व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,ब्लू बीएफ सेक्सी ब्लू

तस्वीर का शीर्षक ,

अहमदाबाद रंडी बाजार: व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ, मैंने उनसे उनके बारे में पूछना स्टार्ट किया- भाभी, आपके पास इस तरह आकर बात करने आया हूँ.

देसी भाभी सेक्सी वीडियो बीएफ

एक दिन वो अपने भाई के सामने, जो कि मेरा दोस्त है, मुझसे पूछने लगी- मिठाई कैसी थी?तो मैंने बोला- बहुत मीठी. बांग्ला बीएफ वीडियो बांग्लामैं कमल के लंड से चुद कर काफ़ी खुश थी कि आज आख़िर मेरी चुदाई हो गई.

अब मैं उन्हें सही करने लगी और पर्स से लिपबाम निकाल कर लगाई तो कुछ नमी आई, पर अहसास वही सूखेपन का हो रहा था, जो किस की वजह से था. बीएफ मूवी सुहागराततो मैंने गर्दन के पास सहलाना शुरू कर दिया और एक हाथ उसके बड़े बड़े स्तनों अन्दर से घुमने लगा दूसरा हाथ उसके गाउन के क्लिप खोलने में लग गए.

एक दिन दोपहर को टीवी देख रहा था और मानवी खुद नीचे आ गई और मुझसे कहने लगी- भैया, प्लीज़ आप मेरे साथ ऊपर चलेंगे?मैं- क्या हुआ भाभी?मानवी- सफाई करते वक़्त मेरे से टीवी का रिमोट बेड के नीचे गिर गया है और अब मुझसे निकल नहीं रहा.व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ: दोस्तो मेरी गरम कहानी कैसी लगी, कृपया करके नीचे लिखी गई मेल पर बताएं.

कुछ देर बाद समधी जी मेरे बिस्तर पर आकर लेट गए, मुझे पकड़ कर मेरे होंठों को चूसने लगे, मैं भी उनसे चिपक कर उन्हें किस करने लगी।उन्होंने मेरी मैक्सी ऊपर कर दिया मेरी मुझे अपनी ओर कर लिया मेरी चूत में लंड डालने लगे तो बोले- अरे यार ये तो सूखी पड़ी है!मैंने कहा- आपने मुझे कौन सा गर्म किया जो ये पानी छोड़ती!उन्होंने अपने थूक को मेरी चूत में डाला और अपने लंड को पेल दिया.मेरे पापा बोले- ठीक है सुरेश भाई, अपनी बीवी को छोड़ दो, मैं आरती की शादी तुझसे कर दूंगा.

सेक्सी बीएफ सेक्स मूवी - व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ

आखिरकार मैंने अलमारी से संजय का फेवरेट ब्लैक ड्रेस निकाल कर पहन लिया.उन्हीं मेल में से एक मेल आरती नाम की एक महिला की भी आई, जिसमें उसने मेरी कहानी की तारीफ करते हुए मुझे लिखा कि आपकी कहानी बहुत अच्छी है.

आपकी स्टोरी पढ़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा यहाँ तक की मेरी पेंटी 3 बार गीली भी हो गई. व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ कुछ देर बाद जमाई जी उठे, मुझे बातें करने लगे।फिर मेरी बेटी भी आ गई। मैंने खाना बना कर खिलाया.

बहूरानी का जिस्म आनंद और दर्द से थरथराया और उन्होंने अपने घुटने ऊपर की तरफ करके जांघें अच्छे से खोल दीं जिससे उनकी चूत खुल के मेरे लंड के निशाने पर आ गयी.

व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ?

महिला बहुत ही सुंदर थी, गोरी 5 फीट 6 इंच की हाइट, भरे हुए चूचे, पतली कमर, आह, मैं तो उसके हुस्न में खो सा गया. वो मेरे पड़ोस में रहती थीं और हमारे घर से उनके अच्छे सम्बन्ध थे, तो हमारे घर आना जाना होता था, पर मैं उनसे ज्यादा बात नहीं करता था. अब भाभी की चुदाई का वक्त आ गया था, मैं उनको उठा कर बेड पे ले गया और उनको बोला कि आप मेरे ऊपर आ जाओ.

छाया बोली- आप आज मेरे यहां सोने के लिए 11 तक आ जाना, मैं सुबह काम पर जाते समय पायल को बोल दूँगी कि आज मैं इनको छोड़ने के मुंबई सेंट्रल जा रही हूँ, उसके बाद बोरीवली अपनी माँ के चली जाऊंगी. काले-रेशमी बाल, भौंहे धनुष की तरह, गांड के बारे में तो पहले ही बता चुका हूँ साहब, अब बस रह गई चूत. पहले तो कहानी प्यार और मोहब्बत से शुरू हुई और धीरे धीरे 4-5 हफ्तों में चूमा चाटी का सिलसिला शुरू हो गया.

