नेपाल सेक्स बीएफ

छवि स्रोत,कुत्ता चोदने वाला सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी लोगों की सेक्सी: नेपाल सेक्स बीएफ, मैं मौसी और उनकी जेठानी को सेक्स के खेल में दोनों एक दूसरी के सामने सहज करना चाहता था.

स्टोरी सेक्सी हिंदी

मैं- क्या समझी थी?फ़लक- यही कि … ये सब करने के लिए बुला रहे हो, और उस रात यह सब सोच सोचकर मैंने फिर उंगली से मज़ा लिया. मराठी सेक्सी फोटोसतो मम्मी से कैसे लूं?तो मैं बोला- तुम चुपके से अपनी माँ के फ़ोन से ट्रांसफर कर लो और देख लो.

फ़लक की सुडौल गोरी जांघें के बीच चूत पर दो इंच की दरार दिखाई दे रही थी जिसके बाहर दो मोटे गुदाज़ भगोष्ठ खड़े थे. सेक्सी लडकेअभी उसका लंड चूसते हुए 5 मिनट ही हुए होंगे कि गौतम ने मेरे मुँह में ही अपना स्पर्म छोड़ दिया.

उसने मेरा लंड चूत के छेद पर सैट किया, मैंने एक जोरदार झटका दे मारा.नेपाल सेक्स बीएफ: उसके चुत चाटने से मैं और ज़्यादा तड़प उठी और अपनी कमर उठा कर उसके मुँह में अपनी चुत देने लगी.

वह दिन आ गया मैं सुबह 6:00 बजे बाइक पर सवार होकर उससे मिलने के लिए निकल पड़ा.मेरी क्लीनिक मेडिकल कॉलेज चौराहे पर है, आपके घर से ज्यादा दूर नहीं है, कभी भी फोन करके आ जाइये.

आवाज में हिंदी सेक्सी वीडियो - नेपाल सेक्स बीएफ

अचानक संगीता की चूत का फव्वारा फूट गया और उसने मेरे लंड पर ढेर सारा गर्म माल निकाल दिया.इसके पीछे एक पतली पट्टी थी, जिससे पीछे का सब हिस्सा खुला ही रहता था.

आंटी बॉय सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं मुझे शौहर के दोस्त के घर की शादी में अकेली जाना पड़ा। वहां मुझे अकेली देख दो जवान लड़के मुझसे बात करने लगे। उसके बाद …दोस्तो, मैं जानिसार अपनी आपबीती कहानी आपके सामने ला रही हूं।मेरी हाईट 5 फीट 4 इंच, फिगर 36-30-36 है। ब्रा 36 सी की पहनती हूं। मेरे बूब्स काफी बड़े हैं। रंग भी गोरा है। मेरे बाल मेरी पीठ तक आते हैं।मेरे शौहर का बिजनेस है भोपाल में!यह कहानी सुनें. नेपाल सेक्स बीएफ वो हुमच हुमच कर गाली देते हुए चुदाई कर रहे थे- ले मेरी रांड अपने खसम का लंड.

फिल्म देखते देखते मैंने अपने सारे कपड़े निकाल दिए और पूरा नंगा हो गया.

नेपाल सेक्स बीएफ?

अब जब आपके पास हमारी बातों का रेकॉर्ड है तो आप पहले वो सारी बातें पढ़ लें फिर शायद हम आराम से बातें कर सकेंगे. तभी मैंने नेहा को अपनी तरफ खींचा और उसे किस करते हुए पूछा- कैसा लगा?नेहा- आज तो मज़ा आ गया. शेखर बस अब इस इंतज़ार में था कि कब धारा उसके लंड को अपने मुँह में भरे और उसे जन्नत का मज़ा दे.

भाभी- अरे ये क्या कर रहे हो देवर जी! दूध से मेरी लैगी खराब हो रही है. अगले ही पल उसका हाथ मेरी गांड पर था, जैसे वो चाहती हो कि तुम रुके क्यों … और तेज़ी से झटके मारो. मैं अपने घर में बने मंदिर में रखे अपनी स्वर्गीय माँ के चित्र के सामने ले आया और माँ को सम्बोधित करते हुए कहा- माँ, यह सितारा है, मेरी दोस्त है, आशीर्वाद दो कि हमारी दोस्ती, हमारा प्यार और विश्वास बना रहे.

