बीएफ जीजा साली की चुदाई

छवि स्रोत,ब्लूटूथ का सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

राजस्थानी सब्जी: बीएफ जीजा साली की चुदाई, मैंने अपने बॉयफ्रेंड को कॉल किया और पूछा कि कहां हो आप?तो उसने कहा- मैं अपने दोस्तों के साथ घूमने आया हूं.

भाभी सेक्स हिंदी वीडियो

मैंने तुरंत ब्रा के अन्दर से उसके गुलाबी चूचुक को दबा लिया और धीरे से मसलने लगा. बाबा रामदेव जी विडियोकुछ दो मिनट के बाद जब उसका झरना रुका, तो उसने मुझे ऊपर कर के मेरे होंठों पर एक जोरदार किस किया.

मैं घबराने लगी, डरने लगी मैं समझ गई कि यही वो लोग हैं, जो वहां झाड़ी के पीछे पहुंच गए थे. डॉट कॉम डॉट कॉम सेक्सीमैंने ज़रीना से लंड निकाल कर सारा को घोड़ी बना कर उसकी चूत में लंड घुसा डाला.

तो भाभी कहने लगी- कोई बात नहीं, एक बार देखो तो, मुझमें और उसमें क्या अंतर है?मैंने कहा- ठीक है अगर वह अपने आप अपनी चूत मुझे देंगी, तो मैं ले लूंगा, वरना मैं खुद ट्राई नहीं करूंगा.बीएफ जीजा साली की चुदाई: मैं सब कुछ जानता था मगर फिर भी पता नहीं क्यों बार-बार ऐसी फालतू ऐप्स पर अपना टाइम बर्बाद करता रहता था.

बड़े घरों की शादी तो आप जानते ही हैं कि मॉडर्न कपड़े, महंगी ज्वैलरी, मेकअप और सभी में जवान दिखने की होड़ के चलते ये सब आम हो चला था.क्या बोलूँ … इतनी सॉफ्ट स्किन और टेस्टी थी कि बस मैं उसे चूमता चला गया.

मद्रासी सेक्स पिक्चर - बीएफ जीजा साली की चुदाई

तो उसने हां कर दी और कहा कि वो घर से एक दो घंटे से ज़्यादा देर तक बाहर रहेगी, तो घर वालों को शक हो जाएगा.उसके हाथ गर्दन से होते हुए कंधों पर आकर सहलाने के बाद नीचे की ओर बढ़ने लगे थे.

मैंने उनको अपना तौलिया देते हुए कहा- आप ये तौलिया ले लो और बाथरूम में चली जाओ, मैं तब तक आपके लिए चाय बनाता हूँ. बीएफ जीजा साली की चुदाई तेरी गांड मुझसे निराश होके गई, ये मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और खुद को रोक ना सका.

मैंने ऋतु की तरफ देखा, वो असहज महसूस कर रही थी और डर भी रही थी क्योंकि उसने कभी गांड नहीं मरवाई थी.

बीएफ जीजा साली की चुदाई?

उन्होंने अपना मुंह खोला तो मैं उनके मुंह को चोदने लगा और 3-4 मिनट चोदने के बाद में अपना माल गिरा दिया, उन्होंने बड़े चटकारे लेकर सब पी लिया. उसने चड्डी के ऊपर से ही मेरे लंड पर हाथ फेरना शुरू किया और चूमने लगी. वो कसमसाती रही, लेकिन जैसा कि नेचुरल है किसी भी चूत को एकदम से लंड लेने में दर्द होता ही है, बाद में चूत लंड लंड करने लगती है.

राज अंकल और जगत आगे पीछे भौंरे की तरह मंडराते रहे, पर दिन में आने जाने वालों की इतनी भीड़ रही कि कुछ होना सम्भव ही न था. उसकी मोती उंगली घुसते ही मैं चिहुंक उठी ‘अअअह … ओहह … ऊम्म …’अब तक निक ने मेरे होंठों को अपने होंठों से लगा दिया था, वो मुझे लंबे चुम्बन देने लगा. मैंने पूछा- क्या उनको नहीं पता कि तुम जागती रहती हो और उनको देखती रहती हो?सोनू ने कहा- नहीं, मैं पिछले एक साल से यह सब देख रही हूँ और जब देखती हूँ तो मेरा भी बहुत दिल करता है.

मैं रुक गया और वहीं से थोड़ा फिर अन्दर डालने की कोशिश की, अबकी बार मैंने थोड़ा और जोर लगाया. अब सारा बैठ गयी, सिर्फ एक जांघ और चूत को साड़ी में छुपा कर मुझे फ्लाइंग किस दी और आंख मारी. ज्यादा चुटूर चुटूर करने का नहीं है … समझा?मैं उसका इशारा समझ गया था कि वो हम दोनों के साथ क्या कर सकता है.

