हिंदी में बीएफ भेज दो

छवि स्रोत,गरमा गरम कहानी

तस्वीर का शीर्षक ,

मुठ मारने वाला वीडियो: हिंदी में बीएफ भेज दो, जिगोलो सेक्स स्टोरी में अब तक आपने पढ़ा कि रजत ने अपने खुरदुरे हाथों से मम्मों को बेरहमी से मसला और कहा- तू अभी इन खिलौनों से खेल मेरी रानी … फिर तेरी गर्मी मैं शांत करूंगा.

भाभी कि xxx

मेरी पहली सेक्स कहानीक्लासफेलो कुंवारी लड़की की चुदाईको आप सभी ने पसंद किया, उसके लिए सभी को धन्यवाद. जापानी बीएफ वीडियोशायद वही देखकर उसका मन ख़राब हो गया था और मुझे पाने का प्रयत्न करने लगा।वो मेरे गदराये हुए बदन को देखकर अपने आप पे काबू नहीं रख पाया और उसकी साँसें तेज तेज चलने लगी.

फिर मैं दीदी और परमीत के बीच लेट गई और मनु दीदी के बगल में चिपक कर लेट गई. नई दुल्हन के साथ सुहागरातअनिषा मुन्ना को दिखाते हुए उससे कह रही थी- देख बेटा … अब तेरी मां चुदने वाली है … फिर बुआ भी चुदेगी.

हम दोनों को बहुत तेज दर्द हो रहा था तो इस वजह से होंठ छूट गए, हम दोनों की चीख निकल गई।मैंने नीचे देखा तो उसकी चूत से गर्म गर्म कुछ निकल रहा था.हिंदी में बीएफ भेज दो: जिया ने दोनों पैरों से चुत छुपाते हुए कहा- यह तुम्हारे भाई की मेहरबानी है.

मैं एक मस्त गदराए हुए जिस्म की औरत हूँ। मेरी पिछली कहानी में आपने पढ़ा कि कैसेमैं अपने यार से होटल में चुदवा आयीमुझे सेक्स हर तरह से पसंद है। सेक्स जितना गंदा हो, मुझे उतना अच्छा लगता है। मैं डर्टी से डर्टी सेक्स करने के लिए हमेशा तैयार रहती हूँ, बस मौक़ा मिलना चाहिए.आदी ने विक्की का लंड चूसना चालू कर दिया और मैं वहीं खड़े होकर ये सब देख रही थी.

मराठी आंटी सेक्स वीडियो - हिंदी में बीएफ भेज दो

सिल्क- आप इतने चुप क्यों है, आपको मेरा साथ अच्छा नहीं लगा क्या?मैं- नहीं, ऐसी बात नहीं है काफी साल से अकेला रहता आया हूँ तो आपका साथ तो मेरे लिए एक नए जीवन की तरह है.मैं अपना लिंग-मुण्ड वहीं टिका छोड़ कर वसुंधरा के जिस्म के ऊपरी भाग पर छा गया.

ब्रा के उतरते ही परमीत ने हाथों में रखे केक को अपने उन्नत आकर्षक और वासना से कठोर हो रहे स्तनों पर लगाया और उसे संजय की ओर कर दिया. हिंदी में बीएफ भेज दो उसके मम्मों के ऊपर डार्क काले कड़क निप्पल उन पर चार चांद लगा रहे थे.

मैंने एक ही धक्के में अपना 9 इंच का लंड उसकी चूत में पेल दिया और आगे पीछे करने लगा.

हिंदी में बीएफ भेज दो?

रोहण के निकलते ही मैंने सुहास को फोन करके बोला कि तुम अपना सामान और अपना पासपोर्ट लेकर मेरे घर आ जाओ. मैं उठा और चाचा चाची के कमरे के बाहर जाकर अन्दर झांकने की कोशिश करने लगा. नमस्कार दोस्तो, मेरी यह कहानी पिछले 6 महीने पुरानी है जब मेरी मुलाकात एक ऐसे लड़के से हुई जिसने लिंग परिवर्तन का ऑपरेशन कराया हुआ था.

मैं- दीदी जीजा जी कहीं दिख नहीं रहे?दीदी- वो जरूरी काम से ऑफिस चले गए हैं. कितनी देर तक सोये रहे इसका कुछ अंदाज़ा नहीं लेकिन जब मेरी नींद खुली तो देखा की दोनों रानियां गहरी नींद में थीं. जैसे ही मेरा गरम लावा अलका की चुत में गिरा, अलका भी एक बार फिर से चिल्लाते हुए झड़ने लगी और हम दोनों अपने ही रसों से पानी पानी हो गए.

