सेक्सी मॉम बीएफ

छवि स्रोत,इंडियन देसी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़कियों की बीएफ हिंदी: सेक्सी मॉम बीएफ, लेकिन उसके सीने पर जब मेरी नजर जाती है, तब उसकी सुंदरता, उसके 34B के लाजवाब चूचों की वजह से और उभर कर नजर आती है.

सेक्सी फोटो एक्स एक्स एक्स

मोसी शायद गहरी नींद में थीं, तो मैंने धीरे से मोसी के दूध को दबा कर देखा … रुका, फिर दबाया. ভাই বোনের চোদাচুদি ভিডিওचूंकि रात में मैंने पापा के लंड चूत चुदाई करवाई थी तो लंड आसानी से अंदर चला गया.

वन्दना ने मेरा पेग उठाया और उसमें अपने दोनों चुचे डुबो दिए और उन्हें मेरे मुंह में देने लगी. क्सक्सक्स वीडियो इंडियनअब मैं किसी भी आंटी की गांड और चूची देखकर उसके बारे में सटीक अंदाजा लगा लेता हूं.

फिर हम वापस गाड़ी से झील के किनारे किनारे लगभग 1 किलोमीटर दूर आ गए थे.सेक्सी मॉम बीएफ: फिर सुनीता मेरे लंड को चूस कर साफ करने लगी और सरोज भाभी ने सुनीता की चूत को चाट चाट कर साफ कर दिया.

कह कर मधुर हंसने लगी।मुझे कुछ समझ नहीं आया। पता नहीं मधुर क्या बताना चाह रही है।फिर पता है सानिया ने क्या बोला?”क्या?”वह बोली- दीदी … आप मुझे भी अपने पास यही रख लो। मैं रोज घर का सारा काम भी कर दूँगी और रात को आपके पैर भी दबा दिया करुँगी.अब मैं उसके होंठ के ऊपरी पंखुरी को चूस रहा था और अपनी टांग के घुटने से उसकी टांगों के बीच उसकी चुत को रगड़ राग था.

एक्स एक्स एक्स भाभी की चुदाई - सेक्सी मॉम बीएफ

उन्होंने कहा- दीपू प्लीज, मैंने आज तक तेरे चाचा को अपनी गांड टच भी नहीं करने दिया … इसलिए तुम प्लीज़ आराम से करना.मैं- आअह्ह्ह … मजा आ गया बॉस … क्या कड़क लंड है आपका!विनय भी पूरा नंगा हो गया और नीचे बैठ कर मेरी गांड चाट रहा था.

मैं ज्यादा कुछ बात नहीं कर पाई मामी से … बस जल्दी जल्दी खाना खाकर कमरे में चली आयी. सेक्सी मॉम बीएफ जैसे ही उसकी वासना की चिंगारी सुलगती है वह निहायत ही बेशर्म बन जाती है.

एक पल रुकने के बाद उसने घूमकर मेरा लंड मुँह में लिया और जोर जोर से चूसने लगी.

सेक्सी मॉम बीएफ?

वो मुझसे पूछ रही थी- क्या तेरा कोई बॉयफ्रेंड है?पहले तो मैं मना करती रही पर उसके बार बार पूछने पर मैंने सब उसको बता दिया कि क्या क्या मेरी जिंदगी में हुआ।वो भी सुन के दंग रह गई।उसने भी अपने बॉयफ्रेंड के बारे में सब बताया. मैंने जीजा से उनकी शर्त के बारे में पूछा तो वो कहने लगे कि तुमको मेरे सेठ दोस्तों से चूत चुदवानी होगी. वाइन की बोतल को उठा कर उसने सीधे ही अपने मुंह से लगा लिया और एक बार में जितनी वाइन गटक सकती थी गटक गई.

उसका लंड भी मुझे चूसना पड़ा नहीं तो मैनेजर हमें रूम से बाहर कर देता. फिर मैं मामी के किचन से निकलने के बाद उन्हीं के पीछे पीछे लगा रहूंगा. वो बोला- इतनी जल्दी क्या है … मुझे इनका साइज तो नाप लेने दो … ताकि अगली बार मेरा गिफ्ट ज्यादा टाइट न हो.

उठ के कुहनियों के बल हो गयी और शिकवे के अंदाज़ में बोली- राजे मैं अब तेरे से नाराज़ हूँ … तूने मेरे साथ भेद भाव किया मादरचोद!मैंने मुस्कुराते हुए पूछा- क्या हुआ मेरी जान? क्या गुस्ताखी हुई इस ग़ुलाम से रानी जी की शान में?साले … सब रानियों को चुदाई के बाद चूत चाट के सफाई करता है … लंड चटवा के साफ़ करवाता है … बहन के लंड मेरी चूत को तौलिये से क्यों साफ किया? न ही हरामज़ादे ने लंड साफ़ करने का मौका दिया. वो थोड़ी देर रुक गया और जब मेरा दर्द कम हुआ, तो उसने धक्के मारने चालू कर दिए. उस समय मेरी उम्र 21 साल की थी जब मैं दो दो लौड़े एक साथ मेरी चूत ओर गांड में ले लेती थी.

