बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी

छवि स्रोत,लड़कियों की चुदाई वाली सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी हॉट रोमांस: बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी, जैसा कि आपने पिछली बिग बूब्स स्टोरी में पढ़ा था कि कैसे अदिति अपनी चूचियों को बड़ा करवाने की चाहत में मुझसे चुद गयी थी.

हिंदी में सेक्सी वीडियो पिक्चर दिखाओ

इस दौरान एक फ़्री सेक्सी इंडीयन सेक्स साइट का पता चला जहाँ याहू की तरह ही एक चैट रूम होता था।यहां हर तरह के लोग सेक्सी-सेक्सी चैट किया करते थे. उड़ीसा का सेक्सी वीडियो दिखाओलण्ड और चूत दोनों बार बार की चुदाई से दर्द करने लगे थे लेकिन दिल नहीं मान रहा था.

करीब दो मिनट तक हम दोनों एक दूसरे के होंठों चूसते रहे, फिर वो अलग हो गई. नर्स वीडियो सेक्सीहाय दोस्तो कैसे हैं आप सब!मेरी पिछली कहानी थीकुंवारी साली की मस्त बुर चुदाईआज मैं आप सभी के लिए एक नई सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ … एक हॉट देसी औरत चुदाई कहानी!मेरे घर के बगल में पड़ोसी थे, उनका नाम राजकुमार था.

पापा बोले- तू पागल हो गया क्या?मैंने कहा- पापा, एक बार देख लेने दो बड़ा मजा आएगा.बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी: वो मेरे काम से हमेशा संतुष्ट रहते थे और कंपनी में हमेशा मेरी मदद करते थे।खन्ना जी की उम्र 45 साल थी। मैं एक दो बार उनके घर भी जा चुका था.

उसके चेहरे के भाव इतने कामुक थे कि मेरी अन्तर्वासना भड़की जा रही थी.करीब एक मिनट के लिए वे रुके, जब उन्होंने समझा कि अब गांड थोड़ी ढीली पड़ गई, तो चालू हो गए.

6 जुलाई सेक्सी वीडियो - बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी

उसकी इन दो-अर्थी बातों से मेरे अन्दर आग लग गई थी और मैंने सोच लिया था कि पहला मौका मिलते ही इसकी चुत फाड़ दूंगा.थोड़े दर्द के बाद श्वेता को भी मज़ा आने लगा और उसके मुँह से कामुक आवाज़ आने लगी- आह्ह … ओहह … आआआ … स्स्स … अम्म … आह!उसको चोदने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

अब उसकी गोरी भरी हुई गांड जिसे ऑफिस में देखकर अक्सर मेरा लौड़ा खड़ा हो जाता था, मेरे सामने थी. बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी आज केलॉग्स की टेस्ट बहुत अलग लग रहा था, शायद दूध का अलगपन उसमें उतर आया था.

मैं सुबह बीवी को ड्रॉप करके वापस आया, तो मेरी साली बिस्तर पर सो रही थी.

बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी?

दस मिनट तक उसकी चूचियों को सहलाने पीने के बाद मैंने उसके पेटीकोट को खोल कर उसके बदन से अलग कर दिया. अब जब भी हल्का सा झटका लगता तो उसका हाथ मेरे बूब्स पर किनारे से छू जाता. उसके जाने के बाद मैंने अपने देवर से इस बारे में बात की, तो उन्होंने मुझसे कहा- भाभी, उसका नाम रोहित है.

आँटी बोली- राज, चुदाई का मजा तभी आता है जब लण्ड औरत की पसन्द का हो. इसलिए उनकी मनोदशा को भांपते हुए मैंने उन्हें गोद में खींच कर बताया कि ये दोनों मुझसे चुदाई करा चुकी हैं. पूनम बुआ इसके लिए बिल्कुल तैयार नहीं थीं और उसके मुँह से बहुत तेज़ी से चीख निकली.

स्नेहा- दीदू एक बात और?नेहा चाय की चुस्की लेते हुए- हां हां वो भी बोल दे?स्नेहा- आपने कितनी चूतें, भोसड़ी या भोसड़ा देखे हैं … सच सच बोलना!नेहा- हांआं ये तो याद तो नहीं … पर कई चूतें भी देखी हैं … और कई भोसड़ी और भोसड़े भी देखे हैं. मेरे ऐसे करने से प्राची फिर से अपनी चरम सीमा पर पहुंच गई और कामुक सिसकारियां लेते हुए मेरे लंड पर झड़ने लगी. अपना लैप्टॉप खोल कर शेखर ने अग़ल-बग़ल से छुप-छुपा कर फिर से वही साइट खोल ली और चैट रूम में ऑनलाइन हो गया.

