चीन की बीएफ चीन की

छवि स्रोत,झारखंड के बीएफ सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो खुले: चीन की बीएफ चीन की, रिया भाभी ने मेरे लंड पर कंडोम को पहनाया और कहा- अब जल्दी से करो जो करना है.

नेपाली बीएफ वीडियो नेपाली बीएफ वीडियो

सोनू क्या गजब की आइटम है तू इतनी सेक्सी इतनी चिकनी!मुन्ना अंकल मेरे पीठ से चिपक कर मेरी गान्ड में अपना लन्ड रगड़ने लगे. www.com बीएफ सेक्सी’मैंने थोड़ा बाहर निकाल कर देखा तो पूरा लण्ड खून से सन गया था। रूमाल से साफ करके फिर मैंने झटके लगाने शुरू कर दिए। सितारा पाँच मिनट तक बेहोश हो गई.

लेकिन एक दिन उनके घर पर उसके आदमी की अनुपस्थिति में उसका देवर आया। तब मौसम सर्दी का था तथा दोनों एक ही रजाई में नजदीक-नजदीक बैठे-बैठे एक-दूसरे को रजाई के अन्दर में छेड़ रहे थे।तभी अचानक मैं अपने कमरे से निकला. हिंदी फिल्म बीएफ दिखाइएकोई फर्क नहीं पड़ने वाला।मैंने पूछा- क्यों?तो उसने कहा- मैं वैसलीन लगाकर आई हूँ।‘साली नमकीन पानी पीने का इरादा था.

मैंने भी अब कुछ देर इधर उधर की बातें की और फिर से सुमन‌ की शादी पर आ गया.चीन की बीएफ चीन की: लेकिन वो तैयार नहीं हो रही थी।वो रोते हुए बोली- मुझे डर लगता है।मैंने कहा- अनु तुम रो मत.

वो कराह कर बोली- साले तेरी ही माल हूं, कहीं नहीं भागूंगी, पर जरा प्यार से मसल मुझे.लेकिन दो-तीन महीनों में सही से चलने लगेगी।मैंने कहा- ठीक है होली की छुट्टियों में मेरे मकान मलिक पूरे परिवार के साथ अपने गाँव जा रहे हैं। मैं यही रहूँगा.

बीएफ सेक्सी ब्लू पिक्चर इंग्लिश में - चीन की बीएफ चीन की

पर डरती थी कि कहीं तुम और लड़कों की तरह मुझे धोखा न दे दो।मैंने उससे कहा- डरने की कोई बात नहीं क्योंकि मैं भी तुम्हें चाहता हूँ और बहुत पसंद करता हूँ।वो यह सुनकर बहुत खुश हुई और मेरे गले लग गई।हाँ किसी भी वक़्त कोई भी आ सकता था.मैं जानता था कि मेरा लंड छोटा है, लेकिन मुझे यह नहीं मालूम था कि मेरे अंदर लड़की वाले गुण हैं.

पता ही नहीं चला।लेकिन मुझे अन्तर्वासना की सब कहानियाँ अच्छी लगती हैं।अब कहानी पर आते हैं. चीन की बीएफ चीन की दरवाजे को लात मारते हुए दादा जी ने विकास को आवाज दी- अरे नालायक दरवाजा खोल … वरना तेरी टांगें तोड़ कर रख दूँगा.

फिर उसने अपने दोनों हाथ पीछे लेकर मेरे लन्ड को टटोल कर लन्ड दबाने लगी और जोर की आवाज़ के साथ मेरे मुंह में झड़ गयी, मैंने उसकी चूत का पूरा पानी चाट चाट कर पी लिया।इसके बाद मधु मेरी तरफ पीठ करके मेरे लन्ड पर अपनी चूत रख कर बैठ गयी और चूत में लंड लेकर मेंढक की तरह गांड उठा उठा कर हिलने लगी.

चीन की बीएफ चीन की?

देखते ही देखते जीजू ने मेरी जीन्स भी उतार डाली तो रवि मेरा गदराया हुस्न देख पागल हो गया और वह उठकर सोफे पर मेरी दायीं तरफ आकर बैठ गया. पर उसके हाथों की स्पीड और तेज हो गई और वो अपनी गति बढ़ाता ही जा रहा था। तभी अचानक मेरी चूत ने मूत्र का तेज धार वाला पानी उगल दिया और मुझे राहत की सांस मिली।उसके पूरे चेहरे पर पानी भर गया और मैं उठ कर उसको चूमने लगी।ये समय मेरी ज़िन्दगी में काफी टाइम बाद आया था और मुझे बहुत पसंद आया।अब बारी मेरी थी. क्या मस्त रसीले होंठ थे उसके … एकदम नर्म पिंक से … फूले हुए मोटे मोटे रसभरे होंठ थे.

इतना कह कर मैं अपना लंड उनकी गांड में डालने की कोशिश करने लगा, पर हर बार मेरा लंड फिसल जाता रहा. नहीं तो अब तक तुझे चोद-चोद कर तेरी जान हलक में ला देता।फिर काफ़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और चुसाने लगा. तब उनके हाथ में एक दूध का गिलास था।‘क्रीम लगाई?’ बाहर आते ही उन्होंने मुझसे पूछा।मैंने ‘ना’ में गर्दन हिलाई।‘क्यों?’‘दर्द होता है.

