बीएफ सेक्सी 4g

छवि स्रोत,सेक्सी फिल्म वीडियो में देखने के लिए

तस्वीर का शीर्षक ,

रंडियों का देह व्यापार: बीएफ सेक्सी 4g, कामिनी जोर से बोली- विवेक डाल दो!विवेक की जीभ अंदर बाहर हो रही थी, कामिनी कामुकता के सातवें समुन्दर में गोते लगा रही थी, उसने अपनी टांगें बिल्कुल फैला दी थी पंखें के परों की तरह से… विवेक उसकी गांड नीचे दबा दबा कर उसकी चूत चूसने में मग्न था.

सेक्स ओरिजनल

कुछ और दिनों में चाची ने मुझे चुत चुदाई का परफेक्ट खिलाड़ी बना दिया. सेकसी गुड नाईट शायरीदोस्तो, वो मेरी जिंदगी का सबसे हसीन दिन था, मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मेरी लाइफ में ऐसा दिन भी आ सकता है.

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि एक दिन एक कॉलेज गर्ल ने मुझसे मेरे बाइक पर लिफ्ट मांगी. प्रभा सटका मटकामैंने अपने दोनों हाथों की एक एक उंगली उसकी लेगी में फंसाई और उसे नीचे सरका दिया.

देखो लड़कियों की चुत दो चीजें पैदा कर सकती हैं, नंबर वन बच्चे और दूसरी चुदवा कर पैसे.बीएफ सेक्सी 4g: तो सबसे पहले एक लीगल डॉक्यूमेंट साइन होगा, जिसमें अगर तुम मुझे डाइवोर्स देते हो तो मुझे हर महीने पांच लाख रुपये और बीस प्रतिशत प्रॉपर्टी मेरे नाम करोगे.

भाभी ने उनकी बहुत सेवा की लेकिन उनको जरा भी आराम नहीं हुआ और इस वजह से वो बहुत दुखी रहने लगी.मैं अपने लिंग-मुंड को वहीं अटका छोड़ कर प्रिया के ऊपर लम्बा लेट गया.

फुल सेक्सी मूवीज - बीएफ सेक्सी 4g

मैं अन्दर ही अन्दर बहुत खुश हो गया और हम दोनों चाची के रूम में चले गए.अभी सिलसिला ऐसे ही चल रहा था कि तभी मेरे घर में रेंट पर रहने एक फैमिली आई.

रेड कलर की ब्रा और पेंटी उनकी लिपस्टिक में पूरी तरह से मैच कर रही थी. बीएफ सेक्सी 4g दो मिनट बाद मैं उसके लंड पर बैठ गई और गांड हिला के उसके लंड का मज़ा लेने लगी.

इस बार मैंने भी अपनी गांड थोड़ा पीछे की और करके थोड़ा ऊपर उठा दी ताकि उसकी उंगली को रास्ता मिल जाए.

बीएफ सेक्सी 4g?

मैंने समधी जी को नाश्ता दिया और उनके बगल में बैठ गयी, उनसे बातें करने लगी।वो मुझसे बोले- समधन जी, आप तो आज भी जवान हो!मैंने खुश होकर उनसे कहा- क्यों आप जवान नहीं हो अब क्या?वो हँसने लगे. मैंने उसे बिना कुछ दिखाए घोड़ी बना कर पीछे से लंड उसकी चुत में डाल दिया और उसकी जबरदस्त चुदाई चालू हो गई. खैर कोई बात नहीं, मैं सब ठीक करके उसी आदमी की माँ चोदूँगा और उससे आपके पूरे पैसे दिलवा दूँगा.

यारो… रानी के हर धक्के पर इधर उधर उछलते चूचे, रानी के बिखरे हुए बाल, उसके होंठों पर छायी हुई अनंत सुख की मुस्कान, लंड के अंदर बाहर होने पर फचाक फचाक फचाक की आवाज़ें और अलका रानी की ऊँची ऊँची आवाज़ में सिसकारियां इत्यादि सब मिल के वातावरण को अत्यधिक कामुक बना रहे थे. मेरे समझाने पर उसने लंड मुँह में लिया और जल्द ही वो मेरे लंड को किसी कुल्फी की तरह चूसने लगी. फिर मैंने लंड निकाल कर आंटी की फुद्दी पर थूक लगाया और लंड रख कर ज़ोर लगाया, लंड पूरा अन्दर चला गया.

बस एक इंच ही अंदर मेरी चूत में और घुसा लन्ड कि इतने में खिड़की से खट खट की आवाज आई. मैंने कहा- आंटी, आप तेल से मेरे लंड की मालिश कर दो, फिर आसानी से चला जाएगा. मैं जब टोकता तो बोलती- एम डी सर थे, इसलिये देर हो गई!शुरू शुरू में मैंने ध्यान नहीं दिया, धीरे धीरे रात को जब मैं सेक्स करने चलता तो वो कहती आज बहुत थक गई हूँ, तुम मेरे पैरों में तेल लगा दो, कल करेंगे!एक दिन मैं जल्दी आ गया और मेड चली गई थी.

