सारी बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,कुत्ता और लड़कियों का बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्टरनी सेक्सी: सारी बीएफ सेक्सी, करीब आते ही भाबी ने निक्कर के ऊपर से मेरा लंड पकड़ कर दबा दिया- वाकयी देव … बड़ा सॉलिड लंड है तेरा.

बीएफ हिंदी वीडियो देसी

अब ऊपर के ऑफिस में सिर्फ हम दोनों ही थे ज्योति टीचर और मैं … उस दिन उन्होंने पिंक साड़ी और ब्लैक ब्लाउज साथ में शायद ब्लैक ही ब्रा पहनी थी. बीएफ वीडियो हिंदी में देसीकुछ देर के बाद कोमल शान्त होने लगी तो ताऊ जी ने उनके होठों को आजाद करते हुए कहा- अब तुम मेरी पूरी तरह से औरत बन गई हो.

कुल मिला कर यह कहना ठीक रहेगा कि उसे देख कर किसी का भी लंड खड़ा हो जाए. बीएफ पिक्चर हिंदी में सेक्सी बीएफइसी आसन में चोदते समय यदि लड़की की टांगें अपने कंधे पर रख ली जायें तो क्या कहने.

मैं बेड पर ऐसे लेटने का नाटक कर रहा था जैसे कि मैं गहरी नींद में हूं.सारी बीएफ सेक्सी: सीमा गजब की सुंदर लग रही थी … गोरा मखमली बदन … चिकनी चूत … खुले घुंघराले बाल ….

मेरी बहन के ससुराल जाने के लिए जंगल में से सड़क भी है और एक छोटा रास्ता पगडंडी से भी गुजरता है.पहले चाय बना लेता हूँ, मैं चाय पी पीकर नहाना कर लूँगा और पेपर देने के लिए निकल जाऊंगा.

सेक्सी बीएफ हिंदी भोजपुरी देहाती - सारी बीएफ सेक्सी

चाहे मुझे अपने हाथों से ही मुट्ठ ही क्यों न मारनी पड़े। लण्ड तो मेरा हर समय, हर जगह खड़ा ही रहता है। मगर अपने लंड की प्यास तो रात को ही बुझा पाता हूं।बहुत दिनों से मेरे लण्ड को चूत के दर्शन नहीं हुए थे, तो मैंने सोचा कि चंडीगढ़ में तो किसी भी लड़की, आंटी और भाभियों की चूतों को मेरी जरूरत ही नहीं है। शायद सबकी चूतें शांत होंगी.उन दोनों से इतनी खुली बातें होने के बाद मेरा मन धीरे धीरे फिसलने लगा था कि कैसे इनको बोलूं कि मेरा मन क्या चाहता है.

आज रेशमा मामी ने जींस और टॉप पहना हुआ था, जिसमें वो एक मस्त लौंडिया के जैसे दिख रही थीं. सारी बीएफ सेक्सी मेरे मुंह से ये सब सुनकर मेरे पति भी जोश में आ गए और हम दोनों ने पूरी रात तीन बार चुदाई की.

फिर मैंने ज्योति के पीछे से जाकर उसके बालों को एक हाथ से हटाकर उसके गले के हार को खोला.

सारी बीएफ सेक्सी?

क्योंकि इन दो-तीन या ढाई दिन, जो भी आप लोग कहना चाहें एक-दूसरे के काफी करीब आ गए थे. मेरा घर ऊंचाई पर है, तो वहां से पूरा गांव रोशनी में जगमगाता दिखाई देता है. मुस्कान भी बहुत खुले विचार वाली लड़की थी, इसलिए मेरी और उसकी गहरी दोस्ती हो गई.

कभी कभी उसके निप्पल को दांत से हल्के काट लेता था, वो पूरी तरह मदहोश हो गयी थी. कोशिश आखरी सांस तक करनी चाहिये यारो …मिल गई तो चूत और नहीं मिली तो उसकी माँ की चूत।मैने अपने सभी साथियों (लंड, आँखें, होंठ-मुँह-जीभ, कान-नाक, हाथ, दिल और दिमाग) की आपातकालीन बैठक (एमर्जेन्सी मीटिंग) बुलाई. हम घर क्यों आये हैं … कुछ रह गया क्या?” वसुंधरा ने कार से उतरते हुए उलझन भरे स्वर में पूछा.

मेरा मन तो हुआ कि कह दूं कि इसके लंड से भी मुझे चुदवा दो, पर कुछ संकोच करके रह गई. मैंने कहा- तो फिर अब मैं अंदर कैसे आऊं?वो बोली- तुम पाइप से चढ़कर आने की कोशिश करो. अब जब राहुल को पैसे मिलने ही थे तो उसने भी काम को बखूबी से अंजाम देना शुरू किया.

