॉलेज की हिंदी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्स एक्स के बीएफ: बीएफ पिक्चर बिहारी, मैंने उससे कुछ देर इधर-उधर की बातें की और फिर हिम्मत करके उससे पूछा-एक बात बता नीरू, क्या तूने कभी किसी लड़के को न्यूड (नंगा) देखा है?”मेरे ऐसे सवाल से वह थोड़ी सी सपकपा गई और चुप सी हो गयी.

बीएफ सेक्सी हिंदी बीएफ सेक्सी एचडी

मैंने ये अंदाज ऐसे लगाया क्योंकि उसके पास कोई एंड्राय्ड फोन नहीं था. बीएफ वीडियो 18एक हाथ से मैंने उसके अंडों को हल्के हल्के सहलाना शुरू किया और दूसरे हाथ से लिंग को मुट्ठी में भर कर आगे पीछे करके सुपाड़े को चाटने लगी.

कुछ ही देर में उसने मेरी बीवी की गांड में अपना पूरा लंड डाल दिया और तेज तेज चोदने लगा. साउथ एचडी बीएफमगर प्रथम संसर्ग की हिचकिचाहट अभी भी थी, मैं चाहता था कि वो खुद से पहल करे.

मैंने बोला- तुम्हारी कोई फ़्रेंड सहेली के घर मिल सकते हैं?उसने बताया- मेरी दो फ्रेंड हैं, जिसमें एक की टीचर की जॉब इसी शहर में होने की वजह से वो पास वाली बिल्डिंग में एक फ्लैट में किराए पर रहती है.बीएफ पिक्चर बिहारी: वो उस सख्त चीज को मेरी जांघ के बीच में सलवार के ऊपर से ही जहां मेरी फूली जगह थी, वहां आगे पीछे कमर करके झटके मार मार कर रगड़ रहे थे.

छोटे शहरों में लड़का और लड़की अगर साथ में चल भी रहे हों तो दुनिया उनको ऐसी ही नजर से देखती है.घर पर हर एक चीज़ बहुत अच्छे से सज़ा कर रखी हुई थी। जब मैंने सन्जना की तारीफ की तो वह थोड़ा शरमा गई।मैंने उनको और उनके बेटे को अच्छी तरह से सब पढ़ाई के बारे में बताया तो वो मुझे शुक्रिया कहने लगी कि मैंने उनके बेटे की हेल्प की और मुझसे बार-बार वापस आने की ज़िद करने लगी.

चुदाई बीएफ दिखाओ - बीएफ पिक्चर बिहारी

पांच मिनट के बाद मैंने उसको फिर से खड़ी कर दिया और सुषी को दीवार के सहारे से लगा दिया.अब वह दोनों मुझसे खुलने लगे और बोले- मैडम हम दोनों आपकी हेल्प करेंगे … नंबर भी ले जाइएगा, कभी आगे भी काम आ सकता है.

जैसे ही मेरे दोनों दूध एक एक हाथ से पकड़े, मेरे मुँह से अपने आप हिचकी निकल गई. बीएफ पिक्चर बिहारी अगले ही पल लेट कर अपने छातिया नंगी करके मम्मों को सहलाने लगी और साड़ी घुटनों से ऊपर कर कूल्हे ऊपर करके ऐसे उछालने लगी, जैसे लंड को और अन्दर लेने के लिए मरी जा रही हो.

मैंने भाभी के बालों में अपनी उंगली घुमाई और कहा- आज मैं आपको पूरा मज़ा दूंगा.

बीएफ पिक्चर बिहारी?

मैं भी बस यही सोचती रही कि उसने ऐसा क्यों कहा, शायद वो नीचे सर करके रो रहा था. वर्षा मलहम ले आई थी उसने कहा- दीदी मैं आपके पीछे की साइड पर मलहम लगा देती हूँ. दोनों की गांड के नीचे एक एक तकिया लगाया, जिससे उनकी गांड भी साफ नज़र आने लगी.

रंजना बोली- अभी नहीं … बैठ जा पगली तू तो बिल्कुल पागल हुई जा रही है. तभी वर्षा गुस्से में बोली- पापा, आप उस तिवारी अंकल की बातों में आ गए. उसने मेरा लंड मुँह बाहर निकाला और बोली- क्यों पता लगा … तड़फ कैसी होती है?उसने हंसते हुए फिर से मेरे लंड को मुँह में ले लिया.

