बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो

छवि स्रोत,प्रियंका चोपड़ा का सेक्स मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्स पंजाबी वीडियो: बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो, इस कहनी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैं अपनी भाभी के भी के घर में उसके साथ वासना भरा खेल खेल रही थी.

शोधा चोरी

जानू हम दोनों ने इस पल के लिए बहुत लंबा इंतजार किया है और आज जब मिले हैं तो इस तरह मिले हैं कि हमें इस पल को जीने से रोकने वाला कोई नहीं है. साड़ी वाली भाभी का सेक्समैंने एक दो बार उसे अपने घर की‌ चाभी को रखते हुए देखा था इसलिए मुझे पता था कि शायरा अपने घर की चाभी कहां रखती है.

उसके बाल मेरे गालों पर लग रहे थे और मुझे बहुत ही तेज उत्तेजना महसूस हो रही थी. xxx com फोटोकुछ देर बाद मैं बोला- तेरी मां उठ गयी तो?वो बोली- मां दूसरे तीसरे दिन नींद की गोली लेकर सोती है.

मैं महसूस कर सकता था कि जितनी बार मेरा लौड़ा उसकी कोमल चूत को प्यार से फाड़ रहा था.बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो: संजू कुछ मिनट में बाथरूम से फ्रेश होकर आ गई और उसने अपनी नाईटी चेंज कर ली.

मैंने भी लंड को उसकी गीली चूत पर दबाया और 2-3 बार ऊपर नीचे रगड़कर सैट कर दिया.एक दिन मैं अपनी कुर्सी पर बैठा झूल रहा था, तभी मेज़ पर रखा फ़ोन एक बार बजा.

चूत लंड की फिल्म - बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो

उसके धक्के धीरे धीरे कम होते गए जिससे मैं आराम से झड़ गई। मुझे असीम संतुष्टि मिल रही थी।मेरे झड़ने के बाद भी उसके धक्के रुक नहीं हो रहे थे.मुझे तो उस से ही दर्द होता है, तुम्हारा लंड मैं कैसे लूंगी?मैंने कहा- भाभी आप टेंशन ना लो, मैं आपको दर्द भी नहीं होने दूँगा और मजे भी दूँगा।उन्होंने कहा- इसीलिए तो तुम्हारी पास आयी हूँ.

बात दो साल पहले की है जब मैं अपनी फैमली के साथ एक अपार्टमेंट में रहता था. बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो मेरी पिछली कहानी थी:पति ने कराई मेरी चूत की चुदाई जीजू सेमेरी शादी 3 साल पहले इंदौर की एक लड़की रिंकू (बदला हुआ नाम) के साथ हुई थी.

डॉक्टर मुझसे बोला- रानी मज़ा आया ना?मैंने शर्माते हुए हां में सर हिलाया.

बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो?

घर आकर मनोज अनन्या को लेकर अपने घर चला गया, जहां आज दोनों ने रात को रंगीन करना था. अदिति ने मेरा आधा तना और वीर्य से लबालब लंड को हाथ न लगाते हुए नीचे झुककर सीधे अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. तुम्हारे लंड ने इसका क्या हाल बना दिया है!मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा तो अदिति कराहने लगी- ओह हर्षद, बहुत दर्द हो रहा है.

उसने अपनी आंखें खोलीं और बोली- बहुत दिनों बाद मैं ऐसे किसी के सामने बिना कपड़ों के लेटी हूँ और तुम्हारे हाथों का जादू बहुत ही उत्तेजित करने वाला था. फिर एक दिन मैं अपने निवास के क्वार्टर से डाकबंगले की ओर आ रहा था तो देखा कि रास्ते में भूरा से एक लड़का उसी का समवयस्क झगड़ रहा था. मैं तेल की शीशी लेकर बुआ की टांगों के पास बैठ गया और उनके पैरों में तेल लगा कर मालिश करने लगा.

करीब आधा घंटे बाद हम दोनों संतृप्त होकर वापस कपड़े पहन कर गाड़ी में आ गए. मैंने उसके होंठों को चूम लिया और दोनों चुचियों को भी चूमकर अपनी पोजीशन में आ गया. उन्होंने अपने किचन में बिस्तर लगा कर पूरी चुदाई की प्लानिंग कर रखी थी.

