हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी मोटी मोटी

तस्वीर का शीर्षक ,

बीज गिराने वाला सेक्सी: हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ, इतना कहते हुए मैंने हिना को चूम लिया और समय बिना गंवाए हम पूरा सामान लेकर पूल की ओर बढ़ने लगे.

सेक्सी चुदाई हिंदी में बीएफ

हेलो फ्रेंड्स, मैं जैस्मिन साहू आप सब के साथ अन्तर्वासना के माध्यम से अपने साथ हुई हाल ही की कहानी बताने जा रही हूं. सेक्सी बीएफ hdमैं जॉब में हूं। नौकरी के ही एक डिपार्टमेंटल ट्रेनिंग में जबलपुर आया.

मेरे बॉस ने मुझे पिक किया और वो मुझे देखते ही बोला- वाह आज तुम बहुत सेक्सी लग रही हो. बीएफ सेक्सी चेन्नईफिर मेरी तरफ़ पीठ करके बेड को पकड़ कर झुक गईं और मुझे लंड उसकी फुद्दी के अन्दर डालने के लिए लंड को सैट करके उकसाने लगीं.

अचानक भाई ने जोर से लंड को मेरी चूत में दोगुनी ताकत से धकेलना शुरू कर दिया.हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ: ये सब दीदी और मेरा प्लान था क्योंकि हम दोनों ही प्रशांत के मजे लेना चाहती थीं.

अभी भी जब आप ब्लू साड़ी पहन कर बाहर निकलती हो, तो दुनिया में कोई देखे ना देखे, मगर मेरी नज़र तो आप पर से हटती ही नहीं है.वह अपनी भावनाओं को रोक नहीं पा रही थी और लगातार भारी सांस ले रही थी।वह उसकी ओर अपने शरीर को धकेलता हुआ ले गया और कहा- हम्म आंटी!वो अभी भी घबराया था और शर्मा रहा था.

एक्स एक्स देहाती बीएफ वीडियो - हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ

चाची ने मेरे हाथ को मुँह से हटा दिया- आह साले … तेरा लंड कितना बड़ा है … और इतना मोटा … मैं तो मर गई … तेरे चाचा का तो इसके सामने बेकार है … उई … फट गई रे मेरी चुत … चुद गयी रे मैं … आआह ऊऊह … कमीने धीरे धीरे चोद.ये सुनकर उन्होंने मुझे जोर से किस करते हुए अपना लंड एक झटके में मेरी चूत में डाल दिया.

मैं अभी कुछ समझ पाता कि भाभी ने अपनी नाक की नोक से मेरे सुपारे को टच किया और उसकी खुशबू लेने लगीं. हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ हाइवे के पास पहुंच कर एक कच्चा रास्ता हाइवे की तलहटी की ओर जा रहा था.

अंकल का चेहरा आनन्द से भर गया, उनके मुँह से काम वासना से भरी हुई सिसकारियां निकलने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’फिर मैंने धीरे धीरे उनका पूरा लंड चूसना शुरू किया और पूरा लंड अपने गले तक उतार लिया.

हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ?

दिलावर लंड ठोकते हुए बोला- प्रिंस, तुमने चूत गीली करके ढीली कर दी है. मैं जब टीवी देखने के बाद बोर होने लगी तो दीदी के कमरे में जाने लगी ताकि उनके साथ बात करके कुछ टाइम पास हो सके. उठाते वक़्त हर्ष ने मेरे मुँह पर हाथ रखा और पूरा लंड एकदम से घुसा दिया.

आंटी अभी दो महीने पहले ही हमारे घर में आई थीं और उनको देखते ही मैंने उन्हें चोदने का प्लान बना लिया था. वो बोल रही थीं- आह शिवा … और तेज चोदो मुझे … फाड दो मेरी चूत को … आह … बना दो इसे भोसड़ा …फिर मैंने उन्हें डागी स्टाइल में चोदा. पर मैं अभी जीभ को चुत के मुँह के अन्दर डाल कर भाभी को और गर्म करना चाहता था.

वह खड़ा हुआ और हल्का सा झुक कर लंड को मेरे मुँह के पास लेकर खड़ा हो गया मैंने बिना देरी किये उसका लंड लेटे-लेटे ही मुँह में लेने की कोशिश की पर उसका लंड ज्यादा बड़ा होने के कारण ज्यादा अंदर तक नहीं जा रहा था. मैंने आंटी के चूचों को कस कर दबा दिया तो आंटी की कसक उनके मुंह से फूट पड़ी. मैं पेट के बल लेट गयी और उसने मेरा पेटीकोट मेरी गांड तक कर दिया था.

