ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए

छवि स्रोत,भोजपुरी लड़की सेक्सी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

हॉट इंडियन सेक्सी फिल्म: ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए, मैं- उठो! अब चाय बना लो!वो उठी, मेरे गाल पर चूमा और नंगी ही किचन में चाय बनाने चली गयी.

सुनीता भाभी बीएफ

मैं उसकी बातों का थोड़ा बहुत जवाब दे देती थी।इसी तरह से धीरे-धीरे हमारी बातें बढ़ती गयी और हम दोनों खूब बातें करने लगे. सेक्सी बीएफ वीडियो प्ले बीएफमैं सीमा की टाँगों के बीच आ गया और अपने लण्ड का सुपारा सीमा की चूत के लबों पर रगड़ने लगा.

मैं हाथ-मुंह धोकर आया तो तुरंत उसने एक कौर तोड़ कर हाथ में ले लिया. लड़की घोड़ा की सेक्सी बीएफमैंने भाई को पीछे धकेलते हुए उसके लंड को अपनी चूत से निकलवा दिया और दिव्या को अपने आगे कर दिया.

मैं लगातार उसकी चुत को चाट रहा था और वो मेरा सर पकड़ कर अंदर की तरफ खींच रही थी और मेरा मुंह उसकी चुत की दरार के अंदर तक धंस गया.ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए: मैं नीचे से एक हाथ से न्यासा के चुचे दबाने लगा ओर दूसरे हाथ से उसकी चुत को सहलाने लगा.

मैं इधर उसके शहर और जगह का नाम नहीं बता सकता क्योंकि इससे निजता भंग होने का भय रहता है.एक एक बूंद निचुड़ जाने के बाद मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला और मालू से लिपट कर लेट गया.

चाचा भतीजे की बीएफ सेक्सी - ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए

मैंने उसका कोई विरोध नहीं किया और उसने शर्ट के अन्दर से मेरे नंगे मम्मों को दबाना शुरू कर दिया.जब मैं नहाने के बाद अपनी पैंटी पहनने लगी तो मैंने उस पैंटी पर भी वैसे ही दाग देखे.

जब मैं प्रीति के बाएं निप्पल को चूस और काट रहा था, तब मैं उसकी दाएं तरफ वाली चूची को हाथ से दबोच रहा था. ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए ” कहकर मैंने गौरी के गालों को थपथपाया। लगता है गौरी आज गौरी का मूड बहुत खराब है।नाश्ता करते समय मैंने गौरी द्वारा बनाए पराठों की तारीफ़ करते हुए पूछा- गौरी तुम्हें थोड़ा अच्छा तो नहीं लगेगा पर एक बात पूछूं?क्या?”वो… दरअसल उस दिन उस लड़के ने तुम्हारे साथ किया क्या था?” मुझे लगा गौरी आनाकानी करेगी।मुझे इसी बात का तो दुःख है.

अब आगे का काम मेरा था!मैंने उसके होंठ अपने होंठों में दबाये और लंड को उसकी चूत की गहराई में उतार दिया.

ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए?

मैं पछता रही थी कि क्यों इससे कहा कि मेरी सहेली को राहत दे दो, उसकी बेचैनी दूर कर दो. वहां पर सभी एक वेट कर रहे थे कि नया बॉस आज आने वाला है और सुना था कि बहुत खड़ूस है. सुबह 11 बजे उनकी ट्रेन थी तो हम सभी स्टेशन गए।उनको ट्रेन में बैठा कर हम सामान लाने बाजार की तरफ चल दिये और सबसे पहले दारू के ठेके पर जाकर हमने 12 बियर के कैन लिए.

सुनील ने सिगरेट सुलगाई और एक मनोज को दी तो मनोज ने अपनी सिगरेट पीते पीते एक बार पीछे दीपा को दे दी. आरिषा भाभी ने अपनी साड़ी को पैरों से ऊपर उठाया और कामुक आवाज़ में बोलीं- रामू लो … मेरे पैरो पर आगे भी बाम लगा दो. उसके नेक्स्ट डे रूम सर्विस वाली आई और वो मेरी तरफ एक लिफाफा देती हुई बोली- कल वाला लड़का फिर से आया है और एड्वान्स दिया है.

उसके बाद भी हम कई बार मिले लेकिन उसकी तरफ से कोई पहल नहीं हुई और वह बात ऐसे ही आयी-गयी हो गई. उसने मेरे झड़ते ही मुझको कसके पकड़ लिया और साथ में वो भी दुबारा झड़ गई. मगर मुझे पता था कि दर्द के बिना मजा कैसे मिल सकता है, इसलिए मैंने पायल के होंठों पर अपने होंठ फिर रख दिए और पूरी ताकत से धक्का दे मारा.