बेशक उसका पहला ओर्गाज्म था, सफर लम्बा था मगर उसको एक लड़की होने का अधूरा अहसास तो हो ही गया. मेरी चूची को चूसने के बाद उसने मेरी पेंटी निकाल दिया और मेरी पेंटी पर लगे मेरी चूत के पानी को वो चाटने लगा.

मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था क्योंकि गोली का असर मेरे लंड पर बहुत ही ज्यादा था.

ऊऊह … ओफ्फ़ … माय गॉड … एकदम चिकनी हेयरलैस लाल तरबूज़ की फाँकों की तरह और पूरी गीली चूत मेरे सामने थी.

फिर मैं अंदर गया तो उसने दरवाज़ा बंद किया और फिर मैंने उसे पीछे से पकड़ कर किस करना शुरू कर दिया। और किस करते-करते उसके रूम में चले गए।उसके घर में पांच रूम थे।मैंने किस करते हुए उसके सारे कपड़े निकाल दिये, फिर मैंने भी अपने कपड़े निकाल दिए. फिर किस करने के बाद वो एक शरारती अंदाज में मेरे लंड के पास पहुंची और लंड से खेलने लगी. हमने अपनी जगह बदली और फिर से घमासान शुरू हो गया, एक चूत और दो लंड के बीच में.

मैं भी आंटी के पीछे-पीछे खेत में घुस गया और पीछे से जाकर आंटी को पकड़ लिया. अभी तक मैंने कल्पना का चेहरा देखा नहीं था, तो मैं इस समय उनकी उम्र बताने की अवस्था में नहीं था. हम दोनों कमरे में आ कर कॉफी पीने लग गए, कॉफी खत्म होते ही मैंने साहिल से बोला- एक बात बोलूं?वह बोला- तुम्हें पूछने की कोई जरूरत नहीं है, तुम बेझिझक बोलो.

मैंने दूसरी औरत की चुदाई कैसे की, यह मैं अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा.

जब मैं 22 साल का था तब मेरी भाभी ने मुझे मुट्ठ मारते हुए देख कर रंगे हाथ पकड़ लिया था. उसकी नाइटी का हुक खोला, चुचियों को दोनों हाथों से दबा दबा कर चूसने लगा. मगर एक बात जरूर बता देना चाहता हूँ कि कहानी के पात्रों की गोपनीयता बनाए रखने के लिए मैंने इसमें व्यक्तियों और स्थानों के नाम बदल दिये हैं.

कुछ घंटे बाद बारिश बंद हुई, मैं बाज़ार गया और सलहज के लिए एक स्वेटर खरीद लाया और साथ में एक ब्रा भी ले आया. वो खुद अपने हाथ से उसे खड़ा करने की कोशिश कर रहा था, पर इतनी जल्दी उसका कैसे खड़ा होता. उसने मेरी चूत को चाटने के बाद अपना पूरा लंड एक बार में डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगा.

वैसे तो यहां लोगों को एक-दूसरे के सुख-दुख से ज्यादा कुछ लेना देना नहीं होता मगर एक-दूसरे की टांग खींचने में दिल्ली के लोग शायद सबसे आगे होंगे.

उसके बाद एक और … एक और … और कितनी बार धार निकली, मैं तो जैसे आसमान में उड़ गया। कितना आनंद, कितना मज़ा।मेरे लंड से निकले सफ़ेद पानी ने मॉम और आस-पास का बिस्तर भी गीला कर दिया। मैं मॉम के ऊपर ही गिर गया। मॉम ने अपने गाल से मेरे सफ़ेद पानी को अपनी उंगली पर लिया और चाट लिया. कुछ देर में ज़रीना बोली- सारा की ये अच्छी बात है, आमिर मुझे फ़िर से चोदो.

बीएफ जीजा साली की चुदाई सुबह जब मेरी नींद खुली, तब मैंने देखा कि मेरे ऊपर चादर है और रेखा सोनू को खिला रही है।मैं बरमूडा पहन कर रेखा की तरफ ना देखते हुए अपने घर गया।यह मेरे पहली कहानी है. मैंने ध्यान से देखा तो मुझे लगा कि मेरी सास और काम्या में उम्र का अंतर होते हुए भी दिखने में ज्यादा फर्क नहीं है.

बीएफ जीजा साली की चुदाई वहां पता चला कि परीक्षा बहुत टाइट होने वाली है। मैं मन ही मन घबराई हुई थी क्योंकि वैसे भी मुझे इंग्लिश में कुछ आता नहीं था. मैंने इसी बीच एक ज़ोर का झटका मारा और पूरा लंड चूत में अंदर तक उतार दिया.