मैंने पूछा कि सर आंटी (सर की वाइफ) दिखाई नहीं दे रही हैं?सर ने कहा- वो 2-3 दिनों के लिए अपने मायके गई हैं. हम दोनों एक रेस्तरां में मिले, वहां मैंने उनको दो-तीन शर्तें बोलीं.

अपने फ्लैट में पहुँचते ही वो कॉफी बनाने चली गई और मैं ड्रॉइंग हॉल में बैठ गया.

मेरी काफी नानुकर के बाद भी जब वो नहीं माना और उसने अपनी मजबूत बांहों में मुझे जकड़ लिया.

साला पाठा का लंड रबर ट्यूब की तरह था, न पूरी तरह कड़क ही था, न ही सुस्त. तो उस लड़की को मैं ना बुलाऊं ना?यह सुन कर उसका मुँह देखने लायक बन गया, वो बोला- जब तक शादी नहीं हो जाती, तब तक तो मुझे जो चाहूं करने दो ना. फिर अचानक उसके एक्स बॉयफ्रेंड को कहीं से पता चल गया कि रुचिका मेरे साथ चुदती है, फोन पर बात करती है.

अब मैंने उसकी कुर्ती उतार कर उसे ऊपर से पूरी नंगी कर दिया और मैंने उसे अपनी बांहों में भींच लिया. बिंदु बोली- ठीक है ज़रा सोचने दे, मेरी बूढ़ी चूत से तुम्हारा काम भी करवाती हूँ जिससे चुदाई भी आराम से हो और कहीं किसी को भनक भी ना लगे. मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा था कि कविता में इतना दम किधर से आ गया है.

एक दिन में जल्दी ऑफिस से कामिनी के ऑफिस पहुंच गया और बाहर वेट करने लगा.

सलवार-सूट पहनी लड़की में एक अलग ही बात होती है और गांव की लड़की के तो कहने ही क्या। वो पूरी बम पटाखा माल लग रही थी।जैसे ही वो घर के अन्दर आई. फिर जब कुछ दिनों के बाद जब लास्ट एग्जाम था तो मैं एग्जाम देने थोड़ी देर से पहुँची, एग्जाम ईज़ी था इसलिए ज्यादातर छात्र एग्जाम दे कर जा चुके थे. पर अगर मैं तुम्हें प्यार न दे सकूं, तो मुझे माफ़ कर देना, मैं तुम्हारे जितना प्यार शायद ही तुम्हें दे पाऊं.

रोशनी ने पिंकी से पूछा- तुम्हारा मटर का दाना कहां है?पिंकी ने अपनी चूत की ऊपर की परत को जरा सा फैलाया और एक छोटी सी लुल्ली जैसी शेप में मुझे कुछ नजर आया. अगले रविवार को उसने कहा- आज तुम मेरी गेस्ट हो और मुझे होटल में मिलना, हम दोनों वहीं पर लंच करेंगे और डिनर फिर तुम्हारे घर पर करेंगे. मैंने लाख कोशिश की कि उसका लंड तीसरी बार फिर से खड़ा हो जाए मगर वो ना हो पाया.

थोड़ी देर किस करने के बाद अचानक ही उसने मेरी साली के कुरते को ऊपर करके फट से निकाल दिया.

कुछ देर बाद उसकी चूची को दबाने के बाद मैंने उसको छोड़ दिया, फिर हम लोग ने किसी तरह से मूवी देखी. थोड़ी देर इसी तरह रगड़ने के बाद दीदी ने करेले की नोक अपनी चुत के छेद पे रखी और एक ही झटके में आधा करेला अपनी चुत में घुसा दिया.

बीएफ सेक्सी 4g थोड़ी देर चूमा चाटी के बाद मैंने उसके टॉप में हाथ डाल कर बहन के चूचे दबाए, जिससे उसको और भी मजा आने लगा. पायल बोली- वीशु, आप अपने लंड का बीज मेरी चूत में नहीं बल्कि मेरे मुँह में निकालना क्योंकि मैं तुम्हारा बीज पीना चाहती हूँ.

बीएफ सेक्सी 4g मैंने फिर उसकी चुत को इतना अधिक चाटा कि थोड़े ही समय बाद उसकी चुत से सफ़ेद गाढ़ा और लसलसा और चिपचिपासा पानी बाहर आ गया. हमारी ही बिल्डिंग में एक वाचमैन यानि चौकीदार था जो काफी हट्टा कट्टा और तगड़ा जवान था.

भले ही मैं सारी ज़िन्दगी उसे खुश करता रहूँ, लेकिन वो कभी भी इस चीज़ को नहीं समझेगी.