मैं बोली- हां, जहां तक सागर के लंड की बात है … तो मैं उसको कुछ नहीं कह सकती. कुछ देर बाद विवान भैया मेरी ब्रा निकाल कर मेरी चूची को चूसने लगे और साथ में वो मेरे गर्दन को भी किस कर रहे थे.

फिर मैंने अपने अंडरवियर को निकाल दिया और मेरा तना हुआ लौड़ा बाहर निकल आया.

मां को तो मैंने कुणाल के बारे में नहीं बताया था लेकिन मैं अच्छी तरह जानता था कि काजल, कुणाल और सुमिना के बीच में क्या खिचड़ी पक रही है.

घर आकर मैंने दीदी से झट से सवाल कर दिया- आपकी सेक्स लाइफ बेकार क्यों है? आप तो बहुत सुंदर हो. समय बरबाद ना करते मैंने उनके बाकी बचे कपड़े निकाल दिए और उनको नंगी कर दिया. ” महेश ने 3-4 ज़ोर के धक्के मारते हुए अपना लंड अपनी बहू की चूत से बाहर निकाल लिया।आआह्ह्ह्ह पिता जी, आप तो नाराज़ हो गये मैं तो मज़ाक़ कर रही थी.

आते ही सोनू ने मुझे पकड़ लिया और मेरे होंठों को चूम कर मेरी गर्दन पर किस करने लगा. कुछ ही पलों बाद मेरा लंड फ्रंटियर मेल की तरह आंटी की चूत का बजा बजाने में लग गया. इस पर वो उदास होकर अपनी सारी व्यथा मुझे बताने लगी, कहने लगी- सच कहूं तो उन्होंने कभी मेरी परवाह की ही नहीं.

आज भी मैं आपके सामने मेरे जीवन की एक ऐसी ही हक़ीकत बताने जा रही हूँ.

पिंकी राजीव के साथ, सीमा धीरज के साथ, नायरा मुश्ताक के साथ और शबनम राहुल के साथ हाथ में हाथ लेकर खड़ी हो गयी. सीमा ने उसके गले में हाथ डाल कर उसे अपने नजदीक खींचा और अपना एक पैर उठा कर उसके लंड पर रगड़ दिया. जब वो बार बार सामने से आती जाती, तो उसकी पायल की आवाज मेरा ध्यान खींच लेती थी.

अब मेरा मन कर रहा था कि दीदी की पोजीशन बदलवा दूं लेकिन लंड चूसने की बात पर दीदी मुझसे गुस्सा हो गई थी इसलिए मैंने चुप रहना ही ठीक समझा. स्कूल की पढ़ाई के बाद मैंने दूसरे कॉलेज में एडमिशन ले लिया था, जिसमें लड़कियां थीं. उसके बाद एक साफ रूमाल लेकर उसकी गर्माहट चुत से लेकर नाभि तक की सिकाई की, जिससे भाभी के शरीर की सारी नसों में खून तेजी से दौड़ने लगा.

फिर मैं इतने में नमकीन लेकर आ गया लेकिन वो दोनों अभी भी फोन में व्यस्त थे.

मेरी मकान मालिक की बीवी, जिनको मैं भाभी बुलाता था, दूध की तरह गोरे बदन एक नंबर की परी सी हैं. मैंने पूछा- और भाभी क्या हाल हैं?भाभी ने इधर उधर देखा और धीरे से कह दिया- तुमको तो सब हाल चाल मालूम ही हैं.

हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ वीना आंटी अब फिर से मेरे पीछे बैठ गईं और इस बार उनके हाथ मेरी कमर को पकड़े हुए थे. उसका दर्द कम करने के लिए मैं उसको सहलाने लगा, लेकिन अपने होंठों का ढक्कन उसके होंठों पर लगाए रखा.

हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ मैंने फिर से देखा तो अब वो लड़की फिर से लडके के लंड को मुँह में लेने लगी थी. फिर उसने दोबारा से नीचे हाथ ले जाकर मेरी चूत पर लंड को सेट कर दिया और एक धक्का मारा तो उसका लंड मेरी चूत में आधा घुस गया.

मेरा लंड तो कह रहा था कि आज तो दीदी की चूत मार ही ले लेकिन मैं दीदी को परखना चाह रहा था कि वो भी मेरे लंड को लेना चाहती है या नहीं.