मगर उससे पहले आप सबका मेरी पिछली कहानीकुछ अधूरा साको इतना प्यार देने के लिए धन्यवाद. उनका वो धक्का बहुत ज्यादा तेज था।राहुल ने धीरे से अपने लंड को बाहर निकाला और फिर जोरदार धक्के के साथ अपना लंड मेरी चूत में पेल दिया. किसी लड़की को आधा अधूरा चोद कर नहीं छोड़ देने का दर्द मैं पहली बार आज महसूस कर रही थी.

फिर मैंने पोजीशन बनाई और अपने खड़े लंड को भाभी की गर्म चूत पर लगा दिया. मुझे ठीक लगेगी तो मैं अपने शब्दों में सजा कर इस मंच पे पेश कर दूंगा। यह ऑफर उन जनरल कहानियों के लिये नहीं है जो आप मुझे भेज रहे हैं.

दो पल में ही मैंने उसकी साड़ी ढीली कर दी और उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया.

वो बेडरूम की तरफ चल पड़ी उसकी कॅट्वाक देख कर रवि का लंड और खड़ा हो गया.

मैंने आंटी से बोला- आपके घर पर तो कोई नहीं है?आंटी बोलीं- मेरे पति बंगलौर किसी काम से गए हुए हैं. पटेल मुझे बोला- चल तू भी हम लोगों के साथ भाग … आगे चल के कहीं तुझे चोदेंगे … तेरा भी काम हो जाएगा. मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी हथेली पर रख दिया, मेरे मुंह से निकल पड़ा- ठीक है, हम दोस्त हैं अमित जी.

उस रात मैंने उसे हर टाइप की पोजीशन में चोदा और सुबह के 5 बजे तक हमारा खेल चालू रहा. लेकिन फिर भी पहली चुदाई में होने वाले दर्द से डर कर मैं बोली- मैं हाथ जोड़ती हूं अंकल मुझे जाने दो. तब दीदी मुझसे बोली- अरे तुझे क्या हुआ … ऐसा लगता है कि जैसे कोई ने अन्दर डाल दिया हो?मैं बोली- हां दीदी, ऐसा ही समझ लो.

मेरे घर वालों ने बोला कि अपनी सहेली से मिलना है तो उसको अपने घर बुला लो.

तभी वह 20 साल वाला लड़का अपने साथी से मुखातिब हुआ, जो मेरी गांड में लंड अन्दर डाले हुए था. मैंने माँ से पूछा कि मेरे मामा और मामी तो कोई हैं ही नहीं फिर ये कौन आ रहे हैं. कुछ देर बाद गर्मी कम हुई, तो हम दोनों ने सेक्स करते करते चादर ओढ़ लिया.

गाड़ी मेरे पास आकर रुकी और किसी ने इशारे से मुझे अन्दर बैठने को बोला. धीरे-धीरे मेरी रफ़्तार बढ़ने लगी, और मैं ज़ोर-ज़ोर से लंड को लुंगी से बाहर निकाल कर पंप करने लगा था. मैंने धीरे से उसके टॉप में हाथ डाला और टॉप को ऊपर उठा कर उसे उतारने की कोशिश में लग गया.

इस तरह करीब दो महीने की बातचीत के बाद पहली बार में प्रिया के घर पे गया.

अचानक मैंने उनको उठा कर बिस्तर पर पटक दिया और उनकी कमर को चूमने लगा. दलअसल जिस बिल्डिंग में हम रहते थे, उसी में दो फ्लोर ऊपर एक ऐसा फ्लैट था, जिसमें हमारे ही ससुराली रिश्तेदार रहते थे लेकिन नौकरी के चलते वह दो साल से आउट ऑफ कंट्री रह रहे थे.

बीएफ पिक्चर बिहारी कुछ देर तक यह दौर चला, फिर दोनों झड़ गईं और मेरा लंड और मुँह उनके पानी से भीग गया. उसके झुकते ही उसकी गांड गाउन के अन्दर से दिल के शेप की तरह दिखने लगी.