मैंने मेनगेट का ताला खोला और कार पोर्च में ले जा कर खड़ी की और कार का वसुंधरा वाली साइड का दरवाज़ा खोला और उससे कहा- आइये. उसके बावजूद भी अगर कोई गलती मिल जाए तो माफ़ कर देना।अब मैं कहानी पर आता हूँ। मेरी फैमिली में हम 4 लोग हैं। मम्मी-पापा, मैं और एक भाई।चूंकि कहानी मेरे बारे में ही है इसलिए मैं अपने शरीर के बारे में जरा विस्तार से आपको बताना चाहता हूँ.

शादी के क्या कारण रहे ये तो मैं यहां पर नहीं बता सकता हूं लेकिन मेरी कहानी जहां से शुरू हुई वो आपको जरूर बता देता हूँ।जब मैंने उसको पहली बार देखा तो वो देखने में कुछ खास नहीं लगी थी मुझे.

अंकल अन्दर आ गये और मेरा दुपट्टा हटाकर बोले- यह साइज ठीक है, सामने से भी ठीक है.

रश्मि- मधु, तुम राज को जितना चाहे प्यार कर सकती हो, तुम्हारा हक़ है तुम उसके बच्चे की माँ बनने वाली हो. दो-तीन जोरदार धक्कों के बाद मैंने सारा लावा उसकी चूत में ही निकाल दिया।हम काफी देर तक एक-दूसरे के उपर नंगे ही पड़े रहे. मॉल में जाकर भी मुझे काजल से अकेले में बात करने के कुछ लम्हे नसीब हो ही गये.

ऐसा कह कर मैडम चली गई।सौरव ने छात्रों को काम बता दिया लेकिन मेरी बुक सेकंड हैंड थी. अक्षिता भी जोर-जोर से धक्के मार कर बोल रही थी- जोर से चोदो जान … मैं झड़ने वाली हूं. बीच बीच में शुभम जी लंड निकाल देते, जिससे गांड का छेद खुला का खुला रह जाता.

हमारी मौसी के आने के बाद मानसी और मेरी चुदाई बंद हो गई थी क्योंकि मौसी अब मानसी के साथ ही सोती थी.

मैं शान्ति को अस्थाई रूप से अपनी अर्धांगिनी बनाना चाह रहा था ताकि समय-समय पर उसकी चूत का भोग मुझे मिलता रहे. भाभी के मुँह से आवाजें आने लगीं, उनकी आवाजें ‘हहम्म उम्म्म …’ मुझे गर्म कर रही थीं. मैंने एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर पेल दिया, जो उसकी बच्चेदानी पे जाके लगा, उसकी चीख निकल गई- रॉबी, धीरे प्लीज़ आह … आह … यस … मजा आ गया … चोद दे.

अब अंकल को मुझे उनके हाथों से पकड़ने की जरूरत नहीं थी, उन्होंने एक हाथ मेरे कूल्हों पर रखा और दूसरा हाथ मेरे स्तनों पर ले आये. वैसे तो वसुंधरा मेहँदी-लगे हाथों से एक उंगली और अँगूठे की चुटकियों से दायें-बाएं से अपना लहंगा उठाये हुए थी लेकिन जैसे ही वो मेरी कार की जलती हेड-लाइट के आगे से गुजरी तो मैंने नोट किया कि वसुंधरा के लहँगे के सामने ज़रा सा बायीं ओर, जहां से लहंगे का नाड़ा बाँधते या खोलते हैं, वो झिर्री कम से कम छह-सात इंच लम्बी थी. सब बैठ कर किसी काम के लिए बात कर रहे थे, मेरे और बॉस के अलावा वहाँ 4 लोग थे, मतलब हम कुल 6 लोग थे.

चूंकि ये मेरी पहली चुदाई थी, तो हिम्मत बनाने के लिए मैंने बियर पी ली थी.

इसके बाद मैंने भी उसकी गुलाबी चुत को चूसना शुरु कर दिया और थोड़ी देर बाद उसे जोर से सुसु आने लगी तो मैंने कहा- मेरे मुँह में ही कर दे!तो उसने मेरे मुँह में ही सुसु कर दिया और मैंने उसका सुसु पी लिया. वह आनंद में डूबती जा रही थी और बोल रही थी- हाय जान, फ़क मी, आज मेरी चूत में वास्तव में कोई लण्ड गया है.

