भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई

छवि स्रोत,फिल्म बीपी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी भाभी एक्सएक्सएक्स: भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई, मैं बोला- नहीं सीरीयस … सिमरन को बताएगा कौन … मुझे भी नई गर्लफ्रेंड का कुछ एक्सपीरियेन्स मिल जाएगा.

इंग्लिश बीपी नंगी

वो मुझसे बोले- क्या हुआ?मैंने कहा- आप थक गए हो, मैं आपकी मालिश कर देती हूँ. लेडीज ड्रेस मटेरियलमेरी तेज और कामुक उत्तेजना से भरी आवाजें आने लगीं- उफ़्फ़ हहह यस आई लाइक इट … ओह्ह फ़क आह उह … उफ़्फ़ मम्मी मर गई … आह उफ़्फ़!इसी तरह की कामुक सिसकारियां पूरे कमरे में गूंजती रहीं.

जैसा कि मैं आपको पहले बता चुका हूँ कि अर्शिया की गांड भी बहुत बड़ी है. धंदेवाली सेक्सी व्हिडिओसिस्टर Xxx सेक्स कहानी के पहले भागमेरी सेक्सी बहन मेरे दोस्तों से चुदती थीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपनी बहन के लैपटॉप में उसकी चुदाई की फिल्म देख रहा था.

पीठ पर लैपटॉप बैग, एक हाथ में लड़कियों का पर्स … और एक हाथ में एक छोटी ट्रॉली.भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई: इंडियन मेड सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरे दोस्तों ने घर की एक नौकरानी की चुदाई की.

उसने खुद को समेटा और बैग को अपनी कमर से नीचे की तरफ आगे लंड को ढकते हुए लटका लिया.दोस्तो, दिल्ली की लड़कियां या तो लौंडे को सिरे से खारिज कर देती हैं या लंड पसंद आ जाए, तो चुदने के लिए टांगें खोलने में कोई हील हुज्जत नहीं करती हैं.

क्सक्सक्स+वीडियोस - भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई

मैंने दीदी की आंखों में देखा, तो दीदी मुझे प्यार से देखती हुई मुस्कुरा रही थीं.दोस्त बोला- मतलब वो तेरा दल्ला है क्या?श्रुति बोली- वो इससे ज्यादा और कुछ है भी नहीं … तू उसकी छोड़, मेरी चुत में ध्यान लगा.

अब मैं इस बात को दावे से कह सकता हूँ कि चुत चुदाई से ज्यादा लंड चुत की चुसाई में ज्यादा मजा आता है. भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई मेरी वर्दी के बटन भी नील ने धीरे धीरे करके सारे खोल दिए और मेरे सीने का किस करते हुए बोला- उस दिन तुम नहीं होते … तो वो मेरी ले लेता.

वो लंड कड़क देख कर बोली- राज तुम पहले अपने लंड को मेरी गांड में घुसा दो.

भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई?

इसी प्रकार किस करते हुए ही मैं धीरे से एक हाथ से उसकी जींस के ऊपर से ही लंड सहलाने लगी. उसने मेरी आंख से आंख मिलाई तो मैंने उससे आंख दबा कर कहा- पूरा खेल देखना है?उसने हां में मुंडी हिला दी. होंठों को चूसना छोड़ कर मैंने उसकी तरफ देखा, तो वो शर्मा कर बोली- ऐसे मत देखो!आंखों में भर लेने दो आज … रोको मत.

तभी रघु ने किस करते करते एक हाथ से उसकी जींस का बटन खोला और श्रेया की पैंटी के अन्दर उंगली डाल दी. मैंने कहा- भाभी क्या हुआ?वो कहने लगीं- अचानक पेलने से दर्द सा होता है, इसलिए डर से आगे हो जाती हूँ. खाना खाने के बाद मैंने एक बार पेमेंट करने के लिए कोशिश की … मगर उसने मना कर दिया.