सेक्सी व्हिडिओ कटिंग

मैंने अगले ही पल अपने घुटनों पर बैठ कर उसके लंड को मुंह में ले लिया और उसके लंड को जोर से चूसने लगी. मैंने भाभी के मम्मों में लंड के जोर जोर से झटके देना शुरू किए, तो उनके होंठों तक लंड का तना रगड़ने लगा. चुदाई के समय भी मेरी गांड फट रही थी।हम कमरे में लौटे तो कपडे़ उतारे जब अंडरवीयर बनियान में थे.

हम दोनों आज घर में अकेले थे और वो मुझे आते ही किस करने लगे, साथ में वो मेरी चूची दबाने लगे. मैंने कोई दया न दिखाते हुए अपने पूरा लंड उसकी चूत में ठोक दिया और उसकी तड़प देखने लगा. मैंने एक को जैसे ही अपने मुँह में लिया, उसने मुझे अपने सीने से चिपका लिया.

उसने दर्द के मारे चीखने की कोशिश की, लेकिन मैंने उसे होंठ बंद कर रखे थे … जिससे उसकी चीख ज्यादा जोर से नहीं आ पाई.

मैंने फिर से पूछा- कितनी देर तक देखा आपने ये सब?वो बोली- एक घंटे तक।हैरान होते हुए मैंने कहा- एक घंटा! आपको इस दौरान कुछ हुआ नहीं क्या?वो पूछने लगी- क्या नहीं हुआ?मैंने कहा- बहुत मन किया होगा ना (सेक्स) करने का?मेरी बात सुन कर उसकी सांसें और तेजी से चलने लगीं और मेरा दिल दिल भी जोर से धड़कने लगा था. अब किसी की चूत पर ताला तो नहीं लगा सकते, इसलिए तुमने इसकी चूत को चोद कर सही किया. कहानी के पिछले भागबड़ी साली की दबी हुई अन्तर्वासना-1में मैंने आपको बताया था कि मेरी पत्नी बीमार रहने लगी तो मैंने उसे अपने पुराने घर में छोड़ दिया था.

मेरी चूची को चूसने के बाद वो अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को आराम से चोद रहे थे. दनादन चूत चुदाई के बाद एकदम से उन्होंने अपना पूरा लंड मेरी चूत में बिल्कुल जड़ तक घुसा दिया और उनके लौड़े से वीर्य निकल कर मेरी चूत में गिरने लगा. ” समीर ने अपनी बहन के गालों से आंसू को पोछते हुए कहा।नहीं भाई, तुम बहुत अच्छे हो.

मेरे घर अक्सर बाहरी लोगों आते जाते रहते हैं और वो माँ से ही ज़्यादा बात करते हैं. जब तक हमारा गंतव्य नहीं आ गया, हम दोनों प्यार भरी बातें करते रहे … एक दूसरे को किस करते रहे.

ये बात उन दिनों की है, जब मैं 19 साल का था और 12 वीं पास करके इंदौर आया था. फिर कुछ देर तक हम दोनों इधर-उधर की बातें करते रहे और फिर जब मैं बेड के साथ खड़ी हुई थी उसने मुझे एकदम से अपनी बांहों में जकड़ लिया. मैं उठने ही वाला था कि वो भी कप उठाकर मेरे साथ ही किचन की तरफ बढ़ने लगी.

उधर सुमिना आशा की चूत में उंगली कर रही थी और आशा अपने चूचों को दबा रही थी.

मैंने कहा कि अरे अभी तो घर बहुत दूर है … आप बीच रास्ते में ही कहीं हल्की हो लो … अभी तो बीस मिनट का रास्ता सुनसान है. इसी दौरान उसके छोटे भाई का मेरे पास सेंटर पर आना शुरू हो गया था और मैं उन सबको जानने भी लग गया था. किसी तरह मैंने उसकी जाँघे फैला दीं और उसके बीच में आ गया। वो बार बार मुझे कुछ भी करने से रोक रही थी, इस वजह से मैं अपनी पैंट भी नहीं खोल पा रहा था। कभी-कभी उसके चेहरे पर गुस्सा दिखता था और कभी शर्म। वो अपने सिर को यहां-वहां झटक रही थी और मेरे सिर के बालों को पकड़ कर खींच देती थी.

मैं- अरे इतनी जल्दी?परवीन- अंजू (उनकी बड़ी बेटी) की तो 22 में शादी कर दी थी मैंने. सर मेरे तने हुए बूब देखते ही रह गए … और बोले- आशना, इतनी कम उम्र में तुम्हारे बूब्स कितने मस्त हैं … दो साल से मैं तुम्हारे इन्हीं मम्मों को देखने के लिए और तुमको चोदने के लिए तरस रहा था.