तभी मैंने भाभी बोल दिया- मुझे भी यहां पर कोई किराये पर फ्लैट मिल जाएगा क्या?भाभी बोलीं- मैं मोहल्ले में पूछ कर बता दूँगी. उस समय अकेले में मैं अपने मोबाइल में एडल्ट्स पिक्चर्स देखती रहती हूँ और अन्तर्वासना की गर्म सेक्स कहानियां पढ़ कर अपनी चूत में उंगली करके अपने आपको ठंडा कर लेती हूँ. नेहा और रोहन एक साथ सोफे पर बैठे थे जबकि मैं उनसे अलग उनके सामने वाले सोफे पर बैठा था.

मैं- क्या हुआ शीना, तुम्हें ऐसी में भी पसीने क्यों आ रहे हैं? और ये तुम क्या कर रही थी?शीना- क क कुछ नहीं … मैंने क्या करना?मैंने उसे बैठने को बोला और खुद भी उसके पास बैठ गया. वो मेरे थोड़ा पास आयी और बोली- ऐसे क्या देखे जा रहे हो!मैं हड़बड़ा गया और बोला- कुछ नहीं … कुछ नहीं!वो बोली- मैं देख रही हूँ आज तुम मुझे ही अलग तरीके से देखे जा रहे हो!मैं बोला- नहीं, कुछ नहीं.

पर मेरे घर वालों की सख्ती के कारण मैं सेक्स का मजा नहीं ले पा रही थी.

दरअसल मेरे पिताजी को अपने ही ऑफिस की एक लड़की बहुत पसंद आने लगी थी और कुछ दिन में उनके सम्बन्ध भी बनने लगे थे.

इस तरह से तेरे अंकल ने कभी नहीं मारी, आज तू मुझे पूरा चोद डाल!उनकी इस तरह की बात सुनकर मुझे और जोश आ गया. मैंने कहा- साली, किसी को भी बुला ले … आज मेरे लंड से तुझे कोई नहीं बचा सकता. भाभी ने पूछा- कुछ देर बाद क्यों?मैंने कहा- मुझे यहां आपसे कुछ काम है और इधर के ऑफिस स्टाफ तक तो रुकना ही है.

अपनी शर्ट को उतारा … तो भाभी ने मेरे सीने पर किस किया और कहा- तुम तो बहुत स्मार्ट हो. एक मिनट किस करके उसे बिस्तर पर लिटा लिया और गर्दन चूमते हुये उसके होंठों पर उंगली फिराने लगा. बंगालन भाभी- कैसा पाप, हमारे यहां जब बच्चा होने के बाद दूध जल्दी नहीं निकलता है … तब देवर को बुलाकर भाभी के दूध चूसने को बोला जाता है, ये कोई पाप नहीं है.

मैं मौसी और उनकी जेठानी को सेक्स के खेल में दोनों एक दूसरी के सामने सहज करना चाहता था.

मगर उस टाइम मुझे पता चला कि लड़कियों के चूत और कांख में भी बाल होते हैं. जैसे ही उसने मुझे देखा, बिना कुछ कहे रूपाली ने मुझे एक जोर थप्पड़ लगा दिया।मौसी- आखिर तुम भी बाकी सभी मर्द की तरह ही निकले। मैंने तुमसे सच्चा प्यार किया, तुमको अपने पति की जगह दी, अपने पति से धोखा किया; लेकिन तुमने एक चूत के लिए मुझसे धोखा किया. पल्लवी ने तन्वी से उसके चाचा चाची की चुदाई की कहानी सुनकर कहा- यार तेरे चाचा चाची की चुदाई की कहानी तो बड़ी जबरदस्त थी.

अब उसने मेरी जांघ पर हाथ रखा, मेरा लंड तो पहले से ही रॉड बना हुआ था. वो गप्प से अंदर ले कर चूसने लगी, मैं उसके बूब्स मसलने लगा और झटके मारने लगा।थोड़ी देर बाद मैंने उसे उठाकर घोड़ी बना दिया और उसकी चूत में लन्ड घुसा कर गपागप गपागप झटके लगाने लगा. मयंक ने अपने लंड की गति को और तेज कर दिया और गांड को तेजी से चोदने लगा.

वो बोले कि उनको किसी काम के चलते दो सप्ताह के लिए भारत से बाहर जाना है.

पब्लिक सेक्स सिस्टम की कहानी के पिछले भागगली मोहल्ले में खुल्लम खुल्ला चुदाईअब तक आपने पढ़ा था कि गगन की मां सुम्मी ने सारे नगर के सामने मंच से, अपनी बेटी प्रियंका की सील तोड़ने के लिए उसके भाई गगन का ही नाम लेकर सबको खुश कर दिया था. कुछ देर बाद कमरे की लाइट ऑन हो गई और भाबी मेरे बगल में आकर बैठ गईं.