उस दिन जब मैं वहां पहुंचा तो वहां मेरे पास एक लाल रंग की साड़ी में आई थी. मैंने फिर से अपने होंठों को उसकी गर्दन पर घुमाना शुरू कर दिया और बेतहाशा चूमने लगा. हमने नंबर एक्सचेंज किये और एक दूसरे को अलविदा कह कर वहां से चले गये.

फिर मैंने उनके ब्लाउज को खोल दिया और जब मैंने उनके बड़े और चिकने मम्मों को एक जालीदार ब्रा में फंसा हुआ देखा, तो मुझे बहुत गुस्सा आया. चुदाई के बाद वो मुझसे आते समय अपने व्यवहार के लिए मुझसे सॉरी बोल रही थीं.

तभी पीछे से किसी ने मेरे बालों को सहलाया, तो मैंने नजर घुमाई और रजत को पीछे खड़े पाया.

फिर 2-3 दिन बाद मैंने एक दिन सुबह आदी से बोला कि मुझे राहुल का नंबर दो और आज तुम बाहर जाकर घूम कर आओ.

दीदी अकड़ने लगीं और गालियां भी बकने लगीं, जो अब तक की चुदाई में पहली बार हो रहा था. फिर कुछ जूतों की आवाज आई और साथ ही संजय की आवाज आई- अब पट्टी खोल लो. उसने कहा- तो फिर ये क्या कर रहा था?मैंने कहा- बैक में पेन हो रहा था.

मेरे पहुंचने के कुछ ही पलों बाद मैंने देखा कि चाची अपनी झांटें बना चुकी थीं और अपने अधखुले साये से अपनी चूत पौंछ रही थीं. https://thumb-v9.xhcdn.com/a/TwoIdEmFT4a1cFE1REHmWA/021/183/059/526x298.t.webm. मैडम ने उस दिन काली साड़ी पहन रखी थी, वो उस साड़ी में पटका लग रही थीं.

ऐसे ही रात के 12 बज चुके थे … मगर मेरी आंखों में न जाने क्यों नींद का नामों-निशां नहीं था.

नाईट बल्ब की रोशनी में मैंने जो देखा, उसको देखकर मैं पागल सा होने लगा. मैंने उसके ब्लाउज को उतारा और अंदर से उसने गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई थी. साइकोलॉजिस्टज़ ठीक ही कहते हैं कि स्त्री अपने प्रेमी में अपने पिता का अक़्स ढूँढती है.

मैं जानती थी कि संदीप से मेरा बिछड़ना तय है, तब भी मैं उसे दिल से चाहती थी, जबकि परमीत का संबंध सिर्फ लंड चूत वाला था और मनु का संबंध भी शारीरिक ही लगता था. उसकी पीठ पे एक तिल भी था जो उसकी पीठ को और भी खूबरसूरत बना रहा था।उसके बाद मैंने उसकी ब्रा को उतार दिया जिससे उसके 32″ के चुचे फुदक के बाहर आ गए। उसके निप्पल भूरे रंग के थे. मैं माफी चाहती हूँ कि इस बार की मेरी सेक्स कहानी प्रकाशित करने को देने के लिए इतना टाइम लग गया.

इसके बाद हम दोनों ने एक पैग फिर से खींचा और सिगरेट का मजा लेते हुए अगले राउंड की तैयारी करने लगे.

फिर भी उसने मेरे मोटे लण्ड को दर्द के साथ ही सही अपने अंदर आत्मसात कर लिया, कुछ ही पलों में लण्ड चूत में समा चुका था. मेरे मुंह से भी सिसकारियां निकल रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…इससे पहले भी मैं चौकी की चर्र चर्र की आवाज सुनती थी और अनुमान करती कि बाबू माई को धनाधन चोद रहे होंगे.

हिंदी में बीएफ भेज दो कभी मेरे होंठों को चूसता तो कभी मेरी गर्दन व गालों पर चुम्बन कर देता. ऐसा बोलते हुए अभय ने भी मेरे दोनों दूध कस कर पकड़ लिए और जोर से दबा दिए.

हिंदी में बीएफ भेज दो तभी उसने एक हाथ मेरी पीठ पर रखा और मुझे टेबल पर झुका दिया और मेरी साड़ी को पेटीकोट के साथ पकड़ कर कमर तक उठा दिया. मैंने उनके होंठों पर अपना होंठों रखते हुए कहा- नहीं बाबू, आप गलत सोच रहे हैं … आप किसी लड़की को तड़पता हुआ नहीं छोड़ सकते.

इसका एक कारण ये भी था कि हम दोनों के पास अपने शरीर की जरूरतों को पूरा करने का विकल्प मौजूद था.