मुनीर ने अपने दूसरे पति को तलाक दे दिया, जबकि माइक पहले से ही तलाक शुदा थे. पर तारा के साथ जोड़ी थोड़ी अच्छी लग रही थी क्योंकि वो करीब 5 फ़ीट 7 इंच की है. मैं अब सोचने‌ लगा कि अगर नेहा खिड़की‌ पर है … तो फिर दरवाजे पर कौन आया होगा? काफी देर तक मैं दरवाजे की तरफ‌ ही देखता रहा.

क्योंकि कमरे में बल्ब बुझाने के बाद भी दो तरफ से सूरज की रोशनी आ रही थी।कमरे का नज़ारा भी बहुत सुन्दर था। कमरा बड़ा नहीं था. मेरी चीख निकली, पर उन्होंने मेरा मुँह बंद करके एक करारा ज़ोर का झटका दे मारा, जिससे उनका मशरूम जैसा सुपारा मेरी टाइट चूत में घुस गया.

दूसरे दिन जब मैं आया तो मनीष ने बताया कि आज मैंने भाभी को नंगी देखा.

पर यह कहानी उसके बाद की नहीं उसके पहले की है, मैंने कहानी की शुरूआत बीच में से की थी.

ऐसे व्यक्ति जिन्हें बहुत कोशिश करने के बाद भी अपनी मर्ज़ी के मुताबिक अपने पार्ट्नर से सेक्सुअल संतुष्टि ना मिले. मैं हंस दिया और बोला- उसको क्या पता कि तेरे जैसी माल की मालगाड़ी कैसे चलानी है. तब आपकी खिदमत में पेश करूँगा।आपके इमेल का इन्तजार है।[emailprotected].

चाची ने अपने दोनों घुटने ऊपर उठाए।इस वजह से मुझे चूत और लण्ड का खेल दिख रहा था।चाची जोर-जोर से नीचे से उछलने लगीं। मेरे होंठ मुँह में लेकर चाटने लगीं।ऐसा लग रहा था जैसे कोई भूखी डायन चाट रही हो।मैंने लौड़े के झटके बढ़ा दिए. प्रिया मुझ पर गुस्सा तो थी मगर वो काफी उत्तेजित भी थी, इसलिए कुछ देर मेरे होंठों को जोरों से चूसने और काटने के बाद उसने मेरे होंठों को छोड़ दिया और अपने पैर मेरी कमर के दोनों तरफ करके मेरे ऊपर बैठ गयी. लेकिन दीवाली के एक महीने बाद नवम्बर में जब मैं छत पर टहल रहा था तो एक लड़की छत पर टहल रही थी।मैंने उसे देखा और देखता ही रह गया, वो बहुत स्मार्ट थी, उसका पूरा भरा शरीर किसी को भी लुभाने वाला था, उसकी लम्बाई 5’5″ के करीब थी।उसे देख कर ऐसा लग रहा था जैसे वो परी हो।उस लड़की का असली नाम ताहिरा था। उस वक्त मेरी उम्र उस समय 21 साल की थी.

एक्सपीरियंस तो उसे भी बड़े लंड का लेना ही होगा ना?’ मेरे पति ने दोषी से कहा।ये चूत-लंड का संग्राम बड़ा ही दिलखुश करने वाला होने वाला था।कहानी जारी है।[emailprotected].

चूत में ही लण्ड डाले हुए चाचा ने उधर देखा जिधर वह साया था और चाचा मेरे कान में फुसफुसा कर बोले- कौन हो सकता है बहू?मैं बोली- चाचा घर में दो ही लोग हैं. मैंने मन बना लिया कि मैं अपनी जान ज्योति को पहली बार आज यहां ही चोदूँगा. ज्यादा उत्तेजना की वजह से दोनों ही कभी कभी बीच बीच में अपना मुँह एक दूसरी की चूत में जोर से दबा रही थी.

कि भाभी पूरी की पूरी पानी से नहा चुकी थी और यह देख कर मैं हँसने लगा।सकीर्ति- हँस क्या रहे हो. उसने फिर से वही स्माइल दी और चली गई।उसके बाद मैं अगले दिन फिर गया और बाइक उसके सामने रोक दी। उस समय उसके साथ एक सहेली भी थी। उसने अपनी सहेली के कान में कुछ कहा और मेरी बाइक पर बैठ गई।मैं सोच रहा था कि उससे बात कहाँ से शुरू करूँ।मैंने उसका नाम पूछा. वो मेरे बालों पर हाथ फेर रही थी।मैंने मन में कहा- बेटा लोहा गर्म है.

बस पांच लोगों का ही परिवार था उनका, जिसमें सुमेर भैया मतलब रामेसर चाचा के लड़के, जो कि लगभग 40 साल के थे, उनकी पत्नी सुलेखा भाभी, उनकी उम्र का तो मुझे पता नहीं, मगर देखने वो‌ मुश्किल से 27-28 साल की ही लगती थीं.

मेरा नाम सुखविंदर सिंह है, मैं उत्तर भारत पंजाब में लुधियाना जिले के एक गांव से हूँ. अंकल- फिल्म देखने आये हो? टिकिट मिल गयी?मैं- टिकेट नहीं मिली अंकल जी, मेरा तो पूरा मूड खराब हो गया, लेकिन अब अगले शो में कोशिश करूंगा.