नेपाल सेक्स बीएफ तो मैं बोला- देखो शीना, इसमें तुम्हारी माँ की कोई गलती नहीं है, ये एक लंबी कहानी है जो मैं तुम्हें फिर कभी बताऊंगा. वो भी यदि मोटी या भरे हुए जिस्म की हों, तो मेरा लंड हिनहिनाने लगता है.

नेपाल सेक्स बीएफ हम दोनों का घर पास में होने के कारण बहुत बार मैंने नीरू को उसके घर या कभी अपने घर चोदा है. जितनी शिद्दत से शेखर धारा के होंठों का रस चूस रहा था इतनी ही शिद्दत से धारा भी शेखर के होंठों का रसपान कर रही थी.

वो हुमच हुमच कर गाली देते हुए चुदाई कर रहे थे- ले मेरी रांड अपने खसम का लंड.

बाप बेटी सेक्स वीडियो

बस चल दी और कुछ दूर चलने के बाद मैंने अपने नकाब का ऊपरी कपड़ा हटाया तो ब्रा और कुछ भी ना पहने होने की वजह से मेरी 34 की चुचियां एकदम साफ नजर में आने लगी थीं. मैंने कैसे एक दार्जिलिंग की एकदम कुंवारी लड़की को चोदा, इस सेक्सी ऑफिस गर्ल की चुदाई कहानी मैं आपको उसी चुदाई के बारे में बताना चाहता हूं. मेरे हाथ स्वतः ही उसके सिर पर चले गए और उसे तेज तेज हिलाने में मदद करने लगे।अब सहन करना मुश्किल हो रहा था मेरे लिए। मैंने रोहन को इशारा किया कि बस करो, मेरा हो जायेगा.

हमें देख कर उन्होंने एक मजदूर को बोल कर एक खटिया मंगाई और हमको बैठने का कह कर अपने काम में लग गए. वह तो बेड पर ही झटके देने लगा जैसे उसके नीचे कोइ लड़की हो और वह उसे चोद रहा हो. सितारा के पीछे आकर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत में डाला तो वो अपने चूतड़ आगे पीछे करने लगी.

मगर फिर उसने सोचा कि चलो ललित से ही बात करते हैं और धारा की कामुकता के बारे में और कुछ जानते हैं.

तब तक ज्योति ने शॉवर लेकर बाथरोब वापस पहन लिया और दोनों रूम की तरफ चल दीं. फिर लगा कि अब मैं आ सकता हूँ तो मैंने अधमरी हो चुकी आशारा को उठाकर सामने कुतिया बनाया. मैंने फ़लक की चूत में पूरा लण्ड जड़ तक ठोक कर उसके होठों पर अपने होंठ रख दिये.

एक कारण यह भी था कि वो मेरे परिचित की भतीजी भी थी और मैं बनारस के एक अच्छे विश्वविद्यालय का छात्र था. कुछ देर बाद प्रियंका को फिर से चुदने की चुल्ल होने लगी तो वो गगन को बुला कर उसे चोदने के लिए कहने लगी. धारा ने लंड की चमड़ी को खोलते बंद करते हुए मुठ मारने के जैसे दो चार बार हिलाया।फिर सुपारे को चमड़ी से पूरी तरह बाहर निकाल कर अपनी जीभ से पूरे सुपारे को चाटना शुरू किया.

मेरी सांसें बहुत तेज तेज चल रही थी और मैं पूरा जोर लगा लगा कर चाची के ऊपर आधा झुका हुआ ठुकाई कर रहा था. पर रात को मेरी नींद खुली और मैंने देखा कि मेरा दोस्त अपने बिस्तर पर नहीं था.

मैं राज हूं और अभी जो कहानी आप पढ़ रहे हैं उसमें रोहन ने यह सब कैसे शुरूआत की वो बता रहा है. अब पिंकी भी अपनी गांड आगे पीछे करने लगी और लंड लेने लगी।हाँह उहह ओहह करके वो अपनी गांड आगे पीछे करती … मैं और तेज़ तेज़ झटके लगाने लगा।थोड़ी देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और चोदने लगा, गपागप गपागप अंदर बाहर होने लगा. मैंने पहले कभी कोई सेक्स कहानी नहीं लिखी है, इसलिए मुझसे कोई ग़लती हो जाए तो माफ़ कर देना.