उन दोनों ने मुझे वहीं ज़मीन पर लेटा कर एक ने नयी बियर की बोतल खोली और मेरे शरीर पर डालने लगीं.

बीएफ लाईव्ह

भाभी बोली- यार रेशमा … तुम्हें तो पता है कि मेरे पति बाहर गए हुए हैं. लेकिन पति महोदय तो ज्यादातर देश के बाहर ही रहते थे, तो मेरा लंड मैडम की गांड चूत की सेवा में ही मस्त रहता था. मैं उससे लिपट कर उसकी कमर को धीरे-धीरे सहलाता रहा क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि जो गर्माहट उसमें है वो ख़त्म हो जाए.

मम्मी मेरी मौसी के लिए और उनकी लड़की, जिसकी शादी होनी थी, उसके लिए. उसका अंदरूनी हिस्सा बहुत गर्म लग रहा था और गांड का छेद मेरे लंड को कसकर पकड़ रहा था. आनन्द के मारे मेरी चीखें अब और तेज हो गई और एकदम से मेरा पहली बार इससे पानी निकल गया.

मैं देख कर बिल्कुल आश्चर्यचकित हो गई, तब मैंने राजा जी की सारी बातों को मान लिया कि मम्मी सच में ऐसी थीं, जैसा वह लोग बोल रहे हैं.

और मुझसे घर वापस जाने और उसके आने का इंतजार करने को कहा।मैं निराश हो गया और घर वापस आया. लेकिन वो मेरी ममेरी बहन थी, जिस वजह से मैं उसको चोदने का नजरिया बना ही नहीं पा रहा था. उसके बाद रिशु ने मिशिका का टॉप निकलवा दिया और उसकी सफेद ब्रा के ऊपर से उसकी चूचियों को दबाने लगा.

कुछ मिनट पश्चात् उसकी गति बढ़ गई और मेरी योनि में उसके मूसल लिंग का चोदन अपने चरम पर पहुंचने की दिशा में बढ़ने लगा. मैंने उसके लिंग को हाथ से पकड़ हिलाना शुरू कर दिया और अपनी एक टांग सीधी रखी और दूसरी टांग उठा कर मोड़ दी. मैं सिसयाते हुए राहुल का हाथ पकड़ कर अपनी चूचियों पर रखकर दबाने लगी।मेरा इशारा समझते ही राहुल मेरी चूचियाँ दबाते हुए मेरी चूत को पूरी तरह खींच-खींच कर चाट रहे थे।राहुल का जब मन भर गया मेरी चूत चाटते हुए तब राहुल ने कहा- भाभी खड़ी हो जाओ.

गर्मी भी लग रही है, आप दोनों एक काम करो, सलवार कमीज़ रहने दो और साड़ी ब्लाउज उतार कर आराम से बैठो, यहां किसी को आना तो है नहीं, फिर बेवजह हिचक कैसी. तब तक सुषी ने मेरे लंड पर से मेरे अंडरवियर को खींच दिया और मेरा लंड फुफकारता हुआ मेरे पेट से जा लगा.

इसलिए मैंने उसके क्लीनिक में काम करने वाले लड़के को पटाया। उसी से मुझे पता लगा कि भाभी जी उसके पास बहुत समय से आती है और वो डॉक्टर उसे अपने ही क्लीनिक में पेलता है।मैंने उसे पैसों का लालच दिया और उसे उनकी एक पिक देने को कहा. मेरे घर के नजदीक एक पार्क है, जब मैं कहूँ, तुम वहां पर आ जाना, मैं तुम्हें लेने आ जाऊंगी. अगर कोई आ जाए, तो बस खड़े हो जाओ और पल्ला ऊपर कर लो, किसी को पता ही नहीं चलेगा और चुदने के मज़ा भी ज्यादा आ जाएगा.

उसने मेरी चूत को खूब चाटा, उसके बाद वो मेरे होंठों को चूस कर मुझे ही मेरी चूत के पानी का स्वाद चटाने लगा.

टीवी का रिमोट तो शिखा के हाथो में था तो वो ही अपनी पसंद का कार्यक्रम देख रही थी. अब तो हालत ये हो गई थी कि हम दोनों लोग जिस दिन बात नहीं करते थे तो वो लड़का मेरे घर आकर मुझसे बात करता था. एक अजीब सी खुशी थी जिसको मैं शायद शब्दों में नहीं कह पा रहा हूँ।उसी वक़्त कोमल का मैसेज आया- जानू, आज पहली बार किसी ने मुझे इतना प्यार किया है; आज से मैं तुम्हारी हो गई हूँ.