उसे खुद हैरानी हो रही थी कि वह अपने पति से इतना गन्दा कैसे बोल गयी।नीलम तुम इतना गिर सकती हो, मैं सोच भी नहीं सकता!” समीर ने गुस्से से अपनी पत्नी को देखते हुए कहा।अभी तो शुरुआत है मेरे पति देव. थोड़ी देर बाद मैंने उसे खड़ी होने को कहा तो वो बोली- रोक क्यों दिया जीजू? बहुत मजा आ रहा था तुम्हरा केला चूसने में!मैं बोला- डार्लिंग, मुझे भी तो तुम्हारी चूत के पानी को चखना है.

उनके बुर चाटने से ही मुझे ऐसा लग रहा था कि उनको चुदाई का कितना तजुर्बा है।मुश्किल से दो मिनट में ही मेरी बुर ने पहली बार पानी छोड़ दिया।वो फिर भी नहीं रुके और लगातार बुर की चुसाई चालू रखी।मुझसे तो बर्दाश्त ही नहीं हो पा रहा था, मैं अपने पूरे शरीर को बिस्तर पर यहाँ से वहाँ पटक रही थी.

जिसके कारण वो लोग भाग गये और वो मेरे साथ छेड़खानी के अलावा कुछ नहीं कर पाये.

मैं ना तो कहना नहीं चाहता था, फिर भी मैंने उनके ऊपर छोड़ दिया कि आप जो कहेंगी, मैं वही करूंगा. शान ने हाथ बढ़ा कर माँ की ब्रा को खींचते हुए फाड़ दिया और उनको अपनी तरफ खींच लिया. इस बार वो आई और मेरे पर जंगली बिल्ली की तरह झपट पड़ी और जोर जोर से मुझे चूमने लगी.

उसने फिर से मेरे पीठ पर नाखून गड़ा दिए, लेकिन मुझे कोई फर्क नहीं पड़ा … क्योंकि इस समय मुझ पर तो एक अलग ही जुनून हावी था. फिर भाई ने मेरी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रखा और मेरे पैर को चाटने लगा. मोसी की सफाचट चुत देख कर मैं किसी पागल कुत्ते की तरह उस पर टूट पड़ा और चुत चूसने लगा.

कुछ देर बाद मैंने देखा कि उसे ठंड लग रही थी और शायद वो चादर लाई नहीं थी.

अक्सर हम दोनों किसी पार्क में जाकर बैठ जाते हैं और काफी देर तक बात करते रहते हैं. हम दोनों उनके घर के अंदर गए … अंदर जाते ही सर बोलने लगे- मेघा … तुम मेरे से नाराज हो क्या?नहीं तो सर!”तो कुछ बात क्यों नहीं कर रही हो?”कुछ नहीं!”कल रात के लिए सॉरी मेघा … मुझे माफ़ कर दो!”ऐसे मत कहिये सर!”प्लीज मुझे माफ़ कर दो!”आप ऐसे मत कहिये बार बार सर!”रुको … अभी आता हूँ मैं … दरवाजा बंद कर दूँ ज़रा!”वो वापिस आये और फिर से सॉरी बोलने लगे. आशीष ने बताया कि जिस त्रिपाठी परिवार में शिल्पा दीदी बहू बनकर जा रही थी उनका आशीष के घर में भी निमंत्रण और आना जाना था.

तभी मेरी नजर भाभी जी की तरफ गई, तो वो बड़ी बेचैनी से मेरी तरफ देख रही थीं. तुम जानते हो होटल में …मेरे इतना कहते ही वो समझ गया कि मेरे कहने का क्या मतलब है. बॉस- ले साली और तेज तेरी गांड और चूत दोनों में लंड घुस रहे हैं साली रंडी.

मैंने उसके चूचों को जोर से दबाया तो उसके मुंह से सेक्सी आवाजें निकलने लगीं.

मुझे चाची की कुंवारी गांड मारने को मिलेगी, ये सोच कर मेरा लंड झूम उठा था. मुझे तो चूत में उंगली करने में मजा आता है लेकिन फिर मैं लंड लेने के लिए सोचने लगी.