ये सुनकर रंगोली ने मुझे हग कर लिया और उसकी टी-शर्ट के अन्दर तने हुए बूब्स मेरी छाती पर सट गए. मैंने उनके इस छुआ-छाई का कोई विरोध नहीं किया तो जेठ जी की हिम्मत बढ़ गई और अब तो वो मेरा हाथ भी पकड़ने लगे थे. लंड घुसवाते ही मामी जी जोर से चिल्ला पड़ीं- आई दैया रे मर गई!मैं उनकी चूत में धीरे धीरे लंड पेल रहा था.

भाई घर में ना है … वा बड़ी बहन के घर जा रहा सै, तो मैं मौका पाकर तेरे गेल आ ली. उस दिन सुबह के 11:30 बज रहे थे और हाउस क्लीनिंग की घंटी बजाने से हम दोनों की नींद खुली.

इस बात पर मुझे हंसी आ गई और मैंने भाभी के बोबों पर हल्का सा दबाव डाला, तो उन्होंने अपनी आंखें बंद कर लीं और मेरा हाथ अपने दूध पर पूरी ताकत से दबा दिया.

अब्बू की तमाम कोशिशों के बावजूद जब अब्बू का लण्ड मेरी बुर में नहीं गया तो अब्बू बोले- देख तेरी अम्मी के बैग में कोई तेल, क्रीम है क्या?मैंने अम्मी का बैग खोला और क्रीम की शीशी निकालकर अब्बू को दी.

मैं देर न लगाते हुए अंजुमन के ऊपर आ गया और अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर अन्दर घुसने लगा. फिर मैं अपना मन मार के छुटटी से वापस आ गया और 3 महीने बाद मुझे पता चला कि चाची ने एक लड़क को जन्म दिया है. इस बीच सक्सेना की मृत्यु हो गयी है, मैं अब राजीव से और नवीन से सेक्स करती हूँ.

[emailprotected]यंग सिस्टर सेक्स कहानी का अगला भाग:अपनी सगी जवान बहन की चूत चुदाई- 2. फिर मैं भी कहां रुकने वाला था, मैंने पूरी ताकत से दूसरे ही झटके में पूरा लंड उनकी चूत के अन्दर डाल दिया. मैंने महसूस किया कि वो अंडरवियर नहीं पहने हुए थे चूंकि अभी नहा कर आए थे.

लेकिन दिन का टाइम होने और दुकान खुली हुई होने की वजह से हमने अपनी भावनाओं को शांत किया.

उन्होंने अपने सवाल का जवाब न पाया तो दुबारा टोका- आप कौन!मैंने सकपकाते हुए अपने होश ठीक किए और उन्हें अपना परिचय दिया कि मैं फरमान हूँ … आपका फोन आया था. मैंने उसकी तरफ देखा और मुस्कुरा कर कहा- पहली बार लड़की पटाई है!वो हंस गया और बोला- प्लीज़ यार … खिंचाई मत करो. धीरे धीरे उसने पहल करते हुए मेरे होंठ अपने होंठों में दबाए और धीरे धीरे चूसने लगी.

मेरी मम्मी ने मामा से कहा- ठीक है … तुम रितिका को मेरे घर छोड़ते हुए चले जाना. शीना ने मेरे कान में धीरे से कहा- मुझे आपका लंड देखना है … प्लीज़ इसे बाहर निकालो न!जैसे ही मैंने लंड बाहर निकाला, शीना भाभी ने बिना देर किए मेरे लंड को अपने कोमल हाथों में कैद कर लिया और दबाकर कहा- बहुत बड़ा लंड है आपका, मेरे पति का तो गिल्ली है गिल्ली. कुछ ही देर में आंटी का पेटीकोट जांघों तक उठ गया और उनके ब्लाउज से उनकी चूचियां मुझे गर्म करने लगीं.

तभी दीदी ने मुझे देखा और पूछा कि अरे तुम … कैसे आना हुआ?मैंने बोला- मैं लता (जीएफ) से मिलने आया था … वो कहां है?तब तक रेखा आंटी यानि जीएफ की मम्मी ने और दीदी ने एक साथ बताया कि वो कोई बुक लेने बाजार गयी है.

