चुदाई वाली बीएफ चुदाई

छवि स्रोत,नंगी लुगाई की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी वीडियो पोर्न: चुदाई वाली बीएफ चुदाई, गर्लफ्रेंड सिस्टर Xxx कहानी में पढ़ें कि मैं अपने माशूका के घर आता जाता था.

एक्स एक्स वीडियो आदिवासी

एक दिन मैंने अपना खाता उसी बैंक में खुलवाया, तो बैंक की मेम ने मुझसे मेरा फोन नम्बर मांगा. गांड मरवागाड़ी आगे की ओर चल दी।मैंने थोड़ा सा एस्केलेटर बढ़ाने का इशारा किया।मेरी गर्म-गर्म सांसें अब दाइशा जी के चेहरे पर पड़ रही थी और शायद वो भी इसे एंजॉय कर रही थी क्योंकि उन्होंने किसी तरह से मुझे रोकने की कोशिश नहीं की।पर शायद उन्होंने सब कुछ मेरे हाथों में सौंप दिया था.

मैंने लंड चुत की फांकों में टिकाया और थोड़ा सा धक्का लगा दिया जिससे 3 इंच लंड चूत में घुस गया. डब्लू डब्लू सेक्स वीडियो मराठीमैं गपागप गपागप चूसने लगी और वो चूत को सहलाने लगा।जल्दी दोनों 69 में आकर एक-दूसरे के अंगों को चूसने लगे।थोड़ी देर बाद समीर ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और उठाकर लंड पर बिठा दिया गप्प से अंदर चला गया.

मैं जोर से उसका हाथ हटाकर बोली- तुम जबरदस्ती से करोगे तो मजा नहीं आएगा.चुदाई वाली बीएफ चुदाई: मैंने पहल की और इस सब्र के बांध को तोड़ते हुए उसे अपनी बांहों में भर लिया.

लेकिन मैं पूरा खिलाड़ी था, मुझे इन सब चीजों के बारे में पता था तो मैंने अपने ज्ञान का सही इस्तेमाल किया और धक्के लगाने लगा.मैं मीना के मुँह से यह सब बात सुन कर खुश था कि आज साली की चुत चोदने मिलेगी.

खेतों में चुदाई - चुदाई वाली बीएफ चुदाई

उसकी सिसकारियों से मेरा जोश भी बढ़ने लगा और मैं अपने पिस्टन को उसकी लुब्रीकेटेड चूत में जोर जोर से पेलने लगा.दीदी की शादी के बाद भी राधिका, मोनिका के साथ लगातार चुदाई करता रहा.

कुछ देर बाद राहुल ने मॉम को उठा कर कुतिया बना दिया और पीछे से उनकी चुदाई करने लगा. चुदाई वाली बीएफ चुदाई रवीना- इआआ आआह और जोर से परम … ईईई ईईआ आआआ आआउउ ऊऊ ऊफ आआआ … मजा आ रहा है.

उसके जाने एक मिनट बाद मैं भी अन्दर आ गया और इधर उधर घूमते हुए दिलप्रीत को खोजने लगा.

चुदाई वाली बीएफ चुदाई?

तू तो बड़ी अच्छी मसाज कर लेती है … क्या मेरा बेटा भी तुझसे ऐसे ही मालिश करवाता है?मैं शर्मा गई और बोली- हां मम्मी, कभी कभी जब वो कहते हैं तो मैं उनकी भी मालिश कर देती हूँ. बड़ी रानी ने अपने दोनों पैरों को अशोक की कमर पर लपेट दिया और लौड़े की ठोकर अपनी बच्चेदानी पर खाने लगी. बुआ की उठी हुई गांड देख कर मेरी नींद ही गायब हो गयी थी; मेरा लंड एकदम तड़प रहा था.

जब चौथे महीने भी मुझे माहवारी नहीं हुई तो मैंने इस बात को मामा से कहा. मेरी गर्लफ्रेंड से फोन पर बात हो रही थी और मैं कंप्यूटर को सैट कर रहा था. मैंने सोचा कि मान लो दो उंगलियां अन्दर चली भी गईं तो ये साली फिर से रोना धोना शुरू कर देगी.