देसी लड़कियों का सेक्स

बिंदु बोली- मैं तुम लोगों के लिए कुछ ठंडा पीने के लिए अरेंज करवाती हूँ तब तक तुम दोनों यहाँ पर बैठ कर डीवीडी पर पिक्चर देखो. मैंने अंजलि के दोनों हाथ कस कर पकड़ लिए और उसकी स्कर्ट नीचे खिसका कर निकालने लगा. सुबह 5 बजे जब मेरी नींद खुली तो सोचा चलो थोड़ा घूमकर सुबह का आनन्द लिया जाए, सो बस मॉर्निंग वॉक पर निकल गया.

उसने मुझसे कहा- मेरी कोई जरूरत हो तो बताओ?लेकिन मुझे कोई दिक्कत नहीं थी, तो मैंने मना कर दिया. वो चोदू भी बड़े ही चाव से साली के चुचे चूस रहा था, जैसे बरसों का प्यासा हो और उसमें से दूध आ रहा हो. ” निकल गई।मैंने सोचा मेरी तेज आवाज से कहीं बच्चा ना उठ जाए। मुझे दर्द बहुत हो रहा था.

मैंने पिंकी की कमर के नीचे तकिया रखा और उसकी टांगों और गांड को ऊपर उठा कर नीचे न्यूज़ पेपर लगा दिया.

लगभग सुबह के 5 बजे थे तो उसका फ्रेंड बोला- यार मुझे 8 बजे की फ्लाइट लेनी है, मैं तो अब जाऊंगा. करीब दस मिनट दीदी की चुदाई में दीदी फिर से झड़ गईं और उनकी चुत में जलन होने लगी, उन्होंने मेरे लंड से खुद की चुत को अलग कर लिया. थोड़ी देर बाद मैं तेजी सेपूजा की गांड चोदने लगाऔर पीछे से मम्मों को पकड़ के मसलने लगा.

जब भी मैं घूम कर बहू से बात करती तो दूसरा हाथ भाई साहब की जांघों पर रख देती थी. कुछ देर बाद मैंने अपनी शोर्ट को नीचे खिसका कर अपना लंड बाहर निकाला और अपनी फुफेरी बहन के हाथ में थमा दिया. रोशनी ने कहा- ये चूत का पिक्चर सही से नहीं बनाया है, यहाँ दो नाम दिए हैं.

मैं बहुत ही धीरे से ये सब कर रहा था, जैसे कि मैं कोई ट्रेंड इंसान हूँ. मेरी चुत पर रहम कर भोसड़ी के…मैंने उनके मुँह से गाली सुनी तो मैं भी जोश में आ गया और मैं भी उनको गाली देने लगा- आह.

वो मुझे समझाने लगीं लेकिन मैं कुछ नहीं बोल रहा था और ना नहीं मेरे ऊपर उनकी किसी बात का कोई असर हो रहा था. मैंने अपने हाथों को उसके मम्मों पर टिका दिया और धीरे से दबाना शुरू कर दिया. गार्ड को अपने बारे में बताया और अन्दर आ गया।अन्दर वाले गेट की बेल बजाई तो एक 18 साल की लड़की ने गेट खोला; शायद वो उनकी नौकरानी थी।इतने में ही मधु आ गई। मधु के आते ही वो लड़की चली गई।मैंने मधु की तरफ देखा तो देखता ही रह गया क्योंकि अब तो वो कॉलेज टाइम से भी ज्यादा सुन्दर लग रही थी। तब बिल्कुल पतली सी थी.

कुछ प्रतिक्रिया न पाकर फिर मैंने धीरे धीरे उनको दबाया और वो मज़े से मुझको दबाने दे रही थे.

घर में बिल्कुल सन्नाटा था, सिर्फ सुबह की चिड़ियों के चहचहाने की आवाज़ें आ रही थीं… किचन भी बिल्कुल खाली पड़ा हुआ था. फिर 5-10 मिनट बाद जब हम भाई बहन होश में आए तो टाइम देखा सुबह के 4:15 हो रहे थे. मेरी कामुकता से भरपूर हिंदी चुत कहानी के पिछले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-3में अभी तक आपने पढ़ा.

मैं विकी, अपनी मम्मी की सहेली की चुदाई की कहानी बता रहा हूँ कि कैसे मैंने आंटी की मस्त फ्री मूड से सेक्स किया, आंटी को चोदा. एक दिन क्लास खत्म होने के बाद मैं अपनी डेस्क पर ही बैठ कर अपना काम निपटा रहा था.

ऐसे वक्त में मेरे पति को भी काम के सिलसिले में बाहर जाना था, सो वो चले गए. मैंने देखा कि कामिनी ऑटो से उतर कर उस बड़ी गाड़ी का गेट खोल कर उसमें बैठ गई. तभी मैंने दूसरा शॉट ओदे मारा और इस बार वो उछल पड़ी और मुझे रुकने को कहने लगी.