चीन की बीएफ चीन की उसकी बालों भरी छाती को सौम्या चाहत भरी नजरों से ऐसे देखने लगी जैसे अभी लिपट ही जाएगी।मैंने उसे उसकाया- थोड़ा रुको तो जानू. और कुछ 15-20 धक्कों के बाद चूत में ही झड़ गया।फिर हम दोनों उठे कपड़े ठीक किए और अंजलि की माँ ने मुझे कुछ पैसे दिए और कहा- आज बहुत दिनों बाद संतुष्ट हुई हूँ।मैंने अपनी सहकर्मी अंजलि की माँ को चोद कर संतुष्ट किया और अपने घर चला गया। फिर अगले दिन ऑफिस में अंजलि को मिला.

चीन की बीएफ चीन की सबने उसे उठाकर बिस्तर पर पटक दिया उसकी नाईटी को उतारने लगे।कुल 2 मिनट में सलोनी पूरी नंगी हो चुकी थी, पप्पू ने कैमरा ऑन किया और वीडियो शूट करने लगा. फिर लंड को एक हाथ से थामे ही अंकल की ओर कुछ बेचैन से होते हुए देखा.

ऐसा ही हमारा चुदाई प्रोग्राम 8 तक महीने लगातार चलता रहा और अब उसके पति का तबादला बंगलोर में हो गया है.

सेक्सी फिल्में दिखाएं वीडियो में

तो उसने कहा कि आपको कैसे पता?तब मैंने उसे बताया कि मैंने मूवी देखी है. वे मुझसे पोर्न को लेकर बात करने लगी थीं उनकी बातों में सन्नी लियोनि की चुदाई की फिल्म की ज्यादा बात हो रही थी. अपना लोवर पहना और वापस आने लगा।भाभी बोली- जिसने मेरी गाण्ड में खून निकाला.

मैंने अपनी पूरी जीभ चूत के अन्दर घुसेड़ दी थी।भाभी पागल हो रही थी- आआआह हज्ज्ज. मैंने दरवाजे से ही देखा कि रवि ने उसको एक सौ का नोट दिया और कहा कि जब तक मैं न बुलाऊं, हमको डिस्टर्ब मत करना. अजीब सा माहौल हो गया।हम शायद भूल गए थे कि बगल वाले कमरे मैं उसकी मम्मी पापा सोये हुए हैं। मुझे उसका गरम मखमली बदन मानो जन्नत सा लग रहा था।मैं उसकी गर्दन से होता हुआ.

शीतल- आ… ह… आह…विक्रम रुका नहीं और उसने उस हाथ की एक उंगली को अपनी माँ की चूत में पेल दिया और उसको अंदर-बाहर करके अपनी माँ को अपने हाथ से चोदने लगा.

मैंने इसी के साथ उनकी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया।मुझे ऐसा लगा कि उनको इतना दर्द हो रहा था जैसे किसी ने उनकी बुर में चाकू घुसा दिया हो। वो लगातार रो रही थीं और मुझे लंड बाहर निकालने को कह रही थीं. क्योंकि मैंने उसे प्रोमिस किया है और मैं नहीं चाहता कि किसी का घर बर्बाद हो।उसकी जानकारी भी इसलिए गुप्त रखी है।अगर मेरा यह किस्सा अच्छा लगा या नहीं, प्लीज़ कमेंट्स और ईमेल कीजिएगा![emailprotected]. पर कहने में डर रही थी। मैंने सोचा कोशिश करने में क्या जाता है।दो दिन बाद ‘फ्रेण्डशिप डे’ था.

मैं चाहती तो हूँ कि तुम्हें यही दे दूं मगर इसके बिना मेरा काम नहीं चलेगा इसलिए तुमको अगले एक हफ्ते में तुम्हारे अपने घर पर ही गिफ्ट मिल जाएगा. मधु बड़ी ही कामुक भाभी है, 36 बरस की उमर, चौड़ा माथा, गोल चेहरा, गोरा रंग, 5’2″ का कद 32″ के चूचे, 28″ की कमर 36″ की गांड। बड़ी दिलकश अंदाज है उनका, नाक के पास एक मस्सा है जो चेहरे खूबसूरत बना देता है. उसने भी नीचे बैठ कर अँधेरे में देर ना करते हुए मेरा लण्ड चूसना शुर कर दिया और अपने मुँह में मेरे लण्ड को अन्दर-बाहर करने लगी। वो लॉलीपॉप की तरह मेरे लण्ड को चूस रही थी। मेरा लण्ड तो पहले से ही गीला हो रहा था। कुछ ही पलों में मैंने अपना पानी उसके मुँह में छोड़ दिया.

उसकी सिसकारियां मुझे पागल करती जा रही थी। मैंने उसकी कमर के नीचे तकिया लगा दिया जिससे उसकी चुत बिल्कुल मेरे सामने थी।मैंने अपने लंड को उसकी चुत के छेद पर रखा और एक हल्का सा झटका दिया जिससे करीब 2 इंच लंड उसकी चुत में घुस गया. !संतोष बाथरूम से अंडरवियर में ही बाहर आ गया था, वह मुझे सामने पाकर घबराने लगा।‘संतोष मैं आई तो तुम यहाँ नहीं थे.

अब अंकल का पूरा का पूरा लंड और सुपारा मेरे मुँह के अन्दर आ जा रहा था. शीतल को तो जैसे इस वक्त यही चाहिए था, वो अपने होंठों से मयूरी की चूत को प्यार करने लगी. पर वो नहीं आई और मैं इसी बात से डरता था क्योंकि एक बार मैं अपने लण्ड को समझा दूँ कि बेटा आज चूत मिलने वाली है और अगर वो ना मिले तो मैं चूत मारे बिना नहीं रह सकता.