बीएफ पिक्चर बिहारी वह सब पी जाये और फिर मेरे बाल पकड़ कर, मुझे गालियां देते, पूरी बेरहमी से अपना मूसल जैसा लिंग मेरी कसी हुई योनि में उतार कर फाड़ दे मेरी योनि को। मैं चीखती चिल्लाती रहूं और वह पूरी बेरहमी से धक्के लगाते मेरी योनि का कचूमर बना दे। एकदम सख्त क्रूर मर्द बन कर मुझे एक दो टके की रंडी बना के रख दे। धीरे-धीरे सुलगती आकांक्षायें यूं ही और आक्रामक होती गयीं।सुलगना क्या होता है यह कोई मुझसे पूछे. शिल्पा से कुछ दिन बात करते करते जब वो मुझसे थोड़ा खुल गई, तो उसने बताया कि विक्रम सिर्फ अपनी जिस्म की भूख मिटाने के लिए मेरे पास आते हैं, उन्हें मेरी संतुष्टि से कोई मतलब नहीं होता.

नीचे से उन्होंने अपने हाथ से लंड को पकड़ कर मेरी चूत के छेद पर रख दिया और टेबल की तरफ जैसे ही धक्का दिया उनका लंड गच्च से अंदर चला गया.

बीएफ सेक्सी वीडियो डाउनलोड

मैं ऑफ़िस गया, शाम को लौटकर आते वक्त कॉन्डोम के दो पैकेट साथ लाया, रूम पर आकर नहाया. वो भी कुतिया की तरह अपनी गांड उठा उठा कर मेरे लंड का मज़ा ले रही थीं. शादी इंदौर से थी, तो सभी लोग इंदौर जाने के लिए एक दिन पहले ही तैयार हो गए थे.

पापा बोले- वर्षा तुम मेडीकल से माया के लिए दर्द की गोली और मुंदीचोट वाली मलहम ले आना, गोलियां अभी खिलाना होगा. मैं तेज़ी के साथ धक्के लगा रही थी और उसके चेहरे पर कामुकता और चरम सुख की चाहत साफ झलक रही थी. फिर अपना एक तरफ से आधा शरीर नंगा करके एक तरफ के चूतड़ और मम्मे दिखाने लगी, फिर जल्दी जल्दी पूरे बेड पर उलटने पलटने लगी.

उसने अपने बारे में बताया कि वह और उसके कुछ दोस्त पार्टी कर रहे थे और उन्होंने कोल्ड ड्रिंक में मिला कर मुझे नशे की चीज़ पिला दी.

मैं अपनी तरफ से पूरी कोशिश करने लगी और सरदार जी भी जोर लगा लगा कोशिश करने लगे. मैं नीरू के चूतड़ों को बेहताशा चाट रहा था और इधर नीरू की चूत भी पानी छोड़ रही थी. मैंने बात आगे बढ़ाई तो उन्होंने कहा कि क्या तुम बिना चेहरे की अपनी कुछ कामुक तस्वीरें भेज सकती हो.

कमरे में मेरी मीठी चीखें गूंज रही थीं उधर अजय मेरे थूक से गीला लंड निकाल कर मेरे गालों पर मल देता, कभी आंखों पर लगा देता. यह कहते हुए जैसे ही उन्होंने उंगली चूत में अन्दर बाहर करी, मुझे बहुत जोर से चूत में अन्दर कुछ होने लगा. काम वासना की जितनी आग निहारिका के अंदर मैंने देखी है उसके लिए तो उसको एक रति-क्रिया में माहिर मर्द चाहिए जो उसकी योनि की अग्नि में अपने वीर्य की बरसात कर सके.

मदन की मां थोड़ा मायूस हो कर बोलीं- मर्द … और वो …! काश उनकी सोच भी आप जैसी होती. मैं और लता भाभी चुपचाप हर रोज़ चुदाई करते रहे और जैसे कि इश्क और मुश्क छिपाए नहीं छुपता, हमारे इस खेल का हेमा भाभी को शक हो गया था.

’वो ऐसी बातें करता, तब मैं कभी उसकी गोद में बैठ कर अपनी चुचियां दबवा रही होती और कभी उसका लंड चूस रही होती. इस बार वो और जोर से उछलीं पर मुझे रोका नहीं और अपने होंठों को भींच लिया. अब यह मेरी सहन शक्ति के बाहर हो गया और मैं उसको मारे उत्तेजना एवं सहन नहीं होने के कारण ‘कुत्ती … कमीनी … हरामजादी … मां की लौड़ी … और पता नहीं न जाने क्या क्या बोल गई.

क्यों ज्यादातर मर्द मुझे इस तरह के कपड़े उपहार में देते हैं और क्यों इन परिधानों में मुझे देखना चाहते हैं.