मुझे इससे और हिम्मत मिल गई, मैंने उनका गाउन नीचे से ऊपर किया, तो उनकी गोरी और चिकनी जांघें मुझे दिखने लगी थीं. दीदी को इस तरह ऑफिस टाइम के बाद उसके बॉस लोगों के साथ देख कर मैं सोच में पड़ गया कि ये लोग इस वक्त कहाँ जा रहे होंगे?यही पटा लगाने के लिए और मैंने उनकी कार का पीछा करना शुरू कर दिया. तो सानिया ने अपनी चादर का थोड़ा सा हिस्सा मुझे भी दे दिया।पहले तो उनका बच्चा हमारे बीच था, लेकिन उसकी अम्मीजान रेशमा ने उसे दूध पिलाने के लिए अपनी गोद ले लिया। रेशमा ने अपनी शर्ट उठा कर अपनी एक चूची बाहर निकाल कर उसका निप्पल अपने बेटे के मुंह में दे दिया.

तभी वो सब भी अन्दर आ गए और उसको बताने लगे कि उन्होंने सब कुछ देखा है. सुहागरात में उसने मुझे अपनी गांड तोहफे में दी, पर उस रात की चुदाई फिर कभी बताऊंगा.

मैं तुम्हारे लिए कुछ लाई भी नहीं हूँ?अवी- पहले मैं बता देता तो ये प्यार थोड़े मुझे मिलता.

मैं- दीदी एक बात पूछूँ… आपको मज़ा तो आया ना मेरे साथ?दीदी- हाँ सन्नी बहुत मज़ा आया…मैं- तो फिर एक बार और कर.

मैंने कहा- सोनी, तुम इस तरह से खुल के बातें करती हो, तो कितनी प्यारी लगती हो. मेरी पिछली हिंदी सेक्सी स्टोरीबॉस के साथ दुबारा चुत चुदाई का मजामें आपने पढ़ा कि मैंने और बॉस ने रात में सेक्स किया, फिर बॉस के जाने के बाद मैं सो गई. वो मेरी बीवी के कोमल और तने हुए स्तनों को दबाकर उसको और गर्म कर रहा था.

मेरी चूची बहुत बड़ी हैं, मैं जब भी चाचा के साथ कार में जाती थी तो वो मेरी बड़ी बड़ी चुचियों को देखते थे और मजे लेते थे. मैंने कहा- अब मैं आपकी प्यास बुझा दूँ छाया?वो बोलीं- मैं तुम से चुदने के लिए कब से तैयार हूँ. उसने कुछ कहा तो नहीं लेकिन अपना एक हाथ मेरे गालों पर रख कर सहलाने लगी.

अब मैंने भी अपना लंड निकाल कर सीमा से चूस कर मुझे मजा देने को कहा तो उसने पहले अपनी कच्छी ऊपर कर ली और फिर मेरा लंड चूसने से मना करने लगी।मैंने कहा- अब ये खड़ा हो गया है, इसे शांत कर! मैंने भी तो तुझे मजा दिया है!तो उसने कहा कि वो चुदवायेगी नहीं… लेकिन अपने हाथ से मेरी मुठ मार देगी.

थोड़ी देर बाद जब सोनू सो गया तो उसे मेरे पास सुला कर बोलीं कि वो नहाने जा रही हैं और तब तक मैं सोनू का का ध्यान रखूँ. शावर चालू करके जैसे ही माया के बदन पे ठंडा पानी पड़ने लगा, उसे अच्छा लगने लगा. जैसे ही मैंने उसकी गांड को जरा सा ऊंचा करके एक धक्का मारा, पिंकी का बैलेंस बिगड़ गया और उसके निप्पल विक्की के मुँह में जाके घुस गए.

मैंने उसकी चुत को सूँघा तो उसमें से कुछ खट्टी मीठी सी महक आ रही थी. कभी भाबी के कान को दांत से खींचता, कभी गर्दन पर होंठ घुमाता, कभी भाबी की पीठ चूमता चाटता, भाबी की गांड दबाता चूमता चाटता. ”तुम खुद क्यों नहीं खाते अपना चॉकलेट?”ये तुम्हारे लिए बना है, मेरे लिए तो तुम्हारी चूत पर परोसा जाएगा.

आपने अब तक की इस हिंदी सेक्स कहानी में पढ़ा था कि अमित ने मुझे नंगा देखने की ख्वाहिश की थी जो मैंने अपनी रजामंदी से उसके सामने खुद को नंगी करवा कर पूरी कर दी थी.

पाठकगण! आप आँखें बंद कर के जरा कल्पना करें कि बिस्तर पर उस एक पूर्ण जवान और सोलह कला सम्पूर्ण कामविह्ल कामांगी की जो सिर्फ़ एक काले रंग की छोटी सी पैंटी में थी जो बस जैसे तैसे उसकी योनि को अनावृत होने बचाये हुई थी. वह बोला- अबे यार, मैं भी तेरे पर मरता हूं, पर अभी तेरी नहीं मारूंगा.