हम तीनों में बहुत गहरी दोस्ती है और सब कुछ एक-दूसरे के साथ शेयर कर लेते हैं. आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी, कमेंट करके बतायें या फिर मेरी मेल-आई डी पर अपने मैसेज भेज कर प्रोत्साहित करें. मेरी बीवी ने ये भी बताया कि उसकी मां की टांगों पर शुरू से ही एक भी बाल नहीं है.

शेर के सेक्सी वीडियो

मैंने माहौल को ज़्यादा सीरीयस होते देखा, तो कहा- अरे आप दोनों माँ बेटी भी कहां किस लफड़े में फंस गई हो, चलो चलो जल्दी जल्दी एक पैग और बनाओ और मम्मी जी का सब गम ग़लत करो.

ओह … दीदी ता फोन तो नहीं आ गया?” गौरी मेरी बांहों से छिटक कर दूर हो गई और उसने झट से अपने कपड़े उठाए और स्टडी रूम में भाग गई।मेरा दिल जोर-जोर से किसी अनहोनी की आशंका से धड़कने लगा था। इस समय किसका फोन हो सकता है? मैंने कांपते से हाथों से मोबाइल उठाकर देखा, यह तो ऑफिस से फ़ोन था।जैसे ही मैंने हेलो कहा उधर से आवाज आई- प्रेम जी सर … मैं बहादुर बोल रहा हूँ अपने गोडाउन में आग लग गई है आप जल्दी आ जायें. मैंने पहले उससे बोला था कि तू घर से बाहर आ जाना बाकी का मैं देख लूंगा. मैंने वो क्रीम निकाली और अपने एक उंगली पर थोड़ी सी लेकर उसकी गांड के अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

दोस्तों, वो मेरा दिन था, उन्होंने नीचे अंगूरी रंग की ही थोंग (बिल्कुल छोटी डोरी वाली पैंटी) पहनी थी. फिर मैंने सुना कि पतिदेव ने अपना थूक अपनी हथेली पर लिया और उसको शायद अपने लंड के टोपे पर मलने लगे. सेक्स वीडियो बीएफ बीएफ सेक्स वीडियोअब मैं पहले से ज्यादा जोश में आ गया और जोर-जोर से चोदने लगा। वो आह … आह करके चुदवाती रही।मैं उसकी गांड भी मारना चाहता था लेकिन उसने बोला- मैं गांड नहीं मरवाती.

मैंने तीन-चार जोर के शॉट लगाये और मीनू की चूत में अपना पानी भर दिया. चाची- उम्म्ह… अहह… हय… याह… अपनी चाची को नए नए मज़े दे रहा है और चाची को अपना बना रहा है … शाबाश बेटा.

परीशा को आज तक यह बात समझ नहीं आई थी कि लड़कों को लड़कियों की गांड चाटने में क्या मज़ा आता है।अब पापा ने परीशा की चूत के रस में से सना हुआ लंड उसकी गांड के छेद पे टिका दिया. अब तो चाची मस्ती से मेरे लंड को अपनी गांड में लेने लगी- आह्ह … और जोर से … फाड़ दो मेरी गांड को … आह्ह …इस तरह की आवाजें चाची के मुंह से निकलने लगीं. मैंने थोड़ा सा धक्का दिया जिससे टोपे का थोड़ा ही हिस्सा गांड के अंदर जा पाया और संजना की चीखें निकल गयीं और वो रोने लगी। मैंने उस पर रहम करने के लिए जैसे ही लौड़े को निकालना चाहा तभी संजना बोली- जान, मैं कितनी भी रोऊँ या चिल्लाऊं मगर तुम अपना काम पूरा करना। मुझे जितना भी दर्द हो, मैं तुम्हारे लिए सब कुछ सह लूंगी। बस तुम मुझे आज हर छेद से चोद कर छलनी बना दो.

राहुल के पूछने पर वो बोली कि उसे रात को कॉफ़ी पीने से नींद नहीं आती. वो लंड चूसने में इतनी माहिर थीं कि उनका एक भी दांत मेरे लंड को नहीं चुभा. फिर मैंने कहा- आंटी अगर मुझे आप जैसी बीवी मिल जाए, तो मेरी तो मौज हो जाए.