सारी बीएफ सेक्सी उसने तभी अपना मोबाइल ढूंढने का नाटक किया और मुझसे अपने नंबर पर रिंग करने को कहा. मैं बोला- और जो कल दोपहर में आया था वो?मामी बोलीं- वो मेरे सहेली मनीषा के पति का दोस्त है अमित.

सारी बीएफ सेक्सी अगले ही पल उसने अपनी चुत में मेरे लंड का सुपारा लगा लिया और मुझे इशारा किया. वो मेरे लंड के सुपारे पर चिकोटी काटते हुए बोली- जब तुम चक्कर लगा रहे थे, तो तुम्हारी मटकती हुई गांड मुझे बहुत अच्छी लग रही थी, मन कर रहा था कि तुम्हारे कूल्हे को कच्चा खा जाऊं.

वसुन्धरा आगे-आगे और मैं पीछे पीछे डाइनिंग हाल में जा कर डाइनिंग टेबल पर जा बैठे.

सेक्सी xx2023

मैं उसको सहारा देकर बाथरूम ले गया क्योंकि इतनी भयंकर चुदाई के बाद उससे चला नहीं जा रहा था. मैंने उसको बताया कि मुझे एक हॉट फिगर वाली लड़की चाहिए, जो आगे से और पीछे से मस्त दिखती हो. मैंने मधु के चेहरे को उठाया और उसे रोता देख कर उसके होंठों को चूमने लगा.

लेकिन इन सबके जाने के बाद उनका कॉल आया कि उन्हें टाइम लगेगा और वो दूसरे दिन दोपहर में आएंगे. फिर दोपहर बाद परीशा घर आ गयी और मुकुल भी बहाने से छुट्टी लेकर आ गया. फिर एक दिन चाची बोलीं कि मैं गर्भवती हूं, अब हम लोग क्या करेंगे?मैंने कहा- ये आप मुझ पर छोड़ दो यह मेरी निशानी है, हमारे प्यार की निशानी है, मैं उसे दुनिया में लाऊंगा.

मैंने कहा- खाना नहीं, मुझे प्यास लगी है … तुम्हारी चूत का पानी पीना है.

मैंने अचकचा कर ऊपर देखा तो पाया कि वसुंधरा की आँखें तो अभी भी बंद ही थी, उल्टे अब तो वसुंधरा की सांसें भी कुछ-कुछ भारी हो चली थी और उस का निचला होंठ रह-रह कर लरज़ रहा था. जब कई मिनट तक हाथ लंड पर चलता रहा तो फिर मैंने हाथ को खुला छोड़ दिया और मन ने मुट्ठ मारने का चौथा गियर लगा दिया. उसके बाद उसने मेरी चूत में धक्के देने शुरु किये और फिर मुझे मजा आने लगा.

फिर उसके पेट को चूमने चाटने के बाद मैं उसकी नाभि में अपनी जीभ लगा कर गोल गोल घुमाने, चूसने और चाटने लगा. इसके बाद जब भी हम दोनों को मौका मिलता था, हम चुदाई का मजा ले लेते थे. मेरी टांगें फैली हुई थीं और मैंने ऊपर छाती पर बनियान और नीचे जांघों में फ्रेंची ही डाल रखी थी.

वो बोली- चलें?मैंने गाड़ी आगे बढ़ा दी और दस मिनट में हम दोनों फ्लैट पे पहुंच गए. अचानक मेरी नजर गाड़ी से कुछ दूर पर रोड के किनारे लगे हुए बोर्ड पर पड़ी, बरसात की वजह से उसमें कुछ दिखाई नहीं दे रहा था फिर मैंने गाड़ी के अंदर से कपड़े से शीशे को साफ किया और बाहर भी वाइपर को तेज कर दिया तो मुझे दिखा, वो किसी गैरेज का बोर्ड था.

अब कम से कम इतना जुगाड़ तो हो गया था कि जब भी मन करे मैं अपने लौड़े की प्यास को चूत चोद कर बुझा सकूं. मैं उसकी चूत में उंगली घुसाने की कोशिश कर रहा था और मेरी उंगली अंदर उसकी चूत में चली गई. इधर मेरी बीवी की ड्रेस भी ऐसी चिपकी हुई थी कि उसकी बॉडी से कि अजय को मेरी बीवी के बदन का माप लेने में कोई दिक्कत नहीं हो रही थी.

मैंने ओके कह कर ये बात कह दी- नहीं, कोई बात नहीं है, शाम को मेरे फ्लैट पर ही मिलते हैं.