भैया नहा कर नाश्ता करके बैंक चले गए और भैया को विदा करके भाभी मेरे पास आ गईं. उसके पति का भी वापिस ट्रांसफर उसी शहर में हो गया था और उसने अब पुलिस हेड क्वार्टर में अपनी ड्यूटी लगवा ली थी.

मैंने पूछा- कितने नलों का पानी पी चुकी है?रिया बिंदास बोली- तू दूसरा ही है. एक औरत को जब उसके निकाह के बाद भरपूर रूप से सेक्स मिलने लगता है, तो उसकी एक मदहोशी भरी आदत पड़ जाती है, हर रात या दूसरी रात अपने शौहर द्वारा ना जाने किस किस तरीके से मसल दिया जाना, उनके लिंग से देर रात तक चुदाई करवाना. अब मैं बेड पर लेट गया और वो झुक कर मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

सेक्सी सेक्सी हिंदी बीएफ वीडियो

गाड़ी ने थोड़ा मोशन पकड़ा ही था कि मैंने देखा एक लड़का ट्रेन की ओर भागा आ रहा था.

उसके बाद मैंने अपने दोनों हाथ उसकी दोनों चुचियों पे रखे और जोर जोर से दबाने लगा. उसके कबूतर (बूब्स) बत्तीस इंच के रहे होंगे जो उसकी सुंदरता में चार चाँद लगाते थे. वो एकदम से गनगना उठी और अपनी गांड उठाते हुए मेरे मुँह की तरफ चूत को रगड़ने लगी.

मैं घबराने लगी, डरने लगी मैं समझ गई कि यही वो लोग हैं, जो वहां झाड़ी के पीछे पहुंच गए थे. एकता तो पहले ही लंड के वीर्य के टेस्ट की दीवानी थी, तो उसने पहले अपने मुँह का तो गटक ही लिया. बाथरूम की सफाईबात खत्म करने के पश्चात मैं बिस्तर से उठी और अपनी छुपाई हुई संदूकची बाहर निकाली.

बहुत अजीब तरह का टेस्ट था, पर मैं बहुत जोश में थी इसलिए पूरा लंड रस पी गई. मैं दिखने में एकदम हीरो जैसा हूँ, हां जरा दुबला पतला हूं, लेकिन लंड 8 इंच का मस्त मोटा है.

मेरा आधा लंड उसके गले तक पहुँच गया … और फिर वो छोटा बच्चा जैसे लॉलीपॉप चूसता है, वैसे लंड चूसने लगी. घर वाले भी लड़का वड़का देख लेंगे अगर पास हो गयी तो …”ठीक है … पीऊन को भेज कर शीट दिलवा दो … मैं सोचता हूँ तब तक!” उन्होंने मेरी उभरती जवानियों का लुत्फ़ लेते हुए कहा।मुझे थोड़ी शांति मिली. उसने मेरे लंड को अपने हाथ में ले लिया और एक बार सहला कर फिर मेरे लंड को अपने मुंह में डाल लिया.

निहाल मुझसे सटा हुआ था और उसका ही लंड मेरे पीछे पेंट के ऊपर से ही टच हो रहा था. फिर मैंने उनसे जाने की अनुमति मांगी, तो उन्होंने भी थोड़ा मजाकिया अंदाज में कहा- प्रधान जी, आप पक्का चल पाएंगे ना, कहीं मुझे फिर से आपको कंधे का सहारा ना देना पड़े. मैं उसको वैसे ही देखते हुए खड़ा हुआ था कि उसकी आवाज ने मुझे ख़्यालों से बाहर निकाला। जब मैंने उनको अपना परिचय करवाया तो उन्होंने मुझे अंदर बुलाया।जब मैंने उनसे पूछा तो उन्होंने बताया कि उनके हस्बेंड बाहर देश में जॉब करते हैं और वो अपने बेटे के साथ अकेली ही रहती हैं। उनका नाम संजना था। उनका घर वैसे तो बहुत ही ज्यादा बड़ा था और घर में ऐसी किसी चीज की कोई कमी मुझे कहीं पर भी नजर नहीं आ रही थी.

तब महेश अब्दुल को बोला- लगता है वन्द्या का काम होने वाला है, वन्द्या झड़ने वाली है.