मैंने उसे बाथरूम की दीवार से सटा कर बिठाया और फिर से उसके मुँह को चोदने लगा. मैंने सोचा कि दोस्त है … ये अपनी शादी में थोड़े ही कुछ ऐसा वैसा सोचगा.

भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई तुमने उसकी प्रोफाइल चैक नहीं की क्या? कितनी सारी लड़कियां उसकी गर्लफ्रेंड हैं. कुछ समय के लिए मैं वैसे ही उसके सामने बैठी रही और उसे संभलने का समय दिया.

भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई इस पर उन्होंने पूछा- आप इंदौर क्या करने जा रहे हो?मैंने कहा- घूमने. अब आगे हॉट सिस्टर सेक्स:अर्शिया की जांघें एकदम मुलायम गोरी गोरी रेशमी लग रही थीं.

इतना कहते हुए अंकल ने मेरे हाथ से मेरा मोबाइल ले लिया और बोले- अगर तुम्हारा कोई अफेयर नहीं है तो मुझे अपना मोबाइल चैक करने दो.

हिंदी मूवी बीएफ दिखाओ

फिर वो बोली- राज, आज मुझे होश में ना आने दो।उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी और मेरे शरीर में हाथ फेरने लगी।अब तक मुझे भी उसका ऐसा करना अच्छा लगने लगा था। जवान लड़की अपनी चूत देने के लिए तैयार बैठी हो तो किसे बुरा लगेगा. मैं समझ गया कि इसने ब्लू फिल्म में किसी हब्शी के मूसल लंड को किसी टीन लौंडिया की चुत में घुसते देखा होगा. मैंने सिद्धार्थ से बात करके तय कर लिया था कि हम दोनों को ये राउंड हारना ही है.

मैंने सांडे के तेल की शीशी निकाली और अपने लण्ड की मालिश करके लेट गया. सर को पहली बार मैं इस हाल में देख रही थी और ये सोच भी रही थी कि वो सही भी हैं. जेठ से मालिश करते हुए मुझे अपने कमरे में ले गए और मेरी चूची को दबाने लगे.

तभी उन्होंने झटका मारा और धकेलते धकेलते पूरा लण्ड मेरी गांड में ठोक दिया.

मेरी सहायता करते हुए उसने अपना जींस उतारकर नीचे कर दिया और मैं भी उसकी चड्डी उतारने लगी. इसी पानी से हुई चिकनाहट की वजह से मैंने अपना लंड उसकी चुत में एक ही धक्के में अन्दर जड़ तक पेल दिया. कुछ ही देर में आंटी का पेटीकोट जांघों तक उठ गया और उनके ब्लाउज से उनकी चूचियां मुझे गर्म करने लगीं.

उसने अपना एक हाथ मेरी सीट पर और दूसरा उससे आगे की सीट पर टिका दिया. मैं थोड़ी देर उसी मुद्रा में रुका रहा, उसके बाद मैंने धीरे धीरे अपने लंड को चुत में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. जैसे तैसे करके मैंने शॉर्ट्स पहना मगर लोअर के अन्दर जो शेर था वो बैठा ही नहीं था.

अगर किसी लड़की भाभी को लंड देखने का मन हो, तो वो बिंदास मुझे मेरे ईमेल पर मैसेज कर सकती हैं. वो मेरे सीने से चिपक कर सुबकने लगी थी और मुझसे बार बार माफ़ी मांग रही थी.

उसने अपने मम्मों पर ब्रा नहीं पहनी थी, जिसकी वजह से उसकी कुर्ती उतरते ही मुझे उसके बड़े बड़े चुचे दिखने लगे थे. यह सब सुनकर मैंने उसे यह सलाह दी कि वो जिस कारण से दिल्ली आई है, फ़िलहाल उसी पर ध्यान दे. पहले अपनी गांड फिर से तेल में एकदम गीली कर ले और अपनी गांड के छेद पर लंड सैट करके एक साथ झटके से लंड पर कूद जाना.