चौड़ी छाती, पतली कमर से होते हुए अपने मस्त गोल गोल चूतड़ों वाली इकहरी काया की रंजू के पैर जमीन से ऊपर उठ रहे थे. मुठ मारते समय अश्लील साहित्य को पढ़ना या सेक्स वीडियो देखने से मुठ मारने में दोगुना मजा आने लगा, तो मैंने ये सब भी करना चालू कर दिया था.

मैंने उनसे कहा- देवर जी, बड़ी देर से समझ पाए … मैं तो कबसे आपका प्यार पाने के लिए तरस रही थी.

उसका बच्चा अम्मा के साथ सो रहा था।फिर से हमारी चुदाई चालू हो गई और रात में तीन बार मैंने उसकी गान्ड मारी और एक बार उसकी चूत में पानी छोड़ा।मैं सुबह जब जागा तो उसका बेटा स्कूल जा चुका था।फिर मैंने उसको किचन में, बाथरूम में, हॉल में और सीढ़ियों में लिटाकर जमकर चोदा और शाम को रूम पर आ गया।उसके बाद जब भी मौका मिलता सपना मुझे घर बुला लेती और अपने बिस्तर पर ले जाती.

उसे देख कर मैंने भी खड़े होकर अपने कपड़े उतारे और अगले ही पल मैं सिर्फ एक अंडरवियर में था. सुबह मोबाइल में अलार्म बजा और मैं उठा, तो देखा मेरी और भाभी के हालत अस्त व्यस्त थी. मुझे मालूम था कि इसके घर पर कड़की रहती है और ये कार को टैक्सी में चला कर काम चलाता है.

उसने अन्दर एक साटन की झीनी सी ब्रा पहनी थी, जिसमें उसकी 32 नाप की चूचियां कैद थीं. सबसे पहले बॉस ने मेरी चूत मारी और फिर उसके बाद तो मेरी चुदाई का सिलसिला रुका ही नहीं. मैंने अपनी जीभ चाची की गांड की दरार में डाल दी और गुदगुदी करते हुए चाटने लगा.

वो हंसता हुआ रूम से निकलकर अपने केबिन में चला गया और मेरे पति को अन्दर बुलवा लिया.

दोनों बड़े ही खुले विचारों के हैं और तरह-तरह के जोखिम लेकर चुदाई का मज़ा लेते रहते हैं. भाभी का पति यानि मेरा बड़ा भाई टूरिस्ट गाइड है और वो घर पर बहुत ही कम आ पाता है. ममता- आईई … आआह्ह्ह्ह … उईईई … श्श्शशश … क्या खा लिया है तूने … आह बहुत अन्दर तक लंड पेल रहा है … आह आज तो मजा आ गया.

मुझे जहां दीपक भाई, रीना और रंजू नाम की दोनों बहनों … साथ ही अनु दीदी की चौकड़ी के साथ रंगरेलियां मनाने का अवसर मिला था. मैंने भाभी को बहुत देर तक चोदा और भाभी की चुत में ही अपना पानी निकाल दिया. मैंने देखा कि भाभी जी और मेरी मम्मी जी दोनों एक साथ बातचीत कर रही थीं.

शायरा अब भी खिड़की पर ही थी मगर वो मेरे देखते ही एकदम से नीचे बैठ गयी थी.

अब मेरी भी शर्म खुल गयी और मैं बोला- आप चाहोगी तो सब कुछ हो जायेगा. मैं उसके पास बैठ गया और उसका हाथ अपने हाथों में लेकर बात करने लगा उसको समझाने लगा.

बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी मैंने आँटी के घुटनों को थोड़ा मोड़ दिया और कामरस से चिकनी हुई चूत के छेद के ऊपर अपने मोटे लंड का सुपारा रख कर अपनी पीठ को नीचे धकेलते हुए लंड को चूत के अंदर डालना शुरू किया. उसने बोला- मुझे तुम्हारा इंतज़ार रहेगा।अगले दिन मैं पहली ही ट्रेन से निकल गया।जब मैं अपने रूम में पहुंचा तो उसने मेरे हाल चाल पूछे और हमनें कुछ देर बातें की.

बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी पूनम बुआ सिर हिलाती हुई बोलीं- हम्म्म …मैं- अन्दर ही डाल दूँ ना?पूनम बुआ- जहां तुम्हारा मन करे. मैं बिहार के वैशाली जिला से हूँ, ये सेक्स कहानी मेरी भाभी की चुदाई की पहली कहानी है.

मुझे सेक्स करने का बहुत इच्छा बढ़ गयी थी मगर मैं कहीं हाथ पांव भी नहीं मार सकती थी.

कॉलेज की लडकी की बीएफ

इसके होम पेज पर एक से बढ़कर एक सेक्सी इंडियन गर्ल और हॉट देसी भाभियों की दिलकश फोटो थीं जो अर्धनग्न अवतार में थीं. यामिना लण्ड के सुख से पिछले चार सालों से वंचित थी अतः वह लण्ड पर टूट पड़ी. फिर उसने अपना मुंह मेरी गांड पर लगाया और अपनी जीभ से मेरी गांड को चाटने लगा.

तब मैंने उसको वो झूठी समस्याएं बताईं जो मेरे कंप्यूटर में थी ही नहीं।चूंकि मुझे पसीना आया हुआ था तो वो मेरे गोल गोल चूचों की बाहरी लाइन और जाहिर हो रहे चूचकों को घूर रहा था।‘तुम इसको देख लो, तब तक मैं नहाकर आती हूं. सीमा ने दरवाजा खोला, तो बाहर एक बहुत ही काला कलूटा एकदम मोटा आदमी खड़ा था. वो ज्यादा कुछ बोल नहीं रही थी, बस वो आज सब हरकतों को दिल से फील कर रही थीं.

लॉकडाउन में मैं घर में सिंगल रूम होने से मैं मुठ नहीं मार पा रहा था.

पर इस जल्दबाजी वाले सेक्स में न ही मम्मी और न मैं, हम दोनों में से कोई संतुष्ट नहीं हो पा रहा था. ये बात मेरे घरवालों तक पहुंची, तो सब मुझे जैसे काट खाने को आतुर हो गए थे. मैंने जहां तक देखा है कि भाइयों का पहला टारगेट ही बहन होती है … किसी को मिल जाती है, तो किसी को नहीं.

मेरी नजर उसी बिंदू पर टिकी हुई थी जहां पर डिल्डो उसकी गांड के छेद में घुसा हुआ था और बार बार उसकी गांड का छेद खुल बंद हो रहा था. फिर जैसे मुझे कुछ पता ही नहीं, ऐसा दिखावा करते हुए मैं प्राची को आवाज लगाते उसके बेडरूम में घुस गया. इस बार तेल से भीगे लंड को उसके अन्दर पूरे जोर से डाला, तो एक ही झटके में लंड अन्दर घुस गया.

बहुत दिनों से कोई लंड नहीं लिया था, तो लंड का मजा लेने को गांड लुकलुका भी रही थी. मेरे साथ ही चलना। मैं रात को आऊंगा आपके पास। तब तक आप आराम करो।शाम को सर आए, मेरा सारा सामान लिया और अपने रूम के सामने वाली बिल्डिंग में रूम दिलवा दिया और साथ ही साथ मेरी एक बार और चुदायी की।मैं बहुत खुश थी.

मैं कभी उसके होंठों को चूमता तो कभी चूचियों को।कभी उसकी चूत को चाट लेता तो कभी उसकी गांड में उंगली डालने की कोशिश करता. स्नेहा- तुझे अगर मुझ दया आ रही हो, तो तू मेरी चूत चाट कर ठंडी कर दे, तुझे भी मेरी मलाई चखने को मिल जाएगी. नेहा- ठीक है, पर बदले में मुझे क्या मिलेगा?स्नेहा- अंआंआं जब मेरी शादी हो जाएगी … तो मैं अपने पति से आपकी चूत की चटनी बनवा दूंगी.

मेरे दिमाग को वैसे भी उसके घर जाने का कोई भी आईडिया नहीं आ रहा था, तो सोचा शायद इस फोन से काम बन जाए.

मैं प्राची के मम्मों को दबाने लगा और उसके दूध की धार चाय के कप में छोड़ने लगा. शाम को जीनिया मेरे पास आई और बोली- राबर्ट कह रहा है कि वो पायल को चोदना चाहता है, मैं जुगाड़ लगा दूँ. मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरा सारा लोड एकदम से छूटकर कंप्यूटर स्क्रीन पर जा लगेगा.