फिर महीने भर के बाद एक दिन शिवम मेरे पास आया और विवेक और मेरे बारे में उल्टी सीधी बात करने लगा. मुझे नहीं पता था कि ऐसा भी हो सकता है कि कोई लड़की अपने मम्मों को भींचते हुए मालिश करे.

मैं तो आपकी दोस्त हूँ ही! फिर क्या?वो कुछ रुक कर बोले- मैं तुम्हारे साथ वो सब करना चाहता हूँ जो एक पति पत्नी करते हैं।मेरा दिल तो पहले से ही जानता था कि वो यही कुछ बोलेंगे मगर मैं चौंकते हुए बोली- यह आप क्या कह रहे हैं, आप मेरे अच्छे दोस्त हैं और हम दोनों की उम्र में भी काफी फासला है।वो मेरे हाथों को अपने हाथों में लेते हुए बोले- जैसा कह रही हो, वो तो सच है.

मैं सोचने लगा कि अब ये क्या हो गया है … कहीं शायरा ने मकान मालकिन‌ को कुछ बता तो‌ नहीं दिया.

लेकिन वो मेरे ठीक बगल में बैठी थी तो ज्यादा ऊपर तक पैर जा नहीं रहा था।सबने सेट पूरा कर लिया और मुझे दे दिया।दोनों लड़कियाँ चली गयी और मैं यास्मीन के साथ कमरे में अकेला था।मैंने उसे बोला कि मैंने देख ली क्रीम!वो हंसने लगी. मैंने बिना रुके पहले तो दस से बारह झटके जोर जोर से ऐसे लगा दिए जैसे वो कोई औरत नहीं … सेक्स डॉल हो. करीब दस मिनट तक एक दूसरे को चूसने के बाद मैंने उसकी ब्रा का हुक खोला, तो बाकी के दो हुक झटके से ही खुल गए.

खैर …मकान मालकिन- तुम‌ तो बहुत सीधे साधे हो, किसी से फालतू बात भी नहीं करते … फिर झगड़ा कैसे कर लिया?मैं थोड़ा घबरा तो रहा था‌ मगर मकान मालकिन के साथ साथ शायरा की भी गलतफहमी दूर करने का मुझे ये सही मौका लगा. भले ही कुछ दिन के लिए ही सही … मगर मैं थी।शुरू में लगा कि ये दिन आराम से निकल जायेंगे. अब उसी खिड़की से अभिषेक पहले खुद अन्दर गया और मुझे भी अन्दर खींच लिया.

अब उसका डर निकलता जा रहा था और वो कुछ ज़्यादा करने को आतुर हो उठा था.

पार्क में मिली लड़की इतनी गर्म निकली कि वो जरा सी कोशिश में ही लंड के नीचे आ गयी. ड्राइवर आराम से 60 की स्पीड से बस चला रहा था और बस में धीमी आवाज में राजस्थानी गीत चल रहे थे. सोचा कि ये भी इसी कॉलेज में पढ़ती होगी, इसलिए अब तो‌ उसे रोज देखा करूंगा और हो सकता है आगे जाकर कभी उससे दोस्ती भी हो जाए.

जब वो दोनों हाथ उठा कर कुत्ते की तरह मुझे देखता, तो मैं उसे सहला देती और उसके लंड को भी. जेम्स- आप पेमेन्ट नहीं, आप एक काम करें … मैं आप जैसा माशूक नमकीन तो नहीं … पर आप बदले में मेरी मार दें, ये राशि राकेश को दे दें, उसे जरूरत है. उसको इस हमले की आशंका न थी और वो जोर से चिल्ला उठी- आह्ह … मर गयी ….

उन दिनों विवेक और लूसी अपने नाना नानी के साथ यानि हमारे बड़े पिताजी के घर रहते थे.

वो दोनों बोले- हां, बीयर तो है लेकिन वो गांव से बाहर एक दुकान पर ही मिलती है. सेल्सगर्ल- यस सर, वैसे तो मैम‌ का रंग फेयर है इसलिए इन पर कुछ भी सूट करेगा … मगर ब्लैक और भी ज्यादा बैटर रहेगा.

ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए धीरे धीरे मैंने चूचियां सहलाईं तो रेखा बोली- थोड़ा वाइल्ड हो जाओ, बेरहमी से चोदो, ऐसे चोदो जैसे कोई दुश्मनी निकाल रहे हो. सिर्फ 1 मर्द की जरूरत होती है!उनकी इस बात पर मैंने उनकी तरफ देखा और मुस्कुरा दी.

ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए साथ ही उनके चेहरे पर मुझे हल्की सी शरारती मुस्कान सी भी दिखाई दे रही थी जिससे‌ मुझे अब झटका‌ सा लगा क्योंकि यह तो शायद स्वाति भाभी की तरफ से मेरे लिये खुला ही इशारा था।मैंने अब भी देर ना करते हुए सीधा ही बाथरूम के दरवाजे को पकड़ लिया और उसे खोलने के लिये अन्दर की तरफ धकेल दिया. वैसे भी किसी भी चुत को शांत करने के लिए लंड का आकार कोई मायने नहीं रखता है, वो तो लंड के देर तक चलने पर निर्भर करता है.

इसलिए आपसे विनम्र निवेदन है कि अपना मेरी बीवी को चुदवाया कहानी पर फीडबैक मुझ तक जरूर पहुंचायें क्योंकि कहानी आप तक पहुंचाने में काफी मेहनत लगती है.

सेक्सी फिल्म अंग्रेजी में सेक्सी फिल्म

जब उसको पता लगा कि मैं अकेला आया हूँ, तो उसने मुझे अपने दोस्तों के साथ एक रेस्तरां में खाने पर बुलाया. संजू की चूत से लंड का बहुत सारा वीर्य निकल रहा था, जो काफी ज्यादा मात्रा में था और बहुत गाढ़ा था. यह मेरी लाइफ का पहला वाकया है जो मैं आप लोगों से शेयर करने जा रही हूं.

तो पिंकी ने हैंड टॉवल से चूत को साफ़ किया और रवि से कहा- आओ जान, अब तुम इसे फाड़ो. शायरा के पीछे लेटकर मैंने उसके एक पैर को ऊपर हवा में उठा लिया और पीछे से चूत में लंड डाल दिया. चुदाई की आग की कहानी में पढ़ें कि एक नई जवान हुई लड़की की सेक्स की प्यास किस हद तक जा सकती है.

वैसे इसके लिए मैंने अपनी भाभी को फोन करके बताया भी … मगर भैया के बिना वो भी कुछ नहीं कर सकती थीं.

उसने पैंटी और ब्रा पहनना छोड़ रखा है और सीधे आकर मेरे मुंह से चूत लगा देती है. मुझे उसने छत से देख लिया था तो दरवाजा खुला था और वो दरवाजे पर खड़ी थी. उसे भी इस समय कुछ ऐसा लग रहा था और वो अपने जिस्म की आग को शांत करने में लगी थी.

थोड़ी बहुत ना-नुकर के बाद मुझे हीरो-होंडा पैशन बाइक मिल गयी और मेरी साइकिल पर रोहित ने कब्ज़ा कर लिया. फिर मैंने उसके लंड को हाथ से हिला कर पहले तो उसके लंड का टोपा अपने मुँह में लेकर चूसना शुरू किया. उसने मेरे झटके खा रहे लंड को देख कर कहा- अगर तुमको परेशानी हो रही हो तो लोअर निकाल दो.

चूंकि मेरी हाइट 5 फुट 10 इंच है और उनकी मुझे काफी कम थी … यही कोई लगभग 5 फुट 1 इंच के आसपास. एक कुकोल्ड पति की दोस्त से बीवी की चुदाई की तमन्ना ने उसकी पत्नी और दोस्त के सेक्स सम्बन्ध बनवा दिए.

उनके होंठ रस से भरे जैसे लग रहे थे … जैसे ये मेरे चूसने के लिए ही बने थे. वो मेरे लगातार चूसे जाने से तेज स्वर में ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ कर रही थी. शायरा भी मेरे कहते ही उल्टा लेट गयी, जिससे मैंने अब पीछे से उसकी चूत में लंड डाल दिया.

नशे में शायद वो अपने पुराने पति को याद कर रही थी और कुछ बुदबुदा रही थी.

पर देर आए दुरुस्त आए वाली उक्ति याद करके मैं मॉम के साथ मजा लेता रहा. मैंने अचानक से अपने मुँह को उसकी नाभि से चिपका दिया और अगले ही पल उसके मुँह से ‘आहहा हाह. इससे मेरी बीवी शिल्पा ने कामुक आह भरी और राहुल से जल्दी से लंड चुत में पेलने का इशारा किया.