स्कूल सेक्सी वीडियोस

मेरी फ्रेंची को भी निकाल दिया और नीचे ही नीचे मेरे लंड को नंगा करके उसको हाथ में लेकर मुठ मारने लगी. उसने भी मुझसे वादा किया है कि अगर कहानी अच्छी लगी और लोगों को मजा आया तो वो भी मुझे जबरदस्त और अनोखी चुदाई से खुश करेगी।तो दोस्तो, इस कहानी की नींव तब पड़ी जब मेरी कहानीगलतफहमीका प्रकाशन अंतर्वासना पर होना शुरू हुआ था।उस कहानी को पढ़कर बहुत से लोगों ने मुझे मेल किया और कहानी के साथ ही मेरे लेखन कला की जमकर तारीफ की. अगर आप सेक्स को अबनॉर्मल समझते हैं, तो ये बड़ी बात नहीं है, ये तो कॉमन बात है.

”हम वहां पहुंचे।एक कमरा था, कुछ कुर्सियां लगी हुई थीं और बीच में एक टेबल। दो पुलिस वाले दारू पी रहे थे।हम तीनों भी बैठ गए।पेग बना छोरी!”मैंने दो बना के दे दिए।तू भी पी!”मैं भी पीने लगी।मैंने एक खत्म किया तब तक उनके 3-3 हो चुके थे।एक बोला- छोरी, यहां क्यों आयी है?जी ये लेके आये हैं. संजू इससे आगे कुछ बोलती, उससे पहले ही रोहित ने एकाएक संजू के रसीले होंठों पर अपने होंठ रख दिए और संजू को वो बेतहाशा चूमने लगा. उनकी बस इसी बात से मुझे मेरे दिल में कुछ कुछ होने लगा … और बस मेरे पैर उनकी तरफ चल दिए.

मैंने नीचे उतर कर उनको पलंग पर पीठ के बल चित लेटा कर उनके पैर हवा में फैला दिए.

राहुल के होने न होने से कोई फर्क नहीं पड़ता और अब तो रवि ने उसका हाल देख ही लिया. रंग के मामले में ये कहा जा सकता है कि ये पिक या कैमरे का कमाल हो सकता है, पर मैंने भले उसके चेहरे को नहीं देखा था. फिर वो दोनों चली गयी और हम भी वापस दिल्ली आ गए।मैंने अपनी यह चुदाई पूरे विस्तार से अपनी बहन फेहमिना को बतायी तो वो बहुत खुश हुई मेरी चुदाई की कहानी सुन कर.

उधर वसुंधरा का दायाँ हाथ मेरे लिंगमुण्ड को निम्बू की तरह निचोड़ने पर आमादा था. कुछ ही पल में मेरी ब्रा मेरे जिस्म से अलग हो गई और मेरे बड़े बड़े गोरे दूध उछल कर उनके सीने से लग गए. मूवी के दौरान मैं कभी उसको किस कर देता तो कभी उसकी चूचियों को छेड़ देता.

इधर मेरा अपने पे कंट्रोल नहीं हो रहा था तो प्रीति को बोला- बस एक बार चूत को चाट लेने दो. वो कभी मेरे लंड को चूसती, कभी चूमती कभी मेरी गोटियों को चूसती … या फिर कभी मेरे लंड के टोपे को अपने होंठों पर लिपस्टिक की तरह फेरती.

वो इस वक्त इतनी गर्म हो गई थी कि उसने अपने नाख़ून मेरे बदन पर गड़ा दिए और एक लंबी आह … के साथ वो झड़ कर मेरी बांहों में सिमट कर रह गयी. उनकी अजीबोगरीब बात सुनकर मैं अन्दर गया और सुमन से पूछा- आंटी ऐसे क्यों कह रही थीं?तो सुमन ने बताया- मम्मी जब सत्संग से लौटी थीं तो मुझसे पूछ रही थीं कि ‘दवा लगाने से कुछ आराम मिला?’ तो मैंने कह दिया, नहीं मिला. थोड़ी देर बाद उसने मेरी पैंटी भी उतार दी और मेरे जिस्म से खेलने लगा.

वैसे भी जिसे एक बार नए नए, मोटे मोटे, लंबे लंबे, अलग अलग लंड का स्वाद मिल जाए … तो ये आदत जल्दी जाती थोड़े ही है.

उसने नीचे बैठ कर मेरी पैंट उतारी और मेरे लंड को निकाल कर चूसने लगी. इसके बाद वो मान गई और उसने उठ कर मेरे लंड के सुपारे पर अपनी जीभ चला दी. मुझे गुस्सा तो बहुत आया था, पर मेरी एक सहेली ने समझाया था कि जिस तरह भूख लगने पर लोग खाना खाते हैं … उसी तरह से यह भी एक भूख है.

संजू ने उसे सहारा देकर उठाया और पूछा- क्या हुआ भाभी?वो बोली- सब आपके हस्बैंड के कारण हुआ … ऐसा भला कोई सेक्स करता है. वो बोली- वो अपने कॉलेज कॉलेज की फ्रेंड्स के साथ पिकनिक पर गई हुई है.