उसने दीवार का सहारा छोड़ दिया था और मेरी कमर से अपनी टांगें कस ली थीं.

मैंने मधु को सोफे पर ही घोड़ी बनाया और उसकी चूत में पीछे से लन्ड डाल कर चुदाई करने लगा. मैं जब भी अपने देवर को सुबह में चाय देने जाती थी तो उनका खड़ा लंड देखती थी. यह तो बड़ा है।और उसकी आँखें डर से फ़ैल गईं।‘इससे अपने मुँह में लो और लॉलीपॉप जैसे चूसो.

अब उसने तारा और माइक को आपस में एक दूसरे के जिस्मों से खेलने के लिए अकेला छोड़ दिया. तुम्हारी गर्लफ्रेंड सहन कर लेती है?मैंने कहा- हाँ भाभी, शुरू में दिक्कत हुई थी।आप सबको क्या बोलूं दोस्तो.

सुबह जाते हैं तो रात को देर तक थक कर आते हैं और आते ही खाना खा कर सो जाते हैं। क्या ये भी कोई जिंदगी है. पर लन्ड की सिर्फ़ टोपी ही अन्दर गई।वो जोर-जोर से सिसकारियाँ ले रही थी। फ़िर हमने धीरे-धीरे कोशिश की. मैं कहीं भागी तो जा नहीं रही हूँ।तो मैं लेट गया और उसको किस करने गया। मैं उसके होंठों को चूसने लगा अब वो भी मेरा साथ दे रही थी। मुझे तो जन्नत का मज़ा आ रहा था। फिर मैं उसके ऊपर आ गया और उसके होंठों को ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा।वो मेरा साथ दे रही थी.

लिट्टी चोखा टेलर

तभी वह मेरी टांगों के बीच आ गया और अपने लण्ड का सुपारा मेरी चूत के मुँह पर रख कर धक्का लगाने लगा।लेकिन उसके लण्ड का सुपारा बहुत मोटा था। सही से मेरी चूत में जा ही नहीं रहा था।मैंने खुद ही अपना हाथ ले जाकर चूत को छितरा कर उसके लण्ड के सुपारे को बुर की दरार में लगा कर जैसे ही कमर उठाई.

शायद कोई नया अनुभव हो सो मैंने उनसे आग्रह किया कि मैं उन्हें देखना चाहती हूँ. मैंने लंड पेलने का प्रयास किया, लेकिन जब मैं अपना लंड उसकी चुत में डालने की कोशिश करता था तो लंड फिसल जाता था. तभी जेठ मुझे खींच कर बिस्तर के किनारे लाए और मुझे पलटकर मेरे चूतड़ों की तरफ से खड़े-खड़े ही अपने लण्ड को मेरी चूत में घुसाने लगे।आज दिन भर से लंड ले-लेकर बस मैं तड़पी थी.

अच्छा अब मैं जाता हूँ।अर्जुन खुश होकर वहाँ से चला गया। अब खाना भी फ्री में मिलने वाला है और कल कुछ पैसे भी मिल जाएँगे. अचानक उसने करवट बदली तो मैं घबरा गया। मैंने सोचा कि कहीं वो मुझे ऐसे देख न ले. मराठी बीएफ चोदने वालाऔर मैं अपने बेडरूम में चली गई और जाकर पति से चिपक गई।मेरे ऐसा करने से पति समझ गए कि मैं चुदाई चाह रही हूँ।वह बोले- जान चूत कुछ ज्यादा मचल रही हो तो चोद देते हैं… नहीं तो मैं बहुत थक गया हूँ.

मैंने उसको समझाया कि पहली बार ऐसा होता है लेकिन थोड़े से दर्द के उसे भी मज़ा आयेगा।मैंने उसको चूमना जारी रखा और जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने एक झटके में पूरा लंड उसकी चुत में घुसा दिया. वैसे मुझे यह पता था कि मेरा देवर मुझे शुरू से ही पसंद करता था क्योंकि वो हमेशा मेरे लिए कुछ न कुछ बाजार से लाता रहता था, मुझे त्योहार पर उपहार भी देता था.

जब मैं 12वीं कक्षा में पढ़ता था। मैं हमेशा किसी को चोदने की सोचता रहता था। उस समय एक बन्जारन की लड़की मेरे घर के सामने रहती थी।वो कुछ सांवली थी. मेरी चूत बहुत टाइट है, वो खुल नहीं रही है, तुम लोग इसे चोद चोद कर पन्द्रह दिनों में खोल देना. क्या मस्त स्तन अभी भी टाइट पिंक निप्पल के साथ उठे हुए थे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उनके एक निप्पल को मुँह में लेकर चूसना ऐसे शुरू किया कि आज इस अंगूर को खा ही जाऊँगा.

आंटी- दोनों एक साथ चोदने की मेरी बात समझ में नहीं आई?मैंने उनको समझाया कि मैं पीछे से आपकी गांड मारूंगा और गौरव आगे से आपकी चूत में अपना लंड डालेगा. पर आज मैं भी आपसे अपनी कुछ मदहोश करने वाली यादें शेयर कर रहा हूँ जो मुझे भी दीवाना बना गईं।आज भी वो बातें याद आती हैं तो दिल और दिमाग बेचैन हो उठता है।बात है उस वक़्त की. मेरे भैया और रामेसर चाचा का लड़का बातें कर ही रहे थे कि तभी उनकी छोटी लड़की प्रिया हमारे लिये चाय नाश्ता ले आई.