सेक्सी मॉम बीएफ ”अरे … मैं छोड़ दूंगा ना!”रहने दीजिये ना सर!”मैं आ रहा हूँ … साथ चलेंगे कॉलेज. मैंने मां से कहा- मां मुझे पैसे की जरूरत नहीं है, मगर जो मैं मांगने जा रही हूं उसके सामने मेरे लिए पैसा कुछ भी नहीं है.

सेक्सी मॉम बीएफ पर छाया नहीं होती तो शायद मैं भी नहीं होता क्योंकि माँ पिताजी के सेक्स से खुश थी और उन्हें सच्चा सेक्स मिला भी नहीं था और उन्हें ढूंढना भी नहीं था. खैर हमें उससे कोई लेना-देना नहीं था, हम तो बस उन लोगों के झुंड से पीछा छुड़ाना चाहते थे.

और उसका हाथ पकड़ के अपने दायें बूब पे रख दिया।सचिन को शायद एक करेंट सा लगा पूरे जिस्म में मुझे वहाँ छू के।फिर उसने अपनी हथेली खोल के पहले तो पूरा गोल गोल हाथ फिराया मेरे दायें वक्ष यानि बूब पे और फिर भोंपू की तरह दबाने लगा.

देहाती भाभी के

पता नहीं अचानक उनको कहां से होश आ गया या पता नहीं क्या हुआ था, वो मुझे और आगे करने से मना करने लगीं. फिर उसने खुद ही मुझे पकड़ कर अपने ऊपर कर लिया और अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत पर लगवा लिया. भाभी ने मेरे हाथ में तीन हजार रूपये थमाते हुए कहा- ध्यान रखना मेरी बच्ची का.

यार क्या मस्त माल थी वो … मैं आपको बताना भूल गया उसकी 36 साइज की चूचियां बड़ी ग़दर हैं. मैंने भी मौके का फायदा उठाया और उसकी पत्नी के बूब्स को चूसना शुरू कर दिया. उसने मेरे होंठों को छोड़ कर मेरी आंखों में देखते हुए कहा- राज, तुम इतनी सेक्सी कहानियां लिखते हो, मुझे तो यकीन नहीं हो रहा! उस दिन जब तुमने मेरी ब्रा में अपना माल छोड़ा तभी से मेरी चूत तुम्हारे लंड के नाम से गीली होने लगी थी.

मन तो किसी चीज में लग नहीं रहा था, बस आज दिनभर की घटना सोच-सोच कर चूत परेशान किए जा रही थी.

अब प्रिन्स ने खुल के नीता की हिप्स कमर और कंधों की मसाज करना चालू की. पापा का लंड मेरी चूत में अंदर जाकर मेरी चूत की दीवारों को अंदर तक हिला रहा था. क्या हुआ, जब सारिका ने मुझे देखा … ये चुदाई की कहानी मैं जल्दी ही भेजूँगा.

यारो, चूसने में चूसने में ये टीवी वाली लड़की इतनी माहिर होगी इसका मुझे गुमान न था. उनका लंड नीचे से कमाल दिखा रहा था और वो ऊपर अपने हाथ और मुँह से मुझे मजा दे रहे थे. हम दोनों ने गाड़ी में एक बार 2-3 मिनट तक चुम्बन किया और घर की ओर चल पड़े.

आधे घंटे की चुदाई में वो दो बार झड़ी और फिर उसके बाद मैं भी झड़ गया. फिर जब क्लास खत्म हुई तो सबके जाने के बाद वो मेरे पास आई और मुझे थैंक्स बोलते हुए हग करने लगी.

सामने संजय का लौड़ा तो फनफनाते ही जा रहा था और दूसरी तरफ संदीप का लंड पैंट में ही फुंफकारने लगा था. इस बार वो आई और मेरे पर जंगली बिल्ली की तरह झपट पड़ी और जोर जोर से मुझे चूमने लगी. केवल अशीष ने जब पहली बार चोदा था तो उसने सीधे कहा था कि बंध्या तेरी सील टूटी हुई है.

उसने मुझे दो बार यूं घूरते हुए पकड़ लिया था, फिर भी वो मुझे अनदेखा कर गई.

तुम्हारा लंड बहुत मोटा और लम्बा है, ये तो मेरी जान ले लेगा … मुझे बहुत डर लग रहा है. चूत में घुसा हुआ लंड भी अब अन्दर बाहर हो था और गांड में घुसा लंड भी. बुआ की चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ काफी दिनों से बुआ ने लंड नहीं लिया था.

धीरे धीरे लग रहे झटकों के साथ लंड ने उसकी चूत में जगह बनानी शुरू कर दी. लंड मसलने से मुझे भी मजा आने लगा था और मैंने भी उसकी चूत के दाने को रगड़ने की स्पीड बढ़ा दी.