कोमल की हालत अब एकदम उस मछली की तरह हो गयी थी, जिसे अभी अभी पानी से निकाल दिया गया हो.

मैंने उसकी आंखों में झांकते हुए पूछा- क्या खाओगी?वो मेरी बात को शायद समझ गई थी इसलिए नजरें नीचे करके बोली- जो तुम खिलाना चाहो. अब मैं अपना बनियान और निक्कर निकाल कर पूरा नंगा हो गया और अपनी बहन का भी टॉप और लैगी निकाल कर उसे भी पूरी नंगी कर दिया. जब अब्बू अपनी बालों से भरी छाती मेरी चूचियों पर रगड़ते तो मेरे जिस्म में करंट दौड़ जाता.

लेकिन मैंने मेरा काम चालू रखा और कुछ देर के विरोध के बाद वो भी मेरा साथ देने लगी. जब अगली बार जब मैं उससे मिलूंगी, तो उससे पूछ लूंगी कि उस रात शरद ने क्या सोचा था.

मेरी दुकान पर सामान अपनी बोरी में भरना और तौलना ग्राहक खुद करता है. सड़क वैसे ही कच्ची थी, तो सब कुछ हिल-डुल रहा था और हरकत करना भी आसान था. अचानक से उठाने से सरिता की दोनों चुचियां विजय के हाथों से छूने लगीं.

पाकिस्तान की लड़कियों की बीएफ

एक दिन जेठ जी थोड़ा ज्यादा काम करके आ गए थे और उनके सर में दर्द हो रहा था.

मेरी गर्लफ्रेंड मॉम सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैंने एक नयी लड़की से दोस्ती की, उसके घर आना जाना हो गया. मैंने रानी को एक बार फिर से अपनी बांहों में उठाने के लिए अपनी बांहें खोल दीं- अगर मैडम की इजाजत हो, तो मैं उठा लूं. उधर रेशमा भाभी भी कस कस कर मेरे लंड पर कूदते हुए अपने मम्मों को शताब्दी एक्सप्रेस के जैसे उछाल रही थीं.

फिर ऐसे ही हमारी रोज बात होने लगीं, इस तरह मेरी मुंतजिर से दोस्ती हो गयी थी. मैंने कहा- इसका नाम क्या है?वो आंखों से मुझे गुस्साती हुई बोलीं- साला पूरा हरामी हो गया है. चूत में लंड सेक्स वीडियोअभी ही आ जाओ!मैंने कहा- हां यदि मेरे बस में होता तो अभी पंख लगा कर आ जाता.

जब मैंने उनको अपना लंड चाटने के लिए बोला तो उन्होंने पहले तो मना किया लेकिन फिर थोड़ा सा अंदर लेकर उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. यह बोलकर मैं बाथरूम में चला गया और पूरे कपड़े खोल कर शॉवर के नीचे खड़ा हो गया.

क्लास खत्म होने के बाद उसने मुझसे अपने साथ चलने को बोला और मैं बिना उससे कुछ पूछे उसके पीछे चल दी. मैं हमेशा से अन्तर्वासना पर देसी हिंदी भाषा की गंदी कहानी पढ़ा करता था. इसी बीच धीरे धीरे उसकी भी मेरे माध्य्म से आशीष से जान पहचान हो गयी.

मैंने उसकी गांड से लंड खींचा और उसे उठा कर बाथरूम में ले गया, उसकी गांड साफ करने लगा. मैंने कहा- ठीक है लेकिन वो कब आएगी?सरोज बोली- रात को भाई और अम्मा के सोने के बाद मैं खुद मालती को रूम में छोड़ने आऊंगी. डॉक्टर विवेक का रंग काला है और वो 6 फ़ीट का फिट बॉडी वाला तगड़ा आदमी है.

आपको मेरी यह होटल हॉट सेक्स स्टोरी कैसी लगी, कृपया करके मुझे ईमेल पर बताएं.