तस्वीर में स्त्री पुरुष जो कर रहे थे, वो मैं और अंकल … मैं मन ही मन ऐसा सोच कर शर्मा गई, पर चुत की खुजली शांत नहीं बैठने दे रही थी. तभी हीना साहिल से पूछ बैठी- मामा, आपने अभी तक शादी क्यों नहीं की?साहिल- मुझे एक लड़की ने धोखा दे दिया था. उसकी सांसें काफी तेज चल रही थीं और मेरी सांसें भी काफी तेज चल रही थी.

उसे खुद नहीं मालूम था कि मैं इतनी जल्दी उसके मन की बात करने लगूंगा. तो मैंने पूछा- आज नीरू और कोमल कहाँ गये?नीरू और कोमल सुमन की छोटी बहनों के नाम हैं.

मगर उसके पति को जॉब के कारण समय नहीं मिल पाता था। काफी समय वहां रहने के बाद मेरी ज्योति से पहचान हो गई व बात भी होने लग गई।ज्योति को मैं भाभी कहता था मगर ज्योति को ये अच्छा नहीं लगता था, वो बोलती थी- मुझे भाभी मत बोला करो. वाह क्या हसीन नजारा था, गोल गोल भरे हुए चूचे और चुचूकों पर डार्क काले रंग के निप्पल चार चांद लगा रहे थे. रेखा जब तक उछाल भरती रही, जब तक कि एक बार फिर से मेरे लंड ने अपनी पिचकारी का मुँह उसकी चूत के अन्दर न खोल दिया.

rekha सेक्सी वीडियो

मेरे मन में आया कि क्यों न सौरव को बुला कर घर पर मजे ले लूँ?मैंने ये बात सौरव को भी बता दी.

उसी समय चारू ने बताया कि उसके स्कूल की भी आज जल्दी छुट्टी हो गयी और अभी घर नहीं जाना चाहती. आप जाइये फ्रेश हो जाइये।मैं जाकर फ्रेश हो कर आ गया और मैंने उसके पति का पायजामा और टी-शर्ट पहन ली. सुमन अभी नर्सिंग की पढ़ाई कर रही है और उसकी बड़ी बहन की शादी हो चुकी है.

कुछ देर बाद वह मेरे पीछे आया … और अपने मरियल से लंड को मेरी गांड से लगा कर मेरी दोनों चूचियों को मसलने लगा. ज्योति उसी लहंगा चुनरी के जोड़े में थी, जो उसने शादी वाले दिन पहन रखा था. सेक्सी बीएफ पिक्चर हिंदी वालीभाभी मुझसे इसलिए राजी थी क्योंकि उसके अनुसार भैया का लंड लुंजपुंज था और वे बिस्तर में ज्यादा देर तक नहीं टिक पाते थे.

वो मस्तानी औरत की तरह आह-ओह करते हुए उंगली से अपनी चूत की चुदाई कर रही थी. यह कहानी मेरी और मेरी साली के बीच की है, जो आज से करीब एक साल पहले घटित हुई थी.

तभी नीना बोली- ओह्ह पापा बहुत टेस्टी है इसकी चूत … ओह्ह पापा आप भी चाटो ना. क्यूं तड़पा रहे हो मुझे मेरे जानू … मगर भाभी की चूत में उंगली करके मैं भाभी को तड़पाने का आनंद लेता रहा. उसके ऊपर स्लीवलेस फिट टॉप में से उसके बूब्स उसकी फिगर को परफेक्ट बनाते थे.

इसके ठीक बाद ताऊ जी ने चाची के पैर पर अपना हाथ फ़ेरना शुरू कर दिया और धीरे धीरे चाची के कपड़ों को ऊपर उठाना शुरू कर दिया. मैंने मन ही मन में सोचा- बेटा परम, यही अच्छा मौका है अगर कुछ करना है तो …मेरी बहन मुझसे ज्यादा खुली हुई नहीं थी. राहुल अंदर गया तो सीमा उससे चिपट गयी और उसे पागलों की तरह चूमने लगी.

उसने मुझे एक कागज दिया और कहा- आज के लिए बस इतना ही समय काफी है, मेरा कल टेस्ट है, मुझे तैयारी करनी है टेस्ट की … सॉरी!मैंने कहा- कोई बात नहीं, कल मिल लेंगे.

जब मैंने उसको मुस्कुराने का कारण पूछा, तो उसने बताया कि मेरा लंड उसके पति के लंड से ज्यादा मोटा है और अभी से एकदम खड़ा भी है. हम दोनों ने एक दूसरे के नंबर ले लिए और अब हम कॉल पर भी बात करने लगे.