इसकी वजह से मैं गाण्ड बाद में मारूँगा। अब देख इसका क्या हाल करता हूँ.

जिससे मेरा लंड बेकाबू हो रहा था और मैं उसे छुपा रहा था।मुझे यह डर भी था कि अगर इसने देख लिया तो मेरे बारे में ना जाने क्या सोचेगी।घर पहुँचने के बाद हमने कपड़े बदले और उसने इस बार टी-शर्ट और शॉर्ट्स पहन लिया. अब यहाँ से मैं प्रीति आंटी को आंटी न लिख कर एक साधारण संबोधन के माध्यम से कहानी में उनका रोल लिख रहा हूँ.

तो मैंने उसके दोनों मम्मे दबाते हुए उसकी चूत पर से हथेली फिराना शुरू किया। हाय. और जल्द ही नींद में आ गई।मैं भी उससे चिपक कर लेट गया और उसके ऊपर अपना पैर और हाथ रख लिया और उसके मम्मों को हल्के हाथ से सहलाने लगा।उसने कुछ भी हरकत नहीं की. बोली- ये गंदा काम है।मैं गुस्से में आ गया और खड़ा होकर उसकी नंगी गाण्ड पर एक जोरदार थप्पड़ मारा.

मुझे लगा अगर बुआजी ने वो सब देख लिया तो बहुत डांट पड़ेगी या फिर बुआजी मेरे घर पे बता देंगी. और उसने मोबाइल पर वो वीडियो बंद कर दी।मगर फिर भी जब रीना हमारे बीच नहीं आई तो मुझे ही उसे लाने को कहा गया। मैं गया और रीना का हाथ पकड़ कर उसे अपने साथ ले आया. पर जेठ का लण्ड अब भी मेरी चूत को ‘भचाभच’ चोद रहा था।जेठ मेरे छातियों को मसकते हुए मेरी फुद्दी की अपने लण्ड से ताबड़तोड़ चुदाई करते जा रहे थे, मेरी झड़ी हुई चूत में जेठ का लौड़ा ‘फ़च-फ़च’ की आवाज करता मुझे चोदता जा रहा था।तभी जेठ सिसियाकर बोले- बहू मेरा लण्ड भी.

चीन की बीएफ चीन की फ्रेश हुई और मैं बाथरूम में जाकर नहाई और वही कपड़े पहन लिए जो ड्रॉइंग रूम में पड़े थे।अब मैंने उसे उठाया और हम दोनों ने चाय पी. तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड तो होगी ही।मैंने कहा- हाँ भाभी मेरी गर्लफ्रेंड है.

जाना ना नैन मिलाके

’ करने लगी।अब लड़का चूत को सहलाने लगा, लड़की नाख़ून से नोंचने लगी, उसने पीठ पर नाख़ून गड़ा दिए।लड़का अपनी वासना में मस्त था और उसने अपने हाथ में लौड़ा पकड़ कर चूत के मुहाने पर रख दिया और अब वो लण्ड से चूत में घुसने का दरवाजा ढूँढ रहा था. तो मैं थोड़ा टाइम वैसे ही रुका रहा।थोड़े टाइम बाद जब वो चूतड़ ऊपर को करने लगी. मुझे ईमेल जरूर कीजिएगा।कहानी जारी है।[emailprotected]सेक्सी कहानी का अगला भाग :मेरी हॉट सेक्सी मॉम -2.

पर उसने मेरा हाथ रोक दिया और अपनी चूचियों पर ले आई।मैं उसकी चूचियों को काट रहा था. मैं जब ट्रेन के अंदर पहुंचा तो देखा की मेरी सीट पर एक बहुत ही खूबसूरत लड़की बैठी हुई थी। उसके बदन का साइज यही कोई 32-30-36 रहा होगा, जो भी उसे देखे … बिना मुट्ठ मरे नहीं रह सकता. काजल अग्रवाल की बीएफ सेक्सीथोड़ी देर में मुझे भी मज़ा आने लगा।फिर वो मेरी चूत के होंठों को खोल कर मेरी चूत का लाल दाना चूसने लगा। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। वो बिस्तर पर आ गया.

जिस कम्प्यूटर कोर्स से मैं पीछा छुड़ाने की सोच रहा था, उससे मेरे हाथ इतना बड़ा खजाना लग जाएगा, ये तो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था.

मैं विशाल हाज़िर हूँ आप सबके सामने अपनी एक और कहानी के साथ।आप सबने मेरी कहानियों को सराहा. मेरी जीभ से उसके निप्पल पर गोल-गोल घूम रही थी। मेरे दांत उसके निप्पलों को काट रहे थे। उसकी कराहट मेरे अन्दर जोश भर रही थी। मैं और जंगली बन रहा था.

उसकी रसीली चूत का स्वाद मेरी जुबान पर भर गया और उसकी जवानी की गंध मेरे नथुनों में घुस गई. पूरा यकीन है कि ये मेरी ‘सेक्स कैसे करें’ के बारे में लिखी गई ये पोस्ट आपकी जरूर हेल्प करेगा।लेकिन अपनी बात शुरू करने से पहले ही मैं ये क्लियर कर देना चाहता हूँ कि मैं कोई एक्सपर्ट या कोई स्पेशलिस्ट नहीं हूँ। मैं यहाँ बस वो बातें शेयर कर रहा हूँ. जो होना था हो गया।पायल जब नहाकर बाहर आई तो उसने बस तौलिया लपेट रखा था, उसके बाल भीगे हुए थे.