मैंने अपने एक हाथ से भाभी को उठाये रखा और दूसरा हाथ उनके पेट पर फिराने लगा. कुछ पल यूं ही रुकने के बाद मेरी सांस लौटी और मैं जैसे ही दर्द से चिल्लाने को हुई, मयूर ने अपने होंठों का ढक्कन मेरे मुँह पर लगा दिया. भाभी को चूमते हुए मैंने उन्हें बेड पर पटक दिया और उन्हें कातिल नज़र से देखते हुए अपना लोअर निकाल दिया.

निक और नामित ने ‘ठीक है …’ कहा और फुल वॉल्यूम में डिस्को डांस वाला गाना चला दिया. जैसे ही मेरा दर्द खत्म हुआ कि सामने से सुनील बोला- वन्द्या तू बहुत मस्त चुदवाती है, तेरी चुदाई देख कर हमसे रहा नहीं जा रहा है.

यह सुनकर बीस साल वाला लड़का कुर्सी और मेरे पैरों के बीच में नीचे बैठ गया. पता बताने की बजाय उसने मुझे मंडी हाउस के मैट्रो स्टेशन पर आने के लिए कह दिया. मैंने इशारे से पूछा- कैसा लग रहा है?तो भाभी ने बदले में मेरे माथे पर किस कर दिया और मुझसे लिपट गयी.

इंग्लिश में नंगी सीन

वो बोली- मैं आज किस्मत को मान गई, तुमसे मेरा जोड़ होना ही था, इसलिए तुमने मुझे फोन किया.

और अगर तुम्हें या तुम्हारे पति को न जमे, तो जैसे ही तुम्हारी भाभी के घर वाले चले जाएंगे, तो जग को वापस भेज देना. दोस्तो, जब मैं चुदाई करता हूँ, तो मेरी एक आदत है कि मैं गाली देना पसंद करता हूँ. वो सोचता था कि इतनी सुंदर और सेक्सी मॉडल लड़की हाथ लग गयी है, इसके साथ जवानी के सारे मज़े ले लूँ.

कुछ देर गांड चाटने के बाद उसने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड के फूल पर टिका कर एक हल्का सा शॉट दे मारा. हम दोनों ने कैसे चुदाई की और आज भी कैसे चुदाई करते हैं, ये सब मैं आज आपको अपनी इस सेक्स कहानी में बताऊँगी. देवर भाभी का बीएफ वीडियो हिंदीअबकी बार मैंने थोड़ी सी क्रीम अपनी उंगली पर लगाई और उसकी गांड में उंगली डालकर अंदर-बाहर करने लगा.

उसने मिशिका की टांगों को फैला दिया और उसकी चूत को जीभ से चाटने लगा. मिसेज रॉय का परिचयमैं अपनी पिछली कहानी में बता चुका हूँ, जो हमें क्लब में मिली थीं.

तो मैं भी नहाने चली गयी और तैयार हो कर रसोई में चली गयी, नाश्ता बनाने लगी. उसने मेरी गांड पर टपली मारकर कहा- तेरी ये बाहर निकली हुई गांड माया दुनिया का आठवां अजूबा है. मैं इसे अपने हाथ में लेकर देख लूं क्या?” उसने मासूम सा चेहरा बना कर पूछा.

आते ही मैंने सलहज को बोला- भाभी जी कहां हो?वो घर में झाड़ू लगा रही थी. राहुल ने मुझे इशारा किया और मैंने एक बार चूत को चाटा और फिर संध्या से लण्ड चुसवा कर दोनों टांगों को कंधों पर रख कर मैंने अपने आपको संध्या के उपर सेट करके अपना लौड़ा उसकी चूत पर सेट करके ज़ोर का धक्का दे दिया. मैंने ऐसा करते हुए अपना लंड उसकी चूत से बाहर नहीं आने दिया और उसको बेड पर लेटा कर किस करने लगा.

कुछ ही देर की चूमाचाटी के बाद वो मेरे ऊपर चढ़ गईं और मुझे किस करने लगीं.

ज्यादा चुटूर चुटूर करने का नहीं है … समझा?मैं उसका इशारा समझ गया था कि वो हम दोनों के साथ क्या कर सकता है. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, अभी कुछ समय पहले ही मुझे एक नया सेक्स अनुभव हुआ जिसको मैं आप सब पाठकों से शेयर कर रहा हूँ.