नीता मुझे इतनी आग लगती है, मैं इतना तड़पती हूँ कि पीरियड्स में भी मैंने हर रोज़ उंगली की है. फिर सुनील ने नीचे बैठकर मेरी गांड में अपना मुंह लगा दिया और मेरी गांड चाटने लगा. नैना- मैं तो आपको नाश्ते के लिए बुलाने आयी थी, आप नाश्ते में क्या खाएंगे?मैं- नैना जी, आप भी बेकार में तकल्लुफ कर रही हैं.

मैं- प्लीज!मैं दीप्ति को राजी करने के लिए उसके होंठों को चूमने लगा और साथ में उसके मम्मों को सहलाता रहा. मैं अब अपने मामा की बेटी की मस्त मस्त चूचियों को अच्छे से दबाने लगा.

मैंने कहा- थोड़ा आराम से कर ना!इस पर उसने मेरे लंड में एक तमाचा मारा.

वो मना करने लगी- अरे ऐसी कोई बात नहीं है, सब ठीक है, तुम परेशान ना हो.

वो बड़बड़ाते हुए बोलीं- आज इनको अच्छे से मसल दो … बहुत परेशान करते हैं. वो- मालकिन थोड़ा पीने को पानी मिलेगा!मैं- हां देती हूं, अन्दर आ जाओ. मैंने उससे पूछा- राहुल, क्या तुमको मेरी चुत चाटने में मजा आ रहा था?राहुल- हां भाभी, मुझे आपनी चुत चाटने का बड़ा दिल कर रहा है.

आप सभी जानते तो होंगे ही दिल्ली का पानी जब किसी को लग जाता है तो स्वभाव कितना बदल जाता है. वो कभी कभी चूत को मसल भी देता था जिससे मेरी पत्नी के मुँह से एक सेक्सी आवाज भी निकल जा रही थी. तब मैंने अपने चचेरे भाई को भी बताया कि कि मैंने अपने माँ बाप को सेक्स करते हुए देखा.

थोड़ी देर बाद मैंने अपने लंड की पिचकारी बुआ की चूत में छोड़ दी और उनके ऊपर ही लेट गया.

वो दूध और गांड पर साबुन मल रही थी और मैं मज़े से उसके जवान नंगे जिस्म का नजारा ले रहा था. उसी समय दीदी की आवाज एकदम से थरथराने लगी और वो अपने बदन को ऐंठाने लगीं. पर क्या करता, इस बार वर्क फ्रॉम होम के साथ ये काम भी मेरे हिस्से में आ गया था.

मैं- बोलो क्या?अनन्या- तुम मुझे पसंद करते हो क्या?मैं- हां … करता हूं. मदन मुझको होटल के एक कमरे में ले गया और उसने मुझसे कहा कि ट्रेनिंग 15 दिन बाद शुरू होगी. जबकि उस बेचारे ने मुझे हाथ भी नहीं लगाया था, बस यूं ही मेरे सीने से लगा सुबकता रहा.

थोड़ी देर ऐसे ही नहाने के बाद हम तीनों नंगे की बाथरूम से बाहर आ गए और आकर बिस्तर पर लेट गए.

मुझे कोई बात नहीं करनी!और मैंने फोन काट दिया।साथ ही मैं एक पैग बिना पानी के पी गई और रोने लगी।समीर मेरे पास आ गया और बोला- क्या हुआ अलका?उसका हाथ धीरे धीरे मेरी जांघों पर चलने लगा था।उसने एक एक पैग बनाया और हम पी गए।मैंने उससे कहा- आज हमारी शादी की सालगिरह है फिर भी मेरे पति मेरे साथ नहीं हैं. मैं समझ गई वह झड़ने वाला है तो उसने सारा पानी मेरी चूत में ही डाल दिया.

चुदाई वाली बीएफ चुदाई मम्मी- उम्मएम … उफ्फ फ्फ्फ …चाचा- आआआह … आआह …मम्मी- नरेश, तुम्हारे मोटे लम्बे लंड का लुत्फ बहुत ही आनन्ददायक है … आहचाचा- ओह्ह्म्म … ओह्ह्ह … मेरीइइ … जान्न … ओह्ह … रेखा … मेरी इइइई … गुलबदन …शायद अब चाचा अपनी चरम सीमा पर आ गए थे. कल रात से जब से तुमको देखा है, मेरा दिल तुममें ही खोया हुआ है और मेरी रात की हसीना तुम ही हो यार!यह सुनकर नैना कुछ शर्मा गयी और बोली- क्या आप सच कह रहे हैं अनुरागजी!मैंने कहा- हां नैना, कल रात से ही तुमने मुझे पागल सा कर दिया है.