रोहन दिखने में स्मार्ट, गोरा-चिट्टा पंजाबी मुंडा था लेकिन उसने आजकल के फैशन की तरह दाढ़ी नहीं रखी थी, बल्कि एकदम चिकना था।रोहन ने मुझे ऊपर से नीचे तक देखा और पूछा- कैसा रहा सफर?मैंने भी हंस कर जवाब दिया- सफर अभी पूरा कहाँ हुआ है?मेरे जवाब को सुन रोहन मुस्करा दिया.

दूसरे दिन मेरी फ्रेंड ने मुझे कॉल करके घर बुला लिया और हम उसी के घर में दिन भर रहते और रात को बस सोने होटल में जाते।होटल में समीर मेरे साथ बेड पर ही सोता था और मैं वहां रोज़ दारू पीती थी. एक दिन की बात है, वो बीमार थी, तो दो दिन तक मैं उसको नहीं देख पाया था. चल नाराज मत हो, मैं तुझे उसका नाम बता दूंगी, पर तुझे मेरी कसम खानी होगी कि ये बात तू किसी को नहीं बताएगी.

मां ने अपनी नाइटी को अपनी टांग तक ऊपर चढ़ाई हुई थी और वो घुटने उठा कर सोयी हुई थी. गंदी फिल्म देख कर मैं कुछ डर सा गया और टीवी बंद करके चुपचाप ऐसे बैठ गया जैसे मैंने कुछ किया ही ना हो.

मेरे तीन चार बार रगड़ने से फ़लक की चूत से कामरस की बूंदें छलकने लगी और दरार में गीलापन उभरने लगा. शायद धारा का इंटरनेट फिर से ख़राब हो गया होगा, या फिर शायद उसे मेरी बात पसंद नहीं आयी होगी. लड़कियों के लिए सजा यह थी कि उसको बिना कपड़े के कमरे में बंद करके रख दिया जाता था और उस कमरे की खिड़की खोल कर उसके सामने ही नगर के लोग समूह में चुदाई करते थे.

नाबालिक का सेक्स

भाभी ये सुनकर एकदम से चौंक गईं तभी मैंने बाहर देखा और सब कुछ मुताबिक़ पाते हुए भाभी के करीब आ गया.

जब मैंने अपनी जीभ को नुकीली करके भाभी की नाभि में डाली तो भाभी मचल उठीं और हाथ पैर झटक कर छटपटाने लगीं. उसने भी मौक़े की नज़ाकत और धारा के उन्माद को देख कर उसकी भाषा में अपनी भाषा मिलाते हुए उसकी ताबड़तोड़ चुदाई शुरू कर दी. इससे भाभी और मचल उठीं, वे सिसकारियां लेती हुई बोलीं- क्यों तड़पा रहे हो यार … अब जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड डालकर इसकी प्यास बुझा दो.

जैसे ही आंटी ने मुझे नंगा देखा, तो वो भी जल्दी से मेरे पास बेड पर आ गईं और मुझे किस करने लगीं. मां अपनी कामुक सिसकारियों से भरी गर्म सांसें मेरे चेहरे पर छोड़ने लगीं. फिल्म सेक्सी फिल्म सेक्सहम सबने खाना खाया और मैं ऊपर आकर अन्तर्वासना की एक सेक्स कहानी पढ़कर सो गया.

मानस बिना किसी परेशानी के उस गोरी मैडम की गीली चुत, उसकी पैंटी के ऊपर से चाटने लगा. पांच मिनट तक लंड चाटने के बाद मैंने भाभी से कहा- आह भाभी, मेरा रस निकल जाएगा … छोड़ो मुझे बाथरूम में जाने दो.

उसकी रोटियां जैसे ही बन कर खत्म हुईं, मैं उसे उठाकर बाहर ले आया और हॉल में पड़े सोफे पर झुका दिया, उसकी गांड में लंड डालकर चोदने लगा. इससे भाभी की रोने और चीखने आवाज़ इतनी तेज आने लगी कि मेरे तो कान भी फटने वाले हो गए थे. लेकिन उस रात को मेरे और चाची के बीच जो कुछ हुआ वह भूलने वाली बात नहीं थी.

क्योंकि उनको रीमा की गैरमौजूदगी में दो घंटे चुदाई के लिए मिलने वाले थे. अब मैंने भाभी की साड़ी उतार कर उनको पूरी नंगी कर दिया और उनके मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा. इस समय मुझे मां का मुलायम नर्म पेट अपने पेट पर टच होते हुए महसूस हो रहा था.