अब आगे जवान मोसी की चुदाई कहानी:मैं अब अपना हाथ बिंदास उनके बूब्स पर ले गया और ब्लाउज़ के ऊपर से उनके मम्मों को दबाने लगा. मेरी तेज तेज हांफी चल रही थी और मेरी चूत में हल्का सा दर्द भी हो रहा था.

हम आसानी से एक दूसरे को पहचान सकें … इसलिए दोनों ने कपड़े के रंग भी बता दिए. मैंने उससे हाय कहते हुए अपना परिचय दिया- मैं दिशा हूँ … अभी मेरे डैड घर पर नहीं हैं. इस समय हम दोनों बैठे हुए थे और वो मुझे अपने सीने से लगाकर कसकर जकड़ी हुई थीं.

मैंने खुद के कपड़े ठीक करने का ऐसा नाटक किया जैसे मैंने कुछ देखा ही नहीं. उन्होंने अपने हाथों को मेरे पैरों की उंगलियों पर रख दिए और सहलाने लगे. अर्शिया की चुत एकदम अमेरिकन लड़की जैसी थी, एकदम गुलाबी गुलाबी!चुत पर उगी हुई बारीक बारीक झांटें चुत की खूबसूरती को बढ़ा रही थीं.

भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई अंकल मेरी मम्मी को पीछे से देख रहे थे और मम्मी की गांड को देख कर अंकल अपनी लुंगी के ऊपर से लंड को मसल रहे थे. मुझे उम्मीद नहीं थी कि वो ऐसा कुछ करने वाली है।वो मेरे पास आयी और मेरा हाथ अपने हाथ में लेकर अपनी चूचियों पर रखवा दिया.

बीएफ सेक्सी कार्टून में

मैंने कहा- पापा पर मैं अंकल के घर नहीं रुकूंगा, मैं वहीं कहीं रूम लेकर रह लूंगा क्योंकि मुझे कोई रोक-टोक पसंद नहीं है. मैंने पूछा कि तुमने और सुमन ने पहले किसी किराएदार से चुदवाया था?वो बोली- नहीं, अम्मा ने हम दोनों को इस बिल्डिंग में कभी आने नहीं दिया. दोस्त ने श्रुति को घोड़ी बना दिया और पीछे से उसकी चुत में लंड पेल कर जोर जोर से चुत चोदने लगा.

’ करके वो तेजी से ऐसे चिल्लाने लगी, जैसे सच में पहली बार गांड में लंड ले रही हो. फिर अंकल ने टी-शर्ट मोड़ कर मेरी चूची पर हाथ रख लिया, जिसके लिए मैंने भी उनको कुछ नहीं बोला. सेक्सी सेक्सी ब्लू हिंदीनतीजा यह हुआ कि थोड़ी देर बाद मुमताज हाँफने लगी और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

वो तेजी से गर्दन चलाते हुए मेरे लंड को चूसने लगी और मैंने भी उसके बालों को पकड़ कर उसके मुंह में लंड पेलना शुरू कर दिया.

मौसी ने कहा- चलो … अब नहा लो, फ़िर मैं तेरे लिए नाश्ता बना देती हूँ. थोड़ी देर तो मैं चुप रहा मगर तभी बाई अपना पिछला हिस्सा ऊपर नीचे करने लगी.

शबाना और उसकी पड़ोसनें उसे गांव के एक डॉक्टर के पास ले गईं जहाँ उसे तुरन्त होश आ गया. अब मैंने उसके लिंग पर अपनी घूमती उंगली की गति बढ़ा दी और बीच बीच में लिंग को आगे पीछे रगड़ने लगी. वो घर से बाहर गया और उसने देखा कि ऊपर वाले कमरे की एक विंडो बाहर खुलती है.

दोस्तो, मेरी कंपनी में एक शादीशुदा औरत काम करती थी, उसकी उम्र कोई 23 साल होगी.