चुदाई वाली बीएफ चुदाई पर मैंने यह किस जारी रखा और कुछ ही देर में उसके होंठों ने अपना कमाल दिखाना शुरू कर दिया. आईने में अजय की बैचनी मुझे साफ़ दिख रही थी।मैंने अजय को अपनी ब्रा का हुक लगाने को कहा.

अब तक आपने पढ़ा था कि थामस मेरी बीवी अनिता की चुत चोद रहा था और मैं उसकी बीवी लूसी की चुत चोद रहा था.

पाकिस्तानी चुड़ै

मैंने जाते ही उसकी टी-शर्ट को उतारा और फिर उस की ब्रा के हुक खोल कर जैसे ही ब्रा हटाई तो मेरी आंखें चुंधिया गईं. मेरे मायके में सारे नौकर मालकिन को बीवी जी कहते हैं। मुझे बुरचोदी बीवी जी कहो, छिनार चुदक्कड़ बीवी जी कहो, मुझे अच्छा लगेगा।यह सुनकर मेरा लण्ड साला आप से बाहर हो गया।वह फिर बोली- अच्छा मुझे सच सच बताओ कभी किसी की बुर चोदी है तुमने?मैंने कहा- नहीं मेम साहेब, मैं गरीब आदमी हूँ. उसने चूड़ियां पहनी हुई थीं तो वो जितनी तेजी से लंड हिला रही थी, उतनी जोर से छन छन की आवाज आ रही थी.

फिर उन्होंने मेरे साथ चुदाई का जोरदार कार्यक्रम शुरू कर दिया जिसमें मेरी चूत और गांड की चुदाई की. उसने एक झुरझुरी सी ली और मेरे सर को जोर से अपनी योनि में भींच लिया. मेरी जांघें पतली और सुडौल हैं, हिप्स भी मेरे मुखड़े के जैसे गोल मटोल और बहुत कड़क हैं.

वे दोनों लड़के आगे बारी-बारी से अपना लंड रानी के मुँह को भोसड़ा समझकर चोदने में लगे हुए थे.

उसके बॉस की नजर मेरे ऊपर पड़ गई तो उसने उंगली का इशारा करते हुए उसे बताया कि तुम्हारे पति पीछे खड़े हैं और बॉस ने फोन कट कर दिया. आपको भाभी की जबरदस्त चुदाई कहानी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताना न भूलें, धन्यवाद. थोड़ी देर बाद मैंने जानबूझ कर अपना हाथ फिर से उसके मम्मों पर रख दिया.

चीटिंग वाइफ पोर्न कहानी के पहले भागसहकर्मी की पत्नी की प्यासी चूतमें आपने अब तक पढ़ा था कि नैना का पति घर से दूर दूसरी फैक्ट्री में चला गया था. उस्ताद जी देखते ही बोले- बहुत ही मस्त जिस्म है तेरा!मैं शर्मा कर हंस दी. रश्मि ने उसी वक्त अपने हाथ को मेरी जांघ पर आगे ले जाकर मेरे लंड पर फिराया और बोली- मुझे ये चाहिए.

तेल गर्म करके मैं दीदी के कमरे के अन्दर गया तो मैंने देखा दीदी कंबल ओढ़ कर लेटी थी. मैं उम्मीद करता हूँ कि जैसे आपने मेरी पिछली कहानीमेरी बीवी दूसरी बार अपने यार से कैसे चुदीको प्यार दिया था, उतना ही प्यार आप मेरी इस कहानी को देंगे.

मेरी आंखें बंद देख कर उसने राहत की सांस ली और वो उठ कर वाशरूम चला गया. फिर मोनिका मेरे लंड को मुँह में भर कर चूसने लगी और मैं कोमल दीदी की तरफ देखने लगा. तब चाचा ने अपने झटकों की रफ़्तार बढ़ा दी थी, जिससे मम्मी के दूध भी जोर जोर से ऊपर नीचे हिलने लगे थे.

मोनिका बाइक पर बैठ गई और बोली- शिव कोमल दीदी की शादी हो गई है, ये वाली बात याद है न!उसके कहने से मुझे कोमल दीदी की शादी की सारी बातें आ गईं, एक बार आपको मैं फिर से वो सब दुहरा देता हूँ.