आज कभी कभी मैं सोचता हूँ कि शायद उस दिन मम्मी पापा को चुदाई करते नहीं देखता तो मैं भी अच्छे इंसान की तरह अपनी बीवी की पहली बार चुदाई करता. ऐसे ही करते करते मैं अपने सारे अधिकारियों से चुद गई थी। वो सब भी मेरी चूत के दीवाने हो गए थे.

मैंने मामी को सीधा लिटा दिया और उनके पैरों को अपने कंधों पर रख लिया. कुछ दिनों बाद ही मेरे कंपनी के एक लड़के के साथ मेरा टांका भिड़ गया और उस लड़के के साथ मेरा रिश्ता फलने फूलने लगा. उन्होंने मेरी जांघों पर हाथ फेरा और मेरे कंधे को इशारे का धक्का दिया.

ब्लू पिक्चर बताओ हिंदी में

कुछ तो समझा करो यार!उसे मैंने अपनी चुत तक पहुंचने के लिए ग्रीन सिग्नल दे दिया था और वो बहुत खुश था.

फिर संगीता ने मेरे होंठों से अपने होंठ छुड़वाए और बड़ी तेज गति के साथ घुटनों के बल बैठ गई. क्योंकि मैं भी थक गई थी इसलिए मैंने कहा- ठीक है, अब मैं आपकी गांड और नहीं मारूंगी. जहाँ एक हाथ उसके सिर के पीछे था, वहीं दूसरा हाथ उसके स्तनों को मसल रहा था।हम दोनों की गर्म सांसें एक दूसरे को और ज्यादा गर्म कर रही थीं.

मैं बोली- जी डॉक्टर, मैं समझी नहीं कि आप कुआ कहना चाह रहे हैं!तो डॉक्टर बड़े बेशर्मी के साथ बोला- मैं जानना चाहता हूँ कि आपके पति आपकी चूत की आग बुझा भी पाते हैं? मतलब वे आपको पूरा मजा दे पाते हैं सेक्स का या नहीं?डॉक्टर की यह बात सुनकर मैं चौंक गयी और बोली- डॉक्टर साब, ये आप कैसी बातें कर रहे हैं?वो बोला- मधु यार … मैं सीधे मुद्दे पर आता हूं. अब तो वह धीरे-धीरे अपने आप को इस कदर मुझे समर्पित कर चुकी थी कि जैसे उसके शरीर में जान ही न हो. साबिर सेक्सी वीडियोअंत में मैंने उसकी चुत को भी चाट लिया उसकी चुत का स्वाद बहुत ही नमकीन था.

उन्होंने मेरे नंगे चूतड़ों पर कई बार हाथ फेरा था, गांड में उंगली की थी. Xxx भाभी चुदाई कहानी के पहले भागपड़ोसन भाभी पर दिल आ गयामें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने पड़ोसन दिव्या भाभी की चुत को चाट कर उन्हें उत्तेजित कर दिया था.

शायद वो अपनी सुध खो बैठी थीं, पर अभी मेरा पूरा लंड अन्दर जाना बाकी था. थोड़ी देर किस करने के बाद मैं उसको अपनी गोद में उठाए बिस्तर तक ले गया. मेरा लंड जैसे ही एकदम खड़ा होता था, उसकी चमड़ी अपने आप पीछे चली जाती थी … और उसका गुलाबी सुपारा बाहर आ जाता था.

मैं- मतलब उधर से कॉल नहीं लग रहा है?भाभी- हां … उधर से कॉल करने पर बिजी बताता है, जब कि मैं बिल्कुल भी बिजी नहीं होती हूँ. मुझसे अब रुका न गया और मैंने उठकर उसका ब्लाउज जल्दी से उधेड़ खींचा और उसकी चूचियों को भी नंगी कर लिया. फिर मैंने उनसे कहा- मैं तुम्हें एक एड्रेस देती हूं, शाम को वहां पर आ जाना.

फिर मैंने एक दिन यूं ही चैक करने के लिए उसका नंबर लगाया कि देखूँ उसका नंबर चालू हुआ या नहीं.

एक बार चाची ने मुझसे अपनी पैन्ट की बेल्ट का बटन बंद करवाने की कोशिश की थी. मैंने उसकी योनि के उभरे हुए पार्ट को बड़े गौर से देखा और अंगूठा लगाया।उसने मेरे हाथ को रोक लिया.