मैंने कहा- क्या ठोकूँ आपके बूब्स?तो वो फिर से हंसने लगी और बोली- अपनी गांड ऊपर नीचे कर.

सबसे पहले तो मैं आपको बताना चाहता हूँ कि मेरी सभी कहानियां काल्पनिक हैं, जिनका किसी के साथ कोई भी सम्बन्ध नहीं है. उसकी चुत हल्के काले रेशमी घुंघराले बालों से ऐसे सजी हुई थी जैसे किसी ने अपने बालों में मांग सी निकाल रखी हो. मुझसे चलते नहीं बन रहा था, पता नहीं मेरी जांघों और टांगों को क्या हो गया था.

इंग्लिश वीडियो बीएफ दिखाइएहमने टाइम फिक्स किया और मैंने फोन काट कर अपना सभी काम करके ऑफिस के बाद उसके बताए टाइम पर उसके घर पहुँच गया. इतना कहकर भाई बिस्तर पर आ गया और मेरी गाण्ड को सहलाने लगा, पीछे से मेरी गांड को चाटने लगा, मेरी गांड के छेद में अपनी जीभ घुसाने लगा।मै- उफ्फ.

सेक्सी फिल्में फुल एचडी

इसलिए वो दूसरे बाथरूम में नहाने चली गई।मुझे अन्दर जाकर याद आया कि मैं अपना तौलिया बाहर ही भूल गया हूँ। मैं तुरन्त बाहर आया और अपने बैग से तौलिया निकाल कर वापस जा ही रहा था कि मुझे दूसरे बाथरूम में पानी गिरने की आवाज़ आई।मैं बाथरूम के दरवाज़े की झिरी पर आँख लगाकर देखने लगा। मेरे हल्के से हाथ लगते ही दरवाज़ा थोड़ा सा खिसक गया। मैंने थोड़ा और दरवाज़ा खिसका कर देखा. उसकी चूत फिर से गर्म हो चुकी थी और मैंने 2 उंगली में तेल लगा कर उसकी चूत में डाल कर अन्दर बाहर करने लगा. उसने मुझे अगले दिन एक जीन्स टी-शर्ट गिफ़्ट की और सरिता अनार का जूस भी लेके आई थी।उस रात और अगले दो दिन मैंने सरिता और रीना दोनों को खूब चोदा।उन दोनों ने भी खूब मज़े किए.

तैरते समय मैं बार बार उस औरत को देख रहा था और थोड़ी देर के बाद देखा कि वो औरत भी मुझे देख रही है और हल्की हल्की मुस्कुरा रही है. ’मैं उसकी चूत को जोर-जोर से चूसने लगा और उसके दाने को अपनी दो उंगली से रगड़ने लगा।‘आआह्ह्ह ऊऊह्ह्ह ह्ह्ह्ह. इसलिए मैं खुद को शान्त कर लेता था।मैंने इससे पहले कभी सेक्स नहीं किया था.

तो उस वक़्त पति की ये ड्यूटी है कि वो पत्नी का डर दूर करे और सेक्स इस प्रकार आराम से करे कि पत्नी को दर्द ना हो. फिर से पिंकी ने गुलाबी साड़ी पहनी हुई थी।मैंने पिंकी को अपने पास खींच लिया और दरवाजा बंद कर दिया ‘क्या मस्त लग रही हो जान. फिर उन जांघों के बीच बैठकर अपना चेहरा उसकी चूत के पास ले गया। वो बड़े आश्चर्य से मेरे काम को देख रही थी।‘क्या कर रहे हो?’‘जानू.

फिर मैंने उनका ब्लाउज निकाल दिया और उसके बाद क्रीम कलर की ब्रा को उतारा।उन्होंने भी मेरी जीन्स निकाली और अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लण्ड को सहलाने लगीं। फिर धीरे से अपना पेटीकोट ऊपर करके आइटम सैट किए और बोलीं- तनुजी अब अन्दर करके आगे-पीछे करो।मैंने उनके बताए अनुसार सब कुछ किया. मेरे मन में ये ही चल रहा था कि किस पोजीशन में इसकी गांड की चुदाई करूँ, जिससे पकड़ सही से बनी रहे.

’एक बार फिर चाचा मेरी चूत पीना छोड़ कर खड़े हो गए और मुझे अपनी बाँहों में भर लिया।‘चच्च्च्च्चाचा.

मैंने बहन की गांड पर 5-6 झापड़ जड़ दिए और उसको बोला- अब तू रंडी बन गई है. स्कूल गर्ल बीएफ सेक्सदूसरे झटके में मेरा पूरा का पूरा लण्ड चूत की गहराई नाप रहा था और भाभी जोर-जोर से सिसकियाँ लेने लगीं- उह्ह आह आह्हह्ह. इंग्लिश में एचडी बीएफथोड़ी देर तक मुझे चूमने के बाद पूजा फिर से ड्रेसिंग टेबल के शीशे में देखने लगी. तब लंड आराम से अन्दर चला जाएगा।मैं चित्त लेट गया और भाभी मेरे लंड के ऊपर बैठने लगीं.