जब पहली बार बहू को घर में लाया गया, तो सब बहू की मुँह दिखाई और बहू से परिचय करने में लग गए.

मैंने पूछा- इसका क्या करोगे भाई?वो बोला- तू चुप कर, मैं जो कर रहा हूं मुझे करने दे. हमने पहले ही निर्णय लिया था कि उस एक घंटे में किसी के बदन पर कोई कपड़ा नहीं होगा। जब वो सिर्फ ब्रा पैंटी में आ गयी तो मैं उसको निहारने लगा।वो शरमा के मुझसे कस के गले लग गयी.

अब रात के तीन बज चुके थे और मेरी पत्नी की दवाई का असर भी खत्म होने वाला था. मैंने भाभी के कंधे दबाते हुए उनसे पूछा- भाभी इधर दबाने से आपको कैसा लग रहा है?भाभी बोलीं- सच में मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. उन्होंने अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए कहा- बहुत ज्यादा लिसलिसा और नमकीन माल था … मजा आ गया बेटे.

मैं- ये लो … और ये लो … आह कैसा है बेटे का लंड चाची जान … आपकी चुत पर अब मेरा कब्जा है. जैसे कोई घुड़सवार घोड़ी की घुड़सवारी करने से पहले उसके जिस्म को थपथपा कर उसको तैयार करता है. मैंने फिर से एक और झटका मारा, तो मेरा पूरा का पूरा लंड आंटी की चूत में चला गया.

हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ पता नहीं उसको क्या हो गया था लेकिन अब वो मुझे अपने इतने करीब नहीं जाने देना चाहती थी. तो सीमा चीखी- कमीनी कह दे ना ग्रुप सेक्स करना है?पिंकी बोली- न बाबा न … ग्रुप मस्ती ही ठीक है.

सेक्सी हिंदी पिक्चर गांव की

मैंने अपने फोन को हाई वाइब्रेशन मोड पर सैट किया और आंटी के फोन से उस पर फोन करने लगा. मैंने कहा- आप खुल कर बताओ ना … उस दिन क्या किया था … मुझे पूरा किस्सा सुनाओ न?पहले उन्होंने ना में सर हिलाया, फिर मेरे जोर देने पर वो पहले मुझसे लिपट गयीं. हां, सुमिना जरूर काजल के घर जाकर शायद कुणाल से अपनी चूत चुदवा रही थी लेकिन मेरे यहां पर सूखा पड़ा हुआ था.

उसके बाद मैंने उसके हाथ को अपने लंड पर दबा दिया और उसके हाथ से ही अपने लंड को सहलाने लगा. मैं अब छत पर जब भी उनसे मिलता, तो उनसे ये जरूर कह देता कि कोई काम हो, तो मुझसे बोलें. गुजराती बीएफ गुजरातीसोच रहा था कि सुमिना से इस बारे में बात करूं मगर सुमिना मेरी बड़ी बहन थी.

क्या मस्त मुलायम होंठ थे उसके … वो भी मेरे मुँह में अपनी जीभ डाल के किस करने लगी थी.

उसने मुझे एयरपोर्ट पर ऐसे गले लगाया कि जैसे वो मेरी बिछड़ी हुई प्रेमिका हो. उसने कहा- बहुत सालों बाद मिले हो, वो भी भाभी के साथ … शादी कब कर ली, बुलाया भी नहीं.

चूंकि मेरे रूम तक तो उसको चल कर ही आना था तो सोचा होगा कि शायद कोई देख लेखा इस वजह से उसने दूसरे कपड़े पहन लिये थे. ऐसा अनेक बार होता है और जब सबके पार्टनर बदल जाते हैं तो दूसरा राउंड शुरू होता है जिसमें बोतल नीचे रख कर घुमाई जाती है. मगर उनको क्या पता था कि मैंने अपनी चूत की गर्मी सोनू के लंड से शांत करवा ली थी.

फिर मैंने उसके गुलाब की पंखुड़ियों जैसे आकार वाले और अंगूर से ज्यादा रस भरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा.

मैंने पूछा- क्या इसे सब पता है?उसने बताया कि हां अब तक जो भी हमारे बीच में हुआ है, इसे सब पता है. हम दोनों के बीच में अब चुदाई थोड़ी कम हो गई थी लेकिन बच्चे होने से पहले हम भाई-बहन ने इतनी चुदाई कर ली थी जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता. मैं भी तो यही चाह रहा था कि तेल आंटी की चूत की तरफ बह कर चला जाये ताकि मुझे चूत के करीब तक मालिश करने का मौका मिल जाये.