नॉन वेज जोक्स इन हिंदी फॉर व्हाट्सएप्प

पर एक बार की बातों में उसके साथ उस तरह की बातें हुईं, जो उससे पहले कभी नहीं हुई थीं.

मैंने कहा और अपने दोनों हाथ पीछे करके ब्रा खोल कर निकाल दी… फिर लेट गई. पिंकी ये गलती तुम्हारी है, अब तुम्हें गोलू के लंड को प्यार से एक किस करनी पड़ेगी. शाम को जब वो मेरे लिए नाश्ता लेकर आई तो मुझे नाश्ता देकर मेरे सामने बैठ गई.

सभी रिलेटिव मेरे साथ सब कुछ कर चुके हैं, सभी लड़कियों को उनके रिलेटिव जान पहचान वाले ही करते हैं।ये जब भाभी ने बोला, तब थोड़ा राहत मिली. जब वो हिलना बंद हुई तो मैंने अपना हाथ उसके मुँह से हटाया और कहा कि इतने ज़ोर से मत चीख. सेक्सी व्हिडिओ इंग्लिशउसी तरह फिर दोपहर में मैंने भैया को अपने मोबाइल से वीडियो कॉल किया वो ऑफिस में थे.

मैं कुछ समझ पाता, उससे पहले ही उसने मेरा लंड सीधा अपने मुँह में ले लिया. तो वो रो रही थी।मैंने- कहा जान बस थोड़ी देर में दर्द कम हो जाएगा। फिर तुमको आज का सबसे बड़ा वाला मज़ा आएगा।ये बोल कर मैं उसे चूमने और मम्मों को मसलने लगा। जैसे कि सारी लड़कियों के साथ होता है.

दो पल बाद मैं भी जन्नत की सैर कर रही थी कि उसने अपने उंगली गांड में से निकाल कर थोड़ा और नीचे करनी चालू कर दी और इससे पहले मैं कुछ कर पाती, उसकी उंगलियां चूत की तलाश में मेरे लंड से जा टकराईं. मतलब मेरी माँ अब कुछ ज्यादा ही मेकअप करने लगी थीं और उनकी ड्रेस भी काफी हॉट होती जा रही थीं. मुझे भी चुदास चढ़ने लगी और मैं अपने चूचे मसलने लगी उस्सस्स उम्माह…”मैंने अपने मम्मों को उनसे चुसवाना शुरू कर दिया.

क्या माल थी यार वो… बहुत ही धीरे धीरे और प्यार से मेरे लंड को सहला रही थी और चूस भी रही थी. खाना खाने के बाद आंटी बोलीं- मैंने तुम्हारे रुकने का इन्तजाम ऊपर के रूम में कर दिया है, तुम थक गए होगे, जाकर आराम कर लो. जीजा बोले- वन्द्या मान जाओ प्लीज!और मेरे ऊपर चढ़ गए इस बार… मैं फिर से उनसे छुड़ाने लगी लेकिन इस बार जीजा मेरे बिल्कुल पेट के ऊपर दोनों टांगें इधर उधर करके ऐसे चढ़ गये कि मैं कुछ भी कर के नहीं उठ सकती थी न ही छुड़ा सकती थी.

तभी मुझे अपने लंड में कुछ गीला सा लगा तो मैंने अपने लंड को बाहर निकाल कर देखा, उसमें खून लगा था.

अब तक मेरे लिंग पर प्रिया की योनि की दीवारों का दबाब इस कदर बढ़ गया था कि मेरे लिए अपना लिंग प्रिया की योनि से बाहर खींचना लगभग नामुमकिन सा हो गया था. यह सुन कर कुछ संतोष हो गया कि अगर वो एक बार हमारे चक्कर में फंस गया तो कोई उसे रोकने वाला नहीं होगा.

लड़के की उम्र 4 साल है, लड़की की उम्र 7 साल है, हमारी शादी को 8 साल हो गए हैं और हम दिल्ली से हैं. तुम्हें अपने किए हुए काम, जो बदले की भावना से थे, उनका फल मिल गया है, क्योंकि तुम्हारा लड़का तुम्हें पूरी तरह से छोड़ छाड़ कर अब कनाडा जाकर बस गया है. हम सब लोग बिंदु के कमरे में चले गए जिसमें दीवार पर कुछ सेक्सी पिक्चर भी टंगी हुई थीं, जिसमें लड़का और लड़की लंड को चुत में फँसा कर रखे हुए थे.

उस वक्त मैं सिर्फ़ पेंटी ब्रा में थी और मुझे इतनी शर्म आ रही थी कि पूछो मत. मैं बोली- अरे मम्मी ऐसे ही कुण्डी दे गई होगी, कहीं कोई और आ गया तो?बालू बोले- आने दो… अब हम मियां बीवी बनने वाले हैं। क्यूं डरें किसी से?वो नहीं गये बंद करने गेट अंदर से!और अब सीधे मेरे चूत को फैला कर अपनी जीभ से चाटने लगे; जोर जोर से चूसने लगे और दोनों हाथों से मेरे दूध दबाने लगे. इस बार ये चुदाई का मजा कुछ अलग था क्योंकि मैंने और भाभी ने टेबल पर पहली बार चुदाई की थी.