व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ फिर उसने मुझे मेरे घर छोड़ दिया और मैं जब कार से बाहर निकल रही थी तो अवी ने मुझे अपनी तरफ खींच कर मेरे होंठों को चूमा और जोर से दांत से काट लिया. अब तक मैंने उनकी पीठ की भी मालिश शुरू कर दी थी, इसलिए मैंने मेरे पैर हटा लिए थे.

व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ लेकिन मेरे साहबजादे शादी में आये मेहमानों के साथ शाम से ही मेरे पड़ोसी मिश्रा जी के घर बियर व्हिस्की वगैरह पीने पिलाने की पार्टी करने लगे और रात भर घर से बाहर रहे, इधर बहूरानीमुझे अपना पति समझ के ये सब कर रही थी)मेरे मन में तो आया कि बहूरानी को डांट दूं और कमरे से बाहर निकाल दूं. जैसे-तैसे खुद को संभाला मैंने… दुनियावी तौर पर प्रिया पर मेरा किसी किस्म का कोई हक़ ही नहीं बनता था और सब से बड़ी बात यह थी कि मुझे अपना परिवार, अपनी बीवी जान से ज्यादा प्यारे थे.

पापा जी… अब आप ऊपर आ जाओ, थक गई मैं तो!” बहूरानी बोली और मेरे ऊपर से हट गयी.

देसी वाला ब्लू फिल्म

वैसे उनकी शादी को 4 साल हो चुके थे लेकिन वो अपनी बीवी को कभी भी अच्छे से संतुष्ट नहीं कर पाए क्योंकि उनका लंड काफी छोटा था… बस यूं समझिए कि एक छोटे बच्चे की लुल्ली की तरह था. तभी पीछे गांड चोद रहे अंकल ने बोला- आरती, तुम्हें आज मेरा जीवन धन्य हो गया, क्या गजब की गांड मारी, मैंने आज तक नहीं देखी और ना मुझे इतना मजा आया, सच में मेरा लंड पूरा फनफना रहा है, अब मैं झड़ने वाला हूं, मेरा लंड रस बस निकलने को है. लंड अन्दर नहीं जा रहा था तो उसने अपने बैग में से क्रीम निकाली, अपनी चूत पे और मेरे लंड पे लगा कर फिर कोशिश करने लगी.

मानवी भाभी ने मुझे खाना खिलाया और पूछने लगी- खाना कैसा बना है?मैं मस्का लगाते हुए बोला- भाभी बहुत टेस्टी खाना है, मैंने आज तक इतना अच्छा खाना नहीं खाया. मेरी इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि मेरा बॉयफ्रेंड अवी मुझे अपनी बांहों में भरे हुए था और मुझे बेतहाशा चूम रहा था. मैं सोचने लगा कि कैसे भाभी को नहाते हुए देखूं, लेकिन कोई उपाय नज़र नहीं आया तो फिर मन मसोस कर टीवी देखने लगा.

जो बाइक में बार बार ब्रेक लगा रहे हो?मैंने भी मौका देख कर बोल दिया- भाभी जब पीछे बाइक पर कोई खूबसूरत हूर बैठी हो, तो मन क्यों नहीं करेगा.

यह छिनाल मेरी माँ है कि कलयुग की माँ साली मेरी ब्लू फिल्म बनवा रही है. पर आख़िर कब तक करते ये सब… मुझे अपने लंड को संभालना बहुत मुश्किल हो गया था. ”अच्छा? अगर चौड़े सीने वाले आदमी का लंड छोटा सा पतला सा हुआ तो?” मैंने हँसते हुए कहा.

दोनों आगे बढ़े और पहली बार पूरी आज़ादी और बेफिक्री से दोनों के होंठ एक दूसरे से मिले. फिर वह दिन बीत गया अमित ने कोई एसएमएस नहीं किया, दूसरा दिन भी बीत गया और दिव्या नहीं आई थी. उसकी बढ़ती हुई साँसें ये बात कह रही थीं कि उसके मम्मे मेरे कंधों की वजह से गरम हो गए हैं.

’ आरुषि ने मन में सोचा।इतने दिनों के बाद वो असली लन्ड देख रही थी; उसका तो मन हुआ कि अभी इस लन्ड को मुंह में ले ले और चूस-2 के खड़ा कर दे।वो कोई 2 मिनट अपने ससुर के लन्ड को घूरती रही। दिनेश का निशाना सही जगह लगा था, वो सोने का नाटक करते हुए अपनी बहू की सारी हरकतों को देख रहा था. मैं उन्हें खूब प्यार से समझाने लगा कि जीवन में धैर्य बड़ी बात होती है.

मोना की आवाज इतनी तेज थी कि बगल के कमरे में रहने वाला लड़का राहुल देखने आ गया कि क्या हुआ है. लेकिन दोस्तो, इस सिलसिले में आई एक मेल बहुत दिलचस्प और ज़िक्र के काबिल है. मुझे माँ बनना है, मेरे पति में कमी है तो मैं आपके साथ जब तक सम्भोग करना चाहती हूँ, तब तक कि मैं माँ ना बन जाऊं.