सुबह से हमने खुल कर चुदाई नहीं की थी तो हम लोगों को अब खुली चुदाई का मजा चाहिए था।घर आते ही सौरभ सोनाली पे टूट पड़ा, वो जानवरों की तरह सोनाली को किस करने लगा। वो उसके चूचों को उखाड़ देगा, ऐसा दबा रहा था और मसल रहा था।सोनाली भी पूरी जंगली बिल्ली की तरह उसे नोच रही थी।सौरभ ने तुरंत उसे नंगी कर दिया और अपना लौड़ा उसके मुँह में पेल दिया। उस समय मुझे लगा कि रंडी की चुदाई होने वाली है. मैं दो तीन दिन तक अपनी गांड की सिकाई करती रही और चूत में उंगली भी करती रही.

मेरे हाथ से खून निकल आया था इसलिए अपना हाथ धोने‌ के‌ लिए मैं सीधा पानी की टंकी की तरफ आ गया. ऐसा कहते हुए वो संजू के पैर दबाने लगा और पैर में दो तीन किस भी ले ली. साथ ही साथ एक चूड़ी का डब्बा निकाल कर रिचा की दीदी को देते हुए बोला- दीदी, इस चूड़ी को वापस करके पिंक कलर की चूड़ी दे दीजिएगा.

सेक्सी बंगाली वीडियो

यह मेरी लाइफ का पहला किश था मेरे सारे शरीर पर झुरझुरी होने लगी … वो अहसास मुझे आज तक याद है.

इसी के चलते हो सकता है कि कुछ गलतियां हो जाएं, तो प्लीज़ माफ कर दीजिएगा; और कोशिश कीजिएगा कि आप जब देसी लड़की सेक्स स्टोरी को पढ़ेंगे, तो उसकी कल्पना आपको कामवासना के लोक में ले जाएगी. उसके जाते समय देखा कि उसकी चाल थोड़ी बदल गयी थी, जिसे वो छिपाने की कोशिश कर रही थी. बाद में उसके बगल में लेट कर बड़ी देर तक मैंने उससे अपना लंड चुसवाया.

रेखा बोली- आज फाड़ ही डालो इसको … बहुत साल हो गए … आज तो इतना पानी निकल रहा है कि कुछ समझ ही नहीं आ रहा कि इसको क्या हो गया. फिर मैंने सारे कपड़े उतार कर जैसे ही उसकी दी हुई नाइटी डालने लगी, तो उसने कहा कि रुक ज़रा, तुमने चूत पर पूरा जंगल उगा रखा है. देसी कुमारी बीएफचाची- थप्पड़ क्यों मार रहा है … और साले अपनी चाची को गाली दे रहा है … भैन के लौड़े शर्म नहीं आती तुझे.

अब आगे की माँ बेटी चुदाई कहानी:अगले चार छह दिन तक योजनानुसार दादी ने मल्लिका से उसकी शादी की चर्चा से बात शुरू की और शादी के बाद मिलने वाले शारीरिक सुख के आनन्द का जिक्र करते हुए उसे गर्म करना शुरू किया. तब मैं नोएडा में रहती थी और मेरे पास मेरे कई सारे क्लाइंट्स थे जो अपने वर्कआउट को लेकर बहुत सीरियस थे.

उनके हाथ लगाते ही मेरा लंड और ज्यादा टाइट हो गया, लेकिन मैं इतनी जल्दी तो चूत में लंड डालने वाला नहीं था. खासतौर पर मैं अपनी सहेली, मेरी चूत को छू रही थी और मैं अपनी एक उंगली को अन्दर डाल चुकी थी. जिसका असर यह हुआ कि कुछ देर बाद उसके लंड ने अपना रस छोड़ दिया और वो मेरे हाथों पर लग गया.

क्या मैं इसे हाथ लगा कर देख लूं!मैं बोला- हां, जो तुम्हारा मन करे, कर सकती हो. फिर मैं काफी देर तक जम कर कभी चूत कभी गांड को बारी बारी से चोदता रहा. मैं- ज़ारा भरोसा रखो! ऐसा कभी कुछ नहीं होगा!ज़ारा- आप मेरे साथ सुहागरात मनायेंगे?मैं- हां जान!ज़ारा- मेरा सपना …मैं- अब सच होने वाला है!ज़ारा- होने वाला है! मतलब आज नहीं?मैं- नहीं!ज़ारा- फिर कब?मैं- सुहागरात! तुम्हारे लिये बर्थडे गिफ्ट होगी!कहते हुए मैंने उसे वो नथ और मांग-टीका भी दिया.