मैंने पूरा लंड एक झटके में ही भाभी की चूत में घुसा दिया और मैं एकदम से उसकी चूत में झड़ने लगा. शबनम ने पिंकी से कहा- तू धीरज को संभाल लेना, वो कब हाथ अंदर डाल दे, पता नहीं. पर लंड की चाहत एसी होती है कि चाहे सांस बंद हो जाए जब तक वो चूत चोद नहीं लेता, दोनों में से कोई रुकता नहीं.

सेक्सच्या

पर मैं कैसे बोलूं कि बहुत अच्छा लग रहा है मुझे।पर अचानक मेरा शरीर अकड़ने लगा और उन्होंने मुँह हटा कर कस के चूत का मुँह अपने हाथ से दबाकर बन्द कर दिया और अपने होंठों से मेरे होंठ बन्द कर दिए।अपनी ही चूत की खुशबू मुझे मदहोश कर रही थी। होंठ से होंठ लगे हुए थे, हमारी सांसें लड़ रही थी।और अचानक उनका लन्ड मेरी चूत के होंठ चूमने लगा। वो मेरे होंठ छोड़ ही नहीं रहे थे.

उन्होंने मुस्कुरा कर मुझे देखा और पूछा- दो दो लंड एक साथ लगी रंडी?मेरी ख़ुशी का तो ठिकाना ही नहीं था. कभी वो लंड पर नीचे ऊपर तक जीभ फिराती, तो कभी वो सुपारे के चारों ओर जीभ घुमाती. मम्मी- तुम कहां हो?मैं- अभी कॉलेज से निकली हूँ … राहुल के घर जा रही हूँ.

आज जब से मैंने उसके ब्लाउज में उसके भरे हुए स्तनों को देखा है तब से ही अंदर एक आग लगी हुई है. महेश के धक्के अब तेज़ होते जा रहे थे और शायद महेश भी झड़ने वाला था. क्सक्सक्स विइस तरह हम दोनों में बड़े ही कम समय में एक दोस्ताना रवैया बन गया था, जोकि एक परफेक्ट सेक्स के लिए बहुत जरूरी होता है.

मेरी बहू मेरे बालों को सहलाते हुए बहुत ही धीमी आवाज में बोली- पापा, आप बहुत अच्छे हो। आज आपने मुझे कली से फूल बना दिया. पहले दर्द में गालियां देने वाली भाभी अब मुझे प्यार से देखे जा रही थीं.

उन्होंने बोला- झूठ मत बोल … मैंने खुद कई बार तुझे ऐसा देखते हुए देखा है. काफी देर तक होंठों को चूसने के बाद उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया. सच कहूं तो उस वक्त मेरा भी मन लंड चूसने का हो रहा था, लेकिन मेरे दिमाग ने मुझे इस बात की इजाजत नहीं दी.

नेहा ने बोला- साली कुतिया ऐसे कैसे डाल देगा … पहले इसके लंड को चूस तो … और सुन तुझे ये अपना बेटा दिख रहा हो, तो भूल जा कि ये तेरा बेटा है. पहले तो उसने मना किया, लेकिन दुबारा कहने पर थोड़ी देर लौड़ा भी चूसकर गीला कर दिया. मैंने उसकी तरफ देख कर चूत पर हाथ फेरा, तो वो बोली कि इधर के बाल कल सुबह ही साफ़ किये थे.

थोड़ी देर बाद मैंने अपनी स्पीड बढ़ा ली और चाची अम्म … अम्म … अहह … जैसी सिसकारियां लेने लगीं.

उसको दर्द हो रहा था मगर मैंने उसका मुंह अपनी तरफ कर लिया और उसके होंठों को चूसने लगा. ‘उम्माह … उम्म …’वो भी मेरा साथ देने लगी और फिर हम दोनों अलग हो गए.

वो खड़ा हुआ और केबिन के बाहर झाँक कर इधर उधर देखता हुआ मेरी सीट पर आकर बैठ गया. अगले दिन हम दोनों ने प्लान बनाया कि बाहर चलेंगे घूमने … फिल्म देखेंगे, शॉपिंग करेंगे. मैं उन्हें अपने जिस्म से लिपटा कर प्यार करने लगा, किस करते हुए उनके मदमस्त मम्मों को दबाने लगा.

मैंने कुछ सोचा और बोला- नहीं मुझे वहां नींद नहीं आती … मैं अकेले सोऊंगा. पिछले आधे घंटे से मैं बेड के बीचों बीच घुटने मोड़ कर बिल्कुल नंगी बैठी थी. सोनिया- नहीं … अभी एक ही हाथ से दबाओ और एक हाथ से मेरी चूत को मसलो … बाद में मेरी चुचियों को, दोनों हाथों में भर भर कर प्यार कर लेना.