हम दोनों उनसे चुदती रहीं और एक बार तो दोनों को बच्चा भी ठहर गया था लेकिन दवाई खाकर हमने वो गिरा दिया.

वो बस आपको देख रहा था!शेखर के मुँह से सच निकल गया था और इसका अहसास होते ही वो सकपका गया. उसने कांपते होंठ मेरी ओर बढ़ाए … और मैंने उन्हें अपने होंठों से थाम लिया.

ह्म्म्म … आह्ह्ह!” शेखर का हाथ अपने उभारों पर महसूस करते ही धारा ने शेखर की उंगली को अपने होंठों से आज़ाद कर दिया और एक सिसकारी भरी. मेरा दिल जोर जोर से धड़क रहा था और डर लग रहा था कि कहीं आंटी सब कुछ मेरी मां को ना बता दें. वह लड़की कभी इशारे से कभी धीरे धीरे बोलकर कर अपना नंबर बोलने लगी लेकिन ट्रेन की आवाज और लोगों के शोरगुल में कुछ समझ नहीं आ रहा था.

रेशम-ऋतु के घर में:रेशम- यार ऋतु तुम कॉलेज में काव्य के साथ घूमना बंद कर दो। लोग न जाने कैसी-कैसी बातें बनाते हैं।ऋतु- तुम काव्य से इतना परेशान क्यों रहते हो रेशम? मुझे लोगों की परवाह नहीं है. फिर मैंने दो उंगलियां भाभी की चुत में डालीं, तो दो भी नहीं जा रही थीं. उनकी वो जाने दोस्तो, लेकिन मैं अपनी क्या बताऊं … कितनी गुदगुदी गांड थी भाभी की.

नेपाल सेक्स बीएफ आए दिन इस तरह की खबरें सुना करता था जिसमें इस तरह से लोगों को बेवक़ूफ़ बना कर लूट-पाट और यहाँ तक कि क़त्ल तक की वारदातें भी हुआ करती थीं. और फिर फोन काट दिया।मैंने पूछा- किसका ध्यान रखने की बात हो रही है?उसके मुंह से एकदम से निकला- तुम्हारा।मैं एकदम से चौंक गयी और बोली- मतलब?फिर अजय बोला- अरे कुछ नहीं … घर वालों का फोन था, वो बोल रहे थे कि रात में गाड़ी ध्यान से चलाना।मैंने कहा- ओह, अच्छा अच्छा!बीच बीच में मैं और अजय छुटपुट मज़ाक भी कर रहे थे.

हिंदी हद बफ

भाभी की चूत से रस निकलने लगा था जिससे लंड सटासट अन्दर बाहर हो रहा था. वो खिसिया गया मगर उसने अपना लंड पकड़ा और मेरी गांड पर निशाना साध कर फिर से एक झटका मारा. मैंने हल्का सा अपने सिर को हां में हिलाया, तो वो अपनी गांड मटकाती हुई किचन में चली गई.

फिर भाभी ने मुझसे मेरे बारे में पूछा, तो मैंने अपना नाम विजय बताते हुए कहा कि मैं कॉलेज अपने भाई से मिलने जा रहा हूँ. अगले पांच दिन तक मैंने कंपनी पर पूरा ध्यान दिया और मशीन के बारे में काफी कुछ सीख लिया. इंडियन सेक्सी मसालाभाभी की मादक आवाजें हर पल तेज होती जा रही थीं- सस्स्स ओफ्फ़ नहिन्यी ईईईईई … आआह ऊऊ मांआआअ.

ये कहते हुए नेहा ने स्नेहा की चूत को उसके पजामे के ऊपर से मुठ्ठी में भर कर मसल दिया.

रूपाली भी अपनी जीभ से चूत के हर कोने को चाटने में लगी हुई थी।अपनी जेठानी नीतू की चूत रूपाली चाटते हुए उसके चूतड़ों से भी खेल रही थी दोनों को अब अब इस में मजा आने लगा था।थोड़ी देर बाद दोनों अपनी जगह बदलने की सोची. शायद राज कुछ ज्यादा ही गुस्से में आ गया था, किस करते करते उसने मेरे होंठो को काट लिया जिससे कि उसमें से हल्का खून भी आने लगा.

मेरी सेक्स में रूचि थी, मैं अपनी पुद्दी में उंगली करके मजा लेती थी. उसके कुछ दिन बाद वो परिवार के साथ अपने किसी रिश्तेदार के घर चला गया. मैंने नेहा के दोनों हाथ सिर के ऊपर ले जाकर दोनों को एक हाथ से पकड़ लिया.