ऐसा लगता था कि अभी चाची के मम्मों को मुँह में भरकर इनका सारा दूध निचोड़ लूं और अपना लंड चाची के दोनों मम्मों के बीच में घुसाकर आगे पीछे करके रस झाड़ लूं. कुछ देर बाद दरवाजा खुला और लौंडिया अपनी सलवार के ऊपर से ही चुत सहलाती हुई चली गई. चूंकि उसका हमारे घर भी आना जाना था तो मैं सही मौके की तलाश करने लगा.

यामिना- यही बात मैं आपसे कहने वाली थी, मुझे पहली बार ऐसे चोदा गया है कि पोर पोर शान्त हो गया है. यहां शिफ्ट होने के बाद मेरी भाभी की कई सहेलियां बन गई थी जो फ्लैट पर आती जाती रहती थीं. मामी ने कमरे की लाइट ऑफ की और धीरे से दरवाज़ा खोल कर बाहर झांका, फिर जल्दी से वो अपने कमरे में चली गईं.

बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी पर रनवीर मचल गया- सर, क्या मैं शामिल हो सकता हूं … सर सर प्लीज!सर मान गए और मैं बाजार चला गया. पहले तो मुझे समझ नहीं आया कि उसके प्रेम प्रस्ताव का क्या किया जाए लेकिन उसके शब्दों से मुझे लग रहा था कि वह थोड़ी व्याकुल है.

हिंदी मसाज बीएफ

खैर हिचकिचाहट तो पुरुष के साथ भी होती है पहली बार संभोग करने में।कुछ स्त्रियों में ये पहले से चाहत होती है लेकिन कुछ में इसे कुरेद कर निकालना पड़ता है।अब बात आगे की करती हूं. फिर मैं उसे ये खाने का डब्बा कैसे दूंगा?मगर मैं मकान मालकिन को मना नहीं सकता था, इसलिए मैं वो डब्बा लेकर ऊपर आ गया. मगर वो बहुत प्यार से उसके पति से बात करते करते मेरे लंड को अन्दर बाहर करती जा रही थी.

उसके बाद मैं उसके ऊपर आ गया और अपना लंड सीधे उसके चूत के अन्दर पेल दिया. यामिना- ठीक है, तो क्या आप मुझे छोड़कर आओगे?मैं- हाँ, कार से छोड़ आऊँगा. एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियो मुंबईमैं लेटी हुई थी तो अंकल मेरे मम्मों पर अपने पैर मेरे दोनों साईड कर कर बैठ गए और लंड मेरे मुँह में ठूंस दिया.

अब मेरे सामने पहली बार उसके गोल, गोरे, चिकने, सुन्दर चूतड़ और कत्थई रंग लिए गाँड का चुन्नटों वाला सुन्दर छेद था.

दोस्तो, आजकल लोग चुदाई के लिए रिश्तों को भी भूल गए हैं; आज बाप बेटी को, बेटा मां को भी चोद रहे हैं।आज की यह कहानी मेरे ऐसे दोस्त और उसकी सगी बड़ी बहन की है।आप जानते हैं कि मैं भी चुदाई का कितना बड़ा दीवाना हूं और अपनी ही चाची को चोद चुका हूं।अब मैं डबल चुदाई कहानी पर आता हूं।दोस्तो, मेरा अंतर्वासना पर एक दोस्त बना रोमिल, जो मध्यप्रदेश में रहता है. इतने में दोनों विदेशी गोरे मेरी बीवी के पास आए और उसके होंठों को चूसने लगे.

कॉलेज फ्रेंड सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे एक देसी लड़की मेरी दोस्त बनी. लेकिन रात को जेठानी के सो जाने के बाद हम खुले आसमान के नीचे चुदाई करने लगे. मैंने अपनी बीच की उंगली से निर्मला जी की चुत को ऊपर से नीचे तक सहलाना शुरू किया, मेरी उंगली उनकी चुत की फांकों में ऐसे फिसल रही थी, जैसे मार्बल के फर्श पर बर्फ फिसलती है.

मैं उसकी भरी गोरी गोरी जांघों को सहला सहलाकर दवा लगाने लगा। अब उसको मेरे हाथों की मालिश अच्छी लगने लगी थी.