उसके साथ बिताये कुछ दिनों में मेरा उसके साथ इतना गहरा लगाव हो गया था कि मैं उसे खोना नहीं चाहता था. फिर जब तक जबलपुर नहीं आया वो मेरे बदन से मौका पाकर छेड़खानी करते रहे और मेरा सफर आराम से कट गया.

उसकी आवाजें इस बात का प्रमाण थीं कि वह अब खुश है और उसे मजा आ रहा है.

तो मैंने अपना अंडरवियर भी निकल दिया और ऐसे ही गेट खोलने चला गया उनको सरप्राइज देने!पर जैसे ही मैंने गेट खोला, सामने वही भाभी खड़ी थी.

मेरी लम्बाई 6 फुट 5 इंच है, मेरा शरीर मांसल है, मैं नियमित रूप से दौड़ लगाना और वज़न उठाने वाले व्यायाम करता हूँ. मैं कशिश दीदी की एक टांग उठा कर उनकी चूत का भोसड़ा बनाने पर तुला था. इस बार उसने खुद ही लंड को पकड़ लिया और मैंने भी उसके हाथ को लंड पर दबा कर आगे पीछे मुठ मरवाने लगा.

शायरा अब भी वहीं खड़ी रही और चुपके चुपके मुझे देखती रही … पर मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया और चुपचाप घर से बाहर आ गया. कोमल के ईमेल पर मैसेज करें या फिर अपना फीडबैक कमेंट्स में भी दे सकते हैं. वैसे तो ममता लंड लेने की लिए पहले से ही तैयार थीं और उनकी चुत भी गीली‌ होकर बिल्कुल‌ चिकनी हो रही थी … मगर फिर भी वो लंड लेते ही चीख पड़ी- आआअहह … ऊओउऊ … आआअहह … पूरा बेरहम है साले … एकदम से घुसेड़ दिया.

मैं पूरी ताकत से उसकी चूत को फाड़ने लगा और उसके चेहरे पर दर्द साफ देखा जा सकता था.

कितनी ताकत है तुम्हारे अन्दर … और घड़ी तो देखो हर्षद, पूरे साढ़े बारह बज चुके हैं. एक हाथ से लौड़ा और दूसरे हाथ से मेरे गोटे सहलाते हुए आंखें बंद करके रेशमा मेरे लौड़े को गीला करने लगी. मैंने उनकी चड्डी उनके मुँह में घुसा दी और कहा- आवाज मत निकालो यार … कोई सुन लेगा.

मैंने आज तक बहुत सारे लंड लिए है लेकिन आज पहली बार इतना लंबा और मोटा लौड़ा मेरी चूत में उतरा था तो दर्द की तो कोई सीमा ही नहीं थी. मैंने पीहू को देख कर मुस्कुराते हुए कहा- मैंने जिस काम को करने का मन बना लिया, तो समझो मैं उसे पूरा करके ही रहता हूँ. मैं उससे नज़रें हटा ही नहीं पा रहा था कि अचानक मुझे लगा कि ‘नहीं अवि बस कर.

विपिन बोला- अरे दीदी, मैं इतना पागल थोड़े ही हूँ … किसी को कुछ भी पता नहीं चलेगा.

उसने मुझे जय हिन्द बोला तो मैं देखकर चौंक गया और मेरे मुंह से निकला- भूरा!वो बोला- मैं बड़ी देर से आपको देख रहा था. थोड़ी देर सोचने के बाद मैं बोली- ठीक है। बुलाओ कौन लड़का है? देखती हूँ … फिर बताऊँगी।फिर वो हँसते हुए बोला- क्या देखोगी लड़के में?मैं बोली- वो मैं देख लूँगी। तुम बुलाओ तो सही!सन्नी हँसते हुए बोला- आप बुरा ना मानो तो वो लड़का मैं ही हूँ। देख लो जो देखना है।मैं चौंकती हुई बोली- क्या … तुम ये सब करना जानते हो?तो वो हँसते हुए बोला- बिल्कुल मैडम जी, एक बार मेरे से मसाज करवा कर देखो.

बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो मैं- पता नहीं क्यों हो रही है?ज़ारा- बाद में पकौड़े खिलाऊंगी आपको!मैं- रिश्वत?ज़ारा- रिश्वत नहीं जान! प्यार!हम छत पर पहुंच गये. ये देखकर मुझे बहुत सुकून मिला कि चलो चोदने के बाद इसे इतना ख्याल तो आया कि सोनी को प्यार की जरूरत है.

बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो मैंने उसकी पैंटी की इलास्टिक में अपनी उंगलियां फंसा दीं और उसे भी खींचा. मगर मैंने कई बार ऐसा किया, तब जाकर उसने मेरे लंड को हाथों में पकड़ लिया.

फिर से मैं चिल्लाई- मुंह को बंद रख हरामी! कुत्ते की तरह भौंकना बंद कर, जैसा कह रही हूं वैसा कर नहीं तो जॉब को भूल जा.

भाभी का चीख निकल गया xxx com hd

फिर उसके दोनों हाथों के नीचे से हाथ डालकर कंधों को कसके पकड़ लिया और उसके होंठों को मुँह में भर लिया. मैंने उसे सब कुछ सच-सच बता दिया।मेरा सच सामने आया तो उसका भी दिल खुल गया और उसने बताया कि वो भी मुझे पसंद करती थी. कुछ देर की चूमाचाटी के बाद मैं खुद उठ खड़ी हुई और उसके बिठा कर उसकी गोद में बैठ गयी.

वो मेरी आंखों में आंखें डालकर बोली- हां मेरी कुंवारी चुत में अपना लंड डालकर मुझे चोद दो. थोड़ी देर सोचने के बाद मैं बोली- ठीक है। बुलाओ कौन लड़का है? देखती हूँ … फिर बताऊँगी।फिर वो हँसते हुए बोला- क्या देखोगी लड़के में?मैं बोली- वो मैं देख लूँगी। तुम बुलाओ तो सही!सन्नी हँसते हुए बोला- आप बुरा ना मानो तो वो लड़का मैं ही हूँ। देख लो जो देखना है।मैं चौंकती हुई बोली- क्या … तुम ये सब करना जानते हो?तो वो हँसते हुए बोला- बिल्कुल मैडम जी, एक बार मेरे से मसाज करवा कर देखो. भाभी ने अपनी सलवार और चड्डी थोड़ी नीचे खिसकाई और मेरे खड़े लंड के ऊपर अपनी चूत को लगा कर बैठ गईं.

वहाँ क्या हुआ?दोस्तो, मैं हर्षद मोटे एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी में आप सभी का स्वागत करता हूँ.

उसने फिर अपना लंड निकाल लिया और राज ने मुझे पीछे हटाकर लंड निकाल लिया. जो भी हो, पर उसे एक साथी‌ की जरूरत थी, जो मुझसे मिलकर पूरी हो गयी थी. मेरे मन में भी विजय के लिए अब इज्जत बढ़ गई थी और प्यार उमड़ने लग गया.

करीब 2-3 मिनट बाद जब उसके लंड ने मेरी बीवी की गांड में जगह बना ली, तब वो थोड़ी सी चुप हुई. गे स्टूडेंट वर्जिन गांड स्टोरी में पढ़ें कि कैसे एक दूकान वाले अंकल ने मेरे चिकने गोरे जिस्म से उत्तेजित होकर मुझे नंगा करके मेरी कुंवारी गांड मार ली. इसलिए मैं काम निपटा कर ड्यूटी के बाद सुबह-शाम डाक बंगले की ओर सैर पर निकल जाता था.

मेरा किसी व्यक्ति के साथ कोई दिली सम्बंध नहीं है … और ना ही मेरी ज़िंदगी में कोई कल के पहले था. मैंने उनसे पूछा- क्या हुआ आज बहुत खुश हो!तो वो बोले- हां, आज मैंने एक बड़ी डील की है.

अगले दिन पति ने मुझसे कहा कि अपनी सहेली और उसकी बहन से मेरी बात कराओ. ”मैं उसकी इस बात पर भावुक हो गया, मैंने फिर से उसको गले लगाया- कितनी प्यारी हो तुम रचना. अब मुझे चोदने से ज़्यादा अपनी बीवी को अपने सामने किसी और से चुदते हुए देखने में बहुत मज़ा आता है.

फिर अपने घर की चाबी निकाल कर दरवाजा खोलकर अन्दर आ गयी और सब लाईटें जला दीं.

[emailprotected]वर्जिन वाइफ हनीमून सेक्स कहानी का अगला भाग:प्रेमिका से शादी के बाद सुहागरात का लम्बा इन्तजार- 2. कविता ने पति से बात करते हुए किसी भी पल ये शंका नहीं होने दी कि वो मुझसे पहले भी मिल चुकी है और यहां किस वजह से आई है. जब पहली बार मैंने उसको अपनी बिल्डिंग की छत पर देखा था, तो वो कपड़े धो रही थी.