हैलो मेरे प्यारे दोस्तो, कैसे हैं आप सब। उम्मीद है हमेशा की तरह मजे में ही होंगे।मुझे ये जान के बहुत खुशी हुई की आप सब को मेरी पिछली कहानीजवानी की शुरुआत में स्कूलगर्ल की अन्तर्वासनाबहुत पसंद आई. मैंने सुमित को दिन में फोन करके कह दिया- आज मैं शाम को जिम नहीं जाऊंगा. इस दौरान मैं दो बार झड़ चुकी थी। मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैंने बोल दिया- तरुण, प्लीज़ डाल दो।तभी मैंने तरुण के लंड को चूस कर थूक से सराबोर कर दिया और दोबारा घोड़ी बन गयी.

पालक सेक्सी

उम्म्ह… अहह… हय… याह… और तेजी से … उफ्फ बहुत मजा आ रहा है, ऐसे कहते हुए मैं उस गैर मर्द से अपनी गांड को चुदवा रही थी.

उसको देखकर मैंने सरीना को बूब्स पकड़कर उसके होंठो से अपने होंठ चिपका दिए. मेरा लंड अपने रौद्र रूप में आने लगा था और जींस की वजह से मुझे परेशानी हो रही थी. तभी रास्ते में मेरे वॉट्सएप पर किसी इरफान नाम से किसी का मैसेज आया.

तभी सभी लेडीज हंसने लगीं यानि उन लोगों हमसे ज्यादा क्लू ढूंढ लिए थे. कल सुबह सूरज चढ़ने के साथ ही हम दोनों की जिंदगियों के रास्ते विपरीत ध्रुवों की ओर मुड़ जायेंगे और जिंदगी में दोबारा मुलाक़ात की संभावना क़रीब-क़रीब न के बराबर होगी. देवर भाभी की चुदाई की फोटोअचानक मेरी नजर एक पेड़ के पास पड़े पत्थर पर पड़ी मैंने एकदम अपना लंड रोजी की चूत से निकाला तो पक्क की आवाज आई और हट गया।रोजी मुझे कुछ गुस्से और कुछ विनती की नज़रों से देखने लगी कि छोड़ क्यों दिया?मैं उस पत्थर पर पीठ लगाकर बैठ गया और रोजी को इशारा किया वो खिलखिलाती हुई मेरे पास आई और पेड़ की तरफ मुँह करके मेरे लंड पर अपनी चूत सेट करके बैठ गई।अब मेरे मुँह के सामने उसके गोर तने हुए दूध थे.

उसने राजन की शॉर्ट्स नीचे कर उसका लंड खूब चूसा और फिर वो स्टीयरिंग की ओर पीठ कर के उसके लंड पर बैठ गयी और लंड अपनी चूत में कर लिया. जब मैं अंदर गया तो चाची ने पूछा- इतना सब क्या ले आया मेरे लिए इन बैग्स में?तो मैंने कहा- यह आपके लिये सरप्राइज है.

मेरी बीवी संजू ये सुनकर हल्की सी मुस्कुराई, इस बात पर मेरी बांहों में लिपटी मेरी सलहज ने भी कहा- वाह संजना … वाकयी में आपका जिस्म का कोई जोड़ नहीं. वो फिर दर्द से कराह उठी और इतनी जोर से ‘उईई आह माँ आह आह मर गयी’ चीखी कि उसके चिलाने की आवाज़ से नीतू नंगी ही बाथरूम से बाहर आ गयी. दीदी हल्की चीख के साथ डिल्डो को आराम से झेल गईं … मतलब साफ था कि दीदी की गांड भी बजी हुई थी.

उसके जाने के बाद मैं यही सोचता रहा कि यार मैंने पक्के में कुछ गलती कर दी है … बहुत जल्दी मैंने उसको प्रपोज कर दिया. अब मुझे सच में दर्द हो रहा था मगर मैं फिर भी बर्दाश्त कर रही थी क्यूंकि ऑफिस में ऐसे किसी ने मेरे साथ कभी नहीं किया था. कितना स्वादिष्ट और मस्त मुखरस था रानी का!चुदने की तेज़ चाह, मेरे प्यार से भरपूर चुम्बन, प्रगढ़ आलिंगन और जीभ चुसाई से उसके मुंह में रस बहुत ज़्यादा निकल रहा था.

सभी औरतें खिलखिला कर हँस पड़ीं और मैं मूर्ख दिखते जैसे ऐसे बैठा रहा … जैसे मैं कुछ समझा ही नहीं था.

एक पल बाद ही मैंने अपना मुँह मैडम के मम्मों के बीच में रख दिया और चूमने लगा. अलसुबह के किसी समय मेरा साला नीरज उठ गया था और वो अपनी बहन की मस्त जवानी को देख रहा था.