मेरी एक नजर ममता जी पर थी, तो दूसरी शायरा पर थी … जो कि अब बेखौफ खिड़की से खड़े होकर हमारी चुदाई देख रही थी. लेकिन ऐसा करने से उसके निप्पल और खींच रहे थे, तो वो फिर से तड़प उठती. वो चौंकते हुए बोला- मेकअप … यहां कहां से करोगी!मैं बोली- मैं अपने पर्स में सब कुछ लायी हूं.

बिहार वाली सेक्सी फिल्मबेड और फोल्डिंग के बीच में गैप की वजह से बात ठीक से बन नहीं रही थी. एक से डेढ़ महीने तक रोजाना इस तरीके से मालिश करने से स्तनों में बदलाव दिखने लगेगा.

কানাডা সেক্স বিএফ

मैंने कुछ सोचा और जब समझ नहीं आया तो मैंने भाभी से पूछा- हम्म … फिर आपने क्या किया?उन्होंने मुझे एक फोटो दिखाई, जिसमें एप को लेकर सारी विधि लिखी थी. नाउ यू आर फाइन … ओके!मैं- जी भाभी जी, मैंने आपकी खुशी के खातिर सब बर्दाश्त कर लिया. फिर उस बेरहम औरत ने मेरे लंड पर गीला गीला सा कुछ लगाना शुरू कर दिया.

इससे भाभी और भी तेज आवाज में सिसकारियां भरने लगीं- आह … आह!मैंने पूछा- मजा आ रहा है?भाभी ने कहा- हां. उसकी चूत ने ढे़र सारा योनिरस उगल दिया और मैंने भी 2-3 धक्कों के बाद उसकी गाँड को कस कर पकड़ा और पूरा वीर्य रेनू की चूत में छोड़ दिया।रेनू चूत में लण्ड छोड़ कर ऐसे ही ऊपर लेट गयी।जान आज तो बिना मज़दूरी के मेहनत करवा रही हो … कुछ चाय-नाश्ता भी नहीं, बस खेत में हल चलवाये जा रही हो कंजूस … कहीं की!”सुनकर रेनू हंस पड़ी और मुझसे लिपट गयी।इस तरह से मेरा बरसों पुराना सपना पूरा हुआ. प्राची ने मंद मंद मुस्कुराते हुए मुझसे पूछा- दूध का स्वाद बहुत भाया है न!तब मैंने हां कहते हुए उसके अमृतकलशों से स्तनपान करने के मेरी इच्छा फिर से जताई.

उसका गोरा बदन, बड़े और भरे हुए चूचे, गदराया हुआ जिस्म … और गीली टपकती चुत देख कर मानस ने पहले तो प्यार से उसे देखा और अगले ही पल एक दमदार शॉट मार दिया. फिर दोनों हाथों से उसके चूतड़ पकड़ कर फैला दिए और लंड अन्दर बाहर करने लगा. अब पापा ने एक जोर का झटका मारा तो उनका आधा लंड चुत में घुसता चला गया.

करीब पांच मिनट की घनघोर चुदाई से अनु दीदी दूसरी बार झड़ते हुए पीठ के बल तख्त के ऊपर गिर पड़ीं. स्नेहा- ओके … तो संध्या चाची की कुछ सुना दो, मॉम की कहानी फिर कभी सुना देना.

मैंने नाराजगी के लहजे में कहा- चाची, ये क्या बात हुई, अब मैं क्या पीऊँ?मैं उदास हो गया और चाची के मम्मों की ओर देखने लगा.

कुछ देर चुत चाटने के बाद मैंने रीना दीदी की दोनों टांगों को चौड़ा कर दिया. बाप बेटी की सेक्सी वीडियो फुल एचडीउसको सहलाते रहो और बताओ मुझे कि तुम्हारे साथ ऐसा क्यों किया जा रहा है।”अमन की उंगलियां मेरी चूत और गांड को सहला रही थीं. सेक्सी फिल्म डॉगी कीझट से उठा और मुझको अपने आगोश में लेकर चुम्बन लेने लगा और एक हाथ से मेरे मम्मों को दबाने लगा. इसी से एक घटना घटी, जो मैं इस पोर्न भाभी सेक्स कहानी के जरिये आप तक पहुंचा रहा हूँ.

उन्होंने बोला- तुमने मेरा फ़ोन चैक किया था न!ये सुनकर मानो मेरा खून पानी हो चला था.