आज सही समय लग रहा है मुझे क्योंकि मुझे पता था आज तुम्हारी मम्मी तुम्हारी मौसी के घर जाएगी और तुम घर पर अकेले होंगे. लिंग ने भी उसके मुँह में झटके मारना शुरू कर दिया और लिंग ने सारा गर्म-गर्म लावा रेनू के मुँह में छोड़ दिया.

रूम के बाहर से ही- दीदू दीदू कितना टाईम लगेगा?नेहा- अन्दर आजा, अच्छा हुआ तू आ गई मेरी ब्रा का हुक लगा दे यार, लगता है दूसरी लेना पड़ेगी, ये भी छोटी हो गई. मैंने अपने झटके और तेज कर दिए। कमरे में बस अब थप्प थप्प की आवाजें गूंजने लगीं. और मैंने ये सब थोड़ा गुस्से में कहा तो वो बोले- जान सॉरी, मगर मुझसे अब और ज्यादा बर्दाश्त नहीं हो रहा.

खुल्ला सेक्सी वीडियो

मैंने एक मिनट रुक कर उसके होंठों से होंठ हटाए और उससे पूछा- आगे चलूँ?वो बोली- हां मगर धीरे … मैं काफी दिन बाद ले रही हूँ.

सुरेश अब हिल नहीं रहा था उसने सोनी के होंठ प्यार से तीन चार बार चूमे और उसके गाल थपथपाये. होंठ रखते ही उसके मुँह से आह सी सी आह करके सिसकारियां निकलने लगीं और उसने मेरे सिर को अपनी जांघों के बीच में दबा लिया. हम शाम के 5:00 बजे ट्रेन में बैठे और हम दोनों ने सेकंड एसी में टिकट बुक की थी.

मैंने ध्यान से देखा तो वो लग तो रहे थे बाबा, लेकिन थे एकदम ठीक ठाक!वो मुझे देख कर आवाज देने लगे. रीता की सांवली चूत मैंने कैसे मारी, वो मैं आपको इस सेक्स कहानी में आगे थोड़ा सा बताऊंगा. ब्लू बफ ब्लू बफफिर जब बात उसकी बर्दाश्त के बाहर हो गयी तो बोली- कर दे न इब? इब के सोचै है, मन्ने कह तो दी!अब उसको तड़पाने की बारी मेरी थी.

मैं छत पर जाता, तो वो मुझे देखने के लिए छत पर आ जातीं और स्माइल करके अपने रूम में चली जातीं. मैंने उसकी गांड को पकड़ लिया और तेजी से उसके चूतड़ आगे पीछे करवाने लगा.

वह एक पेशेवर चुदक्कड़ औरत की तरह लंड को चूस रही थी।मैं भी उसके बाल पकड़ कर उसके मुंह को आगे पीछे कर रहा था और उसका मुंह चोदे जा रहा था।अब मैंने उसे उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया और उसे गले पर किस करने लगा, उसके होंठ चूमने लगा. हिंदी सेक्स सेक्स Xxx कहानी में पढ़ें कि मुझे रात दिन सेक्स ही सेक्स की सूझती थी. अब वो लोग धीरे धीरे ट्रेन के धक्कों के बहाने मुझे छूने की कोशिश कर रहे थे.

तो मैंने उनसे कहा कि मेरी उसी सहेली की बहन का इधर कुछ काम है और वो हमारे यहां दो दिन ठहरना चाहती है … तो क्या मैं उसे तभी बुला लूं?पति ने उसके बारे में मुझसे पूछा. पता नहीं वो अन्दर से बन्द था या बाहर से लॉक किया हुआ था मगर उसे देखने की मेरी हिम्मत नहीं हुई, इसलिए मैं सीधा ही नीचे आ गया. बाकी दिनों तो हम साथ में ही जाते थे मगर शायरा आज पहले ही नीचे आ गयी थी.

उसी समय मैंने एक बार जोर से आहह … भरी और मेरी चूत ने फच्छ फच्छ करके झड़ना शुरू कर दिया.

वह आह निकाल रही थी … पर मैंने उसका मुँह दबा दिया … ताकि समीना तक ऊपर आवाज़ न चली जाए. विजय के सब्र का बांध अब टूट चुका था, उसने तुरंत मेरे नंगे बूब्स को अपने हाथों से पकड़ लिए और जोर से मसल दिए.