अगर उसको मैडम कहूं तो ज्यादा सही रहेगा क्योंकि इस उम्र में तो वो मैडम ही कहलायेगी.

वो छटपटाने लगी, उसकी आवाज मेरे होंठों के ढक्कन के कारण बंद हुई पड़ी थी. मेरा लंड अब उसकी गान्ड में चुभने लगा।मैं दोनों हाथों से उसके बूब्स दबाने लगा और वो उसकी गान्ड मेरे लौड़े पर रगड़ने लगी।मैंने उसे बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया और तेल की कटोरी से उसकी गान्ड के छेद में तेल की बूंदें डालकर उंगली से चोदने लगा.

उसने टॉप उतार दिया।मैंने जैसे ही उसके दूधों को देखा तो मैं दंग रह गया।इतने बड़े दूध थे कि हाथ में नहीं आ रहे थे। मैं तो अपनी किस्मत पर फूला नहीं समा रहा था. शायरा जितनी सुन्दर थी … उतनी ही तीखी मिर्ची की‌ तरह तेज और खुर्राट भी थी. लेकिन संयोग से उस समय दुकान पर रिचा नहीं थी बल्कि उसकी बड़ी दीदी बैठी हुई थी.

भाभी ना मुझे रोक पा रही थीं और न ही भाभी चाह रही थीं कि मैं उनकी चुत के अन्दर स्लो स्लो लंड पेलूं. मैं सोच रहा था कि क्या करूं … कैसे करूं?चूत को इतने पास देख कर मेरे से रुका नहीं जा रहा था. मैं- ऐसे कैसे जाने दूंगा मैं … और तुम भी मुझे छोड़कर जा नहीं सकती, अब तो आपको भी मेरे लंड की सख्त ज़रूरत है.

ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए वो अभी राहुल के साथ रोमांस के मजे ले रही थी और मुझे बोल रही है कि कुछ नहीं …लेकिन उसे नहीं पता था कि मैं उन दोनों को लाइव देख रहा था. काफी देर तक ऐसा चलते रहने से मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और डॉक्टर का वीर्य मेरे पेट के ऊपर आ गया था.

सेक्सी जानवर की वीडियो

मकान मालकिन- तो तुम बाहर घूमा-फिरा करो … किसी से बात करो … दोस्ती करो, तब तो दिल लगेगा. मेरे रूम के अंदर एक कोने में एक चारपाई रखी हुई थी और दूसरी तरफ भूसे का एक गद्दा सा बनाया गया था. मेरी सहेलियो, आप अच्छे से जान लो कि अगर पति कब्ज़े में है, तो जिंदगी आपकी मुट्ठी में हैं.

मैंने उसकी पैंटी को अलग किया, फिर उसे सीने से चिपका कर उसकी ब्रा को भी खोल दिया. लंड पर फुदी का टाइट ग्रिप उत्तेजना को बढ़ाता है।मैं जोर जोर से शॉट मार रहा था, लंड मशीन की तरह अंदर बाहर हो रहा था।अब मैंने पोज़ बदल दिया. सनी लियोन के बीएफ ब्लू पिक्चरसच में उसकी हर ठोकर से क्या मस्त मजा आ रहा था … मैं उस मजे को जितना भी चाहूँ, लिख ही नहीं सकती.

मैं अभी साढ़ू की मौत को साली के सामने जाहिर नहीं होने देना चाहता था.

मगर मेरी साली संस्कारी थी और उसने बिना कुछ उत्तर दिये ही फोन रख दिया. [emailprotected]सेक्सी वाइफ की कहानी का अगला भाग:मेरी दूसरी बीवी संग सुहागरात- 2.

मनोज के जाने के बाद दीपा ने सुनील से आराम से कपड़े ढीले करके लेटने को कहा और उसे उसका रूम दिखा दिया ताकि वो रसोई समेट ले. उनके तेज तेज चूसने से मुझे मेरे मम्मों में बहुत ज्यादा दर्द भी होने लगा था, लेकिन बड़ा मीठा मजा भी आ रहा था. इतने में बाहर से आवाज आई- प्रिया हो गया क्या … चलो जल्दी लेट हो रहे हैं.

इस पर वो तड़प कर रह गये और पास आकर गिड़गिड़ाते हुए बोले- जान, ऐसा मत कर! बहुत दिनों का प्यासा हूँ.