मैंने उसे तीन बार चोदा, जिसमें से एक बार मैंने उसे अपने लंड का पानी पिलाया और दो बार उसकी चुत में भर दिया. मैं उस पर चिल्लाने लगा और उसे पकड़ने के लिए बेड से उठा ही था कि वो हंसते हुए दौड़ लगा कर भाग गयी. मैंने फिर दोनों को बेड किनारे पर पीठ के बल लेटाया और दोनों के पैरों को उनके पेट से चिपका के थोड़ा फैला दिया.

अब आप लोग तो जानते ही हो कि चुत का नशा बहुत गंदा होता है और आज मुझे एक नई चूत मिलने वाली थी. भाभी ज़ोर से चीख उठीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’कुछ देर ऐसे ही रहने के बाद मैंने धक्के लगाने शुरू किए और दोनों हाथों से भाभी के चूचे मसल कर उनको चोदे जा रहा था. उसे अपनी बुर चिरती सी महसूस हो रही थी जोकि उसकी फैलती आँखों से समझ आ रहा था.

बीएफ पिक्चर बिहारी तुम चिंता ना करो! मगर मेरी पति का लंड लेने के लिए तुम्हें फीस देनी पड़ेगी. तो बोला- बहुत प्यारा नाम है, तू कहां की रहने वाली है?मैं बोली- इसी गांव की हूं, यह मेरी सहेली सोनम की दीदी की शादी है.

बीएफ वीडियो इंग्लिश में

हम दोनों बिस्तर पर 69 पोजीशन में थे, तो वो अपनी जीभ और उंगली से मेरी चूत को कुरेद रहा था. अंकित बोला कि आज तुम कयामत लग रही हो बहुत मस्त दुल्हन से भी सुंदर सबसे सुंदर सेक्सी लग रही हो. उसके कहने पर मैं उठकर ‘सर’ के पास जाकर खड़ी हो गयी- सर प्लीज़ … शीट दे दो.

फिर हम दोनों ही झड़ने को आए तो हम लोग संध्या के मुंह पर आकर झड़ने लगे. मैं उनके पीछे जाकर खड़ा हो गया और उनकी कमर में हाथ डालकर खड़ा हो गया. बीएफ दिखाएं भोजपुरी मेंउसने अपनी ज़ुबान से मेरे होंठों पे और आस पास लगाई और मेरे मुँह में लगी अपनी मनी को चाटना शुरू कर दिया.

थोड़ी देर बाद सारा उलटी घूम गयी और ज़रीना को किस करने लगी और उसकी चुचि सहलाने लगी.

मीशा के मुख पर थोड़ी दर्द भरी रेखाएं उभर आयी और उसके मुख से निकला- उम्म्ह… अहह… हय… याह…देखो तुम्हारी चूत में मेरी उंगली जा रही है. एप को फिर से डाउनलोड किया और उसको खोला, तो सच में एक रिप्लाई आया हुआ था.

थोड़ी देर बाद मेरा मूड बनने लगा और मैंने कहा- यदि तुम बुरा ना मानो, तो एक बात बोलूँ?उसने कहा- हां बोल?मैंने कहा- आज मुझे तेरी चुत देखनी है. मैं उसकी चूत से निकल रहे कामरस को चखकर अलग ही मस्ती में खोने लगा था. मेरे धक्कों में भले पहले की तरह ताकत न लग रही हो, पर मैं धक्के मारना छोड़ नहीं रही थी.

अब जाकर मुझे मालूम हुआ कि आखिर अच्छे खासे मर्द क्यों मुझ पर मोहित होते है.

मैं तो पहले ही चाहता था, अतः यही सोचकर कि कहीं लता को बुरा न लगे, मैं हेमा के साथ पहल नहीं कर रहा था. पूरे मन से दिल से अपनी मम्मी की सौगंध खाकर कहती हूं, गॉड की कसम खाकर कहती हूं कि एक शब्द भी झूठ नहीं लिखा है. मैंने उससे घर वालों के बारे में पूछा, जो कि मैं उससे कल ही पूछ चुकी थी.

सपना चौधरी हिंदी बीएफउसकी पैंटी को हाथ से सहलाया तो पता चला वह पहले से ही गीली हो चुकी थी. समीज और कुर्ते को ऊपर चढ़ाते हुए अपनी हथेली को मेरे दूधों पर पहुंचा दिए.