उनके कहने पर मैं मैक्सी और चड्डी निकाल देती थी और ऐसी कल्पना करती थी कि वह मेरे होंठों को चूम रहे हैं, मेरी छातियों को दबा रहे हैं, मेरी चूचियों को मसलते हुए दबोच रहे हैं और सचमुच में अपने मुँह से चीख भी निकाल देती थी. मैंने अनजान बनने का नाटक करते हुए कहा- कौन रेशमा?उधर से वो बोली- वही रेशमा, जिसको आप कुछ देर पहले फोन कर रहे थे. चूत का छेद भी अपने आप खुल रहा था, भीतर के गुलाबी रंग का इलाका मैं अपनी आंखों से साफ़ देख पा रहा था.

करीब 20 मिनट तक चूत चुदाई के बाद मैंने पूरा माल उसकी चूत में भर दिया. किसी गोलगप्पे जैसी फूली हुई उसकी छोटी सी चूत मेरे लंड के सामने कुछ नहीं थी. चोदते हुए मैं उसकी गर्दन, उसके कान की लौ और गालों पर प्यार से जीभ फिरा रहा था.

बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो सब मालूम है कि आजकल सब कितना रिस्की हो गया है, तुम लाइन में कैसे लगोगे. घर में उसके पति के साथ उसकी एक बड़ी सी फोटो थी जो‌ कि सामने ही‌ लगी हुई थी.

सेक्सी गाने वीडियो में सेक्सी

इधर सुरेश की आँखें आनंद में बंद थीं और उसका चेहरा अब सोनी की गांड के बीच में था. उसकी गांड और चूत पर मेरा सूखा वीर्य दिख रहा था और वो गांड के दर्द की वजह से ठीक से चल नहीं पा रही थी. चपत की आवाज सुनते और देखते ही मैं भी अनामिका की मस्त शेप वाली गांड में दोनों हाथों से चपत लगाने लगा.

मैंने चुपके से मेरी भाभी की ब्रा-पैंटी, लेगिंग, कुर्ती चुराई और पार्क में जाकर वो पहन लिये. मैंने नीता से पूछा- और कितनी दूर तुम्हारा घर?उसने कहा- आगे हमारा गांव है, उससे पहले ही राईट मोड़ से जाने का रास्ता है, वो सीधे मेरे घर पर ही जाता है. सेक्सी करने की वीडियोअब वो रोज ही जब मेरे घर के पास से निकलती थीं तो मेरी उनसे हाय हैलो होने लगी थी.

कहानी के पहले भागदोस्त की छोटी बहन की कुंवारी बुरमें अब तक आपने पढ़ा था कि रात में मैंने पीहू की चूत में उंगली करके उसे भी ठंडी कर दिया था और खुद भी मुठ मार कर सो गया था.

प्यार में सब कुछ जायज है, सेक्स इन लव रिलेशन … यह सोचकर हम यहां तक आ गए थे. इतना कहते हुए मैंने उसको पैर से पीछे की ओर धकेल दिया और फर्श पर गिरा लिया.

नेहा- अब बता मॉम, पापा और वो अपना भाई चिराग कैसे हैं?स्नेहा- दीदू सब मजे में हैं. मैंने भी उससे कहा- यार देख … मेरी भी एक शर्त है कि तुझे हमारे घर ही आना होगा. अब उन्होंने मेरे लोअर के अन्दर हाथ डालकर मेरे लंड को दबाया और उसे आगे पीछे करने लगीं.

अब हम दोनों किस करते हुए हाथ से एक दूसरे के जिस्म को ऊपर नीचे छूते हुए किस कर रहे थे.

पहले तो मैंने पीछे से उनके चूतड़ों में मुँह घुसाया और चूत को एक बार किस किया. इससे पहले मैं कुछ बोलता, उन्होंने मुझे गले से लगा लिया और मेरे माथे को चूमा. मेरी गुप्त फेंटेसी के बारे में किसी को नहीं पता था कि मैं बॉन्डेज सेक्स और मर्दों पर राज करने जैसे शौक भी रखती हूं.

चोदा चोदी करते हुए दिखाएंमैंने कहा- जब सरिया था तो पहले क्यों नहीं खोला?विपिन हंस कर बोला- बस मन नहीं था, आपको आधे अधूरे कपड़ों में देखने का मन था, पर देख तो बिना कपड़े के भी लिया. मैं उसके दिए समय अनुसार देर रात को उनके घर गया तो वो गेट पर मेरा इंतज़ार कर रही थी.