ऐसा करने के बाद उसने मेरी पत्नी के कपड़े उतरवाने में भी मदद की और खुद उसके पास जाकर अपने हाथ से मेरी बीवी के कपड़े उतारने लगी. मैंने उससे पूछा- मस्ती किधर लोगी बेबी?उसने आंख दबाते हुए बोला- अपनी मस्ती मेरी मस्ती के अन्दर डाल दो. शीना बिल्कुल कामुक लग रही थी इस अवतार में!और संजना हम दोनों की ठुकाई देखकर अपनी चूत में उंगली कर रही थी, वो पूरे चरम पर पहुंच गई थी.

सेक्सी बीएफ हिंदी दिल्लीसामने एक आइना इस तरह से रख दिया कि दरवाजे पर मेरी नजर रहे और मॉनिटर दरवाजे से दिखे. हम दोनों की नजरें आपस में एक‌ बार तो टकराईं … मगर फिर अगले ही पल उसने अपनी नजरें वापस टीवी की ओर घुमा लीं और मूवी देखने लगी.

त्रयोदशांग गुग्गुल के फायदे और नुकसान

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के सभी पाठको को मेरा पहला नमस्कार!दोस्तो, मेरा नाम शुभम कुमार मिश्रा है. अगले दिन मैं जानबूझ कर वो सारा कुछ, जो मुझे शिवानी ने दिया था, घर पर ही छोड़ कर ऑफिस आ गई. सुबह मेरे जन्मदिन के दिन वो मेरे किराए वाले रूम में मुझसे मिलने आयी.

सबको किनारे लगा कर मैं बाथरूम जाती और उसके आने का इंतज़ार करती कि वो आये और अपनी बुर का मक्खन चूस ले. जब इस घर में एक से बढ़ कर एक माल हैं और वो सब तुझे पसंद भी करती हैं. मेरे सास-ससुर और पति सब गांव में थे और सरकार ने अचानक संपूर्ण लॉकडाउन लगा दिया.

मैंने दिव्या को भाई के ऊपर से अपने हाथों का सहारा देकर उठाया और उन दोनों को पीने के लिए पानी दिया. एक बार सेक्स की बात शुरू हुई, फिर तो ज्यादातर हमारा फ़ोन सेक्स होना शुरू हो गया. जैसे ही मेरा लौड़ा पूरा तन कर खड़ा हो गया, शीना ने उसको चूसना छोड़ दिया और सीधे से वो मेरे लण्ड को अपने हाथ में पकड़ के अपनी चूत मैं घुसाने के लिए उस पर बैठ गई.

मेरा लंड बार बार मौनी की चूत के बारे में सोच सोच कर मुंह उठा रहा था. मैंने कहा- मामी अभी तो और तरीके से चोदूंगा आपको … अब आपकी प्यारी गांड को चोदूंगा.

दो धधकते जिस्मों के बीच वासना और उत्तेजना के द्वन्द की शुरुवात हो चुकी थी.

मैंने भाभी की दोनों टांगों को अपने कंधों पर रखा और जोर जोर से चोदने लगा. हिंदी बीएफ एचडी डाउनलोडिंगउसके बाद वो उठ कर बाथरूम में घुस गयी और फ्रेश होकर वापस बेड पर आकर लेट गई।कामुकता कहानी अगले भाग में जारी रहेगी. बीएफ बीएफ हिंदी ब्लू फिल्मइसके बाद क्या हुआ?लेखक की पिछली कहानी:कच्ची कली खिल गईगोपाल मेरा सिर्फ पड़ोसी ही नहीं बल्कि अच्छा दोस्त भी है. फिर मैंने बोला कि तुमने ही बोला था कि जो मैं बोलूंगा, तुम वो करोगी.

अब मैं झड़ने वाला था तो मैंने कहा- मामी लंड का माल कहां निकालूं?मामी बोलीं- जहां मन करे राजा … निकाल दो.

जब सोफिया से बात करके मेरा लंड उफान पर हो आता तो मैं अपनी बीवी की चुदाई जोर से करता. सच बताओ भैया कितना परेशान करते हैं?मेरे लिए तो सेक्स का मतलब एक बार करना होता था और वो भी मुझे बोझ लगता था तो मैंने बता दिया कि बहुत परेशान करते हैं और अंदर से रोज़ गीला करते हैं।पहले तो वो खुश थी कि रोज़ सेक्स करते हैं. उसकी चूत की फांकों को मैंने अपने मुंह में लिया हुआ था और उन्हें दांतों से रगड़ रहा था इसलिए वो ज्यादा चिल्ला रही थी- उई आह आह आह … मर गयी … मज़ा आ गया … साली मरवा दिया आज … मादरचोद उई आह आह सी सी सी सी!इधर मेरे मुंह से भी सिसकारियाँ निकल रही थी- आह आह आह सी सी सी सी बहनचोद … मादरचोद रांडो चुद गयी आज तुम सालियो … आह आह चुदो चुदो चुदो कुत्तियो … आह सी सी सी सी सी.