मुझसे भी अब सहन नहीं हो रहा था इसलिए बिना देरी किए मैंने उनकी दोनों टांगों को दूर दूर किया और अपना लंड उनकी चूत पर रगड़ने लगा. प्रियंका अपने दूध दबाती हुई चूत चटाई का मज़ा ले रही थी और उसकी चूत चाटने में मुझे भी मजा आ रहा था. ये सुनकर मैंने मैडम के दोनों पैर पकड़ कर ऊपर कर दिए और तेजी से धक्के लगाने लगा.

दीदी मुझसे मेरी पढ़ाई के बारे में पूछती रहतीं और मेरे बदन पर हाथ भी फेरती रहती थीं. जब तक तुम आंटी का पूरा पैसा नहीं चुका देते, तब तक सिर्फ़ आंटी के बताए ग्राहक के ही पास ही जा सकते हो.

रूम में आते ही मैंने उन्हें फिर पकड़ लिया, लेकिन वह इस बार उन्होंने कुछ नहीं बोला. होली का इंतजार मैं पूरे साल सिर्फ तुमको छूने और अपनी बांहों में भरने के लिए ही करता था. नीरज ने तुरंत मेरे मुंह में लंड डाल दिया और मुझसे लंड चुसवाना शुरू कर दिया.

बीएफ पिक्चर चालू

कुछ दिन पहले मुझे मेरे दोस्तों ने जुआ खेलने की आदत लगा दी, जिससे मैं हमेशा जुआ खेलने का आदी हो गया था.

सेक्स के प्रति बचपन से मेरी ख़ास रूचि और हस्तमैथुन की आदत होने की वजह से में अपना वजन तो ख़ास नहीं बढ़ा सका. मैंने ज़्यादा वक्त ना लगाते हुए अपनी लैंगिंग्स नीचे की और घोड़ी बन गयी. वो बड़ा सभ्य लड़का था।अब मैं छत पे कपड़े सुखाने को अजय को भेज दिया करती थी जिसमे मेरी ब्रा और पैंटी भी होती थी।वो भी बड़े प्यार से मेरे ब्रा पैंटी को सुखाता था।एक दिन मुझे अपनी एक सहेली के यहाँ जाना था.

मैं अपनी अलमारी से लोअर और टी-शर्ट लेकर और जानबूझ कर अलमारी खुली ही छोड़ कर बाथरूम में चली गई. मैं- आप पागल हो गए हैं क्या?वो- तेरी कसम, मुझे किसी और से तुझे चुदते देखना है. સ્કૂલ ગર્લ સેક્સી વીડિયોचूँकि उनके घर में दो कमरे और बैठक है तो मामा मामी अपने कमरे में चले गए और मैंने बोल दिया कि मैं और रवीना उसके कमरे में सो जाएँगे.

बस किसी को भी पता नहीं चलना चाहिए, बदले में तुम जब जितना चाहो मजे कर सकते हो और मुझे भी मजे दे सकते हो. जैसे ही वो मेरे गले से लगा, मुझे उस पर प्यार आने लगा और मैंने भी उसे अपने सीने से लगा लिया और उसकी पीठ पर हाथ फेर कर उसे सहलाते हुए चुप कराने लगी.

जैसे तैसे मैंने अपने हाथ से उसे नीचे किया, पर नैना का ध्यान भी मेरे लंड पर चला गया और मेरी गतिविधियों को देखकर वो मुस्कुराने लगी. बड़े आराम से दीप ने उसे नीता की चूत में उतार दिया और उसके बाद धीरे धीरे आगे पीछे हो कर उसको चोदने लगा. वो एक स्कूल टीचर हैं, मैंने उन्हें अपने स्कूल के एक जवान टीचर से अपनी चूत चुदाई करवाते देखा.

कोमल दीदी शायद मेरे एक्साइटमेंट को समझ गईं और कमरे में जाते ही मुझे अपने सीने पर चिपका लिया. कोट को उतार कर दाइशा जी ने धीरे से साइड में रखा और अपने दायें हाथ की नाजुक नाजुक उंगलियों से अपनी साड़ी को उठाकर अपनी चूचियों को ढका या फिर कहिए मुझे चिढ़ाया. पर नैना के साथ मेरा ऐसा रिश्ता बन गया था जिसे मैं भूल नहीं पा रहा था.