बीएफ सेक्सी 4g मैं उससे कभी कभी घर का सामान मंगवा लेती थी और उसे कुछ रुपए भी दे देती थी. ड्राइवर कार निकाल लाया था और वो दोनों उसमें बैठ कर बहुत तेजी से निकल गए.

जिगरवाला नंबर वन

इधर ऊपर मेरा मुंह प्रिया की बायीं बगल में कब समा गया, मुझे पता ही नहीं चला. कुछ देर बाद रमेश अंकल का वीर्य भी निकल गया, लेकिन उनका लंड कंडोम में बंद था इसलिए अंकल का रस मां की चूत ने नहीं चख सका था. मोटी-मोटी काली आँखें जिन में प्यार और काम अपनी सम्पूर्णता के साथ झलक रहे थे.

कुछ देर यूं ही एक दूसरे की बात सुनते समझते हुए स्मिता और मैंने पंकज को रंगे हाथ पकड़ने का प्लान बनाया. उसने मुझे सिर्फ चड्डी में देखा तो एक गहरी सांस ली जैसे उसको तरावट आ गई हो. साउथ सेक्सी वीडियो एचडीअब उसका मुझे देखने का नजरिया बदल गया था, खैर जैसे तैसे हम अन्दर गए.

फिर कुछ मिनट बाद दर्द कम हो गया, तब तक अवी मुझे बांहों में लिए लेटा रहा और बातें करता रहा.

वो सब कैसे हुआ, ये मैं मेरी अगली पोर्न कहानी में आपको जरूर बताऊंगा. मैं भी बालू की बात सुनकर खुश हुई कि मस्त मर्द है ओपेन माइंड का, ऐसा ही पति होना चाहिए।बालू आशीष को बोला- यार आशीष, अब देर मत कर भाई, जमकर चोदो तुम, मुझे भी वन्द्या को चुदते मस्त देखना है!तब बालू और आशीष ने हाथ मिलाया और आशीष ने बालू को थैंक्स बोला, फिर कहा- तू मस्त है भाई! अब देख कैसे तेरी होने वाली बीवी को आज चोदता हूं।तभी बालू बोले- यार आशीष, तेरा लन्ड मेरे लन्ड से तीन गुना बड़ा है.

उनके उभारों को एक हाथ से दबा रहा था और एक हाथ से लहंगे को नीचे उतार रहा था. दोस्तो, अब पारुल की गांड भी मेरे सामने थी, मैंने अपना लन्ड पीछे से उसकी चूत पर रखा और एक ही धक्के में पूरा लन्ड पारुल की चूत में डाल दिया और अपने दोनों हाथों से उसके चूतड़ों को पकड़ कर जोर जोर से लन्ड पेलने लगा. मगर वो मुझे कुछ अच्छे नहीं लगते थे और उनका चरित्र भी कुछ ठीक नहीं था.

योनि व भगनासारोशनी तुम चाहो तो मेरे रूम का अटैच बाथरूम यूज कर सकती हो, अन्दर बड़ा सा मिरर भी है.

जैसे ही मैंने अपना लिंग पूरी सख्ती से प्रिया की योनि से बाहर खींच कर वापिस प्रिया की योनि की गहराई की आखिरी हद तक पंहुचाया, तभी मेरे अंदर… मेरे खुद का ज्वालामुखी फट पड़ा. उस वक़्त मेरा लंड अंडरवियर में पूरा टाइट था और मुझे थोड़ा नशा भी था. उसने मुझे ऑरेंज जूस पिलाया और मेरे माथे पे किस किया और बाथरूम में चला गया.

सेक्सी व्हिडिओ देहातीमेरी पिछली कहानीहमउम्र भांजी से प्यार और चूत चुदाईअन्तर्वासना पर प्रकाशित हुई थी. आपको और ख़ास तौर से लड़कियों को बताना चाहता हूँ कि मैं बचपन से ही थोड़ा कमीना किस्म का रहा हूँ और सेक्स में काफ़ी इंटरेस्ट लेता रहा हूँ.

सेक्सी अंग्रेजी वीडियो सेक्सी

रात को दो बजे उसका मिस कॉल आया तो मैंने उसे फोन किया, पूछा- क्या हुआ?वो बोली- मुझे कुछ हो रहा है. मॉम को देखते ही मैंने झट से आंटी को ऊपर किया और बेड पर पीछे पेट के बल लेटा दिया. ये सब कैसे कर लेते हो, हमने तो ज़िन्दगी भर सिर्फ तुम्हारी भाभी की चूत मारी है.