मौसी ने मेरी जांघों पर अपने हाथ रखे हुए अपने शरीर के भार को संभाला हुआ था. अब मैं भी कंट्रोल नहीं कर पा रहा था और मैंने उसके लंड को अपने हाथ में पकड़ कर हिलाना और सहलाना शुरू कर दिया. जब वो थोड़ा शांत हुई, तो मैंने अपने लंड को थोड़ा थोड़ा आगे पीछे करने लगा.

धीरे-धीरे करके मैंने अपनी पूरी जीभ चुत के अन्दर डाल दी और चूत को पूरी शिद्दत से चाटने लगा. मैंने पूछा- एक ट्रिप मैं कितना टाइम लग जाता है?मेरा मतलब ये था कि लगातार वे लोग कितने दिन तक ट्रक के फेरे लगाते रहते हैं. आप मुझे मेल करते रहें और मुझे अपने विचार भेजते रहें, जिससे मुझे आगे कहानी लिखने की प्रेरणा मिले.

सारी बीएफ सेक्सी उसी साल दिवाली के कुछ ही दिन पहले की बात है या यूं कह लो कि दशहरे के कुछ ही दिन बाद की बात है कि मेरी एक क्लासमेट अमृता के साथ दुर्घटना घट गयी. अंकल ने अपना हाथ मेरी ठोड़ी पर रखकर मेरा चेहरा ऊपर किया, उनकी आंखें वासना से लाल हो गयी थीं.

मराठी सेक्सी वीडियो मुंबई

शिशिर मुझे नंगी करने के बाद मेरी चूत को चाटने लगे और मेरी चूत को चाटने के बाद वो मेरी चूत में उंगली करने लगे. मैंने पूछा कि आखिर हुआ क्या है?तब उसने बताया कि अभय सर आप मेरा इतना ध्यान क्यों रखते हैं?मैंने बोला- वो तो मैं शुरू से रखता हूँ और सभी का ही रखता हूँ, इसमें क्या गलत है. अब मैंने उससे बातचीत को आगे बढ़ाते हुए उसकी पर्सनल लाइफ के बारे में पूछा.

भोला ने मेरी चूत पर लंड लगाकर मुझे अपनी तरफ खींचते हुए एक जोर का धक्का मारा और एक ही झटके में भोला का मोटा लंड मेरी चूत को चीरता-फाड़ता हुआ अंदर घुस गया और मैं दर्द के मारे ऐसी चिल्लाई कि मेरी आवाज पूरे लॉज में पहुंच गई. वो जब देखो तब सेक्स की ही बातें करती थी और अपने बॉयफ्रेंड को लेकर डींगें मारा करती थी. गांड में लंड डालने वाला बीएफजब दिमाग में सेक्स चढ़ने लगा, तो मेरा मन चंचल हो उठा और मैं भाभी की कमनीय काया को लेकर उत्तेजित होने लगा.

एक तो उसके हाथों में मेहँदी लगी हुई थी, ऊपर से लहंगे का नाड़ा रेशमी.

आंटी बोल रही थी- आज मेरे राजा ने मेरी प्यास बुझा दी। मुझे पता भी नहीं था कि इतने लंबे लण्ड का मालिक मेरे साथ रहता है. जैसे ही उसने मेरे बूब्स पर अपने दोनों हाथ रखे तो मेरी आह … निकल गयी.

मैं बोली- कैसे? आपकी बीबी मिलने देगी क्या?उन्होंने कहा- उसकी चिंता आप मत करो, मैं 11 बजे दरवाजे पे खड़ा रहूंगा. वापस आने के अगले दिन में लंच में कीर्ति से मिला, तो देखा वो कुछ उदास थी. मैं उसके बदन से लिपट कर उससे चुदने लगी और फिर मेरी चूत से एक तूफान सा उठा और मैं जैसे अंदर से खाली होने लगी.

ये सीन देख कर मेरा भी हाथ रूक नहीं रहा था, अपने आप सुपाड़े पर चलने लगा.

दमदार चुदाई के बीच ही उसके पति का फोन आ गया था, जिसमें नम्रता ने अपने को भी चुदासी बातों से गरम कर दिया था और वो मुठ मारने जाने की कह कर फोन बंद करके चला गया. तेज चोदो जान … और तेज!मैं भी झड़ने वाला था और उसके हाथ मेरी कमर पर दबाव बनाये जा रहे थे. साहिल ने उसकी कमर को थाम लिया और पूरा लंड हीना की चूत में उतार दिया.