अब बॉस लंड को अन्दर डाले ही मेरे पीठ पर लेट गए और हम दोनों अपनी सांसों को काबू में करने लगे.

करीब 2 मिनट में वो शांत हुई और मैंने धीरे से अपना लंड अंदर बाहर किया तो उसने मोनिंग करना शुरु कर दिया. तभी कुछ आवाज़ सी हुई तो मैंने सोचा कि कौन हो सकता है इतनी रात को?तो मैं उठ कर अपने दरवाज़े के पास गया तो लगा कि आवाज़ मेरे माँ के कमरे से आ रही है. लंड चूत की कसी हुई दीवारों पर रगड़ खाकर और भी मस्ती में झूम उठा।प्रेरणा छोटी के पीछे सट गई और उसकी पीठ पर अपने स्तन घिसते हुए अपने हाथ सामने लाकर छोटी के मदसमस्त करते उरोजों को दबाने लगी। छोटी को मस्ती चढने लगी और उसकी गति बढ़ने लगी.

क्या मेरे से तुझे प्यार तो नहीं हो गया?मैं- हाँ प्यार हो गया है ज़ायरा. आनन्द उसके पास गया और दोनों हाथों से पकड़ कर उसका चेहरा थोड़ी देर देखा और बोला- तुम आज काफी सुंदर लग रही हो.

मैं रुबीना के हुस्न में इतना खो गया था कि सच बताने का मन ही नहीं किया और मैंने भी रुबीना को अपने साथ कार में उसको पकड़कर उसके होंठों पर एक चुम्मी जड़ दी. वैसे भी शहजाद और बच्चे 8 बजे तक उठते हैं, उस वक्त मेरे कपड़े पूरे भीगे हुए थे, तो मैंने अपना दुपट्टा ओढ़ा और ऊपर गई. मैंने फटाफट अपना गिफ्ट और चॉकलॅट ली और मम्मी से छुपाते हुए भाभी के घर की तरफ चल पड़ा.

बीएफ सेक्सी इंडियन चुदाई

लेकिन वो अपनी ज़िद पर अड़ा रहा।वो- तो दीदी, अपनी गाण्ड मरवा लो प्लीज़।मैं- नहीं.

बाकी दोनों दोस्त उसकी चूचियों को मसलते और सहलाते हुए पूरे नंगे शरीर को चूम चाट रहे थे. उसने वर्षा के छोटे से चुचे पूरे मुँह में ले लिए और इतना चूसा कि चुचे सूज कर लाल टमाटर हो गए. ’ उसने खुद से कहा और इस बार हिम्मत करके वो मंत्रमुग्ध हो कर अपने ससुर के लन्ड को देखने लगी।भूरे गुलाबी रंग का सुपारा और उसके पीछे 20 रुपये वाली कोक की बोतल जितना मोटा और 7- 7.

वो तो सिर्फ बेड पर बैठी थी… गाउन के क्लिप खुल गए… मैंने उसका गाउन उतार फेक दिया… वो सिर्फ पेटीकोट और निकर पर ही थी. आकर खा लीजिये।”मधु ने फिर मेरी तरफ देखा और बोली- तुम माँ जी को खिला दो। हम बाद में खाएंगे. बीएफ पिक्चर दिखाओ हिंदीइस बात पर मैं बाहर गई और थोड़ी देर बाद अवी से एक बैग ले आई, जिसमें वो ड्रेस थी.

मेरा लंड एकदम से टाइट हो गया और निक्कर से बाहर आने को कोशिश करने लगा, मैं अपने हाथों से उसे दबाने लगा. इसके बाद हुआ यूं कि मुझे पढ़ाई के लिए भोपाल जाना था तो मैं अगले दिन जाने की तैयारी में लग गया.

कुछ देर के बाद मैंने बहन का दूसरा मम्मा दबाने के लिए अपना हाथ बहन के दूसरे मम्मे पर ले गया तो मैंने महसूस किया कि बाजू वाला लड़का मेरी स्वाति बहन का दूसरा मम्मा दबा रहा था. अब बॉस लंड को अन्दर डाले ही मेरे पीठ पर लेट गए और हम दोनों अपनी सांसों को काबू में करने लगे. वो 10:20 बजे आया, मैंने धीरे से दरवाजा बंद कर दिया और उसे मेरे रूम में ले गई.

उसका लण्ड भी एकदम कड़क हो गया। फिर उसने भी अपने कपड़े उतार दिए और नंगा हो गया।मुझे मजा आ रहा था तो हम दोनों बिस्तर पर आ गए. शायद मैंने यह नहीं सुना, लंड का आगे का सिरा उसकी बुर पर दबा दिया तो वो चिल्लाई. मैंने वैसा ही किया और पूछा- कल्याणी दर्द कैसा है?कल्याणी बोली- छेद और पिस्टन दोनों इस खेल के लिए नए हैं.