भाभी भी मुझे गर्म मूड में दिखीं, शायद इससे पहले वे कोई चुदाई का हसीन सपना देख रही थीं, जिस कारण उनकी आँखों में मुझे वासना दिख रही थी. एक कमलेश सर हैं जो ट्यूशन पढ़ाते हैं, वही बस मुझे टच किए हैं, उनका लन्ड मुंह में लेकर चूसा है मैंने और उन्होंने नीचे मेरी चूत चाटी है। पर अपना लन्ड मेरी चूत में नहीं घुसाया, मतलब डाला नहीं। मैं झूठ नहीं बोल रही… फर्स्ट टाइम आज आप दोनों चोदने वाले हो।मेरे मुंह से सब कुछ अपने आप साफ साफ निकलने लगा. उसके शरीर से जितने कपड़े कम होते जा रहे थे, वो उतना ही और सेक्सी लगती जा रही थी.

तब तक मिंकी कई बार झड़ चुकी थी लेकिन मैं झड़ने से बहुत दूर था तो हार कर मिंकी ने मुझसे पूछ ही लिया- साहब, आपका बीज कितनी देर में निकलेगा?इस पर रेहाना ने जवाब दिया- मिंकी इन्होंने कल मेरे सामने इन्ही के पार्लर में काम करने वाली पायल नाम की एक लड़की को बहुत देर तक बिना रुके चोदा था जबकि उसकी तो सील भी टूटी थी और उसकी कई कई बार चुदाई भी हो चुकी है. आज मैं जो सेक्स स्टोरी आप सबसे शेयर करने जा रही हूँ, उसकी शुरुआत उन दिनों हुई थी जब मैं 11 वीं क्लास के फाइनल एग्जाम दे चुकी थी. मैंने कुछ नहीं बोला और घूम कर लेट गया और चाची मेरा पिछवाड़ा देख कर बोलीं- तुमको तो ज्यादा लग गई है… तुम रुको, मैं डॉक्टर को बुलाती हूँ.

बिस्तर की चादर के कोने से मैंने अपना लंड पौंछा और उसकी चूत भी!मैं अपने कपड़े पहन कर जाने लगा, तो वो नंगी पड़ी पड़ी बोली- तीन बजे फिर से आना, फिर से मजा करेंगे, अबकी बार पीछे से करेंगे. वो मौका पाते ही मेरे पास कमरे में आ जाती थी और हम दोनों सेक्स का मजा लेते थे.

लेकिन अभी पूरी तरह से स्वास्थ्य ठीक न हो पाने के कारण हम दोनों ने अभी सेक्स करना ठीक नहीं समझा.

मेरी वाइफ ने उसकी और कोई ध्यान ही नहीं दिया और ऐसे ही टांगें खोल कर बैठी रही. इंडियन हिंदी सेक्सी वीडियोमुझे थोड़ी गुदगुदी हो रही थी, थोड़ी ही देर में मेरा छोटा सा नुन्नु बड़ा हो गया. मोत्याच्या बांगड्याथोड़ी देर के बाद एक औरत घर से बाहर आई और बोली- जी आपने ही अभी फोन किया था?मैंने हां में सिर्फ सिर हिलाया क्योंकि मैं उन्हें देखता ही रह गया. ‘ओके…’उसने कहा कि तुम होली के तीसरे दिन का आने का तय कर लो, मेरे पति छुट्टी पर आएंगे और होली के दूसरे दिन वापस चले जाएंगे.

पर कुछ देर बाद उनका पीरियड ख़त्म हो गया और नेक्स्ट पीरियड के बाद छुट्टी हो गई.

और फिर मैंने भी तो तुम्हारी चुत चाटी तो तुम्हें क़्या प्रॉब्लम हुई है? तुमको मजा आया ना? वो बोली- हाँ… मजा तो आया. जैसे मैंने उसके मम्मों को हाथ लगाया, वो फिर से सिहर उठी और मुझसे जोर से गले से लग गई. जैसे छोटे बच्चे लॉलीपॉप चाटते हैं, वो वैसे ही लंड को चाट और चूस रही थी.

मैंने उसके बाल पकड़े और अपने लंड पे उसका मुँह दबाने लगा और उसका मुँह चोदने लगा. मैंने कई बार नीति मैडम को बोला था कि मैं उस रुचिका चौधरी (जाटणी) मैडम को चोदना चाहता हूँ. कल बॉस को मेरी गांड से प्यार हो गया इसलिए वे सिर्फ गांड ही मारना चाहते थे.