सेक्सी फोटो काजल

मैंने पीछे से उसकी ब्रा के हुक खोल दिये और धीरे से उसके अतिविकसित स्तनों को ब्रा की कैद से आज़ाद कर दिया।अब तक उसके दोनों स्तनों के बीच कत्थई रंग के चूचक तन कर खड़े हो गए थे, मानो दो कबूतर उड़ने को तैयार हों।अब वो सिर्फ पैंटी में थी. शायरा को जलाने में मैं कोई कसर बाकी नहीं रखना चाहता था … क्योंकि जितना ज़्यादा मज़ा ममता लेंगी, उतना ही शायरा जलेगी. मैं बोला- तो आंटी, खाली समय में क्या करती हो आप, टाइम कैसे पास होता है आपका?वो बोली- बस ऐसे ही बोर हो जाती हूं.

जब भाभी से रहा न गया तो वो बोली- अंकित … तेरा कितना बड़ा है रे!मैं बोला- आप खुद ही देखकर पता कर लो ना भाभी … मैंने तो कभी नापा नहीं है. उसके बाद सनी ने मेरे मुंह में लंड देकर चुसवाया और उसका लौड़ा फिर से पूरा सख्त हो गया. तभी उसने मुझसे कहा- तुम बस स्टैंड के आसपास ही कोई होटल ले लो, हम वहां पहुंच कर बाकी का काम कर लेंगे.

तीन दिन तक हम चेन्नई में रहे और तीनों दिन और रात हमने सभी चीजों का भरपूर आनन्द लिया. वो दोनों अपनी गांड हिला हिला कर मेरी उंगलियों से अपनी गांड कुरेदने का मजा ले रही थीं. मैं- चलो आज मैं तुम्हारा मेकअप करता हूं!ज़ारा- आप नहीं कर पाओगे!मैं- मुझे आता है मेकअप करना! सीखा है मैंने!ज़ारा- आपको कैमरा और लाइटिंग के हिसाब से आता होगा.

मैं भाभी छत पर चल दिया, पड़ोसन भाभी छत पर थाली बजा रही थीं और मेरी तरफ देख कर स्माइल कर रही थीं. मैंने ममता के होंठों‌ से चूमना शुरू किया था … मगर धीरे धीरे उनकी भरी हुई चूचियों पर से चूमते चाटते मैं अब उनकी चुत पर आ गया.

आज मेरे लंड में इस तरह आग लग गई थी कि मुठ मारे बिना शांत ही नहीं हो पाई.

मेरी कम चुदी चूत में रोहण से अपना डंडा आगे पीछे करना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा. छोड़ि छोडा वीडियोकुछ देर बाद मैं भी वहां पहुंच गई और उससे बोली- अब सुनाओ, अनन्या को कैसे फुसलाया और उसकी चुत में अपना माल कैसे डाला?उसने कहा- सब तैयारी तो तुमने ही करवा दी थी. यूट्यूबdownlode 2021सोनी की चूत ने उसका लंड बाहर धकेल दिया था क्योंकि अब उसमें जान नहीं थी. अपनी जिन्दगी के कुछ और भी हसीन किस्से आपके साथ शेयर करने की अभिलाषा के साथ फिलहाल के लिए अलविदा कहना चाहता हूँ.

मैंने उसको कहानियां पढ़ने के लिए इसलिए दी थीं ताकि वो और ज्यादा खुल जाये.

अब मेरा हाथ ना तो निकल रहा था, ना कि उनमें चल रहा था।चाची ने फिर अपने ब्रा की हुक खोल कर मेरे हाथ को निकाला।जैसे ही मेरा हाथ बाहर आया मैंने समय ना गंवाते हुए सीधे चाची को अपने तरफ खींचा और अपने होंठ उनके होंठों पर लगा दिए।वह बचने की कोशिश कर रही थी परन्तु मैं अपना हाथ सीधे नीचे ले जाते हुए पैंटी के ऊपर से ही चाची की चूत रगड़ने लगा।5 मिनट तक ऐसा ही चलता रहा. निर्मला जी सुन्दर महिला हैं, वो सोसाइटी के मार्किट में ब्यूटी प्रोडक्ट्स की शॉप चलाती हैं. भाभी के चूचे काफी नर्म, गोल और किनारों पर सख्त थे, जिसकी वजह से अगर वो ब्रा न पहनें … तब भी उनके स्तनों में उभार रहता था.