मगर मैंने धीरे धीरे से उन्हें चोदना चालू रखा और कुछ देर बाद भाभी भी मेरा साथ देने लगीं.

मन में मैंने सोचा कि इसका मुँह गंदा होगा … मुझे क्या … गांड चुसवा कर भी देख लेता हूँ. फिर उसने जल्दी से टॉवेल लाकर मुझे दी और वॉशरूम की तरफ इशारा करके पैन्ट खोलने के लिए बोला. मैं उसके होंठों से लेकर उसके पूरे चेहरे पर जीभ फिराने लगा और वो मदहोश सी होने लगी.

सेक्सी वीडियो xxxxxxxxमैं- तुम मजा लो मौसी … तुम्हारी मम्मों की गली को गीला करने के बाद मैं ब्रा के ऊपर से ही तुम्हारे दूध को काटूंगा और जहां तुम्हारे निप्पल हैं, वहां अपने थूक से गीला कर दूंगा. इससे पहले कि मैं उन्हें फिर से मना करती तब तक मेरी भरपूर जवानी की उठान उनकी हथेली में कैद होकर रह गयी थी.

एक्स एक्स एक्स मूवी सेक्स

मैंने लंड पूरी तरह बाहर खींचा और दुबारा पूरी ताकत से अन्दर ठोक दिया. वहां पहुंच कर मैंने अपनी शाल जैसे उतारी तो शहज़ाद मेरी चूचियों को देख कर बोला- कसम से … आज आप एकदम कयामत लग रही हो. हर तरह के आदमी आते थे, जो मुझे नौंचते थे, खाते थे, काटते और मैं शर्म की वजह से कुछ नहीं बोल पाती थी.

इस भयंकर चुदाई के तीन मुख्य कारण रहे, पहला तो दोहरे कंडोम की वजह से जल्दी स्खलन नहीं हुआ और मैंने दवा भी खा रखी थी. फिर मैंने अपने पति से झूठ बोल दिया कि शर्मा जी की वाइफ ने मुझे रोक लिया है. मैंने समझ लिया कि अब देरी करना उचित नहीं है, इसलिए अपनी टी-शर्ट और अपना लोअर भी निकाल दिया.

जैसे ही मैं बैठी, मेरी एक जांघ पूरी तरह नंगी हो चुकी थी जो किसी को भी पागल बनाने के लिए काफी थी. आपके पास एक सुनहरा मौका है कि मुझे अपने पास आने दीजिये, ईश्वर की कृपा हो सकती है. ये कहते हुए नेहा ने स्नेहा की चूत को उसके पजामे के ऊपर से मुठ्ठी में भर कर मसल दिया.

उनके बारे में आपको क्या बताऊं बस नाम लेते ही मुठ मारने को मन कर जाता है. मैं भाभी के ब्लाउज के हुक खोलने लगा और उनकी ब्रा के ऊपर से ही उनके मम्मों को चूमने लगा.

मैं पहले दिन शाम को सारा स्टाफ जाने के बाद ऑफिस की अलमारी से 3 छोटे-बड़े साइज की यूनिफॉर्म ऑफिस की अलमारी से निकालकर अपने रूम में ले आया था.

जिससे मेरे भी मुंह से ह्म्म्म … ह्म्म्म जैसे आवाज आ रही थी।नीतू अभी तक आँखें बंद करके चुद रही थी. सेक्सी गंदी गंदी सेक्सीभाभी- तुम्हारी गर्लफ्रेंड का क्या नाम है?मैंने बताया- मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है. सेक्सी वीडियो हिंदी सुहागरात वीडियोचाची ने मुझे बेड पर बैठा दिया और मेरी टाँगों के बीच खड़ी हो कर ऊपर से चुन्नी ढीली कर दी जिससे उनकी चूचियाँ बाहर आ गई. किसी तरह शेखर ने अपनी आँखें खोलीं।उसका सर दर्द से फटा जा रहा था, होता भी क्यूँ नहीं … रात को सारी बोतल गटक गया था.

भैया पूरे नंगे लेपटॉप पर ब्ल्यू फिल्म देख रहे थे और अपने मूसल जैसे काले लंड की मुठ मार रहे थे.

उसने बोला- ठीक है फिर नाप गलत हो गया, तो बाद में मत कहना और आज शाम तक तो सूट फिर किसी कीमत पर नहीं मिल सकता. फ़लक ने सामने के शीशे में मेरे खड़े लौड़े को देखा और देखते ही तुरन्त मेरी तरफ घूम कर उसे असली में देखने लगी और बोली- ये तो बिल्कुल फ़िल्म जैसा ही है. जैसे ही मैंने गेट खोला, सनी मुझे इस रूप में देखकर समझ गया कि मैं पूरी रात चुदी हूँ.