तीन तीन पैग लेते ही हम दोनों को सुरूर चढ़ने लगा और पुरानी बातें याद करके एक दूसरे की खिंचाई करने लगे. मैंने एक तकिया उसकी कमर के नीचे रखा, तो वो बोला- यह क्यों?मैंने कहा- अब तेरे चूतड़ बड़े हो गए हैं और काफी मस्त हो गए हैं. चाय खत्म करने के बाद उसने मुझसे पूछा- वैसे बेटी, तुम्हारा नाम क्या है?मैंने कहा- जी आंटी मेरा नाम जया है.

यामिना ने एक हाथ की कोहनी से अपनी आंखें बंद किये किये मेरा लण्ड पकड़े रखा और उसे ऊपर नीचे करने लगी. कमरे में तख्त पर रीना दीदी, दीपक रंजू और हम चारों नंगे बदन हो गए थे. इस उम्र में भी आपकी गांड सख्त दिखती है और जाँघें मस्त!मैं भी उसकी तारीफ में लग गयी और उसे बताया कि उसकी चूत कितनी सुंदर है, स्तन मक्खन की तरह हैं।थोड़ी देर बाद मैंने फिर से उसकी चूत चाटने की इच्छा व्यक्त की.

पाकिस्तानी ब्लू पिक्चर सेक्सी

मैंने कहा- क्यों ज्यादा नहीं मिलता क्या?वो लंड सहलाते हुए बोली- आज टेस्ट बदलने का मूड है. प्राची ने मेरे लंड को देख कर मुझे झिड़की देते हुए अपने घर नाश्ते के लिए बुला लिया था. पापा मेरा एक दूध हाथ में पकड़ कर दबाते हुए बोले- अरे मेरी जान, अगर तू गालियां नहीं देती … तो तुझे चोदने की मेरी कैसी हिम्मत होती और पता नहीं कब तक मुझे तेरी पैंटी पर ही मुठ मारनी पड़ती.

पति का नाम अशोक है और मेरी उससे मुलाकाल ऑफिस में किसी काम के सिलसिले में हुई थी.

मेरा लण्ड अकड़ कर पायल के गले तक झटका दे रहा था मानो कब लावा फूट पड़ेगा, पता न चले.

भाभी अपने हाथ से अपनी चूची पकड़ कर मेरे मुँह में ठेलने लगीं और मुझे अपने बच्चे के जैसे दूध पिलाने लगीं. भाभी बोली- क्या बात है पायल, बहुत हंसी आ रही है?पायल- भाभी, राज … के हाल तो बेहाल हो रहे हैं. हिंदी सेक्सी चोदनामेरे होंठ अपने होंठों में दबा लिए और अपनी पूरी ताकत लगा कर एक ऐसा शॉट मारा कि उनका लंड मेरी चुत की सील तोड़ कर अस्सी फीसदी यानि लगभग 6 इंच लंड अन्दर घुस गया.

उसके बाद हम दोनों ऐसे ही बातें करने लगे और फिर अपने अपने फ्लैट में चले गए. उसको मैंने अहसास कराया कि वो अब फंस गया है।हड़बड़ाहट में उसने उस रबर की चूत को दूर फेंकेते हुए अपना ट्राउजर ऊपर कर लिया. शायरा के दिल को अब मैं पा रहा था … तो शायरा मेरे दिल को अपना बना रही थी.

अभी तो मैं चलती हूँ, तू तो 10-11 बजे तक उठेगा … लेकिन मुझे सारा काम करना है. फिर ज्योति ने पल्लवी की तरफ देखते हुए पूछा और आंख मार दी- क्यों पल्ली?सब जानते थे कि पल्लवी विराज को लाईक करती थी.

एक बार चुत झड़ जाती है तो कुछ देर के लिए चुत वाली की कसमसाहट का बढ़ जाना स्वाभाविक ही होता है.

संध्या- क्या बात है भाभी आपका पिछवाड़ा तो कुछ ज्यादा ही बाहर आ गया?संगीता- क्या करूं … तेरे जेठ जी मानते ही नहीं, रोज पीछे लग जाते हैं कि आज तो तेरी गांड मार कर रहूँगा. दोनों मकानों के बीच लकड़ी का बड़ा दरवाजा था, अन्दर जाते समय उसे बंद कर दिया, जो नए मकान से पुराने मकान को अलग करता था. कुछ ही पलों बाद पूरे रूम में हम दोनों बाप बेटी की चुदाई की आवाजें गूंजने लगी थीं.