সানি লিওন এক্স এক্স ভিডিও এইচডি

शायद वो मेरे साथ थ्रीसम भी कर लेती, लेकिन उन्हीं दिनों मेरे दोस्त ने पूनम से शादी करने का फैसला कर लिया. कुछ पलों के बाद उसे रास्ता मिल गया और सुपाड़ा मेरी योनि के भीतर टिका कर मेरे दोनों चूतड़ों को पकड़ हल्के हल्के धकेलना शुरू किया. वो बोला- वन्द्या तेरी चूत में आग लग गई है … यह तो आज बिल्कुल ऐसी लग रही है कि ये मेरे लंड को जला देगी.

उसने मेरी चुनरी उतार फेंकी, जिस वजह से मेरे पहाड़ जैसे चूचे और उनके बीच का चीर … और चीर के बीच मेरा लॉकेट खेल रहा था. मुझे एक ऐसे दर्द का एहसास कराया, जो मैं अब जीवन भर लेना उनसे चाहती थी. हम दोनों का पूरा शरीर चॉकलेट से चिपचिपा हो गया था, इसलिए हम दोनों बाथरूम में आ गए और शॉवर चालू कर दिया.

मैं भैया के पास गया, भैया को बोला- आप जाओ न भाभी को लेने यार … मेरे ऊपर मामला आ रहा है. मैंने अपना ड्रेस निकाला और वैसे ही ब्रा और निक्कर पर नहाने तालाब में चली गई. वो मेरे ऊपर बैठ गई और वो अपने दूध मेरे सीने से रगड़ कर मुझे कामवासना का अहसास दिलाने लगी.

क्योंकि बाहर आकर पता लगा कि रात में ठंड बढ़ चुकी थी और ऑटोवाले भी उसको लालच भरी नज़रों से देख रहे थे. शायद मेरी झिल्ली फट चुकी थी और इधर मेरी बहन की चूत से भी खून बह रहा था.

मैं- सच प्रिया … जवानी में आपके साथ बहुत बुरा हुआ, इतनी अच्छी सुशील लेडी के साथ ये सब नहीं होना चाहिए.

अपने हाथ से मैंने उसका मुँह दबाया और रवि ने पूरा लंड ऋतु की गांड में डाल दिया. बीएफ नेपाली लड़कियों कीमैं एकदम शेर की तरह सारा पर लपका और उसकी टांगों पर हाथ फेरकर होंठों पर चुम्बन लेने आगे हुआ. इंडियन सेक्सी हिंदी बीएफठाकुर अब मेरे होंठों को चूसने लगे … मैं तो पहले से बहुत जोश में थी. इस तरह चूत की अपेक्षा गांड मारने में मेरे लंड को ज्यादा मज़ा आने लगा.

वह उम्र में मुझसे काफी छोटा था इसलिए उसे भी डर था कि कहीं हम दोनों पकड़े न जाएँ.

बस उनके कहते ही मुझे लगा, जैसे बदन से मेरी जान मेरे लंड के रास्ते बाहर निकल रही है। मैंने एक झटके से अपना लंड अपनी मॉम की चूत से निकाला और जैसे ही लंड बाहर निकला एक गाढ़े सफ़ेद पानी की धार बड़े ज़ोर से बाहर को निकली और मॉम के मुंह तक जा गिरी. फिर मैं अपने कपड़े उतार कर जैसे ही उसके ऊपर लेटा, उसको जैसे करंट लगा हो, वो ऐसे हिल गई. उसके बाद मेरे पति एक महीने बाद बिजनेस के काम से तीन महीने के लिए बाहर चले गए.

थोड़ी देर बाद ही उसके बॉस की गाड़ी ड्राइवर लेकर आया और उसने मेरी बीवी को चलने को कहा. आंटी मेरे हाथ पर हाथ रख कर बोलीं- क्या तुम मेरी सेक्स की इच्छा पूरी करोगे?मैंने हां बोल दिया. उसे सब पता चला तो वो कहने लगी- अगली बार जब उससे मिलो, तब कुछ भी हो जाए.