मैंने धीरे से नेहा की पैंटी निकालने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हो पाया. वो मेरा लंड फिर से हिलाने लगी, जिससे लंड चूत में जाने को तैयार हो गया. दूसरा मैसेज भाभी का आया- मैं सिम्मी बोल रही हूँ … आप मेरे घर आ जाओ मुझे कुछ सामान मंगाना है.

चूत वीडियो में

फिर हम दोनों ने आगे आकर एक आइसक्रीम ली और दोनों ने एक आइसक्रीम में ही खाई. मैं जब झड़ने को हुआ तो मैंने लंड चुत से खींचा और उसके पेट पर लंड झाड़ दिया. पैग बनाकर शेखर ने एक बड़ा सा घूँट अपने हलक के अंदर लिया और एक लम्बी साँस भरी.

फिर सैम मेरे बगल में आने को हुआ, तो मैं झट से अपने बिस्तर पर आकर सो गया और वो भी मेरे बाजू में आकर सो गया.

वह भी बिस्तर पर आ गया और पूछने लगा कि बेबी कार्यक्रम अभी शुरू करें या खाना खाने के बाद?मैंने कहा- अभी भूख नहीं है, अभी पहले एक बार शुरू कर देते हैं.

अब मेरे दिमाग में बहुत सारे सवाल आ रहे थे, पर इस समय मुझे तो जिसकी चूत चाहिए थी, वो चोदने को मिल रही थी, तो मैंने चुप रहना ही बेहतर समझा. ऑनलाइन इरोटिक चैट स्टोरी में पढ़ें कि एक विवाहित पुरुष ऑनलाइन सेक्स चैट साइट पर एक विवाहित जोड़े की बातों से उत्तेजना से भर गया और सेक्स की आशा करने लगा. हॉलीवुड सेक्सी हिंदी मेंहमने एक दूसरे से शादी भी कर ली, साथ ही हमने अपना हनीमून केरल में मनाया.

हम दोनों रोज सुबह स्कूल में जल्दी जाकर एक दूसरे को चुम्बन करने लगे और हमारी मस्ती शुरू हो गई. स्क्रीन पर चल रही फ़िल्म को बंद कर जैसे ही शेखर ने चैट रूम खोला तो उसकी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा. मैंने उसकी बात मानते हुए अपने लंड को बाहर निकाला और देखा कि उसकी चूत से थोड़ा खून आ रहा है.

ज्योति ने हंसते हुए कहा- हां तू जब चेंजिंग रूम में आई थी, तो चिराग मेरी चूत की क्लिट मसल ही रहा था. मैंने अपने दोस्त की मां को कसके अपनी बांहों में भर लिया और उनके नर्म नर्म होंठों को चूसना शुरू कर दिया.

धारा की बातें पढ़ कर शेखर को जहां जोश आ गया था वहीं उसके मन में ये विचार भी आ रहा था कि धारा की उम्मीदों पर वो खरा उतर पाएगा भी या नहीं क्यूँकि धारा शेखर के अंदर एक साथी की झलक देख रही थी.

मेरी पिछली कहानी थी:ममेरी बहन की जबरदस्त चुदाईमुझे शुरू में सिर्फ लड़कियों में दिलचस्पी रही थी मगर अब आंटी, भाभी में कहीं ज्यादा दिलचस्पी हो गई. मानस उसको रंडी बना चुका था, उसको पूरी नंगी करके किसी टॉयलेट में अपना लौड़ा चुसवा रहा था. फिर एक वक्त ऐसा आया कि आशारा ने अपने पेट और पेट से थोड़ा नीचे हाथ रख लिया.

सेक्सी फिल्म सेक्सी फिल्म हिंदी फिल्म मैं लगभग 10:00 बजे भाभी की चारपाई पर आ गया और उनके बाजू में लेट गया. मैं एक हाथ से उसके बाल पकड़ कर होंठों को चूस रहा था, दूसरे हाथ से उसके दोनों चीकुओं को बारी बारी से मसल रहा था.