थोड़ी देर तक ऐसे ही लेटा रहा, वो बिल्कुल सीधे सो रही थी। फिर मैंने अपना एक हाथ धीरे से उसके बूब्स पर रख दिया जैसे अनजाने में रखा हो लेकिन उसने मेरा हाथ नहीं हटाया. उसने पूरा खीरा चूत में घुसेड़ लिया और जोर से चुदासी आवाज में बोलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से चोद मुझे और जोर से …मैं भी उसका साथ दे रहा था- अच्छे से है चोद रहा हूँ … आह तेरी ये मस्त गांड वाओ … तेरी चूत तो एकदम कातिल है.

शाम को मैं अपने चचेरी सलहज इंदु के घर गया, उसने भी मेरी काफी आवभगत की. उसके बाद मैंने देखा कि रिशु ने यहाँ-वहाँ देखते हुए अपनी पैंट की चेन को खोल दिया और मिशिका के हाथ में अपना लंड पकड़ा दिया. वैसे हमारी वॉट्सएप्प पर रोज बातें होती थीं और हम खुल कर सम्भोग संबंधी बातें भी करते थे.

महानगर की भाग दौड़ के कारण कोई बच्चों के चक्कर में न पड़कर, सिर्फ कमाने, खाने, जोड़ने और चोदने की सोचता है. हाय … मार दिया … मार दिया … इतना बड़ा लंड … इतना मोटा … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैंने पहली बार लिया है. अपने आस-पास के गे लड़कों की लोकेशन पता करना, अगर कोई पसंद आ जाए तो फिर उससे पिक्चर्स मांगना, अगर वो पिक्चर्स ना दिखाना चाहे तो अपनी फेक पिक्चर्स भेज कर उसकी असली पिक्चर्स देखने की कोशिश करना वगैरह … वगैरह … कामों में दिन आराम से निकल जाता था.

बीएफ जीजा साली की चुदाई मैं जब वापस आया तो देखा कि राशिका और मिशिका दोनों ही एक साथ में बैठी हुई थी. कौशल्या- सब बहाने जानती हूँ सर, आप लोगों की महफ़िल शाम को जमती है, चलो अच्छा है पीने के बाद तो ये और भी रोमांटिक हो जाते हैं.

सीजी हिंदी बीएफ

उसको इस बात का काफ़ी सदमा लगा और उसने नक्की किया कि वो जिंदगी भर कुंवारी रहेगी. मेरा लौड़ा पूरा का पूरा एक ही बार में भाभी की चूत में अन्दर घुसता चला गया. मैंने उनसे कहा- मिसेज रॉय ने सब बता दिया या कुछ बाकी है?उन्होंने मुझे पलट के देखा और एक प्यारी सी स्माइल दे कर बोला- हां सब बता दिया, आप तो बहुत बड़े सेवक हो … क्यों?मैंने भी लंड सहाते हुए उनके प्रश्न का जवाब दिया- अजी हमारा काम ही है सेवा करना … ऊपर वाले ने लेडीज के शरीर को बनाया ही ऐसा है कि उसकी सेवा से ही मेवा मिलता है.

मुझे इसका कारण पता नहीं चल पा रहा था। मैंने कई दिन एक मेडीकल स्टोर से दवा भी खाई लेकिन कुछ आराम नहीं मिला। फिर मेरे छोटे भाई ने मुझे न्यूरो सर्जन के पास ले जाने के लिए कहा. उसका लंड बहुत मोटा और लंबा था जिसकी वजह से मेरी झांट सी चूत में घुस ही नहीं रहा था. लडकियों के वालपेपर डाउनलोड 2020वो सिसकी- ओह आमिर!मैं भी सिसका- ओह ज़रीना!वो नशीली आवाज में बोली- आमिर मुझे एक बार और किस करो ना!मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये और उसके होंठों को चूसने लगा.

मैंने उसकी चूचियों को एक बार फिर से अपने हाथों में भर लिया और एक ज़ोरदार धक्का उसकी चूत की तरफ दे मारा.

अब की बार मैंने बियर उसके चुचे पर डाली और उसे चाटने लगा और उसकी चुची चुसने लगा. मैंने धीरे से उसके हाथों को हटा कर उसकी आँखों में झांकते हुए उसको देखा.

समय बर्बाद न करते हुए मैं आता हूँ अपनी कहानी पर।वो कहते हैं न कि प्यार कहीं भी किसी से भी हो जाता है वैसे ही मुझे भी प्यार हो गया था. लंड उसके गले तक जा रहा था जिससे उसे सांस लेने में दिक्कत आ रही थी।उसके बाद फिर मैं जोर जोर से लंड को अंदर और बाहर करने लगा. उसने बताया कि वह अपने घर पर पहले से ही बता कर आई है कि वह अपने दोस्त के रूम पर आज पार्टी करने के लिए रुकने वाली है.