फिर जब कंट्रोल नहीं रहा, तो मैंने दीदी को दोनों टांगों को फैला कर उनके ऊपर चढ़ गया और चूत के मुँह पर लंड रख कर एक ही झटके में पूरा लंड दीदी की चूत में उतार दिया.

दीदी आराम से गाड़ी पर घूमने का मजा लेती हुईं उन पर चाबुक चला रही थीं. सोनू को सुलाने के बाद भाभी ने कहा- तुम मेरे सर में जरा विक्स लगा दो.

इस देसी हिंदी पोर्न कहानी के बारे में आपके जो भी सुझाव हों, आप मुझे मेल कर दीजिये. ऐसा कह के मामी ने मेरा लंड पकड़ के अपनी चूत पर रखा और शॉट लगाने को बोलीं. यहाँ अमित ने वही क्रीम फिर निकाली और अपने हाथों और मेरी चुचियों पर लगा दी.

मैं उनकी वासना को भड़काने के लिए रोज उनकी ब्रा पैन्टी में मुठ मारकर वैसे ही रख देता था. दो मिनट में ही बिना कुछ किये मेरा पानी निकल गया, तो निर्मला ने बोला- क्या यार? बिना कुछ किये ही तुम्हारा तो माल निकल गया, अब मुझे चोद पाओगे या नहीं?मैंने कुछ नहीं कहा, बस निर्मला को अपनी बांहों में लेकर फिर से किस करने लगा. मैं घर से बाहर हमेशा बुरके में ही निकलती हूँ और घर में भी ज्यादातर रुमाली या फुल साईज दुपट्टे में ही रहती हूँ.

व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ मैंने जैसे ही उसकी चूत की कली को छुआ वो छुईमुई से एक सूरजमुखी बन गई और पूजा ने अपनी आँखें झट से खोल दीं. आनन्द ने बिना कुछ बोले मोना को घोड़ी बनाया और अपना लिंग मोना की गांड पर रगड़ने लगा.

जंगल में मंगल सेक्सी बीएफ

30-12 के समय यश लड़खड़ाते हुए आए और बिस्तर पर पड़ गए। मैंने सोचा शायद शादी की खुशी में दोस्तो ने ज्यादा पिला दी होगी. उनकी पीठ मेरी तरफ़ थी और फिर मैं ब्रा के ऊपर से ही भाभी के चूचों को दबाने लगा. बॉस- क्या? ऐसे कैसे मैं तुमको बिना चोदे रहूंगा नेहा? मेरे लंड का ख्याल कौन रखेगा?मैं- सर इस बात के लिए मैं भी बहुत दुखी हूँ.

क्या हुआ अदिति बेटा?”कुछ नहीं पापा जी, अब और नहीं, नहीं तो खुद को रोक नही पाऊँगी. प्रिया के घर का माहौल बड़ा दकियानूसी सा था, अजीब ज़ाहिल लोग थे, औरतों को किसी प्रकार की आज़ादी नहीं थी. सेक्सी वीडियो लोकल बीएफमैंने उसे देखा तो उसकी आँखों में आंसू थे, पर होंठों पर एक मुस्कान थी.

अपने आप ही अब मेरा सिर उनकी जांघों के बीच झुकता चला गया जहाँ से उनकी नंगी चुत की हल्की हल्की मादक सी गँध आ रही थी.

भाभी को मैंने बहुत चोदा, इतना कि मैं जब दूसरी बार झड़ा तो भाभी के ऊपर ही गिर गया. फिर उसने अपने होंठों से जीभ बाहर निकाल कर कामिनी के कानों में घुसा दी.

उनकी आँखों की चितवन हमेश ऐसी रहती थी, जैसे कह रही हों कि आओ और मुझे चोद दो. मैं- ठीक है मैं पूरी तैयार हो कर जाऊँगी लेकिन अपना नाम शालू क्यों बताउंगी?अमित- अरे जो रूपये आए हैं वो केवल शालू को ही मिलेंगे, वो मेरी असिस्टेंट है ना. एक हाथ से अपना लंड पकड़ कर उसकी चूत के बीच में चूत के दाने पर रगड़ने लगा.

हट पहले मुझे लंड मुँह में लेने दे?”मम्मी ने तुरंत ब्रायन का लम्बा मोटा लंड अपने मुँह में ले लिया.

मैं बहुत शांत स्वभाव का लड़का हूँ, इसलिए सोसाइटी में मेरे दोस्त ज़्यादा नहीं हैं. तभी उसका रूम पार्ट्नर आया और उसने अपने रूम पार्ट्नर को भी बोला कि मैं चीकू को बोल रहा हूँ कि मेरे से शादी कर ले. फिर मैंने उसका हाथ पकड़ के अपने लंड पर रख दिया… तो वो लंड को सहलाने लगी.