दोस्तो, कैसे हो आप सब … मैं शिवराज एक फिर से अपनी सच्ची कहानी लेकर हाजिर हूँ. मगर मेरा पानी तो नहीं निकला था, तो मैंने उनसे बोला- भाभी, अभी मैं बाकी हूँ. थोड़ी देर में ही भाभी की हिम्मत जवाब दे गई और मादरजात नंगी भाभीजान बेड पर पसर गईं.

रिंगटोन शिवाजी महाराज

वो हंस कर बोली- हां … ये तो है … कभी कभी मैं इसको अपने हाथों से सहला लिया करती थी … तो जरा सा पानी निकल जाता था, लेकिन आज ये झरना तो रुक ही नहीं रहा. होंठ सुर्ख लाल, सुंदर चेहरा, गदराया हुआ जिस्म देख कर बस लार ही टपक पड़े. थोड़ी देर बाद जब उन्होंने सांस लेने लिए होंठों को अलग किया तो उनके चेहरे पर जैसे एक अजीब सी चमक थी.

मैं- वैसे आप अहमदाबाद में कहां रहती हैं?सुगंधा भाभी- देख, कल रात जो हुआ … वो हम दोनों की मर्जी से हुआ.

कुछ देर बाद भाभी मेरे लंड को सहलाने लगी और हम दोनों हम दोनों 69 अवस्था में आ गए.

तभी आंटी बोलीं- ठीक है प्रिया … मैं जाती हूं … घर में बहुत सारा काम पड़ा है. मैं भी मुस्कुराते हुए पीने लगी।टाइट ब्रा पैंटी की वजह से मैं गर्म हो रही थी।मैंने खाना खत्म किया और शराब पीते पीते कमरे में चली आयी। मैं बिस्तर पर बैठ गई. वीडियो बीएफ भेज दोमैंने उससे कहा- वैसे अगर तुम्हारे पास थोड़ा सा टाइम और हो … तो मैं एक बार और चुदाई करना चाहूंगा.

तब उस रांड ने कहा- पीछे से कुर्ती ऊपर करके मेरी ब्रा का हुक खोल दे, फिर डाल लेना अपना हाथ. इस समय भाभी थोड़ी लजा रही थीं क्योंकि वो दूसरे मर्द से चुदने वाली थीं. मैंने सोच भी सोच लिया कि या तो मजे लूंगा … वरना दोनों की पोल खोल दूंगा.

मैं भी मूत कर आया और गाड़ी स्टार्ट करते हुए बोला- पेंटी तो मैचिंग डाली है तुमने ड्रेस के साथ!उसे शराब का नशा हो गया था तो वो फ्रॉक को ऊपर उठा कर बोली- ठीक से देख लो जीजू … किसने मना किया है. अब हम आराम से चुदाई का मजा ले सकते थे क्योंकि चारों को एक दूसरे का पता चल गया था.

जब बचपने में कोई नया नया जवान लौंडा अपना मस्त लंड मेरी चिकनी मक्खन सी गांड में लंड पेल रहा होता था.

मैं इतनी पढ़ी लिखी नहीं हूँ कि इस तरह के कोड वर्ड्स का मतलब भी समझ सकूँ. पता नहीं क्यों … शुरू से ही मेरे पीछे बहुत लड़के पड़े थे लेकिन मैं किसी को भी घास नहीं डालती थी।जब भी मैं अपनी दीदी की ससुराल में रहने के लिए जाती तो रोहित खूब मिलता बातें करता!उसने मुझे बहुत सारे गिफ्ट भी दिये. लेकिन हम अभी चलती हुई बस में थे … तो मुझे थोड़ा संभाल कर उन्हें चोदना होगा.

दिलवाले फिल्म बीएफ मैं समझ गया कि सीमा भाभी झड़ चुकी हैं,पर मेरा अभी बाक़ी था।मेरे धक्के और दस मिनट चले. उनकी पलकें हल्की हल्की काँप रही थी जिन्हें मैं अपने होंठों से महसूस कर सकता था.