हम दोनों एक दूसरे का भरपूर साथ दे रहे थे और सेक्स का मजा ले रहे थे.

उसने मेरे लंड को छोड़ा और ऊपर होकर अपनी चूत को मेरे लंड पे सैट कर दिया. इन्हें तो सिर्फ एक इशारा करने की जरूरत है, बस बाकी सब खुद ब खुद इनके मन का करने को तैयार खड़े रहेंगे. तू जिस भी लड़के या मर्द से मिले, उससे इन्हें ज्यादा से ज्यादा दबवाना और चुसवाना.

मां बेटा की सेक्सी पिक्चरउसकी आँखों में बहुत ही मस्ती भरी हुई थी, ऐसा लग रहा था जैसे कह रही हो कि आओ और और प्यार करो मुझे. हम दोनों कभी एक-दूसरे को देखते, कभी चूमते, चूसते या काटते और इस तरह वो तेज़ी से मेरी चूत को चोदे जा रहे थे। हम दोनों पसीने से भीग रहे थे। राहुल इतनी तेज ठोकर मार रहे थे मेरी चूत में कि उनका लंड मुझे मेरी बच्चेदानी से टकराता हुआ महसूस हो रहा था.

सेक्सी बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की

फिर मुझे अपने बेडरूम में ले गयी, मुझसे पूछा- तुम मेरी बेटी के साथ ये सब कितने दिनों से कर रहे हो?तो मैंने बोला- कल पहली बार ही था आंटी. इंदु आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उहहह कर रही थी और नीचे से अपनी कमर उठा उठा कर मजे से चुद रही थी. लेकिन हम दोनों इस पोजीशन में ज्यादा देर तक चुदाई नहीं कर सकते थे, तो मैंने वाणी को ऊपर खींचा और अपनी गोद में बैठा लिया.

उनकी बातों से मुझे फील हो रहा था कि ये आराम से फंस जाएगी, बस थोड़े खर्चे करने पड़ेंगे. तभी उसने मेरा लंड पकड़ा और अपनी बुर की तरफ़ ले जाने की कोशिश करने लगी. मैंने मौका देख कर सोनू की पैंटी में हाथ डाला और सीधा हाथ चूत के ऊपर टिका दिया.

सुहागरात को शौहर ने पहली बार मुझे चूमा और मेरे अंगों को ऊपर से छुआ और उनके से थोड़ा बहुत खेला ताकि थोड़ी सहज हो पाऊं. मैंने उत्तेजना में वहां बीती मेरी बहन की सहेली रंजना दीदी के सीने पर हाथ रख कर उनके दूध दबा दिए. मेरे धक्के काफी तेज थे जिससे सुषी का सिर दीवार में जाकर लग जाता था.

उसका लंड बहुत मोटा और लंबा था जिसकी वजह से मेरी झांट सी चूत में घुस ही नहीं रहा था. मैंने फोन लगाया तो उधर से एक महिला की आवाज आई- यस प्लीज़?मैंने एड का हवाला दिया तो उसने कहा कि आप कितनी देर में आ सकते हो?मैंने कहा- एक घंटे में.

तो दीदी बोली- सोनू कंट्रोल कर यार … नहीं तो तू पीछे चली जा, उधर कई जेंट्स हैं.

मैंने कहा- हां, इसमें इतना मजा आएगा कि फिर तुम कभी भी मुझसे गांड मराने के लिए मना नहीं करोगी. टेडी बियर फोटो hdफिर रात हुई, फिर से हितेश के इंतजार में काफी देर तक बैठी रही, पर आज भी हितेश नहीं आए और पता नहीं कब मुझे नहीं आ गयी. साड़ी बताइएउसने मेरी कमर में कस के हाथ लगा कर अपना लंड मेरी गांड के छेद में रख दिया और फिर मुझसे बोला कि अब संभल जा!जैसे ही उसने मेरी गांड में अपना लौड़ा टच कराया, तो मुझे लगा कि इसका लंड तो अब और बड़ा हो गया है. उसने मुस्कुरा कर कहा- ज़्यादा ना खो जाओ, वरना निकलना मुश्किल हो जाएगा.

करीब 5 मिनट बाद दोनों का जब पानी निकल गया, तो वो दोनों उठ गईं और मेरे आगे पीछे चिपक गईं.