मियां खलीफा बीएफ पिक्चरजब मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंन गाड़ी वहीं एक तरफ साइड में लगा दी. उसने नाइट ड्रेस पहनी हुई थी इसलिए खुलेपन की वजह से उसके पूरे चूचे मेरे हाथ में आ रहे थे.

सेक्सी नंगी मूवी दिखाओ

और जब तक आप लोग वापस आएंगे, तब तक मैं रात के खाने पीने की इंतजाम करूंगी. वो मुझे एक मार्केट में दिख गयी, वो अकेली ही थी शायद और कुछ समान लेने आई थी. सास की चुदाई के बाद मैंने उनसे उनका अनुभव पूछा, तो उन्होंने बताया कि उन्हें बहुत अच्छा लगा और साथ ही उन्होंने बताया कि आज 7 साल के लंबे अंतराल के बाद उनकी जलती जवानी पर किसी मर्द का पानी पड़ा है.

हाथों को आगे चुचियों पर लाते हुए जोर-जोर से मसलने लगा जैसा इनमें से आज ही सारा दूध निकालेगा. वो बार-बार उसकी चूचियों और उसकी गांड पर नजरें गड़ाए हुए देखता रहता था. इस बार उसकी नज़र किसकी तलाश कर रही है, ये जानने की मुझे उत्सुकता हुई … तो मैं उसे देखने लगा.

उसकी जीभ अन्दर बाहर हो रहे लंड के सुपारे को रगड़ती तो उसके होंठ सुपारे से लेकर लंड के मध्य भाग तक लंड को दबाते, लंड अन्दर जाते ही उसके गाल फूल जाते और बाहर आते ही वो पिचकने लगते।जल्द ही मुकुल राय को अपने अंडकोष में दवाब सा बनता महसूस होने लगा, उसे अहसास हो गया वो झड़ने के करीब है. फिर मैं उन्हें विंडो के पास ले गया और उन्हें वहां खड़ा करके खिड़की से लॉक कर दिया. ” नीलम से अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था। वह जल्द से जल्द अपनी चूत में अपने ससुर का मोटा लंड घुसवाना चाहती थी इसीलिए उसने ज़ोर से सिसकारते हुए कहा।ओहहहह बेटी… यह ले, मैं अभी तुम्हारी चूत में लंड घुसाता हूँ.

सीमा ने सुइट का दरवाजा लॉक किया और आगे के प्रोग्राम का खुलासा किया. कल्पना मेरे हर धक्के पर जोर से बोलती- आह मेरे राजा … और तेज … आज फाड़ दो मेरी चूत को … ताकि वहां मैं सुकून से रह सकूं.

मैंने प्लीज़ बोला, तो मॉम बोलीं- बेटा तुम्हारी बहनों के आने का समय हो गया है … और मैं कौन सी भागी जा रही हूँ जब समय मिले, चोद लेना मुझे.

हम दोनों चुदाई करते करते पूरे जोश में आ गए और एक दूसरे का साथ देने लगे. बीएफ गंदी वीडियोमैं एक अंजान देश में किसी गैर लड़की के साथ एक बिस्तर पर कैसे लेट सकता था. एचडी बीएफ बीएफ एचडीमुझे भी उसको लेकर काफी अच्छा लग रहा था क्योंकि मेरी बीवी ने तो मेरा ख्याल रखना छोड़ ही दिया था. मैंने फ़ोन उठाया मेरी मम्मी बोलीं- तुम फ़ोन क्यों नहीं उठा रही थी?मैंने जवाब दिया कि मुझे नींद आ गयी थी.

मैंने ऊपर वाले कमरे में जाकर देखा, तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गयीं.

पर यह माहौल संभलने का तो था नहीं … सीमा ने टीवी का वॉल्यूम बढा दिया … अब टी वी पर चल रही चुदाई कि सीत्कारें पूरे कमरे में गूँज रहीं थी. उसके बाद वो हर दिन आता और 12 से 4 बजे तक हम दोनों साथ में बैठ कर पढ़ लेते थे. फिर एकदम से उसने मेरे पजामे के अंदर हाथ डाल कर मेरे लंड को पकड़ लिया.

हम दोनों को ही मूवी देखने का शौक है, इसलिए मैंने टीवी पर एक फिल्म ‘इश्किया’ चला दी. इसकी वजह से पूर्ण संतुष्ट करने के लिए पहले ज़्यादा टाइम रोमांस और चुत चाटना, नाभि चाटना, मम्मों को दबाना … ये सब करते हैं ताकि फिर चुदाई में दोनों एक बार में ही झड़ जाएं. लंड चुसाई के बीच में मैंने जब अपनी गर्दन घुमा कर देखा, तो उसकी लिपस्टिक मेरे लंड पर लगी हुई थी.