लेकिन हमारी चुदाई को किसी ने देख लिया और फिर गांव के एक मर्द ने मुझे उसी से थोड़ा ब्लैकमेल करके चोद दिया. इसीलिए उसने मुझे शीराज और ज़ायरा को अपने स्विंगर्ज़ क्लब में शामिल करने को कहा था। मगर किसी वजह से मैं शीराज और ज़ायरा को अपने क्लब में नहीं शामिल कर पाया।हालांकि बाद में धीरे धीरे क्लब में न जाने क्यों औरतों ने आना कम कर दिया. मैंने आज तक किसी लड़की को नहीं चोदा है क्योंकि मैं कभी किसी लड़की को नहीं पटा सका.

धीरे धीरे जोक्स से बात शुरू हुई और व्यस्क जोक्स से होते हुए हम फोन पर सेक्स की बातें भी करने लगे. मैं उसे लगातार चोदे जा रहा था- ले साली कुतिया … उई आह ले मादरचोद … अभी फट रही है तेरी गांड. हमने एक साथ लंड दोनों लड़की की चूतों से बाहर निकाल लिए, चोदना बंद कर दिया.

हिंदी में बीएफ भेज दो जिया- नो वे …राज- नीरज तू एक काम कर … कंडोम लेकर आ … प्लीज़ वरना तेरी बीवी प्रेग्नेंट हो जाएगी. मेरे हाथ के स्पर्श से वो भी गर्म होने लगी थी तो उसने अपनी जांघें थोड़ी और खोल दी ताकि मेरा हाथ उसकी चूत तक पहुँच सकें.

सेक्सी सबसे बड़ी

मैंने सोचा इस पर ट्राई करके देखता हूं, अगर इसके लंड को टच तक भी कर पाया तो बहुत बड़ी उपलब्धि होगी मेरे लिये. गीत … गीत … गीत … ओ मेरी गीत … आई लव यू गीत … आई मिस यू सो मच गीत … मेरे मन में ऐसे शब्दों की बाढ़ सी आ गई … और मैंने मैसेज करके उसे भी ये सब कहा. और अभी तो सिर्फ औपचारिकता चल रही है, भाई साहब भाभी जी।वैसे तो शीराज के सामने मैं उसका नाम भी ले लेता हूँ। मगर जब तक अगली कोई इशारा नहीं देती मैं कैसे बेतकल्लुफ़ हो जाऊँ.

दोस्तो, अगली सेक्स कहानी आपको बहुत जल्द ही लिख कर बताऊंगी कि किरायेदार ने मुझे कैसे पटाया और उसके घर पर मेरी चुत चुदी. दोस्तो, किसी की पर्सनल लाइफ डिस्टर्ब ना हो, इसलिए मैं इस कहानी में सभी पात्रों और जगह के काल्पनिक नाम प्रयोग कर रहा हूं …अब आगे की कहानी जस्सी की जुबानी सुनिए. एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ सेक्सी’ करके ऊपर की तरफ सांस ली … अगले ही पल वो फिर से चूमने में मस्त हो गयी.

मैंने हाथ ऊपर नीचे करना शुरू किया। उसका लन्ड खम्भे की तरह खड़ा था और गर्म भी था। भाई को भी मस्ती छाने लगी जो उसके चेहरे पर साफ दिख सकती थी। उसका मस्त लौड़ा देख मेरे मुंह में पानी आ रहा था। मैंने न चाहते हुए भी उसके टोपे पर जीभ से फेर दिया। हल्का नमकीन स्वाद था उसके लंड का.

तब मैं बोली- हां यार, तेरा पति खुद ही तुझे इधर छोड़ गया है, मैं सब देख लूंगी. मैं सिल्क को धकेल कर उसके ऊपर आ गया, उसकी गर्दन में अपने गर्म होंठ से चूसने लगा.

”और मेरी डबल चुदाई शुरू हो गयी। घोड़ी बनी हुई थी, सुलेमान का चूस रही थी और अरबाज़ से मरवा रही थी। सच में बड़ा मज़ा आ रहा था। मेरी गांड और मुंह दोनों मस्त थे।और फिर दोनों लौंडों ने एक साथ मुझे दोनों जगह मर्द जल से भर दिया।तबियत प्रसन्न हो गयी।चार दिन की बेकरारी को आराम मिल गया।जाने से पहले सुलेमान ने मुझे अपना फ़ोन नंबर दिया- जब भी दिल करे, बुला लेना. थोड़ी देर शांत रहने के बाद मैंने ही उससे पूछा- कैसी रही शादी?उसने मेरी तरफ देखा और कहा- क्यों तुम शादी में नहीं थे क्या? जो मुझसे पूछ रहे हो?मैंने कहा- मैं था तो … पर मेरा ध्यान कहीं और था. अगर उसका बस चलता तो वो वहीं पर नीचे लिटा कर उस लड़की की चूत चुदाई कर देता.