सेक्सी ब्लू फिल्म गांव की लड़की

वो उसी के पेशाब से सने मेरे चूचुकों को चूसने लगी।उसके बाद तो मुझे कुछ होश ही नहीं रहा।सुबह जब मैं उठी तो देखा कि प्रीति भी एकदम नंगी होकर मेरी तरह बेशर्मी से सो रही थी. उसकी भरी हुई जाँघें … वाह … जैसे ही उसको चाटा और चूमा, सलोनी ने जोर से सिसकारी भरी- आआआ … ह्ह्ह ह्ह्ह्ह … उफ्फ … बस राहुल बस, उफ्फ …सलोनी पागलों की तरह अपनी कमर को उचका रही थी. मैं अपने हाथ से अपनी रीना को खिलाऊँ?हाथ धो कर फिर उसने मुझे अपने हाथों से खिलाना शुरू कर दिया और मुझसे बोला- तुम भी अपने प्यारे हाथों से मुझे खिलाओ.

हम दोनों एक दूसरे के इस राज को राज ही बने रहने देंगे और अपनी आग को भी बुझा लेंगे.

मैंने सोचा कि कैसे भी नजर बचाकर थोड़ी देर के लिए उनके साथ चली जाऊंगी और इनसे चुदने में भी क्या जाता है.

उनके धक्कों से मेरी चूत में उसका लंड बहुत आसानी से जा रहा था। मैं तो मस्ती में कभी उनके बाल नोंचती तो कभी उनकी पीठ नोंचती. मैंने उसे समझाया- तुम उन्हें प्यार से समझाओ, अपनी पसंद नापसंद बताओ यहाँ तक कि सेक्स करते हुए तुम्हें क्या अच्छा लगता है, क्या नहीं … खुल के बताओ. पुरानी बीएफ पिक्चरहम दोनों ढेर होकर एक दूसरे से चिपके हुए अपनी सांसों का संतुलन बनाने लगे.

भाभी इठला कर बोलीं- लगता है तुम्हारा मन आ गया है उसके ऊपर … पर मैं ऐसा नहीं होने दूंगी. मन करता था कि भाभी को अभी पकड़कर चोद दूँ मगर अभी इतनी हिम्मत मेरे अंदर भी नहीं आ पाई थी. यह कहानी बहुत छोटी है, पर यह सच है कि मैंने अपनी जिंदगी के सिर्फ दो सच आपको बताएं हैं.

फिर हफ्ते भर बाद जब उससे बातें करने के बाद जब असलियत बताता तो हरामी ब्लॉक कर देता था. इस तरह की आवाज अपने आप मेरे मुँह से निकल रही थीं कि अचानक से दरवाजा खुला और सोनम की मम्मी उसकी चाची और सामने वाली एक लेडीज सामने आके खड़ी हो गईं.

मैंने कहा- अभी हमारी शादी नहीं हुई है भाभी … शादी होनी तो अभी बाकी है.

मैं कितना प्यार करती थी उसको … कितना भरोसा करती थी उसका … वो कितना कमीना निकला, मेरे पापा को धक्का मार के चला गया. मैंने रिप्लाई किया- ठीक है, अगर तुम भाभी हो, तो जैसा मैं कहूँ वैसे मुझे सबूत दो. हमने वहीं गांव में एक पहचान के मित्र हैं, उनके घर पर इंतजाम कर लिया है.

’वो ऐसी बातें करता, तब मैं कभी उसकी गोद में बैठ कर अपनी चुचियां दबवा रही होती और कभी उसका लंड चूस रही होती जैसे ही लंड अन्दर गया, उसने उम्म्ह… अहह… हय… याह… करते हुए एक लम्बी सांस ली और बोली- यस यस चोदो मुझे… आह दोनों मिल कर चोदो. मैं उनसे कुछ दूर बैठा हुआ था तो आंटी खुद ही मेरे पास आकर बैठने लगी.

मुझे न जाने क्यों एक बात समझ आ गई थी कि इसकी चूत को सबसे बाद में चूमूंगा. मैंने भाभी से कहा- भाभी, आपको भैया अच्छी तरह से नहीं चोदते क्या?तो भाभी कहने लगी- उनकी तो आप बात ही छोड़ो, अब हमारे अंदर यह संबंध रहा ही नहीं है, शादी के 7 साल हो चुके हैं, और कहावत है कि 7 साल के बाद आदमी का औरत से मन भर जाता है परन्तु तुम्हारे भैया का तो 3 साल में ही भर गया था, आज बहुत दिनों बाद तुम मेरी चूत की आग को शांत करोगे. खैर … हंसते हुए सब ठीक हुआ और मैंने पार्टी बम उठाया और साइड में खड़ी लड़की की कोहनियों को पकड़ा, जहां पर मैं खड़ा था … उसे साइड में लाया.