बीएफ सेक्सी सिनेमामुझे इतना पता था कि मेरे पति मेरे बिना कितने बैचन हो रहे होंगे।फिर अगले दिन मैंने सोचा कि पति को फोन करती हूँ. पर जब अपना बॉक्सर उतारने गया तो मीना जी ने मेरा हाथ पकड़ कर, अपनी नशीली आंखें नचाते हुए अपनी मुंडी ‘ना’ में हिलाई.

गरमा गरम कहानी

फिर भाभी आगे बढ़ीं और मुझे किस करने लगीं, उन्होंने मेरा एक हाथ पकड़ कर अपने चूचों पे रख दिया; मैं भाभी के मम्मों को मस्ती से दबाने लगा; फिर मैं उनकी गर्दन पर किस करने लगा. उसके बदन से चन्दन की खुशबू निकलने लगी और उसने अपने नाखूनों से भैया की पीठ पर डसना शुरू कर दिया. इधर मोहन लाल ने मयूरी के होंठों के रस का स्वाद लेते हुए पहले तो उसका दुपट्टा निकाल फेंका.

उसके अगले कुछ मिनट बाद मेरा लंड भी पिचकारी छोड़ बैठा… पूरी धार भाभी के मुँह में छूट गई. साला मेरे से बातें तो बहुत मीठी मीठी करता था, मेरी ही हम उम्र भी था, मेरे से तगड़ा था और दादा किस्म का भी था. जब रात को हम दोनों एक साथ सोये तो मुझे नींद नहीं आ रही थी, मैं बार बार करवट बदल रहा था.

मेरे ख्याल से प्रिया एक से ज्यादा बार पहले ही स्खलित हो चुकी थी लेकिन मैं अभी तक डटा हुआ था. मैंने उससे जाने के लिए कहा तो उसने साफ मना कर दिया और मुझे धमकी दी कि अगर उसे भी नहीं करने दिया तो वह शोर मचा देगा. उसने कुछ नहीं कहा, तो मेरी हिम्मत बढ़ गई और मैंने अपना हाथ आगे करके ब्रा के ऊपर से ही सीधा उसके मम्मों पर रख दिया.

मेरी माँ ने मुझसे कई बार पूछा भी कि आजकल तू इतना चुप चुप सा क्यों रहता है? किसी से झगड़ा हुआ है क्या? या फिर किसी ने तुझे कुछ कहा?मैंने माँ से कहा- नहीं माँ ऐसी कोई बात नहीं है, तुम परेशान मत हो, मैं बिल्कुल ठीक हूँ. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:देवर भाभी की कामवासना और चुत चुदाई-2.

वो मुझे लेकर उनके पास गया और बोला- क्या बात है कोई प्राब्लम है क्या… आप काफ़ी परेशान लग रही हो?उन्होंने बोला- अरे नहीं वो बस मेरे हज़्बेंड नहीं दिख रहे, मैं उनको ही देख रही हूँ, वो कहीं बाहर ना हों.

इतना कहकर मैंने उनके दोनों मम्मों को पकड़ते हुए फिर से अपनी जीभ को उनकी नाभि में फिराना शुरू कर दिया. हिंदी एक्स बीएफ वीडियो” अब अंकित माया की गांड से लेकिन चुत तक धीरे धीरे अपनी जीभ चलाने लगा. हिंदी सेक्सी बीएफ कुंवारी लड़की कीएक दिन मैं अपने दोस्तों के साथ कैंटीन गया, तो मुझे एक लड़के पर नज़र पड़ी. दोस्तो, मेरा नाम समीर है, आज से दो साल पहले मैंने अपने पहले यौन अनुभवरिश्तेदार के घर चुदाई का मज़ाके बारे में आप सभी को बताया था.

”मुझे बहुत दर्द होता है और मेरी ये हाल देखकर पिंकी मुझ पर हंसती है, तो मुझे बहुत गुस्सा भी आता है.

कभी मेरी जीभ चूसतीं तो कभी मेरे होंठों को दांत में पकड़ कर खींचतीं, कभी मैं भाबी की जीभ चूसता तो कभी भाबी के होंठों को दांत से चबाता. फिर मैंने थोड़ा स्पीड को बढ़ाया तो उसके कंठ से आवाज निकलने लगी- आअहह आअन्न चोद दो. करीब पांच मिनट बाद बॉस ने मुझे छोड़ा और बोले- नेहा, अब तो तुम बिल्कुल नंगी हो अब इन्हें पहन कर दिखाओ।मैं- ओके सर।मैंने वो गिफ्ट उठा लिया और अन्दर के कमरे में चली गयी.