उसने एक कातिल मुस्कान के साथ जवाब दिया।मगर मैं सोच रहा था कि सुषी के दिमाग में क्या चल रहा है? फोन पर तो इसने मुझे किसी और के बारे में नहीं बताया. आंटी बोली- मैं तो बहुत दिनों से प्यासी हूँ मेरे राजा … आह्ह् … तुम पहले क्यों नहीं मिले मुझे?मैंने कहा- आंटी आप चिंता मत करो, मैं आज आपकी प्यास को अच्छी तरह से बुझा दूंगा. मम्मी बीच में आ गईं … वे बोली- इस बेचारे को क्यों मार रहे हैं?पापा मेरी तरफ आने लगे और बोले- खुद के आटे में कंकड़ हो, दूसरों क्यों दोष दें.

सोनम की मम्मी मेरे बाल पकड़ कर बोली- देखो कैसे कुतिया नंगी पड़ी अपनी गांड मरवा रही थी, छिनाल कहीं की. यह शायद वायग्रा का ही असर था कि मेरा लंड कुछ ही मिनट के बाद फिर से खड़ा होना शुरू हो गया था. इसलिए मैंने भाभी से कहा- भाभी! जैसे आप लंड के लिए तरसती हो ऐसे ही लता भाभी भी लंड के लिए तरसती है.

वीडियो बीएफ हिंदी में एचडी

उसकी माँ को कुत्ते चोदें, उसके लिए मैंने क्या क्या नहीं किया, मैंने उस कुत्ते को मेरी छोटी बहन वर्षा तक चोदने दी. मैंने एक बार तो वापस नीचे जाने के लिए सोचा लेकिन बाद में मुझे मेरी चूत की याद आ गई. मैं सोचने लगा कि यह सरप्राइज़ की क्या कहानी है, अब तो और भी जल्द पता लग जाएगी.

फिर एक दिन मेरे मन में विचार आया कि क्यों न मैं भी अपनी कहानी अन्तर्वासना के पाठकों तक पहुंचाऊं.

इसके बाद बॉस ने मेरी बीवी की ब्रा की स्टेप खोल दी और मेरी बीवी की 34 साइज की चूचियां हवा में फुदकने लगीं.

थोड़ी देर बाद ही प्रशांत की बीवी माधुरी आंगन में आकर तार से अपने घर के कपड़े समेटने लगी. मैंने पूछा- आपको कैसे मालूम?तो भाभी ने बताया कि सामने वाले घर में जो प्लस टू में लड़की पढ़ती है उसका नाम सोनू है. कास्टिंग काउच मीन्सऐसे ही करते करते हम दोनों का पानी निकल गया, जिसे हम दोनों ने पी लिया.

लिंग के घुसते ही सरदार जी बोल पड़े- अब सही लगा है, ज्यादा देर नहीं सारिका जी, थोड़ी देर में ही फंस जाएंगे ये दोनों. मेरे मुँह से सिर्फ इतना ही निकला:गर फिरदौस बर रूये ज़मी अस्त/ हमी अस्तो हमी अस्तो हमी अस्त(धरती पर अगर कहीं स्वर्ग है, तो यहीं है, यहीं है, यही हैं)वे दोनों मुझसे सांप के जैसी लिपट गईं. मैंने बाहर निकले हुए दीदी के चूतड़ मसले और पूछा- इनकी क्या साईज है?दीदी ने कहा- क्या इनकी इनकी कह रहा है … चूतड़ बोल न, चूतड़ अच्छा शब्द है … मेरे चूतड़ की साईज 44 इंच की है.

कुछ पल बाद मैं उसे नीचे लिटा कर उसकी ब्रा उतार कर उसके चूचों को चूसने लगा. ‘आह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… उम्मह …’ करते हुए कौशल्या झड़ गयी और मेरी छाती पे जोर से हाथ मार कर मुझे पकड़ कर ठंडी हो गयी.

कंपकंपाती ज़ुबान में बोली- अमित प्लीज़ … हद मत पार करो, इतना ही काफी है.

मैंने भाभी के टॉप के ऊपर से हाथ लगा कर मालिश शुरू की तो भाभी कहने लगी- राज! अन्दर से करो न, शरमा क्यों रहे हो? जब पाँव पर की थी तब तो नहीं शरमा रहे थे. लेकिन पति महोदय तो ज्यादातर देश के बाहर ही रहते थे, तो मेरा लंड मैडम की गांड चूत की सेवा में ही मस्त रहता था. इस घुटन से ज्यादा अच्छा है मैं अपने दिल की बात कोमल को बता ही दूँ।मैंने मन ही मन सोच लिया और कह दिया- हाँ प्यार तो हो गया है.

xñxxcom sexi moms hd indien फिर उसने मुझे काफी बार लंड बाहर निकालने का बोला, पर मुझ पर उसका कोई फर्क नहीं पड़ा. थोड़ी देर बाद भाभी की वासना फिर भड़क गई और मुझे बोली- राज! ज़रा ज़ोर-ज़ोर से तेज़-तेज़ करो, बहुत ही मज़ा आ रहा है.