मैंने उसकी ओर संशय से देखा तो उसने कहा- आज मैं जी भरके जीना चाहती हूँ.

मैंने उसके लिए एक अंगूठी भी ले रखी थी और साथ ही एक स्पेशल बियर की बॉटल भी ले ली थी. मोनिका- कोई दिक्कत नहीं है, दीदी घर आ गई हैं, तो हम शाम को उनसे मिलने चलेंगे.

मैंने एक जगह पढ़ा था कि स्त्रियों के कान सहलाने से उन्हें जल्दी सेक्स चढ़ता है. मैंने कहा- यहां पर मेरे और तुम्हारे सिवा और तो कोई है नहीं, मेरा फर्ज बनता है कि मैं तुमको कोई परेशानी ना होने दूँ. दोपहर का खाने के बाद उसने फिर से पूछा- क्या सोचा तुमने?‘कुछ भी नहीं.

मैं और मेरी गर्लफ्रेंड फौजिया, हम दोनों एक दूसरे से बहुत मोहब्बत करते थे. मैंने भी उसकी लेगिंग्स को उतार दियाअब वो मेरे सामने सिर्फ निक्कर पहने थी, बाक़ी पूरी नंगी थी. चूत चूत की कहानी पुराने ज़माने की एक रियासत में कैसे मर्द लोग परायी नारियों को अपने लंड के नीचे लाते थे और उनकी बीवियां गैरों के लंड लेती थी.

चुदाई वाली बीएफ चुदाई बुआ बोलीं- अच्छा सही सही बताओ, तुमने आज तक मुझे अच्छे से नहीं देखा है क्या?तो मैं बोला- नहीं बुआ, मैंने आज तक आपके बारे में ऐसा सोचा ही नहीं है. दो मिनट तक मैं यूं ही धीमे धीमे से चुदाई करता रहा लेकिन मुझसे रहा नहीं गया और मैंने फिर से स्पीड बढ़ा दी.

बीएफ दे दो बीएफ

फिर हम दोनों खाना खाकर टीवी देख रहे थे उसी बीच टीवी पर न्यूज़ आयी कि आज रात 8 बजे से पूरे देश में लॉकडाउन लग जाएगा. जिससे बेड भी हिलने लगा तो वो मुझसे बोली- आस पास सबको बताना है क्या कि यहां चुदाई हो रही है? आवाज को थोड़ा कंट्रोल करो. फिर मैंने एक और पैग बना कर अम्मी को दिया, तो वो कहने लगीं- नहीं बेटा अब नहीं.

मन करता है कि ऐसे ही तुम्हारे बदन से लिपटा रहूँ … उन्म्म!मम्मी मुस्कुराती हुई- तुम तो नीचे से हटने का नाम ही नहीं ले रहे थे, ऐसा भी क्या मिल गया था तुमको?चाचा- अरे मेरी जान, मर्दों के लिए ये अमृत होता है और हर मर्द इसी चाटने के बाद जन्नत पहुंच जाता है. मैंने उसके करीब आते ही दिलप्रीत को अपनी बांहों में भर लिया और उसे दीवार से चिपका कर चूमने लगा. सेक्सी दिखाई जाएवो बोली- अगर मैं न आऊं तो!मैंने कहा- तो दूसरे दिन अखबार में खबर पढ़ने को मिल जाएगी.

मैंने मोबाइल देखा और उसे दिखाते हुए कहा- क्या तुम ये देख कर मुस्कुरा रही थीं?वो हंसने लगी और मेरे हाथ से मोबाइल लेने लगी.

मैंने भी कहा- ओके मेम, आप भी अपना नम्बर दे दो, हो सकता है आप फ़ोन करना भूल जाओ, तो मैं ही कर लूंगा. इतने तेज धक्के में लंड पूरा घुस जाना चाहिये था मगर पिछले तीन सालों से उसकी चुदाई नहीं हुई थी इसलिए चुत एकदम टाइट हो गई थी.

मैं दीप्ति से कुछ कहने ही वाला था कि वो मुझसे बात करने लगी- देखो आरव, कल रात जो हुआ था, वो हम दोनों की मर्जी से हुआ था. वहां जाकर मैंने एक कमरा बुक करवाया और कमरे के अन्दर जाकर कमरा बन्द कर लिया. दीप्ति- तुम्हारे साथ मैंने कैसे जिस्मानी संबध बना लिया, पता ही नहीं चला.