दर्द से मुक्ति पाने के लिए भाभी मेरे होंठों पर अपने होंठों को ऐसे घिसने लगीं, जैसे हम ब्रश करते हैं. सुमोना तो एक कोने में पड़कर सो चुकी थी और अंजुमन मेरे शरीर से चिपककर मुझे चूम रही थी. उस वक़्त आंटी घर पर अकेली थीं, तो मैं उनको बोल कर उनके घर की छत पर आ गयी, जो मेरे घर की छत से एकदम मिली थी.

गांव की भाभी सेक्ससुनीता भी नंगी थी सो वो भी जल्दी से बिस्तर का चादर लपेट कर खड़ी हो गई थी. वो इस कामवासना से इतनी ज्यादा तप गई थीं कि उनके मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं और कामुक आवाज पूरे केबिन में गूंजने लगी.

बीएफ फिल्म भेजो वीडियो में

गांड मारते मारते मैंने तीन इंच लंड बाहर निकाला और ऊपर से लंड पर तेल की धर टपकाते हुए गांड लंड दोनों को तेल में भिगो लिया. मुझे नींद नहीं आई, तो मैंने टॉयलेट में जाकर मुंतज़िर के नाम की मुठ मार कर लंड ढीला कर लिया. यदि आप सभी को ये हॉट सेक्सी गर्ल की चुदाई कहानी पसंद आई हो तो मैं इसे आगे भी जारी रखूंगा.

इसके बाद हम दोनों ने कुछ देर आराम किया और उस रात फिर से चुदाई में जुट गए. क्लास खत्म होने के बाद उसने मुझसे अपने साथ चलने को बोला और मैं बिना उससे कुछ पूछे उसके पीछे चल दी. और जब राजू की आहें बढ़ गईं तो उसने उसे छोड़ दिया वरना राजू तो उसके मुंह में ही खाली हो जाता।अब गौरी ने राजू का सिर नीचे सरका दिया.

मैंने उसके गले को पकड़ कर नीचे खींच लिया और जोर जोर से किस करने लगा. दोस्तो आपको मेरी ये मोटी लड़की की चुदाई कहानी कैसी लगी, मुझे मेल से जरूर बताएं. वो ब्रा खोलने की बात 3 बार बोलीं- शर्माओ नहीं, यहां कोई तीसरा नहीं है.

क्योंकि मेरी चुत का छेद बिल्कुल छोटा सा था और अंकल जी लंड गधे जैसा हब्शी लंड था. मैंने मॉम से पूछा- मेरे दिमाग में एक सवाल आया था … क्या सभी लोग अपनी मॉम या सिस्टर के साथ सेक्स करते हैं?मॉम ने कहा- सभी मॉम का मन तो होता है अपने बेटे से चुदाने का … लेकिन हिम्मत नहीं जुटा पाती.

मैं जैसे ही आया तो सरोज ने सर पर पल्लू डाल लिया और गर्दन नीचे करके बैठ गई.

हम रोज़ यूँ ही चुदाई करेंगे कुड़िये … आह … आह … ले!सोढ़ी पूरे उत्साह में आकर ज़ोर से पिल पड़ा और सोफे पर बैठे बैठे ही रोशन की गांड में लंड को ज़ोरों से अन्दर बाहर करने लगा. दूध दबाने वाला वीडियोमैंने उसे बताया कि अलीज़ा मैं शादीशुदा हूँ, ये आसान नहीं है … देख लो मैं तुमसे शादी तो नहीं कर सकता, पर तुम्हें सेक्स का सुख जरूर दे सकता हूँ. મારવાડી સેકસી ફોટાमैंने देर न करते हुए पहले चुत की फांकों को सामने से खोला और लंड का सुपारा फंसा दिया. मुझे इस बात का कभी अंदाजा नहीं था कि मैं कभी अपने जेठ जी के साथ सेक्स करुँगी.

धीरे धीरे एक दूसरे के होंठों को चूसते हुए हमारे हाथ एक दूसरे के बदन पर चलने लगे.