सेक्सी इंग्लिश एचडी व्हिडिओ मैंने उसका हाथ मेरे लंड पर रखवा दिया और उसके हाथ से अपना लंड हिलवाने लगा. मैं भाभी को अपने ऊपर लेकर उनको किस करने लगा और उनके चुचे मसलने लगा.

फिर जब वह किचन में खाना बनाने गई तो मैंने उसके मोबाइल की रिकॉर्डिंग में सुना कि मीटिंग रॉयल रिसोर्ट में थी. वह बहुत दिनों से नहीं चुदी थी, इसलिए जल्दी से लंड चुत में ले लेना चाह रही थी. उसने पहले मेरे कपड़े पूरे निकाल कर मुझे नंगा किया और मेरे पूरे शरीर को चूमने लगी.

हिंदी में बीएफ देसी

नेहा- ठीक है, पर बदले में मुझे क्या मिलेगा?स्नेहा- अंआंआं जब मेरी शादी हो जाएगी … तो मैं अपने पति से आपकी चूत की चटनी बनवा दूंगी. वो उचक कर हल्के से चीख पड़ीं- आआह … इतनी जल्दी क्या है … आराम आराम से करो न!मैंने कहा- हां अब आराम से ही करूंगा. मैंने सर के लिए चाय टेबल पर रखी और झुकते ही मेरे बड़े बड़े चूचे उनके सामने आ गये.

मैंने उसकी चूची दबाकर और चूत सहला कर उसको गर्म किया और वो चुदने के लिए तैयार हो गयी. वे उत्साहित कर रहे थे- क्या मरे मरे कर रहे हो … जोर से पेलो न!मैं जैसे जादू के जोर से बंधा उनकी बात मानता रहा.

मैंने मना किया था ना!मैंने बोला- साली बहन की लौड़ी रंडी … मुझे पता ही नहीं चला कि मेरा रस कब निकल गया.

बहाने से तैरना सिखाते समय लंड भी छुलाया था, पर गांड में डाल नहीं पाए थे. उन्होंने फोन रख दिया और सीमा से बोले- कपड़े उतार इसके!सीमा बोली- ठीक है. प्रिया के पति के बारे में सोचने लगी कि कैसे वो मेरी नर्म कोमल गांड पर चपेट मारकर मुझे चोदने की तैयारी कर रहा है.

भानजी की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैंने अपनी पत्नी से उसकी भांजी की चूत दिलवाने को कहा. वहां देखा तो उनके बेटे ने बताया कि मैकेनिक बुलाए थे, वे कह रहे थे वर्कशॉप पर ले जाना पड़ेगा. तो रोशना ने धीरे से अपने होंठ खोलकर लंड पर जीभ फिराना शुरू कर दिया.

पूनम बुआ ने मेरे को वो सुख दिया था, जो कोई और आज तक नहीं दे सकी थी.

बीएफ बीपी सेक्सी हिंदी: वहां कुछ लड़के उसकी चूचियां और चूत में उंगली करके उसको गर्म कर देते हैं फिर बाहर ले जाकर चोद देते हैं. मैंने उनकी दोनों टांगे कुर्सी पर अलग कर दीं और उनकी चूत को चाटने लगा.

ये हॉट चाची के साथ सेक्स कहानी हमारे पड़ोस में रहने वाली रमिला आंटी के साथ मेरी चुदाई की कहानी है. जब मैं भाभी की चूत को तेज तेज मसलने लगा तो वो भी मेरे लंड को जोर जोर से आगे पीछे करने लगीं. चूंकि उनका आधा काम मोबाइल पर ही होता था, तो वो मोबाइल छोड़ नहीं सकते थे.

दिनकर हंसने लगा- हां बेटा, तुझे तो मालूम ही है कि तेरी लुगाई तेरे लंड से पहले अपने ससुर के लौड़ों को खुश करेगी.

अब वो जोर जोर से मोन कर रही थीं- अहह अर्नव … जोर से चूसो खा जाओ इन्हें!वो काफ़ी उत्तेजित हो रही थीं।पर अभी भी उनका आधा जिस्म साड़ी से ढका हुआ था. अब वर्तमान में:इस पर नेहा ने टोका- हां, चाची हैं ही ऐसी … किसी की कोई शर्मोहया ही नहीं है. जिससे उनके मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं- ओह यस्स ओह … खा ले चूस ले.