आदिवासी भाभी की सेक्सी चुदाई

कई बार घर आने में देरी भी हो जाती थी तो खाने की भी समस्या हो जाती थी। मेरी पत्नी की बहन जिन्हें मैं भाभी कहता था वो बहुत ही अच्छे स्वभाव की महिला थी, वो मेरा काफी ख्याल रखती थीं. उसने कहा- मैं कभी अकेली नहीं लेटती हूँ … मुझे अकेले सोने में डर लगता है, इसलिए तो मैंने कहा है. वैसे भी ठण्ड के कारण रात को कोई अपनी छत पर नहीं होता और मेरी छत की दीवार काफी ऊँची भी है लेकिन संतोष जी की छत मेरी छत के बराबर ही लगती है.

उसकी बातों को सुन कर आज ऐसा लग रहा था जैसे वो मुझ पर अपना हक सा समझने लगी थी.

मेरी गांड फट गई और मैं चीख उठी- उइ आह … निकालो प्लीज़ … उम्म्ह… अहह… हय… याह…पर उस दरिंदे ने रहम नहीं किया और मेरी गांड को ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा.

तुम्हें उसकी नहीं अपनी पड़ी है क्योंकि तुम मेरे जाने के बाद ही पिता जी के साथ रंगरेलियां मनाओगी. उन्होंने साफ ही बोल दिया था कि जब भी तुम्हें किसी भी चीज की जरूरत पड़े तो मुझे बता दिया करो. ब्लू फिल्म सेक्सी पिक्चर बीएफये सब बातें सुन कर मैं धीरे-धीरे उनसे और चिपक गया, जिस कारण उनके चुचे मेरे सीने से टच होने लगे.

मैं बहुत ही चालू किस्म की औरत हूं इसलिए उनको शक नहीं होने देती हूं कि मैं एक के अलावा दूसरे लंड से भी चुद रही हूं. उसका सांवला रंग और लखनवी चिकन का सफ़ेद सूट देख कर मेरे कलेजे को मानो ठंडक मिल गई. उस समय जो मैं नहीं समझ पाई थी, वो आज समझ गई कि वो क्या कहना चाह रही थी.

अब उनके झड़ जाने से उनकी सारी चूत गीली हो गई तो मेरा लंड आराम से अंदर बाहर होने लगा. फिर सोचा घर पर तो माँ और पिता जी के अलावा कोई है नहीं … तो ये कौन हैं.

ये बात तब की है, जब मेरे ससुर जी को किसी काम से एक हफ्ते के लिए बाहर जाना पड़ा.

जब तक जिस्म और मन का आपसी ताल-मेल सही न बैठे और दोनों में से किसी एक को भी अधूरी संतुष्टि से संतोष करना पड़े तो ऐसा लगता है कि जैसे कहीं कुछ रह गया है, जो पूरा होना बाकी है. मैं समझ गया था कि अब इसकी चूत में खुजली बढ़ गई है और लंड डालना ही पड़ेगा. मैंने पहले भी कई सरदारनियों की चुदाई की है, पर जो स्वाद एक कुंवारी सरदारनी की चुदाई में मुझे आया, वो उन चुदी-पिटी फुद्दियों में नहीं आया था.

इंडियन देहाती सेक्स बीएफ फिर वो बोलीं- क्या मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड हूं?मैं हंस कर बोला- गर्लफ्रेंड नहीं हो, तो क्या हुआ … दोस्त तो हम बन ही गए हैं … चलो अब देर हो रही है. मैंने बिना देर किए उन्हें जल्दी से अपनी बांहों में भर लिया और जोर से उनके गालों को चूम लिया.

” नीलम ने अपने पति को चेतावनी देते हुए कहा।भाड़ में जाओ!” समीर ने गुस्से से अपना अंडरवियर पहन लिया और कमरे से बाहर निकल गया।समीर बाहर आते ही सोफ़े पर बैठ गया. चुदाई के बाद टेबल के मेजपोश से लंड पौंछ कर बोला- तुम निबटोगे?मैंने मना कर दिया।वह बड़ा थैंकफुल था- अरे यार मजा आ गया! तुमने बड़ी मदद की. उन्होंने कहा- क्या हुआ?मैंने कहा- भाभी आप क्या कह रही हो?उन्होंने चित होते हुए अपने मम्मे दिखाए और मेरा लंड पकड़ लिया जो एक लोहे की रॉड की तरह खड़ा था.