मैंने उसकी गांड पकड़ ली और उसकी आंखों में देखते हुए उसकी चूत पेलने लगा.

साड़ी पेटीकोट के हटते ही वो हम दोनों के सामने पूरी तरह नंगी हो गई थी. फेमडम उसे कहते हैं जिसमें लड़की लड़के के ऊपर हावी हो जाती है और उससे लड़के को सुख मिलता है. लॉकडाउन के बाद मेरा कॉलेज फिर से खुल गया था मगर मुझे कॉलेज जाने का बिल्कुल भी मन नहीं था.

सेक्सी bf videoकैसे अपने नाम जैसी कोमल और सुंदर कोमल दीदी ने मुझे सेक्स करना सिखाया और अपनी चूत के साथ साथ दो और चूत को चोदने का मौका दिया. मैंने अपने दोनों हाथ आगे किए और उसकी चूचियां पकड़ कर धकापेल करने लगा.

चाची की चुदाई वाली वीडियो

मैं नीचे से उसकी पैंटी को नाक से और होंठों से रगड़ रहा था और वो भी अपनी चूत जोर लगा कर मेरे मुँह पर रगड़ रही थी. दोस्तो, अपनी देसी सिस्टर सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको आगे की घटना लिखूँगा. मैं भी उस पर लाइन मारता रहता था पर दो महीने कोशिश करने के बाद भी मैं उसको पटा नहीं सका.

हालांकि मेरी गांड फटने को थी लेकिन उसने कोई विरोध नहीं किया और वह भी प्यार से मेरी तरफ देखने लगी. यह देख ऋतु को बहुत गुस्सा आया और उसने मुझसे कहा- तेरी सुई अभी तक पल्लवी पर ही क्यों अटकी है?यह कहते हुए उसने मेरे होंठ अपने मुँह में ले लिए. मैंने देखा हेमा ने कानों में लीड लगा रखी है और फोन स्टैंड पर लगा हुआ है.

2018 में हमारी शादी हुई थी और हम दिल्ली में आकर बस गए थे क्योंकि मेरी जॉब यहीं थी. एक दूसरे के एकदम पास में लेटे थे, पर दोनों एक दूसरे से कुछ भी बात नहीं कर रहे थे. अच्छा रहेगा उनको गोरेगांव हाईवे के आगे आरे रोड ले जाना, पवई साइड से रोड बंद है, तो वहां लोग नहीं मिलेंगे।मुझे अपने कानों पर विश्वास भी नहीं हो रहा था।मैं अभी भी दाइशा जी के बारे में ही सोच रहा था और नजरें उठाए दाइशा जी की पतली कमर को बलखाते हुए अपने बिल्डिंग की ओर जाते हुए देखता रहा.

मम्मी की चुदाई में चाचा पूरी तरह से मशगूल हो गए थे, पूरा पलंग हिलने लगा था. मैंने कहा- हां प्रिया, मैं अपनी पत्नी की चूचियों की मस्त उठान को देख रहा था.

मैं समझ गया कि ये दोनों मेरी मॉम को चोदना चाहते हैं और मॉम मेरे सामने उनसे खुल नहीं पा रही थी.

मेरी पिछली कहानी थी:दोस्त के सामने उसकी पत्नी की चुदाईयह देसी बुर चुदाई कहानी कुछ महीने पहले की है. हिंदी पोर्न वीडियो हिंदी पोर्न वीडियोइसी तरह विभा भी कह रही थी- हाय मेरे राजा अंकित … मेरी बुर फाड़ डालो यार. বয় সেক্স ভিডিওतो दोस्तो, कैसी लगी आप लोगों को मेरी Xxx साली की बुर की सच्ची कहानी, मुझे मेल करके जरूर बताएं. कुछ देर बाद वह लड़का हट गया और उसने रानी के मुँह में अपना सामान ठूंस दिया.

उस दिन उसकी छुट्टी थी और उसको बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि मैं भी उस दिन जल्दी घर आ जाऊंगा.