जो उसे एक बार चोद लेता, वो उससे फिर हट नहीं पाता, कुछ ऐसी ही अदाएं थीं मीना की.

इसके बाद वो मान गई और उसने उठ कर मेरे लंड के सुपारे पर अपनी जीभ चला दी. मैंने हैरान होकर पूछा- क्या पता है?वो- तुमने मेरी बीवी से कभी अपनी सेक्स लाइफ के बारे में बताया था?मैं- हां. मैंने अपने पैर सेट किये और उसकी दोनों टांगें अपने कंधो पे रख कर अपना लण्ड निकाल कर उसकी चूत और लण्ड को पौंछा और एक झटके में उसकी चूत में डाल दिया.

پنجابی سیکسیमैंने उन्हें लिटाया और उनकी टाईट और दूध से भरी हुई चूचियों को मसलने लगा. मीना की तो जान ही निकल गयी … वो पागल हो रही थी … उसे चुदाई का ऐसा मजा जिन्दगी में कभी पहलें नहीं मिला था.

इंडियन देसी कॉलेज गर्ल सेक्सी वीडियो

इस पर नीरज बोला- क्या करूं बहना, तुम्हें देखकर बर्दाश्त ही नहीं होता है. मैं आज कुछ ऐसा करने जा रहा था जो कि मैंने जीवन में कभी सोचा भी नहीं था. मैं उसी तरह उठ बैठी और अपने बाबू के सामने नंगी बैठ करके चाय पीने लगी.

इसमें कोई शक नहीं कि सिल्क एक साधारण, पर सुलझी हुई महिला थी, वक़्त ने उसको काफी परिपक्व बना दिया था. ना ही कभी जेठजी ने ऐसी वैसी हरकत की, जिससे मैं कुछ समझ पाती … और ना ही कभी मेरे मन में जेठजी के साथ ऐसा कुछ करने का ख्याल आया था. मैं सारे दिन जॉब पर गया और बस आंटी की चुदाई के बारे में ही सोचता रहा कि इस बार आंटी को नहीं छोडूंगा.

बस में मौका मिलने पर नीलू की चूत में उंगली भी की उसके बूब्स भी दबाये और मस्ती की।जाते वक्त उनसे नंबर मांगा तो उन्होंने ये कहकर मना कर दिया कि अगर किस्मत में होगा तो दोबारा मिलेंगे. दरसअल स्वीटी आंटी मेरी मम्मी की सहेली सुषमा की छोटी बहन हैं … और मम्मी की भी सहेली हैं. मेरे ऐसा करने से आंटी ने अपने दोनों पैरो को और जोर से सटाना शुरू कर दिया.

मैंने आंटी से कहा- अबकी बार अपने मुँह में जाम भर के मुझे पिला देना. जिस वक्त वो लंड लगा रही थी, उस वक्त उसके मुँह से एक भद्दी सी गाली निकली- मान भी जा माँ के लौड़े … पेल दे न भोसड़ी के.

दीदी ने परमीत को और नीचे सरका कर घोड़ी बना दिया और मोटा वाला डिल्डो हाथ में दे दिया.

अब तक की मेरी इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि हम सभी माले से दो दिन के लिए घूमने निकल गए थे. योगा सेक्सी बीएफहम बहुत बातें करते थे हमारे आने वाले बच्चे के बारे में!उन्होंने मुझे प्रोमिस किया है कि वे मेरे साथ सेक्स का आनंद लेती रहेंगी और मुझे भी मजा देती रहेंगी।धन्यवाद।[emailprotected]. पति पत्नी की सेक्सीअभय ने सामने से मेरे एक पैर को पकड़ कर थोड़ा सा ऊपर की तरफ उठाकर चौड़ा किया और अपने हाथ से अपना लौड़ा पकड़ कर मेरी चूत में एक हाथ लगाया और अपने लन्ड का सुपारा जैसे ही मेरी चूत में टच कराया तो मैं बिल्कुल उछल सी गई. एक घंटे की मेहनत के बाद हम दोनों वहां बनाए हुए एक छोटे से कमरे में रुक गए.

इसीलिए तो युगों-युगों से राधेश्याम, सीताराम, उमाशंकर एक ही संज्ञा है.

जीजा जी- आप लोगों ने कितनी पहेली का जवाब ढूंढ लिया है?आलिया- सात क्लू. इस कहानी में मैं आपको अपनी आंटी की चूत चुदाई के बारे में लिख रहा हूँ. फर्क इतना था कि वो मुझे जानते थे कि मैंने कभी उनकी बेटी की दमन में हेल्प की थी.