सेक्सी मॉम बीएफ दोस्तो, ऐसे ही दिन निकलते गए और साथ बैठ टाइम निकलते गए, पर अब मुझसे रुका नहीं जा रहा था. मिट्टी के हर टीले पर इधर-उधर काफी कपल्स बैठे हुए थे, जो एक दूसरे की बांहों में बांहें डाल कर बैठे थे.

इंडियन राजस्थानी बीएफ

Dost Ki Behan ko Chodaदोस्तो, जब एक औरत एक मर्द का लंड अपने मुख में लेती है तो आदमी सातवें आसमान पे होता है. लेकिन न मैं किसी के करीब गयी और न मैंने किसी को अपने करीब आने दिया. मम्म भाभी!” मेरे देवर अपने होंठों में मेरे होंठ कैद करके मेरे चुचों को मसलते हुए मुझे पुकार रहे थे, मैं सुन रही थी पर क्या करती … जो कर रहे थे करने दे रही थी।और अचानक देवर जी ने मेरा ब्लाउज और ब्रा फाड़ दी … साड़ी फेंक के मेरा पेटीकोट और पेंटी भी उतार दी और पीछे बेड पर धक्का दिया।मैं बेड पर गिर गयी जिससे मेरे पैर खुल गए और मेरी सूसू दिखने लगी.

उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लन्ड पर रख दिया तो मैंने उसका लन्ड सहलाना शुरू कर दिया. तभी मेरी नजर सब्जी की टोकरी में पड़ी, वहां पर मस्त लंड की साईज का काला लम्बा बैंगन देख कर मन मचल गया. सेक्सी वीडियो xxxxफिर वह दोनों एक दूसरे में बहुत समय तक इसी तरह खोए रहे और चुदाई चलती रही.

मैं मुस्कुराते हुए ड्रेस लेकर अन्दर चली गई और कुछ ही देर में ट्राई करके बाहर आ गई.

मैंने विजय को सारी बता दी कि कैसे आशीष और मैं बिना कपड़ों के पहली बार पकड़े गये और फिर कैसे आशीष ने सतना में पहली बार मेरी चूत की चुदाई की थी. वो मोना के माथे को सहलाते हुए बोलीं- आज बस थोड़ा सा दर्द ही होगा, उसके बाद तुम इससे चुदने के लिए तरसने लगोगी … खूब मजे करोगी.

मैंने उसे चूमने में सहयोग करते देखा तो उसके संतरे दबाते हुए उससे कहने लगा- रानी, मन तो तेरा भी मेरे लंड को चूसने के लिए था, फिर काहे नखरे दिखा रही थी. कुछ ही देर में जॉली की नाराजगी, उसके लंड से गहरा गाढ़ा रस बनकर निकलने को तैयार थी. पर अब दर्द एकदम से बढ़ गया और मैंने उसको छाती पे हाथ रख कर रोकने की कोशिश करी।उसने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- अभी रुक जाओ, दर्द हो रहा है बहुत।सचिन बोला- ज्यादा हो रहा है क्या?मैं बोली- हाँ काफी चीस हो रही है।उसने कहा- अब तो एक ही तरीका है फिर।मैंने कहा- क्या?उसने कहा- एक गहरी सांस लो!तो मैंने ली.

वहां पर सर्दी ज्यादा होने की वजह से मैंने और मेरी साली ने शराब के नशे में बरसों की अपनी दबी हुई वासना को शांत कर लिया.

अन्तर्वासना पर मैंने काफी सारी कहानियां पढ़ी हैं, तो मैंने सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी ज़िन्दगी के एक बेहतरीन लम्हे को सेक्स कहानी के जरिए आप तक पहुंचाऊं. मैं चिल्ला दी, पर मुझे ज्यादा दर्द नहीं हुआ … शायद नशे की वजह से ऐसा हुआ था. एक बार मेरी बात तो सुन लो प्लीज? जाने की लगी है आपको तो।मैं बोली- हम्म जल्दी बोलो?आकाश बोला- क्या आप मुझसे फ्रेंड्शिप करोगी, मेरे सब दोस्त कहते हैं कि मैं बहुत अच्छी दोस्ती निभाता हूँ।इधर सोनम ने फोन पे धीरे से कहा- थोड़े से नखरे करते हुए मान जा।तो मैंने थोड़े से नकली नखरे करते हुए आकाश के दोस्ती के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया।कहानी जारी रहेगी.