वीडियो चुदाई हिंदी में

एक दिन उसने मुझसे पूछा- तुम्हारी कोई गर्ल फ़्रेंड नहीं है क्या?तो मैंने भी बोल दिया कि आज तक मुझे पसंद आ जाए, वैसी कोई मिली नहीं है. उनके हाथ और पाँव की नाजुक पतली और गुदाज उंगलियों में बहुत सुन्दर नेल पोलिश लगी हुई थी. हम दोनों को जब भी मौका मिलता था, तो हम दोनों एक दूसरे से बात करने के लिए अपने घर के पीछे के बगीचे में मिलते थे.

इसलिए जहाँ भी मुझे मौका मिलता है मैं अपनी चूत की प्यास को लंड लेकर शांत करवा लेती हूँ. कोई 15 मिनट बाद मेरी सास पूषी ने अन्दर से आवाज़ दी- बेटा, मुझे पूछते शर्म आ रही है, पर कोई कपड़े हैं, तो दे दो, मेरे सारे कपड़े गीले गए हैं.

तकिया लगा देने से अब उनकी बुर का छेद एकदम सही जगह और सही पोजीशन में आ गया था.

इतने में लाइट फिर से आ गई और वह जो नीचे लड़का चूत चाट रहा था, वह झट से बाहर निकल आया. सही है क्या?मैं सर झुका कर मम्मी के सामने खड़ी हो गई और बस हां में मुंडी हिला दी. मैंने सुनील जी को जवाब दिया कि मैं इस शहर (यहां नाम नहीं बता सकती) की रहने वाली हूं और मुझे आपका लंड बहुत ही ज्यादा पसंद आया है.

थोड़ी ही देर में मेरा औजार फिर से खड़ा हो गया। अब अंताक्षरी खेलते-खेलते भी बहुत समय हो गया था. मैं- बिना पति के अकेले ज़िंदगी कैसे काट लेती हो?प्रिया- मत पूछो … बहुत कठिन है, जालिम ज़माना है, जहां जाती हूँ, भूखे भेड़िए की तरह हर आदमी बस घूरता रहता है. मैं उसको वैसे ही देखते हुए खड़ा हुआ था कि उसकी आवाज ने मुझे ख़्यालों से बाहर निकाला। जब मैंने उनको अपना परिचय करवाया तो उन्होंने मुझे अंदर बुलाया।जब मैंने उनसे पूछा तो उन्होंने बताया कि उनके हस्बेंड बाहर देश में जॉब करते हैं और वो अपने बेटे के साथ अकेली ही रहती हैं। उनका नाम संजना था। उनका घर वैसे तो बहुत ही ज्यादा बड़ा था और घर में ऐसी किसी चीज की कोई कमी मुझे कहीं पर भी नजर नहीं आ रही थी.

वो दोनों दुकान में काम करने वाले मुझसे बोले कि मैडम आपको आराम करना हो या बैठना हो तो बैठ सकती हैं.

बीएफ पिक्चर बिहारी: मैंने अपने लंड के मोटे सुपारे को उसकी गांड के छेद पर टिकाया और उसके कूल्हों को ज़ोर से जकड़ कर एक ज़ोर का धक्का लगाया. दोनों चिल्लाने लगीं- आआआ … उईईईई … मादरचोद लम्बी रेस के घोड़े … यू फक सो गुड …वे दोनों तरह तरह की आवाजें निकाल रही थीं.

मैं अपने हाथों से नामित के लंड को सहला रही थी क्योंकि वहां पर एक वही लंड था, जो मुझे अपना सा लग रहा था. मैंने रिप्लाई किया- लौड़ा चोदी हैं … आज तक किसी की गांड पर हाथ भी नहीं लगाया … भाभियां की तो छोड़ो लड़कियों तक की सूंघने नहीं मिली. ये क्या है?” उन्होंने गुस्से से पूछा।करीब 35-40 साल के आसपास की उम्र होगी उनकी.

वो बोली- तुम उधर ही रुको, मैं दस मिनट में उधर से ही निकलने वाली हूँ.

सोनू सामने वाले घर में रहती है और वह तुम्हारा और लता का चक्कर समझ गई है. उसका लंड काफी बड़ा था जो मुझे और मेरी चूत दोनों को ही काफी संतुष्ट कर रहा था. कुछ देर यूं ही मस्ती करने के बाद हम सभी अपने अपने घरों को वापस आ गए.