सोनू की चूत एक लंड से चुदने वाली चूत थी।उधर जमील मियाँ की कारगुजारियाँ तीसरी सीडी में सामने आईं। क्यों उनकी चारों बीवियाँ उनके लंड से खुश थीं.

मैं जल्दी झड़ने वाला हूं तेरी चूत बहुत गर्म है और अब मेरे लौड़े का रस बस निकलने वाला है. जिससे मेरी काफी अच्छी दोस्ती होने लगी। उसका नाम अंजलि था और वो काफी भरे-पूरे बदन की थी, उसका 34-30-36 का साइज़ रहा होगा. क्या तुमको इतनी सेक्सी लगती हूँ मैं?’‘क्यों पिछली बार जब मेरे नीचे सोयी थीं, तो क्या कहा था मैंने तुम्हें?’‘क्या कहा था.

मैं कपड़े चेंज करके सोने चली गई। जब मेरी आँख खुली तो काफी देर हो चुकी थी और गेट की बेल बज रही थी, मैंने गेट खोला तो देखा कि सुधा आंटी थीं।वो अन्दर आ गईं और सोफे पर बैठ गईं।मैं- आंटी क्या लेंगी आप. लेकिन वो मिलगी कहां?तब मैंने उसको बताया- मैं ही वो निशा हूँ जो लेस्बीयन सेक्स करती हूँ. जिससे मेरा पूरा का पूरा लण्ड उसकी गाण्ड में चला गया।उसकी गाण्ड बहुत सेक्सी थी इसलिए गाण्ड में लण्ड डालते ही कुछ मिनट में ही मैं झड़ गया, मैंने पूरा माल उसकी गाण्ड में डाल दिया।फिर हम जाने की तैयारी करने लगे.

सेक्सी मूवी दिखाएं वीडियो में

उसको तो बिहारी ने सुकून दे ही दिया है।दो मिनट के लंबे किस के बाद सन्नी अलग हुआ और निधि को बिस्तर पर उठा कर पटक दिया।निधि- बाबूजी आप तो बहुत बेसबरे हो. पर हमें क्या पता था कि एक दिन यह मस्ती सस्ती नहीं मंहगी पड़ने वाली है।हम दोनों ने एक दिन मूवी देखने का प्लान बनाया. मैंने लंड बाहर निकाल लिया और वो उठकर बैठ गई और चूत को जांघों के बीच में दबाकर दर्द से कराहने लगी।मैंने कहा- सॉरी यार… ज्यादा दर्द हो रहा है क्या?वो रोने लगी.

मैं उसकी चूत में ही झड़ गया। एक-एक बूँद उसकी चूत में गिरा दी। फिर हम बाथरूम गए.

क्योंकि उसका लौड़ा अन्दर तक हमला कर रहा था।मैं दर्द से कराह रही थी- आआआह हाअहहुउऊ.

फिर स्विमिंग पूल में डुबकी लगाकर हल्के हल्के स्ट्रोक के साथ तैरने लगा. मुझसे अब रहा नहीं गया, मैंने आगे बढ़कर उसकी छिलने वाली जगह को अपनी जीभ से चाट लिया. चोदने की बीएफमैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ।तो मैंने पूछा- छोटू कौन?खुद को मेरे से अलग करके मेरी तरफ घूमी और और लंड को पकड़ कर बोलीं- ये छोटू.

और फिर हम एक-दूसरे को चुम्बन करने लगे। उसे किस करते वक़्त मेरा एक हाथ उसके मम्मों पर चला गया. जो मौसी की इकलौती बेटी है।अनु के बारे में आपको बता दूँ कि उसकी हाईट 5’5″ है. बाई के पांच लोग सलोनी को हर जगह सहला रहे थे।अमर ने उसकी चूत चाट रहा था.

तो मैंने अपने बॉयफ़्रेंड राहुल को बता दिया कि कल किसी काम से पिंकी के घर पर चलना है।उसने ‘हाँ’ भर दी और फिर अगले दिन उसने मुझे ठीक 12 बजे अपनी कार से पिक किया और हम पिंकी के घर के लिए निकल पड़े।पिंकी का घर मेरे शहर में ही था. तो लड़के मेरी गाण्ड और मम्मों को देख कर आहें भरते थे।लेकिन मैं पढ़ने में लगी रहती थी। मेरी शादी 24 साल के होने पर हो गई थी।यह बात तब की है.

पुनीत के लौड़े को अच्छी तरह चूसने के बाद पायल ने उसको हाथ से हिलाने लग गई, लौड़े पर पानी की कुछ बूंदें बाहर आ गईं.

जो काफी सेक्सी है।आपको आगे कभी फिर बताऊँगा कि शादी के पहले जब कुंवारा था. कुछ देर तक लंड चुसवाने के बाद मेरे देवर ने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मुझे चोदने लगा. उन्होंने मेरे लंड पर क्रीम लगाई और अपनी चूत पर भी क्रीम लगाने के बाद फिर उन्होंने मुझसे कहा- अब घुसाओ.