सेक्सी वीडियो हॉट देसीफिर भी पीठ तक आते रेशमी बाल गालों पर आती लटें, दमकता बादामी गोरा रंग, शर्माती लेकिन पलकें झुका कर बिजली गिराती निगाहें, पतले से नाजुक कातिल होंठों की वजह से मुझे देखने वाले लड़कों को अपने पैंट के भीतर ही लंड ठीक करना पड़ रहा था. मैंने देखा कि माँ की साड़ी का आंचल ढलक गया था और उनके ब्लाउज से उनको चूचियां बड़ी तेजी से उठ-बैठ रही थीं.

हिंदी में भाई बहन का बीएफ

फिर अभय ने मेरी चूत में नीचे हाथ ले जाकर देखा तो उसके हाथ में खून लग गया था. फिर वो सामने से उसके पेट और कंधों की मसाज करते हुए बूब्स पर जा पहुचा और बारी बारी से उसके बड़े बड़े बूब्स की मसाज करने लगा और बोला- भाभीजी, आपकी बॉडी बहुत मस्त है. फिर वो पूछने लगी- आप कितनी फीस लेते हो?मैंने सोचा- अगर अभी इनको सच बता दिया तो शायद भाभी मुझे देखते ही मना कर दे.

30 बजे थे। मेरा मन फिर से मचल गया मैंने निक्कू को थोड़ा और कन्वेंस किया। वो थोड़ा मान ही नहीं रही थी तो मैंने उसे मनाने के लिए उसे कहा कि रात को तुम्हें सर्दी लग रही थी तो मैंने वो सब कुछ किया जो तुम्हारे लिए जरूरी था. तभी पिंकी मुझे छोड़कर बाहर गयी, उसकी कामवाली आने वाली थी तो वो उसको देखने गयी और वापसी में फाटक भी लॉक कर आई. सुनीता का गेहुआं रंग था, पर उसके नैन नक्श इतने तीखे थे … जैसे कोई खजुराहो की कामुक देवी हो.

मुझे सीमा की चुत का पानी थोड़ा अजीब सा लगा, पर मैंने पूरा पानी पी लिया. देर न करते हुए मैंने एक और धक्का मारा और करीब दो इंच लंड और उसकी चूत में चला गया।वो चीख पड़ी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गयी मम्मी!मैंने उसके मुँह पर हाथ रख दिया। वो जोर जोर से चिल्लाना चाहती थी। जिसका असर ये हुआ कि उसने मेरा हाथ काट लिया। उसके दांतों के निशान मेरे हाथों पर पड़ गए थे।मैं कभी उसकी चूचियाँ दबाने लगा तो कभी उसके पेट को सहलाने लगा. फिर भी मैंने कभी मेरे इस ख्याल को कभी रिया या किसी और के सामने उजागर नहीं किया था.

धीरे धीरे बिना रुके ही मैंने पूरा लंड उसकी गांड में उतार दिया और उसको होंठों को अपने होंठों से दबाये रखा. वो दीवार से टेक कर खड़ी हो गयी और मैंने उससे सटते हुए उसके रसीले होंठों को पीना शुरू कर दिया.

दीपा मनोज अपने कमरे में गए और सुनील को बोल दिया- ड्रिंक करेंगे, तुम भी रूम में आ जाना कपड़े बदलकर!मनोज ने रूम में पहुंचकर दीपा पर चुम्बनों की बरसात कर दी.

अब सुनील के पैर दीपा के पैरों को सहला रहे थे और सुनील बार बार अपनी चम्मच से दीपा को कुछ न कुछ खिला रहा था. नंगी सेक्सी वीडियो चुदाईमैंने बोला- आपको कैसे पता?भाभी गांड उठाते हुए बोलीं- मैंने तुम दोनों को किस करते हुए देख लिया था. सेक्सी ब्लू पिक्चर एचडीलेकिन भैया ने मेरे दोनों हाथ पकड़ रखे थे और भाबी ने मेरा सिर अपनी बुर में घुसाया हुआ था. आपको मेरी हिंदी देसी सेक्स कहानी पर कुछ कहना हो तो प्लीज़ मेल जरूर कीजिएगा.

महेश अपनी बहू की बात सुनकर कमरे से निकल गया। महेश के जाते ही नीलम ने अपने कमरे का दरवाज़ा अंदर से बंद कर दिया और बेड पर जाकर लेट गयी।महेश अपनी बहू के कमरे से निकलकर अपने कमरे में जाने लगा कि अचानक उसके दिमाग में न जाने क्या ख्याल आया और वह अपनी बेटी के कमरे की तरफ मुड़ गया।महेश ने अपनी बेटी के कमरे के पास आकर जैसे ही दरवाज़े को धक्का दिया तो वह अपने आप खुल गया.