मैंने उनकी जांघों से धीरे धीरे चुसाई करते करते चूत का रास्ता ले लिया. साथ ही साथ एक चूड़ी का डब्बा निकाल कर रिचा की दीदी को देते हुए बोला- दीदी, इस चूड़ी को वापस करके पिंक कलर की चूड़ी दे दीजिएगा. इसलिए उस मूवी से मैं अब इतना प्रभावित हो गया कि मैं खुद को इमरान हाशमी और शायरा को मल्लिका शेरावत समझ‌ने लगा.

खुदा गवाह फुल मूवी

उस वक्त घर पर आरव के अलावा उसकी बहन होती थी, जिसकी उम्र 20 साल की रही होगी. मैंने उसको सोचने का मौका भी नहीं दिया और बोला- जैसा भी हो, तुम मुझे बता देना वरना मेरे एग्जाम हो गए हैं. मैं स्टडी रूम मैं अपने प्यारे नमकीन दोस्त के उसी के आग्रह पर उनकी गांड मार रहा था कि उनके चाचा आ गए.

पहले जब मैं उसको चूमने की कोशिश कर रहा था तो वह थोड़ी असहज महसूस कर रही थी. वो अपने दूध मसलवाते हुए नशीली आवाज में बोली- तो अभी ही डाल दो ना अपना लंड … प्लीज.

उसके बाद मैंने भी दो पैग लगाये और फिर फ्रिज से बर्गर निकाल कर ओवन में गर्म करने के लिए रख दिये.

”पीछे बैठी एक दूसरी औरत ने जब ये कहा, तो मुझे राहत सी मिली … मगर वो तो जैसे कुछ सुनने को तैयार ही नहीं थी. कुछ देर बाद मैंने घुटनों के बल बैठ कर उसकी पैंटी को थोड़ी साईड में कर दी और उसकी सफाचट चुत में अपनी जीभ घुसा दी. मैं उसे बाहर उसकी गाड़ी तक छोड़ कर आया और अगली बार जल्दी ही मिलने की आशा के साथ हम दोनों ने विदा ली.

दोस्तो, मेरी और शायरा की प्रेम कहानी को एक सेक्स कहानी के रूप में लिख कर मुझे बेहद रोमांच हो रहा है. तब दीदी ने मुझसे बोली- अर्णव, जल्दी से श्वेता के घर जाओ और आंटी को बुलाकर लाओ. माँ बेटी चुदाई कहानी में पढ़ें कि दोस्त की दादी के बाद मैंने उसकी बहन को कैसे चोदा दादी की मदद से.

वक़्त की नजाकत को देखकर हम दोनों फटाफट तैयार हुए और अपनी अपनी बेटियों की स्कूल से पिकअप करने एक के पीछे एक घर से निकल गए.

ब्लू फिल्म बीएफ चाहिए: राहुल- क्या करूं जान तुम महीने में एक बार तो मौका देती हो, वो भी तब जब विक्रम तुम्हें चोद ले … उसके बाद. वो रात मेरी पहली रात थी, जब मैंने पूरी रात किसी की फुद्दी चोदी थी और वो भी इतना खुल कर मजा लिया था.

आपको मेरी सेक्सी चूत की चुदाई स्टोरी कैसी लगी … प्लीज़ मुझे मेल करना न भूलें. उसका दर्द देख कर मुझे समझ आ गया था कि अगर मैं रुक गया, तो फिर ये मुझे चोदने नहीं देगी. मैंने उसकी टांगों को अपने कंधों पर रख कर उसकी चुत की फांकों में लंड घिसने लगा.

विजय ने एक अपने शब्दों का एक तीर और मारा, बोला- एक बार अपना हाथ मेरे दिल पर रख कर बताओ कि यह तुम्हारे लिए धड़क रहा है या किसी और के लिए?मैं विजय के बिल्कुल पास में आ गई और अपना एक हाथ उसके नंगे बदन पर उसके दिल पर रख दिया.

विक्रम फिर से झटके देने लगा और वो संजू की चूत में बेतहाशा वीर्य रस छोड़ने लगा. मुझे शादी के कई साल बाद खुशी की लहर मिली, पर पहले पति को अपना पालतू कुत्ता बनाना था क्योंकि वो बिगड़ चुका था. अगले दिन ऑफिस आते ही शिवानी ने कहा- मेरी तबीयत कुछ खराब लग रही है, इसलिए मैं डाक्टर के पास जा रही हूँ.