इतना टाइम में मेरा लंड प्रीकम छोड़ चुका था, मगर दम साधे मैं लगा रहा. मेरे मन में मॉम को लेकर कामुकता भरी हुई थी मगर माँ बेटे के रिश्ते को लेकर मैं अपनी मॉम को चोदने में हिचक रहा था. अभी थोड़ा सा ही लौड़ा गांड में गया था कि समीना चीखने लगी- आह निकालो … बहुत दर्द कर रहा है.

सेक्सी सम्भोग

वो बोले- ला मैं तेरी मदद करता हूं इसको बड़ा और मोटा करने में।फिर वो मेरी लुल्ली को सहलाने लगे. पर फिर उसने सलवार के ऊपर से ही मेरी चूत को भींच दिया, तो मेरे शरीर में सिहरन सी उठ गयी और मेरा मन बदलने लगा. फिर मैंने उसको गर्म करके कैसे उसकी चूत मारी?नमस्कार दोस्तो, प्यारी-प्यारी हसीन चूतों की मल्लिकाओ और नर्म नर्म उरोजों वाली लड़कियो और महिलाओ.

बीच बीच में मैं उसके दूध चूस ले रहा था … उफ्फ़… क्या मस्त लग रही थी वो चुदते हुए.

अब जब सामने चूत लेटी हो और लंड डालने की कह रही हो तो कौन चूतिया मना करेगा!मैं झट से उसके ऊपर आ गया.

फार्म हाउस के बाजू में भी एक 20 रूम का बहुत बड़ा बंगला था और वो खाली था. मेरे दोनों खरबूजों से काफी देर मस्ती के बाद वो मेरी आँखों में वासना से देखने लगा. गैन यूटयूबडाउनलोड गानामेरा हाथ उसकी जांघों से अब उसके मुलायम पेट पर आ चुका था और मैं उसकी कमर और पेट को सहला रहा था.

वो भी अपनी गांड उठाकर मेरे लंड को पूरा अपनी चूत में घुसाने लगी थीं. भाभी बोली- हट बेशर्म, तुझे जरा भी शर्म नहीं आती अपनी भाभी से ऐसी बात करते हुए?मैं बोला- प्यार में कैसी शर्म, मैं तो बहुत प्यार करता हूं आपसे!फिर वो चाय पीने लगी और मैं उनको छेड़ता ही रहा. बाहर वाले क्या सोचेंगे?तो मैंने कहा- बाहर कैसे पता चलेगा, मैं तो किसी से नहीं बोलूंगा … क्या आप किसी से कहोगी?तो आपा ने कहा- मैं पागल हूँ क्या, जो बोलूंगी.

मैं- नहीं, अंकल अभी कहां!राजेश अंकल थोड़ा मुझसे चिपके, जिससे उनका खड़ा लंड मेरी गांड को छूने लगा. ”मेरी रचना की फिगर कमाल की थी और जब से उसने जिम चालू की थी, तभी से उसका बदन और भी सुडौल होने लगा था.

इसलिए मैं जिस दिन वापस आया, उसी दिन वो मुम्बई के लिए निकल गयी और करीब पन्द्रह दिन बाद वापस आई.

उसने कहा कि वो डॉक्टर के यहां नर्स है और ब्यूटी पार्लर का भी काम करती है. कल को बाहर जाकर कुछ कांड करेगी; इससे अच्छा है कि उसकी प्यास घर में ही शांत हो जायेगी और हमारा भी काम पूरा हो जायेगा। वैसे भी, मर्द कितना ही तगड़ा क्यों न हो. फिर हम दोनों ने एक दूसरे को नाम बताया, कहां जॉब करते हैं, ये सब बातचीत हुई.

कंडोम की चुदाई क्या मस्त गोरे गोरे और मोटे मोटे चूचे थे यार भाभी के!मैं तो भाभी के चूचों को देखता ही रह गया. मैंने जैसे ही मैसेज खोलकर देखा तो शशि का मैसेज था जिसमें लिखा था- मैं कम से कम एक घंटा नहीं आऊंगी.

पर फिर उसने सलवार के ऊपर से ही मेरी चूत को भींच दिया, तो मेरे शरीर में सिहरन सी उठ गयी और मेरा मन बदलने लगा. कुछ पलों के बाद उसकी गति धीमी पड़ने लगी और मुझे मेरी गर्म चूत में गर्म गर्म तरल महसूस हुआ. शायरा अब चुपचाप अपने घर का दरवाजा खोलकर अन्दर घुस गयी और मैं सीढ़ियां चढ़कर ऊपर अपने कमरे में आ गया.