उसका लंड दीपा ने मुंह से निकाला और अपने मम्मों पर सारा माल गिरवा दिया. उसकी चूत से पानी निकलने के कारण उस आंटी की चूत बिल्कुल गर्म और चिकनी लग रही थी. मेम बोलीं- हां मेरी जान, आ जाओ और जल्दी से मेरी चूत में अपना मूसल लंड पेल दो.

परी मैम अपने चूतड़ों को उठा कर मेरे लंड को अपनी चुत में लेने की नाकाम कोशिश कर रही थीं. मैंने कहा- नहीं तो, मैंने क्या झूठ बोला तुमसे??उसने कहा- बिल्कुल बोला है, तुमने कहा था कि तुम कभी भी किसी लड़की के साथ रिलेशन में नहीं रहे हो. पर मैं कहां सुनने वाला था … मैंने उसके ऊपर 69 में आकर उसके मुँह में अपना लंड दे दिया, जिसे वो लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

हिंदी सेक्सी हिंदी सेक्सी ब्लू

अब भाई ने उस रस्सी को बेड के साथ बांध दिया और फिर मेरे पास आकर नीचे से मेरी टीशर्ट को भी निकाल दिया. फिर भी आंटी की सेक्सी बॉडी की चाह में मैंने हां कह दिया- सोच लिया … मैं तैयार हूँ. मेरा ऐसा करने का कभी मन नहीं था मगर माहौल ही कुछ ऐसा बना कि ये सब हो गया।दोस्तो, आगे की रीयल सेक्स कहानी अब सुखविन्दर की हिसाब से पढ़िए।दोस्तो, मैं मुस्कान को अगल कमरे में छोड़ पूजा के पास आ गया और कमरे का दरवाजा बंद कर पूजा के पास गया.

उसके दिमाग में केवल यही विचार आते थे कि कैसे अंकित उसके शरीर के ऊपर आकर उससे प्यार कर रहा था.

पच-पच की आवाज के साथ दो मिनट बाद तक वो मेरी गीली चूत को चोदते रहे और फिर वो भी मेरी चूत में पिचकारी मारते हुए मेरे ऊपर निढाल हो गये.

भाभी की चूत को ऊपर से नीचे की ओर चाटने के क्रम में मैंने अपनी जीभ भाभी की चूत में डाल दी. सर बहुत खुश थे- ओह मेघा … क्या चूत है तेरी!स्स्स्स स्स्ससर … बहुत मजा आ रहा है … तेज तेज कीजिये! उम्मम्मह म्मम!”सर ने तेज तेज धक्के लगाने शुरू कर दिए. सेक्सी तेलुगूमुझे पूरा यकीन है आप लोगों का हाथ अपने आप अपने लंड पर चला गया होगा.

मेरे ऐसे करने से वो आ आ आ आह करके झड़ गयी और उठ कर वन्दना के पीछे जाकर उसकी चूत चाटने लगी. उन दोनों के जाने के बाद कोमल की सहेली ने कोमल से कहा- तुझे तो परमीत को लंड चुसाना था ना, तो उसके लिए तुमने संजय को ही क्यों चुना, तू ये काम संदीप से भी तो करवा सकती थी. हमारी आंखों के सामने पत्नियों के बदन की मालिश होते हुए देखना भी सुखद अनुभव था.

” नीलम ने फिर से सिसकते हुए कहा।नीलम को अपने पूरे शरीर में एक अजीब किस्म के मज़े का अहसास हो रहा था, उसे खुद पता नहीं था कि उसके ससुर में क्या जादू है… जब भी वह उसके जिस्म को छूते हैं तो वह सब कुछ भूलकर उसका साथ देने लगती है।महेश अब मज़े से अपने लंड को अपनी बहू के चूतड़ों में धक्के मार रहा था। ऐसा करते हुए महेश को जन्नत का मज़ा आ रहा था। इधर नीलम की चूत भी गीली हो चुकी थी. चाची बहुत चिल्ला रही थीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ शायद चाचा की लुल्ली काफ़ी छोटी होगी, इसलिए चाची की चूत बहुत टाइट थी.

अब मुझे भी अच्छा लगने लगा और फिर पापा ने एकदम से मेरे टीशर्ट के अंदर मेरी चूचियों के अंदर हाथ डालकर उनको दबाना शुरू कर दिया.

उसकी आवाज सुनकर मैं होश में आया और मैंने कहा- हां हां, मैं नहा लेता हूँ. फिर वो बोला- लेकिन बंध्या, जब तुमने मेरे अलावा कई मर्दों के साथ सेक्स कर ही लिया है तो फिर तुम्हें मेरी एक बात और माननी पड़ेगी. मैं नहाने चला गया और नहा कर 10 मिनट बाद बाहर आया, तो दोनों खाने की टेबल पर मेरा इंतजार कर रही थीं.