मैं- क्या? ऐसी बातें करते हैं? अच्छा तुम्हें क्या लगता है अंजू?अंजू- आपको देख कर नहीं लगता कि आप छोटे कपड़े पहनती होंगी क्योंकि मैंने आपके सारे कपड़े देखे हैं, वो तो ऐसे ही हैं. एक बाइक पर तीन लोग होने की वजह से सोनी मुझसे एकदम चिपक कर बैठी थी जिससे कि मेरा लंड तो तुरंत खड़ा हो गया. मैं बिस्तर पर लेट गया और उसे अपने ऊपर आने को कहा और उसकी गांड पकड़ कर मैंने उसकी चुत को अपने लंड पट टिकाया और उसे धीरे धीरे बैठने को कहा तो मेरा लंड पूरा उसकी गर्म चुत में सरकता चला गया.

बिहारी बीएफ वीडियो एचडी

मेरी और सुधा की प्रिया को समझाने की लम्बी कोशिश (जिस में असली मुद्दा तो यह था कि आस्ट्रेलिया जा कर प्रिया अपने मां-बाप की दकियानूसी रोक-टोक से आज़ाद रहेगी और कुछ अपना अपने तौर पर कर पाएगी. सोनी घबरा गई और उसने मुझे पीछे से आवाज़ भी दी, पर मैं नहीं रुका और फुल स्पीड से जाने लगा कि तभी रास्ते में एक कुत्ता आ गया और उसे बचाने के चक्कर में मैं बाइक लेकर जोरदार तरीके से फिसल गया. मैंने फिर से हाथ फेरना शुरू किया, अब ज़ायरा भाभी मेरा हाथ नहीं रोक रही थीं.

मेरा मन वहीं हुआ कि अभी इसे चाट लूं और मेरा लंड कड़क हो गया, मैंने अपने आप पर कंट्रोल रखा और फिर से सो गया और मेरा मोबाइल मैंने उसके हाथ में दिया.

मेरे दिल में हलचल सी मची थी कि अब बरसों की प्यास कब बुझेगी और कब तन मन का मिलन पूरा होगा.

अन्दर आकर जब उसने व्हिस्की की बोतल और गिलास देखा और टीवी को बंद देखा तो बोल पड़ी- लगता है कि आज फिर मूड बनाया जा रहा है. जैसे ही मैं पहुंचा, मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया, वो भी मेरा साथ दे रही थी. बीएफ हिंदी एचडी फुलअब तो मम्मी सातवें आसमान पर थीं, खूब जोर जोर से ऊपर से झटके मार रही थीं.

हाय… कितनी मस्त कसी हुई टाइट चूत है मेरी अदिति बिटिया की!” मैंने जोश में बोला और फुल स्पीड से अपनी बहू को चोदने लगा. फिर उसने पास ही पड़ा एक दुपट्टा उठाया जो 90% तक पारदर्शी था, उस दुपट्टे को उसने अपनी चूचियों पर डाला, जैसे उसको छुपाना चाहती हो. तब तक के आपसे विदा चाहती हूँ। मुझसे अपने विचारों को साझा करने के लिए ईमेल कीजिएगा.

कुछ दिनों बाद मेरा बर्थ डे आने वाला था और महेश ने सरप्राइज पार्टी का इंतजाम किया हुआ था. अब मैं किसी गरम देसी चुत की तलाश में हूँ, जिसके साथ मैं मजे कर सकूं और आप लोगों के लिए एक नई पोर्न स्टोरी लिख सकूं.

अदिति बेटा, अब तू अपने पैरों से मेरे लंड से खेल; अपने पंजों में इसे दबा कर इसकी मूठ मार और इसे रगड़!”मेरे कहने से बहूरानी ने मेरा लंड अपने पैरों के पंजों में अच्छे से दबा लिया और इसे हल्के हल्के रगड़ने लगी जैसे हम कोई चीज अपनी हथेलियों से मलते या रगड़ते हैं.

उन्होंने कहा- जान बाहर मत निकालना… अन्दर ही कर दो… अपना गरम पानी मेरी चुत में भर दो. फिर 10 मिनट के बाद मैंने उसे अपने नीचे लिटाया और उसके कान में कहा- अब हम दोनों एक होने वाले हैं, थोड़ा सा दर्द होगा, बर्दाश्त कर लेना. चाची मेरे लंड का सारा माल पी गईं और उन्होंने मेरे लंड को चाटकर पूरा साफ कर दिया.

बीएफ mp4 वीडियो मैं ऐसे ही लैपटॉप लेकर xxx वीडियोज देखने लगी और मेरी चुत चटवाने की इच्छा और जाग उठी. क्या मेरा लंड तुम्हारी चूत की गहराई में छिपी ज़न्नत का मजा पा पाएगा या नहीं.

मोना देखकर हैरान रह गई और पूछने लगी- इसका क्या करोगे जानू?आनन्द कुछ बोले बिना ही जैम को मोना के स्तनों पर लगाने लगा. इस तरह करीब मैंने उन्हें पाँच मिनट और चोदा और जब मुझे लगने लगा कि मैं अब झड़ने वाला हूँ तो मैंने उनसे पूछा- मैं अपना माल कहा गिराऊँ?तो वो बोलीं- तू अपने धक्के तेज कर दे, मैं दोबारा झड़ने वाली हूँ और तू अपना माल मेरी चुत में ही निकाल दे. मैं जब जवानी की दहलीज पर कदम रख ही रहा था और वो पूरी मस्त जवान हो चुकी थीं.