उसे देख कर मेरे मन में पहला ख्याल यही आया था कि इसे देख कर ऐसा लग रहा है कि जलेबी शीरा पी गई है. उन्होंने मेरी चुनरी को मेरे सर से नीचे गिरा दिया और मेरे बालों को हाथ लगाते हुए बोले कि इस रूप में आज तक मैंने तुम्हें अपने इतने करीब नहीं देखा. मैंने उनकी तरफ देखा और पूछा- क्या हुआ गुल … आप लेटी क्यों है तबियत तो ठीक है न!उनकी आंखों में ऐसा नशा सा छाया था, जैसे उन्होंने शराब पी रखी हो.

फिर चुत से लंड निकलवा कर दीदी ने खड़ी होकर मुझे लेटने का इशारा किया. मैं जैसे ही सुशी जी के पास गया, उन्होंने मुझे अपने सीने से लगा लिया और जोर से पप्पी करने लगीं. हम दोनों बराबर से धक्का लगाने लगे और थप थप्पप थप की आवाज़ तेज हो गई थी.

हिंदी बीएफ देसी चुदाई वीडियो

उसने मुझे देख कर एक स्माइल के साथ कहा- सौरभ, तुम इस समय यहाँ?मैंने कहा- जो मेरा काम बाकी राह गया था उस दिन … वो आज पूरा करना है. जब मैंने मैम से उनके पति के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि वो एक हफ्ते के लिए बाहर गए हैं … और घर पर उनके अलावा कोई नहीं है. उसके पानी का फव्वारा इतना तेज था कि उसकी चुत से टपकने वाला रस उसकी जांघों से होते हुए नीचे बहने लगा.

शाम को 5:00 बजे वह मेरे घर आ गए और मेरे अब्बू से कुछ बातें करने लगे.

लेकिन तब तक मैं और आशीष पूरी तरह भीग गए थे और हम दोनों के कपड़ों से पानी टपक रहा था.

फिर वो रुके और अपने कपड़े पहनते हुए बोले- आज की ट्रेनिंग बस इतनी ही थी. तभी रसोई में कुकर की सीटी बजी तो आंटी गैस बंद करने के लिए किचन में गईं. ब्लू सेक्सी मूवी फिल्महम दोनों का जैसे सपना टूट गया हो हम एक दूसरे से न चाहते हुए भी अलग हुए और अपने को ठीक करते हुए नीचे आ गए.

[emailprotected]मैरिड वूमन सेक्स कहानी का अगला भाग:पति की गैरमौजूदगी में मेरी अन्तर्वासना- 2. वो लंड की गर्मी से बेहद कामुक हो उठी और अपनी गांड उठाकर लंड चुत में लेने की कोशिश करने लगी. उसके बाद मैंने रूबी आंटी के पेटीकोट और चड्डी को हटा दिया और उनकी चूत चाटने लगा.

मैंने अब तक सिर्फ अन्तर्वासना की सेक्स कहानियों में ही पढ़ा था कि गोरी चुत होती है. गांड के छेद में पेटीकोट के ऊपर से ही डॉक्टर उंगली डाल रहा था, जिससे मैं उछल उठी और मेरी मादक सिसकारी निकल गयी.

अंकल ने हमें 2 फ्लैट दिखाए जो कि अंकल के घर से 5 किमी की दूरी पर ही थे.

मैंने उसकी पिछाड़ी को पकड़ा और अपना लंड अन्दर डाल कर तेज़ी से अन्दर बाहर करने लगा. मैंने कहा कि ये सब श्रेया ने तुमको बताया!उसने कहा- मैंने सब अपने तरीके से पूछा था … तो उसने मुझे सब बता दिया. तब तक मैंने भी आंखें खोल लीं और बोला- बस इतना ही!उसने शर्मा कर मेरी ओर कातिल निगाहों से देखा.

इंडियन ट्रिपल एक्स व्हिडीओ एचडी बुआ से मेरी नजर मिली तो उन्होंने नजरें नीचे कर ली और अन्दर चली गईं. वो मेरे चेहरे को देखकर खूब मज़े ले रही थीं और लंड भी और जोर जोर से चूस रही थीं.