हालांकि जब माता जी आयी तो मैंने रेनू के ऊपर ज्यादा ध्यान नहीं दिया. सीमा ने तुरंत मेरा लौड़ा पूरा मुंह में ले लिया जैसे वो चाहती हो कि लंड रस का एक भी कतरा बाहर न गिर जाए. शबनम ने जो सूट पहना हुआ था, उसकी कुर्ती का गला कुछ ज्यादा ही गहरा था.

गुजरात की ब्लू सेक्सी

उसने मेरे नंगे नितम्बों को सहलाया और अपने लिंग को मेरे नितम्बों पर पटकने लगा. वो चिल्लाने लगी- उई … माँ मर गई … बचा लो मुझे … ये मुझे मार डालेगा. लेकिन मैंने अपने कड़वे अनुभव के अनुसार फोटो को फेक समझ कर ज्यादा ध्यान नहीं दिया.

अब परमीत को तो हड़बड़ी छाई थी, सो हम शाम को छह बजे ही संजय के फार्म के लिए निकल गए.

तभी उसकी नजर हम दोनों पर गई, जहां मेरी सलहज यानि कि उसकी बड़ी भाभी मेरे लंड पर बैठकर आगे पीछे करते हुए जन्नत का मजा उठा रही थी और मुँह से ‘ईस्स … ओह … ओह…’ कर रही थी.

मैंने पूछा- क्यों रो रही हो?तो वो बोली- मालूम नहीं मुझे कि मैं क्यों रो रही हूँ. बाद में मैंने ये सवाल दीदी से भी किया, तो पता चला कि कभी भैया भी दीदी के दीवाने रहे हैं. इंडिया की ब्लू फिल्म हिंदी मेंपर मैं ये भी सच रहा था कि ये सब होगा कैसे … उनके साथ तो अंकल और उनकी बेटी भी आ रही है.

उसकी चूत से लगातार पानी निकला जा रहा था और वो पहले तो कसमसा रही थी. डिवोर्स के बाद में बिल्कुल अकेला महसूस करने लगा हूँ क्योंकि जिसे रूटीन में चूत लेने की आदत हो वो कैसा महसूस करेगा ये तो आप समझ सकते हो. जैसे ही वो झुकी तो पीछे से मैंने उसकी चूत में लंड को डाल दिया और उसकी चूत को चोदने लगा.

”उसने मम्मी को उठाया और बैडरूम में ले जा के बिस्तर पे पटक दिया।दामाद ने अपनी सास की सलवार फाड़ दी और सास के नंगे जिस्म के ऊपर चढ़ गया।वो मम्मी की चूचियाँ चूसने लगा।मत करो, छोड़ दो मुझे, मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ. वो बोली- आज तुम बिना कंडोम के करो … और अपना पानी मेरे अन्दर ही डाल देना.

अन्तर्वासना पर बहुत सी कहानियां मस्त और गर्म होती हैं, बहुत सारी कहानी झूठी भी रहती हैं … मगर उनमें भी इतना सेक्स भरा रहता है कि लंड खड़ा हुए बिना रहता ही नहीं है.

गुर्र … !”अचानक ही मेरे लिंग पर वसुंधरा योनि की पकड़ बहुत ही सख़्त हो गयी और फिर वसुंधरा की योनि में जैसे काम-ऱज़ की ज़ोरदार बारिश होने लगी और इस के साथ ही वसुंधरा की आँखें उलट गयी और वो बेहोश सी हो गयी. इस बार आलिया उछल उछल कर चुदवा रही थी और दीदी चुदाई रिकॉर्ड कर रही थीं. फिर दीदी ने एक जबरदस्त अंगड़ाई ली और उसके दोनों दूध हवा में लहराने लगे.

न्यू बीएफ दिखाओ कहीं डैड को पता चल जाता कि हम भाई-बहन मिलकर…मैं- डैड ने क्या बोला?चित्रा- तुम्हारी शादी जल्द होगी. मैं लगातार उसकी चुत की कुटाई कर रहा था, जिस से वो एक बार फिर जोश में आ गयी और मेरी ताल से ताल मिलाने लगी.

इधर संजय मेरी चूत की फांकों को फैलाकर उस पर अपने लंड को रगड़ने लगा था. वो मेरी मादक कराहें सुनकर और जोर जोर से मेरी चुत को चूसे जा रहा था. मैंने कहा- ठीक है, चलो!मेरी आँखों में तो वही बस वाला ही लम्हा आए जा रहा था कि कैसे मैं आंटी के इतने करीब था यार!पूरे रास्ते मेरे दिल में सिर्फ और सिर्फ आंटी ही का ख्याल रहा.