सेक्सी फिल्में देखने वाली वीडियो

मैं जब टीचर थी, तब भी सूट ही पहनती थी और चंडीगढ़ में भी सूट ही पहनती थी. तो दोस्तो, इस तरह चार दिन की जुदाई के बाद पति ने मेरी चूत और गांड की जमकर की चुदाई की. ” और फिर वो खिलखिलाकर हंस पड़ी।अच्छा! मधुर ऐसा बोलती है? आज आने दो मैं उसकी अच्छे से खबर लेता हूँ.

उसके बाद उन्होंने अपना लंड के सुपारे को मेरी गांड के छेद पर रख कर उसे रगड़ने लगे. अन्दर आकर मैंने दरवाजा बंद किया, अपनी बांहें फैलाईं तो डॉली करीब आकर लिपट गई.

माँ बोली- अभी तक तूने खाना भी नहीं बनाया है?मैंने कहा- मुझे गर्मी लग रही थी इसलिए मैं थोड़ी देर बैठ गई थी.

फिर उन्होंने बताया- जब एक लड़का दूसरे लड़के के साथ प्यार करता है और सेक्स करता है, उसको गे बोलते हैं. मेरी पिछली कहानी थीसहेली के पति के साथ रात में चुदाईमैं हमेशा से ही फैशन में रहती हूँ. मैंने उससे ऐसे ही पूछा कि अगर तुम जॉब पर लगोगी, तो क्या मेरा लंड देखना चाहोगी?इस पर उसने झट से हामी भर दी.

मुझे तुम वैसी ही दुल्हन के जोड़े में सजी हुई चाहिए, जब मैंने पहले बार तुम्हें देखा था. मैंने अपनी चूत से किसी कॉर्क जैसे ढक्कन के हटने से बड़ी राहत पा ली थी. वो बोला- कुछ नहीं होगा मेरी जान … बस ऊपर ऊपर ही करूंगा, पूरा अन्दर नहीं डालूँगा.

मैंने पता नहीं कैसे बोल दिया- इतनी जल्दी?फिर मैं अपनी बात से खुद अचकचा गया और झेंप मिटाने के लिए उस आदमी से कहने लगा- मेरा मतलब मैं इतनी जल्दी खाना नहीं खाता हूँ, मेरे लिए नौ बजे खाना लाना.

हिंदी बीएफ चोदने वाली हिंदी बीएफ: मेरा लंड तो कह रहा था कि आज तो दीदी की चूत मार ही ले लेकिन मैं दीदी को परखना चाह रहा था कि वो भी मेरे लंड को लेना चाहती है या नहीं. उसके बाद उन्होंने मुझे इशारा किया, तो मैं समझ गयी, दरसल उन्हें तम्बाकू खाने का शौक था, मैंने पास में रखी उनकी तम्बाकू की डब्बी उठाई और तंबाकू और चूना निकाल कर अपनी हथेली में ले लिया.

मैंने पूछा- कितना टाइम हो गया, उनको गांव आए हुए?तो उसने कहा- अब 6 महीने हो गए. मैंने पूछा- तो तुमने क्या कहा फोन पर?आशीष बोला- मैंने तो फोन पर यही बोला था कि बंध्या मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं. ” महेश ने अपनी बहू को गर्म होता देखकर कहा।क्या पिता जी?” नीलम ने नशीले अन्दाज़ में कहा।बेटी सिर्फ एक बार मैं तुम्हारी चूत और और उसके रस को अपने लंड पर महसूस करना चाहता हूं.

मैंने कहा- जानू मुझे छोड़ कर अकेली निकल गई।तुम चोदो जानू … मन भर चोदो … मेरी बुर तुम्हारी है, जब मन करे चोद लिया करना … पर किसी से कहना नहीं।”मैं चोदता रहा.

प्रिंस के लंड को पकड़ कर मंजू बोली- अमेज़िंग पाइप!प्रिंस ने मंजू की चूची दबाते हुए लंड को मेरी चूत में डालना शुरू किया. दोनों लडकियां मोटी सी हैं देखने में मगर शेप में हैं और एक भरे शरीर की मालकिन लगती हैं. हम चलने लगे तो चलते हुए पीछे से एक आदमी ने कहा कि बहुत मस्त माल है जीजा के पास तो.