चोदा चोदी सेक्सी बीएफ वीडियोवो काफी फिट थी और नशे में उसको बस यही सूझ रहा था कि उसकी जल्दी से चुदाई हो. जैसा मैंने पहले बताया था कि मेरे चाचा थोड़े समलैंगिक किस्म के व्यक्ति हैं.

जिओटीवी का सेक्सी

मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठाई और उसके खूबसूरत कबूतरों की चोंच अपने मुँह में भर ली. अपना पूरा का पूरा नौ इंच का हब्शी लंड मेरी गांड के अन्दर घुसेड़ दिया. मैंने उसे क्लास में काफ़ी बार देखा था क्योंकि मेरी क्लास का ही था, लेकिन हमारी बात नहीं होती थी.

जीतू किसी न किसी बहाने से रोज मेरे घर आता था और मम्मी कहीं बाहर बात करने के लिए चली जाती थी तो हम दोनों लोग एक दूसरे को किस करते थे और वो मेरी चूची दबाता था. करीब 10 मिनट में उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया और वो एकदम से अकड़ गयी थी. सोनम मेरी बीवी से पांच साल छोटी यानि बाइस साल की बहुत ही खूबसूरत बहुत ही सेक्स से भरी मलिका है.

लेकिन मैं अपनी तरफ से कोई पहल नहीं करना चाहता था क्योंकि वो एक तो हमारी रिश्तेदारी में थी और दूसरा मैंने कभी उसके साथ सेक्स के बारे में इस तरह से सोचा भी नहीं था. मैंने एक दो बार अपने लंड को लोअर के ऊपर से सहला कर उसको शांत करने की कोशिश भी की लेकिन वो और ज्यादा तनाव में आता गया. अभी इन सबके आने में समय था, तो सोचा तुमसे फोन पर बातें करके मन को बहला लूं.

इसलिए समीरा के जाते ही वह साहिल की टांगों के बीच में जाकर नीचे जमीन पर बैठ गई. मैं लगातार भाभी की चुचियों को पीता रहा और दूसरे को हाथ से दबाता रहा.

मैंने उनको बताया था कि मेरा पति मुझे रात में एक बार ही चोद पाता है.

फिर थोड़ा ऊपर मेरे मुँह की तरफ खिसकते हुए अपने मम्मे को मेरे होंठों से टच कराने लगी. हॉट सेक्सी बीएफ दिखाइएप्रिया जी भी दिल्ली में ही रहती थीं, इसलिए प्रिया जी ने भाबी को अपने यहां 2-3 दिन रहने के लिए बुलाया. बीएफ फिल्म कीप्रीत के साथ भी मैंने उनकी बात करवा दी।लेकिन 2 दिन बाद भाई को घर जाना था और अपनी जरूरत के कागजात बनवाने थे। तो भाई ने कहा- मैं 20 दिन बाद एक सप्ताह के लिए आऊंगा, तब एन्जॉय करेंगे।दो दिन बाद भाई चले गए।और जब वापस आये तब प्रीत की चुदाई की वो अगली कहानी में बताउंगी। आप मुझे[emailprotected]पर मेल करके बताना कि आपको कैसी लगी मेरी चुदाई।धन्यवाद।. बस मेरी बीवी की इस छूट का भरपूर लाभ लेने के लिए ही मैंने सोनम और सोना की दोस्ती करवाई.

जब तक हम गैरेज पहुंचे तब तक काफी अंधेरा हो चुका था और बरसात भी बंद हो चुकी थी.

राधिका चौंक पड़ी- क्या?अबकी बार सोनल ने मजा लेते हुए कहा- हां भाभी, अब टास्क है तो आपको टास्क तो करना ही पड़ेगा. मैं सोच रहा था कि अगर नई दुल्हन को किसी ने इस तरह से मेरे साथ बैठे हुए देख लिया तो लोग शक करने लगेंगे. उसने कहा- जीजाजी, अब आप किसका इन्तजार कर रहे हैं?मैंने राधिका का कुरता निकाल दिया, जिससे वो सिर्फ एक लाल रंग की ब्रा में रह गई थी.

ऐसे ही चलता रहा, फिर उन्होंने मुझे अपने साथ अपने घर चलने का न्यौता दिया. जीजा-साली की चुदाई को वह लॉज का मैनेजर बाप-बेटी की चुदाई समझ रहा था. मैंने शावर लिया और बाहर आकर तौलिया से बदन पोंछ कर एक जोड़ी धुले हुए साफ कपड़े बदन पर डाल लिये.