कामवाली को चोदा

मैंने स्वयं पर नियंत्रण किया और उसकी योनि को फिर से मुखमैथुन का सुख दिया. नीता अपने हाथ ऊपर करके, मेरे सर के बालों को तौलिया से साफ करती हुई बोली- अभी भी बाल गीले हैं हर्षद … क्या तुमने सही से अपना बदन नहीं पौंछा?वो मेरे बाल साफ कर रही थी और उस समय उसकी चूचियां मेरे नंगे सीने पर रगड़ रही थीं. अगले दिन किताबें लेकर आंटी आईं और बोलीं- हम दोनों एग्जाम के बाद मिलते हैं.

मैंने भी उससे हां बोल दिया और उससे उसकी टिकट के बारे में पूछा- क्या तुमने अपनी टिकट बुक करवा ली हैं?उसने कहा- अभी नहीं. मैं नीचे की ओर गया और उसके पैर के अंगूठे को मुंह में लेकर चूसने लगा.

ऐेसे ही रगड़ते हुए उनका वीर्य छूट गया और उन्होंने मेरे अंडरवियर को गांड के छेद के पास वाले हिस्से पर पूरा गीला कर दिया.

शायरा क्या कर रही होगी? वो मेरे बारे में क्या सोच रही होगी? कहीं मैंने उसको इग्नोर करके कुछ गलत तो‌ नहीं किया?पर उसने भी तो मुझसे बात करने की‌ कोशिश नहीं की. मैं अपनी बीवी को लाल रंग की टाइट टी-शर्ट और ब्लैक लैगिंग्स पहना कर नीचे लाया था. मगर ममता ने बिस्तर पर लेटकर जैसे ही मुझे पकड़कर अपने ऊपर खींचा, मेरी नजरें पीछे बालकनी वाली खिड़की की ओर चली गईं.

जब भाभी ने सही से लंड को चूत में एडजस्ट कर लिया तो मैंने फिर धक्के देने शुरू किये. गे स्टूडेंट वर्जिन गांड स्टोरी में पढ़ें कि कैसे एक दूकान वाले अंकल ने मेरे चिकने गोरे जिस्म से उत्तेजित होकर मुझे नंगा करके मेरी कुंवारी गांड मार ली. फिर मुझे आयोजक के द्वारा संचालन के लिए बुलवाया गया और मैं मंच से इवेंट के संचालन में मशगूल हो गया.

मगर वो घर में सभी के साथ रहती थीं तो मुझे उनको चोद पाने का मौका नहीं मिल पा रहा था.

बीएफ सेक्सी सेक्सी सेक्सी वीडियो: उसी दिन मैंने रात को राकेश को बांहों में भर लिया और कहा कि आप टेंशन मत लो. चूंकि उसके पास उसके बॉयफ्रेंड का भी आना जाना था तो वो फ्लैट में अकेली ही रहती थी.

पर अब उसकी रेनू को देखने के बाद तो वैभव मुझे अपने सगे से भी अधिक प्रिय हो गया. मैं- बस हो गया कुतिया … शुरू शुरू में तो दर्द होवे ही … फिर मजा ही मजा आवे. एक बार हमारे गृहप्रवेश में चाची आयी तो मैंने उनकी चूत में प्रवेश किया।दोस्तो, आज मैं अपनी पहली सेक्स कहानी लिखने जा रहा हूं।ये मेरी चाची और मेरे बीच हुए एक रोमांचक सेक्स की कहानी है।मेरी उम्र 24 वर्ष है और मेरी चाची की उम्र लगभग 32 वर्ष है.

रंगोली की चिकनी बुर देख कर मैं खड़ा हो गया और उसके होंठों को चूसते हुए उसका हाथ पकड़ कर अपनी चड्डी में डाल दिया.

लेकिन अगले ही पल मैंने अपनी नजरों को उसके मादक सौन्दर्य से हटा लिया था क्योंकि वो मेरे दोस्त की बहन थी. मैंने घर वालों से कहा- मुझे बहुत जोर से नींद आ रही है, मुझे घर जाना है. वह एक पेशेवर चुदक्कड़ औरत की तरह लंड को चूस रही थी।मैं भी उसके बाल पकड़ कर उसके मुंह को आगे पीछे कर रहा था और उसका मुंह चोदे जा रहा था।अब मैंने उसे उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया और उसे गले पर किस करने लगा, उसके होंठ चूमने लगा.