कुछ पल बाद भाभी ने घुटनों के बल बैठ कर मेरी पैंट की ज़िप को भी खोल दिया और मेरे अंडरवियर में हाथ डालकर लंड को बाहर निकाल लिया. कुछ देर सोच कर शीना ने ओके कहा और बोली- मैं कल सुबह कॉलेज टाइम में आ सकती हूं. मैंने अपने ब्वॉयफ्रेंड से कहा कि आज मुझे देखने लड़के वाले आ रहे हैं … तब उसने मुझे घर के पास छोड़ा और चला गया.

भोजपुरी का सेक्सी

ये कहते समय मुझे यह पता नहीं था कि उन दोनों ने कभी चुत चटवाई ही नहीं थी. चाची उठीं और चाचा के दोनों तरफ पैर करके अपनी चुत के छेद में उनका लंड पकड़ कर लगाने लगीं. इसी बीच धारा ने भी अपनी जाँघों में फँसे हुए साये को निकालने के लिए अपने पैरों को थोड़ा सा फैलाया।पैर फैलाते ही साया झट से नीचे गिर गया.

मम्मी के मुँह से गाली सुनकर निखिल और जोश में आ गया और उसने अपना 8 इंच लम्बा लंड मेरी मम्मी की गर्म गर्म चूत में डाल दिया. अगले दिन शाम को मैं उनके घर गया और मोनू को गोद में लेकर सोफे पर बैठ गया.

मैं जब झड़ने को हुआ तो मैंने लंड चुत से खींचा और उसके पेट पर लंड झाड़ दिया.

केवल एक दिन के लिए तुम ज़मीन पर क्यों सो रहे हो?निखिल खुद यही चाहता था, वो झट से मान गया. लकी मुझे अपने कमरे में ले गया और हम दोनों रात 12:00 बजे तक पढ़ते रहे. दोस्तो, इस नगर में पब्लिक सेक्स सिस्टम से चुदाई होती रही … और होती रहेगी.

जब मैं उसकी चुदाई करता था तो उसको बोलता था- कोमल सोचो, अगर इस डिल्डो की जगह असली मोटा लंड तुम्हारी गांड में हो … और हम दो मर्द मिलकर तुम्हारी चूत और गांड चोदें तो तुम्हें कितना मज़ा आएगा. फिर संगीता ने मयंक के लंड को जोर से हिलाना शुरू कर दिया और हिलाते हिलाते अपने मुँह में भर लिया और लंड को जोर जोर से अन्दर लेकर चूसने लगी. मेरे जिस्म की कसावट एकदम टॉप क्लास रंडी की जैसी है और मैं एकदम दूध सी गोरी हूँ.

मैं- लेकिन जब तुम्हारी चूत में इतना बड़ा और मोटा लण्ड गया तो खून तो आया नहीं?फ़लक- वो एक दिन मेरे दिमाग में सेक्स की गर्मी बहुत चढ़ गई थी तो मैंने जोश में आकर एक लम्बा खीरा अंदर तक घुसेड़ लिया था जिससे खून निकल गया था.

नेपाल सेक्स बीएफ: यकीन मानिए … मैंने महसूस किया कि मेरे देखने से वह शर्म और हया से भर गई और अपना बदन दोनों हाथों से ढकने लगी. भाबी मेरे सामान को बड़े गौर से देख रही थीं, जिसमें मेरे सामान की मोटाई साफ साफ दिख रही थी.

मैं पूरी तेजी से चोद रहा था और नेहा आह्ह … राज … ओह्ह राज … करके अपनी चुदास को दिखा रही थी. शेखर ने रघु को मुस्करा कर धन्यवाद कहा और फिर अपने कपड़े बदल कर बिस्तर पर ही सारा कुछ एक ट्रे में लेकर बैठ गया. वो अब खुल चुकी थी।फिर एक दिन मैंने उसे सेक्स के बाद पूछा- नेहा, क्या हम ये हकीकत में नहीं कर सकते?वो बोली- तुम पागल हो क्या? बदनामी हो जायेगी.

जब मैं उसके घर पहुँचा तो उसका पति अपनी छोटी बेटी और बेटे के साथ कार में कहीं जा रहा था.

मेरा पूरा लंड आंटी अपने मुँह में लेने की कोशिश कर रही थीं पर लंड साइज बड़ा था, तो वो जितना अन्दर ले पा रही थीं, उतना अन्दर ही लंड ही लेकर चूस रही थीं. मैंने किचन में देखा, बाथरूम में देखा, साहिल के रूम में देखा … वो कहीं नहीं थी. उसकी चूत से आती काम रस की भीनी खुशबू को सूंघ कर मेरे लिए खुद को चूत चाटने से रोक पाना मुश्किल हो रहा था.