हिंदी सेक्सी movies

इधर मेरे मुहांसे भी बढ़ रहे थे जिससे मुझे खुद अपना चेहरा देखने की इच्छा ही नहीं होती थी. मेरा हाथ भी कहां रूकने वाला था, मैं रेखा की नाईटी उठाकर उसकी चूतड़ को सहलाते हुए उंगली उसकी दरारों के बीच चलाने लगा. फांकों को भींचते हुए उसने अब अपनी उंगली चूत के अन्दर डालती, फिर वही उंगली मुँह में लेकर चूसती और फिर चूत के अन्दर पेल देती.

तेरा बाप साला कौन सा दूध का धुला हुआ है? जब ये तेरी चूत के मजे ले सकता है तो तुझे भी तो पूरा हक है अपनी चूत को किसी और के लंड से चुदवाने का.

हम दोनों साथ में ही रहने लगे क्योंकि हम दोनों बहुत ही अच्छे दोस्त हैं, तो हम दोनों की आपस में जमती भी बहुत थी.

फिर बिस्किट लेकर और चाय का कप लेकर फिर से अपने रूम की तरफ जाने लगा तो सुमिना ने मुझे रोक लिया. भाबी की मादक सिसकारियां निकलने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… देव …मैं भाबी की चुत पर धड़ाधड़ वार करता हुआ कहने लगा- आह भाबी, कैसा लगा मेरा लंड?भाबी- डंडा सॉलिड है तुम्हारा देव … तुम्हारे भैया से भी मोटा लंड है तुम्हारा … ऐसा लग रहा है तुम्हारा ये लंड मेरी चूत को फाड़ ही देगा. बीएफ वीडियो अंग्रेजी सेक्सीउसके गुलाबी रंग लिये निप्पलों का तनाव देख कर मैं उसके चूचों पर टूट पड़ा.

मैं उसको सहारा देकर बाथरूम ले गया क्योंकि इतनी भयंकर चुदाई के बाद उससे चला नहीं जा रहा था. लेकिन मेरा लंड सिर्फ 6″ का है और मेरे अब्बू का, मैंने देखा तो 7″ से भी थोड़ा ज्यादा ही था. कुछ देर मम्मों को मींजने के बाद मैं थोड़ा नीचे होके उनकी नाभि के ऊपर किस करने लगा.

यह सिलसिला एक दो बार और चला और तीसरी बार तो उस औरत ने बड़ी ही गंदी शक्ल से मुझको देखा … मानो वह मुझे मार डालना ही चाहती हो. मैं- मधु अब से तुम भी मेरी बीवी हो और जितना हक़ रश्मि का है, उतना ही तुम्हारा है.

मैं अपने मुँह से उसकी चूत पर लगी हुई चॉकलेट को चाट रहा था और उधर ज़ायरा का हाल बुरा हो रहा था.

तब तक मैंने 10:30 के शो की टिकट ले ली और पारुल का इंतज़ार करने लगा. वो सर को बेड के गद्दे में घुसाये मादक चीखें निकाल रही थी- आह आह ओओ … फक आहह. ये सुनकर मोनिषा ने एक पल की भी देरी नहीं की और मेरा एक हाथ पकड़ कर अपनी चुचियों पर रख दिया.

बीएफ मूवी देखने वाला वो नीचे चली गईं और मैंने भी उनके साथ ही नीचे आकर बाथरूम में मुठ मारी और अपने कमरे में जाकर सो गया. मैं कुछ नहीं बोल रहा था, मेरे मन में एक ही बात चल रही थी कि इसे कैसे चोदूं … कैसे चोदूं.

तभी मेरी कौसर जान एक बार फिर परमानन्द की तरफ बढ़ चली और साथ ही मेरे अब्बू ने अपनी मनी उसकी चूत में ही छोड़ दी।अब्बू कुछ देर तक मेरी बीवी के नंगे जिस्म के ऊपर ही पड़े रहे. जिस कॉलेज में मेरे भैया मेरा दाखिला करवाना चाहते थे, बहुत भाग-दौड़ करने के बाद भी उसमें मुझे दाखिला नहीं मिला। इसके लिये मेरे भैया ने एक-दो जगह से मेरे लिये सिफारिश भी लगवाई मगर फिर भी मुझे उस कॉलेज में दाखिला नहीं मिला. उसे देख कर वो थोड़ा डर गई- यश ये तो बहुत ही बड़ा है … बहुत दर्द होगा इससे तो?मैंने उसे प्यार से समझाया- पहली बार है, दर्द तो होगा ही … पर मैं तुमको दर्द कम से कम दूँगा.