दीदी मेरी तरफ देख कर शिवानी से बोली- क्या तुम एक दूसरे को पहले से जानते हो?मैं अभी कुछ कहता कि शिवानी बोल पड़ी- हां दीदी, ये शुभम है. जल्द ही रिया मेरी गर्लफ्रेंड बन गई और ऐसे ही धीरे धीरे हमारी बात आगे बढ़ती रही. यह देख ऋतु को बहुत गुस्सा आया और उसने मुझसे कहा- तेरी सुई अभी तक पल्लवी पर ही क्यों अटकी है?यह कहते हुए उसने मेरे होंठ अपने मुँह में ले लिए.

ऊपर से वो जिस तरह की चुस्त वर्दी में थी, उसमें से उसके दूध एकदम उभर कर आ रहे थे. अब हम दोनों अपने जिस्मों को एक दूसरे में समा कर झड़ने लगे और सांसों को काबू करते हुए शांत हो गए. मैंने उससे पूछा- हम यहां सेक्स करेंगे?वो बोला- नहीं, पर अब हम जो चाहें, वो कर सकते हैं न!मैंने कहा- हां.

नंगी सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदी

अब वो फिर से मेरा लौड़ा हिला कर खड़ा करने लगी और कुछ ही मिनट में लंड खड़ा हो गया. चाचा बिना रुके लंड को और ज्यादा तेज रफ्तार से भीतर बाहर करने लगे थे. मेरा मन किया कि अभी भाग जाऊं, मुझे अपनी पत्नी और बच्चे याद आ गए थे.

सीन देख कर मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था और रश्मि के सर के नीचे से दबाव बना रहा था.

मैंने देखा कि अंकल का एक पैर मेरे पैर के ऊपर चढ़ा था और उनका हाथ मेरे आगे था.

अब बुआ बोलीं- अभी तो शाम का उजियाला है, अभी खाना खाओगे या बाद में?मैंने कहा- बाद में. बीच बीच में मैं उसके निप्पलों को हल्के से अपने दांतों से चुभला देता था. सेक्स चुदाई की वीडियोदीदी झड़ चुकी थी और निढाल होकर लेटी थी उसकी सांसें धौंकनी की तरह चल रही थीं.

मैंने उसकी जांघों को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और दोनों पैर खोल कर उसकी चूत को नीचे से ऊपर तक चाटने लगा. मैं- ओके कल से चालू कर ही देना … नहीं तो कब मन बदल जाए, मालूम नहीं. वो मेरे सीने को चूम रही थी और मेरे पेट और लण्ड‌ को सहला रही थी, मैं उनकी पीठ पर हाथ फेर रहा था।ऐसे ही लेटे लेटे हम दोनों की अब नींद लग गई, पता ही नहीं चला.

इस बीच उसकी नज़र मेरे लोअर पर पड़ी जो कि मेरे खड़े लंड के वजह से तंबू जैसा लग रहा था. वो- आआई मम्मी रे … मर गई उउह … कर दिया मर्दाना शॉट मार रहा है … आंह चोद भोसड़ी के … चोद … कितने मर्द देखे … आंह मगर तेरे जैसा मर्दाना ताकत पहली बार … आह … चोद … अपनी इस भूखी कुतिया को आह … चोद … मजा आ गया राजा.

समीर का लंड चूत के पानी से और तेज़ तेज़ अंदर तक जाने लगा। समीर का लंड अब तक पूरा टाइट था।उसने गीला लंड निकाल लिया और मुझे बिस्तर पर घोड़ी बना दिया, खुद पीछे आकर कमर पकड़कर चोदने लगा.

जीभ चूसने से हम दोनों की वासना भड़क उठी और उसी पल मैंने उसके मम्मों पर अपना हाथ डाल दिया. अब चाचा मम्मी के ऊपर की तरफ जाकर उनके गालों और गर्दन को चूमते हुए कहने लगे- तुम बहुत मस्त हो जानेमन! तुम्हारे बदन की इस भीनी खुशबू ने मुझे दीवाना बना दिया है. कुछ देर चूसने के बाद सबके लंड खड़े हो गए।तभी उनमें से एक ने लाइट जला दी.

देसी व्हिडिओ मैं घबराने का नाटक करती हुई बोली- वह कुछ करेगा तो नहीं ना!मामा बोला- जो करेगा, तेरा भला करेगा. रवीना कहने लगी- रचित एक बार और कर न!मैंने कहा- चल ठीक है इस बार तू घोड़ी बन जा.