सेक्सी चौधरी वाली

मैं एक जेल दे रही हूँ, इसे वजाइना के अन्दर लगाइये, आराम मिलेगा, मसल्स सॉफ्ट हो जायेंगी. (वैसे दंगल से मुझे याद आया आपने मेरी पिछली कहानीहोली में चुदाई का दंगलपढ़ी होगी. और अपने फोन में व्यस्त हो गयी।थोड़ी देर बाद मुझे मेरे बॉयफ्रेंड करन का फोन आया तो मैं बात करने दूसरे कमरे में चली गयी।जब बात कर के मैंने फोन काटा तो तो मुझे बाहर हाल में लड़कों के हंसने की आवाज आई तो मैं समझ गयी कि तन्वी के दोस्त आ गए हैं.

उसकी टांगें काँप रहीं थीं और मुझे भी अंदाजा हो गया था कि अब ज्यादा देर नहीं टिक पाऊँगा इसलिए मैंने ताबड़तोड़ धक्के देने शुरू कर दिए।रोजी के मुँह से मम्म्म उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआह्ह ह्ह्ह की आवाजें निकलने लगीं थीं. उसे दर्द हुआ तो मैंने उसे बोला- बोल न … अक्षय का लन्ड लेगी चूत में?तो वो बोली- हाँ मुझे इससे भी चुदना है।यह सुनकर मेरा लन्ड अपनी असली औकात पर आ गया तो मैंने नीलू की चूत में जोर जोर से धक्के देने शुरू कर दिया और नीलू जोर जोर से चीखने लगी.

वो हंस कर बोली- अभी मन नहीं भरा क्या?मैंने भी बोल दिया कि जब दो दो माल सामने नंगे हों, तो मन कैसे भरेगा.

उसके हाथों की मुट्ठियों ने बिस्तर की चादर को भींच कर चुत की कसमसाहट दिखा दी. हां जीवन में मैंने बहुत सारी लड़कियों के लबों को महसूस किया है, पर इस बार जो अहसास मेरे अंतर्मन को हुआ, वो सच में अवर्णनीय है. उन्होंने मेरे चेहरे को ऊपर उठाया और कहा- तुम बहुत सुन्दर हो मल्लिका.

मैं- कैसा है चोदने में … मज़े देता है तुम्हें?आदी- हां दीदी … उससे तो मुझे बहुत मज़ा आता है … वो प्रीत भैया से भी अच्छा चोदता है. चलते चलते उसने विशाल का वो छोटा तौलिया मुस्कुराते हुए उठाकर धुलने वाले कपड़ों में रख दिया. कुछ देर बाद नीतू ने मुझे सिगरेट जला कर दी और बोली- जानू मैं आपसे शादी करना चाहती हूं.

तभी मैं ‘आह हह अह हहह माँ की चूत तेरी … तनु बहनचोद साली … मैं झड़ रही हूँ साली … मेरी रांड है तू मादरचोद … आअह अह्ह ह्हह … रंडी मेरी … आह ह्ह्ह अह ह्ह्ह ह्हह’ करते हुए झड़ने को हुई.

हिंदी में बीएफ भेज दो: पर बाद में उन्होंने बहुत मस्त मजा लिया डॉगी स्टाइल में! पूरा रूम हमारे सेक्स की वजह से मस्त हो गया था।और ओरल सेक्स में हमने स्टैंडिंग, 69 और 68 सभी पोजीशन में सेक्स किया. अब वो मेरे बूब्स बहुत ज़ोर से दबा रही थी जिस वजह से मेरी आवाज निकल रही थी तो उसने मेरे होंठों को अपने होंठों से बंद कर दिया और मुझे किस करने लगी.

पर यह बेकार कोशिश थी, उसे कोई असर नहीं पड़ा। वह हौले हौले मेरी गांड की शेप को नापता रहा. वहां आज हम दोनों नंगी थी और एक दूसरे से लिपटी हुई थी कि अचानक वहां तनु आ गयी और उसने हम दोनों को ऐसे नंगी हालत में देख लिया. मैं उसे देख कर आश्चर्यचकित होकर उसकी ओर बढ़ा … और पलंग पर जाकर उसके पास बैठ गया.

मुझे उसका स्वाद अजीब लगा लेकिन मैं रोजी की ख़ुशी के लिए उसे चाट गया।अब मैं रोजी के बगल में लेट गया.

वो बोला- साली तू कौन है, इससे पहले मैंने इतने सेक्सी अंदाज में किसी लड़की की गांड नहीं चोदी है. रोहण की तरफ से हरी झंडी मिलते ही मैंने अपने एक कॉलब्वॉय सुहास से बात की और उसको कैलीफोर्निया चलने के लिए कहा, जिसके लिए वो राजी हो गया. अब मुझे सच में दर्द हो रहा था मगर मैं फिर भी बर्दाश्त कर रही थी क्यूंकि ऑफिस में ऐसे किसी ने मेरे साथ कभी नहीं किया था.