हिंदी बीएफ वीडियो गाना मुझे थोड़ा अकेलापन तो लगता है, पर तुम सबको खुश देखकर मैं बहुत खुश होता हूँ. वैसे-वैसे गीत मजेदार मीठी-मीठी सिसकारियाँ ले रही थी।मैंने मजेदार सीत्कार भर रही गीत से पूछा- मज़ा आ रहा है भाभी डार्लिंग?उसने बिना कुछ बोले हल्का सा मुस्करा कर सर हिला दिया।मैंने अब गीत के होंठों को अपने होंठों में ले लिया और उसे किस करने लगा। मैं गीत के नंगे मम्मों को भी दबा रहा था और उसके बदन को अपने हाथ से सहला रहा था।मैं किस करता हुआ अब गीत के मम्मों की तरफ बढ़ रहा था.

अब हम दोनों लोग शाम को सो कर उठे, चुदाई करने के बाद मैं बहुत फ्रेश महसूस कर रही थी. मैं उसका लौड़ा चूसने लगी और वो मेरे कूल्हे चाटने लगा।इससे मैं और ज्यादा मस्ती में आ गई, बिल्कुल किसी कुतिया जैसी. मतलब अब वो बिंदास मेरे जिस्म से खेल रही थीं।फिर धीरे-धीरे उन्होंने मेरा अंडरवियर भी नीचे खिसका दिया और लण्ड के आस-पास साबुन मलने लगीं।मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था.

सट्टा किंग आज का दिसावर

भाई ने मंगलसूत्र मेरे गले में डाल दिया और मुझे अपनी बाँहों में भर लिया, मैंने उनके पैर छुए. चूत बिना पैन्टी के ही रहने दी। फिर मैं बेड पर बैठ कर कुछ देर पहले बीते हुए पलों को याद करने लगी।मैं भी क्या बेहया बन गई थी. मैंने अपने पति की तरफ़ देखा तो उन्होंने बोलना शुरू किया- यह प्लान तुम्हारे लिये मैंने और विकी की मैनेजर ने बनाया था.

बस उसे देखकर हँसी आ गई।मुझे भी भाभी की बात सुन कर हँसी आ गई।हम दोनों वैसे बहुत अच्छे दोस्त हैं तो मजाक चलता रहता है।मैंने बोला- भाभी आप तो जानती ही हैं साइंस की स्टूडेंड भी रह चुकी हैं. फिर शर्म के मारे गर्दन नीचे करके बैठ गई।मैं उसकी गर्दन ऊपर करके बोला- अरे शर्म की कोई बात नहीं है.

वो हँसने लगी और फिर मैंने अपने लण्ड की पुकार सुनते हुए उससे बोला- क्या आप मेरे लिए खाना बना दोगी?उसने बोला- हाँ बना दूँगी.

लेकिन अगले दिन जो हुआ जिसके बारे में मैंने कभी सोचा नहीं था।मैं सो रहा था. मुझे भी मजा आने लगा था।मैं भी उसका साथ देने लगी और अपने मुँह खोलकर उसकी जीभ को चूसने लगी।वो मेरे थूक को स्वाद लेते हुए चूस रहा था।करीब आधे घंटे के इस लंबे किस के बाद हम दोनों के होंठ एक-दूसरे के थूक से भीग गए थे।फिर हमने मुँह साफ किया. अब तक शाम के 7 बज चुके थे।सुनीता भाभी से चलना भी नहीं हो पा रहा था.

उनके मुँह में मेरा हथियार और भी गर्म हो गया इसलिए मैंने देर न करते हुए उन्हें एक बार फिर से कुतिया बनाया और उनके पीछे आ गया. मैं उसको ब्लैक सूट में देख कर खुश हो गया, क्योंकि मुझको लड़की ब्लैक सूट में सबसे ज्यादा पसन्द आती है. ब्रा भी आधी खुल चुकी थी।गीत ने अपने हाथ को आगे बढ़ाते हुए संजय की पैंट की जिप खोल कर उसका लंड बाहर निकाल लिया।संजय के नंगे लंड को गीत सहलाने लगी थी.

मैं जिनके साथ रहता था, वो काफ़ी यंग और दो साल पहले शादी करके सिड्नी में सेट्ल हुए थे.

चीन की बीएफ चीन की: दोनों ही बाल बच्चे वाले हैं। बड़ी चाची अक्सर हमारे यहाँ कुछ ना कुछ काम करने आती रहती थीं।पहले उनके बारे में बता दूँ. शाम को उसका फोन आया और उसने बताया कि उसकी ननद करनाल में रहती है और वो एक नंबर की चालू है.

यदि मेरे जीवन से सम्बन्धित सभी कहानियाँ लिखूं तो कोई पांच सौ कहानियां तो ही ही जायेंगी. कुछ देर यूं ही उसके मम्मे दबाने के बाद मैंने अपनी जीभ उसके निप्पल पर रख दी. मैंने समाली अंकल का लौड़ा मुँह से निकाल दिया और जोर से चिल्लाने लगी.

क्योंकि मैंने आज तक संजय के अलावा और किसी का लंड नहीं पकड़ा था।मैंने लंड की मसाज शुरू कर दी.

जीजू ने मेरी चूत को बहुत देर तक अपनी जीभ से चाटा और उसके बाद जीजू ने अपना खडा लंड मेरी चूत की दरार पर रख दिया और मेरी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगे. बिना चुदी हुई चूत के पानी के खुशबू को मैं भी चखने को बेताब था।मैंने उसकी स्कर्ट और पैंटी को उतार दिया. तो वो मेरे लंड को पकड़ कर बोलीं- इसको लण्ड बोलते हैं।जैसे ही उन्होंने मेरा लौड़ा पकड़ा.