पिक्चर हिंदी सेक्सी

उनके घर में 3 लोग ही थे, उनके पति का दूसरी सिटी में तबादला हो गया था, वो सरकारी जॉब में थे. बहुत अच्छा सिंगर और बांसुरी बजाने वाला भी हूँ। मेरी इस योग्यता के चलते हर महीने लड़कियों के प्रोपोजल मुझे आते हैं और मैं अपने हिसाब से जो आसानी से चोदने मिले ऐसी लड़की को ही ‘हाँ’ कर देता हूँ।थोड़ा सा अपने बारे में बता कर कहानी शुरू करता हूँ। मैं एक बहुत सुन्दर और हैंडसम लड़का हूँ। मेरे लंड का साइज औसत से बड़ा है और कसम से दोस्तों. अपनी मां की इतनी लम्बी चुदाई देख कर मेरा लंड भी दो बार अपना पानी छोड़ चुका था.

मैंने पिंकी से पूछा- तुम्हारी उम्र कितनी है?उसने कहा- सर 19 साल है.

हालांकि मुझे उनके किसी के साथ सम्बन्ध बन जाने से कोई आपत्ति नहीं थी क्योंकि मैं मानता हूँ कि हर एक को अपनी जिन्दगी अपने हिसाब और मर्जी से जीने का अधिकार है लेकिन तब भी मुझे न जाने क्यों ऐसा लग रहा था कि मुझे माँ के विचार जानना ही चाहिए कि इस तरह के किसी गैर मर्द से शारीरिक सेक्स सम्बन्ध बनाने के पीछे उनका क्या सोच है और कहीं वो किसी गफलत में आकर अपना नुकसान न कर लें.

आपको और ख़ास तौर से लड़कियों को बताना चाहता हूँ कि मैं बचपन से ही थोड़ा कमीना किस्म का रहा हूँ और सेक्स में काफ़ी इंटरेस्ट लेता रहा हूँ. उसके बाद चिंटू ने परीक्षित को धक्का देकर अलग किया, यह देखकर मुझे हँसी आ गई और परीक्षित भी मुस्कुरा दिए. नवजात शिशु की मालिश के लिए तेलमैं यहाँ किसी रिश्तेदार के घर पर रह रहा हूँ और मैं उनके आँगन में सोता हूँ.

इस बार वो चोदते समय मुझे गलियां भी दे रहा था- ले मादरचोदी रांड भैन की लौड़ी लंड खा साली कितने दिनों से तुझे चोदने की सोच रहा था. अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार, मैं राजेश आपके लिए एक सच्ची हिंदी पोर्न स्टोरी लेकर आया हूँ. वो पट्टी गाँव में रहता है जो कि मेरे शहर से करीब 38 किलोमीटर दूर है। उसके माँ-बाप ने उसे आगे पढ़ने के लिए मेरे पास आज ही भेजा हुआ था।जब मेरा भतीजा कहीं गया हुआ था तो तब वो आदमी हमारे घर आ गया.

नमस्कार मित्रो, यह मेरी पहली गन्दी कहानी है अन्तर्वासना पर, सभी चुतों और लंड धारियों को मेरे खड़े लंड की तरफ से ढेर सारा प्यार. मैं उसके एकदम पास को गया, अब मेरा लंड अंडरवियर के अन्दर तम्बू बना कर खड़ा हो गया और उसके बड़े बड़े उभारों को टच करने की कोशिश करने लगा.

एक दिन जब मैं ऑफिस जा रहा था तो सोचा कि निशा से पूछ लूँ कि शाम के लिए बाजार से कुछ चाहिए, तो मैं उसके घर गया.

जिस वक़्त मैं घर पर आई, उस वक़्त भी मैंने पूरी ड्रेस जैकेट और जीन्स के नीचे ही पहन रखी थी. मैंने थोड़ा सा खांसा तो आंटी ने पीछे मुड़ कर देखा और बोला- तुम यहाँ कैसे?जब वो मेरी तरफ घूमी थीं तो मैं उनके उभारों को देखता ही रह गया. लगता है अंकल से ये सब कहना ही पड़ेगा कि उनका घर एक रंडीखाना बन चुका है.

कोलेज सेक्स अब मेरे दिमाग में बस चाची ही चाची थीं, मैं अब सिर्फ उनको भोगना चाहता था. वो घर आकर बोला कि इसके मम्मी पापा विदेश में हैं और इधर यह अकेला रह गया था इसलिए इसे मैं साथ ले आया.

मैं अगले ही रविवार को चर्च के पास चली गई और वहाँ सामने बने एक होटल में बैठ कर उसका इंतज़ार करने लगी. इस आसन में उसको काफ़ी मज़ा आ रहा था और वो बार बार मुझे बोल रही थी कि राज और जोर से और जोर से मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. वैसे तो विशाल और मुझको भोजन से ज्यादा एक दूसरे की बीवी की भूख ज्यादा लगी हुई थी।हम लोग खाना खाने बैठ चुके थे और यह सही भी था क्योंकि नीलम पूरी तरह से नशे में नहीं थी।खाना खाते खाते मैंने नीलम को कोल्ड ड्रिंक में दो पेग और पिला दिए, नीलम पूरी तरह से नशे में हो चुकी थी, अब यही समय ठीक था.