मालकिन को चोदा उषा बोली- प्रीति, जीवन में औरत को जब पूरा प्यार नहीं मिलता तो किसी ना किसी से प्यार पाने की इक्षा मन में जाग जाती है. मैंने डॉक्टर से पूछा- इनको सख्त बनाये रखने के लिए क्रीम से मसाज करती हो क्या?वो बोली- यस!तब मैंने उसके चूचों को अपने हाथ में लेकर देखा.

अबकी बार उसकी गांड के छेद में सुपारा एक इंच तक घुस गया लेकिन वो उछल पड़ी. उनके गोरे गोरे मम्मों पर एकदम गुलाबी निप्पलों की झलक पाते ही मेरा लौड़ा टनटनाने लगा. कुछ देर में किशोर ने खाने पीने का इंतजाम किया और फिर वो अपने रूम में चला गया.

logmanager सेक्सी बीएफ

मैं मामी को चूमाचाटी करते हुए बोलूंगा- नहीं मामी अब क्यों रुकूं, उस टाइम मैं छोटा था, ज्यादा आपके इशारे नहीं समझ पाया था. कोई दस मिनट बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ, तब मैंने उनसे पूछा- मोसी में पानी छोड़ने वाला हूँ … क्या करूँ?उन्होंने गांड उठाते हुए कहा- अन्दर ही छोड़ो. मैंने उसके बालों में हाथ फेरते हुए उसके मुँह को अपनी चूचियों पर दबा लिया.

जब मैं चढ़ी, तो मेरी सीट वाले केबिन में पहले से दो गबरू जवान फौजी बैठे थे. खुश करने के लिए किसी लंबे मोटे लंड की ज़रूरत नहीं होती है …सामान्य 6 इंच का लंड भी खुशी दे सकता है.

मैंने पापा के लंड को अपने हाथ में ले लिया और उनके लंड को हिलाना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद मैं उठा और उसके बाद मैंने चाची जी की पूरी बॉडी पर किस किया. वो बोली- अरे राजा … धीरे चोदो यशिमा की चुत अभी नाजुक है, इसे तेरे लौड़े की आदत नहीं है, पहले इसे जगह बना लेने दे. थोड़ी देर साथ देने के बाद मोना बोली- छोड़ो … भाभी आ जाएंगी, तो लफड़ा हो जाएगा.

महेश ने अपना लंड हाथ में पकड़ा और उसका मोटा सुपारा ज्योति की चूत के मुँह पर टिका दिया. इधर मुझे फिर से चूत में खुजली होने लगी और सर का लंड भी खड़ाहोने लगा. मुझे कुछ शर्म आ रही थी और मैंने हाथों से बुर को छुपाने की कोशिश की पर उन्होंने मेरे हाथ को हटा दिया और मेरी चड्डी की इलास्टिक पकड़ के धीरे धीरे नीचे सरकाने लगे.

आप सभी को मेरी और मेरी माँ की चुत चुदाई की कहानी कैसी लगी, प्लीज मुझे मेल करना न भूलें.

सेक्सी मॉम बीएफ: सबको यह तो अंदाज था कि वहां मस्ती होगी, पर क्या होगा यह तय नहीं था. वो हल्के से मुस्कुराई और फिर से आंखें चढ़ा कर बोली- मुझे सब मालूम है कि तुम मुझसे क्या मांग रहे हो.

थोड़ी देर की चूमा चाटी के बाद वो घुटनों पर बैठ गयी और मेरे लंड से खेलने लगी. ” समीर ने अपने पिता के जाने के बाद बेड पर अपना माथा पकड़ते हुए कहा।डार्लिंग, ज्यादा मत सोचो, वरना सर में दर्द हो जायेगा। सच्ची में मुझे तो आज पता चला है कि चुदाई का असल मजा क्या होता है और बापू के साथ तो मुझे इतना मजा आया कि पूछो मत। मैं तो अपने ससुर की दीवानी हो गई। असली मर्द है वह. प्रतिस्पर्धा की इस दौड़ का फायदा उठाकर उन दोनों ने एक ही बिस्तर पर अपनी बीवियों के स्तनों को चूसा और उनकी चूत में उंगली की.

जेठजी कुछ देर तक मेरे चेहरे को देखते रहे और उस दौरान मैं हल्के हल्के से मुस्कुराती रही.

खाना होने के बाद वो मेरे ससुर को मिलने गया और वापस आकार मुझसे कहा- वो अब सो रहे हैं. मेरे पास बैठ कर बोली- अब एक बार 3 बजे दूध पिलाना है बाकी सारी रात हमारी है. मैं उसके होंठों को एक बार फिर से चूसने लगा और हाथ से उसकी चूचियों को सहलाने लगा.