तभी उसी भीड़ में से वो लड़की आई और पूछने लगी- हां क्या लोगे भाईजान?मैंने दो उंगलियां अपने होंठों पर रखी और इशारा किया. फिर थोड़ी देर बाद सुनील ने मुझे अपने ऊपर ले लिया और नीरज ने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखकर सहलाना शुरू कर दिया. सुबह जब वो उठा तो अपना लंड मेरी मेरी चूत में लगा देख कर शर्मा गया और उसने झट से अपना लंड अपनी लुंगी में छिपा लिया.

इंडिया बीएफ वीडियो

मैंने दीदी से डबल मीनिंग में बात करते हुए पूछा- कहां कहां दबवाना है?दीदी ने भी कुछ ऐसे ही कहा- पूरा बदन ही दबा दो ना भाई … अच्छा लग रहा था. चूंकि पढ़ाई के चलते अब ऑनलाइन क्लास चलने लगी थी, तो उसके पापा ने उसे भी एक स्मार्टफोन दिला दिया था. तकरीबन दस मिनट और धक्के मारने के बाद मुझे लगने लगा कि मैं भी झड़ने वाला हूं.

उसके बाद मैं उसे मेट्रो तक ड्रॉप करने गया क्योंकि वो दिल्ली के दूसरे इलाके में रहती थी और वो मुखर्जी नगर में कोचिंग के लिए आती थी. मम्मी पूरे लंड को चाटते, चूसते हुए सुपारे के चारों तरफ बनी लाइन पर अपनी जीभ फिराने लगीं.

मैंने उसके एक चूचे को दबाना शुरू किया तो उसकी मादक आहें निकलना शुरू हो गईं.

मैंने मां से जानबूझ कर पूछा- मम्मी मैं बाजार जा रहा हूँ … आप आम लाने के लिए कह रही थीं. मम्मी- देखिए जी, पहले की बात अपनी जगह ठीक है, लेकिन आज से मैं आपकी पत्नी हूं और आपके जो भी अरमान हैं, आप उन्हें बिना कुछ कहे पूरा कर सकते हैं. मैं- क्या हुआ मीना … खाना क्यों नहीं खा रही हो?मीना- जीजू, मुझसे हाथ में खाना लेते ही नहीं बन रहा है.

उसकी खिलखिलाती हुई आवाज आई- इतनी देर में मेरी याद आई!मैंने कहा- मुझे लगा कि तुम किसी और का चूस रही होगी. मम्मी बुरी तरह से सिसकियां लेने लगी थीं ‘इस्स आंह नरेश …’लगभग दस मिनट तक स्तनपान करने के बाद चाचा ने मम्मी को पलंग पर सीधा लिटा दिया. जब हम लोग छत पर सोते हैं तो मैं सुबह सुबह अपनी पत्नी की नाइटी ऊपर कर देता था, जिससे उसकी गांड कोई ना कोई देख सके.

मैं उसकी बगल में लेटा तो देखा कि उसकी टी-शर्ट थोड़ी ऊंची सी हो रही है, जिसकी वजह से उसका पेट दिख रहा है.

चुदाई वाली बीएफ चुदाई: मैंने देखा कि विशु मेरी पैटी को सूंघ रहा था और अपने लंड को एक हाथ से सहला रहा था. मैं अपनी सीट की तरफ चल दिया और सोचा अब क्या किया जा सकता है, जो भी होगा, देखा जाएगा.

मैंने कहा- मैंने तो न जाने क्या क्या सोच लिया है मैडम … बस आप साथ तो दो. नीरज हमें बस चुदाई करता हुआ देख रहा था और एक हाथ से अपना लंड सहला रहा था. जैसे ही मैं घर गया, मुझे पता चला कि मेरे मम्मी पापा 5 दिनों के लिए बाहर जा रहे हैं.

मैं बिल्कुल अपने होश में नहीं था, मैं कभी चूत को प्यार से काट रहा था, तो कभी जोर जोर से चाट रहा था.

मैंने हंसते हुए कहा- ओह अच्छा … प्यार करता है तू मुझसे!वो बोला- हां रिंकी दीदी. मैंने भी सोचा कि बाहर किसी से चुदवाने से अच्छा है कि मामा ने ही चोदा, तो घर की बात घर में रहेगी. दोस्तो, यह मेरी पहली सच्ची सेक्स कहानी थी, जो मेरी गर्लफ्रेंड के साथ हुई थी.