कॉलेज की लडकी सेक्सी व्हिडिओ

इससे मुझे काफ़ी बुरा फील हो रहा था क्योंकि क्लास में बैठे लड़के और मेरे वो हरामी टीचर, पढ़ने के बहाने मुझे देख रहे थे. भूखे को रोटी, लालची को पैसे, बीमार को डॉक्टर और खड़े लंड को हर जगह चुत ही नज़र आती है. अब तक आपने मेरी इस लव एंड इन्सेस्ट सेक्स स्टोरीबड़ी बहन से वासना भरा प्यारमें पढ़ा था कि मैंने किस तरह अपनी बहन से अपनी मुहब्बत का इजहार किया था और उसके न मानने पर खुद का एक्सिडेंट करवा लिया था.

मैंने पहले एक आदमी का पिक्चर दिखाया जो कि पूरा नंगा था, पर उसमें कुछ गन्दा नहीं लग रहा था, क्योंकि वह पढ़ाई की बुक का चित्र था. उसके नाख़ून मेरी बाँहों में घुसे जा रहे थे- राजे ले जा मुझे आसमान की सैर पर… कस कस के ठोक… मर्दन कर दे मेरे बदन का.

मैं बोला- यार, कोई नहीं अगर रात में वो लोग आ भी गए तो मेरे रूम आ जायेंगे, मैं मैनेज कर लूंगा.

फिर मेरी तरफ देख कर बोला- बिंदु जी, आपने ठीक कहा था, वो साला बहुत कमीना है. दीदी एकदम मस्त हो चुकी थीं, अपनी आँखें बंद करके बस अपनी चुत की रगड़ाई का मज़ा ले रही थीं. और तभी आर्थर के लंड से निकले गाढ़े वीर्य का थक्का उड़ता हुआ उसके खुले मुंह में समा गया.

एक हाथ बालों की तरफ पकड़ के दूसरे हाथ से कमर पकड़ कर उन्हें अपने करीब कर लिया. उसके जाने के बाद मैं दो बार उसके नाम की मुठ मार चुका था और तब भी अपने आपको शान्त नहीं कर पा रहा था. उस दिन भाभी के पापा की तेरहवीं थी, जिस दिन आस पास के गाँव के लोग खाना खाने को आते हैं और घर के लोगों को बहुत काम करना पड़ता है।सबने मिल कर पूरा काम निपटाया और रात हो गयी.

भाभी की चुत अब बहुत रसीली हो गई थी और मेरी उंगली सटासट चुत में अन्दर बाहर ही रही थी.

बीएफ सेक्सी 4g: मैंने कमर उठा कर लंड को भाभी की चुत की जड़ तक ठेलते हुए कहा- क्यों नहीं भाभी. मुझे आज भाभी के साथ लिपटना कुछ अलग ही सुख दे रहा था क्योंकि आज मेरे लंड को मालूम था कि आज बिना कंडोम केभाभी की चुतमें गोता लगाने का मौका मिलने वाला है.

बस फिर क्या था, बिंदु ने मुझसे बोला- कोई सख्त लंड वाला और खूबसूरत बन्दा खोजती हूँ, जो कार चलाए ना चलाए मगर तुम्हारी चुत को जम कर चलाए. अब वो मुझे पेट में किस करने लगा, धीरे धीरे ऊपर बढ़ने लगा और पूरी बॉडी में चुम्मी करने लगा. अभी बस मेरा पानी बहन के मुँह में छूटा ही था कि पीछे से मॉम आ गईं और दोनों को इस हाल में देख कर चिल्लाने लगीं.

पैसे कल दे देना और हां मैं जब तुम्हारा इलाज करूँगा तो मैं तुम्हें दोस्त की तरह समझूँगा और मैं तो कहूँगा तुम्हें मेरी वाइफ की तरह फ्रीली रिलेशन बनाने में हेल्प करनी होगी, जैसे किसी पत्नी को अपने पति के साथ सेक्स करना होता है.

इसी पल का पूर्ण समग्रता से सामना कर के बिस्तर पर अपना विजय अभियान सार्थक करने वाला ही सही मायने में मर्द कहलाता है और मुझे तो कुछ नया साबित भी नहीं करना था, सिर्फ अपने सामर्थ्य के पिछले कृत्य को एक नया मोड़ दे कर दोहराना भर था. फिर 5-10 मिनट बाद जब हम भाई बहन होश में आए तो टाइम देखा सुबह के 4:15 हो रहे थे. साले ने कोई जवाब ही नहीं दिया… मैंने भी दिल को तसल्ली देते हुए मन ही मन कहा- हाँ नहीं की है लेकिन ना भी तो नहीं की है… उम्मीद अभी बाकी है…यही सोचते हुए मैं वार्ड के बाहर उसका इंतज़ार करने लगा.