सपना चौधरी बीएफ

मैं समझ गया कि उन्होंने लेस्बियन वाली ब्लू फ़िल्म देखी है और एक दूसरी की चूत को चाट कर ठंडा किया है. उसने मुझे हॉस्टल पे पहुँचा दिया और कहा- कल मैं जाऊँगी तो हफ्ते भर के बाद ही आऊँगी. मैंने मन में कहा कि साली लंड तो ऐसे चूस रही थी जैसे पुरानी चुदक्कड़ हो.

यह बोल कर उसने दूसरा दे धक्का दिया और पूरा लंड मोना की चूत में घुसा दिया. जेठ जी तो चाहते ही थे कि उन्हें उनके छोटे भाई के पास रहने का मौक़ा मिले, वे दोनों रसोई में आ गए और जेठ जी अनन्या को टिप्स देने लगे कि कैसे कितनी क्या क्या डालना है जिससे छोले भटूरे स्वादिष्ट बनें।अनन्या जब मैदे को गूंथने लगी तो जेठजी ने एकदम से अनन्या के हाथ पर हाथ रख कर मैदा गूंथने लगे, इस बहाने वे अपने छोटे भाई की बीवी को छूने लगे।लेकिन अनन्या ने दिखावा करते हुए कहा- जेठ जी!! यह सब गलत है.

कुछ दिनों बाद प्रिया के कॉलेज खुल गए और प्रिया को हॉस्टल भी मिल गया, तो प्रिया हमारे घर से चली गयी.

मैं सुबह उठी तो मैंने फिर वही देखा रोहण ने मेरे बूब्स को मुख में ले रखा था और एक हाथ से दबा रखा था. फिर मैं दीदी को उठा कर दूसरे रूम में ले गया क्योंकि वहाँ उनकी बेटी सो रही थी. मैं नारी शरीर के उस अत्यंत गोपनीय अंग को निहार रहा था जिसको कभी सूर्य चन्द्रमा ने भी नहीं देखा था.

मैं लंड पूरा गले के अन्दर ले लेती और उसके आंड को चूमती तो किशोर अह्ह्ह आह्ह. अरे बेटा दिन रात से क्या फर्क पड़ता है, चल आ जा!”बहू रानी ने पहले कूपे को चेक किया कि वो अन्दर से ठीक से बंद है या नहीं… फिर पहले अपनी बाहें ऊपर उठा कर अपना कुर्ता और सलवार का नाड़ा खोला और सलवार भी उतार डाली. अचानक प्रिया ने मेरे सर के पीछे के बाल अपने बाएं हाथ में कस कर जकड़ लिए और दाएं हाथ से अपना वक्ष पकड़ कर निप्पल बिलकुल मेरे होंठों पर रख दिया.

कभी भाबी के कान को दांत से खींचता, कभी गर्दन पर होंठ घुमाता, कभी भाबी की पीठ चूमता चाटता, भाबी की गांड दबाता चूमता चाटता.

व्हिडिओ सेक्सी हिंदी बीएफ: कुछ पल बाद मैं खड़ा हो गया और उसकी चूचियों के निप्पल को काटने लगा तथा चूसने लगा. इतना कहकर मैंने उनके दोनों मम्मों को पकड़ते हुए फिर से अपनी जीभ को उनकी नाभि में फिराना शुरू कर दिया.

उनको ऐसा करते हुए बहुत मजा आने लगा और वो गांड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगीं. मगर पुलकित ने उसकी तरफ ध्यान नहीं दिया और फिर से अपना लंड उसकी चूत में ज़ोर से पेला, मंजरी फिर से तड़पी, मगर वो तड़पती रही, और पुलकित ज़ोर लगाता गया, जब तक के उसका पूरा लंड मंजरी की चूत में नहीं घुस गया. ये ससुरी ना दुखती… इसे तो लंड से जितना मारो पीटो… उतनी ही ज्यादा खुश होती है बेशरम!” बहूरानी जी खनकती हुई हंसी हंसी.

मैंने देखा कि वो अपने पैरों को चौड़ा करके चल रही थी, उसके हिप्स भी दाएं बायें उछल रहे थे.

हम बाहर घूमने निकल गए, वहाँ सब लोग मुझे ही देख रहे थे। फिर हमने एक होटल में लंच किया, हमने एक मूवी देखी फिर हम वहां से बीच पर गए. थोड़ी देर मैं किसी ने पीछे से आवाज़ दी- रौनक सर, आने में रास्ता तो नहीं भूल गए?जब पलटा तो यारो, मेरे सनम के दीदार हो गए. कुछ इसलिए कि मैं काफी दिन बाद आई थी और लड़के शायद मेरा जिस्म देख रहे थे.