इसलिए क्या आप इसमें मेरी मदद करोगे!मैंने कहा- इसमें क्या बड़ी बात है, तू मेरे साथ ही चलेगी … टेंशन मत ले. यहां तो कोई लड़की भी नहीं मिलेगी जिससे बातें करते हुए टाइमपास हो जाए. उसने मेरे मुँह में लंड घुसेड़ दिया और अपने लंड का सारा रस मेरे मुँह में निकाल दिया.

बीएफ सेक्सी कच्ची कली

मैंने एक उंगली अंजुमन की चूत में घुसाई और अन्दर की गहराई को महसूस करने लगा. रेखा आंटी हवा में अपनी टांगें उठाए हुए मेरे लंड की रगड़ का मजा लेते हुए बोले जा रही थीं- आह माँ के लौड़े योगी … बहुत मजा आ रहा है … चोद दे आह चुत की खुजली मिटा दे आह … बड़ा मस्त चोदता है. उधर रोशन भी अपनी चुत में उंगली करती हुई खुद को चरम पर पहुंचाने में लगी थी.

उनकी मादक और नशीली जवानी देख कर मेरा लंड अपने पूरे आकर में आ चुका था. नाज को बकरी बना कर मैं उसके पीछे आया और उसकी गांड के चुन्नटों पर व्हिस्की टपकाकर पीने लगा.

हैलो, मैं रोहित एक बार फिर से आपके सामने अपनी चचेरी बहन की सीलपैक गांड मारने की सेक्स कहानी को आगे लिख रहा हूँ.

निशा की नजर सीधे मेरे पजामे पर पड़ी और बिना कुछ हाव-भाव लाए वह अन्दर आ गयी. उसके हाथों को ऊपर करके पूरी पीठ को और बगलों को चूमने और सहलाने लगा. अन्ततः मेरा हाथ अर्शिया की जांघों के बीच तक पहुंच गया लेकिन अर्शिया की चुत फील नहीं हो रही थी क्योंकि पेटीकोट अर्शिया की जांघों के बीच में काफी सिमट गया था और वो कपड़ा काफी मोटा होने के कारण चुत महसूस नहीं हुई.

मैंने उसकी कोमल काया को अपनी बांहों में उठाया और बाथरूम में ले गया. सोढ़ी भी अपनी बीवी को किसी न किसी तरीके से पकड़ कर चोद देना चाहता था. ’ की आवाज में तब्दील होती चली गई और चुदाई का मजा बढ़ता ही जा रहा था.

मेरी उम्र 31 साल है … मैं दिखने में ठीक-ठाक सा एक साधारण इंसान हूँ.

भोजपुरी बीएफ वीडियो चुदाई: उसकी रूममेट प्रियंका ने मुझे ये भी बताया था कि अशी गमन के कमरे में भी बहुत बार गयी है … और कई रातों को वो उसके कमरे में भी रही है. उन्होंने एक और झटका जोर से मारा, उनका पूरा लंड मेरी चूत में चला गया.

इतना कहते हुए अंकल ने मेरे हाथ से मेरा मोबाइल ले लिया और बोले- अगर तुम्हारा कोई अफेयर नहीं है तो मुझे अपना मोबाइल चैक करने दो. उसने बिना देर किए अपना हाथ मेरी चैन खोल कर अन्दर डाला और लंड पकड़ कर बाहर निकाल लिया. पर ये बाते बताते हुये और उनके बूब्स की दरार को देख के मेरा लंड फिर से तनाव में आ गया.

भाभी के जाते ही मैंने जिज्ञासावश निशा के मोबाइल को उठा कर देखा, तो समझ में आया कि उसने लॉक भी नहीं लगा रहा था.

मैं उनके इस स्वागत से बहुत खुश हो गयी थी और ड्रिंक्स बनाकर बातें करते हुए हम अन्दर सोफे पर बैठ गए. मैंने पूछा- तुम किधर से आओगे?उसने जो रास्ता बताया, वो मेरे आगे ही पड़ता था. मैंने महसूस किया कि वो अंडरवियर नहीं पहने हुए थे चूंकि अभी नहा कर आए थे.