सपना चौधरी की वीडियो में सेक्सी

यह बात 4 साल पहले की है जब मैं अपने मामा जी के यहाँ घूमने गया था। मेरे मामा जी की फैमिली में 5 मेम्बर हैं. मैंने उसके कान में धीरे से पूछा- क्या फिगर साइज बना रखा है तुमने?तो उसने शर्माते हुए बोला- खुद ही चैक क्यों नहीं कर लेते. जैसे ही आंटी ने बाथरूम का दरवाजा बंद किया, वैसे ही मैं दरवाजे की तरफ भागी पर अंकल ने दुगनी तेजी से मुझे दरवाजे तक पहुँचने के पहले ही पकड़ लिया.

उनकी चुत आग की भट्टी की तरह तप कर गोल्डन रंग सी चमकती हुई दिख रही थी. लेकिन मैंने बहुत थक चुका था और अब दम नहीं बचा था।मैंने नेहा को एक लंबा किस किया और वो चली गयी.

झमाझम बारिश में, कार से उतर कर देखा तो पाया कि पैसेंजर-साईड का अगला टायर पंक्चर हुआ था.

जब मैं 20 साल की थी, तो कॉलेज में पढ़ने के साथ ही मैंने पानीपत में ही कोचिंग लेने का फैसला किया. और फिर जैसे जैसे मैं उसकी चूत के पास बढ़ने लगा तो मानो उसमें एक आग सी लग गयी. ये देख कर मेरे चेहरे पर कुटिल मुस्कान आ गई और मैंने उसे घूरते हुए एक बार नजरें उसके ब्लाउज के अन्दर कैद चुचियों पर डालीं.

भाभी की चूत में घुसने से मुझे लंड में भारी दर्द होने लगा था, क्योंकि ये मेरा यह पहली बार था. मेरी पहली कहानीमेरी प्यासी चुत में मोटा लण्डको पढ़कर सभी साथियों ने मेल करके जो धन्यवाद और प्यार दिया है. मुझे जब भी मौका मिलता है तो अपने बॉयफ्रेंड के साथ या अपने पड़ोसी के साथ होटल में जाकर सेक्स कर लेती हूँ.

मेरे शौहर काम में बिजी होने के कारण मेरे साथ थोड़ा कम ही टाइम स्पेंड करते थे.

सारी बीएफ सेक्सी: दोस्तो, मेरी सच्ची सेक्स कहानी अगर अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल जरूर करें. इतने मैं आगे से सनी जी भी आ गए और बोले- तुम्हारे पास पूरी रात है … बताओ क्या क्या करते तुम?मुझे विश्वास नहीं हुआ, वो दो इतने सुन्दर और बॉडी वाले लड़के मुझसे चिपके हुए थे.

जैसे ही मैंने उनकी चुत पर अपना मुँह रखा, वो एकदम से उछल पड़ीं और उन्होंने मेरा मुँह अपनी जांघों में दबा दिया. फिर मैं बोला- जान एक बात पूछूँ?वो बोलीं- जी हां पूछो …मैं पूछा- कॉलेज में जब आप स्टूडेंट थीं, तब आपने कितने लंड लिए थे?रेशमा बोलीं- दो के लंड लिए हैं. जब बीयर का हमारा पहला ग्लास खत्म हो गया तो मैं दूसरा बनाने के लिए उठा तो उसने कहा- एक ही बनाना, अब दोनों एक में ही पियेंगे.

लण्ड अब मेरे कंट्रोल में नहीं था। वो झुक कर अपनी चूत में साबुन लगाने में मस्त थी। मैं चुपके से अंदर घुस गया। साथ में पाजामा और अंडरवियर भी उतार लिए। वो तो झुकी हुई थी और पीछे से मैंने अपना लण्ड उनकी उभरी गांड पर टिका दिया।वो अचानक से हुई मेरी इस हरकत से घबरा गई और मेरी तरफ घूमी.

दूसरी उंगली उसकी चूत पर फिराने लगता है और अपना जीभ से उसके दूसरे निपल्स को चूसने लगता है। फिर धीरे धीरे नीचे आते हुए अपनी जीभ से परीशा की चूत को चूसने लगता है।अब परीशा का सब्र जवाब दे देता है और वो ना चाहते हुए भी चीख पड़ती है- बस … पापा … आज. मैंने उसका निचला होंठ अपने होंठों में ले लिया और चूसने लगा और वो मेरा ऊपर का होंठ चूसने लगी. सुचिता बोली- हम दोनों सहेलियाँ आपस में सारी बातें शेयर करती हैं, आप चिंता मत कीजिएगा, ये राज, राज ही रहेगा.