लेकिन वही कुछ देर बाद उसकी शिल्पा की गांड ने मेरी दोनों उंगलियों को रास्ता दे दिया. खैर अब पूनम मेरे नीचे लेटी थी, उसकी टांगें हवा में थीं, उसका लहंगा उसकी कमर पर सरका आया था. दस मिनट बाद वो आया और बोला- अन्दर आने को नहीं बोलोगे?मैंने कहा- हां हां आओ यार, तुम्हें पूछने की कोई जरूरत नहीं है.

बीएफ हिंदी चुदाई सेक्स

भाई जब तक एक महीने की छुट्टी से वापस आए तो भाभी प्रेग्नेंट हो गई थी. मेरी तबियत पूछी और कहा कि बेगम अगर आपकी इज़ाज़त हो तो मैं थोड़ा आराम कर लूं. वो मेरे दोस्त जो आंगन में बैठे हैं, सबको तेरी झाड़ी वाली करतूत बता देंगे … और फिर तुझे दिक्कत हो जाएगी.

मुझे और भी मजा आने लगा ‘आह्ह मर गयीईई आह्ह …’फिर उसने मेरी जीन्स पेन्ट उतारी और बोला- वाह … आज अन्दर कुछ नहीं पहना मेरी जान … तू तो बिल्कुल तैयार होके आई थी मेरे पास. तुम लगभग आठ बजे के करीब हमारे मौहल्ले के बाद वाले नुक्कड़ पर आकर मिलो.

मैं उसकी बात को अनसुना करता रहा और उसकी चूत पर ऊपर ऊपर से लंड रगड़ने लगा.

रशीद के धक्के तेज़ हो गए मेरे होंठ भी तेज़ी से जॉन के लंड पे फिसलने लगे और फिर दोनों ने एक साथ पानी छोड़ दिया. कब हम दोनों की जुबानें एक दूसरे को चूसने लगीं, इस बात का अहसास तक नहीं हुआ. मैं चुपचाप सर के लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी। मैं चाहती थी कि वो जल्दी-जल्दी मुझे फ्री कर दें। लेकिन सर ने मेरे मुंह को ही चोदना शुरु कर दिया.

दोनों भाइयों ने मुझे बिस्तर पे लिटा के मेरे दोनों कपड़े उतार दिए और मेरे जिस्म से खेलने लगे. मैंने कहा- अभी हमारी शादी नहीं हुई है भाभी … शादी होनी तो अभी बाकी है. एक बात जो बहुत सेक्सी लग रही थी वह यह कि भाभी ने अपनी कमर में चूतड़ों के ऊपर एक चांदी की झालर नुमा चेन पहन रखी थी, जिसको तगड़ी कहते थे.

फिर हल्की फुल्की बात हुई और फिर बात कुत्ते कुतिया के सम्भोग के बारे में शुरू हो गयी.

बीएफ जीजा साली की चुदाई: मामी के हाथ में एक बड़ा सा बैग था तो मैंने उसे मामी के हाथों से ले लिया और चल पड़ा. मैंने कहा- ओह … तो यह सरप्राइज़ है शाम का!गीता बोली- नहीं … वो तो अभी बाकी है.

तू मेरी सगी मौसी का लड़का है और अंकित तुम्हारे सगे चाचा का बेटा है. वो मुझे कुदरत की तरफ से मिली एक बख्शीश है, इसे देख कर सिर्फ लड़कियां ही मुझसे जलती हैं, बाकी सब इसे चाहते हैं. दो-तीन मिनट बाद, जिसके हाथ में पेंटी थी, वह आया और मेरे पास खड़े होकर बोला- चल आजा मेरे पीछे, यहीं पास में एकांत जगह है, वहीं तुम्हारी पैंटी दे देता हूं.

ये सुनकर मैंने उसे कुतिया बनाया और उसकी चूत में लंड जोर के झटके से घुसा दिया.

मैंने उसे आँखे खोलने को कहा और पूछा- मीशा, कैसा लग रहा है?अच्छा लग रहा है है भैया… और करो ना!” मीशा वासनात्मक स्वर से बोली. मामी मेरी छाती पर मुक्का मारने के साथ कहने लगीं- जल्दी चोद कर मेरी बुर फाड़ दे साले … क्यों तड़फा रहा है कमीने. मैंने भाभी की चूत को चूमा, उसके अंदर अपनी जीभ डाली और भाभी के दाने को अपने होठों से चूसा, तो भाभी बेड के ऊपर अपना सिर मारने लगी और मुझे अपने ऊपर खींचने लगी.